From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Map of Ancient Jat habitations, The Aryavarta
Ancestry of Madra as per Bhagavata Purana

Madra (मद्र) [1] were an ancient people as attested by traditions recorded in literature to have been living in central Punjab since remote antiquity. They were Chandravanshi Kshatriyas. Their territory formed a part of Vahika country according to Panini.

Madra is also a Jat clan.

Ancestry of Madra

YayatiAnuSabhanaraKalanaraJanamejayaMaha ShalaMahamanas → (1.Ushinara + 2.Titiksha)

Jat Gotras from Madra

Maderna (मदेरणा) Madrak (मद्रक) Madraka (मद्रक) Madra (मद्र) Madrayana (मद्रेणा) Madhan (मधान) Mad (मद्) Madh (मध) gotra of Jats is derived from Madra (मद्र).[2]


V. S. Agrawala[3] writes that Ashtadhyayi of Panini mentions janapada Madra (मद्र) (IV.2.131), which was a part of Vahika country with its capital at Sākala = Sialkot. Mahabharata mentions Sākala as the chief city of Vahikas on the Āpagā River. Panini does not explain the derivation of Vahika but Katyayana derives it from Bahis, outside, with the sufiix īkak (IV.1.85.5). This seems to agree with the epic description of Vahika as the country of five rivers but lying outside the pale of Aryan society, devoid of religion and impure (Karnaparva, 44.7.32).

V. S. Agrawala[4] writes that Ashtadhyayi of Panini mentions janapada Uśīnara (उशीनर) (IV.2.118) - Panini mentions Ushinara as part of Vahika. Panini mentions three divisions of Vahika Country, viz Kekaya, Uśīnara and Madra. Fourth division to be added to Vahika country is Śavasa. Of these Kekaya and Śavasa may be located between Jhelum and Chenab, the first in the south and second in north respectively; Madra and Ushinara between the Chenab and Ravi River in the north and south respectively.

Ram Swarup Joon[5] write: 64. Madrak, Madra: The Madrak gotra is an ancient gotra, and is the root of many of the Jat gotras. According to various historians Sialkot, Quetta and Ghazni were the capitals of the Madrakas since ancient times. King Shalya, the maternal uncle of the Kauravas was from the Madrak gotra. Colonel Todd found a rock inscription during the excavations of Shakla Nagri (Modern Sialkot), which he sent to the Asiatic society. In this inscription King Shalya has been called a Madrak Jat. In Mahabharata (Karna Parva) King Shalya has been called Jatit. Alexander's army had a fierce battle with the forces of the Madrakas at Sialkot. Madra and Madrayana are just the other names of Madrak. According to "Neel Puran", Madrak country began after crossing the river Bias, Satyabhama (Satluj) and the river Devika flowed through it. In ancient India the country between the rivers Ravi and Chenab was called Madrak. According to Alberuni and Ptolemy Sialkot and Shakilnagri are one and the same. People belonging to Bhatti gotra associate themselves with both Ghazni and Sialkot and for this reason the Bhatti gotra is accepted as a branch of Madrak.

Dr Pema Ram writes that after the invasion of Alexander in 326 BC, the Jats of Sindh and Punjab migrated to Rajasthan. They built tanks, wells and Bawadis near their habitations. The tribes migrated were: Shivis, Yaudheyas, Malavas, Madras etc. The Shivi tribe which came from Ravi and Beas Rivers founded towns like Sheo, Sojat, Siwana, Shergarh, Shivganj etc. This area was adjoining to Sindh and mainly inhabited by Jats. The descendants of Madras in Rajasthan are: Jinja, Bana, Thoria, Lagman, Kamodia, Madal, Devsalya, Junawa, Maderna, Judi, Madrewa, Khokh, Asihag etc. [6]

Dalip Singh Ahlawat[7] writes that in 15th century in the reign of Lodhi they were Muslim Jats settled in Samana of Patiala state. Sir Denzil Ibbtson writes that they left Patiala after harassment by Sikhs and came to Pehowa on the Saraswati River, where they were known as Madhan. A ruined Fort of Madhans can be seen at Murtijapur between Pehowa and Thanesar. These Madhans had a state called Karnal which had 150 villages. The Madra clan has majority of Muslims but there are Hindus also. There are 12 villages of Hindu Madra Jats near Kurukshetra. Sardar Nanu Singh along with his brothers Bhag Singh and Ram Singh of village Bhawal in Amritsar occupied a grand Fort at Buria near Jagadhri in 1764 AD. They founded a Buria state of 200 villages.

Main village of Madra Jats out of 24 villages are - In Nakur tahsil of Saharanpur: Ranipur, Badhi, Shukratal. In Moradabad Madra Rampur, Dhanpur, Makhyal, Alampur Muradabad, Kasampur Muradabad, Mubarakpur, Jhalchipur etc.

In Mahavansa

Mahavansa/Chapter 8 writes ... In Sihapura, after the death of king Sihabahu, his son Sumitta was king; he had three Sons by the daughter of the Madda (Madra) king. Sumitta being old he sent his youngest son Panduvasudeva (r.504 BC - 474 BC) to Lanka. Panduvasudeva took with him thirty-two sons of ministers and embarked (with them) in the disguise of mendicant monks. The ministers entrusted Panduvasudeva with the sovereignty of Lanka. He made Bhaddakaccana, youngest daughter of Sakka Pandu as his consort. Sakka Pandu for seeing the destruction of Shakyas took his followers with him and went to another tract of land on the further side of the Ganges and founded a city there and ruled there as king.

In Mahabharata

Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 29 mentions the countries Nakula subjugated:

"And the mighty hero, proceeding thence to Sakala, the city of the Madras, made his uncle Salya accept from affection the sway of the Pandavas."
ततः शाकलम अभ्येत्य मद्राणां पुटभेथनम
मातुलं परीतिपूर्वेण शल्यं चक्रे वशे बली Mahabharata (2.29.13)

Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 10 provinces mentions of Madra in shloka 40.

पाञ्चालाः कौशिकाश चैव एकपृष्ठा युगं धराः
सौधा मद्रा भुजिङ्गाश च काशयॊ ऽपरकाशयः Mahabharata (6.10.40)

Madri (माद्री) was a princess of the Madra kingdom and the second wife of Pandu.

On his way to Hastinapur, King Pandu encountered the army of Shalya, King of Madra. Very soon, Pandu and Shalya became friends and Shalya gave his only sister, Madri to Pandu, as a gift of their friendship. Looking at her beauty, Pandu accepted the lady willingly and took her to Hastinapur.

She, alongside Kunti, faitfhully accompanied Pandu in his hermetical retreat following his abdication as the king of Hastinapura. Both Kunti and Madri were directly affected by the curse on Pandu because they were denied the opportunity to bear Pandu's children. However, a boon was given to Kunti which enabled her to bear Yudishtira, Bhima, and Arjuna. This boon was passed on to Madri, who then bore twins from god Ashwini named Nakula and Sahadeva.

One fateful day, Pandu desired Madri and the memory of the curse briefly eluded him. Death struck Pandu immediately. Madri, filled with remorse, self immolated on Pandu's funeral pyre. Kunti became a single mother of the five children.

The descendants of Madri were known as Madra, Madrak or Maderna, which is a Jat gotra. [10]

In Rajatarangini

Rajatarangini[11] tells us ...When the Damaras and the citizens deserted the, enemy and went over to the king and received befitting rewards, Manujeshvara and Koshta, both of whom aspired after reward from the king and wished for his friendship, quarreled between themselves, each wishing to go over first to the king. Bhikshu heard of this from the sooth-sayers, collected his attendants, and set out in the month of Ashada intending to go to some other country. The Damaras who followed him could not assuage his anger with pleasant words, nor make him turn back.

The vicious Koshteshvara, — himself a prostitute's son, — longed for the very beautiful wife of Bhikshu.

But who could touch his wife, or hold the .... (?)* of an angry lion, or the jewel in the hood of a serpent or the flame of the fire?

When Bhikshu asked Somapala for shelter, he did not give it, because he had made his peace with the son of Sussala. The victor had every where made attempt to kill Bhikshu, consequently Bhikshu went to Sulhari, crossing over an unapproachable tract of that country. "There is kindness in Trigartta, good behaviour at Champa, -ifts (?)* at Madramaṇḍala and friendship at Darvvabhisara. When you stay away, the king,

* word is not clear

[p.132]: relieved of fear, will oppress the Damaras. They will then gradually welcome you and make you king." Though the ministers told him that it would be well for him to ask the help of the people for the conquest of the dominion of Naravarmma, Bhikshu did not accept their counsel ; he adopted the advice of his father-in-law, and his servants left him on the plea that their families at home were anxious for them. [VIII(i),p.131-132]

मद्र जाट

ठाकुर देशराज[12] कहते है... मद्र - [पृ.95]: महाभारत में इनका खूब जिक्र आता है। पांडू की दूसरी रानी माद्री इन्हीं की राजकन्या थी। पुराणों में दी हुई वंशावली के अनुसार यह लोग भी शिवि लोगों की एक शाखा ही साबित होते हैं। शिवि के दो पुत्र बताए जाते हैं। एक मद्र, दूसरे केकय। राम के जमाने में शायद यह लोग एकतंत्री खयाल कर रहे हों। किंतु महाभारत के बाद तो हम इन्हें गणतंत्र

[पृ.96]: के रूप में पाते हैं। जाटों में आजकल यह लोग मद्रेने अथवा मदेरणा कहलाते हैं। बांग्ला-विश्वकोश की सातवीं जिल्द में श्री नरेंद्रनाथ बसु ने मद्र जाटों के संबंध में इस प्रकार लिखा है- "अध्यापक लासेन पंडित बोलेन कि महाभारते जे मद्र उ जाति गणे उल्लेख आ चि जाट जाति ताह दीगं अंतर्मुक़। अर्थात प्रोफेसर लासेन का कहना है कि है महाभारत में जिन मद्रों का जिक्र आता है जाट जाति उन्हीं के अंदर से है।"

यहां हमारा प्रोफेसर लासेन और नागेंद्रनाथ बसु से इतना मतभेद है कि जाट जाति मद्रों में से नहीं है किंतु मद्र जाट जाति का एक टुकड़ा है। जाट तो एक संघ (लीग) है जिसमें मद्र भी शामिल हो गए थे। इस तरह मद्र भी जाट हैं। यह लोग शिवि जाटों के पश्चिम में आबाद थे और शिवियों की भांति ही मद्र भी उशीनर कहे जा सकते हैं। उशीनगर का नाम बार-बार हम इसलिए ले रहे हैं कि उशीनर वेदों की कई रिचाओं का दृष्ट्वा समझा जाता है। अपने इन पूर्वजों पर जाटों को अभिमान होना चाहिए। जात्रा लोग भी इन्हीं मद्रों की एक शाखा थी। किंतु हम खूब जानते हैं कि महाभारत काल में जात्रा कोई ऐसी अभक्ष्य भौज्य जाति न थी जैसा कि कर्ण पर्व में उसे बताया गया है।

चिनाब और रावी नदियों के बीच के प्रदेश में मद्र लोगों की साकल नगरी राजधानी थी। कुछ लोग मद्रों को वाल्हिकों का

[पृ.97]: साथी बताते हैं। संभव है मद्रों ने वाल्हिकों के साथ मिलकर जाति राष्ट्र की स्थापना की हो। ऐतरेय ब्राह्मण में उत्तर-मद्रों का भी जिक्र आता है। संभव है वे लोग हिंदुकुश के उस पार रहते हों।

केकय, सौवीर, मद्र जाटवंश

दलीप सिंह अहलावत[13] के अनुसार चन्द्रवंशी सम्राट् ययाति के पांच पुत्रों में से एक का नाम अनु था। अनु की दसवीं पीढ़ी में सम्राट् शिवि हुए, जिनके नाम पर शिवि जाटवंश प्रचलित हुआ। उस शिवि के तीन पुत्रों सौवीर, केकय और मद्र के नामों पर तीन जाटवंश सौवीर, केकय और मद्र प्रचलित हुए थे। (जाट इतिहास पृ० 26, लेखक श्रीनिवासाचार्य महाराज)।

केकय और सौवीर राज्य महाभारत काल से पहले ब्राह्मण काल (ब्राह्मण ग्रन्थ) से ही बराबर चले आते थे। (जाट इतिहास, पृ० 24, लेखक ठा० देशराज)।

सौवीर जाटों का राज्य महाभारत काल में सिंध तथा गुजरात के कुछ भागों पर था। यह राज्य जयद्रथ के अधीन था। इस सिन्धु नरेश जयद्रथ के अधीन 10 राष्ट्र थे। (कर्णपर्व 2-23;

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-291

वनपर्व 268-8; वनपर्व 266-12)। (सिन्धुवंश के प्रकरण देखो)। महाराजा युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में सौवीरराज ने हाथी से जुते हुए 300 रथ प्रदान किये (सभापर्व, अध्याय 51, श्लोक 8)। सौवीर नरेश तथा उसके सैनिक महाभारत युद्ध में कौरव पक्ष में होकर लड़े (भीष्मपर्व)।

केकय जनपद हिमाचल प्रदेश के उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में था। केकय नरेश ने राजसूय यज्ञ में युधिष्ठिर को बहुत धन दिया (सभापर्व अध्याय 51)। केकय देश के नरेश तथा लोग काम्यक वन में पाण्डवों से मिलने गये (वनपर्व)।

केकय देश के पुरुषसिंह पांच नरेश, जो परस्पर सगे भाई थे, एक अक्षौहिणी सेना के साथ दुर्योधन के पास आये (उद्योगपर्व, अध्याय 19, श्लोक 25)। परन्तु ये दो भागों में होकर कौरव तथा पाण्डव दोनों की ओर होकर महाभारत युद्ध में लड़े। केकय राजकुमार बृहत्क्षत्र पाण्डव पक्ष में था (भीष्मपर्व)। परन्तु केकय सैनिक एवं राजकुमार आपस में भी लड़े थे। केकय देशीय योद्धाओं से घिरे हुये भीम के समान पराक्रमी केकय राजकुमार को उन्हीं के भाई दूसरे केकय राजकुमार ने बलपूर्वक मार गिराया (कर्णपर्व, अ० 6, श्लोक 18)।

मद्र गोत्र का इतिहास

दलीप सिंह अहलावत[14] लिखते हैं: मद्र - शिविवंश के संस्थापक शिवि के चार पुत्रों में मद्रक (मद्र) अत्यन्त प्रतापी नरेश थे। इन्होंने अपने नाम पर मद्र जनपद की स्थापना की। इनसे ही मद्रवंश जो जाटवंश है, प्रचलित हुआ। शिवियों की भांति ही मद्र भी उशीनर कहे गये हैं। उशीनर वेदों की कई ऋचाओं का द्रष्टा समझा जाता है। अपने इस पूर्वज पर जाटों को अभिमान होना चाहिए।

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-199

मद्र जनपद रावी और व्यास नदियों के बीच का प्रदेश था और मद्र लोगों की राजधानी शाकल (वर्तमान सियालकोट) थी। मद्र प्रदेश की सीमा ‘नील पुराण’ के अनुसार -

“शतद्रु (सतलुज) और विपाशा (व्यास) पार करके उत्तर की ओर मद्र देश प्रारम्भ होता था। मद्रों की उपकारक ‘देवका नदी’ सियालकोट होती हुई इस मद्र देश में बहती थी।”

इस शाकल को ही सियालकोट माना है। पाणिनिव्याकरण की काशिका वृत्ति में 4-2-108 पौर्वमद्र व आपरमद्र नामक दो भेदों का उल्लेख है। ऐतरेय ब्राह्मण 30-14 स्थल से हिमवान् के परे उत्तर मद्र का पता चलता है। काशिकावृत्ति के 1-3-36 में मद्राः करं विनयन्ते निर्यातयन्तीत्यर्थः - वाक्य से मद्रों द्वारा कहीं बाहर ‘कर’ भेजने का निर्देश है। लेफ्टिनेन्ट रामसरूप साहब ने अपने लिखित जाट इतिहास पृष्ठ 72 पर लिखा है कि “प्राचीन समय से मद्रों (मद्रकों) की राजधानियां गजनी क्वेटा (पाकिस्तान में) और सियालकोट में थीं।” वे आगे लिखते हैं कि “शाकल नगरी (वर्तमान |सियालकोट) के खण्डहरों से एक शिलालेख प्राप्त हुआ था जिसे कर्नल टॉड साहब ने एशियाटिक सोसायटी के पास भेज दिया था। उस शिलालेख पर राजा शल्य को मद्रक जाट लिखा है।” शाकल नरेश राजा अश्वपति के शासन की उत्कृष्टा के प्राचीन ग्रन्थों में पर्याप्त उल्लेख मिलते हैं। मद्रवंश की स्थिति रामायणकाल में भी उन्नत थी। सुग्रीव ने सीता की खोज के लिए वानर सेना को उत्तर दिशा में जाने का आदेश दिया और वहां के देशों का परिचय देत हुए कहा - “उत्तर में म्लेच्छ, पुलिन्द, शूरसेन, प्रस्थल, भरत (इन्द्रप्रस्थ और हस्तिनापुर के आस-पास के प्रान्त), कुरु (दक्षिण कुरु - कुरुक्षेत्र के पास की भूमि), मद्र, काम्बोज, यवन व शकों के देशों में भली-भांति अनुसंधान करके दरद देश में और हिमालय पर्वत पर ढूंढो।” मद्र देश में मद्रवंश का शासन था।

मद्रदेश के राजा शल्य की बहन माद्री, नकुल और सहदेव की माता थी। महाभारत के अठारह दिन वाले महायुद्ध में एक दिन का सेनापति मद्रराज शल्य भी था। इसके लिए महाभारत द्रोणपर्व में लिखा है - शल्य को महापराक्रमी अतुल बलशाली और घोड़ों को चलाने में श्रीकृष्ण से भी चतुर, गदायुद्ध में भीम के समान निपुण कहा है। मद्रराज शल्य अनेकों मद्रवंशी क्षत्रियों को साथ लेकर वचनबद्ध होने से दुर्योधन की ओर युद्ध में शामिल हुआ था। यह कर्ण का सारथि बना था।

शल्य के दो पुत्र रुक्मरथ और रुक्मांगद द्रौपदी के स्वयंवर में आए थे (आदिपर्व 177-13)। किन्तु महाभारत युद्ध में शल्य के साथ रुक्मरथ ही आया था।

वाहिक या वरिक जनपद इस मद्र जनपद के अन्तर्गत था। मद्रराज शल्य इनसे छठा भाग ‘कर’ (टैक्स) लेता था। मद्रकों ने सिकन्दर की सेना के साथ, सियालकोट के स्थान पर भयङ्कर युद्ध किया था।

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-200

इसके बाद मुगलकाल तक इन मद्रों के सम्बन्ध में कोई वर्णन नहीं मिलता।

पन्द्रहवीं शताब्दी में लोधी के समय तक ये लोग मुसलमान जाट के रूप में समाना, राज्य पटियाला में बसते थे। सर डेञ्जल एवट्सन साहब ने लिखा है कि “मुसलमान हो जाने से इन लोगों ने सिक्खों से तंग आकर पटियाला छोड़ दिया और सरस्वती नदी के किनारे पेहवा नामक स्थान पर आ बसे। ये मढ़ान कहलाने लगे।” पेहवा और थानेसर के बीच मुर्तिजापुर में इन मद्रों का ढहा हुआ एक किला आज भी है। इन लोगों (मढ़ान मद्रों) की करनाल रियासत थी जिसमें 150 गांव थे। ये तीन लाख वार्षिक के मुनाफेदार (आयवाले) थे। इस वंश के मुसलमान मद्रों की बहुत बड़ी संख्या है। कुरुक्षेत्र के समीप 12 गांव हिन्दू जाट मद्रों के हैं। अमृतसर के भावल गांव के सरदार नानूसिंह मद्र ने अपने भाई भागसिंह, रामसिंह को लेकर जगाधरी के पास बूड़िया नामक विशाल किले पर 1764 ई० में अधिकार कर लिया और 200 गांवों पर शासन स्थिर करके एक बूड़िया रियासत बना ली थी। (इसी बूड़िया में बीरबल का जन्म हुआ था जो सम्राट् अकबर के दरबार में था)। नकुड़ तहसील सहारनपुर में मद्रों के 24 गांव हैं जिनमें रानीपुर, भादी और शुक्रताल प्रमुख हैं। मुरादाबाद में मेदरने नाम से मद्र-रम्पुरा, धनपुर, माख्यल, आलनपुर, कासमपुर, मुबारिकपुर, झलचीपुर आदि गांव मद्र जाटों के हैं। इस प्राचीन राजवंश पर जाटों को अभिमान है।

मद्रवंश - इस वैदिककालीन चन्द्रवंशीय मद्र जाटवंश का राज्य उत्तर मद्र एवं दक्षिण मद्र पर था। दक्षिण मद्र पंजाब में तथा उत्तर मद्र कैस्पियन सागर तथा काला सागर के क्षेत्र में था। महाभारत युद्ध में इनकी सेना उत्तर मद्र से भी आई थी। इनका सम्राट् शल्य था जिसकी बहिन माद्री नकुल व सहदेव की माता थी। (देखो तृतीय अध्याय, मद्रवंश)। महाभारत युद्ध के पश्चात् भी इस वंश की शक्ति उत्तर मद्र में रही। इस मद्र राज्य के अन्तर्गत वाह्लीक राज्य था, जिसका स्वयं का अलग राज्य था।[15]

सिकन्दर की वापसी में जाट राजाओं से सामना

दलीप सिंह अहलावत[16] के अनुसार व्यास नदी के तट पर पहुंचने पर सिकन्दर के सैनिकों ने आगे बढ़ने से इन्कार कर दिया। इसका कारण यह था कि व्यास से आगे शक्तिशाली यौधेय गोत्र के जाटों के गणराज्य थे। ये लोग एक विशाल प्रदेश के स्वामी थे। पूर्व में सहारनपुर से लेकर पश्चिम में बहावलपुर तक और उत्तर-पश्चिम में लुधियाना से लेकर दक्षिण-पूर्व में दिल्ली, मथुरा, आगरा तक इनका राज्य फैला हुआ था। इनका प्रजातन्त्र गणराज्य था जिस पर कोई सम्राट् नहीं होता था। समय के अनुकूल ये लोग अपना सेनापति योग्यता के आधार पर नियुक्त करते थे। ये लोग अत्यन्त वीर और युद्धप्रिय थे। ये लोग अजेय थे तथा रणक्षेत्र से पीछे हटने वाले नहीं थे। इनकी महान् वीरता तथा शक्ति के विषय में सुनकर यूनानियों का साहस टूट गया और उन्होंने आगे बढ़ने से इन्कार कर दिया। इनके राज्य के पूर्व में नन्द वंश[17] (नांदल जाटवंश) के सम्राट् महापद्म नन्द का मगध पर शासन था जिसकी राजधानी पाटलिपुत्र थी। यह बड़ा शक्तिशाली सम्राट् था। यूनानी लेखकों के अनुसार इसकी सेना में 20,000 घोड़े, 4000 हाथी, 2000 रथ और 2,00,000 पैदल सैनिक थे। सिकन्दर को ऐसी परिस्थिति में व्यास नदी से ही वापिस लौटना पड़ा। [18]

सिकन्दर की सेना जेहलम नदी तक उसी रास्ते से वापिस गई जिससे वह आयी थी। फिर जेहलम नदी से सिन्ध प्रान्त और बलोचिस्तान के रास्ते से उसके सैनिक गये। परन्तु वापिसी का मार्ग सरल नहीं था। सिकन्दर की सेना से पग-पग पर जाटों ने डटकर युद्ध किए। उस समय दक्षिणी पंजाब में मालव (मल्लोई), शिवि, मद्र और क्षुद्रक गोत्र के जाटों ने सिकन्दर की सेनाओं से सख्त युद्ध किया तथा सिकन्दर को घायल कर दिया। कई स्थानों पर तो जाटों ने अपने बच्चों को आग में फेंककर यूनानियों से पूरी शक्ति लगाकर भयंकर युद्ध किया।

मालव-मल्ल जाटों के साथ युद्ध में सिकन्दर को पता चला कि भारतवर्ष को जीतना कोई सरल खेल नहीं है। मालव जाटों के विषय में यूनानी लेखकों ने लिखा है कि “वे असंख्यक थे और अन्य सब भारतीय जातियों से अधिक शूरवीर थे[19]।”

सिन्ध प्रान्त में उस समय जाट राजा मूसकसेन का शासन था जिसकी राजधानी अलोर थी। जब सिकन्दर इसके राज्य में से गुजरने लगा तो इसने यूनानी सेना से जमकर युद्ध किया। इससे आगे एक और जाटराज्य था। वहां के जाटों ने भी यूनानियों से लोहा लिया[20]

सिकन्दर की सेना जब सिंध प्रान्त से सिंधु नदी पर पहुंची थी तो इसी राजा मूसकसेन (मुशिकन) ने अपने समुद्री जहाजों द्वारा उसे नदी पार कराई थी[21]

जब सिकन्दर अपनी सेना सहित बलोचिस्तान पहुंचा तो वहां के जाट राजा चित्रवर्मा ने जिसकी राजधानी कलात (कुलूत) थी, सिकन्दर से युद्ध किया[22]

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-363

अलग-अलग स्थानों पर हुए युद्ध में जाटों ने सिकन्दर को कई बार घायल किया। वह बलोचिस्तान से अपने देश को जा रहा था परन्तु घावों के कारण रास्ते में ही बैबीलोन (इराक़ में दजला नदी पर है) के स्थान पर 323 ई० पू० में उसका देहान्त हो गया[23]। उस समय उसकी आयु 33 वर्ष की थी।

भारत से लौटते समय सिकन्दर ने अपने जीते हुए राज्य पोरस और आम्भी में बांट दिये थे और सिन्ध प्रान्त का राज्यपाल फिलिप्स को बनाया। परन्तु 6 वर्ष में ही, ई० पू० 317 में भारत से यूनानियों के राज्य को समाप्त कर दिया गया और मौर्य-मौर जाटों का शासन शुरु हुआ। इसका वर्णन अध्याय पांच में किया गया है।


  1. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.55,s.n. 1982
  2. Dr Mahendra Singh Arya etc.,: Ādhunik Jat Itihas, p. 275
  3. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.52
  4. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.53
  5. History of the Jats/Chapter V, p. 93
  6. Dr Pema Ram:Rajasthan Ke Jaton Ka Itihas, First Edition 2010, ISBN:81-86103-96-1,p.14
  7. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p.201
  8. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p.201
  9. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p.201
  10. Dr Mahendra Singh Arya etc, : Ādhunik Jat Itihas, Agra 1998
  11. Kings of Kashmira Vol 2 (Rajatarangini of Kalhana)/Book VIII (i) ,p.131-132
  12. Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Pancham Parichhed,p.95-97
  13. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.291-292
  14. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.199-201
  15. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.343
  16. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.363-364
  17. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, लेखक बी० एस० दहिया ने पृ० 256 पर लिखा है कि यह कहना उचित है कि नन्द जाट आज नांदल/नांदेर कहे जाते हैं।
  18. भारत का इतिहास, पृ० 47, हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी; हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 161-162)
  19. हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 162 भारत का इतिहास पृ० 47 हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी।
  20. जाट इतिहास क्रमशः पृ० 695, 192, 695 लेखक ठा० देशराज।
  21. जाट इतिहास क्रमशः पृ० 695, 192, 695 लेखक ठा० देशराज।
  22. जाट इतिहास क्रमशः पृ० 695, 192, 695 लेखक ठा० देशराज।
  23. भारत का इतिहास पृ० 47, हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी; हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 162।

Back to Mahabharata People/The Ancient Jats