Khajuraho

From Jatland Wiki
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)

Map of Chhatarpur District‎

Khajuraho (खजुराहो) is town in Chhatarpur District in Madhya Pradesh. It is known for Khajuraho Group of Monuments, the Hindu and Jain temples. Jajhoti was ancient place mentioned by Xuanzang as Chi-chi-to in 641 AD. Alexander Cunningham[1] has identified Jajhoti with Khajuraho in Madhya Pradesh.

Variants

Location

Khajuraho is located in south of Rajnagar town.

Jat clan

Khajuria - Khajuria Jat gotra is saidto be started after people who inhabited area full of Khajur or Date Palm (Phoenix dactylifera) trees. They lived near Khajuraho, so also called Khajuria.[2]

Origin of name

  • The name Khajuraho, or Kharjuravāhaka, is derived from ancient Sanskrit (kharjura (खर्जूर) means date palm,[3] and vāhaka (वाहक) means "one who carries" or bearer[4]). Local legends state that the temples had two golden date-palm trees as their gate (missing when they were rediscovered).
  • Desai states that Kharjuravāhaka also means scorpion bearer, which is another symbolic name for deity Shiva (who wears snakes and scorpion garlands in his fierce form).[5]

History

The Khajuraho group of monuments were built during the rule of Chandela dynasty. The building activity started almost immediately after the rise of their power, throughout their kingdom to be later known as Bundelkhand. Most temples were built during the reigns of the Hindu kings Yashovarman and Dhanga. Yashovarman's legacy is best exhibited by Lakshmana temple. Vishvanatha temple best highlights King Dhanga's reign. The largest and currently most famous surviving temple is Kandariya Mahadeva built in the reign of King Ganda from 1017-1029 CE.[6] The temple inscriptions suggest many of the currently surviving temples were complete between 970 to 1030 CE, with few more temples completed in decades thereafter.[7]

The Khajuraho temples were built about 35 miles from the medieval city of Mahoba, the capital of Chandela dynasty, in Kalinjar region. In ancient and medieval literature, their kingdom has been called Jijhoti, Jejahoti, Chih-chi-to and Jejakabhukti.[8]

Khajuraho were mentioned by Abu Rihan-al-Biruni, the Persian historian who accompanied Mahmud of Ghazni in his raid of Kalinjar in 1022 CE; he mentions Khajuraho as the capital of Jajahuti.[9] The raid was unsuccessful, and a peace accord was reached when the Hindu king agreed to pay a ransom to Mahmud of Ghazni to end the attack and leave.[10]

Khajuraho temples were in active use through the end of 12th century. This changed in the 13th century, after the army of Delhi Sultanate, under the command of the Muslim Sultan Qutb-ud-din Aibak, attacked and seized the Chandela kingdom.

About a century later, Ibn Battuta, the Moroccan traveller in his memoirs about his stay in India from 1335 to 1342 CE, mentioned visiting Khajuraho temples, calling them “Kajarra” or phonetically translated from Arabic sometimes as “Kajwara”.[11]

Mention of Jajhoti by Xuanzang

Alexander Cunningham[12] writes that Hwen Thsang places the kingdom of Chi-chi-to at 1000 li, or 167 miles, to the north-east of Ujain. As the first and second syllables of this name are represented by different Chinese characters,[13] it is certain that the pilgrim must have intended them to be the eqiiivalents of two distinct Indian characters. This requirement is fully met by identifying Chi-chi-to with the kingdom of Jajhoti, or Jajhaoti, mentioned by Abu Rihan, who calls the capital Kajurahah[14] and places it at 30 parasangs, or about 90 miles, to the south-east of Kanoj. The true direction, however, is almost due south, and the distance about twice 30 parasangs, or 180 miles. This capital was actually visited by Ibn Batuta in A.D. 1335, who calls it Kajura,[15] and describes it as possessing a lake about 1 mile in length, which was surrounded by idol temples. These are still standing at Khajuraho, and they form perhaps the most magnificent group of Hindu temples that is now to be found in northern India.

From these accounts of Abu Rihan and Ibn Batuta, it is evident that the province of Jajhoti corresponded with the modern district of Bundelkhand. The Chinese pilgrim estimates the circuit of Chichito at 4000 li, or 667 miles, which would form a square of about 167 miles to each side. Now, Bundelkhand in its widest extent is said to have comprised all


[p.482]: the country to the south of the Jumna and Ganges, from the Betwa river on the west to the temple of Vindhya-vasini-Devi on the east, including the districts of Chanderi, Sagar and Bilhari near the sources of the Narbada on the south. But these are also the limits of the ancient country of the Jajhotiya Brahmans, which, according to Buchanan's information,[16] extended from the Jumna on the north to the Narbada on the south, and from Urcha on the Betwa river in the west, to the Bundela Nala on the east. The last is said to be a small stream which falls into the Ganges near Banaras, and within two stages of Mirzapur. During the last twenty -five years I have traversed this tract of country repeatedly in all directions, and I have found the Jajhotiya Brahmans distributed over the whole province, but not a single family to the north of the Jumna or to the west of the Betwa. I have found them at Barwa Sagar near Urcha on the Betwa, at Mohda near Hamirpoor on the Jumna, at Rajnagar and Khajuraho near the Kane river, and at Udaipoor, Pathari and Eran, between Chanderi and Bhilsa. In Chanderi itself there are also Jajhotiya Baniyas, which alone is almost sufficient to show that the name is not a common family designation, but a descriptive term of more general acceptance. The Brahmans derive the name of Jajhotiya from Yajur-hota, an observance of the Yajur-ved; but as the name is applied to the Baniyas, or grain-dealers, as well as to the Brahmans, I think it almost certain that it must be a mere geographical designation derived from the name of their country, Jajhoti. This opinion is confirmed by other well-known names


[p.483]: of the Brahmanical tribes, as Kanojiya from Kanoj ; Gaur from Gaur ; Sarwanya or Sarjuparia from Sarju-par, the opposite bank of the Sarju river ; Bravira from Dravira in the Dakhan, Maithila from Mithila, etc. These examples are sufficient to show the prevalence of geographical names amongst the divisions of the Brahmanical tribes, and as each division is found most numerously in the province from which it derives its name, I conclude with some certainty that the country in which the Jajhotiya Brahmans preponderate must be the actual province of Jajhoti.

Khajuraho is a small village of 162 houses, containing rather less than 1000 inhabitants. Amongst these there are single houses of seven different divisions of the Jajhotiya Brahmans, and eleven houses of Chandel Rajputs, the chief of whom claim descent from Raja Paraml Deo, the antagonist of the famous Prithi Raj. The village is surrounded on all sides by temples and ruins ; but these are more thickly grouped in three separate spots on the west, north, and south-east. The western group, which consists entirely of Brahmanical temples, is situated on the banks of the Sib-sagar, a narrow sheet of water, about three-quarters of a mile in length from north to south in the rainy season, but not more than 600 feet square during the dry season. It is three-quarters of a mile from the village, and the same distance from the northern group of ruins, and a full mile from the south-eastern group of Jain temples. Altogether, the ruins cover about one square mile ; but as there are no remains of any kind between the western group and the Khajur Sagar, the boundary of the ancient city could not have extended beyond the west bank of the lake. On the other three sides of


[p.484]: the lake, the ruins are all continuous, extending over an oblong space 4500 feet in length from north to south, and 2500 feet in breadth from east to west, with a circuit of 14,000 feet, or nearly 3f miles. This corresponds almost exactly with the size of the capital as recorded by Hwen Thsang in A.D. 641, but at some later period the city of Khajuraho was extended to the east and south as far as the Kurar Nala, when it had a circuit of not less than 3½ miles. As Mahoba must have been about the same size as Khajuraho, it is doubtful which of the two was the capital at the time of Hwen Thsang' s visit. But as the very name of Mahoba, or Mahotsava-nagara, the " City of the great Jubilee," is specially connected with the rise of the Chandel dynasty, I think it most probable that Khajuraho must have been the capital of the earlier dynasty of Jajhotiya Brahmans ; and there-fore it must have been the capital of Jajhoti at the time of Hwen Thsang's visit. But as it is up- wards of 300 miles from Ujain, or just double the distance mentioned by the pilgrim, his 1000 li must be increased to 2000 li, or 333 miles, to make it accord with the actual measurement. It is a curious fact that Abu Rihan's distance from Kanoj is also in defect in the same proportion ; and this agreement suggests that the probable cause of both errors must be the same, namely, the excessive length of the kos of Bundelkhand, which is a little over 4 miles, or exactly double the ordinary kos of northern India.

Hwen Thsang estimates the circuit of the kingdom of Jajhoti at 4000 li, or 667 miles. To meet these large dimensions it must have comprised the whole tract of country lying between the Sindh and the Tons,


[p.485]: from the Ganges on the north to Nya Sarai and Bilhari on the south. This tract includes the famous fort of Kalinjar, which became the permanent capital of the Chandel Rajas after the occupation of Mahoba by the Muhammadans, and the strong fortress of Chanderi, which became the Muhammadan capital of eastern Malwa, after the desertion of the old city of Buri Chanderi.

Grahapati Kokkala inscription 1000-1001 AD

Text

It starts with invocation Om Namah Shivaya.

Verses 1-2: Invocation of Lord Shiva.
Verse 3: Equates Shiva with Parama Brahma, Buddha, Vaman, Jina etc.
Verses 5-7: Praise of the Padmavati city.
Verses 8-14: Praises a family lineage of Grahapai Vamsha leading to Kokkala.
Verses 15-21: Describe a town and the Vaidyanath temple built by Kokkala.
Grahapati Kokkala inscription 1000-1001 AD[17]

The Grahapati Kokkala inscription is an epigraphic record documenting the dedication of a Shiva temple. It is a large 22 line text. It dates to 1000-1001 CE. It is one of several Chandella era inscriptions that mention a Grahapati family.[18]

It is the earliest known reference to a Grahapati family.[19] Unlike all other Chandella era Grahapati inscriptions which are Jain, this refers to a Shiva temple,[20] although Verse 3 suggests that the builder also worshipped Jinas.

Location: It was found somewhere in Khajuraho or its vicinity, and is currently located in the Vishvanath temple there.[21]

Publication: The inscription was first published by Cunnigham,[5] and has since been published in several books.[6]

Description and contents: The inscription at Khajuraho, dated Samvat 1056, Kartika (1000–1001 AD), is engraved on a slab and records the dedication of a temple termed Vidyanatha temple.[22] The current location of the Vidyanatha temple is uncertain; the inscription slab has been fixed to the Vishvanath temple.[23] Cunningham had identified the Beejamandal temple at Jatkara village near Khajuraho as the Vishvanath temple.[24]

खजुराहो

विजयेन्द्र कुमार माथुर[25] ने लेख किया है ...खजुराहो (जिला छतरपुर, मध्य प्रदेश) (AS, p.252) प्राचीनकाल में खजुराहो जुझौतिया या बुंदेलखंड का मुख्य नगर था. चंदेल राजपूतों ने मध्यकाल में इस नगर को सुंदर मंदिरों से अलंकृत किया था. चंदेलों के राज्य की नींव आठवीं सदी ई. में महोबा के चंदेल नरेश चंद्रवर्मा ने डाली थी. तब से लगभग पांच शतियों तक चँदलों की राज्यसत्ता जुझौति में स्थापित रही. इनका मुख्य दुर्ग कालिंजर तथा मुख्य अधिष्ठान महोबा में था. खजुराहो में जो मंदिर इन्होंने बनवाए उनमें से 30 आज भी स्थित हैं. इनमें आठ जैन मंदिर भी हैं. जैन मंदिरों की वास्तुकला अन्य मंदिरों के शिल्प से मिलती-जुलती है. सबसे बड़ा मंदिर पार्श्वनाथ का है जिसका निर्मित काल 950-1050 ई. है. अधिकांश मंदिरों का निर्माण काल स्थूल रूप से 10वीं- 11वीं सदी ई. है. खजुराहो के मंदिरों में सर्वश्रेष्ठ कंदरिया महादेव का मंदिर है.

खजुराहो के मन्दिर में तीन बड़े शिलालेख हैं, जो चन्देल नरेश गण्ड और यशोवर्मन के समय के हैं। 7वीं शती में चीनी यात्री युवानच्वांग ने खजुराहो की यात्रा की थी। उसने उस समय भी अनेक मन्दिरों को वहाँ पर देखा था। पिछली शती तक खजुराहो में सबसे अधिक संख्या में मन्दिर स्थित थे, किन्तु इस बीच वे नष्ट हो गए हैं।

खजुराहो परिचय

चंदेल शासकों ने इन मंदिरों की तामीर सन 900 से 1130 ईसवी के बीच करवाई थी। इतिहास में इन मंदिरों का सबसे पहला जो उल्लेख मिलता है, वह अबू रिहान अल बरूनी (1022 ईसवी) तथा अरब मुसाफ़िर इब्न बतूता का है।

दरअसल यह क्षेत्र प्राचीन काल में वत्स के नाम से, मध्य काल में जैजाक्भुक्ति नाम से तथा चौदहवीं सदी के बाद बुन्देलखन्ड के नाम से जाना गया। खजुराहो के चन्देल वंश का उत्थान दसवीं सदी के शुरू से माना जाता है। इनकी राजधानी प्रासादों, तालाबों तथा मंदिरों से परिपूर्ण थी। स्थानीय धारणाऑं के अनुसार तक़रीबन एक हज़ार साल पहले यहां के दरियादिल व कला पारखी चंदेल राजाओं ने क़रीब 84 बेजोड़ व लाजवाब मंदिरों की तामीर करवाई थी, लेकिन उनमें से अभी तक सिर्फ़ 22 मंदिरों की ही खोज हो पाई है, यद्यपि दूसरे पुरावशेषों के प्रमाण प्राचीन टीलों तथा बिखरे वास्तुखंडों के रूप में आज भी खजुराहो तथा इसके आसपास देखे जा सकते हैं। पंद्रहवीं सदी के बाद इस इलाक़े की अहमियत ख़त्म होती गई।

मंदिर स्थापत्य: सामान्य रूप से यहां के मंदिर बलुआ पत्थर से निर्मित किए गए हैं, लेकिन चौंसठ योगिनी, ब्रह्मा तथा ललगुआँ महादेव मंदिर ग्रेनाइट (कणाष्म) से निर्मित हैं। ये मंदिर शैव, वैष्णव तथा जैन संप्रदायों से सम्बंधित हैं। खजुराहो के मंदिरों का भूविन्यास तथा ऊर्ध्वविन्यास विशेष उल्लेखनीय है, जो मध्य भारत की स्थापत्य कला का बेहतरीन व विकसित नमूना पेश करते हैं। यहां मंदिर बिना किसी परकोटे के ऊंचे चबूतरे पर निर्मित किए गए हैं। आमतौर पर इन मंदिरों में गर्भगृह, अंतराल, मंडप तथा अर्धमंडप देखे जा सकते हैं। खजुराहो के मंदिर भारतीय स्थापत्य कला के उत्कृष्ट व विकसित नमूने हैं, यहां की प्रतिमाऐं विभिन्न भागों में विभाजित की गई हैं। जिनमें प्रमुख प्रतिमा परिवार, देवता एवं देवी-देवता, अप्सरा, विविध प्रतिमाऐं, जिनमें मिथुन (सम्भोगरत) प्रतिमाऐं भी शामिल हैं तथा पशु व व्याल प्रतिमाऐं हैं, जिनका विकसित रूप कंदारिया महादेव मंदिर में देखा जा सकता है। सभी प्रकार की प्रतिमाओं का परिमार्जित रूप यहां स्थित मंदिरों में देखा जा सकता है।

यहां मंदिरों में जड़ी हुई मिथुन प्रतिमाऐं सर्वोत्तम शिल्प की परिचायक हैं, जो कि दर्शकों की भावनाओं को अत्यंत उद्वेलित व आकर्शित करती हैं और अपनी मूर्तिकला के लिए विशेष उल्लेखनीय हैं। खजुराहो की मूर्तियों की सबसे अहम और महत्त्वपूर्ण ख़ूबी यह है कि इनमें गति है, देखते रहिए तो लगता है कि शायद चल रही है या बस हिलने ही वाली है, या फिर लगता है कि शायद अभी कुछ बोलेगी, मस्कुराएगी, शर्माएगी या रूठ जाएगी। और कमाल की बात तो यह है कि ये चेहरे के भाव और शरीर की भंगिमाऐं केवल स्त्री-पुरुषों में ही नहीं बल्कि जानवरों में भी दिखाई देते हैं। कुल मिलाकर कहा जाय तो हर मूर्ति में एक अजीब सी हलचल है। खजुराहो के प्रमुख मंदिरों में लक्ष्मण, विश्वनाथ, कंदारिया महादेव, जगदम्बी, चित्रगुप्त, दूल्हादेव, पार्श्वनाथ, आदिनाथ, वामन, जवारी, तथा चतुर्भुज इत्यादि हैं।

अगर भारत में कहीं भी मंदिर स्थापत्य व वास्तुकला का रचनात्मक, अद्वितीय, विलक्षण, भव्य, राजसी, बेजोड़, लाजवाब, शानदार और शाही सृजन है... तो वह है केवल और केवल खजुराहो में। खजुराहो चंदेल शासकों के प्राधिकार का प्रमुख स्‍थान था, जिन्‍होंने यहाँ अनेकों तालाबों, शिल्‍पकला की भव्‍यता और वास्‍तुकलात्‍मक सुंदरता से सजे विशालकाय मंदिर बनवाए। यशोवर्मन 954 ईसवी ने विष्णु का मंदिर बनवाया जो अब लक्ष्‍मण मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है और यह चंदेल राजाओं की प्रतिष्‍ठा का दावा करने वाले इसके समय के एक उदाहरण के रूप में स्थित है।

विश्वनाथ, पार्श्वनाथ और वैद्यनाथ के मंदिर राजा डांगा के समय से हैं जो यशोवर्मन के उत्तरवर्ती थे। खजुराहो का सबसे बड़ा और महान् मंदिर अनश्‍वर कंदारिया महादेव का है जिसे राजा गंडा 1017-29 ईसवी ने बनवाया है। इसके अलावा कुछ अन्‍य उदाहरण हैं जैसे कि वामन, आदि नाथ, जवारी, चतुर्भुज और दुल्‍हादेव कुछ छोटे किन्‍तु विस्‍तृत रूप से संकल्पित मंदिर हैं। खजुराहो का मंदिर समूह अपनी भव्‍य छतों (जगती) और कार्यात्‍मक रूप से प्रभावी योजनाओं के लिए भी उल्‍लेखनीय है। यहाँ की शिल्‍पकलाओं में धार्मिक छवियों के अलावा परिवार, पार्श्‍व, अवराणा देवता, दिकपाल और अप्‍सराएँ तथा सूर सुंदरियाँ भी हैं। यहाँ वेशभूषा और आभूषण भव्‍यता मनमोहक हैं।

इतिहास: खजुराहो का प्राचीन नाम खर्जुरवाहक है। 900 से 1150 ई. के बीच यह चन्देल राजपूतों के राजघरानों के संरक्षण में राजधानी और नगर था, जो एक विस्तृत क्षेत्र 'जेजाकभुक्ति' (अब मध्य प्रदेश का बुंदेलखंड क्षेत्र) के शासक थे। चन्देलों के राज्य की नींव आठवीं शती ई. में महोबा के चन्देल नरेश चंद्रवर्मा ने डाली थी। तब से लगभग पाँच शतियों तक चन्देलों की राज्यसत्ता जुझौति में स्थापित रही। इनका मुख्य दुर्ग कालिंजर तथा मुख्य अधिष्ठान महोबा में था। 11वीं शती के उत्तरार्ध में चन्देलों ने पहाड़ी क़िलों को अपनी गतिविधियों का केन्द्र बना लिया। लेकिन खजुराहो का धार्मिक महत्त्व 14वीं शताब्दी तक बना रहा। इसी काल में अरबी यात्री इब्न बतूता यहाँ पर योगियों से मिलने आया था। खजुराहो धीरे-धीरे नगर से गाँव में परिवर्तित हो गया और फिर यह लगभग विस्मृति में खो गया।

मन्दिरों की खोज: 1838 में एक ब्रिटिश इंजीनियर कैप्टन टी.एस. बर्ट को अपनी यात्रा के दौरान अपने कहारों से इसकी जानकारी मिली। उन्होंने जंगलों में लुप्त इन मन्दिरों की खोज की और उनका अलंकारिक विवरण बंगाल की एशियाटिक सोसाइटी के समक्ष प्रस्तुत किया। 1843 से 1847 के बीच छतरपुर के स्थानीय महाराजा ने इन मन्दिरों की मरम्मत कराई। जनरल अलेक्ज़ेंडर कनिंघम ने इस स्थान की 1852 के बाद कई यात्राएँ कीं और इन मन्दिरों का व्यवस्थाबद्ध वर्णन अपनी 'भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण' की रिपोर्ट (आर्कियोलाजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया रिपोर्ट्स) में किया। खजुराहों के स्मारक अब भारत के पुरातात्विक सर्वेक्षण विभाग की देखभाल और निरीक्षण में हैं। जिसने अनेक टीलों की खुदाई का कार्य करवाया है। इनमें लगभग 18 स्थानों की पहचान कर ली गई है। सन् 1950-1951 में भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद खजुराहो आए। इस दौरान यहां के निवासियों ने खजुराहो के विकास की रूपरेखा उनके समक्ष रखी, उसके बाद वर्ष 1955 में पंडित जवाहर लाल नेहरू का भी खजुराहो आगमन हुआ। उन्होंने खजुराहो के मंदिरों की सराहना करते हुए इसके विकास की दिशा में क़दम उठाने का आश्वासन दिया। इन्हीं मंदिरों की वजह से खजुराहो पर्यटन स्थल के रूप में शीघ्र विकसित हुआ। आज विश्व पर्यटन के मानचित्र पर खजुराहो का विशिष्ट स्थान है। खजुराहो को यूनेस्को से 1986 ई. में विश्व धरोहर स्थल का दर्जा भी मिला। आधुनिक खजुराहो एक छोटा-सा गाँव है, जो होटलों और हवाई अड्डे के साथ पर्यटन व्यापार की सुविधा उपलब्ध कराता है।

कलात्मकता: खजुराहो के मंदिर भारतीय स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना हैं। खजुराहो में चंदेल राजाओं द्वारा बनवाए गए ख़ूबसूरत मंदिरो में की गई कलाकारी इतनी सजीव है कि कई बार मूर्तियाँ ख़ुद बोलती हुई मालूम देती हैं। दुनिया को भारत का खजुराहो के कलात्मक मंदिर एक अनमोल तोहफ़ा हैं। उस समय की भारतीय कला का परिचय इनमे पत्थर की सहायता से उकेरी गई कलात्मकता देती है। खजुराहो के मंदिरों को देखने के बाद कोई भी इन्हें बनाने वाले हाथों की तारीफ़ किए बिना नहीं रह सकता।

निर्माण के पीछे कथा: खजुराहो के मंदिरों के निर्माण के पीछे एक बेहद रोचक कथा है। कहा जाता है कि हेमवती एक ब्राह्मण पुजारी की बेटी थी। एक बार जब जंगल के तालाब में नहा रही थी, तो चंद्र देव यानी कि चंद्रमा उस पर मोहित हो गए और दोनों के एक बेटा हुआ। हेमवती ने अपने बेटे का नाम चंद्रवर्मन रखा। इसी चंद्रवर्मन ने बाद में चंदेल वंश की स्थापना की। चंद्रवर्मन का लालन-पालन उसकी माँ ने जंगल में किया था। राजा बनने के बाद उसने माँ का सपना पूरा करने की ठानी। उसकी माँ चाहती थी कि मनुष्य की तमाम मुद्राओं को पत्थर पर उकेरा जाए। इस तरह चंद्रवर्मन की माँ हेमवती की इच्छा स्वरूप इन ख़ूबसूरत मंदिरों का निर्माण हुआ। खजुराहो के ये मंदिर पूरी दुनिया के लिए एक धरोहर हैं।

बौद्ध धर्म: खजुराहो में विराजमान बुद्ध की एक विशाल प्रतिमा के प्राप्त होने से यह संकेत मिलता है कि इस क्षेत्र में बौद्ध धर्म का भी प्रचलन था, भले ही वह सीमित पैमाने पर ही क्यों न रहा हो। कनिंघम के मत में गंठाई नामक मन्दिर बौद्ध धर्म से सम्बन्धित है, किन्तु यह तथ्य सत्य जान नहीं पड़ता।

हिन्दू धार्मिक प्रणाली: खजुराहो की हिन्दू धार्मिक प्रणाली तंत्र पर आधारित थी, लेकिन कापालिक सम्प्रदाय के खोपड़ी धारियों (शिव के कापाली स्वरूप के पूजक) से पृथक् थी। ये लोग उग्र तांत्रिक नहीं थे, ये परम्परागत रूढ़िवादी और ब्राह्मणवादी धारा के थे, जो वैदिक पुनरुत्थान और पौराणिक तत्वों से प्रभावित थे, जैसा कि मन्दिरों के शिलालेखों से प्रमाण मिलता है।

पर्यटन स्थल: खजुराहो प्रसिद्ध पर्यटन और पुरातात्विक स्थल है। जिसमें हिन्दू व जैन मूर्तिकला से सुसज्जित 25 मन्दिर और तीन संग्रहालय हैं। 25 मन्दिरों में से 10 मंदिर विष्णु को समर्पित हैं, जिसमें उनका एक सशक्त मिश्रित स्वरूप वैकुण्ठ शामिल है। नौ मन्दिर शिव के, एक सूर्य देवता का, एक रहस्यमय योगिनियों (देवियों) का और पाँच मन्दिर दिगम्बर जैन सम्प्रदाय के तीर्थकारों के हैं।

खजुराहो के मन्दिर में तीन बड़े शिलालेख हैं, जो चन्देल नरेश गण्ड और यशोवर्मन के समय के हैं। 7वीं शती में चीनी यात्री युवानच्वांग ने खजुराहो की यात्रा की थी। उसने उस समय भी अनेक मन्दिरों को वहाँ पर देखा था। पिछली शती तक खजुराहो में सबसे अधिक संख्या में मन्दिर स्थित थे, किन्तु इस बीच वे नष्ट हो गए हैं।

खजुराहो में नई खोजें: इससे तो हम वाकिफ़ हैं ही कि खजुराहो के दृश्यपटल पर 22 मंदिर दिखाई देते हैं लेकिन सच्चाई और यथातथ्यता उन मंदिरों की अभिनिश्चित करनी थी जिनकी संख्या अनुश्रुति के अनुसार 84 बताई जाती है और जो दिखाई नहीं देते। तो इस कार्य को सम्पन्न करने का बीड़ा 1980 में भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण ने उठया और मंदिरों की खोज आरम्भ करदी। अब तक वे 18 प्राचीन टीलों को खोज निकालने में कामयाब रहे हैं। मार्च 1999 में भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण एक ऐसे टीले को खोजने में सफल हुआ जो कि अ‍गर ध्वस्त न हुआ होता तो वह खजुराहो का सबसे बड़ा मंदिर होता। इस का नाम है बीजमंडल और आश्चर्यजनक बात यह है कि यह कंदारिया महादेव मंदिर से चार मीटर बड़ा है।

संदर्भ: भारतकोश-खजुराहो

References

  1. The Ancient Geography of India: I. The Buddhist Period, Including the Campaigns of Alexander, and the Travels of Hwen-Thsang. By Sir Alexander Cunningham, p.481
  2. Mahendra Singh Arya et al.: Adhunik Jat Itihas, Agra 1998, p. 234
  3. kharjUra Sanskrit English Dictionary, Koeln University, Germany
  4. kharjura Sanskrit English Dictionary, Koeln University, Germany
  5. vAhaka Sanskrit English Dictionary, Koeln University, Germany
  6. Khajuraho Group of Monuments on UNESCO Site
  7. James Fergusson, Norther or Indo-Aryan Style - Khajuraho History of Indian and Eastern Architecture, Updated by James Burgess and R. Phene Spiers (1910), Volume II, John Murray, London
  8. Mitra (1977), The early rulers of Khajuraho, ISBN 978-8120819979
  9. J. Banerjea (1960), Khajuraho, Journal of the Asiatic Society, Vol. 2-3, pp 43-47
  10. J. Banerjea (1960), Khajuraho, Journal of the Asiatic Society, Vol. 2-3, pp 43-47
  11. Director General of Archaeology in India (1959), Archaeological Survey of India, Ancient India, Issues 15-19, pp 45-46 (Archived: University of Michigan)
  12. The Ancient Geography of India: I. The Buddhist Period, Including the Campaigns of Alexander, and the Travels of Hwen-Thsang. By Sir Alexander Cunningham, p.481
  13. Julien's 'Hiouen Thsang,' Index, iii. 530, 408. See Map No. I.
  14. Reinaud, 'Fragments Arabes,' etc., p. 106.
  15. Dr. Lee's translation, p. 162; where the name is read as Kajwara, hut the original Persian characters read Kaiura.
  16. 'Eastern India,' it. 452.
  17. Khajuraho, Kanhiayalal Agrawal, The McMillan Company of India, 1980, p. 141-146
  18. Inscriptions of the Chandellas of Jejakbhukti,Ed. H.V. Trivedi, 1989, p. 456.
  19. Svasti Śrī: Dr. B.Ch. Chhabra felicitation volume, K. V. Ramesh, Agam Prasad, S. P. Tewari, p. 139
  20. Lalit kalā, Issue 10, Lalit Kala Akademi,1961, p. 64
  21. The Early Rulers of Khajuraho, S.K. Mitra, 1958, Motilal Banarasidas, p. 224
  22. Epigraphica Indica, Pt I, p. 135-36
  23. Kharjuravahaka, D. J. Kale, 1967, p. 123
  24. Reports By Archaeological Survey of India By Archaeological Survey of India Published 1880, Cunningham
  25. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.252-253