Bareilly

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Map of Bareilly district

Bareilly is a city and district in the north-central Uttar Pradesh.

Importance

Bareilly is famous for being connected with the Jat Regiments Centre of Indian Army.

Jat Gotras

Tahsils in Bareilly district

Villages in Bareilly Tahsil

Abdullapur Mafi, Abheypur Camp, Abheypur Keshonpur, Adhkata Bunnyadi Begum, Adhkata_Brahmnan, Adlakhia, Adoopura Jagir, Ahladpur, Aina, Ainthpur, Ajampur Mustaqil, Akhtiarpur, Alampur, Amlaunipur, Angori, Asaram Rajpur, Aspur Khubchand, Aspur Pitam Rai, Atakayasthan, Atapatti Janubi, Atapatti Shumali, Babhia, Badshah Nagar, Bahjuiya Jagir, Baikunthapur, Balipur Ahmedpur, Balla Kotha, Balrau, Banjaria Jagir, Barehpura, Bareilly (CB), Bareilly (M Corp.), Bari Nagla, Barkapur, Bebah, Beerpur Maqrooqa, Beerpur Urf Kasam Nager, Behti Deh Jagir, Benipur Sadat, Bhagnapur, Bhagwanpur Dhimri, Bhagwanpur Thakuran Mustqil, Bhagwantapur, Bhagwatipur, Bhairpur Khajuria, Bhandaria, Bhandsar, Bhartapur, Bhartaul, Bhikampur, Bhindaulia, Bhjhia Janoobi, Bhjhia Shumali, Bhoji Pura, Bhoora, Bibia Pur Kayasthan, Bibiapur Chaudhry, Bichra Balkishanpur, Bilwa, Birya Narainpur, Bithri Chainpur, Bohit, Bukhara, Chahar Nagla, Chandpur Bichpuri, Chaneta, Chaneti, Chathia Jagannath, Chaubari Mustqil, Chaupara Janubi, Chaupara Shumali, Chausanda, Chawer, Chena Murarpur, Dabhora Khanjanpur, Dahiya, Dalpatpur, Dandia, Daspur, Dauli Raghuber Dayal, Deoria Jagir, Dhaneti Kharagpur, Dhantiya, Dharoopur Thakuran, Dhaura Tanda (NP), Dhaurera Mafi, Didar Patti, Dogharia, Dohara, Dohna Pitam Rai, Dubari, Faridapur Barkalisaheb, Faridapur Inayat Khan, Faridapur Jagir, Faridapur Ramcharan, Fatehpur Durga Prasad, Gajraula, Garau, Ghanghora Piparia, Ghanghoua Ghanghori, Ghunsa, Ghur Shamashpur, Girdharipur, Gokulpur, Goonga, Gopalpur Azizpur, Gopalpur Nagaria Anoop, Gujarhai Mustqil, Gularia Riziqulanisan, Gupalapur, Hadauria, Haibatpur, Hamirpur, Harbanspur Urf Lachhmipur, Hardua, Herherpur, Ichoria, Isapur, Ismailpur, Itauwa Kedar Nath, Itawa Beni Ram, Itawa Sukhdevpur, Jadaunpur, Jafarpur, Jagannathpur, Jagatpur, Jallapur Ram Dayal, Jallapur Sobha Ram, Janak Jagir, Jatau Patti, Jatawa, Jhingri, Jitaur Ethmali, Jitaur Mustqil, Jogither, Kacholi, Kakgaina (CT), Kalapur, Kalara, Kalari, Kamuan Kalan, Kamuan Khurd, Kamuan Maqrooqa, Kandharpur, Kanthri, Karampur Chaudhary, Karampur Thakuran,]], Kareli, Karonda, Keeratpur, Kesarpur, Keshonpur, Khai Khera, Khajua Jagir, Khajuhai Ethmali, Khajuhai Mustqil, Khajuria Brahmnan, Khajuria Zulfiqar, Khanpur, Khatola Ganpat Rai, Khatola Hulas Kunwer, Khitausa, Kiara Ehtmali, Kiara Mustqil, Kodhampur, Kohni, Kuan Danda Dhimni, Kuan Danda Kurmian, Kumrah, Kundra Mustqil, Kunwerpur Banjaria, Lad Pur, Lahiya, Lakhampur, Lakhaura, Lalpur, Latoori, Laxmipur, Lilauri, Madhav Pur Mafi, Maheshpur Shahimamuddin, Maheshpur Shiv Singh, Maheshpur Thakuran, Mahgawan Urf Unchagaon, Majhawa Gangapur, Majhola Sarv Sukhi, Makrandpur Pitam Rai, Mallahpur, Mallahpur Dunda, Mamrezpur Nawadia, Manda, Manehra, Manpur Ahaiyapur, Manpur Chikitia, Manpuria Delel, Manpuria Janki Prasad, Masit, Mawai, Mehma Patti, Memaur, Meondi Khurd Lalan, Meondi Rani Mewa Kunwer, Mianpur, Milak Imamnager, Milak Kalara, Milakimam Ganj, Mohammadpur Thakuran, Mohammedpur Jatan, Mohanpur Urf Ram Nager, Mohenpur, Mohrania, Mubarkpur, Mudia Hafiz, Mullapur, Mundia Ahmed Nagar, Mundia Chetram, Murar Pur, Murshidabad, Nabi Nagar, Nagaria Kalan, Nagipur, Naryawal, Nathoo Rampura, Naugawan Ghatampur, Naugawan Harsa Patti, Naugawan Jagir, Nawa Nagla, Nawada Brahmnan, Nawadia Harkishan, Nawadia Ilaqa Singhai, Nawadia Jhada, Neodhana, Pachdeora Deoria, Pachdeora Kalan, Padarathpur, Pahar Ganj, Pahladpur, Pahrapur Basawan Nagaria, Paigapur, Palpur Kamalpur, Pandri Halwa, Parataspur, Pardholi, Parewa Kuiyan, Pargawan, Parsonia, Parsu Nagla, Patparaganj, Patti Beharipur, Pipalsana Chaudhari, (CT) Piparia Ram Dayal, Purnapur, Qusampur, Rahpura Girdhri Lal, Rahpura Karim Bux, Raipur, Rajpura Mafi, Rajpuri Nawada, Ramiapur, Rampura Inayetpur Ethmali, Rampura Inayetpur Mustqil, Rampura Mafi, Rasoola Chaudhry, Rasoola Gulam Abbas, Rithora (NP), Rohtapur, Rondhi Mustqil, Roopapur Barehpura, Rukam Pur, Safri, Sagalpur, Sagunia, Sahasia Hasainpur Mustqil, Sahasia Husainpur Ethmali, Sahua, Saidoopur Lashkariganj, Saidpur Chunni Lal, Saidpur Khajuria, Saidpur Kurmian, Saidpur Piareylal, Saiyad Pur Urf Saimudpur, Sakatpur, Sarai Talfi Mustqil, Sari Pur, Sarkara, Sawer Khera, Sendra, Simra Ajooba Begum, Simraboripur, Singhai Kayesthan, Singhai Murawan, Sisaiya, Soodanpur Mustqil, Sunderpur, Surla, Tahtajpur, Taimatpur, Tajua, Tandua, Thiriya Nizamat Khan (NP), Tigra, Tiliya Pur, Tirkunia, Tiwaria, Tulsi Pur, Udaipur Banno Jan, Udaipur Jasrathpur, Uganpur, Umarsia, Urla Jagir, Vaishpur,

History

बरेली का जाट म्यूजियम

बरेली के जाट म्यूजियम में रखी एक-एक धरोहर गौरवमयी इतिहास समेटे है, जिन्हें देखकर सिर गर्व से तन जाता है और सीना चौड़ा। यहां रेजीमेंट की स्थापना से लेकर अब तक की अनेक बेशकीमती धरोहर सहेज कर रखी गई हैं, जिनमें दुश्मनों के छक्के छुड़ा कर छीनी चीजें भी शामिल हैं। जापानियों से छीनी तोप, बीएमडब्ल्यू मशीन गन, तलवारें और राइफलें भी यहां जाट वीरों का गौरव बढ़ा रही हैं। तो पाकिस्तानी बंदूके शौर्य गाथा बयान कर रही हैं। दुश्मनों से छीने गए झंडे भी यहां पर सुरक्षित हैं। १८०३ से लेकर के १९५५ के बीच बदले गए रेजिमेंटल बैज और समय के साथ बदली गई यूनिफार्म भी अपने इतिहास से लोगों को जोड़ती है। साथ ही अशोक और महावीर चक्र के साथ तमाम मेडल रेजीमेंट के जवानों की शौर्य गाथाओं के गवाही देते हैं।

कैस्टर की पलटन से जाट रेजीमेंट तक: जाट रेजीमेंट का इतिहास १७८५ से आरंभ होता है। हैनरी डी कोस्ट्रो ने गोदामों की सुरक्षा के लिए इसका गठन किया तब इसे कैस्टर की पलटन के नाम से जाना गया। १८५९ में इसे नियमित पैदल सेना में देकर अलीपुर रेजीमेंट का नाम दिया गया। १८६१ में इसका नाम बदल कर २२ रेजीमेंट बंगाल नेटिव इन्फेंट्री नाम दिया गया। इसी वर्ष इसका नाम बदल कर २२ रेजीमेंट बंगाल नेटिव इन्फेंट्री किया गया। १८८५ में पूरी भारतीय सेना से नेटिव शब्द हटा दिया गया। १९०२ में इस रेजीमेंट को १७ रायल बंगाल रेजीमेंट के साथ मुसलमान रेजीमेंट में बदल दिया गया और इसे १८ मुसलमान राजपूत पलटन नाम दिया गया १९२२ में भारतीय सेना का पुनर्गठन किया गया इसमें इसको ९वीं जाट रेजीमेंट में शामिल किया गया और चौथी बटालियन ९वीं जाट रेजीमेंट नाम दिया गया। २४ अगस्त १९२३ में सेना मुख्यालय के आदेश पर इसे भंग कर दिया गया और १८वीं इन्फेंट्री बटालियन के इतिहास को बरकरार रखने के लिए १०वीं ट्रेनिंग बटालियन ९ जाट रेजीमेंट में सम्मिलित कर दिया गया। दूसरे महायुद्ध के दौरान इसका नाम फिर बदला गया और नाम दिया गया जाट रेजीमेंट सेंटर।

जंग मराठों से लेकर कारगिल तक: ईस्ट इंडिया कंपनी के अधीन और आजाद भारत में इस रेजीमेंट की तरफ से कई लड़ाइयां लड़ीं गईं जिसमें जाटों ने वीरता के नए मुकाम हासिल किए। १८०३ में इसके जवानों ने मराठा और पिंडारियों से लोहा लिया तो १८२३ में बर्मा की फौज से आसाम में टक्कर ली। १८३९ में अंग्रेजों ने इस बटालियन के जवानों को काबुल विजय के लिए भेजा। जहां इन्होंने कुछ घंटों की लड़ाई के बाद ही गजनी के किले पर कब्जा कर लिया। इस फतह के बाद लेफ्टिनेंट स्टाकर, कमाडिंग अफसर और मेजर टैंकाक को आर्डर आफ दुर्रानी अंबायर पदक दिया गया और पलटन के सभी जवानों को ब्रिटिश बार मेटल मिला। १८४५ में सिखों के खिलाफ फिरोजशाह की लड़ाई में हिस्सा लिया। चीन से १८५८ और १९०० में युद्ध शामिल है। रेजीमेंट के जवान ने प्रथम और द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान बगदाद, फ्रांस, बर्मा, मलाया में दुश्मन सेना के छक्के छुड़ाए। आजादी के बाद जाट जवानों ने पाकिस्तान और चीन की फौज से लोहा लिया और कारगिल में भी दुश्मनों के दांत खट्टे किए।

विक्टोरिया क्रास से अशोक चक्र तक कब्जा: जाट रेजीमेंट के जवानों ने अपनी वीरता के बल पर सैकड़ों पदक अपने नाम किए हैं। जिसमें विक्टोरिया क्रास और अशोक चक्र से लेकर सेना पदक तक शामिल हैं। रेजीमेंट को एक विक्टोरिया पदक, २ अशोक चक्र, 8 महावीर चक्र, ३९ वीर चक्र, १२ कीर्ति चक्र, ४२ शौर्य चक्र और २४७ सेना पदक हासिल हैं। इसके साथ ही ९७ मेंशन इन डिस्पैचेज मेडल भी हासिल हैं।

रेजीमेंट की शान:

१. अब्दुल हफीज (विक्टोरिया क्रास) २. कर्नल जोजन थामस (अशोक चक्र) ३. मेजर दिनेश रघुरमन (अशोक चक्र) ४. कैप्टन अनुज नैय्यर (महावीर चक्र) ५. लेफ्टिनेंट कर्नल डीई हैडे (महावीर चक्र) ६. ब्रिगेडियर जोगिंदर सिंह बख्शी (महावीर चक्र) ७. मेजर आशाराम त्यागी (महावीर चक्र) ८. कैप्टन कपिल थापा (महावीर चक्र) ९. मेजर अजीत सिंह (महावीर चक्र) १०. नायक शीशपाल (महावीर चक्र) ११. हवलदार फतेह सिंह (महावीर चक्र)

शौर्य गाथाओं के लिए छोटा पड़ा म्यूजियम: धरोहरों के लिए अब जाट म्यूजियम छोटा पड़ने लगा है। इसे संजोने के लिए एक और म्यूजियम बनाया जा रहा है। तैयार होने के बाद इस म्यूजियम में आजादी के बाद की स्मृतियों और बहादुरों को याद के के रूप में उपलब्धियां, मेडल रखा जाएगा तो पुराने म्यूजियम में आजादी से पहले की स्मृतियों से जुड़ी वस्तुएं अपनी गौरवगाथा कहेंगी।[2]

23 जाट बटालियन का गठन

23 जाट बटालियन का गठन

इंडियन आर्मी की किताब में शुक्रवार 1.7.2016 को एक और सुनहरा पन्ना जुड़ गया। बरेली जाट रेजिमेंट ने शुक्रवार को अपनी एक और बटालियन का गठन किया गया। इस नई जाट बटालियन का नाम 23 जाट बटालियन रखा है। इसमें कुल साढ़े आठ सौ जवान और अफसर हैं। सभी यूनिटों से प्रतिनिधित्व देकर इस पलटन को खड़ा किया गया है। अब तक जाट रेजीमेंट की 22 बटालियन थीं। 22 वीं बटालियन वर्ष 2012 में बनी थी। उसके चार साल बाद एक और पलटन खड़ी करके जाट ने अपने विस्तार का नया इतिहास लिखा है। अभी जाट रेजीमेंट की 19 नियमित, चार रायफल और दो टीए बटालियन थीं। नई 23 जाट भी नियमित बटालियन के रूप में बनाई गई है।

गौरवशाली इतिहास है रेजिमेंट का: 23 वीं बटालियन के शुभारंभ पर जाट सेंटर की ओर से बड़ा समारोह किया गया। इसमें जाट के कर्नल ऑफ द रेजीमेंट मुख्य अतिथि रहे। इनके अलावा सेना के और भी कई बड़े अफसरों ने समारोह में भाग लिया। पिछले साल जाट रेजीमेंट ने अपनी स्थापना के 220 साल पूरे किए थे। इस मौके पर इसकी 23 वीं बटालियन खड़ी करने का ऐलान किया गया था। उसके बाद से ही बटालियन को विस्तार देने का काम शुरू हो गया। बता दें कि जाट देश की बहुत पुरानी रेजीमेंट है। इसका गौरवशाली इतिहास है। जाट वीरों ने रेजीमेंट की स्थापना के बाद से अब तक अपने अदम्य साहस और शौर्यता से गौरवशाली इतिहास लिखा है। कई लड़ाइयों में दुश्मनों के दांत खट्टे किए हैं। सेंटर में स्थापित जाट म्यूजियम इसका गवाह है, जिसमें कई लड़ाइयों से संबंधित रिकार्ड और दुश्मनों देशों से जंग में छीने गए अस्त्र-शस्त्र भी मौजूद हैं। शहीद जाट वीरों के चित्र और उनकी गौरवगाथा भी म्यूजियम में उपलब्ध हैं।

Notable persons

External links

References

  1. Dr Mahendra Singh Arya, Dharmpal Singh Dudee, Kishan Singh Faujdar & Vijendra Singh Narwar: Ādhunik Jat Itihasa (The modern history of Jats), Agra 1998 p.258
  2. Jat Museum Bareilly by RS Kankara

Back to Uttar Pradesh