Kirat Singh Rana

From Jatland Wiki
(Redirected from Kirat Singh)
Jump to navigation Jump to search
Rana Kirat Singh

Kirat Singh Rana (कीरत सिंह राणा) (r.1803 - 1835) H.H. Rais ud-Daula, Sipahdar ul-Mulk, Maharajadhiraja Sri Sawai Maharaj Rana Kirat Singh, Lokendra Bahadur, Diler Jang, Jai Deo, Maharaj Rana of Dholpur. He was born at Adhupura, 1763, son of Samant Rao Tara Chand, of Adhupura.

He was the last Jat ruler of Gohad (1803 - 1805) state in Madhya Pradesh, India and the first Jat ruler of the princely state of Dholpur (1805 - 1835). He belonged to Bamraulia gotra of Jats.

Kirat Singh elected as Rana

Maharaja Chhatra Singh Rana was issue less. After the death of Maharaja Chhatra Singh Rana in 1785 entire Gohad area turned into a symbol of anarchy, bloodshed and plunder which continued for 15 years. The Jat rebels could not be controlled either by Marathas or by the British. The revolutionary Jats unanimously declared Kirat Singh son of samant Tarachand of village Neerpura in 1803 as Rana of Gohad. Samant Tarachand was cousin of Rana Chhatar Singh. The coronation ceremony of Kirat Singh took place at ‘Bagathara fortress’, situated at a distance of 12 miles from Gohad, as Gohad and Gwalior were in possession of Sindhia at that time.[1] Thus installed at the Baghthara Fortress, near Gohad, Chait Sud Chodas, Samvat 1845. Restored to the greater part of Gohad by the British in 1803. Granted Dholpur, Bari and Rajakhera in compensation for the seizure of Gohad by the Scindia of Gwalior, December 1805. Established his capital at Dholpur, from which his new state took its name.[2]

Second Anglo-Maratha War

In the Second Anglo-Maratha War at Laswari on 1 November 1803, Lord Lake defeated Sindhia and vanished his reputation. [3][4]In this war the Jats helped Britishers. The British army officers had affection for Jats.

The treaty of Surji-Anjangaon

The War between the English and Sindhia was brought to an end by the treaty of Surji-Anjangaon, which was signed on 30th December 1803 AD. Under the terms of this treaty, the English Government obtained from Sindhia possession of the regions that had been taken from the French in the Doab, together with certain territories in central Rajasthan, and to the west, none of which is pertinent here. Mahadji Sindhia was to retain possession of all those districts ‘to the south of Gohad, of which the revenues had been collected by him in person or through some officer, nominated on his behalf, or land which was held by him for defraying the expenses of his army.

The treaty of Surji-Anjangaon gave vast powers to English in the territories of Marathas. The treaty signed by Ambaji Ingle was also implemented. Gwalior and Gohad had come to English. English signed a treaty with the successor of Gohad, Rana Kirat Singh, under which English handed over the erstwhile Gohad territory to Kirat Singh Rana in early 1804 AD.[5] [6] Kirat Singh Rana accepted Gohad and left the right on Gwalior fort in favour of English.[7]

Subsequently, a dispute arose with Sindhia concerning a clause in the treaty of Surji-Anjangaon by which he had agreed to renounce all claims on his subsidiaries with whom the English Government had made treaties. Sindhia now insisted that the Rana of Gohad could not be included under this clause, because the pretensions of that family had been extinct and their territories had been in Sindhia’s possession for the past 30 years. This was incontrovertible, and the English gave way to Sindhia’s legal argument and abandoned Gwalior and Gohad to him. In the wake of the war, the English had land north of the Chambal to resettle.

Treaty of 22 November 1805

To compensate the Rana for his loss of Gohad, and in consideration of the fact that the failure in the relevant stipulation of the treaty had arisen through no fault of his, On 22 November 1805 AD, they revised Surji-Anjangaon treaty of 30th December 1803 AD and offered to grant him the pargana of Dholpur, along with Bari and Rajakhera, north of the Chambal River. [8] [9] Immediately after this treaty Daulat Rao took possession of Gwalior fort.[10][11]

Kirat Singh Rana reluctantly agreed to relinquish his claim on Gohad, and accept the offer of Dholpur, and thus the former Rana of Gohad became the Rana of Dholpur, and was installed in 1806 AD.

Attack on Gohad fort

Gwalior was handed over to Sindhia but to hand over Gohad to him was not easy task.[12] The followers of Rana Kirat Singh such as Rajendra, Mir Babar Ali, K. Jalim Singh etc refused to leave Gohad and expressed quite dissatisfaction over this action of Governor General.[13] [14] About 5000 people gathered at Gohad fort and started repairs of each fort of the state and appointed horse-riders and demanded Rana Kirat Singh to bring back to Gohad. They also sent a team oh horse riders to Dholpur for this purpose.[15] [16] The English officers tried to pacify the rebellions. There continued correspondence between English and the Gohad rebels for a long time. The rebels could not be prepared to leave the fort. The rebels complained that, inspite of their services ren dered to English, this unexpected behavior of snatching their ancestral zamindari without any offence was not justified.[17] [18] After all attempts of compromise failed, English started attack on Gohad fort on 19 February 1806. English forces bombarded the wall of fort on the night of 21 and 22 February. This led to a crack in the wall. This attack was commanded by K. Maclord. [19] [20] He was helped with 750 grenadiers along with 7 companies. They entered through the cracks in the wall and destroyed about half a mile of area. Inside the fort there were rebels equiped with guns. The english Lt. Maquity who had led the soldiers on 21 Febraury night attack was killed. Lt. gill was serioussly injured, who died later on, and Lt. Drice Dat and Grant were also injured. In addition 23 English soldiers were also killed.[21] [22]

Daulatrao Sindhia agreed to fulfill the wishes of rebel chieftains and promised to appoint thm in his services. Gohad fort was handed over to the person appointed by Sindhia on 27 Febraury 1806.[23] [24]

Kirat Singh moved to Dholpur

Gohad was handed over to Marathas under a revised treaty dated 22 November 1805 between Marathas and Britishers. Under this treaty Gohad ruler Rana Kirat Singh was given Dhaulpur, Badi and Rajakheda in exchange with Gohad. Rana Kirat Singh moved to Dholpur in December 1805 and was installed in 1806 AD. According to Dr Agnihotri, Rana Kirat Singh moved to Dholpur along with the Jat sardars who appointed him the Rana in Bagthara village. [25]

Rana Kirat Singh initially stayed at old Shergarh fort but later shifted his capital to a site 4 miles west of Shergarh. [26]

Maharaja Kirat Singh ruled Dhaulpur up to 1836. He had always friendly relations with the British rulers. During his rule there is mention of rebellion by Rao of Sar Mathura which was crushed by Kirat Singh ruthlessly. [27][28]

His successor

He died at Dholpur, 12th November 1835, having had issue, two sons, who became his successors:

  • 1) Rana Pohap Singh, Associated with his father in the administration of the state, Rana of Dholpur, 1835 - 1836
  • 2) Rana Bhagwat Singh, Maharaj Rana of Dholpur, 1836 - 1873

राणा कीरत सिंह का राजतिलक (1803-1805)

द्वितीय अंग्रेज मराठा युद्ध के बादल मंडराने लगे थे. विद्रोही जाट अपने अस्तित्व के लिये संघर्ष कर रहे थे. उन्होने इस अवसर का लाभ उठाया. विद्रोही जाटों ने गोहद से 10 मील दूर ’बगथरा गांव’ में क्षेत्र के समस्त जाटों की पंचायत बुलाई, जिसमें नीरपुरा गढी के प्रमुख सामंत ताराचन्द्र के पुत्र कीरत सिंह को सर्वसम्मति से राणा छत्र सिंह का उत्तराधिकारी चुन लिया और एक सादे समारोह में राजतिलक कर दिया. [29] राणा कीरत सिंह जाटों द्वारा गोहद के राजा तो नियुक्त हो गये लेकिन वन बिना राज्य के राजा थे, क्योंकि गोहद सिंधिया के अधिकार में था. (Ojha,p.84)

अंग्रेज राणा संधि 1904 - 29 जनवरी 1804 को ईस्ट इंडिया कंपनी और राणा कीरत सिंह के मध्य संधि हुई. जिसके अनुसार कंपनी ने गोहद का राज्य राणा कीरत सिंह को प्रदान किया [30] तथा ग्वालियर का दुर्ग अंग्रेजों ने अपने अधिकार में ले लिया.

राणा कीरत सिंह का गोहद पर आधिपत्य (1804-1805) - अंग्रेज राणा संधि की तस्दीक 2 मार्च 1804 को हुई. इस संधि के अनुसार राणा कीरत सिंह ने अपने पैतृक राज्य गोहद पर आधिपत्य कर लिया. राणा कीरत सिंह को निम्न जिलों पर अधिकार मिला[31] -

ग्वालियर, मालवा, भौंदा, आंतरी, जिगनी, लहार, महाल, जुल्ला, गंज, काहटी, दूंदरी, चमक, अनहोन, रामपुर, लवान, नूराबाद, ककसीस, सालवई, चन्नौ, अटोरा, खतौंदा, अम्बापुर, बहादुरपुर, बकसा, समौली, बिलौठी, गोपालपुर, परिहार गढ, कुरवास, गुजरा, गोहद, कटौली, चतोर, बेहट, लावान बडी, बीद, सुकल्हारी, नोह, अमान, वीटका, फ़ोम्प, इन्दरकी, देवगढ, अमरी, भांदरी(Ojha,p.84)

अंग्रेज-राणा संधि 19 दिसम्बर 1805 : 19 दिसम्बर 1805 को ईस्ट इंडिया कंपनी और राणा कीरत सिंह के मध्य एक संधि हुई, जिसमें गोहद का दुर्ग तथा क्षेत्र राणा ने कंपनी सरकार को देना स्वीकार किया, जिसके बदले कंपनी ने धौल्पुर, बाडी और राजा खेडा के जिले राणा कीरत सिंह को दिये गये.[32]

राणा कीरत सिंह का धौलपुर प्रस्थान (1805)

19 दिसम्बर 1805 को ईस्ट इंडिया कंपनी और राणा कीरत सिंह के मध्य हुई संधि के तहत राणा कीरत सिंह जनवरी 1806 के प्रारम्भिक दिनों में गोहद छोडकर धौलपुर के लिये प्रस्थान कर गये. उनके साथ कुछ जाट सरदार, प्रमुख सामंत तथा उमराव भी गोहद छोडकर धौलपुर गये. [33](Ojha,p.90)

राणा कीरतसिंह (r.1803 - 1835)

ठाकुर देशराज लिखते हैं कि सन् 1804 ई. में सिंधिया और अंग्रेजों की फिर अनबन हो गई। दौलतराम के पुत्र माधौजी सिंधिया से अंग्रेजो की लड़ाई हुई और किला ग्वालियर तो अपने कब्जे में रखा और गोहद राणा लोकेन्द्रसिंह के पुत्र महाराज राणा कीरतसिंह को सौंप दिया। किन्तु एक ही बरस बाद सिंधिया से अंग्रेजों को सन्धि करनी पड़ी, जिसके अनुसार ग्वालियर और गोहद वापस कर देने पड़े। गोहद महाराज राणा कीरतसिंह से अंग्रेजों ने सिंधिया को दिला दिया, किन्तु उसके बदले में धौलपुर, बाड़ी और राजाखेड़ा के परगने राणा साहब को अंग्रेजों ने दिए। गोहद में महाराज राणाओं ने 44 वर्ष तक राज किया था। अब वे गोहद की बजाए धौलपुर के राणा कहलाने लगे।

चम्बल नदी धौलपुर और ग्वालियर की सरहद नियुक्त हुई। सिंधिया और महाराणा साहब में प्रेम-भाव स्थापित नहीं हुआ। सन् 1831 ई. में महारानी बीजाबाई और उनके भाई सिन्धुराव ग्वालियर से निकाले गये, तब महाराणा ने उनका स्वागत-सत्कार भली प्रकार किया। सन् 1804 ई. में सिंधिया और अंग्रेजों की फिर अनबन हो गई। दौलतराम के पुत्र माधौजी सिंधिया से अंग्रेजो की लड़ाई हुई और किला ग्वालियर तो अपने कब्जे में रखा और गोहद राणा लोकेन्द्रसिंह के पुत्र महाराज राणा कीरतसिंह को सौंप दिया। किन्तु एक ही बरस बाद सिंधिया से अंग्रेजों को सन्धि करनी पड़ी, जिसके अनुसार ग्वालियर और गोहद वापस कर देने पड़े। गोहद महाराज राणा कीरतसिंह से अंग्रेजों ने सिंधिया को दिला दिया, किन्तु उसके बदले में धौलपुर, बाड़ी और राजाखेड़ा के परगने राणा साहब को अंग्रेजों ने दिए। गोहद में महाराज राणाओं ने 44 वर्ष तक राज किया था। अब वे गोहद की बजाए धौलपुर के राणा कहलाने लगे।

चम्बल नदी धौलपुर और ग्वालियर की सरहद नियुक्त हुई। सिंधिया और महाराणा साहब में प्रेम-भाव स्थापित नहीं हुआ। सन् 1831 ई. में महारानी बीजाबाई और उनके भाई सिन्धुराव ग्वालियर से निकाले गये, तब महाराणा ने उनका स्वागत-सत्कार भली प्रकार किया।

सुजस प्रबंध में राजा कीरत सिंह

सुजस प्रबंध के छंद 109 से लेकर 151 तक राजा कीरत सिंह की वीरता का गायन किया गया है.

कवि नथन की मान्यता है कि गोहद नरेश छत्र सिंह के बाद कीर्ति अथवा यश का उपार्जन राजा कीरत सिंह ने किया. उनकी दीप्ति समस्त द्वीपों में वर्तमान है और अनेक कवि उसका गायन करते हैं. [34] कीरत सिंह ने अनेक मारधाड़ें की जिसका सुफल यह हुआ कि छीनी गई गद्दी को शत्रु से फ़िर छीन लिया. [35]

राका कीरत सिंह ने अपनी भुजाओं के बल पर बीस वर्ष तक राज किया था . वह राजा कुल परिवार की गरिमा को बढ़ाने वाला और सब के सिरों के ताज के समान गौरवशाली है. [36]

राजा कीरत सिंह ने कुल २१ वर्ष बहुत तेज तलवार धारण की और उसके बल पर वह दक्षिण से आने वाले आक्रमणकारियों से लोहा लेते रहे और अनेक बलशाली आक्रांताओं पर विजय पाई. [37] जहाँ-जहाँ मराठा सेनाओं के साथ उनका युद्ध हुआ, वहां वहां उन्होंने शत्रु दल का संहार किया. कभी एक क्षण के लिए भी गोहद राज्य की सुरक्षा की और से ध्यान नहीं हटाया और शत्रुओं से फ़िर अपनी भूमि को छीन लिया.[38] उनके किले की चहार दिवारी बहुत ऊंची थी. उनके डर से शत्रु थर-थर काँपता था. उनका यश, प्रभाव, और भय व्यापक था. यदुवंशी गोहद नरेश राजा कीरत सिंह ने इस प्रकार अपने यश और प्रभाव को सारे संसार में स्थापित कर दिया था. [39]

कवि गोहद नरेश कीरत सिंह की विशेषताओं, गुणों, संघर्ष क्षमताओं, उपलब्धियों और योजनाओं का वर्णन करते हुए कहते हैं कि उनकी भुजाओं में प्रचंड बल है. वह प्रथ्वी पर अवतार हैं और अनेक राजाओं के राजा हैं. वह खंग संचालन, दान प्रदान करने, मान रक्षण और युद्ध भूमि में वीरता प्रदर्शन में पूर्ण सक्षम हैं. वह साम, दाम, दंड, और भेद की नीतियों को भली प्रकार जानते हैं तथा प्रयोग करते हैं. वह श्रेष्ठ राजा के साक्षात् अंश हैं. उनके पास कभी न हारने वाले वीरों के दल हैं और अच्छे योद्धाओं के समूह भी उनके पास हैं. इसलिए वह अटूट किलों को गिरा देते हैं तथा अटूट दीवाओं को खंडित कर देते हैं. उनके पास साधनों का भंडार है पर वह उनका अपव्यय नहीं करते हैं. वह दोषियों को दंड देने में अचूक हैं और संहार करने में शिव की भांति हैं. कीरत सिंह के पास राजनीती के मर्मज व्यक्तियों का समूह रहता है. वह विक्रमादित्य के समान अजेय, वीर, शत्रु दमनकारी, न्यायप्रिय, संत उपासक, और जन हितैषी राजा हैं. वह दान प्रिय और मधुर वाणी बोलने वाले हैं. वह नौ रसों के मर्मज्ञ हैं.[40] जिस दिन गोहद नरेश कीरत सिंह अश्व पर स्वर होते हैं, उस दिन भयभीत होकर उनके शत्रु घर छोड़कर अन्यत्र चले जाते हैं. [41] राजा कीरत सिंह ने कुशलता पूर्वक अपनी शेना का संचालन करके, पेशवा द्वारा अधिकार में की गई अपनी भूमि रुपी मक्खन को निकाल लिया जैसे हरि ने समुद्र को मंथन कर लक्ष्मी को निकला था. [42]

राजा ने अनेक बार युद्धों में भाग लिया. उनकी वीरता का यश, देश तथा विदेशों तक फैला. सारा संसार राजा कीरत सिंह के कार्यों को जानता है उनकी वीरता भरे कार्यों की कहानियाँ राज्यों के कवि गाते हैं. दक्षिण दिशा कि भूमि पर शत्रुओं का अधिकार था. सुना गया है कि वह कारिन्दों को दान में मिली थी. (इसका संकेत इस तथ्य के साथ है कि मराठा पेशवा अपने राजाओं के सामने कागजात, विचाराधीन मामले तथा न्यायादेश के लिए तथ्य पेश करने वाले लोग थे, इसीलिए उनको पेशवा कहा गया है, बाद में वे राजा बन बैठे) उन्होंने पूरे देश के राज्यों पर आक्रमण किए थे. राजाओं से खंडिनी सार देसाई तथा चौथ नामक कर वसूल किए थे. इस कार्य में उन्होंने घृणित कदम भी उठाये थे. फलतः अधिकांश राजा उनके शत्रु बन गए थे. अतः जब अंग्रेजों ने उन पर हमला किया था तो कोई राजा उनकी सहायता के लिए नहीं आया था. उनकी भूमि पर फिरंगी अर्थार्त अंग्रेजों ने अधिकार कर लिया था. राजा कीरत सिंह ने बड़े बौधिक कौशल के साथ, सप्रेम लोगों के सहयोग से, दक्षिण के मराठा सरदारों से युद्ध जीत कर अपनी भूमि वापस ले ली थी. इस कार्य में बड़े दुर्जेय दुर्गों का दलन करके विजय पाई थी. इस उपलब्धि के कारण वह यदुवंशी हिंदू राजा शोभा पाते हैं. [43] कवि कहते हैं की राजा कीरत सिंह का यश अटक की सीमाओं के पार भी पहाड़ की तरह ऊंचा फैला हुआ है. [44] राजा कीरत सिंह की बराबरी कोई राजा नहीं कर पता. राणा ताराचंद का यह सुपुत्र कीर्ति सिंह इतना बुद्धिमान है कि उसकी समता कोई नहीं कर पाता.[45]

कवि नथन की मान्यता है कि गोहद नरेश राजा कीरत सिंह ने अपने यशस्वी पूर्वज राजा गजसिंह, जसवंतसिंह, और भीमसिंह द्वारा स्थापित होहद राज्य की गौरवशाली परम्परा को बनाये रखा है. उन्होंने दखिनी शक्तियों के साथ संग्राम करके अपनी वीरता का परिचय दिया है. राजा कीरत सिंह ने इसी उज्जवल कीर्ति का अर्जन किया है, जैसी राजा छत्र सिंह को प्राप्त हुई है. अर्थार्त छत्र सिंह की कीर्ति को और निखारा है. [46]

References

  1. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), pp. 61-62
  2. http://www.4dw.net/royalark/India/dholpur2.htm
  3. G.S.Desai:Marathon ka Naveen Itihas, part-3,pp.446-447
  4. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 62
  5. Dr Raghuvir Singh: English Records of Maratha History, Pune Residency Correspondence, part-11, p. 229
  6. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 63
  7. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 63
  8. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 66
  9. calender of Persian Correspondence, part-5 (Article-2)
  10. C.E.Luard:Gwalior State Gazetteer, part-1,p.219
  11. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 66
  12. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 66
  13. English Record of Maratha History, Pune Residency Correspondence, daulatrao affairs, part-11, 1943, p.233
  14. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 68
  15. English Record of Maratha History, Pune Residency Correspondence, daulatrao affairs, part-11, 1943, p.230
  16. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 69
  17. English Record of Maratha History, Pune Residency Correspondence, daulatrao affairs, part-11, 1943, p.230
  18. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 69
  19. English Record of Maratha History, Pune Residency Correspondence, daulatrao affairs, part-11, 1943, p.238
  20. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 70
  21. English Record of Maratha History, Pune Residency Correspondence, Daulatrao affairs, part-11, 1943, p.238
  22. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 70
  23. English Record of Maratha History, Pune Residency Correspondence, Daulatrao affairs, part-11, 1943, p.238
  24. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 70
  25. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 71
  26. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 71
  27. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi), p. 72
  28. Sadguru Prasad:Progresive Dholpur, p. 3
  29. Jagaon Ki Pothi
  30. Raghuveer Singh, English Records of Maratha History; Poona Residency Correspondence Part-II; Duff James Grant, History of the Mahrattas Vol-II p.190
  31. Shyamal Das, Veer Vinod, p.1662-1665
  32. Kaviraj Shyamal Das, Veer Vinod, p.1666
  33. Mohan Lal Gupta, Jaipur: Jilewar Sanskritik Evam Aitihasik Adhyayan, p.176; Aitihasik Adhyayan Dholpur
  34. सुजस प्रबंध:छन्द 109, p. 104
  35. सुजस प्रबंध:छन्द 110, p. 105
  36. सुजस प्रबंध:छन्द 111, p. 105
  37. सुजस प्रबंध:छन्द 112, p. 105
  38. सुजस प्रबंध:छन्द 113, p. 106
  39. सुजस प्रबंध:छन्द 114, p. 107
  40. सुजस प्रबंध:छन्द 116, p. 108-114
  41. सुजस प्रबंध:छन्द 120, p. 116
  42. सुजस प्रबंध:छन्द 126, p. 122
  43. सुजस प्रबंध:छन्द 128, p. 125
  44. सुजस प्रबंध:छन्द 144, p. 138
  45. सुजस प्रबंध:छन्द 145, p. 139
  46. सुजस प्रबंध:छन्द 147, p. 141
  • Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : "Gohad ke jaton ka Itihas" (Hindi)
  • Dr Natthan Singh (2004) : "Jat Itihas"
  • Jat Samaj, Agra: October-November 2004
  • Dr Natthan Singh (2005): Sujas Prabandh (Gohad ke Shasakon ki Veer gatha – by Poet Nathan), Jat Veer Prakashan Gwalior

Back to The Rulers