Dholpur

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Rana Udaybhanu Singh (1911- 1948)
Rana Ram Singh (1901 - 1911)

Dholpur (धौलपुर) is a town and district in Rajasthan. Its ancient name was Dhavalapuri (धवलपुरी). Probably Dholpur was founded by one of the ancestors of Tejaji named Dhawalpāl (धवलपाल) in about middle of 7th century.[1] It was one of the princely states in India located in the present-day state of Rajasthan ruled by Bamraulia Rana Jats.

Population of the then State

In 1901, the population of the state was 270,973 and the population of the town of Dholpur was 19,310. The state had an area of 3038 km² (1155 square miles), and an estimated revenue of Rs.83,000/-.

The Ex. chief minister of Rajasthan, Vasundhara Raje, is a member of the erstwhile ruling family of Dholpur.

Origin of name

ठाकुर देशराज एक अंग्रेज मि. टफन्थलर के हवाले से लिखते हैं कि धौलपुर को धौल्या गोत्र के जाटों ने बसाया था। [2]

तेजाजी के पूर्वज

संत श्री कान्हाराम[3] ने लिखा है कि.... [पृष्ठ-62] : रामायण काल में तेजाजी के पूर्वज मध्यभारत के खिलचीपुर के क्षेत्र में रहते थे। कहते हैं कि जब राम वनवास पर थे तब लक्ष्मण ने तेजाजी के पूर्वजों के खेत से तिल खाये थे। बाद में राजनैतिक कारणों से तेजाजी के पूर्वज खिलचीपुर छोडकर पहले गोहद आए वहाँ से धौलपुर आए थे। तेजाजी के वंश में सातवीं पीढ़ी में तथा तेजाजी से पहले 15वीं पीढ़ी में धवल पाल हुये थे। उन्हीं के नाम पर धौलिया गोत्र चला। श्वेतनाग ही धोलानाग थे। धोलपुर में भाईयों की आपसी लड़ाई के कारण धोलपुर छोडकर नागाणा के जायल क्षेत्र में आ बसे।


[पृष्ठ-63]: तेजाजी के छठी पीढ़ी पहले के पूर्वज उदयराज का जायलों के साथ युद्ध हो गया, जिसमें उदयराज की जीत तथा जायलों की हार हुई। युद्ध से उपजे इस बैर के कारण जायल वाले आज भी तेजाजी के प्रति दुर्भावना रखते हैं। फिर वे जायल से जोधपुर-नागौर की सीमा स्थित धौली डेह (करणु के पास) में जाकर बस गए। धौलिया गोत्र के कारण उस डेह (पानी का आश्रय) का नाम धौली डेह पड़ा। यह घटना विक्रम संवत 1021 (964 ई.) के पहले की है। विक्रम संवत 1021 (964 ई.) में उदयराज ने खरनाल पर अधिकार कर लिया और इसे अपनी राजधानी बनाया। 24 गांवों के खरनाल गणराज्य का क्षेत्रफल काफी विस्तृत था। तब खरनाल का नाम करनाल था, जो उच्चारण भेद के कारण खरनाल हो गया। उपर्युक्त मध्य भारत खिलचीपुर, गोहाद, धौलपुर, नागाणा, जायल, धौली डेह, खरनाल आदि से संबन्धित सम्पूर्ण तथ्य प्राचीन इतिहास में विद्यमान होने के साथ ही डेगाना निवासी धौलिया गोत्र के बही-भाट श्री भैरूराम भाट की पौथी में भी लिखे हुये हैं।

Dholpur District

District Map of Dholpur

Tahsils in Dholpur district

Villages in Dholpur tahsil

Adarshnagar, Adhannpur, Alahpura, Atiraj Ka Pura, Bag, Bagcholi Khar, Bagcholi Lodha, Baghpura, Bahadurpur, Bahwalpur, Bakanyan Ka Pura, Bal Govind Ka Pura, Bamroli, Bandpura, Bara Gaon, Barailpura, Barapura, Barawat, Bareh Mori, Barela Pura, Basai Neem, Basai Samanta, Basaiya Laloo, Beechhiya, Beelpur, Bhagirathpura, Bhagpura, Bhagwant Garh, Bhaisakh, Bhaisena, Bhaisena Ka Pura, Bhanpur, Bhawani Shankar Pura, Bhilgawan, Bhojpur, Bhondiya, Bichola, Bintipura, Biparpur, Birodha, Bishnoda, Boocha Ka Pura, Bothpura, Bretha, Chaina Ka Pura, (Bothpura), Chainapura, Chandpur, Chaproli, Dagarpur, Dandoli, Dariyapur, Darupura, Dayeri, Dharampura, Dhaulpur (M), Dheemri, Dhondhi Ka Pura, Diwan Ka Pura, Dogarpur, Doobra, Doon Ka Pura, Dubati, Dulhara, Durgpura, Edalpur, Firozpur, Garayach, Garhi, Garhi Jawahar, Garwapura, Gawan, Gher, Gunna Ka Pura, Hinota, Hirnauda, Inchhapura, Jagariyapura, Jahanpur, Jalalpur, Jasoopura, Jatoli, Jayera, Jhande Ka Pura, Jhil Ka Pura, Kailashpura, Kajeepura, Kaluapura, Kalyanpur, Kamare Ka Pura, Kasganj, Kasimpur, Khanpura, Khar Ka Pura, Kharagpura, Khera, Kherli, Khoobipura, Khurd, Kilol Ka Pura, Kookpur, Kotpura, Kotra, Kripapura, Kusaida, Kusaida Khurd, Ladampur, Loola Ka Pura, Luhari, Luhari Ka Pura, Mahoori, Malikpur, Mangrol, Maniyan, Marha Bhau, Marha Bujurg, Masoodpur, Masoodpur, Mauza Ka Nagla, Milkan, Mirjapur, Mirzapur, Misariya Ka Pura, Mohalli Ka Pura, Moredha, Moroli, Moroli Ka Pura, Mugarwara, Mustfabad, Nagla Bhagat, Nainokhar, Nakatpura, Narpura, Naya Gaon, Nekpur, Nibhi, Ochha Ka Pura, Odi, Odi Ka Pura, Ondela, Pachgaon, Padampura, Parsoda, Patewari, Pathrora Kalan, Pathrora Khurd, Pati, Pharakpur, Phoolpur, Piluya, Poothpura, Radhepura, Rajora, Ramnagar, Randoli, Ratanpur, Rawatpura, Rupaspur, Sadikpur, Sahajpur, Sahraun, Sakatpur, Salempur, Samola, Sanda, Sandra, Sarani, Saridiya Ka Pura, Sarkan Khera, Sarkoli, Sattar Ka Pura, Semar Ka Pura, Shahanpur, Shahpur, Shahpura, Shala Ka Pura, Shankarapura, Shijroli, Singhawali, Siypura, Subedar Ka Pura, Sundarpur, Surajpura, Tal Ondela, Tanda, Tetooka, Tighara, Tihaiyapura, Tor Shankra, Tordanyal, Virjapura, Virjapura Kalan,

Ruling Dynasty Of Dholpur

Ram Sarup Joon[4] writes that ... This dynasty is associated with Vir Bhadra, the founder of the Puru Dynasty, who was responsible for beheading King Daksha. In the year 952 Vikram Samvat era they left Narnaul and came to Viratnagar. Raja Jaya Deo was one of the subordinate rulers under Anangpal Tanwar(Tomar). He was responsible for the defeat and demise of the Muslim invader Ghaus Mohd for which he got a suitable reward. Raja Jayadeo's son Palansi Rao was among the forces of Prithvi Raj. He brought Sanyogita from Kanauj. When Delhi was occupied by Mohammed Ghori, these sons of Raja Jaya Deo became rebels and robbed some begums going to Ajmer. Virat Nagar was occupied by the Muslim ruler and Rani Kaumudi with her young son Brahma Deo took shelter with Jat ruler Vijaya Pal of Bayana who considered her as his Dharma-Sister and gave her a Jagir worth annual income of Rs 2 Lakhs. The Muslim ruler thereupon attacked Bayana. After some time the sons of Raja Ram Deo quarrelled with the ruler of Bayana and were therefore expelled with 700 followers who came and settled down in Jatati in Agra. There they had a skirmish with the Muslim Governor of Agra, Munir Maidnat and 400 of their followers were killed. For three generations they lived in a village called Bachor in the Chambal basin. Ultimately Raja Man Singh of Gwalior got a Tin-Hazari and for Rana Lasan Deo and his son Saghan Deo in the court of Alauddin. They got a Jagir at Virat Nagar and Lasan Dec's brother Viran Deo got a Jagir at Gohad which remained in their hands till the downfall of Moghuls. In 1781 the Marathas took possession of the Jagir, and for 15 years the people of his dynasty were again homeless. In 1803 Lord Lake and Wellesley reinstated them on the throne of Gohad. After the death of Rana Kirat Singh, Rana Bhagwan Singh ruled upto 1873, Rana Nihal Singh from 1873 to 1901, and Rana Ram Singh from 1901 to 1911.

The Chauhans of Dholpur

Reference - "Early Chauhan Dynasties" by Dasharatha Sharma, pp. 19-20

The second oldest available inscription of the Chauhans is that of Chandamahasena of Dholpur whose genealogy is given as follows:

In the Chauhan family-

Isuka
Mahisarama =Kanhulla who became a sati on the death of her husband.
Chandamahasena

The chief facts that we glean about Chandamahasena from this inscription are that he ruled at Dhavalapuri (Dholpur) in V. 898 (A.D. 842), was extremely liberal to Brahmanas whom he rewarded in various ways, and was probably a devotee of the Sun-god for whom he had a temple built in the forest adjoining Dholpur. The lords of the malechchhas settled on both sides of the river Chambal paid him homage, and chiefs like Anirjita, perhaps lords of small villages lying near Dholpur, moved about the town with downcast looks. Unfortunately, however, we know nothing about Anirjita and have no satisfactory means of identifying the Mlechchhas who served him. Dr. H.C. Ray throws out a suggestion that would identify them with the Arabs of Sindh. But in view of the fact that there is no other evidence to prove that the Muslims were settled as far east as that before the time of Muhammad Ghori, it is probably better to regard them as Bhils who are even now found on both the banks of the Chambal and are expressly included by Hemachandra among the Mlechchha tribes of India. [5]

Chandamahasena was probably a feudatory of Bhoja I, the Pratihara ruler of Kanauj, whose Barah grant was issued in V. 893. He may have reached the territory of Dholpur with the troops of Bhoja's grandfather Nagabhata II, who conquered many strongholds on this side and died in V. 890. [6]

We know nothing about Chandamahasena's successors.

The state of Bamraulia Jats

Jubali Hall Dholpur

During the dissensions which followed the death of the Mughal emperor Aurangzeb in 1707, Raja Kalyan Singh Bhadauria obtained possession of Dholpur, and his family retained it until 1761, after which it was taken successively by the Jat Maharaja Suraj Mal of Bharatpur, by Mirza Najaf Khan in 1775, by Scindia in 1782, and in 1803 by the British. It was restored to Sindhia by the Treaty of Sarji Anjangaon, but in consequence of new arrangements was again occupied by the British. Finally, in 1806, the territories of Dholpur, Ban and Rajakhera were handed over to the Maharaj Rana Kirat Singh of Gohad, in exchange for his state of Gohad, which was ceded to Sindhia.

Princely Dholpur

Chhatri Maharana Udaybhan Singh, Dholpur

The Maharaj Ranas of Dholpur belong to the clan of Bamraulia Jats. An ancestor of the family appears to have held certain territories at Bamraoli near Agra c. 1195. His descendant in 1505, Singhan Deo, having distinguished himself in an expedition against the freebooters of the Deccan, was rewarded by bestowal of the sovereignty of the small territory of Gohad, with the title of Rana.

In 1779 the Rana of Gohad joined the British forces against Scindia, under a treaty which stipulated that, at the conclusion of peace between the English and Marathas, all the territories then in his possession would be guaranteed to him, and protected from invasion by Sindhia. This protection was subsequently withdrawn, the Rana having been charged as guilty of 'treachery', and in 1783 Sindhia succeeded in recapturing the fortress of Gwalior, and crushed his Jat opponent by seizing the whole of Gohad. In 1804, however, the family estates were restored to Ranas of Gohad by the British government; but, owing to the opposition of Sindhia, the Rana agreed in 1805 to exchange Gohad for the territory of Dholpur, which was taken under British protection, the chief binding himself to act in subordinate co-operation with the paramount power, and to refer all disputes with neighboring princes to the British government. After 1818 the state was placed under the authority of British India's Rajputana Agency.

Talabshahi Dholpur

Chronology of Dholpur Rana rulers


Rana Nihal Singh (1873 - 1901)
Rana Bhagwant Singh (1824-1873)

Kirat Singh Rana, the first maharaj rana of Dholpur, was succeeded in 1836 by his son Bhagwant Singh, who showed great loyalty during the Revolt of 1857, was created a K.C.S.I., and G.C.S.I. in 1869. He was succeeded in 1873 by his grandson Nihal Singh, who received the C.B. and frontier medal for services in the Tirah campaign. He died in 1901, and was succeeded by his eldest son Ram Singh (b. 1883).

A line on the Indian Midland Railway between Agra and Jhansi was built through the state in the 19th century. The town of Dholpur, 34 miles south of Agra by rail, grew in importance as a center of trade after the opening of the railway. The state suffered severely from drought in the 1890's, and population decreased 3% between 1891 and 1901. In 1896-1897 the expenditure on famine relief amounted to Rs. 8,190/-.

After India's independence in 1947, Maharaj Rana Udaibhan Singh acceded unto the Union of India on 7 April 1949. Dholpur was merged with three neighbouring states to form the Matsya union within the union of India, and was later merged with several other such unions to form the present-day state of Rajasthan.

धौलपुर-राज्य

सीमा और विस्तार 
ठाकुर देशराज लिखते हैं कि इस राज्य की उत्तरी-पूर्वी सीमा पर ब्रिटिश-राज्य का आगरा जिला है। दक्षिणी-पूर्वी ओर चम्बल नदी बहती हैं। विश्वत रेखा से उत्तर में राज ग्वालियर, पश्चिम में करौली व भरतपुर रियासत हैं। विश्वत रेखा से उत्तर 26 अक्षांश 30 देशान्तर और 28 अक्षांश 20 देशान्तर के मध्य स्थित हैं। पूर्व-उत्तर से दक्षिण-पश्चिम लम्बाई 54 मील और उत्तर-पश्चिम से से दक्षिण-पूर्व चौड़ाई 32 मील है। क्षेत्रफल 1626 वर्ग मील है।

इस राज्य के दक्षिण-पूर्व में चम्बल बहती हुई ग्वालियर की ओर चली गई है। बानगंगा भी इस राज्य में बहती है। चम्बल से कहीं-कहीं सिंचाई भी हो जाती है। जमीन कहीं-कहीं बड़ी उबड़-खाबड़ है। कहीं-कहीं पहाड़ी भी हैं।


1. अंग्रेज दीवान मैकेंजी और उनकी गुलाम पुलिस के कोतवाल 'नकी' को देश के जाटों ने एक बार फिर दिखा दिया कि जाटों में बड़ी से बड़ी ताकत से टकराने की शक्ति रही है.वे अपने देश, नेता, समाज, राष्ट्र और सांस्कृतिक वैभव के लिए संघर्ष करना जानते हैं; पर आवश्यकता है, उनको नींद से जगाने और सक्रीय बनाने की. एक बार जागने के बाद वे तूफ़ान बन जाते हैं, जिसको रोक पाना मुश्किल ही नहीं, असंभव होता है- संपादक


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-682 कोई-कोई हिस्सा उपजाऊ भी है। धौलपुर, बाड़ी, राजखेड़ा और श्रीमथुरा इस राज्य के नामी कस्बें हैं। आगरा-ग्वालियर वाली सड़क इसी राज्य में होकर गुजरती है। रेलवे लाइन भी खास धौलपुर होकर आगरे से ग्वालियर को जाती है।

धौलपुर


आगरा-ग्वालियर सड़क पर आगरे से 34 मील की दूरी पर स्थित है। एक मील के फासले पर चम्बल नदी बहती है। चम्बल के किनारे पर एक विशाल किला बना हुआ है। यद्यपि बरसात में चम्बल का पाट बहुत बढ़ जाता है किन्तु किला इतनी ऊंचाई पर है कि वहां तक पानी नहीं पहुंचता। मुगल-काल में धौलपुर मुसलमानों के अधीन था। ‘हुमायूं नामे’ में धौलपुर का कई स्थानों पर वर्णन आता है। मुसलमान शासकों ने वहां कई मसजिदें बनवाई थीं। कहा जाता है घौलपुर बहुत पुराना शहर है। एक अंग्रेज ने जिनका नाम मि. टफन्थलर था, लिखा है कि धौलपुर को धौल्या गोत्र के जाटों ने बसाया था। उन्होंने अलवर राज्य में स्थित धौलागढ़ को भी बसाया था। जहां कि उनकी एक वीर लड़की की पूजा होती है जो कि धौलागढ़ की देवी कही जाती है। ब्रज के जाटों में धौलागढ़ की देवी मशहूर है। बारहवीं सदी के आस-पास धौलपुर आबाद किया गया, यह भी हमारा ख्याल है।

बाड़ी

धौलपुर से दक्षिण-पश्चिम पहाड़ों के बीच में स्थित है। यहां से धौलपुर 18 मील दूर रह जाता है। इसके सम्बन्ध में कोई खास बात उल्लेखनीय नहीं है।

राजाखेड़ा

यह परगने का सदर मुकाम है और धौलपुर से उत्तर-पश्चिम 23 मील के फासले पर आबाद है इधर गोलापूर्व ठाकुरों की आबादी अच्छी संख्या में है।

श्रीमथुरा

यह एक ऐतिहासिक स्थान है। शायद मथुरा के नाम पर भक्ति प्रधान हृदय के व्यक्तियों द्धारा यह प्रसिद्ध हुई है।

धौलपुर के राणा

राणा कीरतसिंह (r.1803 - 1835)

धौलपुर के राणा - सन् 1804 ई. में सिंधिया और अंग्रेजों की फिर अनबन हो गई। दौलतराम के पुत्र माधौजी सिंधिया से अंग्रेजो की लड़ाई हुई और किला ग्वालियर तो अपने कब्जे में रखा और गोहद राणा लोकेन्द्रसिंह के पुत्र महाराज राणा कीरतसिंह को सौंप दिया। किन्तु एक ही बरस बाद सिंधिया से अंग्रेजों को सन्धि करनी पड़ी, जिसके अनुसार ग्वालियर और गोहद वापस कर देने पड़े। गोहद महाराज राणा कीरतसिंह से अंग्रेजों ने सिंधिया को दिला दिया, किन्तु उसके बदले में धौलपुर, बाड़ी और राजाखेड़ा के परगने राणा साहब को अंग्रेजों ने दिए। गोहद में महाराज राणाओं ने 44 वर्ष तक राज किया था। अब वे गोहद की बजाए धौलपुर के राणा कहलाने लगे।

चम्बल नदी धौलपुर और ग्वालियर की सरहद नियुक्त हुई। सिंधिया और महाराणा साहब में प्रेम-भाव स्थापित नहीं हुआ। सन् 1831 ई. में महारानी बीजाबाई और उनके भाई सिन्धुराव ग्वालियर से निकाले गये, तब महाराणा ने उनका स्वागत-सत्कार भली प्रकार किया।

महाराज भगवन्तसिंहजी (r.1836 - 1873)

सन् 1836 ई. में महाराज राणा कीरतसिंह का स्वर्गवास हो गया। श्री भगवन्तसिंह राजसिंहासन पर बैठे। सन् 1837 ई. में सरकार अंग्रेजी की ओर से राज्य को खिलअत प्रदान हुआ।

कहा जाता है कि महाराज सिंधिया सरावगी वैश्यों द्वारा धौलपुर के साथ साजिश कर रहे थे, इसलिए महाराज भगवन्तसिंहजी ने सरावगियों के मन्दिर में पारसनाथ की बजाए महादेव की मूर्ति स्थापित कर दी। सिंधिया ने सरकार अंग्रेज को इस मामले में हस्तक्षेप के लिए लिखा, किन्तु सरकर अंग्रेज ने इस मामले को गैरदस्तन्दाजी बता दिया।

सन् 1858 ई. में विद्राहियों द्वारा ताड़ित होकर जो अंग्रेज धौलपुर भाग आये, महाराज राणा ने उनकी पूर्ण रूप से हिफाजत की।

महाराज राणा भगवन्तसिंह निहायत खुश-मिजाज और हरदिलअजीज थे। सारी प्रजा उनकी सराहना करती थी। राज के काम में उनकी चतुर भौजाई भी सहयोग देती थी।

सन् 1861 ई. में राज्य में कुछ षड्यंत्रकारियों ने बगावत खड़ी कर दी। वे महाराज राणा के प्राणों के भी ग्राहक हो गये। महाराज को विवश होकर आगरा जाना पड़ा। देवहंस जो कि राज की ओर से मुख्तार था, महाराज को गद्दी से


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-688


हटाना चाहता था। अंग्रेज-सरकार ने इस मामले को अपने हाथ में लिया। जांच में मालूम हुआ कि गदर के समय में उसने इलाका आगरे में भी लूट पाट की थी। उसे कैद करके बनारस भेज दिया गया।

सरकार ने महाराज को गोद लेने का हक और के. सी. आइ. ई. का खिताब दिया था।

देवहंस के बाद सर दिनकर के भाई गंगाधरराव राज्य के दीवान नियुक्त हुए। मुन्शी प्रभुलाल को नायब दीवान बनाया गया। राज्य की दशा सुधरने लगी। कर्जा भी कम हुआ। महाराज के यहां एक गजरा नाम की निहायत हसीन स्त्री की पहुंच का कुछ इतिहासकार वर्णन करते हैं कि 28 वर्ष की युवावस्था में महाराज राणा के बेटे का देहान्त हो गया। उसकी और महाराजा की अनबन भी रहती थी। उसने अपने पीछे एक पांच वर्ष का सुकुमार बालक छोड़ा। महाराज राणा उसकी बडे़ लाड़-चाव से शिक्षा कराने लगे। पोलीटिकल एजेण्ट भी उन्हें खूब प्यार करते थे और कहा करते थे कि वह राजकुमार बड़े योग्य साबित होंगे।

1871 ई. में गंगाधराव ने दीवानों से इस्तीफा दे दिया और प्रभुलाल को खराब काम करने के कारण निकाल दिया गया। इससे एक साल पहले महाराज ने कलकत्ते में जाकर ड्यूक आफ कनाट से मुलाकात की थी और सितारे हिन्द का प्रथम श्रेणी का खिताब भी प्राप्त किया था। कहा जाता है, महाराज राणा का खिताब भी उन्हें इसी मौके पर मिला था। गंगाधरराव के दीवानी से अलग होने पर कुछ दिन तक सर दिनकरराव ने दीवानी का काम किया। पीछे पटियाले से हकीम अब्दुलनबीखां को बुलाया गया। आगरा में लाट-साहब से मुलाकात करने के बाद अब्दुलनबीखां को स्थायी रूप से दीवान बना दिया गया। यह बड़ा योग्य आदमी निकला। रियासत पर जितना भी कर्ज हुआ था, इसने उसे चुकाने में बड़ी योग्यता दिखाई। डांग के आसपास से कुछ लुटेरे गूजरों का दमन किया। कुछेक बदचलन लोगों के कारण धौलपुर की जो बदनामी हो रही थी उसे मिटाया। राज्य भर में दौरा किया। जगह-जगह थाने कायम किये। तहसील के काम के लिए तहसीलदार बनाए। वह अपने काम में बहुत होशियार था। 1872 ई. में महाराज राणा के ऐसे सुयोग्य दीवान का इन्तकाल हो गया। राज की भलाई के लिए महाराज ने निम्न सुधार किए।

1. इजलास खास की स्थापना की जिसमें महाराजा सहब व दीवान बैठकर अपीलें तथा संगीन मुकद्दमों को सुनते थे।,

2. महमामा पंच सरदारान जिसमें विभिन्न जातियों के प्रतिष्ठित व्यक्ति बैठते थे, वे अपनी राय और रिपोर्ट इजलास खास को देते थे,

3. अदालत आला दीवानी व फौजदारी के लिए दो हाकिम


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-689


नियुक्त किए। एक दीवानी और दूसर फौजदारी सम्बन्धी निर्णय करता था, 4. महकमा माल की स्थापना जमीन सम्बन्धी मामलों के लिए की गई ।

5. दफ्तर इलाका गैर महकमे इसलिए कायम किए कि इलाका अंग्रेजी और अन्य रियासतों के सम्बन्ध की कुल कार्रवाही उसी के जरिए से हो और

6. फौजी विभाग सेना सम्बन्धी समस्त हिसाब और कार्य इस महकमे के द्वारा होते थे। इसके अलावा अन्य महकमे भी बनाए।

राज्य में जेलखाना बनाने की तैयारी हो रही थी। उनकी इच्छा थी कि आबपाशी का इन्तजाम भी करें। क्योंकि राज्य में चम्बल, वान उटगन नाम की नदियां थीं। हिन्दी, उर्दू, फारसी की शिक्षा के लिए मदरसे भी खोले गये।

सन् 1873 ई. में महाराज राणा भगवन्तसिंह का स्वर्गवास हो गया।

उनके सम्बन्ध में तत्कालीन पोलीटिकल एजेण्ट ने लिखा था -

“महाराजा साहब निहायत खुशमिजाज बामुरव्वत व हरदिलअजीज हैं। सरकार अंग्रेजी के निहायत वफादार और श्रीमती साम्राज्ञी मलिका महान् अर्धाश्वरी इंगलिस्तान व हिन्दुस्तान के पूर्णतः हितचिन्तक हैं। इस बात मे कुछ भी संकोच नहीं करते। इधर से गुजरने वाले यूरोपियन अंग्रेज यात्री और सरकारी कर्मचारियों की आव-भगत बहुत अच्छी तरह से करते हैं।”

धौलपुर पहले राजनैतिक दृष्टि से आबू से सम्बन्ध रखता था। किन्तु पीछे से भरतपुर के पोलीटिकल ऐजण्ट धौलपुर पधारे और राज्य का शासन-सूत्र चलाने का प्रबन्ध किया। गद्दी नशीन महाराज नाबालिग थे। सर दिनकर राव को राज्य का दीवान बनाया गया। सर दिनकर राव ने अवैतनिक रूप से कार्य करके राजभक्ति प्रकट की। उनका कहना था कि राज्य से हमने बहुत लाभ उठाया है।

महाराज निहालसिंह (r.1873 - 1901)

नाबालिग महाराज राणा ‘प्यारे राजा साहब’ राज्य के मालिक हुए। उनकी शिक्षा का प्रबन्ध उनकी माताजी के सुपुर्द हुआ। उनकी माताजी पटियाले के महाराज नरेन्द्रसिंह जी की पुत्री थी। वह शिक्षित और बहुत चतुर थी। सर दिनकर राव ने पोलीटिकल एजेण्ट को यही राय दी थी। एक अंग्रेजी पढ़ा हुआ ब्राह्मण भी उनकी शिक्षा के लिए रखा गया। यह भी प्रबन्ध किया गया कि कभी-कभी महाराज आगरा जाकर अंग्रेज लोगों तथा उनकी मेम साहिबान से बातचीत किया करें, इससे अंग्रेजी बोलना उन्हें जल्द आ जाएगा। सन् 1873-74 में धौलपुर मदरसे के हेडमास्टर से उन्होंने अंग्रेजी सीखी। साथ ही हिन्दी, संस्कृत और फारसी भी सीखते रहे।

महाराज राणा अंग्रेजी के क्रिकेट पोलो आदि खेल में बड़ी प्रसन्नता से शामिल होते थे।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-690


सन् 1876 में महाराजा साहब प्रिन्स-आफ-वेल्स सप्तम एडवर्ड के दरबार में शामिल हुए। दरबार से लौटते हुए महाराज ग्वालियर व शाहजादे साहब धौलपुर में आए, उनका आतिथ्य-सत्कार खूब किया।

पंज सरदारों में उस समय ठा. दरियावसिंह (जाट) रिश्तेदार महाराणा साहब, कुंवर हरदेवसिंह खानदान महाराणा साहब, लल्लू लक्ष्मणसिंह, लाला सुन्दरलाल और मीर आबिद थे। माल, फौजदारी, दीवानी और सेना का काम पंज सरदारों के उत्तदायित्व में था।

अब तक राज्य की जमीन का बन्दोबस्त न हुआ था। सन् 1875 में मि. स्मिथ को बन्दोबस्त के लिए बुलाया गया। मुंशी कन्हैयालाल और दुर्गाप्रसाद के सहयोग से सन् 1877 तक बन्दोबस्त हो गया, और जमाबन्दी की कठिनाई भी हल हो गई।

राज्य की आय-व्यय का मिती-वार हिसाब रखा जाने लगा जिससे खर्च करने में आमदनी के हिसाब से विचार कर लिया जाता था। सन् 1875 ई. में मौजा सहानपुर को जो कि जागीर में था, खालसे में मिलाया गया।

धौलपुर में दो खिराज गुजार रियासते हैं। दोनों यादव राजपूतों की हैं। एक सरमथुरा की और दूसरी बिजौली की। सरमथुरा से खिराज में बीस हजार रुपये आते थे और बिजौली से 1631 रुपये सालाना खिराज में महाराणा धौलपुर को मिलते थे। ये दोनों टांकेदार कहलाते थे। राजा ग्वालियर में एक मौजा निमरौल का है, वहां टांकेदार नहीं थे, किन्तु गुजार थे।

धौलपुर राज्य में 380 देहात मालगुजारी देने वाले थे। 210 गांव नानकार थे। जिन लोगों को जमाबन्दी में कुछ दिया जाता था, नम्बरदारी आदि का हक था, ऐसे हक लेने वाले गांवों को नानकार कहा जाता था। पीछे से यह नानकारी हटाना मुनासिब समझा गया।

महाराज राणा निहालसिंह के समय तक जो प्यारे साहब भी कहे जाते थे, इस राज ने 61 देहात जागीरदारों में दे रखे थे। जागीरदार लोग सवारों की नौकरी देते थे। उन्हें राज-सेवा के उपलक्ष में जागीरें दी गई थीं।

इस समय मालगुजारी और सायर से राज-कर में आमदनी भी बढ़ी। चूंकि अनेक लोगों ने अनेक गांवों में मुआफी के नाम पर जमीन के बहुत से हिस्से पर कब्जा कर रखा था, उसकी जांच करके जमीन पर लगान बांध दिया गया। कस्टम चौकियों पर रवाना होने का कायदा हो जाने से आमदनी बढ़ गई और जो गड़बड़ पहले होती थी, वह भी कम होने लगी।

पंज सरदारों ने पंचायत के जरिए नमक और अफीम पर जो कि आगरा बम्बई के बीच धौलपुर होकर जाते थे, महसूल बांध दिया। स्टाम्प जारी होने से भी राज की आमदनी बढ़ी। इसी भांति कोयले व सरपते की बिक्री से भी आमदनी बढ़ गई।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-691


कहने का सारांश यह है कि राज्य की आमदनी बढ़ाने के तरीकों पर खूब ध्यान दिया गया।

सन् 1884 ई. में महाराज राणा नौनिहालसिंह को राज के कुल अधिकार अंग्रेज सरकार की ओर से प्रदान किए गए।

महाराज राणा नौनिहालसिंह बड़ी खुश तबियत के आदमी थे। उनकी यह इच्छा कभी नहीं रहती थी कि कोई भी प्रजा-जन उनकी जात खास से दुःख पा सके। फिजूलखर्ची उनके समय में खूब हुई। महाराज राणा नहीं चाहते थे कि इतना खर्च हो, इसलिए वे सम्भल भी गए। सन् 1888 ई. में उनकी नेकनाम दादी-साहिबा का स्वर्गवास हो गया।

इन महाराज के समय में अस्पताल, तालाब, इमारतों की मरम्मत, आबपाशी के साधनों में अच्छी तरक्की हुई। रेलवे लाइन और कुछ सड़कें भी बनीं। पोलीटिकल एजेण्ट के रहने के लिए भी अलग भवन निर्माण हुआ।

कहा जाता है कि ये महाराज घोड़े के बड़े प्रसिद्ध चढ़ने वाले थे। रेल के साथ शर्तबन्दी पर घोड़ा दौड़ाने की चर्चा इनके सम्बन्ध में आगरा जिले के सभी वर्ग के लोगों से सुनी जाती है। प्रजाजनों के साथ हिलमिलकर बात करने में महाराज खूब प्रसन्न होते थे।

धर्म-कर्म में इस राजवंश की निष्ठा सदैव से अधिक मात्रा में चली आई है। आपके समय भी सैकड़ों ब्राह्मणों को पूजा-पाठ के लिए वेतन दिया जाता था।

अंग्रेज सरकार की ओर से आपको ‘सेन्ट्रल इण्डिया हार्स’ में आनरेरी मेजर और फ्रन्टियर मेडिल और सी. बी. की उपाधियां मिली थीं। आपने ब्रिटिश सरकार के पक्ष में तेराह के युद्ध में बहुत सहायता दी थी। अतः अंग्रेज सरकार उनकी बड़ी इज्जत करती थी। सन् 1901 में महाराज के लिए भी वह समय आ गया जो कि सभी के लिए आता है। वह स्वर्ग सिधार गए।

महाराज रामसिंह (r.1901 - 1911)

महाराज रामसिंह

महाराज निहालसिंह के बाद राजगद्दी पर उनके बड़े बेटे रामसिंह बैठे। इन्होंने लगभग ग्यारह वर्ष राज किया। इनके समय में राज्य में साधारण सुधार हुए। नए ढंग के कानूनों का प्रचलन जो कि ब्रिटिश-भारत में हो चुका था, इनके राज्य में भी होने लगा। धौलपुर की भूमि की प्राकृतिक बनावट बड़ी बेढंगी है। सैकड़ों मील भूमि वैसे ही पड़ी रह जाती है। ‘राजपूताना गजेटियर’ में धौलपुर की खेती के योग्य भूमि 256,985 एकड़ बताई है। बंजर भूमि जिस पर खेती नहीं होती 234,862 एकड़ लिखी है। कुछ भूमि ऐसी भी ‘गजेटियर’ ने बताई है कि जिस पर कभी फसल हो जाती है, कभी नहीं। ऐसी भूमि 88,923 एकड़ है। महाराणा रामसिंह के समय तक राज्य छः परगनों में विभक्त हो चुका था।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-692


वे परगने मनिया, कुलारी, बारी, बिसहरी, राजाखेड़ा और धौलपुर के नाम से मशहूर थे। उनके समय राज्य की आय ग्यारह लाख रुपये से अधिक न थी। खास शहर धौलपुर की आबादी भी शनैः-शनैः बढ़ रही थी। उनके समय में लगभग बीस हजार जनसंख्या धौलपुर की थी। इनको सरकार ने के. सी. आई. ई. का खिताब भी दिया था। सन् 1911 ई. में महाराज रामसिंह जीमहाराज रामसिंह का स्वर्गवास हो गया। उनके कोई पुत्र न था। इसलिए उनके छोटे भाई श्री उदयभानसिंह राजसिंहासन पर बैठे। उस समय आप भी नाबालिग थे। इसलिए राज्य का प्रबन्ध पोलीटिकल एजेण्ट व कौंसिल के द्वारा होने लगा।

महाराज राणा उदयभानसिंह (r.1911- 1948)

श्रीमान् जी का जन्म सन् 1901 ई. हुआ था। आप महाराज रामसिंहजी के छोटे भ्राता थे। 1911 ई. में ज्येष्ठ भ्राता के स्वर्गवास होने पर गद्दी पर बैठे। सन् 1913 ई. में राज्यधिकार प्राप्त हुए। आपने केडिट कोर में भी शिक्षा पाई थी। महाराज राणा बहादुर का उपाधि सहित पूरा नाम ‘रईस उद्दौला पिहदार उल्मल्क महाराजधिराज श्री सवाई महाराज राणा लेफ्टीनेण्ट कर्नल सर उदयभानसिंह लोकेन्द्र बहादुर दिलेरगंज जयदेव के. सी. एस. आई., के, सी. बी. ओ.’ था। यह अभिमान की बात थी कि भरतपुर की भांति महाराज राणा धौलपुर भी सरकार अंग्रजों को कोई खिराज नहीं देते थे। महाराज राणाओं के लिए 17 तोपों की सलामी थी। श्रीमान् जी जातिय कार्यों में भी खूब दिलचस्पी लेते थे। मेरठ में जिस समय जाट महासभा का वार्षिक अधिवेशन हुआ था, श्रीमान् जी ने उसका सभापतित्व ग्रहण करके अपने जातीय प्रेम का परिचय दिया था। लखावटी का प्रसिद्ध जाट कालेज आप ही के नाम पर प्रसिद्ध है। आप उसके संरक्षक हैं। सन् 1930 ई. में देहली में होने वाले जाट महासभा को महोत्सव में पधार कर आपने अपने हृदय-द्वार को खोलकर बता दिया था “मैं अपनी जाति की जितनी भी सेवा करूंगा उतना ही मुझे आनन्द प्राप्त होगा।” भरतपुर की भलाई के मामलात में महाराज श्री कृष्णसिंह के पश्चात् आपने पूर्ण दिलचस्पी ली थी। पहली ‘गोलमेज कान्फ्रेन्स’ में शामिल होकर देश और गवर्नमेण्ट के लिए उनके हृदय में जो सद्भाव हैं, उन्हें भली-भांति प्रकट किया था। इस बात पर उन्हें अभिमान था कि उनका जन्म उस महान् जाट जाति में हुआ है जो सदैव उन्नत और उदार विचारों वाली सिद्ध हुई है। पिछले वर्ष आप नरेन्द्र-मंडल के प्रो. चांसलर नियुक्त हुए हैं। यह बात आपकी सर्वप्रियता का उदाहरण है। आप एक तपस्वी और धर्मिष्ठ नरेश हैं। ईश्वर-वन्दना, संत-सेवा, मिलनसारी और मृदुभाषण आपके सर्वोत्कृष्ट गुण हैं। अन्याय और पक्षपात आपके राज्य में उस समय तक प्रवेश नहीं कर सका था। प्रजा न कर-भार से दुखित थी और न बेगार की मार से पीड़ित।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-693


राजस्थान की अन्य रियासतों की जब हम प्रजा के सुख की दृष्टि से तुलना करते हैं तो धौलपुर हमें सर्वश्रेष्ठ दिखाई देता है। शारीरिक स्वास्थ्य के अनुपात से सभी राज्यों की प्रजा से धौलपुर की प्रजा श्रेष्ठ दिखलाई पड़ती थी। अधिकांश भारतीय-नरेश शराबी, कबाबी और विलासी बने हुए थे। महाराज राणा एकदम इन दुर्व्यसनों से कोसों दूर थे। वास्तव में धौलपुर के महाराज राणा “तपेश्वर और राजेश्वर” का संमिश्रण थे। यदि हम यह कह दें कि वे कलियुग के ‘जनकराज विदेह’ हैं तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।

Notable persons

  • Sh. Dushyant Singh, M.P. Lok Sabha.
  • Vir Bhoopendra (Attri) - Addl.CE (Retd.) PWD , Date of Birth : 10-May-1948, Permanent Address : Vir Bhawan, Dholpur, Raj. Present Address : 10/913, Malviyanagar, Jaipur, Phone: 0141-2547739, Mob: 9414071691, Email: virbhoopendra@yahoo.co.in
  • Mrs. Vasundhara Raje, C.M. of Rajasthan.
  • Vir Bhupendra Singh Rana
  • Kirti Mal was Bamraulia clan Jat warrior of Dholpur in Rajasthan. He was the Chief of Army of Rana Sanga (1484 - 1527).

External links

References

  1. Sant Kanha Ram: Shri Veer Tejaji Ka Itihas Evam Jiwan Charitra (Shodh Granth), Published by Veer Tejaji Shodh Sansthan Sursura, Ajmer, 2015. pp.62-63
  2. जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृ.684
  3. Sant Kanha Ram: Shri Veer Tejaji Ka Itihas Evam Jiwan Charitra (Shodh Granth), Published by Veer Tejaji Shodh Sansthan Sursura, Ajmer, 2015. pp.62-63
  4. History of the Jats/Chapter X,p. 175
  5. मल्ल-भिल्ल-किराताश्च सर्वेपि म्लेच्छजातय:
  6. Gwalior Inscription of Bhoja, Verses 8 and 11 :EI-XVIII,p.108
  7. Jat Gatha, September-2015,p. 15

Back to Jat Villages/Rajasthan