Qutb Minar

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
The author of this article is Dayanand Deswal दयानन्द देसवाल
The Qutub Minar in 1805

Qutb Minar, (also spelled Qutub Minar, Kutub Minar and कुतुब मीनार - Hindi) at 73 metres, is the tallest brick minaret in the world and second highest minar in India after Fateh Burj in Punjab, India. Qutb Minar, along with the ancient and medieval monuments surrounding it, form the Qutb complex, which is a UNESCO World Heritage Site.

The tower is located in the Mehrauli area of Delhi, India. Made of red sandstone and marble, Qutb Minar is a 73-metres (240 feet) tall tapering tower with a diameter measuring 14.3 metres (47 feet) at the base and 2.7 metres (9 feet) at the peak. Inside the tower, a circular staircase with 379 steps leads to the top. Qutb Minar station is the closest station on the Delhi Metro.

Qutb Minar is surrounded by several historically significant monuments, which are historically connected with the tower and are part of the Qutb complex. These include the Iron Pillar of Delhi, Quwwat-ul-Islam Mosque, Alai Darwaza, the Tomb of Iltutmish, Alai Minar, Ala-ud-din's Madrasa and Tomb, and the Tomb of Imam Zamin. Other minor monuments include Major Smith's Cupola and Sanderson's Sundial.[1]

The conroversy behind founders of Qutb Minar

According to contemporary historians, in 1200 AD, Qutb ud-din Aibak, founder of the Delhi Sultanate, started construction of the Qutb Minar. They also opine that in 1220, Aibak's successor and son-in-law Iltutmish added three storeys to the tower and that in 1369, lightning struck the top storey, destroying it completely. So, Firoz Shah Tughlaq carried out restoration work replacing the damaged storey with two new storeys every year, made of red sandstone and white marble.

However, recent research reveals that the structure is much older than the era of Qutb ud-din Aibak who reigned north India for a very short period of four years only (1206-1210 AD). His short rule is full of events of war, destruction, loot and barbery. The construction of such monuments takes place during peace time only. How could Aibak, a foreign invader, devote his attention to construction of a fine piece of architecture of Indian style during his short ruling period?

The Delhi Sultanate, which started from Aibak, caused destruction and desecration of politically important monuments and temples in India. One example is the Qutub Minar in Delhi, which, in the opinion of many historians, was built several centuries before "Delhi Sultanate" was born. They opine that this structure was actually built by Indian astronomers, in memory of Varahamihira (505 - 587 AD), (or Mihira), an Indian astronomer, mathematician, and astrologer. Its initial name was "Dhruv-stambha" - ध्रुव स्तम्भ, and it was a famous observatory. The adjoining village Mehrauli is actually named after Varahamihira. The word Mihirawali (or Mehrauli - महरौली) consists of two letters - Mihir + Avali (मिहिर + अवली = मिहिरावली), meaning, the creation of Mihira or Varahamihira. The main gate of Qutub Minar points to the north, i.e. towards Pole Star (or Northern Star). In Arabic lanaguage, "Qutb" means "north" and the Pole Star (ध्रुव तारा) is called Qutbi Tara - कुतबी तारा). A compass needle, which always points towards the north, is called Qutubi Sui (कुतुबी सूई) in Arabic. Hence, Qutb Minar means - "the northward building". Here, in the context of Qutub Minar, the word "Qutb" (or "Qutub") does not mean that Qutub Minar is named after Qutb-ud-din-Aibak[2] who actually destroyed 27 small stone-temples around it and those stones were used for building a mosque at the same spot.

In Arabic “Qutub” literally means ‘axis’, ‘pivot’ or ‘pole’. Qutb can refer to celestial movements and used as an astronomical term or a spiritual symbol. So the term ‘Qutub Minar’ signifies an astronomical Tower. That was how it was described to Sultan and later referred to in court correspondence. In course of time the name of Sultan Qutubuddin came to be unwittingly associated with the Qutub Tower leading to the misleading assertion that Qutubuddin built the Qutub Minar.[3]

Kutub Minar: Its Origins

Author - Prof. P.N. Oak[4]


About the Kutub Minar itself there is overwhelming proof that it was a Hindu tower existing hundreds of years before Kutubuddin and therefore it is wrong to ascribe the tower to Kutubuddin.

Beautical pillars of Qutub Minar Complex
Calligraphy on Qutub Minar

The township adjoining the Kutub Minar is known as Mehrauli. That is a Sanskrit word Mihira-awali. It signifies the town- ship where the well known astronomer Mihira of Vikramaditya's court lived along with his helpers, mathemati- cians and technicians. They used the so-called Kutub tower as an observation post for astronomical study. Around the tower were pavilions dedicated to the 27 constellations of the Hindu Zodiac.

Kutubuddin has left us an inscription that he destroyed these pavilions. But he has not said that he raised any tower. The ravaged temple was renamed as Kuwat-ul-Islam mosque.

Stones dislodged from the so-called Kutub Minar have Hindu images on one side with Arabic lettering on the other. Those stones have now been removed to the Museum. They clearly show that Muslim invaders used to remove the stone- dressing of Hindu buildings, turn the stones inside out to hide the image facial and inscribe Arabic lettering on the new frontage.

Bits of Sanskrit inscriptions can still be deciphered in the premises on numerous pillars and walls. Numerous images still adorn the cornices though disfigured.

The tower is but a part of the surrounding structures. It is not that while the temples around are earlier Hindu buildings there was sufficient space left in between for Kutubud- din to come and build a tower. Its very ornate style proves that it is a Hindu tower. Mosque minarets have plane surfaces. Those who contend that the tower was meant to call the Muslim residents to prayer have perhaps never tried to go to the top and try to shout to the people below. Had they done so, they would have found out for themselves that no one on the ground can hear them from that height. Such absurd claims have been made to justfy Muslim authorship of earlier Hindu buildings.

Another important consideration is that the entrance to the tower faces north and not the west as is enjoined by Islamic theology and practice.

At either side of the entrance is the stone lotus flower emblem which also proves that it was a Hindu building. The stone flowers are a very important sign of the Hindu authorship of mediaeval buildings. Muslims never use such flowers on the buildings they construct.

The frieze Patterns on the tower show signs of tampering, ending abruptly or in a medley of incongruent lines. The Arabic lettering is interspersed with Hindu motifs like lotus buds hanging limp. Sir Sayyad Ahmad Khan, a staunch Muslim and a scholar, has admitted that the tower is a Hindu building.

If one were to hoover in an aeroplane over the top of the tower the various galleries sliding into each other from top to bottom appear like a 24-petal lotus in full bloom. The figure 24 being a multiple of 8 is sacred in Vedic tradition. Even the brick red colour of the tower is sacred to the Hindus.

Iron Pillar near Qurub Minar

The Hindu title of the tower was Vishnu Dhwaj (i.e. Vishnu's standard) alias Vishnu Stambh alias Dhruv Stambh (i.e., a polar pillar) obviously connoting an astronomical observation tower. The Sanskrit inscription in Brahmi script on the non-rusting iron pillar close by proclaims that the lofty standard of Vishnu was raised on the hillock named Vishnupad Giri. That description indicates that a statue of the reclining Vishnu initiating the creation was consecrated in the central shrine there which was ravaged by Mohammad Ghori and his henchman, Kutubuddin. The pillar was raised at the com- mand is an ancient Hindu king who had made great conquests in the East and the West.

The tower had seven storeys representing the week, of those only five exist now. The sixth was dismantled, hauled down and re-erected on the lawns closeby.

The seventh storey had actually a statue of the four-faced Brahma holding the Vedas at the beginning of creation. Above Brahma was a white marble canopy with gold bell patterns laid in it. The top three stories were in mle. They were ravaged by iconoclastic muslims who detested the Brahma statue. The Muslim raiders also destroyed the reclining Vishnu image at the bottom.

The iron pillar was the Garud Dhwaj alias Garud Stambh, i.e, the sentinel post of the Vishnu temple.

On one side was an elliptical enclave formed by 27 Nakshatra (constellation) temples. A gigantic red-stone, ornate gate- way led to the sacred enclave known as Nakshatralaya. Therefore gateway is traditionally known as Alaya-Dwar.

Cunningham twists the traditional Hindu name to fraudulently ascribe the great doorway to Sultan Allauddin, though Allaud- din himself makes no such claim.

By Allauddin's time, the surroundings were totally crumbling ruins. Why would Allauddin want to raise an ornate gigantic gatewway (of the Hindu orange colour) leading from nowhere to nowhere ?

The theory propounded by interested Muslims that it is a muazzin's tower is a motivated lie. No muazzin would even for a day adept a job where he has to climb and unclimb five times a day a flight of 365 narrowing, curving steps in the dark confines of the tower. He is bound to fall and die through sheer exhaustion.

The arched gateway of the adjoining so-called Kuwat-ul-Islam mosque is in no way different from the ornate archways of temples in Gujarat. The frieze patterns on this building too. The frieze patterns on this building too show signs of tampering proving that Muslim conquerors transposed stones at random to ease their conscience in readying earlier temples for use as mosques.

The tower girth is made up of exactly 24 folds, arcs and triangles alternating. This shows that the figure 24 had social prominence and significance in the premises. The apertures for letting in light are 27. Considered along with the 27 constellation pavilions mentioned earlier, it leaves no doubt that the tower too was an astronomical observation pole.

In Arabic the term 'Kutub Minar' signifies an astronomical Tower. That was how it was described to Sultan and later referred to in court correspondence. In course of time the name of Sultan Kutubuddin came to be unwittingly associated with the Kutub Tower, leading to the misleading assertion that Kutubuddin built the Kutub Minar.

Iron strips have been used to keep the huge boulders fastened together in the construction of the tower. Similar strips have been used in the stone walls of Agra Fort. In my book Tajmahal was a Rajput Palace, I have already dealt at some length on the origin of the fort and proved that it existed during pre-muslim times. Therefore it is apparent that the use of iron strips to keep together stones in huge buildings was a Hindu device. That device used in the so- called Kutub Minar in Delhi another proof of its having been a pre-Muslim Hindu tower. If a 24-petal lotus is pulled up from its centre it will form a tower of that pattern. Lotus pattern is never Muslim.

An Interesting Article on Qutub Minar's truth

Article wikified by Dayanand Deswal दयानन्द देसवाल
कुतुबमीनार : एक रहस्योद्घाटन
लेखक - विरजानन्द दैवकरणि, निदेशक, पुरातत्त्व संग्रहालय, गुरुकुल झज्जर

किसी भी देश और जाति में सभ्यता के विकास, संस्कृति की स्थिरता एवं स्थापत्यकला की उन्नति और समृद्धि के लिये सुख-शान्ति का होना नितान्त आवश्यक है। भारत में जब से विदेशी आक्रान्ताओं ने शान्ति भंग करनी आरम्भ की, उसी समय से भारतीय संस्कृति, सभ्यता और स्थापत्य कला नष्ट होनी प्रारम्भ हो गई थी। सहस्रों वर्षों तक आक्रमणकारियों द्वारा ध्वस्त किये जाते रहने पर भी भारत में अनेक अवशेष रह गये हैं, जिनको देखकर भारत के प्राचीन ज्ञान, विज्ञान और गौरव के आगे नतमस्तक होना पड़ता है।

ऐसे ही अवशेषों में एक है - महरौली स्थित कुतुबमीनार। महरौली (मिहिरावली) के पास स्थित कुतुबमीनार के आज के प्रसिद्ध नाम के अतिरिक्त अन्य अनेक नाम प्रचलित रहे हैं। जैसे - विश्वकर्मा प्रासाद, यमुनास्तम्भ, विजय-स्तम्भ, कीर्त्तिस्तम्भ, सूर्यस्तम्भ, वेधस्तम्भ, विक्रम-स्तम्भ, ध्रुवस्तम्भ, विष्णुध्वज, ध्रुवध्वज, मेरुध्वज, पृथ्वीराज की लाट, दिल्ली की लाट, महरौली की लाट, कुतुब की लाट आदि।

मुस्लिम सुलतान मुहम्मद बिनसाम (शहाबुद्दीन मुहम्मद गौरी), गयासुद्दीन (मुहम्मद गौरी का बड़ा भाई), कुतुबुद्दीन, इलतुतमिश, अलावद्दीन खिलजी, फिरोजशाह लोदी ने किसी न किसी रूप में अपना सम्बन्ध इस स्तम्भ (मीनार) से जोड़ने का यत्न किया है तथा इस पर कुरान की आयतें खुदवाकर, अपना बनाया बताकर अथवा बिजली गिरने से टूटने पर मरम्मत कराने तक का उल्लेख किया है। यह सब कार्यवाही सन् ११९३ से लेकर सन् १५०७ ई० के मध्य की गई है।

इस मीनार के सर्वविध सूक्ष्म अध्ययन करने पर यह सिद्ध होता है कि मीनार खगोलविद्या जानने के लिए आचार्य वराहमिहिर द्वारा महाराजा विक्रमादित्य के काल में विशुद्ध भारतीय पद्धति पर बनवाया हुआ, वेधशाला के मध्यभाग का अवशेष सूर्यस्तम्भ है।

इसे भारतीय स्थापत्य सिद्ध करने में निम्नलिखित हेतु, तर्क, प्रमाण आदि हैं। पाठक कुतुबमीनार पर जाकर स्वयं देखें और पूर्वाग्रहों से मुक्त होकर, बुद्धि का उपयोग करके निर्णय लेने का यत्न करें।

१. २३८ फीट १ इंच ऊंची मीनार का मुख्य प्रवेशद्वार उत्तर दिशा (ध्रुवतारे) की ओर है। मुस्लिम धार्मिक भवन पूर्वाभिमुख होते हैं।

२. इस मीनार के प्रथम खण्ड में दस (सात बड़ी, ३ छोटी), द्वितीय खण्ड में पांच तथा तीसरे, चौथे, पांचवें खण्ड में चार-चार खिड़की हैं। ये कुल मिलाकर २७ हैं। ज्योतिष के अनुसार २७ नक्षत्र होते हैं। समय विशेष में प्रत्येक नक्षत्र का अध्ययन करने के लिये एक-एक खिड़की का प्रयोग किया जाता था। बाहर से देखने पर ये खिड़कियां मात्र एक झरोखा दीखती हैं, परन्तु भीतर की ओर इतनी चौड़ी हैं कि कई व्यक्ति एक साथ खड़े होकर अथवा दो व्यक्ति यन्त्रों सहित बैठकर अध्ययन कर सकें। ये झरोखे स्तम्भ में प्रकाश के लिए कदापि नहीं हैं। यदि प्रकाश के लिये होते तो एक ही अनुपात से चारों ओर समानान्तर बनाये गये होते। इसके विपरीत जहाँ प्रकाश की आवश्यकता जान पड़ती है, वहाँ एक भी झरोखा नहीं बना है। ये झरोखे नक्षत्रों की चाल और ऋतु के अनुकूल बनाये गये हैं।

३. इस मीनार में स्थान-स्थान पर भारतीय कला के प्रतीक कमल के फूल, चक्र, मन्दिर की घण्टियां, जंजीर (बेल) आदि बनी हुई हैं। ये प्रतीक मुस्लिम कलाशैली के सर्वथा विपरीत हैं।

४. इस स्तम्भ के बाहर चारों ओर जो अरबी भाषा में अभिलेख उत्कीर्ण किये हुये हैं, यदि उन पत्थरों को निकालकर देखा जाये तो उनके पृष्ठभाग में हिन्दू देवप्रतिमायें बनी हुई हैं, उनके नाक, मुख आदि तोड़कर उन्हें पलटकर वहीं लगा दिया गया और दूसरे भाग में अरबी में लेख खुदवा कर यह सिद्ध करने का असफल प्रयत्न किया गया है कि यह मीनार मुस्लिम शासकों द्वारा निर्मित है।

यदि ऐसा प्रमाण (जिस पर एक ओर हिन्दू प्रतिमा है तथा दूसरी ओर अरबी में कुरान की आयद खुदी हुई है) आप देखना चाहें तो कुतुब परिसर के मुख्य प्रवेशद्वार (पार्किंग स्थल) के सामने सड़क पार पूर्व की ओर एक छोटा-सा संग्रहालय है, उसमें जाकर किसी भी अधिकारी से प्रार्थना करके देख सकते हैं। वैसे उसके दिखाने पर प्रतिबन्ध-सा है। क्योंकि उसके प्रचार-प्रसार से हठधर्मी लोग अप्रसन्न हो सकते हैं। उसी संग्रहालय में, मस्जिद के बुलन्द दरवाजे के दोनों ओर से मरम्मत के नाम पर निकाले गये तीन विशाल प्रस्तरों पर सुन्दर हिन्दू देव प्रतिमायें बनी हुई प्रदर्शित की गई हैं तथा अनेक प्रतिमायें उसी द्वार में भीतर की ओर मूर्त्ति का मुख करके लगाई हुई हैं।

५. अनेक अरबी लेखों के बीच-बीच में कमलपुष्प, घण्टी, चक्र आदि चित्रित हैं, जिनका लेख के साथ मेल नहीं खाता।

६. इसी मीनार के साथ बनी कुव्वत-उल-इस्लाम नामक मस्जिद के मुख्य द्वार पर अरबी भाषा में लिखा एक अभिलेख (शिलालेख) लगा हुआ है। उसमें कुतुबुद्दीन ऐबक ने लिखवाया है -

ई हिसार फतह कर्दं ईं मस्जिद राबसाखत बतारीख फीसहोर सनतन समा व समानीन वखमसमत्य अमीर उल शफहालार अजल कबीर कुतुब उल दौल्ला व उलदीन अमीर उल उमरा एबक सुलतानी अज्ज उल्ला अनसारा व बिस्ती हफत अल बुतखाना मरकनी दर हर बुतखाना दो बार हजार बार हजार दिल्लीवाल सर्फ सुदा बूददरी मस्जिद बकार बस्ता सदा अस्त॥
अर्थात् हिजरी सन् ५८७ (११९१-९२ ईसवी सन्) में कुतुबुद्दीन ऐबक ने यह किला विजय किया और सूर्यस्तम्भ के घेरे में बने २७ बुतखानों (मन्दिरों) को तोड़कर उनके मसाले से यह मस्जिद बनवाई। ये मन्दिर एक-से मूल्य के थे। एक-एक मन्दिर २०-२० लाख दिल्लीवाल (दिल्ली में बने सिक्के का नाम) की लागत से बना हुआ था।
(अर्थात् २७ मन्दिर पांच करोड़ चालीस लाख रुपयों से बने हुये थे। उनमें ज्योतिष से सम्बन्धित यन्त्र भी अवश्य लगे हुये होंगे तथा मूल्यवान् हीरे, जवाहरात, स्वर्ण-रजत आदि से विभूषित होंगे। यहां यह ध्यान देने योग्य बात है कि मुस्लिम लेखक ने "बीस लाख" शब्द न लिख कर "दो बार हजार, बार हजार" लिखा है। क्या उन्हें बीस लाख तक की गिनती भी नहीं आती थी?)

७. ८ सितम्बर १९९२ में इसी कूवत-उल-मस्जिद के आग्नेय कोण (दक्षिणी-पूर्वी कोण) में लाल पत्थर के खम्भे पर खुदा एक लेख सर्वप्रथम मेरे द्वारा प्रकाश में लाया गया था। यह लेख लगभग आठवीं शती ईस्वी का है। इस लेख में ९ पंक्तियां हैं। लेख बहुत घिसा हुआ है। पुनरपि कुछ अक्षर इस प्रकार पढ़े गये हैं -

पंक्ति १. नमो भगवते..........
पंक्ति २. .......... श्री देव
पंक्ति ३. .......... न्द्रस्य पौत्रे .....
पंक्ति ४. डल्हणेन दत्ता
पंक्ति ५. गणयति चातप ..........
पंक्ति ६. .......... वारिकवे सिद्धा .....
पंक्ति ७. .......... प्रतिहस्तकः
पंक्ति ८. .......... दिभिः देव ... र.....
पंक्ति ९. स्थापितः॥

जब यह लेख भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण विभाग के निदेशक की दृष्टि में लाया गया तो उन्होंने अपना १५० वर्ष पुराना रिकार्ड चैक किया और बताया कि कुतुब क्षेत्र के सारे लेख इस पुस्तक में छपे हैं परन्तु आप द्वारा खोजा गया यह लेख पहली बार प्रकाश में आया है। दिसम्बर १९९२ में जब यह सूचना मैंने नवभारत टाइम्स में सचित्र प्रकाशित करानी चाही तो उन्होंने कहा - अयोध्या मन्दिर-मस्जिद का झगड़ा तो अभी शान्त नहीं हुआ है, आप एक झगड़े की जड़ और ले आये। हम इस सूचना को नहीं छाप सकते।

और यह भी कहा कि पुरातत्त्व विभाग के अधिकारियों से लिखवाकर लाइये कि यह अभिलेख पहली बार प्रकाश में आया है और आपने इसे ठीक ही पढ़ा है। मैंने कहा - पुरातत्त्व अधिकारी तो इसे गलत पढ़ रहे हैं। जैसे कि जिस पद को मैं नमो भगवते पढ़ रहा हूँ, उसे ही पुरातत्त्व के विशेषज्ञ ८९३ संवत् पढ़ रहे हैं, और अभी तक अप्रकाशित तो है ही। यह सुनकर भी सम्पादक महोदय टाल गये तथा अभिलेख का चित्र तथा सूचना न तो छापी, न ही वापिस लौटाई।

यह है स्वतन्त्र भारत के समाचार पत्रों की मानसिकता। बाद में पंजाब केसरी समाचार पत्र ने इस सूचना को प्रकाशित किया था।

इस सारे विवेचन से यह सिद्ध है कि यह मीनार कुतुबुद्दीन ऐबक से कम से कम ५०० वर्ष पहले तो अवश्य विद्यमान थी।

८. अरबी भाषा में कुतुबी तारा ध्रुवतारे का नाम है। जिस मीनार से ध्रुवतारे आदि का निरीक्षण किया जाये वह कुतुबमीनार कहाती है। कुतुबुद्दीन ऐबक से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है। यदि इसका निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने करवाया होता तो इस पर अपना नाम, संवत्, निर्माण विषयक अन्य जानकारी आदि अवश्य लिखाता जैसे उसने इसी के पास बनवाई कुवत उल इस्लाम नामी मस्जिद, अजमेर का अढाई दिन का झोंपड़ा और पलवल के मन्दिर को गिराकर बनवाई गई मस्जिद पर जब शिलालेख लगवा दिया तो कुतुबमीनार जैसी महत्त्वपूर्ण रचना को बनवाने वाला होता तो इस पर अपने नाम का लेख क्यों नहीं खुदवाया?

९. सैनिक आदि लोग दिशा ज्ञान के लिये कम्पास (Compass) नामक एक यन्त्र अपने पास रखते हैं, इसकी सूई सदा उत्तर दिशा में रहती है। इसका नाम कुतुबनुमा भी है अर्थात् ध्रुवतारे की दिशा का ज्ञान कराने वाला यन्त्र। इस नाम से कोई कुतुब शब्द देखकर यह कहने लगे कि कुतुबनुमा यन्त्र का आविष्कार कुतुबुद्दीन ऐबक ने किया है तो क्या इसे संसार सत्य मान लेगा? यही बात कुतुबमीनार के कुतुब शब्द पर भी लागू होती है। इसी भांति ध्रुवतारे को कुतुबी तारा कहते हैं तो क्या इसे भी कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा बनवाया हुआ मान लिया जाये?

१०. ज्योतिष की दृष्टि से दक्षिण की ओर झुकाव देखकर कुतुबमीनार का निर्माण किया गया है। इसीलिये सबसे बड़े दिन २१ जून को मध्याह्न में इतने विशाल स्तम्भ की छाया भूमि पर नहीं पड़ती। कोई भी पाठक वहां जाकर इसका निरीक्षण कर सकता है। इसी प्रकार दिन-रात बराबर होने वाले दिन २१ मार्च, २२ सितम्बर को भी मध्याह्न के समय इस विशाल स्तम्भ के मध्यवर्ती खण्डों की परछाई न पड़कर केवल बाहर निकले भाग की छाया पड़ती है और वह ऐसे दीखती है जैसे पांच घड़े एक दूसरे पर औंधे रक्खे हुये हों।

वर्ष के सबसे छोटे दिन २३ दिसम्बर को मध्याह्न में इसकी छाया २८० फीट दूर तक जाती है, जबकि छाया ३०० फीट तक होनी चाहिये। क्योंकि मूलतः मीनार ३०० फीट की थी (१६ गज भूमि के भीतर और ८४ गज भूमि के बाहर = १०० गज = ३०० फीट)। यह २० फीट की छाया की कमी इसलिये है कि मीनार की सबसे ऊपर के मन्दिर का गुम्बद जैसा भाग टूट कर गिर गया था। जितना भाग गिर गया, उतनी ही छाया कम पड़ती है, मीनार का ऊपरी भाग न टूटता तो छाया भी ३०० फीट ही होती।

११. दिल्ली के वर्त्तमान कालका मन्दिर का सम्बन्ध भी इसी वेधशाला से था। इसका नाम काल का = समय का मन्दिर है। कुतुबमीनार के पूर्व की ओर, उत्तरपूर्व (ईशान) कोण, तथा दक्षिणपूर्व (आग्नेय) कोण में तीन मन्दिर थे। इसी भांति पश्चिम में, पश्चिमोत्तर (वायव्य) कोण तथा दक्षिणपश्चिम (नैऋत) कोण में भी तीन मन्दिर थे। छोटे बड़े और समान दिन-रात होने के समय कुतुबमीनार पर चढकर प्रातः सायं देख सकते हैं कि सूर्योदय ठीक मन्दिर की चोटी पर उदय हो रहा है और सायंकाल सूर्यास्त के समय पश्चिम दिशा के मन्दिर की चोटी पर अस्त हो रहा है। यह दृश्य वर्ष में तीन वार (२१ मार्च, २१ जून और २३ सितम्बर को) देखा जा सकता था। आज भी उन पांच मन्दिरों के अवशेष पूर्व-पश्चिम में विद्यमान हैं। छठा कालका मन्दिर तो अभी तक पूर्णतया सुरक्षित है ही।

१२.कुतुबमीनार के झरोखों में भीतर की ओर ज्योतिष सम्बन्धी कुछ गूढ अक्षर, अंक और रेखा आदि संकेतक चिन्ह बने हुये हैं। उन्हें मुस्लिम कारीगर तो क्या, ज्योतिषविद्या रहित कोई संस्कृत का पण्डित भी नहीं जान सकता। जैसे ना १ स ११६७३, २ त्रो, ना ३ स्त, ४ रु रो १० ता, ५ घे ११ म आदि। इस सूर्यस्तम्भ कर चढ़कर नक्षत्रों का अध्ययन करने वाले ज्योतिषियों ने ये संकेत खगोलीय वेध आदि विशेष अवसरों पर लिखे लिखवाये होंगे।

१३. प्रसिद्ध दार्शनिक और इतिहास के विद्वान् श्री आचार्य उदवीर शास्त्री, श्री महेशस्वरूप भटनागर, श्री केदारनाथ प्रभाकर आदि अनेक शोधकर्त्ताओं ने सन् १९७०-७१ में कुतुबमीनार और इसके निकटवर्ती क्षेत्र का गूढ़ निरीक्षण किया था। उस समय इस मीनार की आधारशिला तक खुदाई भी कराई थी, जिससे ज्ञात हुआ कि यह मीनार तीन विशाल चबूतरों पर स्थित है। पूर्व से पश्चिम में बने चबूतरों की लम्बाई ५२ फीट तथा उत्तर से दक्षिण में बने चबूतरे की लम्बाई ५४ फीट है। यह दो फीट का अन्तर इसलिये है कि मीनार का झुकाव दक्षिण दिशा की ओर है, इसका सन्तुलन ठीक रक्खा जा सके। उसी निरीक्षण काल में श्री केदारनाथ प्रभाकर को मस्जिद के पश्चिमी भग की दीवार पर बाहर की ओर एक प्रस्तर खण्ड पर एक त्रुटित अभिलेख देखने को मिला। उसके कुछ पद इस प्रकार पढ़े गये थे -

सूर्य मेरुः पृथिवी यन्त्रै मिहिरावली यन्त्रेण - इन शब्दों से भी यह स्थान ज्योतिष केन्द्र सिद्ध होता है।

१४. मुस्लिम सम्प्रदाय के प्रसिद्ध नेता सर सैयद अहमद खान ने कुतुबमीनार पर दृढ़ रस्सों के सहारे एक बड़ा और मजबूत टोकरा लटकवाकर उसमें बैठकर मीनार पर खुदे अभिलेखों को सबसे पहले पढ़ा था। उनके मतानुसार अरबी में लिखे ये अभिलेख बिना किसी योजना एवं बिना उद्देश्य के लिखे हुये हैं। वे कहते हैं कि इन अभिलेखों की भाषा और अक्षर रचना भी अशुद्ध है। वे अपने ग्रन्थ 'असर-उस-संदिद' में लिखते हैं कि यह भवन राजपूत काल में निर्मित हुआ प्रतीत होता है।

१५. भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषि आचार्य वराहमिहिर के नाम पर मिहिरावली नामक ग्राम बसा हुआ था। यह नाम कालान्तर में विकृत होता-होता महरौली बन गया। प्रसिद्ध भाषा-विशेषज्ञ और महान् शिक्षाविद् श्री डॉ० लोकेशचन्द्र जी पूर्व सांसद की मान्यता है कि महरौली का प्राचीन नाम मिहिरपल्ली था। पल्ली शब्द ग्राम का वाचक है। अर्थात् ज्योतिषी ब्राह्मणों का गांव। दक्षिण भारत में अभी भी यह प्रथा देखी जा सकती है। यूनानी भाषा में मिहिर शब्द सूर्य का वाचक है। कुषाण सम्राट् कनिष्क ने अपनी मुद्राओं पर वायु, चन्द्रमा, सूर्य आदि भारतीय देवों की प्रतिभायें चित्रित करवाई थीं। उन पर सूर्य को ग्रीक लिपि ही लिखा है।

आचार्य वराहमिहिर भारतीय पद्धति के महान् ज्योतिषी तो थे ही, साथ ही वे यूनानी पद्धति से भी ज्योतिषविद्या के पूर्ण ज्ञाता थे। उनके ग्रन्थों में ताबुरि, जितुमलेय, पाथोन, जूक, आकोकेर, हेलि, हिबुक, आस्फुजित्, अनफा, सुनफा, आपोक्लिम, पणफर, मेषूरण, रिफः आदि यावनी भाषा के शब्दों का प्रयोग बतलाता है कि वे संस्कृत भाषा की भांति यूनानी भाषा के माध्यम से यूनान देश को भी ज्योतिष सम्बन्धी विशाल ज्ञान दे गये हैं।

The Minaret of Jam in Afghanistan

१६. कुतुब मीनार की शैली पर ही अफगानिस्तान में भी एक मीनारे-जाम बनी हुई मिली है। महाराज विक्रमादित्य के समय भारत की सीमा बल्ख बुखारा तक थी। उसी समय आचार्य वराहमिहिर ने अफगानिस्तान स्थित यह मीनारेजाम भी बनवाया होगा, ऐसी सम्भावना व्यक्त की जाती है। वह मीनार २१३ फीट ऊँची है। यह मीनार अफगानिस्तान के हीरात प्रान्त की हरिरूद नामक नदी के पास स्थित है।

इस संक्षिप्त विवेचन से पाठक समझ गए होंगे कि महरौली स्थित यह सूर्यस्तम्भ = ध्रुवस्तम्भ = कुतुबमीनार भारतीय प्राचीन ज्योतिषियों द्वारा निर्मित महान् स्थापत्य कला का एक जीता-जागता उदाहरण है। इसके निर्माण में मुस्लिम सुलतानों का कोई योगदान नहीं है। हाँ! इसे विकृत और नष्ट करने में उन्होंने यथामति-यथाशक्ति कोई कसर नहीं छोड़ी। ये मुस्लिम शासक भारत में अपना राज्य जमाने के लिये सदा लड़ते रहे। उनके राज्य में सुख चैन नहीं रहा, ऐसे युद्धों की विभीषिका में ऐसे रचनात्मक कार्य कैसे कर सकते थे?

आशा है पाठक लोग उपर्युक्त विवेचन से सत्यासत्य के निर्णय करने में सक्षम हो सकेंगे।

* * * * *

दिल्ली

विजयेन्द्र कुमार माथुर[5] ने लेख किया है ...क़ुतुब मीनार 238 फुट ऊंची है और भारत में पत्थर की बनी हुई सब मीनारों में सर्वोच्च है. इसे कुतुबुद्दीन ऐबक ने 1199 ई. में बनवाया था. तत्पश्चात इल्तुतमिश और फिरोजशाह तुगलक (1370 ई.) ने इसका संवर्धन तथा जीर्णोद्धार करवाया. इसमें पांच मजिलें हैं. प्रत्येक पर बाहर की ओर निकले हुए अलिंद बने हैं. मीनार के ऊपर अरबी में अभिलेख उत्कीर्ण हैं. मीनार की निचली सतह का व्यास 47 फुट 3 इंच और शीर्ष का केवल 9 फुट है. पहली तीन मंजिले लाल पत्थर की और अंतिम दो जो शायद फिरोज़शाह तुगलक की बनवाई हुई है-- संगमरमर की हैं. ये पहली मंजिलों से अधिक चिकनी व ऊँची हैं. मीनार में छोटी पर पहुँचने के लिए 379 सीढ़ियां हैं. प्राचीन जनश्रुतियों के अनुसार यह मीनार मूल रूप में पृथ्वीराज चौहान द्वारा अपनी प्रिय रानी संयोगिता के लिए बनवाया हुआ दीपस्तंभ था जिसे बाद में मुसलमान बादशाहों ने मीनार के रूप में बदल दिया. कुतुब मीनार के पास ही अलाउद्दीन खिलजी द्वारा प्रारंभ की हुई अलाई मीनार की कुर्सी के अवशेष हैं. यह मीनार अलाउद्दीन की मृत्यु के कारण आगे न बन सकी थी.

External Links

References