Kanishka

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
The statue of Jat Ruler Kanishka of Kaswan clan obtained from Parkham (Mathura)

Kanishka (कनिष्क) (Kushan language: KANHÞKI, Ancient Chinese: 迦腻色伽) was a king of the Kushan Empire in South Asia, in the 2nd century of the common era, famous for his military, political, and spiritual achievements. His capital was Purushpur identified as the modern Peshawar in Pakistan.

History

Rajatarangini[1] tells us that there were on the throne of Kashmira three kings reigning jointly, namely, Hushka, Jushka and


[p.13]: Kanishka ; they built three cities and called these after their names, Jushka also caused a monastery to be built and another town named Jayasvamipura. Though they were of Turashka origin, they yet built several monasteries and places of worship on the plains of Shushkaletra. During their long reigns Buddhist hermits were all-power-ful in the country, and Buddhist religion prevailed without opposition. From the death of Buddha Shakyashiha to this time of Lokadhatu, one hundred and fifty years had passed. Nagarjuna a great Boddhisattva then stopped for six days in the woods of Kashmira.


Ram Sarup Joon[2] writes that .... According to various writers, this king belonged to Kushana dynasty. He ruled for 23 years near about 45 AD. He was an ardent follower of Buddhism and contributed a great deal towards its expansion. His empire included the whole of Northern India extending to the Southern borders of China.

In Chinese History he is also described as belonging to Yuehchi (Yuti) race. His successors were Vushishka, Huvishka and Vasudeva. This dynasty ruled for 95 years. The last ruler gave up Buddhism and adopted Vaishnavism. He lost control of Kabul. Then, in about 4th Century AD, Nagas conquered their entire territory and made Mathura their capital.

Kanishka's clan was Kaswan

Kanishka was a Kushan of Yuezhi ethnicity. He probably spoke an Indo-European language related to Tocharian, and he used the Greek script in his inscriptions.

James Legge has mentioned in the book : A RECORD OF BUDDHISTIC KINGDOMS, chapter XII about the rule of Kanishka in foot note-4 that “Kanishka appeared, and began to reign, early in our first century, about A.D. 10. He was the last of three brothers, whose original seat was in Yueh-she, immediately mentioned, or Tukhara.”

He further mentions in footnote-6 that “This king was perhaps Kanishka himself, Fa-hien mixing up, in an inartistic way, different legends about him. Eitel suggests that a relic of the old name of the country may still exist in that of the Jats or Juts of the present day. A more common name for it is Tukhara, and he observes that the people were the Indo-Scythians of the Greeks, and the Tartars of Chinese writers, who, driven on by the Huns (180 BC), conquered Transoxiana, destroyed the Bactrian kingdom (126 BC), and finally conquered the Punjab, Cashmere, and great part of India, their greatest king being Kanishka (E. H., p. 152).”

Bhim Singh Dahiya has also proved in his book Jats: The Ancient Rulers that Yuezhi are Jats and Kaswan is nothing but Kushan.

Alexander Cunningham considers Jats of India, Goths of Europe and yuezhi of China as same people.

As per above discussion it is clear that the Kushan ruler Kanishka was a Jat of Kaswan gotra.

Kushanas were Jats - Inscriptional evidences

Bhim Singh Dahiya has also discussed in detail on pp. 38-41 on the basis of evidences in inscriptions of Kushan period and proved in his book "Jats: The Ancient Rulers" that Kushanas were Jats. According to him Sten Konow, analyses the word Yue-che and mentions that the first term, Yue, is pronounced as getsu in Sino-Japanese, ngoat/nuet in Anaamese/and ngiw ut in Tang period of China[3]. The second term, che, was pronounced as ti, the Cantonese tai, and the Tang period tiei. After quoting Klaproth and Prof. Karlgren, he has shown that the word Yue-che can be pronounced as gat, got, or gut. He has taken the names of two persons from Junar inscriptions, and these names are Yavana Irila (The latter is taken by Waddel, as the original word for the English title, Earl) [4]

Now letus take the clan names from the inscriptions of Kushana period.

  1. The first is the name of Kushana itself. We have shown above that this word is Kaswan/Kasuān, a clan name of Jats. This clan is the same as the latter Rajput name , Kashwaha/Kushwaha, sanskritized into Kashyapaghat/Kacchapa, because of similarity of sound with Kachhua meaning tortoise in Prakrit. Actually the word Kashuā (XWN of Tokharian language) means king, and has no connection whatsoever with the tortoise, as supposed by some PANDITS. The Taxila Ladle copper inscription has this word as Kaśaviana. [5] Our view is that this word is Kaśaviana i.e. Kaswan.[6]
  2. A seal inscription of Śiva Sena is noted which Cunningham read as, "Śivasena, of the race of Atri, Satrap of Pothowar". [7] Here Atri is a Jat of that clan.
  3. Manikiālā stone inscription of the year 18, reads a name, "Khuda Chiena"[8]. Here the person named is China Jat, the Chinā of Puranas.
    1. Manikiālā bronze casket inscription reads, "Gift of Kapiśa satrap, the son of the satrap, Graņa Vhryaka". [9] Here the Vhryaka is a Virk Jat clan.
  4. Tor Dheri inscription mentions a person, "Yola Mira Śhāhi".[10] Here Shahi is a Jat clan.
  5. Paţhyār Inscription mentions a pond of “Yayula Rāţhi” and Prof. Vogel is quoted to say that Rāţhi is the same as the agricultural caste of Kangra. Majumdar is quoted to say that Vayula is an un-Indian name. [11] Both “ Vogel and Majumdar, are right and Rathi is a Jat clan.
  6. We know Satrap Liaka Kuzula, and his son Patika Kuzula. This clan is also associated with Kozola Kadphises, i.e., Kad (High) Phises (lord or chief) of Kozola clan. Sten Konow rightly endorses the view of Prof. Luders that Kuzula/ Kozola is a family name. [12] In fact it is a clan name, now written as Kazala/Kajala. THe Kajla Jats are now found in Bikaner area. [13] (see also W. Hoey, on the word Kozola)
  7. THe Zeda rock inscription, near Und (in Pakistan) of the year 11 of the Saka era, mentions the digging of a well, during the reign of Kanishka, which was gifted by one Hippea Dhia in honour of Ksatrapa Liaka [14], [15] Here the donor is definitely a Jat of Dahiya clan. Even now many persons write it as Dhia. This important inscription further proves that the individual named, was from Bulkh area which was called “Dahia” by the Chinese, of course, because of the predominant clan of that area in those times, were the Dahiya Jats. The word Hippea seems ot be rather Greek than Persian. This also shows the historic process because the Chinese “ Dahia” area was later on under the Greeks for a long period of about 200 years.
  8. The next example is taken from the famous Surkh Kotal inscription written in Greek and relating to the year 31 of Saka ara. Here the work done was the repair of a sanctuary built by Kanishka. The inscription was recorded by two persons whose names are given as Mihra Mān and Burzmihr Puhr. Here again the two persons who are of course, important officers of the empire were two Jats from the Mān and Puhr/Pawar clans. Again the names here are decidedly Iranian. [16]
  9. The next is the Ara inscription near Attock, written in Khāroşţhi script in the year 41. This inscription refers to the digging of a well by one Dashavhara in honour of his mother and father and for the welfare of himself, his wife, his sons and all beings. This name is reminiscent of another Jat clan , nowadays called “ Deswal/ Daswal.
  10. The next example is the inscription kept in the Lucknow Museum written in Brahmi script in the IXth year of Saka era. Here the subject matter is the gift by a lady, Gahapala , daughter of Grahamitra and wife of Ekra Dala. This name is again reminiscent of the name of the Jat clan Dall/Dhall.
  11. Yet another inscription of Wardak near Kabul of the year 51 relates of the establishment of the relic of Lord Buddha in a stupa by Vagramarega who is shown as a scion of Kama Gulya. Here we have yet another clan name Gulya of the Jats, perhaps.
  12. Mathura inscription of the year 28, mentions an official named Khara, son of Kanasaruka Mān, ruler of Saler (Sālār, a Jat clan) and Wakhan. Here again we have a Jat of Mān clan. [17]
  13. The last example is of the famous Panjtar now in (Pakistan) stone inscription written in the year 122 of Saka ara. It referse to one “ Lala, the protector of the Kushana dynasty of Maharaja Kanishka” . This Lala, was a Lalli “Jat” It also refers to the gift of two trees by one Moika in the eastern region of “ Kasua”. That last word Kasua is the same as Kasuan the name of the Kushana clan (and territory) which is still existing. [18]

One of the Greatest Buddhist Kings

Kanishka was the successor of Vima Kadphises, as demonstrated by genealogy record of the Kushan kings, known as the Rabatak inscription. A significant amount of what is known about Kanishka was preserved because of his spiritual merit and the Buddhist religious tradition. Along with the Indian king Ashoka, the Indo-Greek king Menander I (Milinda), and Harshavardhana, he is considered one of the greatest Buddhist kings.

In spite of the acknowledged dominance of the Kushan empire during his reign, until recently scholars have not been able to agree on the period of his reign. There have been held three conferences to resolve this date. In recent years the debate has focused around the relatively narrow period between AD 100 and AD 144 as the likely date of ascension, although recent discoveries call even these theories into question.

Kanishka's Empire

Kanishka's empire was certainly vast. It extended from the Oxus in the west to Varanasi and Mathura in the east (the Rabatak inscription even claims he held Pataliputra), and from Kashmir in the North to the coast of Gujarat in the south, including Malwa.

Knowledge of his hold over Central Asia is less well established. Chinese records indicate that general Ban Chao fought battles with a Kushan army at Khotan in AD 90, probably headed by Kujula Kadphises. Though he claimed to be victorious (Kujula Kadphises is recorded has having paid tribute to China), the region fell to Kushan forces shortly afterwards, probably under Kanishka's rule. As a result, the territory of the Kushans extended to Kashgar, Khotan and Yarkand, which were Chinese dependencies in the Tarim Basin, modern Xinjiang. Several coins of Kanishka have been found in the Tarim Basin.

Kanishka's reputation in Buddhist tradition is based mainly on his having convened the 4th Buddhist Council in Kashmir. This council is attributed with having encouraged the spread of Mahayana Buddhism.

He provided encouragement to both the Gandhara school of Greco-Buddhist Art and the Mathura school of Hindu art (An inescapable religious syncretism pervades Kushana rule). Kanishka personally seems to have embraced both Buddhism and the Persian cult of Mithra.

His greatest contribution to Buddhist architecture is the great stupa at Peshawar. Archaeologists rediscovered it in 1908-1909 ascertained that this stupa had a diameter of 286 feet. Reports of Chinese pilgrims such as Xuan Zang indicate that its height was 600 to 700 (Chinese) "feet" (= roughly 180-210 metres or 591-689 ft.). Certainly this would rank among the wonders of the ancient world.

Kanishka is said to have been particularly close to the Buddhist scholar Ashvaghosha, who became his religious advisor.

Inscriptions at Mathura

James Todd writes that Some sacrificial pillars (yupa) were recently found in the bed of the Jumna near Mathura, with inscriptions dated in the twenty-fourth year of Kanishka's reign, about A.D. 102. [19]

महाराज कनिष्क

महाराज कनिष्क की मूर्ती: लखनऊ म्यूजियम में रखी हुई है जो पांच फीट के लगभग ऊंची है किन्तु सिर कटा हुआ है। घुटनों से नीचे तक अंगरखा, हाथ में गदा जैसा हथियार है। किन्तु शायद गदा नहीं है। मूर्ति विशाल पुरुष की जैसी है।इस प्रस्तर मूर्ति को ठाकुर देशराज ने स्वयं म्यूजियम में जाकर देखा है।(पृ.-724)

ठाकुर देशराज लिखते हैं कि इनके समय के विषय में निश्चित रूप से तय नहीं हो पाया है। डाक्टर भंडारकर इनका समय 203 ई. मानते हैं। लेकिन मि. विंसेंट स्मिथ का अनुमान है कि ईसवी सन् 226 में भारत के कुषाण वंश का राज्य समाप्त हो गया था। कुषाण राजाओं के सिक्कों से मालूम होता है कि कुषाण वंश के राजाओं का पांचवीं सदी तक काबुल और उसके आस-पास राज्य रहा था। कुछ लोग सन् 61 ई. में कनिष्क का होना मानते हैं। हमारे विचार से ईसा की प्रथम शताब्दी के अन्तिम भाग में कुषाणों का राज्योदय होना जंचता है, क्योंकि भविष्य पुराण के अनुसार ईसवी सन् के आरम्भ में राजा शालिवाहन का अवस्थित होना पाया जाता है। यदि कनिष्क और शालिवाहन समकालीन होते तो भट्टी ग्रंथों में उसका वर्णन अवश्य आता। शालिवाहन के बाद पंजाब में एक प्रकार भट्टी लोगों का राज्य उठ सा ही जाता है। इसलिये ही भट्टी ग्रंथों में कनिष्क व कुषाणों के सम्बन्ध में वर्णन नहीं मिलता।


कुषाण लोग कौन थे, इसके सम्बन्ध में भी दो भिन्न मत हैं। ‘राजतरंगिणी’ का लेखक उन्हें तुरुष्क और आधुनिक विद्धान यूहूची व यूचियों की एक शाखा मानते हैं। चीनी इतिहासकारों ने एक तीसरी राय इनके सम्बन्ध में यह दी है कि कुषाण लोग ‘हिंगनु’ लोग हैं। चाहे वे ‘तुरुष्क’ हों, चाहे ’यूची’ और ‘हिंगनु’ पर हर हालत में वे जाट थे। ‘पृथ्वीराज विजय’ के आधार पर बदायूं जिला निवासी ठा. रामलालजी हाला ने भी अब के कई वर्ष पूर्व यही बात लिखी है। तुरुष्क, यूची और हिंगनु लोगों के लिए अनभिज्ञ इतिहासकारों ने विदेशी और आयों से इतर जन मानने की भी अक्षय भूल की है। पुराणों की संकुचित मनोवृत्ति के आधार पर ही कुछ देशीय और विदेशीय विद्धानों ने तुरुष्कों और यूचियों को विदेशी


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-201


मानने की स्थापना की है। तुरुष्क चन्द्रकुल के संभूत राजा तुर्वुस की सन्तान हैं, जिन्हें कि पुराणकारों ने केवल इस अफराज से कि वहां तक ब्राह्मण नहीं पहुंचते थे, उनको पतित क्षत्री बताने की धृष्टता की है। कनिघंम के शब्दों में भारत के जाट, यूरोप के जेटी और गाथ और चीन के यूची व ज्यूटी एक ही हैं। तुर्क या तुरुष्क जैसा कि लोग समझते हैं, मुसलमान यवन अथवा अनार्य नहीं हैं। तुर्वुस के प्रदेश का नाम तुरुष्क अथवा तुर्किस्तान है और किसी भी वंश अथवा जाति का आदमी जो कि तुर्किस्तान में रहता हो, तुर्क कहलायेगा। उसी तुर्किस्तान में जेहून, आक्सस, हिंगनू, जगजार्टिस नाम की उपजाऊ भूमि में भारतीय क्षत्रिय जाति रहती थी, वह जूटी, जोयी और यहूची कहलाती थी और हिंगु अथवा हिंगनू कुषाण आदि उसकी शाखायें थीं। यह तो हम पिछले अध्यायों में बता ही चुके हैं कि प्रजातन्त्रीय राजवंशों के संगठित समुदाय का नाम जाट है जिनमें कृष्ण, अर्जुन, दुर्योंधन, शुरसेन, भोज, शिव परिवारों के वंशज शामिल हैं। कुषाण वे लोग हैं जो कि पांडवों के साथ महाप्रस्थान में कृष्ण-वाशियों में से गये थे। संस्कृत के कार्ष्णेय तथा कार्षणिक से कुषाण शब्द बना, इसमें सन्देह करने की गुंजायश नहीं रह जाती। यह कुशन नहीं है, बल्कि जाटों के अन्तर्गत पाये जाने वाले ‘कुशवान’ हैं

“कहावत है कि जब भूल होती है और खास तौर पर पढ़े लिखों से भूल होती है तो दहाई भूली जाती है और गणित में तो भूल चाहे आरम्भ में हो चाहे मध्य में उनका अन्तिम नतीजा भी भूल ही होता है। जातियों के निर्णय में भी लगभग यही बात है। यदि किसी जाति को वैश्य करार दे दिया तो उसके पुरखे का नाम भी कुबेर ही बताना पड़ेगा, चाहे वह शिशुपाल की संतान हो और चाहे बाल्मीकि की और चाहे बेचारे कुबेर के बाप दादे भी कभी वैश्य न रहे हों। कुषाणवंशी जाट क्षत्रियों के सम्बन्ध में भी बिलकुल यही बात हुई है। जहां उनके सम्बन्ध में यह भ्रान्ति हुई कि वे विदेशी हैं, उसके साथ ही यह भी भ्रान्ति हो गई कि वे विजातीय और विधर्मी भी थे और बौद्ध धर्म को ग्रहण करके हिन्दू हो गए, और हो भी आनन-फानन में गए, और ऐसे हुए कि खास हिन्दुस्तान के हिन्दुओं को भी मात कर दिया।”


कितनी हास्यास्पद बात है कि जो जाति कल तक अहिन्दू है और दो ही चार वर्ष में अपने खास जाति भाई तातारियों की अपेक्षा हिन्दुओं से बिलकुल घुल मिल जाती है। शुद्धि वालों ने तो और भी रंग दे दे करके इस बात को दोहराया है। लेकिन हम कहते हैं कि कुषाण और यूची न तो विदेशी है न अहिन्दू। ये वैदिक कालीन उन क्षत्रियों की औलाद हैं जो भारत से बाहर उपनिवेश कायम करने अथवा अन्य किसी कारण से गए थे और तुर्किस्तान तो भारत से बाहर का देश भी नहीं है, जबकि वैदिक काल में आक्सन (इक्षुरसोद व इक्षुमति नदी) और काबुल (कुभा नदी) तक भारत की सीमा थी। ऋषि दयानन्द के शब्दों में त्रिविष्टप


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-203


या तिब्बत, लोकमान्य तिलक के कथनानुसार मध्य-एशिया जब आर्यों का उद्गम स्थान है तो इन देशों के लोग, ईसा और मुहम्मद से भी पहले, अहिन्दू किस तरह हो गये? विदेशी इतिहासकारों के पीछे आंख मूंद कर चलने वाले देशी इतिहासकारों ने भी ऐसी ही बहकी बातों में पृष्ठ के पृष्ठ रंग डाले हैं। कनिष्क उन क्षत्रियों की औलाद में से थे, जिनको आज यहां अवतार मानकर पूजा जाता है।


भारतवर्ष में जाट-राज्य के लिए ‘जाटशाही’ का प्रयोग किया जाता है और कुषाणवंशी राजाओं के लिए भी शाही अथवा शहन्शाही का प्रयोग किया जाता था। देवसंहिता में जाटों के लिए देवसंभूत व देवों की सन्तान कहा गया है जैसा कि हमने पिछले किन्हीं पृष्ठों में देव-संहिता के उन श्लोकों को उदधृत करके बता दिया है। कुषाणवंशी राजाओं के लेखों में इनकी उपाधि हमें देवपुत्र लिखी हुई मिलती है।

चीनी इतिहास लेखकों के आधार पर अंग्रेज लेखकों ने कुषाण राज्यवंश का इस तरह से वर्णन किया है - यूची नाम की जाति शुरू में चीन के उत्तर-पश्चिम मे रहती थी। ईसवी पू. 165 के लगभग हिंगनु नाम की जाति से उसका युद्ध हुआ। इस युद्ध में यूची लोग हार गए और पश्चिम की ओर नई भूमि की खोज में चल दिए। पहले जा करके बलख में अपनी बस्तियां आबाद कीं। यूची जाति के एक गिरोह का नाम कुषाण था। ऐसा कहा जाता है कि इनके सरदार का नाम कुजूल केडफाइसिस (कूजूल कपिशास) था।

उसने अपने प्रभावों से यूचियों की पांचों शाखाओं को एक कर दिया। तभी से कुल युची जाति कुषाण कहलाने लगी। केडफाइसिस ने पार्थिया, कन्धार, काबुल जीत कर अपने राज्य में मिला लिये। इस तरह से उसका राज्य फारस की सीमा से अफगानिस्तान तक फैल गया। इसके सिक्के काबुल की घाटी में मिलते हैं, जो कि यूनानी राजा हरमियस के सिक्कों की नकल पर बनाये गए थे। उनमें एक ओर यूनानी अक्षरों में हरमियस का नाम तथा दूसरी ओर खरोष्टी अक्षरों में ‘कुजूल कसस’ लिखा है। इससे यह सिद्ध होता है कि वह हरमियस के बाद ई.पूर्व 25 के बाद हुआ। वह 80 वर्ष तक जीवित रहा। अतः मोटे तौर पर उसका राज्यकाल 50 ई. तक माना जाता है। उसके बाद उसका पुत्र भीम केडफाइसिस उसका उत्तराधिकारी हुआ, जिसे कुछ लेखकों ने केडफाइसिस द्वितीय कहा है।

कनिष्क: ठाकुर देशराज

ठाकुर देशराज [20] ने लिखा है ... कनिष्क - यह कुषाण वंशी जाट थे। ईसा की पहली शताब्दी में इनका राज्य पेशावर में था इनके राज्य का विस्तार उत्तरी पश्चिमी भारत में विंध्याचल तक था। उद्यान, कंधार, तक्षशिला, सीतामढ़ी आदि अनेक नगर उनके राज्य के प्रसिद्ध नगर थे। कश्मीर में उन्होंने अनेक बौद्ध मठ और स्तूप बनवाए थे। उन्होंने चीनी, तुर्किस्तान, कासगर, यारकस्न्द और खुतन प्रदेशों को जीतकर अपने राज्य में मिला लिया था। मिस्टर स्मिथ ने लिखा है कि कनिष्क के अधीनस्थ महाराष्ट्र में क्षहरात, नहपान और उज्जैन में चिस्टान क्षत्रप अर्थात वायसराय थे। बौद्ध लोग कनिष्क को दूसरा अशोक कहकर याद करते थे। कनिष्क को 'महाराज राजाधिराज देवपुत्र' की उपाधि थी। सिक्कों पर शिवजी का चित्र रहता था। महाराज कनिष्क सिकंदर की भांति महत्वाकांक्षी थे।

कनिष्क

यह कुषाणों की दूसरी शाखा के बाझेष्क नामक राजा के पुत्र थे, ऐसा अनेक इतिहासकार मानते हैं। लेकिन यह पता नहीं चलता कि भीम केडफाइसेस के हाथ से इसके हाथ में राज्य कैसे आया। डॉक्टर फ्लीट औरकेनेडो का मत है कि विक्रम सम्वत् कनिष्क ने ही चलाया और वह ईसवी 57 में गद्दी पर बैठा था। बाद में मालवा के लोगों ने इस सम्वत् को अपनाया और विक्रमी के नाम से प्रसिद्ध किया। डॉक्टर फ्लीट ने यह मत एक बौद्ध दन्तकथा के आधार पर बनाया है। उस दन्तकथा के अनुसार बुद्ध की मृत्यु के चार सौ वर्ष बाद कनिष्क राजा हुआ और उसने एक सम्वत् भी चलाया। चूंकि भगवान बुद्ध को निर्वाण हुए 400 वर्ष ईसवी सन् से पूर्व प्रथम शताब्दी में होते हैं और विक्रम सम्बत् भी ईसवी सन् से पूर्व प्रथम शताब्दी में आरम्भ होता है। इसी बात को आधार मानकर डॉक्टर फ्लीट ने विक्रम सम्वत् का प्रचारक महाराज कनिष्क को माना है। मि. कैनेडी का कहना है कि चीन यूरोप का व्यापारिक सम्बन्ध पहली शताब्दी में आरम्भ हुआ था और चीन से जाने वाला माल कनिष्क राज्य में होकर गुजरता था अर्थात् भारतीय व्यापारी चीनियों से माल खरीद करके यूरोप के व्यापारियों के हाथ बेचते थे। इसी व्यापार


1. ‘अर्ली हिस्ट्री आफ इण्डिया’। पृ. 254


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-204


के लिए कनिष्क ने सोने के सिक्के ढलवाये थे और यूनानी लोगों की सुविधा के लिए उसने अपने सिक्कों पर यूनानी अक्षर अंकित करा दिए थे। इसलिये कहा जाता है कनिष्क ईसवी पूर्व पहली शताब्दी में विद्यमान था। कनिघंम साहब उसे ईसवी पश्चात् सन् 91 में विद्यमान बतलाते हैं। कुछ इतिहासकारों ने सिक्कों के आधार पर कनिष्क को रोम के सम्राट हैढ्रिममार्क्स और ओरेलस का समकालीन बताया है। हम पहले ही लिख चुके हैं कि कनिष्क का प्रामाणिक काल निर्णय अभी नहीं हो सका है। लेकिन वह ईसवी पूर्व से ईसवी पश्चात् तक भी पाया जा सकता है जब कि उसकी उम्र 150 या 175 वर्ष रही हो। अब से दो हजार वर्ष पहले कोई आदमी डेढ़ सौ दो सौ वर्ष तक जिन्दा रह सकता था तो कोई आश्चर्य की बात नहीं। गर्दभसेन के पुत्र राजा विक्रमादित्य की भी आयु ऐसी ही लम्बी बताई गई है। कुछ लोग शक सम्वत् जिसका आरम्भ सन् 78 ई. से आरम्भ होता है इसी का चलाया हुआ मानते हैं।

कनिष्क आदि राजा लोग अपने नाम के साथ ‘शाही’ या ‘शाहानु शाही’ उपाधि लगाते थे। शिलालेखों में “देव पुत्रस्य राजतिराजस्य शाहेः” इन राजाओं के नामों के साथ लिखा मिलता है। इलाहाबाद के स्तम्भ पर भी देव-पुत्र-षाही षाहानुषाही लिखा हुआ है। इस स्तंभ में, समुद्रगुप्त के साथ, षाही-वंश के राजा की संधि का उल्लेख है। शायद वह राजा इस वंश का वासुदेव रहा होगा।

कनिष्क का राज्य-विस्तार उत्तर पश्चिमी भारत में विन्ध्याचल तक था। काश्मीर और सिंध को उसने अपने प्रारम्भिक समय में ही जीत लिया था। काश्मीर में उसके बनाए हुए बहुत से बौद्ध-मन्दिर और मठ हैं। उसकी राजधानी पुरुषपुर या पेशावर थी। उद्यान, गन्धार, तक्षशिला, सीतामढ़ी यह उनके राज्य के प्रसिद्ध शहर थे। कनिष्क ने चीनी तुर्किस्तान के काशगर, यारकन्द और खुतुन नामक प्रान्तों को जीतकर अपने राज्य में मिला लिया था। चीनी यात्री सुंगयुन ने पेशावर में बने हुए इसके बौद्ध-स्तूप और मठों की बड़ी प्रशंसा की। दन्तकथाओं से ऐसा मालूम होता है कि इसने पटना पर भी अधिकार कर लिया था। मि. स्मिथ कहते हैं कि महाराष्ट्र के शासक क्षहरात, नहपान और उज्जैन के शासक क्षत्रप चष्टन भी कनिष्क के अधीनस्थ सामन्त थे। कनिष्क के जो सिक्के मिले हैं, उनमें एक तरफ राजा का चित्र होता है। दूसरी तरफ स्त्री या शिवजी अथवा अन्य देवताओं के चित्रे रहते हैं। लेखों में कनिष्क की उपाधि ‘महाराज राजाधिराज देवपुत्र कनिष्क’ मिलती है।

इसके समय में शिल्पकला की अच्छी उन्नति हुई थी। इसके समय के बने हुए स्तूप मठ मूर्तियां इसकी साक्षी हैं। इसकी सभा में अनेक विद्वानों का जमघट रहता था।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-205


आयुर्वेद का प्रसिद्ध ज्ञाता आचार्य चरक इनका राज्य-वैद्य था। नागार्जुन, अश्वघोष, वसुमित्र भी इसकी सभा में आते रहते थे।


ऐसा कहा जाता है कि कनिष्क ने बौद्ध-धर्म की दीक्षा अपने जीवन के उत्तर भाग में ली थी। बौद्ध होते हुए भी वह बौद्ध, पौराणिक यूनानी और पारसी सभी धर्मों का आदर करता था। बौद्ध लोग कनिष्क को दूसरा अशोक कहकर पुकारते थे। बौद्ध-धर्म की चौथी महासभा हुई थी। कनिष्क ने इस सभा के लिए काश्मीर की राजधानी में एक बड़ा विहार बनवाया था। इस सभा में 500 विद्वान एकत्रित हुए थे। वसुमित्र सभापति और अश्वघोष उपसभापति चुने गए थे। इन विद्वानों ने समस्त बौद्ध ग्रन्थों का सार संस्कृत भाषा के एक लक्ष श्लोकों में ‘सूत्र पिटक’ ‘विनय पिटक’ और ‘अभिधर्म पिटक’ नामक तीन महाभाष्यों में रचा। वे सब ताम्रपत्र पर नकल करके एक ऐसे स्तूप में रखे गए जो कनिष्क ने इसीलिए बनवाया था। सम्भव है अब भी वे काश्मीर राज्य में पृथ्वी के अन्दर से किसी खुदाई के समय निकल आयें।


कनिष्क सिकन्दर की भांति महत्वाकांक्षी था। जाट राजाओं में उस समय के लोगों में यह पहला व्यक्ति था, जिसने साम्राज्यवाद की ओर कदम बढ़ाया था। चीन की प्रगतियों ने इसके वंश के हृदय में एकतंत्र के भाव भर दिये थे। कनिष्क चाहता था कि ज्यादा से ज्यादा प्रदेश पर उसका राज्य हो। अन्य जातियों और देशों पर भी अधिकार जमाने की प्रवृत्ति ने उसके अन्दर से ज्ञाति राज्य की भावनाओं को नष्ट कर दिया था और यह स्वाभाविक बात है कि एक ज्ञाति (जाति) दूसरी ज्ञाति (जाति) पर राज्य करने की इच्छुक हो जाती है तो उसे अपने अस्तित्व को कायम रखने के लिए गणवादी की बजाय साम्राज्यवादी हो जाना आवश्यक होता है। कनिष्क ने अपना साम्राज्य बढाने के लिए बहुत सी लड़ाइयां लड़ीं। उसके सरदार युद्ध में उसके साथ बाहर रहते-रहते ऊब गए थे। अनुमान किया जाता है कि इसी कारण उसके सेनापतियों ने षड़यन्त्र करके उसे मार डाला। कनिष्क योद्धा था, साहसी था, इसके सिवाय वह धर्मात्मा भी था।

See also

References

  1. Rajatarangini of Kalhana:Kings of Kashmira/Book I, p.12-13
  2. History of the Jats/Chapter IV ,p. 54
  3. CII, Vol. II, PartI, p. LVIII ff
  4. JRAS, 1912, p. 379ff
  5. CII, Vol. II, p.87-88
  6. Bhim Singh Dahiya, Jats - The Ancient Rulers, p.39
  7. ibid., XXXVIII, p. 103
  8. ibid., LXXVI, p. 149-150
  9. ibid., LXXVII, p. 150-151
  10. ibid., XcII, p. 173
  11. ibid., XCIV, p.-178
  12. CII, vol. II , Pt. I, XXXIII
  13. JRAS. 1902 p. 428-29, also pp. 754-762
  14. CII, vol. II, pt.I,pp.142 and 145
  15. EL, vol. XX , p. 1 .ff
  16. BSOAS, Vol XXIII, pt. I , pp 47-55
  17. IHQ, IX, p. 145 ff; p. 800 ff
  18. EI, Vol.XIV, p-134
  19. Chapter 6 Genealogical history of the Rajput tribes subsequent to Vikramaditya,p.93
  20. Thakur Deshraj: Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Parishisht,p.165

Further readings

  • Bhim Singh Dahiya : Jats the Ancient Rulers, Dahinam Publishers, Sonepat, Haryana
  • James Legge : A RECORD OF BUDDHISTIC INGDOMS, Being an Account by the Chinese Monk Fa-Hien of his Travels in India and Ceylon (A.D. 399-414), in Search of the Buddhist Books of Discipline Translated and annotated with a Corean recension of the Chinese text



Back to The Rulers

Back to The Ancient Jats