Kanswa

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author of this article is Laxman Burdak लक्ष्मण बुरड़क
Location of Kanwas in Kota district

Kanswa or Kansua temple with a four faced Shiva Lingam. The Temple is with Inscription of Jat Raja Salindra.

Location

Kanswa is located at a distance of 6 km from Kota City. The Shiva temple was constructed by Mauryas in 8th century.[1]

History

James Tod found an inscription in 1820 AD at village ‘Kanswa’ in Kota state. This inscription reveals the rule of Jats in Kota region in 5th century.

Maharaja Shalendra was a Jat King in early fifth century in Punjab. After the fall of Kushan empire in India Jats had many small republics. There was no prominent Jat king for about two centuries after Kushans. But Maharaja Shalendra in fifth century again established a kingdom, which extended from Punjab to Malwa and Rajasthan. James Tod found an inscription in 1820 AD at village ‘Kanwas’ in Kota state. Tod in ‘Tod Rajasthan’ has described it and salient features of this inscription are as under:[2]

1. Shalendra was a ruler of Shalpuri, the modern Sialkot. He got this state with his own strength.

2. He has a huge army and rich treasury.

3. He was Suryavanshi Jat.

4. He left Buddhism and adopted Puranic religion.

5. The fort of Taxila was under him.

6. He married with a woman of other caste, as a result he had a Dogla son.

7. His son in law married with Yadavavanshi girls indicates that he was a Taxak Suryavanshi Jat.

8. The chronology of the ruler Maharaja Shalendra is as under: 1. Maharaja Shalendra 2. Dogla 3. Sambuk 4. Degali 5. Veer Narendra.

9. Due to attack of Hunas, the kingdom of descendants of Shalendra was destroyed who moved to Malwa where in samvat 597 (540 AD) Veer Chandra’s son Shalichandra built a temple in village Kanwas on the bank of Taveli River and put inscription in memory of their rule.

List of protected monuments by archaeological survey of India in Rajasthan in kota district has three sites:[3]

  1. Charchoma-Shiva Temple and two unpublished Gupta Inscriptions
  2. Dara- Temple, Fortwall and Statues
  3. Kanswa - Kanswa or Kansua temple with a four faced Shiva Lingam. Temple with Inscription

Kanswa Inscription of Maharaja Shalinder of year 409 AD

Inscription No I
English Text of Kanswa Inscription of Maharaja Shalinder of year 409 AD

Memorial of a Gete or Jit prince of the fifth century, discovered 1820, in a temple at Kunswa, near the Chumbul river, south of Kotah


May the Jit’ha be thy protector ! What does this Jit’h resemble? Which is the vessel of conveyance across the waters of life, which is partly white, partly red? Again, what does it resemble, where the hissing-angered serpents dwell ? What may this Jit’ah be compared to, from whose root the roaring flood descends? Such is the Jit’h : by it may thou be preserved 1.


The fame of Raja Jit I now shall tell, by whose valour the lands of SALPOORA 1 are preserved. The fortunes of Raja Jit are as flames of fire devouring his foe. The mighty warrior JIT SALINDRA 2 is beautiful in person, and from the strength of his arm esteemed the first amongst the tribes of the mighty; make resplendent as does the moon the earth, the dominions of SALPOORI.


The whole world praises the Jit prince. Who enlarges the renown of his race, sitting in the midst of haughty warriors, like the lotos in waters, the moon of the sons of men. The foreheads of the princes of the earth worship the toe of his foot. Beams of light irradiate his countenance, issuing from the gems of his arms of strength. Radiant is his array: his riches abundant; his mind generous and profound as the ocean. Such is he of SARYA 3 race, a tribe renowned amongst the tribes of the mighty; whose princes were ever foes to treachery to whom the earth surrendered her fruits, and who added the lands of their foes to their own. By sacrifice, the mind of this lord of men has been purified; fair are his territories, and fair is the FORTRESS OF TAK’HYA 4. The string of whose bow is dreaded, whose wrath is the reaper of the field of combat; but to his dependents he is as the pearl on the neck; who makes no account of the battle, though streams of blood run through the field. As does the silver lotos bend its head before the fierce rays of the sun, so does his foe stoop to him, while the cowards abandon the field.

From this lord of men (Narpati) SALINDEA sprung DEVNGLI, whose deeds are known even at this remote period.

From him was born SUMBOOKA, and from him DEGALLI, who married two wives of YADU race 5, and by one a son named VIRA NARINDRA, pure as a flower from the fountain.

Amidst groves of amba, on whose clustering blossoms hang myriads of bees, that the wearied traveler might repose, was this edifice erected. May it and the fame of its founder, continue while ocean rolls, or while the moon, the sun, and hills endure. Samvat 597.--- On the extremity of MALWA, this minister [MINDRA] was erected, on the banks of the river TAVELI, by SALICHANDRA 6, son of VIRACHANDRA.

Whoever will commit this writing to memory, his sins will be obliterated.

Carved by the sculptor SEVNARYA, son of DWARASIVA, and composed by BUTENA, chief of bards.

Translation of an Inscriptions in the Nail-headed character relative to the Takshac (Jit) race[4]

Notes by Col. James Tod[5]

[Note 1.]— In the prologue to this valuable relic, which superficially viewed would appear a string of puerilities; we have conveyed in mystic allegory the mythological origin of the Jit or Gete race. From the members of the chief of the gods ISWAR or Mahadeva, the god of battle, many races claim birth: the warrior from his arms; the Charun from his spine; the prophetic Bhat (Vates) from his tongue; and the Gate or Jit, derives theirs from his tiara, which, formed of his own hair, is called Jit’ha. In this tiara, serpents, emblematic of TIME (kal) and DESTRUCTION, are wreathed; also implicative that the Jits, who are of Takshac, or the serpent race, are thereby protected. The “roaring flood” which descends which descends from this Jit’ha is the river goddess, Ganga, daughter of Mera, wife of Iswara. The mixed colour of his hair, which is partly white, partly of reddish (panduranga) hue, arises from his character of ARDHNARI, or Hermaphroditus. All these characteristics of the god of war must have been brought by the Scythic Gete from the Jaxartes, where they worshipped him as the Sun (Balnath) and as XAMOLSCIS (Yama, vulg. Jama), the infernal divinity.

The 12th Chapter of the Edda, in describing BALDER the second son of Odin, particularly dwells on the beauty of his hair, “whence “the whitest of all vegetables is called the eyebrow of Balder, on the columns of whose temples there are verses engraved, capable of recalling the dead to life.”

How perfectly in unison is all this of the Jits or Jutland and the Jits of Rajasthan. In each case the hair is the chief object of admiration of Balnaath as Balder, and the magical effect of the Runes is not more powerful than that attached by the chief of the Scalds of our Gete prince at the end of this inscription, fresh evidences in support of my hypothesis, that many of the Rajpoot races and Scandinavians have a common origin—that origin, Central Asia.

[Note 2.]Salpoora is the name of the capital of this Jit prince, and his epithet of Sal-Indra is merely titular, as the Indra, or Lord of Sal-poori, ‘the city of Sal’, which the fortunate discovery of an inscription raised by Komarpal, king of Anhulwara (Neharwalla of D’Anville), dated S. 1207, has enabled me to place “at the base of the Sewaluk Mountains.” In order to elucidate this point, and to give the full value to this record of JIT princes of the Punjab, I append (No.V) a translation of the Neharwala conqueror’s inscription, which will prove beyond a doubt that these princes of SALAPOORI in the Punjab were the leaders of the Yuti from the Jaxartes, who in the fifth century, as recorded by De Guignes, crossed the Indus and possessed themselves of the Punjab; and strange to say, have again risen to power, for the Sikhs (disciples) of Nanuk are almost all of Jit origin.

[Note 3.]— Here this Jit is called of SARYA SAC’HA, branch of ramification of the Saryas; a very ancient race which is noticed by the genealogists synonymously with the SARIASPA, one of the thirty-six royal races, and very probably the same as the SARWAYA of the Komarpal Charitra with the distinguished epithet “the flower of the martial races” (Sarwaya c’shtrya tyn sar).

[Note 4.]— “The fortress of Tacshac.” Whether this TAKSHAC-NAGARI, or castle of the Tak, is the stronghold if SALAPOORI, or the name given to the conquest in the environs of the place, whence this inscription, we can only surmise, and refer the reader to what has been said of Takitpoora. As I have repeatedly said, Taks and Jits are one race.

[Note 5.]— As the Jits intermarried with the Yadus at this early period, it is evident they had forced their way amongst the thirty-six royal races, though they have again lost this rank. No Rajpoot would give a daughter to a Jit, or take one from them to wife.

[Note 6.]Salichandra is the sixth in descent from the first-named prince. JIT SALINDER, allowing twenty-two years to each descent=132- S.597, date of ins.= S.465-56= A.D. 409; the period of the colonization of the Punjab by the Getes, Yuti, or Jits, from the Jaxartes.

ठाकुर देशराज द्वारा महाराजा शालेन्द्र का वर्णन

ठाकुर देशराज लिखते हैं कि भारत एवं पंजाब से कुषाणों का राज्य अस्त हो जाने के बाद भी अनेक स्थानों में जाटों के छोटे-छोटे राज्य उपस्थित थे। दो शताब्दी तक उनके किसी प्रबल राजा का अभी तक नाम नहीं मालूम हो सका है, लेकिन पांचवी शताब्दी में जाटों में एक ऐसा महापुरुष पैदा होता है जो कि उनके नाम को फिर चमका देता है। उसका राज्य पंजाब से लेकर मालवा और राजपूताने तक फैला हुआ था, क्योंकि कर्नल टाड को उनके सम्बन्ध की लिपि कोटा राज्य में प्राप्त हुई थी। तब अवश्य ही उनके राज्य की सीमा कोटा तक रही होगी, अथवा कोटा उनकी सीमा के अन्तर्गत रहा होगा। टाड साहब को यह लिपि कोटा राज्य में कंसवा नामक गांव में सन् 1820 ई. में मिली थी। इस प्राप्त शिलालेख को हम यहां ‘टाड राजस्थान’ से ज्यों का त्यों उदधृत करते हैं -

जटा आपकी रक्षक हों। जो जटा जीवन समुद्र पार की नौका स्वरूप हैं, जो कुछ एक श्वेत वर्ण और कुछ एक लाल वर्ण युक्त हैं, उन जटाओं का विभव न देखा जाता है। जिन जटाओं में कुछ भीषण शब्दकारी सर्प विराजमान है, वह जटा कैसी प्रकाशमान हैं, जिन जटाओं के मूल से प्रबल तरंगे निकल रही हैं, उन जटाओं के साथ क्या किसी की तुलना की जा सकती है। उन जटाओं द्वारा आप रक्षित हों।
जिनके वीरत्व-बाहुबल से शालपुर देश रक्षित होता था, मैं अब उन राजा जिट का वर्णन करूंगा। प्रबल अग्नि-शिखा जिस प्रकार अपने शत्रु को भस्मीभूत करके फेंक देती है, राजा जिट का प्रताप भी उसी प्रकार प्रबल था।
महाबली जिट शालेन्द्र (2) परम रूपवान् पुरुष थे, और वह केवल अपने बाहुबल से वीर पुरुषों के आग्रणी हुए थे। चन्द्र जिस प्रकार पृथ्वी को प्रकाशमान करते हैं, उसी प्रकार वह भी अपने शासित देश, शालपुरी को देदीप्यमान करते थे। सम्पूर्ण संसार जिट राजा की जय घोषणा कर रहा है। वह मनुष्य लोक में चन्द्रमा स्वरूप्प दुर्द्धर्ष, साहसी, महामहा बलिष्ठ लोंगों में पंक के बीच कमल के समान बैठ कर स्वजातीय गौरव गरिमा प्रकाश करते थे। उनकी अमित बलशाली दोनों भुजाओं के मनोहर मणि-माणिक्य के आभूषणों का प्रकाश उनकी मूर्ति को उज्जवल कर देता था। असंख्य सेना के अधिनायक थे और उनका धनरत्न असीम था। वह उदार चित्त और समुद्र के समान गम्भी थे। जो राजवंश महाबली वंशों में विद्यमान है, जिस वंश के राजा लोग विश्वासघातकों के परम शत्रु थे, जिनके चरणों पर पृथ्वी ने अपना सम्पूर्ण धन-धान्य अर्पण किया था और जिस वंश के नरपतियों ने शत्रुओं के सब देश अपने अधिकार में कर लिए थे, यह वही शूरवंश घर हैं। (3) होम यज्ञादि के द्वारा यह नरेश्वर पवित्र हुए थे। इनका राज्य परम रमणीय तक्ष का दुर्ग भी अजेय है। इसके धनुष की टंकार से सब ही महा भयभीत

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-208


होते थे। यह क्रुद्ध होने पर महासमराग्नि प्रज्वलित कर देते थे, किन्तु मोती जिस प्रकार गले की शोभा बढ़ाता है, अनुगत लोगों के प्रति, इनका आचरण भी वैसा ही था। लाल तरंगों से समर क्षेत्र रंगने पर भी यह संग्राम से नहीं हटते थे। प्रचण्ड मार्तण्ड की प्रखर किरणों से पद्मिनी जिस प्रकार मस्तक नवाती है, उसी प्रकार इनके शत्रु दल इनके चरणों पर नवते थे और भीरू-कायर लोग युद्ध छोड़कर भागते थे।

इन राजा शालेन्द्र से दोगला की उत्पत्ति हुई। आज इतने समय के पीछे भी उनका यश फैला हुआ है। उनसे शाम्बुक ने जन्म लिया, शाम्बुक के औरस से दोगाली ने जन्म लिया। उन्होंने यदुवंश की दो कन्याओं से विवाह किया था। (4) उनमें से एक के गर्भ से प्रफुल्लित कमल के समान वीर नरेन्द्र नामक पुत्र ने जन्म लिया था। आमों के कुंज अर्थात् जिन आमों के वृक्षों की मिली हुई मंजरी में सहस्त्रों मधुमक्षिका विराजमान हैं, जिन वृक्षों के नीचे थके हुए यात्री आकर विश्राम करते हैं, उन आमों के वृक्षों की कुंज में यह मन्दिर स्थापित हुआ। जब तक समुद्र की तरंगें बहेंगी और जब तक चन्द्र सूर्य आ पर्वत माला विराजमान रहेंगी, तब तक मानो इस मन्दिर और मन्दिर-प्रतिष्ठा का यश फैला रहेगा। 597 संवत् में तावेली नदी के तट पर मालवा के शेष सीमान्त में वीरचन्द्र के पुत्र शालिचन्द्र के द्वारा (5) मन्दिर प्रतिष्ठित हुआ।
जो पुरुष इन वचनों को स्मृति पट पर अंकित करेंगे, उनके सब पाप दूर हो जाएंगे।
द्वार शिव के पुत्र खोदक शिवनारायण द्वारा खोदित और बुतेना ने यह कविता निर्माण की है।”


उपर्युक्त शिलालेख के पढ़ने से निम्न बात सहज ही में समझ में आ जाती है-

  • (1) यह शालपुरी के शासक थे, जोकि आज श्यालकोट कहलाता है। यह राज्य उन्होंने अपनी भुजाओं के बल से प्राप्त किया था। क्योंकि शिलालेख में साफ लिखा हुआ है कि “यह केवल अपने बाहुबल से वीर पुरुषों में अग्रणी हुए।” इस वाक्य से यह भी सिद्ध होता है कि वह किसी प्रजातन्त्रवादी समूह के सरदार से एक तन्त्री शासक बन गए और उनका प्रताप यहां तक बढ़ा कि “राजा लोगों के सिर उनके चरण अंगूठे की पूजा करते थे।”
  • (2) उनके पास असंख्य सेना थी और साथ ही उनके कोष मणि-माणिक्यों से भरे पड़े थे।

1. टाड परिशिष्ट पृ. 1134 खड्ग विलास प्रेस बांकीपुर का संस्करण।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-209


  • (4) यह भी मालूम होता है कि ये बुद्ध धर्म को छोड़कर पौराणिक धर्म में दीक्षित होम यज्ञ आदि करने लग गये थे।
  • (6) इन महाराज ने किसी ऐसी जाति की स्त्री से शादी की थी जो कि इनकी जाति से इतर थी। क्योंकि इनके एक दोगला की उत्पत्ति होने का वर्णन भी शिला-लेख में है।
  • (7) इनके प्रपौत्र ने यादववंश की कन्याओं के साथ विवाह किया था। इससे ऐसा मालूम होता है कि यह तक्षक दल के सूर्यवंशी जाट थे। अथवा पंजाब में यादवों का कोई ऐसा समूह रहा होगा कि अहीरों में यादव हैं। इस तरह से जाट और अहीरों के विवाह की प्रणाली का शिलालेखक ने उल्लेख किया है।
  • (9) सम्बत् 597 में ताबेली नदी के किनारे पर, जिन वीरचन्द्र के पुत्र शालीचन्द्र ने इनकी स्मृति के लिए मन्दिर बनवाया था तथा शिलालेख खुदवाया था, वे अवश्य ही शलेन्द्र जित के निकट सम्बन्धी रहे होंगे, और बहुत सम्भव है कि वीर नरेन्द्र का पुत्र शालीचन्द्र हुआ हो और संबत् 597 में शालीवाहनपुर को छोड़कर मालवा में आ गये हों। उनके शालीवाहनपुर को छोड़ने का कारण हूणों का आक्रमण हो सकता है। डॉक्टर हार्नले और कीलहार्न ने लिखा है कि ईसवी सन् 547 में कहरूर में यशोधर्मा ने मिहिर-कुल हूण को हराया था। मिहिर कुल तूरमान हूण का पुत्र था। तूरमाण के साथी हूणों के द्वारा इनसे शालीवाहन पुर छीन लिया गया हो, यह बहुत सम्भव है। अगर ऊपर के 597 को ईसवी सन बनाया जाए तो 597 - 57 = 540 ई. होता है। तूरमाण के पंजाब पर हमलों का लगभग यही समय रहा होगा।


लेकिन सी. बी. वैद्य ने अलबरुनी के लेखों का प्रमाण देकर साबित किया है कि कहरूर का युद्ध 544 ईसवी से बहुत पहले हुआ था। यदि यह कथन ठीक है तो वह बुद्ध शालिचन्द्र के पिता वीरचन्द्र अथवा प्रपिता वीरनरेन्द्र के समय में हुआ होगा। यह तो बिल्कुल ही ठीक बात है कि हूणों ने महाराज शालिचन्द्र के वंशजों को शालिवाहनपुर अथवा श्यालकोट से निकाल दिया था, क्योंकि हम हूणों के इतिहास में श्यालकोट हूणों की राजधानी पाते हैं।

जिस समय पहला हमला शालेन्द्र के राज्य पर हूणों का हुआ होगा, उस समय अवश्य ही उनके वंशजों ने महाराज यशोधर्मा की, जो कि उनके सजातीय और मालवा के प्रसिद्ध राजा थे, मदद ली थी और पहली बार में इस सम्मिलित जाट-


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-210



शक्ति ने हूणों को हराकर पंजाब से निकाल दिया था। जैसा कि चन्द्र के “अजयत् जर्तों हुणान्” अर्थात् जाटों ने हूणों को जीता, वाक्य से सिद्ध होता है।

इस शिलालेख से हम जिस ऐतिहासिक परिणाम पर पहुंचते हैं, वह यह है - पांचवी शताब्दी के आरम्भ में पंजाब में जाट नरेश महाराजा शालेन्द्र राज्य करते थे। जिस प्रकार सिंह स्वयं अभिषिक्त होता है, उसी भांति महाराज ने अपने बाहुबल के प्रताप से बड़ा राज्य प्राप्त करके महती प्रभुता प्राप्त की थी। उनके दरबार में दुर्द्धर्ष साहसी और महा बलिष्ठ लोगों का जमघट रहता था जिनमें वह अपने जातीय गौरव की भी प्रशंसा किया करते थे। उनके अधीनस्थ कई छोटे-छोटे और भी राजागण थे। वह समृद्धिशाली राजा थे। कोष उनका परिपूर्ण था, और बहुत बड़ी सेना उनके पास थी। इतना बड़ा वैभव रखते हुए भी गंभीर और उदार चित्त थे। बौद्ध धर्म को छोड़कर नवीन हिन्दू धर्म को उन्होंने ग्रहण कर लिया था। होम, यज्ञ आदि के बड़े प्रेमी थे, और वे उन जाटों में से थे जो अपने को काश्यप-वंशी (सूर्यवंशी) कहते हैं। उन्होंने ऐसे कुल की स्त्री से भी शादी की थी जिससे उत्पन्न होने वाली संतान को स्वजातीय लोगों ने दोगला नाम से पुकारा।

इनके वंशज दोगाली ने यदुवंशी नाम के अहीर या राजपूतों की लड़कियों से विवाह सम्बन्ध किए और यदि वे यदुवंशी जाट ही थे तो यह कहा जा सकता है कि उन्होंने शालेन्द्र की दोगला सन्तान को धर्मशास्त्र के अनुसार विवाह सम्बन्ध करके जाति से दूर नहीं होने दिया। कुछ भी हो, दोगाली ने यदुवंश की कन्याओं के साथ शादी की थी जिनमें से एक के गर्भ से वीर नरेन्द्र ने जन्म लिया था।

हूणों के आक्रमण के बाद, पंजाब से महाराजा शालेन्द्रजित के वंशज का राज्य नष्ट हो गया और उन्होंने मालवों के पश्चिमी प्रान्त के तावेली नदी के किनारे आकर कोई छोटा सा राज्य स्थापित किया और संबत् 597 या सन् 540 ई. में उन्हीं के वंशज वीरचन्द्र के पुत्र शालिचन्द्र ने आमों के घने बाग में, श्रेष्ठ स्थान पर, मंदिर बनवा करके महाराणा शालेन्द्रजीत की स्मृति स्थापित की। अब उस स्थान पर कनवास नाम का छोटा सा ग्राम है और यह कोटा राज्य में है।

Kanswa Inscription of Raja Dhavala 738 AD

Kanswa Inscription of Raja Dhavala 738 AD tells about the Maurya King Raja Dhavala (Dhavala Maurya). [6] According to D R Bhandarkar this king is Dhavalapdeva who has been mentioned in Dabok (Mewar) inscriptionof about 725 AD. This Inscription reveals that even after fall of Maurya Dynasty at Magadha there were some small republics ruled by the Mauryas. [7]


This inscription in Kotah State, dated A.D. 738-39, refers to the local Maurya prince as a friend of king Dhavala of Maurya lineage. [see, IA,XIX, 57 as cited in The Classical Age, p. 162]

R.C. Majumdar comments on this : "This Dhavala is probably the same as Dhavalappadeva who is given imperial titles and is described as the suzerain of the feudatory Guhila-putra Dhanika who ruled in Udaipur. We may, therefore, give some credit to the tradition...that the Guhilot ruler Bappa conquered Chittor from the Mori King Manuraja or Raja Man Maurya.

References

  1. मोहन लाल गुप्ता: राजस्थान ज्ञान-कोष, p.531
  2. Thakur Deshraj: Jat Itihas, pp. 208-211.
  3. http://museumsrajasthan.gov.in/mounment_11.htm
  4. Annals and Antiquities of Rajasthan, Vol.1, pp. 621-22
  5. Annals and Antiquities of Rajasthan, Vol.1, pp. 622-23
  6. Indian Antiquary, 13, 163
  7. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.128

Further reading


Back to Jat Monuments