Bahadur Singh Bhobia

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Chaudhary Bahadur Singh Bhobia

Chaudhary Bahadur Singh Bhobia (2.4.1882 - 1.6.1924)(Hindi:चौधरी बहादुरसिंह भोबिया) was a social reformer from Sangaria, Hanumangarh in Rajasthan state in India. He was a retired subedar belonging to village Bidangkhera or Vidangkheda in former Firozpur district in Punjab, who started ‘Jat Anglo Indian School’ in Sangaria with the purpose of spreading education in rural areas (9 August 1917). [1]

Early life

He was born on 2 April 1882[2] in the family of Motiram Bhobia and his wife Lichhama (Laxmi) in village Vidangkheda in formerly Firozpur district in Punjab, India. Initially he stayed with his maternal uncle Chaudhary Himmata Ram Sheoran in village Kular (Punjab). Here he got primary education from a village pandit. He had got only formal education and joined job of Patwari at village Dabali in Hanumangarh, Rajasthan. [3]

Joined Indian Army

Chaudhary Bahadur Singh Bhobia

In the job of patwari he learnt how the farmers are being exploited. He could not tolerate the behavior of government officers with the public and left the job. In 1914 when the world war I started, he joined army in Bikaner princely state and reached up to the rank of havildar but he was refused further promotion by the samanti officers. He corresponded with the army officers and later directly with the Commander-in-Chief regarding his promotion. The treatment given to him by Rajputs forced him to leave the army of Bikaner princely state, and joined Indian Army at Jhansi. Here he was recruited in the rank of subedar. There was a great demand of fresh recruits in the army due to World War I. This work was allotted to him which he did with sincerity. After some time he got retired from the Indian Army.[4]

Founder of Jat Anglo Indian School Sangaria

During British rule in India, this area was under princely state of Bikaner. In this rural area of 800 squire miles from Bikaner to Bhatinda there was not a single school by the state. There was no awakening amongst the public. The Rathore rulers of Bikaner princely state had banned the education of Jats. On 9 August 1917, Chaudhary Bahadur Singh Bhobia with the help of Swami Mansanath and Thakur Gopal Singh Panniwali, opened a school named "Jat Anglo Sanskrit Middle School" in sarrafo-ki-dharmshala in Hanumangarh town in Rajasthan, India.

A Rajput officer, when came to know about this school, became very angry and ordered to close down the school. Chaudhary Bahadur Singh Bhobia told him that his purpose is to get the public educated and if he has any objection about this school he should send a complaint to the Maharaja Bikaner. [5] The officer could not dare to say anything to Chaudhary Bahadur Singh but called owner of the dharmshala building where the school was running to get it vacated otherwise be ready to face the consequences. The owner got afraid and ordered Chaudhary Bahadur Singh to shift the school. Under such circumstances he shifted the school from Hanumangarh to Sangaria on 1 January 1918. He started this school at Sangaria in the dharmshala of seth Bajarangdas Hisaria.[6] This Jat School was the only centre of education not only in Rajasthan but adjoining Punjab over an area of 800 squire miles. [7] [8]

There was a need of funds to expand Sangaria Jat School and hostel. Chaudhary Bahadur Singh appealed to the public in 1919 to collect Rs. ten thousand. Due to continuos famines in this desert area the appealed fund could not be generated and Chaudhary Bahadur Singh decided to leave his life if this amount is not collected by year 1921. This worked and the farmers of the area started collecting funds. On 27 March 1921 there was a huge gathering at Sangaria, which was presided by Sir Chhotu Ram. There was a collection of Rs 11000/- in this gathering. The school thus continued progress. From 1918 to 1924 various new branches were started in the nearby rural areas. [9] [10]

Illness and Death

Chaudhary Bahadur Singh was under great pressure of expanding work of the school. Due to excessive work of 5-6 years, his health started deteriorating. In month of May 1924 he was on continuous tour of the desert area to collect funds for the school. He got infected with Malaria during the tour and died of Malaria on 1 June 1924.[11]

Mr. G D Rudkin, 1927

After death of Chaudhary Bahadur Singh, Chaudhary Harish Chandra Nain started looking after the school who single handedly run the school from 1924 to 1932. [12] [13]


Mr. G.D.Rudkin, A British Officer Commissioner Colonization and revenue member of the State Council in Bikaner princely state Sriganganagar was a sympathizer of Jat Vidyalay Sangaria.

Gramothan Vidyapith, Sangaria

Swami Keshwanand was made director of Jat School Sangaria in 1932 that was just to close for want of funds. He went from village to village and to the Seths of desert region who were in Calcutta and far off places and collected funds. He became instrumental in starting hundreds of schools in the desert region.

The Jat School Sangaria was renamed as Gramothan Vidyapith Sangaria in 1948. Swami Keshwanand remained associated with the Gramothan Vidyapith, Sangaria (Rajasthan) from 1932 to 1952. He developed here a beautiful museum with collection of rare documents, ancient items, paintings etc. brought from various places. Large-scale plantations were done in this arid area with the help of people and students of the Institute. Gramothan Vidyapith, Sangaria had become center of inspiration for educationists from India and abroad.[14]

Honour

There is a trust established in Honour of Chaudhary Bahadur Singh, for the social upliftment in Sangariya , known as 'Ch. Bahadur Singh Bhobia Samaj Jagriti Parmarth Trust', in the memory of this great man.

जाट स्कूल संगरिया की नींव

ठाकुर देशराज [15] ने लिखा है कि 26 जनवरी 1918 की बात है जब चौधरी हरिश्चंद्र जी मिरजावले में वकालत करते थे उस समय उनसे चौधरी बहादुर सिंह भोबिया मिले। उन्होने संगरिया स्कूल के चंदे का काम अपने जिम्मे लिया हुआ था। चौधरी हरिश्चंद्र जी ने बहादुर सिंह जी के संबंध में ये पंक्तियाँ अपनी कलम से लिखी हैं – “चौधरी बहादुर सिंह धुन के पक्के और कठोर परिश्रमी थे। आकर्षण शक्ति उनकी विलक्षण थी। वह देश की वर्तमान दशा को जन चुके थे। बहुत सी ठोकरें खाने के बाद उन्हें यह शुधि आई थी कि उन्नति का मुख्य साधन शिक्षा है। बिना शिक्षा के कोई जाति अथवा देश उन्नत नहीं हुये। वह देहात के लोगों की नाड़ी टटोलते फिरते थे। मैं एक कोने में पड़ा अपने आप में मस्त था। उस जादूगर ने अपना मंत्र मुझ पर भी चला दिया। उन्होने अपना तन मन धन देश को शिक्षित बनाने के लिए दृढ़ व्रत में होम दिया। मेरे कान में भी फूँक मारदी कि बिना शिक्षा के देश के उद्धार की कल्पना स्वप्न मात्र है। तपस्या में विचित्र शक्ति है। उस तपस्वी ने मेरी सुप्त भावनाओं को जगा दिया। और मेरी रगों में बिजली का संचार कर दिया। मैं उनके साथ हो लिया। मदेर, रोही, डांववाली, आदि स्थानों से उन्हें कुछ चंदा करवाया। 5-6 साल से इधर वकालत करने से लोगों से जान पहचान अच्छी हो गई थी।"


Bahadur Singh Bhobia and Chaudhari Harish Chandra, 1920

[p.60]: जिस समय जाट स्कूल संगरिया की नींव डाली उन दिनों बीकानेर राज्य के गांवों में तो सूरतगढ़, हनुमानगढ़, मिरजावली जैसे तहसील और निजामती कस्बों में भी स्कूल नहीं थे। देहातियों की शिक्षा को साकार करने के लिए संगरिया में बहादुर सिंह ने कुछ आदमियों को इकट्ठा किया। और तय हुआ कि इस इलाके में जाट ही अधिक हैं इसलिए स्कूल का नाम जाट स्कूल रखा जावे। ठाकुर गोपाल सिंह, बाबा मानसा नाथ के सहयोग से उन्होने इस स्कूल की स्थापना कर दी। उन्हें कुछ अच्छे साथियों की आवश्यकता थी और उन्हें जो अच्छे साथी मिले उनमें चौधरी हरिश्चंद्र जी मुख्य थे। उन्होने न केवल इस संस्था को समय ही दिया अपितु धन से काफी मदद की। उन्होने एक हजार कमरे के लिए दिये क्योंकि इतने में कमरा बन जाता था। 200 रुपये सदस्यता शुल्क और 556 रुपये विभिन्न उत्सवों पर दिये। साथ ही 40 साल का लंबा समय दान देकर उन्होने संगरिया के जाट स्कूल की सेवा की जो अब ग्रामोत्थान विद्यापीठ बन चुकी है ।


[p.61]: उनकी निज की आमदनी पर इस सेवा कार्य का बड़ा असर पड़ा। उनकी वकालत ठप्प होने लगी और परिवार को समय नहीं दे सके। एक दृढ़वृती की तरह वे संगरिया स्कूल के उत्थान में लगे रहे। हरिश्चंद्र को चौधरी बहादुर सिंह की तरह कौम की तरक्की का नशा चढ़ गया था। उस नशे से निश्चय ही न केवल जाटों का अपितु सभी लोगों का कल्याण हुआ।

ग्रामोत्थान विद्यापीठ, संगरिया के संस्थापक

भारतीय समाज के आर्थिक ढांचे का मेरूदण्ड कृषक वर्ग, जो सदियों पूर्व विद्या-प्राप्ति के अधिकार से वंचित कर दिये जाने के कारण अज्ञानता के अन्धकार में पडा हुआ, विविध रूढयों, अंधविश्वासों और शोषण में जकडा हुआ नरकीय जीवन जीने का मजबूर था, उसे शिक्षा-प्रचार द्वारा जागृत कर उन्नति पथ पर अग्रसर करने के उद्देश्य से, देश के सर्वाधिक पिछडे और सामंतशाही के क्रान्तिकारी कदम उठाया चौधरी बहादुर सिंह भोबिया ने। राजस्थान की उतरी-पूर्वी सीमांत का छोटा-सा कस्बा संगरिया (जिला हनुमानगढ) जो गांवो के गौरव ग्रामोत्थान विद्यापीठ शिक्षा संस्थान के कारण विश्व के मानचित्र पर स्थान रख्ता है, उसकी नींव का पत्थर बना वही ‘जाट-एगलो संस्कृत मिडल स्कूल‘ जिसको चौधरी बहादुरसिंह भोबिया ने स्थापित कर उस शिक्षा दान रूपी महायज्ञ में अपने समस्त तन-मन-धन की आहूति दे डाली थी।

करना है साकार स्वप्न को, तो बलिदान चढाओ।
ज्योति चाहते हो तो, पहले अपनी शिक्षा जलाओ।।

कविवर ‘दिनकर‘ जी की ये पंक्तियां मानो चौधरी बहादुर सिंह के जीवन की ही व्याख्या कर रही है।

चौधरी बहादुर सिंह का जन्म सन् १८८२ में एक साधारण जाट किसान चौधरी मोतीराम भोबिया के घर गांव-बिडंगखेडा, तत्कालीन जिला-फिरोजपुर (पंजाब) में हुआ। ‘होनहार बिरवान के होत चिकने पात‘-बचपन में बहादुर सिंह शरीर से दुबले -पतले व बडे नटखट व खेलकूद में सबसे आगे रहा करते थे। पढाई में उनकी बुद्धि बडी तीक्ष्ण थी। उस समय के शिक्षा-प्रबंध के, अनुसार उन्होंने अपनी ननिहाल गांव-कुलार (पंजाब) में अपने मामा चौधरी हिम्मताराम शिवराण के यहां रहकर उस गांव के पंडित से चार-पांच वर्ष में हिन्दी-अंग्रेजी में पत्र व्यवहार, प्रारम्भिक गणित, पहाडे, बाणिका तथा उर्दू का चौथी-पांचवी कक्षा तक का अध्ययन किया।

युवा बहादुर सिंह ने पटवार की नौकरी से जीवन आरंभ किया परन्तु कुछ समय के बाद अपने राजवी अधिकारी की ऐंठ को सहन न करते हुए उस नौकरी को छोड दिया। फिर वे बीकानेर राज्य की सेना में भर्ती हो गए। वहां भी उन्हें सामंतशाही अफसरों का जाट सैनिकों के प्रति उपेक्षा का व्यवहार अखरने लगा तथा हवलदार से आगे उन्हें तरक्की नहीं दी गई। तब उन्होंने वायसराय और कमाण्डर-इन-चीफ से सीधे पत्र व्यवहार किया जिस पर महाराज भैरोसिंह, प्रेजिडैन्ट स्टेट कॉन्सिल व जनरल हरिसिंह ने इनको समझाया और स्टेट आर्मी में ही रहने के लिए जोर दिया। चौधरी सहाब के रजामंद नहीं होने पर भैरोसिंह ने खीझकर मारवाडी में कहा ‘‘घर से हाथी बावळो होयो तो घरगां ने ही मारै‘‘। जब महाराजा गंगासिंह को इस बात का पता चला तो उन्होंने चौधरी साहब को बुलाकर उनकी पीठ थपथपाकर कहा, ‘‘शाबास, बहादुर सिंह, जिस्यों नाम, बिस्यों ही गुण है‘‘, परन्तु पद में तरक्की फिर भी नहीं मिली।

वहां से नौकरी छोडकर चौधरी साहब झांसी चले गए और ८२ नम्बर पलटन में भर्ती हो गए। वहां आपको सूबेदार का रेंक देकर रंगरूट भर्ती करने पर लगा दिया। वे हनुमानगढ में रहकर अपना यह कर्तव्य निभते रहे। कुछ समय बाद वे फौज से अवकाश प्राप्त कर घर लौट आये। सन् १९१७ के अप्रैल महीने में होने वाले कुम्भ मेले के लिए स्वामी मनसानाथजी महंत, नाथों की थेडी के साथ चले। अम्बाला जंक्शन पर प्लेटफॉर्म के एक किनारे पर सूरतगढ-हनुमानगढ क्षेत्र के सैकडों यात्री दो-तीन दिन से रूके पडे थे। अम्बाला से हरिद्वार जाने वाली गाडी पर भीड अधिक होने तथा रेलवे पुलिस के कर्मचारियों की रिश्वत की भारी रकम की मांग के कारण उन्हें चढने नहीं दिया जा रहा था। स्वामी मनसानाथजी चौधरी साहब को वहां ले गये और कहा-‘‘देखो, बहादुर सिंह! ये सब लोग आफ इलाके के हैं। अशिक्षित होने के कारण उन्हें गाडी में भी चढने नहीं दिया जा रहा है तो इनका कुंभ का मेला भी पूरा नहीं हो पाएगा।‘‘ चौधरी बहादुर सिंह अपनी सैनिक वर्दी पहनकर अंग्रेज स्टेशन-मास्टर के पास गए और उन्हें सारी स्थिति बताई। स्टेशन-मास्टर ने अलग से डिब्बे लगवाकर उन्हें रेल में हरिद्वार जाने का प्रंबंध करवा दिया। यह घटना चौधरी साहब के हृदय में एक टीस पैदा कर गई। अतः उन्होंने वहीं संकल्प कर लिया कि वे इस पिछडे इलाके को शिक्षित करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।

‘साये में आते ही वो आदमी याद आता है। जिसने कुछ सोचकर यह पेड लगाया था।‘

९ अगस्त, १९१७ को चौधरी बहादुर सिंह ने हनमानगढ टाउन में सर्राफों की धर्मशाला में ‘जाट-एग्लो संस्कृत मिडिल स्कूल‘ की स्थापना की। इस पर सांमतशाही के सरकारी तंत्र ने जो अडचनों का जाल बिछायात्र उसे देखकर रोंगटे खडे होते है। परन्तु चौधरी बहादुर सिंह कब हार मानने वाले थे। २० दिसम्बर, १९१७ को वे स्कूल को विद्यार्थियों सहित हिसारिया धर्मशाला, संगरिया में ले आए। यहां सन् १९१९ में उन्होंने विद्यालय के लिए अलग भवन बनाने के लिए १०,००० रूपयो की क्षेत्र के लिए अपील निकाली। परन्तु आकल पीडत मरूक्षेत्र की आर्थिक स्थिति अतनी शोचनीय थी कि दो वर्ष नक अर्थ-संग्रह नहीं हो सका। इस पर वीर सेनानी ने भीष्म प्रतिज्ञा कर डाली कि मार्च, १९२१ के वार्षिक उत्सव तक यदि १०,००० रूपयों का संग्रह नहीं हुआ तो मैं अपने प्राण त्याग दूंगा। प्रंबध समिति और क्षेत्र में हडकंप मच गया। कौम के मसीहा चौधरी छोटूरामजी ने वार्षिक उत्सव पर आकर क्षेत्रवासियों से मार्मिक अपील की कि उत्सव पर आये समाज-बन्धुओ ने अपनी जेबें खाली कर दी, एक माह के भीतर कर दी गई। दीवारें गूंज उठीं-

बहादुर सिंह जी भबिया जाट वीर है एक।
जिसके मन में है जगी परोपकार की टेक।।
लख गांवों की हीनता, ली यह मन में ठान।
बिन विद्या जाता नहीं, अंधकार अज्ञान।।
सेनानी वह देश का जागृत पहरेदार।
लगा जगाने क्षेत्र को कर विद्या-प्रचार।।
त्याग दिया उस वीर ने बिडंगखेडा ग्राम।
सुत द्वारा आदिक तजे औ धरती धन धाम।।

इस तेजस्वी महापुरूष में गजब की आकर्षण शक्ति थी। उनके सेना के साथी और परम मित्र ठाकुर गोपाल सिहं ने संगरिया में अपनी १४ बीघा ३ बिस्वा भूमि ‘‘जाट‘‘ शिक्षा संस्था के नाम कर दी। चौधरी बहादुर सिंह के शिक्षा-यज्ञ के अनन्य सहयोगी चौधरी हरिश्चन्द्र नैण उनसे अपनी पहली मुलाकात, जो दान संग्रह के सिलसिले में २६ जनवरी, १९१८ को हुई थी, के समय उनके व्यक्तितव के बारे में अपनी डायरी में लिखते हैं-‘‘चौधरी बहादुर सिंह धुन के पक्के और कठोर परिश्रमी थे, उनकी आकर्षण शक्ति विलक्षण थी। उन्होंने अपना तन-मन-धन देश को शिक्षित बनाने के दृढव्रत में होम दिया। उस तपस्वी ने मेरी सुप्त भावनाओं को भी जगा दिया और मेरी रग-रग में बिजली का संचार कर दिया। मैं उनके साथ हो लिया।‘‘

चौधरी हरिश्चन्द्र नैण की डायरियों से पता चलता है कि चौधरी बहादुर सिंहजी के घर में खेती करने के लिए उनके सिवाय कोई पुरूष बचा ही न था। बडा पुत्र, छोटा भाई और पिता सभी सन् १९१९ की ‘कार्तिक वाली बीमारी से‘ की भेंट चढ चुके थे। घर की आर्थिक स्थिति अति डांवाडोल थीं ऐसी विकअ स्थिति में उनकी माता लिछमां (लक्ष्मी) ही जमीन की देखभाल करती थी, परन्तु घर का खर्च नहीं निकल पाता थां माता महीने बीस दिन में अक्सर संगरिया संसिाा में आकर चौधरी बहादुर सिंह के आगे घर की इस विपन्न अवस्था का दुखडा रोया करती-‘‘अरे बहादुर सिंह तूने तो घरा कि तरफ पीठ ही कर ली है। अब तो पडोसियों ने भी उधार देना बन्द कर दिया है। कई बार तो चूल्हा भी नहीं जल पाता। घर बार जलाकर तो कोई तीर्थ नहीं करता।‘‘

परन्तु चौ. बहादुर सिंह का अपनी माताजी को हर बार एक ही उतर होता, ‘‘मां, तुम जानो और घर जानें जमीन जायदाद भी है, उसको बेचो या रहन कर दो और घर का खर्च चलाओ तथा अपना और बच्चों का पेट पालो। मेरे संस्था छोडने से बडी कठिनाई से जलाया गया यह दीपक बुझ जाएगा। मेरे लिए मेरा समाज मेरे परिवार से बडा है।‘‘ वाह रे वीर सेनानीं परिवार और बच्चों की भूख के आगे इतिहास पुरूषों ने भी हार मानी है, पर चौ. बहादुर सिंह ने महाराजा गंगासिंह के कहे ‘‘वचनों को सार्थक सिद्ध कर दिया-शाबास बहादुर सिंह, जिस्यों नाम बिस्यो ही गुण है। यद्यपि चौ. हरिश्चन्द्र नैण और चौ. जीवनराम आदि अन्य सज्जन भी उनका साथ देते थे किन्तु विद्यालय संचालन की मुख्य भूमिका चौ. बाहदुर सिंह को निभानी पडती थी। उनका दिन-रात विद्यालय को समर्पित थां विद्यालय के लिए दान-संग्रह से लेकर भवन निमार्ण तक अभवयुक्त अनपढ इलाके में अधयापक जुटाने से लेकर स्कुल व छात्रावास निरीक्षण तक सभी जिम्मेदारी प्रमुखतः उन्हीं पर थीं मटीली, घ्मूडवाली, गोलूवाला और नगराना के शाखा स्कूलों का काम भी उन्हें ही देखना होता था। इतने अधिक कार्यभार कुप्रभाव स्वभावतः उनके स्वास्थ्य पर पडने लगा था, पर उन्होंने तो सम्पूर्ण निजी स्वार्थ का जाति के स्वार्थ पर बलिदान कर दिया था। क्रूरकाल ने ४२ वर्ष की अल्पायु में ही समाज से उन्हें छीन लिया। अपने हृदय में क्षेत्र और समाज के शिक्षित करने का दर्द समेटे और जाट स्कूल रूपी बिरवे की जड जमने से पूर्व ही १ जून सन् १९२४ को वह वीर सेनानी महाप्राण कर गया। समस्त राजस्थान में कौम के नाम पर प्रथम तथा भारत भर में दूसरी शिक्षा-जयोति जलाने वाली वह हुतात्मा इतिहास के पन्नों पर सदैव अमर रहेगी।

मुश्किलात, जूझते तूफान हर झेल गये।

वक्त से आगे चले और वक्त से पहले गये।।

जाट जन सेवक

रियासती भारत के जाट जन सेवक (1949) पुस्तक में ठाकुर देशराज द्वारा चौधरी बहादुर सिंह भोमिया का विवरण पृष्ठ 125-129 पर प्रकाशित किया है। ठाकुर देशराज[16] ने लिखा है ....[पृ.125]: चौधरी बहादुर सिंह भोमिया का जन्म चौधरी मोतीराम जी भोमिया जाट विडंगखेड़ा, जिला फिरोजपुर, निवासी के घर 60 वर्ष पूर्व हुआ। इनके पिता चौधरी मोतीराम जी साधारण जमीदार थे। अपने पिता के घर लाड चाव मे किशोरावस्था समाप्त की। चौथी श्रेणी तक उर्दू का अध्ययन किया।

बाल काल में ही चौधरी साहब के पिता का देहांत हो गया जिसके कारण घर में उनकी देख-रेख करने वाला कोई न रहा और वह स्वतंत्र हो गए। पिता से प्राप्त धन संपति के बल पर आपने फिजूलखर्ची को प्रोत्साहन दिया और इसी कारण डूम आदि मंगत जन रात-दिन इनकी यहाँ नजर आने लगे। व्यर्थ के अपव्यय आर्थिक दशा गिरा दी। आप थोड़े ही दिनों में सब संपत्ति समाप्त करके खाली हाथ हो बैठे। बाल काल की समाप्ति के साथ-साथ धन-संपत्ति भी समाप्त कर बैठे और जीवन निर्वाह का साधन खोजने के लिए विवश होना पड़ा।


[पृ.126]: सर्वप्रथम आपने गांव डबली तहसील हनुमानगढ़ रियासत बीकानेर की पटवार आरंभ की। कुछ ही समय पटवारी रहे कि सन् 1914 का महायुद्ध आरंभ हो गया। आपने फोरन पटवार से त्यागपत्र दिया और फौज मे सिपाही भर्ती हो गए। कुछ ही दिनों में आप हवलदार हो गए। बीकानेर आर्मी में भर्ती होकर हवलदार तक पहुंचे कि आप की कार्यशैली, नए उत्साह और लग्नशीलता को देखकर दूसरे अर्थात विपक्षी जन डाह रखने लग गए और अब आइंदा आपकी तरक्की में बाधा पड़ने लगी। जब हवलदार से आगे आपको तरक्की नहीं दी गई और कोई साधन स्टेट ऑफिस को रास्ते पर लाने का न रहा तो अंत में वॉइस राय और कमांडर-इन-चीफ से सीधा पत्र व्यवहार किया। जिस पर वहां से इनकी मांग रियासत से पूरी करने पर चौधरी साहब को बीकानेर बुलाया गया और महाराजा भैरोंसिंह जी वाइस प्रेसिडेंट स्टेट काउंसिल व जनरल हरिसिंह ने उनको समझाया और स्टेट आर्मी में ही रहने के लिए जोर दिया और तरक्की देने का विश्वास दिलाया। महाराजा भैरोंसिंह जी ने उस समय चौधरी साहब को प्रसन्न करने और रियासत की फौज में ही रहने के लिए हां करवाने के वास्ते मारवाड़ी भाषा के मुहावरे पर इन शब्दों में संबोधन किया कि "घर के हाथी बाबरौ हुओ तो घर नहीं मारे"

चौधरी साहब अपने बात के पक्के थे। उन्होंने साफ-साफ कह दिया कि जब तक तरक्की नहीं दी जाती रहने को हां नहीं करूंगा। उत्तर देकर वह वापस अपनी फौज में हनुमानगढ़ आ गए। उन्हीं दिनों दरबार साहब का हनुमानगढ़ दौरा हुआ। श्री दरबार साहब को पहले से सब ज्ञान था।


[पृ.127]: उन्होंने चौधरी साहब को बुलाया और पीठ ठोक कर कहा कि "साबास बहादुर सिंह जिसो नाम विसो ही गुण हैं। "

इन सब बातों के होते हुये भी बीकानेर राज्य की फौज में हवलदारी से अधिकतर तरक्की नहीं मिली। चौधरी साहब यहां से नौकरी छोड़कर झांसी चले गए और 82 नंबर फौज में जाकर भर्ती हो गए। वहां आपको सुबेदार रैंक में भर्ती किया गया। जहां आप रंगरूट भर्ती करने पर लग गए। आपको भर्ती करने वाले कमांडिंग ऑफिसर भर्ती करते ही विलायत चले गए और आर्डर बुक नहीं कराया गया जिससे आप सिर्फ किर्च वाले सूबेदार रह गए। रंगरूटों के भर्ती का काम आपने बड़े जोर शोर से किया और हजारों रंगरूट आपने गवर्नमेंट को सप्लाई किए।

फौज से अवकाश प्राप्त करके आप लौट आए। घर लौट आने के बाद एक बार स्वामी मनसानाथ जी के साथ हरिद्वार गए। हरिद्वार पर आपको एक साधु मिला जिसने समझाया कि यहां क्या खोजते हो? तुम्हारी देश और जाति तो अंधकार में डूबी पड़ी है। तुम्हें कुछ करना है तो वहीं जाकर शिक्षा का प्रचार करो। उस साधू की बात इनके ऐसी घर कर गई कि हरिद्वार से लौटते ही अगस्त सन् 1917 में हनुमानगढ़ में स्कूल स्थापित कर दिया। परंतु यहां का जलवायु अच्छा नहीं होने के कारण दिसंबर 1917 में स्कूल यहाँ से संगरिया ले गए। और मिडिल स्कूल के रूप में वहाँ स्कूल आरंभ किया जो इस समय जाट हाई स्कूल संगरिया के नाम से विद्यमान है। आरंभ काल में इस मिडिल स्कूल के अधीन गोलूवाला, मटोली, घमूड़वाली,


[पृ.128]: मलकसर, हरिपुरा, दीनगढ, पन्नीवाली, नगराना, नुकेरा इत्यादि में ब्रांच स्कूल खोले।

मिडिल स्कूल स्थापित करके आप घर बैठ गए हों ऐसी बात नहीं। उन्होंने उसे स्कूल के निमित्त तन, मन, धन सब अर्पण कर दिया। रात दिन स्कूल के ही काम में लगे रहते और उन्हें दूसरा कोई काम दिखाई नहीं देता था। स्कूल की उन्नति के लिए चंदा आदि करने के लिए बड़ी बड़ी दूर तक घूमते रहे। एक बार की बात है आप चंदा करने के लिए डलहौजी पहाड़ पर 42 मील पैदल सफर करके मिस्टर रुड़किन रेवेन्यू मिनिस्टर बीकानेर स्टेट के पास जा पहुंचे। साहब ने पैदल ही एक दिन में आया देख बड़ा अचंभा किया।

एक बार स्कूल में पैसे की कमी आ गई। अपने अपने दृढ़ निश्चय अनुसार प्रतिज्ञा कर ली कि निश्चित तिथि तक ₹10000/- ना हुये तो मैं अपने प्राण त्याग दूंगा। इस भीषण प्रतिज्ञा का समाचार सुन देश जाति ने आपकी प्रतिज्ञा पूर्ण करने के लिए चौधरी छोटूराम जी के सभापतित्व में 27 मार्च 1921 को जलसा किया और ₹10000/- के स्थान पर ₹11000 एकत्रित कर दिए।

आप 7 वर्ष ही स्कूल की सेवा कर पाए। 1 जून 1724 को आपका स्कूल में देहांत हो गया। आपका अंतिम संस्कार वैदिक रीति अनुसार विद्यालय भूमि में ही कराया गया। आपने अपने जीवन में इस स्कूल की जो सेवा की है उसका प्रतिफल आज यह विद्यालय हाई स्कूल के रूप में विद्यमान है। आपके बारे में गीत मशहूर है-

चले गए जगावन हार।
सेवा कर गया शेर बहादुर जाति का उपकारी॥
बिगड़ी दशा बागड़ की बना दी लगा दई फुलवारी
कौम कब होवेगी खड़ी - चला गया जगावन हार॥

Gallery


Back to The Reformers

References

  1. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.58
  2. Mal Singh Minakh:Kisan Chhatrawas Bikaner Smarika 1994, p.105
  3. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.56
  4. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.57
  5. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.58
  6. ठाकुर देशराज, रियासती भारत के जाट जनसेवक, 1949, पेज 118
  7. ठाकुर देशराज, रियासती भारत के जाट जनसेवक, 1949, पेज 118
  8. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.59
  9. Thakur Deshraj, Chaudhary Harish Chandra Nain, 1964, p. 66
  10. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.62
  11. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.62
  12. Thakur Deshraj, Chaudhary Harish Chandra Nain, 1964, p. 66
  13. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.62
  14. Dr Pema Ram, Jaton ki Gauravgatha, p.162-163
  15. Bikaneriy Jagriti Ke Agradoot – Chaudhari Harish Chandra Nain, 1964, by Thakur Deshraj,p. 59-61
  16. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.125-128

Back to The Reformers


Back to Jat Jan Sewak