Jayapala

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Also see Jayapala of Delhi.



Jayapala (जयपाल) was a Jat Ruler of Hindu Shahi dynasty with capital at Lahore.

History

The initial Hindu Shahi dynasty was the House of Kallar, but in AD 964 the rule was assumed from Bhima upon his death by the emperor Maharajadiraja Jayapala, son of Rai Asatapala.[1] Epithets from the Bari Kot inscriptions record his full title as "Parambhattaraka Maharajadhiraja Paramesvara Sri Jayapala deva". He is celebrated as a hero for his struggles in defending his kingdom from the Turkic rulers of Ghazni.

Emperor Jayapala was challenged by the armies of Sultan Sabuktigin in the Battle of Peshawar (1001) and later by his son Sultan Mahmud of Ghazni. According to the Minháj ad-Dīn in his chronicle Tabaqát-i Násiri,[2] he bears a testament to the political and powerful stature of Maharaja Jayapala Shah, "Jayapála, who is the greatest of all the ráis (kings) of Hind..." Misra wrote on Jaypala: "(He) was perhaps the last Indian ruler to show such spirit of aggression, so sadly lacking in later Hindu kings." [3]

In the Punjab, Jayapala became the paramount ruler. He made Bathinda, his second capital for better administration of the neighbouring region. To the east of his realm, the Toramana dynasty ruled over Haryana and Delhi. The Ghalibids governed Multan and the territory up to Lahore and Ramiyan.

Jayapala sent an expedition under his son Anandapala, who defeated Bharata and advanced on Lahore. Bharata paid him a large sum of money and was allowed to rule Lahore as a feudatory. But later Bharata was dethroned by his son Hardrat. Anandapala again marched with an army to punish him and annexed Lahore to Sahi dominions in 999 AD. Jayapala’s authority now extended from Langhman (Jallalabad) to the river Chenab. He now ranked as the greatest king of India. The Arabs described him as the ruler of Hindustan.

From the time of Jayapala onwards the Muslim rulers of Ghaznavi exerted a continuous pressure on the Hindu Sahis. Alpatgin, a Turkish Muslim governor of Khorasan, proclaimed himself an independent ruler of a small mountain principality named Ghazni. He ruled over this petty kingdom for eight years and died in 963 A.D. Then followed a period of confusion of fourteen years. Ultimately in 974 A.D., Sabuktgin, a slave and son-in-law of Alpatgin, seized the throne of Ghazni and founded the Yamini dynasty of Ghazni. After consolidating his newly acquired kingdom, Sabuktgin turned his attention towards India.

Jayapala naturally became apprehensive about the security of the North-Western frontier. The two neighbouring rulers soon came into conflict. Jayapala determined to push back the Turks by a powerful offensive. Jayapala had made an alliance with the Muslim rulers of Multan. Hence Sabuktgin’s first task was to detach them from the Hindu Sahis. Emboldened by this diplomatic success, he invaded and annexed some frontier outposts of Jayapala’s territories. Jayapala retaliated by making an advanced attack on the Turkish territory with a large army. A furious battle was fought on the frontier of the two kingdoms which lasted for many days and both sides suffered heavy casualties. When its issues were hanging in the balance, a dreadful snow storm caused severe losses to the Sahis. Being disheartened, Jayapala is said to have made peace with Sabuktgin promising to pay large sums or money, some cities and elephants. But the relations between the two rulers remained constrained.

Jayapala refused to pay the money and resumed preparations for war. He also received help from prominent Hindu rulers like those of Delhi, Ajmer and Kanauj. In 991 A.D. Jayapala once more at the head of a vast army marched on Ghazni and met the Turks somewhere near Laghman.

Sabuktgin resorted to a sort of guerilla warfare. He divided his army into contingents of 500 each to attack the Sahi forces one after another with utmost violence in successive waves. The armies of the plains were not used to this type of warfare in mountains. He this turned out the Hindu armies who had been fighting without any respite. They suffered severe losses and were driven back to the Indus. In the course of these campaigns, Jayapala lost his territories west of the Indus. In about 988 A.D. Sabuktgin occupied Peshawar where he posted an army of 10,000 Turks. Sabuktgin died in 988 AD. He was succeeded by his son Sultan Mahmud who came to the throne of Ghazni after a brief contest with his brother Ismail in 988 AD.

Mahmud led his first attack on the Sahi territories in 1000 A.D and plundered some frontier regions of Jayapala. Jayapala planned a counter-attack and tried to check Mahmud’s advance near Peshawar. In the battle that was resumed in November 1001, Jayapala put up a very stiff resistance, but was once more defeated.

Jayapala and fifteen of his relatives were made captives. Immense booty passed into the hands of the Turks. On payment of a heavy ransom by his son Anandapala, Jayapala and his relatives were set free. Jayapala was a brave and courageous ruler. He was so deeply stung by his successive defeats that in 1002 AD. He handed over the cares of his kingdom to his son, Anandapala. With the courageous despair of his race, Jayapala refused to survive the disgrace and burnt himself upon a funeral pyre. Thus ended the eventful life of this gallant Sahi monarch.

जयपाल, आनन्दपाल

ठाकुर देशराज लिखते हैं कि ग्यारहवीं सदी में लाहौर, भटिंडा पर महाराज जयपाल राज्य करते थे। इनको कुछ लेखकों ने ब्राह्मण बतलाया है और कुछ ने कायस्थ। कुछेक लोग उन्हें राजपूत भी समझने लगे हैं। न वह ब्राह्मण और कायस्थ थे और न वह राजपूत, वह जाट थेकाबुल की तरफ उन्हें हमलों की इच्छा होना तथा काबुल पर जाकर चढ़ाई करना ये बातें ऐसी हैं जो उनके ब्राह्मण होने के सिद्धान्त को काट देती हैं। क्योंकि पौराणिक धर्म के अनुसार विदेशयात्रा और खास तौर से मुसलमानों के देश में जाना पाप है। कायस्थों की हुकूमत पंजाब में कभी हुई हो इसके तनिक भी प्रमाण नहीं मिलते। राजपूतों का प्रवाह दक्षिण से उत्तर की ओर है। एक चौहान खानदान को छोड़ करके पंजाब की तरफ दसवीं सदी से पहले उनका कोई भी खानदान जिसका कि राज्य इतने बड़े प्रदेश पर हो सके, पंजाब में दिखाई नहीं देता। राजपूतों ने जो 36 राजवंशों की वंशावली ग्यारहवीं सदी में तैयार करवाई थी, उसमें उल्लिखित 36सों राजवंशों में से किसी का भी सम्बन्ध जयपाल से नहीं बताया गया है।

लाहौर के आस-पास के कुछ जाट समूह ऐसे हैं जो अपने को गंधार, काबुल, गजनी और हिरात से आया हुआ बतलाते हैं। सर हेनरी एम. इलियट के. सी. बी. ने भी अपनी ‘डिस्ट्रीब्यूशन ऑफ दी रेसेज ऑफ दी नार्थ वेस्टर्न प्रॉविन्सेज ऑफ इण्डिया’ नामक पुस्तक में इसी बात का जिक्र किया है। आरम्भिक मुसलिम आक्रमणों के समय काबुल और गंधार से आये हुए इन जाटों की प्रवृत्ति फिर से उन प्रदेशों को अपने अधिकार में कर लेने की बहुत समय तक बनी रही। उसी प्रवृत्ति का यह फल था कि महाराज जयपाल ने काबुल और गजनी पर चढ़ाई की।

दिल्ली के शासक अनंगपाल और राजपाल थे जिनसे कि पृथ्वीराज चौहान के हाथ दिल्ली का राज्य आया था। जयपाल के पोते का नाम भी राजपाल था। कुछ इतिहास लेखक तो यहां तक गड़बड़ कर गए हैं कि इन्हीं लोगों को लाहौर भटिंडा के आनन्दपाल और राजपाल मानकर काबुल विजेता लिख दिया है। यही कारण है कि भटिंडे के इन जाट नरेशों को कुछ लोग भ्रम से राजपूत समझने की भूल कर गए हैं, हालांकि उन्हें इस सम्बन्ध में पूरा सन्देह रहा है।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-215


राजपाल के लिए भिन्न-भिन्न रायें होने के कारण सचाई की तह तक पहुचने के बाद भी मि. स्मिथ को उन्हें जाट लिखने में शायद जाट शब्द का प्रयोग करना पड़ा, जैसा कि उन्होंने लिखा है-

In the later part of tenth century the Raja of Bathindah was Jaipal, probably a Jat or Jaat.

अर्थात् - दसवीं शताब्दी के पिछले भागों में भटिंडा का राजा जयपाल था जो कि शायद एक जट या जाट था।

लेकिन मि. स्मिथ इस राज्य के सम्बन्ध में हमारे उस कथन का समर्थन भी करते हैं कि - उन उच्च राजवंशों में से, जिनका उल्लेख राजपूतों के भाटों ने उनकी वंशावलियों में किया है, वे दसवीं सदी तक पंजाब में कभी इतने बलवान नहीं हुए। जैसा कि हमने कहा है कि उन दिनों चौहानों का ही एक खानदान था, जो उत्तरी-भारत में कुछ महत्व रखता था। चौहानों के साथी परिहार, पंवार, सोलंकी भी राजपूताना, गुजरात और मध्य मालवा में कुछ अस्तित्व रखते थे। किन्तु पंजाब की ओर इनकी न कोई विशेषता पाई जाती है और न इनके इतिहास में ऐसा वर्णन आता है कि इनके किसी वंशज ने पंजाब में जा करके कोई राज्य स्थापित किया हो। इसी बात को भटिंडे के राजा के सम्बन्ध में मि. स्मिथ ने इस तरह लिखा है-

Raja Jaipal of Bathindah. The rule of the Parihars had never extended across the Satlej, and the history of the Punjab between the seventh and tenth centuries is extremely obscure. At some time not recorded a powerful kingdom had been formed which extended from the mountains beyond the Indus eastward as far as the Hakra or lost river, so that it comprised a large part of the Punjab as well as probably northern Sind. The capital was (Bhatanda) Bathendah, the Tabarhind of Muhammadan histories, now in the Patiala state, and for many centuries as important fortress and the military road connecting Multan with India proper through Delhi. At that time Delhi, if in existence, was a place of little consideration. In the later part of tenth century the Raja of Bhatindah was Jaipal, probably a Jat or Jaat.”
अर्थात् - परिहारों का राज्य सतलुज से उस पार कभी नहीं बढ़ा। पंजाब का सातवीं और दसवीं सदियों के दरम्यान का इतिहास बिल्कुल अन्धकारमय है। किसी समय (जो लिखा नहीं गया है) एक शक्तिशाली राज्य बन गया था, जो कि

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-215


पहाड़ों से इण्डस नदी के उस पार हकारा या खोई हुई नदी के पूर्व की ओर तक फैला हुआ था, जिसमें पंजाब का बड़ा भाग और शायद सिन्ध शामिल थे, जिसकी राजधानी बथिण्डा (भटिंडा) थी मुसलमान इतिहासों का तवरहिन्द है और अब पटियाला रियासत में है। यह बहुत शताब्दियों तक एक नामी किला था, जो फौजी सड़क पर मुल्तान और हिन्दुस्तान खास को देहली से जोड़ता था। उस समय यदि दिल्ली थी तो मामूली जगह थी। दसवीं शताब्दी के पिछले भाग में बथिण्डा (भटिंडा) का राजा जयपाल था जो शायद एक जट या जाट था।


कई शताब्दियों के पीछे लिखे जाने वाले इतिहासों में भ्रम और गलतियां हो जाना स्वभाविक है और उस समय इतिहास लिखने वाले की सूझ और दृष्टि अपने समय के उन्नत जातियों ही ओर से अधिक रहती है। जनरल कनिंघम ने ऐसी ही एक गलती का निर्देश अपने सिख इतिहास में की पाद-टिप्पणी में किया है। कर्नल टाड ने उमर-कोट के राजपरिवार को प्रमार या शक्ति-वंश-संभूत लिखा था, अर्थात् राजपूत स्त्री के लिए जनरल कनिंघम ने कहा है कि - इस राज परिवार को हुमायूं की जीवनी लिखने वाले ने प्रमार के राजा और उनके अनुचरों का जाट नाम से परिचय दिया है।1

हुमायूं की जीवनी लिखने वाले को, जो कर्नल टाड से कई शताब्दी पहले हुआ है, अमरकोट के राजा की जाति के सम्बन्ध में जितना अधिक सही पता हो सकता है, उतना टाड साहब को नहीं हो सकता। लेकिन जिस समय कर्नल टाड इतिहास लिख रहे थे, उस समय उनकी निगाह राजपूतों पर ही जाकर ठहर सकती थी क्योंकि उस समय जाटों की अपेक्षा, राजपूत अधिक उन्नत थे और भारतीय जाट उन्हें किसान दृष्टिगोचर होते थे। यही बात जयपाल के सम्बन्ध में कही जा सकती है। जैसलमेर के इतिहास में एक बात और देखते हैं कि जैसल जो कि भाटी राजपूत था, जयपाल के विरुद्ध महमूद-मजनबी के साथ मेल कर लेता है और भटिंडा के आसपास के जाट जयपाल के लड़के आनन्दपाल के साथ हजारों की तादाद में सिर्फ उनकी मान-रक्षा के लिए इकट्ठे हो जाते हैं और स्त्रियां अपने जेवर उतार करके युद्ध के खरचे के लिए दे डालती हैं। फिर कैसे माना जा सकता है कि वह जाट के सिवा कुछ और था? यही क्यों, मुल्तान के आसपास और झेलम के तटवर्ती जाट भी जब यह सुनते हैं कि महमूद आनन्दपाल का सर्वनाश करके लौट रहा है, तब वह उसके ऊपर बाज की तरह टूट पड़ते हैं। वे उसके प्राण ले लेना चाहते थे। यदि वह मैदान में अकड़ के साथ डट जाता तो यह निश्चय था कि वह यहां से जिन्दा बच करके नहीं जाता।

अब हम जयपाल तथा उसके वंशजों के इतिहास पर थोड़ा-सा प्रकाश डालते हैं। जिस समय सुबुक्तगीन गुलाम की सूरत से निकल करके गजनी का शासक


1. Memoirs of Humayoon. Page 45


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-216


हुआ था और वह उत्तरोत्तर अपने राज्य को बढ़ा रहा था, उस समय महाराज जयपाल ने उसके देश पर चढ़ाई की। उनका राज्य सिंन्ध के प्रदेश तक फैल चुका था और वह अपने बुजुर्गों के राज्य गजनी और काबुल, कन्धार पर भी अधिकार जमाने के इच्छुक थे। इसीलिए उन्होंने सुबुक्तगीन के ऊपर चढ़ाई कर दी। इस चढ़ाई में सुबुक्तगीन को बड़ी हानि उठानी पड़ी और उसने महाराज को कुछ दे लेकर के विदा कर दिया। कुछ ही वर्षो के बाद उन्हें सुबुक्तगीन पर फिर चढ़ाई करनी पड़ी। इस बार सुबुक्तगीन सुलह के बहाने से लड़ाई को टालता रहा। इतने में शीतकाल आ गया और भारी बर्फ पड़ने के कारण उनकी फौज को बड़ी हानि उठानी पड़ी। हजारों मनुष्य ठिठुर कर मर गए। यह दुर्भाग्य की बात थी कि उस समय अत्यधिक पाला पड़ा। अब स्वयं महाराज को सुबुक्तगीन और उसके लड़के महमूद से सुलह का प्रस्ताव करना पड़ा और हरजाने में कुछ देने का वायदा भी करना पड़ा।

भारत में आने के बाद, ब्राह्मण मंत्रियों की राय से, महाराज जयपाल ने अपनी प्रतिज्ञा को पूरा नहीं किया। जब महमूद गजनी का मालिक हुआ तो उसने अपने पिता का बदला लेने के लिए तथा जयपाल की प्रतिज्ञा-भंग का स्मरण करके दस हजार सवार लेकर 391 हिजरी में, जयपाल के ऊपर चढ़ाई कर दी। चूंकि इधर कोई ऐसी भारी तैयारी न थी, इसलिए जयपाल की हार हो जाना स्वाभाविक था। महमूद लूट-मार करके भारत से लौट गया। दूसरी बार लूट के लालच से और जयपाल के राज्य को अपने राज्य में मिलाने के लिए फिर से भारत पर चढ़ाई की। इस बार महाराज जयपाल ने खूब डटकर सामना किया। महमूद भाग जाने ही वाला था कि एक राजकुमार महमूद से जाकर के मिल गया और यही नहीं, किन्तु मुसलमान भी हो गया। उसके मुसलमान होने का वर्णन इस प्रकार है - एक अत्यन्त सुन्दरी मुस्लिम बाला, जिसे पहली बार देखकर वह उस पर मोहित हो चुका था, के लोभ से वह मुसलमान हो गया और उसने जयपाल की हार के तमाम तरीके महमूद को बता दिए। सम्भव है यह राजकुमार अभिषार का युवराज सुखपाल रहा होगा। ‘गजनवी जहाद’ में मौलाना हसन निजामी लिखता है कि - कुछ समय के बाद यह फिर मुसलमान से हिन्दू हो गया। हिन्दू होने के बाद उसने महमूद के सूबेदारों को हिन्दुस्तान से मार भगाया। जयपाल की हार का कारण वह मुसलमान होने वाला राजकुमार ही था। चाहे वह सुखपाल रहा हो अथवा कोई और। महमूद इस लड़ाई को जीत अवश्य गया, किन्तु उसे तुरन्त ही हिन्दुस्तान से लौट जाना पड़ा। इस लड़ाई की हार से महाराज जयपाल को इतना बड़ा धक्का लगा कि उनका कुछ ही दिनों में प्राणन्त हो गया।

जयपाल के पश्चात्, उनके बड़े पुत्र आनन्दपाल राज्यधिकारी हुए। 396 हिजरी में आनन्दपाल को भी महमूद से युद्ध करना पड़ा। भाटना नामक स्थान में


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-217


विजयराव नाम का एक बड़ा वीर राजा राज्य करता था, जो कि जयपाल के सम्बन्धियों में से था। उसने सरहद पर जो मुसलमान हाकिम रहते थे, उनको मार भगाया था। महमूद इसी बात का बदला लेने के लिए उस पर चढ़के आया। उसकी बहादुरी और युद्ध के सम्बन्ध में ‘गजनवी जहाद’ में हसन निजामी को विवश होकर लिखना पड़ा है कि - “राजा अपनी फौज और हाथियों की अधिकता के कारण बहुत अभिमान करता था। वह फौज लेकर मुकाबले के लिए निकला। दोनों फौजों में तीन दिन तक अग्नि वर्षा होती रही। विजयराव की फौज ऐसी वीरता और साहस से लड़ी कि इस्लामियों के छक्के छूट गए।” इस लड़ाई में सुल्तान महमूद को अपनी भुजाओं के बल का विश्वास छोड़कर दरगाह में खुदा और रसूल के आगे घुटने टेकने पड़े। बेचारे की डीढ़ा पर मिन्नत के समय टप-टप आंसू गिरते थे। गजनी उसे बहुत दूर दिखलाई देता था।

विजयराव युद्ध करता हुआ वीर गति को प्राप्त हुआ। आनन्दपाल ने विजयराव के युद्ध में मारे जाने वाली घटना को सुना तो उसने यह निश्चय कर लिया कि अब की बार महमूद भारत पर चढ़कर के आए, तो उससे अवश्य बदला लूंगा। यही कारण था कि जब 396 हिजरी में महमूद मुल्तान के हाकिम अबुल फतह पर चढ़कर आया तो आनन्दपाल ने अबुलफतह को मदद दी किन्तु अबुलफतह महमूद के साथ मिल गया। फिर भी आनन्दपाल ने महाराज का सामना किया। महमूद भी चाहता था कि अब की बार आनन्दपाल के कुल राज्य पर अधिकार कर लूं, किन्तु हिरात में बगावत हो जाने के कारण उसे लौट जाना पड़ा।

399 हिजरी में महमूद ने आनन्दपाल के राज्य को नष्ट करने के लिए भारत पर फिर से चढ़ाई की। मुसलमानी लेखकों ने इस लड़ाई को बड़ा तूल दिया है और एक ही बार में महमूद को सिकन्दर से भी बढ़कर विजेता ठहरा दिया है। मुसलमान लेखक लिखते हैं कि - इस समय आनन्दपाल की सहायता के लिए उज्जैन, ग्वालियर, कालिंजर, कन्नौज, देहली और अजमेर के तमाम राजा अपनी-अपनी फौजें लेकर आए थे। विश्व विजयी सिकन्दर की सेना की अकेले पॉरुष से लड़ने के बाद इतनी हिम्मत न रही थी कि वह कोई और दूसरी लड़ाई लड़ सके, और महमूद जिसे कि विजयराव के कारण ही दरगाह की शरण लेनी पड़ी थी, इतने राजाओं पर एक साथ विजयी हो गया। जरा बुद्धि रखने वाला लेखक इस बात को सही नहीं मान सकता है। अजमेर में उस समय चौहानों का राज्य था। यदि वह अकेले भी आनन्दपाल के साथ होते तो यह कभी नहीं हो सकता कि आनन्दपाल हार जाता। आनन्दपाल के साथ जो कुछ भी फौज थी, वह उसके नव सिखुए प्रजाजनों की थी। खेद है कि कुछ हिन्दुस्तानी लेखकों ने भी मुसलमान लेखकों की इस डींग को सही मान लिया है। यह लड़ाई 40 रोज तक होती रही।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-218


अन्तिम दिन जयपाल के वीर सैनिक मुसलमानी फौज में घुस पड़े और 3-4 हजार मुसलमानों को आंख झपकते तलवारों और बर्छों की नौक पर रख लिया। महमूद के प्राण संकट में थे, उसे अल्लाह और रसूल एक साथ याद आ रहे थे। वह चाहता था कि आज लड़ाई मुल्तवी हो जाए कि अचानक आनन्दपाल का हाथी आतिशबाजी से डरकर भाग खड़ा हुआ। महमूद की यह ऐसी विजय थी जो उसे दैवयोग से मिल गई। 400 हिजरी के करीब जब आनन्दपाल मर गया तो उसके बेटे राजपाल का पुत्र जयपाल भटिंडा का मालिक हुआ। राजपाल आनन्दपाल के आगे ही मर चुका था। महमूद ने 404 हिजरी में, जबकि जयपाल भटिंडा में मौजूद था, उसकी राजधानी को लूट लिया। जब जयपाल को इसकी खबर लगी तो उसने महमूद को किला नूहकोट में जा घेरा, किन्तु महमूद ने उसकी फौज पहुंचने से पहले ही गजनी को कूच कर दिया था। इससे अगला आक्रमण महमूद का ग्वालियर का हमला हुआ, तो जयपाल ने ग्वालियर वालों की मदद की। इसे हम द्वितीय जयपाल कह सकते हैं। यह जब तक जिन्दा रहा मुसलमानों का सामना करता रहा।

References

  1. Coins of Medieval India, A. Cunningham, London, 1894, pp 56, 62; The Last Two Dynasties of The Sahis, A. Rehman, 1988, Delhi, pp 131, 48, 49, 3001; Chronicles of Early Janjuas Dr H. Khan, 2003 iUniverse, pp 3, 5, 8, 9.
  2. H. G. Raverty's trans., Vol.1, p.82.
  3. Indian Resistance to Early Muslim Invaders Up to 1206 AD, R.G. Misra, Anu Books, repr. 1992.

External Links

Jayapala- The Paramount ruler of India.

Further reading

ठाकुर देशराज: जाट इतिहास, दिल्ली, 1992 , पृ. 214 -219


Back to The Rulers