Lodhruva

From Jatland Wiki
(Redirected from Lodorva)
Jump to navigation Jump to search
District Map of Jaisalmer

Lodrawa (लौद्रवा) is a village in Jaisalmer district, Rajasthan, India. It was ancient capital of the Bhatti dynasty till 1156 AD, when Rawal Jaisal founded Jaisalmer and shifted his capital. [1][2]

Variants

Location

It is situated 15 km to the north-west of Jaisalmer.

Founders

Lodhra Jats

History

According to James Tod It was ruled by Bhatts in ancient times. Bhattis, are of the Yadu race. [3]

James Tod writes that by following the tide of Yadu migration during the lapse of thirty centuries, to trace them, from Indraprastha, Surapura, Mathura, Prayaga, Dwarica, Judoo-ca-dang (the mountains of Jud), Behera, Gujni in Zabulistan ; and again refluent into India, at Salbahana or Salpoora in the Punjab. Tannot, Derawal, Lodorva in the desert, and finally Jaisalmer, founded in S. 1212, or A.D. 1156. [4]

In the 9th century, Deoraj, a prince of the Bhati clan, captured Lodrawa and made it his capital. The city stood on an ancient trade route through the Thar Desert, which also vulnerable to frequent attacks. Mahmud of Ghazni laid siege on the city in 1025 AD, in the coming decades the city, now more vulnerable was repeatedly attacked by foreign invaders. Later it was again attack and sacked by Muhammad Ghori in 1152 AD, which eventually led to its abandonment and established in new capital Jaisalmer by subsequent ruler, Rawal Jaisal, 16-km away on a more secure Trikuta Hill in 1156 AD, where the present fortress stand today.[5]

The place was also the setting for the doomed-loved story of Princess Mumal and Mahendra, the prince of Amarkot, recounted in local folklore and songs.[6]


James Tod[7] writes ....The Bhatti prince left Lodorva for Dhar at the head of seven hundred horse, and arrived at the same time with the Sisodia and Solanki princes. On his return to Lodorva, he erected a temple to Sheshanaga, close to which he made a lake. By the Puar princess he had a son named Rahir, who had two sons, Netsi and Keksi.

लौद्रवा

लोद्रवा, लोद्रवापुर (जिला जैसलमर), राजस्थान, (AS, p.822)

विजयेन्द्र कुमार माथुर[8] ने लेख किया है ...मध्यकालीन मंदिरों के लिए यह स्थान प्रसिद्ध है. 1327 विक्रम संवत= 1280 ई. में बने हुए गणेशमंदिर में गणेशप्रतिमा एक चरणचौकी पर आसीन है जिस पर इस संवत का अभिलेख अंकित है. इस अभिलेख में सच्चिकादेवी (महिषमर्दिनी देवी) की उपासना का भी उल्लेख है. 15वीं सदी के जैन मंदिर की स्थापत्य कला भव्यता तथा सूक्ष्म शिल्प दोनों ही दृष्टियों से अनोखी है. मंदिर के प्रवेशद्वार तथा तोरण पर सूक्ष्म शिल्पकारी और अलंकरण तत्कालीन कला के अद्भुत उदाहरण हैं.

लौद्रवा जैसलमेर परिचय

लौद्रवा राजस्थान के जैसलमेर शहर से 15 कि.मी. दूर स्थित एक ऐतिहासिक स्थान है। मध्यकालीन मंदिरों के लिए यह स्थान प्रसिद्ध है। लौद्रवा को 'भट्टी राजवंश की राजधानी' होने का गौरव प्राप्त है। यहाँ के भग्नावशेषों में जैन धर्मावलम्बियों ने कुछ धार्मिक स्थलों का जीर्णोद्धार करवाया था। इसके फलस्वरूप लौद्रवा जैन सम्प्रदाय का प्रमुख तीर्थ स्थल बन गया।

स्थिति तथा इतिहास: जैसलमेर से 15 कि.मी. दूर काक नदी के किनारे बसा लोद्रवा ग्राम व यहां के कलात्मक जैन मंदिर तो देखते ही बनते हैं। ऐसा माना जाता है कि लोद्रवा ग्राम को 'लोद्रवा' व 'रोद्रवा' नामक जातियों ने बसाया था। प्राचीन काल में लोद्रवा अत्यन्त ही हरा-भरा कृषि क्षेत्र था। लोद्रवा एक सुन्दर स्थान तो था ही, इसके साथ-साथ यहां के लोग भी समृद्ध थे।

ग़ोरी द्वारा आक्रमण: बारहवीं शताब्दी में जब मुहम्मद ग़ोरी ने भारत के मंदिरों को लूटना व नष्ट करना शुरू किया तो यह शहर भी उसकी नजरों से बच न सका। उस समय इस नगर के शासक भुजदेव थे। मुहम्मद ग़ोरी के भयानक आक्रमण के दौरान भुजदेव भी युद्ध में मारे गए थे व यहां के जैन मंदिर भी आक्रमणकारियों ने नष्ट कर दिए थे।

मंदिरों का पुनर्निर्माण: बाद में कुछ वर्षों के पश्चात् यहां के पांचों जैन मंदिरों का पुनर्निर्माण घी का व्यापार करने वाले थारुशाह ने विक्रम संवत 1675 में करवाया। इन मंदिरों के निर्माण में प्रयुक्त पत्थरों को सोना देकर ख़रीदा गया था। लोद्रवा स्थित जैन मंदिरों में भगवान पार्श्वनाथ की मूर्ति सफ़ेद संगमरमर से निर्मित है। मूर्ति के ऊपर सिर पर हीरे जड़े हुए हैं, जिससे मूर्ति अत्यन्त आकर्षक लगती है। मंदिरों को कलात्मक रूप देने के लिए पत्थर के शिल्पियों ने मंदिरों के स्तंभों व दीवारों पर देवी-देवताओं की मूर्तियां उत्कीर्ण कर इसके सौंदर्य को बढ़ाया है। मंदिर को अधिक गरिमा प्रदान करने के लिए नौवीं-दसवीं शताब्दी में मंदिर के सम्मुख तोरण द्वार बनाने की भी परंपरा थी। मंदिर के समस्त स्तंभों में मुखमंडप के स्तंभों का घट-पल्लव अलंकरण सर्वाधिक कुशलता एवं सौंदर्य का परिचय देता है। हालांकि मंदिर की मौलिकता तथा वास्तु योजना को ज्यों का त्यों रखा गया है। लोद्रवा का जैन मंदिर वास्तुकला एवं मूर्तिकला की शैली की शताब्दियों लंबी विकास यात्रा का भी साक्ष्य प्रस्तुत करता है।


पार्श्वनाथ मंदिर के समीप एक कलात्मक बनावटी कल्प वृक्ष है, जिसमें चीते, बकरी, गाय, पक्षी व अनेक जानवरों को भी एक साथ दर्शाया गया है। कल्प वृक्ष जैन धर्मावलंबियों के लिए समृद्धि व शांति का द्योतक है। लोद्रवा स्थित काक नदी के किनारे रेत में दबी भगवान शिव की अनोखी मूर्ति है, जिसके चार सिर हैं। यह मूर्ति केवल अर्द्धभाग तक ही दृष्टिगत है। इसके साथ ही नदी के किनारे पर 'महेंद्र-भूमल' की प्रेम कहानी को विस्मृत न होने देने के लिए उनकी याद में एक मेढ़ी बनी हुई है, जो 'भूमल की मेढ़ी' के नाम से विख्यात है। लोद्रवा में प्राचीन काल में बने घर, कुएं, तालाब व कलात्मक स्नान घर के अवशेष देखने को मिलते हैं, जो अतीत के वैभव को दर्शाते हैं।

'लुद्रवा' या 'लोद्रवा' कभी भाटी शासकों की राजधानी रहा था, लेकिन वक़्त बीता तो एक राजधानी का अस्तित्व समाप्त हुआ और जैसलमेर के माथे पर मुकुट रखे जाने का पथ प्रशस्त हुआ। लुद्रवा आज भी अवशेषों को माध्यम बनाकर अपने प्राचीन वैभव की दास्तान सुनाता है। साथ ही नए निर्माण के कारण अस्तित्व में आये जैन मंदिर की बेहद खूबसूरत जालीदार दीवारें, जिनकी हर एक पंक्ति का शिल्प भिन्न-भिन्न होने के कारण रचनात्मक कौशल का बेहतरीन नमूना है, किसी के भी आकर्षण का केंद्र बन सकती हैं। इसी मंदिर का तोरण अपने मूल में प्रयुक्त प्राचीन पत्थरों को माध्यम बनाकर इस नगर के शैव होने का प्रमाण देता-सा लगता है।

संदर्भ - भारतकोश-लौद्रवा जैसलमेर

Migration of Yadus

James Tod[9] writes that the tide of Yadu migration during the lapse of thirty centuries, traces them, from Indraprastha, Surapura, Mathura, Prayaga, Dwarica, Jadu Ka Dang (the mountains of Jud), Behera, Ghazni in Zabulistan ; and again refluent into India, at Salivahanpura or Salpura in the Punjab. Tannot, Derawal, Lodorva in the desert, and finally Jaisalmer, founded in S. 1212, or A.D. 1156.

Jat History: Jawanda clan

The Jawanda clan derives its name from their ancestor named Jawanda. They are from the lineage of Dusal, the brother of King Rawal Jaisal of Jaisalmer. Rawal Jaisal, a Bhatti clan who founded Jaisalmer, was the son of King Rawal Dusaj of Lodhruva. King Dusaj appointed Jaisal's younger brother Vijayraj Lanjha as his successor. After Vijayraj took the throne, Jaisal was driven out of the kingdom and formed an army. Vijayraj Lanjha died on the battlefield in the resulting war. Following this war, other Bhati rajputs accepted Jaisal as their new king and stopped fighting among themselves; however, the city of Lodhruva was completely destroyed. With the waning of Buddhist influence and the re-emergence of Hinduism, some of the Bhatis split into Gujjars and Jats.

In the 12th century, the Jawandas settled in Bathinda, Mansa and Sangrur. In the 17th century, when ninth Sikh Guru Teg Bahadur, visited Malwa to popularise Sikhism, there were 22 villages of Jawandas. (Guru visited Malwa during his three successive trips to Kiratpur.)

A Harika Jatt named Durgu was also living there who was son-in-law of Jawandas. He served the Guru to his best. Guru told him that this area is going to be ruined and advised him to go back to his previous village in Doaba. Taloka, their chieftain, ignored the Guru.

Some time later the Jawandas were ruined by Muslim Sheikhs. Uprooted, some of the Jawandas went towards Saharanpur while others went to Bathinda (founded by Rao Bhatti), Mansa, Muktsar, Faridkot and Ludhiana. Presently they are settled mostly in the areas of Sunam, Barnala and Malerkotla.

Bhai Dharam Singh Ji, the second of Guru Gobind Singhji's Panj Piare (five beloved followers) was a Jawanda belonging to Hastinapur (Delhi). Before being baptized his name was Dharam Chand Jawanda.

Sucha Singh Soorma, who lived in the village of Sumau (near Sangrur in the Malwa Punjab) is a Jawanda. Sucha Singh is considered a folk legend (one of the famous Punjabi Kisse). He is widely admired in Punjabi culture for upholding the honour of his family by killing his sister-in-law Balbiro and her extramarital lover Ghukkar, who at one time was his own best friend.

Monuments

  • Jain temple: Ludrawa is also famous for the Jain temple dedicated to 23rd Tirthankara, Parshvnath destroyed in 1152 AD when Muhammad Ghori sacked the city. The temples were rebuilt in the late 1970s, are reminders of the city's former glory.
  • Hinglaj mata temple (हिन्गलाज देवी लौद्रवा),
  • Chamunda mata temple,
  • Shiva temple

Population

Notable persons

External links

References

  1. "Jawahar Niwas: Grace of Jaisalmer". The Economic Times. May 31, 2002.
  2. "About Jaisalmer". Department of Tourism, Govt. of Rajasthan
  3. Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.192
  4. Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.194
  5. Lindsay Brown; Amelia Thomas (2008). Rajasthan, Delhi & Agra (Lonely Planet Travel Guides). Lonely Planet. p. 335. ISBN 1-74104-690-4.
  6. "A story around every dune Published: Sunday,". DNA (newspaper). Feb 24, 2008.
  7. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer,p.218
  8. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.822
  9. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.194-195