Deeg

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author of this article is Laxman Burdak लक्ष्मण बुरड़क
Deeg Palace, Rajasthan
Deeg Fort
Location of Deeg in Bharatpur district

Deeg (डीग), ancient Dirghapura in district Bharatpur, is a town in Bharatpur district of Rajasthan state in India. It is known for its numerous forts, palaces, gardens and fountains.

Location

It is situated in the north of Bharatpur at a distance of 32 km. It is an ancient town. It is located at a distance of 153 km from Delhi and 98 km from Agra. It falls within the territorial limits of the ancient holy Braj-Bhumi. Its location is : Lat. 27º 28' N; Long. 77º 20' E.

Founder

Deeg finds mention in Skanda Purana (स्कंध पुराण) as "Dirgha" or "Dirghapura". Deeg was the first capital of the newly carved out Jat state of Bharatpur, when Badan Singh was proclaimed its ruler in 1722. In 1730, Maharaja Suraj Mal erected the strong fortress of Deeg. After Suraj Mal moved his Capital to Bharatpur, Deeg became the second Capital of the rulers of Bharatpur state.

डीग का पुराना नाम दीर्घ बताया गया है। स्कन्ध पुराण में इस स्थान को तीर्थो की श्रेणी में गिना है। देहली का लूट का बहुत-सा सामान यहां देखने को मिलता है।[1]

Jat Gotras

Sinsinwar,

Villages in Deeg tahsil

Adhawali, Alipur, Anjari, Ankholi, Au, Badangarh, Badesara, Badri, Bahaj, Bahoraki, Bahtana, Baldeowas, Bandha Chauth, Bandha Khalsa, Barai, Barawali, Baroli Chauth, Bedham, Bheelamka, Chak Gharwari, Chak Keshopura, Chomeda, Chulera, Dahar Khoh, Damara, Dantlothi, Deeg (M), Deenapur, Dhamari, Didawali, Digcholi, Gadalpur, Gahnawali, Garhi Lodha, Garhi Mewat, Garoli, Ghanagirse, Gharwari, Girse, Guhana, Gulena, Hayatpur, Hingota, Iklahra, Janoothar, Jateri, Jatoli Kadeem, Jatoli Thoon, Kakra, Kalyanpur, Kasot, Kathaira Chauth, Kayreeka, Khera Brahman, Kheriya Goojar, Kheriya Purohitan, Khoh, Khohri, Korer, Kuchawati, Madhera, Madhuwana, Mahmadpur, Malipura, Maunaka, Mawai, Mayari Karmooka, Moroli, Nagala Bhawani Singh, Nagala Warawali, Nagla Chahar, Nagla Chewa, Nagla Dandu, Nagla Deshwar, Nagla Faujdar, Nagla Harsukh, Nagla Janoothar, Nagla Khaman, Nagla Khoh, Nagla Khuntela, Nagla Kokla, Nagla Lakhmi, Nagla Moti, Nagla Radhey, Nagla Shripur, Nagla Wadripur, Nahra Chauth, Nahroli Deshwar, Nahroli Thakur, Nangla Maharniyan, Narena Chauth, Narena Katta, Naswara, Nigohi, Pahalwara, Pahartal, Panhori, Paramdara, Parla, Pasopa, Pasta, Poonchhri, Rambagh ( Rural ), Rayabka, Rundh Khoh, Saharai, Samai, Seu, Shahpur Bharatpur, Shyamdhak, Shyopura, Shyorawali, Sinsini, Siswara, Songaon, Suhera, Tankoli, Toda, Udaipuri, Umra,

History

Raja Badan Singh
Maharaja Suraj Mal

Historically, Deeg is associated with the rise of the Jats under the leadership of Rajaram (AD 1686-88), Bhajja Singh (AD 1688-98) and Churaman (AD 1695-1721). After the death of Churaman, Badan Singh (AD 1722-56) consolidated his authority over several adjoining districts. Badan Singh ( 1722 – 1756 AD), after assuming the throne, consolidated his leadership of the tribe and thereby became the virtual founder of the Ruling Jat House of Bharatpur. The credit of initiating the urbanization of Deeg also goes to him. It was he who selected this spot as the headquarters of his newly established Jat kingdom. He is credited with transforming Deeg into a flourishing town with beautiful buildings, palaces and gardens. Surajmal (AD 1756-63), the son and successor of Badansingh, was one of the greatest rulers of his timesDrRajpalSingh 11:22, 17 January 2012 (EST) and during his rule the power of the Jats reached its zenith.


The strong citadel with towering walls and bastions was erected slightly later in 1730 AD by Surajmal, the worthy son of Badansingh. About the same period according to certain writers the large charming tank called Rup Sagar was built by Rup Singh, the brother of Badan Singh. The beautiful garden retreat adorning this city is the most outstanding of the artistic accomplishments of Surajmal and stands to this day as a glorious memorial to the celebrated hero of the Jat tribe. After the death of Surajmal, his son and successor Jawahar Singh (1764 – 68 AD), completed certain palaces including the Suraj Bhawan and gave finishing touch to the gardens and fountains.

Architecture of Deeg

The architecture of Deeg is mainly represented by the mansions called the Bhawans popularly known as Gopal Bhawan, Suraj Bhawan, Kishan Bhawan, Nand Bhawan, Keshav Bhawan, Hardev Bhawan. The striking features of these palaces are balanced outlines, fine proportions, commodious halls, attractive and logically disposed arcades, alluring greenery, charming tanks and canals with fountains. The layout of Deeg gardens is based on formality of the Mughal Char bagh or four fold garden patterns and flanked by two reservoirs called namely Rup Sagar and Gopal Sagar.

The architecture is primarily of trabeate order, but the use of arcuate system has also been made in certain instances. Mostly the arcades are of a decorative quality as each arch is formed by joining spandrel shaped slab cantivelers projecting from the pillars. The general features of this style are engrailed arches resting on ornate pillars, hypostylar halls flat roof terraces, balconies and pavilions with Bengal roofs, double eaves, moderate structural heights and spacious internal arrangements.

Jat Monuments at Deeg

The following are the important monuments inside the Deeg Palace.

Deeg Fort

The Deeg Fort stands majestically over a slightly elevated point, built by Maharaja Suraj Mal. The fort is surrounded by impressive moats, armpits and gateways, the interiors are mostly in ruins now, but the watch tower still stands in the ruins keeping an eye over the City and Palace; over it is placed a gun captured from Agra fort. Another defunct cannon which was captured from Ahmad Shah Abdali(1761), who seized the fort for six months, guards a vantage c

Singh Pol

This is the main entrance to the palace complex. It is an unfinished structure having a central projection on north. Architecturally, it appears to be a work of relatively later period. The gate is named after two lions sculptured in front of the archway.

Gopal Bhawan

Jal Mahal Deeg

This is the largest and most admirable of all the buildings. Its reflection into surrounding sheet of water imparts a unique charm to ambiance. The Bhawan has a central hall flanked by wings of two low storeyed annexes on either side. On its water front, two oblong basement storeys were constructed as summer resorts. The central projection is carved with majestic arches and imposing pillars. A room in the northern wing contains a black marble throne-platform believed to be spoils of war brought by Jawahar Singh from the imperial palaces of Delhi.

The Gopal Bhawan is flanked by two small pavilions known as Sawan and Bhadon Bhawans to its north and south respectively. Each pavilion is a two storeyed structure of which only the upper one is visible from front and has a fascinating palanquin-shaped roof crowned by a row of elegant spikes.

Suraj Bhawan

This is the most extensive and splendid building in marble inside the palace complex. It was built by Surajmal. This is a single storey flat roofed building. The Bhawan consists of a verandah all around with five arched openings and rooms flanking at the corners. The Bhawan was originally built of buff sandstone to which white marble was encased subsequently. The dados of the central apartment are bordered with excellent pietra dura work.

Kishan Bhawan

The Kishan Bhawan is situated towards the southern fringe of the complex. This building has well-decorated and extensive panelled façade broken by five large central archways and a huge fountain feeding tank on its terrace. The spandrels of middle and front arches are adorned with intricately carved arabesques. Interiorly, the back wall has an alcoved balcony with carved façade and false curved roof representing a foliaged hut.

Hardev Bhawan

Purana Mahal Deeg

The Hardev Bhawan is situated behind Suraj Bhawan, having a vast garden in front laid out in charbagh pattern. The mansion subsequently underwent certain additions and alterations during the time of Surajmal. The building on the south is double storeyed. The ground floor consists of a projecting central hall, faced with arches springing from a row of double pillars. Behind is an arcaded colonnade running along three sides. The rear part is crowned by a chhatri bearing a spiked curved roof. A narrow gallery screened with obliquely-cut jails runs at the back of the upper floor.

Keshav Bhawan

Commonly known as baradari, Keshav Bhawan is a square single storeyed open pavilion situated along Rup-Sagar. Centrally, the bhawan is diversified by an arched running on all sides and forming an inner square. The bhawan originally included an elaborate device to reproduce the effects of monsoon. There were stone balls in the ceiling which could be agitated by piped running water to create the noise of thunder and the water was released through spouts above the arches to fall as rain in sheets around the open hall. A broad canal is running round the edge of the pavilion.

Nand Bhawan

The Nand Bhawan is situated towards the north of the central garden. It is a spacious oblong hall raised on a terrace and enclosed by grand arcade of seven openings. The ceiling of the central portion of the hall is made of wood. Like other buildings it is also having a tank in front and well finished exterior.

Purana Mahal

Built by Badan Singh, Purana Mahal is planned as a spacious rectangle with an interior consisting of two separate courts. It continues the tradition of a typical palace. It has impressive exterior. The arches are both of engrailed and pointed types.

The royal abodes are planned along the periphery of the central garden and flanked by two reservoirs i.e. the Rup Sagar on the east and the Gopal Sagar on the west.

डीग के महल

डीग के महलों में चतुष्कोण बनाते हुए बीच में ४७५-३५० फीट का एक बगीचा है। इसमें फव्वारे लगे हुए हैं. पूर्व व पश्चिम में विशाल जलाशय है तथा उत्तर की और नन्द भवन है, पश्चिम में मुख्य इमारत गोपाल भवन है, जो सभी महलों में सर्वाधिक विशाल है. यह तीन और से दुमंजिला है और बीच में विशाल सभा भवन है. गोपाल भवन से थोडी दूर दो छोटी इमारतें हैं जो सावन-भादों भवन के नाम से जानी जाती हैं। चतुष्कोण के दक्षिण की और उत्तर की तरफ मुख किये दो महल हैं; (१) पश्चिम में मकराना के संगमरमर से बना सूरज भवन और (२) पूर्व में भूरे बलुआ पत्थर से बना किशन भवन है। इन दोनों महलों के बीच इस मजबूत इमारत की छत पर एक टंकी है जो इन सभी महलों व बगीचों में जल प्रवाह करती है। ब्रोक्मेन के अनुसार भंडार की विशाल क्षमता को आवश्यक मजबूती प्रदान करने में यह टंकी हिंदुस्तान में बेजोड़ है। [2] [3]

डीग के महलों की वास्तुकला

मुग़ल काल में अकबर के समय तक बंगाल शैली की छत्त राजपूत शैली का हिस्सा बन चुकी थी. बाबर द्वारा भारत में प्रचलित की गयी भवन, उद्यान व फव्वारों की ईरानी-चार-बाग़ पद्धति की व्यवस्था ने हिन्दू रियासतों के भवनों को एक नया रूप प्रदान किया. [4]

मध्य काल में खासतौर पर हिन्दू वास्तुकला में दो प्रवृतियाँ समानान्तर रूप से मौजूद थी. एक परंपरा के अर्न्तगत पूर्णतया प्राचीन परम्पराओं के अनुसार निर्माण होते थे. दूसरी और मिश्रित शैली को भी अपनाया गया. यद्यपि विक्टोरिया युग में वास्तुकला का विकास हुआ, परन्तु मध्य काल के ताज महल, हुमायूं का मकबरा , बीजापुर की गोल गुम्बद, डीग के जल महल और भरतपुर के दुर्ग का कोई सानी नहीं है. [5]

भरतपुर के शासक कुशल शासक ही नहीं थे, वरन अच्छे कला प्रेमी एवं कला संरक्षक थे. उनके समय में हुए निर्माण वास्तुकला के अद्भुत नमूने हैं. १८ वीं सदी में जबकि मुग़ल शैली या मिश्रित शैली में काम हुआ, तब हिन्दू शैली का स्थान बनाये रखने का सार्थक प्रयास बदन सिंह एवं सूरज मल ने किया. मुग़ल शासकों की स्थिति उस समय अच्छी नहीं थी. मुग़ल सल्तनत भारी उथल पुथल का शिकार था.मुग़ल दरबारों से कारीगर काम छोड़-छोड़ कर जा रहे थे. उन दिनों ठाकुर बदन सिंह कुम्हेर की गढ़ी में रहते थे. वहीं रहते हुए उन्होंने सन १७२५ में प्रथम जाट राजधानी 'डीग' की स्थापना की. उसके बाद १७३३ में भरतपुर राजधानी की स्थापना सूरज मल ने की.

जैसे-जैसे भरतपुर राज्य की राजनैतिक व आर्थिक स्थिति मजबूत हुई वैसे-वैसे भरतपुर अंचल में वास्तुकला का विकास हुआ. कुम्हेर की गढ़ी, डीग के जल महल फिर भरतपुर दुर्ग का निर्माण उसी विकास के सोपान हैं. महाराजा बदन सिंह ने डीग के भवनों की योजना तैयार की और उस योजना को साकार रूप दिया महाराजा सूरज मल ने. यही योजनायें महाराजा बदनसिंह के सौन्दर्य बोध की परिचायक हैं. [6]


कला के क्षेत्र में महाराजा सूरजमल की अभिरुचि दुर्ग, महल एवं मंदिर निर्माण में थी. यद्यपि उनके शासन काल में सभी जाट किलों की मरम्मत एवं पुनर्निमाण का कार्य जारी रहा, परन्तु स्वयं उनका योगदान विशेष रूप से भरतपुर और डीग के आधुनिकतम महलों के निर्माण में रहा. डीग में अपने पिता के समय के बने महलों, जो पुराने महलों के नाम से जाने जाते हैं, से पृथक सूरजमल ने सुन्दर जलाशय एवं फव्वारों के साथ आधुनिक सुविधा युक्त महलों का निर्माण करवाया, जो आज भी भव्य एवं दर्शनीय हैं. कवि सोमनाथ ने सुजन विलास और अखैराम ने सिंहासन बत्तीसी में डीग के इन सुन्दर महलों, वाटिका, जलाशय, आदि का श्रेष्ठ एवं सुन्दर वर्णन किया है. [7]


सुन्दर भवनों एवं सुदृढ़ दुर्ग का निर्माण सुव्यवस्था एवं कुशल योजना विन्यास के माध्यम से ही संभव हुआ. यह निर्माण कार्य महाराजा बदन सिंह एवं सूरज मल को कुशल वास्तुशिल्पी ही नहीं, अपितु कुशल व्यवस्थापक, प्रारूपकार एवं, कलामर्मज्ञ का प्रमाण देता है. [8]

इन महलों के निर्माण में महाराजा सूरज मल ने अपर धन खर्च किया. [9] कहा जाता है की लखनऊ के नवाब गाजीउद्दीन जो महाराजा सूरज मल के मित्र थे, जब १७५९ में डीग आये तो उन्होंने भी उपहार स्वरुप भवनों के निर्माण के लिए धन दिया. [10]

इन भवनों को देखने पर उस वक्त के मजदूरों व कारीगरों की कार्य कुशलता और सौन्दर्य बोध का परिचय मिलाता है. साथ ही यह भी संकेत मिलाता है की उन्हें प्रोत्साहन मिलता था, उचित पारिश्रमिक भी मिलता था. मुग़ल दरबारों से काम छोड़ कर आ रहे कारीगरों को महाराजा सूरज मल द्वारा काम दिया गया. इस योजना को कार्यान्वित करते समय निर्माण मंत्री जीवन राम बनचारी थे. [11]

डीग के भवनों में महलों के साथ बड़े-बड़े चौकोर उद्यान हैं, जिनमें पानी की कृत्रिम व्यवस्था से चलने वाले फव्वारों की श्रृंखलाएं हैं. [12]

डीग का किला

भरतपुर के आसपास घूमना तब तक अधूरा है जब तक डीग किला नहीं देख लिया जाता. राजा सूरजमल ने इस किले का निर्माण कुछ ऊंचाई पर करवाया था. किले का मुख्य आकर्षण है यहां की वॉच टावर, जहां से न केवल पूरे महल को देखा जा सकता है बल्कि नीचे शहरा का नजारा भी लिया जा सकता है. इसके ऊपर एक बंदूक रखी है जो आगरा किले से यहां लाई गई थी. खाई, ऊंची दीवारों और द्वारों के घिर इस किले के अवशेष मात्र की देखे जा सकते हैं.डीग का किला भी यहाँ के अन्य भवनों की तरह सुरक्षा की दृष्टि से उत्कृष्ट श्रेणी का बना है. परन्तु कुछ वर्ष बाद ही भरतपुर राज्य की राजधानी डीग से भरतपुर स्थानांतरित हो गयी जिसके कारण यहाँ का राजनैतिक महत्व कम हो गया.

डीग के किले का इतिहास अत्यंत रोचक है. थून, जाटौली तथा अन्य कई गढ़ियों की राख से बदन सिंह के भरतपुर राज्य का उदय हुआ था. २३ नवम्बर १७२२ के दिन थून और जाटौली के पतन के पश्चात् औपचारिक रूप से बदन सिंह ने स्वयं को जयपुर दरबार का निष्ठावान सामंत बना लिया था. बदले में जयसिंह ने बदन सिंह को ब्रजराज की उपाधि से सम्मानित किया. उन्हें नगाड़ा, निशान तथा पचरंगी झंडे के प्रयोग की अनुमति प्रदान की.[13] अपने इरादे को मूर्त रूप देने के लिए, सबसे पहले उसने डीग के समीप स्थायी निवास और कार्यालय बनाया. उसके बाद ब्रज के जमीदार और सरदारों से मैत्री-सम्बन्ध स्थापित किये. [14]

बदन सिंह ने अपने राज्य का विस्तार युद्ध की अपेक्षा शांति और राजनैतिक कौशल से अधिक किया. उनका स्वाभव रक्त बहाना नहीं, पर निर्माण करना था. डीग और भरतपुर के अजय किलों के निर्माण और उनमें सुन्दर महलों की रचना उनका शौक था. अपने अंतिम दिनों में वह डीग में रहते थे. डीग के भवन में एक लम्बा-चौडा तख्तनुमा पलंग आज भी मौजूद है , जिस पर ठाकुर बदन सिंह, परिवार के समस्त बालकों के साथ शयन करते थे. बदन सिंह ने आगरा के उन शिल्पियों को रोजगार दिया था, जो मुग़ल-साम्राज्य के कमजोर होने से भूखों मरने की स्थिति में थे. इसी तरह उन्होंने तालाब बनाने, ईंट पकाने, घास के सुन्दर मैदान विकसित करने एवं फव्वारे बनाने वालों को काम दिया. [15]

ठाकुर बदन सिंह और महाराजा सूरजमल की सामाजिक उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए के. नटवरसिंह लिखते हैं -

"पूरी तरह निरक्षर होने पर भी, बदन सिंह में आश्चर्यजनक सौन्दर्यबोध था. डीग के उद्यानों-प्रसादों की भव्य रूपरेखा उसी ने और केवल अकेले उसी ने रची थी. दिल्ली और आगरा के श्रेष्ठ मिस्त्री, झुंड बनाकर बदन सिंह और सूरजमल के दरबारों में रोजगार ढूँढने आते थे. [16]

फव्वारों की व्यवस्था

ईरानी-चार-बाग पद्धति पर आधारित फव्वारे
ईरानी-चार-बाग पद्धति पर आधारित उद्यान

मुख्य द्वार सिंह-पोल उत्तर दिशा में उत्तर की और मुंह किये हुए हैं, जिसमें नन्द भवनों तक फव्वारों की श्रृंखलाएं हैं, जो वर्मान में भूमिगत हैं. वर्गाकार उद्यानों के मध्य में अष्ट फलक आकृति वाला ६० फ़ुट चौडाई में फव्वारों का एक अति सुन्दर समूह है. इस बिंदु को सभी भवनों से फव्वारों की पंक्तियाँ जोड़ती हैं. सूरज भवनकिशन भवन के मध्य में निर्मित एक भवन के प्रथम तल पर २.६ लाख लीटर क्षमता का एक हौज बना हुआ है, जो पानी की कृत्रिम व्यवस्था का स्त्रोत है. इसमें मोरियां (Outlets) मिटटी की नालियों को पकाकर जोड़कर बने गयी हैं. जिन पर चूने की परत (Lime Coating ) चढी हुई है. [17]


उस समय इस हौज को लगभग ८ दिनों में दो जोड़ी बैलों की मदद से भरा जाता था. हौज में मोरियों की योजना इस प्रकार है कि सभी फव्वारे महलों व उद्यानों में रंग -बिरंगी छटा बिखेरते हैं. एक समय में एक पंक्ति में एक ही रंग व विभिन्न रंगों वाले , दोनों तरह के फव्वारे चलते हैं. जब ये फव्वारे चल कर बंद होते हैं तो उसके बाद उद्यान के बीच जड़े पत्थर रंगों से इस तरह सरोबर दिखते हैं जैसे लोगों ने टोलियाँ बनाकर होली खेली हो. फव्वारों की यह सम्पूर्ण व्यवस्था तकनीकी दृष्टि से अद्वितीय है. [18]

भवन के प्रथम तल पर बना अपार क्षमता का हौज जो २२५ वर्षों से आज भी अपनी क्षमता के अनुरूप कार्य कर रहा है. ये फव्वारे भवनों को वातानुकूलित ही नहीं करते हैं बल्कि कृत्रिम वर्षा की अनुभूति भी कराते हैं. इन फव्वारों की विशेषता विधि, रूप-रंग के अलावा एक धारा तथा सहस्त्र धारा के रूप में देखने योग्य है. भवनों में कई जगह इन्हें झरने का रूप देने का सार्थक प्रयास किया गया है. फव्वारे व उद्यान कृत्रिम वर्षा एवं रंग-बिरंगे रूप से मुग़ल काल में निर्मित श्रीनगर के निशात बाग़ व शालीमार बाग़ की व्यवस्था से एक कदम आगे हैं। इन फव्वारों व उद्यानों का निर्माण ईरानी-चार-बाग पद्धति पर आधारित है। [19]


फव्वारे व उद्यान कृत्रिम वर्षा एवं रंग-बिरंगे रूप से मुग़ल काल में निर्मित श्रीनगर के निशात बाग़ व शालीमार बाग़ की व्यवस्था से एक कदम आगे हैं. इन फव्वारों व उद्यानों का निर्माण ईरानी-चार-बाग पद्धति पर आधारित है. [20]

बारहदरी में फव्वारों की व्यवस्था उच्च तकनीक का बेमिसाल प्रयोग है. इसमें जल प्रवाह की गुप्त व्यवस्था है. बारहदरी की दूसरी छत का बीच का हिस्सा खोखला है, जिसमें लोहे के गोले हैं. पानी पहुँचने की व्यवस्था केपिलरी पद्धति पर आधारित है. जब फव्वारे चलते हैं तो पानी इस हिस्से में पहुँच कर गोलों को आपस में टकराता है जो बादल गरजने का आभास देता है. [21]यह निर्माण अछे कला प्रेमी होने का प्रमाण तत्कालीन शासक को देता है. थर्टन का मत है -

"किर्तिशिखर पर पहुँच कर राजा सूरज मल नें फव्वारों युक्त प्रसादों, जिन्हें भवन कहते हैं , का निर्माण कराया था. यह अनुपम डिजायन एवं शिल्प प्रवीणता में आगरा के ताज महल के अनुरूप भारत की थाती है. इन्होनें डीग को अति प्रसिद्द स्थल बना दिया है." [22]

गोपाल भवन

गोपाल भवन में स्थित शाही शतरंज हाल

महलों में सबसे आकर्षक हिस्सा पश्चिम दिशा में गोपाल सागर के किनारे 'गोपाल भवन' है. गोपाल भवन का निर्माण 1780 में किया गया था. खूबसूरत बगीचों से सजे इस भवन से गोपाल सागर का अद्भुत नजारा देखा जा सकता है. भवन के दोनों ओर दो छोटी इमारतें हैं जिन्हें सावन भवन और भादो भवन के नाम से पुकारा जाता है. इसका प्रधान कक्ष 'वेस्ट मिनिस्टर असेम्बली हाल' से बड़ा है. जिनमें पत्थर की धरनें (Beams) , कपडे मिटटी के पके हुए बर्तनों का उपयोग किया गया है. धरनों की माप १.२५ x १.७५ x २८ फ़ुट तक काम ली गयी हैं.

यह भवन पूर्व में एक मंजिला, उत्तर व दक्षिण में दो मंजिला व पश्चिम में चार मंजिला है. एक मंजिल हमेशा जलमग्न रहती है. दीवान जरमनी दास ने लिखा है कि सबसे निचली मंजिल से जलाशय तक पहुँचने के लिए चन्दन की लकड़ी से बने जीने हैं. जो अब दिखाई नहीं देते हैं. पश्चिम में जलाशय बनाना पूर्व नियोजित एवं योजनाबद्ध था, इसी कारण भवन का निर्माण पश्चिम में खुदाई करके शुरू किया गया होगा तभी पश्चिम की तीसरी मंजिल का फर्शतल दक्षिण फर्शतल के समान रखा गया है. तथा पश्चिम की तीसरी एवं चौथी मंजिल दक्षिण की पहली व दूसरी मंजिल के बराबर फर्श तल पर बनाई गई है, पूर्व के बैंक्वेट हाल की छत का तल चौथी मंजिल के छत के बराबर है. यह इस भवन की विशेषता बन पड़ी है. मजबूत एवं सुन्दर लाइम कड़ा फर्श निर्माण में कठिन ज्यामितीय विधि का उपयोग कुशल कारीगरी का नमूना है. बैंक्वेट हाल की पीछे की दीवार में बना हुआ ताखा शाहजहाँ के दीवान -ए- आम से साम्य रखता है.

गोपाल भवन का हर भाग अपनी खास पहचान रखता है. पूर्वी द्वार पर बने आकर्षक महराब व उकेरे गए सुदृढ़ स्तंभों से भवन की शोभा कई गुना बढ़ गई है. धूप व वर्षा से बचाव के लिए आकर्षक छज्जे (Deep Projection) बनाये गए हैं.

इनके पिछले हिस्से में बंगाल भवन है. इसके मध्य में नाल आकर की खाने की मेज संगमरमरी टायलों की बनी हुई है. इस तरह के भोजनालय को पारसी में 'नसीबा' कहते हैं. शाही शतरंज हाल में छोटे खम्बों पर आधारित महराबों की क्रमबद्ध पंक्तियाँ (Arcade) हैं. रानी के कमरे में पूर्ण पारदर्शी खिड़कियाँ पत्थर के चौखट में सुन्दर ढंग से बनाई गयी हैं. इनसे गोपाल सागर की लहरों को निखारा जा सकता है.

इसमें बहार की और निकली हुई छत्रियों (Kiasks) की पंक्तियाँ एवं प्रसादिकाएं (Balconies) बहुत आकर्षक हैं, जो दूर से जलाशयों पर झुलाती प्रतीत होती हैं. प्रसादिकाओं पर श्रेष्ट चित्रकारी है. गोपाल भवन की सम्पूर्ण छत समतल है, जिस पर बैठने की व्यवस्था है.

सम्पूर्ण भवन में हवा एवं प्राकृतिक प्रकाश की व्यवस्था है. जीने में दिए गए रोशन दान इसका एक उदहारण है.

सावन-भादो मंडप

गोपाल भवन के साथ ही एक ही डिजायन के दो-मंजिले मंडप (Pavilion) हैं जिनके नाम हैं सावन- भादों. यह भी गोपाल सागर की और लटकते हुए प्रतीत होते हैं. इनमें पांच धनुषाकार महराब हैं, जो खोखले स्तंभों पर छतों का भार वहन कर रहे हैं. मंडप की छत बंगाल शैली की है, जिसमें धनुषाकार पत्थर की कलात्मक ढंग से बनी हुई धरन लगी हुई हैं. सावन मंडप में उकेरे हुए हिन्दू रूपक मछली, बच्चों को भोजन खिलाती बतख आदि मन को हरने वाली हैं. एक विद्वान ने कहा है की दूर से देखने पर यह मंडप बहती हुई नाव नजर आते हैं.

सूरज भवन

सूरज भवन डीग

दक्षिण दिशा में संगमरमर का सूरज भवन स्थित है. यह एक हवादार महल है , जिसकी अलंकृत दीवारें व फर्श मन मोह लेते हैं. इसके पश्चिम बरांडे के स्तम्भ व उत्तर के कुछ छज्जों को छोड़कर सम्पूर्ण भवन संगमरमर का बना है. कुछ स्तम्भ व छज्जे बलुआ पत्थर के बने हैं. इन पर चूना कड़ा करके एकरूपता लाई गई है. सूरज भवन के बारे में कहा जाता है कि इसके निर्माण में ताज महल की नक़ल की गई है. सूरज भवन को देख कर स्पष्ट होता है की पूर्णतया मौलिक एवं हिन्दू स्थापत्य कला का बेजोड़ निर्माण है. नुकीले किनारे वाले महराब, वक्र, पत्तियों वाले अलंकृत स्तम्भ आदि सभी हिन्दू रूपक इस भवन में मौजूद हैं, जो कि उदयपुर और आमेर के महलों से साम्य रखते हैं. कई कमरों में छतों में हिन्दू रूपक उलटे कमल बने हुए हैं. थार्टन के अनुसार डीग के महल में दक्षिण बरांडे के कुछ छज्जे, पश्चिम के कुछ स्तम्भ, उत्तर दिशा के बरांडे का फर्श, इन सभी में रूपवास परगने में स्थित बाँसी पहाडपुर का पत्थर इस्तेमाल किया गया है, जो शैली की रमणीयता और शिल्प की पूर्णता की दृष्टि से इतने श्रेष्ठ हैं कि उनसे बढाकर केवल आगरा का ताजमहल है। [23] जबकि सम्पूर्ण भवन संगमरमर का है. यहाँ तक कि छत की पत्तियां भी संगमरमर की हैं. इसकी वजह यह है कि भवन सूरजमल के समय में बनना शुरू हुआ और उनकी मृत्यु के उपरांत जवाहर सिंह के समय में पूर्ण हुआ. संभवतः जवाहर सिंह के समय उतना ध्यान नहीं दिया गया.

सूरज भवन के साथ ही किशन भवन है. इसके सामने उत्तरी दिशा में नन्द भवन है. इस भवन में सभा भवन की भांति एक बड़ा हाल है. जो सात भागों वाले महराबदार स्तंभों की पंक्तियों से घिरा है. इसके दोनों सिरों पर संगमरमर के झरोखे बने हैं. मध्यस्थ स्तंभों पर आधारित महराबें आयताकार रूप में नियोजित की गई हैं. भवन में लाल पत्थर के साथ संगमरमर का प्रयोग भी किया गया है. इसमें लगे तोड़े (Brackets) व छज्जों की लम्बाई १२ फ़ुट तक है.

हिन्दू शैली का एकमात्र महल

सम्पूर्ण भवनों के अवलोकन से यह स्पष्ट हो जाता है कि वास्तव में यह उत्तर भारत में अद्वितीय वास्तुकला का केंद्र है. तकनीक, प्रारूप व्यवस्था एवं शैली इन सभी आधारों पर यह श्रेष्ठ भवन हैं. सम्पूर्ण उत्तर भारत में हिन्दू शैली के एकमात्र महल डीग के जल महल हैं. इन भवनों में काम लाई गई तकनीक आज भी आधुनिकतम बनी हुई है. [24]


महलों की ड्रेनेज व्यवस्था चाहे छत की हो या फर्श तल की , कुशल इंजीनियरिंग का प्रणाम है. आधुनिक विशेषज्ञों का मत है कि इन भवनों में नींव भरने में ताजमहल विधि का अनुशरण किया गया गया है. संभवतया इनके नीचे कमरे नुमा चौकोर कुंए बनाकर उन पर भवनों का निर्माण किया गया है. गोवर्धन ड्रेन से गोपाल भवन में पानी आता है तथा जब गोपाल सागर पूरा भर जाता है तो अतिरिक्त जल साइफन विधि से स्वतः ही ड्रेन के जरिये सावन मंडपनन्द भवन के करीब से होता हुआ रूप सागर में चला जाता है.

जैसा कि ऊपर लिखा गया है सूरज भवन को देख कर स्पष्ट होता है कि पूर्णतया मौलिक एवं हिन्दू स्थापत्य कला का बेजोड़ निर्माण है. नुकीले किनारे वाले महराब, वक्र, पत्तियों वाले अलंकृत स्तम्भ आदि सभी हिन्दू रूपक इस भवन में मौजूद हैं, जो कि उदयपुर और आमेर के महलों से साम्य रखते हैं. कई कमरों में छतों में हिन्दू रूपक उलटे कमल बने हुए हैं. [25]


बेलबूटे ताजमहललाल किले आगरा के किले के संगमरमर के निर्माण से साम्य रखते हैं तो इसका कारण यह है कि कारीगर मुग़ल दरबार का काम छोड़ कर आये थे यह उनकी कला का प्रदर्शन है न कि नक़ल करने का.

भरतपुर राज्य के भवनों की १९ वीं सदी में देखभाल करने वाले अभियंता श्री जे. अच. देवनिश ने इस बारे में कहा है कि -

"अब डीग में जो संगमरमर का एक भवन है वह बारीकियों की दृष्टि से मुग़ल कलाकृतियों से स्पष्टतः भिन्न है."

इसकी सारी भावना हिन्दू है. डीग के महलों के निर्माताओं को इस बात की आवश्यकता बिलकुल नहीं थी कि वे मौलिकता के अभाव में नक़ल करते. या उन्हें और कहीं से लाकर खड़ा करते. ताप मान को नियंत्रित करने के लिए छतों की मोटाई सवा सात फ़ुट तक रखी है. परन्तु साथ ही भार कम करने के लिए मिट्टी के पके बर्तन का सही ढंग से प्रयोग किया गया है. भरतपुर व डीग के भवनों में एक रूपता कायम करने का सुन्दर प्रयास किया गया है. प्रारूप व योजना को जिन रूपक एवं अलंकरणों की मदद से सुन्दर रूप दिया है उससे महाराजा की एक संवेदनशील कलाकार की छवि उभरती है. [26]

इन भवनों के बारे में प्रसिद्द वास्तुविदों ने अपनी-अपनी राय व्यक्त की है. स्थापत्य कला परखी मि. फर्ग्यूसन के अनुसार,

"राजस्थान के राज महलों का निर्माण उनके प्रबंध के दृष्टिकोण से कम या अधिक अव्यवस्थित व बेडौल है और सभी पहाड़ी या ऊँची जगह पर बने हैं, जबकि डीग के राज महल पूर्णतः समतल मैदान में बनाये गए हैं. यह अति द्यष्तोषणीय विकासवादी गुण के शिल्पियों के लिए संतोष प्रदान करते रहेंगे. यह शिल्प सौन्दर्य और भावनात्मक महत्व की दृष्टि से राजपूतों के सभी महलों से अति अत्क्रिष्ट तथा अनुपम हैं. "[27]

डीग के सम्बन्ध में इन्तकाखब्बूतबारीख में लिखा है -

"डीग और दिल्ली उस समय बराबर की शोभा और व्यापार के केंद्र बने हुए थे, डीग भारतवर्ष के दुर्गों की रक्षित स्थानों में प्रथम श्रेणी का था."[28]

Another Deeg

Deeg is a village in tahsil and district Kaithal in Haryana.

See also

External links

Picture gallery of Jat monuments at Deeg


References

  1. Jat History Thakur Deshraj/Chapter IX (Page 632)
  2. डॉ. प्रकाश चन्द्र चांदावत, महाराजा सूरजमल और उनका युग, आगरा, १९८२, पृ. २३६
  3. ब्रोक्मेन, पृ. ११-१३, देवनिश, पृ. १२-२१
  4. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५१
  5. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५१
  6. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५१
  7. डॉ. प्रकाश चन्द्र चांदावत, महाराजा सूरजमल और उनका युग, आगरा, १९८२, पृ. २३६
  8. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  9. Tawarikh-i-Hunud (Pers. Ms.) 22a, Also see Dirgh (Hindi Ms.), 1-2, Ras Peeushnidhi in Somnath, 6; Qanungo, Jats, 287f.
  10. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  11. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  12. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  13. डॉ ज्ञान प्रकाश पिलानिया:हेरिटेज ऑफ़ सवाई जयसिंह, पृ. 9
  14. डॉ नत्थन सिंह: जाट इतिहास, ग्वालियर, २००४, पृ.२५५-२५६
  15. डॉ नत्थन सिंह: जाट इतिहास, ग्वालियर, २००४, पृ.२५८ -२५९
  16. के. नटवरसिंह: महाराजा सूरजमल, पृ.४१
  17. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  18. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  19. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  20. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  21. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५२
  22. Memoires des Jats, (Fr. Ms.), 44, See also Dirgh (Hindi Ms.), 1.
  23. डॉ. प्रकाश चन्द्र चांदावत, महाराजा सूरजमल और उनका युग, आगरा, १९८२, पृ. २३६
  24. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५३
  25. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५३
  26. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५४
  27. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५४
  28. राघवेन्द्र कुमार रावत:जाट समाज आगरा, अक्टूबर-नवम्बर, २००७, पृ. ५४



Back to Places