Bidasar Sujangarh

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Location of Bidasar (Sujangarh) in Churu district

Bidasar (बीदासर) is a Municipality in Sujangarh tahsil in Churu district in Rajasthan. PIN: 331501. It was a district under Mohil Jat rulers with capital at Chhapar prior to the rule of Rathores. [1]

Founders

Founders of the area were Mothsara Jats but later Rathores renamed it Bidasar

History

Bidasar gets name after Bida Rathore. Prior to this the area was ruled by Jats.

Chandan Mothasara told on the basis of Mothasara's Bhat, resident of Lachhadsar, that Mothasara Jats were pattidar of small area of Bidasar. At that time they had a war with Bidawats and killed their leader as the army of Motsaras was more strong & organised. Later on when Bidawats came to power Mothasaras moved to Bhaleri in Churu from Bidasar area. Mothsaras after staying in Bhaleri for some time went to Naharana. They are still living in Naharana.

इतिहास

कर्नल जेम्स टोड ने लेख किया है कि इनके अलावा तीन और विभाग थे - बागौर, खारी पट्टी और मोहिल। इन पर भी राठौड़ों का प्रभुत्व कायम हो गया था। राजपूत शाखाओं से छिने गए तीन विभाग राज्य के दक्षिण और पश्चिम में थे जिनका विवरण नीचे दिया गया है. [2]

अनुक्रमांक नाम जनपद नाम मुखिया गाँवों की संख्या राजधानी अधिकार में प्रमुख कस्बे
7. बागौर 300 बीकानेर, नाल, किला, राजासर, सतासर, छतरगढ़, रणधीसर, बीठनोक, भवानीपुर, जयमलसर इत्यादि।
8. मोहिल 140 छापर छापर, सांडण, हीरासर, गोपालपुर, चारवास, बीदासर, लाडनूँ, मलसीसर, खरबूजा कोट आदि
9. खारी पट्टी 30 नमक का जिला

मोहिल-महला-माहिल जाटवंश का इतिहास

दलीप सिंह अहलावत[3] लिखते हैं कि मोहिल जाटवंश राज्य के अधीन छापर राजधानी के अंतर्गत हीरासर एक परगना था।

मोहिल जाटवंश राज्य - मोहिल जाटवंश ने बीकानेर राज्य स्थापना से पूर्व छापर में जो बीकानेर से 70 मील पूर्व में है और सुजानगढ़ के उत्तर में द्रोणपुर में अपनी राजधानियां स्थापित कीं। इनकी ‘राणा’ पदवी थी। छापर नामक झील भी मोहिलों के राज्य में थी जहां काफी नमक बनता है। कर्नल जेम्स टॉड ने अपने इतिहास के पृ० 1126 खण्ड 2 में लिखा है कि “मोहिल वंश का 140 गांवों पर शासन था।

मोहिल वंश के अधीन 140 गांवों के जिले (परगने) - छापर (मोहिलों की राजधानी), हीरासर, गोपालपुर, चारवास, सांडण, बीदासर. लाडनू, मलसीसर, खरबूजाराकोट आदि। जोधा जी के पुत्र बीदा (बीका का भाई) ने मोहिलों पर आक्रमण किया और उनके राज्य को जीत लिया। मोहिल लोग बहुत प्राचीनकाल से अपने राज्य में रहा करते थे। पृ० 1123.


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-250


मोहिलों के अधीश्वर की यह भूमि माहिलवाटी कहलाती थी।” जोधपुर के इतिहास के अनुसार राव जोधा जी राठौर ने माहिलवाटी पर आक्रमण कर दिया। राणा अजीत माहिल और राणा बछुराज माहिल और उनके 145 साथी इस युद्ध में मारे गये। राव जोधा जी राठौर की विजय हुई। उसी समय मोहिल फतेहपुर, झुंझुनू, भटनेर और मेवाड़ की ओर चले गये। नरवद माहिल ने दिल्ली के बादशाह बहलोल लोधी (1451-89) से मदद मांगी। उधर जोधा जी के भाई कांधल के पुत्र बाघा के समर्थन का आश्वासन प्राप्त होने पर दिल्ली के बादशाह ने हिसार के सूबेदार सारंगखां को आदेश दिया कि वह माहिलों की मदद में द्रोणपुर पर आक्रमण कर दे। जोधपुर इतिहास के अनुसार कांधलपुत्र बाघा सभी गुप्त भेद जोधा जी को भेजता रहा। युद्ध होने पर 555 पठानों सहित सारंगखां परास्त हुआ और जोधा जी विजयी बने। कर्नल टॉड के अनुसार जोधा के पुत्र बीदा ने मोहिलवाटी पर विजय प्राप्त की। राव बीदा के पुत्र तेजसिंह ने इस विजय की स्मृतिस्वरूप बीदासर नामक नवीन राठौर राजधानी स्थापित की। तदन्तर यह ‘मोहिलवाटी’ ‘बीदावाटी’ के नाम से प्रसिद्ध की गई। इस प्रदेश पर बीदावत राजपूतों का पूर्ण अधिकार हो गया। राजपूतों ने इस प्राचीनकालीन मोहिलवंश को अल्पकालीन चौहानवंश की शाखा लिखने का प्रयत्न किया।[4] किन्तु इस वंश के जाट इस पराजय से बीकानेर को ही छोड़ गये।

Jat Gotras

Other castes are: Other caste in Bidasar (jain oswal), bramhin, rajput, yadav, sain, parjapat, agarwal, jangid, saini, rajpurohit, swami, maheshwari, siddh, gurjar, modi, meghwal, harijan, regar, muslim,

Source - As provided by Ramesh Dadhich from Bidasar

Population

As per 2001 India census, Bidasar has a population of 30,103. Males constitute 52% of the population and females 48%.

Religion

Most of people are Hindu by faith. The Jain community of Bidasar is primarily Swetembar Terapanth. The town is of historical significance for Jainism; there is a tradition that burning coals rained from sky when the founder saint of Terapanth, Acharya Shri Bhikshu Swami Ji, was worshiping in Bidasar. There are many religious functions and festivals, including Dandia Naritya during the Navratra festival. A well-known play, Ramleela, is performed every year by Bidasar's youngsters during Navratra.

Notable persons

  • Chanda Bugalia- Beedasar, Joint Secretary, Smt Parmeshwari Devi Mahavidyalay, Beedasar

External links

References

  1. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III, p. 250
  2. कर्नल जेम्स टोड कृत राजस्थान का इतिहास, अनुवाद कालूराम शर्मा,श्याम प्रकाशन, जयपुर, 2013, पृ.402-403
  3. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ-250,251
  4. जाटों का उत्कर्ष, 337-338 लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; जाट इतिहास उर्दू पृ० 378-380, लेखक ठा० संसारसिंह।

Back to Jat Villages