Ladnu

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Location of Ladnu in Nagaur district

Ladnu or Ladnun (लाडनूं) is a town and tehsil in Nagaur district in Rajasthan. It was a district under Mohil Jat rulers with capital at Chhapar prior to the foundation of the rule of Rathores in this part of the country. [1]

History

Ladnu is ancient town of the Mahabharata period. It was ruled by Dahliya Panwars, the descendants of Shishupala. Later on its rulers were Bagadiyas when it was called Chanderi. Afterwards the name changed to Hemawas, Hewas, and Ladnu. In early 12th century Vikrami Era it was occupied by Mohil Chauhans for about a century. In 16th century AD it came under Maldeo Rathore. [2]

इतिहास

कर्नल जेम्स टोड ने लेख किया है कि इनके अलावा तीन और विभाग थे - बागौर, खारी पट्टी और मोहिल। इन पर भी राठौड़ों का प्रभुत्व कायम हो गया था। राजपूत शाखाओं से छिने गए तीन विभाग राज्य के दक्षिण और पश्चिम में थे जिनका विवरण नीचे दिया गया है. [3]

अनुक्रमांक नाम जनपद नाम मुखिया गाँवों की संख्या राजधानी अधिकार में प्रमुख कस्बे
7. बागौर 300 बीकानेर, नाल, किला, राजासर, सतासर, छतरगढ़, रणधीसर, बीठनोक, भवानीपुर, जयमलसर इत्यादि।
8. मोहिल 140 छापर छापर, सांडण, हीरासर, गोपालपुर, चारवास, बीदासर, लाडनूँ, मलसीसर, खरबूजा कोट आदि
9. खारी पट्टी 30 नमक का जिला

मोहिल-महला-माहिल जाटवंश का इतिहास

दलीप सिंह अहलावत[4] लिखते हैं कि मोहिल जाटवंश राज्य के अधीन छापर राजधानी के अंतर्गत हीरासर एक परगना था।

मोहिल जाटवंश राज्य - मोहिल जाटवंश ने बीकानेर राज्य स्थापना से पूर्व छापर में जो बीकानेर से 70 मील पूर्व में है और सुजानगढ़ के उत्तर में द्रोणपुर में अपनी राजधानियां स्थापित कीं। इनकी ‘राणा’ पदवी थी। छापर नामक झील भी मोहिलों के राज्य में थी जहां काफी नमक बनता है। कर्नल जेम्स टॉड ने अपने इतिहास के पृ० 1126 खण्ड 2 में लिखा है कि “मोहिल वंश का 140 गांवों पर शासन था।

मोहिल वंश के अधीन 140 गांवों के जिले (परगने) - छापर (मोहिलों की राजधानी), हीरासर, गोपालपुर, चारवास, सांडण, बीदासर. लाडनू, मलसीसर, खरबूजाराकोट आदि। जोधा जी के पुत्र बीदा (बीका का भाई) ने मोहिलों पर आक्रमण किया और उनके राज्य को जीत लिया। मोहिल लोग बहुत प्राचीनकाल से अपने राज्य में रहा करते थे। पृ० 1123.


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-250


मोहिलों के अधीश्वर की यह भूमि माहिलवाटी कहलाती थी।” जोधपुर के इतिहास के अनुसार राव जोधा जी राठौर ने माहिलवाटी पर आक्रमण कर दिया। राणा अजीत माहिल और राणा बछुराज माहिल और उनके 145 साथी इस युद्ध में मारे गये। राव जोधा जी राठौर की विजय हुई। उसी समय मोहिल फतेहपुर, झुंझुनू, भटनेर और मेवाड़ की ओर चले गये। नरवद माहिल ने दिल्ली के बादशाह बहलोल लोधी (1451-89) से मदद मांगी। उधर जोधा जी के भाई कांधल के पुत्र बाघा के समर्थन का आश्वासन प्राप्त होने पर दिल्ली के बादशाह ने हिसार के सूबेदार सारंगखां को आदेश दिया कि वह माहिलों की मदद में द्रोणपुर पर आक्रमण कर दे। जोधपुर इतिहास के अनुसार कांधलपुत्र बाघा सभी गुप्त भेद जोधा जी को भेजता रहा। युद्ध होने पर 555 पठानों सहित सारंगखां परास्त हुआ और जोधा जी विजयी बने। कर्नल टॉड के अनुसार जोधा के पुत्र बीदा ने मोहिलवाटी पर विजय प्राप्त की। राव बीदा के पुत्र तेजसिंह ने इस विजय की स्मृतिस्वरूप बीदासर नामक नवीन राठौर राजधानी स्थापित की। तदन्तर यह ‘मोहिलवाटी’ ‘बीदावाटी’ के नाम से प्रसिद्ध की गई। इस प्रदेश पर बीदावत राजपूतों का पूर्ण अधिकार हो गया। राजपूतों ने इस प्राचीनकालीन मोहिलवंश को अल्पकालीन चौहानवंश की शाखा लिखने का प्रयत्न किया।[5] किन्तु इस वंश के जाट इस पराजय से बीकानेर को ही छोड़ गये।

Location

It is located on NH-65 between Nagri and Kharnal. It was earlier known as Chanderi Nagari. It is 380 km West of Delhi and 225 km north west of Jaipur.

Villages in Ladnu tahsil

Anesariya (अनेसरिया), Asota (आसोटा), Badela (बाडेला), Bader (बादेड़), Baldoo (बल्दू), Balsamand (बालसंमद), Bakliya (बांकलिया), Ber (बेड़), Bhamas (भामास), Bharnawa (भरनांवा), Bhidasari (भिंडासरी), Bhiyani (भियाणी), Bithooda (बिठुडा), Chak Goredi (चक गोरेडी), Chandrai (चन्द्राई), Chhapara (छपारा), Chundasariya (चुण्डासरिया), Dabri (डाबडी), Datau (दताऊ), Deora (देवरा), Dheengsari (ढींगसरी), Dholiya (धोलिया), Dhurila (धुडिला), Dhyawa (ध्यावा), Dobron Ka Bas (डोबरों का बास), Dujar (दुजार), Genana (गेनाणा), Gheerdoda Khara (घिरड़ोदा खारा), Gheerdoda Meetha (घिरड़ोदा मीठा), Girdharipura (गिरधारीपुरा), Godaron Ka Bas (गादारों का बास), Goredi (गोरेडी), Gunpaliya (गुणपालिया), Hirawati (हीरावती), Hudas (हुड़ास), Husenpura (हुसैनपुरा), Indrapura (इन्द्रपुरा), Jaswant Garh (जसवंत गढ़), Jeslan (जैसलान), Jhardiya (झरड़िया), Jhekariya (झेकरिया), Kasan (कासण), Kasumbi Alipur (कसुम्बी अलीपुर), Kasumbi Jakhlan, (कसुम्बी जाखलान), Kasumbi Naliya, (कसुम्बी नलिया), Kasumbi Upadara, (कसुम्बी उपादडा), Khamiyad (खामियाद), Khangar (खंगार), Khanpur (खानपुर), Kheenwaj (खिंवज), Khindas (खिन्दास), Khokhari (खोखरी), Koyal (कोयल), Kumasiya (कुमिसया), Kushalpura Nagaur (कुशालपुरा), Kusumbi Alipur (कसुम्बी अलीपुर), Kusumbi Upadra (कसुम्बी उपादडा), Kusumbi Jakhala (कसुम्बी जाखला) Kusumbi Naliya (कसुम्बी निलया), Lachhri (लाछड़ी), Ladnu लाडनूं (M), Ledi (लैडी), Lenin Gram (लेनिन ग्राम), Lodsar (लौडसर), Lukas (लुकास), Malasi (मालासी), Malgaon (मालगांव), Mangalpura (मंगलपुरा), Manu (मणू), Manu Ki Dhani (मणू की ढाणी), Meendasari (मिण्डासरी), Meethri (मीठड़ी), Nandwan (नन्दवान), Natas (नाटास), Nimbi Jodhan (निम्बी जोधा), Odeet (ओडीट), Padampura (पदमपुरा), Peepakuri (पीपाकुडी), Phirwasi (फिरवासी), Raidhana (रायधना), Rampura (रामपुरा), Ratau (रताऊ), Ratheel (राठील), Reengan (रींगण), Rewaron Ka Bas (रेवाड़ों का बास), Ridmalas (रिड़मलास), Rodoo (रोडू), Roja (रोजा), Sandas (सांडास), Sanwrad (सांवराद), Sardi (सारड़ी), Seenwa (सींवा), Shimla (शिमला), Shri Krishanpura (श्री कृष्णपुरा), Shyampura Ladnu, Sikrali (सिकराली), Silanwad (सिलनवाद), Sunari (सुनारी), Tanwara (तंवरा), Tiloti (तिलोटी), Tipani (तपनी), Titri (तितरी), Toki (टोकी), Udrasar (उदरासर), Vishwanathpura (विश्वनाथपुरा),

Jat gotras

Dudee

Transport

It is well served by deluxe and express bus services from Jaipur, Jodhpur, Bikaner, Udaipur, Ajmer, Ahemdabad, Delhi and other cities. From Delhi-Sarai Rohilla there are trains up to Ratangarh Junction. From Ratangarh journey to Ladnun is of 2 hours by bus or local trains. The nearest airports are Jaipur and Jodhpur.

Jain temples

It offers some of the best jain temples around the globe. It is also famous for Terapanth Vishva Bharati Institution (founded by Acharya Tulsi in 1970). Jainism has a long history in Ladnun. Some of its temples - in all there are five digambara and two shvetambara ones - are said to date back to the tenth century; their superstructures, however are of later centuries.

Demographics

As of 2001 Ladnu had a population of 57,047. Males constitute 51% of the population and females 49%. Ladnu has an average literacy rate of 60%, higher than the national average of 59.5%: male literacy is 71%, and female literacy is 49%. In Ladnu, 17% of the population is under 6 years of age.

Notable persons

  • Ramu Ram Lol (चौधरी रामूराम लोयल), from Ladnu (लाडनू), Nagaur, was a social worker in Nagaur, Rajasthan.[6]
  • Chaudhari Ramuram Lol (Ladnu), was among the five Jats who became martyr in Dabra kand in opposing the oppressive activities of jagirdars on 13 March 1947.
  • Chaudhari Rugha Ram Lol (Ladnu), was among the five Jats who became martyr in Dabra kand in opposing the oppressive activities of jagirdars on 13 March 1947.
  • Chaudhari Kishanaram Lol (Ladnu), was among the five Jats who became martyr in Dabra kand in opposing the oppressive activities of jagirdars on 13 March 1947.

External links

References

  1. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III, p. 250
  2. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 234
  3. कर्नल जेम्स टोड कृत राजस्थान का इतिहास, अनुवाद कालूराम शर्मा,श्याम प्रकाशन, जयपुर, 2013, पृ.402-403
  4. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ-250,251
  5. जाटों का उत्कर्ष, 337-338 लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; जाट इतिहास उर्दू पृ० 378-380, लेखक ठा० संसारसिंह।
  6. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.208

Back to Jat Villages