Fatehpur Sikar

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Note - Please click → Fatehpur for details of similarly named villages at other places.


Fatehpur Fort
Location of Fatehpur in Sikar district
View of a Ganeriwala Talab situated in beer Fatehpur

Fatehpur (फतेहपुर) is a town in Sikar district in Rajasthan.

Founder

The village was known as 'Jaton Ka Bas' before Kayamkhani Ruler Fatehkhan renamed as Fatehpur in 1451 AD. [1] Earlier the area belonged to Chaudhari Ganga Ram. [2]

Location

It is midway between Jaipur and Bikaner on National Highway -11. Fatehpur is famous for grand havelis with frescos, which is speciality of the Shekhawati region.A number of Bawdis are also centres of attraction here.

Villages in Fatehpur tahsil

Alafsar, Almas, Asas, Athwas, Bagas, Bagdoda, Bairas, Balod Bari, Balod Bhakharn, Balod Chhoti, Bari, Bathod, Bavla, Beer Fatehpur, Beswa, Bhagasara, Bhakharwasi, Bheechri, Bheekamsara, Bhojdesar, Bibipur Bara, Bibipur Chhota, Biraniya, Chacheewad Bara, Chacheewad Chhota, Chuwas, Dabri, Dadunda, Dantru, Daulatabad, Deenarpura, Deenwaladkhani, Dewas, Dhakali, Dhakasa, Dhandhan, Dhani Baijnath, Dhani Hattidan Charan, Dhani Kalyanpura, Dhani Khareta, Dhani Lawanda, Dhani Neema, Dhani Pooniyan, Dhani Ridmal, Dhani Sunda, Dhani Thedi, Fadanpura, Fatehpur, Gangapura, Gangyasar, Garandwa, Garinda, Godiya Bara, Goras, Goriya Chhota, Govindpura Hardayalpura, Gudrawas, Harsawa Bara, Harsawa Chhota, Hetamsar Fatehpur, Hirna, Hodsar, Hudera, Jalalsar, Jaleu, Jethwan Ka Bas, Jugalpura, Kalyanpura, Kangansar, Karanga Bara, Karanga Chhota, Kayamsar, Khotiya, Khuri, Kishanpura, Lawanda, Madhopura, Mandela Bara, Mandela Chhota, Mardatoo Bari, Mardatoo Chhoti, Nabipura, Nagardas, Nangali, Nari, Narsara, Narsara Hardayalpura Naya Bas, Nethwa, Palas, Ramgarh Sikar, Rampura, Ramsisar, Rasoolpur, Rinau, Rohal, Rookansar, Rosawa, Rughnathpura, Sadeensar, Sahabsar, Sahnoosar, Sanjhasar, Sardarpura, Sawai Laxmanpura, Sawaroopsar, Shekhisar, Sigaro Ki Dhani, Swami Ki Dhani, Tajsar, Takhalsar, Thedi, Theemoli, Thethaliya, Thithawata Bodiya, Thithawata Peeran, Tihawali, Tihay, Udansar, Udansari

History

Fatehpur was strategically located on the route from Sambhar to Hisar, a trade route of Salt. Ramgopal Ganeriwal Talab , also called Sankhalwala Johda (सांखळवाला जोहड़ा), was located on this route. Near the Ganeriwal Talab was also built a well and a Dharmshala for the travelers.[3]

From the founding of Fatehpur in samvat 1508 (=1451 ई.) to samvat 1787 (=1730 ई.) Kayamkhani 12 Nawabs ruled for total 279 years. Rao Raja Sikar Shiv Singh Shekhawat (Rajput) took it over in samvat 1788 (=1731 AD) on chaitra shukla 1. From 1731 to 1947 10 Shekhawat Jagirdars ruled till 1947 for a period of 216. [4]

  • Fatehkhan (1436-1474 AD) - The Muslim Kaimkhani Nawab, Fatehkhan (1436-1474 AD) established Fatehpur in 1451. He constructed the fort of Fatehpur in 1449 and ruled upto 1474. [5]It served as the capital of Fateh Khan, the Muslim Nawab.
  • Jalal Khan (1474-1489 AD) - Fatehkhan's eldest son was Jalal Khan (1474-1489 AD), who founded the village Jalalsar at a distance of 10 km south of Fatehpur. After death of Fateh Khan in 1474, Jalal Khan became the Nawab of Fatehpur. Jalal Khan was a warrior and kind Nawab. He had left the Fatehpur bid (forest land), north of village Harsawa, for the purpose of grazing of animals.[6] Jalalkhan died in 1489 (samvat 1546). [7].
  • Daulat Khan (1489-1513 AD) - After Jalal Khan his son Daulat Khan (1489-1513 AD) became nawab of Fatehpur in 1489 (samvat 1546), who founded village Daultabad in north of Fatehpur, which is now a mohalla of Fatehpur. He ruled till 1513 (samvat 1570). During his rule there was a tension between Jhunjhunu nawab Bhikan Khan and Nuan nawab Mohabbat Khan. Daulat Khan attacked Jhunjhunu in favour of Nuan. Bhikan Khan was defeated in Abusar war and Mohabbat Khan was made nawab of Jhunjhunu. [8]
  • Nahar Khan (1513-1545 AD) - In 1513, Nahar Khan (1513-1545 AD), son of Daulat Khan, became Nawab. He attacked Rathores and win over many Rajputs in his favour. Nahar Khan founded a town named Narsara in southwest of Fatehpur at a distance of about 12 km. During the rule of Nahar Khan, Delhi Sultnate had seen five badshas namely Sikandar Lodhi, Ibrahim Lodhi, Babur, Humayun, and Shershah. From the reign of Fateh Khan, the nawabi of Fatehpur was under Delhi Sultnate, which became free in 1543 (samvat 1600). [9] From the time of founding of Fatehpur till the fall in 1631 (samvat 1688), all the nawabs were associated with Delhi Sultnate. [10]
  • Fadan Khan (1545-1552 AD)After Nahar Khan, Fadan Khan (1545-1552 AD) became nawab in 1545 (samvat 1602), [11] who founded village Fadanpura. Fadan Khan had wars with Chhapoli, Tonk, Ponkh etc rulers and won the wars. He also defeated Bidawats of Chhapar, many Bhaumias, and helped Bahadur Khan to get Jhunjhunu.
  • Taj Khan (1552-1570 AD) - In 1552 (samvat 1609), Taj Khan (1552-1570 AD), son of Fadan Khan, became Nawab, who founded village Tajsar, in north at a distance of 4 km.
  • Alaph Khan (1570-1626 AD) - Taj Khan made his grandson, Alaph Khan (1570-1626 AD), as his successor in 1570 (samvat 1627). [12] Alaph Khan founded village Alapsar near Beswa. [13] Alaph Khan is considered to be the bravest nawab of fatehpur. He took part in a number of wars from the side of Akbar and Jahangir. He suppressed the Jats of Bhiwani.
  • Daulat Khan II (1626-1653 AD) - After death of Alaph Khan in 1626 AD his son Daulat Khan II got the nawabi. He founded village Daulatpura, now in Bikaner district. Daulat Khan II had 3 sons:1. Tahar Khan, 2. Mahar Khan, 3. Asad Khan. Eldest son Tahar Khan died during lifetime of Daulat Khan II. Village Tarpura Sikar was founded after Tahir Khan. Tahir Khan had 2 sons - 1. Sardar Khan and 2. Dindar Khan. [14]
  • Sardar Khan I (1653-1680 AD) - Sardar Khan I was son of Tahir Khan. Daulat Khan and Tahir Khan died in Samvat 1710 (=1653 AD), so Sardar Khan I got the nawabi. He founded village Sardarpura in his name. [15]
  • Dindar Khan (1680-1703 AD) - Dindar Khan left Nawabi of Fatehpur to his grandson Sardar Khan II. Dindar Khan founded village Dinarpura on way to [[Jhunjhunu. Dindar Khan had two sons - 1. Rashid Khan and 2. Muzaffar Khan. Rashid Khan founded village Rashidpura. [16]
  • Sardar Khan II (1703-1729 AD) - Sardar Khan II was grandson of Dindar Khan and son of Rashid Khan. He was not capable. He kept a telin after whose name constructed Telin Mahal. He had son from Telin Rani called Mahbub Khan. [17]
  • Kamyab Khan (1729-1730 AD) - Sardar Khan II desired to handover nawabi to Mahbub Khan but other Qayamkhanis and Rao Shiv Singh forced to give navabi to Kamyab Khan, who was son of Nawab's younger brother Mir Khan. [18]

Meanwhile, Sawai Man Singh, changed a policy, he gave the Jagirdaris to Kachhawa khap of his own community. The ignorance of Muslims led to unrest from their side but it was suppressed and the nawabi of Fatehpur vanished in 1788 AD. [19]

The fort of Fatehpur, at present, is very neglected. The front portion has been encroached upon and residential as well as commercial buildings have been constructed. The boundary wall is 8 feet wide and still intact. The Fort needs preservation. [20]

फतेहपुर का इतिहास

नलिन सराफ [21] ने फतेहपुर का इतिहास यों वर्णन किया है। ....पहले यहाँ समुद्र हुआ करता था जो प्राकृतिक कारणों से यहाँ से हट कर दक्षिण में विस्थापित हुआ और यहाँ रेत का ढेर बन गया। भूगर्भवेता भी इस बात से सहमत हैं क्योंकि यहाँ समुद्री जीव अवशेष, सीप, शंख, कौड़ी आदि बालू रेत में दबे मिलते हैं। पुरातत्ववेताओं व इतिहासकारों का मानना है कि यह मरुस्थल महाभारतकाल में महाराज विराट के साम्राज्य का अंग था। इसके बाद 2500 वर्षों का इतिहास अप्राप्त है।

कालांतर में, कायमखानी नवाब फतहखाँ जो दिल्ली के अस्थिर शासन से आहत थे, हिसार में अपने को असुरक्षित समझने लगे। अपने अस्तित्व को कायम रखने के लिए निरंतर युद्ध करने पड़ते थे। ऐसे में एक सुरक्षित स्थान की खोज में वहाँ से चलकर आए और रिणाऊ नामक गाँव में डेरा डाला। वहाँ पास ही एक खुली जमीन दिखाई पड़ी, जहां विशाल हरित क्षेत्र था। इसके बीच में एक जगह बड़ा ताल-सा भी था। इसके आस-पास करीब एक-डेढ़ कि.मी. परिधि में कुछ छोटी-छोटी बस्तियाँ थी। यहाँ का भूतल नीचा होने से बाहर किसी भी तरफ से नजर नहीं आता था। नवाब ने इसे एक उपयुक्त व सुरक्षित स्थान समझ यहीं नया शहर बसाने का निश्चय किया। संवत 1506 में इसी स्थान पर अपना दुर्ग बनाने की योजना बनाई।


रतन लाल मिश्र के अनुसार रासो का कथन है कि बहलोल लोदी बादशाह के विरोध के कारण फतेह खां हिसार में नहीं रह सका. उसने फतेहपुर नगर बसाया जहाँ पहले जंगल था और जलाशय थे. जब तक किला बनता रहा तब तक फतह खां रिणाऊ गाँव में रहा. उसने 6 किलों , पल्हू, भादरा, भाडंग, बाइला, और फतेहपुर की नींव एक साथ रखी. फतेहपुर के अतिरिक्त उक्त सभी स्थान वर्तमान चुरू एवं गंगानगर जिलों में पड़ते हैं. पल्लू, भादरा हनुमानगढ़ जिले में एवं सहेवा, भाडंग और बायला चुरू जिले में पड़ते हैं. रासो के अनुसार फतेहपुर की बसावट संवत 1508 (1451 ई.) की है. फतेहपुर के पुराने सरावगियों के मंदिर में एक शिलालेख मिला है, जिसके अनुसार इस मंदिर का संवत 1508 फागण सुदी 2 को सेठ तुहिन मल ने नींव का पत्थर रखा. [22]

रतन लाल मिश्र[23]लिखते हैं कि एक दूसरा प्रमाण भी है जो फतेहपुर नगर के बसने की बात को थोड़ा पीछे ले जाता है. फ़तेहखां फतेहपुर आया तो अपने साथ पंडित, सेठ, साहूकार लेकर आया. श्री किशनलाल ब्रह्मभट्ट की बही के लेख से ज्ञात होता है कि फ़तेहखान हिसार से संवत 1503 में ही इधर आ गया था. इस बही में यों लिखा है -

"हरितवाल गोडवाल नारनोल से फतेहपुर आया, संवत 1503 की साल नवाब फ़तेहखां की वार में चौधरी गंगाराम की बार में."

यह वही संवत है जब बहलोल लोदी ने बादशाह बनने के पूर्व ही हिसार और उसके आस-पास के क्षेत्र पर कब्ज़ा कर लिया था.

रतन लाल मिश्र [24] ने लिखा है कि फ़तेह खां ने जहाँ किला बनाना प्रारंभ किया वहां जंगल और जलाशय थे तथा महात्मा गंगादास की धूणी थी. किला बनाने के लिए फ़तेह खां के लोगों ने महात्माजी को उठाने के लिए कहा. महात्माजी ने कहा कि किला थोड़ा बांका बनालो. सैनिकों ने बात नहीं मानी तो महात्माजी क्रुद्ध होकर जलती धूणी की रख झोली में डाल कर चल दिए. सैनिकों ने यह चमत्कारिक घटना रिनाऊ जाकर फ़तेह खां को सुनाई. फ़तेह खां साधू के शाप के डर से भयभीत होकर महात्मा जी के पास आया. उस समय महात्माजी जांट के नीचे धूनी रचाए बैठे थे जहाँ आज कल चूना है. फ़तेह खां ने महात्माजी से लौटने का कहा पर वे टस से मस नहीं हुए. इसी स्थान पर आज भी महात्मा गंगादास जी का मंदिर और समाधी स्थल हैं. यहीं एक फारसी का सिलालेख भी है जिस पर मंदिर का निर्माण संवत 1505 (1448 ई.) लिखा है. [25]

नलिन सराफ[26] ने लिखा है कि महात्मा गंगादास जी के देह विलय पर वहीं एक समाधि बनादी गई। कालांतर में वहाँ एक मंदिर बन गया जो उनके शिष्य सारनाथजी के नाम से आज भी विद्यमान है। यहाँ आजतक निरंतर अग्निपुंज जलता रहता है। यहाँ फारसी में लगे एक शिलालेख के अनुसार इसका स्थापना काल संवत 1549 (=1492 ई.) बताया गया है।

फ़तेह खां जब चित्तोड़ में था तब राठोड़ कान्धल, फतेहपुर पर आक्रमण के लिए बढ़ा. यह सेना बीकानेर के क्षेत्र की ओर से आ रही थी. फ़तेहखां के वीर सेनापति सरखेल बहुगुण के नेतृत्व में फतेहपुर से 16 मील दक्षिण में अलखपुरा के पास बीड में दोनों सेनाओं का सामना हुआ. बहुगुण बड़ी वीरता से लड़ा पर मारा गया. राठोड़ की फैज ने फतेहपुर को लूटा और जला दिया. कहते हैं कि इस लूट मार में फतेहपुर नगर की रक्षा गंगादास जी ने की थी. संभवत:इस वीतरांग एवं सिद्ध सम्पन्न साधू के प्रभाव के करण राठोड़ सेना कुछ विनास कर लौट गयी. [27][28]

नलिन सराफ[29] ने लिखा है कि किले के पास ही राठौड़जी का कुआं है। इसके मरवे के पास शिलालेख फारसी व संकृत भाषा में लिखा है। इसे संभवत: नवाब सरदार खाँ की बीबी रानी राठौड़जी ने संवत 1737 (=1680 ई.) में बनवाया था। यह शिलालेख अब खंडित व असपष्ट है।

नलिन सराफ[30] ने लिखा है कि गढ़ दो वर्षों में बन कर तैयार हुआ और नवाब फतहखाँ ने अपने दरबारियों, विश्वस्त मुसाहिबों, कर्मचारियों, सैनिकों आदि पूरे दल के साथ चैत्र शुक्ल 5 संवत 1508 (=1451 ई.) को इसमें प्रवेश किया। सबकी राय व सलाह पर इस शहर का नाम फतहपुर रखा। यह ज्ञात नहीं हो सका कि शहर का नाम फ़तहगढ़ या फतहाबाद क्यों नहीं रखा। नवाब फतह खाँ के खास मुसाहिब तुहिनमलजी थे। उन्होने नवाब की अनुमति से उनको प्रदत्त भूमि पर एक जैन मंदिर बनवाया। इस मंदिर में कई प्राचीन शिलालेख, ताम्रपत्र व अन्य पांडुलिपियाँ सुरक्षित हैं। एक शिलालेख के अनुसार इस मंदिर का निर्माण फाल्गुन शुक्ल 2 संवत 1508 (=1451 ई.)है। यहाँ एक सप्तधातु मूर्ति संवत 1069 (=1012 ई.) निर्मित तथा दूसरी पाषाण की संवत 1113 (=1076 ई.) निर्मित है।

नलिन सराफ[31] ने लिखा है कि नवाब फतहखाँ द्वारा निर्मित गढ़ का जीर्णोद्धार उसके वंशज नवाब दौलत खाँ द्वितीय ने अपने पिता नवाब अलिफ खाँ के राज्यकाल में उसकी अनुमति से संवत 1662 (=1605 ई.) में करवाया। उसी समय गढ़ के चारों ओर एक सुरक्षात्मक नहर बनवाई। इसीने अपने पिता के राज्यकाल में ही संवत 1671 (=1614 ई.) में ऐतिहासिक बावड़ी का निर्माण करवाया। इसकी गणना विश्व के 17 आश्चर्यों में की जाती है। इसके परिसर में जाने के लिए एक विशाल दरवाजा होता था जिसे बावड़ी दरवाजा कहा जाता था। यह धरोहर आज कचराघर में परिवर्तित हो गई है। बावड़ी दरवाजा तो इस क्षेत्र का नाम भर रह गया है।

नलिन सराफ[32] ने लिखा है कि नाहर खाँ की मृत्यु के बाद उनके पुत्र फदनखाँ जब नवाब बने तो मुगल बादशाह अकबर ने उन्हें दिल्ली दरबार बुलाकर सम्मानित किया व उच्च पद की प्रतिष्ठा दी। चूंकि नवाब फदनखाँ सम्राट हुमायूँ के समय से दिल्ली दरबार में जाते रहे हैं और सम्राट हुमायूँ इनकी वीरता का प्रशंसक था। अतः सम्राट अकबर भी उनका आदर करता था। नवाब ने बादशाह के लिए कई लड़ाईयाँ लड़ी और जीत दर्जकी। नवाब फदनखाँ बादशाह अकबर के साथ अपनी पुत्री ताज बीबी की शादी कर रिश्तों को मजबूती दी। ताज बीबी हिन्दी की सुप्रसिद्ध कवयित्रि थी। ताज बीबी पर आगरा में एक मकबरा बना जो आज भी विद्यमान है।


रतन लाल मिश्र [33] ने लिखा है कि अल्फ़ खां की मृत्यु के बाद उसका पुत्र दौलत खां (दूसरा) फतेहपुर का नवाब बना । बादशाह जहाँगीर ने इसे मनसब देकर कांगड़े में नियुक्त किया । दौलत खां १४ वर्ष तक कांगड़े में रहा फिर उसकी नियुक्ति काबुल और पेशावर में हो गयी । दौलत खां का पुत्र ताहिरखां भी बादशाह का मनसबदार बन गया । दौलत खां ने फ़तेहपुर के किले का जीर्णोद्धार कराया । किले के चारों तरफ एक खाई बना कर इसे जल से पूर्ण करवाया । इसने अपनी देख-रेख में पिता के राज्य काल में एक सुन्दर और विशाल बावड़ी फतेहपुर में बनवाई, इसे नागौर के शेख महमूद ने 1024 हि. में बनाई थी । यह बावड़ी के शिला लेख पर अंकित है ।

उस समय अमर सिंह नागौर का अधिपति था । बादशाह ने ताहिर खां को नागौर खालसे के लिए भेजा । ताहिर खां ने नागौर के राठोडों को निकाल दिया और संवत 1703 में नागौर पर कब्जा कर लिया । दौलत खां भी आकर ताहिर खां के साथ सम्मिलित हो गया । ताहिर खां ने अपने नागौर शासन काल में सन 1664 में एक मस्जिद बनाई थी जो किले के पास ही उत्तर में स्थित है । ताहिर खां ने अपने नाम पर ताहिरपुरा गाँव बसाया । [34]

दौलत खां के तीन लड़के थे, ताहिर खां, मीर खां और आसिफ खां । ताहिर खां के दो पुत्र थे सरदार खां और दीनदार खां । ताहिर खां युवावस्था में मर गया तो बादशाह ने संवत 1710 में सरदार खां को नवाब बनाया । इसने अपने नाम पर सरदार पुरा गाँव बसाया । [35]इसके युवक पुत्र फदन खां की मृत्यु होने पर दुखी होकर २७ वर्ष में राज छोड़ दिया । इसका राज छोटे भाई दीनदार खां को संवत 1737 में प्राप्त हुआ । दीनदार खां ने अपने नाम पर दीनदार पुरा नामक गाँव बसाया । [36]


नलिन सराफ[37] ने लिखा है ... फ़तेहपुर शहर के स्थापना काल संवत 1508 (=1451 ई.) से लेकर संवत 1787 (=1730 ई.) तक कुल 279 वर्ष कायमखानी नवाबों के शासनकाल में कुल 12 नवाब हुये। ये सभी वीर और धर्मसहिष्णु थे। अंतिम नवाब कामयाब खाँ अपेक्षकृत कुछ कम वीर थे। इसी का लाभ लेकर शेखावतों ने फ़तेहपुर पर कब्जा कर लिया। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि यह जयपुर नरेश सवाई जयसिंह की योजनान्तर्गत सीकर रावराजा शिव सिंह ने किया। कुछ इतिहासकार कायमखानियों का आंतरिक द्वेष इसका कारण बताते हैं। 1788 (=1731 ई.) चैत्र शुक्ल एकम् को राव राजा शिव सिंह फ़तेहपुर की राजगद्दी पर अधिष्ठित हुये। यह शहर सीकर राज्य के अधीन हो गया। नवाबों के समय फ़तेहपुर की सीमा दूर-दूर तक फैली थी। यहाँ तक जयपुर शहर भी फ़तेहपुर के बाद बसाया गया था। सीकर शहर भी बाद में ही बसा। कालांतर में यह शहर सीकर राज्य का एक हिस्सा बनकर रह गया। शेखावत वंश के 10 शासकों ने भारत के 1947 में स्वतंत्र होने तक कुल 216 वर्ष तक शासन किया।

फतेहपुर के दर्शनीय स्थान

फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5 में वर्णित फतेहपुर के कुछ महत्वपूर्ण दर्शनीय स्थान निम्नानुसार हैं:

  • ख्वाजा हाजी नज्मुद्दीन चिश्ती की दरगाह (पीरजी की की दरगाह) - ख्वाजा हाजी नज्मुद्दीन चिश्ती का जन्म संवत 1874 में झुंझुणु में हुआ था। वे अपने गुरु के आदेश पर संवत 1890 में फतेहपुर आकर संकड़ी गली में मस्जिद चेजारान में इबादत करने लगे। इन्हे सुनने वालों की भीड़ बढ़ती गई, इससे इनकी इबादत में खलल पड़ने लगी। इससे मस्जिद को छोडकर दक्षिण में जलाल खाँ की छोड़ी बीड में आकर रहने लगे। वे लंबे समय तक फ़तेहपुर में रहे। संवत 1927 में अपने जन्म स्थान झुंझुणु गए थे वहाँ इनका इंतकाल हो गया। इनकी वशीयत के मुताबिक इनका शव लाकर उसी जगह दफनाया गया जहां ये सारी जिंदगी इबादत करते रहे। इनके वारिस हाजी मुहम्मद नसीरुद्दीन ने वहाँ एक मकबरा बना दिया। बाद में इसके ऊपर एक विशाल दरगाह बना दी गई। जो आलीसान और वास्तुकला की नजर से एक अनोखी इमारत है। यहाँ हर साल उर्स लगता है। उन्होने अपनी 52 साल की उम्र में 52 किताबें लिखी थी। ये उच्च कोटि के लेखक ही नहीं शायर भी थे। वे (पृ.27)
  • रघुनाथ मंदिर (पृ.29) - यह गढ़ के अहाते में बना है। कहते है यह रावराजा शिव सिंह के समय में बना था।
  • बुद्धगिरी की मंडी (पृ.29) - समीप के बलारा गाँव में एक धाभाई गुर्जर के घर बाल बुद्धराम ने संवत 1827 में जन्म लिया था। संवत 1847 में इस शहर के दक्षिण सीमा पर एक टीले के ऊपर कंकेड़े के पेड़ के नीचे बैठ कर अपनी तपस्या करने लगे। धीरे-धीरे उनका यश फैला और सीकर नरेश लक्ष्मण सिंह भी इनके शिष्य बन गए। संवत 1862 फाल्गुन कृष्ण वार रविवार को 35 वर्ष की आयु में नागरिकों और रावरजा लक्ष्मण सिंह के सम्मुख जीवित समाधि ली। तब से यहाँ शिवरात्रि के दिन विशेष अर्चना होती है और मेला लगता है।
  • दो जांटी बालाजी मंदिर - इस हनुमान मंदिर का निर्माण फ़तेहपुर वासी प्रभु दयाल बोचीवाल ने करवाया। इसकी स्टापना 6.10.1992 को हुई। (पृ.31)
  • अमृतनाथ आश्रम (पृ.31) - स्वामी अमृतनाथ जी का जन्म बिसाऊ निवासी चेतन जाट (नैन गोत्र) के यहाँ पिलानी गाँव में चैत्र सुदी एकम संवत 1909 को बालक यशराम के रूप में हुआ। उन्होने किशोरावस्था में ही ब्रह्मचारी का व्रत ले लिया। संवत 1945 में अपनी माँ के देहावसान के बाद 36 वर्ष 9 माह 14 दिन की आयु में बालक यशराम भ्रमण को निकल पड़े। इस दौरान रिणी (बीकानेर) में महात्मा चंपानाथ से शिष्यवत दीक्षा ग्रहण कर अमृतनाथ रूप सन्यास साधना की ओर बढ़ गए। 24 वर्ष तक भ्रमण करते हुये कठोर योग साधना कर इस शहर आए। माघ शुक्ल 5 संवत 1969 सोमवार को यहाँ आश्रमवास किया। धीरे-धीरे इनके भक्तों की संख्या बढ्ने लगी। तत्कालीन रावराजा सीकर माधोसिंह भी इनकी कीर्ति सुन इनके भक्त बन गए। 4 वर्ष बाद अश्विन शुक्ल 15 संवत 1973 के दिन यहीं उन्होने शरीर छोड़ा। वहीं उनकी समाधि बना दी गई। कालांतर में विशाल खूबसूरत आश्रम बना दिया गया।
  • धोली सती मंदिर - यह बिंदल गोत्री अगरवालों की कुलदेवी का मंदिर है। (पृ.32)
  • गोयनका मंदिर - एक महत्वपूर्ण मंदिर है बीरां बरजी गोयनका मंदिर। मूल मंदिर शताब्दियों पुराना है (पृ.32)
  • सरस्वती पुस्तकालय - कलकत्ता निवासी बासुदेव गोयनका ने अपने व्यक्तिगत ग्रंथ संग्रह व श्रीकृष्ण जालान के सहयोग से बैसाख शुक्ल 6 संवत 1967 सरस्वती पुस्तकालय की नींव बाजार में एक दुकान के ऊपर के चौबारे में रखी। एक वर्ष बाद यह लक्ष्मीनाथ मंदिर के भवन में स्थानांतरित किया और कालांतर में निजी भवन गढ़ के पास नागरमल गोयनका के आर्थिक सहयोग से बनवाया गया। यहाँ पर कार्तिक शुक्ल 5 संवत 1993 को इसे स्थानांतरित कर दिया गया। (पृ.35)
  • पिंजरा पोल - श्रावण शुक्ल पूर्णिमा संवत 1937 को राजस्थान की पहली पिंजरपोल की स्थापना गंगाराम देवड़ा के परिवार ने की। यह लंबे समय तक चल नहीं पाई। तत्पश्चात संवत 1996 में फतेहपूर वासी आप्रवासियों ने इसे पुनर्जीवित किया। तत्कालीन रावराजा माधवसिंह के भूमिदान और मनसाराम राम दयाल नेवटिया के अर्थ सहयोग से उचित स्थान बना। कालांतर में जयदयाल कसेरा की माँ ने 1100 बीघा भूमिदान किया। और एक कुवा भी बनवा दिया। रावराजा कल्याणसिंह ने 567 बीघा जमीन दान की और ज्वालाप्रसाद भरतिया ने 27 फूट चौड़े पाट का कुवा तैयार करवा दिया ताकि चारे की उपज होती रहे। यह एक अनूठा संस्थान है और सुव्यवस्थित रूप से चल रहा है। (पृ.36)
  • आजाद भवन पुस्तकालय - स्वतन्त्रता सेनानी सोहनलाल दुगड़ ने एक कन्या पाठशाला आरंभ की, उसी के साथ यह पुस्तकालय भी बनवाया। यह पुस्तकालय शिक्षा प्रसारण में काफी सक्षम रहा। और आजादी के कार्यक्रमों का भी मुख्य केंद्र था। सोहनलाल दुगड़ के व्यक्तिगत पुस्तक प्रेम की वजह से एक बृहद भंडार एकत्रित किया गया। इसका पूर्ण खर्च वे ही वहन करते थे। कुछ वर्षों से यह पुस्तकालय बंद हो गया है। (पृ.39)
  • जंतर-मंतर - इसका निर्माण रायबहादुर रामप्रताप चमड़िया ने अपनी कालोनी के परिसर में गोविंददेव मंदिर के पास, मार्ग शीर्ष कृष्णा 10 संवत 1997 को करवाया था। यह जयपुर के जंतर-मंतर का ही प्रारूप है। इससे ग्रहों की चाल, नक्षत्र व दिशाओं का बोध, समय का ज्ञान, सूर्य ग्रहण, चन्द्र ग्रहण आदि चीजों की सम्पूर्ण जानकारी मिल सकती है। एक समय इस जंतर-मंतर के आधार पर प्रख्यात पंडित श्रीबल्लभ मनीराम सालाना पंचांग तैयार किया करते थे। आज भी यह यंत्रालय सुरक्शित है परंतु उचित देखभाल की आवश्यकता है। उल्लेखनीय है कि सम्पूर्ण देश में केवल तीन ही जंतर-मंतर स्थापित हैं दिल्ली, जयपुर और फ़तेहपुर। यह एक गौरव की बात है। (पृ.40)
  • साहित्य संसद - फतेहपुर के कुछ बुद्धिजीवियों ने मिलकर एक संस्था 'साहित्य संसद' गठन किया जो पिछले वर्षों से साहित्य प्रसार का साधन बना हुआ है। इसके संस्थापक एवं प्रमुख संयोजक शिशुपाल सिंह नारसरा हैं। ये अपने साथियों के साथ समय-समय पर साहित्यकारों का सम्मान, कवि सम्मेलन, मुशायरे व काव्य गोष्ठियों का आयोजन कर नवोदित साहित्यकारों को प्रोत्साहित करते हैं। इस सबके अलावा इनहोने पुस्तक प्रकाशन क्षेत्र में भी कदम रखा है। इन सब कार्यों के हेतु लगने वाले धन का प्रबंध इनके परिचित साहित्य प्रेमी श्रेष्ठिजन करते रहते हैं। इस तरह ये कई नवोदित साहित्यकारों की कृतियाँ प्रकाश में लाने के माध्यम बन रहे हैं। इनका यह प्रयास सफल गति से आगे बढ़ रहा है। शिशुपाल सिंह नारसरा अध्यापन कार्य में संलग्न एक प्रबुद्ध साहित्यकार हैं। इन्होने कई पुस्तकों का लेखन व सम्पादन किया है व अनेकों सम्मान और पुरस्कारों से सम्मानित किए जा चुके हैं। यहाँ साहित्य धारा को जाग्रत रखने में इनके प्रयासों में कुछ साहित्यकार मित्रों व साहित्य प्रेमियों ने सहयोग दिया। विशेष सहयोगी बने नरेंद्र कुमार धानुका। जिनके अर्थ सहयोग से कई नवोदित कवियों व साहित्यकारों की रचनाएँ प्रकाश में आईं। वर्तमान में कुछ प्रमुख कवि, शायर व साहित्यकार ये हैं: नाथमल केडिया, राजेंद्र केडिया (दोनों कलकत्ता प्रवासी) नजीर फतेहपुरी (पुणे), भीमराज शर्मा (जयपुर), राम गोपाल शास्त्री, एस.डी. जॉय आदि। (पृ.58-59)
  • हवेलियाँ व भित्ति चित्रकला - उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में व बीसवीं शताब्दी के पूर्वार्ध में यहाँ के नागरिक जीविकोपार्जन के लिए सुदूर शहरों में में चले गए थे, वे अपनी जन्म भूमि को नहीं भूले। यहाँ पर उन्होने विशाल हवेलियाँ बनाई जिन्हें खूबसूरती से चित्रांकित किया। उन दिनों यह अंचल मालवा से हांसी (हिसार) के राजमार्ग पर पड़ता था। व्यापारियों के कारवां इधरसे गुजरते वक्त विश्राम के लिए यहाँ पड़ाव करते थे। यहाँ के व्यापारी उनकी आवभगत किया करते थे। साथ ही कुछ व्यापार भी हो जाता था। मुख्य तौर पर वे व्यापारी मालवा से हांसी अफीम ले जाया करते थे। उसी का व्यापार होता था। इसी तरह प्रवासी नागरिक कलकत्ता, मुंबई व अन्य बड़े शहरों में व्यापार कर सफल हो अपनी जन्म भूमि में कुछ समय के लिए आते थे। उनके परिवार अधिकांस यहीं रहते थे। उनका व्यापार यहाँ भी होता था। यहाँ की हवेलियाँ सिर्फ आवास का साधन ही नहीं व्यावसायिक स्थल का भी समावेश लिए होती थी। इनकी बनावट इस तरह से की जाती थी कि बाहर के हिस्से में आगंतुक व्यापारी अपने सहायकों सहित ठहर जाते थे। उनका सामान व वाहन रखने का भी पर्याप्त स्थान बना होता था। इन हवेलियों को नवोढ़ा दुल्हन की तरह सजाया जाता था। कालांतर में प्रवासी अपने परिवार सहित कर्मस्थली में ही स्थानांतरित हो गए और पूर्वजों द्वारा बनाई गई विशाल हवेलियों की तरफ सो मूंह फेर लिया। आज भी कुछ हवेलियाँ भित्ति चित्रों के साथ अपने सुनहरे अतीत के गौरव को दर्शाती शान से खड़ी हैं, जिन्हें देख पर्यटक आश्चर्य विभोर हो जाते हैं। इन भित्ति चित्रों के कारण इस अंचल को ओपन आर्ट गैलरी (Open Art Gallery) की संज्ञा दी है। (पृ.62-63)
  • फतेहपुर का किला - नवाब फतह खाँ ने पास के गाँव रिणाऊ में रहकर संवत 1506 में नवीन शहर के लिए नवीन किला बनाना शुरू किया था। संवत 1507 की समाप्ती के कुछ दिन पहले नवाब, दिल्ली का स्वामित्व स्वीकार न करने के कारण बहलोल लोदी द्वारा हिसार से निकाल दिये गए। [38] फतेहपुर का गढ़ दो वर्षों में बन कर तैयार हुआ और नवाब फतहखाँ ने अपने दरबारियों, विश्वस्त मुसाहिबों, कर्मचारियों, सैनिकों आदि पूरे दल के साथ चैत्र शुक्ल 5 संवत 1508 (=1451 ई.) को इसमें प्रवेश किया। (पृ.15)
  • नवाबी बावड़ी - नवाब फतहखाँ द्वारा निर्मित गढ़ का जीर्णोद्धार उसके वंशज नवाब दौलत खाँ द्वितीय ने अपने पिता नवाब अलिफ खाँ के राज्यकाल में उसकी अनुमति से संवत 1662 (=1605 ई.) में करवाया। उसी समय गढ़ के चारों ओर एक सुरक्षात्मक नहर बनवाई। इसीने अपने पिता के राज्यकाल में ही संवत 1671 (=1614 ई.) में ऐतिहासिक बावड़ी का निर्माण करवाया। इसकी गणना विश्व के 17 आश्चर्यों में की जाती है। इसके परिसर में जाने के लिए एक विशाल दरवाजा होता था जिसे बावड़ी दरवाजा कहा जाता था। यह धरोहर आज कचराघर में परिवर्तित हो गई है। बावड़ी दरवाजा तो इस क्षेत्र का नाम भर रह गया है। (पृ.17)
  • दिगंबर जैन मंदिर - नवाब फतह खाँ के खास मुसाहिब तुहिनमलजी थे जो उनके साथ ही हिसार से आए थे। । उन्होने नवाब की अनुमति से उनको प्रदत्त भूमि पर एक जैन मंदिर बनवाया। इस मंदिर में कई प्राचीन शिलालेख, ताम्रपत्र व अन्य पांडुलिपियाँ सुरक्षित हैं। एक शिलालेख के अनुसार इस मंदिर का निर्माण फाल्गुन शुक्ल 2 संवत 1508 (=1451 ई.)है। यहाँ एक सप्तधातु मूर्ति संवत 1069 (=1012 ई.) निर्मित तथा दूसरी पाषाण की संवत 1113 (=1076 ई.) निर्मित है। (पृ.15) तुहिनमलजी अपने साथ दो जैन मूर्तियाँ साथ लाये थे: एक सप्तधातु मूर्ति संवत 1069 (=1012 ई.) तथा दूसरी पाषाण की संवत 1113 (=1076 ई.)। संवत 1770 में चौधरी रूप चंद जी ने दिल्ली पत्त के अधीश भट्टारक देवेन्द्रकीर्ति की आज्ञा से उक्त मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया। [39]
  • रामगोपाल जी गनेड़ीवाल की छतरी - रामगोपाल जी गनेड़ीवाल ने अपने पिता हिरालाल जी के मरने पर एक सुंदर छतरी शहर के दक्षिण की ओर संवत 1943 में बनाई। [40]
  • नवाब की बीड़ - फ़तेहपुर के द्वितीय शासक नवाब जलाल खाँ ने फ़तेहपुर के दक्षिण में 12 कोस के घेरे में पाशों के चरने और वन्य प्राणियों के आवास के लिए बीड छोड़ी थी। बीड का विस्तार अब कम होता जा रघा है। [41]

सीकर में जागीरी दमन

ठाकुर देशराज[42] ने लिखा है .... जनवरी 1934 के बसंती दिनों में सीकर यज्ञ तो हो गया किंतु इससे वहां के अधिकारियों के क्रोध का पारा और भी बढ़ गया। यज्ञ होने से पहले और यज्ञ के दिनों में ठाकुर देशराज और उनके साथी यह भांप चुके थे कि यज्ञ के समाप्त होते ही सीकर ठिकाना दमन पर उतरेगा। इसलिए उन्होंने यज्ञ समाप्त होने से एक दिन पहले ही सीकर जाट किसान पंचायत का संगठन कर दिया और चौधरी देवासिह बोचल्या को मंत्री बना कर सीकर में दृढ़ता से काम करने का चार्ज दे दिया।

उन दिनों सीकर पुलिस का इंचार्ज मलिक मोहम्मद नाम का एक बाहरी मुसलमान था। वह जाटों का हृदय से विरोधी था। एक महीना भी नहीं बीतने ने दिया कि बकाया लगान का इल्जाम लगाकर चौधरी गौरू सिंह जी कटराथल को गिरफ्तार कर लिया गया। आप उस समय सीकरवाटी जाट किसान पंचायत के उप मंत्री थे और यज्ञ के मंत्री श्री चंद्रभान जी को भी गिरफ्तार कर लिया। स्कूल का मकान तोड़ फोड़ डाला और मास्टर जी को हथकड़ी डाल कर ले जाया गया।

उसी समय ठाकुर देशराज जी सीकर आए और लोगों को बधाला की ढाणी में इकट्ठा करके उनसे ‘सर्वस्व स्वाहा हो जाने पर भी हिम्मत नहीं हारेंगे’ की शपथ ली। एक डेपुटेशन


[पृ 229]: जयपुर भेजने का तय किया गया। 50 आदमियों का एक पैदल डेपुटेशन जयपुर रवाना हुआ। जिसका नेतृत्व करने के लिए अजमेर के मास्टर भजनलाल जी और भरतपुर के रतन सिंह जी पहुंच गए। यह डेपुटेशन जयपुर में 4 दिन रहा। पहले 2 दिन तक पुलिस ने ही उसे महाराजा तो क्या सर बीचम, वाइस प्रेसिडेंट जयपुर स्टेट कौंसिल से भी नहीं मिलने दिया। तीसरे दिन डेपुटेशन के सदस्य वाइस प्रेसिडेंट के बंगले तक तो पहुंचे किंतु उस दिन कोई बातें न करके दूसरे दिन 11 बजे डेपुटेशन के 2 सदस्यों को अपनी बातें पेश करने की इजाजत दी।

अपनी मांगों का पत्रक पेश करके जत्था लौट आया। कोई तसल्ली बख्स जवाब उन्हें नहीं मिला।

तारीख 5 मार्च को मास्टर चंद्रभान जी के मामले में जो कि दफा 12-अ ताजिराते हिंद के मातहत चल रहा था सफाई के बयान देने के बाद कुंवर पृथ्वी सिंह, चौधरी हरी सिंह बुरड़क और चौधरी तेज सिंह बुरड़क और बिरदा राम जी बुरड़क अपने घरों को लौटे। उनकी गिरफ्तारी के कारण वारंट जारी कर दिये गए।

और इससे पहले ही 20 जनों को गिरफ्तार करके ठोक दिया गया चौधरी ईश्वर सिंह ने काठ में देने का विरोध किया तो उन्हें उल्टा डालकर काठ में दे दिया गया और उस समय तक उसी प्रकार काठ में रखा जब कि कष्ट की परेशानी से बुखार आ गया (अर्जुन 1 मार्च 1934)।

उन दिनों वास्तव में विचार शक्ति को सीकर के अधिकारियों ने ताक पर रख दिया था वरना क्या वजह थी कि बाजार में सौदा खरीदते हुए पुरानी के चौधरी मुकुंद सिंह को फतेहपुर का तहसीलदार गिरफ्तार करा लेता और फिर जब


[पृ 230]: उसका भतीजा आया तो उसे भी पिटवाया गया।

इन गिरफ्तारियों और मारपीट से जाटों में घबराहट और कुछ करने की भावना पैदा हो रही थी। अप्रैल के मध्य तक और भी गिरफ्तारियां हुई। 27 अप्रैल 1934 के विश्वामित्र के संवाद के अनुसार आकवा ग्राम में चंद्र जी, गणपत सिंह, जीवनराम और राधा मल को बिना वारंटी ही गिरफ्तार किया गया। धिरकाबास में 8 आदमी पकड़े गए और कटराथल में जहा कि जाट स्त्री कान्फ्रेंस होने वाली थी दफा 144 लगा दी गई।

ठिकाना जहां गिरफ्तारी पर उतर आया था वहां उसके पिट्ठू जाटों के जनेऊ तोड़ने की वारदातें कर रहे थे। इस पर जाटों में बाहर और भीतर काफी जोश फैल रहा था। तमाम सीकर के लोगों ने 7 अप्रैल 1934 को कटराथल में इकट्ठे होकर इन घटनाओं पर काफी रोष जाहिर किया और सीकर के जुडिशल अफसर के इन आरोपों का भी खंडन किया कि जाट लगान बंदी कर रहे हैं। जनेऊ तोड़ने की ज्यादा घटनाएं दुजोद, बठोठ, फतेहपुर, बीबीपुर और पाटोदा आदि स्थानों और ठिकानों में हुई। कुंवर चांद करण जी शारदा और कुछ गुमनाम लेखक ने सीकर के राव राजा का पक्ष ले कर यह कहना आरंभ किया कि सीकर के जाट आर्य समाजी नहीं है। इन बातों का जवाब भी मीटिंगों और लेखों द्वारा मुंहतोड़ रूप में जाट नेताओं ने दिया।

लेकिन दमन दिन-प्रतिदिन तीव्र होता जा रहा था जैसा कि प्रेस को दिए गए उस समय के इन समाचारों से विदित होता है।

फतेहपुर में किसान सम्मलेन 1942

21 तथा 22 नवम्बर 1942 को फतेहपुर में किसान सम्मलेन हुआ. इसकी अध्यक्षता टीकाराम पालीवाल ने की. इसमें सीकर में बोर्डिंग हाऊस हेतु जमीन देने की मांग की. [43]

स्वतंत्रता सेनानी सांवलराम भारतीय ने लिखा है, 'पंडित हीरा लाल शास्त्री एवं सरदार हरलाल सिंह ने प्रजामंडल के फतेहपुर अधिवेशन 1942 में कांग्रेस के 'अंग्रेजो भारत छोड़ो' आन्दोलन को जयपुर रियासत में चलाने का विरोध किया था. प्रजामंडल के मंच से बहुमत द्वारा प्रस्ताव पास करवा दिया कि जयपुर प्रजामंडल एवं उसके सदस्य भारत छोडो आन्दोलन में भाग नहीं लेंगे. (आजादी के जन आन्दोलन पृष्ठ 81 ) झुंझुनूवाटी से इस आन्दोलन में प्रमुख रूप से भाग लेने वालों में नवलगढ़ के सांवल राम भारतीय थे. उन्हें 6 माह की सजा मिली. पन्ने सिंह देवरोड़ के बेटे सत्यदेव सिंह देवरोड़ ने इस आन्दोलन में भाग लिया था. वे उस समय चर्खा संघ गोविन्दगढ़ में थे. वहीँ से जयपुर चले गए. [44]

Jat Gotras

Notable persons

फतेहपुर पर पुस्तकें

Ajab Diwane Book.jpg
  • अजब दीवाने (फतेहपुर की प्रतिभावों का परिचय), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: साहित्य संसद, रोडवेज बस स्टेंड के पास, फतेहपुर शेखावाटी, राजस्थान-332301 ISBN: 978-81-926510-5-7, वर्ष: 2015
Fatehpur Darpan Book.jpg
  • फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5
  • फतहपुर परिचय - लेखक: श्री गोपाल दिनमणि, प्रकाशक: श्री गोपाल दिनमणि, दिनमणि कुटीर, फतहपुर-शेखावाटी (जयपुर), संवत 2002

External links

Gallery

References

  1. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 210
  2. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 89
  3. गणेश बेरवाल: 'मेरी फ़तेहपुर यात्रा', अजब दीवाने (फतेहपुर की प्रतिभावों का परिचय), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: साहित्य संसद, रोडवेज बस स्टेंड के पास, फतेहपुर शेखावाटी, राजस्थान-332301 ISBN: 978-81-926510-5-7, वर्ष: 2015, p.9
  4. Nalin Saraf: Fatehpur Darpan, Jiwan Prabhar Prakashan, Mumbai-400058, 2012, ISBN 81-85564-82-5, p.26-27
  5. Kaimkhan Rasa, page 11
  6. Sahi Ram: Ek adhurī krānti, page 5
  7. Dinmani: Fatehpur parichay, page 27
  8. Dayaldas ki khyat, Vol II, page 8
  9. [Dinmani: Fatehpur parichay, page 29]
  10. Sahiram: Ek adhūrī krānti, Shekhawati kā kisān āndolan (1922-1952,page-5
  11. Kaimkhan Rasa: page 24
  12. Dinmani: Fatehpur parichay, page-33
  13. Sahiram: Ek adhūrī krānti, Shekhawati kā kisān āndolan (1922-1952), page-6
  14. Dinmani: Fatehpur parichay, page-45
  15. Dinmani: Fatehpur parichay, page-48
  16. Dinmani: Fatehpur parichay, page-49
  17. Dinmani: Fatehpur parichay, page-50
  18. Dinmani: Fatehpur parichay, page-52
  19. Sahiram: Ek adhūrī krānti, Shekhawati kā kisān āndolan (1922-1952), page-6
  20. Ganesh Berwal: 'Meri Fatehpur Yatra', Ajab Diwane, Author, Nalin Saraf, Published by Sahitya Sansad, Fatehpur, Rajasthan-332301 ISBN: 978-81-926510-5-7, 2015, p.10
  21. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, pp.13-27
  22. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 89
  23. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 89
  24. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 91
  25. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.14
  26. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.14
  27. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 93
  28. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.23
  29. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.15
  30. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.15
  31. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.16-17
  32. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.22
  33. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 155
  34. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 156
  35. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 156
  36. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 157
  37. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.26-27
  38. फतहपुर परिचय - लेखक: श्री गोपाल दिनमणि, प्रकाशक: श्री गोपाल दिनमणि, दिनमणि कुटीर, फतहपुर-शेखावाटी (जयपुर), संवत 2002,p.190
  39. फतहपुर परिचय - लेखक: श्री गोपाल दिनमणि, प्रकाशक: श्री गोपाल दिनमणि, दिनमणि कुटीर, फतहपुर-शेखावाटी (जयपुर), संवत 2002,p.195-96
  40. फतहपुर परिचय - लेखक: श्री गोपाल दिनमणि, प्रकाशक: श्री गोपाल दिनमणि, दिनमणि कुटीर, फतहपुर-शेखावाटी (जयपुर), संवत 2002,p.202
  41. फतहपुर परिचय - लेखक: श्री गोपाल दिनमणि, प्रकाशक: श्री गोपाल दिनमणि, दिनमणि कुटीर, फतहपुर-शेखावाटी (जयपुर), संवत 2002,p.238
  42. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.228-230
  43. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p. 185
  44. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p. 184

Back to Jat Villages