Ram Dev Singh Gill

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Ram Dev Singh Gill

Ramdeo Singh Gill.jpg
Full NameRam Dev Singh Gill
Born1922, Gill ki Dhani
Died: 13 May 1952
ResidenceVillage Gill ki Dhani in Udaipurwati in Jhunjhunu district in Rajasthan
Nationality

Flag of India.png Indian

OccupationTeacher, Freedom Fighter
Parent(s)Shri Mukunda Ram Gill (Father)
GotraGill

Ram Dev Singh was shot dead along with Karni Ram

Ram Dev Singh Gill (रामदेवसिंह गिल) (1922-1952) was born on vikram samvat 1979 in Kartik month at Gill ki Dhani village in Udaipurwati in Jhunjhunu district in Rajasthan. He was eldest son of Shri Mukunda Ram Gill. He was married to Smt. Foolidevi, daughter of Shri Ladu Ram of village Ranasar.

Career

He got his primary education at village school and then at Dhamora village and Gudha Gaudji. Later he was appointed as a teacher. He was a brave person fromthe childhood itself. He joined the freedom movement and left his job. He started movements for Jagiri abolition under the leadership of Sardar Har Lal Singh. He made Vidyarthi Bhawan, Jhunjhunu as his centre of activity and became private secretary of Har Lal Singh.

Gill ki Dhani village became the centre of movement in entire Udaipurwati region. They motivated farmers against the Jagirdars so as not to pay the excessive taxes. The farmer-Jagirdar movement became aggressive and Ram Dev Singh was arrested many times.

Udaipurwati conference of farmers in 1949

Udaipurwati in Jhunjhunu district was a stronghold of Jagirdars so Ram Dev Singh decided to hold a conference of farmers in 1949 in Udaipurwati itself and it was a grand success. Later he held a meeting of farmers in Gudhagaurji village in presence of then home minister Chaudhary Kumbha Ram Arya and the Law minister Narottam Joshi, who were on tour of this area. The armed Jagirdars attacked the meeting place in which many people were wounded and both ministers were also injured.

He was arrested during his service as teacher in village Kudan. The school building of Kudan village was being vacated by the Jagirdars and he refused to vacate it as it was not the property of Jagirdars. At last the he won and building remained the property of School.

He had a very high place in the district politics of Jhunjhunu. He remained president of Udaupurwati Congress Party and member of district Congress and district board. He played important role in the cooperative movement.

Shot dead by jagirdars

Ram Dev Singh was shot dead on 13 May 1952 along with Karni Ram by the Jagirdars at village Chanwara (चंवरा) when both Karni Ram and Ramdev Singh were sleeping after taking part in farmers movement against jagirdars. Jagirdars treated both of them as their biggest enemies. The news of murder of both leaders spread like forest fire and thousands of farmers gathered at the spot. They were all very agitated against the Jagirdars. Sardar Har Lal Singh, Chaudhari Kumbharam Arya rushed to the spot from jaipur accompanied with I G Police, to pacify the mob. The dead bodies of both martyrs were brought to Jhunjhunu and last rites performed on 14 May 1952 at "Vidyarthi Bhawan Jhunjhunu". He had three kids of which the youngest one was mere 6 months old,,,,[1]

जीवन परिचय

शेखावाटी भू-भाग: वर्तमान राजस्थान का झुंझुनू जिला तत्कालीन जयपुर रियासत का भाग था और शेखावाटी के नाम से जाना जाता था. पूरा भू-भाग जागिरी क्षेत्र था. छोटे बड़े जागीरदारों का आधिपत्य था. इसी का एक भू-भाग उदयपुरवाटी के नाम से जाना जाता था. आज भी उदयपुरवाटी तहसील क्षेत्र कहलाता है.

जागीरदारों द्वारा शोषण: उदयपुरवाटी भू-भाग पूर्णरूप से छोटे-छोटे जागीरदारों के आधिपत्य में था. थोड़ी-थोड़ी जमीन इनकी जागीरों में थी. जमीन की पैमाइश नहीं हुई थी. लगान की शरह निश्चित नहीं थी. जागीरदार अपनी मनमर्जी से जो चाहा लगान वसूल करता था. जमीनों का कोई रिकॉर्ड नहीं था. कौन सी जमीन कौन काश्त करता है, कोई रिकॉर्ड नहीं होने से बेदखलियाँ बहुत होती थी. लोग बहुत पिछड़े हुए थे. अपने अधिकारों के प्रति कोई ज्ञान उन्हें नहीं था. शिक्षा का पूर्ण अभाव था. जागीरदारों के अत्याचारों का मुकाबला करने की हिम्मत नहीं थी. लगान बटाई में लिया जाता था. लगान के अलावा अनेक प्रकार की लाग-बाग ली जाती थी. संपूर्ण समाज दयनीय स्थिति में जी रहा था. किसान की हालत और भी दयनीय थी. पूरे इलाके में किसानों के घर कच्चे छपरों के ही थे. कोई पक्का मकान नहीं मिलता था. बड़ी ही अपमानजनक स्थिति में लोग जी रहे थे. जागीरदार का आदेश ही उनके लिए सब कुछ था. आदेश की अवहेलना उनके लिए बर्बादी का संदेश था. कई गाँवों के किसान जागीरदारों की नाराजगी मोल ले कर अपनी जमीन तथा प्राणों से हाथ धो चुके थे. खिरोड़, देवगांव-हुकमपुरा-चनाना के हत्याकांड इस बर्बरता के साक्षी हैं.

किसानों में नई चेतना: भारत आजाद हुआ. 1952 के आम चुनाव आए. श्री करणी राम जी इस इस क्षेत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार बने. श्री रामदेव सिंह जी का यह राजनीतिक कार्यक्षेत्र था. दोनों नेताओं ने घर-घर जाकर लोगों की स्थिति देखी. लोगों को अपने अधिकारों के लिए खड़े होने की प्रेरणा दी. अत्याचारों के खिलाफ लड़ने को प्रेरित किया. जनता में नई चेतना आई. खासतौर से किसान वर्ग संगठित होकर उठ खड़ा हुआ. जगह-जगह सभाएँ होने लगी. संगठन बने. नई हवा ने पूरे इलाके को झकझोर दिया. किसान वर्ग श्री करणी राम जी वह रामदेव सिंह जी को अपने उद्धारक त्राणदाता के रूप में देखने लगा. इस नई चेतना से जागीरदार वर्ग विचलित हो गया. इस पूरे परिवर्तन का कारण श्री करणी राम जी व श्री रामदेव सिंह जी को मानकर उन्हें खत्म करने की योजना बनने लगी. कई जगह गुप्त बैठकें हुई. सुदूर के डाकूओं को भी बुलाने की कार्यवाही पर विचार होने लगे.

1952 के चुनाव के बाद राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनी. राज्य सरकार ने एक आदेश निकाला कि जिन जमीनों की पैमाइश होकर लगान कायम नहीं हुआ है वहां जागीदार पैदावार के छठे हिस्से से अधिक लगान के रूप में नहीं ले सकता. इस आदेश ने आग में घी का काम किया. अब तक जागीदार पैदावार का आधा हिस्सा लगान के रूप में लेते आ रहे थे. उन्हें छठा हिस्सा स्वीकार नहीं था. किसान चेतन हो उठा था. राज्य सरकार के आदेश के मुताबिक किसान छठे हिस्से से अधिक देने को तैयार नहीं था. जागीरदार-कश्तकार संघर्ष तेज हो उठा. जगह-जगह खलिहान रोक दिए गए. अराजकता की स्थिति बन गई. श्री करणी राम जी एवं रामदेव सिंह जी इस संघर्ष में किसानों की रहनुमाई कर रहे थे.

गोलियों से भून डाला: इसी सिलसिले में उदयपुरवाटी के गांवों का दौरा करते 13 मई 1952 को चंवरा ग्राम गए. वहां सेठ सेढूराम गुर्जर की ढाणी में ठहरे हुए थे. दोपहर को खाना खाकर आराम कर रहे थे. जागीरदार उनके प्राण लेने को पीछे पड़े हुए थे. उन्हें मौका मिल गया और शेडू राम की ढाणी पर आक्रमण कर दोनों नेताओं को बंदूक की गोलियों से भून डाला.

बलिदान कभी निरर्थक नहीं जाता है. दोनों नेताओं के सीने पर लगी गोलियां सीना चीरते हुये हुए जागीरी प्रथा के पेट में जा घुसी. सरकार हरकत में आई. जागीरदारी प्रथा समाप्त हुई. जमीन का बंदोबस्त हुआ. लगान की शरह कायम हो कर किसानों को जमीन के पर्चे-खतौनी मिले. किसान जमीन का मालिक बना. एक सम्मानजनक जीवन का भोर हुआ.

पिछले सालों से हर वर्ष 13 मई को शहीद स्थल शेढूराम की ढाणी पर श्री करणीराम जी और रामदेव सिंह जी की याद में शहीद मेला लगता है. दूर-दूर से लोग अपने दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित करने आते हैं.

श्री रामदेव जी का जन्म उदयपुरवाटी तहसील के गांव गीलां की ढाणी में हुआ. अध्ययन समाप्त कर राजपुताना शिक्षा मंडल में अध्यापक के पद पर नियुक्ति लेकर प्रथम नियुक्ति पर सीकर जिले के कूदन गांव की स्कूल में लगे. सीकर ठिकाने से स्कूल भवन के विवाद को लेकर उन्हें ठिकाने ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. कूदन के बाद अन्य कई स्कूलों में अध्यापक रहे लेकिन वह जीवन उन्हें रास नहीं आया. सरदार हरलाल सिंह जी के संपर्क में आए और नौकरी छोड़ कर सार्वजनिक जीवन में कूद पड़े. सरदार जी के विश्वस्त साथी बने और उनके सचिव के रूप में काम किया. विद्यार्थी भवन झुञ्झुणु की देखभाल का कार्य वर्षों तक किया. उदयपुरवाटी इलाक़ा कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जीवनपर्यंत रहे. झुंझुनू जिला कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी में रहे.

श्री रामदेव सिंह में संगठन करने की अपार क्षमता थी. कहा जाने लगा था कि जिधर से रामदेव जी निकल जाते हैं आग सी लग जाती है. जागीरी प्रथा के भयंकर खिलाफ थे और इस संघर्ष में उन्हें बड़ा आनंद आता था. ऐसा निडर निर्भीक उत्साही और क्षमतावान व्यक्तित्व मिलना बहुत मुश्किल है. 33 साल की अल्प आयु में ही वे जिले ही नहीं राजस्थान के प्रमुख कार्यकर्ताओं की श्रेणी में गिने जाने लगे थे.

संदर्भ: यह परिचय शहीद करणी रामदेव के पचासवें निर्वाण दिवस पर प्रकाशित स्मृति ग्रंथ से लिया गया है.

करणीराम और रामदेवसिंह की शहादत

शहीद करणीराम मील और रामदेवसिंह गिल

अप्रेल 1952 में करणीराम और रामदेवसिंह की जोड़ी ने उदयपुरवाटी इलाके में एक सभा बुलाई जिसमें 20 -25 हजार आदमी इकट्ठे हुए. पूरा उदयपुरवाटी खुदबुदा रहा था, किसान मरने मारने को तैयार हो चुके थे और भौमिया भी अपना 'वाटर-लू' लड़ने की तैयारी कर रहे थे. लगानबंदी आन्दोलन अपनी चरम सीमा पर पहुँच गया था. ऐसे में स्थिति की गंभीरता को देखते हुए राजस्थान सरकार ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल मंगवाकर उदयपुरवाटी भेजा जिसका कैम्प चंवरा गाँव में लगा था. 12 मई 1952 की रात को करणीराम ने सुना कि चंवरा गाँव में सारे जागीरदार इकट्ठे होई गए है और जबरन फसल उठाने की योजना है. वहां भारी संख्या में किसान इकट्ठे हो गए हैं. इस पर करणीराम और कुछ साथी झुंझुनू लौटने का कार्यक्रम रद्द कर ऊँट गाडी से रवाना होकर कालका ढाणी में रुके और 13 मई को सुबह चंवरा गाँव पहुँच गए. वहां रामदेवसिंह गिल और अन्य कार्यकर्ता भी आ गए. करणीराम ने किसानों से शांति बनाये रखने की अपील की. वे पक्के गांधीवादी और अहिंसा के पुजारी थे. उसके बाद तेज धूप के कारण सभी किसान व कार्यकर्ता अलग-अलग ढाणीयों में आराम करने चले गए. रामदेव सिंह व करणीराम दोनों सेडू गूजर की ढाणी में आकर रुके और लेट गए. करीब 3 बजे दोपहर भौमियों के भेजे हुए कातिल रामेश्वर दरोगा व गोवर्धनसिंह ने बन्दूक से फायर कर सोते हुए करणीराम व रामदेव सिंह को गोलियों से भून दिया और फरार हो गए. उस दोपहर संभावित आसन्न जानलेवा हमले की चेतावनी उन्हें कुछ शुभचिंतकों ने दी थी और सुझाया था कि वे यहाँ से तत्काल अन्यत्र चले जाएँ परन्तु उन जाबाजों ने कायरों की भांति भागकर जान बचाने की अपेक्षा वीरों की भांति मृत्यु को सहर्ष वरण करना उचित समझा. वे हंसते-हंसते शहीद हो गए. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 45)

हत्या का समाचार सुनकर कुछ ही देर में हजारों की संख्या में जनसमूह इकठ्ठा हो गया. लोगों में भारी रोष व क्रोध फ़ैल गया. इतने में जयपुर से सरदार हरलाल सिंह, कुम्भाराम आर्य व पुलिस महानिरीक्षक पहुँच गए. उन्होंने उत्तेजित जन समूह से शांति बनाये रखने की अपील की. लोग दोनों शहीदों की लाश लेकर विद्यार्थी भवन झुंझुनू पहुँच गए और 14 मई 1952 को वहीँ उनका अंतिम संस्कार किया. हर वर्ष इन शहीदों के निर्वाण दिवस पर गाँवों में मेले लगते हैं. इन दोनों शहीदों की मूर्तियाँ विद्यार्थी भवन झुंझुनू एवं जिलाधीश कार्यालय के सामने पार्क में स्थापित हैं जो इन दोनों शहीदों की अमर कीर्ति का बखान कर रही हैं. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 46)

पिक्चर गैलरी

References

  1. Dr Pema Ram:Shekhawati Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, First Edition 1990, p. 220

Back to The Freedom Fighters