Har Lal Singh

From Jatland Wiki
(Redirected from Sardar Harlal Singh)
Jump to: navigation, search
Sardar Harlal Singh
Sardar Harlal Singh

Sardar Har Lal Singh (Dular) (3 February 1901 - 21 March 1982) was a freedom fighter, social worker that played a leading role in Shekhawati farmers movement for abolition of Jagirdari system. He was born on 3 February 1901 at village Hanumanpura[1] near Mandawa in Jhunjhunu district in Rajasthan. He was of Dular gotra. His entire family was committed for the freedom movement. Pratibha Dular, present MLA from Nawalgarh Constituency, is the grand daughter of Shri Sardar Harlal Singh Dular.

Contents

Evicted from his agricultural land

Sardar Har Lal Singh was evicted from his agricultural land and residence by the Jagirdars for his acts of taking part in the Jagirdari abolition movement. Jagirdars lodged a number of false cases against him but he was always succeeded in getting rid of them. The Mandawa thakur attacked him in 1946 in a planned conspiracy. In this a person was murdered and Har Lal’s brother received serious injuries in head. All attempts by the Jagirdars could not refrain him from freedom movement and he continued to lead the farmers and served the farmers through Kisan Sabha and Praja Manda.

Pushkar adhiveshan 1925

Pushkar adhiveshan 1925 organized by All India Jat Mahasabha was presided over by Maharaja Kishan Singh of Bharatpur. Sir Chhotu Ram, Madan Mohan Malviya, Chhajju Ram etc. farmer leaders had also attended. This function was organized with the initiative of Master Bhajan Lal Bijarnia of Ajmer - Merwara. The farmers from all parts of Shekhawati had come namely, Chaudhary Govind Ram, Kunwar Panne Singh Deorod, Ram Singh Bakhtawarpura, Chetram Bhadarwasi, Bhuda Ram Sangasi, and Moti Ram Kotri. 24-year young boy Har Lal Singh also attended it. The Shekhawati farmers took two oaths in Pushkar namely, 1. They would work for the development of the society through elimination of social evils and spreading of education. 2. ‘Do or Die’ in the matters of exploitation of farmers by the Jagirdars.

Jhunjhunu adhiveshan 1932

Sardar Harlal Singh in freedom movement on camel

There was a grand gathering of farmers under the banner of Jat Mahasabha in Jhunjhunu on 11-13 February 1932. 60000 Jat farmers attended it. Thakur Deshraj camped at Jhunjhunu for 15 days to make it a success. The farmers from all parts of India attended it. It was presided by Rao Sahib Chaudhary Rishal Singh Rayees, who was escorted from station to the place of meeting on elephant accompanied by a caravan of camels. This program was of Jats but all the communities cooperated and welcomed. Kunwar Panne Singh Deorod welcomed this rally where as Vidyadhar Singh Sangasi did the welcome of ‘Jaipur Prantiya Jat Kshatriya Sabha’ rallies. Though the Jagirdars did all attempts to make it a failure, but it proved a success. On the appeal of fund collection the participant farmers donated their gold ornaments, which they were wearing. This was the first opportunity of awakening the Shekhawati farmers and proved a grand success. Sardar Harlal Singh and Chaudhary Ghasi Ram had traveled a lot for its publicity and spread its message. Some of the competent people were awarded Kshatriya titles. For example Chaudhary Har Lal Singh was awarded as ‘Sardar’, Ratan Singh of Bharatpur as ‘Kunwar’ and Chaudhary Ram Singh as ‘Thakur’. Thus the Rajput monopoly over these titles vanished.

The Jat Prajapati Maha-Yagya 1934

Sardar Har Lal Singh

In 1934, to spread the principles of Arya Samaj and create awakening in Shekhawati, it was decided to hold the Prajapati Yagya (Prayer ceremony for the Lord of Universe). The Jat Prajapati Maha-Yagya was organized at Sikar from 20 - 29 January 1934. Kunwar Hukam Singh Rahees Angai (Mathura) was made Yagyapati or Chairman of the Yagya. He had been Chairman of the Arya Prathinidhi Sabha, Uttar Pradesh province and All Arya Prathinidhi Sabha, Delhi, for many years. Chaudhary Kaluram of village Kudan was the Yagyaman. Acharya Shri Jagdev Sidhanthi received an invitation for this Yagya at his Gurukul at Kirttal, In that invitation was he requested to attend the Yagya and bring twenty Bhramcharis and disciples with him. Volunteers went to all the households in all the villages in the region and collected material that would be needed. They collected Ghee, Flour, Gur, and invited all the householders to participate. Hundreds of cans of Ghee and hundreds of sacks of flour were collected.

During the Yagya 3000 men and women adopted the Yogyopavit, which was a symbol Kisan sangathan. Sheetal Kumari daughter of Kunwar Netram Singh adopted yagyopavit. Chaudhary Chimana Ram of Sangasi brought his wife wearing salwar-kurta. The unity of Jat farmers had terrified the Jagirdars of Sikar. The role played by Sardar Har Lal Singh and Thakur Deshraj was unparallel which made this yagya a grand success.

A family committed for freedom

Smt. Kishori Devi wife of Harlal Singh

Jagirdars imprisoned Sardar Har Lal Singh in 1938 for one year in two cases against him. During this period his mother Foolan Devi and wife Ramkauri took his place so that the movement is not adversely affected. They took a group of women in year 1939 and reached Jaipur for satyagrah. Both were arrested and put in Jail. Ramkauri had his 6-month-old son with her who was also kept in Jail. His mother Foolan Devi was released from Jail only after when she was seriously ill. Seth Jamana Lal Bajaj and Hira Lal Shastri tried their best to take her to Jaipur for treatment but she refused to leave his village. His wife Ramkauri Devi was also active and took part in all the movements, rallies, gatherings etc for the freedom from 1930 - 1947. Her role in the awakening of women in Jhunjhunu district was unique.

The Praja Mandal

The Praja Mandal leaders also took keen interest in rural peasant affairs and held several of their sessions in rural area towns. The peasant leaders utilized the Praja Mandal as a valuable channel of access to the larger body of political protest and held important positions in it. Sardar Har Lal Singh became the President of Praja Mandal. Others included Chowdhary Kisan Singh and Chowdhary Ishwar Singh. This movement got support from famous Kisan leaders like, Sir Chhotu Ram, Baldev Ram Mirdha, Nathuram Mirdha and Chaudhary Kumbha Ram Arya. After a long struggle the farmers got rid of oppression and got the ownership rights over the land they were cultivating.

After independence also he served the farmers through Congress Party. Harlal Singh later on also became first RPCC chairman.

सरदार हरलाल सिंह का जीवन परिचय

सरदार हरलाल सिंह का जन्म माघ शुक्ला पूर्णिमा रविवार संवत 1957 तदनुसार 3 फ़रवरी 1901 , को झुंझुनू के छोटे से गाँव दूलड़ों का बास (हनुमानपुरा) में , एक साधारण किसान परिवार में हुआ. उनके पिता डालू राम का असामयिक स्वर्गवास 13 वर्ष की आयु में ही हो गया. हरलाल सिंह पर विधवा माँ राजा देवी, तीन छोटे भईयों- गंगा सिंह, रेख सिंह, बाल सिंह और दो छोटी बहिनों - बीजा बाई, सुरजी के देखभाल की सारी जिम्मेवारी आ पडी. [2]

खेती की आय कम और अनिश्चित होने से परिवार के पालन पोषण के लिए हरलाल सिंह को ऊँट पर रोड़ी का बोरा लादकर मंडावा में बेचने के लिए आना पड़ता था और दिन में कई फेरे लगाने पड़ते. एक बार रोड़ी पत्थर निकालते समय उनके एक हाथ में चोट लग गयी थी जो जीवन भर उनको सालती रही. इस प्रकार आर्थिक विपन्नता से ही जूझते रहे. कभी-कभी तो स्थिति इतनी विकट हो जाती कि जयपुर या झुंझुनू जाने के लिए किराये तक की व्यवस्था नहीं हो पाती परन्तु उनकी खुद्दारी ने किसी के आगे हाथ पसारना स्वीकार नहीं किया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 16)

सामंती अत्याचार से सामना

हर लाल सिंह ने बाल्यकाल में ही सामंती अत्याचारों का नग्न रूप देखा. उन्होंने अपने बचपन का एक हादसा सुनाते हुए बताया - :"जागीरदार हमारे नोहरे में ठहरे हुए थे. ऊँट और घोड़े बंधे हुए थे. बेगार के लिए चमार वहां था. ठाकुर ने उस चमार को बैंत मारी तो वह गश खाकर गिर गया और उसका पिशाब निकल गया. मैंने दादा से पूछा कि उसे मारा क्यों तो दादा बोले - भाया यह राजा है..." (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 17)

दूलड़ों का बास हीरवा ठिकाने का गाँव था. हरलाल सिंह का अपनी किशोरावस्था में ही ठाकुर के जुल्मों से साबका पड़ा. प्रथम विश्व-युद्ध समाप्त होने पर शेखावाटी के सैनिक अपने-अपने गाँवों में लौट आये थे. इनसे बहादुरी और जीवट के किस्से सुन-सुन कर युवा हरलाल सिंह के मन में जागीरदारों के विरुद्ध आक्रोश धीरे-धीरे सुलगता गया और कुछ कर गुजरने की तीव्र तमन्ना पनपती गयी. बलरिया के ठाकुर ने हनुमानपुरा में चौधरी गोविन्द राम के नोहरे में आग लगादी जहाँ से फैलकर आग ने अनेक घरों को अपने आँचल में लपेट लिया. आग लगाने का कारण चौधरी गोविन्द राम की अन्याय का प्रतिरोध करने की प्रवृति थी. हरलाल सिंह ने ठाकुर की इस अत्याचारपूर्ण कार्यवाही का डटकर विरोध किया था. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 17)

शिक्षा-दीक्षा

बालक हरलाल को कोई औपचारिक शिक्षा-दीक्षा प्राप्त करने का अवसर नहीं मिला. वे स्वयंपाठी थे. गाँव के पुजारी रामनाथ थोड़े पढ़े लिखे थे. वे गाँव के लोगों को रामायण, महाभारत आदि धार्मिक पुस्तकें यदा-कदा पढ़कर सुनाते थे. हरलाल सिंह के बालमन पर इन कथाओं का बड़ा प्रभाव पडा. पुजारीजी से कुछ अक्षर ज्ञान प्राप्त किया और स्वयं इन धार्मिक ग्रंथों को पढने लगे. सतत अभ्यास, समाचार पत्रों के पठन-पाठन और आर्य समाज के प्रभाव से विद्या-व्यसनी और स्वाध्यायी हो गए. परन्तु अंग्रेजी पढने का अवसर नहीं मिला. ज्यों-ज्यों वे शेखावाटी किसान आन्दोलन, जाट समाज के सम्मेलनों एवं राजनीतिक मुद्दों से जुड़ते गए, त्यों-त्यों उनके पठन, वाचन एवं भाषणों में निखार आता गया. कालांतर में वे स्वयंसिद्ध बनकर भाग्य के स्वयं निर्माता बने. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 17)

आर्य समाज का प्रभाव

आर्य समाज का प्रभाव - इस समय तक आर्य समाज संस्थापित हो चुका था. समाज सुधार का क्रांतिकारी कार्यक्रम लेकर आर्य समाज शहरी क्षेत्रों से होता हुआ ग्रामीण क्षेत्र में प्रविष्ट हुआ. शेखावाटी में सर्वप्रथम रामगढ़ में छोटे से रूप में आर्यसमाज की गतिविधियाँ प्रारंभ हुई. आगे चलकर सेठ देवीबक्स सर्राफ के प्रयत्नों से आर्यसमाज की बड़े स्तर पर गतिविधियाँ मंडावा में शुरू हुई. शहर के लोग इस और उन्मुख नहीं थे अतः देवीबक्स ने बाहरी क्षेत्रों से संपर्क साधा. देहात के लोग बड़ी संख्या में आर्यसमाज की और उन्मुख हुए और इसके सिद्धांतों को खुलकर अपनाया. प्रारंभ में हरलाल सिंह ने आर्यसमाज द्वारा आरंभ किये हुए कार्यों को आगे बढ़ाने, सामाजिक कुरीतियों के विरुद्ध प्रचार करने, किसानों को संगठित करने एवं शिक्षा प्रचार में लगे रहे. चौधरी गोविन्दराम एवं सेठ देवीबक्स की प्रेरणा से हरलाल सिंह ने आर्यसमाज के सिद्धांतों का गाँवों में जोरशोर से प्रचार किया. अनेक रूढ़ियों से ग्रसित हिन्दू समाज को आर्यसमाज ने उन्नति की एक नई दिशा दी. शेखावाटी के जन-आन्दोलन में आर्यसमाज के भजनोपदेशकों का बड़ा योगदान रहा. मंडावा के आर्यसमाज का सन 1927 में विशाल समारोह हुआ जिसमें युवक हरलाल सिंह झंडा लिए हुए जुलुस के आगे-आगे चल रहे थे. वे सेठ देवीबक्स सर्राफ और चौधरी गोविन्द राम के आर्यसमाज के रंग में रंग गए थे. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 18)

पारिवारिक जीवन

हरलाल सिंह का विवाह अठारह वर्ष की उम्र में सांवलोदा गाँव के निवासी चौधरी पेमा राम की पुत्री किशोरी देवी के साथ हुआ. उनकी माता राजां देवी ने नववधु का स्वागत किया. आगे होने वाले संघर्ष में उनकी पत्नी तथा माताजी से प्रेरणा और सहयोग मिला वह सर्वथा अकल्पनीय है. वे लम्बी अवधी तक फरार या भूमिगत रहे और जब घर लौटते तो उन्हें कोई शिकायत सुनने को नहीं मिलती. उनकी धर्म पत्नी किशोरी देवी ने संघर्ष में निरंतर उनका साथ दिया. उन्होंने अनेक यातनाएं सहीं, महिलाओं का नेतृत्व किया तथा कई बार जेल यात्रायें कीं. उनकी माताजी हिम्मतवाली, अक्खड़ स्वभाव की स्पष्टवादी और निडर महिला थी. एक बार जब वे भूमिगत हो गए थे तो पुलिस इनके घर पर तलाशी के लिए आई. पुलिस अधिकारी ने हरलाल सिंह के बारे में पूछा. उनकी माता का जबाव था कि घर में नहीं हैं. पुलिस अधिकारी को विश्वास नहीं हुआ और वह झुक कर चारपाई के नीचे देखने लगा. जैसे ही वह नीचे झुका माताजी ने उसकी पीठ पर यह कहते हुए लात मारी कि क्या तेरा बाप खाट के नीचे छुपा है. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 18)


हरलाल सिंह के दो पुत्र - नरेन्द्र सिंह(अब स्वर्गीय) एवं फतह सिंह और चार पुत्रियाँ - शोभना, सुधीरा, शांति एवं सुशीला हैं. उन्होंने अपनी पुत्रियों को वनस्थली विद्यापीठ में शिक्षा-ग्रहण के लिए भेजा. उनकी प्रेरणा से ही सुमित्रा सिंह, कमला बेनीवाल तथा सुधा आदि वनस्थली में शिक्षा प्राप्त कर राजस्थान में विधायक एवं मंत्री बनीं. सरदार हरलाल सिंह शिक्षा के प्रबल समर्थक थे. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 19)

सांगासी में बैठक वर्ष 1921

भिवानी जाने वाले शेखावाटी के जत्थे - शेखावाटी में किसान आन्दोलन और जनजागरण के बीज गांधीजी ने सन 1921 में बोये. सन् 1921 में गांधीजी का आगमन भिवानी हुआ. इसका समाचार सेठ देवीबक्स सर्राफ को आ चुका था. सेठ देवीबक्स सर्राफ शेखावाटी जनजागरण के अग्रदूत थे. आप शेखावाटी के वैश्यों में प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने ठिकानेदारों के विरुद्ध आवाज उठाई. देवीबक्स सर्राफ ने शेखावाटी के अग्रणी किसान नेताओं को भिवानी जाने के लिए तैयार किया. भिवानी जाने वाले शेखावाटी के जत्थे में आप भी प्रमुख व्यक्ति थे. [3]

राजेन्द्र कसवा[4]लिखते हैं कि सन् 1921 में शेखावाटी से भिवानी गया जत्था जब लौटा तो वह नई ऊर्जा से भरा था. गांधीजी से मिलने और अन्य संघर्षशील जनता को देखने के बाद, किसान नेताओं में स्वाभाविक उत्साह बढ़ा . सन् 1921 में चिमना राम ने सांगासी गाँव में अपने घर अगुआ किसानों की एक बैठक बुलाई. इस प्रथम बैठक में चिमनाराम और भूदाराम दोनों भईयों के अतिरिक्त हरलाल सिंह, गोविन्दराम, रामसिंह कंवरपुरा, लादूराम किसारी, लालाराम पूनिया आदि सम्मिलित हुए. पन्ने सिंह देवरोड़ और चौधरी घासीराम इस बैठक में नहीं पहुँच सके थे लेकिन आन्दोलन करने के लिए सबका समर्थन और सहयोग था. इस बैठक में निम्न निर्णय लिए गए:

  • बेटे-बेटियों को सामान रूप से शिक्षा दिलाना
  • रूढ़ियों, पाखंडों, जादू-टोना, अंध विश्वासों का परित्याग करना और मूर्तिपूजा को बंद करना
  • मृत्युभोज पर रोक लगाना
  • शराब, मांस और तम्बाकू का परित्याग करना
  • पर्दा-पर्था को समाप्त करना
  • बाल-विवाह एवं दहेज़ बंद करना
  • फिजूल खर्च एवं धन प्रदर्शन पर रोक लगाना

इस बैठक के बाद भूदाराम में सामाजिक जागरण का एक भूत सवार हो गया था. वे घूम-घूम कर आर्य समाज का प्रचार करने लगे. अप्रकट रूप से ठिकानेदारों के विरुद्ध किसानों को लामबंद भी करने लगे. विद्याधर कुल्हरी ने अपने इस बाबा भूदाराम के लिए लिखा है कि, 'वह नंगे सर रहता था. हाथ में लोहे का भाला होता. लालाराम पूनिया अंगरक्षक के रूप में साथ रहता था. [5]

कर्मठ समाजसेवियों से संसर्ग

सौभाग्य से शेखावाटी में उत्तरप्रदेश से कुछ कर्मठ व्यक्ति भी समाज सुधार, जनचेतना, स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत थे. इनमें डॉ. गुलजारी लाल एवं मास्टर प्यारेलाल गुप्ता थे. डॉ गुलजारीलाल उत्तरप्रदेश में जहांगीराबाद के रहने वाले थे. वे पेशे से डाक्टर और जन्मजात क्रांतिकारी थे. इनके छोटे भाई डॉ गोविन्दराम नवलगढ़ तथा डॉ श्यामलाल मंडावा में कार्यरत थे. डॉ गुलजारीलाल बम बनाना जानते थे तथा लोगों को बम बनाने का प्रशिक्षण भी देते थे. मास्टर प्यारेलाल गुप्ता बड़े जीवट और निडर व्यक्ति थे. वे स्वामी सत्यदेव परिव्राजक के उपदेशों से प्रभावित होकर सन 1921 में राज्य-सेवा छोड़कर नैनीताल से शेखावाटी के चिड़ावा कस्बे में आ गए थे. अब यही उनकी कर्मस्थली थी. वे यहाँ हाईस्कूल में अध्यापक बन गए. उन्होंने अमर सेवा समिति नामक संस्था खड़ी की और उसकी आड़ में जनजागृति कार्य करने लगे. इस संस्था के सदस्य अर्धसैनिक बन चके थे. आगे चलकर वास्तविक बात उजागार होने पर मास्टर प्यारेलाल और उनके साथियों पर खेतड़ी के जागीरदार अमरसिंह ने अकथनीय अत्याचार किये. उन्हें घोड़ों के पीछे बांध कर घसीटा गया और इसी अवस्था में मारते-पीटते 30 मील दूर लेजाकर खेतड़ी जेल में बंद कर दिया. शेखावाटी के किसी भी शासक द्वारा किये गए अमानुषिक अत्याचार की यह पहली घटना थी. 23 दिनों तक लगातार दी गयी यातनाओं के पश्चात् भारी दवाब के सम्मुख झुककर अमर सिंह ने इन्हें जेल से रिहा किया. गुप्ताजी जेल से छुटकर झुंझुनू आगये और यहाँ हरिजनोद्धार कार्यक्रम चलाने लगे. वे शेखावाटी के विभिन्न क्षेत्रों में निरंतर कार्यरत रहे.[6]

मास्टर प्यारेलाल गुप्ता ने कर्मनिष्ठ अध्यापकों का एक ऐसा समूह खड़ा कर दिया जो स्वतंत्रता की भावना से पूरी तरह ओतप्रोत थे. इसी प्रकार के व्यक्ति मास्टर चंद्रभान थे, वे मेरठ जिले के बामडोली ग्राम के निवासी थे. ये राष्ट्रीय विचारों के युवक थे. सन् 1925 में सरदार हरलाल सिंह के गाँव हनुमानपुरा में पाठशाला खोली तब उसका भार इन्हीं को सौंपा. वे शिक्षा के साथ आर्य समाज के सिद्धांतों का भी प्रचार करते थे. जनजागृति करना उनका प्रथम कार्य था. वे सीकर प्रजापति महायज्ञ में स्वागत समिति के सचिव भी थे. आगे चलकर ये जाट पंचायत के सचिव बने. सीकर ठिकाने ने इन्हें गिरफ्तार कर खूब यातनाएं दी. शिक्षा प्रचार उनका मूल मन्त्र रहा. उन्होंने खादी आश्रम भी स्थापित किया था. [7]

राजस्थान की जाट जागृति में योगदान

ठाकुर देशराज[8] ने लिखा है ....उत्तर और मध्य भारत की रियासतों में जो भी जागृति दिखाई देती है और जाट कौम पर से जितने भी संकट के बादल हट गए हैं, इसका श्रेय समूहिक रूप से अखिल भारतीय जाट महासभा और व्यक्तिगत रूप से मास्टर भजन लाल अजमेर, ठाकुर देशराज और कुँवर रत्न सिंह भरतपुर को जाता है।

यद्यपि मास्टर भजन लाल का कार्यक्षेत्र अजमेर मेरवाड़ा तक ही सीमित रहा तथापि सन् 1925 में पुष्कर में जाट महासभा का शानदार जलसा कराकर ऐसा कार्य किया था जिसका राजस्थान की तमाम रियासतों पर आश्चर्यजनक प्रभाव पड़ा और सभी रियासतों में जीवन शिखाएँ जल उठी।

सन् 1925 में राजस्थान की रियासतों में जहां भी जैसा बन पड़ा लोगों ने शिक्षा का काम आरंभ कर दिया किन्तु महत्वपूर्ण कार्य आरंभ हुये सन् 1931 के मई महीने से जब दिल्ली महोत्सव के बाद ठाकुर देशराज अजमेर में ‘राजस्थान संदेश’ के संपादक होकर आए। आपने राजस्थान प्रादेशिक जाट क्षत्रिय की नींव दिल्ली महोत्सव में ही डाल दी थी। दिल्ली के जाट महोत्सव में राजस्थान के विभिन्न


[पृ 2]: भागों से बहुत सज्जन आए थे। यह बात थी सन 1930 अंतिम दिनों में ठाकुर देशराज ‘जाट वीर’ आगरा सह संपादक बन चुके थे। वे बराबर 4-5 साल से राजस्थान की राजपूत रियासतों के जाटों की दुर्दशा के समाचार पढ़ते रहते थे। ‘जाट-वीर’ में आते ही इस ओर उन्होने विशेष दिलचस्पी ली और जब दिल्ली महोत्सव की तारीख तय हो गई तो उन्होने जयपुर, जोधपुर, बीकानेर और दूसरी रियासतों के कार्य कर्ताओं को दिल्ली पहुँचने का निमंत्रण दिया। दिल्ली जयपुर से चौधरी लादूराम किसारी, राम सिंह बख्तावरपुरा, कुँवर पन्ने सिंह देवरोड़, लादूराम गोरधनपुरा, मूलचंद नागौर वाले पहुंचे। कुछ सज्जन बीकानेर के भी थे। राजस्थान सभा की नींव डाली गई और उसी समय शेखावाटी में अपना अधिवेशन करने का निमंत्रण दिया गया। यह घटना मार्च 1931 की है।

इसके एक-डेढ़ महीने बाद ही आर्य समाज मड़वार का वार्षिक अधिवेशन था। लाला देवीबक्ष सराफ मंडावा के एक प्रतिष्ठित वैश्य थे। शेखावाटी में यही एक मात्र ऐसे व्यक्ति थे जिनहोने कानूनी तरीके से ठिकानाशाही का सामना करने की हिम्मत की थी। उन्होने ठाकुर देशराज और कुँवर रत्न सिंह दोनों को आर्य समाज के जलसे में आमंत्रित किया। इस जलसे में जाट और जाटनियाँ भरी संख्या में शामिल हुये। यहाँ हरलाल सिंह, गोविंद राम, चिमना राम आदि से नया परिचय इन दोनों नेताओं का हुआ।

जाट महासभा का पुष्कर में जलसा सन् 1925

सर्वप्रथम 28 से 30 अक्टूबर सन् 1925 को अखिल भारतीय जाट महासभा ने राजस्थान में दस्तक दी और अजमेर के निकट पुष्कर में अखिल भारतीय जाट महासभा का जलसा हुआ. इसकी अध्यक्षता भरतपुर महाराजा कृष्णसिंह ने की. इस अवसर पर जाट रियासतों के मंत्री, पंडित मदन मोहन मालवीय, पंजाब के सर छोटूरामसेठ छज्जू राम भी पुष्कर आये. इस क्षेत्र के जाटों पर इस जलसे का चमत्कारिक प्रभाव पड़ा और उन्होंने अनुभव किया कि वे दीन हीन नहीं हैं. बल्कि एक बहादुर कौम हैं, जिसने ज़माने को कई बार बदला है. भरतपुर की जाट महासभा को देखकर उनमें नई चेतना व जागृति का संचार हुआ और कुछ कर गुजरने की भावना तेज हो गयी. यह जलसा अजमेर - मेरवाडा के मास्टर भजनलाल बिजारनिया की प्रेरणा से हुआ था. शेखावाटी के हर कौने से जाट इस जलसे में भाग लेने हेतु केसरिया बाना पहनकर पहुंचे, जिनमें आप भी सम्मिलित थे. वहां से आप एक दिव्य सन्देश, एक नया जोश, और एक नई प्रेरणा लेकर लौटे. जाट राजा भरतपुर के भाषण सेभान हुआ कि उनके स्वजातीय बंधू, राजा, महाराजा, सरदार, योद्धा, उच्चपदस्थ अधिकारी और सम्मानीय लोग हैं. पुष्कर से आप दो व्रत लेकर लौटे. प्रथम- समाज सुधार, जिसके तहत कुरीतियों को मिटाना एवं शिक्षा-प्रसार करना. दूसरा व्रत - करो या मरो का था जिसके तहत किसानों की ठिकानों के विरुद्ध मुकदमेबाजी या संघर्ष में मदद करना और उनमें हकों के लिए जागृति करना था.[9]

पुष्कर महोत्सव से आते ही 1925 ई. में हर लाल सिंह ने अपने दादा चौधरी गोविन्द राम के साथ मिलकर अपने गाँव हनुमानपुरा में बच्चों को पढ़ने के लिए एक पाठशाला खोली और उत्तर प्रदेश के मास्टर चंद्रभान को वहां शिक्षक नियुक्त किया. इसके साथ ही वे समाज सुधार में लग गए, जिसके अंतर्गत बच्चों को शिक्षा दिलाना, बल-विवाह और मृत्युभोज बंद करवाना, रूढ़ियों और कुरीतियों का त्याग करना, नशा बंद करवाना, फिजूल खर्ची पर रोक लगाना आदि प्रमुख थे. [10]

झुंझुनूं में जाट महासभा का सम्मलेन सन् 1932

नोट - यह सेक्शन राजेन्द्र कसवा की पुस्तक मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), प्रकाशक: कल्पना पब्लिकेशन, जयपुर, फोन: 0141 -2317611, संस्करण: 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 109-117 से साभार लिया गया है.

जब राष्ट्रीय स्तर पर गांधीजी डांडी यात्रा कर रहे थे और नमक का कानून तोड़ने के अभियान चला रहे थे तो पन्नेसिंह देवरोड़ ने शेखावाटी में जन आन्दोलन की हलचलें शुरू की. पन्ने सिंह उस समय शेखावाटी में तेजी से उभर रहे थे. उनमें संगठन निर्माण की अद्भुत क्षमता थी. रींगस के मूल चन्द अग्रवाल ने पिलानी में खादी भण्डार खोल दिया जिसे पन्ने सिंह ही संभाल रहे थे. खादी उत्पादन केंद्र देवरोड़ में खोला गया . कताई-बुनाई का कार्य शुरू किया गया. ठाकुर देशराज झुंझुनू आये औए पन्ने सिंह सहित अन्य किसान नेताओं से मिले. झुंझुनूं में विशाल पैमाने पर सम्मलेन करने के लिए गाँव-गाँव भजनोपदेशक पहुँचने लगे.

सन 1931 में ही मंडावा में आर्य समाज का वार्षिक सम्मलेन हुआ. ठिकानेदारों ने भय का वातावरण बनाया किन्तु हजारों स्त्री-पुरुषों ने सम्मलेन में भाग लिया. सभी ने आग्रह किया कि झुंझुनू में होने वाले सम्मलेन में भाग लें. ठाकुर देशराज के नेतृत्व में झम्मन सिंह वकील, भोला सिंह, हुकुम सिंह तथा स्थानीय भजनोपदेशकों की टोलियाँ शेखावाटी अंचल के सैंकड़ों गाँवों में घूमी और झुंझुनू सम्मलेन को सफल बनाने की अपील की.

सरदार हरलाल सिंह शेखावाटी किसान आन्दोलन के सहयोगियों के साथ

जन जागरण के गीतों के माध्यम से गाँव-गाँव को जागरुक किया. घासी राम और हरलाल सिंह पडौसी रियासत बीकानेर के गाँवों में प्रचार करने लगे. राजगढ़ तहसील के जीवन राम जैतपुरा साथ थे जो देर रात तक गाँवों में भजनों के माध्यम से कार्यक्रम करते.

झुंझुनू सम्मलेन, बसंत पंचमी गुरुवार, 11 फ़रवरी 1932 को होना तय हुआ जो तीन दिन चला. स्वागत-समिति के अध्यक्ष पन्ने सिंह को बनाया गया. उनके पुत्र सत्यदेव सिंह के अनुसार महासम्मेलन के आयोजन के लिए बिड़ला परिवार की और से भरपूर आर्थिक सहयोग मिला. मुख्य अतिथि का स्वागत करने के लिए बिड़ला परिवार ने एक सुसज्जित हाथी उपलब्ध कराया. यह समाचार सुना तो ठिकानेदार क्रोधित हो गए. उन्होंने कटाक्ष किया - तो क्या जाट अब हाथियों पर चढ़ेंगे? यह सामंतों के रौब-दौब को खुली चुनोती थी. जागीरदारों ने सरे आम घोषणा की, 'हाथी को झुंझुनू नहीं पहुँचने दिया जायेगा.'

पिलानी के कच्चे मार्ग से हाथी झुंझुनू पहुँचाना था. रस्ते में पड़ने वाले गाँवों ने हाथी की सुरक्षा का भर लिया. इस क्रम में गाँव खेड़ला, नरहड़ , लाम्बा गोठड़ा, अलीपुर, बगड़ आदि गाँवों के लोग मुस्तैद रहे. हाथी दो दिन में सुरक्षित झुंझुनू पहुँच गया. ठिकाने दारों की हिम्मत नहीं हुई कि रोकें.

सम्मलेन के लिए वर्तमान सेठ मोतीलाल कालेज और रानीसती मंदिर के मैदान में विशाल तम्बू लगाये गए थे. एक नया गाँव बस गया था. सम्मलेन का कार्यालय सभा स्थल के निकट, मुख्य सड़क पर 'टेकडी वाली हवेली' में रखा था. आम लोगों के लिए सम्मलेन स्थल पर अनेक भोजनालय बनाये गए थे. झुंझुनू शहर के दुर्गादास काइयां , रंगलाल गाड़िया, बजरंग लाल वर्मा आदि ने खूब दौड़-भाग की. बगड़, चिड़ावा आदि शहरों से भरपूर सहयोग मिला. पूरा झुंझुनू शहर महासम्मेलन का स्वयं ही आयोजक बन गया था. स्वयं सेवकों की पूरी फ़ौज तीन दिन तक सम्मलेन स्थल पर अपनी सेवाएँ देती रही. झुंझुनू की गली-गली उत्साह से सरोबर थी.

महासम्मेलन की अध्यक्षता के लिए दिल्ली के आनरेरी मजिस्ट्रेट चौधरी रिशाल सिंह राव को आमंत्रित किया था. चौधरी रिशाल सिंह दिल्ली से रींगस, रींगस से झुंझुनू रेल द्वारा पहुंचे. रेलवे स्टेशन पर किसान नेताओं के अलावा हजारों का जनसमूह अपने मुख्य अतिथि की प्रतीक्षा कर रहे थे. जब वे स्टेशन पहुंचे तो झुंझुनू स्टेशन जय कारों से गूँज उठा. रेलवे स्टेशन पर ऐसी भीड़ बाद में कभी नहीं देखी गयी. स्टेशन से सभा स्थल तक मुख्य सड़क से जुलुस के रूप में जाना तय हुआ. आगे-आगे बैंड बाजा , उसके पीछे सजा हुआ हाथी चलने लगा. हाथी पर चौधरी रिशाल सिंह और उनके पीछे पन्ने सिंह सवार थे. हाथी पर इन दोनों के साथ गनपतराम नाई बैठा था, जो मुख्य अतिथि को चंवर ढुला रहा था. हाथी के पीछे पैदल स्त्रियों का जत्था पांच-पांच की पंक्तियों में गीत गाते चल रहा था. महिला जत्थे के पीछे पांच-पांच की पंक्तियों में पुरुष पैदल हाथों में लाठियां या बरछी लिए चल रहे थे. सबसे पीछे ऊंट सवारों का जत्था था. सजे हुए ऊंट भी पांच-पांच की पंक्तियों में चल रहे थे.

चौधरी घासीराम, हर लाल सिंह, राम सिंह बख्तावरपुरा, लादूराम किसारी, ठाकुर देशराज, पंडित ताड़केश्वर शर्मा, जीवन राम जैतपुरा, हुकुम सिंह आदि की मेहनत के कारण पूरा झुंझुनू जिला महासम्मेलन की और उमड़ पड़ा. पन्ने सिंह के बड़े भाई भूरेसिंह ने भी इस सम्मलेन के दौरान उत्साह से कार्य किया. सीकरवाटी से भी काफी संख्या में किसान नेता आये थे. यह परिवर्तन की आंधी थी. इसलिए भूखे-प्यासे, पीड़ित गाँवों के लोग पैदल जत्थों में सभा स्थल की और चल पड़े. प्रथम बार गाँवों की महिलायें गीत गाते हुए आई. झुंझुनू की मुख्य सड़क पर जुलुस सभा स्थल की और बढ़ रहा था. शहर के निवासीगण घरों की छतों पर, दीवारों और मुंडेरों तथा छपरों पर खड़े हो आन्दोलनकारियों का हौसला बढ़ा रहे थे.

जयपुर रियासत के पुलिस इंस्पेक्टर जनरल मि. अफ.ऍस. यंग (F.S.Young) , नाजिम शेखावाटी, पुलिस अधीक्षक झुंझुनू व अन्य अधिकारीगण जुलुस के साथ-साथ चल रहे थे. शहर के निवासियों ने अनेक स्थानों पर जुलुस रोककर , मुख्य अतिथि व किसान नेताओं का सम्मान किया. महिलाओं ने आरती उतारी. तत्पश्चात वे भी जुलुस में शामिल हो गए.

सम्मलेन स्थल पर ऊँचा मंच बना हुआ था. अनेक हवन-कुण्ड एक और बने हुए थे. अधिवेशन के दौरान तीनों दिन सुबह यग्य हुआ और जनेऊ बांटी गयी. दिन में भाषणों के अतिरिक्त भजनोपदेशक रोचक और जोशीले गीत प्रस्तुत कर रहे थे. जीवन राम जैतपुरा, हुकुम सिंह, भोला सिंह, पंडित दत्तुराम, हनुमान स्वामी, चौधरी घासी राम आदि ने एक से बढ़कर एक गीत सुनाये. ठाकुर देशराज, पन्ने सिंह, सरदार हरलाल सिंह आदि नेताओं ने सामाजिक, आर्थिक एवं राजनैतिक बदलाव की आवश्यकता प्रतिपादित की. विशाल सम्मलेन को संबोधित करते हुए जयपुर रियासत के आई .जी . यंग (F.S.Young) ने कहा - जाट एक बहादुर कौम है. सामन्तों और पुरोहितों के लिए यह असह्य था.

हरलाल सिंह का 'सरदार' नामकरण

झुंझुनूं में जाट महासभा के सन् 1932 के ऐतिहासिक सम्मलेन में जो निर्णय लिए गए उनमें प्रमुख निर्णय था - झुंझुनू में विद्यार्थियों के पढ़ने और रहने के लिए छात्रावास का निर्माण. दूसरा निर्णय जाट जाति का आत्मसम्मान, स्वाभिमान और सामाजिक दर्जा बढ़ाने सम्बंधित था. जागीरदार और पुरोहित किसान को प्रताड़ित करते थे और उनमें हीन भावना भरने के लिए छोटे नाम से पुकारते थे जैसे मालाराम को मालिया. मंच पर ऐलान किया गया कि आज से सभी अपने नाम के आगे 'सिंह' लगावेंगे. सिंह उपनाम केवल ठाकुरों की बपौती नहीं है. उसी दिन से पन्ना लाल देवरोड़ बने कुंवर पन्ने सिंह देवारोड़, हनुमानपुरा के हरलाल बने सरदार हरलाल सिंह, गौरीर के नेतराम बने कुंवर नेतराम सिंह गौरीर, घासी राम बने चौधरी घासी राम फौजदार. आगरा के चाहर अपना टाईटल फौजदार लगाते हैं अत: चाहर गोत्र के घासी राम को यह टाईटल दिया गया.

इस प्रकार इन उपाधियों पर ठाकुरों का एकाधिकार ख़त्म हो गया. ठाकुर लोग इस पर बहुत कुढ़े हुए थे पर चुप रहना पड़ा. अब चौधरी हरलाल सिंह के नाम कि अपेक्षा 'सरदार' नाम अधिक प्रचालन में रहा.

जयपुर प्रांतीय जाट क्षत्रीय सभा के सम्मलेन के स्वागताध्यक्ष विद्याधर सिंह कुलहरी थे. इस सम्मलेन में जाटों को संगठित रहने, बालक-बालिकाओं को शिक्षा दिलाने, प्रत्येक बालक को यज्ञोपवीत पहनने पर बल दिया. बाल-विवाह रोकने, चढ़ावे में जेवर की रस्म कम करने, शादी में कम खर्चा करने आदि पर भाषण हुए. जलसे में करीब 1500 जाटों ने जनेऊ धारण करने का काम किया. जाटों पर ठिकानेदारों द्वारा की जाने वाली ज्यादतियों का जिक्र कियागया जिसे मनमाने लगान, पैमईस की जरीब छोटी करना, लगान पर ज्यादा ब्याज लेना और अनेक प्रकार की बेगार लेना आदि.[11]

भूमि बंदोबस्त कार्य संपन्न

शेखावाटी के किसानों की लम्बी लड़ाई के बाद पैमाईस का काम शुरू हुआ. इस समय अनेक नेता जेल में थे. इसी समय सरकार ने लगान की अधिक दर लगाकर खतौनियों का विवरण करवा दिया. किसानों के साथ यह बड़ा विश्वासघात था. जिस समय नेता जेल से झूटकर आये खातौनियाँ बंट चुकी थी. उन्होंने खतौनियों के दुरुस्ती के लिए अभियान चलाया. यह भी तय किया गया कि जब तक खतौनियाँ दुरुस्त होकर नहीं आती तब तक लगान नहीं दिया जाय. इधर सरकार से बात भी जारी थी जिसमें हरलाल सिंह, नेतराम सिंह, विद्याधर कुलहरी, चौधरी घासी राम, पंडित ताड़केश्वर शर्मा आदि शामिल थे. उनके प्रयास से सरकार को झुकना पड़ा और लगान की दर कम कर खतौनियाँ दुरुस्त की गयी. इस प्रकार लगान कम कर खातौनियाँ दुरुस्ती शेखावाटी के किसानों की बड़ी विजय थी. जागीरदार अब मनचाहा लगान वसूल नहीं कर सकते थे और बेदखल भी नहीं कर सकते थे. बंदोबस्त के काम में जागीरदारों ने अड़ंगे डाले और बाधाएँ खड़ी कीं किन्तु सन 1936 से प्रारंभ हुआ यह काम 1942 में पूर्ण हो गया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 35)

जागीरदारों में बोखलाहट - जागीरदार राज्य सरकार के इस फैसले से बौखला उठे. वे राज्य सरकार के आदेश के विपरीत मनमाना लगान वसूलने लगे. अन्य प्रकार से किसानों को प्रताड़ित करने लगे. इस प्रकार अराजकता की स्थिति बन गयी. सरदार हरलाल सिंह ने जागीरदारों की मनमानी से खिन्न होकर 12 फ़रवरी 1948 को जयपुर रियासत के प्रधानमंत्री से मिलकर अपनी शिकायतें उनके सामने रखीं. इनमें तीन बातें प्रमुख थी- प्रथम की ठिकानेदारों को खतौनियों से अधिक लगान वसूल करने पर दंड दिया जाय, दूसरी यह कि लगान निजामत में जमा हो तथा अंतिम यह कि पुलिस जागीरदारी जुल्मों को रोकने में किसानों की मदद करे. इस पर शेखावाटी के नाजिम को लगान जमा करने के आदेश दिए गए. पुलिस को भी मदद के लिए कहा गया. इससे स्थिति में कुछ सुधार हुआ. इधर जागीरदार अपने षड्यंत्रों में लगे थे. उन्होंने छोटे जागीरदारों और भूमियों को आगे कर आन्दोलन आरंभ कर दिया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 35-36)

झुंझुनू में विद्यार्थी भवन का जलसा सन 1938

सन 1938 में सरदार हरलाल सिंह ने झुंझुनू में विद्यार्थी भवन का जलसा किया. इसमें हजारों कार्यकर्ताओं के अलावा पंडित हीरालाल शास्त्री एवं स्वामी केशवानंद भी पधारे. किसान पंचायत के स्थगित होने के बाद हीरालाल शास्त्री का जयपुर रियासत में कद बढ़ गया था. हरलाल सिंह उनके प्रमुख विश्वसनीय नेता बन चुके थे. इस जलसे में आई.जी. मि. एफ.एस.यंग (F.S.Young) भी आये थे. सम्मलेन से पूर्व वे डाक बंगले में रुके हुए थे. छात्रावास के मंत्री होने के नाते विद्याधर कुल्हरी मि. यंग को बुलाने गए. यंग ने कहा , 'पास के कमरे में बिसाऊ ठाकुर बिशन सिंह भी रुके हुए हैं. उनसे भी सम्मलेन में सम्मिलित होने का आग्रह कर लें.' विद्याधर कुल्हरी ने ऐसा ही किया. ठाकुर बिशन सिंह सम्मलेन में चलने के लिए ख़ुशी से तैयार हो गए. तीनों सम्मलेन-स्थल पर पहुंचे. (राजेन्द्र कसवा, p.156)

विद्याधर कुल्हरी ने छात्रावास की रिपोर्ट पढी. उस समय छात्रावास के लिए आवंटित भूमि से सटी हुई पांच-छ: बीघा जमीन पड़ी थी जो बिसाऊ ठाकुर बिशनसिंह की थी. अपनी रिपोर्ट के अंत में विद्याधर कुल्हरी ने इस जमीन को छात्रावास के लिए देने हेतु मांग कर डाली. मि. यंग ने तत्काल ठाकुर बिशन सिंह से बात की. उदार ह्रदय वाले बिशन सिंह ने मांगी गयी सारी जमीन छात्रावास को देने की घोषणा की. यंग आरंभ से ही छात्रावास के लिए दिलचस्पी रखता था. तत्कालीन परिस्थितियों में यह असाधारण कार्य था जिसके लिए ठाकुर बिशन सिंह को सम्मान से देखा गया. (राजेन्द्र कसवा, p.157)

गोठडा (सीकर) का जलसा सन 1938

जयपुर सीकर प्रकरण में शेखावाटी जाट किसान पंचायत ने जयपुर का साथ दिया था. विजयोत्सव के रूप में शेखावाटी जाट किसान पंचायत का वार्षिक जलसा गोठडा गाँव में 11 व 12 सितम्बर 1938 को शिवदानसिंह अलीगढ की अध्यक्षता में हुआ जिसमें 10-11 हजार किसान, जिनमें 500 स्त्रियाँ थी, शामिल हुए. सम्मलेन में उपस्थ्तित प्रमुख नेताओं में आप भी थे. [12]

स्त्री शिक्षा के प्रति गहरी रूचि

सरदार हरलाल सिंह की शिक्षा विशेषकर स्त्री शिक्षा के प्रति गहरी रूचि थी. यही कारण था की 1925 में पुष्कर अधिवेशन से लौटते ही अपने गाँव हनुमानपुरा में स्कूल खुलवाया, जो आगे चलकर इनके प्रयास से सीनियर सैकंडरी स्कूल तक क्रमोन्नत हुआ. इसके अलावा इन्होने ग्रामीण इलाकों में भागीरथ कानोडिया की आर्थिक सहायता से अनेक पाठशालाएं खुलवाई थी. विद्यार्थी भवन झुंझुनू तो उनकी अमरकृति है जिसको स्थापित व संचालित करने में आपने रात-दिन एक कर दिए थे. सैंकड़ों लड़कों को लाकर वहां उन्हें पढ़ाते थे और उनका जीवन बनाया था. अनेक छात्रों को आर्थिक सहायता दिलाकर उन्हें प्रगति पथ पर अग्रसर करने में इनका बहुत बड़ा हाथ था. इनमें प्रसिद्द गणितज्ञ प्रो. घासी राम वर्मा भी शामिल हैं. सरदार हरलाल सिंह स्त्री शिक्षा के प्रति भी सचेत थे. इन्होने 1938 में ही न केवल अपनी लड़कियां सुदीरा और शोभना को वनस्थली विद्यापीठ में पढने भेजा बल्कि अपने साथियों नेतराम सिंह गौरीर की पुत्री कमला, लादूराम किसारी की पुत्री सुमित्रा सिंह तन्ने सिंह की पुत्री सुधा, हरलाल सिंह मांडासी की पुत्रियाँ सुवीरा और सरस्वती, गोरु सिंह की पुत्री पार्वती आदि को बनस्थली में भेजकर उच्च शिक्षा दिलवाई. कमलासुमित्रा सिंह ने तो राजस्थान की राजनीती में उच्च स्थान प्राप्त किया तथा शेखावाटी क्षेत्र को गौरवान्वित किया. [13]

प्रजामंडल एवं जाट पंचायतों में गठबंधन

सन 1938 में कांग्रेस के हरिपुरा अधिवेशन में एक प्रस्ताव पारित हुआ जिसमें कहा गया कि कांग्रेस रियासती जनता से अपनी एकता की घोषणा करती है और स्वतंत्रता के उनके संघर्ष के प्रति सहानुभूति प्रकट करती है. त्रिपुरा अधिवेशन में कांग्रेस ने रियासती जनता के प्रति समर्थन की घोषणा कर दी, इससे जनता में बड़ा उत्साह और उमंग जगी. आल इण्डिया स्टेट्स पीपुल्स कांफ्रेंस की स्थानीय इकाइयों के रूप में जगह-जगह प्रजामंडल अथवा लोकपरिषदों का गठन हुआ. राजस्थान में प्रजामंडलों के संस्थापन की प्रथम कड़ी के रूप में जयपुर राज्य प्रजामंडल की स्थापना सन 1931 में हुई. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 36)

सन 1938 के प्रजामंडलों की कोई राजनीतिक गतिविधियाँ नहीं थी. इसी साल प्रजामंडल ने संवैधानिक सुधार एवं कृषि सुधर के लिए आन्दोलन चलाये. किसान सभाएं 1937 में ही जयपुर प्रजा-मण्डल में विलीन हो चुकी थी. इसी साल सेठ जमनादास बजाज और पंडित हीरालाल शास्त्री इसके सचिव बने. इसी के साथ इसके वार्षिक अधिवेशन नियमित रूप से होने लगे. प्रजामण्डल का उद्देश्य जनता के लिए प्राथमिक नागरिक अधिकार प्राप्त करना और जयपुर राज्य में समग्र विकास की प्रक्रिया शुरू करना था. अब तक प्रजा मंडल का काम शहरी क्षेत्रों तक ही सीमित था. ग्रामीण क्षेत्रों में पैठ नहीं होने से प्रजा मंडल ने जाट पंचायत के साथ जागीरदार विरोधी संधि में शामिल होने पर विचार किया. उधर शेखावाटी में भी यह विचार चल रहा था कि क्या हमें किसान पंचायतों का विलय प्रजा मंडल में कर देना चाहिय. एक गुट, जिसमें चौधरी घासीराम, पंडित ताड़केश्वर शर्मा, विद्याधर कुलहरी आदि थे, का सोच था कि इससे किसानों की मांगें उपेक्षित होंगी, क्योंकि अपनी बहुविध गतिविधयों में प्रजा मंडल इस और पूरा ध्यान नहीं दे पायेगा. दूसरी और सरदार हरलाल सिंह, चौधरी नेतराम सिंह आदि इस विचार के थे कि प्रजा मंडल जैसे सशक्त संगठन में शामिल होने से किसान पंचायतों को सीमित क्षेत्र से निकाल कर विशाल क्षेत्र तक पहुँचाने का यह एक सशक्त माद्यम बन सकेगा. प्रजामंडल में शामिल होने से उनकी पहुँच सीधी जयपुर राज्य से हो जाएगी जिससे जागीरी जुल्मों का वे अधिक सक्रियता से और ताकत से मुकाबला करने में समर्थ होंगे. इस द्विविध विचारधारा के कारण शेखावाटी का राजनीतिक संघर्ष विभाजित हो गया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 37)

16 जून 1946 को किसान सभा का पुनर्गठन - प्रथम गुट के लोग जिसमें चौधरी घासी राम, विद्याधर कुलहरी आदि प्रमुख थे, किसान सभा में बने रहे जबकि दूसरे लोग प्रजा मण्डल से जुड़कर आजादी के संघर्ष की मूल धारा में चले गए. इन परिस्थियों में 16 जून 1946 को किसान सभा का पुनर्गठन किया गया. इस समय शेखावाटी के कुछ प्रमुख किसान नेताओं ने प्रजामंडल से अपने संबंधों का विच्छेद कर लिया. ये थे चौधरी घासी राम, पंडित ताड़केश्वर शर्मा, विद्याधर कुलहरी और तारा सिंह झारोड़. विद्याधर कुलहरी को झुंझुनू जिला किसान सभा का अध्यक्ष बनाया गया. इस विभाजन से शेखावाटी किसान आन्दोलन की गति कम हो गयी. आगे चलकर जयपुर राज्य से प्रजामंडल के कारण उनका संघर्ष शुरू हुआ. इस समय वे कई मोर्चों पर एक साथ लड़ रहे थे. प्रथम मोर्चा ठिकानेदारों के विरुद्ध, दूसरा उनके हिमायती जयपुर राज के विरुद्ध तथा तीसरा अपने ही उन भाईयों के विरुद्ध जो ठिकानों के अंध भक्त बने हुए थे. इस समय शेखावाटी के विविध क्षेत्रों में किसान सम्मलेन आयोजित कर किसानों की समस्याओं पर विचार-विमर्श किया जाता था. ऐसे सम्मेलनों कि अध्यक्षता या सभापतित्व सरदार हरलाल सिंह किया करते थे. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 37-38)

प्रजामंडल की शेखावाटी में गतिविधियाँ - नवंबर 1937 में में प्रजामंडल के महासचिव हीरा लाल शास्त्री ने शेखावाटी का दौरा किया. सरदार हरलाल सिंह तथा चौधरी नेतराम सिंह आदि उनके साथ थे. 25 एवं 30 नवम्बर 1937 को उनका भाषण हनुमानपुरा में हुआ. 16 दिसंबर 1938 को प्रजामंडल के अध्यक्ष सेठ जमनालाल बजाज के जयपुर राज्य में प्रवेश पर रोक लगा दी गयी और 'पब्लिक सोसायटीज एक्ट' के तहत प्रजामंडल को 12 जनवरी 1939 को गैरकानूनी घोषित कर दिया गया. प्रजामंडल के दमन का कारण उसका जाट किसान पंचायत से मेल जोल बढ़ाना था और किसानों को भी इसी संधि की सजा दी जा रही थी. सेठजी ने दो बार 1 फ़रवरी और 5 फ़रवरी को जयपुर की सीमा में प्रवेश की कोशिश की किन्तु दोनों ही बार उन्हें बलपूर्वक खदेड़ कर राज्य से बाहर कर दिया गया. शेखावाटी में इस पर भयंकर प्रतिक्रिया हुई. किसानों ने जगह-जगह सत्याग्रह व आन्दोलन शुरू कर दिए. किसानों पर घोड़े दौडाए गए और लाठी चार्ज हुआ. झुंझुनू में 1 से 4 फ़रवरी तक एकदम अराजकता की स्थिति रही. इसी दौरान प्रजामंडल के प्रभाव में आकर शेखावाटी जाट किसान पंचायत का नाम बदल कर किसान पंचायत और जाट बोर्डिंग हाऊस झुंझुनू का नाम विद्यार्थी भवन कर दिया. सन 1942 में झुंझुनू एवं सन 1942 में श्रीमाधोपुर में प्रजामंडल के वार्षिक अधिवेशन आयोजित किये गए लेकिन ठिकानों की ज्यादतियां अब नए सिरे से शुरू होने लगीं, क्योंकि अब जयपुर दरबार व ब्रिटिश अधिकारी भी उन्हें शह दे रहे थे. ठिकाने कई तरह की लाग-बाग़ और मोहराने मांगने लगे. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 37)

1 मार्च 1939 को किसान दिवस का आयोजन

जयपुर राज्य की किसान विरोधी नीति के कारण पूरे राज्य में 1 मार्च 1939 को किसान दिवस मानाने का निर्णय प्रजामंडल ने लिया. झुंझुनू में भी किसान दिवस मनाने की जोरों से तैयारी होने लगी. इसी समय प्रजामंडल के आगरा कार्यालय ने घोषणा की कि सरदार हरलाल सिंह 15 मार्च 1939 को झुंझुनू में गिरफ़्तारी देंगे. इससे लोगों में जोश की लहर फ़ैल गयी. किसानों ने 15 मार्च के लिए सत्याग्रहियों के जत्थे तैयार करने शुरू कर दिए. हर गाँव में लोग सत्याग्रही बनाने को तैयार थे. 15 मार्च के दिन नगर के चारों और घोड़ों पर चढ़े पुलिस स्वर चक्कर लगा रहे थे. सर्वत्र पुलिस फैली हुई थी. शहर का कोई आदमी नजर नहीं आ रहा था. पूरे शहर में धरा 144 लगी हुई थी. सुबह दस बजे का समय था. अचानक शहर की सरहदों से 'इन्कलाब जिंदाबाद' के नारे सुनाई देने लगे. झुंझुनू शहर के हर कोने से सत्याग्रहियों के जत्थे प्रविष्ट होने लगे. पुलिस का लाठी चार्ज शुरू हो गया. लाठियों की बौछार के बीच ही सत्याग्रही आगे बढ़ते गए. लोग खून से लथपथ हो गए. इसी समय सारा पुलिस घेरा तोड़कर सरदार हरलाल सिंह वहां पहुँच गए और भाषण देना शुरू कर दिया. पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर सेन्ट्रल जेल भेज दिया. इस प्रकार जयपुर राज्य और ठिकानेदारों की समस्त चालों और दुरभि संधियों को नाकाम करते हुए सरदार हरलाल सिंह ने अपना लक्ष्य पूरा किया. उनकी गिरफ़्तारी से बड़ी उत्तेजना फ़ैल गयी. लोगों के जत्थे निरंतर आते रहे और गिरफ्तार होते रहे. जनता पर इस समय जो कहर ढाए वे वर्णनातीत हैं. सैंकड़ों लोग बेहोश होकर गलियों में गिर पड़े. अनेकों के सर से रक्त की धरा बह निकली, पर उन्होंने झंडे को झुकने नहीं दिया. विद्यार्थी भवन से छात्रों की एक टोली झंडा लेकर निकली जिसे बेरहमी से पीटा गया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 39)

सरदार हरलाल सिंह के झुंझुनू पहुँचने की कहानी बड़ी रोचक है. पुलिस ने कमर कसली थी कि 15 मार्च 1939 को हरलाल सिंह तो क्या. किसी भी किसान को झुंझुनू नहीं पहुँचने दिया जायेगा. सरदार हरलाल सिंह आगरा में थे. पुलिस की योजना थी कि उन्हें रास्ते में ही गिरफ्तार किया जाये. लेकिन सरदार निश्चित दिवस से दो दिन पूर्व ही आगरा से रवाना हो गए. वे नारनौल तक गाड़ी में गए. वहां भेष बदला और ऊँट पर स्वर होकर रात को गुमनाम रास्ते से झुंझुनू के लिए चल पड़े. काटली नदी के किनारे बसे गाँव भामरवासी में वे ख्याली राम के घर रुके. दूसरी रात्रि को वे छुपते-छुपाते, झुंझुनू से सटी नेत की ढाणी में पहुंचे. वहां से पैदल चलकर झुंझुनू के एक सेठ रंगलाल गाड़िया के घर छुप गए. पुलिस और घुड़सवार पैनी दृष्टि गडाए थे लेकिन लम्बे-चोडे डील-डौल वाले सरदार हरलाल सिंह ने उनको चकमा दे दिया. उनको आगरा से सुरक्षित झुंझुनू पहुँचाने में ख्याली राम भामरवासी का विशेष योगदान बताया जाता है. ख्याली राम के साथ दु:साहसी युवकों की टोली रहती थी जो जोखिम भरे कार्य करने में हमेशा आगे रहती थी. (राजेन्द्र कसवा, p. 170)

सत्याग्रही किसान गाँवों से टिड्डी दल की तरह उमड़ पड़े. तिरंगा झंडा लिए महात्मा गाँधी की जय, पंडित नेहरु की जय, ब्रिटिश हुकूमत का नाश हो, जागीरदारी प्रथा ख़त्म हो, सरदार हरलाल सिंह की जय के नारे लगाते हुए आगे बढ़ने लगे. रेलवे स्टेशन के पास हजारों आदमियों को पुलिस व घुड़सवारों ने घेर रखा था. उन पर भयंकर बल प्रयोग किया गया. चार वर्ग किमी में घोड़े दौडाए गए , लाठी चार्ज किया गया परन्तु सत्याग्रहियों का आना जारी रहा. पुरुष जत्थों के पीछे महिला जत्थों का आना प्रारंभ हुआ. पुलिस एक बरगी हैरान रह गयी और आखिर उन पर टूट पडी. वीर महिलाएं अपने साथ सैंकड़ों अन्य महिलाओं को लेकर पहुँचीं. उन्होंने तिरंगे के पास पुलिस को फटकने नहीं दिया और आगे बढती गईं. पुलिस ने इन पर भी अकथनीय अत्याचार किये. निहत्थी और सर्वथा अहिंसक भीड़ पर घोड़े दौड़कर जागीरदारों ने नृशंस अत्याचार की पराकाष्ठ कर दी थी. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 39)

अब जत्थे निरंतर जयपुर भेजे जाने लगे. श्रीमती दुर्गादेवी (पंडित ताड़केश्वर शर्मा की पत्नी) पचेरी ने जयपुर के जौहरी बाजार में गिरफ़्तारी दी. इन महिलाओं में ऐसी भी शामिल थीं जिनकी गोद में अति अल्पायु के शिशु थे. सब पर सत्याग्रह का जूनून चढ़ा था, अतः व्यक्तिगत सुख-स्वार्थ की बात पीछे छूट गयी थी. एक जत्था, जिसमें करीब 50 महिलाएं थीं, किशोरी देवी (धर्म पत्नी [[Har Lal Singh|सरदार हरलाल सिंह) के नेतृत्व में गिरफ़्तारी देने जयपुर गया परन्तु उनके पहुँचने से पहले ही सत्याग्रह समाप्त हो गया अतः वे जयपुर से लौट आईं. आगे चलकर समझौता होने पर सभी गिरफ्तार लोगों को जेल से रिहा कर दिया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 40)

राज्य प्रजामंडल के अध्यक्ष चुने गए

सन 1944 में सरदार हरलाल सिंह राज्य प्रजामंडल के अध्यक्ष चुने गए. विद्याधर कुलहरी जिला प्रजामंडल के अध्यक्ष नियुक्त हुए. [14]

अपनी निष्ठां, त्याग, बलिदान तथा संगठन क्षमता के कारण हरलाल सिंह उभर कर राजस्थान के गणमान्य व्यक्तियों की अग्रिम पंक्ति में शामिल हो चुके थे. स्वतंत्रता के बाद प्रजामंडल कांग्रेस में विलीन हो गया. मालपुरा में प्रजामंडल का अंतिम अधिवेशन हुआ. इसमें आप अध्यक्ष चुने गए. कांग्रेस में विलीन होने के बाद जयपुर डिवीजन में कांग्रेस कमिटियों के निर्माण का कार्य आप को दिया गया. झुंझनु में सन 1951 -52 में हरलाल सिंह की सिफारिस पर वकील करणी राम को झुंझनु जिला कांग्रेस कमिटी का प्रथम अध्यक्ष बनाया गया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 47)

चनाणा गोलीकांड

चनाणा गोलीकांड - सन 1946 में झुंझुनू जिले के चनाणा गाँव में किसान सम्मलेन का आयोजन किया गया था. सम्मलेन के अध्यक्ष नरोत्तम लाल जोशी व मुख्य अतिथि पंडित टिकाराम पालीवाल थे. किसान नेता सरदार हरलाल सिंह, नेतराम सिंह, ठाकुर राम सिंह, ख्याली राम, बूंटी राम और स्वामी मिस्रानंद आदि उपस्थित थे. सम्मलेन आरंभ हुआ ही था कि घुड़सवार, ऊँटसवार व पैदल भौमिया तलवारें, बंदूकें, भाले व लाठियां लेकर आये. सीधे स्टेज पर हमला किया जिसमें टिकाराम पालीवाल के हाथ चोट आई. दोनों ओर से 15 मिनट तक लाठियां बरसती रहीं. भौमियों के बहुत से आदमी घायल होकर गिर पड़े तो उन्होने बंदूकों से गोलियां चलाई जिससे कई किसान घायल हो गए और सीथल का हनुमान सिंह जाट मारा गया. किसानों ने हथियार छीनकर जो मुकाबला किया उसमें एक भौमिया तेज सिंह तेतरागाँव मारा गया और 10 -12 भौमियां घायल हुए. सभा में भगदड़ मच गयी और दोनों तरफ से क़त्ल के मुकदमे दर्ज हुए. आगे चलकर समझौता हुआ और दोनों ओर से मुकदमे उठा लिए गए. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 42-43)

विधायक के रूप में

सन 1952 में राजस्थान विधानसभा का चुनाव हुआ जिसमें कांग्रेस उच्च सत्ता ने शेखावाटी क्षेत्र में आपके वर्चस्व को ध्यान में रखते हुए नवलगढ़ और चिड़ावा दो क्षत्रों से चुनाव मैदान में उतारा. नवलगढ़ क्षेत्र से आप पराजित हुए परन्तु कठिन संघर्ष के बावजूद चिड़ावा क्षेत्र से आप विजयी घोषित हुए. 1957 के दलीय चुनाव में टिकट से वंचित रहे. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 48)

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

तीन जनवरी 1958 को मुख्यमंत्री सुखाड़िया सहित सभी वरिष्ठ नेताओं के समर्थन से आप सर्वसम्मति से प्रदेश कांग्रेस के पद पर चुने गए. आप दिसंबर 1959 तक इस पद पर रहे तथा इस अवधी में कांग्रेस में नए प्राण फूंकने के प्रयास किये. संस्था की आर्थिक ख़राब हालत के कारण आपने नेताओं से सख्ती से उधारी वसूली का अभियान चलाया. इससे बड़े नेताओं की नाराजगी झेलनी पडी. 1962 के चुनाव में आपको फिरसे चिड़ावा से प्रत्यासी बनाया लेकिन इस बार जयपुर की पूर्व महारानी गायत्री देवी के नेतृत्व में नवोदित स्वतंत्र पार्टी ने कांग्रेस को कड़ी टक्कर दी, खासकर अपनी जयपुर रियासत वाले क्षेत्र में. अन्य कांग्रेसी महार्थियों की तरह हरलाल सिंह को भी पराजय का मुंह देखना पडा. इसके बाद उन्होंने कोई चुनाव नहीं लड़ा. दिसंबर 1966 में जब प्रदेश कांग्रेश अध्यक्ष के चुनाव में राम किशोर व्यास के मुकाबले कुम्भाराम आर्य पराजित हुए तो हरलाल सिंह ने कुम्भाराम आर्य तथा हरीशचन्द्र सिंह झालावाड के साथ कांग्रेस छोड़ दी. लेकिन मोहन लाल सुखाड़िया के समझाने बुझाने से कुछ समय बाद फिर से कांग्रेस में शामिल हो गए. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 48)

अनंत में विलीन

मार्च 1982 में अचानक हरलाल सिंह को पिशाब और गुर्दे की बीमारी हुई. आपको सवाई मानसिंह अस्पताल में भर्ती कराया गया. इस समय उनकी बीमारी का पता लगने पर प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी ने एक कीमती दवा भेजी थी लेकिन उसके पहुँचने के समय तक उनकी दशा बहुत चिंतनीय हो गयी थी. 21 मार्च 1982 को 81 वर्ष की आयु में अर्ध रात्रि में वे पंचतत्व में विलीन हो गए.

सरदार हरलाल सिंह पर पुस्तक

सम्मान

उनकी इच्छा के अनुसार अंतिम संस्कार पैत्रिक गाँव हनुमानपुरा में किया गया. इस अवसर पर राजस्थान के मुख्यमंत्री सहित पूरे मंत्रिमंडल के सदस्य, गणमान्य व्यक्ति और शेखावाटी के हजारों लोगों ने भावभीनी अश्रुपूर्ण अंतिम विदाई दी. आपके सम्मान में आपके द्वारा स्थापित विद्यालय का नाम तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवचरण माथुर ने सरदार हरलाल सिंह राजकीय सीनियर सैकंडरी विद्यालय कर दिया. बाद में आपकी आदमकद मूर्ती का अनावरण हनुमानपार्क हनुमानपुरा में डॉ. बलराम जाखड, कृषि मंत्री, भारत सरकार, दिल्ली के कर कमलों द्वारा सम्पन्न्हुआ. [15]

सरदार हरलाल सिंह का जीवन परिचय देने वाली पुस्तक का अभाव था. यह कार्य पूर्ण किया है लेखक डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया ने वर्ष 2001 में. राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर ने 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा' पुस्तक माला में अमर स्वाधीनता सेनानी सरदार हरलाल सिंह के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला गया है. [16]

आपकी सेवाएँ किसानों के हितों के लिए सदैव स्वर्णाक्षरों में लिखी जाएगी और शेखावाटी में आगे आने वाली पीढियां सदैव आपकी आभारी रहेंगी.

Gallery of pictures

Reference

  1. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.246
  2. डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - सरदार हरलाल सिंह' , 2001 , पृ. 16
  3. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 70
  4. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 95
  5. विद्याधर कुल्हरी:मेरा जीवन संघर्ष, पृ.27
  6. डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - सरदार हरलाल सिंह' , 2001 , पृ. 19
  7. डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - सरदार हरलाल सिंह' , 2001 , पृ. 20
  8. ठाकुर देशराज:Jat Jan Sewak, p.1-2
  9. डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - सरदार हरलाल सिंह' , 2001 , पृ. 20-21
  10. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.248
  11. डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - सरदार हरलाल सिंह' , 2001 , पृ. 22
  12. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 163
  13. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.265
  14. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 187
  15. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.267
  16. डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - सरदार हरलाल सिंह' , 2001 , पृ. 16
  • RICHARD SISSON, PEASANT MOVEMENTS AND POLITICAL MOBILIZATION: THE JATS OF RAJASTHAN

Back to The Freedom Fighters/The Leaders