Kumbha Ram Arya

From Jatland Wiki
(Redirected from Chaudhary Kumbha Ram Arya)
Jump to: navigation, search
Author: Laxman Burdak, IFS (R)

Chaudhary Kumbharam Arya

Chaudhary Kumbharam Arya (10 May 1914 - 26 October 1995) (चौधरी कुम्भाराम आर्य) was a freedom fighter, social worker, reformer, parliamentarian and popular leader of farmers in Rajasthan, India.

Contents

Early life

He was born at village Khaira-Chhota of princely state Patiala on 10th May 1914 in a Jat Hindu family of Sunda gotra. His father's name was Bhairaram and mother's name was Jivani. His ancestors belonged to village Kudan in Sikar District. His family migrated to village Saudanpur and finally settled at village Phephana or Fefana (फेफाना) of Nohar Tehsil of district Hanumangarh. [1]

Freedom movement

Chaudhary Kumbharam Arya got primary education at village school Phephana (फेफाना/Fefana) and joined Forest department Hanumangarh at the age of 14 years. Arya Samaj was spreading its activities in rural areas in those days. Brahmanical dominance and untouchability prevalent in the society forced him to follow the principles of Arya Samaj. He became strong follower of Swami Dayanand. He took part in the Lahore Congress Adhiveshan in 1930, due to which he was removed from service of Forest department. Later on he joined Police department and reached upto the post of Inspector of Police. While serving in Police deparment he came in contact with two politicians of democratic thinking namely Mukta Prasad Vakil and Raghuvar Dayal Goyal. With their help he founded a political organization “Praja Parishad”. He resigned from police service to support the freedom movement started by Mahatma Gandhi. He became active in politics and started taking part in political movements. He took part in “Akhil Bharatiy Deshi Rajya Parishad Adhiveshan” in 1945.

Reformist moves for farmers

Chaudhary Kumbharam Arya united farmers of princely state Bikaner against the exploitation by Jagirdars. He was arrested by the ruler of Bikaner and imprisoned till independence. The Jagirdars in Bikaner state were exploiting farmers. Before independence the state of Rajasthan was a union composed of several princely states of Rajputana, which came into existence on 30th March 1949. The farmers were tenants of the land and their condition was deplorable under the exploitation of landlords called Jajirdars, Zamindars and Bishwedars etc. The tenant had no right over the land cultivated by him. He was only the tiller of the soil, but was under the whimsical mercy of those landlords. But the farmers as a class were awakening in Bikaner state under the leadership of Chaudhary Kumbharam Arya and there was turmoil of the tiller demanding, “Land to tiller”. This hostile state of affairs led the newly formed state government to take immediate steps to reconcile the situation. The pressure of protection of the tenants was so immense that the government had to take immediate steps and with this aim “The Rajasthan Protection of Tenants Ordinance, 1949” was promulgated to meet the burning need of the time. The Rajasthan Land Reforms and Resumption of Jagirs Act, 1952 was the landmark in the legal history of land reforms in Rajasthan. The pressure of farmers united under the leadership of Chaudhari Kumbharam Arya forced the state government to promulgate The Rajasthan Tenancy Act, 1955 which became applicable to the whole of Rajasthan. The overriding effect of this Act provided relief to the existing tenants and the rights accrued to tenants accordingly. He also amended the rules of felling trees in favour of farmers. Farmers were not allowed to fell trees from his land. This caused great difficulty. It was he who pressurized the state government to amend the rules and permit the farmer to fell trees from land of his ownership for his own use.

Panchayat-Raj and Cooperatives

The first popular government in Rajasthan was formed in 1949 under the leadership of Hiralal Shastri. A new government was formed in 1951 under the leadership of Jaynarayan Vyas. Chaudhary Kumbharam Arya was made home minister in it. Later on in Mohanlal Sukharia government in 1954 and in 1964 also he was twice health minister. He formed Panchayat Raj Federation of which he was chairman from 1957-1958. He is the founder member of Panchayat Raj in Rajasthan. The rules of Panchayat Raj of Rajasthan are considered to be ideal ones in the country. He was member of Rajya Sabha from 1960-1964. In 1966 he resigned from the Congress government and formed a new political party “Janata Party”. In 1968 he was elected to Rajya Sabha and was member of Rajya Sabha from 1968-74. He was Member of Parliament elected from Sikar (1980-84) from Lokdal Party.

Chaudhary Kumbharam Arya formed Kisan Union in the interest of farmers in 1974. He believed that the key to success of rural development was in Panchayati Raj and Cooperative movement. He was founder of cooperative movement in Rajasthan. He was Chairman of Rajasthan Apex Cooperative bank. He was Chairman of Rajasthan Marketing Federation “RAJFED”. He was Chairman of Rajasthan Cooperative Federation. His role in cooperative movement in Rajasthan was unparallel.

Radical thinker

Chaudhary Kumbharam Arya was a great social reformer and a radical thinker. His ideology was not based on traditions. He was strong follower of Arya Samaj. He tried throughout his life to remove social evils from the society. He stoutly opposed untouchability. As the proverb goes, charity begins from home. So he appointed his butler who belonged to scheduled caste. His driver was a Rajput. He arranged marriage of his Rajput driver with a Muslim girl after adopting her as a sister.

He was the author of two books namely, “Kisan Union Kyon” and “Varg Chetana”. He started a weekly magazine “Kisan” in Hindi in 1978. He started a number of schools and hostels for girls in Bikaner region. He served for about 50 years in various capacities starting from Lok Parishad, National Congress, Janata Party, Bhartiy Krantidal, Bhartiy Lokdal and Janata Party with the interest of a common man in mind.

He passed away on 26th October 1995.[2]

Bio Data at Lok Sabha website

7th Lok Sabha

Members Bioprofile[3]

ARYA, SHRI KUMBHA RAM (Janata (S)— Rajasthan, Sikar, 1980] s. of Shri Bhaira Ram Chaudhari; b. at Phephana Village Nohar Tahsil, Shri Ganganagar District, June, 1914; Matriculate; m. Smt, Bhudevi Ji; 2 s. and 5 d.; Agriculturist; previously associated with Akhil Bharatiya Deshi Raj Lok Parishad-before independence and thereafter with Indian National Congress; Janata Party; (Rajasthan), 1967; Bharatiya KrantiDal; Bharatiya Lok Dal, Janata Party; presently with Lok Dal (Janata-S); Minister of revenue Bikaner State, 1948; Minister of Health, Police, Minerals and Industry, 1951, Minister of Health and Local Self Government 1954-55 and Minister of Revenue, 1964-67 Government of Rajasthan; Founder, Rajasthan Panchayat Raj Sangh 1957-58; vice President, Akhil Bharatiya Panchayat Parishad, l957-58; Member, (i) Rajasthan Legislative Assembly, 1952-57, 1964-66, (ii) Rajya Sabha, 1960-64 and again, 1969-74.

Social activities: (i) Education, (ii) Social reforms, (iii) Cow Production, (iv) Uplift of Harijans, and (v) Creating class consciousness.

Special interests: To awaken and organise the workers and peasants on the basis of class consciousness; propagation of People's democracy for the establishment of Panchayat Raj.

Publications: "Kisan Union Kyon".

Travels abroad: Germany, U.S.S.R. and U.K.

Permanent address: Arya Niwas, Durga Pura, Jaipur, Rajasthan.

चौधरी कुम्भाराम का बचपन

कुम्भाराम की माताजी श्रीमती जीवणी

चौधरी कुम्भाराम आर्य राजस्थान के उन जननायकों में से थे जिन्होने जिंदगी भर अन्याय, शोषण और अत्याचार के विरुद्ध तथा गरीबी व किसानों के हितों के लिए संघर्ष किया। वे निडरता व साहस के धनी तथा किसानों के हिमायती व प्रखर वक्ता थे। उनकी जीवनी स्कूलों में पढ़ाई जानी चाहिए जिससे आज का युवा वर्ग समझ सके कि हमारे पूर्वजों ने कितने संघर्ष से अधिकार और आजादी प्राप्त की है जिसका उपयोग आज हम कर रहे हैं और हमारा समाज दिनों-दिन प्रगति के राह पर आगे बढ़ रहा है।

चौधरी कुम्भाराम का जन्म : मनसुख रणवां[4] ने लेख किया है कि ....[पृ.1]: चौधरी कुम्भाराम का जन्म हिंदुस्तान के तत्कालीन पंजाब की रियासत पटियाला के पुलिस थाना ढूंढाल के छोटा खेरा गांव में 10 मई 1914 को गरीब किसान भैराराम सुंडा की धर्मपत्नी जीवणी देवी की कोख से हुआ। भैराराम के दो पुत्र पहले ही ईश्वर को प्यारे हो गए थे। तभी तीसरे बालक का नाम कुरड़ा रखा। इकलौते पुत्र की एकमात्र बड़ी बहन का नाम महकां था।

छोटा खैरा से फेफाना आगमन: बालक कुरड़ा जब 12 माह का हो गया तो भैराराम सुंडा का परिवार छोटा खैरा गांव को हमेशा के लिए अलविदा कह कर मरुस्थली इलाके में राजस्थान की बीकानेर रियासत के गांव श्योदानपुरा में बसा। यह गाँव चुरू तहसील में स्थित है। तत्पश्चात गंगानगर जिले की नोहर तहसील के फेफाना गांव में आकर बस गया। इसी गाँव में कुंभाराम का बाल्यकाल बीता और उन्होने शिक्षा प्राप्त की। भैराराम के वंशज मूल रूप से सीकर जिले के कूदन ग्राम से उठकर गए थे। सामंतों एवं अकाल से मुक्ति पाने के लिए भैराराम के परिवार को कूदन छोड़ना पड़ा था।

देर से बोलना सीखा : बालक कुरड़ा की आयु 4 वर्ष हो गई थी लेकिन उसने बोलना नहीं सीखा था। मां बाप बड़े चिंतित थे।


[पृ.2]: कुरड़ा की मां ने हर देवता से मन्नत मांगी। लेकिन बालक बोलना नहीं सीख पा रहा था। वक्त ने जीवनी के साथ एक और खिलवाड़ किया और उसका सुहाग उजड़ गया। कुरड़ा को भी अपने पिता की मौत का गहरा सदमा पहुंचा। बचपन में ही बाप का साया उठना उसको काफी पीड़ा-दायक लगा। कुछ ही समय बाद बालक ने अचानक बोलना शुरु कर दिया। माँ ने राहत की सांस ली।

मौत के मूंह से निकला: बालक कुरडा 5 वर्ष का हो गया तब एक दिन चौमासे में कुरडा बच्चों के साथ जोहड़े में नहाने चला गया। बच्चे तालाब की तीर पर नहाने लगे। कुरड़ा भी थोड़ा सा आगे बढ़ा कि गड्ढे में पैर फिसल गया। कुरड़ा पानी में चला गया और पैर कांप में धंस गए। बच्चों ने हो-हल्ला किया। पांच सात लोग वहां पशुओं को पानी पिला रहे थे। एक तैराक ने कुरडा को ढूंढने की काफी मशक्कत की। अंत में गड्ढे में से उसके पैर से बालक ऊपर आया। शरीर में भरे पानी को निकाला। तब जाकर कुरड़ा को जीवनदान मिला। जीवनी देवी खुश हुई कि ईश्वर ने बालक को पुनः मां की गोद में दे दिया है।

कुंभा का स्कूल में प्रवेश: कुरडा 6 वर्ष का हो गया। स्कूल में भेजने के काबिल हो गया। जीवनी तो निरी अनपढ़ थी। उसके लिए काला अक्षर भैंस बराबर था। पुत्री महकां तो अनपढ़ ही रही लेकिन मां के हृदय-आंगन में लगन लगी कि बच्चे का तो दाखिला स्कूल में अवश्य ही करवाना है। सामंती जमाना था। बालक को स्कूल में भेजने का मतलब जागीरदारों से दुश्मनी मोल लेना था। उस वक्त शिक्षा का चिराग जलाने के लिए आर्यसमाजी लोग जान को हथेली में रखकर गांव में स्कूल खोलते थे। जीवणी देवी पुत्र को स्कूल में ले गई। उसने अपने बालक का नाम कुरडा बताया। अध्यापक ने कुरड़ा को परखा, फिर कुरड़ा की जगह प्रवेश रजिस्टर में कुंभाराम नाम लिख दिया।

जागीरी जुल्म: उस समय राजस्थान में किसान वर्ग का कोई धणी-धोरी नहीं था राम भरोसे ही किसान-मजदूर का काम चलता। समय-समय पर राजा महाराजाओं के जुल्म भी सहने पड़ते। कुरडा का परिवार भी समय-समय पर इन जुल्मों की चपेट में आ जाता था।


[पृ.3]: कुंभाराम की मां दूसरों के खेतों में काम करती तथा मजदूरी से घर चलाती। गांव की औरतें कुंभा की मां को उलाहने देती, वे कहती, "अरे जीवनी! तू अपने बेटे को क्यों बर्बाद कर रही है? उसे पढ़ा कर कौनसी थानेदारी दिलाएगी? तू तो अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार रही है। बुढ़ापे में पड़ी पड़ी सड़ोगी, कोई पानी भी नहीं पिलाएगा। भलाई इसी में है कि बेटे की पढ़ाई छुड़ाकर घर का काम करवा। वह तेरे बुढ़ापे का सहारा बनेगा। "


[पृ.4]: कुंभा की माँ ने किसी की नहीं सुनी। जीवनी का सपना था कि उसका बेटा पढ़-लिख कर बड़ा आदमी बने। समाज व देश की सेवा करे।

छुआछूत का पहला अनुभव: पढ़ते-पढ़ते कुंभा को कड़वे अनुभव हुये। जब वह कक्षा चार में पढ़ता था, सहपाठियों के साथ खेलता हुआ एक दिन अपने सहपाठी जयपाल शर्मा के साथ उसके घर चला गया। वहां लुका-छिपी खेलने लगा। कुंभा की छुपने की बारी आई। वह एक बड़े मटके के पीछे छुप गया। ब्राह्मणी ने कुंभा को मटके के हाथ लगाए देखा तो गुस्से से उसका चेहरा लाल हो गया। वह बोली "तू अछूत! अरे जाट का छोरा तूने ब्राह्मण के घड़े को छू लिया। तुझे पता नहीं, यह घड़ा गंदा हो गया। इसके पैसे कौन देगा?" ब्राह्मणी ने कान पकड़कर कुंभा को घर से निकाल दिया। समाज में फैले ऊंच-नीच और छुआछूत के खिलाफ कुंभा का खून खौल उठा। सीने में आग लग गई। उसके भावों को कुचल डाला छुआछूत ने। पंडिताईन के बोल तीर की तरह कलेजे में चुभ गये। वह रोता रोता मां के पास गया और सारा वृत्तांत सुनाया। माँ से कारण पूछा। जीवनी इसका उत्तर नहीं दे सकी। वह तो जन्म से ही ऊंच-नीच की पीड़ा झेल रही थी। कुंभा के दिल में समाज के रूढ़िवादी विचारों के प्रति नफरत पैदा हो गई। विद्रोह की चिंगारी सुलगने लगी।

कुंभाराम आर्यसमाजी बने: कुछ ही समय बाद एक आर्यसमाजी भजनोपदेशक फेफाना गांव में आया। आर्य समाजी भजनोपदेशक ने आर्य समाज का महत्व समझाया। यह भी बताया कि आर्य समाज सभी सदस्यों को बराबर मानता है। ऊंच-नीच जाति-भेद के सख्त खिलाफ है।


[पृ.5]: फेफाना गांव की चौपाल पर भजनोपदेशक ने आर्य समाज की विचारधारा एवं शिक्षाओं पर प्रवचन दिये और भजन सुनाए। उपदेशक ने कर्मकाण्डों के क्रियाकलापों की जमकर खिंचाई की। उपदेशक की बातों का कुंभाराम के कोमल हृदय पर गहरा प्रभाव पड़ा। कुंभाराम ने सभा में बैठे सैकड़ों नर-नारियों के सम्मुख खड़े होकर आर्यसमाजी बनने की घोषणा कर दी। उपदेशक से जनेऊ ग्रहण कर कुंभाराम ने अपने नाम के आगे 'आर्य' शब्द लगाने का निश्चय कर लिया। बालपन में कुंभाराम का यह बहुत बड़ा फैसला था।

हरिजन बालक को स्कूल में प्रवेश दिलाया: कुंभाराम ने देखा कि बलाई जाति का एक भी लड़का स्कूल नहीं जाता था। इस जाति के साथ होने वाले घोर अन्याय का कुंभाराम ने डटकर मुकाबला करने का निश्चय किया। कुंभाराम के घर के पड़ोस में ही एक बलाई का घर था। उसने अपने बलाई दोस्त को स्कूल जाने के लिए तैयार कर लिया। आर्य समाजी बनने के पश्चात कुंभाराम का अंधविश्वासी व कर्मकांडी समाज के खिलाफ यह पहला कदम था। चमार बालक को स्कूल जाते देखकर गांव वालों व बच्चों में हड़कंप मच गया। उस काल में चमार को अछूत माना जाता था। चमार की छाया पढ़ना भी अशुभ माना जाता था। चमार ही नहीं जाट, गुर्जर, यादव, कुम्हार, माली, रैगर, नाई, नाईक, बंजारे, धोबी, मीणा इत्यादि जातियों को भी अछूत वर्ग में गिना जाता था। खैर, चमार बालक के स्कूल में प्रवेश पर अध्यापक ने साफ मना कर दिया।


[पृ.6]: बालक कुंभाराम को अध्यापक ने धमकाया कि स्कूल के ताले लगा दिए जाएंगे। गांव वालों ने भी उसको फटकारा, लेकिन आर्य समाज की नीतियों को जीवन में उतार चुके कुंभाराम पर लोगों की धमकियों से उसके कानों पर जूं भी नहीं रेंगी। धीरे-धीरे गांव वालों ने भी कुंभाराम की बातों को मान लिया। चमार बालक को भी पढ़ने की अनुमति तो मिल गई, पर सवर्णों से दूर बैठकर। हरिजन बालक को प्रवेश मिलने पर कुंभाराम को बड़ा बल मिला। वह छोटी सी उम्र में ही एक साहसी व निडर विद्यार्थी बन गया था।


[पृ.7]: पढ़ाई के साथ-साथ खेती भी: कुंभाराम उम्र में छोटा होने के बावजूद खेती का सारा काम करने लगा। बरसात होने पर खेत, हल, व हाली की पूजा की जाती। कुंभा की मां अपने पुत्र कुंभा के हाथ के राखी बांधती, हल व बैल के भी राखी बांधती। कुंभा हर बार किसान देवता तेजाजी की पूजा करके ही हल जोतता था। हल जोतते वक्त तेजाजी के गीत पूरी तन्मयता से गाता था, जो कोसों दूर तक सुनाई देते थे। हाथ की राखी तब तक रखी जाती जब बाजरे के सिट्टा निकल गया हो। खेत में खड़ी फसल में पहला सिट्टा निकलने पर कुंभा राखी उसी के बांधता था। हल जोतने के अलावा सूड़ काटना, निनाण करना, लावणी करना, कड़वी काटना, खलियान का काम करना, पाला काटना इत्यादि काम बड़े जतन से करता था। कुंभाराम की बहन महकां भी काम तज्बीज के साथ करती थी। कई बार पड़ोसियों के बड़सी चढ़ाने भी कुंभाराम जाता तो कभी दो-चार पैसे मजदूरी भी कर लेता। कुंभाराम अपने पिता की कही बात को हमेशा याद रखता कि खेती धणी सेती होती है। वह खेती का काम चतुराई व होशियारी से करता और उतनी ही होशियारी से पढ़ाई करता था।

पढ़ाई छोड़नी पड़ी: कुंभा प्रथम कक्षा से ही स्कूल में अब्बल रहता था। वह कक्षा 5 की बोर्ड परीक्षा में बीकानेर स्टेट में प्रथम स्थान पर रहा था। बचपन में ही इनके पिताजी का देहांत हो गया था। राज्य सरकार ने कुंभाराम की आगे की पढ़ाई के लिए ₹2 प्रतिमाह वजीफे के तौर पर देना स्वीकार किया। फेफाना गाँव में केवल प्राथमिक विद्यालय ही था। उच्च प्राथमिक विद्यालय नहीं होने के कारण आगे की पढ़ाई के लिए बाहर जाना पड़ता। कुंभाराम के घर की आर्थिक स्थिति कमजोर थी। वह सरकार के मात्र 2 रुपये के वजीफे से बाहर नहीं पढ़ सकता था। पढ़ाई में होशियार था, पर गरीबी ने पढ़ने से साफ मना कर दिया। कुंभाराम की माँ के पास आय का अन्य कोई साधन नहीं था जिससे बच्चे को दूसरी जगह किराए के मकान में रख सके, फीस दे सके, खाने-पीने का व पढ़ाई का खर्चा वहन कर सके। अपने पूत को नौकरी लगाने का मानस था, पर सपना तो सपना बनकर ही रह गया जीवनी का। बालक कुंभाराम को अनचाहे बीच में ही पाँचवीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़नी पड़ी।

शासकीय सेवा

जंगलात की नौकरी: मनसुख रणवां[5] ने लिखा है कि.... [पृ.10]: कुंभाराम पांचवी तक पढ़ा था। उस समय 5वीं की पढ़ाई विरले ही लोगों को नसीब होती थी। सौभाग्य से हनुमानगढ़ में जंगलात महकमे में नौकरी खुली। कुंभाराम अगस्त 1928 में जंगलात महकमे में भर्ती हो गया। कुंभाराम की उम्र तो मात्र साढे 14 साल थी लेकिन अनुभव लंबा था जीवन का। पुत्र के नौकरी लगने का समाचार सुनकर जीवनी देवी बहुत खुश हुई। उसका सपना साकार हो गया। उसी समय कुंभाराम की शादी भूरी देवी के साथ कर दी गई। भूरीदेवी के पिता हरियाणा के फतेहाबाद जिले के किरडावण गांव के सीवर गोत्र के जाट थे। शादी होने से कुंभा की पारिवारिक जिम्मेदारी भी बढ़ गई।


[पृ.11]: इसी दौरान नौकरी लगने के कुछ समय बाद ही बीकानेर स्टेट ने एक अध्यादेश जारी किया कि नाबालिगों को सरकारी महकमों में न रखा जावे। जंगलात का अफसर कुंभाराम आर्य से काफी प्रभावित था और कुंभाराम को नौकरी में रखना चाहता था, पर सरकारी आदेश की अनुपालना में 1931 में कुंभाराम को जंगलात की नौकरी से निकाल दिया गया।

लाहौर अधिवेशन में शरीक: कुंभाराम के मन-मस्तिष्क में देशभक्ति का जज्बा था। जंगलात महकमे की नौकरी करते हुए छोटी सी उम्र में ही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में शरीक होने के लिए चला गया। लाहौर अधिवेशन के पूर्ण स्वराज के नारे का कुंभा के दिलो-दिमाग पर गहरा प्रभाव पड़ा। अधिवेशन में बड़े-बड़े नेताओं के विचारों का लाभ तो मिला ही साथ अनेक नेताओं से रूबरू होने का संयोग भी मिला।

पुलिस की नौकरी:जंगलात की नौकरी से हाथ धोने पर कुंभाराम को पीड़ा हुई, लेकिन हिम्मत वाले नौजवान कभी हार नहीं मानते। 7 जनवरी, 1932 को पुलिस विभाग में कुंभाराम को क्लर्क के पद पर नौकरी मिल गई। पुलिस महकमे में नौकरी करते-करते ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा का परिचय देकर कुंभाराम ने नई मिशाल कायम की।


[पृ.12]: वह नौजवान जनता में लोकप्रिय बन गया और प्रशासन में भी पैठ जमाली। वह गरीब किसान-मजदूर का हितैषी रहा, समय-समय पर जन जागृति फैलाने का काम भी करता रहा। सामंती राज के खिलाफ मुंह बंद करना उसके बस का काम नहीं था। चोरी-चुपके जनता के बीच जाकर सामंती शासन को जड़ से उखाड़ने का आव्हान करता रहा। अपने कार्य के बूते पर कुंभाराम आर्य सब इंस्पेक्टर बन गए। थानेदारी का पद मिलते ही माँ जीवनी का सपना साकार हो गया।

पुलिस के नाम से ही जनता में भय का वातावरण बन जाता है परंतु कुंभाराम ने इस धारणा को ही बदल डाला। वह जहां रहा, वहां अपने कार्य एवं व्यवहार की अमिट छाप छोड़ी। वह जिस किसी थाने में रहे वहां के नागरिक निर्भय होकर न्याय मांगने आते। उसने किसी के साथ अन्याय नहीं किया। कभी घूस नहीं ली तथा न ही अपने अधीनस्थ कर्मचारियों को लेने देते थे। यह पुलिस महकमे में चमत्कारिक घटना से कम नहीं है। इमानदारी और कर्तव्य परायणता के लिए आप को पुलिस महकमे और प्रशासन से अनेक प्रशस्तिपत्र मिले।

कुंभाराम सरकारी नौकर थे पर सामंतशाही के विशाल दरख़्त को जड़ से उखाड़ने के लिए गांवों में लोगों को जागृत करने का कार्य करते। नौकरी के दौरान आप भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भी बराबर भाग लेते रहे।


[पृ.13]: आप का मत था कि प्रत्येक व्यक्ति को नौकरी के साथ-साथ जन कल्याण के कार्य करने चाहिए। बीकानेर पुलिस अधीक्षक ने आर्य की इमानदारी, योग्यता, कर्तव्यनिष्ठा के लिए 10 फरवरी 1938 को प्रशस्ति पत्र दिया व पटियाला के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस ने मुजफ्फरगढ़ में चोर व चोरी के सामान को शीघ्रता से बरामद करने के लिए आर्य को पुरस्कार दिया व कर्तव्यपरायणता की भूरि-भूरि प्रशंसा की।

कुंभाराम की ईमानदारी व स्वाभिमान: ईमानदारी व स्वाभिमान के साथ कुंभाराम हमेशा जोंक की तरह चिपके रहे। सामंतकाल में कालाबाजारी का बोलबाला था। गुंडो की तूती बोलती थी। सादुलपुर पुलिस स्टेशन के अधीन एक व्यापारी कालाबाजारी करने में तीसमारखां था। पुलिस महकमा भी व्यापारी पर आंख नहीं उठा सकता था। थानेदार कुंभाराम उस व्यापारी की करतूतों से परिचित थे। थाने में धारा 81 में भारतीय सुरक्षा अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर आर्य ने व्यापारी को गिरफ्तार कर लिया।


[पृ.14]: व्यापारी ने जमानत के लिए मुंसिफ़ की अदालत में आवेदन-पत्र प्रस्तुत किया तथा हनुमानगढ़ टाउन के तहसीलदार से सांठगांठ की। तहसीलदार कुंवर गणेश सिंह की दोस्ती मुंसिफ मजिस्ट्रेट अब्दुल मजीद के साथ थी। तहसीलदार ने मुंसिफ़ से सिफारिश की कि व्यापारी को जमानत दे दे, बदले में रिश्वत दे दी जाएगी।

कुंभाराम आर्य ने अपनी तफ्तीश की डायरी में लिखा कि तहसीलदार के मार्फत मुंसिफ़ मजिस्ट्रेट ने व्यापारी को जमानत देने की एवज में ₹1000 रिश्वत के लिए। तहसीलदार सरकार का कृपापात्र कर्मचारी था। सरकारी तंत्र में उसका गहरा प्रभाव होने के कारण लोगों को काफी परेशान करता। ढेर सारी शिकायतें होने के बावजूद उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई।

दबंग एवं कर्तव्यपारायण थानेदार कुंभाराम की शिकायत को राज्य सरकार ने गंभीरता से लिया तथा जांच के लिए गंगानगर के तत्कालीन कमिश्नर राय साहब बिहारीलाल को नियुक्त किया। रायसाहब बिहारीलाल पंजाबी थे और बड़े रौबदार अफसर थे। टाउन के वकीलों ने तहसीलदार के खिलाफ अनेकों शिकायतें की थी पर राय साहब के सामने बयान देना टेढ़ी खीर समझकर कोई नहीं आया। तहसीलदार के खिलाफ बयान देने का मतलब जीते जी सूली पर चढ़ना था। घर परिवार के भविष्य को ताक में रखकर कुंभाराम आर्य तहसीलदार के खिलाफ बयान देने राय साहब के सम्मुख पहुंचे। राय साहब रौबदार मूछों पर हाथ फेरते हुए बोले, "तुम साधारण आदमी नहीं, थानेदार हो, बयान ढंग से देना अन्यथा सजा के लिए तैयार रहना।"

राय साहब की कड़वी बात आर्य को अखर गई। आर्य ने भी तत्काल जवाब दे डाला, "मैं आपके उपदेश सुनने नहीं आया हूं। मुझे क्या बोलना है, क्या नहीं बोलना है, मैं अच्छी तरह से जानता हूं। बयान लेने हैं तो ले लो वरना छुट्टी करो। राय साहब ने अपने जीवन में पहली बार ऐसा कड़वा जवाब किसी कर्मचारी से सुना था। उनके अभिमान को गहरा झटका लगा। मानो सारे शरीर का


[पृ.15]: खून बिजली के झटके से सूख गया हो। गुस्से से चेहरा तमतमा उठा। वह बोला, "तुझे थानेदार किसने बना दिया? तुझे न बोलने की तमीज है, न ही बैठने का सलीका। कुर्सी से खड़े हो जाओ। तुम्हें इतना भी मालूम नहीं, तुम कमिश्नर के सामने बयान देने आए हो। मेरे सामने तुम्हारी हैसियत ही क्या है? जो बेवकूफी की बातें करते हो।" इतना कह कर राय साहब ने हाथ झटकाया मानो थप्पड़ मारने का इरादा हो।

कुंभाराम को राय साहब जी बदतमीजी रास नहीं आई। कुंभाराम ने अपनी कुर्सी उठाई और कमिश्नर साहब के दे मारी। फिर झट पिस्टल संभाली, इतने में रायसाहब बाथरूम में घुस गए। राय साहब के गुर्गों ने आर्य के गुस्से को देखकर कुछ बोलना उचित न समझा। राय साहब को बाथरूम में बंद छोड़कर कुंभाराम हनुमानगढ़ थाने में चले गए और सारे तथ्यों को डायरी में दर्ज कर दिया। राय साहब का रौब चकनाचूर हो गया, पर बदला लेने की ठान ली। राय साहब ने सरकार को आर्य के खिलाफ रिपोर्ट बनाकर भेजी। रजवाड़ों के राज में एक अदने से अफसर की निडरता एवं स्वाभिमान की रक्षा की चर्चा बीकानेर स्टेट के बाहर भी हुई।


नौकरी में रहते हुए प्रजा-परिषद की बैठकों में भाग लेना: [पृ.17]: कुंभाराम सरकारी नौकरी में रहते हुए भी गुप्त रूप से प्रजा परिषद की बैठकों में भाग लेते व भावी रणनीति बनाते थे। बीकानेर स्टेट के थानाधिकारी कुंभाराम आर्य स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय भाग ले रहे थे। परिषद के अधिवेशन में भाग लेने की अनुमति आर्य ने


[पृ.18]: मांगी लेकिन सरकारी पुलिस अधिकारी होने के कारण अनुमति देना संभव नहीं था। अधिवेशन में निर्भीक अधिकारी एवं नेता आर्य ने पुरजोर शब्दों में किसानों पर हो रहे अत्याचारों के मामले रखे और सामंतशाही की कड़े शब्दों में निंदा की।


[पृ.19]: कुंभाराम द्वारा द्वारा सम्मेलनों में बार-बार भाग लेने से राज्य सरकार के सम्मुख संकट खड़ा हो गया। सरकारी स्तर पर विचार किया गया कि आर्य के खिलाफ कार्यवाही नहीं करने से अन्य अधिकारी भी सरकार के विरुद्ध कार्य करने लगेंगे। कुंभाराम आर्य प्रशासनिक एवं अनुशासन की दृष्टि से फाइलों में और जनता की नजरों में अच्छे अधिकारी थे। इसी वजह से बीकानेर स्टेट की सरकार कुंभाराम आर्य के खिलाफ कोई पुख्ता सबूत इकट्ठे करना चाहती थी जिससे उसके खिलाफ मोर्चा खोला जा सके। गड़े मुर्दे उखाड़ने के लिए राय बहादुर साहब की फाइल खोल दी जिसमें कुंभाराम आर्य ने राय बहादुर साहब द्वारा तहसीलदार के खिलाफ दिए बयानों के वक्त बदतमीजी की और उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई। शिकायत को नमक मिर्च लगाकर प्रचारित किया गया। आंदोलन में भाग लेने के लिए आर्य द्वारा दिया गया प्रार्थना पत्र बैक-डेट में अस्वीकार कर दिया गया। आर्य ने सेवा से त्याग पत्र दे दिया था फिर भी सरकार द्वारा आर्य का त्याग पत्र अस्वीकार कर दिया गया। सामंती विचारधारा की पोषक सरकार ने राष्ट्र सिपाही कुंभाराम के खिलाफ संगीन मामला बनाकर गैरजमानती वारंट जारी कर दिए। आर्य को जाल में फंसाने के लिए इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस के कार्यालय से सन् 1946 में नोटिस निकाला- "कुंभाराम नाम का मुजरिम फरार है, उसे जो भी शख्स पकड़वायेगा उसको ₹100 का इनाम दिया जाएगा। मुजरिम का रंग कन्दूम, गोल चेहरा, हट्टा-कट्टा, लंबाई 5 फुट 7 इंच तथा बाएं हाथ पर कुंभाराम नाम खुदा है।"

यही इनाम मिला कुंभाराम के डिपार्टमेंट से उनकी ईमानदारी व सेवा का। सेवा से बाहर निकलते ही कर्मचारी साथी भी आर्य के दुश्मन हो गए। जिस महकमे के लिए अपनी जवानी कुर्बान कर दी, उसी महकमे में मुजरिम करार दिया कर्तव्यपरायण कर्मचारी कुंभाराम को। बीकानेर स्टेट ने कुंभाराम पर झूठे आरोप लगाकर बर्खास्तगी के आदेश जारी कर दिए।

आर्य की पुलिस सेवा से बर्खास्तगी का समाचार जनता में आग की तरह फैल गया। जनता ने कुंभाराम आर्य को अपनी पलकों पर बिठा लिया। किसान समुदाय ने आर्य को पग-पग पर सहयोग देने का वचन दिया। कुंभाराम अब पूर्ण रूप से राजनीति के मंच पर आ गए।

प्रजापरिषद का प्रचार-प्रसार

मनसुख रणवां[6] ने लिखा है कि.... [पृ.20]: प्रजापरिषद का प्रचार प्रसार करने के एवज में आर्य को सरकार ने जेल में डाल दिया। कुछ समय बाद जेल से मुक्त होने पर उनके हाथों में परिषद की कमान आ गई। सरकार से दो-दो हाथ करने का मानस बना लिया। आपने गांव-गांव ढाणी-ढाणी जाकर अलख जगाने का बीड़ा उठाया। अलख जगाने के लिए सर्वप्रथम नोहर तहसील के ललाना गांव में मीटिंग बुलाई गई। सैकड़ों किसान इस मीटिंग में आए। कुंभाराम का साथ देने की सौगंध खाई। तत्पश्चात लोहा गांव में सभा की। लोहा गांव में सामंतों के डर से कुछ ही लोग इकट्ठे हुए। सभा मंच से रामजस आर्य ने राजाओं के खिलाफ क्रांतिकारी गाने गाए। गुंडों ने वहीं पर रामजस को मारने की धमकी दी तो कुंभाराम मंच पर खड़े होकर दहाड़े, "अरे ओ जागीरदार के वफादारो! सबसे पहले मेरे सीने पर गोली मारो। एक समय आएगा जब हम कुआं खोदेंगे तो पानी मिलेगा लेकिन जागीरदारों के निशान कहीं ढूंढने पर भी नहीं मिलेंगे।

देश निकाला: कुंभाराम आर्य को बीकानेर स्टेट ने राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार कर नजरबंद कर दिया, फिर देश निकाला दे दिया। देश निकाला के दौरान कुंभाराम आर्य लोहारू के आर्य मंदिर में रहने लगे। आर्य मंदिर से ही किसान आंदोलन को गति देने लगे। भूमिगत रहकर स्वतंत्रता सेनानियों को राह दिखाई। दुश्मन के खिलाफ मजबूत संघ बनाने में सफल रहे। समय-समय पर झुंझुनू जाट बोर्डिंग में आकर किसानों के अभाव अभियोग सुनते और सामंतशाही के खिलाफ कमर कसने का आह्वान करते। सीकर वाटी के किसानों के दिलों में भी आर्य के प्रति गहरी श्रद्धा थी। बीकानेर स्टेट के प्रशासन की आंखों में धूल झोंककर वह चोरी-छुपे बीकानेर के इर्द-गिर्द गांवों का दौरा कर जनता को क्रांति के लिए अग्रसर करते। महाराजा सादुलसिंह तो कुंभाराम को दुश्मन मानते थे।

कुंभाराम की संपत्ति कुर्क: महाराजा ने आदेश दिया कि कुंभाराम की सारी संपत्ति कुर्क कर ली जावे। सरकारी आदेश के मुताबिक नोहर तहसीलदार को आदेश दिया कि तहसील के फेफाना गांव के कुंभाराम आर्य की संपत्ति कुर्क कर ली जावे। नोहर तहसीलदार ने आदेश पढ़ा तो बड़ा दुख हुआ। तब नायब तहसीलदार ने कुर्की का आदेश तामिल किया। तहसील के चौकीदार पीथाराम को कुंभाराम के घर जाकर कुर्की


[पृ.21]: आदेश तामील करने को पाबंद। पीथाराम शाम को फेफाना गांव में गया। गांव में देखा कि कुंभाराम के घर में केवल एक कच्चा मकान है और वहां एक बूढ़ी मां उसकी पत्नी है। 1-2 टूटे टूटे बर्तन भी पड़े हैं। एक बछड़ी थी जो जेवड़ा तुड़ाकर भाग गई। बस यही संपत्ति थी कुंभाराम आर्य के घर में। गाँव वालों ने चौकीदार पीथाराम का पीछा किया। वह मुश्किल से जान बचाकर भाग निकला।

लोहारू नवाब पर दबाव : महाराजा सादुल सिंह ने आर्य को बीकानेर से निकाल दिया। फिर भी मरुधरा सपूत को चैन कहां? आर्य लोहारू के इर्द-गिर्द रहकर अपनी गतिविधियां चलाते रहे। महाराजा सादूल सिंह ने लोहारू नवाब पर दबाव डाला कि कुंभाराम आर्य अपराधी है। वह जनता को शासन के खिलाफ भड़काता है, उसे तत्काल गिरफ्तार कर जेल में डालें। लोहारू नवाब ने आर्य को धोखे से गिरफ्तार कर अमानवीय तरीके से मुर्गी खाने की जेल बनाकर उस में डाल दिया। नवाब को लोगों ने काफी बुरा-भला कहा तथा आर्य की गिरफ्तारी की भर्त्सना की। नवाब को झुकना पड़ा और कुछ समय बाद आर्य को जेल से रिहा कर दिया।


दूधवाखारा और कांगड़ किसान आंदोलन: [पृ.22-23]: कुंभाराम आर्य ने दूधवाखारा और कांगड़ के किसान आंदोलन में महत्वपूर्ण दिशा निर्देश दिये। [पृ.23]: कांगड़ आंदोलन में जागीरदार गोप सिंह ने ग्रामीणों के होश ठिकाने लाने के लिए बीकानेर से सेना बुलाली। सारे ग्रामीणों की जमकर धुनाई की। उनसे लगान देने की जबरन हाँ भरवाई। लेकिन ग्रामीण टस से मस नहीं हुये। गाँव वालों ने महाराजा सादूल सिंह से अर्ज भी की परंतु गुस्से में महाराजा ने गाँव वालों को यह कहकर भगा दिया कि जाओ अब तो प्रजा-परिषद ही सहायता करेगी।

गांव वाले प्रजा परिषद के सम्मुख पेश हुए। कुंभाराम आर्य ने सारी व्यथा सुनी तथा अपने साथियों को कांगड़ भेजकर पूरा ब्योरा मांगा। कांगड़ जाने वाले स्वतन्त्रता सेनानियों में गंगादत्त रंगा, स्वामी सच्चिदानंद, हंसराज आर्य, मास्टर दीप चंद, केदारनाथ, मौजीराम और रूप राम थे। गाँव वालों की दारुण गाथा सुनकर क्रांतिकारी रो पड़े। सामंत के सिपाहियों ने इन क्रांतिकारियों को भी पकड़ लिया, इनकी पिटाई की और फिर छोड़ दिया।

चौधरी कुंभाराम ने शीघ्र ही दिल्ली जाकर अत्याचारों एवं जुल्मों कि कहानी लौह पुरुष सरदार पटेल को सुनाई। उन्होने आश्वासन दिया कि हमें अभी मुकाबला करना पड़ेगा। अभी जुल्म सहने पड़ेंगे परंतु सामंतशाही के खत्म होने के दिन नजदीक आ रहे हैं। कुंभाराम आर्य ने किसानों पर अत्याचारों के बारे में डॉ राम मनोहर लोहिया व डॉक्टर पट्टाभि सीतारमैया से भी चर्चा की। इन नेताओं ने आर्य के कार्यों की प्रशंसा की तथा हिम्मत से काम लेने की सलाह दी।


[पृ.24]: कुंभाराम के करिश्माई नेतृत्व कि चर्चा गांव-गांव में फ़ेल गई। बीकानेर के हर गांव के एक-एक, दो-दो व्यक्ति व्यक्ति प्रजा परिषद के सदस्य बन गए। प्रजा परिषद के सदस्यों की संख्या 50000 से भी अधिक हो गई जो कि गोयल के समय से 40 के दहाई के आंकड़े पर थी। बीकानेर स्टेट को भय था कि यदि कुंभाराम आर्य व जयप्रकाश नारायण आपस में मिल गये तो आंदोलन काबू से बाहर हो जाएगा।

स्वतन्त्रता आंदोलन

डॉ पेमाराम[7] लिखते हैं कि 7.1.1932 को कुंभाराम के पुलिस में भर्ती होने के कुछ समय बाद हेड कांस्टेबल और 1941 में वे थानेदार के पद पर पहुँच गए। थानेदार के रूप में इन्होने सादूलशहर, चुरू, हिंदूमलकोट आदि स्थानों पर सेवाएँ दी।

प्रजा परिषद में शामिल: जिस समय कुंभाराम पुलिस में थानेदार थे, उस समय बीकानेर राज्य में जागीरी जुल्म और सरकार की दमन नीति जोरों पर थी। उत्पीड़न से दुखी लोग इनके पास भी फरियाद लेकर थाने पर आते थे। कुंभाराम जागीरों में होने वाले जुल्म को सहन नहीं कर सके। उनका मन इन निरीह लोगों की मदद करने के लिए उचाटे मारने लगा, परंतु नौकरी में रहने के कारण वे कुछ कर नहीं कर पा रहे थे। उन्होंने नौकरी छोड़ने का मन बना लिया और उस समय बीकानेर रियासत में कार्यरत बीकानेर परिषद की गतिविधियों में रुचि लेने लगे। 22 जुलाई 1942 को रावतमल पारीक के घर पर रघुवरदयाल गोयल, वकील खयालीसिंह गोदारा सहित 15 सदस्यों द्वारा स्थापित 'बीकानेर राज्य परिषद'


[पृ.169]: 1945 ई. तक काफी सुदृढ़ हो चुकी थी और किसानों पर लगने वाला ऊंचा भूमिकर, लागबाग, बेगार और उन पर की जाने वाली जागीरदारों की ज्यादतियों की समस्या को अपने हाथ में ले चुकी थी और दूधवाखारा के किसानों की मदद में लगी हुई थी। कुंभाराम जैसा जागरुक व्यक्ति इन राजनीतिक गतिविधियों से कैसे अलग रह सकता था। ऐसी स्थिति में वे सर्विस के साथ समझौता नहीं कर सके। सरकारी जोर जुल्म और जागीरदारों के उत्पीड़न से अब उनका खून खोलने लगा। अंततः 17 सितंबर 1945 को चौधरी कुंभाराम रघुवरदयाल गोयल, अध्यक्ष, बीकानेर राज्य परिषद से मिले और उनके आग्रह पर उन्होंने सरकारी नौकरी थानेदारी को लात मार दी और इस्तीफा देकर प्रजा परिषद में शामिल हो गए। यहीं से उनका राजनीतिक जीवन शुरू हुआ। इसके बाद तो उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और जी जान से गरीबों, दलितों व किसानों के हितार्थ अपने को समर्पित कर दिया।

चौधरी कुंभाराम अब खुलकर राजनीति में हिस्सा लेने लगे। उन्होंने 3 दिसंबर 1945 को पंडित हीरालाल शास्त्री के नेतृत्व में झुञ्झुणु मे आयोजित जाट किसानों के सम्मेलन में हिस्सा लिया। इस पर 8 दिसंबर 1945 को खुफिया विभाग से एक नोट में बीकानेर सरकार को लिखा कि कुंभाराम की गतिविधियां पूर्णत अवांछनीय हैं और उनके विरुद्ध कठोर कदम उठाया जाना चाहिए और उसे नौकरी में नहीं रखा जाना चाहिए। इस पर 13 दिसंबर 1945 को स्टेट काउंसिल ने कुंभाराम को नौकरी से बर्खास्त करने की सिफारिश महाराजा से कर दी। इन्हें समझाने, फुसलाने, ललचाने, धमकाने के सभी प्रयास किए, परंतु कुंभाराम पर इनका कोई प्रभाव नहीं पड़ा और 31 दिसंबर 1945 वह 1-2 जनवरी 1946 को पंडित जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में उदयपुर में आयोजित अखिल भारतीय देशी राज्य लोक परिषद के अधिवेशन में भाग लेने चले गए। इससे नाराज होकर बीकानेर सरकार ने उनके नौकरी से त्यागपत्र को स्वीकार न कर 13 मार्च 1946 को उन पर दुराचार और अशिष्ट व्यवहार का आरोप लगाकर उन्हें नौकरी से बर्खास्त कर दिया।[8]

मार्च एवं अप्रैल 1946 में राजशाही के जुल्म गांवों में बढ़ गए थे। जगह जगह किसानों में असंतोष था। दूधवाखारा के चौधरी हनुमानसिंह को 20 मार्च 1946 को गिरफ्तार कर अज्ञात स्थान पर ले जा कर उनकी खूब पिटाई की गई। गांव के मुखिया गोरधनराम को रस्सी से बांधकर ऊंट के साथ गर्मी में दौड़ाया गया। जिससे वह बेहोश होकर गिर पड़ा। इन जुल्मों के खिलाफ गांव कालरी में विरोध जुलूस निकाला गया। वहां आर्य समाज के क्रांतिकारी स्वामी कर्मानंद का आश्रम था, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। स्वामी कर्मानंद के गिरफ्तारी के खिलाफ जेल में भूख हड़ताल शुरू कर दी। [9]

इन परिस्थितियों में चौधरी कुंभाराम ने बीकानेर रियासत का तूफानी दौरा कर


[पृ.170]: किसानों में जान फूंकना शुरू किया। उन्होंने प्रथम मीटिंग गांव ललाना तहसील नोहर में आयोजित की जिसमें उन्होंने जागीरदारों को ललकारा और जागीरदारी प्रथा का नामोनिशान मिटाने की घोषणा की। उनके भाषण आग उगलने वाले होते थे। उनकी जगह-जगह मीटिंग होने का परिणाम यह हुआ कि उनकी प्रेरणा पाकर सोई हुई कृषक शक्ति जाग उठी और जगह-जगह राज्य में संघर्ष होने लगा। उनके आग उगलने वाले भाषणों व तूफानी दोनों से घबराकर बीकानेर सरकार ने कुंभाराम के नाम गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया और 1 मई 1946 को संगरिया मंडी में गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया।[10] उनकी गिरफ्तारी से राज्य भर में असंतोष फैल गया।

चौधरी कुंभाराम की गिरफ्तारी और स्वामी कर्मानंद की जेल में भूख हड़ताल को सुनकर गांव-गांव में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए और जुलूस निकाले जाने लगे। 9 मई 1946 को बीकानेर शहर में एक बड़ा जुलूस निकाला गया जिसमें पुलिस ने लाठीचार्ज किया और प्रमुख कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। इस पर 10 मई 1946 को राजगढ़ में फिर किसानों ने एक बड़ा जुलूस निकाला। पुलिस ने फिर भयंकर लाठीचार्ज किया जिसमें पुलिस कि लाठियों से करीब 25 किसान गंभीर रूप से घायल हो गए। इसी समय 15 मई 1946 को हमीरवास में किसानों पर बर्बर लाठीचार्ज हुआ। इसी समय फेफाना में भी जुलूस निकाला गया जिसमें खास तौर से महिलाओं ने तिरंगे झंडे लेकर राष्ट्रीय नारे लगाए।[11] इसके पश्चात जागीरदारों के खिलाफ एक के बाद एक सभाएं होने लगी। रतनगढ़, चूरु, राजगढ़, भादरा, नोहर, श्रीगंगानगर, करणपुर, पदमपुर और रायसिंहनगर में आंदोलन भड़क उठे।

रियासत का पुलिस विभाग किसान आंदोलन को कुचलने में लगा रहा। इसी दौरान 1 जुलाई 1946 ई. को रायसिंहनगर में बीकानेर प्रजा परिषद के राजनीतिक सम्मेलन में पुलिस की गोली से तिरंगे झंडे की रक्षा करते हुए बीरबलसिंह नामक युवक शहीद हो गया।[12] इस बलिदान ने आग में घी का काम किया। प्रजा परिषद की ओर से 6 जुलाई 1946 को राज्य में किसान दिवस मनाया गया जिसमें जगह-जगह सभाओं के आयोजन हुए और बीकानेर में सर्वाधिक सरगर्मी देखने को मिली। बीकानेर सरकार इन सब को देखकर घबरा उठी। किसानों और खासकर जाटों के विरोध को देखते हुए बीकानेर महाराजा किसी जाट नेता को अपने साथ रखकर जाटों को प्रजा परिषद से अलग कर प्रजा परिषद को कमजोर कर देना चाहते थे। इस कार्य के लिए उन्हें प्रजा परिषद नेता वकील चौधरी ख्यालीसिंह गोदारा उपयुक्त व्यक्ति लगा। उसने महाराजा बीकानेर को आश्वासन दिया कि वह जाट सभा बनाकर जाटों को प्रजा परिषद से अलग कर देगा। इस पर महाराजा ने एक नीति के अंतर्गत सर्वप्रथम 27 जुलाई 1946 चौधरी कुंभाराम सहित 7 राजबंदियों सर्वश्री रघुवरदयाल, हनुमानसिंह, गणपतसिंह, वैद्य मगाराम, किशनगोपाल व रामनारायण को रिहा कर दिया [13] तथा 1 अगस्त 1946 ई. को चौधरी खयालीसिंह गोदारा को ग्राम सुधार मंत्री नियुक्त कर आंदोलन को कमजोर करने का प्रयास किया[14] परंतु


[पृ.171]: इन उपायों का आंदोलन पर कोई असर नहीं हुआ। 9 अगस्त 1946 को प्रजा परिषद की एक बैठक गंगानगर में हुई जिसमें रायसिंहनगर में शहीद बीरबल सिंह की पत्नी ने झंडारोहण किया। इस मीटिंग में चौधरी ख्यालीसिंह मंत्री की हैसियत से आए जिसे काले झंडे दिखाए गए। [15] इसके बाद 3 सितंबर 1946 को गोगामेडी में आयोजित प्रजा-परिषद की विशाल सभा में जहां चौधरी कुंभाराम ने जागीरदारों के अत्याचारों की जमकर आलोचना की वहां रामचंद्र जैन ने जागीरदारी प्रथा समाप्त करने की मांग की। [16] इस समय चौधरी हरदत्तसिंह जो कि हनुमानगढ़ में मुंसिफ मजिस्ट्रेट थे, अपने पद से इस्तीफा देकर प्रजा परिषद में शामिल हो गए। [17] चौधरी कुंभाराम आर्य, |हरदत्त सिंह, हनुमान सिंह, स्वामी करमानंद आदि नेता नहरी क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर सभाएं आयोजित कर किसानों को संगठित करने लगे। इसपर बीकानेर सरकार ने 2 अक्टूबर 1946 को चौधरी कुंभाराम सहित हरदत्त सिंह, गुरदयाल सिंह, मोहर सिंह, जीवनदत्त, नाथूराम आदि जाट नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। [18] इस पर चारों ओर किसानों में फिर असंतोष फैल गया। इसी बीच 1 नवंबर 1946 को भयंकर कांगड़ कांड हुआ जिसमें कांगड़ गांव के जागीरदार गोपसिंह ने प्रजा परिषद के सात कार्यकर्ताओं सर्वश्री सच्चिदानंद, केदारनाथ, हंसराज आर्य, मास्टर दीपचंद, चौधरी मौजीराम, गंगादत्त रंगा, तथा चौधरी रूपराम द्वारा किसानों की तकलीफों की जांच करने के लिए वहां जाने पर उन्हें इतना बुरी तरह से पीटा कि वे बेहोश हो गए। [19] इस घटना से पूरे राज्य में भारी असंतोष पैदा हुआ। बीकानेर सरकार को बाध्य होकर स्थिति की गंभीरता को देखते हुए शहरों को छोड़कर रियासत भर में 3 माह के लिए धारा 144 लगानी पड़ी और उसे लंबे समय तक 3-3 माह के बाद बढ़ानी पड़ी। [20]

1947 ई. में बीकानेर राज्य प्रजा परिषद के अध्यक्ष पद पर किसान नेता स्वामी करमानंद के निर्वाचन के पश्चात किसान नेताओं ने जागीरी जुल्म के विरोध की अपेक्षा जागीरदारी प्रथा को ही समाप्त करने का नारा लगाया। इसका किसानों पर व्यापक असर हुआ और वे जागीदार उनके खिलाफ अधिक सक्रिय हो गए। उधर जागीदार वर्ग भी किसानों का अधिक दमन करने लगा।[21] चौधरी कुंभाराम और अन्य जाट नेताओं के सतत प्रयत्न, व्यापक जनसंपर्क, कुशल नेतृत्व एवं अदम्य साहस का ही फल था कि 1947 तक बीकानेर में किसानों का संगठन इतना शक्तिशाली हो गया था कि कुछ जगहों पर उन्होंने जागीरदारों को न केवल लगान देना बंद कर दिया था बल्कि न तो उन्हें अपने खेतों से पेड़ काटने देते थे और न कुएं से पानी लेने देते थे। [22] इस प्रकार सदियों से पीड़ित व प्रताड़ित किसानों को बहुत थोड़े समय में गहरी नींद से जगा कर संगठित करना तथा जागीरदारों के शोषण और उत्पीड़न के विरुद्ध एकजुट कर गीदड़ों को शेर बनाकर शक्तिशाली जागीदार वर्ग से भिड़ा देना जैसा असंभव कार्य चौधरी कुंभाराम


[पृ.172]: ने संभव कर दिखाया। यह उन का सबसे बड़ा चमत्कार था। बीकानेर राज्य के गृह विभाग के उस समय के आईजी पुलिस चुन्नीलाल ने लिखा, "कुंभाराम का तूफान चलता रहा तो ग्रामीण इलाकों को संभालना बड़ा सिरदर्द सिद्ध हो सकता है। उसका ध्येय पट्टेदारों की संपूर्ण समाप्ति लगता है, जिसका प्रमाण सांखू, बांय और दूधवाखारा के आंदोलन हैं। "

अंततोगत्वा बीकानेर महाराजा सादुल सिंह को किसान शक्ति के सामने झुकना पड़ा। चौधरी कुंभाराम आर्य को जेल से मुक्त कर समझौता करना पड़ा। 18 मार्च 1948 को एक समझौते के अंतर्गत बीकानेर महाराजा ने 10 सदस्यों का एक अंतरिम मंत्रिमंडल बनाया जिसमें चौधरी हरदत्तसिंह को उप प्रधानमंत्री व गृहमंत्री तथा चौधरी कुंभाराम को राजस्व मंत्री नियुक्त किया गया। [23] उस समय उनकी आयु 34 वर्ष के लगभग थी और कोई स्वप्न में भी नहीं सोच सकता था कि वह इतनी छोटी आयु में बीकानेर रियासत का राजस्व मंत्री बन जाएगा। यह उनके पुरुषार्थ का ही फल था।

बीकानेर रियासत में राजस्व मंत्री

डॉ पेमाराम[24] ने लिखा है कि....[पृ.172]: राजस्व मंत्री बनते ही चौधरी कुंभाराम ने अपनी प्रशासनिक योग्यता व्यक्त करना शुरू कर दिया। उन्होंने राजस्व मंत्री के रूप में किसानों के हित से संबंधित अनेक कानून बनाए।

महाराजा के 26 जनवरी 1947 के आदेश के कारण जागीरदार बलपूर्वक ग्रामीणों से पानी लेते थे, कुंभाराम आर्य ने इस कार्य को कानून के विरुद्ध बताकर उसके खिलाफ आदेश दे दिया। परिणाम स्वरुप उस एक ही आदेश से कृषकों के कुएं, तालाब, जोहड़ आदि जिन पर जागीरदारों ने बलपूर्वक अपना हक जमा रखा था, मुक्त हो गए और उन पर किसानों का अधिकार हो गया।

इसी तरह उन्होंने जागीरदारों द्वारा ली जाने वाली भेंट, बेगार, लालबाग और बांटा जैसी अनेक हानिकारक प्रथाओं को समाप्त कर दिया।

इसी समय पाकिस्तान से भागकर आए प्रत्येक परिवार को चौधरी कुंभाराम ने राजस्व मंत्री की हैसियत से 25 बीघा सिंचित भूमि आलाॅट कर उनकी मदद की।

उस समय के बदनाम बिहारीलाल जैसे रेवेन्यू कमिश्नर को बीकानेर महाराजा और महारानी की मर्जी के विरुद्ध हटा देना चौधरी कुंभाराम के ही बूते की बात थी।

इसी समय राजस्व मंत्री की हैसियत से चौधरी कुंभाराम ने किसानों के हित में एक बड़ा कदम उठाते हुए उन्होंने बीकानेर महाराजा को अपने राज्य में जागीरदारी प्रथा समाप्त करने तथा किसानों को उनके द्वारा जोती जाने वाली भूमि पर स्थाई हक़ दिए जाने की सलाह दी। महाराजा ने उनकी सलाह को मानते हुए तत्काल मंत्रिमंडल की बैठक बुलाकर उसमें यह निर्णय ले लिया। इस बात का पता लगने पर बीकानेर के जागीरदारों में बड़ी खलबली मची और महाराजा से आदेश जारी न करने का निवेदन किया। इसी बीच बीकानेर महाराजा विदेश चले गए और पीछे महारानी साहिबा पर जागीरदारों की ओर से चारों ओर दबाने से यह निर्णय कार्यान्वित नहीं हो सका, उल्टे कुंभाराम आर्य के विरुद्ध षड़यंत्र किए जाने लगे।


[पृ.173]: षड्यंत्रों के अंतर्गत स्वामी करमानंद गोलीकांड में कुंभाराम आर्य को भी अभियुक्त बनाकर उन्हें गिरफ्तार करने के प्रयत्न शुरू हुए। उस समय यदि गृह विभाग प्रजा परिषद वालों के पास नहीं होता तो इन्हें निश्चित रूप से गिरफ्तार कर लिया जाता। प्रजा परिषद वालों ने इन कुचक्रों के बीच सरकार चलाना उचित नहीं समझा और करीब 6 माह के बाद 28 अगस्त 1948 को उन्होंने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र देकर सरकार से अलग हो गए। महाराजा सादुलसिंह ने 7 सितंबर 1948 को उन्हें स्वीकार कर लिया और अंतरिम मंत्रिमंडल को भंग कर दिया।[25] कुछ समय बाद 30 मार्च 1949 ई. को बीकानेर रियासत का राजस्थान में विलय हो गया।

राजस्थान के प्रथम मंत्रिमंडल में गृहमंत्री

डॉ पेमाराम[26] ने लिखा है कि.... अब चौधरी कुंभाराम आर्य का कार्यक्षेत्र पूरा राजस्थान हो गया। उन्होंने राजस्थान की राजनीति में महत्वपूर्ण स्थान बनाया और 26 अप्रैल 1951 ई. को जयनारायण व्यास के प्रथम मंत्रिमंडल में गृहमंत्री बने और 31 मार्च 1952 ई. तक रहे। इस दौरान उन्होंने किसानों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य किए। उस समय राजस्थान में और खासकर पूर्व रियासत जोधपुर में जागीरदारों के सहयोग से बड़े-बड़े डाकुओं के गैंग बन गए थे जो देहातों में डाके, आगजनी व हत्याएं करते थे। चौधरी कुंभाराम ने होम मिनिस्टर की हैसियत से डाकू आतंककारियों का सफाया कर सुरक्षा के स्पेशल इंतजाम किए। जागीरदारों-भोमियों के मनचाहे लगान लेने पर रोक लगाने के लिए इन्होंने "राजस्थान उपज लगान नियमन अधिनियम" जून 1951 ई. में पास करवाया जिसमें जागीरदार किसान से उसकी उपज का छठे भाग (1/6) से ज्यादा नहीं ले सकता था।[27] इसी तरह प्रथम आम चुनाव से पूर्व ही राजस्थान सरकार ने "राजस्थान भूमिसुधार और जागीर पुनर्ग्रहण अधिनियम 1952" पास किया जो 18 फरवरी 1952 ई. को कानून बन गया। [28] इस कानून के आधार पर बाद में जागीरदारों को मुआवजा देकर उनकी जागीरें जप्त कर ली और किसान को 1 रुपया दिए बिना भूमि का मालिक बना दिया। इस तरह जो काम चौधरी कुंभाराम बीकानेर रियासत में राजस्व मंत्री के रूप में नहीं कर पाए थे, वही काम उन्होंने पूरे राजस्थान में कर दिखाया। इसी समय चौधरी कुंभाराम ने राजस्थान भर में कम्युनिटी डेवलपमेंट ब्लाक बनाए और इस नई पद्धति का उद्घाटन अपने कर कमलों से किया। 1952 ई. के प्रथम आम चुनाव से पहले मारवाड़ किसान सभा व राजस्थान किसान सभा का कांग्रेस में विलय होना चौधरी कुंभाराम के प्रयासों का ही फल था। [29]

मुख्यमंत्री मेकर के नाम से प्रसिद्ध: 4 जनवरी से 24 जनवरी 1952 ई. में राजस्थान में हुये प्रथम आम चुनाव में चौधरी कुंभाराम आर्य चूरु विधानसभा क्षेत्र से भारी मतों से चुनाव जीतकर आए। 15 अप्रैल 1953 को टीकाराम पालीवाल व नाथूराम मिर्धा के त्यागपत्र देने के उपरांत जयनारायण व्यास ने दूसरे ही दिन अपने मंत्रिमंडल का पुनर्गठन कर चौधरी


[पृ.174]: कुंभाराम को पुनः मंत्रिमंडल में स्थान दिया। बाद में 22 जागीदार विधायकों को व्यास जी द्वारा कांग्रेस में शामिल करने पर कुंभाराम उनके विरोधी हो गए। कारण यह था कि उन्होंने तो अभी तक जागीरदारों के खिलाफ ही संघर्ष किया था और वे उन्हें अपने पक्ष में स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थे। उन्होंने मोहनलाल सुखाड़िया व मथुरादास माथुर के साथ मिलकर इसका प्रबल विरोध किया। परिणाम स्वरुप जयनारायण व्यास को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा।

उसके स्थान पर मोहनलाल सुखाडिया को मुख्यमंत्री बनाने में कुंभाराम आर्य ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की और वह 'मुख्यमंत्री मेकर' के नाम से प्रसिद्ध हुए।

राजस्थान में क्रांतिकारी भूमि-सुधार कार्य

Kumbharam Image-40.jpg

डॉ पेमाराम[30] ने लिखा है कि.... भूमि सुधार कार्य: 13 नवंबर 1954 को सुखाड़िया मंत्रिमंडल में चौधरी कुंभाराम आर्य कैबिनेट मंत्री के रूप में शामिल हुए। इसी समय जागीरदारी प्रथा पुनर्ग्रहण संशोधन अधिनियम 1954 तथा राजस्थान टेनेंसी एक्ट 1955 पारित किए गए। [31] जिसके परिणाम स्वरुप जागीरदारी प्रथा राजस्थान में सदा-सदा के लिए समाप्त हो गई। इन कानूनों की गणना भारत के सर्वोत्तम प्रगतिशील भूमि सुधार कानूनों में की जाती है। सैकड़ों वर्षो से पददलित व शोषित किसानों को जागीरदारों के चंगुल से मुक्त कराकर उन्हें भूमि का मालिक बनाने के कारण राजस्थान की जनता हमेशा चौधरी कुंभाराम की ऋणी रहेगी। इसके बाद सीलिंग कानून, पंचायती राज कानून, सहकारिता, प्रशासनिक कार्य क्षमता आदि बातों पर मुख्यमंत्री सुखाड़िया के साथ इनके गंभीर मतभेद पैदा हो गए। जिसके परिणती कुंभाराम आर्य के त्यागपत्र से हुई। उन्होंने फरवरी 1956 को मंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया।

पंचायती राज और सहकारिता आंदोलन

डॉ पेमाराम[32] ने लिखा है कि.... पंचायती राज की शुरुआत: 25 फरवरी से 12 मार्च 1957 के दौरान राजस्थान में द्वितीय आम चुनाव हुए। कुंभाराम आर्य को कांग्रेस ने टिकट नहीं दिया। इस तरह राज्य प्रशासन से अलग होकर वह पंचायती राज को शक्तिशाली बनाने में लग गए। उनका मानना था कि पंचायती राज के माध्यम से ग्रामीण गांव में बैठकर अपनी समस्याओं का समाधान स्वयं कर सकते हैं। अतः उन्होंने 1957 में राजस्थान में 'पंचायत राज संघ' की स्थापना की और वे स्वयं उसके अध्यक्ष बने। उधर देश के स्तर पर पंचायत राज को गति देने के लिए 'अखिल भारतवर्षीय पंचायत राज संघ' की स्थापना हुई, जिसके अध्यक्ष जयप्रकाश नारायण एवं उपाध्यक्ष चौधरी कुंभाराम आर्य चुने गए। पंचायत राज संघ एक गैर सरकारी संगठन था जो पंचायत के विविध पक्षों पर विचार करके उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में व्यस्त रहा। इसी पंचायती राज संघ द्वारा अनेक विचार गोष्ठियां आयोजित हुई जिससे पंचायत राज के संस्थापन का मार्ग प्रशस्त हुआ। परिणामस्वरुप 2 अक्टूबर 1959 को प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा नागौर में दीप प्रज्वलित कर त्रिस्तरीय पंचायती राज की विधिवत शुरुआत हुई। ग्राम स्तर पर ग्राम पंचायत, ब्लॉक स्तर पर पंचायत समिति और जिला स्तर पर जिला परिषद। इस तरह राजस्थान में लोकतांत्रिक विकेंद्रीकरण का सपना साकार करने में चौधरी कुंभाराम आर्य


[पृ.175]: ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

सहकारिता आंदोलन: सन् 1960 में चौधरी कुंभाराम आर्य राज्यसभा के सदस्य बनकर केंद्र में चले गए। वहां उनका संपर्क और विचार-विनिमय देश के शीर्ष नेताओं व विचारकों से हुआ। इसी बीच हनुमानगढ़ विधानसभा का उपचुनाव आ गया, जिसमें कुंभाराम आर्य को कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार घोषित किया। यह चुनाव 19 अक्टूबर 1964 को संपन्न हुआ जिसमें वे भारी मतों से विजई हुए। 14 नवंबर 1964 मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाड़िया ने कुंभाराम आर्य को रेवेन्यू मिनिस्टर बनाकर फिर अपने मंत्रिमंडल में स्थान दिया। उन्होने अब भूमि-सुधार के कार्य को आगे बढ़ाया और सहकारिता तथा पंचायतराज के सुदृढ़ीकरण में भरपूर योगदान किया। राजस्थान में सहकारिता आंदोलन के अंतर्गत "एक सब के लिए और एक के लिए सब' जैसे सद्विचार पैदा करने में आप की महती भूमिका रही। किसानों को ऋण उपलब्ध कराने के लिए ग्रामीण स्तर पर सहकारी समितियों की स्थापना करना व सहकारी क्रय-विक्रय समितियों के लिए भवन बनवाना, किसानों को अपनी उपज का सही मूल्य दिलाने और उसे सुरक्षित रखने के लिए ग्रामीण सहकारी समितियों को मंडी स्तर पर क्रय-विक्रय सहकारी समितियों से जोड़ना तथा इनकी भी राज्य स्तर पर क्रय-विक्रय सहकारी संघ "राजफैड" की स्थापना करना तथा उसके वर्षों तक अध्यक्ष रहकर राजस्थान में सहकारिता की जड़े मजबूत करने में चौधरी कुंभाराम आर्य का महत्वपूर्ण योगदान है। अध्यक्ष की हैसियत से संघ के लिए भूमि खरीद कर यहां राजफैड के दफ्तर, फैक्ट्री और गोदामों की स्थापना इन्हीं के समय में हुई थी जो आज राजफैड की करोड़ों की संपत्ति बन गई है। जयपुर में जिस भूमि पर आज सहकार भवन बना हुआ है, यह उन्हीं की देन है जहां अब सहकारी विभाग के रजिस्ट्रार का कार्यालय था सहकार का गोदाम हैं। चौधरी कुंभाराम वर्षों तक राजस्थान राज्य सहकारी बैंक के भी अध्यक्ष तथा अखिल भारतीय सहकारी संघ के उपाध्यक्ष रहे। इस तरह राजस्थान में सहकारिता आंदोलन को गति प्रदान करने में चौधरी कुंभाराम का योगदान अविस्मरणीय है। प्रदेश में ही नहीं पूरे भारतवर्ष में इन्होंने सहकारिता आंदोलन का नेतृत्व किया है और इस तरह सहकारिता के क्षेत्र में अपना नाम हमेशा के लिए अमिट बना दिया।

किसान को हरे पेड़ काटने की अनुमति: किसानों को अपने खेत से अपनी आवश्यकता के अनुसार पेड़ काटने की रियायत कुंभाराम आर्य ने ही राजस्व मंत्री की हैसियत से प्रदान की थी। इससे पहले राजस्थान में हरे पेड़ काटने पर प्रतिबंध था और उनके काटने के नाम पर किसानों पर मुकदमे बनाए जाते थे। चौधरी कुंभाराम जी ने तर्कपूर्ण ढंग से राजस्थान कैबिनेट को मानने को मजबूर कर दिया कि किसान ही खेतों में पेड़ों का संरक्षण और पोषण करता है, इसलिए अपनी आवश्यकता अनुसार उन पेड़ों को काम में लेने का उनको अधिकार भी है। इससे पूरे राजस्थान में किसान अनावश्यक मुकदमेबाजी से मुक्त हुए और उन्हें बड़ी राहत मिली। चौधरी कुंभाराम


[पृ.176]: भाखड़ा सिस्टम को लागू कराने हेतु भी निरंतर प्रयत्नशील रहे। उनके प्रयास श्रीगंगानगर क्षेत्र में लोगों के लिए वरदान सिद्ध हुए, जिसे कभी नहीं भुलाया जा सकता। आप राजस्व से संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों को किसानों के कल्याण के लिए बने नियमों को कार्य रूप में परिणित करने पर जोर देते थे।

मोहनलाल सुखाड़िया से मतभेद: इनका मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाड़िया से फिर मतभेद हो गया। विरोध बढ़ता गया। परिणाम स्वरुप चौथे आम चुनाव से पूर्व तीव्र सैद्धान्तिक मतभेदों के कारण 20 दिसंबर 1966 को राजा हरिश्चंद्र झालावाड़, भीमसिंह मंडावा, कमला बेनीवाल, दौलतराम सारण के साथ कुंभाराम आर्य ने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया। उन्होंने कांग्रेस दल से भी अपना संबंध तोड़ लिया। यह विडंबना थी कि संस्थागत विकृति से क्षोभित, स्वार्थी आपा-धापी से दुखी चौधरी कुंभाराम को उस कांग्रेस से भारी मन से नाता तोड़ना पड़ा जिसे उन्होंने राजस्थान में अपने खून से सींचा था। कुंभाराम जैसा निर्भीक और सैद्धांतिक व्यक्ति ही सत्ता मोह को ठोकर मारने का साहसिक कदम उठा सकता था। इसके साथ ही उनके संघर्षमय जुझारू जीवन के एक अध्याय का पटाक्षेप हो गया और एक नए संघर्ष की शुरुआत हो गई।

नए संघर्ष की शुरुआत

डॉ पेमाराम[33] ने लिखा है कि.... कांग्रेस पार्टी को छोड़ने के बाद चौधरी कुंभाराम ने राजस्थान में जनता पार्टी का निर्माण किया और उसके संस्थापक अध्यक्ष बने। उन्होंने अन्य नेताओं के साथ मिलकर 15,18, 20 फरवरी 1967 में आयोजित चतुर्थ आम चुनाव में कांग्रेस को हराने में पूरी ताकत लगाई और उसे अट्ठासी विधानसभा के सदस्यों तक ही सीमित कर दिया। परिणाम यह हुआ कि किसी भी दल को बहुमत प्राप्त नहीं हुआ। चौधरी कुंभाराम आर्य ने महाराजा हरिश्चंद्र झालावाड़ के साथ मिलकर राजस्थान में सरकार बनाने के प्रयास शुरू कर दिए। उन्होंने विरोधी दलों के सारे विधायकों को एक करके सरकार बनाने हेतु अपना दावा राज्यपाल डॉक्टर संपूर्णानंद को प्रस्तुत किया। दोनों तरफ 88-88 विधायक थे। अतः परंपरा का अनुसरण करते हुए कांग्रेस पार्टी को बड़े दल के रूप में आने के कारण सुखाड़िया को मंत्रिमंडल बनाने के लिए आमंत्रित कर लिया। इस पर विरोधी दलों ने आंदोलनात्मक रुख अपनाया। परिणाम स्वरुप जोहरी बाजार में पुलिस फायरिंग में कुछ लोग मारे गए। अतः राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया। बाद में चौधरी कुंभाराम विरोधी विधायकों को राष्ट्रपति के पास ले गए और वहां अपना शक्ति प्रदर्शन किया। इसी समय 18 मार्च 1967 को अचानक दिल्ली में महाराजा हरिश्चंद्र झालावाड़ का निधन हो गया और विरोधी पक्ष को बड़ा झटका लगा। इस स्थिति में एक निर्दलीय सदस्य को अपनी और मिला कर मोहनलाल सुखाड़िया अपना मंत्रिमंडल बनाने में सफल हो गए। बाद में कुंभाराम आर्य ने जनता पार्टी को भारतीय क्रांति दल में शामिल कर दिया। वे दूसरी बार 1968 में भारतीय क्रांति दल से चुनकर पुनः राज्यसभा में गए। वे 1974 तक राज्यसभा के सदस्य रहे। इसी समय आप ने 1974 में राजस्थान किसान यूनियन का गठन किया। किसान यूनियन के झंडे तले


[पृ.177]: उनकी अध्यक्षता में सरकार के खिलाफ कई आंदोलन किए, धरने दिए और सरकार को किसानों की बाहुतसी मांगे माननी पड़ी। देश में आपातकाल की स्थिति में चौधरी कुंभाराम जेल में रहे। जेल से छूटते ही कांग्रेस में शामिल हो गए। 1977 में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की बहुत बुरी हार हुई। आत: चौधरी चरण सिंह के आग्रह पर वह लोक दल में शामिल हो गए। 1980 में फिर लोकसभा के चुनाव हुए जिसमें लोकदल ने कुंभाराम को सीकर से अपना उम्मीदवार घोषित किया और वहां से जीत कर लोकसभा में गए। इन्होंने 1984 तक लोकसभा के सदस्य के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर अपनी छाप छोड़ी। उसके बाद भी वह राजस्थान की राजनीति में सक्रिय रहे। एक बार 1989 में उन्होंने अपनी पुत्रवधू श्रीमती सुचित्रा आर्य को नोहर से जनता दल के टिकट पर विधायक बनाया।

अन्याय के खिलाफ लड़ने में चौधरी साहब कभी पीछे नहीं रहे। चाहे वह नहरी पानी का श्रीगंगानगर के किसानों का आंदोलन हो या राजस्थान के किसानों का बिजली का आंदोलन, जिसमें झुञ्झुणु के बालूराम शहीद हुए, वे सदैव अग्रिम पंक्ति में रहे। उन्होंने समय-समय पर विपक्षी दलों में एकता स्थापित करने का महत्वपूर्ण कार्य किया। चौधरी साहब का दुर्गापुरा निवास स्थान उनका ही घर न होकर राजस्थान के दूर दराज से आए हर किसान का घर था। वहाँ सदैव अभाव-अभियोग लेकर सैकड़ों लोग आते और रोजमर्रा वहां भोजन करते थे। उनके घर पर लंगर चलता ही रहता था। वे दृढ़ इच्छाशक्ति वाले व्यक्ति थे और किसी के सामने उन्होंने झुकना सीखा ही नहीं था।

अंतिम समय

अंतिम समय में चौधरी कुंभाराम आर्य का राजनीति से मन उठ गया और वे राजनीतिक पार्टियों को सारहीन मानने लगे थे। अब उन्होंने सामाजिक कल्याण के लिए कुछ करने की ओर अपना मन लगाया। संसार की मोह माया से दूर रहकर वे महाजन नामक एक छोटे से कस्बे में अपने सामाजिक व शैक्षणिक प्रयोग करने में व्यस्त हो गए। वहां उन्होंने महिला शिक्षा के उत्थान के लिए कन्या विद्यापीठ स्थापित किया जो उनकी महत्वपूर्ण देन है। 81 वर्ष की अवस्था में थोड़ी सी बीमारी के बाद 26 अक्टूबर 1995 को उनका निधन हो गया।

चौधरी कुंभाराम आर्य का मूल्यांकन

डॉ पेमाराम[34] ने लिखा है कि....चौधरी कुंभाराम आर्य का मूल्यांकन इन शीर्षकों के अंतर्गत किया जा सकता है-

1. कुशल प्रशासक: चौधरी कुंभाराम आर्य अपने समय के योग्य और सुदृढ़ प्रशासक थे। 1951-1952 में गृहमंत्री के दौरान आपने कुछ RPS अधिकारियों को बिना लोक सेवा आयोग की अनुमति के IPS में पदोन्नत कर दिया और कड़े विरोध के बाद ही अपना आदेश वापस नहीं लिया। प्रशासनिक कार्यों में चौधरी कुंभाराम आर्य


[पृ.178]: ओपचारिकता में नहीं पड़ते थे। कभी-कभी किसान के पास अर्जी लिखी न होने या कागज में होने पर अधिकारियों के नाम उसके हाथ पर आदेश लिख देते थे, जिसकी अधिकारी पालना करते और लापरवाही करने पर उस अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने से भी नहीं चूकते थे। नौकरशाही की विलंबकारी और टालमटोल प्रवृत्ति को वे कतई सहन नहीं करते थे। सीकर जिले के दौरे के समय पटवारियों की लापरवाही के लिए उन्होंने जिलाधीश सीकर का तबादला कर दिया था। उसी प्रकार झुंझुनूं कलेक्टर द्वारा उनके आदेश की पालना में ढिलाई बरतने पर उसे जयपुर बुलाकर तत्काल स्थानांतरण के आदेश थमा दिये थे। जनहित में निर्णय करने में वे कतई ढील नहीं बरतते थे और तत्काल कानून बदलने के लिए भी अधिकारियों को आदेश दे देते थे। वे कहा करते थे कि कानून इंसान से बड़ा नहीं है और आवश्यकता एवं समय के अनुसार कानून में संशोधन व बदलाव जरूरी है। अधिकारी जब कहते कि यह नियमानुसार नहीं है, तब वे पत्रावलियों पर लिख देते थे कि नियम बदल दिया जाए और प्रार्थी का काम कर दिया जाए। [35]

चौधरी कुंभाराम आर्य जनप्रतिनिधि को शासनतंत्र का संचालक और नौकरशाही को आदेश का पालनकर्ता मानते थे। उनका कहना था कि जनप्रतिनिधि पर जनता की जिम्मेदारी है। उन्हें राज्य एवं जनता को जवाब देना है, अधिकारी के प्रति नहीं। इसलिए वे सेक्रेटरी को बाबू और चीफ सेक्रेटरी को बड़ा बाबू कहते थे और उससे वैसा ही व्यवहार भी करते थे। उनके नाम से ही उस समय के अधिकारी बेहद तत्परता दिखाते थे। वे काम के मामले में जहां अधिकारियों के प्रति कठोर थे, वहीं साधारण जनों के प्रति बड़े हमदर्द थे उनकी मदद करने के लिए हर समय तैयार रहते थे।

2. कुशल वक्ता एवं संगठनकर्ता: चौधरी कुंभाराम आर्य एक कुशल और प्रखर वक्ता थे। जनसाधारण को अपनी बात समझाने की उनकी अनूठी शैली थी। उनके समय में राजस्थान भर के देहाती इलाकों में उनकी तूती बोलती थी और किसान समुदाय की सभाओं में राजस्थानी भाषा में प्रकट किए गए उनके विचार और दिए गए संदेश उपस्थित जनता के अंतर्मन को छू लेने वाले होते थे। वे अपने भाषणों में दो टूक व स्पष्ट बात करते थे। वे जमीन से जुड़े हुए नेता थे और अच्छे संगठनकर्ता थे। कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने में हमेशा उन्हें उत्साहित करते रहते थे। उन्होंने अपने समय में सैकड़ों कार्यकर्ता तैयार किए।

3. सामाज सुधारक: चौधरी कुंभाराम आर्य बचपन से ही आर्य समाजी बन गए थे। लगभग 13 वर्षीय बालक कुंभाराम एक बार अपने मित्र जयपाल शर्मा के घर 'लुकमीचनी' (छुपनछुपाई)


[पृ.179]: नामक खेल खेलते समय पानी के मटके के पीछे छुपने पर जयपाल शर्मा के पिता ने जाट के छोरे को मटके के पीछे छुपा हुआ देख लिया तो उसने डंडे से न केवल मटके को फोड़ दिया बल्कि कुंभाराम को भी क्रोध भरे स्वर से कहा, "अपनी औकात नहीं देखता, ब्राह्मण का मटका अपवित्र कर दिया"। इस घटना का कुंभाराम पर भारी असर हुआ। उसमें उस इलाके में आर्य समाज का बड़ा जोर था। इसलिए उन्होंने एक दिन जनेऊ धारण कर लिया और वे पक्के आर्य समाजी बन गए।

आर्य समाजी होने के कारण चौधरी साहब कर्मकांडों में बिल्कुल विश्वास नहीं करते थे। वे जातिवाद से सदैव ही अछूते रहे। छुआछूत से उन्हें बेहद नफरत थी। उनके यहां रसोईया हरिजन था। मृतक-भोज, दहेज, बड़ी बारात, झूठे तामझाम के भी सदैव खिलाफ रहे। उनका विवाह के मामले में न तो दहेज में विश्वास था और न व्यर्थ के दिखावे में। उन्होंने अपनी बेटी के विवाह में भी किसी को निमंत्रण नहीं दिया। बारात में कुल 8-10 लोग आए थे। जो भी विवाह में शामिल हुए उन्हें एक-एक संतरा दिया गया। [36] उन्होंने अपने लड़के-लड़कियों की शादी में 5 बारातियों से अधिक न तो बुलाया और न किसी के यहां ले गए। आर्य समाज के संस्कारों के कारण ही उन्होंने अपने नाम के साथ 'आर्य' शब्द लिखा था। आर्य समाजी होने के कारण वे बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू आदि से परहेज करते थे। सामाजिक कुरीतियों के उन्मूलन में उनकी पूरी आस्था थी। जब चौधरी साहब की मां का स्वर्गवास हुआ तो उन्होंने तीए की बैठक पर घर की शुद्धि के लिए केवल हवन किया और कुछ नहीं किया। इस तरह खुद सुधरो और समाज को सुधारो की मिसाल अपने घर से ही शुरु की। आर्य समाज के प्रभाव के कारण ही वे परंपरागत रूढ़िवाद धर्म के नाम पर गरीबों और दलितों को दबाने वाले, पाखंड और चमत्कार के द्वारा शोषण करने वाले तथा अन्याय के प्रबल विरोधी थे और उन्होने जीवन भर इसके लिए कार्य किया।

4. शिक्षा प्रेमी: समाज की उन्नति के लिए कुंभाराम आर्य शिक्षा को महत्वपूर्ण मानते थे। स्त्री-शिक्षा पर उनका विशेष ज़ोर था। इसके लिए उन्होंने 1954 ई. में महाजन नामक कस्बे में ग्रामीण नारी उत्थान केंद्र की स्थापना की। इसके लिए उन्होंने दो किस्तों में राजा रघुवीर सिंह, महाजन से 2000 बीघा भूमि दान में प्राप्त कर वहाँ ग्रामीण बालिका विद्यालय और छात्रावास की स्थापना की और अपना बाकी लंबा समय इस संस्था के लिए लगाया।

चौधरी कुंभाराम ने स्वामी केशवानंद के साथ मिलकर ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया की उन्नति में विशेष योगदान दिया। जहां उस संस्था की उन्नति में उन्होंने अपनी ओर से


[पृ.180]: योगदान दिया, वहां स्वामी केशवानंद को लगातार 12 वर्षों तक राज्यसभा का सदस्य बनाए रख कर संगरिया विद्यापीठ के विकास में वे एक महान वरदान सिद्ध हुए। इसी प्रकार हनुमानगढ़ में प्रथम डिग्री कॉलेज खुलवाने तथा गांधी विद्या मंदिर सरदारशहर के पास 3 मील लंबी व 2 मील चौड़ी भूमि जो अभी है, वह चौधरी कुंभाराम के रेवेन्यू मिनिस्टर के समय की देन है।

5 स्वतंत्र चिंतक: चौधरी कुंभाराम आर्य एक लेखक तथा मौलिक चिंतक भी थे। उन्होंने वर्ग चेतना तथा किसान यूनियन क्यों ? नामक दो महत्वपूर्ण कृतियों की रचना की।

वर्ग चेतना: उन्होंने अपनी पुस्तक 'वर्ग चेतना' में जाति, धर्म से अलग हटकर उपेक्षित वर्ग को वर्गचेतना के आधार पर संगठित होने की सलाह दी। वर्ग चेतना शोषण को समाप्त करने वाली शक्ति है। उनकी दृष्टि में वर्ग चेतना व्यक्ति की अनिवार्य आवश्यकता है क्योंकि वह व्यक्ति के अस्तित्व का रक्षण-पोषण एवं स्वाधीनता के साथ सार्थक जीवन व्यतीत करने का आवश्यक अवसर प्रदान करती है। भय, संकट और चिंताओं से मुक्ति दिलाती है। सुख, शांति और समृद्धि के अवसर प्रदान करती है। उन्होंने वर्ग चेतना के माध्यम से समाज को संगठित कर राजसत्ता पर कब्जा करने का भी आह्वान किया।

किसान यूनियन क्यों ? कुंभाराम आर्य की प्रकाशित कृति है। इसके माध्यम से उन्होंने किसानों को संगठित कर आर्थिक शोषण से मुक्त होने का संदेश दिया। चौधरी साहब का कहना था कि नौकरशाह के हाथों आम आदमी का भला होना संभव नहीं है। इसलिए उन्होंने लोगों के राज में भागीदारी के लिए किसान यूनियन की स्थापना पर जोर दिया। उनके विचारों पर कार्ल मार्क्स का प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। वे सही अर्थों में विशुद्ध राजनैतिक समाजवाद के समर्थक थे। वर्ग चेतना में उन्होंने यह भी लिखा कि मानव जितना प्रकृति से दूर रहेगा उतना ही दुखी होगा। प्रकृति के समीप रहकर मानव शांति प्राप्त कर सकता है। सार्वजनिक जीवन में उन्होंने जर्मनी, सोवियत संघ, ब्रिटेन आदि देशों की यात्राएं भी की।

बहुआयामी व्यक्तित्व : इस तरह है चौधरी कुंभाराम आर्य का व्यक्तित्व बहुआयामी था। वे राजनेता, शिक्षा-प्रेमी, समाज सुधारक, मौलिक चिंतक एवं प्रखर वक्ता थे। उनका मानना था कि जब तक ग्रामीण विकास के दो हाथ पंचायत और सहकारिता मजबूत नहीं होंगे, गांव का सर्वांगीण विकास असंभव है। अतः वे जीवन पर्यंत पंचायत राज और सहकारिता को मजबूत करने में लगे रहे। ग्रामीण लोगों विशेषकर किसानों के सदैव हिमायती एवं हितैषी रहे हैं। उनकी दृढ़ मान्यता थी कि कृषकों की दशा सुधारे बिना देश में वांछित उन्नति नहीं हो सकती। उन्होंने किसानों की दयनीय दशा को देखकर उन्हें ऊंचा उठाने हेतु नौकरी


[पृ.181]: का परित्याग कर सामंती तत्वों से घोर संघर्ष किया। आगे चलकर राजस्व मंत्री के रूप में उन्होंने जागीरदारी प्रथा को समाप्त कराने के साथ किसानों के हित के लिए अनेक कानून बनाए और एक पाई दिए बिना किसानों को भूमि का मालिक बनाया। वे दृढ़ निश्चयी, बहादुर, अडिग एवं निश्छल व्यक्तित्व के धनी थे। उनकी कथनी और करनी में अंतर नहीं था। सादा जीवन, देसी भोजन और उच्च विचार में उनका विश्वास था। वे राज्य के स्वतंत्रता सेनानी एवं अग्रणी किसान नेता और जुझारू जन-प्रतिनिधि थे, जिन्होंने सभी वर्गों विशेषकर दलितों व किसानों के हितों के लिए जीवन पर्यंत संघर्ष किया। राजनीति के क्षेत्र में वे एक जुझारू, अक्खड़, स्पष्ट-वक्ता, निर्भीकता से दो टूक बात कहने वाले के रूप में प्रसिद्ध हुए। यद्यपि अंतिम समय में उन्हें काफी लंबा राजनीतिक वनवास भोगना पड़ा परंतु न वे हारे, न थके, न विचलित हुए। इन्होंने न कभी संगठन की परवाह की, न साथियों की। आगे चलकर सफल होंगे या नहीं इसकी भी परवाह नहीं की। उन्होंने जैसा ठीक समझा, वैसे चले, अकेले ही चले। इसका एक कारण यह भी था कि वे प्रारंभ से ही सिद्धांत प्रिय थे और अपने सिद्धांतों के लिए सर्वदा सब कुछ बलिदान करने के लिए तत्पर रहते थे। उन्होंने सत्ता लोभ और क्षणिक राजनीतिक स्वार्थ के लिए कभी भी सिद्धांतों की बलि नहीं दी। यद्यपि चौधरी कुंभाराम कांग्रेस न छोड़ते तो राजस्थान की जनता की अधिक सेवा कर सकते थे, परंतु जीवनभर अन्याय का प्रतिकार करने वाला व्यक्ति संस्थागत विकृति को सहन नहीं कर सका और एक झटके में सारे संबंधों को तोड़कर अलग हो गया। जब तक वे मंत्री रहे, नौकरशाही पर उन्होने पूरा अंकुश रखा।

चौधरी कुंभाराम जवानी के समय से ही आर्यसमाजी बन गए थे। इसलिए वह सामाजिक बुराइयों को दूर करने में बराबर प्रयत्नशील रहे। सामाजिक और आर्थिक क्रांति के पक्षधर तथा रूढ़िवादिता और अन्याय के प्रबल विरोधी चौधरी कुंभाराम आर्य राजस्थान की राजनीति पर 50 वर्षों की लंबी अवधि तक छाए रहे। स्वतंत्रता से पूर्व बीकानेर राज्य प्रजा परिषद और बाद में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, जनता पार्टी, भारतीय क्रांति दल, भारतीय लोकदल और जनता दल से संबंधित रहे। उन्होंने बीकानेर राज्य में राजस्व मंत्री, राजस्थान विधानसभा के सदस्य, राजस्थान के केबिनेट मंत्री, लोकसभा व राज्यसभा के सदस्य के रूप में अपनी सेवाएं दी। पंचायती राज व सहकारिता के क्षेत्र में उनका उल्लेखनीय योगदान रहा। एक छोटे से गांव में पैदा होकर तथा प्राइमरी शिक्षा तक पढ़े रहने के बावजूद अपने पुरुषार्थ से देश के नेताओं के बीच अपना स्थान बना लेना चौधरी कुंभाराम आर्य की सबसे बड़ी उपलब्धि थी। अर्द्ध शती तक संघर्ष से जूझते, तूफानों से लड़ते, जुझारू सेनानी कुंभाराम ने 26 अक्टूबर 1995 को इस संसार से विदा ले ली। वास्तव में अद्भुत सहज बुद्धि के धनी और किसानों के मसीहा थे। उनके कार्यों के कारण उनका नाम सदा अक्षुण्य रहेगा।

सम्मान और स्मारक

मरणोपरांत सम्मान : जाट कीर्ति संस्थान चुरू द्वारा समाज-जागृति के सौ साल का समारोह दिनांक 31.8.2017 को ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ़ में तेजा दशमी के अवसर पर मनाया गया।

विद्यार्थी भवन, रतनगढ़ में संचालित राजनीतिक गतिविधियों की ही परिणीति थी कि जागीरी ज़ुल्म के विरुद्ध लोहा और कांगड़ आंदोलन का आगाज समाज के जुझारुओं ने किया।

राजशाही के दमनकारी शासन और सामन्ती उत्पीड़न के ख़िलाफ़ चौधरी कुम्भाराम आर्य, चौधरी हनुमान सिंह बुडानिया, चौधरी हरिराम ढाका नोरंगसर, चौ. चुनाराम चाहर कांगड़, चौ. बुधराम डूडी सीतसर, चौ. कुरड़ाराम घुमन्दा, चौ. रूपाराम मान, स्वामी नित्यानंद खींचिवाला व समाज के अन्य संघर्षशील लोगों ने लड़ाई लड़कर मुक्ति संघर्षों में सक्रिय सहयोग प्रदान किया और समाज को जागृत किया।

शिक्षा के प्रचार-प्रसार और मुक्ति संघर्षों मे अगुवाई करने वाले समाज-शिरोमणियों के योगदान का स्मरण करना और उन्हें सम्मानित करने का दायित्व हम सब समाज बंधुओं का बनता है। समाज- जागृति के सौ साल पूरे होने के अवसर पर रतनगढ़ में आयोजित स्मरण-समारोह में सम्मिलित होकर समाज के सितारों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करना हमारा दायित्व था। उन्होंने कष्ट सहे, जेल की सजा भुगती, यातना सही ताकि हम शिक्षित हो सकें और सामन्ती उत्पीड़न से आज़ाद होकर प्रगति की राह पर आगे बढ़ते चलें।

जाट कीर्ति संस्थान चूरु द्वारा ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ़ में दिनांक 31.8.2017 को तेजादशमी के अवसर पर आयोजित इस भव्य समारोह में चौधरी कुंभाराम जी आर्य को बीकानेर रियासत के जुल्मों के खिलाफ दमदार संघर्ष, स्वतन्त्रता आंदोलन में अग्रणी भूमिका एवं स्वतंत्र भारत में किसान वर्ग की चेतना जागृत करने के कालजयी कार्यों के लिए मरणोपरांत सम्मान प्रदान किया गया।


चौधरी कुम्भाराम लिफ्ट कैनाल

चौधरी कुम्भाराम लिफ्ट कैनाल: श्रीमती सुचित्रा जी आर्य ने गंधेली साहवा लिफ्ट नहर का नामकरण कुम्भाराम लिफ्ट नहर करवाया था जो राजस्थान की सबसे बड़ी लिफ्ट परियोजना है। इस परियोजना के तहत तीन जिलों में किसानों को सिंचाई और पेयजल उपलब्ध करवाया जाता है। जहां हनुमानगढ़, चुरू, में सिंचाई और झुन्झुनू के 1467 गांव ढाणियों को पेयजल आपूर्ति करती है। इतनी बड़ी नहर का नाम चौधरी कुम्भाराम लिफ्ट कैनाल करवाना बिना कोई जन आंदोलन के श्रीमती सुचित्रा जी आर्य की दूरदृष्टि का ही परिणाम है।


कुंभाराम आर्य शिक्षण संस्थान सेकंडरी स्कूल चोहटन बाड़मेर - कुंभाराम आर्य शिक्षण संस्थान बाड़मेर जिले के कस्बे चोहटन में स्थित है जो सन् 2009 में स्थापित हुई थी। इसके संचालक तरुण बागड़िया हैं मोब: 9982790154

चौधरी कुंभाराम सेकंडरी स्कूल खुईया हनुमानगढ़ - चौधरी कुंभाराम सेकंडरी स्कूल खुईया हनुमानगढ़ जिले के कस्बे खुईया में स्थित है जो सन् 2007 में स्थापित हुई थी।

किसान घाट जयपुर: जयपुर के दुर्गापुरा स्थित कुंभाराम जी की समाधि स्थल, जो 500 वर्ग गज है, वहीं पर कुंभारामजी, उनकी माता जीवणी देवी, उनकी धर्म पत्नी भूरीदेवी, उनकी नानी और ड्रावर लादूसिंह राजपूत तथा लादूसिंह की पत्नी की समाधि है। चौधरी कुंभाराम आर्य के कद के अनुरूप इस स्मारक को विकसित किए जाने की आवश्यकता है।

फेफाना में कुंभाराम आर्य की मूर्ति का अनावरण: फेफाना में कुंभाराम जी आर्य की मूर्ति का अनावरण दिनांक 24.9.2012 को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डॉ चंद्रभान द्वारा किया गया और उसके बाद जनसभा को संबोधित किया। उन्होने बताया की कुंभाराम जी आर्य की मूर्तियां पूरे प्रदेश में लगनी चाहिए जिससे युवा पीढ़ी को उनके पद चिन्हों पर चलने की सीख मिल सके। इस कार्यक्रम में पूर्व विधायक व किसान आयोग की सदस्य सुचित्रा आर्य ने अतिथियों का स्वागत किया।

कूदन में कुंभाराम जी आर्य की मूर्ति का अनावरण 26.10.2017

कूदन में कुंभाराम आर्य की मूर्ति का अनावरण: कूदन में कुंभाराम जी आर्य की मूर्ति का अनावरण दिनांक 26.10.2017 को किया गया।

रतनगढ़ में कुंभाराम आर्य की मूर्ति का अनावरण: ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ़) में कुंभाराम जी आर्य की मूर्ति का अनावरण दिनांक 8.3.1918 को किया गया।

जाट जन सेवक

ठाकुर देशराज[37] ने लिखा है ....चौधरी कुंभाराम जी - [पृ.137]:बीकानेर में पुरानी पीढ़ी अगर चौधरी हरिश्चंद्र जी और चौधरी जीवनराम जी को याद करेगी तो नई पीढ़ी चौधरी कुंभाराम को हमेशा महत्व देगी। यद्यपि बीकानेर की कैबिनेट में एक मंत्री रहे हैं किंतु इस से पहले 2 वर्ष तक उन्होंने बड़े कष्ट का जीवन बिताया है। वे और उनकी पत्नी बराबर बाहर मारे मारे फिरे हैं, और भीतर जागृति की बड़वानल चेताई है।


चौधरी बीकानेर की पुलिस में थानेदार थे उनकी योग्यता ऊंचा उठाने का ताजा करती थी और


[पृ.138]: राठौरशाही के पुर्जे उसे दबाना चाहते थे। आखिर तंग आकर उन्होंने नौकरी को लात मार दी और राजनीति के क्षेत्र में कूद पड़े। 2 वर्ष तक अदम्य साहस के साथ उन्होंने काम किया और बीकानेर की सरकार झुक गई।

वे एक लंबे अरसे से अपने समाज की सेवा करते आ रहे हैं। बीकानेर के शिक्षित नौजवानों में उन्होंने सर्विस में रहते हुए काफी जीवन पैदा किया था।

आप बीकानेर राज्य की नोहर तहसील में फेफाना ग्राम के रहने वाले हैं। आपका गोत्र सुंडा है। चौधरी भैरूराम जी आपके पिता का नाम है। शिक्षा आपने गांव की आरंभिक पाठशाला में ही प्राप्त की। उसके बाद महकमा जंगलात में मुलाजिमत की और शिक्षा संबंधी योग्यता को सर्विस में रहते हुए बराबर बढ़ाते रहे।

जवानी के आरंभ में ही आप पर आर्य समाजी खयालात का असर पड़ चुका था। इसलिए अपने कौम की सामाजिक बुराइयों को दूर करने में बराबर प्रयत्न शील रहे।

बीकानेर राज्य प्रजा परिषद पर अधिकार करके आप ने बुद्धिमानी का अद्भुत परिचय दिया। उसे आपने किसान बहुल संस्था का रूप दे दिया।

आप एक गंभीर और मननशील नौजवान हैं। कहने से पहले सोचते हैं और जितना करना होता है उसे कम कहते हैं। घबराहट से बचते हैं। यही आप के गुण हैं जो आपको इस कदर बढ़ा ले गए हैं।

आपका जन्म संवत 1972 विक्रमी में हुआ था। आपके बड़े लड़के का नाम विजयपालसिंह है। बच्चे और बच्चियां सभी शिक्षा पा रहे हैं।

बग़ावती तेवर और दबंगपन

इस भाग के लेखक हैं - प्रो. हनुमाना राम ईसराण, पूर्व प्राचार्य, राजकीय एस. के. कॉलेज, सीकर. [38]

बग़ावती तेवर और दबंगपन का दूसरा नाम ही चौधरी कुम्भाराम था। चौधरी कुम्भाराम जी आर्य के 104 वें जन्मदिन और 103 वीं जयंती (जन्मदिन की वर्षगांठ) पर उनकी स्मृति को शत-शत नमन।

चौधरी कुम्भाराम जी के राजनीतिक जीवन की शुरुआत बीकानेर रियासत के निरंकुश राज एवं सामन्ती शासन के क्रूर उत्पीड़न के विरोध से हुई, जो धीरे-धीरे एक बगावत में बदल गई। सदियों से पीड़ित-प्रताड़ित ,अनपढ़, गरीब संत्रस्त किसान वर्ग को युगों-युगों की गहरी नींद से जगाना, संगठित करना और राज के शोषण एवं जागीरदारों के उत्पीड़न के विरुद्ध लामबंद करना एक दुष्कर कार्य था । इस असम्भव को संभव बनाना, चौधरी कुम्भाराम जी के ही बुते की बात थी।

किसान वर्ग के हितैषी, हमदर्द, सहयोगी , सहभागी, जीवनपर्यन्त किसानों के हितों के लिए संघर्षरत रहनेवाले, सच्चे अर्थों में किसानों के रहनुमा और मसीहा कुम्भाराम जी आर्य की शख्सियत विलक्षण थी। उनका विरल और विराट व्यक्तित्व बहुआयामी औऱ बेमिसाल था।

चौधरी साहब राजस्थान प्रान्त के निर्माण की उस इमारत के पत्थर हैं जिस पर वर्तमान राजस्थान गर्व कर सकता है। उनके अदम्य साहस, दृढ़ संकल्प औऱ पैनी दृष्टि व समझ के सम्मुख तत्कालीन राजनेताओं का कद बौना पड़ जाता था। कुम्भाराम जी किसान वर्ग में मात्र खेती-बाड़ी करने वालों को ही नहीं मानते थे, बल्कि उन सभी जाति-समुदाय के उन लोगों को भी शामिल मानते थे जो अपने हाथ-पैरों की मेहनत और पसीने की कमाई से अपने परिवार का पालन करते थे। वे उस धनी वर्ग के खिलाफ थे जो अपबे धन-बल पर मेहनतकश वर्ग का शोषण करते हैं। राजस्थान के किसानों को जमीन का मालिकाना हक दिलाकर आर्य जी ने किसान वर्ग के कल्याण और प्रगति का मार्ग प्रशस्त किया। ऐसे युगपुरुष को शत-शत नमन।

आजादी के बाद राजस्थान में एकमात्र कुम्भाराम जी ही किसान नेता के रूप में प्रतिष्ठित हुए; क्योंकि हर जाति का किसान यह महसूस करता था कि राजस्थान में चौधरी कुम्भाराम जी किसान शक्ति के प्रतीक हैं वे राजस्व मंत्री के रूप में, सहकारिता नेता के रूप में, पंचायतराज के प्रणेता के रूप हमेशा ही किसान, गरीब, मजदूर के उत्थान में सतत प्रयत्नशील रहे।

कुम्भाराम आर्य एक स्वाभिमानी निडर राजनीतिज्ञ के साथ-साथ मौलिक चिंतक भी थे। 'वर्ग चेतना' और 'किसान यूनियन क्यों?' उनकी विचोरोत्तेजक कृतियां हैं। उनकी हर बात अनुभूत सत्य पर अवलंबित होती थी। अपने भाषणों व कृतियों में वे शोषण के विभिन्न आयामों तथा कारणों को उजागर करते रहते थे। श्री कोलायत में किसान सम्मेलन में दिए गए उनके भाषण का यह अंश गौर करने काबिल है।

भूख और ग़रीबी शोषण के कारण हैं। इसका संबंध भाग्य-विधाता और कर्मों के फल से नहीं । किसी के भाग्य में गरीबी और अमीरी लिखी हुई नहीं है। विधाता और भाग्य के नाम से बहकाने वाले लोगों का यह षडयंत्र है। शोषक लोग भाग्य-,विधाता के नाम से बहकाते हैं और शोषण द्वारा मौज-मजे करते हैं।

शोषक लोग संख्या में 14 प्रतिशत हैं पर हैं बड़े चालाक और चतुर। ये लोग तीन श्रेणियों में बंटे हैं--एक श्रेणी उद्योगपतियों की है जिन्होंने बड़े-बड़े कारखानों के मालिक बनकर धन व संसाधनों पर कब्ज़ा कर रखा है। दूसरी श्रेणी प्रशासन पर जमी है। प्रत्येक ऊंचे से ऊंचे पद पर ये लोग बैठे हैं। ये श्रेणी नोकरशाही के नाम से जानी जाती है। तीसरी श्रेणी शासकों की है जो राजनेता के नाम से जाने और पुकारे जाते हैं। इन तीनों श्रेणियों की मिलीभगत से शोषण का षडयंत्र चल रहा है। इन शोषकों से छुटकारा पाए बिना किसान और मजदूर के घर खुशहाली नहीं आ सकती। शोषण से मुक्ति पाने का एक ही मार्ग है। किसान औऱ मजदूर को विज्ञान का परामर्श स्वीकारना पड़ेगा।

दलितों की दारुण दशा से कुम्भाराम जी व्यथित रहते थे। विधानसभा में दिए गए अपने भाषण में उन्होंने यह व्यथा इन शब्दों में व्यक्त की थी:

"हरिजनों को सवर्ण वर्ग घृणा की दृष्टि से देखता है। कानून के अंदर उनको सब अधिकार प्राप्त हैं, लेकिन वे उन्हें पा नहीं सकते हैं। इसके लिए भी कोई प्लान (व्यवस्था) हो, कोई संकेत होना चाहिए, जो नहीं है। मेरे दिमाग पर यह असर पड़ा कि जागीरदार जो शक्तिशाली वर्ग था उसकी आवाज सुनी गई। मैं इस चीज को इस तरह से देखता हूँ कि-
सभी सहायक सबल के कोउ न निबल सहाय।
पवन जरावत आग को दीपहिं देत बुझाय।।
सामर्थ्यवान के सभी सहायक होते हैं। जागीरदार विधानसभा के भीतर और बाहर दोनों स्थानों पर ज्यादा हैं। उनके बारे में अच्छे-अच्छे कानून बनाये गए। उनके लिए अच्छी व्यवस्था कायम की गई। उनके पुनर्वास के लिए कमेटी भी बनाई गई, लेकिन इसके साथ अगर हम हरिजनों को देखें तो क्या किया, उसके संबंध में अगर आगे बढ़ाए जाने की कोई बात होती तो मेरे मन में उत्साह होता। और मैं सही मायने में सरकार को धन्यवाद का पात्र समझता।"

कुम्भाराम जी की कृति 'वर्ग चेतना' से लिए गए उद्धरण:

"वर्ग चेतना क्रमिक विकास के द्वारा बहुमत वर्ग को राज्य का स्वामी / मालिक बनाती है। भारत का किसान बहुमत वर्ग है। बहुमत वर्ग राज्य के बिना नहीं रहता। वर्ग-चेतना प्राप्त करते ही राज्य का स्वामी किसान है।"
वर्ग चेतना! व्यक्ति की अनिवार्य आवश्यकता है क्योंकि यह व्यक्ति के अस्तित्व का रक्षण-पोषण एवं स्वाधीनता के साथ सार्थक जीवन व्यतीत करने का अवसर प्रदान करती है। भय, संकट और चिंताओं से मुक्ति दिलाती है। सुख, शान्ति और समृद्धि के अवसर प्रदान करती है।
दुःखों का कारण शोषण है।
शोषण अभाव उत्पन्न करता है।
अभाव वेदना उत्पन्न करता है।
वेदना ग्रसित व्यक्ति सुख, शान्ति,और समृद्धि के लिए तड़पता है।जीवन सार्थक नहीं बना सकता।
शोषण को समाप्त करनेवाली शक्ति वर्ग चेतना है। वर्ग चेतना।"

कुम्भाराम जी कहा करते थे कि राज्य व्यवस्था तो गन्ने के सम्मान है जो संगठन शक्ति के दाँतवालों के लिए तो रस भरा है परंतु बिना दांतवालों असंगठितों के लिए तो बाँस की लाठी के समान है।

कुम्भाराम जी मानते थे कि नोकरशाही के हाथों आम आदमी का भला होना असंभव है इसलिए लोगों की राज में भागीदारी के लिए किसान यूनियन और पंचायत राज संघ की स्थापना की। इसी प्रकार आर्थिक प्रगति के लिए जनता की सहभागिता के लिए उन्होंने सहकारी आंदोलन के प्रसार में प्रमुख भूमिका निभाई ।

कुम्भाराम जी ने विभिन्न बाधाएं पार करते हुए 50 वर्ष से लंबी अवधि तक राजस्थान एवं राष्ट्र की राजनीति पर अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज कराई। राजनीति के क्षेत्र में वे एक जुझारू,अक्खड़, स्पष्टवक्ता, निर्भीकता से दो -टूक बात कहने वाले राजनेता थे। विभिन्न राजनीतिक दलों ( प्रजापरिषद, काँग्रेस, जनता पार्टी, भारतीय क्रांति दल, भारतीय लोकदल) में उन्होंने अपने प्रखर व्यक्तित्व की छाप छोड़ी। जहाँ भी रहे, अग्रणी रहे, शान से रहे ठसक से रहे। कभी मंत्री पद की शपथ, कभी पद से त्यागपत्र, कभी यह पार्टी, कभी वह पार्टी, कभी आंधी, कभी शांति, कभी लड़ाई, कभी सुलह, कभी हार ,कभी जीत। साहस की मशाल जलाकर अंधेरे से जूझते रहे। धीरज का दामन थामकर ,कांटो की राह पर चलते रहे। कभी थके नहीं, कभी रुके नहीं, कभी हिम्मत नहीं हारी। 'चरैवेति, चरैवेति' ही उनके जीवन का आदर्श रहा।

दुःखद बात है कि कुम्भाराम आर्य जी का जयपुर में अन्तेयष्टि-स्थल घोर उपेक्षा का शिकार बना हुआ है। उसकी सुध लेकर उनकी यादगार को शानदार स्वरूप प्रदान करने का दायित्व समस्त किसान वर्ग का है।

चौधरी कुम्भाराम आर्य पर छपी पुस्तकें

  • मरू माणक कुम्भाराम: लेखक मनसुख रणवां, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7
  • चौधरी कुम्भाराम अभिनंदन ग्रंथ
  • राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - चौधरी कुम्भाराम आर्य',

चौ. कुम्भाराम आर्य पर भजन

रचनाकार : महाशय धर्मपाल सिंह भालोठिया,

भजन-94,

मेरा अनुभव (संशोधित) - 2017
तर्ज-चौकलिया

जब तक सूरज चाँद रहेंगे, रहे आपका नाम।

चौधरी कुम्भाराम कहूँ, या राजस्थान का राम।।

किसान के घर जन्म लिया, सब देखा मजा झोंपड़ी में।

ये भी अनुभव किया आपने, क्या-क्या सजा झोंपड़ी में।

बिन साधन रहे चौबीस घंटे, सिर पे कजा झोंपड़ी में।

शान से अपना प्राण आज तक, किसने तजा झोंपड़ी में।

आपने झोंपड़ी वालों का, देखा दुख दर्द तमाम।

चौधरी कुम्भाराम............। 1 ।

देखा देश गुलाम कुली और काफिर नाम हमारा था।

छोड़ नौकरी सरकारी, परिवार छोड़ दिया सारा था।

कूद पड़ा मैदाने जंग में, शेर बबर ललकारा था।

अंग्रेजो भारत छोड़ो, ये उनका असली नारा था।

जेलों को अपने जीवन में, समझा तीर्थ-धाम।

चौधरी कुम्भाराम...........। 2 ।

गाँव-गाँव में जन जागृति, करने देर सबेर गया।

अलवर भरतपुर चित्तोड़गढ़, कोटा बूँदी अजमेर गया।

जयपुर जोधपुर सीकर झुन्झुनूं, नागौर बीकानेर गया।

लाहौर दिल्ली मेरठ आगरा, राजस्थानी शेर गया।

दृढ़ संकल्प था उनका, अब रहना नहीं गुलाम।

चौधरी कुम्भाराम............। 3 ।

पन्द्रह अगस्त सन् सैंतालीस, गोरों से छुट्टी पाई थी।

राजा जागीरदारों से फिर, हो गई शूरू लड़ाई थी।

आगे बढ़ता गया, नहीं दुश्मन को पीठ दिखाई थी।

जीत का झंडा चढ़ा दिया, घर की सरकार बनाई थी।

राज हाथ में आते ही, फिर करे हजारों काम।

चौधरी कुम्भाराम..........। 4 ।

खून पसीना एक बना, जो दिन और रात कमाता था।

एक इन्च भी धरती का, यहाँ मालिक नहीं अन्नदाता था।

पता नहीं कब जाना हो, घर पक्का नहीं बनाता था।

भालोठिया कहे किसानों के लिए, आया भाग्य विधाता था।

एक कलम से मालिक बनाए, काश्तकार तमाम।

चौधरी कुम्भाराम...........। 5 ।

चौ. कुम्भाराम आर्य का परिवार

चौ. कुम्भाराम आर्य के पूर्वजों का इतिहास: चौ. कुम्भाराम आर्य के वंशज मूल रूप से सीकर जिले के कूदन ग्राम से उठकर गए थे। सामंतों एवं अकाल से मुक्ति पाने के लिए चौ. कुम्भाराम आर्य के पूर्वजों को कूदन छोड़ना पड़ा था। संभवतः सम्वत् 1956 (1899 ई.) में जब सारे राजस्थान में भयंकर अकाल पड़ा था उसी समय ये लोग कूदन ग्राम से हुये हों। इनके पूर्वज चौधरी नन्दराम सुन्डा तत्कालीन पंजाब की रियासत पटियाला के पुलिस थाना ढूंढाल के छोटा खेरा गांव में जाकर बस गए थे। सन् 1915 ई. में चौ. कुम्भाराम आर्य के पिता भैराराम सुंडा का परिवार छोटा खैरा गांव छोडकर राजस्थान की बीकानेर रियासत के गांव श्योदानपुरा में बसा। यह गाँव चुरू तहसील में स्थित है। संवत 1975 (1918 ई.) के प्लेग की महामारी फैलने के कारण सौदानपुरा से चलकर गंगानगर जिले की नोहर तहसील के फेफाना गांव में आकर बसा।

इस परिवार के मुखिया चौधरी नन्दराम सुन्डा थे जो सीकर जिले के गाँव कूदन में बसे हुए थे। उस समय सुन्डा गोत्र के अनेक जाट परिवार कूदन में बसे हुये थे। आज भी इस गाँव में इस गोत्र के जाट अच्छी संख्या में बसे हुये है। चौधरी नन्दाराम के पांच पुत्र हुये जिनके नाम क्रमश: 1. भैराराम, 2. शेरूराम, 3. दल्लूराम, 4. मोटाराम और 5. बल्लूराम थे।

कूदन से पंजाब की ओर प्रस्थान: यह बात निश्चित रूप से ज्ञात नहीं है कि इस परिवार ने कब और किन कारणों से कूदन छोड़ा और पंजाब में क्यों जा बसे। तत्कालीन समय में ठाकुरों या राजपूत शासकों के गाँवों में किसानों पर अत्याचार आदि की घटनाएं घटित होती रहती थी। किसानों की बराबर बेदखली भी होती रहती थी। इसके अतिरिक्त अकाल की चपेट भी प्रत्येक परिवार को सहनी पड़ती थीं। इनके फलस्वरूप आगमन-प्रव्रजन की प्रक्रिया चलती रहती थी। जहाँ पहले से अच्छी सुविधा प्राप्त होती वहीं परिवार चला जाता था और कृषि कार्य करने लगता था। एक कारण यह भी है कि कोई संबंधी या परिचित जहां बसता था वह अपने सम्बन्धियों को अपने पास बुला लेता था। इस सम्बन्ध में यह भी विचारणीय है कि सम्वत् 1956 (1899 ई.) में सारे राजस्थान में भयंकर अकाल पड़ा था जो छप्पनिया अकाल नाम से जाना जाता है। अनेक लोग विस्थिापित हो गये और यत्र-तत्र चले गये। जिसको जहां आश्रय मिला वह वहीं चला गया। यह संभव है कि छप्पनिया अकाल के समय यह परिवार अन्यत्र चला गया और वहीं बस गया।

चौधरी नन्दराम के पांचों पुत्रों में सबसे बड़े भैराराम थे। इनके एक पुत्र और एक पुत्री थी। पुत्र का नाम प्रारम्भ में कुरड़ाराम रखा गया। इसका कारण यह था कि इस संतान के पूर्व की संतान में ही काल-कवलित हो गई थी। तत्कालीन मान्यता के अनुसार पुत्र का असुन्दर नाम रखने से उसके दीर्घायु होने की सम्भावना बढ़ जाती थी। यही कारण था कि इस पुत्र का नाम कुरडाराम रखा गया था । आगे चलकर स्कूल में भर्ती कराते समय इस पुत्र का नाम कुम्भाराम रखा गया। पुत्री का नाम महका था जो करड़ावण के चौधरी मोतीराम स्योराण को विवाही गयी थी। चौधरी नन्दराम के पांच पुत्रों में से भैराराम और मोटाराम भादरा के पास के गाँव में आ गये और शेष तीन भाई पंजाब में रह गये। इनकी संतान आज वहीं बसी हुयी है। इस काल के सम्बन्ध में चौधरी कुम्भाराम द्वारा अपने हाथ से लिखा हुआ विवरण अविकल रूप से नीचे दिया जा रहा है:-

"बीकानेर राज्य में राजनैतिक आन्दोलन की भूमिका नगर न होकर गाँव रहीं। शेष राज्यों में राजनैतिक आन्दोलन सर्वत्र नगरों से प्रारम्भ होते रहे हैं किन्तु बीकानेर राज्य में ऐसा नहीं हुआ। बीकानेर राज्य में राजनैतिक आन्दोलन गाँवों से प्रारम्भ हुआ। इस अपवाद का कारण यह रहा कि बीकानेर राज्य का अधिकांश भाग जागीरदारों के अधिकार में था। जागीरदारों के कठोर और अपमानजनक व्यवहार के साथ जुल्म ज्यादतियों ने ग्रामीण जन-जीवन को अत्यधिक प्रताड़ित किया। शासक की दमन नीति ने न्याय के सब द्वार बन्द कर दिये। ग्रामीणजनों के सन्मुख यह स्थिति उपस्थिति कर दी गई कि वे कुछ करें अथवा मरें। श्री कुम्भाराम आर्य का जीवन संघर्ष और अपवादों का जीवन रहा है। श्री आर्य किसान परिवार से होने के कारण जीवन का आधार खेती था। गाँव में कृषि-भूमि का अभाव होने के कारण श्री आर्य के पिता अपने चार भाईयों को साथ लेकर बीकानेर राज्य के गाँव सौदानपुरा तहसील भादरा में आ कर बस गये। सोदानपुरा गाँव में अधिक दिन नहीं रह सके और तहसील नौहर के गाँव फेफाना में आकर बस गए। गाँव को छोड़ने का कारण प्लेग या महामारी थी। जिसमें घर के सब भाई बहन (श्री आर्य और उनकी बड़ी बहन को छोड़कर) बीमारी के भेंट हो गये। माँ-बाप की धारणा बन गई कि इस गाँव में रहे तो इन दोनों को भी बीमारी खा जायेगी इसलिये गाँव छोड़ दिया।"

दादा:चौधरी नन्दराम सुन्डा, इनके 5 पुत्र हुये → 1. भैराराम, 2. शेरूराम, 3. दल्लूराम, 4. मोटाराम और 5. बल्लूराम

पिता: श्री भैराराम सुंडा, माता: श्रीमती जीवणीदेवी → पुत्री महकां + पुत्र कुंभाराम

भाई: कोई नहीं, बहिन: महकां (करड़ावण (फतेहाबाद) के चौधरी मोतीराम स्योराण से विवाह)

कुंभाराम आर्य : (10.5.1914 - 26.10.1995)

पत्नी: श्रीमती भूरीदेवी (सीवर गोत्र), निवासी गाँव किरडावण, जिला फतेहाबाद, हरियाणा

पुत्र: 1. विजयपाल आर्य पत्नी श्रीमती सुचित्रा आर्य, 2. अजित कुमार आर्य पत्नी शालिनी आर्य

पुत्रियाँ: 1.श्रीमती अभय आर्य पत्नी श्री राधा कृष्ण चौधर, 2.श्रीमती विजय चौधरी पत्नी श्री मुखराम, 3.शारदा पत्नी हरफूल सिंह, 4.इंदू वर्मा पत्नी मोहन वर्मा, 5.मंजू (अविवाहित),

चौ. कुम्भाराम आर्य के परिवार के कुछ सदस्यों का विवरण नीचे दिया जा रहा है:

श्रीमती सुचित्रा आर्य, पुत्रवधू चौ. कुम्भाराम आर्य

श्रीमती सुचित्रा आर्य: आप चौ. कुम्भाराम आर्य के पुत्र विजयपाल की पत्नी हैं। आप पूर्व विधायक रह चुकी हैं। श्रीमती सुचित्रा जी आर्य ने गंधेली साहवा लिफ्ट नहर का नामाकरण कुम्भाराम लिफ्ट नहर करवाया था जो राजस्थान की सबसे बड़ी लिफ्ट परियोजना है। इस परियोजना के तहत तीन जिलों में किसानों को सिंचाई और पेयजल उपलब्ध करवाया जाता है। जहां हनुमानगढ़, चुरू, में सिंचाई और झुन्झुनू के 1467 गांव ढाणियों को पेयजल आपूर्ति करती है। इतनी बड़ी नहर का नाम चौधरी कुम्भाराम लिफ्ट कैनाल करवाना बिना कोई जन आंदोलन के श्रीमती सुचित्रा जी आर्य की दूरदृष्टि का ही परिणाम है। किसानों की मुखर आवाज श्रीमती सुचित्रा आर्य जी ने चौधरी कुम्भाराम जी आर्य साहब के पदचिन्हों पर चलने का निरंतर प्रयास किया और आज भी जारी है। समय समय पर किसानों के लिए संघर्षरत रही हैं। अशोक गहलोत सरकार में सुचित्रा आर्य जी किसान आयोग की सदस्य थी। चौधरी नारायण सिंह किसान आयोग के अध्यक्ष थे। किसान आयोग सरकार और किसानों के बीच सेतु का कार्य करता था। श्रीमती आर्य ने प्रदेश के किसानों से संबंधित कुल 2800 से अधिक समस्याओं के प्रतिवेदन बना कर तत्कालीन सरकार को सौंपे थे और उनका निस्तारण करवाया था। चाहे कर्ज माफी की बात हो, चाहे फुंवारा सिस्टम में डिग्गी निर्माण की जिसमे सरकार 3 लाख सब्सिडी मंजूरी, चाहे खाद बीज की सब्सिडी हो, इसके अलावा सिंचाई के क्षेत्र में कुम्भाराम लिफ्ट कैनाल पर क्रोस रेगुलेटर का निर्माण, कुम्भाराम आर्य लिफ्ट कैनाल को लिफ्टों को शुरू करवाया। इनके अलावा अनेकों कार्य किसानों के लिए श्रीमती आर्य ने किये हैं। चाहे कृषि कनेक्शन रियायती दरों पर उपलब्ध करवाने की बात हो, में पानी जो राजस्थान की सबसे लम्बी लिफ्ट परियोजना है और सहायक नहर है।

आपके विचार: चौधरी साहब की जीवनी पाठ्य पुस्तकों में सम्मिलित की जानी चाहिए। आर्य साहब ने जो किसानों के लिए कार्य कियें हैं वो कार्य कल्पनाओं से परे हैं। उनके कार्यों को शब्दों में बयां करना मुश्किल है क्योंकि आर्य साहब किसान नेता ही नही खुद एक विचारधारा थे। किसानों और ग्रामीण विकास के संबंध में उनसे परिपूर्ण विचारधारा शायद ही कोई हो। विश्व में किसानों के लिए उनके विचारों को अगर आत्मसात कर ले कोई भी राजनैतिक दल देश के किसानों की दशा ही पलट सकता है।

किसान-मज़दूर वर्ग का एक कमजोर पहलु यह भी है हर कोई उनकी भावनाओं का दोहन कर लेता है और उनको समझ भी नही कि उसका कहाँ शोषण हो रहा है और कहां उसकी शक्ति निहित है। इसी वजह से आर्य साहब कहते थे "किसान तू जीना तो चाहता है लेकिन जीना नही आता।"


संदर्भ: फेसबुक पर श्याम चौधरी


श्रीमती अनुष्का आर्य पूनिया पौत्री चौ. कुम्भाराम आर्य

अनुष्का आर्य पूनिया - आप चौ. कुम्भाराम आर्य के पुत्र विजयपाल एवं सुचित्रा आर्य की पुत्री हैं। आपके श्वसुर का नाम शिशुपाल सिंह आर्य है। आप एक ग्रेजुएट/शिक्षित महिला हैं और शादीशुदा पारिवारिक दायित्वों वाली गृहिणी हैं| सामाजिक तौर पर महिला शिक्षण/प्रशिक्षण से भी आप प्रत्येक्ष रूप से जुड़ी हुई हैं। आपका सम्पूर्ण जीवन आध्यात्मिक धूरी पर केन्द्रित है। जीवन काल के अंतिम पड़ाव पर चौ. कुम्भाराम आर्य यह महसुस करने लगे थे कि मनुष्य के कल्याण का एक मात्र रास्ता उसकी चेतना-शुद्धि अर्थात अध्यात्म ही है। आचार्य तुलसी के साथ अंतिम कुछ वर्ष इसकी मिशाल है| आर्य समाजी होने के नाते दिखावे की ढोंग-पूजा के वे सक्त खिलाफ थे | चौ. कुम्भाराम आर्य जी कहा करते थे कि एक लड़का शिक्षा ग्रहण करता है तो एक शिक्षित आदमी बनता है मगर एक लड़की शिक्षा ग्रहण करती है तो पूरा परिवार शिक्षित हो जाता है| उपरोक्त कथन के आधार पर ही आप झुन्झुनू स्थित महिला शिक्षण संस्थान (जो कि रामा देवी मेमोरियल चैरिटेबल ट्रस्ट) द्वारा संचालित से जुड़ी हुई हैं। आपके श्वसुर श्री शिशुपाल सिंह वकील झुन्झुनू इसके चेयरमैन हैं | इस संस्थान का मुख्य श्लोगन ही यह है कि- " महिला शिक्षा पूरे परिवार की रक्षा "

उपरोक्त शिक्षण संस्थान की शिक्षा समिति की मेम्बर रहते हुए आप वहां समय-समय पर अपने सुझावों और कार्यो द्वारा योगदान देती रहती हैं।

इन सब के उपरान्त आप बिना किसी राजनैतिक इच्छा से प्रभावित हुए चौ. कुम्भाराम आर्य जी द्वारा छोड़ी गयी उनकी वैचारिक एवं सिद्धान्तिक विरासत/मूल्यों को जनसाधारण तक पहुँचा कर आज के इस त्वरित माहौल में मनुष्य के चारित्रिक एवं आध्यात्मिक विकास की पैरवी कर रही हैं। आज का युग राजनीति के चारित्रिक पतन का रसातल है। आपका मानना है कि प्रत्येक राजनैतिक पार्टी के पास एक आध्यात्मिक मंच होना चाहिए जो सक्रिय राजनैतिक लोगों के मनो-मस्तिष्क/ विचार पर अंकुश रख सके|

चौ. कुम्भाराम आर्य के सहयोगी और कार्यकर्ता

चौ. कुम्भाराम आर्य के घनिष्ठ सहयोगियों और कार्यकर्ताओं में समाज के सभी जतियों और धर्मों के लोग थे। वे जातिवाद से सदैव ही अछूते रहे। छुआछूत से उन्हें बेहद नफरत थी। चौ. कुम्भाराम आर्य के नजदीकी सहयोगी और कार्यकर्ताओं में से कुछ का विवरण नीचे दिया गया है:-

रसोईया : उनके यहां रसोईया का काम मेघवाल जाति की महिला द्वारा किया जाता था जिसकी शादी की व्यवस्था और उस पर हुये खर्च का वहन चौधरी कुंभाराम आर्य द्वारा किया गया था।

लादूसिंह राजपूत फौजी - आप कुंभाराम जी के ड्रायवर थे। जयपुर के दुर्गापुरा स्थित कुंभाराम जी की समाधि स्थल, जो 500 वर्ग गज है, वहीं पर कुंभारामजी, उनकी माता जीवणी देवी, उनकी धर्म पत्नी भूरीदेवी, उनकी नानी और ड्रावर लादूसिंह राजपूत तथा लादूसिंह की पत्नी की समाधि है। लादू सिंह ने तीन बार सरकारी नौकरी छोड़ दी लेकिन अर्यजी का साथ कभी नहीं छोड़ा। लादूसिंह वहीं रहा जहां कुंभाराम जी रहे। यही अमिट छाप मिलती है आर्य जैसे बड़े राजनीतिज्ञ की मानवता के प्रति अथाह प्रेम की। जाति-धर्म का भेद जीते जी आर्य को नहीं छू सका। [39]

रावतराम आर्य: आर्य ने व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए कभी किसी की सिफारिश नहीं की। आर्य ने जब भी दलित पिछड़े वर्ग में किसी व्यक्ति को नेता बनने के काबिल पाया तो तत्काल उसकी पीठ थपथपाई चाहे माहिर आजाद को विधायक बनाना हो या रावताराम बलाई को चुरू जिले का जिला प्रमुख बनाया हो जो अनुसूचित जाति का भारत भर में पहला जिला प्रमुख बना था। [40]

मांगीलाल आर्य: राजस्थान सरकार के केबिनेट मंत्री मांगीलाल आर्य जो जाति से भंगी थे, जब सीकर के डाक बंगले में सांसद कुंभाराम आर्य से मिले तो उनके पैरों में पसर गए तो आर्य ने कहा, "अरे मांगीलाल! कोई देखेगा तो कहेगा कि राजस्थान की सरकार पसरी पड़ी है।" तब मांगी लाल आर्य ने कहा , "आर्यजी, आज सरकार में मंत्री आप की बदौलत ही हूँ। मैं ही नहीं ऐसे गरीब परिवारों से नेता बने हैं जिन पर आपकी कृपा दृष्टि पड़ी है।" राजस्थान में ऐसे कई नेता मिल जाएंगे जिन्हें आर्य ने तराशा था। [41]

रामेश्वर सेवार्थी: आर्य के राजनीतिक साथी रामेश्वर सेवार्थी तो आर्य को अनुसूचित जाति और जनजाति का मसीहा मानते हैं तथा-जाति धर्म से परे नेक महापुरुष मानते हैं। आपने सर्वप्रथम 1954 में सरवड़ी गाँव में स्कूल प्रारम्भ किया था। कुंभाराम जब डूंगरगढ़ से चुनाव हार गए थे बाद में सीकर से सांसद का चुनाव लड़ने के लिए आपने उनको तैयार किया था। वर्ष 1956 में राजस्थान में मीणा जाति को एसटी में व मेघवाल को एससी में शामिल आर्य ने ही करवाया था। इस कार्य के लिए पन्ना बारूपाल व बाबू जगजीवनराम की अहम भूमिका रही। वास्तव में सामाजिक नेता होने के कारण कैप्टेन छुटनलाल मीणा, मेघराज माली, रावताराम आर्य, माहिर आजाद, सम्पतराम चमार, शोभाराम कुमावत, मालचंद खड़गावत (माली), खेतसिंह शेखावत (किसान यूनियन और सहकारिता के सहयोगी) राम कारण गुजर (पूर्व विधायक कोटपुटली) जैसे हजारों अनन्य भक्त थे आर्य के।

चौधरी हंसराज आर्य : ठाकुर देशराज[42] ने लिखा है .... बहता पानी कड़ाके की शीत में भी गर्म रहता है। इसी प्रकार लाख मुसीबतों के समय में अवडार नौजवान की रगों में गर्म खून उवाले लेता रहता है। बीकानेर के आतंक पूर्ण वातावरण में भी जिसके हृदय को भय ने नहीं छूया ऐसे एक नौजवान को मैंने सन् 1946 में रतनगढ़ में देखा। वह चौधरी कुंभाराम जी के लेफ्टिनेंट में से था। नाम उसका हंसराज आर्य बिल्कुल उपयुक्त।

रामचन्द्र सुंडा : पूर्व विधायक रामचन्द्र सुंडा का मत है कि साफ छवी वाले आर्य के चिंतन को धरातल पर उतारने से ही समाज को दिशा मिल सकती है। उनका कहना है कि आर्य सर्वहारा के नेता थे। वे एक वृतांत बताते हैं कि जब आर्य थानेदार थे तब एक चोर भाग गया था। आर्य ने पैदल भाग कर 10 किमी पीछा किया और चोर को पकड़ लिया। [43]

रणमल सिंह: पूर्व विधायक रणमल सिंह कहते हैं कि जयपुर स्थित सहकार भवन आर्य की देन है लेकिन दुर्भाग्य से आर्य की कहीं भी मूर्ति तक नहीं है। [44]

दौलतराम सारण : दौलतराम जी आम जनता में बहुत लोकप्रिय थे। वे भाषण कला में बहुत निपुण थे और मेलों-मगरियों में लोग कई-कई कोस ऊंटो पर चढ़ कर उनके भाषण सुनने जाते थे। वे चुनाव प्रचार के दौरान जिस जिस गांव जाते थे लोग उन्हे सुनने के लिए दूसरे से तीसरे गांव लगातार उनके साथ चलते रहते थे। उन्ही की बदौलत ग्रामीण क्षेत्रों में राजनितिक लहर आई।

महावीर पुरोहित: पत्रकार महावीर पुरोहित जी आर्य से हुई प्रथम मुलाक़ात कभी नहीं भूलते। पत्रकार महावीर पुरोहित ने आर्यजी से कहा कि उन्होने आर्य को वोट नहीं दिया लेकिन सीकर-दिल्ली ट्रेन चलवाने का मुद्दा लेकर आया हूँ। आर्य बोले "प्रजातन्त्र में मतदाता को अधिकार है कि वह किसी को भी मत दे सकता है। आपने मत मुझे नहीं दिया लेकिन आपसे मुझे कोई नाराजगी नहीं है। मैं आपका काम अति शीघ्र करूंगा, जिससे भविष्य में आपके दिल में जगह बना सकूँ।" विदित रहे आर्य ने रेलगाड़ी का मुद्दा संसद में उठाया और पत्रकार महावीर पुरोहित को पत्र भेजकर प्रगति की सूचना दी। [45]

हीरालाल शर्मा : स्वतंत्रता सेनानी हीरालाल शर्मा ने अपने संस्मरणों में बताया कि स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेने वाले सेनानियों को तत्कालीक ब्रिटिश शासन द्वारा जेलों में गंभीर यातनाऐं दी जाती थी, उनके परिजनों के सामने कोडे एवं बैंतों से पिटाई की जाती थी। अनूपगढ की जैल काला पानी मानी जाती थी। वर्तमान की लाईन पुलिस बिल्डिंग तब निर्माण के आरम्भिक चरण में थी। आजादी की पीढियों ने बडी कीमत चुकाई है। युवा आजादी के महत्व को समझे। श्री शर्मा ने तत्कालीक महाराजा सार्दुल सिंह महाराज के साथ हुए अपनी वार्ता के संस्मरण सुनाते हुए बताया कि मेरे साथ चौधरी कुम्भाराम आर्य एवं प्रोफेसर केदार ने महाराजा सार्दुल सिंह के समक्ष एडलर फ्रैंचाईज (व्यस्क मताधिकार ) का प्रस्ताव रखा।[46]

पंडित हजारीलाल जी शर्मा: दैनिक समाचार पत्र राष्ट्रदूत के संस्थापक एवं संपादक स्व. पंडित हजारीलाल जी शर्मा (हज़ारी बाबु जी) राजस्थान में स्वतंत्र पत्रकारिकता के जनक थे। वे स्वाभिमानी थे उन्होंने कभी अपने उसुलों से समझौता नही किया। जीवनपर्यन्त निर्भीक, निष्पक्ष पत्रकारिकता के प्रायः रहे, साहित्य संस्कृति और संस्कृत, लेखनी के अमर पुरोधा और सामंती और जागीरदारी प्रथा के विरुद्ध वे हमेशा गरीबों व किसानों के साथ डटे रहे अपनी लेखनी का दुनियाभर में लोहा मनवाया। स्व. चौधरी कुम्भाराम जी आर्य के वे घनिष्ठ मित्र थे।

राष्ट्रीय स्तर पर: राष्ट्रीय राजनीति में जाने के कारण आर्य से ऐसे कई नेताओं के नजदीकी संबंध बने जिनमें भैरोंसिंह शेखावत, ज्ञानी जैलसिंह, प्रताप सिंह कैरों, चौधरी देवीलाल, हेमवती नंदन बहुगुणा, गुलजारी लाल नंदा, चौधरी चरण सिंह, मोरारजी देसाई, दरबारा सिंह, चंद्रशेखर, लाल बहादुर शास्त्री, जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, कर्पूरी ठाकुर, अजय मुखर्जी, महामाया प्रसाद सिंह, मधु लिमए, जॉर्ज फर्नांडिस, रवि राय आदि प्रमुख थे। आर्य हमेशा ही राज्यसभा में किसान हित एवं देश हित के मुद्दे उठाते थे। [47]


भैरोंसिंह शेखावत: हिंदुस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री भैरोंसिंह शेखावत आर्य के नजदीकी साथी रहे हैं। दोनों नेताओं में वैचारिक मतभेद रहे हैं लेकिन एक दूसरे से संबंध हमेशा ही मधुर रहे। भैरो सिंह का मानना है कि बीकानेर रियासत के राजस्व मंत्री की हैसियत से जो सुधार आर्य ने बीकानेर महाराजा से मिलकर किए, उसी बूते पर राजस्थान में जागीर का पुनर्ग्रहण हुआ, काश्तकारों को खातेदारी अधिकार मिले, काश्तकारों के लिए कानून बने। [48]

पुर्व उपराष्ट्रपति स्व.भैरोंसिंह शेखावत के मुख्यमंत्री काल में एक बार चौधरी कुम्भाराम आर्य किसी बात को लेकर एक दिन सुबह सुबह मुख्यमंत्री आवास के सामने भूख हड़ताल पर बैठ गए थे। दोपहर एक बजे खाने का समय होते ही मुख्यमंत्री जी की पुत्री रतन कँवर घर से निकलकर धरना स्थल पर आई और भूख हड़ताल पर बैठे नेता चौधरी कुम्भाराम जी के चरण स्पर्श कर भोजन करने हेतु आमंत्रित करते हुए कहा- बाबा भोजन तैयार है, घर के अंदर चलिए और भोजन कीजिये। चौधरी कुम्भाराम ने आशीर्वाद देते हुए कहा- बाईसा ! मैं भूख हड़ताल पर बैठा हूँ सो अन्न जल कैसे ग्रहण कर सकता हूँ ? पर रतन कँवर ने हठ करते हुए नेताजी से कहा- बाबा ! जब तक आप खाना नहीं खायेंगे तब तक घर का हर सदस्य भूखा रहेगा। आप घर के आगे भूखे बैठे है तो हम भोजन कैसे कर सकते है? आखिर रतन कँवर बाईसा द्वारा भोजन के लिए किया गया आग्रह और उसके संस्कार देखकर चौधरी कुम्भाराम जी गहरे सोच में पड़ गए। एक तरफ उनका भूख हड़ताल का निर्णय टूट रहा था तो दूसरी और बाईसा रतन कँवर द्वारा निभाया जाने वाला गृहस्थ धर्म टूटता नजर आने लगा। और कुछ देर सोच विचार कर नेता चौधरी कुम्भाराम उठकर रतन कँवर बाईसा के पीछे पीछे भूख हड़ताल त्याग कर भोजन करने चल पड़े| और घर के सभी सदस्यों ने नेताजी के साथ बैठकर भोजन किया।[49]

ज्ञानी जैलसिंह: कुंभाराम आर्य के राष्ट्रीय नेताओं के साथ अच्छे संबंध थे। एक बार पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैलसिंह आर्य से मिलने जयपुर आए। पंजाब के मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरों आर्य के घनिष्ठ दोस्त थे। ज्ञानी जैलसिंह ने आर्य को कहा, "आर्य जी, आप कैरो को सिफारिश करके मुझे पंजाब सरकार में मंत्री बनवादो। " आर्य ने कैरो से बात की तो कैरो ने जवाब में कहा, "आर्य जी, आपकी बात को टालने की मेरी हिम्मत नहीं है। लेकिन ज्ञानी एक दिन करोत से सबसे पहले मेरी ही गर्दन काटेगा।" ज्ञानी जी को मंत्री बना दिया। ठीक वैसा ही हुआ और कैरो को मुख्यमंत्री पद खोना पड़ा।[50]

इंदिरा गांधी: इंदिरा गांधी के साथ कुंभाराम आर्य की शुरू से ही घनिष्ठता थी। इंदिरा गांधी ने कुंभाराम आर्य से बात की तथा कांग्रेस का समर्थन चौधरी चरणसिंह जी को देने की हाँ की। कुंभाराम आर्य ने चौधरी चरण सिंह को कहा तो वे गुस्से में बोले, "आर्य जी, जीवन भर की ईमानदारी प्रधानमंत्री पद के लिए बर्बाद करने के लिए चरण सिंह तैयार नहीं। मैं चरणसिंह हूं और चरणसिंह ही रहूंगा। " चरणसिंह जी साम, दाम, दंड, भेद की नीति में विश्वास नहीं करते थे। अंततः इन्दिरा गांधी ने समर्थन नहीं देने की घोषणा कर दी। ईमानदारी व नैतिकता की कुर्बानी न देकर प्रधानमंत्री पद की कुर्बानी देना बेहतर समझा तथा अप्रत्यक्ष रूप में आतंकवादी आपातकाल का समर्थन नहीं किया। चौधरी चरणसिंह ही एकमात्र ऐसे प्रधानमंत्री थे जो संसद के सम्मुख प्रधानमंत्री के रुप में नहीं जा सके। चरणसिंह जी आर्य के खास मित्र थे तथा आर्य ने चरणसिंह को कहा कि वे देश की 80% जनता के प्रतिनिधि हैं तथा किसानों के मसीहा हैं। देश की जनता किसान के बेटे को प्रधानमंत्री के रुप में देखना चाहती है लेकिन चरणसिंह अपनी बात पर डटे रहे। कुंभाराम आर्य को भी दुख हुआ। उस वक्त आर्य की बात मान लेते तो हिंदुस्तान की तस्वीर बदल जाती तथा भविष्य में भी शायद शासन की धुरी गरीब किसानों, मजदूरों के इर्द-गिर्द घूमती रहती। चौधरी चरणसिंह की पुस्तकें विदेशों में पढ़ाई जाती है। इन पुस्तकों पर कुंभाराम आर्य का गहरा प्रभाव है। [51]

चौधरी चरणसिंह के साथ चौधरी कुंभाराम

चौधरी चरणसिंह: कुंभाराम आर्य को चरणसिंह विशेष महत्व देते थे। एक बार आपसी अनबन हो जाने के कारण चरण सिंह ने अपने गार्ड को कहा कि जो भी मुझसे मिलने आए तो कह देना कि चौधरी जी बीमार हैं। वह किसी से भी नहीं मिलेंगे। आर्य के आगमन पर गार्ड ने मना किया तो आर्य ने कहा कि वे चरणसिंह जी के लिए दवाई लेकर आए हैं और वह सीधे अंदर चले गए। चौधरी चरणसिंह ने आर्य को देखा तो झट मुस्कुरा दिए तथा पत्नी को गुड़ की चाय बनाने का फरमाया। गायत्री देवी ने कहा कि आप आर्य को इतना महत्व क्यों देते हो जबकि आपस में अनबन चल रही है। चौधरी जी बोले तुम घर की हेडमास्टर हो तो आर्य भी हमारे घर के प्रिंसिपल हैं। [52]

चौधरी देवीलाल: कुंभाराम के नक्शे कदमों पर चलने वाले हरियाणवी नेता चौधरी देवीलाल भी स्पष्टवादी और जनता से जुड़े रहने वाले नेता थे। वह कानून को जनसुविधा मानते थे। उनकी महानता उस समय दृष्टिगोचर हुई जब वे देश के प्रधानमंत्री की कुर्सी को त्यागकर साथी वीपी सिंह को सौंप दी तब देवीलाल जी को भारत की जनता ने 'ताऊ' की उपाधि दी। चौधरी देवीलाल किसी भी समस्या का तत्काल समाधान करने के पक्षधर थे। देश के उप-प्रधानमंत्री के रूप में सीकर संसदीय क्षेत्र में दौरे पर आए तो कटराथल गांव के लोगों ने अपनी मांग रखी कि गांव के बीचों-बीच से 132000 वोल्टेज की बिजली लाइन जाती है, इस को हटाना है। चौधरी देवीलाल ने तत्काल उच्चाधिकारी से निदान पूछा तो अधिकारी ने कानूनी अड़चन बताई। तब देवीलाल जी ने कहा कि मैं देश का उप-प्रधानमंत्री बोल रहा हूं। कानून मेरी मुट्ठी में है। 2 दिन में लाइन हटा देना वरना इस्तीफा दे देना। कहीं कानूनी अड़चन हो तो सही कानून बनाकर मुझसे हस्ताक्षर करा लेना। 24 घंटे में लाइन हट गई। [53]

एचडी देवगौड़ा: कर्नाटक के किसान नेता एचडी देवगौड़ा भी आर्य के करीबी दोस्त रहे। देवगौड़ा देश के प्रथम किसान नेता प्रधानमंत्री बने। चौधरी चरण सिंह तो कुछ ही महीनों के लिए मेहमान PM बने थे। देवगौड़ा ने कानून को पहली बार नई दिशा दी। किसानों को अन्नदाता माना तथा किसान के हित में नए कानून बनाए। देवगौड़ा ने कहा कि कानून के सम्मुख प्रधानमंत्री से लेकर मजदूर तक बराबर है। कानून को तोड़ा गया तो उसे बख्शा नहीं जाएगा। भ्रष्टाचारी नेता, अफसर कानून के शिकंजे में फंस गए, इसी वजह से उन्हें जानबूझकर गद्दी से उतार दिया। कुंभाराम आर्य का ऐसी महान विभूतियों से नजदीकी संबंध रहा तथा समय-समय पर इन लोगों से विचार विमर्श होता रहा। [54]

बाबू जगजीवनराम - राजस्थान में सन् 1948 में स्वामी गरीबदास की अध्यक्षता में जयपुर में सम्मेलन हुआ और उस में यह निर्णय लिया गया कि दलितों के साथ सामाजिक न्याय नहीं हो रहा है। अतः वे सभी हिन्दू धर्म छोड़ देंगे और बेगार का काम बंद कर देंगे। इससे घबराकर हीरालाल शास्त्री और टीकाराम पालीवाल ने षड्यंत्र पूर्वक मेघवाल जाति को दलित से हटाकर उच्च जाति में सम्मिलित कर लिया था। चौधरी कुंभाराम आर्य और बाबू जगजीवन राम के प्रयास से ही पुनः उनको दलित घोषित करवाकर आरक्षण की सुविधा उपलब्ध कारवाई।

बाहरी कड़ियाँ

पिक्चर गैलरी

समाचार पत्र और कुंभाराम के पत्रों की गैलरी

संदर्भ

  1. डॉ पेमाराम व डॉ विक्रमादित्य चौधरी: जाटों की गौरवगाथा, जोधपुर, 2004, पेज 170
  2. डॉ पेमाराम व डॉ विक्रमादित्य चौधरी: जाटों की गौरवगाथा, जोधपुर, 2004, पेज 180
  3. Lok Sabha website
  4. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.1-7
  5. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.10-19
  6. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.20-24
  7. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, 2008, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p.168-172
  8. बीकानेर राजपत्र, अधिसूचना क्रमांक 3, दिनांक 13 मार्च 1946
  9. द हिंदुस्तान, 27.3.1946,पृ.3
  10. बीकानेर प्रजमंडल रिकर्ड, फाइल न. 6, 1944-49, रा. रा. अ. बीकानेर
  11. बीकानेर प्रजमंडल रिकार्ड, फाइल न. 5, 1946 ई., रा. रा. अ. बीकानेर
  12. बीकानेर राजपत्र, असाधारण, शनिवार, दिनांक 6 जुलाई 1946 ई.
  13. होम डिपार्टमेन्ट (गोपनीय) बीकानेर नं. 57,1946 ई.
  14. बीकानेर राजपत्र, असाधारण, मंगलवार, दिनांक 30 जुलाई 1946 ई.
  15. बीकानेर प्रजमंडल रिकार्ड, फाइल न. 6, 1944-49 ई., रा. रा. अ. बीकानेर
  16. बीकानेर प्रजमंडल रिकार्ड, फाइल नं. 2, 1946 ई., रा. रा. अ. बीकानेर
  17. बीकानेर राजपत्र, शनिवार, दिनांक 319 अक्तूबर 1946 ई.
  18. बीकानेर प्रजा-परिषद रिकार्ड, फाइल नं. 6, 1944-49 ई., रा. रा. अ. बीकानेर
  19. किसान (भरतपुर), 15.11.1946 ई.
  20. वीर अर्जुन, 25.11.1946 ई, चौधरी कुंभाराम आर्य के संस्मरण, रा. रा. अ. बीकानेर
  21. होम डिपार्टमेन्ट (गोपनीय) बीकानेर नं. 58, 1947 ई.
  22. बीकानेर राजपत्र, दिनांक 8 फरवरी 1947 ई. व 8 मार्च 1947 ई.
  23. डॉ करणीसिंह: बीकानेर के राजघराने से केंद्रीय सत्ता से संबंध,पृ.357
  24. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, 2008, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p.172-173
  25. बीकानेर राजपत्र, असाधारण, दिनांक 8 सितंबर 1948 ई.
  26. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, 2008, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p.173-174
  27. डॉ पेमाराम:शेखावाटी किसान आंदोलन का इतिहास, पृ.219, लैंड रिफॉर्म इन राजस्थान, पृ.4
  28. लैंड रिफॉर्म इन राजस्थान, पृ.4-5
  29. चौधरी गोवर्धनसिंह,आईएएस, का आलेख
  30. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, 2008, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p.174
  31. डॉ पेमाराम:अग्रेरियन मूवमेंट इन राजस्थान,पृ.312
  32. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, 2008, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p.174-176
  33. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, 2008, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p.176-177
  34. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, 2008, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p.177-181
  35. विधायक श्रीमति सुमित्रा सिंह के आलेख के आधार पर
  36. चौधरी परसराम मदेरणा के आलेख के आधार पर
  37. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.137-138
  38. From facebook post
  39. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.119
  40. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.114
  41. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.114
  42. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.145-146
  43. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.111
  44. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.112
  45. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.112
  46. आजादी-पर्व पर स्वतंत्रता सेनानी का सम्मान ‘‘सुने आजादी के संघर्ष के संस्मरण’’ 18.8.2016
  47. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.103
  48. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.111
  49. ज्ञान दर्पण 14.3.2013
  50. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.114
  51. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.85
  52. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.85
  53. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.86
  54. मनसुख रणवां: मरू माणक कुम्भाराम, कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, 2006, ISBN 81-89691-08-7, पृ.86

Back to The Leaders


Back to Jat Jan Sewak