Karni Ram Meel

From Jatland Wiki
(Redirected from Karni Ram)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R), Jaipur

Karni Ram Meel

Karni Ram Meel1.jpg
Full NameKarni Ram Meel
Born2 February 1914, Bhojasar
Died: 13 May, 1952
ResidenceAjari
Nationality

Flag of India.png Indian

OccupationFarmer Leader
Parent(s)Chaudhary Deva Ram (Father)
GotraMeel

He was a strong follower of Mahatma Gandhi

Karni Ram Meel (करणी राम) (2 February 1914 - 13 May 1952) was a brave farmer leader of Jhunjhunu district and leader of the Shekhawati farmers movement. He was a strong follower of Mahatma Gandhi.

Early life

He was born in samvat 1970 i.e. 2 February, 1914 at village Bhojasar in the family of Chaudhary Deva Ram. His mother died in childhood at the age of 4 years. After death of his mother he stayed at his nanihal in village Ajari.

Social service through barrister

There was no school in the village so he had to go to Alsisar along with other boys. Later he studied at Chirawa, Jaipur, Pilani and Allahabad and became a barrister in Jhunjhunu. He treated his profession as a mission to provide all help to the poor people. His house was always full of needy people and students. Who ever was needy was given money by him especially the poor students who could not pay their fees. He first time came in to light when he pleaded the cases of farmers in 'Pacheri kand' in which jagirdar had lodged hundreds of cases against the farmers. With the hard work of Karni Ram, he could win all the cases. He emerged as a leading advocate of Shekhawati. [1]

He was a politician and a social reformer along with an advocate. He was a true follower of Mahatma Gandhi. He was the first person to stop dowry and 'mratyu-bhoja' from his own family. He was very much against untouchability. He employed a harijan servant to remove this evil from the society. He was known as Gandhi of Udaipurwati. He had a very high place in district politics. He was Chairman of district Congress Committee.

Shot dead by jagirdars

Karni Ram was shot dead on 13 May 1952 along with Ramdev Singh Gill by the Jagirdars at village Chanwara (चंवरा) when both Karni Ram and Ramdev Singh were sleeping after taking part in farmers movement against jagirdars. Jagirdars treated both of them as their biggest enemies. The news of murder of both leaders spread like forest fire and thousands of farmers gathered at the spot. They were all very agitated against the Jagirdars. Sardar Har Lal Singh, Chaudhari Kumbharam Arya rushed to the spot from jaipur accompanied with I G Police, to pacify the mob. The dead bodies of both martyrs were brought to Jhunjhunu and last rites performed on 14 May 1952 at "Vidyarthi Bhawan Jhunjhunu".[2]

करणीराम का जीवन परिचय

जन्म: करणी राम का जन्म 2 फरवरी 1914 को झुंझुनू जिले के गाँव भोजासर में हुआ. पिता का नाम देवाराम था. जब करणी राम की आयु 4 वर्ष की थी तभी माँ का देहांत हो गया. करणी राम का पालन पोषण ननिहाल गाँव अजाडी में हुआ. डूंडलोद ठिकाने के कामदार मोहन राम उनके मामा थे. उनका परिवार आर्थिक दृष्टि से संपन्न था. [3]

शिक्षा: करणी राम ने प्राम्भिक शिक्षा बुगाला की चटशाला में प्राप्त की. मिडिल स्कूल की परीक्षा अलसीसर की जे.के. स्कूल से पास की. सन 1934 में करणी राम चिड़ावा की हाई स्कूल में भर्ती हुए. प्रधानाध्यापक प्यारेलाल गुप्ता थे जो शेखावाटी जनजागरण अभियान के अग्रणी रहे. 1936 में चिड़ावा स्कूल से करणी राम ने दसवीं पास की. 1938 में बिड़ला इंटर कालेज से इंटर परीक्षा पास की. महाराजा कालेज से 1940 में बी.ए. पास किया. उन्होंने 1942 में इलाहबाद यूनिवर्सिटी से वकालत की पढाई पूरी की एवं झुंझनु कोर्ट में वकालत करने लगे. उन दिनों शेखावाटी क्षेत्र सुलग रहा था. करणी राम नरोत्तम जोशी के साथ वकालत सीख ही रहे थे की पचेरी कांड हो गया. (राजेन्द्र कसवा, p. 188)


शेखावाटी भू-भाग: वर्तमान राजस्थान का झुंझुनू जिला तत्कालीन जयपुर रियासत का भाग था और शेखावाटी के नाम से जाना जाता था. पूरा भू-भाग जागिरी क्षेत्र था. छोटे बड़े जागीरदारों का आधिपत्य था. इसी का एक भू-भाग उदयपुरवाटी के नाम से जाना जाता था. आज भी उदयपुरवाटी तहसील क्षेत्र कहलाता है.

जागीरदारों द्वारा शोषण: उदयपुरवाटी भू-भाग पूर्णरूप से छोटे-छोटे जागीरदारों के आधिपत्य में था. थोड़ी-थोड़ी जमीन इनकी जागीरों में थी. जमीन की पैमाइश नहीं हुई थी. लगान की शरह निश्चित नहीं थी. जागीरदार अपनी मनमर्जी से जो चाहा लगान वसूल करता था. जमीनों का कोई रिकॉर्ड नहीं था. कौन सी जमीन कौन काश्त करता है, कोई रिकॉर्ड नहीं होने से बेदखलियाँ बहुत होती थी. लोग बहुत पिछड़े हुए थे. अपने अधिकारों के प्रति कोई ज्ञान उन्हें नहीं था. शिक्षा का पूर्ण अभाव था. जागीरदारों के अत्याचारों का मुकाबला करने की हिम्मत नहीं थी. लगान बटाई में लिया जाता था. लगान के अलावा अनेक प्रकार की लाग-बाग ली जाती थी. संपूर्ण समाज दयनीय स्थिति में जी रहा था. किसान की हालत और भी दयनीय थी. पूरे इलाके में किसानों के घर कच्चे छपरों के ही थे. कोई पक्का मकान नहीं मिलता था. बड़ी ही अपमानजनक स्थिति में लोग जी रहे थे. जागीरदार का आदेश ही उनके लिए सब कुछ था. आदेश की अवहेलना उनके लिए बर्बादी का संदेश था. कई गाँवों के किसान जागीरदारों की नाराजगी मोल ले कर अपनी जमीन तथा प्राणों से हाथ धो चुके थे. खिरोड़, देवगांव-हुकमपुरा-चनाना के हत्याकांड इस बर्बरता के साक्षी हैं.

किसानों में नई चेतना: भारत आजाद हुआ. 1952 के आम चुनाव आए. श्री करणी राम जी इस इस क्षेत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार बने. श्री रामदेव सिंह जी का यह राजनीतिक कार्यक्षेत्र था. दोनों नेताओं ने घर-घर जाकर लोगों की स्थिति देखी. लोगों को अपने अधिकारों के लिए खड़े होने की प्रेरणा दी. अत्याचारों के खिलाफ लड़ने को प्रेरित किया. जनता में नई चेतना आई. खासतौर से किसान वर्ग संगठित होकर उठ खड़ा हुआ. जगह-जगह सभाएँ होने लगी. संगठन बने. नई हवा ने पूरे इलाके को झकझोर दिया. किसान वर्ग श्री करणी राम जी वह रामदेव सिंह जी को अपने उद्धारक त्राणदाता के रूप में देखने लगा. इस नई चेतना से जागीरदार वर्ग विचलित हो गया. इस पूरे परिवर्तन का कारण श्री करणी राम जी व श्री रामदेव सिंह जी को मानकर उन्हें खत्म करने की योजना बनने लगी. कई जगह गुप्त बैठकें हुई. सुदूर के डाकूओं को भी बुलाने की कार्यवाही पर विचार होने लगे.

1952 के चुनाव के बाद राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनी. राज्य सरकार ने एक आदेश निकाला कि जिन जमीनों की पैमाइश होकर लगान कायम नहीं हुआ है वहां जागीदार पैदावार के छठे हिस्से से अधिक लगान के रूप में नहीं ले सकता. इस आदेश ने आग में घी का काम किया. अब तक जागीदार पैदावार का आधा हिस्सा लगान के रूप में लेते आ रहे थे. उन्हें छठा हिस्सा स्वीकार नहीं था. किसान चेतन हो उठा था. राज्य सरकार के आदेश के मुताबिक किसान छठे हिस्से से अधिक देने को तैयार नहीं था. जागीरदार-कश्तकार संघर्ष तेज हो उठा. जगह-जगह खलिहान रोक दिए गए. अराजकता की स्थिति बन गई. श्री करणी राम जी एवं रामदेव सिंह जी इस संघर्ष में किसानों की रहनुमाई कर रहे थे.

गोलियों से भून डाला: इसी सिलसिले में उदयपुरवाटी के गांवों का दौरा करते 13 मई 1952 को चंवरा ग्राम गए. वहां सेठ सेढूराम गुर्जर की ढाणी में ठहरे हुए थे. दोपहर को खाना खाकर आराम कर रहे थे. जागीरदार उनके प्राण लेने को पीछे पड़े हुए थे. उन्हें मौका मिल गया और शेडू राम की ढाणी पर आक्रमण कर दोनों नेताओं को बंदूक की गोलियों से भून डाला.

बलिदान कभी निरर्थक नहीं जाता है. दोनों नेताओं के सीने पर लगी गोलियां सीना चीरते हुये हुए जागीरी प्रथा के पेट में जा घुसी. सरकार हरकत में आई. जागीरदारी प्रथा समाप्त हुई. जमीन का बंदोबस्त हुआ. लगान की शरह कायम हो कर किसानों को जमीन के पर्चे-खतौनी मिले. किसान जमीन का मालिक बना. एक सम्मानजनक जीवन का भोर हुआ.

पिछले सालों से हर वर्ष 13 मई को शहीद स्थल शेढूराम की ढाणी पर श्री करणीराम जी और रामदेव सिंह जी की याद में शहीद मेला लगता है. दूर-दूर से लोग अपने दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित करने आते हैं.

पक्के गांधीवादी: श्री करणीराम जी का जन्म झुंझुनू जिले के भोजासर गांव में हुआ था. बीए-एलएलबी की डिग्री इलाहाबाद विश्वविद्यालय से लेकर झुंझुनू में वकालत शुरु की. गरीबों के दास के नाम से विख्यात हुए. उनका घर गरीबों की शरणस्थली था. बहुत बार फीस लेना तो दूर रहा अपने पास से खर्चा लगा कर गरीबों के मुकदमों की पैरवी करते थे. पक्के गांधीवादी थे. हाथ से कती हुई रूई के कपड़े पहनते थे. रेखाराम हरिजन उनका प्रिय सेवक था. पानी-चौका बर्तन वही करता था. छुआछूत मिटाने की बात करना आसान है अपने जीवन में कार्य रूप में परिणित करना बड़ी बात है. उनका सादा साइमया जीवन अनायास ही लोगों को प्रभावित करता था. वे सबके प्रिय थे. कांग्रेस संगठन से जुड़े हुए थे. जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष थे.

संदर्भ: यह परिचय शहीद करणीराम-रामदेव के पचासवें निर्वाण दिवस पर प्रकाशित स्मृति ग्रंथ से लिया गया है.

पचेरी कांड 1944

16 सितम्बर 1944 को पचेरी गाँव के ठाकुर शिवसिंह व संग्राम सिंह, जो पचेरी की एक-चौथाई जमीन के पानेदर थे, ने ढाणी शिवसिंहपुरा में दतू यादवबिरजू यादव नाम के दो किसानों को गोलियां चलाकर भून दिया तथा अनेक महिलाओं एवं किसानों को घायल कर दिया. सैंकड़ों मुकदमे बेदखली के कर दिए. वकील करणी राम भोजासर, पंडित ताड़केश्वर शर्मा, विद्याधर कुलहरीनरोत्तम लाल जोशी ने बड़ी हिम्मत व दिलेरी से पचेरी के किसानों की मदद की. उन्होंने किसानों को हौसला बंधाया और उनकी निशुल्क पैरवी करने लगे. करणी राम ने पचेरी बड़ी में ही डेरा दाल दिया और अपनी जान की बजी लगाकर पीड़ितों की क़ानूनी सहायता की. (राजेन्द्र कसवा, p. 188)

झुंझुनु जिला कांग्रेस कमिटी का प्रथम अध्यक्ष

अपनी निष्ठां, त्याग, बलिदान तथा संगठन क्षमता के कारण हरलाल सिंह उभर कर राजस्थान के गणमान्य व्यक्तियों की अग्रिम पंक्ति में शामिल हो चुके थे. स्वतंत्रता के बाद प्रजामंडल कांग्रेस में विलीन हो गया. मालपुरा में प्रजामंडल का अंतिम अधिवेशन हुआ. इसमें आप अध्यक्ष चुने गए. कांग्रेस में विलीन होने के बाद जयपुर डिवीजन में कांग्रेस कमिटियों के निर्माण का कार्य आप को दिया गया. झुंझनु में सन 1951 -52 में हरलाल सिंह की सिफारिस पर वकील करणी राम को झुंझुनु जिला कांग्रेस कमिटी का प्रथम अध्यक्ष बनाया गया. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 47)

प्रथम विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार

26 अप्रेल 1951 को राजस्थान में जयनारायण व्यास मंत्रिमंडल ने शपथ ली. झुंझुनू के नरोत्तम जोशी को मंत्री बनाया गया. इसके पीछे सरदार हरलाल सिंह का हाथ था. कांग्रेस उदयपुरवाटी में वकील चंद्रभान भार्गव को उम्मीदवार बनाना चाहती थी परन्तु यहाँ भौमियों के आतंक को देख कर उन्होंने मना कर दिया. तब करणी राम को यहाँ से उम्मीदवार बनाया गया. उनके सामने रामराज्य परिषद् की और से देवीसिंह मंडावा उम्मीदवार थे. (राजेन्द्र कसवा, p. 212)

उदयपुरवाटी विधानसभा क्षेत्र शेखावाटी अंचल का सबसे अधिक चर्चित क्षेत्र था. यहाँ भौमियों ने गाँव-गाँव में आतंक फैला रखा था. यह चिंता थी कि करणी राम चुनाव प्रचार कर भी पाएंगे या नहीं. भौमियों ने अफवाह फैलादी कि करणी राम को गाँवों में नहीं घुसने दिया जायेगा. करणी राम ने एक जीप की व्यवस्था करली. रामदेव के साथ वे उदयपुरवाटी में अपना चुनाव कार्यालय खोलने चले. वहां महसूस हुआ कि स्थिति विकट है. भौमियों के आतंक के कारण कोई भी चुनाव कार्यालय के लिए मकान देने को तैयार नहीं हुआ. (राजेन्द्र कसवा, p. 213)

आखिर उन्हें रूड़ मल पुजारी की बगीची में आश्रय मिला. गाँवों में जब यह समाचार मिला कि करणी राम ने कार्यालय खोल लिया है तो लोग आने लगे. कार्यकर्ता पैदल ही गाँवों में घूमते और करणी राम की विजय के लिए अपील करते. इससे भौमियों का संयम टूट गया और वे करणी राम के समर्थकों और कार्यकर्ताओं की पिटाई करने लगे. (राजेन्द्र कसवा, p. 213)

पोंख गाँव में चुनावी सभा

एक दिन पौंख गाँव में करणी राम की आम सभा रखी गयी. यह गाँव भौमियों का गढ़ था. करणी राम का भाषण सुनने के लिए किसी को भी स्थल पर नहीं आने दिया गया. करणी राम जीप में सवार अपने कुछ साथियों के साथ सभा स्थल पर पहुंचे. देखा , वहां कोई नहीं था. लेकिन करणी राम की हिम्मत की दाद देनी पड़ेगी. वे कठिन परिस्थितियों में भी घबराते नहीं थे. जीप के बोनट पर खड़े हो ऊँची आवाज में कहा, " पौंख वासियों, मैं अपनी बात करने के लिए आया हूँ. आप लोग आये नहीं, कोई बात नहीं. आपके घरों और दीवारों और झौंपड़ियों को ही अपना सन्देश सुनाकर जाऊंगा." (राजेन्द्र कसवा, p. 213)

पोंख गाँव भौमियों के आतंक की मांद था. करणी राम ने मांद में घुसकर अपनी बात कही. साथी लोग भयभीत थे. भौमिये बन्दूक लिए घूम रहे थे. टीम के साथियों ने कहा कि यहाँ से जल्दी निकलना चाहिए. लेकिन करणी राम जल्दी में नहीं थे. लगभग एक घंटा श्रौतावीहीन सभा में भाषण दिया. वे संबोधित कर रहे थे, दीवारों, कंटीली बाड़ और दरख्तों को. घरों में दुबके भयभीत लोग उन्हें सुन रहे थे और चकित थे. ऐसी सभा पोंख में न पहले हुई और न बाद में. पूरे क्षेत्र में इस सभा की चर्चा फ़ैल गयी. इससे आम जन में निडरता, साहस और आत्म विश्वास बोलने लगा. उनके प्रति सहानुभूतु पैदा हुई. धीरे-धीरे उनकी सभाओं में मतदाता आने लगे. गाँवों में वियार्थी और नवयुवक तथा किसान संगठित होने लगे. करणी राम कहते , "मैं जीतूँ या हारूं, इसकी परवाह नहीं. उदयपुर वाटी क्षेत्र मेरा कर्मक्षेत्र है और रहेगा. मैं बराबर यहाँ कार्य करता रहूँगा. किसी के द्वारा भी कानून अपने हाथ में नहीं लिया जायेगा. " (राजेन्द्र कसवा, p. 214)

मतदान हुआ और परिणाम आया. करणी राम दो हजार से भी कम मतों से हारे. यह तब था जब करणी राम को ऐन मौके पर खड़ा किया गया. अन्य कोई चुनाव लड़ने को तैयार नहीं हुआ. इस चुनाव ने यह साबित कर दिया कि वे हारकर भी जन नेता थे. उदयपुरवाटी और पड़ौसी विधान सभा क्षेत्र नवलगढ़ से दोनों जगह एक ही जागीरदार परिवार के देवी सिंह और भीम सिंह निर्वाचित हुए. नवलगढ़ से सरदार हरलाल सिंह हार गए थे जो सर्वोच्च कांग्रेसी नेता थे. उन्होंने लम्बा किसान संघर्ष किया था. (राजेन्द्र कसवा, p. 214)

भौमियों द्वारा झाझड गाँव में लूट

प्रथम आम चुनाव 1952 में उदयपुरवाटी और नवलगढ़ से दो सामंतों (देवी सिंह और भीम सिंह) के विधायक बनने से भौमियों का हौसला बढ़ गया था. वे प्रचार करते कि हमारी जागीर अब भी कायम है और आगे भी रहेगी. उन्हें वोट द्वारा भी समर्थन मिल चुका था. यह भारतीय लोकतंत्र की विडम्बना थी. इससे किसानों की सामत आ गयी. कानून के अनुसार किसान उपज का 1/6 भाग लगान के रूप में देना चाहते थे. किन्तु ठिकानेदार 1/4 से कम पर बिलकुल तैयार नहीं थे. झुंझुनू के कलेक्टर ने करणी राम को तैयार किया कि वे किसानों और भौमियों में समझौता करावें. आजादी मिले पांच साल हो चुके थे परन्तु जागीरदार अब भी धौंस पट्टी से लगान वसूल करने में लगे थे. (राजेन्द्र कसवा, p. 215)

16 अप्रेल 1952 को भौमियों ने एक राय होकर झाझड गाँव की सरहद में फैली हुई ढाणियों के खलिहान लूटने की योजना बनाई. यहाँ अधिकांश माली किसान थे. जब उनको भौमियों के षड्यंत्र का पता लगा तो वे भी मुकाबले के लिए तैयार हो गए. लड़ाई हुई और दोनों और से काफी लोग घायल हो गए. झाझड गाँव के एक ठाकुर का हाथ कट गया. भयभीत भौमियों ने भागने में ही सलामत समझी. आम किसान में इस आत्म विश्वास को जगाने का जिम्मेवार भौमियों ने करणी राम को ही माना. (राजेन्द्र कसवा, p. 215)

करणी राम समझौता कराने को प्रयत्नशील थे लेकिन ठाकुर लोग उनसे क्रुद्ध थे. इस घटना के बाद उदयपुरवाटी में आतंक बढ़ गया. ठाकुरों ने सन्देश पहुंचा दिया कि करणी राम उदयपुरवाटी क्षेत्र में न आयें. करणी राम उसी दौरान जयपुर भी गए. वहां कुम्भा राम आर्य ने उन्हें सलाह दी कि वे उदयपुरवाटी न जाएँ. लेकिन करणी राम गरीब किसानों को बेसहारा नहीं छोड़ सकते थे. यह उनके स्वभाव के प्रतिकूल था. इसी कारण 11 मई 1952 को उदयपुर वाटी में करणी राम ने बड़ी आम सभा बुलाई. भौमियों ने भी उसी दिन अलग से अपनी बैठक रखी. इसमें करणी राम को भी आमंत्रित किया. करणी राम भौमियों की इस बैठक में पहुंचे. कहा जाता है कि इस बैठक में जागीरदारों ने करणी राम का सम्मान किया और यह आश्वासन भी दिया कि जो समझौता करणी राम कराएँगे, उसे वे मानेंगे. इसके लिए दो दिन बाद 13 मई को चंवरा में एक आम सभा करने की घोषणा जागीरदारों ने की. यह मना जाता है कि 11 मई को जागीरदारों ने करणी राम को इसलिए बुलाया कि भाड़े के कातिल उनकी पहचान करलें. कुछ शुभ चिंतकों ने करणी राम को सलाह दी की 13 मई को वे चंवरा की सभा में न जाएँ. करणी रामने अनसुना कर दिया. (राजेन्द्र कसवा, p. 216)

करणीराम और रामदेवसिंह की शहादत

अप्रेल 1952 में करणीराम और रामदेवसिंह की जोड़ी ने उदयपुरवाटी इलाके में एक सभा बुलाई जिसमें 20 -25 हजार आदमी इकट्ठे हुए. पूरा उदयपुरवाटी खुदबुदा रहा था, किसान मरने मारने को तैयार हो चुके थे और भौमिया भी अपना 'वाटर-लू' लड़ने की तैयारी कर रहे थे. लगानबंदी आन्दोलन अपनी चरम सीमा पर पहुँच गया था. ऐसे में स्थिति की गंभीरता को देखते हुए राजस्थान सरकार ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल मंगवाकर उदयपुरवाटी भेजा जिसका कैम्प चंवरा गाँव में लगा था. 12 मई 1952 की रात को करणीराम ने सुना कि चंवरा गाँव में सारे जागीरदार इकट्ठे होई गए है और जबरन फसल उठाने की योजना है. वहां भारी संख्या में किसान इकट्ठे हो गए हैं. इस पर करणीराम और कुछ साथी झुंझुनू लौटने का कार्यक्रम रद्द कर ऊँट गाडी से रवाना होकर कालका ढाणी में रुके और 13 मई को सुबह चंवरा गाँव पहुँच गए. वहां रामदेवसिंह गिल और अन्य कार्यकर्ता भी आ गए. करणीराम ने किसानों से शांति बनाये रखने की अपील की. वे पक्के गांधीवादी और अहिंसा के पुजारी थे. उसी समय दीप पूरा गाँव का राजपूत गोरधन सिंह करणी राम के पास आया. उसने कहा, "आपको देखने के लिए मुझे भेजा गया है, आप यहीं रुकना. राजपूत शाम तक समझौता करने आप के पास आएंगे." गोरधन सिंह चला गया. तेज गर्मी पड़ने लगी. करणी राम - राम देव उठ कर सेढूराम के घर में बने छप्पर में चले गए. अन्य लोग खाना खाने और विश्राम करने अलग-अलग ढाणियों में चले गए. उसके बाद तेज धूप के कारण सभी किसान व कार्यकर्ता अलग-अलग ढाणीयों में आराम करने चले गए. रामदेव सिंह व करणीराम दोनों सेडू गूजर की ढाणी में आकर रुके और लेट गए. करीब 3 बजे दोपहर भौमियों के भेजे हुए कातिल रामेश्वर दरोगा व गोवर्धनसिंह ने बन्दूक से फायर कर सोते हुए करणीराम व रामदेव सिंह को गोलियों से भून दिया और फरार हो गए. उस दोपहर संभावित आसन्न जानलेवा हमले की चेतावनी उन्हें कुछ शुभचिंतकों ने दी थी और सुझाया था कि वे यहाँ से तत्काल अन्यत्र चले जाएँ परन्तु उन जाबाजों ने कायरों की भांति भागकर जान बचाने की अपेक्षा वीरों की भांति मृत्यु को सहर्ष वरण करना उचित समझा. वे हंसते-हंसते शहीद हो गए. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 45)

हत्या का समाचार सुनकर कुछ ही देर में हजारों की संख्या में जनसमूह इकठ्ठा हो गया. लोगों में भारी रोष व क्रोध फ़ैल गया. झाबर सिंह गिल ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई. इतने में जयपुर से सरदार हरलाल सिंह, कुम्भाराम आर्य व पुलिस महानिरीक्षक पहुँच गए. उन्होंने उत्तेजित जन समूह से शांति बनाये रखने की अपील की. लोग दोनों शहीदों की लाश लेकर विद्यार्थी भवन झुंझुनू पहुँच गए और 14 मई 1952 को वहीँ उनका अंतिम संस्कार किया. हर वर्ष इन शहीदों के निर्वाण दिवस पर गाँवों में मेले लगते हैं. इन दोनों शहीदों की मूर्तियाँ विद्यार्थी भवन झुंझुनू एवं जिलाधीश कार्यालय के सामने पार्क में स्थापित हैं जो इन दोनों शहीदों की अमर कीर्ति का बखान कर रही हैं. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 46)

करणी राम - रामदेव के बलिदान की चर्चा पूरे राजस्थान में फ़ैल गयी थी. विशेषकर शेखावाटी के किसानों ने इसे प्रेरणा और आदर्श के रूप में लिया. उनके दिल से भय मिट गया. वे अब जागीरदारों के कृत्यों का खुले आम विरोध करने लगे. गाँवों में करणी राम - रामदेव की शहादत के गीत प्रचलित हो गए थे. महिलाएं ये गीत गाती हुई अपने खेतों में जाती. (राजेन्द्र कसवा, p. 219)

दिवराला और अणतपुरा में गोली काण्ड 1952

1952 में शेखावाटी में सीकर जिले की तहसील श्रीमाधोपुर के गाँव दिवराला में ठाकुर नाम का ही रौब था जबकि आजादी आये पांच वर्ष हो चुके थे. करणी राम के बलिदान के बाद दिवराला के किसान भी बोलना सीख गए थे. सीकर मुख्यालय से 80 किमी. दूर पूर्व-दक्षिण में गाँव दिवराला और अणतपुरा पास-पास हैं. इनकी जमीन भी मिली-जुली है. दिवराला के राजपूतों को जब पता लगा कि जागीरदारी सचमुच जाने वाली है तो उन्होंने किसानों के खेतों पर कब्ज़ा करना शुरू कर दिया. गाँव के किसान शंकर यादव ने बताया कि किसानों ने राजपूतों के अनाधिकृत कब्जे का विरोध किया. तब राजपूतों ने मांग रखी कि वे उपज का तीसरा हिस्सा लेंगे. किसानों ने इसका विरोध किया. उन्होंने साफ़ कह दिया कि उपज का छठा हिस्सा ही लगान में देंगे. इस पर तनाव बढ़ गया. राजपूत कब्ज़ा नहीं दे रहे थे तब करीब 70 किसान बैलों कि जोड़ी लेकर खेत जोतने चल पड़े. लगभग 200 राजपूत भी इकट्ठे हो गए. सब में सहमती बन गयी कि छठा हिस्सा ही लगान दिया जायेगा. लेकिन राजपूत इस समझौते से मुकर गए. जब अन्य किसान चले गए तो पुर्जी कि कोठी वाले खेत को जोत रहे किसानों पर राजपूतों ने हथियारों से आक्रमण कर दिया. गोली चलने से दिवराला के किसान छछू राम डागर, अणतपुरा के भगता राम, भूरा राम और जोधाराम की मौत हो गयी. भूरा राम की गर्दन तलवार से भी काट दी गयी. इस नृशंस हत्याकांड से दोनों गांवों में आतंक फ़ैल गया. भय इतना कि चरों किसानों के शवों को जोहड़े में ही जला दिया. सभी मृत किसान यदव जाती के थे. (राजेन्द्र कसवा, p. 220)

आश्चर्य की बात है कि किसी भी ठाकुर को इस हत्याकांड में सजा नहीं हुई. दिवराला-अनतपुरा गाँव के चार यादव किसान ठाकुरों की गोली के शहीद हो गए परन्तु अभी तक गाँव में उनका कोई स्मारक नहीं है.(राजेन्द्र कसवा, p. 221)

करणी राम पर पुस्तक

शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम

पुस्तक: शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम

लेखक: रामेश्वरसिंह

प्रथम संस्करण: 2 अक्टूबर, 1984

प्रकाशक: चंवरा शहीद स्मारक समिति, झुंझुनू (राजस्थान), मूल्य रु. 51/-


पुस्तक समीक्षा: प्रस्तुत पुस्तक में धरती के वीर पुत्र शहीद करणीराम अमर एवं गौरव गाथा अंकित है. लेखक ने सफलतापूर्वक जहां अपने नायक करणीराम के बहुविध गुणों, सिद्धांतों, आदर्शों एवं संकल्पों का चित्रण किया है वहां तत्कालीन राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का भी विचारोत्तेजक परिचय कराया है. करणी राम को देव लोके हुए तीन दशकों से भी ज्यादा समय व्यतीत हो चुका है परंतु ऐसे महान पुरुष के जीवन के बारे में कोई विश्वसनीय प्रकाशन नहीं हुआ था. आज देश की वर्तमान परिस्थितियों में अलगाववादी शक्तियां देश के लिए एक जबरदस्त चुनौती दे रही हैं. ऐसे मौके पर शहीदों का स्मरण एवं उनकी उपलब्धियों की जानकारी समाज एवं राष्ट्र को दी जानी चाहिए ताकि राष्ट्र की अखंडता एवं सुरक्षा को कायम रखा जा सके, अतः वर्तमान परिपेक्ष में इस पुस्तक की उपयोगिता और भी बढ़ जाती हैं.

श्री रामेश्वर सिंह भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं और शहीद करणी राम के आदर्श गांव भोजासर के ही निवासी हैं. उन्होंने शहीद करणी राम के बारे में तथा समसामयिक परिस्थितियों के संबंध में जो कृति प्रस्तुत की है वह वास्तव में सराहनीय प्रयास है. निश्चित रूप से युवा पीढ़ी इस पुस्तक से प्रेरणा ग्रहण कर समाज एवं राष्ट्र की सेवा में अग्रसर होगी.

मेरी मान्यता है कि राज्य सरकार को चाहिए कि इस प्रकार की पुस्तकों को बच्चों के पाठ्यक्रम में सम्मिलित करें ताकि बच्चों के दिल में देश प्रेम की भावना संचारित हो और वे देश के उज्जवल भविष्य के निर्माण में सहायक हों.

कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी, प्रधान संपादक, दैनिक नवज्योति, अध्यक्ष राजस्थान स्वतंत्रता सेनानी संगठन जयपुर

लेखक रमेश्वरसिंह

लेखक रमेश्वरसिंह का परिचय - गांव भोजासर के साधारण किसान परिवार में 31 जुलाई 1929 को जन्म लिया. चमरिया कॉलेज फतेहपुर से सन 1949 में इंटरमीडिएट परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण कर राजपूताना विश्वविद्यालय में द्वितीय स्थान प्राप्त किया. बिरला कॉलेज पिलानी से 1951 में b.a. तथा 1953 में महाराजा कॉलेज से m.a. पास किया. दोनों ही परीक्षाओं में विश्वविद्यालय की योग्यता सूची में सर्वोच्च स्थान मिला और दो स्वर्ण पदक प्राप्त किए. सन 1955 में प्रथम श्रेणी में कानून की परीक्षा पास की. अध्ययन के दौरान फतेहपुर व पिलानी में कई अछूतोद्धार कार्यक्रम चलाये और अछूतों के मोहल्ले में प्रौढ़ पाठशालायें चलाई.

सन् 1955 में राजस्थान प्रशासनिक सेवा में प्रवेश तथा सन् 1977 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्नति, सन 1976 में प्रशासक नगर परिषद अजमेर के पद पर उल्लेखनीय कर्तव्यपरायणता के लिए योग्यता योग्यता प्रमाण पत्र. जिलाधीश बांसवाड़ा, सवाई माधोपुर, सचिव राजस्थान राज्य विद्युत मंडल आदि पदों पर कार्य किया. वर्तमान में आयुक्त, भू प्रबंध विभाग में. जहां भी रहे, गरीब और बेसहारा लोगों को पूरी मदद करने की कोशिश की.


नोट: लेखक को डॉ. वीरेद्र सिंह द्वारा पुस्तक शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम उपलब्ध कराई गई है जिसका ऑनलाइन संस्करण यहाँ देखे - शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम

पिक्चर गैलरी

संदर्भ

  1. Dr Pema Ram:Shekhawati Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, First Edition 1990, p. 88
  2. Dr Pema Ram:Shekhawati Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, First Edition 1990, p. 220
  3. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p. 187

Back to The Freedom Fighters