Maharaja Jawahar Singh

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Maharaja Jawahar Singh
Maharaja Jawahar Singh Memorial Agra

Maharaja Jawahar Singh (1763-1768) (महाराजा जवाहर सिंह, भरतपुर) was ruler of Bharatpur state . He succeeded to the throne when his father Maharaja Suraj Mal, while fighting against Najib-ud-Daulla, the Mir Bakshi, was killed under suspicious condition in 1763.

His Childhood and Education

Jawahar Singh was the First born child of Maharaja Surajmal and his consort Maharani Ganga. He was naturally darling of his grandfather, Thakur Badan Singh, the founder of the Bharatpur ruling dynasty. The early life of Prince Jawahar Singh from his infancy to young manhood passed under the loving supervision and fostering care of his grandfather. He appointed Kishan Mahant and Acharya Somnath to teach his darling kumar. Under their tutorship, Jawahar Singh was trained in the arts of warfare and governance.

He was intelligent and easily picked up what was taught to him by his teachers without much effort. At an early age, he learnt riding, archery, swordsmanship, gun shooting and other warfare related skills and mastered diplomatic skills. In November 1743, Jawahar Singh's marriage was solemnised with full fanfare and gaiety befitting a royal prince.

Sawai Maharaja Jawahar Singh - Bharat Indra

Ram Sarup Joon[1] writes that ... Maharaja Jawahar Singh was extravagant, willful, ambitious and energetic. He could never get on well with his father. Suraj Mal always felt that he would be responsible for bringing about the end of the Jat Kingdom. That is why he wanted his younger son Nahar Singh to be his successor. This created a big

History of the Jats, End of Page-166

problem for all his nobles. At the time of Raja Suraj Mal's death Jawahar Singh was in Farukhnagar. Raja Suraj Mal's nobles placed Nahar Singh on the throne. On hearing this news Jawahar Singh lost his temper and sent a letter to Bharatpur expressing how painful it was that while the dead body of his father Suraj Mal was restless for his head, his sons were quarrelling among themselves for the throne. Jawahar Singh announced that he would soon return to Bharatpur and would contend for the throne only after taking revenge for his fathers head.

By the time he reached Bharatpur, the news had spread that Jawahar Singh took shelter with the Raja of Karauli. Bal Ram Sorot brother in-law of Raja Suraj Mal the commander of Bharatpur forces, closed the gates of Bharatpur fort and prepared for war against Jawahar Singh. Ultimately, however, he accepted Jawahar Singh's claim to the throne.

In October 1764, Jawahar Singh marched against Delhi with 100 guns 60,000 soldiers of his own, 25,000 Maratha soldiers of Holkar and 15,000 Sikh soldiers.

After a siege of several months Najibuddin appealed for peace. But Jawahar Singh was determined to take revenge for his father, by severing the head of Najibuddaulah. After several days, some Rohilla leaders came to the camp of Jawahar Singh with Zubita Khan who sought the intervention of Maharaja Holkar. Holkar tried to persuade Jawahar Singh to make peace on the condition that the hand of a Moghul Princess would be given to him in marriage and the whole expenditure for war would be paid by Najibuddaulah. Jawahar Singh accepted this offer and returned to Bharatpur.

In February 1765 a treaty was signed on payment of Rs. 60 Lakhs as war indemnity and the hand of & Moghul Princess, who was later married to a Frenchman, Captain Samru. In this treaty Holkar had accepted a bribe from

History of the Jats, End of Page-167

Najibuddaulah and acted treacherously towards Jawahar Singh. When these things became known to Jawahar Singh relations between him and Holkar became strained.

Maharaja Sawai Jawahar Singh ascended the throne of Bharatpur with the title of Bharat Indra. He punished all those courtiers who had opposed his succession to the throne. Nahar Singh fought a war against him with the help of Karauli and the Marathas, but was defeated. Jawahar Singh helped the Raja of Dholpur to be independent of the Marathas. He also made alliances with the East India company against the Maratha Leader, Raghunath Rao. He had his maternal uncle Bal Ram Sorot murdered. Raja Suraj Mal had been maintaining superficially friendly relations with Raja Madho Singh of Jaipur, inspite of his having a born foe of the Bharatpur 'Raj'. Jawahar Singh, did not approve of it. After the death of Nahar Singh, his wife and his children were called back by Jawahar Singh from Jaipur to Bharatpur, but Madho Singh refused to send them.

In reply, Jawahar Singh gave shelter to Pratap Singh, a rebel Sardar of Jaipur, and demanded Pargana Kama of Jaipur which was adjacent to Bharatpur. He further annoyed Madho Singh by adopting the title of Sawai, which was the title adopted by Madho Singh's father, Raja Jai Singh only.

Training in Statecraft and Diplomacy

According to Sujan Charit {The life of Maharaja Suraj Mal} by Sudan, Prince Jawahar Singh from his early days was trained under the observant eye of his grandfather Badan Singh in Statecraft and diplomacy. Maharaja Suraj Mal, who had been working as de facto ruler for almost 20 years during the lifetime of his father, Badan Singh, who had become blind, received full co-operation and much needed help from Prince Jawahar Singh in his battles against the enemies of the newly established Bharatpur ruling dynasty who were not few. Rather, In addition to the Mughal Emperors at Delhi, Ruhelas and Bangas Pathans from Ruhelkhand (around Bareilly and Farukhabad in U P), Najibudduallah of Nazibabad (Saharanpur district), a protegee of Ahmad Shah Abdali, Kachhawaha Rajputs of Jaipur, the Marathas under various members of their confederacy like Scindias, Holkars and sometimes Peshwas themselves in addition to Baluch Pathans in Mewat were always on look out how to suppress the growing power of this newer state of the Jats between the two imperial capital towns of Delhi and Agra.

Maharani Kishori Adopts Jawahar Singh

Genealogy of Bharatpur Rulers

Since his early childhood, Jawahar Singh had received good grooming and was the darling of the royal family.

Another upshot in his favour was the special focus he received from Maharani Kishori, who had no child of herself and adopted him as her own son. Maharani Kishori was very intelligent queen adept in statecraft and diplomacy and her husband Maharaja Surajmal usually gave due weightage to her opinion and advice. She saved several times the ruling dynasty from imminent disaster at the hands of their adversaries by giving her sane advice and intelligent diplomatic moves.

The adoption of Jawahar Singh by her was an historical moment in the life of not only in the life of the young prince but in the history of Bharatpur as would emerge in the subsequent discussion on the issue.[2]

Some myths

There persist several myths about life and achievements of Maharaja Jawahar Singh that need historical scrutiny and rectification.

Jawahar Singh ascends the throne

At the time of Maharaja Suraj Mal's death on 25th December 1763, Jawahar Singh was in Farukhnagar. Maharaja Suraj Mal's nobles, who were supporters of younger Prince, Nahar Singh, tried to place him on the throne. On learning about this plan of the opposite group, the eldest son of the deceased king, prince Jawahar Singh sent a letter to Bharatpur expressing his rebuke to the hurry of the group to settle the succession issue while the last rites of the deceased leader had not been completed, He expressed his disapproval of their plan to settle the issue in such haste.

By the time he reached Bharatpur, the news had spread that Jawahar Singh took shelter with the Raja of Karauli. Bal Ram brother-in-law of Maharaja Suraj Mal the commander of Bharatpur forces closed the gates of Bharatpur fort and prepared for war against Jawahar Singh. Ultimately, however, he accepted Jawahar Singh's claim to the throne. Maharaja Sawai Jawahar Singh ascended the throne of Bharatpur with the title of Bharat Indra.

Jawahar Singh’s revenge

Maharaja Jawahar Singh punished all those courtiers who had opposed his succession to the throne. Nahar Singh fought a war against him with the help of Karauli and the Marathas, but was defeated. Jawahar Singh helped the Raja of Dholpur to be independent of the Marathas. He also made alliances with the East India Company against the Maratha Leader, Raghunath Rao. He had his maternal uncle Balram murdered. Raja Suraj Mal had been maintaining superficially friendly relations with Raja Madho Singh of Jaipur, inspite of his having a born foe of the Bharatpur 'Raj'. Jawahar Singh did not approve of it. After the death of Nahar Singh, Jawahar Singh called his wife and his children back from Jaipur to Bharatpur, but Madho Singh refused to send them. In reply, Jawahar Singh gave shelter to Pratap Singh, a rebel Sardar of Jaipur, and demanded Pargana Kama of Jaipur, which was adjacent to Bharatpur. He further annoyed Madho Singh by adopting the title of Sawai, which was the title adopted by Madho Singh's father, Raja Jai Singh only

Jawahar Singh’s march against Delhi

In October 1764, Jawahar Singh marched against Delhi with 100 guns 60,000 soldiers of his own, 25,000 Maratha mercenary soldiers of Holkar and 15,000 Sikh soldiers.

After a siege of several months Najibuddin appealed for peace. But Jawahar Singh was determined to take revenge for his father. After several days, some Rohilla leaders came to the camp of Jawahar Singh with Zubita Khan who sought the intervention of Malhar Rao Holkar, on whose persuation Maharaja Jawahar Singh accepted to lift siege of Delhi and returned to Bharatpur. In this act Holkar had accepted a bribe from Najibuddaulah and acted treacherously towards Jawahar Singh. When Jawahar Singh came to know about it, the relations between him and Holkar became strained.

The Pushkar bath by Maharani Kishori

Maharani Kishori, wife of Maharaja Suraj Mal, who had adopted Jawahar Singh, was adept at politics and diplomacy.

Maharani Kishori expressed her desire to her son that she wanted to go for a sacred bath at Pushkar. Jawahar Singh pointed out that Pushkar was situated in the territory of his foe, Raja Madho Singh, who would not tolerate her arrival at Pushkar with a large retinue, and advised her that if at all she were keen to go for Pushkar bath, she would go with only a few followers and Rupa Ram the Purohit.

Jawahar Singh marched to Pushkar with 60,000 Cavalry, 1 lakh Infantry and 200 guns. With fluttering banners and beating drums they entered Jaipur territory and set up an impressive camp in the Sandy plains of Pushkar. After the bathing ceremony, Maharani Kishori was weighed in gold, which was given in charity. The other Ranis who had come on this occasion felt humiliated because they were not in a position to match the charity of Maharani Kishori. The Rajput vanity was hurt.

War with Madho Singh

Jawahar Singh made the big mistake of leaving Pratap Singh of Machheri, the rebel noble of Jaipur, for the defence of Bharatpur. He had provided him shelter in his realms during the hour of crises in the latter's life and considered Partap Singh to be a reliable man. But his faith proved misplaced as the Rao Raja proved traitor. When Jawahar Singh was at Pushkar, he left Bharatpur and joined the camp of Madho Singh. Rather he instigated Madho Singh to take action against Jawahar Singh.

All the Rajput rulers assembled at Pushkar and held a conference in which no Jat rulers were invited. Raja Madho Singh said in this conference that the Jat ruler had injured the vanity of all the Rajputs. It was here that a witty Marwari, Raja Vijay Singh pointed out that after all the Jats were also Hindus and if they donated liberally on this auspicious occasion according to their financial position, it must not be taken as humiliation by Rajputs. Madho Singh, however, rejected this advice and appealed for war. The decision of this conference soon reached Jawahar Singh. He was expecting it.

Madho Singh laid on ambush in a valley to intercept Jawahar Singh on his return. Jawahar Singh had anticipated this and took the alternative route via Turna Wati, which was a bottleneck Surrounded by hills. The column of troops with cavalry and artillery was marching under the leadership of Captain Samru.

The palanquins of the Ranis were escorted by Jawahar Singh in the rear of the column. All of a sudden Rajputs attacked them from three sides. It was a fierce battle, in which the Rajputs suffered great losses. In the battle, it was found that only 11 tender aged members were left in the family of Raja Madho Singh. The rest lost their lives.

It is said that 25,000 casualties occurred in this battle. Jawahar Singh reached Bharatpur. Both of Jats and Rajputs claimed themselves victorious in this battle, but apparently the loss did not have much of a repercussion on the strength of Jats.

Jawahar Singh Murdered

Some unknown person killed later Jawahar Singh in 1768 while he was sitting on his masnad and the attacker was immediately cut to pieces by the guards. So the antecedents of the instigator to assassination could not be brought to light.

महाराजा जवाहरसिंह:ठाकुर देशराज

ठाकुर देशराज [3] ने लिखा है ... महाराजा जवाहरसिंह - महाराज सूर्यमल जहां ठंडी आग थे महाराजा जवाहरसिंह गरम आग थे। सारे भारत में जाट राज्य कायम करने के इच्छुक थे। इसीलिए उन्होंने बृजेंद्र की बजाए भारतेंद्र की उपाधि धारण की थी। जाति गौरव उनमें कूट कूट कर भरा हुआ था। जयपुर पर चढ़ाई के समय किसी ने उनसे कहा कि महाराज वे तो भी रामचंद्र जी के वंशज हैं जिन्होंने समुद्र का पुल बांधा था। इस पर उन्होंने कहा मैं भी तो उन कृष्ण का वंशज हूं जिन्होंने पहाड़ को अंगुली पर उठा लिया था। यदि गृहकलह न उठ खड़ा होता तो आप राज्य की और भी वृद्धि कर जाते। फिर भी आप

[पृ.171] दिल्ली विजय करके राजपूताना में एक रिकॉर्ड कायम कर गए हैं क्योंकि दिल्ली के शासकों ने हमेशा राजपूतना की रियासतों को लूटा तथा उनकी लड़कियां ली थी किंतु आपने दिल्ली को ध्वंस कर दिया और वहां से उनकी सुंदर वस्तुओं को भरतपुर ले आए थे। जो भरतपुर के दुर्ग की शोभा बढ़ा रही हैं। आप की सेना के सरदार बलराम कई मुगल वंश संभूत बेगमों को ले आए थे। ब्रज में एक कहावत है कि "पाले पड़ी बलराम के ठाड़े मटर चबाय"। यह वैसी ही बात है जैसे कि "तीन बेर खाती वे, बीन बेर खाती हैं।" टूक में है।

भारतेन्द्र जवाहरसिंह

महाराजा जवाहरसिंह

ठाकुर देशराज लिखते हैं कि महाराज सूरजमल के चार रानियां थीं। जिनसे जवाहरसिंह, रतनसिंह, नवलसिंह, रणजीतसिंह और नाहरसिंह पांच पुत्र पैदा हुए थे। कहा जाता है जवाहरसिंह और रतनसिंह एक राजपूत रानी से थे, जिसके सौन्दर्य से मुग्ध होकर सूरजमल ने उसके साथ शादी की थी। फादर बेण्डिल और इमादुस्सात का लेखक दोनों ही इस बात का समर्थन करते हैं कि जवाहरसिंह की मां एक राजपूतानी थी।

1. महाराज सूरजमल की मृत्यु के बारे में अनेक मत हैं, विस्तार के लिए देखें-
1. इतिहास पुरुष महाराज सूरजमल, ले. डॉ. नत्थन सिंह
2. सूरजमल, ले. के. नटवर सिंह

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-648

महाराज सूरजमल अपनी सब रानियों में वीर किशोरी रानी की, जिसके कोई संतान नहीं हुई थी, अधिक प्यार करते थे। सौभाग्य से जवाहरसिंह को रानी किशोरी ने गोद ले लिया था और इसी के प्रभाव और प्यार के कारण विद्रोह-प्रिय जवाहरसिंह अपने पिता के क्रोध से बच गया था।

आरम्भ में नवयुवक जवाहरसिंह के हृदय में यवन शासकों के लिए भारी घृणा थी। उन्होंने देहली के वजीर को सिर्फ इस बात के लिए फटकार दिया था कि उसने उनके हाथ चूमकर अपवित्र क्यों कर दिया? महाराज सूरजमल की इच्छा नाहरसिंह को अपना उत्तराधिकारी बनाने की थी। नाहरसिंह अपने पिता की आज्ञाकारी, गुरुजनों का सम्मान करने वाला, नम्र और सादा स्वभाव का था। किन्तु वह आवश्यकता के अनुसार निर्भयता और वीरता के गुणों से भरपूर न था। जवाहरसिंह को न ईश्वर से भय था और न मनुष्य से। वह अपने इरादों को पूरा करने तथा बदला लेने में, दोनों मनुष्य और ईश्वर का सामना करने के लिए तैयार रहता था। वह रणकुशल, प्रबन्ध करने में योग्य, फुर्तीला, चतुर तथा वीर होने के कारण जन्म से ही शासक होने के योग्य था। किन्तु महाराज सूरजमल को उसकी निरन्तर लड़ाकू प्रवृत्ति होने से भय था कि बहुत संभव है जाट-जाति को यह नष्ट कर दे। इसी से वह इन्हें जाट-शक्ति अर्थात् अपना राज्य नहीं देना चाहते थे। महाराज सूरजमल जितने मितव्ययी थे, जवाहरसिंह उतने ही अपव्ययी। यही कारण था कि उन्होंने अपनी एक अलग पार्टी बना ली। अलग दरबार और सेना रखने लगे, जिसका कि खर्च सूरजमल को स्वीकार किए हुए धन से कहीं अधिक था। महाराज सूरजमल ने जवाहरसिंह की अल्हड़पन-युक्त वीरता से खूब लाभ उठाया। कठिन से कठिन मोर्चों पर उन्हें भेजा गया। किन्तु उनका खर्च डीग के इलाके की आमदनी से कहीं अधिक बढ़ चुका था। साथ ही जवाहरसिंह को कुछ ऐसे साथी मिले जिन्होंने उनको अपने पिता के विरुद्ध उभाड़ दिया।

महाराज सूरजमल उसके साथियों को दण्ड देना चाहते थे, इसलिए उन्होंने डीग पर चढ़ाई की। किन्तु जवाहरसिंह ने इसे अपना अपमान समझा और वे लड़ाई के मैदान में आ गए। थोड़े ही समय में उनके साथी तो भाग खड़े हुए, लेकिन वह मैदान में डटे रहे। अनेक लोगों से बीच में घिर जाने के कारण वह जख्मी हो गए। सूरजमल जो कि अपने वीर पुत्र की मृत्यु के मुकाबले में हार जाना पसन्द करते थे, घायल पुत्र के पास लपककर पहुंचे और अपने प्यारे पुत्र को छाती से लगा लिया। तब से वह जवाहरसिंह को बहुत प्रेम करने लगे। उनकी लड़ाकू-प्रवृत्ति को ध्यान में रखते हुए महाराज सूरजमल ने यह विचार किया कि जवाहरसिंह को हरयाणा प्रान्त का स्वतन्त्र शासक बना दिया जाए। यदि उनका यह विचार पूर्ण हो जाता तो महाराज जवाहरसिंह को पंजाब की ओर से आने वाले आक्रांताओं से

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-649

साधन मिलते रहते, और फिर भारत का रूप ही दूसरा होता।

भरतपुर राज्य का विस्तार - महाराज सूरजमल की जिस समय मृत्यु हुई थी, उस समय भरतपुर राज्य का विस्तार और वैभव इस प्रकार था - आगरा, धौलपुर, मैनपुरी, हाथरस, अलीगढ़, एटा, मेरठ, रोहतक, फर्रुखनगर, मेवात, रेवाड़ी, गुड़गांव और मथुरा के जिले उनके अधिकार में थे। गंगाजी का दाहिना किनारा इस जाट-राज्य की पूर्वी सरहद, चम्बल दक्षिणी, जयपुर का राज्य पश्चिमी और देहली का सूबा उत्तरी सरहद थे। इसकी लम्बाई पूर्व से पश्चिम की ओर 200 मील और उत्तर से दक्षिण की ओर 150 मील के करीब थी।1

राज्य की माली हालत के बारे में फादर बेण्डिल लिखता है कि -

"खजाने और माल के विषय में जो कि सूरजमल ने अपने उत्तराधिकारी के लिए छोड़ा, भिन्न-भिन्न मत हैं। कुछ इसे नौ करोड़ बताते हैं और कुछ कम। मैंने उसकी वार्षिक आय तथा ब्याज का उन लोगों से जिनके हाथ में यह हिसाब था, पता लगाया है। जैसा कि मुझे मालूम हुआ है उसका खर्च 65 लाख से अधिक और 60 लाख सलाना से कम नहीं था और राज्य के अन्तिम 5-6 वर्षो में उसकी वार्षिक मालगुजारी एक करोड़ पचहत्तर लाख से कम नहीं थी। उसने अपने पूर्वजों के खजाने में 5-6 करोड़ रुपया जमा कर दिया। जवाहरसिंह के गद्दी पर बैठने के समय 10 करोड़ रुपया जाटों के खजाने में था। बहुत-सा गढ़ा हुआ न जाने कहां है। यहां के गुप्त खजाने में अब भी बहुत अमूल्य पदार्थ और देहली, आगरे की लूट की अद्वितीय तथा छंटी हुई चीजें जिनका मिलना अब बहुत मुश्किल है बताई जाती हैं। खजाने के सिवाय सूरजमल ने अपने उत्तराधिकारी के लिए 5000 घोड़े, 60 हाथी, 15,000 सवार, 25000 से अधिक पैदल, 300 से अधिक तोपें और उतनी ही बारूद-खाना तथा अन्य युद्ध का सामान छोड़ा। "

‘सियार’ का लेखक लिखता है -

“सूरजमल के तबेले में 12,000 घोड़े उतने ही चुनीदा सवारों सहित थे जिनको कि उसने दूसरों के घुड़सवारों पर निशाना लगाने का और फिर अपनी बन्दूकें सुरक्षित होकर भरने के लिए चक्कर खाने का अभ्यास कराया था। यह आदमी रोजाना के अभ्यास से इतने निपुण और भयानक निशानेबाज और मार्च में इतने चतुर बन गए थे कि हिन्दुस्तान में कोई भी ऐसी सेना नहीं थी जो खुले मैदान में उनका सामना कर सके और न ऐसे राजा के विरुद्ध लड़ाई मोल लेना ही फायदा के लिए सम्भव समझा जाता था।”

महाराज जवाहरसिंह तारीख 2 जनवरी सन् 1764 ई. को अपने बाप की गद्दी पर बैठे। उनको भरतपुर के महाराजा होने में कुछ कठिनाइयां भी उठानी पड़ीं। बलराम, जो कि सूरजमल की सेना का एक बड़ा सरदार और

1. De Nabab Rene Madec, see page 45

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-650

नाहरसिंह का मामा था, चाहता था कि नाहरसिंह को भरतपुर का राजा बनाया जाए। जवाहरसिंह उस समय फर्रुखनगर में थे। उन्होंने अपने भाइयों के लिए कहला भेजा कि यह समय उत्तराधिकारी बनने का क्षण नहीं किन्तु अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने का है। मैं अपनी थोड़ी-सी सेना को जो कि मेरे पास है लेकर चढ़ाई करूंगा और पीछे देखूंगा कि पिता का उत्तराधिकारी कौन है? इस धमकी से नाहरसिंह तो भरतपुर को छोड़कर चला गया और बलराम ने इसमें बुद्धिमत्ता समझी कि जवाहरसिंह का साथी बन जाए। जवाहरसिंह की स्थिति निर्बल थी। वैर में उनका चचेरा भाई बहादुरसिंह अपनी स्वतंत्र रियासत कायम करने में लग रहा था। सरदारों की ओर से भी कोई अधिक सहयोग मिलने की आशा नहीं थी। फिर भी वे अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने के लिए नजीबुद्दौला (नजफखां) पर चढ़ाई करना चाहते थे।

सन् 1765 अक्टूबर महीने के अंत में एक बड़ी भयानक सेना लेकर देहली के दरवाजे के सामने सूरजमल की मृत्यु का बदला लेने और पानीपत विजय के मुस्लिम प्रभाव को नष्ट करने के लिए महाराज जवाहरसिंह जा डटे। इसके साथ निजी 60 हजार पैदल और सौ तोपें थीं। 25,000 मराठे होल्कर की अध्यक्षता में और लगभग 25,000 सिख वेतन पर बुलाए गए थे। प्रत्येक सिपाही को एक रुपया रोज दिया जाता था।

महाराज जवाहरसिंह ने नजीबुद्दौला (नजफखां) को बाहर निकलकर लड़ने के लिए ललकारा। अफगानों को बाहर निकलने को मौका देने के लिए अपनी सेना को 4-6 कोस पीछे को हटा लिया। नजीबुद्दौला अफगानों के साथ बाहर निकला। जाट भूखे भेड़िये के समान अफगानों पर टूट पड़े। उन्होंने अफगानों को शहर में घुसा दिया। महाराज जवाहरसिंह ने होल्कर तथा दूसरे सरदारों को साथ लेकर जमुना को पार करके शाहदरे को लूट लिया। जाटों की 17 नवम्बर की तोपों की लड़ाई से नजीबखां की सेनायें मैदान छोड़कर किले में घुस गई। अब किले और शहर पर गोला पड़ना शुरू हुआ। तीन महीने तक जाट अफगानों की नाक में दम करते रहे। फरवरी सन् 1765 को सब्जीमण्डी और पशुओं की पैठ के समीप की ऊंची भूमि पर खड़े होकर अफगानों ने सिख और जाटों पर गोलियों की बौछार की। किन्तु जाट गोलियों की कुछ भी परवाह न करके अफगानों के दल में घुस पड़े। विवश होकर अफगानों को फिर भागना पड़ा। जब कि जवाहरसिंह को पूर्ण विजय मिलने ही को थी उनके नमकहराम दोस्त मल्हारराव होल्कर ने उनकी आशाओं पर पानी फेर दिया। फादर वेण्डल लिखते हैं-

“मल्हारराव ने बड़ी लापरवाही और खुल्लम-खुल्ला नजीबखां की तरफदारी

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-651

प्रगट की। ऐसे समय पर जब कि रुहेले बिना किसी शर्त के आत्म-समर्पण करने ही वाले थे, उसने तमाम मामले को बिगाड़ दिया। महाराज जवाहरसिंह को विवश होकर संधि की स्वीकृति देनी पड़ी। 14 फरवरी को नजीबुद्दौला की ओर से जाब्तिखां एक हाथी और अदब की पोशाक लेकर जवाहसिंह को भेंट करने आया।”

जवाहरसिंह इस संधि से प्रसन्न नहीं थे। वह मल्हारराव से खुनस मानते हुए डीग को लौट आए। फिर भी देहली की लड़ाई में लूट में उन्हें बहुत से जवाहरात और कीमती सामान हाथ लगे थे। “अष्ट धाती” नाम का फाटक जिसे कि चित्तौड़ से मुसलमान बादशाह देहली में ले गये थे आज तक, भरतपुर में चढ़ा हुआ है। डीग के संगमरमर का सिंहासन भी दिल्ली की लूट का मौजूद है। भरतपुर के देहातों में अब भी ऐसी चीजें पाई जाती हैं जिन्हें वे देहली की लूट से लाया हुआ1 बतलाते हैं। जाटों में ‘दिल्लीवारे की लूट’ नाम की एक कहावत भी प्रचलित है।

देहली की चढ़ाई से लौट आने के पीछे उन्होंने अपरे आन्तरिक शत्रुओं के दमन करने की अत्यन्त आवश्यकता समझी। उन्हें यह भी सन्देह हो गया था कि उनकी सेना के सरदार मल्हारराव होल्कर की साजिश में शामिल थे। उनके पास समरू नाम का प्रसिद्ध जनरल आ चुका था। महाराज ने उसकी अध्यक्षता में एक अच्छी सेना तैयार की। कुछ समय के पश्चात् वह आगरे गए और बलराम तथा दूसरे लोगों को गिरफ्तार करा लिया। बलराम और एक दूसरे सरदार ने अपने अपमान के डर से आत्महत्या कर ली। महाराज जवाहरसिंह चाहते थे कि इन लोगों के पास बेईमानी पूर्वक इकट्ठा किया हुआ धन है, वह उन्हें प्राप्त हो जाए। कहा जाता था कि मोहनराय सरदार के पास निजी सम्पत्ति को छोडकर 80 लाख रुपये नकद थे। लेकिन मृत्यु पर्यन्त इन सरदारों ने जवाहरसिंह को कुछ नहीं बताया। महाराज जवाहरसिंह ने उनको, जिन पर कि कुछ भी धन होने का सन्देह था, अत्यन्त कष्ट दिया।

इतना करने पर भी महाराज जवाहरसिंह को जितनी आशा थी, उतना धन प्राप्त न हुआ, क्योंकि वे लोग जिन्हें पूरे धन का पता था, दुराग्रह-पूर्वक पता बतलाने से मर जाना उचित समझे हुए थे। इसके पश्चात् जवाहरसिंह के विरोध में एक शक्ति बहादुरसिंह की भी थी जिसने महाराज सूरजमल की सेवाओं द्वारा बहुत-सा पुरस्कार भी पाया था। यह जवाहरसिंह का चचेरा भाई था और वैर का

1. यह ठीक है कि जवाहर सिंह ने दिल्ली को ध्वस्त करके नजीब का गर्व चूर्ण कर दिया था, लेकिन मल्हार राव की लालची प्रकृति के कारण, देश के जाट, भारत के इतिहास को नया रूप नहीं दे पाए. बाहरी आक्रान्ताओं के लिए उसे दुर्भेद्य नहीं बना पाए- संपादक

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-652

स्वामी था। बहुत से धन के साथ ही यह एक अच्छी सेना भी रखता था।

महाराज सूरजमल की मृत्यु के बाद बहादुरसिंह को अभिमान हो गया था। वह जाट-राज्य कायम करने और उस पर शासक होने का उतना ही अधिकार समझता था, जितना कि जवाहरसिंह। उसके तत्कालीन व्यवहारों द्वारा प्रकट होता था कि वह बेर के मैदानी क्षेत्र पर स्वतन्त्र शासक बनकर रहना चाहता था। वह जवाहरसिंह के रोकने पर भी बाज न आया। उसने किलेबन्दी करनी शुरू की। जवाहरसिंह अगस्त सन् 1765 में वैर पर चढ़ आये और चारों ओर से घेरा डाल दिया। बहादुरसिंह ने पहले से ही बड़ी तैयारी कर ली थी, इसलिए उसने डटकर सामना किया। तीन महीने तक इसी तरह आक्रमण होते रहे और बहादुरसिंह बेकार करता रहा। आखिरकार वह चालाकी से गिरफ्तार कर लिया गया। जवाहरसिंह द्वारा कैद होकर बहादुरसिंह भरतपुर लाया गया और नवम्बर सन् 1765 में ही छोड दिया गया।

इधर महाराज जवाहरसिंह बहादुरसिंह के दमन में लगे थे और उधर नाहरसिंह जवाहरसिंह का छोटा भाई धौलपुर रहते हुए भरतपुर पर अधिकार कर लेने की चेष्टा में था। वह यह अच्छी तरह जानता था कि जवाहरसिंह बहादुरसिंह से निपट कर तेरी और फिरेगा। संयोग से मल्हारराव होल्कर भी समीप के ही एक जाट सरदार की ताक में फिर रहा था। नाहरसिंह ने भरतपुर पर अधिकार करा देने के लिए उससे लिखा-पढ़ी शुरू की। मल्हारराव देहली की चढ़ाई के बाद से जवाहरसिंह से ऐंठ ही गया था और जब उसने (जवाहरसिंह ने) होल्कर पर विश्वासघात का अपराध लगा कर ठहरे हुए शेष 22 लाख रुपये देने से इनकार कर दिया तो वह और भी कुढ़ गया था। उसने इस अवसर को अपनी कसम निकाल लेने के लिए काफी समझा ओर अत्यन्त प्रसन्नता से नाहरसिंह की सहायता करना स्वीकार कर लिया। उसने उसे (नाहरसिंह को) धर्मपुत्र बनाया और पुत्र की रक्षा के नाते से अपनी सेना चम्बल भेज दी, जो नाहरसिंह की सेना से मिलकर धौलपुर-दुर्ग की रक्षा करने लगी। इस अरसे में जवाहरसिंह भी चुपचाप न बैठा था। उसके पास कुल समाचार पहुंचते रहते थे और वह इस बुद्धिमानी से आक्रमण करने की तैयारी में था कि नाहरसिंह के सहायक मराठों का भी रास्ते में ही मान-मर्दन कर सके।

महाराज जवाहरसिंह ने शीघ्र ही अवसर देखकर अपने पंजाबी सैनिकों के साथ प्रस्थान कर दिया और दिसम्बर सन् 1765 में चम्बल के किनारे पहुंच गया। यहां मराठा सेना का एक हिस्सा, जो कि जाट-प्रदेश में घुस आया था, गिरफ्तार कर लिया गया। महाराज जवाहरसिंह ने जब धौलपुर पर आक्रमण किया तो नाहरसिंह और मराठों की सेना उससे लोहा न ले सकी और विजय-श्री ने महाराज जवाहरसिंह का साथ दिया। धौलपुर पर अधिकार करके वहां के बहुत से मराठों

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-653

को उन्होंने कैद कर लिया। नाहरसिंह वहां से भाग निकला और धौलपुर में एक छोटे से राजपूत जागीरदार के किले में जाकर विश्राम किया। वहीं उसने विष खाकर आत्म-हत्या कर ली और उसका परिवार राजा जयपुर के यहां जाकर रहने लगा।

जवाहरसिंह महाराज सूरजमल की तरह नम्र विचार का न था। वह अवसर पाकर शत्रु को नष्ट कर देने की ताक में रहता था। उसकी इसी नीति के कारण, उसका अपनी सेना का गर्वनर तक, उसके पक्ष में न था। महाराज जवाहरसिंह ने धौलपुर पर अधिकार हो जाने पर देखा कि मराठों की शक्ति इतनी ही है तो वह उन्हें राजपूताने से निकाल भगाने की इच्छा करने लगा। परन्तु ग्रीष्म ऋतु आ जाने से उसके सिख सैनिकों ने अस्वीकार कर दिया। अतः उस समय उसने अपना इरादा स्थगित कर दिया।

परन्तु महाराज जवाहरसिंह के इरादे केवल इरादे ही न थे। उस समय की बढ़ती हुई शक्ति में सिख सैनिक उसकी अध्यक्षता में रहते थे। इसलिए समस्त उत्तरी भारत में सूरजमल के जाट-राज्य की डाली हुई नींव को वह पूरा और दृढ़ कर लेने के विचार में था। अब्दाली के मुकाबले में डटे रहने के लिए सिख काफी थे और इधर वह मराठों के लिए तरकीबें सोच रहा था। मालवा के जाटों को जाट-संघ में मिलाकर वह मराठों का इलाज करने की तैयारी कर रहा था।

गोहद का राणा छत्रसाल अत्यन्त वीरता और बहादुरी से मराठों से युद्ध कर रहा था। पंजाब और भरतपुर के जाटों की भांति वहां के जाटों ने भी अपने स्वतंत्र विचार और महान् साहस का परिचय दिया। मराठों की विशाल सेना के सामने भी वर्षों तक अपने स्वतन्त्र विचार और ध्येय को कायम रखा। महाराज जवाहरसिंह ने वीरवर राणा छत्रशाल की सहायता कर मराठों की शक्ति क्षीण करने की ठान ली।

जब माधोराव पेशवा को इस जबरदस्त जाट-संघ का पता चला तो उसे बड़ा भय हुआ। क्योंकि वह जानता था कि इसकी जड़ बड़ी मजबूत है और वह है जवाहरसिंह, जिसकी मार से मराठे धौलपुर से कुछ दिन पहले ही भाग आए थे और जिनके समाचारों को वह जान चुका था। उसने 1766 बसन्त ऋतु में रघुनाथराव को होल्कर के साथ 60 हजार घुड़सवार और एक सौ बड़ी तोपों के साथ मराठों का दबदबा जमाने के लिए भेजा था। रघुनाथराव ने पहले ही गोहद पर घेरा डाल दिया और बड़ी कड़ी-कड़ी मांगे पेश कीं। जवाहरसिंह इस समय बहुत बीमार था, परन्तु शीघ्र ही स्वास्थ्य लाभ लेने पर मराठों से युद्ध करने पहुंच गया। पर जिस दुर्भाग्य से हमारे देश भर को कितनी ही बार भंयकर विपत्तियां सहनी पड़ी और देश इस चिन्त्य-दुर्दशा तक पहुंच चुका है, वही दुर्भाग्य वहां भी अड़ गया। महाराज के दल में दो दुष्ट जयचन्द खड़े हो गए। उन्होंने थोड़े से लालच

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-654

पर महाराज जवाहरसिंह को उसी के कैम्प में कैद करा देने का वायदा किया। फूट जाने वाले विश्वासघाती अनूपगिरि गोसाई के भेद की सूचना गुप्तचरों द्वारा महाराज को ठीक समय पर लगी। उन्होंने अर्द्ध रात्रि के समय ही अपनी सेना को तैयार किया और एकदम से गोसाइयों के कैम्प पर हमला कर दिया। दुष्ट विश्वासघाती बड़ी कठिनता से भागकर प्राण बचा पाए, परन्तु उसके साथी एक बड़ी संख्या में कैद कर लिए गए। उनका कैम्प लूट लिया। जिसमें 1400 के करीब घोड़े, 10 हाथी, 100 तोपें व अन्य और भी कितना ही सामान महाराज के हाथ आया। इस प्रकार उन्हें उन्हीं की करनी का फल मिल गया।

इसी समय अब्दाली ने फिर पैर बढ़ाया और मराठों की तरह वह भी भारत में पुनः रौब-दौब बैठाने पंजाब में उपस्थित हुआ। अब्दाली से सामना करने के लिए जवाहरसिंह और रघुनाथराव में एक संधि हुई-एक तरह से उन्होंने झगड़ों का फैसला किया। आपस में तय पाया कि-1. जो कैदी भरतपुर में हैं छोड़ दिए जाएं, 2. यदि कि मराठे दूसरी सन्धि की शर्तों को पूरा कर दें तो जवाहरसिंह मल्हरराव के तय किए हुए बकाया रुपये दे देगा, 3. रघुनाथराव, महाराज जवाहरसिंह के राज्य के आस-पास का राजपूताने का हिस्सा राजा को 5,00000 रुपया सलाना लगान पर दे दें।

इस प्रकार ये शर्तें दोनों ओर से ही साफ दिल से नहीं हुई थीं और न इन्हें निभाने की इच्छा ही थी, अगर किसी आरे वालों को इसे तोड़ देने से लाभ दिखलाई पड़ता। सन् 1767 के मध्य तक सिखों के जोर पकड़ जाने से अब्दाली का भय न रहा। उस समय जवाहरसिंह चुपचाप बैठा न रहा। उसने वर्षा ऋतु में ही युद्ध के लिए कदम बढ़ाया। अटेर और भिंड जहां के राजा मराठों के अधीन थे, महाराज जवाहरसिंह पहले इन्हीं की ओर बढ़ा। वह उस ओर बहुत बढ़ गया, जितना कि उसने स्वयं न सोचा था। उसने अपनी शक्तिशाली सेना के साथ कालपी तक मराठे और छोटे-छोटे अन्य जागीरदारों को अपने अधिकार में कर लिया। इस तरह जाट-राज्य की सीमा उसने बहुत कुछ बढ़ा दी।

भारतवर्ष में एक शक्ति इस समय और पैर जमा रही थी और वह थी अंग्रेज। परन्तु अंग्रेज भी किसी ऐसे मित्र की खोज में थे जो उनकी मदद कर सके। चतुर अंग्रेजों ने महाराज जवाहरसिंह के पास 19 अगस्त सन् 1765 ई. को एक पत्र भेजा, जिसमें लिखा था कि महाराज अगर समरू नामक फ्रेंच को अपने यहां से हटा दें तो अंग्रेज बाहरी आक्रमण के विरुद्ध भरतपुर की सहायता करेंगे। परन्तु महाराज ने इस पत्र पर किंचित भी ध्यान न दिया। यहां तक कि महाराज इसके लिए एकदम भूल गए। लेकिन अंग्रेज महाराज जवाहरसिंह से संधि करने के लिए व्यग्र हो रहे थे। वे बार-बार इसकी चेष्टा कर रहे थे। जवाहरसिंह ने देखा कि संधि के लिए मराठे जब स्वयं प्रार्थना कर रहे हैं तो उनसे तो संधि के

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-655

लिए दरख्वास्त की गई है, वह शीघ्र ही अब्दाली के विरुद्ध अंग्रेजों में जा मिला। संधि शर्तों को ईमानदारी से पालने के कारण वह अधिक अंग्रेजों की तरफ आकर्षित हुआ। जवाहरसिंह ने भी अपनी मित्रता को पूरी तरह निभाया। अंग्रेजों से मित्रता होने पर उसने अब्दाली से किसी तरह का सम्बन्ध न रखा और उसके प्रार्थना करने पर भी अपने निश्चय और पद पर अटल रहा। इसी तरह मराठों से अंग्रेजों के कारण मित्रता तोड़ दी। महाराज जवाहरसिंह ने इस समय भी जब भी मौका मिला, मराठों के राज्य पर हाथ मारा और उनकी उदासीनता के कारण मराठों के बहुत से अधिकृत प्रदेश पर अपना कब्जा कर लिया।

देहली के आस-पास और मेरठ के जाटों ने जब सुना कि जाट नरेश जवाहरसिंह देहली पर चढ़ाई करने को आया है, तो वे लाठी, बल्लम जो भी हाथ लगा, लेकर सेना में आ मिले। इसी तरह ब्रज के जाट भी उनके साथ सम्मिलित हुए थे। जब उन्होंने मालवे पर चढ़ाई की तो वहां के जाटों का हाल और प्रेम भी वह देख चुके थे। अब उनकी इच्छा राजपूताने के पश्चिम ओर के जाटों को देखने की हुई। उनका राज्य तीन ओर तो बढ़ चुका था, अब यह चौथी दिशा बाकी थी जिस पर कि उन्होंने अब तक ध्यान न दिया था।

अलवर के राज्य के संस्थापक राजा प्रतापसिंह ने जवाहरसिंह को उधर की तरफ बढ़ने का अधिक प्रोत्साहन दिया। उसने समर्थन ही नहीं, बल्कि इनसे प्रार्थना की, क्योंकि वह जयपुर-नरेश से झगड़ा करके महाराज सूरजमल के संरक्षण में आया था। इसलिए वह चाहता था कि जिस राज्य ने इसके साथ अन्याय किया है, उसका बदला ले। वास्तव में भरतपुर और जयपुर के विरोध का कारण भी अधिकतर यही था। लेकिन बाद में इसी के विश्वासघात से महाराज जवाहरसिंह को भंयकर हानि उठानी पड़ी थी। इस हानि का फल भी जवाहरसिंह के लिए बहुत बुरा हुआ। महाराज ने जिसकी भलाई की, उसी ने धोखा दिया। ठीक ही है -

“पयः पानं भुजंगानां केवलं विषवर्द्धनम्।”

भारतेन्दु जवाहरसिंह ने पुष्कर स्नान के उद्देश्य से सेनासहित यात्रा शुरू की। प्रतापसिंह भी महाराज के साथ था। जाट-सैनिकों के हाथ में बसन्ती झण्डे फहरा रहे थे। जयपुर नरेश के इन जाटवीरों की यात्रा का समाचार सुन कान खड़े हो गए। वह घबड़ा-सा गया। हालांकि जवाहरसिंह इस समय किसी ऐसे इरादे में नहीं गए थे, पर यात्रा की शाही ढंग से। जयपुर नरेश या किसी अन्य ने उनके साथ कोई छेड़-छाड़ नही की और वह गाजे-बाजे के साथ निश्चित स्थान पर पहुंच गए।

स्नान-ध्यान करने के पश्चात् भी महाराज कुछ दिन वहां रहे। राजा विजयसिंह से उनकी मित्रता हुई। इधर महाराज के जाते ही राजपूत सामंतो में तूफान-सा मच गया। उधर के शासित जाट और इस शासक जाट राजा को वे एक दृष्टि से देखने

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-656

लगे। इस क्षुद्र विचार के उत्पन्न होते ही सामंतों का संतुलन बिगड़ गया और वे झुण्ड जयपुर नरेश के पास पहुंचकर उन्हें उकसाने लगे। परन्तु जाट सैनिकों से जिन्हें कि उन्होंने जाते देख लिया था, उनकी वीरता और अधिक तादात को देखकर, आमने-सामने का युद्ध करने की इनकी हिम्मत न पड़ती थी।

जवाहरसिंह को अपनी बहादुर कौम के साथ लगाव था, उसकी यात्रा का एकमात्र उद्देश्य पुष्कर-स्नान ही नहीं था, वरन् वहां की जाट-जनता की हालत को देखना भी था। उनको मालूम हुआ कि तौरावाटी (जयपुर का एक प्रान्त) में अधिक संख्या जाट निवास करते हैं तो उधर वापस लौटने का निश्चय किया। राजपूतों ने लौटते समय उन पर आक्रमण करने की पूरी तैयारी कर ली थी। यहां तक कि जो निराश्रित प्रतापसिंह भागकर भरतपुर राज की शरण में गया था और उन्होंने आश्रय ही नहीं, कई वर्ष तक अपने यहां सकुशल और सुरक्षित रखा था, षड्यन्त्र में शामिल हो गया। उसने महाराज की ताकत का सारा भेद दे दिया। राजपूत तंग रास्ते, नाले वगैरह में महाराज जवाहरसिंह के पहुंचने की प्रतीक्षा करते रहे। वे ऐसा अवसर देख रहे थे कि जाट वीर एक-दूसरे से अलग होकर दो-तीन भागों में दिखलाई पड़ें तभी उन पर आक्रमण कर दिया जाए।

तारीख 14 दिसम्बर 1767 को महाराज जवाहरसिंह एक तंग रास्ते और नाले में से निकले। स्वभावतः ही ऐसे स्थान पर एक साथ बहुत कम सैनिक चल सकते हैं। ऐसी हालत में वैसे ही जाट एक लम्बी कतार में जा रहे थे। सामान वगैरह दो-तीन मील आगे निकल चुका था। आमने-सामने के डर से युद्ध न करने वाले राजपूतों ने इसी समय धावा बोल दिया। विश्वास-घातक प्रतापसिंह पहले ही महाराज जवाहरसिंह का साथ छोड़कर चल दिया था। घमासान युद्ध हुआ। जाट वीरों ने प्राणों का मोह छोड़ दिया और युद्ध-भूमि में शत्रुओं पर टूट पड़े। जयपुर नरेश ने भी अपमान से क्रोध में भरकर राजपूत सरदारों को एकत्रित किया। जयपुर के जागीरदार राजपूतों के 10 वर्ष के बालक को छोड़कर सभी इस युद्ध में शामिल हुए थे। सब सरदार छिन्न-भिन्न रास्ते जाते हुए जाट-सैनिकों पर पिल पड़े। जाट सैनिकों ने भी घिर कर युद्ध के इस आह्नान को स्वीकार किया और घमासान युद्ध छेड़ दिया। आक्रमणकारियों की पैदल सेना और तोपखाना बहुत कम रफ्तार से चलते थे। जाट-सैनिकों ने इसका फायदा उठाया और घाटी में घुसे। करीब मध्यान्ह के दोनों सेनाएं अच्छी तरह भिड़ीं। इस समय महाराज जवाहरसिंह जी की ओर से मैडिक और समरू की सेनाओं ने बड़ी वीरता और चतुराई से युद्ध किया। जाट-सैनिकों ने जयपुर के राजा को परास्त किया। परन्तु जाटों की ओर से सेना संगठित और संचालित होकर युद्ध-क्षेत्र में उपस्थित न होने के कारण इस लड़ाई मे महाराज जवाहरसिंह को सफलता नहीं मिली। लेकिन वह स्वयं सदा की भांति असाधारण वीरता और जोश के साथ अंधेरा होने तक युद्ध करते रहे।

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-657

जयपुर सेना का प्रधान सेनापति दलेलसिंह, अपनी तीन पीढ़ियों के साथ मारा गया। यद्यपि इस युद्ध में महाराज को विजय न मिली और हानि भी बहुत उठानी पड़ी, परन्तु साथ ही शत्रु का भी कम नुकसान नहीं हुआ। कहते हैं युद्ध में आए हुए करीब करीब समस्त जागीरदार काम आये और उनके पीछे जो 8-10 साल के बालक बच रहे थे, वे वंश चलाने के लिए शेष रहे थे। इसमें सन्देह नहीं कि महाराज जवाहरसिंह को वहां के जाटों की परिस्थिति और मनोवृत्ति का भी पता चल गया कि बहुत दिन तक शासित रहने के कारण उनका स्वाभिमान मर चुका है। नहीं तो क्या कारण था कि जब वह देहली की और चढ़ाई करने गया था तो यू.पी. और मेरठ के जाट प्रत्येक घर से लाठी कंधे पर रखकर उससे आ मिले और महाराज पर इधर आक्रमण होने पर भी उनके कानों पर जूं भी न रेंगी।

महाराज जवाहरसिंह की यात्रा शुभ फलदायक न हुई। अब उनका मध्याह्न सूर्य ढला। परिवर्तनशील संसार का यही नियम है कि यहां हमेशा एक-सी धाक (समय) नहीं रहती। इस महत्वाकांक्षी जाट सरदार को भी परिवर्तन का सामना करना पड़ा। उसके शत्रुओं ने जब सुना कि जवाहरसिह को जयपुर वाले युद्ध से हानि हुई है तो उन्होंने देख लिया कि अब मौका है। यह समाचार सुनते ही चम्बल पार का प्रदेश विद्रोही बन गया और जिस शीघ्रता से वह जाट-राज्य में मिला था, उसी तरह निकल भी गया। इधर माधौसिंह का भी साहस बढ़ गया था और भारी हानि उठाने के कारण बदला लेने के लिए 60 हजार सेना के साथ जाट-राज्य में घुस गया। फर्रुखनगर का नवाब मुसाबीखां बलोच (जो कि एक वर्ष पूर्व ही भरतपुर से उदारतापूर्वक कैद से रिहा हुआ था) और रुहेले राजपूतों की सहायता करने को तत्पर हो गए। ठीक ही कहा है, ‘दुर्दिन पड़े रहीम कहि, भूलत सब पहिचान’ की भांति सिख भी महाराज की मित्रता छोड़ने पर उतारू हुए और उसके दोनों बाहरी प्रान्तों को छोड़ना शुरू किया। माधौसिंह ने आगे बढ़ने और आगरे के दुर्ग को मुसाबीखां की सेना से मिलकर जीतने के लिए शाही हुक्मनामा भेजा।

इस समय प्रत्येक व्यक्ति महाराज जवाहरसिंह को राजपूतों से सुलह करने की सलाह दे रहा था, परन्तुं स्वाभिमानी जाट-सरदार ने गौरवपूर्ण समझौता युद्ध की बीच लड़कर तय कर लेना पसन्द किया। वह युद्ध के लिए तत्परता से तैयारी करने लगा। उसने सिखों को लूट के लोभ के बदले 7 लाख रुपये दिए। एम. मैडिक का भत्ता सेना बढ़ाने के लिए 5000 रुपये महावार बढ़ा दिया। जब राजपूतों को भय हुआ। वे सोच रहे थे जवाहरसिंह स्वयं सन्धि का प्रस्ताव करेगा, परन्तु अब उन्होंने देखा कि सिखों को उसने अपनी ओर कर लिया है, तो वे घबरा गए। उनके सभी इरादों पर पानी तो फिरा, लेने के देने पड़ गए। जाट-राज्य से सकुशल निकल जाना उन्हें असम्भव मालूम हुआ। आगत भय की आशंका से महाराज जवाहरसिंह से उन्होंने सन्धि कर लेना ही अपनी रक्षा का एक

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-658

मात्र उपाय सोचा। जाट-नरेश से सन्धि-प्रार्थना कर सन्धि कर ली गई और वह शीघ्रता से अपने स्थान पर लौट गए। इस तरह से राजपूत पंजाब के भयानक घुड़सवारों के आने से पहले ही अपने देश में पहुंच गए।

जब से जवाहरसिंह राजपूताने से लौटा था, तब से वह शान्त न बैठा था। उसके शत्रुओं ने भूल की थी कि वह साहसहीन हो गया है, यद्यपि उस समय उसके शत्रुओं के एकदम खड़े हो जाने से उसे हानि तो बहुत उठानी पड़ी थी, पर वह अस्थिर न हुआ था। उसका स्वभाव ही अल्लहड़पन की वीरता से ओत-प्रोत था। वह यह तो जानता ही न था कि भय किसे कहते हैं। लड़ाई करने की इच्छा उसकी रग-रग में भरी थी। बिना लड़ाई उसके लिए जीवन नीरस था। माधौसिंह के चले जाने पर जब उसने देखा कि यह आया हुआ युद्ध रूपी खेल खेलने का अवसर निकल गया तो मैडिक के साथ एक किले को जहां राजपूतों का एक दूसरा वंश राज्य करता था, अधिकार में करने की तैयारी कर कूच कर दी। डेढ़ महीने पश्चात् वह किले पर चढ़ने में समर्थ हुआ। उसकी सेना जब किले के गोले-बारूद से भयभीत हो गई तो भी यह निडर भाव से डटा रहा। दूसरी बार वह किले की दराज के नीचे से गया और दुर्ग-रक्षक डरकर अधीन हो गये।

महाराज जवाहरसिंह इस तरह दृढ़चित्त और अदम्य उत्साह से फिर सम्भल बैठा था, जिसे जानकर शत्रुओं को भय होने लगा था। अत्यन्त शीघ्रता से महाराज ने बिगड़ी हई परिस्थिति को फिर वैसा ही बना लिया। उसके हथियार पहले की भांति चमकने लगे और राज्य धन-धान्य से समृद्ध होने लगा जिससे प्रजा का प्रेम भी प्राप्त हो गया। उसने अपनी सेना का यूरोपियन ढंग से संगठन किया, तोपखाने बढ़ाये जिससे बाहर वाले उसकी प्रतिष्ठा करने लगे। उसके शत्रुओं को बड़ा भय हुआ कि कहीं उसके क्रोध का ज्वालामुखी फिर से न उबल पड़े। परन्तु दुर्भाग्य से होना कुछ और ही था जिससे उसके शत्रुओं के घर में घी के चिराग जल गये।

जून सन् 1768 में जवाहरसिंह किसी घातक धोखे से मार डाले गये। ‘ब्रजेन्द्र-वंश भास्कर’ में उस घातक का नाम सुजात मेव लिखा है। ‘इमाद’ का लेखक लिखता है कि महाराज जबरसिंह ने केवल अजां देने पर एक मनुष्य की जिह्वा निकलवा ली थी। आगरे की मस्जिद को बाजार कर दिया था और उसमें अनाज की दुकानें खुलवा दी थीं। कोई भी कसाई मांस नहीं बेच सकता था। इससे सम्भावना होती है कि किसी तास्सुबी मुसलमान ने उन पर हमला करके मार डाला होगा।

महाराज जवाहरसिंह की मृत्यु के लिए इतना ही कहना पर्याप्त होगा कि जाटों का सितारा, हिन्दु-धर्म का रक्षक, जिसकी अभी भारी आवश्कता थी, असमय में ही विलुप्त हो गया। उनके निधन से जाट-साम्राज्य की गाड़ी तो रुक गई

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-659

पर साथ ही हिन्दु-हितों को भी भारी ठेस लगी।1

वह यह देख चुके थे कि हर मौके पर, भारत में रहने वाले ईरानी, तूरानी मुसलमान तथा बिलोच बाहरी आक्रान्ताओं का साथ देते थे, देश को फिर से अफगानों का गुलाम बनाने की योजना में लगे थे, यहां के कुछ सूफी सन्त फतवा जारी करके अब्दाली का समर्थन कर रहे थे। अतः उनको इस वर्ग से घृणा हो गई थी।

1.कहना यह चाहिए कि भारत के राष्ट्रीय एवं सांस्कृतिक उत्कर्ष का विकास काफी समय के लिए अवरुद्ध हो गया- संपादक

महारानी किशोरी ने जवाहरसिंह को युद्ध के लिए तैयार किया

जब महाराजा सूरजमल शाहदरा के पास धोखे से मारे गये तो महारानी किशोरी (होडल के प्रभावशाली सोलंकी जाट नेता चौ. काशीराम की पुत्री) ने महाराजा जवाहरसिंह को एक ही ताने में यह कहकर कि "तुम पगड़ी बांधे हुए फिरते हो, तुम्हारे पिता की पगड़ी शाहदरा के झाऊओं में उलटी पड़ी है", युद्ध के लिए तैयार कर दिया । महाराजा जवाहरसिंह ही पहले हिन्दू नरेश थे जिन्होंने आगरे के किले और दिल्ली के लाल किले को जीतकर विजय वैजयन्ती फहराई थी । दिल्ली के लाल किले के युद्ध में जब किसी भी तरह किला फतह न हो पा रहा था तब महाराजा जवाहरसिंह के मामा और महारानी किशोरीबाई के भाई वीरवर बलराम ने किले के फाटकों के लम्बे-लम्बे कीलों पर छाती अड़ा हाथी के मस्तिष्क पर बड़े-बड़े तवे बन्धवा पीलवान से हाथी हूलने को कहा । हाथी की मार से किले के किवाडों और तवों के बीच में बलराम का शरीर निर्जीव हो उलझ गया पर उनके अमर बलिदान से अजेय दुर्ग के फाटक टूट गए और वह जीत लिया गया । भारतीय इतिहास में ऐसे अपूर्व बलिदान की एक ही कहानी और मिलती है और वह है उदयपुर के महाराणा अमरसिंह के समय रणथम्भौर के आक्रमण में चूड़ावतों व शेखावतों के झगड़े में शेखावत सरदार की आत्माहुति ।

दिल्ली का अनुपम विजेता

ठाकुर देशराज[4] ने लिखा है .... यह बहुत कम लोगों को पता होगा कि कछवाहों की धाक की कुछ भी परवाह न करके पुष्कर का डंके की चोट स्नान करने वाला और दिल्ली का अनुपम विजेता! हां उस दिल्ली, जिसमें घुसने से मराठे डरते थे और जिसके मुगल सिंहासन के आगे राजपूत करबद्ध अभिवादन करते, का विजेता महाराज जवाहरसिंह लंगड़ा था।


(1) दिल्ली युद्ध में वीर बलराम का शौर्य (यह कविता समर्पित है एक ऐसे यौद्धा को जिसके अमर बलिदान सा उदाहरण इतिहास में ना आज तक हुआ है और ना कभी होगा। वीर राजा जवाहर सिंह की दिल्ली फतह के वक्त उनके मामा व माता किशोरी के भाई बलराम ने दिल्ली लालकिले के अष्टधातु किवाड़ों को खोलने में अपना बलिदान दिया था। उसने किंवाड़ों की कीलों को छाती में गड़ाकर भांजे जवाहर को आदेश दिया कि हाथियों के सिर पर तव्वे बांधकर मेरी छाती पर प्रहार करवावो। इस तरह वीर बलराम की शहादत के बदौलत जाटों का दिल्ली पर फतह का झंडा लहराया था।) लेखक- बलवीर घिंटाला तेजाभक्त

इतिहास के पन्नो में लिपटी कीमत एक सम्मान की,

ये गाथा है जवाहर जाट की और वीर बहादुर बलराम की,

. महाबल सिंहो सा शौभित होडल का महा पौरूष था,

बलराम नाम था जिसका, यौद्धा वीर अलौकिक था, .

दिल्ली से होडल लोहागढ तक जाटों का झंडा लहराता था,

भालों ,कृपाणों का महारथी, वो दुश्मनों को मार भगाता था .

एक काल में पैदा हुए थे वो, वीर जवाहर और बलराम,

वहीं साहस के बल पर जीता धन-वैभव अरू मान सम्मान, .

नजीबुद्दीन दिल्ली का शासक, जवाहर को ना भाता था,

अपने पिता की मृत्यु का, गिनके बदला लेना चाहता था, .

इक दिन माता किशोरी ने, बहुत बड़ा आह्वान किया,

बलराम-जवाहर को बुलाकर, दिल्ली चढाई का ऐलान किया, .

एक बार नहीं वहां सौ सौ बार बलराम की ताकत दिखाई पड़ी,

जवाहर के संग तुर्कों को भी उसकी शौर्यझंकार सुनाई पड़ी, .

जब पहुंचे लाल किले के सम्मुख, अष्टधातु ने जाटों को अड़ा दिया,

तब बलराम ने छाती गड़ाकर, कुंतल को सीने से भिड़ा लिया, .

किंवाड़ों की फौलादी कीलों को, पीठ में अपने पूरा समा लिया,

ललकार के बोला तब जवाहर से, भांजे! बैरी को हमने मिटा दिया .

कितना भीषण वो तांडव था, था विकराल दृश्य दिखता सा,

गजमुंडो के सर बंधे तव्वे से, अपनी छाती पर ले भिड़ता सा, .

एक दिन के इस रणसमर ने, नजीबुद्दीन को पछाड़ दिया,

ले आये बलराम को लोहागढ अष्टधातू पट को उखाड़ लिया .

अमर बलिदानी महाप्रतापी, था वह मां किशोरी का भाई,

जयघौष के गर्वीले उद्गारों में, भी प्रजा आंसू ना रोक पाई, .

देके बलिदान बलराम ने, रिश्तों का महत्व जता दिया,

मामा रक्षाकवच है होता भांजे जवाहर को दिखा दिया .

सोरोत जाटों का था सूरज होडल जिसका था मुकाम,

चौधरी काशीराम का अनुज यह वीर बलराम की पहचान, .

रातों के घनघौर सायों में वो ढूंढ रहा था बलराम को,

आसमान से तेज था फूटा पकड़ा लिया उसके पावँ को .

हे जवाहर! वीर सूरजमल का अंश तू जिसने जाट सम्राज्य को खड़ा किया,

भागना नहीं बस बदला तू ले लेना, मेरी बहना का जिसने अपमान किया, .

उकसाया बहुत तुर्कों को किया समर का आव्हान,

परीक्षा थी बस बदले की शहादत का था अंजाम


क्रोध, शूरता, अरू वीरगति, यह जाटों की है पहचान,

साहस के भालों पर सोता, मृत्यु का न इनपे अहसान, .

बलिदान दिया उस प्रतापी ने अपनों ने कभी ना याद किया

शौर्यगाथा बिखरी दिल्ली में मिली मुझे मैंने संभाल लिया, .

शत शत मेरा नमन है तुमको हे होडल के महाबल वालों,

भानजे के सम्मान की खातिर सीना सूली पर रखने वालो...! .

गाथा वीर बलराम की यह, ना मिलेगी बिके इतिहासों में,

यह गाथा इस बलवीर ने लिखी, मिलेगी इसके सीने में, सांसों में

(2) " महाराजा जवाहर सिंह की दिल्ली फतह कवि- बलवीर घिंटाला तेजाभक्त

वो जलजला सूरज का, जवाहर जाट कहलाता था,

मनुष्य क्या देवों से भी, खुली छाती भिड़ जाता था,

क्रोधी मन में संकल्प उठा, बिजली चमकी काले घन पर,

पितृहत्या का बदला लूंगा, अपने प्राणों से भी बढ़ कर,

अश्वारोही अपनी सेना को, पल में सम्मुख खड़ा किया,

हुंकार लगाके जवाहर ने, दशों दिशा को गुंजा दिया,

होके सवार अपने तुरंग पर, दिल्ली पे कूच किया,

अपनी गरजती ललकार से, जाट लहू उबाल दिया,

लाल किले की प्राचीरों से, उठने लगी चित्कार वहां,

नंगी तलवार लिए खड़े थे, जाटवीरों के कदम जहां,

अफगान सहमे, ह्रदय कांप उठे,छा गया अंधकार घोर,

जहां अफगान था खड़ा, तलवार मुड़ी जाट की उसी ओर,

छिन के बिजली कड़क उठी, जालिम की खड़ग गिर पड़ी,

क्षमा करदे जाट सूरमे, दुश्मन की आंखे छलक पड़ी,

गद्दार मराठों ने तब, अपनी ही औकात दिखलायी,

समर्पण कर अफगानों से, जाटों की सेवा भुलाई,

पानीपत के तृतीय समर में, जब तुर्कों ने इन्हें भगाया था,

हिन्दू रक्षक सूरजमल ने तब, इनके घावों को सहलाया था,

सुसोभित अष्टधातु पट जहां, जाटों ने वो उखाड़ दिये,

तब लोहागढ़ को लोट चले, दिल्ली की पहचान लिये,

जबसे धरती पर मां जननी, जब से मां ने बेटे जने,

जाटवीरों के ऐसे वकत्व्य, ना देखे कभी ना कभी सुने,

वीर जवाहर नमन तुझे, जो जाटों का गौरव-मान बढाया,

तेरे अदम्य साहस ने ही तो, "बलवीर" को लिखना सिखाया,


Further Reading

  • Ram Swarup Joon: History of the Jats, Rohtak, India (1938, 1967)
  • Dr Natthan Singh: Jat - Itihas (Hindi), Jat Samaj Kalyan Parishad Gwalior, 2004
  • Dr. Raj Pal Singh, Rise of the Jat Power, Chapter Heritage Maintained deals with Maharaja Jawahar Singh, (1988), Delhi

External link


  1. History of the Jats/Chapter X,p. 166-168
  2. Raj Pal Singh, Rise of the Jat Power, 1988, Delhi.
  3. Thakur Deshraj: Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Parishisht,p.170-171
  4. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.79

Back to The Rulers