Aurangzeb

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author of this article is Dayanand Deswal दयानन्द देसवाल

Abul Muzaffar Muhi-ud-Din Mohammad Aurangzeb, (14 October 1618 – 3 March 1707) commonly known as Aurangzeb Alamgir and by his imperial title Alamgir ("world-seizer or universe-seizer") was the sixth Mughal Emperor and ruled over most of the Indian subcontinent. His reign lasted for 49 years from 1658 until his death in 1707.

History

Aurangzeb was born on 14 October 1618, in Dahod, Gujarat. He was the third son and sixth child of Emperor Shah Jahan and Mumtaz Mahal. His father was a governor of Gujarat at that time. In June 1626, after an unsuccessful rebellion by his father, Aurangzeb and his brother Dara Shikoh were kept as hostages under their grandparents' (Nur Jahan and Jahangir) Lahore court. On 26 February 1628, Shah Jahan was officially declared the Mughal Emperor, and Aurangzeb returned to live with his parents at Agra Fort, where Aurangzeb received his formal education in Arabic and Persian


After long duel with his three brothers, in 1658, Aurangzeb murdered all his 3 brothers (Dara Shikoh, Shah Shuja and Murad) and put his father, Shah Jehan, under house arrest in the Agra fort.

During his emperorship (1658 to 1707 AD), Aurangzeb had to fight various battles against the Sikhs, Marathas and Jats. He adopted a tough policy against non-muslims subjects. Among the Hindu temples he demolished were the three most sacred: the Kashi Vishwanath temple, Kesava Deo temple and Somnath temple. He built large mosques in their place.

Aurangzeb's policies

Aurangzeb's policies partly abandoned the legacy of pluralism, which remains a very controversial aspect of his reign. Rebellions and wars led to the exhaustion of the imperial Mughal treasury and army. He was a strong and effective ruler, but with his death the great period of the Mughal Empire came to an end, and centralized control of the empire declined rapidly.

Jats and Aurangzeb

Ram Sarup Joon[1] writes that...The Muslim rulers ruled by oppression and the Jazia levied on Hindus continued, till Akbar came to the throne. He appreciated the drawbacks of this policy and planned to win the loyalty and confidence of the Hindus who after all formed the major part of the Empire. He also bestowed high ranks upon Hindus. He married Jodha Bai, a Rajput Princess and won the obedience and loyalty of the Rajputs. This liberal policy continued till the reign of Shah Jehan. The Hindus remained happy and satisfied during this period.

When Aurangzeb came to power he changed the prevalent policy. He again levied Jaziya on Hindus to satisfy his religious fervour. This was bitterly opposed by Rana Raj Singh who sent a note to the Emperor that he should be prepared for the consequences. When Raja Jaswant Singh was killed, his queen and son were ordered to be detained in Delhi by the Moghuls. This order was not carried out and Rathore Rajputs unsheathed their swords for a fateful fight. Chief Durga Dass sounded the clarion call and unfurled the flag of rebellion against Muslim rule. With these incidents Aurangzeb lost faith in Rajputs and their loyalty to the throne became suspect. He used to detail a Muslim Chief as an observer in every


History of the Jats, End of Page-151


campaign to report on the Rajputs activities, on the battle field.

This was resented by most of the Rajput 'Chiefs in the'Moghul Army except Sawai Raja Jai Singh Kachhawaha of Jaipur who continued " his unflinching loyalty' to Moghul rule.

Aurangzeb did not like 'Shiya' Muslims and was desirous of ending the Shia Kingdom of Ahmednagar. The Deccan being a hilly country, was a hard nut to crack and the annexation of Ahmednagar was not an easy task. Aurangzeb therefore waited for a favourable time. The Shiyas of Ahmednagar smelt this danger and became more vigilant. They, however, neglected to tighten up the internal administration which cracked in the wake of continuous threat from Moghuls.

Chhatrapati Shiva Ji, who was a daring and courageous youth exploited this sift between Muslim rulers. He organised a well disciplined army and started a guerilla warfare. He succeeded in capturing several forts in Deccan and established an independent kingdom.

Aurangzeb was witnessing these Maratha raid(s) calmly, because he was interested in the weakness of Ahmednagar, and its annexation by him. But Shivaji did not spare even Aurangzeb and started raiding Moghul territory. Aurangzeb had no recourse except to come forward and battle. By this time , Shiva Ji had gained much reputation and popularity amongst the Hindus. Aurangzeb had a tough time for 30 years at the hand of the Marathas till Shiva Ji died in 1680.

In spite of strong opposition from all quarters, Aurangzeb continued his ignoble deeds of demolishing temples and breaking idols, imposing restrictions on Hindu merchants and giving a fillip to Muslims to Have a brisk trade in his rule. The Jats kept opposing him and he continued his oppression towards Jats, he tried to subjugate them but never succeeded in any appreciable measure.


Ram Sarup Joon[2] writes .... Emperor Aurangzeb's ambition: Emperor Aurangzeb was conscious of the density of Jat population in the Indo-Gangetic plain surrounding his Capital Delhi. It was his ambition to convert these brave and industrious people to Muslim religion and thus strengthen the Muslim rule in India. In his autobiography he has recorded his views that this task could only be completed by coercion and continuous pressure on the Jat community, but he failed. This was mainly because the whole Jat population was socio-politically knitted into Khaps in an orderly manner and could easily rise as one man against any oppression when their reputation and honour was at stake. Further they, had the courage and power of resistance.

Battle Of Tilpat: To implement his oppressive policy towards the Jats, Aurangzeb appointed the fanatic Chief Murshid Ali Khan as ruler of Mathura and Abdul Ghani Khan as Subedar of Agra. Abdul Ghani Khan concentrated on looting the Hindus and demolishing of temples. Murshid Ali started roaming the villages in quest of pretty women. With a Muslim patrol all disguised as Hindus, he went to a fair at Mathura, Spotting


History of the Jats, End of Page-153


some beautiful Hindu girls, he carried them by force to the boats waiting on the banks of River Jamuna, raped them and then transported them to the Moghul Court at Delhi. When this act came to be known, the Jats Khaps of Agra got together A leader Gokal Singh unfurled his turban as an improvised banner and 20,000 Jats volunteered in the field of Tilpat situated 12 miles from Delhi near Okhla.

Gokala sent a messenger to Aurangzeb that Jats were ready for battle against the Moghul forces, which should be sent forth with for the final decision. Aurangzeb replied through the messenger that their stand against the royal army would be disastrous and they should return to their homes, their grievances would be redressed and due compensation paid. Jats were too hurt to care for the compensation. Gokal Singh sent the reply

'Lost reputation can not be compensated so easily'. Jats have had enough of your rule, therefore they have come for a decision. Come Forward'.

Aurangzeb ordered a huge army under the command of Chiefs Syed Hasan Ali and Jehan Khan with implicit instructions to crush the obstinate Jats. The king himself rode in the 'howdaha' of an elephant in personal command of heavy artillery. A bloody battle ensued, in which a large number of casualties occurred on both sides. The artillery fire scattered the Jats. Gokal Singh, was captured, taken to Agra and mercilessly hatched limb by limb. The Jats dispersed but continued raiding royal pargnas around Tilpat.

The death of Gokal Singh roused the spirit of the Jats, who pledged to continue their struggle. One leader after another came to the fore till the Moghul rule came to an end.


Thakur Deshraj[3] writes that ...Khemkaran was warrior born in Sogarwars. He had stopped all the roads passing by this area for convoys of Aurangzeb. He along with his friend Ramki Chahar created a terror among the Mughal circles in the Agra, Dholpur and Gwalior region. The Mugal sardars were terrified due to their anti-imperialist activities. Bharatpur was part of his state. He is said to be so strong that he could kill two tigers at a time on both sides with a dagger. The Mughal emperor had to award him the title of Faujdar to pacify the Jat and assigned him the duty of ensuring safe passage of the passengers through this area.

The burning of Akbar's bones by Jats during Aurangzeb's times

Reputed historian Kalika Ranjan Qanungo[4] writes that ...On 28th March 1688, Mir Ahmad, the custodian of the tomb of Akbar, reported to the Emperor (Aurangzeb) that at night a party of Rajaram's men had fallen upon the tomb and carried off its carpets, vessels, lamps and other decorations. Another report was to the effect that Rajaram had sacked eight villages assigned for the support of Shah Jahan's tomb near Agra.

The extant news-letters do not mention the burning of Akbar's bones by the Jat rebels, for which the only authority hitherto known is Manucci. But Aurangzeb's inexorable wrath towards the Jats and his repeated orders for the general massacre of the Jat people, which these letters mention again and again, lend support to the belief that the current rumour about the burning of Akbar's bones was probably based on truth.
Several letters' to Bishan Singh (Raja of Jaipur) from his Court agent Kesho Rai tell us of the Emperor's (i.e. Aurangzeb's) constant anxiety at the growing menace of the Jat rising and his impatience at the delay of Bishan Singh in taking the field against them. The Raja was repeatedly told that he would be most highly rewarded if he could subdue the Jats and capture Sinsini before the arrival of Prince Bidar Bakht for the same purpose. But he delayed. At last he joined his forces with those of the prince and laid siege to Sinsini. Bidar Bakht having been soon afterwards recalled, Bishan Singh was left in supreme command of the Jat expedition. The Jaipur general Hari Singh conducted the siege of Sinsini and carried on punitive operations. In one encounter with the rebels, Hari Singh was severely wounded, and a rumour even spread that he had been killed. The Jats, probably under pressure of scarcity within the walls, secretly evacuated Sinsini and the Jaipur troops occupied it after a show of assault! This was the version of the affair that reached Aurangzeb, and naturally he refused to give any reward to Bishan Smgh. The Jaipur agent at the imperial Court tried hard to contradict this news as a malicious fabrication of his master's enemies, and at the same time wrote to Bishan Singh to placate the local waqianavis with rich bribes and induce him to magnify the heroic services of the Jaipur troops!

सम्राट् औरंगजेब और जाट

औरंगजेब (सन् 1658 से 1707 ई०) के शासनकाल में संवत् 1718 (सन् 1661 ई०) को छपरौली गांव जिला मेरठ में सर्वखाप पंचायत की बैठक हुई जिसमें भिन्न-भिन्न खापों के 40,000 लोगों ने भाग लिया। इस बैठक में औरंगजेब द्वारा हिन्दुओं पर फिर से लगाया गया जजिया एवं खापों और सर्वखाप पंचायत के कार्य करने पर पाबन्दी और उसकी साम्प्रदायिक हठनीतियों की खुले तौर पर आलोचना तथा कड़ा विरोध किया गया। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि औरंगजेब के दरबार में जाकर उसके इन आदेशों तथा साम्प्रदायिक नीतियों के प्रति विरोध प्रकट किया जाये और कहा जाये कि शाही दरबार अपनी इस कूटनीति को बदले।

ऐसा करने के लिए पंचायत के 21 पंच औरंगजेब के दरबार में गये जिनको औरंगजेब ने बन्दी बना लिया और सबको मौत के घाट उतरवा दिया दस्तावेज 49 सर्वखाप रिकार्ड)।

इस घटना के विषय में हस्तलिखित अप्रकाशित सर्वखाप पंचायत के इतिहास से श्री जगदेवसिंह शास्त्री सिद्धान्ती ने एक लेख दिया है जो सुधारक बलिदान विशेषांक, लेखक श्री भगवान् देव आचार्य, पृ० 152-154 पर निम्न प्रकार से लिखा है -


रामगढ़ के युद्ध में सर्वखाप पंचायत के वीर सैनिकों ने औरंगजेब के विरुद्ध बादशाह शाहजहाँ और दारा का साथ दिया था। औरंगजेब ने धोखा देकर सर्वखाप पंचायत के कुछ नेताओं को देहली बुलाया। उनको दिल्ली दरबार में कपट जाल से पकड़कर बन्दी बना लिया गया। इन वीरों के नाम यह हैं -
1. राव हरिराय 2. धूमसिंह 3. फलसिंह 4. सीसराम 5. हरदेवसिंह 6. रामलाल 7. बलीराम 8. लालचन्द 9. हरिपाल 10. नवलसिंह 11. गंगाराम 12. चन्दूराम

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-588


13. हरसहाय 14. नेतराम 15. हरबंश 16. मनसुख 17. मूलचन्द 18. हरदेवा 19. रामनारायण 20. भाला 21. हरद्वारी। इनमें 1 ब्राह्मण, 1 वैश्य, 1 त्यागी, 1 गुर्जर. 1 सैनी, 1 रवा, 1 रोड 3 राजपूत और 11 जाट थे।
ये सब बड़े वीर योद्धा और शिक्षित नेता थे। क्योंकि इनको शुभ निमन्त्रण के नाम पर बुलाया गया था, अतः इनकी देवियां तथा कुछ व्यक्ति भी इनके साथ देहली पहुंचे थे। उस समय इन नेताओं के मुखिया राव हरिराय और औरंगजेब की बातों का सारांश निम्न प्रकार से है –
औरंगजेब - तुम बागी हो, तुमने द्रोह किया है। तुमने दारा का साथ दिया था।
राव हरिराय - आपकी बात मिथ्या है। निमन्त्रण देकर समझौते के लिए बुलाया और धोखा देकर पकड़वा लिया, अब हमें बागी कहते हो? हमने देश के बादशाह का साथ दिया था। दारा उसके साथ था।
औरंगजेब - इस्लाम कबूल करो या मौत?
राव हरिराय - इस्लाम में क्या खूबी है?
औरंगजेब - इस्लाम खुदा का दीन (धर्म) है।
राव हरिराय - क्या खुदा भी गलती करता है, जो अपने दीन में सबको पैदा नहीं करता? खुदा के दीन के खिलाफ लोगों के घर में सन्तान क्यों होती है? यह दीन खुदा का नहीं है। यह तेरा दीन है।
औरंगजेब - मैं खुदा और पैगम्बर के हुक्म को मानता हूं, दूसरे को नहीं। कुरानशरीफ खुदा की किताब है, वह सच्ची है और सब झूठे हैं।
राव हरिराय - मैंने कुरान को कई बार पढ़ा है। उसमें यह कहीं नहीं लिखा कि बाप को कैद कर लो, भाई-भतीजों को मार दो और जनता पर अत्याचार करो। क्या खुदा और रसूक का ऐसा हुक्म है? जनता की दृष्टि में तू जालिम है। यदि कुछ साहस है तो तलवार पकड़ और अपने 21 सैनिकों को बुला ले और उन्हीं में तू शामिल हो जा। हम भी 21 हैं। बाहर निकलकर मुकाबला कर, कुछ ही समय में नतीजा मालूम पड़ जाएगा।
औरंगजेब - तुम मेरे पिंजड़े में बन्द हो। निकलने के दो ही रास्ते हैं - इस्लाम और मौत एक को मानना ही पड़ेगा।
राव हरिराय - आत्मा अजर, अमर, अविनाशी है। यह शरीर हटा, दूसरा तैयार है। हम अपने धर्म को छोड़कर इस्लाम धर्मी कभी नहीं बनेंगे। तुझे जो करना है, कर। तेरे जीवन में तेरा बेड़ा गरक़ हो जाएगा।
औरंगजेब के आदेश पर उसी समय उन 21 वीरों को चान्दनी चौक ले जाया गया और उनको फांसी दे दी गई। वे वीर सं० 1727 वि० कार्तिक कृष्णा दशमी को मातृभूमि के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे गए। यह कुकृत्य दिन के 10 बजे किया गया।
राजा जयसिंह के बहुत कहने-सुनने पर मृतक शरीर पंचायत के लोगों को दे दिए गये। दिन

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-589


के एक बजे इन वीरों की वीरांगनाओं ने भी अपने-अपने पतियों की जलती चिताओं में परिक्रमापूर्वक अपने प्राणों की बलि चढ़ा दी और सती हो गईं। देहली का राजघाट आज भी उन वीरों की धधकती चिताओं की साक्षी दे रहा है।
राव हरिराय का बालकपन का साथी नजफअली सूफी 33 वर्षीय ब्रह्मचारी था। वह पंचायत का बड़ा पक्षपाती था। उसने औरंगजेब को बहुत कठोर शब्द कहे और जालिम ठहराया। औरंगजेब ने इस फकीर को भी 100 कोड़े लगवाये और मैदान में फिकवा दिया। फकीर जब होश में आया तब पूछा “मेरा प्यारा मित्र हरिराय कहां है”? पता चलने पर फकीर नजफअली हरिराय की चिता के पास गया। उसने मित्र की चिता की 7 बार परिक्रमा की और जलती चिता में कूदकर अपने मित्र के साथ न्याय की रक्षा के लिए अन्याय के विरुद्ध अपने प्राणों का बलिदान दे दिया।

औरंगजेब भारतवर्ष में एक इस्लामी राज्य स्थापित करना चाहता था। वह यहां पर मूर्तिपूजा को सहन नहीं कर सकता था। परिणामस्वरूप उसने हिन्दू धर्म के प्रति न केवल असहिष्णुता की, अपितु अत्याचार की नीति अपनाई। ऐसी नीति उसके और उसके वंश के लिये घातक सिद्ध हुई। सन् 1669 ई० में उसने बहुत से मन्दिर जैसे - गुजरात का सोमनाथ मन्दिर, बनारस का विश्वनाथ मन्दिर तथा मथुरा का केशवदेव मन्दिर गिरवा दिये।

हिन्दुओं पर जजिया एवं 5% चुंगी कर लगा दिए। धर्म परिवर्तन को प्रोत्साहन दिया जाने लगा। जो हिन्दू मुसलमान बन जाते उन्हें पुरस्कार और ऊंची सरकारी नौकरियां दी जाती थीं। उसने हिन्दुओं को बलपूर्वक मुसलमान बनाना आरम्भ कर दिया। सन् 1668 में उसने हिन्दू मेले बन्द करवा दिए। हिन्दुओं पर बड़े-बड़े अत्याचार होने लगे।

औरंगजेब के इन अत्याचारों से हिन्दू जाति में सामूहिक रूप से विद्रोह की ज्वाला प्रज्वलित होने लगी।

(1) मथुरा प्रदेश के जाटों ने गोकुल जाट के नेतृत्व में विद्रोह कर दिया। इसके बाद आगरा, मथुरा एवं वृन्दावन के जाटों ने मुगल शासन के विरुद्ध युद्ध जारी रखा जिसके कारण भरतपुर जाट राज्य की स्थापना हुई। इसका पूरा वर्णन आगे अष्टम अध्याय में लिखा जायेगा।

(2) सतनामी (साध जाट) विद्रोह - दूसरा प्रबल विद्रोह सन् 1672 ई० में सतनामियों ने नारनौल क्षेत्र में किया। सतनामी शब्द का अर्थ है ईश्वर के सतनाम में विश्वास करने वाला। सतनामी एक प्रतिष्ठित और शक्तिशाली संघ था (जिनको साध जाट भी कहते हैं)। यदि कोई इनको शक्ति के बल पर दबाना चाहता तो ये लोग इसे सहन नहीं कर सकते थे। इन लोगों का प्रधान केन्द्र नारनौल (हरयाणा प्रदेश) और मेवात प्रदेश था।

सन् 1672 ई० में एक शाही सिपाही ने एक सतनामी किसान का सिर तोड़ दिया जिससे सारा सतनामी संघ बिगड़ गया। उन्होंने उस शाही सिपाही को मृतप्राय करके छोड़ दिया। जब स्थानीय शिकदार (हाकिम) ने अपराधी को कैद करना चाहा तो सतनामी इकट्ठे हुए और उन्होंने विद्रोह का झण्डा खड़ा कर दिया। नारनौल का फौजदार अपनी सेना लेकर वहां पहुंचा। परन्तु युद्ध में उनकी हार हुई और उसने युद्धक्षेत्र से भागकर अपनी जान बचाई।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-590


जब औरंगजेब को इसकी सूचना मिली, तो उसने एक के बाद एक करके कई शाही सेनायें इस विद्रोह को दबाने के लिए भेजीं। परन्तु सतनामियों ने इन सब सेनाओं को करारी हार दी।

मुगलों पर सतनामियों का रौब जम गया। औरंगजेब ने अन्त में मुगलों की एक शक्तिशाली सेना भेजी जिसका सतनामियों के साथ भयंकर युद्ध हुआ जिसमें शाही सेना विजयी हुई। लगभग 2,000 सतनामी मारे गये और बाकी भाग खड़े हुए। विद्रोह बड़ी क्रूरता से दबा दिया गया1

आज भी जाटों में साध या सतनामी कहलाने वालों की संख्या बहुत है। हरयाणा प्रान्त के कई गांवों में ये लोग पाए जाते हैं।

उत्तरप्रदेश के फरुखाबाद जिले में इन लोगों की बड़ी संख्या है।

(3) राजपूतों से युद्ध - औरंगजेब ने जोधपुर के राजा जसवन्तसिंह को जमरूद (पैशावर से पश्चिम में) का फौजदार नियुक्त किया था, जिसका 10 दिसम्बर सन् 1678 ई० को स्वर्गवास हो गया। इस घटना से औरंगजेब को बड़ी प्रसन्नता हुई। औरंगजेब जोधपुर राज्य को अपने अधिकार में लेना चाहता था परन्तु जोधपुर के प्रसिद्ध सैनिक सरदार दुर्गादास राठौर ने वीरता के साथ एक लम्बे समय तक मुगलों का सामना किया। दुर्गादास का राजपूतों के इतिहास में एक विशिष्ट स्थान है। इसमें असाधारण साहस और मारवाड़ वंश के प्रति असीम भक्ति थी।

उसने जसवन्तसिंह की रानी एवं बालक पुत्र को बड़ी चतुराई एवं साहस से औरंगजेब की कैद से छुड़ाकर जुलाई 1679 ई० को जोधपुर पहुंचा दिया। उस राजकुमार का नाम अजीतसिंह था जिसको राजा मानकर दुर्गादास ने मुगलों से संघर्ष जारी रखा। रानी ने, जो मेवाड़ की राजकुमारी थी, वहां राणा राजसिंह से सहायता मांगी। राणा ने अनाथ राजकुमार को अपनी शरण में ले लिया। मुगलों के जोधपुर पर आक्रमण और अत्याचार के कारण राठौर और मेवाड़ के सिसोदियों ने परस्पर मिलकर एक संयुक्त मोर्चा स्थापित किया। औरंगजेब ने मेवाड़ पर एक बड़ी सेना के साथ आक्रमण किया। राजपूतों के विरुद्ध युद्ध में औरंगजेब को कोई विशेष सफलता नहीं मिली। उसके साम्राज्य की प्रतिष्ठा को धक्का लगा2

(4) सिक्खों से विद्रोह - सिक्ख धर्म के संस्थापक गुरु नानक जी का जन्म लाहौर से कुछ मील दूर तलवण्डी नामक गांव में सन् 1469 ई० में हुआ। उन्होंने सत्य के ज्ञान के लिए धर्म-यात्रा और धर्म-प्रचारक का जीवन अपनाया। वे सभी धर्मों को समान समझते थे। उनका कथन था कि मुक्ति का मार्ग ईश्वर की पूरा और अच्छे कर्मों द्वारा है। उनकी मृत्यु के पश्चात् गुरु अंगद, गुरु अमरदास और गुरु रामदास ने उनकी शिक्षाओं का प्रचार किया। चौथे गुरु रामदास अकबर से मिले थे। उनसे वार्तालाप करके बादशाह बहुत प्रसन्न हुआ और उसने पंजाब में कुछ भूमि दान के रूप में दे दी थी, जिस पर उन्होंने अमृत सर अथवा अमृत के तालाब का निर्माण करवाया, जो बाद में सिक्खों का मुख्य धार्मिक केन्द्र बना। पांचवें गुरु अर्जुनदेव सन् 1581 ई० में गद्दी पर बैठे। उन्होंने ग्रन्थ साहिब का संपादन किया और सिक्खों को निश्चित आदर्शवाली एक जाति के रूप में परिणत कर दिया। खुसरो का पक्ष लेने के कारण जहांगीर उनसे अप्रसन्न हो गया। वे बन्दीगृह में डाल दिये गये,


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-591


जहाँ घोर कष्ट देकर सन् 1606 ई० में उनके जीवन का अन्त कर दिया गया। गुरु अर्जुनदेव की हत्या से सिक्ख बड़े कुपित हुए। अपने नवीन गुरु हरगोविन्द (सन् 1606 - 1645 ई०) के नेतृत्व में सिक्खों ने अपने को एक सैनिक संघ के रूप में परिवर्तित कर दिया और शस्त्र धारण की नीति अपनाई। सातवें और आठवें गुरु हरराय और हरकृष्ण के काल में कोई विशेष घटना नहीं हुई। नवें गुरु तेगबहादुर का सन् 1675 ई० में औरंगजेब ने दिल्ली में वध करवा दिया। इस हत्या का कारण यह था कि गुरु तेगबहादुर ने औरंगजेब की हिन्दू-धर्म पर आघात और मन्दिरों को अपवित्र करने वाली नीति का विरोध किया था। बादशाह ने गुरु को दिल्ली बुलवाया और कारागार में डाल दिया। उनसे इस्लाम-धर्म स्वीकार करने के लिए कहा गया, किन्तु उन्होंने ऐसा करने से साफ इन्कार कर दिया तो उनका सिर काट दिया गया। सिक्खों में अब तक कहावत है कि गुरु ने सिर दिया, सार न दिया।

इस घटना से सिक्ख मुगलों के विरुद्ध भड़क उठे और गुरु तेगबहादुर के पुत्र दसवें और अन्तिम गुरु गोविन्दसिंह के नेतृत्व में एक लम्बे समय तक मुगलों का दृढ़ता पूर्वक मुकाबला किया। उन्होंने सिक्खों को सैनिक सांचे में ढालने के लिए सन् 1699 ई० में ‘खालसा’ का निर्माण किया। उन्होंने अपने अनुयायियों पर पांच कक्के अर्थात् केश, कंघा, कड़ा, कच्छा और कृपाण धारण करने का आदेश दिया। कई स्थानों पर सिक्खों और मुग़ल सेना में युद्ध हुए। गुरुजी के दो पुत्र युद्ध में मारे गये और दो फतेहसिंह एवं जोरावरसिंह नामक पुत्र सरहिन्द के फ़ौजदार के हाथों पड़ गये। फ़ौजदार ने उन्हें मुसलमान बनने पर बड़ा दबाव डाला परन्तु उन वीरों ने वीरता से उत्तर दिया कि हम अपना धर्म कभी नहीं छोड़ेंगे। इस पर मुगल फौजदार ने उन्हें बड़ी निर्दयता के साथ दीवार में चिनवा दिया। परन्तु सिक्खों ने बड़े साहस और संकल्प के साथ औरंगजेब की मृत्यु तक संघर्ष जारी रखा। गुरु गोबिन्दसिंह हारकर दक्षिण में चले गये। वे नान्देड़ (महाराष्ट्र) में रहने लगे। उनके एक सेवक पठान ने उन्हें वहां सन् 1708 ई० में छुरा घोंपकर मार डाला। गुरु गोविन्दसिंह बड़े दूरदर्शी थे। वे जानते थे कि गद्दी के लिए सिक्खों में संघर्ष अवश्य होगा। अतः उन्होंने गुरु की गद्दी तोड़ दी और सेना के नेतृत्व के लिए बन्दा को वहां से पंजाब को भेजा3

बन्दा बैरागी के बलिदान के पश्चात् पंजाब में जाट सिक्खों के राज्य के विषय में आगे अलग अध्याय में लिखा जायेगा।

(5) दक्षिण में मराठा शक्ति का उदय - औरंगजेब की हिन्दू विरोधी नीति के कारण मराठा जाति ने वीर शिवाजी (सन् 1627-1680 ई०) के नेतृत्व में स्वतन्त्रता संग्राम आरम्भ कर दिया। मराठा लोग औरंगजेब की मृत्यु तक संघर्ष करते रहे। मुगल सम्राट् ने उनकी शक्ति को कुचलने के लिए अनेक युद्ध किए परन्तु मराठों की गुरिल्ला युद्ध-शैली, देशप्रेम और भौगोलिक परिस्थितियों के सामने औरंगजेब को कोई सफलता न मिली। इतने लम्बे संघर्ष ने राज्य को खोखला कर दिया और मुगल राज्य की सत्ता को भारी धक्का लगा। छत्रपति शिवाजी दक्षिण भारत में एक स्वतन्त्र राज्य स्थापित करने में सफल हुए। उनके राज्य में पुर्तगाली प्रदेश (दमन, सालसेट, बसीन) को


1, 2, 3. मध्यकालीन भारत का संक्षिप्त इतिहास, पृ० 466-469 एवं 464-466, लेखक ईश्वरीप्रसाद; भारत का इतिहास पृ० 202-204, हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-592


छोड़कर, उत्तर में धर्मपुर से लेकर दक्षिण में कारवार तक समूचा किनारा था। पूर्व में राज्य की सीमा नासिक से कोल्हापुर तक तथा बेलगांव से लेकर तुंगभद्रा नदी तक थी। इसके अतिरिक्त आधुनिक मैसूर तथा तमिलनाडु के राज्यों में भी कुछ प्रदेश शिवाजी के अधिकार क्षेत्र में थे। मुगल राज्य के कुछ प्रदेशों पर भी शिवाजी का अधिकार था। यह प्रदेश प्रायः मुगलाई (मुगल राज्य का भाग) कहलाता था। यहां से मराठा एक प्रकार का कर वसूल करते थे जिसे ‘चौथ’ कहा जाता था। चौथ प्रदेश की आमदनी का चौथा हिस्सा होता था। सन् 1680 ई० में शिवाजी की मृत्यु होने पर उसका बड़ा पुत्र शम्भुजी राजगद्दी पर बैठा। उसके बाद शिवाजी के दूसरे पुत्र राजाराम ने मुगलों से लड़ाई जारी रखी। सन् 1699 ई० में औरंगजेब स्वयं मराठों को पराजित करने गया। सन् 1700 ई० में राजाराम की मृत्यु होने पर राजमाता ताराबाई ने अपने पुत्र शिवाजी द्वितीय को सिंहासन पर बैठाया और संरक्षिका का काम करने लगी। ताराबाई ने साहस और शक्ति से मराठों का नेतृत्व किया। मुगलों की लगातार कौशिशों के बावजूद वे न तो मराठों की शक्ति कुचल सके और न ही उनके देश को जीत सके। औरंगजेब की सन् 1707 में मृत्यु हो गई। इसके बाद 18वीं शताब्दी में मराठे भारत की जबरदस्त शक्ति बने। (भारत का इतिहास, पृ० 208-210 और 213, हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी)।

सम्राट् औरंगजेब और जाट वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह

वीरवर गोकुल सिंह

मुगल साम्राज्य के विरोध में विद्रोह

मुगल साम्राज्य के राजपूत सेवक भी अन्दर ही अन्दर असंतुष्ट होने लगे परन्तु जैसा कि "दलपत विलास" के लेखक दलपत सिंह [सम्पादक: डा. दशरथ शर्मा] ने स्पष्ट कहा है, राजपूत नेतागण मुगल शासन के विरुद्ध विद्रोह करने की हिम्मत न कर सके । असहिष्णु, धार्मिक, नीति के विरुद्ध विद्रोह का बीड़ा उठाने का श्रेय उत्तर प्रदेश के कुछ जाट नेताओं और जमींदारों को प्राप्त हुआ । आगरा, मथुरा, अलीगढ़, इसमें अग्रणी रहे । शाहजहाँ के अन्तिम वर्षों में उत्तराधिकार युद्ध के समय जाट नेता वीर नंदराम ने शोषण करने वाली धार्मिक नीति के विरोध में लगान देने से इंकार कर दिया और विद्रोह का झंडा फहराया [5] तत्पश्चात वीर नंदराम का स्थान उदयसिंह तथा गोकुलसिंह ने ग्रहण किया [6]

इतिहास के इस तथ्य को स्वीकार करना पड़ेगा की राठौर वीर दुर्गादास के पहले ही उत्तर प्रदेश के जाट वीरों को कट्टरपंथी मुग़ल सम्राटों की असहिष्णु नीतियों का पूर्वाभास हो चुका था । गोकुल सिंह मथुरा, वृन्दावन, गोवर्धन तथा हिंडौन और महावन की समस्त हिंदू जनता के नेता थे तिलपत की गढ़ी उसका केन्द्र थी । जब कोई भी मुग़ल सेनापति उसे परास्त नहीं कर सका तो अंत में सम्राट औरंगजेब को स्वयं एक विशाल सेना लेकर जन-आक्रोश का दमन करना पड़ा । [7]

आज मथुरा, वृन्दावन के मन्दिर और भारतीय संस्कृति की रक्षा का तथा तात्कालिक शोषण, अत्याचार और राजकीय मनमानी की दिशा मोड़ने का यदि किसी को श्रेय है तो वह केवल 'गोकुलसिंह' को है । [8]

इस बात की चेतना कम ही लोगों को होगी कि वीरवर गोकुलसिंह का बलिदान, गुरू तेगबहादुर से ६ वर्ष पूर्व हुआ था । दिसम्बर १६७५ में गुरू तेगबहादुर का वध कराया गया था - दिल्ली की मुग़ल कोतवाली के चबूतरे पर जहाँ आज गुरुद्वारा शीशगंज शान से मस्तक उठाये खड़ा है । गुरू के द्वारा शीश देने के कारण ही वह गुरुद्वारा शीशगंज कहलाता है । दूसरी ओर, जब हम उस महापुरुष की ओर दृष्टि डालते हैं जो गुरू तेगबहादुर से ६ वर्ष पूर्व शहीद हुआ था और उन्ही मूल्यों की रक्षार्थ शहीद हुआ था, और जिसको दिल्ली की कोतवाली पर नहीं, आगरे की कोतवाली के लंबे-चौड़े चबूतरे पर, हजारों लोगों की हाहाकार करती भीड़ के सामने, लोहे की जंजीरों में जकड़कर लाया गया था और जिसको-जनता का मनोबल तोड़ने के इरादे से बड़ी पैशाचिकता के साथ, एक-एक जोड़ कुल्हाड़ियों से काटकर मार डाला गया था, तो हमें कुछ नजर नहीं आता । गोकुलसिंह सिर्फ़ जाटों के लिए शहीद नहीं हुए थे न उनका राज्य ही किसी ने छीना लिया था, [9] न कोई पेंशन बंद करदी थी, बल्कि उनके सामने तो अपूर्व शक्तिशाली मुग़ल-सत्ता, दीनतापुर्वक, संधी करने की तमन्ना लेकर गिड़-गिड़ाई थी । शर्म आती है कि हम ऐसे अप्रतिम वीर को कागज के ऊपर भी सम्मान नहीं दे सके । कितना अहसान फ़रामोश कितना कृतघ्न्न है हमारा हिंदू समाज ! शाही इतिहासकारों ने उनका उल्लेख तक नही किया । गुरू तेगबहादुर की गिरफ्तारी और वध का उल्लेख किसी भी समकालीन फारसी इतिहासग्रंथ में नहीं है । मेवाड़ के राणा प्रताप से लड़ने अकबर स्वयं नहीं गया था परन्तु ब्रज के उन जाट योद्धाओं से लड़ने उसे स्वयं जाना पड़ा था । फ़िर भी उनको पूर्णतया दबाया नहीं जा सका और चुने हुए सेनापतियों की कमान में बारम्बार मुग़ल [10] सेनायें जाटों के दमन और उत्पीड़न के लिए भेजी जाती रहीं और न केवल जाट पुरूष बल्कि उनकी वीरांगनायें भी अपनी ऐतिहासिक दृढ़ता और पारंपरिक शौर्य के साथ उन सेनाओं का सामना करती रहीं । दुर्भाग्य की बात है कि भारत की इन वीरांगनाओं और सच्चे सपूतों का कोई उल्लेख शाही टुकडों पर पलने वाले तथाकथित इतिहासकारों ने नहीं किया । हमें उनकी जानकारी मनूची नामक यूरोपीय यात्री के वृतान्तों से होती है । उसी के शब्दों में एक अनोखा चित्र देखिये, जो अन्य किसी देश या जाति के इतिहास में दुर्लभ है:

"उसे इन विद्रोहियों के कारण असंख्य मुसीबतें उठानी पड़ीं और इन पर विजयी होकर लौटने के बाद भी, उसे अनेक बार अपने सेनापतियों को इनके विरुद्ध भेजने के लिए मजबूर होना पड़ा । विद्रोही गांवों में पहुँचने के बाद, ये सेनानायक शाही आज्ञाओं का पालन क़त्ल और सिर काटकर किया करते थे । अपनी सुरक्षा के लिए ग्रामीण कंटीले झाडियों में छिप जाते या अपनी कमजोर गढ़ियों में सरण लेते । स्त्रियां भाले और तीर लेकर अपने पतियों के पीछे खड़ी हो जातीं । जब पति अपने बंदूक को दाग चुका होता, पत्नी उसके हाथ में भाला थमा देती और स्वयं बंदूक को भरने लगती थी । इस प्रकार वे उस समय तक रक्षा करते थे, जब तक कि वे युद्ध जारी रखने में बिल्कुल असमर्थ नहीं हो जाते थे । जब वे बिल्कुल ही लाचार हो जाते, तो अपनी पत्नियों और पुत्रियों को गरदनें काटने के बाद भूखे शेरों की तरह शत्रु की पंक्तियों पर टूट पड़ते थे और अपनी निश्शंक वीरता के बल पर अनेक बार युद्ध जीतने में सफल होते थे" । [11]

औरंगजेब की धर्मान्धता पूर्ण नीति

सर यदुनाथ सरकार लिखते हैं - "मुसलमानों की धर्मान्धता पूर्ण नीति के फलस्वरूप मथुरा की पवित्र भूमि पर सदैव ही विशेष आघात होते रहे हैं. दिल्ली से आगरा जाने वाले राजमार्ग पर स्थित होने के कारण, मथुरा की ओर सदैव विशेष ध्यान आकर्षित होता रहा है. वहां के हिन्दुओं को दबाने के लिए औरंगजेब ने अब्दुन्नवी नामक एक कट्टर मुसलमान को मथुरा का फौजदार नियुक्त किया. [12] सन १६७८ के प्रारम्भ में अब्दुन्नवी के सैनिकों का एक दस्ता मथुरा जनपद में चारों ओर लगान वसूली करने निकला. अब्दुन्नवी ने पिछले ही वर्ष, गोकुलसिंह के पास एक नई छावनी स्थापित की थी. सभी कार्यवाही का सदर मुकाम यही था. गोकुलसिंह के आह्वान पर किसानों ने लगान देने से इनकार कर दिया. मुग़ल सैनिकों ने लूटमार से लेकर किसानों के ढोर-डंगर तक खोलने शुरू कर दिए. बस संघर्ष शुरू हो गया. [13]

तभी औरंगजेब का नया फरमान ९ अप्रेल १६६९ आया - "काफ़िरों के मदरसे और मन्दिर गिरा दिए जाएं". फलत: ब्रज क्षेत्र के कई अति प्राचीन मंदिरों और मठों का विनाश कर दिया गया. कुषाण और गुप्त कालीन निधि, इतिहास की अमूल्य धरोहर, तोड़-फोड़, मुंड विहीन, अंग विहीन कर हजारों की संख्या में सर्वत्र छितरा दी गयी. सम्पूर्ण ब्रजमंडल में मुगलिया घुड़सवार और गिद्ध चील उड़ते दिखाई देते थे . और दिखाई देते थे धुंए के बादल और लपलपाती ज्वालायें- उनमें से निकलते हुए साही घुडसवार. [14]

अत्याचारी फौजदार अब्दुन्नवी का अन्त

मई का महिना आ गया और आ गया अत्याचारी फौजदार का अंत भी. अब्दुन्नवी ने सिहोरा नामक गाँव को जा घेरा. गोकुलसिंह भी पास में ही थे. अब्दुन्नवी के सामने जा पहुंचे. मुग़लों पर दुतरफा मार पड़ी. फौजदार गोली प्रहार से मारा गया. बचे खुचे मुग़ल भाग गए. गोकुलसिंह आगे बढ़े और सादाबाद की छावनी को लूटकर आग लगा दी. इसका धुआँ और लपटें इतनी ऊँची उठ गयी कि आगरा और दिल्ली के महलों में झट से दिखाई दे गईं. दिखाई भी क्यों नही देतीं. साम्राज्य के वजीर सादुल्ला खान (शाहजहाँ कालीन) की छावनी का नामोनिशान मिट गया था. मथुरा ही नही, आगरा जिले में से भी शाही झंडे के निशाँ उड़कर आगरा शहर और किले में ढेर हो गए थे. निराश और मृतप्राय हिन्दुओं में जीवन का संचार हुआ. उन्हें दिखाई दिया कि अपराजय मुग़ल-शक्ति के विष-दंत तोड़े जा सकते हैं. उन्हें दिखाई दिया अपनी भावी आशाओं का रखवाला-एक पुनर्स्थापक गोकुलसिंह. [15]

शफ शिकन खाँ ने गोकुलसिंह के पास संधि-प्रस्ताव भेजा

इसके बाद पाँच माह तक भयंकर युद्ध होते रहे. मुग़लों की सभी तैयारियां और चुने हुए सेनापति प्रभावहीन और असफल सिद्ध हुए. क्या सैनिक और क्या सेनापति, सभी के ऊपर गोकुलसिंह की वीरता और युद्ध-संचालन का आतंक बैठ गया. अंत में सितंबर मास में, बिल्कुल निराश होकर, शफ शिकन खाँ ने गोकुलसिंह के पास संधि-प्रस्ताव भेजा कि [16]-

१. बादशाह उनको क्षमादान देने के लिए तैयार हैं.

२. वे लूटा हुआ सभी सामान लौटा दें.

३. वचन दें कि भविष्य में विद्रोह नहीं करेंगे.

गोकुलसिंह ने पूछा मेरा अपराध क्या है, जो मैं बादशाह से क्षमा मांगूगा ? तुम्हारे बादशाह को मुझसे क्षमा मांगनी चाहिए, क्योंकि उसने अकारण ही मेरे धर्म का बहुत अपमान किया है, बहुत हानि की है. दूसरे, उसके क्षमादान और मिन्नत का भरोसा इस संसार में कौन करता है? [17]

इसके आगे संधि की चर्चा चलाना व्यर्थ था. गोकुलसिंह ने कोई गुंजाइश ही नहीं छोड़ी थी. औरंगजेब का विचार था कि गोकुलसिंह को भी 'राजा' या 'ठाकुर' का खिताब देकर रिझा लिया जायेगा और मुग़लों का एक और पालतू बढ़ जायेगा. हिंदुस्तान को 'दारुल-इस्लाम' बनाने की उसकी सुविचारित योजना निर्विघ्न आगे बढती रहेगी. मगर गोकुलसिंह के आगे उसकी कूटनीति बुरी तरह मात खा गयी. अत: औरंगजेब स्वयं एक बड़ी सेना लेकर, तोपों और तोपचियों के साथ, अपने इस अभूतपूर्व प्रतिद्वंदी से निपटने चल पड़ा. परम्पराएं और मर्यादा टूटने का यह एक ऐसा ज्वलंत और प्रेरक उदाहरण है, जिधर इतिहासकारों का ध्यान नहीं गया है. [18]

औरंगजेब २८ नवंबर १६६९ को मथुरा पहुँचा

यूरोपीय यात्री मनूची के वृत्तांत के अनुसार पहले अकबर को जाना पड़ा था और अब औरंगजेब को, जिसका साम्राज्य न सिर्फ़ मुग़लों में ही बल्कि उस समय तक सभी हिंदू-मुस्लिम शासकों में सबसे बड़ा था. यह थी वीरवर गोकुलसिंह की महानता. दिल्ली से चलकर औरंगजेब २८ नवंबर १६६९ को मथुरा जा पहुँचा. गोकुलसिंह के अनेक सैनिक और सेनापति जो वेतनभोगी नहीं थे, क्रान्ति भावना से अनुप्राणित लोग थे, रबी की बुवाई के सिलसिले में, पड़ौस के आगरा जनपद में चले गए थे. [19]

औरंगजेब ने अपनी छावनी मथुरा में बनाई और वहां से सम्पूर्ण युद्ध संचालन करने लगा. गोकुलसिंह को चारों ओर से घेरा जा रहा था. उसने एक और सेनापति हसन अली खाँ को एक मजबूत और सुसज्जित सेना के साथ मुरसान की ओर से भेजा. हसन अली खाँ ने ४ दिसंबर १६६९ की प्रात: काल के समय अचानक छापा मारकर, जाटों की तीन गढ़ियाँ - रेवाड़ा, चंद्ररख और सरखरू को घेरलिया. शाही तोपों और बंदूकों की मार के आगे ये छोटी गढ़ियाँ ज्यादा उपयोगी सिद्ध न हो सकीं और बड़ी जल्दी टूट गयी. [20]

हसन अली खाँ की सफलताओं से खुश होकर औरंगजेब ने शफ शिकन खान के स्थान पर उसे मथुरा का फौजदार बना दिया. उसकी सहायता के लिए आगरा परगने से अमानुल्ला खान, मुरादाबाद का फौजदार नामदार खान, आगरा शहर का फौजदार होशयार खाँ अपनी-अपनी सेनाओं के साथ आ पहुंचे . यह विशाल सेना चारों ओर से गोकुलसिंह को घेरा लगाते हूए आगे बढ़ने लगी. गोकुलसिंह के विरुद्ध किया गया यह अभियान, उन आक्रमणों से विशाल स्तर का था, जो बड़े-बड़े राज्यों और वहां के राजाओं के विरुद्ध होते आए थे. इस वीर के पास न तो बड़े-बड़े दुर्ग थे, न अरावली की पहाड़ियाँ और न ही महाराष्ट्र जैसा विविधतापूर्ण भौगोलिक प्रदेश. इन अलाभकारी स्थितियों के बावजूद, उन्होंने जिस धैर्य और रण-चातुर्य के साथ, एक शक्तिशाली साम्राज्य की केंद्रीय शक्ति का सामना करके, बराबरी के परिणाम प्राप्त किए, वह सब अभूतपूर्व है. [21]

तिलपत युद्ध दिसंबर १६६९

दिसंबर १६६९ के अन्तिम सप्ताह में तिलपत से २० मील दूर, गोकुलसिंह ने शाही सेनाओं का सामना किया. जाटों ने मुग़ल सेना पर एक दृढ़ निश्चय और भयंकर क्रोध से आक्रमण किया. सुबह से शाम तक युद्ध होता रहा. कोई निर्णय नहीं हो सका. दूसरे दिन फ़िर घमासान छिड़ गया. जाट अलौकिक वीरता के साथ युद्ध कर रहे थे. मुग़ल सेना, तोपखाने और जिरहबख्तर से सुसज्जित घुड़सवार सेनाओं के होते हूए भी गोकुलसिंह पर विजय प्राप्त न कर सके. भारत के इतिहास में ऐसे युद्ध कम हुए हैं जहाँ कई प्रकार से बाधित और कमजोर पक्ष, इतने शांत निश्चय और अडिग धैर्य के साथ लड़ा हो. हल्दी घाटी के युद्ध का निर्णय कुछ ही घंटों में हो गया था. पानीपत के तीनों युद्ध एक-एक दिन में ही समाप्त हो गए थे, परन्तु वीरवर गोकुलसिंह का युद्ध तीसरे दिन भी चला. [22]

तीसरे दिन, फ़िर भयंकर संग्राम हुआ. इसके बारे में एक इतिहासकार का कहना है कि जाटों का आक्रमण इतना प्रबल था कि शाही सेना के पैर उखड़ ही गए थे, परन्तु तभी हसन अली खाँ के नेतृत्व में एक नई ताजादम मुग़ल सेना आ गयी. इस सेना ने गोकुलसिंह की विजय को पराजय में बदल दिया. बादशाह आलमगीर की इज्जत बच गयी. जाटों के पैर तो उखड़ गए फ़िर भी अपने घरों को नहीं भागे. उनका गंतव्य बनी तिलपत की गढ़ी जो युद्ध क्षेत्र से बीस मील दूर थी. तीसरे दिन से यहाँ भी भीषण युद्ध छिड़ गया और तीन दिन तक चलता रहा. भारी तोपों के बीच तिलपत की गढ़ी भी इसके आगे टिक नहीं सकी और उसका पतन हो गया. [23]

गोकुलसिंह का वध

तिलपत के पतन के बाद गोकुलसिंह और उनके ताऊ उदयसिंह को सपरिवार बंदी बना लिया गया. उनके सात हजार साथी भी बंदी हुए. इन सबको आगरा लाया गया. औरंगजेब पहले ही आ चुका था और लाल किले के दीवाने आम में आश्वस्त होकर, विराजमान था. सभी बंदियों को उसके सामने पेश किया गया. औरंगजेब ने कहा -

"जान की खैर चाहते हो तो इस्लाम कबूल कर लो. रसूल के बताये रास्ते पर चलो. बोलो क्या कहते हो इस्लाम या मौत?

अधिसंख्य जाटों ने कहा - "बादशाह, अगर तेरे खुदा और रसूल का का रास्ता वही है जिस पर तू चल रहा है तो हमें तेरे रास्ते पर नहीं चलना." [24]

अगले दिन गोकुलसिंह और उदयसिंह को आगरा कोतवाली पर लाया गया-उसी तरह बंधे हाथ, गले से पैर तक लोहे में जकड़ा शरीर. गोकुलसिंह की सुडौल भुजा पर जल्लाद का पहला कुल्हाड़ा चला, तो हजारों का जनसमूह हाहाकार कर उठा. कुल्हाड़ी से छिटकी हुई उनकी दायीं भुजा चबूतरे पर गिरकर फड़कने लगी. परन्तु उस वीर का मुख ही नहीं शरीर भी निष्कंप था. उसने एक निगाह फुव्वारा बन गए कंधे पर डाली और फ़िर जल्लादों को देखने लगा कि दूसरा वार करें. परन्तु जल्लाद जल्दी में नहीं थे. उन्हें ऐसे ही निर्देश थे. दूसरे कुल्हाड़े पर हजारों लोग आर्तनाद कर उठे. उनमें हिंदू और मुसलमान सभी थे. अनेकों ने आँखें बंद करली. अनेक रोते हुए भाग निकले. कोतवाली के चारों ओर मानो प्रलय हो रही थी. एक को दूसरे का होश नहीं था. वातावरण में एक ही ध्वनि थी- "हे राम!...हे रहीम !! इधर आगरा में गोकुलसिंह का सिर गिरा, उधर मथुरा में केशवरायजी का मन्दिर ! [25]

A poem on Aurangzeb

जोगियों की गाई साखा :

मुगल काल का छठा बादशाह, नौरंगशाह बड़ा अन्यायी ।
अपने सारे भाई भतीजे मार कर बापू की कैद कराई ॥१॥
बापू गेरा कैद में, खोसी उसकी सारी बादशाही ।
बाई, पाखण्डी मुल्ला मौलवियों से गाजी की पदवी पाई ॥२॥
उसी समय सारे भारत में फिरी समर्थ गुरु रामदास की बुहाई ।
उत्तर भारत के तीर्थों पै गुरु रामदास ने अपनी वाणी सुनाई ॥३॥
उसी समय हरयाणा देश के गोकल मल्ल योद्धा ने ली अंगड़ाई ।
उनसठ हजार का दल लेकर जा मथुरा पर करी चढ़ाई ॥४॥
जा पहुंचा था उस मन्दिर में जिसमें गऊ गई थी कटवाई ।
अठारह सौ मारे कूंजड़े ग्यारह सौ मारे हत्यारे कसाई ॥५॥
लूटा खजाना नौरंगशाह का सारे हरयाणा में दिया बंटवाई ।
धर्म देश की खातिर इकट्ठे हो जाओ मेरे सारे वीर भाई ॥६॥
तीन बार में बादशाह की सब भारी फौज हराई ।
सारे भारत राज में विद्रोह की चिंगारी आग जलाई ॥७॥
सबसे पहले विद्रोह किया हरयाणा नै, ऐसी आग लगाई ।
नौरंगशाह के राज की कर दी फूँक कर खूब तबाही ॥८॥
लड़ता लड़ता मरा दक्खन में, दिल्ली में नहीं आया ।
जिसनै जुल्म किया धर्म पै उसी का भगवान ने करा सफाया ॥९॥
सबगे के दौलत जोगी ने, यह वीर गीत सभा में गाया ।
समय-समय पर भारत का साधु-सन्तों ने मान बढ़ाया ॥१०॥

Jatland Links

See also

External Links

References

  1. Ram Sarup Joon: History of the Jats/Chapter IX,p. 151-152
  2. History of the Jats/Chapter X,p. 153-154
  3. Jat History Thakur Deshraj/Chapter VIII, p. 557
  4. History of the Jats:Dr Kanungo/The Jat Risings During Aurangzeb’s Reign (Pages 201-202)
  5. डा. धर्मभानु श्रीवास्तव, The Province of Agra (Concept Publishing Company, New Delhi) pp7-8
  6. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 5
  7. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 6
  8. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 7
  9. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 10
  10. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 11
  11. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 12
  12. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 33
  13. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 33
  14. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 34
  15. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 34
  16. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 36
  17. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 36
  18. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 38
  19. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 39
  20. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 40
  21. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 41
  22. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 41
  23. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 41
  24. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 48
  25. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 49-50

Back to General History