Bariam

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Bariam (d.1560) was a Barad clan Jat ruler in Punjab during the period of Humayun. Bariam was given the Chaudhriyat of the waste country to the south-west of Dehli by Humayun in 1554.

Genealogy

Genealogy from Rao Jaisal to Phul

Jesal (1155) → HemhelRao JandraRao BateraMangalrabUndraKhiwaRao SidhuRao BhurRao BirSitrachJerthaRao MahiRao GalaRao MehraHambirRao BararRao Paur (+ Rao Dhul) → Rao BairathKaiBaoRao SangharBariam (d.1560) → Rao Mehraj (+Garaj) → SuttohPukkoRao Mohan (b.-d.1618) (+ Habbal) → Rup Chand (b.-d.1618) (m.Mai Umbi) → Phul (b.-d.1652) (m.Bali) → Ram Singh (b.-d.1714) (m.Sabi) + Rughu (b.-d.1717) (m.) + Tiloka (b.-d.1687) + Channu + Takht Mal + Jhandu

History

Lepel H. Griffin[1] writes that founder of Barar clan Rao Barar had two sons, Rao Paur and Rao Dhul, the younger of whom is the ancestor of the Raja of Faridkot, and of the Barar tribe, which holds almost the whole of the districts of Mari, Mudki and Muktsar, Buchan, Mehraj, Sultan Khan and Bhadour in the Firozpur district, the whole of Faridkot, and many villages in Pattiala, Nabha, Jhumba and Malod.

The two brothers quarreled, and the elder, Rao Paur, being worsted, fell into great poverty, in which his family remained for several generations, till Rao Sanghar restored their fortunes. When the Emperor Babar invaded India in 1524, Rao Sanghar waited on him at Lahore and entered his army with a few followers ; but soon afterwards he was killed at the battle of Panipat, on the 21st April 1526, when Babar defeated Ibrahim Lodi, with great slaughter, and gained the Empire of Dehli. This victory did not, however, lead him to forget the services of Rao Sanghar, to whose son Bariam, he gave the Chaudhriyat* of the waste country


* A Chaudhri was, in the tine of the Empire, the head-man in a certain District, for the revenue collection of which he was responsible, receiving a percentage on the collections. His office was termed “Chaudhariyat."


[p.5]: to the south-west of Dehli, which office was confirmed to him by Humayun, the son and successor of Babar, in 1554. The name of Bariam is the only one by which this chief is historically known, but it was not his original name, and was given him by the Emperor in honor of his bravery, and signifies brave, Bahadur. He lived for the most part at Neli, the village of Sidhu's maternal relations, and also re-built Bhidowal, which had become deserted. He was killed about the year 1560, fighting with the Bhattis, and with him fell his grandson Suttoh.

He left two sons, Rao Mehraj, (commonly known as Rao Maharaj) who succeeded to the Chaudhriyat, and Garaj, whose descendants people five villages in the Firozpur district. The only son of Rao Mehraj had been killed in his father’s lifetime, and Pukko, the grandson, succeeded, but he was soon after killed in a skirmish with the Bhattis at Bhidowal.

He had two brothers, Lukho and Chaho ; the descendants of the first live in Jakepal ; and of the second at the village of Chaho, some eight miles distant from Bhadour in the Ludhiana district.

His sons were Habbal and Mohan, the latter of whom was confirmed as Chaudhri ; but he fell into arrears with the Government, and finding himself unable to pay what was due, and also being much harassed by his hereditary foes the Bhattis, he fled to Hansi and Hissar, where his relations were numerous, and, collecting a considerable force, returned home and defeated the Bhattis near Bhidowal. By the advice of Guru Har Govind, the sixth of the Sikh prophets, he founded the village of Mehraj or Maharaj, naming it after his great-grandfather.

सिद्धू - बराड़ जाटवंश

दलीप सिंह अहलावत [2] के अनुसार ये दोनों जाटवंश (गोत्र) चन्द्रवंशी मालव या मल्ल जाटवंश के शाखा गोत्र हैं। मालव जाटों का शक्तिशाली राज्य रामायणकाल में था और महाभारतकाल में इस वंश के जाटों के अलग-अलग दो राज्य, उत्तरी भारत में मल्लराष्ट्र तथा दक्षिण में मल्लदेश थे। सिकन्दर के आक्रमण के समय पंजाब में इनकी विशेष शक्ति थी। मध्यभारत में अवन्ति प्रदेश पर इन जाटों का राज्य होने के कारण उस प्रदेश का नाम मालवा पड़ा। इसी तरह पंजाब में मालव जाटों के नाम पर भटिण्डा, फरीदकोट, फिरोजपुर, लुधियाना आदि के बीच के प्रदेश का नाम मालवा पड़ा। (देखो, तृतीय अध्याय, मल्ल या मालव, प्रकरण)।

जब सातवीं शताब्दी में भारतवर्ष में राजपूत संघ बना तब मालव या मलोई गोत्र के जाटों के भटिण्डा में भट्टी राजपूतों से भयंकर युद्ध हुए। उनको पराजित करके इन जाटों ने वहां पर अपना अधिकार किया। इसी वंश के राव सिद्ध भटिण्डा नामक भूमि पर शासन करते-करते मध्य भारत के सागर जिले में आक्रान्ता होकर पहुंचे। इन्होंने वहां बहमनीवंश के फिरोजखां मुस्लिम शासक को ठीक समय पर सहायता करके अपना साथी बना लिया था जिसका कृतज्ञतापूर्वक उल्लेख शमशुद्दीन बहमनी ने किया है। इस लेखक ने राव सिद्ध को सागर का शासनकर्त्ता सिद्ध किया है। राव सिद्ध मालव गोत्र के जाट थे तथा राव उनकी उपाधि थी। इनके छः पुत्रों से पंजाब के असंख्य सिद्धवंशज जाटों का उल्लेख मिलता है। राव सिद्ध अपने ईश्वर विश्वास और शान्तिप्रियता के लिए विख्यात माने जाते हैं। राव सिद्ध से चलने वाला वंश ‘सिद्धू’ और उनकी आठवीं पीढ़ी में होने वाले सिद्धू जाट गोत्री राव बराड़ से ‘बराड़’ नाम पर इन लोगों की प्रसिद्धि हुई। राव बराड़ के बड़े पुत्र राव दुल या ढुल बराड़ के वंशजों ने फरीदकोट और राव बराड़ के दूसरे पुत्र राव पौड़ के वंशजों ने पटियाला, जींद, नाभा नामक राज्यों की स्थापना की। जब पंजाब पर मिसलों का शासन हुआ तब राव पौड़ के वंश में राव फूल के नाम पर इस वंश समुदाय को ‘फुलकिया’ नाम से प्रसिद्ध किया गया। पटियाला, जींद, नाभा रियासतें भी फुलकिया राज्य कहलाईं। बाबा आला सिंह संस्थापक राज्य पटियाला इस वंश में अत्यन्त प्रतापी महापुरुष हुए। राव फूल के छः पुत्र थे जिनके नाम ये हैं - 1. तिलोक 2. रामा 3. रुधू 4. झण्डू 5. चुनू 6. तखतमल। इनके वंशजों ने अनेक राज्य पंजाब में स्थापित किए।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-774


फुलकिया से सम्बन्धित कैथल और अरनौली राज्य थे। इनके अतिरिक्त भदौड़, झुनवा, अटारी आदि छोटी-छोटी रियासतें भी सिद्धू जाटों की थीं। यही वंश पंजाब में सर्वाधिक प्रतापी है और सम्पूर्णतया धर्म से सिक्ख है।

राव सिद्धू के पुत्र राव भूर बड़े साहसी वीर योद्धा थे। अपने क्षेत्र के भट्टी राजपूतों से इसने कई युद्ध किए। इसी तरह से राव भूर से सातवीं पीढ़ी तक के इस सिद्धूवंश के वीर जाटों ने भट्टी राजपूतों से अनेक युद्ध किए। भट्टी राजपूत नहीं चाहते थे कि हमारे रहते यहां कोई जाट राज्य जमे या जाट हमसे अधिक प्रभावशाली बनकर रहें किन्तु राव सिद्धू की आठवीं पीढ़ी में सिद्धू गोत्र का जाट राव बराड़ इतना लड़ाकू शूरवीर, सौभाग्यशाली योद्धा सिद्ध हुआ कि उसने अपनी विजयों द्वारा राज्यलक्ष्मी को अपनी परम्परा में स्थिर होने का सुयश प्राप्त किया। यहां तक कि फक्करसर, कोट लद्दू और लहड़ी नामक स्थानों पर विजय प्राप्त करने पर तो यह दूर-दूर तक प्रख्यात हो गया। राव बराड़ के नाम पर सिद्धूवंशज बराड़वंशी कहलाने लगे। आजकल के सिद्धू जाट अपने को बराड़वंशी कहलाने में गौरव अनुभव करते हैं। इस वीर योद्धा राव बराड़ के दो पुत्र थे। बड़े का नाम राव दुल (ढुल) और छोटे का नाम राव पौड़ था।

इन दोनों की वंशपरम्परा में पंजाब में निम्न राज्य स्थापित किए ।

References


Back to The Rulers