Malla

From Jatland Wiki
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Ancient Indian Kingdoms in 600 BC

Malla (मल्ल) or Mallarashtra (मल्लराष्ट्र) was an ancient Indian republic (Gaṇasangha) that constituted one of the sixteen Mahajanapadas of ancient India.

Variants

Jat clans

Malla (मल्ल) Malla (मल्ला) Mallah (मल्ला) Malay (मालय)[1] is a gotra of Jats found in Nimach district in Madhya Pradesh and Sindh province of Pakistan. They are said to have been originated from Chandravanshi King Malla (मल्ल) of the Mahabharata period.[2]

Jat Gotras Namesake

  • Malla (Jat clan) = Mallâla . Ratanpur Stone Inscription Of Prithvideva II - (Kalachuri) Year 915 (=1163) mentions that Brahmadeva, a feudatory of Kalachuri king Prithvideva II, ....constructed a temple of Dhurjati (Siva) at Mallâla and excavated a tank, evidently at the same place. The religions merit of the former he assigned to his lord, Prithvideva. Besides these, he built ten shrines of Tryambaka (Siva) and dug two lotus-ponds at some place, the name of which is lost. (p.503)[3]

Mention by Panini

Mallaka (माल्लक) is mentioned by Panini in Ashtadhyayi. [4]

History

Kushinagar District Map

The Mallaraṭṭha or Mallārāṣṭra has been mentioned in the Aṅguttara Nikāya as one of the sixteen Mahājanapadas. The kingdom was divided into two parts which had for their capitals the cities of Kusāvati or Kusīnārā and Pāvā identical probably with Kasia (on the smaller Gandak and in the east of the Gorakhpur district) and a village named Padaraona (12 miles to the north-east of Kasia) respectively. Besides Kusīnārā, the Mallas had other important cities namely, Bhoganagara, Anupiya and Uruvelakappa in the neighbourhood of which there existed a wide forest called Mahāvana. [5][6]


V. S. Agrawala[7] writes that The free clan called the Glaukanikoi (identical with the Glauchukāyanakas of Kashika on Panini IV.3.99) whose country lay in the fertile and populous regions lying in the south of Kashmir (the Bhimber and Rajauri districts) between the upper courses of the Jhelum and Chenab and the Ravi River, had as many as 37 cities, the smallest of which contained not less than 5000 inhabitants and up to 10000. Strabo affirms that in the territories of nine nations situated between Jhelum and Beas, such as the Malloi, Oxydrakai and others, there were as many as 500 cities.


Sandhya Jain[8] writes about Malla (मल्ल) - Mentioned in 'geography' Mahabharata (VI.10.45) and in Bhima's conquest after northern Koshala (II.27.3). The Malla resided in district Deoria (UP) and had their metropolis at Kushinagar and Pava, sacred sites of the Bauddhas and the Jainas.

Jat History

They are Chandravanshi Jats. Malwa gets name after them. [9]They are mentioned in the Harivamsa and, as usual, a Mallāsura, (name of an Asura) is mentioned [10] Amarakosa defines Asura as Purvadeva i.e. a former god; obviously this must have been before the schism among the Aryans. [11] [12]

In Mahabharata

Malla (मल्ल) is mentioned in Mahabharata (II.27.3), (II.27.11),(IV.1.9),(VI.10.45),


Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 27 mentions the countries subjugated by Bhimasena. Mallas (मल्ल)are mentioned in Mahabharata (II.27.3) and (II.27.11).

Mahabharata (II.27.3) mentions Northern Mallas (Uttaramallas) (उत्तरमल्ल)[13]....Then the foremost of the sons of Pandu (Bhimasena), by performing feats excelling in fierceness, defeated the virtuous and mighty king Dirghayaghna of Ayodhya. And the exalted one then subjugated the country of Gopalakachchha and the Northern Mallas (Uttaramalla) (उत्तरमल्ल).
Mahabharata (II.27.11) mentions Southern Mallas (Dakshinamallas) (दक्षिणमल्ल)[14]....Then Bhima, with scarcely any degree of exertion and very soon, vanquished the Southern Mallas (Dakshinamallas) (दक्षिणमल्ल) and the Bhogavanta mountains.

Virata Parva, Mahabharata/ Book IV Chapter 1 mentions that Pandavas pass their days undiscovered in Viratanagara and its surrounding kingdoms. Malla (मल्ल) is mentioned in Mahabharata (IV.1.9). [15]....Still, for purposes of residence, I shall mention some spots that are both delightful and secluded. Do thou select some one of them. Surrounding the kingdom of the Kurus, are, many countries beautiful and abounding in corn, such as Panchala, Chedi, Matsya, Surasena, Pattachchara, Dasarna, Navarashtra, Malla, Shalva, Yugandhara, Saurashtra, Avanti, and the spacious Kuntirashtra


Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 10 describes geography and provinces of Bharatavarsha. Malla (मल्ल) is mentioned in Mahabharata (VI.10.45).[16]....the Mallas, the Sudeshnas, the Prahutas, the Mahishas, the Karshikas; the Vahikas, the Vatadhanas, the Abhiras, the Kalatoyakas;

In Ramayana

Mallabhumi (मल्लभूमि) Kingdom is mentioned in Uttara Kanda in Ramayana (7.102.9). [17]. Chandraketu, son of Lakshmana,founded city called Chandrakanta and became the king of Malla territory.[18]

In Rajatarangini

Rajatarangini[19] tells us....And when the stout Vijjaraja, hot with pride, struck Mallaka, he returned the blow, but both instantly fell on him. When the king appeared in view at the door of the four cornered room, Mallaka left his three antagonists and ran towards the king. At the time when the king was thus singled out, Kularaja ran swiftly in alarm and cut off the speed of Mallaka by cutting him in the bone of the buttocks. (p.208) (MallakaMalla)


Rajatarangini[20] tells us....Mallaraja had by queen Shveta three sons, Sahlana, &c, of whom the second had died before. Shamkharaja (Radda) had sought to kill the surviving Sahlana and Lothana and they fled in fear to the Navamatha. (p.32)


Rajatarangini[21] tells us....King Sussala shouted as he rode on his horse. When he was in the court-yard and had not yet seated himself on the throne, the voice of "Victory to Sussala," and the sound of drums were heard. In the family of Mallaraja, the, honor that was lost by Salhana and Lothana was won back again. Sussala embraced Salhana and Lothana who were on their horses, and clad in mail and addressed them both calling them as "boy" and "youth" and cunningly caused them to be disarmed. He then secured them and ordered them to be removed to another house. Thus he got the kingdom and entered the court. Salhana was captured after a reign of four months! minus three days, on the third day of bright moon in the month of Vaishakha of the year 88. (p.41)


Rajatarangini[22] tells...When the king Sussala learnt that Madava which had been to some extent pacified, had once more become disaffected, he again went to Vijayeshvara. The sons of Mallaraja (Sussala's father) created dangers for themselves by their evil tongue. ...Yashoraja who was from his boyhood used to flattering language became offended with the king for his harsh and insulting words. The vile Yashoraja was at Avantipura with a large army, and he thence marched and joined the enemy's party. On his going over to the enemies with the best part of the army, the king fled in distraction from Vijayakshetra. (VIII,p.97)

मल्ल

विजयेन्द्र कुमार माथुर[23] ने लेख किया है ...1. मल्ल (AS, p.717) = मल्लराष्ट्र. मल्ल देश का सर्वप्रथम निश्चित उल्लेख शायद वाल्मीकि रामायण उत्तरकाण्ड 102 में इस प्रकार है-- 'चंद्रकेतोश्च मल्लस्य मल्लभूम्यां निवेशिता, चंद्रकांतेति विख्याता दिव्या स्वर्गपुरी यथा’ अर्थात रामचन्द्र जी ने लक्ष्मण-पुत्र चंद्रकेतु के लिए मल्ल देश की भूमि में चंद्रकान्ता नामक पुरी बसाई जो स्वर्ग के समान दिव्य थी.

महाभारत में मल्ल देश के विषय में कई उल्लेख हैं— ‘मल्ला: सुदेष्णा:प्रह्लादा माहिका शशिकास्तथा’ --महाभारत, भीष्मपर्व 9,46; ‘अधिराज्यकुशाद्याश्च मल्लराष्ट्रं च केवलम्’-- महाभारत, भीष्मपर्व 9,44; ‘ततो गोपालकक्षं च सोत्तरानपि कोसलान्, मल्लानामधिपं चैव पार्थिवं चाजयत् प्रभु:’-- महाभारत, सभापर्व 30,3

बौद्ध-ग्रन्थ अंगुत्तरनिकाय में मल्ल जनपद का उत्तरी भारत के सोलह जनपदों में उल्लेख है। बौद्ध साहित्य में मल्ल देश की दो राजधानियों का वर्णन है— 1. कुशावती और 2. पावा (कुसजातक; महापरिनिब्बान सुत्). महापरिनिब्बानसुत्त के वर्णन के अनुसार गौतम बुद्ध के समय में कुसीनारा या कुशीनगर के निकट मल्लों का शालवन हिरण्यवती नदी (गंडक) के तट पर स्थित था।

मनुस्मृति में मल्लों को व्रात्य क्षत्रियों में परिगणित किया गया है, [p.718]: क्योंकि ये बौद्ध धर्म के दृढ़ अनुयायी थे। कुसजातक में ओक्काक (इक्ष्वाकु) नामक मल्ल-नरेश का उल्लेख है। इक्ष्वाकुवंशीय नरेशों का परंपरागत राज्य अयोध्या या कोसल प्रदेश में था। राय चौधरी का मत है (पोलिटिकल हिस्ट्री ऑव ऐशेंट इंडिया, पृ. 107-108) कि मल्ल राष्ट्र में बिंबिसार के पूर्व गणराज्य स्थापित हो गया था। इससे पहले यहाँ के अनेक राजाओं के नाम मिलते हैं। बौद्ध साहित्य में मल्ल जनपद के भोग नगर, अनुप्रिय तथा उरुवेलकप्प नामक नगरों के नाम मिलते हैं। बौद्ध तथा जैन साहित्य में मल्लों और लिच्छवियों की प्रतिद्वंदिता के अनेक उल्लेख हैं— (दे. बुद्धसाल जातक, कल्पसूत्र आदि). बुद्ध के कुशीनगर में निर्वाण प्राप्त करने के उपरान्त, उनके अस्थि-अवशेषों का एक भाग मल्लों को मिला था जिसके संस्मरणार्थ उन्होंने कुशीनगर में एक स्तूप या चैत्य का निर्माण किया था। इसके खंडहर कसिया में मिले हैं। इस स्थान से प्राप्त एक ताम्रपट्टलेख से यह तथ्य प्रमाणित भी होता है—‘(परिनि) वार्ण चैत्यताभ्रपट्ट इति’। मगध के राजनीतिक उत्कर्ष के समय मल्ल जनपद इसी साम्राज्य की विस्तरणशील सत्ता के सामने न टिक सका और चौथी शती ई. पू. में चंद्रगुप्त मौर्य के महान् साम्राज्य में विलीन हो गया। जैन ग्रंथ 'भगवती सूत्र' में मोलि या मालि नाम से मल्ल-जनपद का उल्लेख है। बौद्ध काल में मल्ल राष्ट्र की स्थिति उत्तर प्रदेश के पूर्वी और बिहार के पश्चिमी भाग के अंतर्गत समझनी चाहिए।

2. मल्ल (AS, p.718) = दे. मत्स्या-2

3. मल्ल (AS, p.718) = मल्लराष्ट्र की स्थिति श्री चि. वि. वैद्य ने महाराष्ट्र में मानी है. यह मालवा का रूपांतर हो सकता है.

दक्षिणमल्ल

विजयेन्द्र कुमार माथुर[24] ने लेख किया है ...दक्षिणमल्ल (AS, p.423) का उल्लेख महाभारत, सभापर्व 30, 12. में पाण्डव भीम की दिग्विजय यात्रा के प्रसंग में विजित राष्ट्रों में हुआ है- 'ततो दक्षिणमल्लांश्च भोगवंतं च पर्वतम्। तरमैवाजयद् भीमो नातितीव्रेण कर्मणा' सभापर्व 30, 12. दक्षिणमल्ल का उल्लेख वत्सभूमि के पश्चात् तथा विदेह के पूर्व हुआ है। बौद्ध काल में मल्लदेश वर्तमान गोरखपुर ज़िले, उत्तर प्रदेश के परिवर्ती क्षेत्र में बसा हुआ था। ऐसा जान पड़ता है कि महाभारत में, जैसा कि प्रसंग से सूचित होता है, इसी प्रदेश को दक्षिणमल्ल कहा गया है। संभव है उस समय यही प्रदेश उत्तरी और दक्षिणी भागों में विभाजित रहा हो।

उत्तरमल्ल

उत्तरमल्ल का उल्लेख कम मिलता है परंतु महाभारत, सभापर्व (II.27.3) (ततॊ गॊपाल कच्छं च सॊत्तमान अपि चॊत्तरान, मल्लानाम अधिपं चैव पार्दिवं वयजयत प्रभुः) में पाण्डव भीम की दिग्विजय यात्रा के प्रसंग में विजित राष्ट्रों में यह स्पष्ट होता है कि उन्होने उत्तरमल्ल के अधिपति को भी जीता था.

बौद्ध काल में मल्लदेश वर्तमान गोरखपुर ज़िले, उत्तर प्रदेश के परिवर्ती क्षेत्र में बसा हुआ था। ऐसा जान पड़ता है कि महाभारत में, जैसा कि प्रसंग से सूचित होता है, इसी प्रदेश को दक्षिणमल्ल कहा गया है। संभव है उस समय यही प्रदेश उत्तरी (उत्तरमल्ल) और दक्षिणी (दक्षिणमल्ल) भागों में विभाजित रहा हो। [25]

मल्ल या मालव जाट गोत्र

दलीप सिंह अहलावत[26] लिखते हैं: मल्ल या मालव चन्द्रवंशी जाट गोत्र है। रामायणकाल में इस वंश का शक्तिशाली राज्य था। सुग्रीव ने वानर सेना को सीता जी की खोज के लिये पूर्व दिशा में जाने का आदेश दिया। उसने इस दिशा के ब्रह्ममाल, विदेह, मालव, काशी, कोसल, मगध आदि देशों में भी छानबीन करने को कहा। (वा० रा० किष्किन्धाकाण्ड सर्ग 40, श्लोक 22वां) भरत जी लक्षमणपुत्र चन्द्रकेतु के साथ मल्ल देश में गए और वहां चन्द्रकेतु के लिए सुन्दर नगरी ‘चन्द्रकान्ता’ नामक बसाई जो कि उसने अपनी राजधानी बनाई। (वा० रा० उत्तरकाण्ड, 102वां सर्ग) इससे ज्ञात होता है कि उस समय मालव वंश का राज्य आज के उत्तरप्रदेश के पूर्वी भाग पर था। महाभारत काल में भी इनका राज्य उन्नति के पथ पर था। महाभारत सभापर्व 51वें अध्याय में लिखा है कि मालवों ने युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में असंख्य रत्न, हीरे, मोती, आभूषण भेंट दिये। इससे इनके वैभवशाली होने का अनुमान लगता है। मालव क्षत्रिय महाभारत युद्ध में पाण्डवों एवं कौरवों दोनों की ओर से लड़े थे। इसके प्रमाण निम्न प्रकार हैं - महाभारत भीष्मपर्व 51वां, 87वां, 106वां के अनुसार मालव क्षत्रिय कौरवों की ओर से पाण्डवों के विरुद्ध लड़े। इससे ज्ञात होता है कि मालव (मल्ल) वंशियों के दो अलग-अलग राज्य थे। पाण्डवों की दिग्विजय में भीमसेन ने पूर्व दिशा में उत्तर कोसल देश को जीतकर मल्लराष्ट्र के अधिपति पार्थिव को अपने अधीन कर लिया। इसके पश्चात् बहुत देशों को जीतकर दक्षिण मल्लदेश को जीत लिया। (सभापर्व, अध्याय 30वां)। कर्णपर्व में मालवों को मद्रक, क्षुद्रक, द्रविड़, यौधेय, ललित्थ आदि क्षत्रियों का साथी बतलाया है। उन दिनों इनके प्रतीच्य (वर्तमान मध्यभारत) और उदीच्य (वर्तमान पंजाबी मालवा) नामक दो राज्य थे। इन दोनों देशों के मालवों ने महाभारत युद्ध में भाग लिया। (जाटों का उत्कर्ष पृ० 311, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री।)

पाणिनि ऋषि ने इन लोगों को आयुधजीवी क्षत्रिय लिखा है। बौद्ध काल में मालवों (मल्ल लोगों) का राज्य चार स्थानों पर था। उनके नाम हैं - पावा, कुशीनारा, काशी और मुलतान। जयपुर में नागदा नामक स्थान से मिले सिक्कों से राजस्थान में भी इनका राज्य रहना प्रमाणित हुआ है। अन्यत्र भी प्राप्त सिक्कों का समय 205 से 150 ई० पूर्व माना जाता है। उन पर मालवगणस्य जय लिखा मिलता है। सिकन्दर के समय मुलतान में ये लोग विशेष शक्तिसम्पन्न थे। मालव क्षत्रियों ने सिकन्दर की सेना का वीरता से सामना किया और यूनानी सेना के दांत खट्टे कर दिये। सिकन्दर बड़ी कठिनाई से आगे बढ़ सका। उस समय मालव लोगों के पास 90,000 पैदल सैनिक, 10,000 घुड़सवार और 900 हाथी थे। मैगस्थनीज ने इनको ‘मल्लोई’ लिखा है और इनका मालवा मध्यभारत पर राज्य होना लिखा है। मालव लोगों के


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-254


नाम पर ही उस प्रदेश का नाम मालवा पड़ा था। [27]वहां पर आज भी मालव गोत्र के जाटों की बड़ी संख्या है। सिकन्दर के समय पंजाब में भी इनकी अधिकता हो चुकी थी। इन मालवों के कारण ही भटिण्डा, फरीदकोट, फिरोजपुर, लुधियाना के बीच का क्षेत्र (प्रदेश) ‘मालवा’ कहलाने लगा। इस प्रदेश के लगभग सभी मालव गोत्र के लोग सिक्खधर्मी हैं। ये लोग बड़े बहादुर, लम्बे कद के, सुन्दर रूप वाले तथा खुशहाल किसान हैं। सियालकोट, मुलतान, झंग आदि जिलों में मालव जाट मुसलमान हैं। मल्ल लोगों का अस्तित्व इस समय ब्राह्मणों और जाटों में पाया जाता है। ‘कात्यायन’ ने शब्दों के जातिवाची रूप बनाने के जो नियम दिये हैं, उनके अनुसार ब्राह्मणों में ये मालवी और क्षत्रिय जाटों में माली कहलाते हैं, जो कि मालव शब्द से बने हैं। पंजाब और सिंध की भांति मालवा प्रदेश को भी जाटों की निवासभूमि एवं साम्राज्य होने का सौभाग्य प्राप्त है। (जाट इतिहास पृ० 702, लेखक ठा० देशराज)। महात्मा बुद्ध के स्वर्गीय (487 ई० पू०) होने पर कुशिनारा (जि० गोरखपुर) के मल्ल लोगों ने उनके शव को किसी दूसरे को नहीं लेने दिया। अन्त में समझौता होने पर दाहसंस्कार के बाद उनके अस्थि-समूह के आठ भाग करके मल्ल, मगध, लिच्छवि, मौर्य ये चारों जाट वंश, तथा बुली, कोली (जाट वंश), शाक्य (जाट वंश) और वेथद्वीप के ब्राह्मणों में बांट दिये। उन लोगों ने अस्थियों पर स्तूप बनवा दिये (जाट इतिहास पृ० 32-33, लेखक ठाकुर देशराज।) मध्यप्रदेश में मालवा भी इन्हीं के नाम पर है।


मालव वंश के शाखा गोत्र - 1. सिद्धू 2. बराड़

Distribution in Punjab

Villages in Ludhiana district

Distribution in Madhya Pradesh

Malla (मल्ला) gotra Jat sare found in Nimach district in Madhya Pradesh.

Villages in Nimach district

Khor Vikram,

Distribution in Pakistan

Mallah are found in Districts Thatta (Sindh),

References

  1. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.55,s.n. 1999
  2. Mahendra Singh Arya et al.: Adhunik Jat Itihas, p.277
  3. Corpus Inscriptionium Indicarium Vol IV Part 2 Inscriptions of the Kalachuri-Chedi Era, Vasudev Vishnu Mirashi, 1955, p.501-511
  4. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.114
  5. Source: Ancient Buddhist Texts: Geography of Early Buddhism
  6. https://www.wisdomlib.org/definition/bhoganagara
  7. India as Known to Panini, p.73
  8. Sandhya Jain: Adi Deo Arya Devata - A Panoramic View of Tribal-Hindu Cultural Interface, 2004, sn.160. p.138
  9. Mahendra Singh Arya et al.: Adhunik Jat Itihas, p.277
  10. See Sanskrit English Dictionary ( M. Williams), p. 793
  11. cf. Rig Veda. viii, 25 , 4
  12. Bhim Singh Dahiya, Jats the Ancient Rulers ( A clan study), p. 286
  13. ततॊ गॊपाल कच्छं च सॊत्तमान अपि चॊत्तरान, मल्लानाम अधिपं चैव पार्दिवं वयजयत प्रभुः
  14. ततॊ दक्षिणमल्लांश च भॊगवन्तं च पाण्डवः, तरसैवाजयथ भीमॊ नातितीव्रेण कर्मणा
  15. सन्ति रम्या जनपथा बह्व अन्नाः परितः कुरून, पाञ्चालाश चेथिमत्स्याश च शूरसेनाः पटच्चराः, दशार्णा नव राष्ट्रं च मल्लाः शाल्व युगंधराः (IV.1.9)
  16. मल्लाः सुदेष्णाः प्राहूतास तदा माहिष कार्षिकाः, वाहीका वाटधानाश च आभीराः कालतॊयकाः (VI.10.45)
  17. 'चंद्रकेतोश्च मल्लस्य मल्लभूम्यां निवेशिता, चंद्रकांतेति विख्याता दिव्या स्वर्गपुरी यथा’ (7.102.9)
  18. http://rsvidyapeetha.ac.in/ramayana/glossary/C/chandraketu.htm
  19. Kings of Kashmira Vol 2 (Rajatarangini of Kalhana)/Book VIII (i), p.208
  20. Kings of Kashmira Vol 2 (Rajatarangini of Kalhana)/Book VIII, p.32
  21. Kings of Kashmira Vol 2 (Rajatarangini of Kalhana)/Book VIII, p.41
  22. Kings of Kashmira Vol 2 (Rajatarangini of Kalhana)/Book VIII,p.97
  23. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.717
  24. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.423
  25. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.423
  26. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.254-255
  27. ठा० देशराज जाट इतिहास पृ० 702, इस मालवा नाम से पहले इस प्रदेश का नाम अवन्ति था।

Back to Jat Gotras