Maharaja Chhatra Singh Rana

From Jatland Wiki
(Redirected from Chhatar Singh)
Jump to navigation Jump to search

Maharaja Chhatar Singh Rana (1757-1784) (महाराजा छत्रसिंह राणा), also known as Maharaja Lokendra Singh, was the ruler of Gohad Jat state in Madhya Pradesh, India. He became the ruler of Gohad after the fall of Maharaja Bhim Singh Rana. Rana Bhim Singh had no son. Girdhar Pratap Singh became his successor in 1755. Girdhar Pratap Singh was son of Samant Rao Balju, a family friend of Rana Bhim Singh. Girdhar Pratap Singh could not rule Gohad for long as he died in 1757. His successor was his younger brother Rana Chhatar Singh (1757-1784). He was from Bamraulia gotra of Jats. He ruled Gohad state till 1784. [1]

Brief history

Maharaja Chhatar Singh Rana 1757 - 1784 H.H. Rais ud-Daula, Sipahdar ul-Mulk, Maharajadhiraja Sri Sawai Maharaj Rana Shri Chhatrapat Singh [Chatrajit], Lokendra Bahadur, Diler Jang, Jai Deo, Maharaj Rana of Gohad, third son of Samant Rao Balju, of Nimrol, educ. privately. Succeeded on the death of his younger brother, 1757. Advanced a large sum of money to Emperor Shah Alam II on his return to Delhi in 1771. Granted the titles of Maharaj Rana, Rais ud-Daula, Sipahdar ul-Mulk, and Diler Jung, as his reward. Entered into treaty relations with the HEIC, 2nd December 1779. Recovered Gwalior 4th August 1780, but lost the fort to Maharaja Madhoji Rao Scindia, after a prolonged siege lasting nearly five months, 21st July 1783. Expelled from Gohad 23rd February 1784. Concluded a Treaty of Alliance with the HEIC, which restored Gwalior to him. Lost Gwalior and Gohad to Scindia in 1785. Fled to Karauli but was captured and kept as a prisoner at Gwalior fort. m. H.H. Maharani …Sahiba (blew herself up with her followers during the taking of Gwalior, 1783). He d.s.p. (poisoned) at Gwalior, 19th April 1788 (succ. by his cousin).[2]

Greatest ruler of Gohad

He is considered to be the greatest and the most powerful ruler of Gohad. During his rule he occupied many neighbouring forts. His rule is considered to be the golden period of Rana rulers by historians. He was brave, tactful, visionary and strong administrator. Though the Marathas were sworn enemies of Gohad ruling house yet Mahadji Sindhia always desired to have friendship with Chhatar Singh.[3] The English Government made him the ally of the British. His biggest success was occupation of the impregnable Gwalior Fort.[4]

Captured Gwalior fort in 1761

With a wise prescience he held aloof from the struggle for empire between the Marathas and warriors from the north and when the fatal day of Panipat 1761 had completely overwhelmed the former, he showed his sense of the importance of defeat by proclaiming himself as Rana of Gohad and also by seizing the fortress of Gwalior. That independence remained unquestioned for six years. But in 1767 Raghunath Rao, afterwards Peshwa, being then in Hindustan thought to teach a lesson to Rana of Gohad. Accordingly he marched with the army to attack Gohad. But the Rana had in the meanwhile strengthened his defence; he had drilled his troops; and being a hardy man himself, with an especial dislike to be ridden over roughshod, he gave the assailants some very hard and unpleasant work. He defended himself so valiantly that Raghunath Rao proposed at last to treat. An accommodation was agreed upon, by which, for a consideration of Rs 3 lakhs, the Marathas agreed to retire, and to recognize the independence, under their suzerainty, of the Rana Lokindar Singh. [5]

At the third Battle of Panipat in 1761, the growing power of the Maratha confederacy received a crushing defeat at the hands of the massive invading Afghan army of Ahmad Shah Abdali (Durrani) and his Indian, mostly Pathan allies. Shortly “after Panipat, Chhatra Singh Rana [threw off allegiance to the Marathas,] proclaimed himself ‘Rana of Gohad’ and seized Gwalior Fort in 1761 AD.” This conquest, though undoubtedly spectacular, proved relatively short-lived, and the fortress was retaken in 1767 AD, (AH. 1181) by Mahadji Sindhia, after his general, Raghunath Rao, a man of ability - both soldier and statesman, who would later become the Maratha Peshwa - had failed in the attempt [6][7] [8] [9] For six years he remained the undisputed master of the fortification till when in 1767 Marathas, regaining their lost supremacy directed their troops under the command of Raghunath Rao who was on his way to Delhi, towards Gohad with a view to put an end to any further aggrandizement on the part of Lokender Singh.[10]

Raghunath Rao attacks Gohad in 1766

After the capturing Jhansi by Marathas, Holkar became engaged in planning war against Gohad ruler Rana Chhatra Singh, in January 1766, and his army started preparations for the war against Gohad. [11] [12] But in March 1766 he moved to Bharatpur and started war against Bharatpur Jat rulers on 13-14 March 1766. At the same time on 13-14 March 1766, Raghunath Rao attacked Gohad. [13] [14] Bharatpur Jat ruler Jawahar Singh sent an army of Sikhs against this war on Gohad. On 13-14 March 1766, there was a severe battle between Raghunath Rao and Rana Chattra Singh in Jatwara. Initially the Maratha army appeared to be victorious but meanwhile the Jat army became alert and counter attacked Maratha Army. Maratha Army could not resist this attack of the Jat army and was defeated very badly. This war proved to be another Panipat for Marathas. [15] [16] [17]

Thus the dream of Raghunath Rao to occupy Gohad was shattered. The Marathas had to get defeat from Jat armies simultaneously at two places: Bharatpur and Gohad. [18]

Mahadji Sindhia and Raghunath Rao re-attack Gohad 1766

After the first defeat at Gohad, Raghunath Rao was bent upon to re-attack Gohad. This time the Marathas attacked Gohad, in October-November 1766, under the leadership of Mahadji Sindhia. They bomb-shelled gates and outer walls of the Gohad Fort. Rana Chhatra Singh lost his sister’s husband in this war. There became a shortage of food grains in the fort, [19] which forced the Rana Chhatra Singh to think for a treaty with Marathas. [20]

He sent his deewan to Raghunath Rao on 26 October 1766 for discussion on the treaty proposals. The proposals included 1. Rana would pay Rs. 25 lakhs to Marathas 2. Rana would not demand for the loss caused to the crops from Marathas during the war 3. Marathas would excuse the Rana and would go back from this area. [21]

Raghunath Rao replied that even after return of Marathas from this area, Marathas would keep a sainik chauki in Gohad. The Rana of Gohad did not agree on this proposal. Hence there was no compromise. [22]

Thus after the failure of the treaty proposals, Raghunath Rao took again position for the war. Raghunath Rao attacked Gohad on 2 November 1766 with full force. The Maratha army reached up to the outer wall of the fort along with the cannons and started climbing the wall through upstairs. Meanwhile the Jats started heavy cannoning which killed hundreds of Maratha soldiers and forced Raghunath Rao to return to his camp. The Jat army fought this war with bravery and killed hundreds of soldiers and wounded 1000 soldiers. [23] [24] [25] [26]

Rana-Maratha treaty 2 November 1766

Though Rana Chhatra Singh defeated Marathas at Gohad on 2 November 1766, he still wished for treaty with Marathas for peace. Peace talks were started by Mahadji Sindhia and Nari Shankar from the side of Marathas with Chhatra Singh. Rana of Gohad agreed to pay Rs 11 lakh under the treaty out of which Rs. 2 lakh were to be paid in cash and rest in installments. [27] [28]

The 2 November 1766 defeat of Marathas by Jats enraged Raghunath Rao, who was always in search of opportunities to insult Rana of Gohad. The soldiers of Raghunath Rao seized the small fort of Bhilsa under Jats. After a fight for 2-3 days the Jat sardars in the 'Bhilsa garhi' surrendered before the Maratha soldiers. On 10 December 1766 the Maratha soldiers killed 300 Jat soldiers present in the garhi. In addition to this the Maratha soldiers also started destroying other garhis (forts) under Jats. [29] [30] [31]

The campaign of Marathas to occupy the Jat garhis compelled Rana Chhatra Singh to suppress Marathas. The Rana of Gohad re-occupied the garhis near Gohad, which were under Marathas. These include the forts at Badera, Bilhati, and Bahadurpura. He then moved to the ‘Padawli ki garhi’. [32] [33] These counter activities worried Raghunath Rao. He then requested Mahadji Sindhia to have a treaty of peace with Rana of Gohad. Mahadji Sindhia mediated for the implementation of treaty proposed after war of 2 November 1766. It got implemented on 2 January 1767. Under this treaty The Rana of Gohad paid Rs. 15 lakh to the Marathas. [34] [35]

After this treaty Raghunath Rao moved towards Karauli. [36]

Occupation of Bhind by Rana 1768

The Jawahar Singh of Bharatpur and Rana of Gohad had an agreement in May 1768, under which Rana of Gohad asked for help in the matters of Bhind. After that Rana of Gohad attacked Bhind and occupied it. [37] [38]

Due to the bravery of Rana Chhatra Singh, all people inside the fort came out. The joint Bharatpur-Gohad army were led by sardar Danshah and Mohkam Singh. The Jats also occupied Kaitha and Amayan forts. The Jats divided their army into three parts to retake their forts from Maratha occupation. One battalion was kept each at Umri, Indurakhi and Nandurakhi. The Sikh senapati of Jawahar Singh, Danshah after taking occupation of Bhind went to Ater across the Kunwari River. On the other side Jawahar Singh’s brother Ratan Singh came to meat Rana Chhatra Singh. In this war there were 1000 foot soldiers and 300 sawars in the army of Gohad led by senapati Madho Ram. [39]

Rana Chhatra Singh’s policies after 1768

Some unknown person killed Jawahar Singh, the ruler of Bharatpur, in 1768 while he was out on hunting. The Rana of Gohad was at great loss after death of Jawahar Singh. He was in search of a strong ally to oppose Marathas. He contacted the Mugal ruler, who was a titular head only. The Mugal ruler awarded various titles to him in 1771. [40] But Mugals were not of much use to Rana of Gohad. He later contacted with Mir Kasim, the Nawab of Bengal, and invited him to Gohad. [41] Mir Kasim along with his followers came to Gohad on 22 April 1770 and met Rana Chhatra Singh. [42] [43]

The changing circumstances in north India led to think Rana Chhatra Singh to change his policies also. The Marathas, who lost Panipat in 1761, had regained power within 10 years. Marathas had started demanding chauth tax from Rajputs and Jats and areas west of Yamuna were in occupation of Mahadji Sindhia. [44]Marathas were enemies of both Jats and English. Looking to this situation Rana Chhatra Singh wrote to Warren Hastings on 5 April 1774 for help through his advocate Lala Kishan Chandra. [45]

Regular correspondence by Rana of Gohad with the Governor-General resulted in formation of a combined front. In fact Rana wanted to repel Marathas beyond Narmada River. With this objective a treaty between Rana of Gohad and English took place in December 1779. [46]

Anglo-Rana treaty 2 December 1779

Note - the content of this section is based on The Works of the Right Honourable Edmund Burke, Vol. 09 (of 12) eBook [47] under the heading XIV.—Ranna of Gohud.

That on the 2d of December, 1779, the Governor-General and Council of Fort William, at the special recommendation and instance of Warren Hastings, Esquire, then Governor-General, and contrary to the declared opinion and protest of three of the members of the Council, viz., Philip Francis and Edward Wheler, Esquires, who were present, and of Sir Eyre Coote, who was absent, (by whose absence the casting voice of the said Warren Hastings, Esquire, prevailed,) did conclude a treaty of perpetual friendship and alliance, offensive and defensive, with a Hindoo prince, called the Ranna of Gohud, for the express purpose of using the forces of the said Ranna in opposition to the Mahrattas.

That, among other articles, it was stipulated with the said Ranna by the said Warren Hastings,

“that, whenever peace should be concluded between the Company and the Mahratta state, the Maha Rajah should be included as a party in the treaty which should be made for that purpose, and his present possessions, together with the fort of Gualior, which of old belonged to the family of the Maha Rajah, if it should be then in his possession, and such countries as he should have acquired in the course of war, and which it should then be stipulated to leave in his hands, should be guarantied to him by such treaty.”

That, in the late war against the Mahrattas, the said Ranna of Gohud did actually join the British army under the command of Colonel Muir with two battalions of infantry and twelve hundred cavalry, and did then serve in person against the Mahrattas, thereby affording material assistance, and rendering essential service to the Company.

That, in conformity to the above-mentioned treaty, in the fourth article of the treaty of peace concluded on the 13th of October, 1781, between Colonel Muir, on the part of the English Company, and Mahdajee Sindia, the Mahratta general, the said Ranna of Gohud was expressly included.

That, notwithstanding the said express provision and agreement, Mahdajee Sindia proceeded to attack the forts and lay waste the territories of the said Ranna, and did undertake and prosecute a war against him for the space of two years, in the course of which the Ranna and his family were reduced to extreme distress, and in the end he was deprived of his forts, and the whole not only of his acquired possessions, but of his original dominions, so specially guarantied to him by the British government in both the above-mentioned treaties.

That the said Warren Hastings was duly and regularly informed of the progress of the war against the Ranna, and of every event thereof; notwithstanding which, he not only neglected in any manner to interfere therein in favor of the said Ranna, or to use any endeavors to prevent the infraction of the treaty, but gave considerable countenance and encouragement to Mahdajee Sindia in his violation of it, both by the residence of the British minister in the Mahratta camp, and by the approbation shown by the said Warren Hastings to the promises made by his agent of observing the strictest neutrality, notwithstanding he was in justice bound, and stood pledged by the most solemn and sacred engagements, to protect and preserve the said Ranna from those enemies, whose resentment he had provoked only by his adherence to the interests of the British nation.

That, in the only attempt made to sound the disposition of Mahdajee Sindia relative to a pacification between him and the Ranna of Gohud, on the 14th of May, 1783, Mr. Anderson, in obedience to the orders he had received, did clearly and explicitly declare to Bhow Bucksey, the minister of Mahdajee Sindia, the sentiments of the said Warren Hastings in the words following:

“That it was so far from your [the said Hastings’s] meaning to intercede in his [the said Ranna’s] favor, that I only desired him to sound Sindia’s sentiments, and, in case he was desirous of peace, to mention what I had said; but if he seemed to prefer carrying on the war, I begged that he would not mention a syllable of what had passed, but let the matter drop entirely.”

That it afterwards appeared, in a minute of the said Hastings in Council at Fort William, on the 22d of September, 1783, that he promised, at the instance of a member of the Council, to write to Lieutenant James Anderson in favor of the Ranna of Gohud, and lay his letter before the board.

That, nevertheless, the said Hastings, professing not to recollect his said promise, did neglect to write a formal letter to Lieutenant Anderson in favor of the said Ranna of Gohud, and that the private letter, the extract of which the said Hastings did lay before the board on the 21st of October, 1783, so far from directing any effectual interference in favor of the said Ranna, or commanding his agent, the said James Anderson, to interpose the mediation of the British government to procure “honorable terms” for the said Ranna, or even “safety to his person and family,” contains the bitterest invectives against him, and is expressive of the satisfaction which the said Hastings acknowledges himself to have enjoyed in the distresses of the said Ranna, the ally of the Company.

That the measures therein recommended appear rather to have been designed to satisfy Mahdajee Sindia, and to justify the conduct of the British government in not having taken a more active and a more hostile part against the said Ranna, than an intercession on his behalf.

That, though no consideration of good faith or observance of treaties could induce the said Hastings to incur the hazard of any hostile exertion of the British force for the defence or the relief of the allies of the Company, yet in the said private letter he directed, that, in case his mediation should be accepted, it should be made a specific condition, that, if the said Ranna should take advantage of Sindia’s absence to renew his hostilities, we ought, in that case, on requisition, to invade the dominions of the Ranna.

That no beneficial effects could have been procured to the said Ranna by an offer of mediation delayed till Sindia no longer wanted “our assistance to crush so fallen an enemy,” at the same time that no reason was given to Sindia to apprehend the danger of drawing upon himself the resentment of the British government by a disregard of their proposal and the destruction of their ally.

That it was a gross and scandalous mockery in the said Hastings to defer an application to obtain honorable terms for the Ranna, and safety for his person and family, till he had been deprived of his principal fort, in defence of which his uncle lost his life, and on the capture of which, his wife, to avoid the dishonor consequent upon falling into the hands of her enemies, had destroyed herself by an explosion of gunpowder.

That, however, it does not appear that any offer of mediation was ever actually made, or any influence exerted, either for the safety of the Ranna’s person and family or in mitigation of the rigorous intentions supposed by Lieutenant Anderson[4] to have been entertained against him by Mahdajee Sindia after his surrender.

That the said Hastings, in the instructions[5] given by him to Mr. David Anderson for his conduct in negotiating the treaty of peace with the Mahrattas, expressed his determination to desert the Ranna of Gohud in the following words.

“You will of course be attentive to any engagements subsisting between us and other powers, in settling the terms of peace and alliance with the Mahrattas. I except from this the Ranna of Gohud.... Leave him to settle his own affairs with the Mahrattas.”

That the said Anderson appears very assiduously to have sought for grounds to justify the execution of this part of his instructions, to which, however, he was at all events obliged to conform.

That, even after his application for that purpose to the Mahrattas, whose testimony was much to be suspected, because it was their interest to accuse and their determined object to destroy the said Ranna, no satisfactory proof was obtained of his defection from the engagements he had entered into with the Company.

That, moreover, if all the charges which have been pretended against the Ranna, and have been alleged by the said Hastings in justification of his conduct, had been well founded and proved to be true, the subject-matter of those accusations and the proofs by which they wore to be supported were known to Colonel Muir before the conclusion of the treaty he entered into with Mahdajee Sindia; and therefore, whatever suspicions may have been entertained or whatever degree of criminality may have been proved against the said Ranna previous to the said treaty, from the time he was so provided for and included in the said treaty he was fully and justly entitled to the security stipulated for him by the Company, and had a right to demand and receive the protection of the British government.

That these considerations were urged by Mr. Anderson to the said Warren Hastings, in his letter of the 24th of June, 1781, and were enforced by this additional argument,—

“that, in point of policy, I believe, it ought not to be our wish that the Mahrattas should ever recover the fortress of Gualior. It forms an important barrier to our own possessions. In the hands of the Ranna it can be of no prejudice to us; and notwithstanding the present prospect of a permanent peace betwixt us and the Mahrattas, it seems highly expedient that there should always remain some strong barrier to separate us, on this side of India, from that warlike and powerful nation.”

That the said Warren Hastings was highly culpable in abandoning the said Ranna to the fury of his enemies, thereby forfeiting the honor and injuring the credit of the British nation in India, notwithstanding the said Hastings was fully convinced, and had professed, “that the most sacred observance of treaties, justice, and good faith were necessary to the existence of the national interests in that country,” and though the said Hastings has complained of the insufficiency of the laws of this kingdom to enforce this doctrine “by the punishment of persons in the possession of power, who may be impelled by the provocation of ambition, avarice, or vengeance, stronger than the restrictions of integrity and honor, to the violation of this just and wise maxim.”

That the said Hastings, in thus departing from these his own principles, with a full and just sense of the guilt he would thereby incur, and in sacrificing the allies of this country “to the provocations of ambition, avarice, or vengeance,” in violation of the national faith and justice, did commit a gross and wilful breach of his duty, and was thereby guilty of an high crime and misdemeanor.

Third attack by Marathas on Gohad in 1780

After the unsuccessful attack by Faujdar of Melsa Rao Appa on Gohad in 1778, Marathas again planned to attack Gohad in early 1780, and started occupying the garhis under Ranas of Gohad. The attack was led by Ambaji Inglai and Khande Rao Hari. Marathas had not directly attacked Gohad but had occupied some of their garhis. Rana Chhatra Singh, in order to stop the movement of Marathas, reached Gwalior and camped at a place about 10 km away from Gwalior. [48] The war started between Marathas and Jats here. Initially Marathas seemed more powerful but later they had to suffer a great loss. On 24 February 1780 Rana wrote a letter to Governor-General stating that he would be waiting for British army though he had sufficient force to fight with Marathas, but even then his orders are awaited. [49] [50]

Under the instructions of Governor-general, A detachment of the company’s army had been prepared in that quarter, under the command of Captain Popham, for the purpose of augmenting the forces of Goddard; but from the consideration, partly that they could not arrive in time on the Bombay coast, partly that they might contribute to the success of his operations by an attack upon the part which was nearest of the Mahratta frontier, they had not been commanded to proceed; and in the beginning of February, 1780, they were sent to the assistance of the Rana of Gohud. Captain Popham found means in this service of distinguishing his enterprise and talents. [51]

To assist Captain Popham four battalions were sent to Itawa. When this information reached Rana of Gohad, he sent Bakshi Madho Ram with cavalry of 3000 in advance to help cross Yamuna and Bring Captain Popham to Gohad. After the arrival of Captain Popham Rana Chhatra Singh became more strong. [52] [53] On 4 March 1780 Rana Chhatra Singh moved from Gohad along with English Army to a place 18 kos away from Gohad. When the army of Marathas saw Rana Chhatra Singh with the English army they were scared and left for Datia. Rana of Gohad wanted to eliminate Marathas. On 24 May 1780 The Governor-General informed Rana of Gohad through a letter that they were sending a very competent senapati Major Camac who would reach Gohad within a few days. [54] [55]

Lahar expedition 1780

Captain Popham came to Gohad to assist Rana of Gohad in Lahar expedition in the middle of 1780. The joint Anglo-Rana army attacked Kachhwahas of Lahar and defeated them. After the fall of Lahar Fort there developed a controversy. The army of Rana had left the fort of Lahar after its fall as per the instructions of English officer. Rana was surprised to know that the English army had later on looted the fort and burnt a part of it. Rana of Gohad complained to the Governor General about this incidence and requested him that in future the place won by the joint forces should not be looted. [56] [57]

The Governor General intervened and removed the confusions between captain Popham and Rana of Gohad especially concerning the future expedition of Gwalior fort and its occupation. [58] [59]

Recapture the Gwalior fort 1780

Chhatar Singh planned to recapture the Gwalior fort. He sent his trusted strap Brajraj Singh to attack Gwalior fort. There was a war between Brajraj Singh and Maratha army under the leadership of Raghunath Rao on the banks of Swarn Rekha River. Brajraj Singh was killed in the war but Chhatar Singh succeded in recapturing the Gwalior fort on 4 August 1780 after defeating Marathas. [60][61]After winning over the Gwalior fort he performed Yajna and gifted 4000 cows. He took number of steps of welfare of people. He constructed Chhatri of Bhim Singh in his memory near Bhim-tal on the Gwalior fort.[62]

He handed over the administration of Gwalior fort to his younger queen and came back to Gohad. Mahadji Sindhia was planning to attack Gwalior fort. He did number of attempts to capture fortresses under Gohad rule. He seized the Gwalior fort and war continued for about 8 months. He saw no hope to win back the Gwalior fort. Later he planned a conspiracy. He bribed one of the most trusted guards of the Maharani and prepared him to depart from Jat ruler along with 2000 soldiers. The Maharani continued war along with 600 soldiers in the fort. When there was no scope left the Mahrani took Jauhar on 27 February 1783 and Marathas occupied the fort. This place is still known as Jauhar-kund on Gwalior fort.[63]

Death

Mahadji Sindhia attacked the Gohad fort in the end of 1784. After a war of 2 months Mahadji occupied the Gohad fort on 27 February 1785. Rana chhatar Singh escaped to Karauli where his friend Nihal Singh Rana was a ruler. The elder brother of Nihal Singh Manikpal’s conspiracy lead to the arrest of Chhatar Singh. He was brought to Gwalior and killed here through poisoning 19th April 1788 (succ. by his cousin). [64] .[65]

Assessment by Maratha historian

The Maratha Historian Balwantrao Bhaiya Saheb Sindhia has written about Chhatar Singh in his book “History of Gwalior fort” as under:

“The Raja Chhatar Singh of Gohad, a son of Kunwar Mulju, had kept up the struggle with the Marathas.
He was a young man of great promise and well known for his martial exploits, not only in Hindustan but also in countries inhabited by Europeans. His influence was so great that the Zamindars of their own accord and others of adjoining acknowledged him as their Lord and Master. The protracted struggle between him and the Marathas however, reduced the people of Gwalior to such straits that many of them left the town and took their abode in villages at a distance from the seat of disturbances and war. When he became the master of fortress of Gwalior, performed several ritual rites on the fortress and completed the work of Chhatri of Rana Bhim Singh near the great Tank (Bhīmtāl). He lost no time in proclaiming to the public by beat of drums that no one was to molested and disturbed in the pursuit of his peaceful avocation as long as he continued loyal and faithful to the state that protected him.”[66]

His successor

Successor of Maharaja Chhatra Singh Rana was Kirat Singh Rana. After the death of Chhatar Singh in 1784 entire Gohad area became a symbol of anarchy, plundering and killing for 18 years. The revolutionary Jats unanimously declared Kirat Singh Rana son of samant Tarachand of village Neerpura in 1803. Samant Tarachand was cousin brother of Rana Chhatar Singh. The coronation ceremony of Kirat Singh took place at ‘Bagathara fortress’, situated at a distance of 12 miles from Gohad, as Gohad and Gwalior were in possession of Sindhias.[67]

राणा छत्र सिंह (1757-1784)

राणा गिरधरप्रताप सिंह की म्रुत्यु के बाद उनका छोटा भाई राणा छत्र सिंह माघ सुदी सप्तमी 1813 को गोहद के राजसिंहासन पर आसीन हुआ. उनका राजतिलक समारोह गोहद दुर्ग में हर्षोल्लास से मनाया गया.[68] उस समय गोहद राज्य की सीमाओं का विस्तार उत्तर में भरतपुर के जाट राज्य, उत्तर-पूर्व में भिंड-अटेर का भदावर राज्य, पूर्व में लहार के कछवाहों तथा दक्षिण मे प्राचीन बुंदेला शासकों की सीमाओं तक था.[69] यही समय मराठों के उत्कर्ष का था. वे उत्तर भारत में लूटमार कर रहे थे. उस समय गोहद क्षेत्र उत्तर मालवा मे अपनी सम्रुद्धी के लिये प्रसिद्ध था. राणा छत्र सिंह का राज्य मराठों के दिल्ली अभियान के रास्ते में पडता था, जिससे मराठा गोहद राज्य पर अधिकार करना चाहते थे.[70] लेकिन राणा छत्र सिंह बहादुरी से लगभग 24 वर्षो तक मराठों के आक्रमणों को विफ़ल करता रहा. राणा छत्र सिंह की विरता से प्रभावित होकर अंग्रेज तथा फ़्रांसिसियों ने उनसे मित्रता स्थापित की. भरतपुर नरेश जवाहर सिंह तथा अंग्रेजों की सहायता से उसने मराठों पर निरन्तर विजयें प्राप्त कीं. उनका शासन काल गोहद राज्य का सवर्णिम युग कहलाता है.[71] (Ojha,p.69)

राणा छत्र सिंह का ग्वालियर दुर्ग पर आधिपत्य (1761)

पानीपत का तृतीययुद्ध और मराठा - 14 जनवरी 1761 के दिन पानीपत के मैदान में अहमदशाह अब्दाली और मराठों के बीच हुये युद्ध में मराठा बुरी तरह से पराजित हुये. उनका उत्तर भारत में प्रभुत्व समप्त हो गया. वे दक्षिण की ओर लौट गये. [72] पेशवा बाजी राव की पानीपत के युद्ध के बाद जून 1761 में म्रुत्यु हो गई.[73] (Ojha,p.70)

राणा छत्र सिंह के पैत्रक दुर्ग ग्वालियर पर मराठों का अधिकार था. उनकी ओर से उस समय गोविन्द श्याम राव नामक मराठा सरदार ग्वालियर दुर्ग का सूबेदार था तथा एक अन्य मराठा सरदार नरसिंह राव फ़ौजदार के पद पर नियुक्त था, जो ग्वालियर में न्याय का संचालन भी करता था. [74] जब उत्तर भारत में मराठों का प्रभुत्व समाप्त हो गया, तो राणा छत्र सिंह को अपने पैतृक दुर्ग ग्वालियर पर अधिकार का सुअवसर प्राप्त हो गया, उन्होने ग्वालियर दुर्ग पर आक्रमण कर दिया. दुर्ग के सूबेदार गोविन्द श्याम राव ने पूरी शक्ति के साथ राणा छत्र सिंह का सामना किया. जाट सेना तथा मराठा सेना में घमासान युद्ध हुआ, जिसमें मराठा सेना बुरी तरह पराजित हुई. [75] राणा छत्र सिंह का ग्वालियर दुर्ग पर आधिपत्य हो गया.[76] (Ojha,p.70)

मल्हार राव होल्कर का गोहद के विरुद्ध अभियान 1765 - पानीपत के तृतीय युद्ध मे मराठों की बुरी पराजय से ऐसा प्रतीत होता था कि मराठा शक्ति समाप्त हो गई, प्रन्तु अहमदशाह अब्दाली के स्वदेश वापस लौट जाने के बाद मराठा फ़िर से शक्तिशाली होने लगे. वे कुछ समय बाद पुन: लूटमार करने लगे थे.[77] मराठों को धन के लिये जाटों का क्षेत्र अनुपम तथा अद्वीतीय था. मल्हारराव ने जुलाई 1765 में गोहद राज्य में लूटमार प्रारम्भ की. [78] राणा छत्र सिंह ने मराठों का सामना वीरतापूर्वक किया. यद्यपि गोहद के जाट वीर तथा साहसी थे, लेकिन वे दक्षिण की टिड्डियों की तुलना में कम थे. इसलिये वे दिन-प्रति दिन कुछ खो रहे थे.[79](Ojha,p.70)

महादजी सिंधिया का ग्वालियर दुर्ग पर आधिपत्य 1765 - जिस समय गोहद राणा छत्रसिंह मल्हारराव की शत्रुतापूर्ण कार्यों की प्रतिक्रियात्मक कार्यवाहियों में व्यस्त थे, उस समय ग्वालियर दुर्ग की जाट सैन्य शक्ति नगण्य थी. महादजी ने अवसर पाकर ग्वालियर दुर्ग पर दिसम्बर 1765 में आधिपत्य कर दिया. [80](Ojha,p.70-71)

जाट मराठा संघर्ष- राणा छत्रसिंह की निरन्तर विजयें

मल्हारराव का गोहद का घेरा 1766 - मल्हारराव जुलाई 1765 से गोहद राज्य के विरुद्ध शत्रुतापूर्ण कर्यों को सम्पादित कर रहा था. वालियर दुर्ग पर अधिकार हो जाने पर मल्हारराव का उत्साह बढ गया, तो वह जनवरी 1766 में गोहद पर घेरा डालकर आक्रमण की तैयारी करने लगा. मल्हारराव ने मराठा सरदार सुल्तानजी लम्भाटे, मकाजी लम्भाटे और सन्ताजी वावले के नेत्रत्व में 15000 घुडसवार चम्बल पार धोलपुर में जवाहर सिंह के विरुद्ध युद्ध करने भेजे. [81] जवाहर सिंह ने सिक्ख सेना की सहायता से धोलपुर से 14 मील की दूरी पर 13-14 मार्च 1766 को मराठों को बुरी तरह पराजित किया. [82] जवाहर सिंह ने मराठा सरदार सुल्तानजी लम्भाटे को कुछ सैनिकों सहित कैद कर लिया तथा कई सैकडा घोडे छीन लिये. [83]

जिस समय मल्हारराव की सेना धौलपुर में जवाहर सिंह के विरुद्ध युद्ध में व्यस्त थी, उसी समय 13-14 मार्च 1766 को राणा छत्र सिंह ने गोहद का घेरा डाले मल्हारराव की मराठा सेना पर आक्रमण कर दिया. जाट सेना ने मराठों को बुरी तरह परास्त किया. भरतपुर तथा गोहद में एक साथ जाटों द्वारा मराठों की यह पराजय मराठा सरदार बावले और लम्भाटे के लिये पानीपत में हुई पराजय के समान थी.[84](Ojha,p.71)

जवाहर सिंह और छत्र सिंह का जाट संघ - जवाहर सिंह तथा सिक्खों के बीच घनिष्ट संबन्ध थे. उन्होने सिक्खों की सहायता से मल्हारराव होल्कर की सेनाओं को पराजित कर दिया था. सिक्खों ने तो अहमदशाह अबदाली के विरुद्ध सफ़ल प्रतिशोध किया था. गोहद का राणा छत्र सिंह जुलाई 1965 से मराठों के विरुद्ध बहादुरी से संघर्ष कर रहा था. मालवा में जाट मूल वंश का दुर्दम्य साहस और अजेय शौर्य पंजाब और भरतपुर से कम उज्जवल नहीं था.[85] इसलिये मल्हार राव के ऊपर विजय से अपने को गौरवान्वित समझकर जवाहर सिंह ने स्वयं यह निश्चित किया कि वह अपने मित्र राणा छत्र सिंह की सहायत करेगा और इस प्रकार वह चम्बल के पार तथा अपने देश के बाहर मराठों का सफ़ाया करेगा.[86](Ojha,p.72)

रघुनाथ राव का गोहद पर आक्रमण अक्टूबर 1766 - मराठा अपनी खोई हुई प्रतिष्ठा को प्राप्त करने के लिये कटिबद्ध थे. मराठा सरदार रघुनाथ राव विशाल सेना तथा सैन्य सामग्री लेकर अक्टूबर 1766 के प्रारम्भ में गोहद पहुंचा. उसके सेनानायक खंडोत्र्यंक ने गोहद नगर का घेरा डाल दिया. मराठा सरदार महादजी सिन्धिया तथा मराठा सरदार नारोशंकर भी सेना सहित गोहद पहुंचे. इस युद्ध में महदजी सिंधिया मुख्य सेनापति थे. गोहद के राणा छत्र सिंह शूरवीर तथा फ़ौजबंध थे, वह पूर्ण मुस्तैदी से मराठों का सामना करने के लिये तत्पर थे. इसके साथ ही उसे शक्तिशाली जाट जवाहर सिंह का भी समर्थन प्राप्त था. उसने द्रुढता से रघुनाथ राव का सामना किया. [87] मराठा सैनिकों ने गोहद दुर्ग पर तोपों से गोलाबारी की, प्रत्युत्तर मे जाट सेना ने भी मराठा सेना पर तोपों से गोलाबारी की. जाट सेना ने मराठों से छापामार युद्ध करके उनके मोर्चॊम को ध्वस्त कर दिया. उनकी सैन्य सामग्री लूट ली तथा हाथी-घोडे छीन लिये. [88](Ojha,p.73)

रघुनाथराव का पुन: गोहद पर आक्रमण 2.11.1766 - जाट मराठा संधि असफ़ल हो जाने के बाद रघुनाथराव ने 2 नवम्बर 1766 को पुन: गोहद का घेरा डाला. उसने इस बार मराठा सेना का नेतृत्व स्वयं सम्भाला. रघुनाथराव ने मराठा सैनिकों को तोपें गोहद दुर्ग के पास लगाने के निर्देश दिये. मराठा सैनिक शीघ्र ही तोपें लेकर दुर्ग के चहार दीवारी तक पहुंच गये. मराठों ने मोर्चा लगाकर आक्रमण कर दिया. जब वे दुर्ग की दीवार पर चढने का प्रयास कर रहे थे, तो दुर्ग पर मोर्चा लगाये जाट सेना ने बंदूकों से गोलियां बरसाई, जिसमें दुर्ग के नजदीक पहुंची मराठा सेना के 100 से अधिक सैनिक मारे गये तथा 1000 से अधिक मराठा सैनिक घायल हुये. [89]जाट-मराठा सेनाओं में घमासान युद्ध हुआ, लेकिन जाट सेना के सामने मराठा सेना ठहर न सकी. (Ojha,p.74)

जटों का मनोबल बढ गया था. उन्होने मराठों के मोर्चे को पुन: ध्वस्त कर उन्हें बुरी तरह परास्त किया. इसके साथ ही भरतपुर का जाट जवाहर सिंह भी राणा छत्र सिंह की सहायता के लिये 30000 से अधिक पैदल तथा घुडसवारों को लेकर धोलपुर तक पहुंच गया.[90] अब रघुनाथराव को गोहद से भागने के अलावा कोई अन्य चारा न था.[91] (Ojha,p.74)


रघुनाथराव का गोहद से पलायन दिसम्बर 1766 - रघुनाथराव गोहद से पराजित होने से अपने को अपमानित महसूस कर रहा था, इसलिये वह राणा छत्र सिंह पर पुन: आक्रमण की योजना बनाने लगा. तब धोलपुर से जवाहर सिंह ने रघुनाथराव के पास अपना वकील मानसिंह भेजकर सूचित किया कि, "राणा छत्र सिंह उसका (जवाहर सिंह) का मित्र है, इसलिये रघुनाथराव गोहद से चला जाये अथवा जो भी उसके विचार हो, स्पष्ट बताये". इस समय रघुनाथराव गोहद के राणा छत्र सिंह से इतना उलझा हुआ था कि उसने जवाहर रूपी संकट को टालने के लिये उसके वकील मानसिंह को कहा कि, "वह (रघुनाथराव) तो जवाहर सिंह के प्रति मैत्री पूर्ण विचार रखता है." अब रघुनाथराव ने गोहद के मामले में उलझना उचित नहीं समझा. और उसने अपना सैन्य शिविर गोहद से उठा लिया. [92][93](Ojha,p.75)

रघुनाथराव का जाट गढियों पर आक्रमण 1766 - रघुनाथराव ने गोहद के राणा छत्र सिंह से सीधी टक्कर न लेकर उसके राज्य की जाट गढियों पर आक्रमण करना प्रारम्भ कर दिय. रघुनाथराव ने भिलसा-गढी का घेरा डालकर आक्रमण किया. गढी में जाट सैनिक तीन दिन तक मराठा सेना का सामना करते रहे, अंत में गढी के जाट सरदार ने 300 जाट सैनिकों सहित रघुनाथराव की सेना के समक्ष आत्म-समर्पण कर दिया. 10 दिसम्बर 1766 के दिन रघुनाथराव की मराठा सेना ने आत्मसमर्पित 300 जाट सैनिकों की निर्मम हत्या कर दी, इसके बाद मराठा सेना जाटों की अन्य गढियों एवं गांवों को लूटने लगी. [94](Ojha,p.75)

राणा छत्रसिंह का मराठा गढियों पर प्रतिक्रियत्मेक आक्रमण - राणा छत्रसिंह ने मराठों द्वारा जाट गढियों पर हमले की तुरन्त प्रतिक्रिया दी. उसने गोहद राज्य के पास मराठों की जो गढियां थी, उन पर आक्रमण कर अपने अधिकार में ले लिया. मराठों की बहादुरपुरा, बडैरा, बिल्हाटी, पढावली आदि घधियों पर राणा छत्र सिंह का अधिकार हो गया. [95](Ojha,p.75)

जाट मराठा संधि - राणा छत्र सिंह द्वार मराठा गढियों पर अधिकार कर लेने की सूचना जब रघुनाथ राव के पास पहुंची, तो वह घबरा गया, उसने तत्काल महादजी सिंधिया को एक संधि प्रस्ताव लिखकर राणा छत्र सिंह के पास भेजा. महादजी सिंधिया के प्रयास से राणा छत्र सिंह व रघुनाथ राव में 2 जनवरी 1767 के दिन संधि हो गई. इसके बाद रघुनाथ राव गोहद राज्य की सीमा से बाहर करौली राज्य की ओर चला गया. [96](Ojha,p.76)

राणा छत्र सिंह का भिंड पर अधिकार 1768 - राणा छत्र सिंह की शक्ति इस समय बहुत बढ गई थी. मई 1766 मे जाट जवाहर सिंह और राणा छत्र सिंह में समझौता हुआ, जिसमें जवाहर सिंह ने अटेर के घेरे के समय राणा छत्र सिंह से सैन्य सहायता मांगी थी, अटेर पर जवाहर सिंह का अधिकार हो जाने के बाद राणा छत्र सिंह ने जवाहर सिंह की सिक्ख व जाट सेना की सहायता से भिंड पर आक्रमण कर अधिकार कर लिया.120[97] जाट सेना की गतिविधियों में तेजी लाने के लिये मई 1768 में जवाहर सिंह स्वयं भिण्ड पहुंचे थे. जुलाई 1768 में सिक्ख सेनापति दानशह तथा जवाहर सिंह का छोटा भाई रतन सिंह भी भिण्ड पहुंचे. थे इस युद्ध में सेना का सेनापति माधौराम था. (Ojha,p.76)

राणा की सहयतार्थ अंग्रेजी सेना - गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स ने अंग्रेजी सेनापति के. पोफ़म को 2400 सशस्त्र सैनिक, एक बडी तोप, चार छोटी तोपें तथा दो घोडसवारों की टुकडी देकर राणा छत्र सिंह की सहायता के लिये गोहद भेजा. के. पोफ़म अंग्रेजी सेना लेकर इटावा पहुंचा. गोहद का सेनापति वक्षी मधौराम तीन हजार घुडसवारों के लेकर अंग्रेजी सेना को लेने इटावा पहुंचा. के.पोफ़म मर्च 1780 के प्रथम सप्ताह में गोहद पहुंच गया. के. पोफ़म के गोहद पहुंचने से राणा छत्र सिंह की सामरिक गतिविधियों में तेजी आ गई.(Ojha,p.77)

मराठों का गोहद राज्य से पलायन 1780 - राणा छत्र सिंह 4 मर्च 1780 के दिन अंग्रेजी सेना की सहायता से गोहद से लगभग 50 किमी की दूरी पर मराठों से युद्ध करने के लिये पहुंचा. मराठा सरदार अम्बाजी इण्गले और खांडेराव हरि की संयुक्त मराठा सेनायें राणा की आंग्ल जाट-संयुक्त सेना का सामना करने का साहस नहीं जुटा पाई. मराठा सेनायें अपना सैन्य शिविर उठाकर गोहद राज्य की सीमा से बाहर झांसी की ओर भाग गई. [98](Ojha,p.77)

आंग्ल जाट संयुक्त सैन्य अभियान: लहार पर आधिपत्य 1780 - अंग्रेजों की सहायता पाकर राणा छत्र सिंह बहुत शक्तिशाली हो गये. इस समय लहार पर कछवाहा राजपूतों का राज्य था. इस्के राज्य की सेनायें गोहद तक फ़ैली थी. राणा छत्र सिंह ने अंग्रेज सेनापति के> पोफ़म से लहार पर अधिकार करने में सहायता मांगी, जिसे स्वीकार कर लिया. मई-जून 1789 में राणा छत्र सिंह की जाट सेना ने अंग्रेजी सेना की सहायता से लहार पर आक्रमण कर अधिकार कर लिया. राणा छत्र सिंह की सहमति से लहार किला अंग्रेजी सेना के निवास हेतु अंग्रेजों ने अपने अधिकार में ले लिया. [99](Ojha,p.78)

ग्वालियर दुर्ग पर अधिकार (1780)

इस समय ग्वालियर दुर्ग महादजी सिंधिया के अधिकार में था, जिसकी ओर से अम्बाजी इंगले दुर्ग का सुबेदार था. [100] राणा छत्र सिंह और मेजर के. पोफ़म ने मिलकर ग्वालियर दुर्ग पर अधिकार करने की योजना बनाई.[101] (Ojha,p.78)

ग्वालियर दुर्ग पर आधिपत्य की योजना - अंग्रेज कप्तान विलियम ब्रूस को दुर्ग पर आक्रमण करने वाली टुकडी का नायक बनाया गया. [102] उसके पीछे रहने वाली सैन्य टुकडियों का नेतृत्व मेजर पोफ़म ने स्वयं सम्भाला. ग्वालियर दुर्ग तक पहुंचने और दुर्ग पर चढने मे कम से कम पदचाप हो इसके लिये सैनिकों को विशेष प्रकार के कपडे से बने रुई से भरे जूते बनवाये गये. [103](Ojha,p.78)

के. पोफ़म ने 3 अगस्त 1780 की शाम गोहद से चलकर ग्वालियर से 8 किमी दूरी पर ’रायपुरा’ गांव में अपना शिविर लगाया.[104] रायपुरा से 11 बजे सैन्य दल सुनसान रास्तों से चलकर उजाला होने से पहले (रात चौथे पहर) दुर्ग पर पहुंच गया.[105](Ojha,p.78)

केप्टन विलियम ब्रूस ने दुर्ग के पहरेदारों की जलती हुई मशालों को देखा और सन्तरियों का खांसना सुना. (खांसना -हिन्दुस्तानी शिविरों या दुर्गों में "सब कुछ ठीक है" बताने का यही तरीका है). इस संकेत से शत्रुओं का साहस टूट जाता है, लेकिन ब्रूस में आत्म विश्वास बढ गया क्योंकि उससे कार्य करने का क्षण, जो पहरेदारों के चक्कर लगाने के बीच का था, निश्चित हो गया. [106](Ojha,p.78)

जब मसालें ओझल हो गई, तो पहाडी पर लकडी की सीढियों के सहारे राणा का एक सैनिक गरगज के रास्ते से दुर्ग पर चढा.[107] उसने देखकर बताया कि सभी पहरेदार व्सो रहे हैं. इसके बाद इंजीनियर लेफ़्टीनेन्ट केमरान दुर्ग पर चढा, उसने सेना को दुर्ग पर चढने के लिये रस्सी की सीढी बांध दी.

इसके बाद केप्टन ब्रूस 20 बन्दूक धारी सैनिकों के साथ दुर्ग पर चढ गया, लेकिन पोफ़म की टुकडी पहुंचने से पूर्व उसकी टुकडी की तीन सैनिकों ने सोते हुये पहर्दारों पर गोलियां चला दी, इससे पूरा मामला बिगड गया. किले के मराठा सैनिक उस स्थान की ओर दौडे जहां गोलियां चलीं थी, लेकिन विलियम ब्रूस की टुकडी ने लगातार गोलियां चलाकर उन्हें आगे नहीं बढने दिया. तब तक मेजत पोफ़म भी सेना स॒हित दुर्ग पर पहुंच गया. [108] दुर्ग की सेना अन्दर की इमारतों में पहुंच गई, वहां से उन्होने गोलियां तो चलाई, लेकिन वे शीघ्र ही भाग खडे हुये. दुर्ग के अधिकारी एक इमारत में इकट्ठे हो गये जहां उन्होने सफ़ेद ध्वज टांग दिया, जिन्हें मेजर पोफ़म ने उन्हें सुरक्षा का आश्वासन दे दिया. इस प्रकार केवल दो घंटे में दुर्ग पर अंग्रेजों का कब्जा हो गया. [109] इस युद्ध में किले का गवर्नर 'बापूजी' मारा गया, अम्बाजी इंगले अपने कुछ सैनिकों के साथ चुप-चाप किले से भाग गया. [110] 4 अगस्त 1780 दिन शुक्रवार को सुबह ग्वालियर दुर्ग पर अंग्रेजों का अधिकार हो गया. (Ojha,p.79)

राणा छत्र सिंह का ग्वालियर पर आधिपत्य 1781 - अंग्रेजों को ग्वालियर दुर्ग पर रहना रास नहीं आया क्योंकि उन्हें दुर्ग पर पानी की काफ़ी परेशानी हो रही थी. इसलिये उन्होने ग्वालियर दुर्ग विजय अभियान में हुआ कुल व्यय दो लाख अपने मित्र गोहद के राणा छत्र सिंह (जिनकी सहायता से दुर्ग पर अधिकार किया था), लेकर दुर्ग उसे (राणा को) सौंप दिया. राणा छत्र सिंह ने मई 1781 में 15000 की जाट सेना सहित ग्वालियर दुर्ग पर आधिपत्य कर लिया. [111] राणा छत्र सिंह ग्वालियर दुर्ग पाकर बहुत प्रसन्न हुये क्यॊंकि ग्वालियर दुर्ग को वह अपनी पैतृक सम्पत्ति मानते थे. ग्वालियर दुर्ग पर आधिपत्य करना राणा छत्र सिंह के जीवन की अंतिम सबसे बडी सफ़लता थी. उन्होने दुर्ग पर धार्मिक कार्य सम्पन्न कराये. ब्राह्मणों को भोजन, वस्त्र व गायें दान की. [112](Ojha,p.80)

महादजी का ग्वालियर दुर्ग पर आक्रमण 1783

17 मई 1782 को ग्वालियर से 20 किमी दूर सालवई नामक स्थान पर महादजी व जेम्स के बीच संधि हो गई. इससे प्रथम-आंग्ल-मराठा युद्ध का अन्त हो गया. अंग्रेजों ने उत्तर भारत के सारे अभियानों को बंद कर दक्षिण भारत की ओर अपना ध्यान दिया. अंग्रेजी सेना जो राणा छत्र सिंह की सहायतार्थ गोहद में थी, उसे वापस बुला लिया. [113]अंग्रेजों ने राणा के उपर से अपना पूरा संरक्षण हटा लिया. (Ojha,p.80)

अंग्रेजी सेना के गोहद से जाने के बाद महादजी विशाल मराठा॒ सेना लेकर ग्वालियर पहुं चा. उसने ग्वालियर दुर्ग पर घेरा डाल दिया. राणा छत्र सिंह अपनी छोटी रानी सुभान कुंवरी को ग्वालियर दुर्ग की सुरक्षा का दायित्व सौंप कर स्वयं गोहद चले गये. जाट सेनापति राजधर ने दुर्ग पर मोर्चा लगाया. महादजी की मराठा सेना ने दुर्ग पर गोलाबारी शुरु करदी. प्रत्युत्तर में जाट सेना ने भी भी मराठा सेना पर तोपों से गोलाबारी की. जाट-मराठा युद्ध लगभग सात माह तक चलता रहा, लेकिन महादजी ग्वालियर दुर्ग पर अधिकार न कर सके.[114](Ojha,p.80)

महादजी सिंधिया की कूटनीतिक चाल

जब महादजी सिंधिया ग्वालियर दुर्ग पर अपनी सैन्य शक्ति से अधिकार न कर सके, तो उसने कूटनीतिक चाल चलना शुरु किया. महादजी ने दुर्ग के उच्च अधिकारी मोटामल को मोटी रिश्वत देकर अपनी ओर कर लिया. राणा छत्र सिंह को अपने गुप्तचरों से इस षडयन्त्र का पता लग गया, तो राणा ने मोटामल को हटाने के लिये छोटी रानी को पत्र लिखा, लेकिन वह पत्र मोटामल के हाथ में पड गया. मोटामल ने महादजी को इसकी सूचना देते हुये उसी रात में मराठा सेना दुर्ग पर भेजने का अनुरोध किया. महादजी ने मोटामल की सूचना पर मराठा सेना उसी रात को दुर्ग पर भेज दी. मराठा सेना मोटामल के बताये रास्ते से रात के अंधेरे में बिना किसी अवरोध के दुर्ग में प्रवेश कर गई. जाट सेना के लगभग 2000 सैनिक मोटामल से मिल गये थे और लगभग 3000 सैनिक अचानक उत्पन्न स्थिति से भाग खडे हुये. लगभग 300 सैनिक जाट सेनापति राजधर के नेतृत्व में रानी की सुरक्षा हेतु मानमन्दिर महल पर पहुंच गये और मराठों से युद्ध करने लगे. युद्ध की भयंकरता को देख रानी अपने को असुरक्षित समझ बारूद कक्ष मे घुस गई और बारूद में आग लगाकर स्वयं अग्नि को समर्पित हो गई. [115] मानमंदिर महल पर भयंकर मारकाट हुई. जाट सेनापति राजधर मराठों से युद्ध करते हुये वीरगति को प्राप्त हुये. महादजी ने 27 जुलाई 1783 को ग्वालियर दुर्ग पर आधिपत्य कर लिया. [116]महादजी को राणा की तीन पलटन (2000 सैनिक) तथा तीन तोपें मिल गई. [117](Ojha,p.81)

महादजी द्वारा गोहद का घेरा 1784

23 जनवरी 1784 को महादजी ने विशाल मराठा सेना एवं सैन्य सामग्री लेकर गोहद का घेरा डाल दिया.[118] राणा छत्र सिंह लगभग आधी सेना गद्दार मोटामल के साथ हो गई थी, जो अब महादजी का साथ दे रहा था तथा कुछ सेना जाट सेनापति राजधर के नेतृत्व में मराठों का सामना करने में वीरगति को प्राप्त हो चुकी थी. अंग्रेज प्रत्यक्ष रूप से महादजी का साथ दे रहे थे.[119] इस विषम परिस्थिति में राणा छत्र सिंह अन्य राज्यों से सहायत लेने, जाटों की बिखरी हुई शक्ति को एकत्रित करने तथा नया सैन्य बल तैयार करने के लिये अपने मंत्री माधव तथा कुछ विश्वसनीय जाट सरदारों को साथ लेकर अपने परिवार सहित गुप्त मार्ग से गोहद से निकल गया.[120]

राणा छत्र सिंह गोहद से करौली पहुंचे. उस समय करौली का शासक माणिकपाल था. उसका छोटा भाई निहालपाल राणा छत्र सिंह का मित्र था. निहालपाल ने राणा छत्र सिंह के निवास हेतु एक हवेली में व्यवस्था की तथा एक अन्य दूसरी हवेली में राणा छत्र सिंह के मंत्री तथा जाट सरदारों के निवास की व्यवस्था की. [121](Ojha,p.82)

राणा छत्र सिंह का अंग्रेजों को पत्र - राणा छत्र सिंह ने करौली से अपने अंग्रेज मित्र मेजर ब्राउन को पत्र लिखकर सैन्य सहायता मांगी. उसने मेजर ब्राउन को अपने साथ कम्पनी के संबन्धों का स्म॒रण कराया तथा सहायता के लिये 1500 घुडसवार करौली भेजने का अनुरोध किया. इसके साथ ही करौली राजा को पत्र लिखने का अनुरोध किया. ताकि माणिकराव उसे (राणा को) अधिक से अधिक सुविधा प्रदान करे.[122] (Ojha,p.82)

महादजी का करौली राजा को पत्र - कुछ समय बाद महादजी सिंधिया को उसके गुप्तचरों द्वारा सूचना मिल गई कि "राणा छत्र सिंह करौली में शरण पाये हुये हैं." तो महादजी सिंधिया ने अपने दूत द्वारा करौली नरेश माणिक पाल को राणा छत्र सिंह को उसे (महादजी को) सौंपने के लिये पत्र भेजा. करौली नरेश माणिक पाल महादजी की शक्ति को देखकर घरा गया. उसने अपनी भावी विपत्ति को टालने के लिये तथा महादजी को प्रसन्न करने के लिये राणा छत्र सिंह को उसके परिवार, मंत्री तथा जाट सरदारों सहित कैद कर महादजी के पास भेज दिया. [123](Ojha,p.82)

राणा छत्र सिंह की निर्मम हत्या - राणा छत्र सिंह को कैद करके ग्वालियर लाया गया, जहां उनको ग्वालियर दुर्ग में रखा गया तथा सन 1785 के प्ररम्भिक दिनों में विष देकर उनकी निर्मम हत्या करा दी गई. [124](Ojha,p.83)

सुजस प्रबंध में राजा छत्र सिंह का वर्णन

Raja Chhatra Singh as described in Sujas Prabandh

सुजस प्रबंध काव्य के छंद 69 से 108 में कवि नथन ने महराजा छत्र सिंह का वर्णन किया है. छत्र सिंह राजा का राजतिलक बचपन में हो गया था. राजगद्दी पर शोभित थे और सब राजकाज चलता था. [125] राजा ने सुचारू शासन किया. उनके राज में कोई दुखी नहीं रहता था. [126]

राजा छत्र सिंह के मष्तिस्क में सुमति, भुजाओं में असीम बल और मुख में ईश आराधना है, ऐसा कवि का विचार है. उनका प्रत्येक पग पृथ्वी पर धर्म को धारण करता है और वह बलवान राजा वेणु की तरह राज करते हैं. वह अजानबाहू (घुटनों तक लम्बी बाँहों वाला) नर है. कई गढ़ों के प्रबल बलशाली मालिक शत्रुता का परित्याग करके राजा छतरसिंह के चरणों में झुकते हैं. [127]

कवि की धारणा है कि जिस दिन राजा छत्र सिंह घोड़े पर सवार होते थे, तो उनके शत्रु भय से काँप उठते थे. युद्ध में अत्यन्त जुझारू और क्रूर योद्धा भी उनके सामने मुख दिखाने में संकुचित होते हैं. कवि कहते हैं कि उनकी कविता को इस प्रकार पढ़ा जाएगा कि वह यदुकुल में पैदा हुए हैं और अत्यन्त बलशाली हैं उनके बल को पृथ्वी पर सब पढेंगे. [128] जिस प्रकार ग्वालियर दुर्ग में भीमसिंह से ईठल ने खून-खराबा किया था उसी प्रकार स्यामराय सूबेदार ने पूरी तैयारी करके छत्र सिंह से युद्ध ठान लिया.[129]

कवि यह भी कहता है कि जिस तरह लंका में हनुमान ने विनाश की होली खेली थी, उसी तरह छत्र सिंह ने सूबेदार श्यामराय के दल में संहार का अभिनय किया था. [130]

स्यामराय सूवा ने राजा छतरसिंह से पूरी तैयारी के साथ युद्ध किया था, लेकिन उनकी सारी तैयारियां असमर्थ रहीं. जीत यदुकुल नरेश की हुई. उनकी विजय ने राणा वंश को संसार में यश दिया, एक नया गौरव प्रदान किया.[131]

कवि के अनुसार महादजी सिंधिया की सेना भी छत्र सिंह के भय से कांपती थी. [132] शत्रु के खेमे में इस तथ्य से भय छा गया कि छतरसिंह अपनी अजेय शक्ति लिए हुए हैं. अतः उसने सोचा कि इस से लड़कर बैर क्यों किया जाए. यह सोचकर उसने देश को प्रस्थान किया. [133]

81 वें छंद में छत्र सिंह और रघुनाथराव के युद्ध का वर्णन करते हुए कवि का कथन है कि पेशवा ने उत्तेजित स्वर में बातें कहीं, जिनको सुनकर सूवा सरदार बुरी तरह लज्जित हुए. पेशवा ने दिल्ली पर राज्य पाने के लिए रघुनाथराव को सेनापति बनाया. उसको बहुत सा धन भी दिया. पेशवा ने रघुनाथराव को कई हजार श्रेष्ठ घोडे दिए थे, और अनगिनत तोपें भी दीं थीं. उनकी मारक क्षमता इतनी थी कि एक साथ तीन किलों को तोड़ा जा सकता था. उनके सम्मुख एक पठान आया था. उस पठान को कुर्बान होना पड़ा था. उसके बाद पेशवा की सेना ने मालवा पर कब्जा कर लिया. अब कोई अन्य राजा उनसे संग्राम करने का सहस नहीं कर पा रहा था. रघुनाथराव के आने पर वे दंड के रूप में धन देते थे और उसके साथ अपनी सेना को लेकर चल देते थे. चंदेरी का एक राजा बहुत चतुर था. उसने कुछ धन नजर में दिया और राज्य का एक भाग भी पेश कर दिया. ओरछा का राजा प्रमुख था उसका किला भी प्रमुख था. वहां के शासक वीर सिंह ने एक माह तक उनको आगे बढ़ने से रोका. रघुनाथराव ने दतिया के राजा से दुश्मनी मोल ली. उससे कुछ धन लिया और भूमि भी छीन ली. सिमथर के राजा के पास अकूत धन था. और अच्छे सैनिक भी. उनके बल पर रघुनाथ राव से युद्ध कर बैठा. लेकिन मल्हारराव होलकर के बीच में आने से वह बच गया. नरवर के राजा ने मराठों से युद्ध नहीं किया. उसने अपने किले को तो रख लिया, पर समूचे राज्य को उनको सौंप दिया. करौली के राजा ने अपना खजाना मराठों को सौंप दिया. राजा नवल सिंह के राज्य को नष्ट करके मराठों का सैनिक दल नदी की तरह उमड़ कर चल दिया.

गोहद के राजा छत्र सिंह धन्य हैं, जिन्होंने संपूर्ण भार को सहन किया. उसके आक्रमण को रोकने के लिए गोहद के राजा छत्र सिंह युद्ध किया था. उनके सहस और प्रयत्न के लिए कवि कहते हैं कि राजा ने नीले आकाश तक उमड़ते सागर अर्थार्त रघुनाथराव के सैन्यदल को सीमित कर दिया था. कवि रघुनाथराव को तूफानी सागर के पानी के समान और छात्र सिंह को संत के समान बताता है. [134]

गोहद नरेश छत्र सिंह को इस बात का बहुत बड़ा श्रेय प्राप्त है कि उन्होंने मराठा सेनापति महादजी सिंधिया के विशाल दल को उसी प्रकार रोक लिया था, जिस प्रकार सागर के तूफ़ान को बढ़वानल सोख लेता है. यदुकुल में अवतार लेकर पैदा हुए छत्र सिंह धन्य हैं कि अनेक राजाओं को पराजित करके गोहद की शान रखी. [135]

गोहद नरेश ने मराठा सेनापति के साथ युद्ध के लिए अपने समस्त सहयोगियों और राजभक्त लोगों को बुलाकर मंत्रणा की और उनको अपने साथ जोड़ लिया. इन लोगों में हरनाथ, राजधर जैसे विशुद्ध युद्ध और सौपुर नामक सुभट योद्धा मंत्री थे. एक चतुर माधव नामक मंत्री थे, जो अवसर के अनुरूप राजकाज करते थे. राजाने अपने मर्यादित, शूरवीर तथा युद्ध के मैदान में प्रचंड संघर्ष करने वाले भाइयों को भी अपने साथ खड़ा किया. इसके अलावा युद्ध में विकट साहस करने वाले, बलवान भुजाओं को रखने वाले अपने सेनापति तथा फौजदारों को संघर्ष करने की योजना में शामिल कर लिया. नरश्रेष्ठ अपने काका कन्हराम को भी राजा ने अपने साथ ले लिया. इसके अतिरिक्त अनेक राजाओं को भी मराठा आक्रमण का सामना करने के लिए खड़ा किया. इन राजाओं में एक अत्यन्त भयंकर तथा घोर युद्ध में पारंगत अर्जुन सिंह थे, जो मर्यादा की रक्षा करने वाले एवं प्राण के साथ गहरे से जुड़े थे. चारों और रहने वाले सेवक तथा सिपाही जो गोहद की मान मर्यादा की रक्षा कर रहे थे, राजा के साथ थे. [136]

राजा छत्र सिंह ने समस्त दलों से कहा कि महादजी सिंधिया के दलों के साथ उत्साहपूर्वक उलझ जाओ, बलपूर्वक और क्रोद्ध में भर कर शत्रु को मार गिराओ और उनके सिरों को झुकादो.[137]

गोहद नरेश का दल जब सिंधिया की सेना से मिला तो दोनों के बीच विकराल युद्ध होने लगा. शत्रु सेना का प्रमुख भाग टूटने लगा. सब से पहले युद्ध राजा छत्र सिंह ने किया था, जिसके कारण सिंधिया का दल पीठ दिखा गया था. कवि के अनुसार गोहद के मैदान में, रघुनाथराव को हराकर राजा ग्वालियर दुर्ग पर भी अधिकार कर लेता है.[138]

रघुनाथराव तथा छत्र सिंह के व्यक्तित्वों की तुलना करते हुए कवि कहते हैं कि रघुनाथ राव समुद्र के तूफानी पानी की तरह हैं और मुनि के समान धैर्य वाले राजा छत्र सिंह हैं. मराठा सरदार दुर्योधन के समान हैं तो राजा छत्र सिंह अर्जुन के समान हैं.[139] रघुनाथराव गोहद के राजा से रपमंडिनी (मराठों द्वारा लिया जाने वाला कर) मांग रहा है.[140] कवि मराठा सरदार रघुनाथराव और यदुवंशी जाट राजा छत्र सिंह के युद्ध की तुलना कलियुग के महाभारत से करते हैं.[141]

गोहद के मैदान में मराठा सेना के पराजय के बाद, रघुनाथराव अपने दल-बल का विनाश करके, छत्र सिंह राजा के सामने से हट गया. मराठा शक्ति की पराजय से यदुवंशी गोहद नरेश छत्र सिंह की वीरता का यश सारे संसार में व्याप्त हो गया. [142]

मराठा सरदार रघुनाथराव को गोहद राज्य की भूमि पर हराकर दक्षिण की दिशा में भगा देने के बाद, गोहद नरेश राजा छत्र सिंह ने ग्वालियर पर भी अधिकार कर लिया. दस बीस राज्यों को अपने अधिकार में और कर लिया उसने समस्त अपने विरोधियों को दबाकर बस में कर लिया था. कई राजा ऐसे थे जो अपनी रक्षा के लिए राजा छत्र सिंह की भुजाओं का सहारा चाहते थे. इसे राजाओं में कई कछवाहा, वैस, तोमर तथा पंवार गोत्र के थे.[143]

कवि नथन लिखते हैं कि एक छत्रसाल नामक राजा बुंदेलखंड का था, जिसने दिल्ली के शासक की सेना को नियंत्रित किया था. दूसरा छत्रसाल (छत्रपति शिवाजी) थे जिन्होंने मुस्लिम शासकों का वध किया था. तीसरा छत्र सिंह गोहद का स्वामी है, जिसने महादजी सिंधिया की समस्त सेना का संहार कर दिया था. कलियुग में ये तीन छत्रपति हुए हैं, जिन्होंने अपने छत्र की छांह में भूमि को सुरक्षित रखा है. [144]

गोहद के राजा छत्र सिंह ने आक्रमणकारी ईठल के अभिमान को नष्ट किया. उसने ग्वालियर को बार-बार छीन कर उसके गर्व को चूर-चूर किया. उसके अनेक योद्धाओं को रणभूमि में ठेलकर मार डाला. उसने एक वर्षभर मराठा सरदार रघुनाथराव से संघर्ष किया. और वह गोहद में अपने पराजय के अपमान को छोड़ गया. राजा छत्र सिंह ने अपनी विशाल तीनों पणों कि रक्षा शान के साथ की. तात्पर्य यह है की उसने तीन प्रबल सेनापतियों को हराया. वह ईठल को भी हराता है और सतारा के सुल्तान के साथ भी दो-दो हाथ करता है. कवि के अनुसार, रघुनाथराव, महादजी सिंधिया और ईठल को पराजित करने का श्रेय छत्र सिंह को प्राप्त है. [145]

गोहद की जनता को शान्ति से रहते केवल कुछ वर्ष ही व्यतीत हुए थे कि एक सरदार बड़ी विशाल तथा शक्तिशाली सेना लेकर, जो युद्ध में अड़ने तथा जमने वाली थी, फ़िर आ गया. [146] उस पटेल सरदार से राजा छत्र सिंह ने सात वर्ष तक संघर्ष जरी रखा. वह राजा अन्य लोगों से कितने वर्षों तक अपने राज्य की रक्षा में लड़ता रहा, इसकी कोई गणना नहीं है. [147]

एक वर्ष आधे युग का समय, उस राजा को आक्रमणकारी शत्रुओं से लड़ते-लड़ते बीत गया था, तब उसके यहाँ अन्न की कमी पड़ गई थी. उसके निवारण के लिए क्या उपाय किया जाय? इस और राजा का ध्यान गया. [148]

खाद्दान्न का आभाव और उसके कारण सैनिकों की दुर्बलता देखकर गोहद नरेश ने श्रेष्ठ विचार बनाकर निर्णय लिया कि इस भूमि को (संभवतः गोपाचल की भूमि) शत्रुओं के पेट फाड़कर फ़िर ले लूंगा. ऐसा विचार करके युद्ध रोक दिया. उस भूमि को छोड़ दिया गया. [149]

References

  1. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas (Hindi), Nav sahitya Bhawan, New Delhi,p.25
  2. http://www.4dw.net/royalark/India/dholpur2.htm
  3. Dr. Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas,p.359
  4. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas(Hindi), p. 29
  5. George Bruce Malleson: An Historical Sketch of the Native States of India in Subsidiary Alliance with the British government, Elibron Classics.pp 93-94
  6. Barry Tabor:The Ranas of Gohad and their occupations of Gwalior Fort
  7. ‘An Historical Sketch of the Native States of India’, by Col. G B Malleson. Facsimile reprint published by The Acadamic Press, Gurgaon, 1984.
  8. V.S.Krishnan:Madhya Pradesh District Gazetteer, Gwalior
  9. ‘Gohad ke jaton ka Itihas’, Dr. Ajay Kumar Agnihotri, Nav Sahitya Bhawan. (New Delhi, Delhi. 1985), p. 29
  10. http://dholpur.nic.in/history.htm
  11. Yadunath Sarkar:Fall of the Mugal empire, part-2, p.345
  12. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 30
  13. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 30
  14. Dr Raguvir Singh:Malwa mein Yugantar, p.358
  15. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 31
  16. Duttatreya Vishnu Apte:Chandra Chud Daftar, part-1, p. 13
  17. Vasudev Vaman Shastri Khare:Etihasik Lekh Sangrahmala, part-3, 1804-1810, p.1065
  18. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 31
  19. Ganesh Hari Khare: Hingane Daftar, part-2, p. 56
  20. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 31
  21. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 32
  22. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 32
  23. Yadunath Sarkar: Fall of the Mugal empire, part-2, p.346
  24. Persian Record of Maratha history, part-1, Delhi affairs, p.8
  25. Ganesh Hari Khare: Hingane Daftar, part-2, p. 59
  26. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 32
  27. Persian Record of Maratha history, part-1, Delhi affairs, p.8
  28. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 34
  29. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 34
  30. Imperial Record Department: Persian Correspondence, part-2, Pub- Govt Central Press, Calcutta, 1914, pp. 5,6,7
  31. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 34
  32. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 35
  33. Dr P.M.Joshi: Selection from Peshwa Daftar, New Series, part-3, Pub- Govt Central press, Bombay, 1962, p. 104
  34. G.S.Sardesai: New History of the Marathas, part-2, Pub- K.B.Dhawle, Phonex publications, Bombay, p. 508
  35. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 35
  36. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 35
  37. G.S.Sardesai: Selection from Peshwa Daftar, part-29, Pub- Govt. Central press, 1933, p. 220
  38. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 36
  39. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 36
  40. K.C.Luard:Gwalior State gazetteer, part-1,p.218
  41. Imperial Records Department:Persian Correspondence, part-3, Pub-Govt.Press Calcutta, 1919, p.6
  42. Imperial Records Department:Persian Correspondence, part-3, Pub-Govt.Press Calcutta, 1919, p. 50
  43. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 37
  44. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 38
  45. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 40
  46. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 40
  47. http://www.bookrags.com/ebooks/13968/40.html
  48. G.S. Sardesai:Historical papers relating to Mahadji, December 1937, pp. 55-56
  49. Calendar of Persian correspondence, part-5,p.418
  50. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 41
  51. James Mill, The History of British India, vol. 4 [1817, BOOK V. Chap. 3. 1780. - Connexion with the Ranna of Gohud]
  52. Calendar of Persian correspondence, part-5,p.418
  53. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 42
  54. Calendar of Persian correspondence, part-5,p.450
  55. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 43
  56. Calendar of Persian correspondence, part-5,p.450
  57. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 43
  58. Calendar of Persian correspondence, part-5,p.450
  59. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 44
  60. Dr. Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas,p.360
  61. http://www.4dw.net/royalark/India/dholpur2.htm
  62. Dr. Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas,p.360
  63. Dr. Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas, p.360
  64. http://www.4dw.net/royalark/India/dholpur2.htm
  65. Dr. Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas, p.360
  66. Jat Vir Smarika 2005,p.6,7
  67. Jat Samaj, Agra: October-November 2004,p.13
  68. Jagaon Ki Pothi
  69. Rana Jai Singh, Gohad Ki Dayari
  70. Nathan Kavi, Sujas Prabandh,p. 58
  71. Meena and Others. Dholpur Gazetteer,p.34
  72. B.D. Basu, Rise of Christion Power in India, p.210
  73. Nagarele N.N., Peshawa Maratha Relations and Malhar Rao Holkar, p.76
  74. Harihar Niwas Dwivedi, Gopachal Akhyan, p.38
  75. Nathan Kavi, Sujas Prabandh,p.71,75
  76. Luard C.E. Gwalior Gazeteer, p.238
  77. Nagarele N.N., Peshawa Maratha Relations and Malhar Rao Holkar, p.76
  78. History of the Jats by Kalka Ranjan Kanungo, p.108, Manohar Singh Ranawat, Bharatpur Maharaja Jawahar Singh Jat, p.56
  79. History of the Jats by Kalka Ranjan Kanungo, p.109
  80. Luard C.E. Gwalior Gazetteer, p.238, V.S. Krishnan,Gwalior Gazetteer, p.108
  81. Manohar Singh Ranawat, Bharatpur Maharaja Jawahar Singh Jat, p.57
  82. Yadunath Sarkar, Fall of the Mugal Empire Part-2,p.345
  83. Peshawa Daftar(Nai) Bhag-3 Patra Sankhya 85, Chandrachun Daftar Bhag-1, p.109, Manohar Singh Ranawat, Bharatpur Maharaja Jawahar Singh Jat, p.58
  84. Dattatreya Vishnu Apte, Chandarachud Dafter, Jild-1, p.102; Yadunath Sarkar, Fall of the Mugal Empire Part-2,p.318
  85. History of the Jats by Kalka Ranjan Kanungo, p.109110
  86. Wendel,p.65
  87. G.S. Sardesai, Marathi Riyasat Madhya Vibhag (1761-1774),p.203
  88. Yadunath Sarkar, Fall of the Empire Part-2,p.346
  89. Yadunath Sarkar, Fall of the Mugal Empire Part-2,p.346
  90. Yadunath Sarkar, Fall of the Mugal Empire Part-2,p.346
  91. Ranjit Singh, Jat Itihas, p.40
  92. Manohar Singh Ranawat, Bharatpur Maharaja Jawahar Singh Jat, p.62
  93. Raghunath Rao abounded the siege of Gohad in Dec.1766 Ibid 388, Q.H.J. (187-88)
  94. Imperial Record Department- Peshwa Daftar New Serirs Part-3,p.104
  95. P M Joshi, Selection from Peshwa Dafter New Series Paet-3,p.104
  96. Sardesai, New History of the Marathas Part-2,p.508
  97. Mathur & Gupta, Selection from Banera Arcives, p.66;
  98. Ranjit Singh, Jat Itihas, p.413
  99. Luard C.E. Gwalior Gazetteer, p.17
  100. Harihar Niwas Dwivedi, Gopachal Akhyan, p.133
  101. Harihar Niwas Dwivedi, Gopachal Akhyan, p.133
  102. The East India Military Calendar Part-2 (1824),p.96
  103. Indian Historical Records Commission Proceedings of meetings Part-12,p.20
  104. Harihar Niwas Dwivedi, Gopachal Akhyan, p.133
  105. V.S. Krishnan,Gwalior Gazetteer, p.36
  106. V.S. Krishnan,Gwalior Gazetteer, p.36
  107. Harihar Niwas Dwivedi, Gopachal Akhyan, p.133
  108. The East India Military Calendar Part-2 (1824),p.96
  109. Harihar Niwas Dwivedi, Gopachal Akhyan, p.39
  110. V.S. Krishnan,Gwalior Gazetteer, p.36
  111. Anand Rao Bhau Falke, Shindeshahi Itihas-sanchi sadhanen Part-12,p.207
  112. Luard C.E. Gwalior Gazetteer, p.238, V.S. Krishnan,Gwalior Gazetteer, p.240
  113. Mathura Lal Sharma, Peshawaon Ka Itihas, p. 238-239
  114. Harihar Niwas Dwivedi, Gopachal Akhyan, p.40
  115. Luard C.E. Gwalior Gazetteer, p.238, V.S. Krishnan,Gwalior Gazetteer, p.240
  116. The East India Military Calendar Part-2 (1824),p.96-97
  117. Anand Rao Bhau Falke, Shindeshahi Itihas-sanchi sadhanen Part-12,p.293
  118. Sardesai, Historical Papers Relating to Mahadaji, p.364
  119. J N Sarkar, Poona Residency Correspondence Part-1,p.07
  120. Jagaon KiPothi, Natan Kavi, Sujas Prabandh,p.102
  121. Sardesai, Historical Papers Relating to Mahadaji, p.378
  122. Calendar of Persian Correspondence Part-7,p.115
  123. Sardesai, Historical Papers Relating to Mahadaji, p.379
  124. D B Diskalkar, Shindeshahi Cheen Rajakarane bhag-1,p.41
  125. सुजस प्रबंध:छन्द 69, p. 69
  126. सुजस प्रबंध:छन्द 70, p. 69
  127. सुजस प्रबंध:छन्द 71, p. 70
  128. सुजस प्रबंध:छन्द 72, p. 71
  129. सुजस प्रबंध:छन्द 73, p. 71
  130. सुजस प्रबंध:छन्द 75, p. 73
  131. सुजस प्रबंध:छन्द 77, p. 75
  132. सुजस प्रबंध:छन्द 79, p. 76
  133. सुजस प्रबंध:छन्द 80, p. 77
  134. सुजस प्रबंध:छन्द 81, p. 77-83
  135. सुजस प्रबंध:छन्द 82, p. 83
  136. सुजस प्रबंध:छन्द 86, p. 88
  137. सुजस प्रबंध:छन्द 87, p. 88
  138. सुजस प्रबंध:छन्द 88, p. 89
  139. सुजस प्रबंध:छन्द 90, p. 91
  140. सुजस प्रबंध:छन्द 93, p. 94
  141. सुजस प्रबंध:छन्द 94, p. 95
  142. सुजस प्रबंध:छन्द 96, p. 96
  143. सुजस प्रबंध:छन्द 97, p. 97-98
  144. सुजस प्रबंध:छन्द 98, p. 99
  145. सुजस प्रबंध:छन्द 99, p. 100
  146. सुजस प्रबंध:छन्द 101, p. 101
  147. सुजस प्रबंध:छन्द 102, p. 101
  148. सुजस प्रबंध:छन्द 103, p. 102
  149. सुजस प्रबंध:छन्द 105, p. 102

Further reading

  • Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas(Hindi)
  • Dr Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas
  • Jat Samaj, Agra: October-November 2004
  • Dr Natthan Singh (2005): Sujas Prabandh (Gohad ke Shasakon ki Veer gatha – by Poet Nathan), Jat Veer Prakashan Gwalior
  • Jat Veer Smarika 2005, Jat Samaj Kalyan Parishad Gwalior

Back to The Rulers