Madan Mohan Malviya

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Postal stamp on Pt. Madam Mohan Malviya.jpg

Madan Mohan Malviya (1861–1946) was an educationist and politician, notable for his role in the Indian independence movement and as the two-time president of Indian National Congress. He was respectfully addressed as Pandit Madan Mohan Malaviya and also addressed as Mahamana (महामना).

Malaviya is most remembered as the founder of Banaras Hindu University (BHU) at Varanasi in 1916, which was created under the B.H.U. Act, 1915. BHU is perhaps the largest residential university in Asia and one of the largest in the world, having over 35,000 students across arts, sciences, engineering, medical, agriculture, performing arts, law and technology. Malaviya was Vice Chancellor of BHU from 1919–1938.

Pt. Malaviya was the founder of Ganga Mahasabha at Haridwar in 1905. He was the President of the Indian National Congress on two occasions(1909,1918). He left Congress in 1934. He was also a member of the Hindu Mahasabha and was a president of the special session of Hindu Mahasabha in Gaya in 1922 and in Kashi, in 1923.

Bharat Ratna

Pt. Malaviya was posthumously conferred with Bharat Ratna, India's highest civilian award, on 24 December 2014, a day before his 153rd Birth Anniversary.

Legacy

The slogan "Satyameva Jayate" (सत्यमेव जयते - Truth alone will triumph) is also a legacy given to the nation by Pandit Malaviya as the President of the Indian National Congress in its session of 1918 at Delhi, by saying that this slogan from the Mundakopanishad should be the slogan for the nation.

He started the tradition of Aarti at Har ki Pauri Haridwar to the sacred Ganga river which is performed till date. The Malviya Dwipa, a small island across the ghat, is named after him and carries his bust.

The Indian Postal Department issued postage stamp in his honour in 1961 to celebrate his 100th birth anniversary and then in 2011, to celebrate his 150th birth centenary.

Madan Mohan Malviya in Jat History

बिड़ला मन्दिर के शिलान्यास के अवसर पर भारतवर्ष के सभी राजे-महाराजे तथा अनेक विद्वानों को बुलाया गया था। इस अवसर पर मराठे तथा राजपूत राजे-महाराजे शाही पोशाक में सज-धजकर उपस्थित हुए किन्तु धौलपुर नरेश उदयभानु राणा अपनी सादी पोशाक में उपस्थित हुए। किन्तु कारणवश भरतपुर नरेश महाराजा ब्रजेन्द्रसिंह इस सम्मेलन में उपस्थित न हो सके। इस अवसर पर उपस्थित उच्च कोटि के विद्वानों ने, इस महान् मन्दिर के शिलान्यास करने के लिए


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-746


एक प्रस्ताव पारित किया कि इस पवित्र मन्दिर की नींव रखने का अधिकार उस व्यक्ति को होगा जिसमें निम्नलिखित गुण हों।

  1. जिसका वंश उच्च कोटि का हो।
  2. जिसका चरित्र आदर्श हो।
  3. जो शराब तथा मांस का सेवन न करता हो।
  4. जिसने एक से अधिक विवाह न किये हों।
  5. जिसके वंश ने मुग़लों को अपनी लड़की न दी हो।
  6. जिसके दरबार में रंडियों के नाच-गाने न होते हों।

यह प्रस्ताव उपस्थित जनसमूह को बनारस हिन्दू विश्विद्यालय के एक प्रोफेसर ने पढ़कर सुनाया। इस प्रस्ताव को सुनकर सारी सभा में सन्नाटा छा गया तथा मन-ही-मन विचार करने लगे कि इस कसौटी पर कौन खरा उतरेगा। राजपूत राजा-महाराजाओं की गर्दनें नीचे को झुक गईं। बाद में इस प्रस्ताव को पं० मदनमोहन मालवीय को दिया गया तथा उनसे आग्रह किया गया कि आप इस प्रस्ताव पर अपना निर्णय देवें।

पं० मदनमोहन मालवीय ने खड़े होकर अपना निर्णय सुनाते हुए यह कहा कि, “इस प्रस्ताव की कसौटी पर केवल जाट महाराजा उदयभानु राणा धौलपुर ही खरा उतरता है तथा उनके करकमलों से इस महान् तथा पवित्र मन्दिर का शिलान्यास करवाया जायेगा।” यह निर्णय सुनकर सभा में उपस्थित प्रसिद्ध जाट मल्ल योद्धा हरज्ञान गांव शोरम (मुजफ्फरनगर) ने खड़े होकर यह कहा कि “पं० मदनमोहन मालवीय के इस निर्णय ने जाट जाति का मस्तक भारतवर्ष में सबसे ऊंचा कर दिया है।” इस मल्ल योद्धा ने खुशी के जोश में आकर अपनी तीन धड़ी की गदा एक बड़े पत्थर पर जोर से दे मारी, जिससे उस पत्थर के दो टुकड़े हो गये। (आधार लेख - सर्वखाप पंचायत रिकार्ड)

ऊपर लिखित तथ्यों की पुष्टि बिड़ला मन्दिर में स्थित स्तम्भ पर खुदे हुए निम्न लेख द्वारा भी होती है, जो निम्न प्रकार से है। हम यहां स्तम्भ के एक ओर लिखे शब्दों को ज्यों के त्यों लिखते हैं -

श्री लक्ष्मीनारायण मन्दिर - “श्री महामना माननीय पं० मदनमोहन मालवीय जी की प्रेरणा से मन्दिर की आधारशिला श्रीमान् महाराणा उदयभानुसिंह धौलपुर नरेश के कर कमलों द्वारा चैत्र कृष्ण पक्ष अमावस रविवार विक्रमीय संवत् 1989 (अर्थात् सन् 1932 ई०) में स्थापित हुई।”

इसी स्तम्भ के दूसरी ओर संगमरमर के पत्थर पर पं० मदनमोहन मालवीय की मूर्ति है तथा साथ उसके बायीं ओर धौलपुर नरेश महाराजा उदयभानुसिंह राणा द्वारा इनके कर-कमलों से मन्दिर का शिलान्यास करते हुए की मूर्ति स्थापित है।[1]

External Links

Author: Dayanand Deswal दयानन्द देसवाल

References