Palthana

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author: Laxman Burdak, IFS (R)
Location of Palthana in Sikar district

Palthana (पलथाना) is a medium-size village in tehsil dhod of Sikar district in Rajasthan, India.

Before creation of Dhod tahsil, this village used to fall within Sikar tahsil.

Location

It is located at a distance of 18 km from Sikar in north direction. Population of the village is about 3000 out of which 1500 people are Jats. They are all of Burdak gotra. There is one family of Meel gotra.

Founder

Palthana was founded by Palaram Jat of Burdak gotra in about samvat 1562 (=1505 AD).

Jat Gotras

Population

As per Census-2011 statistics, Palthana village has the total population of 3210 (of which 1668 are males while 1542 are females).[1]

History

As per records of the bards of Burdak the village was founded by Burdak Jats.[2] It was founded by Palaram Jat of Burdak gotra in samvat 1562 (=1505 AD). Burdaks in 5 carts had come from village Kari near Nawalgarh in Shekhawati region. One cart of Palaram Burdak stayed here where Sarans were cultivating lands in this village. Palaram Burdak wanted to occupy this village. Sarans resisted it. There was a struggle in which Sarans were defeated and the village land was occupied by Palaram Burdak. He founded the village and was called Palthana after Palaram. There is an old building in the village built about 500 years back.

In the news

Palthanan came in media for farmer's suicide. Financial hardship forced at least 15 farmers of Palthana and Rasheedpura villages of Sikar district to commit suicide in last couple of years. [3]

Centre of Shekhawati Kisan Andolan

Palthana was the Centre of Shekhawati Kisan Andolan. The Palthana village has special importance in the movement of freedom and awakening of the farmers of Shekhawati. This was the place where it was decided to conduct Jat Prajapati Maha-Yagya, which proved a turning point for Shekhawati farmers movement. This was the place where the terror of Jagirdars first time came to an end. In this very village the jagirdars destroyed the school opened by Hari Singh Burdak and arrested Master Chandrabhan.[4]

After successful Jhunjhunu adhiveshan in 1932, a deputation of Jats from Sikar district, under the leadership of Prithvi Singh Gothra met Thakur Deshraj and requested him to do a similar adhiveshan in Sikar also. After long discussions Thakur Deshraj proposed to have a yagya at Sikar. A meeting for discussing this issue was called in Palthana village in October 1933. This was attended by all activists from Shekhawati and one member was invited from each family in Sikar district. About 5000 people gathered in the meeting. The Sikar thikana wanted to make this meeting a failure. For this, the thikanedar sent hundreds of handcuffs loaded on camels along with the police force to terrorize the people taking part in the meeting. [5] Thakur Deshraj addressed the people that

"these handcuffs would get you independence. If you are afraid of these you would never get freed. We have gathered here for a religious purpose and we will complete". [6]

These words of Thakur Deshraj played a lightening effect amongst the people and they all were energized for further struggle with the Jagirdars. People listened the leaders very calmly and meeting was a great success. Police could do nothing. The leaders who attended the meeting were Sardar Harlal Singh, Chaudhary Ram Singh Kunwarpura, Chaudhary Ghasi Ram, Kunwar Net Ram Singh, Panne Singh Deorod's elder brother Bhoor Singh etc. There was a speech by Master Ratan Singh Pilani. A resolution was passed in this meeting to conduct a seven day "Jat Prajapat Mahayagya" (Prayer ceremony for the Lord of Universe) in Sikar on next basant in 1934, to spread the principles of Arya Samaj and create awakening in Shekhawati. It was decided for this purpose to collect ghee and money from each household. A yagya committee was formed consisting of Chaudhary Hari Singh Burdak of Palthana village as its president, Master Chandrabhan Singh as minister. Deva Singh Bochalya, Thakur Hukum Sing and Bhola Singh were made incharge of publicity. [7] The office of managing committee was earlier in Palthana. In December 1933 this office was transferred to Sikar.

The Jat Prajapati Maha-Yagya took place at Sikar from 20 - 29 January 1934. Kunwar Hukam Singh Rahees Angai (Mathura) was made Yagyapati or Chairman of the Yagya. Chaudhary Kaluram of village Kudan was the Yagyaman. Acharya Shri Jagdev Sidhanthi received an invitation for this Yagya at his Gurukul at Kirttal, In that invitation was he requested to attend the Yagya and bring twenty Bhramcharis and disciples with him. Volunteers went to all the households in all the villages in the region and collected material that would be needed. They collected Ghee, Flour, Gur, and invited all the householders to participate. Hundreds of cans of Ghee and hundreds of sacks of flour were collected.

During the Yagya 3000 men and women adopted the Yogyopavit, which was a symbol Kisan sangathan. Sheetal Kumari daughter of Kunwar Netram Singh adopted yagyopavit. Chaudhary Chimana Ram of Sangasi brought his wife wearing salwar-kurta. The unity of Jat farmers in this Yagya had terrified the Jagirdars of Sikar. The role played by Sardar Har Lal Singh and Thakur Deshraj was unparallel which made this yagya a grand success.

Sikarwati Jat Kisan Panchayat

The Jat Prajapati Mahayagya of Sikar was attended by about a lakh farmers and was a grand success in awakening of the farmers of Shekhawati. This annoyed the Rao Raja of Sikar and his other thikanedars. Jats had still one grievance that they were not able to take the procession of sabhapati of yagya on elephant as planned because the Rao Raja of Sikar had helped in getting the elephant run away. Immediately after the yagya Jat leaders held a meeting under the chairmanship of Thakur Deshraj to settle the issues with Rao Raja Sikar and his thikanedars. They founded a body called "Sikarwati Jat Kisan Panchayat". Thakur Deva Singh Bochalya was elected General Secretary and Hari Singh Burdak as sarpanch of this body. [8] During those days a folk song was very popular amongst the women of Shekhawati which is as under in Rajasthani Language:

चलिए सखी यज्ञ देखन कूँ, सीकर के अस्थाना में ।
तोही सरपंच दिखाऊँ पलथाना में ।।[9]

सीकर किसान आंदोलन की शुरुआत

ठाकुर देशराज[10] ने लिखा है ....सन् 1931 के अक्टूबर महीने में जाट महासभा का


[पृ 223]: डेपुटेशन झूंझावाटी का दौरा करके सीकर में घुसा तो उसका प्रथम मुकाम कूदन में हुआ। डेपुटेशन में ठाकुर झम्मन सिंह जी एडवोकेट मंत्री जाट महासभा, ठाकुर देशराज जी मंत्री राजस्थान जाट सभा और महासभा के दोनों उपदेश ठाकुर भोला सिंह और हुकुम सिंह थे। गांव के किसी प्रतिष्ठित आदमी ने उनकी बात तक नहीं सुनी। यदि उस समय वहां मास्टर चंद्रभान सिंह जी (अध्यापक कार्य पर) न होते तो रात को ठहरना भी मुश्किल हो जाता। यह हालत थी उस समय सीकर के जाटों की हिम्मत और जाति प्रेम की।

हां उस समय भी एक जाट घराना सीकर में शेर की भांति ही निर्भर था वह था चौधरी रामबक्स जी भूकर, गोठड़ा का। चौधरी रामबक्स जी के लड़के चौधरी पृथ्वी सिंह को उस समय का सीकर का सिंह शावक कहें तो कुछ भी अयुक्ति नहीं होगी। उसके दिल में एक तिलमिलाहट थी और वह जल्द से जल्द अपनी कौम को बंधन मुक्त कराने की उत्कंठा में था। वही सिंह शावक अपने दूसरे साथियों श्री हरदेव सिंह पलथाना आदि के साथ झुंझुनू के महान जाट महोत्सव में पहुंचा और तमाम बाहरी जाट लीडर को उसने अपने इलाके के जाटों की दयनीय स्थिति से परिचित कराया।

जयपुर ने सीकर को आंतरिक अमन बनाये रखने की आजादी दे रखी थी। इसलिए यह सीकर का अपना आंतरिक मामला था कि कोई सभा-सोसाइटी अपने यहाँ होने दे या नहीं।

एक बार ठाकुर भोला सिंह जी महोपदेशक जाट महासभा सीकर में जा पहुंचे। CID ने पुलिस में इतला दी और पुलिस ने बैरंग उन्हें सीकर से वापस कर दिया। अतः यह एकदम कठिन था कि वहां जाट महासभा या उसकी किसी


[पृ 224]: शाखा सभा का वहां अधिवेशन हो जाने दिया जाता या प्रचारको को प्रचार की आजादी रहती। ऐसी कठिन परिस्थितियों में वहां जलसा करना था। यह वचन ठाकुर देशराज, कुँवर पृथ्वी सिंह जी को दे चुके थे।

पलथना में एक मीटिंग: बहुत सोचने विचारने के बाद उनके दिमाग में सीकर में एक यज्ञ कराने की आई और इसी उद्देश्य को लेकर उन्होंने सन् 1933 के अक्टूबर महीने में पलथना में एक मीटिंग बुलाई। इस मीटिंग में सीकर के 500 गांवों में से एक एक आदमी बुलाया गया लेकिन 5,000 आदमी इकट्ठे हुए। मीटिंग को भंग करने के लिए सीकर की पुलिस दल बल सहित मौके पर पहुंची किंतु मीटिंग सफल हुई और वक्ताओं के ओजस्वी भाषण से लोगों में जीवन की लहर पैदा कर दी। इस समय तक कुँवर पन्ने सिंह जी मर चुके थे। उनके बड़े भाई कुंवर भूर सिंह, चौधरी घासी राम, सरदार हरलाल सिंह, चौधरी रामसिंह कुँवरपुरा आदि सभी प्रतिष्ठित कार्यकर्ता शामिल हुए। मा. रतन सिंह जी बीए जो उस समय पिलानी में अध्यापक थे उनका भी भाषण हुआ।

इसी दिन सीकर बसंत पर जाट प्रजापति महायज्ञ करने का एलान किया गया और उसके लिए तय हुआ कि हर घर से घी व पैसा उगाया या जाए। श्री मास्टर चंद्रभान जी को यज्ञ कमेटी का मंत्री और चौधरी हरी सिंह जी बुरड़क पलथाना को अध्यक्ष चुना गया। श्री देवी सिंह बोचल्य और ठाकुर हुकुम सिंह, भोला सिंह जी को प्रचार विभाग सौंपा गया।


डेपुटेशन उपदेशकों के गांवों में पहुंचने से सीकर के कर्मचारियों के कान खड़े हुए और उन्होंने छेड़खानी आरंभ कर दी। तारीख 6 दिसंबर 1932 को जबकि नेछूआ तहसील के सिगड़ोला गांव में प्रचार हो रहा था, रात के समय लावर्दीखां


[पृ 225]: नाम का सवार तहसील की ओर से पहुंचा और ठाकुर हुकुम सिंह जी उपदेशक महासभा को पकड़ ले गया और तहसील में ले जाकर रात भर के लिए काठ में दे दिया। दूसरे दिन काफी डरा धमका कर उन्हें छोड़ दिया गया।

इसके विरोध में ठाकुर देशराज जी मंत्री राजस्थान आदेशिक जाटसभा ने राव राजा साहब सीकर को एक पत्र भेजा और मांग की कि लावर्दी खां को उसके गैरकानूनी कृत्य पर दंड दिया जाए किंतु ठिकाने ने उस पत्र का कोई उत्तर तक नहीं दिया।

जाट महायज्ञ की प्रबंधकारिणी का आफिस पहले तो पलथना, पोस्ट लक्ष्मणगढ़ में रहा इसके बाद दिसंबर के आरंभ में सीकर में आ गया और वहीं से कार्य संचालन होने लगा।

सीकर के सोये हुये किसानों को जगाने का श्रेय

महावीर सिंह जाखड़[11] लिखते हैं - जाट इतिहास और संस्कृति के बारे में जानने की जिज्ञासा मेरी बचपन से ही रही है। दादा परदादा और नाना जाट आंदोलन में सक्रिय रहे। जाटों के बल और प्रक्रम की चर्चाओं में बचपन बीता। बचपन और गाँव और ननिहाल में मैंने जाटों को सबसे बलिष्ठ देखा। पलथाना के बुरड़क जाट जुझारूपन में अगुआ रहे हैं। मेरे नाना का परिवार भी पलथाना के विख्यात वंश की शाखा है। मुझ में मेरे नानाओं से ही यह संस्कार पैदा हुआ।

महावीर सिंह जाखड़[12] ने लिखा है कि सीकर के सोये हुये किसान शेरों को जगाने का श्रेय ठाकुर देशराज, जघीना (भरतपुर) को जाता है। पुष्कर के जाट अधिवेशन के बाद यह जागृति ज्यादा आई। इस आंदोलन में सबसे ज्यादा जुझारूपन पलथाना के बुरड़कों ने दिखाया। सूबेदार - चन्द्र सिंह (मदू), हरी सिंह, हरदेव सिंह, जेसा राम, भाना राम, गणपत राम, व पेमा राम आदि यहाँ के प्रमुख सेनानी थे। यहाँ के बुरड़क रतनगढ़ तहसिल के सुलखनिया गांव में बसे हैं। उन्होने भी मेघसिंह के नेतृत्व में ( 6 भाई - मेघ सिंह, धाला राम, अमरा राम, मुखा राम, माना राम व लिखमा राम) सामंती उत्पीड़न के विरुद्ध हर संघर्ष मे ताल ठोक कर भाग लिया तथा फतेह हासिल की। अमरा राम आजाद हिन्द फौज के सेनानी रहे। श्री मेघ सिंह एवं धाला राम ने मरू-भूमि में शिक्षा प्रसार हेतु स्वामी नित्यानंद से खिचिवाला जोहड़े में विद्यालय शुरू करवाया।

शेखावाटी किसान आन्दोलन में अग्रणी

शेखावाटी किसान आन्दोलन में अग्रणी नेता हरीसिंह बुरड़क का जन्म पलथाना गाँव में सन 1884 में हुआ. इनके पिता का नाम श्योबक्सराम था. सीकरवाटी में जन आन्दोलन में अग्रिम पंक्ति के नेता थे. वे जुझारू, निडर और जिम्मेदार नेता थे. सामंतों का उन्होंने कभी भी भय नहीं माना. सीकर जिले में हरी सिंह को लौहपुरुष कहा जाता है. यह प्रकृति द्वारा प्रदत्त अनूठा वरदान था कि पृथ्वीसिंह, हरिसिंह और ईश्वरसिंह निकट जुड़े पडौसी गाँवों क्रमश: गोठडा, पलथाना और भैरूपुरा के थे. निकटवर्ती गाँव कूदन और कटराथल को सम्मिलित करलें तो यह कहा जा सकता है कि सीकरवाटी के जनआन्दोलन का केंद्र ये पांच गाँव थे. सामंती व्यवस्था को चुनौती देने और जनआन्दोलन में जन-धन हानि उठाने वाले यही गाँव प्रमुख थे. पूरी सीकरवाटी को इन्हीं गाँवों से आव्हान होता था. [13]

कोई दिन सीकरवाटी की महिलाएं एक गीत गाया करती थीं, "चलिए सखी यज्ञ देखन कूँ, सीकर के अस्थाना में ।तोही सरपंच दिखाऊँ पलथाना में" सीकर में 1934 में जो शानदार यज्ञ हुआ, इस यज्ञ के लिए और पीछे से तमाम सीकर किसान आन्दोलन के लिए 'सीकरवाटी जाट किसान पंचायत' बनी थी, उसी के सरपंच बनाने का सौभाग्य पलथाना के श्योबक्स राम बुरड़क के पुत्र हरी सिंह बुरड़कको मिला. आपका जन्म सन 1941 में चैत्र शुक्ल नवमी को हुआ. सीकर की जनजागृति में पलथाना का मुख्य स्थान रहा है. इसी स्थान पर सर्वप्रथम सीकर में महायज्ञ करने का निर्णय किया गया था. यहीं सर्वप्रथम ठिकाने के आतंक को भंग किया गया था और यहीं से अत्याचार की शुरुआत ठिकाने की फ़ौज द्वारा पाठशाला के भवन को ध्वंस करके और मास्टर चंद्रभान सिंह को मारपीट कर गिरफ्तार करके की थी. हरी सिंह बुरड़क ने खूडी काण्ड और कूदन काण्ड में सामंती ताकतों का मुकाबला करने के लिए किसानों का नेतृत्व किया था. शेखावाटी किसान आन्दोलन के दौरान आपको गिरफ्तार करके देवगढ़ किले में कई महीने तक रखा था. आपने 1933 से 1947 तक निरंतर सामंती ताकतों से संघर्ष किया. सीकर के जाट बोर्डिंग हाऊस में आपने सहयोग दिया और उसकी कमिटी के प्रधान रहे. एक शब्द में यह कहा जा सकता है कि सीकर में जनजागृति के आप प्रकाश पुंज थे. [14]

जाट प्रजापति महायज्ञ सीकर सन 1934

नोट - यह सेक्शन राजेन्द्र कसवा की पुस्तक मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), प्रकाशक: कल्पना पब्लिकेशन, जयपुर, फोन: 0141 -2317611, संस्करण: 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 118-122 से साभार लिया गया है.

झुंझुनू के सम्मलेन के बाद में सीकर के किसानों ने भी वैसा ही बड़ा सम्मलेन सीकर में आयोजित करने की योजना बनाई. किसी प्रकार की परेशानी से बचने के लिए इसे प्रजापति महायज्ञ का नाम दिया गया. इसके प्रचार के लिए सीकर के गाँवों में प्रचारकों और धर्मोपदेशकों के जत्थे आने लगे. झुंझुनू के बड़े सम्मलेन से जागीरदार चौकन्ने हो उठे थे. सीकरवाटी के ठिकानेदारों ने रावराजा सीकर के कान भर दिए कि जाट यज्ञ के माध्यम से भीड़ जुटाकर राजनीति करेंगे. सीकर दरबार भी भयभीत हो गया.

पलथाना आमसभा - अक्टूबर सन 1933 में पलथाना में महायज्ञ की तैयारी हेतु एक आमसभा का आयोजन किया गया. ठाकुर देशराज द्वारा बुलाई गयी इस बैठक में सरदार हरलाल सिंह, चौधरी घासीराम, पंडित ताड़केश्वर शर्मा, मास्टर रतनसिंह, चंद्रभान, देवीसिंह बोचल्या, ठाकुर भोला सिंह, हुकुम सिंह, हरीसिंह पलथाना, पन्ने सिंह बाटड़ानाऊ, पृथ्वीसिंह गोठडा, गोरुराम, गणेशराम कूदन, गोरुसिंह कटराथल, लेखराम, हरिबक्स- बधाला की ढाणी, ईश्वरसिंह भैरूपुरा आदि शेखावाटी के प्रमुख नेता और कार्यकर्त्ता एकत्रित हुए.

महायज्ञ के लिए आसपास के मुख्य कार्यकर्ताओं को ही बुलाया गया था परन्तु पांच हजार किसानों की भीड़ एकत्रित हो गयी. सीकर के रावराजा और छोटे ठिकानेदार नहीं चाहते थे कि झुंझुनू की नक़ल पर सीकर में कोई बड़ा सम्मलेन हो. पलथाना की सभा की जानकारी जब रावराजा को लगी तो उसने काफी संख्या में पुलिस पलथाना गाँव में भेज दी. वे हथकड़ी बजा-बजा कर गाँव वालों को भयभीत करने लगे. ठाकुर देशराज ने एक युक्ति निकली. उन्होंने अपने भाषण में घोषणा की कि सीकर में प्रजापति-यज्ञ किया जाएगा जो एक धार्मिक उत्सव है. इस धार्मिक कार्य से किसी को कोई एतराज नहीं होना चाहिए. पुलिस हमें हाथकड़ियाँ न दिखाए. हम इस धार्मिक और शुभ कार्य से पीछे नहीं हटेंगे. यज्ञों में विघ्न कौन पैदा करता था, यह पुलिस वाले जानते ही होंगे. हम उन्हें राक्षस तो नहीं कहेंगे लेकिन रावराजा से बात अवश्य करेंगे. पुलिस पर इसका गहरा प्रभाव पडा. कुछ देर रुकने के पश्चात् साड़ी पुलिस चली गयी.

इस सभा में यह निर्णय लिया गया कि 20 जनवरी 1934 , बसंत पंचमी के दिन सीकर में विशाल प्रजापति यज्ञ प्रारंभ होगा. इसके लिए विभिन्न उपसमितियां और स्वागत समिति का गठन किया गया. यज्ञ के लिए धन एवं घी एकत्रित करने का काम कार्यकर्ताओं में बाँट दिया गया. देर रात तक जागृति के गीत गए जाते रहे.

क्रूरता का तांडव

सन्दर्भ - डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.115-120

पलथाना गाँव में कैप्टन वेब - गोठड़ा से चलकर कैप्टन वेब पुलिस बल सहित 26 अप्रेल 1935 को पलथाना पहुंचा.यह हरिसिंह बुरड़क का गाँव था जो किसान आन्दोलन के प्रमुख नेता थे. वे 25 गाँवों के सरपंच थे. पञ्च-मंडली के भी अध्यक्ष थे. झुंझुनू सम्मलेन से लौटते समय उत्तर प्रदेश के निवासी मास्टर चन्द्रभान को साथ ले आये थे और गाँव में स्कूल प्रारंभ कर दी थी , जिसमें चन्द्रभान पढ़ाते थे. इससे पलथाना में तेजी से लोग साक्षर होने लगे. यह सब रावराजा और अंग्रेज अफसर को चिढाने के लिए काफी था. हरिसिंह ने लगान देने से मना कर दिया. क्रोधित वेब ने हरी सिंह का मकान भी ढहाने का आदेश दे दिया लेकिन मि. यंग ने ऐसा करने से रोक दिया. हरी सिंह की माँ, इन अंग्रेज अधिकारीयों के लिए दूध लेकर आई. कैप्टन वेब ने घृणा से मुंह फेर लिया. यंग अधिक व्यावहारिक था. उसने मुस्कराकर दूध अपने हाथ में ले लिया. बातचीत का आधार बन गया. लोगों ने कहा, 'स्कूल ने क्या बिगाड़ा था? आप लोग तो स्वयं शिक्षा के पक्ष में रहे हैं? यंग के बात समहज में आ गयी. उसने पूछा, 'स्कूल कि मरम्मत के लिए कितने रुपये लगेंगे? गाँव वालों ने 300 रुपये बताये. यंग ने तीन सौ रुपये गाँव में दे दिए लेकिन लगान न देने के लिए. यहाँ दो जाटों से तमाम गाँव के लगान का रूपया वसूल किया और जुरमाना लिया. यहाँ मास्टर चंद्रभानसिंह और चार मुखिया जाट हरिसिंह बुरड़क, तेजसिंह बुरड़क, बिडदा राम बुरड़कपेमा राम बुरड़क को गिरफ्तार कर लिया और स्कूल भवन को पूरी तरह नष्ट कर दिया. इन लोगों को पीटा गया और बाद में इन्हें गाँवों में घुमाते हुए लक्ष्मणगढ़ ले गए. वहां तहसील में इन्हें जूतों से पीटा गया और शहर में अपमानित कर जुलुस निकाला. इन्हें जूतों से पिटवाते हुए इसलिए घुमाया कि लोग जन सकें की आन्दोलनकारियों की इस तरह दुर्गति की जा सकती है. इस प्रकार के अन्यायों का ताँता बंध गया था और गाँवों में जाटों को पीटा जाने लगा. (डॉ पेमाराम, पृ.119)

रावराजा सीकर द्वारा दमनचक्र

मास्टर चंद्रभानसिंह गिरफ्तार - ठिकानेदार और रावराजा ने यज्ञ के नाम पर जो एकता देखी, इससे वे अपमानित महसूस करने लगे और प्रतिशोध की आग में जलने लगे. जागीरदार किसान के नाम से ही चिढ़ने लगे. एक दिन किसान पंचायत के मंत्री देवी सिंह बोचल्या और उपमंत्री गोरु सिंह को गिरफ्तार कर कारिंदों ने अपमानित किया. लेकिन दोनों ने धैर्य का परिचय दिया. मास्टर चंद्रभान उन दिनों सीकर के निकट स्थित गाँव पलथाना में पढ़ा रहे थे. स्कूल के नाम से ठिकानेदारों को चिड़ होती थी. यह स्कूल हरीसिंह बुरड़क जन सहयोग से चला रहे थे. बिना अनुमति के स्कूल चलाने का अभियोग लगाकर रावराजा की पुलिस और कर्मचारी हथियारबंद होकर पलथाना गाँव में जा धमके. मास्टर चंद्रभान को विद्रोह भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया और हथकड़ी लगाकर लेगये. [15]

किसान नेता घरों में पहुँच कर शांति से साँस भी नहीं ले पाए थे कि सीकर खबर मिली कि मास्टर चंद्रभान सिंह को 24 घंटे के भीतर सीकर इलाका छोड़ने का आदेश दिया है और जब वह इस अवधि में नहीं गए तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. ठिकाने वाले यज्ञ में भाग लेने वाले लोगों को भांति-भांति से तंग करने लगे. मास्टर चंद्रभान सिंह यज्ञ कमेटी के सेक्रेटरी थे और पलथाना में अध्यापक थे. सीकर ठिकाने के किसानों के लिए यह चुनौती थी. मास्टर चंद्रभानसिंह को 10 फ़रवरी 1934 को गिरफ्तार करने के बाद उन पर 177 जे.पी.सी. के अधीन मुक़दमा शुरू कर दिया था. [16]

मास्टर चंद्रभानसिंह को छुड़ाने के लिए मुख्य जाट किसान सीकर में माजी साहिबा की धर्मशाला में इकट्ठे हुए. सीकर ठिकाने द्वारा मास्टर चंद्रभानसिंह को छोड़ना तो दूर किसान नेताओं को चेतावनी दी की तत्काल धर्मशाला खाली कर दें. तब किसान नेता शामपुरा गाँव में इकट्ठे हुए. शामपुरा गाँव जयपुर राज्य के अधीन था. किसानों ने इस अवसर पर एक मेमोरियल तैयार किया जिसमें सीकर ठिकाने की ज्यादतियों का वर्णन किया गया था और किसानों के हित में मांगें रखी गयी थी. 200 किसानों का एक दल जयपुर के लिए रवाना हुआ तो उन्हें सीकर व रींगस से रेल में नहीं बैठने दिया गया. तब वे 18 फ़रवरी 1934 को पैदल ही कुंवर रतनसिंह भरतपुर के नेतृत्व में जयपुर के लिए रवाना हुए. [दी नेशनल काल, 25 फ़रवरी, 1934, पृ.8] जयपुर में वे जयपुर सरकार के वाइस प्रेसिडेंट सर जॉन बिचम से मिले और 14 सूत्री मांगें पेश की. [17]

जब सीकर ठिकाने को मालूम हुआ की किसान उसके खिलाफ जयपुर गए हैं तो ठिकाने वाले और चिढ़ गए और जाट नेताओं के खिलाफ गिरफ़्तारी के वारंट जरी कर दिए. 5 मार्च 1934 को मास्टर चंद्रभान के मुकदमें में जब पृथ्वी सिंह, चौधरी हरीसिंह, तेज सिंह और बिरदाराम लौट रहे थे, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. इससे पहले 20 आदमी और गिरफ्तार किये जा चुके थे. इनमें ईश्वरसिंह भैरूपुरा भी थे. उन्होंने काठ में देने का विरोध किया तो उन्हें उल्टा डालकर काठ में दे दिया गया और उस समय तक उसी प्रकार काठ में रखा जब तक उनको इस परेशानी से बुखार न आ गया. [अर्जुन, 1 मार्च 1934] फतेहपुर के के एक तहसीलदार ने तो बाजार में सौदा खरीदने आये और पिराणी के चौधरी मुकुन्दसिंह को गिरफ्तार कर लिया और जब उसका भतीजा कारण पूछने आया तो उसे भी पीटा गया. आकवा, घिटकावास आदि गाँवों में बिना वारंट के गिरफ्तारियां हुईं, वो भी एक-एक दो-दो की नहीं, आठ-आठ और दस-दस दिन की. [18]

शेखावाटी में देश प्रेम का अद्वितीय जज्बा

दैनिक भास्कर समाचार शुक्रवार,29 अक्टूबर, 2010 [19] सीकर. ढाका की ढाणी तन सबलपुरापलथाना गांव में शहीद प्रतिमाओं के अनावरण के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने खासतौर पर शिक्षा, शेखावाटी में सैनिक, देशप्रेम के जज्बे पर बात की।

तीनों जगह हुए आयोजन में यह भी खास बात रही कि कार्यक्रम बिना औपचारिकता के सीधे सीएम के भाषण के शुरू करवाए गए। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि देश के लिए शहीद होना सबसे बड़ा त्याग है। अपने पिछले कार्यकाल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कारगिल युद्ध के दौरान वह बतौर सीएम 56 शहीदों की शवयात्राओं में शामिल हुए थे। उस समय नौजवान शहीदों के माता-पिता, दादा-दादी व परिजनों के मन में दुश्मन देश के प्रति इतना गुस्सा था कि वे देश की रक्षा के लिए एक नहीं ऐसे अनेक बलिदान के लिए तैयार नजर आए।

मुख्यमंत्री गुरुवार को ढाका की ढाणी तन सबलपुरापलथाना गांव में सभाओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजस्थान और खासकर शेखावाटी के घर-घर में देश प्रेम का अटूट जज्बा देखा तो ऐसे प्रदेश का मुख्यमंत्री होने पर फख्र महसूस किया। उन्होंने कहा कि चाहे भारत-चीन या भारत-पाक युद्ध हो, कारगिल संघर्ष या आतंकवाद से मुकाबला करने के लिए चलाये जा रहे रक्षा आपरेशन हो। शेखावाटी के जवान शहादत और बलिदान में सदैव अग्रणी रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अपने पिछले कार्यकाल में उन्होंने शहीद परिवारों के लिए जो बड़ा पैकेज घोषित किया था, उसकी पूरे देश में सराहना की गई।

कार्यक्रम के दौरान जिला प्रमुख रीटासिंह, कांग्रेस जिलाध्यक्ष भागीरथसिंह जाखड़, फतेहपुर विधायक भंवरू खां, नीमकाथाना विधायक रमेश खंडेलवाल, लक्ष्मणगढ़ विधायक गोविंदसिंह डोटासरा, धोद के माकपा विधायक पेमाराम, नगर परिषद सभापति सलमा शेख, उप जिला प्रमुख पूरण कंवर समेत संभागीय आयुक्त आरपी जैन, आईजी एम एल लाठर, कलेक्टर जीएल गुप्ता, एसपी विकास कुमार आदि मौजूद थे।

शहीद परिवारों का हुआ सम्मान

मुख्यमंत्री ने चेलासी में महेंद्र सिंह बिजारणियां की स्मृति में निर्मित स्कूल द्वार का लोकार्पण करने के बाद शहीद वीरांगनाओं का सम्मान किया। यहां पर महेंद्र सिंह के परिजनों चंद्रभान बिजारणियां, रामेश्वर लाल बिजारणियां व रामदेवाराम बिजारणियां ने मुख्यमंत्री को सीएम रिलीफ फंड के लिए एक लाख रुपए का चेक भेंट किया। इसी प्रकार ढाका की ढाणी में शहीद सूबेदार रामेश्वर सिंह के मूर्ति अनावरण समारोह में उन्होंने शहीद के पिता गणोशाराम, माता कमला देवी व पत्नी मनोहरी देवी को सम्मानित किया।

शहीद के पुत्र दीपचन्द को पटवारी पद का नियुक्ति पत्र भी प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने पलथाना पहुंचकर शहीद सिपाही सुरेंद्र बुरड़क के मूर्ति अनावरण समारोह में शहीद के पिता कुरड़ाराम, माता छोटी देवी, पत्नी सुमन देवी व पुत्र अंकित को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने प्रतिमा स्थलों पर पौधरोपण भी किए।

सभी जनप्रतिनिधियों को बराबर तरजीह

केंद्रीय राज्यमंत्री महादेवसिंह खंडेला के साथ हेलीकाप्टर से आए मुख्यमंत्री ने सभी स्थानीय जनप्रतिनिधियों पर बराबर ध्यान दिया। ढाका की ढाणी में हेलीपैड से निकलते ही उन्होंने पूर्व मंत्री परसराम मोरदिया व नारायणसिंह को अपनी गाड़ी में बैठा लिया। सीएम जहां खंडेला से कई बार विचार-विमर्श करते देखे गए वहीं उद्योग मंत्री राजेंद्र पारीक से भी कई बार मुखातिब हुए।

लरजते आंसुओं का भावों से सम्मान

राजस्थान पत्रिका २९ अक्टूबर २०१० समाचार[20] सीकर । मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की गुरूवार की तीन घंटे की सीकर यात्रा कुछ ऎसे ही पलों से गुजरी। हर जगह मुख्यमंत्री को देखने और सुनने के लिए लोग आए। सुबह नौ बजे ही ढाका की ढाणी में बने अस्थाई हैलीपेड पर लोगों का मजमा लग गया। हैलीपेड पर जिले के कांग्रेसी नेताओं ने सूत की माला पहनाकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया। मुख्यमंत्री के चैलासी जाने के बाद हैलीपेड पर हेलीकॉप्टर को नजदीक से देखने वालों का भी तांता लगा रहा। पलथाना में सभा के बाद मुख्यमंत्री महिलाओं के बीच गए और वृद्ध महिलाओं से आशीर्वाद लिया।

राजनीति में बनाया संतुलन

सीकर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीकर में शहादत के सम्मान के साथ कांग्रेस के दिग्गजों में संतुलन बनाने का भी काम किया है। वे अपने साथ हेलीकॉप्टर में केन्द्रीय राज्यमंत्री महादेव सिंह खंडेला को लाए, वहीं ढाका की ढाणी में हैलीकॉप्टर से उतरते ही पूर्व प्रदेशाध्यक्ष नारायण सिंह का दामन थाम लिया। तीनों समारोह में सिंह मुख्यमंत्री के साथ ही रहे। मुख्यमंत्री के नजदीकी माने जाने वाले सीकर के विधायक व उद्योग मंत्री राजेन्द्र पारीक भी अलग-थलग से दिखे। हालांकि गहलोत ने अपने सम्बोधन में सभी का नाम लिया, लेकिन तीनों ही समारोह में मंच से किसी को भी अपने भाव व्यक्त करने की छूट नहीं दी। ढाका की ढाणी में कांग्रेस के जिला अध्यक्ष भागीरथमल जाखड व पलथाना में जिला प्रमुख रीटा सिंह को स्वागत भाषण देने का मौका मिला।


शेखावाटी विश्वविद्यालय की मांग

शेखावाटी विश्वविद्यालय की मांग को लेकर छात्र संगठन एसएफआई के कार्यकर्ताओं ने पलथाना के हैलीपेड पर जमकर नारेबाजी की। छात्रों की नारेबाजी को देखते हुए मुख्यमंत्री हैलीपेड से सीधे बेरिकेट्स के पास छात्रों से मिलने पहुंच गए। मुख्यमंत्री ने छात्रों से मिलकर उनकी बात सुनी, लेकिन यहां भी किसी तरह का आश्वासन दिए बिना रवाना हो गए।

विद्यार्थियों से पूछा

पलथाना के राजकीय विद्यालय को माध्यमिक से उच्च माध्यमिक क्रमोन्नत करने की मांग पर मुख्यमंत्री ने सभा में उपस्थित विद्यार्थियों से पूछा की विद्यालय क्रमोन्नत होने पर आगे पढेंगे। इस पर विद्यार्थियों की स्वीकारोक्ति मिलने पर मुख्यमंत्री ने क्रमोन्नत की घोषणा की।

वीरांगनाओं का सम्मान

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तीनों जगह आयोजित कार्यक्रम में शहीद वीरांगनाओं को सम्मानित किया। चैलासी में उन्होंने शहीद वेलफेयर सोसायटी की ओर से वीरांगना विनोद कंवर, पार्वती कंवर, मंजू देवी, कमला देवी, कोयल देवी व सरोज देवी को सम्मानित किया। इसी प्रकार ढाका की ढाणी में शहीद के पिता गणेशाराम, माता कमला देवी व पत्नी मनोहरी देवी को सम्मानित किया तथा शहीद के पुत्र दीपचन्द को पटवारी पद का नियुक्ति पत्र प्रदान किया। पलथाना में शहीद सुरेन्द्र चौधरी (बुरड़क) के पिता कुरडाराम, माता छोटी देवी, पत्नी सुमन देवी व पुत्र अंकित को सम्मानित किया। उन्होंने चेलासी, ढाका की ढाणी व पलथाना में पौधारोपण भी किया।

Notable persons

  • Pratap Singh Jat (Burdak) : He is President District Congress Committee Sikar. He retired from the post of Managing Director, Ajmer Vidyut Vitran Nigam, Sikar on 3.1.2014. He is from village Palthana district Sikar Rajasthan. He was honoured by the Governor of Rajasthan on 26 January 2002 for his remarkable government service and efficient execution of works.
  • Sultan Singh Burdak - A.En.(O&M), AVVNL, Mandawa, Date of Birth : 7-June-1956. VPO- Palthana distt.- Sikar, Rajasthan, Present Address : Diva-Jyoti, Near Shiv Departmental Store, Near Shastri Bal Niketan School, Ch. Charan Singh Nagar, Sikar (Raj.)332001, Resident Phone Number : 01572254554, Mobile: 9414467658, Email Address : ssburdak@yahoo.comand ...the Grand son of Ch. Hari Singh Burdak from village Palthana.
  • Prashant Singh - An Airport Designer @ Larsen & Toubro Ltd. (L&T), Mumbai - Big Grand Son of Ch.Hari Singh Burdak from village Palthana
  • Ashok Burdak - Lecturer College Education, Date of Birth : 10-December-1968. VPO. Palthana distt.- Sikar, Rajasthan, Present Address : SURJAN VILLA, PLOT NO.7,JAT COLONY,NAWALGARH ROAD,SIKAR Mob. No. - 9413702923, Phone: 01572-254811, Mobile: 9414663947.
  • Arvind Kumar Burdak : He is Lieutenant in 11th Sikh Light Infantry. He got ‘Shaurya Chakra’ award from President of India, Shri APJ Abdul Kalam Azad on 2 November 2002 for his acts of bravery in killing three terrorists in J & K on 1 July 2001 at an altitude of 13200 feet in a headon encounter. He is the son of Pratap Singh Burdak from village Palthana in Sikar district.
  • Laxman Singh Burdak - A.En. AVVNL, Date of Birth : 8-December-1965. Present Address : VPO- Palthana, distt.- Sikar, Rajasthan, Phone : 01572-228020, Mobile: 9414853353
  • Mahendra Kumar Burdak - A. En. Irrigation Deptt. Date of Birth : 10-March-1967. V&PO- Palthana ,Distt.- Sikar. Present Address : JYOTI NAGAR,PIPRALI ROAD,SIKAR, Phone: 01572-228010, Mobile Number : 9461536105, Email Address :mahendrakr_burdak@yahoo.com
  • Rajendra Singh Burdak - A.En. AVVNL, Date of Birth : 14-August-1962. Present Address : VPO - Palthana distt.- Sikar, Rajasthan, Phone: 01572-228020, Mobile: 9413336717
  • Nemi Chand Burdak - J.En. AVVNL, Date of Birth : 13-July-1976. VPO - Palthana, Distt.- Sikar, Rajasthan, Present Address : Ward No.41, Behind Tagore School, Nawalgarh Road, Sikar, Rajasthan, Mobile Number : 9413392088
  • Sunita Burdak - RAS (2012), from Palthana (Sikar) [25]
  • Jitendra Godara - RAS (2012), from Palthana (Sikar) [26]

Gallery of people from Palthana

References

  1. http://www.census2011.co.in/data/village/81494-palthana-rajasthan.html
  2. Badwa Shri Bhawani Singh Rao of village Maheswas, tahsil Phulera, district Jaipur, Rajasthan, Mob:09785459386
  3. The political economy of farmers' suicides
  4. Dr Pema Ram, Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), 1990, Publisher - Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, p. 86
  5. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 145
  6. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 146
  7. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 146
  8. Dr Pema Ram, Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), 1990, Publisher - Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, p. 90
  9. Dr Pema Ram, Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), 1990, Publisher - Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, p. 85
  10. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.222-225
  11. Jaton Ke Vishva Samrajya aur Unake Yug Purush/Author's Note
  12. Jaton Ke Vishva Samrajya aur Unake Yug Purush Part 1/Chapter 10, p.93
  13. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश वाया शेखावाटी, 2012, पृ. 84
  14. Dr Pema Ram, Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), 1990, Publisher - Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, p. 85-86
  15. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 122
  16. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.91
  17. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.92
  18. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.93
  19. भास्कर समाचार शुक्रवार,29 अक्टूबर, 2010
  20. राजस्थान पत्रिका २९ अक्टूबर २०१० समाचार
  21. रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाशित पुस्तक - 'शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह' द्वितीय संस्करण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0 पृष्ठ 113
  22. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.301-303
  23. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.490
  24. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.313
  25. Jat Gatha, September-2015,p. 15
  26. Jat Gatha, September-2015,p. 15

External links


Back to Jat Villages