Chhattisgarh

From Jatland Wiki
(Redirected from Chattisgarh)
Jump to navigation Jump to search
Map of Chhattisgarh Districts
Map of Chhattisgarh

Chhattisgarh (छत्तीसगढ़) is a state in central India, formed when the sixteen Chhattisgarhi-speaking southeastern districts of Madhya Pradesh gained statehood on 1 November 2000. Raipur serves as its capital. The most famous monuments of Chhattisgarh are Ratanpur Fort, Kawardha Palace, Shiva Bhoramdeo Temple, Sirpur and Khadia Dam.

Variants

Districts and tahsils of Chhattisgarh

Presently Chattisgarh state consists 19 districts:

District Tahsils in district
Bastar Jagdalpur, Keshkal, Kondagaon, Narayanpur
Bijapur
Bilaspur Bilaspur, Bilha, Kota, Lormi, Masturi, Mungeli, Pendraroad, Takhatpur
Dantewada Bhopalpattanam, Bijapur, Dantewada, Konta
Dhamtari Dhamtari, Kurud, Nagri
Durg Bemetra, Berla, Dhamdha, Dondiluhara, Durg, Gunderdehi, Gurur, Nawagarh, Patan, Saja, Sanjaribalod
Janjgir-Champa Champa, Dabhara, Jaijaipur, Janjgir

Malkharoda, Nawagarh, Pamgarh, Sakti

Jashpur Bagicha, Jashpur, Kunkuri, Pathalgaon
Kanker Antagarh, Bhanupratappur, Charama, Kanker, Narharpur, Pakhanjur,
Kabirdham Kawardha, Pandariya
Korba Kartala, Katghora, Korba, Pali
Koriya Baikunthpur, Bharatpur, Manendragarh, Sonhat
Mahasamund Basna, Mahasamund, Saraipali
Narayanpur
Raigarh Gharghoda, Kharsia, Lailunga, Raigarh, Sarangarh, Dharamjaigarh
Raipur Abhanpur, Arang, Baloda Bazar, Bhatapara, Bilaigarh, Bindranawagarh, Deobhog, Kasdol, Palari, Raipur, Rajim, Simga, Tilda
Rajnandgaon Ambagarh, Chhuikhadan, Dongargaon, Dongargarh, Khairagarh, Manpur, Mohla, Rajnandgaon
Surajpur
Surguja Ambikapur, Lundra, Pal, Pratappur, Rajpur, Samari, Sitapur, Surajpur, Wadrafnagar

Origin of name

Chhattisgarh takes its name from 36 (Chhattis) + Forts that constitute this region[1]. They are :

Places of Historical importance

History

Places of interest of Ancient History or Nagavanshi rulers in Chhattisgarh are:

Rivers in Chhattisgarh

Kotari River in Kanker district

Here is the list of Rivers in Chhattisgarh

  • Arpa (river)

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ (AS, p.348): पूर्ववर्ती मध्य प्रदेश के रायपुर-बिलासपुर जिलों तथा परिवर्ती क्षेत्र में सम्मिलित इलाका छत्तीसगढ़ कहलाता है. यह प्राचीन दक्षिण कौशल या महाकौशल है. यहां की बोली उत्तर प्रदेश की अवधि (प्राचीन उत्तर कौशल के क्षेत्र की भाषा) से मिलती जुलती है. उत्तर और दक्षिण कोशल में नामों की समानता के अतिरिक्त सांस्कृतिक आदान-प्रदान भी सदा से रहा है. यह संभव है कि उत्तर कौशल के जन समूह प्राचीन और मध्यकाल में दक्षिण कोशल में जाकर बस गये हों. [2]

छत्तीसगढ़ परिचय

छत्तीसगढ़ भारत का 26वाँ राज्य है। भारत में विशेषत: दो ऐसे क्षेत्र हैं, जिनका नाम विशेष कारणों से धीरे धीरे बदल गया। पहला 'मगध', जो बौद्ध विहारों के कारण 'बिहार' बन गया और दूसरा 'दक्षिण कौशल', जो 'छत्तीस गढ़ों' को अपने में समाहित रखने के कारण 'छत्तीसगढ़' बन गया। ये दोनों ही क्षेत्र प्राचीन काल से भारत को गौरवान्वित करते रहे हैं। 'छत्तीसगढ़' पौराणिक काल से ही विभिन्न संस्कृतियों के विकास का केन्द्र रहा है। यहाँ के प्राचीन मन्दिर तथा उनके भग्नावशेष बताते हैं कि यहाँ वैष्णव, शैव, शाक्त और बौद्ध के साथ ही साथ अनेक आर्य तथा अनार्य संस्कृतियों का समय-समय पर प्रभाव रहा है।

गठन: छत्तीसगढ़ राज्य का गठन 1 नवंबर 2000 को हुआ था। छत्तीसगढ़ पूर्व में दक्षिणी झारखण्ड और उड़ीसा से, पश्चिम में मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र से, उत्तर में उत्तर प्रदेश और पश्चिमी झारखण्ड और दक्षिण में आंध्र प्रदेश से घिरा है। छत्तीसगढ़ का भू-भाग सम्पूर्ण भारत के भू-भाग का कुल 4.14% है। इस प्रकार छत्तीसगढ़ राज्य क्षेत्रफल के हिसाब से देश का 10वाँ बड़ा राज्य है। जनसंख्या की दृष्टि से इस राज्य का भारत में 17वाँ स्थान है।

इतिहास: मध्य प्रदेश से बनाया गया यह राज्य भारतीय संघ के 26 वें राज्य के रूप में 1 नवंबर, 2000 को पूर्ण अस्तित्व में आया। इससे पूर्व छत्तीसगढ़ 44 वर्ष तक मध्य प्रदेश का एक अंग रहा था। प्राचीन काल में इस क्षेत्र को 'दक्षिण कौशल' के नाम से जाना जाता था। इस क्षेत्र का उल्लेख रामायण और महाभारत में भी मिलता है। छठी और बारहवीं शताब्दियों के बीच सरभपूरिया, पांडुवंशी, सोमवंशी, कलचुरी और नागवंशी शासकों ने इस क्षेत्र पर शासन किया। कलचुरी और नागवंशी शासकों ने इस क्षेत्र पर लम्बे समय तक शासन किया। कलचुरियों ने छत्तीसगढ़ पर सन् 980 से लेकर 1791 तक राज किया। सन् 1854 में अंग्रेज़ों के आक्रमण के बाद महत्त्व बढ़ गया। सन् 1904 में संबलपुर उड़ीसा में चला गया और 'सरगुजा' रियासत बंगाल से छत्तीसगढ़ के पास आ गई।

संदर्भ: भारतकोश-छत्तीसगढ़

External links

References

  1. Dr. Bhagvan Singh Verma, " Chhattisgarh ka Itihas " {in Hindi}, Madhya Pradesh Hindi Granth Academy, Bhopal(M.P.), 4th edition(2003), P.7
  2. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.348