Daulat Ram Saran

From Jatland Wiki
(Redirected from Daulatram Saharan)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R), Jaipur
Daulat Ram Saharan

Daulat Ram Saran (दौलतराम सारण) (13 January 1924 - 2 July 2011) was a freedom fighter, social worker, reformer, parliamentarian and popular leader of farmers in Rajasthan, India. He was former central Government Minister. He was an honest politician and a veteran Gandhian leader.

Contents

His family

He was born on 13 January 1924 in village Dhani Panchera of district Churu in Rajasthan in the family of Hindu Jat Dularam Saran. His mother's name is Bhuri Devi. He was married in 1935 with Jadav Devi Bhamu of village Bhamasi Churu. He begot 3 sons: 1. Ashok Kumar Saran, 2. Bharat Saran and 3. Krishna Kumar Saran. He begot 4 daughters: 1. Chandrakala, 2. Kamala, 3. Vimala and 4. Bharati. His son Krishna Kumar Saran is an active social worker and has made available images and matter on Daulat Ram Saran.

Freedom fighter

Daulatram Saran got his education from Government High School, Sardarshahar. He was a strong follower of Mahatma Gandhi. He jumped into the freedom movement of India on the call given by Mahatma Gandhi. He decided to wear Gandhi cap in the year 1942 that continued throughout the life. He had always problems of farmers in his mind and struggled for them, due to which he was very popular among the farmers of the region. Daulatram Saran was a very knowledgeable person and a veteran politician. He happens to be a former colleague of the ex-prime minister of India Choudhary Charan Singh. He had been member of a large number of committees, like Rajasthan Assembly Public Accounts Committee, Lok Sabha Public Accounts Committee, Estimates Committee, Home Committee, Government Undertakings Committee, and Works Advisory Committee, etc.

Veteran Gandhian leader

  • 1945-48: He was associated with Bikaner Rajya Praja Parishad as a member of Pratinidhi Sabha. He took part in the formation of popular government in the princely state of Bikaner. He played an important role in the awakening of farmers of princely state Bikaner and united them against the exploitation by Jagirdars.
  • 1948-50: He was general secretary of Churu District Congress Committee.
  • 1950-57: He was president of Churu District Congress Committee.
  • 1957-66: He was minister in charge of Agriculture, Animal Husbandry, Co-operatives, Panchayat Raj, and Local bodies, Irrigation etc. departments in the government of Rajasthan. He won continuous three assembly elections from Doongargarh constituency in Churu district. He won 1957 and 1962 Rajasthan assembly elections as congress candidate and 1967 assembly election as an independent candidate.[1]
  • 1966: On 25th January 1966 he resigned from the cabinet along with Chaudhari Kumbharam Arya, Harish Chandra Jhalawar, Bhimsingh Mandawa and Kamala Beniwal due to strong ideological differences with then Chief Minister Mohanlal Sukharia and founded Janata Party of which he was general secretary.
  • 1967-72: He was member of Rajasthan Assembly as an independent candidate. In 1968 he merged Rajasthan Janata Party with Bharatiy Kranti Dal formed by Choudhary Charan Singh of which he became state president.
  • 1975: On 27-6-1975 he was arrested during emergency period and was imprisoned under MISA Act.
  • 1977-79: He was Member of Parliament from Churu in 6th Lok Sabha from newly formed Janata Party.
  • 1980-84: He was Member of Parliament from Churu in 7th Lok Sabha from Janata Party (S).
  • 1989-91: He was Member of Parliament from Churu in 9th Lok Sabha from Janata Dal. He was president of Rajasthan Janata Dal parliamentary board. He was central minister in Chandra Shekhar government in charge of urban development department. His decisions during that period are still appreciated.[2]

Spread of education

Daulatram Saran was associated with Gramotthan Vidyapith Sangaria, founded by Swami Keshwanand. He was also connected with Girls School Mahajan. He was founder of Gandhi Vidya Mandir Sardarshahar. He was of the view that the cause of social evils is lack of literacy. He did his best efforts for the spread of education through opening of 287 village schools, libraries and adult education centers.

Popular leader of the farmers

Daulatram Saran is the founder Chairman of Rajasthan Kisan Union from 1974. He led the movements of farmers against levy. He united farmers through organizing mass rallies of lacs of farmers in Jaipur. He also organized farmer rallies under the banner of Kisan Unions at District and Tehsil levels. These rallies were very effective and showed the strength of peasantry. These helped to a great extent in awakening the farmers.

Daulatram Saran took up number of reformist actions. He was against child marriage and bonded labour system. He has strongly opposed the Mratyubhauj and extravaganza on deaths. He advocated tree plantations programmes in villages of Thar Desert region to mitigate the effects of extreme temperatures and shifting sand dunes. He believed in the principle of simple living and high thinking. He was one of the rare politicians who advocated simplicity in public and political life.

Honours

Daulat Ram Saran was honoured posthumous by Jat Kirti Sansthan Churu on 31.8.2017 for his contribution in struggle against exploitation of Jagirdars and efforts for the spread of education through opening of 287 village schools, libraries, adult education centers and hostels.

Hobbies

He had the hobbies of traveling and reading. He practiced yoga and naturopathy. He loved nature.

Death

He died on 2 July 2011 Saturday at Jaipur. He was cremated at his home town in Sardarshahar with full Government honour being a freedom fighter of repute.[3]

Bio Data at Lok Sabha website

9th Lok Sabha Members Bioprofile[4]
Daulat Ram Saran

SARAN, SHRI DAULAT RAM [JanataDal*—Rajasthan, Churu, 1989]: s. of Shri Dula Ram Saran: b. at Dhani Panchera, Churu District, Rajasthan, January 13, 1924; ed, at Sardar Shahar Hissar, Matric; m. Jadav Devi, 3 s. and 4 d.; Agriculturist, political and Social worker; participated in freedom struggle;

Public Offices held: Dy. Minister, Agriculture, Animal Husbandry, Cooperatives, Panchayat, Local Self Government, Irrigation, Rajasthan, 1957-66; Union Minister, Urban Development, November 21, 1990;

Previous Association with Political Parties: Gen. Secy. DCC, Churu, Rajasthan, 1948-50; President, DCC, Churu, Rajasthan, 1950-57; Gen. Secy. JP, Rajasthan, 1967-68; Member, BKD Rajasthan, 1968; State Party President, Lok Dal, Rajasthan: Chairman, Parliamentary Board, JD, Rajasthan, 1989;

Previous Membership: Sixth Lok Sabha, 1977-79, Seventh Lok Sabha, 1980-84; Legislative Assembly, Rajasthan, 1967-72;

Committee Experience: Member, Public Accounts Committee, Rajasthan Legislative Assembly; Member, Public Accounts Committee, Estimates Committee and House Committee, 7th Lok Sabha; Member, Rules Committee, January 19, 1990, Business Advisory Committee, December 22, 1989, Committee on Public Undertakings, May 1, 1990, Consultative Committee, Ministry of Commerce and Tourism, 1990 and Consultative Committee constituted under the 'Punjab State Legislature (Delegation of Powers) Act, 1987' January 29, 1990;

Favourite Pastime and Recreation: Social service, travelling;

Publications: Articles on social and political subjects;

Special Interests: Horticulture;

Sports and Clubs: Kabaddi, Kho-Kho, Gulli Danda;

Social Activities: Removal of social evils like untouchability, dowry, child marriage, purdah system and ritual practices like post-death feasts; opening of schools, libraries; organising camps for adult education; protecting ecology in villages; Founder. Gramotthan Vidyapeeth, Sangaria, Rajasthan; associated with Gandhi Vidhya Mandir, Sardar Shahar, Rajasthan;

Other Information: Member, Pratinidhi Sabha, Rajya Praja Parishad, Bikaner, Rajasthan, 1945-48; Chairman, District Board, Rajasthan, 1956;

Permanent Address: C-153, Dashrath Marg, Hanuman Nagar, Khatipura, Jaipur-12, Rajasthan, Tel. Nos. 68309, 65353.

Member, Janata Dal (S) with effect from January 11, 1991.

जीवन परिचय

नोट - इस लेख में पैराग्राफ के अंत में पृष्ठ क्रमांक का उल्लेख किया गया है। ये जननायक श्री दौलतराम सारण अभिनंदन ग्रंथ (2008) से संदर्भ के रूप में दिये गए हैं। अधिक जानकारी के लिए पुस्तक की इस लिंक को खोल कर देख सकते हैं।

महान स्वतन्त्रता सेनानी, राजस्थान केसरी, मरूधर का गौरव, थार के गांधी, मारवाड़ के गांधी, राजस्थान के ज्योतिबा फुले आदि नामों से विख्यात किसान नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. चौधरी दौलतराम जी सारण का जन्म ढाणी पाँचेरा जिला चुरू राजस्थान में 13 जनवरी 1924 को एक किसान परिवार में हुआ था। वे चुरू लोकसभा से तीन बार सांसद रहे। तीन बार श्रीडूंगरगढ़ विधानसभा से विधायक रहे, ओर जनतापार्टी सरकार में भारत के शहरी विकास मंत्री के रूप में केबिनेट मंत्री रहे थे।

श्री दौलतराम सा राजस्थान के उन गणमान्य नेताओं में हैं जिन्होंने सुदीर्घकाल तक विविध क्षेत्रों में सक्रिय रहकर राजस्थान प्रदेश की निस्वार्थ सेवा की है। आत्म-प्रशंसा एवं आत्म-प्रशस्तियों से सर्वथा दूर रहते हुये श्री सारणी इस प्रदेश के राजनैतिक, सामाजिक और शैक्षणिक क्षेत्र में जो उपलब्धियां प्राप्त की हैं वे वस्तुतः गौरवपूर्ण एवं महान हैं। कृषकवर्ग में जन चेतना का विकास कर उनमें अन्याय के प्रति असहनशीलता एवं प्रतिकार की भावना जागृत कर उन्होंने एक स्तुत्य प्रयत्न किया है। उनका दीर्घकालीन सामाजिक एवं राजनैतिक जीवन वेदाग और निष्कलंक है। (पृ.45)

व्यक्तित्व: गौरवर्ण के उनके शरीर पर कुर्ता, धोती, सदरी या जैकेट, सर्दियों में लंबा कोट और चेहरे पर चश्मा तथा सिर पर गांधी टोपी यह था उनका पहनावा। उनका व्यक्तित्व सरल, सहृदयापूर्ण, निष्कपट लेकिन जुझारू था। उनका रहन-सहन, पहनावा, स्वभाव, शैली, संस्कार सभी पूरी तरह स्वदेशी थे। वे पूरे गांधीवादी थे। (पृ.79)

सरदारशहर की स्कूल में विद्या ग्रहण करते समय इनकी अंतर्चेतना में महात्मा गांधी के सत्संस्कार अंकुरित होने से उन्होंने सन् 1942 में गांधी टोपी धारण की, जो लगातार अंत तक इनके ललाट को सुशोभित करती रही।

श्री सारण प्रारम्भ से ही बड़े ईमानदार, सत्यनिष्ठ व्यक्ति रहे हैं। आर्थिक लोभ कभी उनके मन को छू तक नहीं पाया। 'सादा जीवन उच्च विचार' का आदर्श श्री सारण के जीवन में भली-भांति घठित है। रहन-सहन, वाणी, व्यवहार, लेन-देन और उनके जीवन के सभी पहलु सदा सादगीपूर्ण रहे हैं। बनावे-दिखावे से सदा दूर रहते आ रहे हैं। वे मानवीय आदर्शो के पुरोधा हैं। (पृ.97)

स्पष्टवादिता: उन दिनों चुनाव के दिन थे और श्री दौलतराम सारण अपनी चुनावी सभा को संबोधित करने चूरू शहर में आने वाले थे। उन दिनों राम मंदिर निर्माण के लिए देशभर में ईंटों का पूजन और चंदा जोर-शोर से चल रहा था। माहौल काफी 'राममाय' में बना हुआ था। श्री दौलतराम सारण को राम भक्तों की भीड़ ने चूरू के मुख्य बाजार गढ़ चौराहे पर रोक लिया और उनको तिलक लगाकर चंदा मांगने लगे। श्री दौलतराम ने न सिर्फ चंदा देने से मना कर दिया बल्कि तिलक लगाने से भी मना कर दिया और कहा कि तुम लोग चंद चालबाज और स्वार्थी लोगों के बहकावे में आए हुए हो और जो तुम्हारी भावनाओं को राम के नाम पर भड़का कर अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाहते हैं। यद्यपि उस समय उनको विरोध का सामना करना पड़ा लेकिन बेबाक सत्य उन्होंने भीड़ की नाराजगी की परवाह किए बिना व्यक्त कर दिया और रामभक्त आज तक अपनी ईंटों को तलाश कर रहे हैं। प्रजातंत्र में इस तरह की स्पष्टवादिता शायद ही किसी नेता में देखने को मिले। (पृ.104)

किसानों को संबोधित करते हुये दौलतराम सारण, दूलाराम सारण, शिशपाल पूनिया 1965

मेलों के माध्यम से संदेश: दौलतराम जी आम जनता में बहुत लोकप्रिय थे। वे भाषण कला में बहुत निपुण थे और मेलों-मगरियों में लोग कई-कई कोस ऊंटों पर चढ़ कर उनके भाषण सुनने जाते थे। तत्समय राजस्थान के इस रेगिस्तानी इलाके में शिक्षा व संचार माध्यमों का पूर्ण अभाव था। अतः ग्रामीणों के मेलों में सभाओं के माध्यम से संदेश पहुँचने का नया तरीका उनके द्वारा ही विकसित किया गया था। उनके द्वारा मेलों में दिये गए संदेश को लोग अगले मेले की तारीख तक दृढ़ता से अनुसरण करते थे व अगले मेले में नए संदेश का इंतजार रहता था। वे चुनाव प्रचार के दौरान जिस-जिस गांव जाते थे, लोग उन्हे सुनने के लिए दूसरे से तीसरे गांव लगातार उनके साथ चलते रहते थे। उन्हीं की बदौलत ग्रामीण क्षेत्रों में जागृति और राजनीतिक लहर आई।

जन्म और शिक्षा

जन्म: श्री दौलतराम सारण का जन्म राजस्थान के जिला चूरु की तहसील सरदार शहर के गांव ढाणी पाँचेरा में 13 जनवरी 1924 को हुआ। उनके पिता श्री दुलाराम सहारण राज्य के एक प्रसिद्ध जनसेवक एवं लोकप्रिय कृषक रहे हैं। गाँव ढाणी पाँचेरा गाँव तत्कालीन बीकानेर राज्य की सरदार शहर तहसील में स्थित है। किसी समय में फोगां गांव से आकर चौधरी पांचूराम जी सारण ने इस गांव को बसाया था जिसमें प्राय अधिकांश घर सारण गोत्र के जाटों के हैं। साथ ही मेघवाल, कुम्हार, खाती, नाई व स्वामी निवास करते हैं। गांव में कृषि एवं पशुपालन आजीविका के मुख्य साधन हैं। इसी गांव के कृषक श्री दुलाराम सहारण के घर द्वितीय पुत्र श्री दौलतराम सारण का जन्म हुआ। इसके पहले उनके एक पुत्र और पैदा हुये जिनका देहांत हो गया था। प्रथम पुत्र की मृत्यु के पश्चात जब श्री दौलतराम का जन्म हुआ तो सारा परिवार खुशी से भर उठा। यह प्रसन्नता और बढ़ चली जब फोगा गाँव के प्रसिद्ध टीले के तपस्वी साधु केल पूरी ने यह भविष्यवाणी की, "तेरा पुत्र बड़ा यशस्वी होगा, परिवार का ही नहीं, पूरे बीकानेर संभाग का नाम रोशन करेगा।" साधु की भविष्यवाणी से प्रेरित होकर श्री दुलाराम सारण ने अपने पुत्र को शिक्षा दिलाने का पक्का इरादा कर लिया। (पृ.46, 129)


प्रारम्भिक शिक्षा: उस जमाने में गांवों की कौन कहे नगरों तथा कस्बों में भी शिक्षा की व्यवस्था नहीं थी। राजा महाराजा एवं जागीरदार शिक्षा के घोर विरोधी थे। श्री सारण का परिवार आर्थिक दृष्टि से अच्छा था। सामाजिक प्रतिष्ठा भी परिवार की अन्य परिवारों की तुलना में बढी-चढी थी। बचपन से ही श्री सारण का शिक्षा के प्रति लगाव था। गाँव में कोई स्कूल नहीं था। तीन वर्ष की आयु में गांव के मंदिर के पुजारी द्वारा बच्चों को लय के साथ पढ़ाई जाने वाली भारनी (पहाड़ा पाठ) से आकर्षित होकर पढ़ाई की तरफ श्री दौलतराम सारण का रुझान पैदा हुआ। आपने आरंभिक शिक्षा गांव के पुजारी से ग्रहण की। उसके बाद आपके पिताजी ने हरियाणा से प्राइवेट शिक्षक गांव बुलाकर श्री सारण को पढ़ाया। (पृ.117) थोड़े बड़े होने पर 12-13 वर्ष की अवस्था में उन्हें पास के कस्बे सरदारशहर में विद्या प्राप्ति के लिए भेजा गया। (पृ.46)

सरदारशहर में विद्या प्राप्ति: श्री सूबेदार जी (स्वर्गीय चौधरी श्री शिवजीसिंह द्वारा निर्माणित) कुएं के चारों ओर बसे मोहल्ले में प्रो छगनलाल शास्त्री, भीखाराम, नेमाराम सैन आदि के मकान हैं। यद्यपि श्री सारण का निवास स्थान ढाणी पांचेरा गाँव था, किन्तु श्री सारण पढ़ाई के लिए सरदारशहर में श्री सैन के धर्म भाई थे। आपस में बड़ा प्रेम था। (पृ.96) श्री सारण के पिताजी ने सरदारशहर स्थित नेमचंद नाई के घर स्कूल में भर्ती करवाया। (पृ.209)

उस समय सरदारशहर में बीकानेर राज्य की ओर से आठवीं कक्षा तक विद्यालय चलता था तथा पढ़ाई बहुत अच्छी होती थी। देश में अंग्रेजों की हुकूमत के कारण हिंदी के साथ पहली कक्षा में ही अंग्रेजी चलती थी। आठवीं कक्षा की परीक्षा डिपार्टमेंटल एग्जामिनेशन के रूप में बीकानेर से संचालित होती थी। श्री दौलतरामने सरकारी स्कूल में आठवीं तक की शिक्षा प्राप्त की। उससे आगे की शिक्षा की व्यवस्था यहां नहीं थी। इसलिए यहां के छात्र, जो उच्च पढ़ाई के लिए बीकानेर नहीं जा सकते थे, वे पंजाब विश्वविद्यालय, लाहौर की मैट्रिक परीक्षा स्वयंपाठी छात्रों के रूप में देते थे। श्री सारण ने भी ऐसा ही किया। क्योंकि बाहर पढ़ने की सुविधाएं उन्हें प्राप्त नहीं थी। पढ़ने की रुचि के कारण वे प्राय: पब्लिक लाइब्रेरी जाते रहते, वहां भिन्न-भिन्न विषयों की पुस्तकें पढ़ते और दैनिक, साप्ताहिक अखबार भी पढ़ते थे। इस प्रकार उनका सामान्य ज्ञान काफी अच्छा होता गया। (पृ.96)

अपनी निष्ठा और लगन एवं कड़ी मेहनत के बल पर श्री सारण एक मेधावी छात्र के रूप में विद्यालय में उभर कर आए। सारे स्कूल में सर्वाधिक योग्य छात्र बने और अपने सहपाठियों में जनप्रियता हासिल की। यह एक सुखद संयोग था कि उसी समय पंडित गौरीशंकर आचार्य योग्यता का सम्मान करते हुए सरकार ने उनकी नियुक्ति भी सरदारशहर हाई स्कूल में एक संस्कृत अध्यापक के रूप में कर दी। श्री आचार्य बड़े कर्मठ और लगनशील व्यक्ति थे। श्री सारण मेधावी छात्र थे इसलिए उन्होंने विद्यालय में 2-3 वर्ष का समय नष्ट करने की अपेक्षा पंजाब विश्वविद्यालय की सीधी मैट्रिक परीक्षा हिसार केंद्र से देकर सफलता हासिल की। श्री सारण श्री गौरी शंकराचार्य की प्रेरणा से राष्ट्रीय भावना से प्रेरित हुए। श्री आचार्य ने विद्यार्थियों को सांस्कृतिक चेतना के साथ-साथ राजनीतिक चेतना का पाठ भी पढ़ाया। (पृ. 47, 129)

पहली छात्र हड़ताल: सरदार शहर में जन जागरण का प्रारंभिक काल उस हड़ताल से शुरू होता है जो इस नगर के विद्यार्थी वर्ग ने की। इसे बीकानेर रियासत की पहली हड़ताल बताया गया है। इस हड़ताल के कारण प्रशासन में बड़ी खलबली मच गई थी। यह हड़ताल विद्यार्थी वर्ग द्वारा सन् 1940-41 में की गई थी जब श्री सारण प्राय: 16 वर्ष के थे। इस हड़ताल का कारण संक्षेप में इस प्रकार था:-

उन दिनों हाई स्कूल के हेडमास्टर श्री सीपी कपूर थे। शहर के एक शौकीन तबीयत एवं संदिग्ध चरित्र वाले श्री राय कपूर साहब के व्यक्तिगत मित्र थे और विशेष कृपापात्र थे। इस व्यक्ति ने स्कूल के एक अध्यापक श्री कांतिलाल की पिटाई कर दी। इस पर छात्रों का रोष फूट पड़ा और उन्होंने स्कूल में हड़ताल कर दी। इसमें श्री सारण ने बढ़-चढ़कर अग्रगण्य भूमिका निभाई। हड़ताल पूरे दिन जोर शोर से चली। इसका व्यापक प्रभाव छात्रों पर पड़ा। श्री दौलतराम सारण ने, जो विद्यार्थी थे, इस हड़ताल में सक्रिय सहयोग दिया। उस समय तहकीकात करने के लिए दो बड़े अफसर बीकानेर से आए। उन्होंने विद्यार्थियों के बयान लिए पर किसी का अपराध साबित नहीं हो सका। निदान वे निराश होकर वापस चले गए। सरदार शहर के विद्यार्थी वर्ग द्वारा किया गया विरोध प्रदर्शन एवं आक्रोश विद्यालय प्रशासन के विरुद्ध था। इस दौरान साथी विद्यार्थ्यों को शिक्षा का नुकशान न हो इसके लिए दौलत राम ने अलग से स्वय क्लास लेकर उनको पढ़ाया था। (पृ.47)


गांधी जयंती नहीं मनाने दी: उन्हें अपने स्कूल में अपने छात्र साथियों के साथ सन् 1942 में गांधी जयंती नहीं मनाने दी गई। हाई स्कूल के विद्यार्थियों ने 2 अक्टूबर को गांधी जयंती मनाने का निश्चय किया था। स्कूल प्रशासन ने राज्य के दबाव के कारण यह जयंती मनाने की स्वीकृति नहीं दी। इसकी प्रतिक्रिया के रूप में विद्यार्थियों ने महाराजा की वर्षगांठ का उत्सव जो स्कूल में मनाया जा रहा था, का बहिष्कार किया। इस घटना को गंभीर माना गया पर राजद्रोह का मुकदमा चलाने की अपनी असमर्थता देखकर प्रशासन चुप रहा। हड़ताल में भाग लेने वाले छात्रों पर विभागीय कार्यवाही कर उन्हें दंडित किया गया। इस हड़ताल में श्री सारण ने आगे होकर भाग लिया पर उनके खिलाफ गवाही नहीं होने से वे दंड से बच गए। 4 विद्यार्थियों को स्कूल से निकाल दिया गया। एक वर्ष तक इन्हें अपने प्रमुख छात्र नेताओं के साथ पुलिस और शिक्षा विभाग द्वारा जांच का सामना करना पड़ा। (पृ.48)


इस प्रकार विद्यार्थी जीवन में अन्याय और अत्याचार असहिष्णुता एवं प्रतिकार की भावना प्रकट कर उन्होंने अपनी भावी योजनाओं का स्वरूप प्रकट कर दिया था। इसी समय श्री सारण ने साहित्य सम्मेलन की प्रथम परीक्षा पास की एवं मध्यमा के लिए फार्म भर दिए। श्री सारण मेधावी छात्र थे। अपने से ऊपर की कक्षाओं के छात्रों को वे अनेक विषय पढ़ाते थे। लोगों ने उन्हें सलाह दी कि दो-तीन वर्ष का समय नष्ट करने की अपेक्षा उन्हें सीधे मैट्रिक परीक्षा देनी चाहिए जिस में सफल होने की उनमें योग्यता विद्यमान है। इस कल्याणकारी अभिमत को मानकर उन्होंने पंजाब विश्वविद्यालय की मैट्रिक परीक्षा हिसार केंद्र से दी जिसमें उन्होंने सफलता हासिल की। (पृ.48)

स्वाध्यायी और मेधावी विद्यार्थी: श्री सारण एक स्वाध्यायी और मेधावी विद्यार्थी थे। वे हमेशा सरदारशहर की प्रसिद्ध गिरधारीलाल शिवनारायण टांटिया सार्वजनिक पुस्तकालय में अध्ययन हेतु नियमित रूप से जाते थे। इस पुस्तकालय में उन्होने विविध विषयों की पुस्तकों का गहन अध्ययन किया। उन्होने मानव विज्ञान, प्रकृति विज्ञान, समाज विज्ञान, प्रकृतिक चिकित्सा एवं योग तथा विभिन्न धर्मों का गहराई से अध्ययन किया। हर विषय का पूर्ण ज्ञान होने के कारण ही वे भाषण कला और समाज सेवा एवं उत्थान के कार्यों में बहुत निपुण थे।

श्रीमति जड़ावदेवी पत्नी श्री दौलतराम सारण

विवाह: श्री सारण का विवाह बाल्यकाल में ही 11 वर्ष की आयु में आखातीज के दिन सन् 1935 में चुरू तहसील में भामासी गाँव के चौधरी नानूराम भामू की पुत्री श्रीमति जड़ावदेवी के साथ हुआ। इस शादी में 100 ऊंटों पर गाँव से 18 कोस दूर गाँव भामासी (चुरू) पहुंची व 3 दिन बारात वहाँ रुकी। उस समय की ग्रामीण परंपरा के अनुरूप बहू को पीहर से लाने के लिए श्वसुर श्री दूलाराम जी सारण ही जाया करते थे तथा सवारी का एक मात्र साधन ऊंट ही हुआ करता था। एक बार ससुराल पक्ष भामासी के परिजनों ने दूलाराम जी को कहा कि बाई जड़ाव देवी को लेने के लिए जवाई दौलत राम जी आवें तभी भेजेंगे। इस पर दौलतराम जी खुद ससुराल पत्नी को लेने ऊंट पर भामासी आए व 7 दिन रुककर वापस लौटे तो पत्नी को ऊंट पर बिठाया और खुद 18 कोस (54 किमी) बिना रुके पैदल ही आए। गाँव में जब पहुंचे तो पत्नी को नीचे उतार कर खुद ऊंट पर चढ़ गए। पत्नी के कई बार आग्रह करने पर भी रास्ते में वे ऊंट पर स्वयं पत्नी के साथ नहीं बैठे। न ही रास्ते में रुककर पानी पिया। यह उनके पैदल चलने की क्षमता को दर्शाता है। वे अक्षर पैदल चलकर ही गाँव-गाँव में जन संपर्क कर स्वतन्त्रता का और जागृति का संदेश दिया करते थे। ऊंट के अलावा रेगिस्तान में कोई अन्य साधन नहीं था। उस समय ऊंट गाड़ी का प्रचालन नहीं था। ऊंट का इस्तेमाल भी वे इसलिए कम करते थे क्योंकि चारा-पानी का बहुत अभाव था। वे अक्षर यह कहा करते थे कि जब तक ऊंट पहुंचेगा हम खुद ही दौड़कर गंतव्य स्थान पर पहुँच जवेंगे। इसलिए किसी जीव को क्यों तकलीफ दी जावे।

आगे चलकर उनके 3 पुत्र और 4 पुत्रियाँ हुये।

बाँड़ी-सांप ने डसा: शादी के बाद लगभग 16 वर्ष की आयु में एक बार खेत पर परिवार के साथ काम कर रहे थे। जब उन्होने एक चारे के बोरे को ऊंट पर लादने के लिए उठाया तो नीचे अचानक एक जहरीले बाँड़ी-सांप ने उन्हें पैर पर डस लिया। उनको बोरे में डालकर ऊंट पर लादकर घर लाये व चिकत्सा के अभाव में पास के गांव शिमला से झाड़ा दिलाने के लिए वैद को लेकर आए। सारे शरीर में जहर फैलने के कारण मूंज फूट आए अर्थात पूरे शरीर से जहर प्रभावित खून बहना शुरू हो गया। शरीर में खून बहुत मात्र में बचा तो वैद ने एक मंत्र पढ़कर एक चम्मच पानी पिलाया इसका चमत्कारी असे यह हुआ कि खून निकालना तुरंत ही बंद हो गया। इससे शरीर बहुत कमजोर हो गया तथा 6 महीने तक बिस्तर में ही रहना पड़ा। लंबे समय तक उपचार करने से उनकी जीवन रक्षा हो सकी। (पृ.48)

गांव में स्कूल चलवाया: श्री दौलतराम जी सारण के मन में बड़ी कसक थी कि गांव के बच्चों के लिए कोई स्कूल नहीं है अतः आप ने अपने पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए मात्र 17 वर्ष की आयु में हरियाणा, उत्तर प्रदेश से निजी तौर पर शिक्षक बुलाकर गांव में स्कूल चलवाने शुरू किया। (पृ.117)

रोजगार के प्रयास: शर्प दंश के बाद स्वास्थ्य ठीक होने पर वे सरदारशहर आए। वे ओसवाल विद्यालय में अध्यापक बन कर विद्यार्थियों को शिक्षित करने लगे। उनके कुछ सहयोगी भी इस काम में लगे हुए थे। कुछ समय तक अध्यापन करने के पश्चात उन्होंने यह ज़िम्मेदारी साथियों पर छोडकर खुद अपने तीन साथियों के साथ बाजार में एक घी की दुकान खोली।

घी की दुकान खोली: आपके भीतर शोषण, अन्याय, अत्याचार के विरोध में शोषण विहीन समाज की संरचना के राष्ट्र-नवनिर्माण के क्रांतिकारी विचारों ने शोषणविहीन व्यापार व्यवस्था की सुव्यवस्था के लिए बाजार में घी की दुकान खोलने की प्रेरणा दी। (पृ.108) दुकान खोलने का उन का मूल उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को, जो घी बेचने शहर में आते थे, उन्हें दुकानदारों की लूट से बचाना था। उल्लेखनीय है कि रेगिस्तान के इस इलाके में किसान को नगद आमदनी का मुख्य जरिया घी की पैदावार ही था। दूध बेचना किसान बुरा मानते थे। आडत के आधार पर यह दुकान चलती थी। इस दुकान के खुलने के बाद सारा घी इनकी दुकान पर ही आने लगा। इसके पीछे उनका उद्देश्य पशुधन से किसान की आमदनी को बढ़ाना था तथा व्यापारियों की लूट से किसानों को बचाना था। इस दुकान के बाद घी की कीमत में अच्छी वृद्धि हुई और किसान लाभान्वित हुये। यही प्रयोग आगे चलकर क्रय-विक्रय सहकारी समितियों/संघों के रूप में विकसित हुआ। इसी समय सारा देश एक आंदोलन के दौर से गुजर रहा था और स्वतंत्रता आंदोलन आपको पुकार रहा था। उसके पश्चात इस काम को बंद कर देश सेवा में पूर्ण रूप से समर्पित होकर जुट गए। (पृ.48)

आपने किसानों को उनकी उपज, देसी घी, जो सरदारशहर के किसान अनाज के साथ-साथ बाजार में बिक्री के लिए लाते थे, की बिक्री के लिए किसानों को शोषण से मुक्ति दिलाने वास्ते बीच बाजार में गढ़ के पाले की एक दुकान किराए पर लेकर क्रय-विक्रय सहकारी समिति का गठन करवाकर एक ईमानदार और किसानों की सहकारी भावना से सेवा करने वाले श्री जसराज निवासी ग्राम दूधवाखारा को उक्त समिति का व्यवस्था पर बनाया और सहकारी भावना से किसानों को "एक सबके लिए और सब एक के लिए" के उद्देश्यों की भावना से सेवा से क्षेत्र में किसानों की सेवा की। (पृ.153)


मरुभूमि सेवा कार्य

श्री दौलतराम सारण मरुभूमि विद्यालयों के शिक्षक प्रशिक्षण में मई-जून 1946

श्री सारण ने मरुभूमि सेवा कार्य शिक्षा योजना संगरिया, जो स्वामी केशवानंद जी द्वारा संचालित था, में सक्रिय कार्य किया। गांवों में किसानों में शिक्षा प्रसार के लिए घूम-घूमकर पाठशालाएं खुलवाई। शिक्षा संपन्न व्यक्ति ही शिल्प सिद्ध कर सकता है जिसके द्वारा गुण, कर्म एवं स्वभाव को वांछित रूप से गढ़ सकना संभव हो सकता है। इस कारण आपने रेगिस्तानी भूखी-प्यासी अनपढ़ ग्रामीण जनता में शिक्षा संत स्वामी केशवानंद के नेतृत्व में "मरुभूमि सेवा कार्य शिक्षा योजना" संगरिया, राजस्थान से जुड़कर सक्रिय भूमिका निभाते हुए 287 ग्रामीण पाठशालाओं का संचालन में योगदान कर बीकानेर संभाग की शिक्षा व्यवस्था का श्रीगणेश किया। आपने निरक्षरता दूर करने के लिए प्रौढ़ शिक्षा के कार्यक्रम गांवों और शहरों में शुरु किए। (पृ.108)

राजस्थान प्रदेश की सुप्रसिद्ध शिक्षा संस्थान ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया (जिला हनुमानगढ़) के उन्नायक-संचालक, शिक्षा संत स्वामी केशवानंद ने जब 1947 में अपनी मरुभूमि सेवा कार्य योजना द्वारा बीकानेर राज्य के मरूक्षेत्रीय गांवों में शिक्षा प्रचार का कार्य आरंभ किया तब चौधरी दौलतराम सारण उनके प्रथम सहयोगियों में से एक थे। 20-21 वर्षीय श्री सारण स्वामी जी के साथ पैदल यात्रा करते हुए उन दुर्गम गांवों में जाते, वहां लोगों को शिक्षा प्राप्ति के लिए लाभ बताते, उन्हें स्वयं शिक्षित होने और बालक-बालिकाओं के लिए गाँव में स्कूल खुलवाकर उन्हें शिक्षा दिलाने के लिए प्रेरित करते थे। (पृ.127)

श्री सारण ने जवानी के महत्वपूर्ण आरंभिक वर्ष स्वामीजी के निर्देशन में उस दुस्साध्य ज्ञान-दान यज्ञ में, मूक मरुस्थल को जबान देने में लगाए। उन्होंने केवल प्रचार कार्य में ही योगदान नहीं किया, अपितु प्रौढ़-शिक्षा, समाज-सुधार, पाठशाला-निरीक्षण, उन ग्राम्य शालाओं के लिए सुयोग्य शिक्षक तैयार करने के लिए ग्रामोत्थान विद्यापीठ में प्रशिक्षण शिविर लगाने में भी सहयोग करके शिक्षा प्रसार कार्य को आगे बढ़ाया। उनकी सहभागिता के फलस्वरूप ही मारूक्षेत्र में स्वामी जी का मरुभूमि सेवा कार्य - शिक्षा प्रचार, समाज सुधार, रूढि उन्मूलन, अस्पृश्यता निवारण आदि के रूप में गतिशील हो पाया था। श्री सारण के लोक सेवा क्षेत्र में पदार्पण का भी यह प्रथम कदम था जिसे उठाने के बाद उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। (पृ.127)

श्री दौलतराम जी ने सन् 1944 में मरूप्रदेश के शिक्षा संत स्वामी केशवानंद जी का सानिध्य लाभ प्राप्त कर स्वामी जी के साथ सुदूर रेगिस्तान के गांवों की कठिन परिस्थितियों में यात्राएं करके बियाबान टीबों में 287 पाठशालाएं खोलकर भागीरथ की गंगा की भांति भूखे, शोषित, पीड़ित व नीयतन उपेक्षित ग्राम समाज में प्रेरणादायक शिक्षा-ज्योति प्रज्वलित करने में अपना पसीना बहाया। इसके साथ-साथ स्वामी जी द्वारा संचालित तत्कालीन जाट स्कूल संगरिया (वर्तमान ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया) में स्वामी जी द्वारा प्रारंभ में अनेक ग्रामोपयोगी शिविरों भिन्न-भिन्न योजनाओं के संचालन में उन्होंने सक्रिय भागीदारी निभाई। श्री दौलतराम जी द्वारा स्वामी केशवानंद जी के संरक्षण में संचालित महाजन कन्या शिक्षा संस्थान से भी जुड़े रहे हैं। ये गांधी विद्या मंदिर, सरदारशहर के संस्थापक सदस्यों में से हैं। (पृ.154)

शिक्षा प्रचार को समर्पित: श्री सारण सरदारशहर में तात्कालिक प्रौढ़ शिक्षा समिति के सचिव बने। सरदारशहर साहित्य समिति सार्वजनिक पुस्तकालय से वर्षों से वे जुड़े रहे हैं।

दौलतराम जी सारण द्वारा खोली गई स्कूलों की सूची: स्वर्गीय दौलत राम जी सारण द्वारा खोली गई 287 स्कूलों की सूची में से कुछ नाम निम्नानुसार हैं. सूची में बहुत से गांवों के नाम रह गये है कृपया उन गांवों के नाम जोड़ने का कष्ट करें:

बीकानेर :- बासी, बरसंगसर

तहसील श्री डूंगरगढ :- सूडसर, लिखमीसर ,कल्याणसर

तहसील रतनगढ़:- लाछडसर

तहसील तारानगर:- नेठवा, झाड़सर, भणीण, पंडरेऊ टीबा ,चंगाई, ढाणी आशा, ढाणी कस्वां,झारडा

तहसील राजगढ़:- लीलकी, बिरमी, महलाना, चिमनपुरा, लाखलाण , नरवासी, रतनपुरा ,रामसर ताल, मुंदीताल , हंसियावास ,मीठी ,खैरू बडी ,नवां, नेसल

तहसील चुरू:- जौड़ी, खंडवा, महरावणसर, पिथीसर, बीनासर ,खींवासर ,भामासी, सात्यूं, सिरसली, बंदर ,खासोली

तहसील सरदारशहर:- सरसर, ढाणी पांचेरा, रंगाईसर, ढाणी पांडूसर ,अडसीसर, अजीतसर, भोजासर, राजासर ,राणासर, जैतासर, सावर, रामपुरा, बरजांगसर, पिचरकाई ताल, मालकसर ,भादासर, भागापुरा ,खजेडा, बोघेरा, बिल्युं ,कालूसर

तहसील सुजानगढ:-सुजानगढ, मलसीसर, खींचीवाला ,खारीया

तहसील नोखा:- भामडसर, कुचीरा

तहसील लूणकरणसर:- हिन्दौर बिश्नोईयान, खानीसर, भागेरा,माटलाई, खीयेंरा, मिठडिया महाजन ,शेरपुर ,खेड़ाला, नाथवान, मनापरसर, सुरनाणा, अमरपुरा, सहजरासर

श्री गंगानगर:- चक 4 सी , ढाणी भादवां, खाट सजवार,मम्मड, सरुपूरा ,हकमाबाद

तहसील सूरतगढ़:- बीरमाणा ,उदयपुर ,पंडितावाली, ऐटा ,सोमासर

तहसील हनुमानगढ:- डाबडीकला, उबलीखुर्द रणजीतपुरा ,भोमपुरा, रामपुरा ,जोरावरपुरा, मोहनमगरिया, मेहरवाला ,अराइयांवाली, तंदूरवाली, नाईवाला, दौलतपुरा ,मल्लड खेड़ा, रतनपुरा ,नगराना ,धोलीपाल,चक हरी सिंह वाला ,बोलांवाली, हरिपुरा ,प्रतापपुरा, गदरखेड़ा ,अमरगढ, रासूवाला, मालारामपुरा, चमारखेड़ा

तहसील नोहर :- जटाानिया, पदमपुरा, राजपुरिया, ढंढेला, बुधवालिया, चाइयां, ढाणी लाल खां, टोपरिया ,देईदास , किकरवाली ,सरदारपुरा, भूकरका, गंधेली ,रामपुरा ,न्योलखी , रामकां ,लखेरा, पल्लू ,धन्नासर ,हरदासवाली, मोटेर, उदासर, दनियासर, नैयासर, स्वरूपदेसर ,बिसरासर, केलनिया ,थिराणा ,सिरंगसर ,कान्हसर, धानसिया, नीमला ,जबरासर ,पांडूसर, सोनड़ी ,गोरखाना, ललाणियां, चक सरदारपुरा, बडबिराणा, ढीलकी, उजलास, रासिंहपुरा, ललाना, दुरजाना ,नथवानियां ,नहराणा, मेघाणा, शिवराणा, भूंगली ,टीडीयासर, धनियासर

तहसील भादरा :-नेठराना भोजासर ,खचवाणा, भरवाणा, सरदारपुरा बास, बिराणा, मोटसरा,नुंआ, करणपुरा ,रासलाना ,कुंजी ,घोटडा,डूंगराना डूंगरसिंहपुरा, कणाऊं

नोट: यह सूची दौलतराम जी सारण के पुत्र कृष्ण कुमार सारण द्वारा उपलब्ध कराई गई है.

विस्तारधीन

स्वतन्त्रता आंदोलन

प्रजापरिषद से जुड़े: उस समय बीकानेर रियासत में कार्यरत बीकानेर परिषद की गतिविधियों में रुचि लेने लगे। 22 जुलाई 1942 को रावतमल पारीक के घर पर रघुवरदयाल गोयल, वकील खयालीसिंह गोदारा सहित 15 सदस्यों द्वारा स्थापित 'बीकानेर राज्य परिषद' 1945 ई. तक काफी सुदृढ़ हो चुकी थी और किसानों पर लगने वाला ऊंचा भूमिकर, लागबाग, बेगार और उन पर की जाने वाली जागीरदारों की ज्यादतियों की समस्या को अपने हाथ में ले चुकी थी और दूधवाखारा के किसानों की मदद में लगी हुई थी। सन् 1945 में अंग्रेजों व जागीरदारों के खिलाफ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने अन्याय व अत्याचार से लड़ने के लिए बीकानेर राज्य में प्रजा परिषद के रूप में एक राजनीतिक संगठन स्थापित किया। उसका विधान बनाने में चौधरी कुंभाराम आर्य का प्रमुख हाथ रहा। श्री रघुवर दयाल गोयल प्रजा परिषद के अध्यक्ष व श्री दौलतराम सारण, श्री हरदत्त बेनीवाल, श्री मनीराम आर्य पूर्व विधायक तारानगर, प्रोफेसर केदार शर्मा, पूर्व विधायक श्री गंगानगर, हंसराज आर्य, पूर्व विधायक भादरा, प्रजा परिषद के सक्रिय सदस्य बने। (पृ.129)

उस समय बीकानेर रियासत में विरोध के स्वर मुखर हो रहे थे। वहां राज्य प्रजा परिषद की स्थापना हो चुकी थी। श्री सारण उस समय सरदारशहर में थे और अपने छात्र दल के साथ प्रजा परिषद में शामिल हो गए। वे उसकी प्रतिनिधि सभा के सदस्य रहे। प्रजापरिषद की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए महाराजा ने बीकानेर रियासत में निषेधाज्ञा लागू कर प्रजा परिषद पर पाबंदी लगा दी। अधिकांश वरिष्ठ नेताओं को कैद कर लिया गया। (पृ.117)

आपके जैसा जागरुक व्यक्ति इन राजनीतिक गतिविधियों से कैसे अलग रह सकता था। सन् 1945 से 1948 तक बीकानेर राज्य प्रजापरिषद से जुड़े रहे और इसकी प्रतिनिधि सभा के सदस्य रहे। बीकानेर राज्य में उत्तरदाई सरकार बनाने के आंदोलन में बढ़-चढ़कर भाग लिया। उस समय जन जागरण और संगठन में महत्वपूर्ण काम किया। उन्होंने सन् 1942 में अपने राजनीतिक जीवन के दौरान गांधी टोपी पहनने का निर्णय लिया जिसका पालन अंतिम समय तक किया। प्रजापरिषद ने महाराजा बीकानेर के एकतंत्रीय सामंतवादी शासन के विरुद्ध समय-समय पर आंदोलन किए और अन्याय एवं अत्याचार का प्रतिरोध किया। इन कार्यों में श्री सारण द्वारा भी भरपूर सहयोग दिया गया तथा उनकी बड़ी भूमिका रही। (पृ.49)

उसी समय स्वामी केशवानंद जी का आगमन हुआ। उन्होंने श्री सारण से हालचाल पूछा। आपने स्वामी जी को बताया कि हमारी गतिविधियों पर महाराजा ने रोक लगा रखी है। अतः स्वामी जी आपको अपने साथ संगरिया ले गए। स्वामी केशवानंद जी आपके सामाजिक कार्यकलापों से बड़े प्रभावित हुए और उन्हें स्कूलों की देखरेख का कार्य सौंपा। सन् 1948 में ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया की ओर से आपने शिक्षा शिविर का आयोजन किया जिसमें 63 महिला पुरुषों ने भाग लिया। दूसरा शिविर महाजन स्टेशन, जो उस समय बड़ा ठिकाना हुआ करता था, में रेत केढोरों के ऊपर लगाया। बाद में आप से प्रभावित होकर ठिकानेदार ने करीब 2000 बीघा भूमि दान दी जिस पर कन्या विद्यालय की स्थापना हुई। बाद में आपने वह विद्यालय हंसराज आर्य को सौंप दिया। इस तरह आपने विद्या पीठ के सानिध्य में अनेक गांवो में स्कूल खुलवाए। (पृ.117)

श्री सारण ईमानदारी, सच्चाई और सिद्धांत-निष्ठा वाले राजनेता रहे हैं। श्री सारण ने जागीरदारों के उत्पीड़न शोषण के विरुद्ध किसानों को जागृत संगठित कर संघर्ष करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। किसानों की समस्याओं को लेकर वे सदा संघर्षरत रहे। इसी कारण किसानों में उनकी लोकप्रियता प्रभावी रही है।

राजनीतिक जीवन

श्री सारण सन् 1948 से 1950 तक चूरू जिला कांग्रेस समिति के महासचिव रहे तथा सन् 1950 से 1957 तक चूरू जिला कांग्रेस समिति के सर्वसम्मत अध्यक्ष रहे और प्रदेश कांग्रेस के सदस्य रहे। (पृ.130)

चंदनमल वैद का समर्थन: प्रथम राजस्थान विधानसभा का गठन सन् 1952 में हुआ। इसके सदस्यों की संख्या 160 थी। चुनाव 4 जनवरी से 24 जनवरी 1952 तक वयस्क मताधिकार के आधार पर संपन्न हुये। सन् 1952 में राज्य विधानसभा के चुनाव के समय श्री सारण चुरू जिले के गणमान्य नेता थे और राजनीतिक रूप से अग्रिम पंक्ति में थे। कांग्रेस कमेटी ने उन्हें चुनाव लड़ने के लिए आग्रह किया। उन्होंने नम्रतापूर्वक इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया और अपने स्थान पर श्री चंदनमल वैद को टिकट देने का प्रस्ताव रखा। तब श्री चंदनमल बैद को कांग्रेस पार्टी का सरदारशहर विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया गया। श्री चंदनमल वैद बंगाल हिंदू विश्वविद्यालय से M.A. LLB पास करके आए थे। उन्होंने सोचा तो यह था कि यहां पर व्यापारिक एवं औद्योगिक जीवन में कीर्तिमान कायम करेंगे किंतु उनके युवा मानस को यह मंजूर नहीं था। (पृ.97) चंदनमल वैद ने कहा कि मैं बिहार में रहता हूँ और स्थानीय लोगों को जानता नहीं हूँ। श्री सारण ने उनको आश्वासन दिया कि स्थानीय लोगों से परिचय करवाना और वोट दिलवाना मेरी ज़िम्मेदारी है। चुनाव में श्री सारण ने उनकी भरपूर मदद की। इस सहयोग के कारण श्री वैद अच्छे बहुमत से विजई हुए। सन् 1956 में श्री सारण जिला बोर्ड चुरू के प्रथम निर्विरोध निर्वाचित अध्यक्ष चुने गए। लोग उनकी नेतृत्व क्षमता से पूरी तरह वाकिफ हो चुके थे। वे इस क्षेत्र में प्रथम श्रेणी के नेता के रूप में उभरकर सामने आए। (पृ.50, 130)

हरिजन उद्धार कार्यक्रम: श्री सारण ने छूआछूत के शर्मनाक दौर में हरिजन उद्धार के कार्यक्रम के अंतर्गत सन् 1953 में रावतराम आर्य (मेघवाल) को सामान्य सीट पर तहसील सरपंच बनवाया। सन् 1959-60 में रावतराम आर्य (मेघवाल) को सामान्य सीट पर राजस्थान में प्रथम जिला प्रमुख बनवाकर पूरे देश में एक मिसाल कायम की। जिले में एक प्रधान व एक हरिजन सरपंच तथा पिछड़ी जातियों के प्रधान व सरपंच बनाए। श्री सारण ने हरिजन बस्तियों में जाकर सफाई अभियान चलाये। परजा परिषद व कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता के सम्मेलन में खाना खिलाना व पानी पिलाने का काम हरिजनों को ही सौंपा जाता था। प्रारम्भ में इस कार्य का सवर्ण जतियों द्वारा बहुत विरोध हुआ परंतु साम्मेलनों की समाप्ती पर इस बुराई को मिटाने का सकारात्मक असर हुआ करता था। छूआछूत मिटाने में यह कदम बहुत कारगर साबित हुआ। श्री सारण ने गांवों में कुएं पर पानी लाने के लिए हरिजनों के साथ किए जाने वाले भेदभाव को खत्म किया। श्री सारण के जनहित के कार्यों के कारण लोगों पर उनका अतुलनीय प्रभाव था, बड़ा जनवर्ग उनके पीछे था। राजनीति में व्यक्ति की महानता तभी तक सुरक्षित रहती है जब तक उसके पीछे बड़ा जनबल होता है। (पृ.51)

दौलतराम सारण राज्यपाल गुरमुख निहालसिंह से मंत्रि पद की शपथ लेते हुये 2.5.1957 साथ में मुख्य मंत्री मोहनलाल सुखाड़िया

श्रीडूंगरगढ़ से विधायक एवं उपमंत्री बने: राज्य में द्वितीय आम चुनाव राजस्थान विधानसभा के लिए 25 फरवरी 12 मार्च 1957 तक की अवधि में संपन्न हुये। सन् 1957 के विधानसभा चुनाव में श्री सारण को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने व कार्य-समिति ने समझा-बुझाकर श्रीडूंगरगढ़ विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने को तैयार कर लिया। वे इस चुनाव में अच्छे मतों से विजई हुए। 11 अप्रैल 1957 को श्री मोहन लाल सुखड़िया ने अपने मंत्रिमंडल का गठन किया तो कांग्रेस के प्रति की गई सेवाओं के कारण श्री सारण को उपमंत्री के रूप में मंत्रिमंडल में सम्मिलित कर लिया। यह उनके दीर्घकालीन सेवा कार्य की स्वीकृति के फलस्वरुप था। उन्हें कृषि, पशुपालन, सहकारिता, पंचायती राज, स्थानीय निकाय एवं सिंचाई विभाग सौंपे गए। इन विभागों की कार्यप्रणाली में उन्होंने कई सुधार किए और श्री सारण ने इन विभागों में लोक कल्याण के महत्वपूर्ण कार्य किए। श्री सारण पंचायती राज प्रणाली के बहुत ही हिमायती थे। 2 अक्टूबर 1959 को देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने देश में सबसे पहले पंचायत राज की स्थापना राजस्थान में शुरू की। (पृ.51,130)

दौलतराम सारण, राज्यपाल गुरमुख निहालसिंह, मुख्य मंत्री मोहनलाल सुखाड़िया और मंत्रिमंडल के साथी 1962

पुनः श्रीडूंगरगढ़ से विधायक एवं उपमंत्री बने: 12 मार्च 1962 को फिर श्री सुखाड़िया के नेतृत्व में राजस्थान मंत्रिमंडल का गठन हुआ। श्री सारण ने इस चुनाव में श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र से पहले की तरह विजय प्राप्त की। उन्हें पुनः अपने मंत्रिमंडल में उप-मंत्री के रूप में सम्मिलित किया गया। 2 मई 1957 से 25 दिसंबर 1966 तक राजस्थान सरकार में कृषि, पशुपालन, सहकारिता, पंचायत राज, स्थानीय निकाय और सिंचाई उपमंत्री पदों पर रहे। (पृ.51,130)

जनता पार्टी का गठन: उसी दौरान मुख्यमंत्री श्री सुखाडिया से चौधरी कुंभाराम आर्य का राजस्थान के विकास के कुछ मुद्दों पर मतभेद हो गया। कांग्रेस हाईकमान ने कुंभाराम के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्य करने का विचार किया। 20 दिसंबर 1966 को कुंभाराम आर्य ने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया। राजा हरिश्चंद्र, दौलतराम सारण वह कमला बेनीवाल ने संयुक्त रुप से मुख्यमंत्री को त्याग-पत्र भेज दिया। उन्होंने मुख्यमंत्री पर प्रशासन में अनुचित हस्तक्षेप, भ्रष्टाचार, कुनबा-परस्ती व कांग्रेस की नीतियों के विरुद्ध आचरण के आरोप लगाए। कांग्रेस से अलग होकर इन लोगों ने सन् 1967 में जनता पार्टी नामक एक राजनीतिक पार्टी का गठन किया। राजस्थान में इस पार्टी के अध्यक्ष चौधरी कुंभाराम आर्य और दौलतराम सारण इसके महासचिव बने। (पृ.52,130)

नए युग का प्रारंभ

नए युग का प्रारंभ : चतुर्थ आम चुनाव 15,18, 20 फरवरी 1967 में आयोजित हुये जिसमें किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत प्राप्त नहीं हुआ। 184 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस को 88 सीट मिली थी। डॉक्टर संपूर्णानंद राज्य के राज्यपाल थे। विपक्षी दलों ने मिलकर एक संयुक्त विरोधी दल बना लिया था और राज्य में सरकार बनाने के लिए अपना दावा पेश कर दिया था। राज्यपाल में सबसे बड़े दल के नेता के तौर पर 4 मार्च 1967 को मोहनलाल सुखाड़िया को मंत्रिमंडल बनाने को आमंत्रित किया। इस पर उग्र आंदोलन हुए। जयपुर में विशाल उग्र भीड़ पर गोलियां चलाई गई जिसमें कुछ लोग मारे गए। ऐसी स्थिति में केंद्र ने 13 मार्च 1967 को राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया। (पृ.52)

दौलतराम सारण विरोधी एमएलए के साथ बहुमत साबित करने के लिए राष्ट्रपति से मिले, 1967

26 अप्रैल 1967 को श्री सुखाडिया को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई। श्री सारण ने चुनाव के पूर्व कांग्रेस संगठन से श्री कुंभाराम आर्य एवं अन्य कुछ मंत्रियों के साथ त्यागपत्र दे दिया था। कांग्रेस छोड़ कर बाहर आने वालों में महाराजा हरिश्चंद्र झालावाड़, श्री दौलतराम सारण, जुझार सिंह, श्रीमती कमला बेनीवाल और ठाकुर भीमसिंह आदि थे। कांग्रेस से अलग होकर इन लोगों ने राजस्थान में सन् 1967 में जनता पार्टी नाम की एक राजनीतिक पार्टी की स्थापना जनता को सुख, शांति और समृद्धि दिलाने के लिए हुई जो राजस्थान की राजनीति में एक नए युग का प्रारंभ है क्योंकि लंबे समय से राजस्थान के कुछ कांग्रेसजन ईमानदारी से अनुभव कर रहे थे कि कांग्रेस का वर्तमान स्वरूप जनभावनाओं के प्रतिकूल आचरण कर रहा है। जनता को भाय, संकट और चिंता का मुकाबला करना पड़ रहा है। (पृ.52)

14 से 16 मई 1967 को इंदौर में उन सब पार्टियों के प्रतिनिधियों की ओर से एक बैठक बुलाई गई जिन्होंने आम चुनाव के अवसर पर कांग्रेस छोड़कर भिन्न-भिन्न नामों से प्रांतीय स्तर पर प्रथक-प्रथक राजनीतिक दल स्थापित करके चुनाव लड़े। इस बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि सभी संगठन भारतीय क्रांति दल में विलीन हो जावें। इस प्रकार सभी आवश्यक साधन जुटाकर जनता पार्टी को एक राजनैतिक स्वरूप प्रदान किया गया। कांग्रेस छोड़कर आए नेताओं ने भारतीय क्रांति दल का गठन कर लिया। इस दल के अध्यक्ष बिहार के मुख्यमंत्री महामाया प्रसाद बने। इस दल के महासचिव श्री दौलतराम सारण थे। 26 दिसंबर को एक वर्ष पुरानी राजस्थान जनता पार्टी को औपचारिक रूप से भारत क्रांति दल में विलीन कर दिया गया। यह जनता पार्टी क्रांति दल की एक इकाई के रूप में राज्य में काम करने लगी। (पृ.52)

श्री आर्य और उनके सहयोगियों के त्यागपत्र देने के बाद 5 सितंबर को 1967 को श्री सुखाडिया ने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर लिया। 5 नए कैबिनेट मंत्री बनाए गए। (पृ.52)

मार्च 1971 में लोकसभा के मध्यावधि चुनाव के बाद 8 जुलाई 1971 को सुखाड़िया को पद छोड़ना पड़ा। वे चाहते हुए भी आगे के काल में सत्ता से संयुक्त नहीं रह सके। (पृ.52)


श्री सारण महाराजा बीकानेर के विरुद्ध सन् 1972 में संसद का चुनाव लड़कर अपनी दृढ़ता, निडरता एवं साहस का परिचय दे चुके थे। उनको इस चुनाव में यद्यपि सफलता नहीं मिली तथापि जनवर्ग को राजशाही के विरुद्ध खड़ा करने में उनको सफलता मिली। (पृ.53)

उनके पश्चात बरकतुल्ला खां मुख्यमंत्री बने। 1973 में उनकी मृत्यु पर श्री हरिदेव जोशी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। (पृ.52)


राजस्थान किसान यूनियन का गठन: श्री दौलतराम सारण ने राजस्थान में 1974 में शासन द्वारा किसानों पर थोपी गई लेवी के विरोध में किसान आंदोलन चलाया। इस आंदोलन के दौरान किसानों से चर्चा में एक सशक्त किसान संगठन का अभाव खाला। तदनुसार हनुमानगढ़ में किसान सम्मेलन में "राजस्थान किसान यूनियन" नाम से एक यूनियन की स्थापना की गई। श्री दौलतराम सारण इसके संस्थापक अध्यक्ष बने। राजस्थान की राजधानी जयपुर में किसानों की समस्याओं को लेकर उन्होंने कई बार लाख-लाख किसानों की प्रभावी रैली निकाली। प्रदेश में किसानों को किसानपन की भावना के आधार पर संगठित किया। राजस्थान के जिला और तहसील केन्द्रों पर किसान यूनियन के उनके द्वारा आयोजित अनेक प्रदर्शन बहुत प्रभावी रहे। इससे किसानों में बड़ी चेतना जागी।(पृ.53)

राजस्थान किसान यूनियन की स्थापना श्री दौलतराम सारण, पूर्व केंद्रीय मंत्री, प्रदेश के अग्रणी किसान नेता द्वारा राजस्थान में किसानों के हितों की रक्षा करने के लिए की गई थी। बाद में किसान यूनियन की गतिविधियों से सक्रिय रुप से दबंग किसान नेता कुंभाराम आर्य, गोपालसिंह खंडेला आदि महत्वपूर्ण किसान नेता जुड़े। किसान यूनियन का धीरे-धीरे पूरे राजस्थान में प्रभाव हो गया तथा यूनियन की इकाइयां ग्राम, तहसील और जिला स्तर पर कार्य करने लगी। यूनियन द्वारा किसान हितों के लिए 70 और 80 के दशक में अनेक संघर्ष किए। किसान यूनियन ने निम्नलिखित महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की (पृ.54):

1. रचनात्मक कार्य: सामाजिक बुराइयों जैसे नशा मुक्ति, मृत्युभोज, दहेज प्रथा, घूंघट प्रथा समाप्त करना, शिक्षा प्रचार, पेड़ लगाओ व सफाई अभियान आदि चलाए गए।

2. बिजली की फ्लेट रेट लागू करवाई गई तथा इसके लिए यूनियन द्वारा बड़ा आंदोलन किया गया। इस आंदोलन में झुंझुनू के किसान रामदेव चौधरी को कुर्बानी देनी पड़ी थी।

3. ट्रैक्टर ट्रॉली पर लगने वाले टैक्स को लंबे समय तक संघर्ष कर समाप्त करवाया गया।

4. नहरी क्षेत्रों में किसानों के खेतों में नहर का पानी लाने हेतु बनाए गए पक्के खालों की कीमत वसूली माफ करवाई गई।

5. किसानों की उपज का लाभकारी मूल्य दिलाने, खाद, बीज पर सब्सिडी दिलाने आदि में यूनियन का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

श्री सारण 27 जून 1975 से आपातकाल में 19 माह मीसा के अंतर्गत जेल में रहे। इस अवधि में उन्होने अनेक विषयों पर गहराई से अध्ययन-मनन किया।

लोकदल से सांसद बने:1977-79 में छठी लोकसभा के सदस्य चुरू लोकसभा क्षेत्र से चुने गए। श्री सारण इस समय नए दल की रीति-नीति जनवर्ग को समझाने में जूते हुये थे। जब 1977 में चुनाव हुए तो श्री सारण भारतीय लोकदल के चिन्ह हलधर पर चुनाव लड़ कर चुरू क्षेत्र से लोकसभा के लिए विजयी हुए। राजस्थान में वे सर्वाधिक मतों से विजई हुए थे। चौधरी चरणसिंह की पार्टी का नाम प्रारंभ में जनता पार्टी (स) रहा था। आगे चलकर यही दल लोकदल के रूप में परिवर्तित हुआ। चौधरी चरणसिंह इसके अध्यक्ष बने। राजस्थान में लोक दल का प्रदेशाध्यक्ष श्री दौलतराम सारण को बनाया गया। राजस्थान में आठवीं विधानसभा के चुनाव हुए इस चुनाव में कांग्रेस को 113 स्थानों पर मिली। लोकदल 27 सीटों पर विजयी रहा। इस प्रकार सन् 1968 में राजस्थान जनता पार्टी के भारतीय क्रांति दल में मिल जाने पर दल के प्रदेश अध्यक्ष बने। भारतीय क्रांति दल के लोक दल में विलय पर वे राजस्थान लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष रहे। (पृ.52,53)

1980-84 में 7वीं लोकसभा के लिए भी चुरू से चुने गए। उधर 1977 के लोकसभा के चुनाव में बड़ी जीत दर्ज करने वाले श्री सारण ने 1980 में 7वीं लोकसभा में चुरू से विजयी रहे। (पृ.53)

1989-91 में राजस्थान के चुरू निर्वाचन क्षेत्र से ही 9वीं लोकसभा के लिए चुने गए। सन् 1989 में राजस्थान जनता दल संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष बने। वह हर बार संसदीय क्षेत्र चुरू से विजयी बने। (पृ.53)

केन्द्र सरकार में मंत्री बने

श्री दौलतराम सारण केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री

केन्द्र सरकार में मंत्री बने (1990-1991): उधर केंद्र में वी पी सिंह के बाद श्री चंद्रशेखर ने कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाई। इस सरकार में दौलतराम सारण को मंत्री बनाया गया और शहरी विकास का विभाग उन्हें सौंपा गया। इस मंत्रालय में सरकार के अल्पकाल में ही उन्होंने जनहित के महत्वपूर्ण कार्य किए जिससे उनकी सर्वत्र सराहना की गई। श्री चंद्रशेखर की सरकार अधिक दिनों तक नहीं चल पाई और गिर गई। श्री चंद्रशेखर 10.11.1990 and 21.6.1991 तक प्रधान मंत्री रहे। इस अवधि में श्री सारण ने दिल्ली की जनता को भूखंडों पर लगने वाली लीज-डीड से मुक्त करवाया। जिसके फलस्वरूप मालिकों को भूखंडों पर मालिकाना हक मिल गया और उनके नाम से रजिस्ट्री होने लगी। इसी अवधि में दिल्ली में यमुना के पानी के प्रबंधन हेतु एक महत्वाकांक्षी योजना बनाई व दिल्ली में गंदे नालों को कवर कर उनके ऊपर मार्केट, पार्किंग और सड़क बनाने की भी योजना थी परंतु अल्प समय के कारण इसे क्रियान्वित नहीं किया जा सका। आपने देश की सीमाओं पर फेंसिंग के लिए भी योजना बनाई थी।...... (पृ.53, 130)


सन् 1991 में लोकसभा के नए चुनाव करवाए गए। चुनाव के दौरान राजीव गांधी की हत्या कर दी गई। कांग्रेस फिर राजगद्दी पर स्थापित हुई। (पृ.53)

सन् 1993 में नेताओं के अनुनय और आश्वासनों के पश्चात श्री सारण पुनः कांग्रेस में सम्मिलित हुए। उनसे चुनाव लड़ने का आग्रह किया गया। इस समय उन्होंने श्रीडूंगरगढ़ विधानसभा से चुनाव लड़ा। अपने साथियों के कुचक्रों, षड्यंत्रों और भीतरघात के कारण उन्हें पराजय का मुंह देखना पड़ा। यह उनका अंतिम चुनाव था। स्वास्थ्य कारणों से अब उन्होने सार्वजनिक जीवन से सन्यास ले लिया यद्यपि सामाजिक कार्यों में वे बराबर मार्गदर्शक के रूप में सक्रीय रहे। (पृ.53)

सामाज सुधार कार्य

श्री दौलत राम सारण एक कुशल संगठक और दृढ़ निश्चयी नेता रहे। किसानों के हित के लिए उन्होंने लंबे समय तक कार्य किया। गांव-गांव जाकर अलख जगाई एवं जन चेतना फैलाई। (पृ.53)

बंधुआ मजदूर और बाल विवाह निरोध के लिए कार्य किया तथा मृत्यु भोज व शराबखोरी के विरुद्ध व्यापक संघर्ष किया। उन्होंने राज्य में प्रौढ़ शिक्षा केंद्रों, ग्रामीण पाठशालाओं, वाचनालयों तथा पुस्तकालयों की स्थापना के लिए विशेष प्रयास किए। प्रौढ़ शिक्षा शिविर चलाए। राजस्थान के रेगिस्तानी क्षेत्र में वृक्षारोपण की दिशा में गांव-गांव में पेड़ लगवा कर महत्वपूर्ण कार्य किया। गांवो में ग्राम सफाई के अभियान चलाए।

श्री सारण ने उस समय वन महोत्सव मनाना शुरू किया जब सरकार का कोई कार्यक्रम नहीं चला करता था। आपने 'पेड़ लगाओ' अभियान शुरू किया। साथ ही आपको गांवों में बढ़ती जा रही गंदगी के ढेरों की भी चिंता थी। आपने गांव-गाँव में संपर्क अभियान शुरू किया जो करीब सवा महीना चला। इसमें रोजाना चार-पांच कोस पैदा चलने और गंदगी के कारण आपको कई सारी बीमारियां भी पड़ गई लेकिन धुन के पक्के श्री सारण ने अपने सर्वांगिण कार्यक्रम को जारी रखा। (पृ.118)

श्री सारण सदा ही शोषण, अन्याय तथा किसानों के दमन के खिलाफ लड़ते रहे हैं। उन्होंने व्यसनमुक्ति, सामाजिक कुरीति निवारण के लिए निरंतर व्यापक स्तर पर काम किया हैं। वे सादा जीवन उच्च विचार वाले सेवाभावी राजनेता रहे हैं। उन्होंने सार्वजनिक और राजनीतिक जीवन में सादगी और प्रामाणिकता की विशेष छाप छोड़ी है।

सामाजिक क्षेत्र में श्री सारण की उपलब्धियां महान रही हैं इनका विवरण निम्नानुसार है:

किसानों में जागृति

किसानों में जागृति : श्री सारण का स्कूल के दिनों से ही गांधीवादी विचारधारा में विश्वास रहा है। स्वतंत्रता से पूर्व उस काल में राजस्थान में राजा-महाराजाओं एवं जागीरदारों का शासन था जो अपने अत्याचार व शोषण के लिए कुख्यात थे। ग्रामीण समाज में किसानों का अपमान आम बात थी। जागीरदारों ने जबरन लाग, बाग, बैठ, बेगार लागू कर रखी थी। श्री सारण द्वारा उन वर्षों में बीकानेर राज्य में जागृति पैदा करने हेतु गांव-गांव घूमकर अलख जगाया। उन दिनों में जागीरदारों एवं उनके छुटभैया सरदारों द्वारा किसानों से मुफ्त में पानी लेने, पशु चराने आदि का रिवाज गांवों में पनपा रखा था। किसानों में जागृति पैदा कर श्री सहारण ने इस प्रकार की शोषण व सामाजिक अपमान की कुप्रथाओं को बंद करवाने में विशेष योगदान दिया। (पृ.54)

छुआछूत विरोधी अभियान: ग्रामीण वर्गों में छुआछूत को मिटाने हेतु श्री सारण द्वारा ग्रामीण वर्गों में जागृति पैदा करने के कार्यक्रम बनाए। इसके लिए महत्वपूर्ण पदों पर दलितों को चुना गया, जैसे 1953 में हरिजन को सरदारशहर तहसील सरपंच बनाया, 1959-60 में हरिजन को राजस्थान में प्रथम जिला प्रमुख जिताया, जिले में एक प्रधान व एक हरिजन सरपंच तथा पिछड़ी जातियों के प्रधान व सरपंच बनाए गए। हरिजनों व पिछड़ों को को समाज में मान-सम्मान उनके द्वारा दिलाया गया। वह हरिजनों को हमेशा अपने साथ लेकर चले।(पृ.54)

सफाई अभियान: गांव में सफाई के प्रति चेतना जागृत करने हेतु श्री सारण द्वारा एक अभिनव कार्यक्रम शुरू किया। गांव में गोबर व कूड़े के ढेरों को सुव्यवस्थित ढंग से लगाने व ग्रामीणों द्वारा खुले में शौच जाने से गंदगी फैलने की समस्या के निदान हेतु लगातार प्रयास किए। शुरू में ग्रामीणों द्वारा उनका मजाक उड़ाया गया लेकिन धीरे-धीरे उनको महत्व समझ में आया तथा सफाई की व्यवस्था सुचारु रुप से रहने लगी । सरदारशहर तहसील के सारे गांवों में डेढ़ माह तक लगातार यह सफाई अभियान चलाया गया। (पृ.55)

वृक्षारोपण करते श्री दौलतराम सारण

पेड़ लगाओ अभियान: रेगिस्तान में वृक्ष का महत्व अधिक है। इसके महत्व को ध्यान में रखकर श्री सारण द्वारा हर वर्ष वर्षा के मौसम में वृक्ष लगाने का कार्यक्रम चलाया गया। वृक्ष लगाने व इन्हें नष्ट नहीं करने के संबंध में अनेकों बार उनके द्वारा जागृति अभियान आयोजित किए गए। वृक्ष लगाने का कार्यक्रम उनके जीवन का अंग बना हुआ था। (पृ.55)

उनकी दूरदर्शिता का परिचय इस बात से लगाया जा सकता है कि उस समय में भी उन्होने वृक्षों के महत्व को समझा और वर्षा के मौसम में हरे पेड़ लगाने का अभियान चलाया। यह ग्लोबल वार्मिंग जैसे भयंकर अभिशाप के खिलाफ समय रहते लड़ाई थी। (पृ.128)

सामाजिक कुरीतियों का विरोध: श्री सारण ग्रामीण समाज में फैली हुई कुरीतियों जैसे नशाखोरी, मोसर, दहेज, बारातियों की खर्चीली मनवार, पर्दा प्रथा, महिलाओं में अशिक्षा आदि के विरुद्ध लगातार कार्य करते रहे हैं। उन दिनों बारातें कई दिनों तक लड़की वालों के यहां रुका करती थी। इस प्रथा को बंद करवा कर एक दिन बारात रुकने की प्रथा शुरू की गई। उनके द्वारा नारी चेतना लाने हेतु अंगूठा मिटाओ घूंघटा हटाओ का नारा दिया। (पृ.55)

प्रौढ़ शिक्षा प्रसार : 50 के दशक में श्री सारण स्वामी केशवानंद के संपर्क में आए। उन्होंने गांवों में अनेक स्कूलेन खुलवाई। उन दिनों में गांवों में राजकीय स्कूल नहीं थे। श्री सारण द्वारा प्रौढ़ शिक्षा के कार्यक्रम गांव में शुरु किए। सन् 1944 में सरदारशहर के तात्कालिक प्रौढ़ शिक्षा समिति के सचिव बने एवं सरदारशहर साहित्य समिति सार्वजनिक पुस्तकालय से वर्षों जुड़े रहे। गांवों में घूम-घूमकर शिक्षा का अलख जगाया एवं स्कूल व पुस्तकालय स्थापित किए। श्री सारण 'मरुभूमि सेवा कार्य शिक्षा योजना' संगरिया, जो स्वामी केशवानंद जी द्वारा संचालित थी, में कार्य किया। (पृ.55)

किसान संगठन: श्री सारण जाति, समुदाय व दलबंदी से ऊपर उठकर किसानों व ग्रामीणों के हित में जीवनभर कार्य किया। किसान वर्ग में चेतना जागृत व संगठित करने हेतु उन्होंने अनेक नारे दिए जैसे चेतो: "चेतो, एको, खडको", "मेहनत हमार, लूट तुम्हारी, नहीं चलेगी, नहीं चलेगी", "शोषण, अन्याय, अत्याचार नहीं सहेंगे, नहीं सहेंगे"। (पृ.55)

राजस्थान नहर का निर्माण: श्री सारण द्वारा राजस्थान नहर के निर्माण की योजना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई तथा इस क्षेत्र को पानी उपलब्ध कराने के लिए निरंतर प्रयत्नशील रहे। (पृ.56)

अणुव्रत आंदोलन: भारतीय जनतंत्र की उदयवेला, साम्प्रदायिक कट्टरता की आग एवं बढ़ते अनैतिक मूल्यों के दौर में अणुव्रत आंदोलन प्रवर्तक आचार्य तुलसी द्वारा उद्बोधित अणुव्रत आंदोलन के कार्य को सुयोजित करने की दिशा में अप्रैल, 1950 में अणुव्रत समिति का गठन हुआ। अणुव्रत समिति के गठन का मुख्य उद्देश्य था-अणुव्रत दर्शन के अनुरूप व्यक्ति-निर्माण एवं समाज-निर्माण करते हुए अहिंसक समाज संरचना का प्रयास एवं तद्नुरूप प्रचार-प्रसार एवं अन्यान्य अपेक्षित साधनों द्वारा अणुव्रत आंदोलन को गतिशील बनाना। अणुव्रत आंदोलन ने जातिवाद, प्रांतवाद, भाषावाद, रंगभेद, लिंगभेद, छुआछूत आदि संकीर्ण दृष्टिकोणों के खिलाफ आवाज उठाकर मानवीय एकता का स्वर बुलंद किया। श्री सारण ने विधानसभा में अणुव्रत प्रस्ताव पारित करवाने में प्रमुख भूमिका का निर्वहन किया।(पृ.56)

आपणी योजना : आपणी योजना के अंतर्गत जर्मनी के सहयोग से राजस्थान के सुदूर खारे पानी वाले रेगिस्तानी गाँवों में पीने का मीठा पानी इन्दिरा गांधी नहर से उपलब्ध कराया जाना था. आपणी योजना के क्रियान्वयन में आपका बराबर सहयोग एवं प्रमुख भाग रहा। (पृ.56)


नारी चेतना: नारी चेतना के लिए भी आपके 'अंगूठा मिटाओ, घूँघट हटाओ' के नारे ने ही नारी समाज के उत्थान में अहम भूमिका निभाई। (पृ.128)

डूंगरगढ़ तहसील के झंझेऊ गांव में गांव के कुएं पर पानी भरने का अधिकार मांगने पर गांव के राजपूतों ने गोली चलाकर हरिजन कार्यकर्ता कालूराम की हत्या कर दी। हरिजनों को गांव से बाहर निकाल दिया। श्री सारण ने हरिजनों की पूरी मदद की। हरिजनों ने झंझेऊ गांव में रहने बसने से इंकार कर दिया। सब प्रकार से संरक्षण देने के लिए भरोसा दिलाने पर भी नहीं माने तब उन उजड़े हुए गरीब हरिजनों को धीरदेसर पुरोहितान गांव में सरकारी भूमि काश्त के लिए और आवास के लिए दिलाई और उन्हें बसाया। (पृ.56)

सरदारशहर के बंधनाऊ गांव में कुए पर ढाणे में पानी भरने की मांग करने पर हरिजनों के विरोध में पूरे गांव के सवर्णों ने ढाणे में पानी भरने का विरोध किया। यह विवाद बहुत बढ़ गया। आसपास के गांवों और कस्बों से काफी लोग हरिजनों के विरोध में इकट्ठा हो गए। औरतें कुएं पर गंडासी, कुल्हाड़ा, फरसी और नंगी तलवार लेकर पहरा देने लगे। विवाह ने उग्र रूप धारण कर लिया। जिले के कलेक्टर एसपी पर उग्र भीड़ ने पत्थरों और धूल की वर्षा कर दी। इस पर गोली चलने की स्थिति बन गई पर अधिकारियों ने संयम बरता। कलेक्टर रामसिंह चौहान से श्री सारण से संपर्क कर स्थिति की गंभीरता बताई और कहा कि आप आकर समझाएं तो गांव के लोग मान सकते हैं। ऐसा विश्वास है कि कलेक्टर और एसपी श्री सारण को जीप से सरदारशहर लाये। बंधनाऊ गांव में तनाव का वातावरण होने के कारण सुरक्षा की दृष्टि से गांव जाना ठीक नहीं बताया। वे राजकीय कोठी में ठहरे और सारण ने 5-7 मुख्य लोगों को बुलाया और उनको समझाया तो वह गांव चलने का आग्रह करने लगे। श्री सारण ने कहा कि आप ढाणे से पानी भरने के काम में मदद करें तो गांव चलें। उन्होंने मदद का वादा कर आपको रात को ही गांव ले गए। SP कलेक्टर ने मना किया लेकिन सारण गांव चले गए। कुए पर लोग पहरा दे रहे थे। श्री सारण ने गांव के लोगों को समझाया तो उन्होंने बात मान ली। (पृ.56)

सुरावाली में नहर में मोधा (आउटलेट) लगवाया: सुखाडिया मंत्रिमंडल में चौधरी साहब उप सिंचाई मंत्री थे। जब एक वे गंगानगर दौरे पर गए तो गांव सुरावाली, तहसील पीलीबंगा, जिला गंगानगर, के लोग मंत्री महोदय से गंगानगर सिंचाई विश्रामगृह पर मिले। गांव के लोगों ने अपनी समस्या चौधरी साहब के समक्ष रखी कि हमारे गांव का जोहड़ सूखा पड़ा है जिससे गांव के लोगों को बहुत बड़ी समस्या है। गांव वालों ने सलाह दी कि इस समस्या के निदान के लिए लीलावती वितरिका नहर में मोधा (आउटलेट) लगने से यह समस्या हल हो सकती है। चौधरी साहब ने अपने विभाग के इंजीनियरों से पूछा तो उन्होंने सीधा कहा कि यह मोधा लगाना असंभव है। गांव वालों के प्रस्ताव के अनुसार यदि मौधा लगाया जाएगा तो नहर को क्षति पहुंचेगी। तब चौधरी साहब ने कहा कि मेरे मंत्री होते हुए किसान मजदूर के समस्या के लिए कोई असंभव नहीं है। आप लोग आज ही सर्वे करवाकर 15 दिन में पानी की समस्या हल कर मुझे रिपोर्ट करो। 15 दिन में सुरावाली के जोहड़ में मंत्री महोदय के आदेश से जहां लोग चाते थे, वहाँ पर मोधा लगा दिया गया और गांव के लोगों की समस्या का हल कर दिया। यह उनके कार्य करने का तरीका था। (पृ.144)

श्री सारण के व्यक्तित्व का लाभ आज बीकानेर संभाग ले रहा है. भाखड़ा व इंदिरा गांधी नहर विशेषकर बीकानेर के लिए आने वाली कंवरसेन लिफ्ट योजना और कृषि विश्वविद्यालय, मेडिकल कॉलेज जैसे सपने जो श्री सारण वह अंबालाल माथुर ने देखे थे, वो आज साकार हो गए हैं. (पृ.166)

श्री दौलतराम सारण, आचार्य विनोबा भावे, गोकुल भाई भट्ट और बाबा बलवंतसिंह, 1962

पंच-सूत्री कार्यक्रम और लोकहितकारी नारे: डॉ ज्ञानप्रकाश पिलानिया (पृ.195-196) ने लिखा है ....श्री दौलतराम सारण ने विनोबा भावे एवं श्री कृष्णदासजी जाजू के साथ काम किया एवं उनका योगदान रहा। नि:संदेह श्री सारण पद लोलुपता से दूर निष्कलंक राजनीतिज्ञ, प्रदेश से लेकर देश की राजनीति में अग्रणी, नैतिक शिक्षा, गांव और गरीब के हितैषी, सामाजिक कुरीतियों के प्रबल विरोधी, ओजस्वी वक्ता, स्पष्टवादी, गांव-गांव, ढाणी-ढाणी में स्कूल खोल कर समाज को समर्पित करने वाले, लगन के पक्के, अलौकिक व्यक्तित्व के धनी रहे हैं।

एक मंत्र दृष्टा के रूप में, श्री सारण ने पंच-सूत्री कार्यक्रम का आगाज किया, जिसके मुख्य बिंदु थे:

1. पेड़ लगाओ

2. घूंघट हटाओ, नारी चेतना लाओ

3. अंगूठा हटाओ, शिक्षा लाओ

4. दहेज प्रथा का विरोध

5. मृत्यु भोज का विरोध

उन्होने जनचेतना के लिए लोकहितकारी-जन उपकारी नारे दिए:

"चेतो, एको, खड़को"

"मेहनत हमारी लूट तुम्हारी नहीं चलेगी, नहीं चलेगी"

"अंगूठा मिटाओ, घुंघट हटाओ, सामाजिक चेतना जगाओ"

"वृक्ष लगाओ, हरियाली बढ़ाओ, पर्यावरण सुधारो"

"जागो और जगाओ, बेईमानी भ्रष्टाचार मिटाओ"

सामाजिक समरसता का उद्घोष करते हुए, श्री सारण ने कहा:

'एक सब के लिए और सब एक के लिए"


लेखन कार्य: श्री दौलतराम सारण की लेखन कार्य में भी रुचि रही है। सामाजिक राजनीतिक विषयों पर आपके अनेक लेख प्रकाशित हुये हैं। (पृ.182) श्री सारण 27 जून 1975 से आपातकाल में 19 माह मीसा के अंतर्गत जेल में रहे। इस अवधि में उन्होने अनेक विषयों पर गहराई से अध्ययन-मनन किया। जेल में वे डायरी भी लिखते थे।


विस्ताराधीन

संस्थाओं-संगठनों से संबंध

श्री सारण अनेक संस्थानों और संगठनों से जुड़े हुए थे जिनमें मुख्य हैं:

श्री दौलतराम सारण, श्री कुंभाराम आर्य, राजनारायन और महारावल लक्ष्मणसिंह डूंगरपुर, किसान यूनियन अधिवेशन 1980 में

1. राजस्थान किसान यूनियन (अध्यक्ष) - श्री दौलतराम सारण ने राजस्थान में 1974 में शासन द्वारा किसानों पर थोपी गई लेवी के विरोध में किसान आंदोलन चलाया। इस आंदोलन के दौरान किसानों से चर्चा में एक सशक्त किसान संगठन का अभाव खाला। तदनुसार हनुमानगढ़ में किसान सम्मेलन में "राजस्थान किसान यूनियन" नाम से एक यूनियन की स्थापना की गई। श्री दौलतराम सारण इसके संस्थापक अध्यक्ष बने। राजस्थान की राजधानी जयपुर में किसानों की समस्याओं को लेकर उन्होंने कई बार लाख-लाख किसानों की प्रभावी रैली निकाली। प्रदेश में किसानों को किसानपन की भावना के आधार पर संगठित किया। राजस्थान के जिला और तहसील केन्द्रों पर किसान यूनियन के उनके द्वारा आयोजित अनेक प्रदर्शन बहुत प्रभावी रहे। इससे किसानों में बड़ी चेतना जागी।(पृ.53)

दौलतराम सारण के साथ मिलापचन्द डुगड़, गांधी विद्या मंदिर, 2003

2. गांधी विद्या मंदिर, सरदारशहर - गांधी विद्या मंदिर, सरदारशहर राजस्थान की एक गणमान्य संस्था है जो शिक्षा एवं समाज सुधार के कार्य में संलग्न है। मिलाप दुग्गड़ - कुलपति आईएएसई विश्व विद्यालय गांधी विद्यामन्दिर, सरदार शहर...आप लिखते हैं कि हमारा मरुस्थलीय क्षेत्र शिक्षा में आगे बढ़े, यह श्री सारण की सदा से भावना रही है. इसलिए वे गांधी विद्या मंदिर के साथ स्थापनाकाल से ही सक्रिय रूप से जुड़े रहे और कार्यकारिणी के सदस्य भी आरंभ से रहे हैं. उन्होंने संस्था के विकास में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रुप से जो सहयोग किया है, वह अभिनंदनीय है. (पृ.98)

श्री सारण संस्थापन काल से ही इस महान संस्था से जुड़े हुए थे। इसकी कार्यकारिणी के स्थापना से ही सदस्य रहे हैं और इसकी गतिविधियों में भाग लेते रहे हैं। श्री सारण ने पैदल घूम-घूम कर ग्राम्य क्षेत्र में पाठशालाओं को व्यवस्थित किया। इस प्रकार वे शिक्षा के पुनीत कार्य से भी सघनता से जुड़े रहे।(पृ.56) अत्यंत व्यस्तता के बावजूद भी श्री सारण गांधी विद्या मंदिर के कार्यों में सदा रुचि लेते रहे। गांधी विद्या मंदिर में जब-जब विशेष प्रसंग बने, कठिनाइयां भी आई, उन सब में ये सदा साथ रहे। गांधी विद्या मंदिर के अंतर्गत कृषि विज्ञान केंद्र की स्थापना में श्री सारण का बड़ा योगदान रहा है। यह कार्य उन्होंने चौधरी देवीलाल के केंद्रीय मंत्रिमंडल में कृषि मंत्री के पद पर रहते करवाया था। (पृ.99)

3. ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया - राजस्थान प्रदेश की सुप्रसिद्ध शिक्षा संस्थान ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया (जिला हनुमानगढ़) के उन्नायक-संचालक, शिक्षा संत स्वामी केशवानंद ने जब 1947 में अपनी मरुभूमि सेवा कार्य योजना द्वारा बीकानेर राज्य के मरूक्षेत्रीय गांवों में शिक्षा प्रचार का कार्य आरंभ किया तब चौधरी दौलतराम सारण उनके प्रथम सहयोगियों में से एक थे। 20-21 वर्षीय श्री सारण स्वामी जी के साथ पैदल यात्रा करते हुए उन दुर्गम गांवों में जाते, वहां लोगों को शिक्षा प्राप्ति के लिए लाभ बताते, उन्हें स्वयं शिक्षित होने और बालक-बालिकाओं के लिए गाँव में स्कूल खुलवाकर उन्हें शिक्षा दिलाने के लिए प्रेरित करते थे। (पृ.127)

महिला विद्यापीठ महाजन के प्रबन्धक हंसराज आर्य 2000 बीघा भूमि दान करने वाले ठाकुर रघुवीर सिंह के साथ -1955

4. कस्तूरबा कन्या विद्यालय महाजन - कस्तूरबा कन्या विद्यालय की गतिविधियों को आगे बढ़ाने में आपका अनन्य योगदान रहा।(पृ.56) बीकानेर स्टेट में पुरुष और नारी शिक्षा का अभाव मानते हुए नारी शिक्षा को बढ़ाने के लिए स्वामी केशवानंद जी महाराज का सहयोग लेकर ग्राम: महाजन, तहसील लूणकरणसर, जिला बीकानेर में "कस्तूरबा गांधी महिला विद्यापीठ" की स्थापना सन् 1953 में की। महिला विद्यापीठ का भवन निर्माण व उसके संचालन में होने वाले व्यय की पूर्ति के लिए राजा रघुवीरसिंह जी को इस पावन कार्य में सहयोग के लिए भूमि देने के लिए प्रेरित किया। राजा साहब ने उनकी बात मानते हुए कन्या महाविद्यालय के नाम से करीब 2000 बीघा भूमि दान दी थी। राजा साहब द्वारा दान की गई भूमि पर कन्या विद्यालय का निर्माण किया गया। इस विद्यालय के संचालन हेतु श्री चंद्रनाथ जी योगी को नियुक्त किया गया। इसमें बीकानेर संभाग की विशेष लूणकरणसर तहसील की लड़कियों ने शिक्षा ग्रहण की। परिणाम स्वरुप उन पढ़ी-लिखी लड़कियों की संताने आगे चलकर आज उच्च शिक्षा प्राप्त कर डॉक्टर, इंजीनियर, प्रशासनिक अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं। (पृ.106)

5. प्राकृतिक चिकित्सालय, बापू नगर, जयपुर - श्री सारण प्राकृतिक चिकित्सालय बापू नगर के सहयोगी रहे। अप्रैल 1997 से 10 मई 2003 तक इसके अध्यक्ष रहे। (पृ.56)

6. राजस्थान अकाल राहत समिति (अध्यक्ष)

श्री दौलतराम सारण चौधरी चरणसिंह जन्म शताब्दी वर्ष मनाते हुये 1-3 जनवरी 2002

7. चौधरी चरणसिंह जन्म शताब्दी समारोह समिति (अध्यक्ष) - चौधरी चरण सिंह जन्म शताब्दी: राजस्थान प्रदेश में चौधरी चरणसिंह जन्म शताब्दी समारोह 23 दिसंबर 2001 से 23 दिसंबर 2002 तक मनाया, जिसके तहत श्री सारण जन चेतना जागृत करने का लक्ष्य देकर प्रदेश भर में जन चेतना यात्रायेँ एवं सभाएन व सेमीनार विभिन्न स्थानों पर आयोजित किए। जन चेतना कार्यक्रमों से वे किसान, मजदूर, पीड़ित एवं शोषित लोगों में जन चेतना जागृत करके उनको अपने अधिकारों के प्रति सचेत करने तथा सभी जाति, धर्म एवं विभिन्न संप्रदाय के लोगों को साथ लेकर उन्हें संगठित करने का प्रशंसनीय कार्य किया। (पृ.56)

8. आदर्श किसान छात्रावास एवं ग्रामीण बालिका छात्रावास सरदारशहर - सरदार शहर में बालिकाओं के लिए कोई छात्रावास नहीं था। सरकार ने छात्रावास के लिए जो जमीन दी थी उसमें झगड़े होने लगे। आपने प्रयत्न कर एक स्थान में ग्रामीण बालिका छात्रावास की व्यवस्था की। (पृ.56)


9. ग्रामसेवक प्रन्यास, सरदारशहर:

ग्राम सेवा प्रन्यास सरदारशहर, राजभाषा स्वर्ण जयंती सामरीह 14.9.2000

ग्रामसेवा प्रन्यास की स्थापना चौधरी दौलतराम सारण के सानिध्य एवं संरक्षण में डॉ कन्हैयालाल सींवर की सक्रियता से हुई। प्रन्यास का प्रमुख उधेश्य सरदारशहर के आसपास के ग्रामीण इलाके के लड़कों व लड़कियों की शिक्षा का मार्ग प्रशस्त करना एवं सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ जनजागृति पैदा करना था। सरदारशहर में किसान वर्ग की लड़कियों के लिए डॉ कन्हैयालाल सींवर ने अपने घर में उनके आवास हेतु निःशुल्क होस्टल की व्यवस्था शुरू की। प्रन्यास द्वारा लड़कियों के लिए होस्टल का निर्माण कार्य कुशलतापूर्वक सम्पन्न किया गया। किसान वर्ग के लड़कों के लिए सफलतापूर्वक होस्टल का संचालन भी वर्षों से किया जा रहा है। प्रन्यास के तहत संचालित हर गतिविधि में चौधरी दौलतराम सारण का मार्गदर्शन एवं सानिध्य मिलता रहा।

10. हनुमान नगर विकास समिति - दौलतराम सारण जयपुर में हनुमान नगर में निवास करते थे। उनके रहनुमाई में वरिष्ठ नागरिकों का एक संगठन बनाया गया। श्री केएस कंग ने हनुमान नगर व हनुमान वाटिका की समितियों के अध्यक्ष के रूप में अपने उत्साहपूर्वक प्रबंधन से सक्रिय योगदान दिया। लोगों ने अनुदान दिए। धीरे-धीरे सदस्यों की संख्या बढ़ी। सभी लोग अपने-अपने अनुभव, लेखन, कविताएं, चुटकुले, समाज और राजनीति पर चर्चा आदि शेयर करते। अंतिम समापन श्री दौलतराम सारण करते थे। आपने अपने एक पुत्र की स्मृति में, जिसका एक दुर्घटना में निधन हो गया था, पुस्तकालय की स्थापना हेतु ₹2 लाख दिए। इसमें मुंबई के एक सेठ केजरीवाल जी ने भी, जो अपने पुत्र के पास जयपुर आते रहते थे, धन इत्यादि से बहुत योगदान दिया। इमारत बनी, पुस्तकें दान में आने लगी और नई पुस्तकें खरीदी जाने लगी। श्री सारण जी ने मुख्य रूप से विनोबा भावे का पूरा सहित, गांधीजी विषयक पूरा साहित्य, व एक मासिक पत्रिका 'सत्याग्रह' का दान किया। आज भारत पुस्तकालय के नाम से चल रहा है। (पृ.133)


श्री सारण राजस्थान विधानसभा एवं लोकसभा की अनेक समितियों के सदस्य रहे विधानसभा की लोक लेखा समिति के सदस्य का कार्य करते हुए दो अन्य साथी विधायकों के साथ मिलकर संबंधित विभागों में हुए भ्रष्टाचार में कई जिलाधीशों को नोटिस दिला कर प्रशासन को पारदर्शी बनाया। आप लोकसभा की निम्नलिखित समितियों के भी सदस्य रहे (पृ.53)-

1. प्राक्कलन समिति

2. हाउसिंग समिति

3. लोक लेखा समिति

4. कार्य सलाहकार समिति

5. नियम समिति

स्वर्गवास

स्वर्गवास: पूर्व केंद्रीय शहरी विकास मंत्री और राजस्थान के किसान नेता दौलत राम सारण का 2 जुलाई 2011 को जयपुर में निधन हो गया। वह 87 वर्ष के थे। उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ चूरू जिले के सरदारशहर में किया गया। उनका शव तिरंगे लिपटी उनकी बैकुंठी की यात्रा पूरे कस्बे में निकाली गई और गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। [5]

दौलतराम सारण का मूल्यांकन

दौलतराम सारण अपनी धुन के पक्के थे। वह प्रारंभ से ही शिक्षा अनुरागी, लोकतंत्र के पक्षधर और जातीय कट्टरताओं से मुक्त रहे हैं। आपने जातीय राजनीति और संकीर्णताओं से अपने को बचाया है। वे एक आदर्शवादी और गांधीवादी छवि के कद्दावर नेता थे। समाज के सभी वर्गों और जातियों का आदर और विश्वास उनको प्राप्त रहा है। राजस्थान की राजनीति में उन्होंने वंशवाद को कभी स्वीकार नहीं किया। धोती, कुर्त्ता, गांधी टोपी और जूतियां पहने रहना उनकी पहचान सदैव रही है। यहां तक कि गांधी विचार और दर्शन के, खादी ग्रामोद्योग के और धर्मनिरपेक्षता के कार्यक्रमों में उनकी अलमबरदारी सराहनीय थी। दौलतराम सारण चौधरी चरण सिंह की तरह ही मानते हैं कि ग्रामीण भारत ही असली भारत है। जब राष्ट्रीय एकता का सूरज उगेगा तो जातिवाद का अंधकार मिट जाएगा। भारत का समृद्धि का रास्ता गांवों और खेतों से होकर गुजरता है। राजनीति रूपी काजल की कोठरी में जीवनभर रहकर भी कभी उन पर भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद का कोई आरोप नहीं लगा तथा उनके यह नारे ‘चेतो, एको, खुडको तथा मेहनत हमारी लूट तुम्हारी नहीं चलेगी, नहीं चलेगी अथवा शोषण, अन्याय, अत्याचार नहीं सहेंगे, नहीं सहेंगे’, राजस्थान के किसान भाइयों को आज भी याद है। दौलतराम सारण जहां एक अध्ययनशील सामाजिक नेता रहे हैं, वहां जात-पांत और साम्प्रदायिकता की राजनीति से उनकी नफरत भी जग जाहिर थी। उनके व्यक्तित्व और कृतित्व में एक ईमानदार और मेहनतकश किसान का चरित्र झलकता है। वह एक स्व-स्फूर्त और स्व-प्रेरित व्यक्ति थे तथा गांधी जी के ग्राम स्वराज्य में आस्था रखते थे। शायद इन जैसे किसान सेनानी के लिए ही महात्मा गांधी ने कभी कहा था कि अन्याय, असमानता, हिंसा के विरुद्ध खड़े रहने के लिए घमंडी या तुच्छ बनने की आवश्यकता नहीं होती। अत: सभी जाति के नाम पर किसानों की राजनीति कर रहे लोगोंं को उनसे कुछ सार्वजनिक सदाचार सीखना चाहिए। (पृ.92-93)

दौलतराम सारण का परिवार

दौलतराम सारण के पूर्वजों का इतिहास

सहारनपुर : राजा सारण वरबुड़ियावास नामक स्थान पर सहारनपुर के नामसे अपने राज्य की स्थापना वर्ष संवत 1122 (1065 ई.) में की थी।

भाड़ंग - राजस्थान में चुरू जिले की तारानगर तहसील में चुरू में बसा ऐतिहासिक एक गाँव है. संवत 1320 (1263 ई.) में सारण राजा के वंशजों द्वारा भाड़ंग को राजधानी बनाया गया था। खेजड़ा, फोगा , बुचावास , सूई , बदनु , सिरसला आदि इस राज्य में जिलों के नाम थे।

पूलासर: सारण वंश के राजा पूला ने तुगलक वंश (1320-1414) के काल में लगभग संवत 1421 (1364 ई.) के आसपास अपने मंत्री श्री गंगरेड पांडियों को दान में दिया व अपने भाई-बंधुओं व कुटुम्बियों को इस गाँव को खाली करके अन्य स्थानों पर बसने की सलाह दी और इस प्रकार सारण परिवार सरदारशहर तहसील व चुरू और अन्य जिलों में फ़ैल गए।

किसी समय (?) में फोगां गांव से आकर चौधरी पांचूराम जी सारण ने ढाणी पाँचेरा गांव को बसाया था।

श्री दौलतराम सारण का जन्म 13 जनवरी 1924 को गाँव ढाणी पाँचेरा में हुआ जो तत्कालीन बीकानेर राज्य की सरदार शहर तहसील में स्थित है। जिसमें अधिकांश घर सारण गोत्र के जाटों के हैं।

श्री दौलतराम सारण के 3 पुत्र और 4 पुत्रियां हैं। ......

दादा:

पिता: श्री दुलाराम सारण, जिनके पुत्र थे: 1. दौलत राम, 1. सहीराम, 3. लक्ष्मीनारायण,

माता: भूरी देवी (कसवा, रामपुरा, तारनगर, चुरू)

दौलतराम सारण: (13.1.1924-2.7.2011) - पत्नी: श्रीमति जड़ावदेवी (भामू), भामासी, चुरू

दौलत राम के 3 पुत्र हैं:

1. अशोक कुमार सारण पत्नी सुशीला (पुत्री:हरफूल बुड़ानिया, दूधवाखारा, चुरू) , पुत्री: 1 मोनालिसा 2 मनीषा

2. भारत सारण पत्नी उमा (पुत्री: सुरेन्द्र दुल्लड़, श्रीमाधोपुर, सीकर)→ पुत्री: स्वाति, पुत्र: चित्रांशु

3. कृष्ण कुमार सारण पत्नी मंजू (पुत्री: रामनारायन बुड़ानिया, हेतमसर) → पुत्र: रुद्र कुमार, पुत्री: भानुजा

दौलत राम के 4 पुत्रियां:

1.चंद्रकला पति चुन्नी लाल ढाका, हरदेसर, रतनगढ़

2.कमला पति विजय प्रकाश बलवदा, झरोड़ा, झुञ्झुणु

3.विमला पति सुरेश चौधरी श्योरान, छानी भादरा, हनुमानगढ़

4.भारती पति कर्नल सुरेन्द्रसिंह देशवाल, भदानी, झज्जर, हरयाणा

दौलतराम सारण के सहयोगी और मार्गदर्शक

पंडित गौरीशंकर आचार्य  : आप सरदारशहर हाई स्कूल में एक संस्कृत अध्यापक थे। श्री आचार्य बड़े कर्मठ और लगनशील व्यक्ति थे। श्री सारण श्री गौरी शंकराचार्य की प्रेरणा से राष्ट्रीय भावना से प्रेरित हुए। श्री आचार्य ने विद्यार्थियों को सांस्कृतिक चेतना के साथ-साथ राजनीतिक चेतना का पाठ भी पढ़ाया।

कन्हैयालाल सेठिया - आप श्री सारण के प्रमुख मित्रों में से हैं। इनके कारण आपका गांधीवादी दर्शन की ओर झुकाव हुआ। (पृ.71) महाकवि श्री कन्हैयालाल सेठिया (11 सितम्बर 1919-11 नवंबर 2008) राजस्थानी भाषा के प्रसिद्ध कवि थे। उनका जन्म राजस्थान के चूरु जिले के सुजानगढ़ शहर में हुआ। उनकी कुछ कृतियाँ है:- रमणियां रा सोरठा , गळगचिया , मींझर , कूंकंऊ , लीलटांस , धर कूंचा धर मंजळां , मायड़ रो हेलो , सबद , सतवाणी , अघरीकाळ , दीठ , क क्को कोड रो , लीकलकोळिया एवं हेमाणी। 13 जनवरी 2008 को सरदारशहर स्थित गांधी चौक में श्री सारण का विराट नागरिक अभिनंदन समारोह आयोजित हुआ। इस अवसर पर कन्हैयालाल सेठिया ने श्री दौलतराम सारण पर 'राजनीति रै बीच में थे हा कमल समान' शीर्षक से एक बड़ी सटीक और मार्मिक कविता की है जो उनके गुणों का बखान करती है।

भंवरलाल सहपाठी: कन्हैयालाल शर्मा ने लिखा है कि मैं आयु में तो श्री सारण से लगभग 7 साल छोटा हूं लेकिन उनको अपने विद्यार्थी जीवन से ही कुछ दूरी से जानता रहा हूं। क्योंकि श्री नेमजी नाई और उन की बगीची हमारे मोहल्ले के अत्यधिक नजदीकी है। यहां एक छरहरे बदन के पतले से गोरे युवक का बराबर आना-जाना रहता था। लोग कहा करते थे कि यह गोरा सा खातिरदारी, खादी की गांधी टोपी पहनने वाला युवक ढाणी पांचेरा का श्री दुलाराम जी सारण का बेटा है, जो नेम जी के बेटे श्री भंवरलाल का सहपाठी है। कई वर्षों बाद हमने यह भी देखा कि श्री दौलतराम सारण राजस्थान सरकार में उपमंत्री थे, तब श्री भंवरलाल नाई सुजानगढ़ में पोस्टमास्टर थे। उनकी अकाल मृत्यु हो गई थी। आज हम देख रहे हैं श्री दौलतराम जी सारण द्वारा संचालित संस्थान तथा किसान छात्रावास श्री नेमजी नाई की उसी पुरानी बगीची का परिष्कृत और विकसित रूप है। जिसे श्री सारण ने इतना विशाल रूप प्रदान किया है और ग्रामीण क्षेत्र के छात्र समुदाय की विकास सुरसुरी बन गई है। इस छात्रावास के विकास और संचालन का श्रेय श्री दौलतराम जी के साथ साथ डॉक्टर कन्हैयालाल जी सिंवर, सेवानिवृत्त प्राचार्य को भी समान रूप से जाता है। (पृ.204)

श्री बैजनाथ पंवार - बैजनाथ पंवार ने लिखा है कि जब मैं 1942 में पब्लिक लाईब्रेरी सरदारशहर में पुस्तकालयाध्यक्ष था, तब श्री सारण तत्कालीन हाई स्कूल के छात्र थे। लगभग 7 दशकों के हमारे परिचय में अनेक ऐसे प्रसंग उपस्थित हुये जहां आपसी सहयोग लिया गया, यथा - 1943 में तत्कालीन बीकानेर स्टेट की राजकीय स्कूल पूलासर में अध्यापक था तो बीकानेर राज्य प्रजा परिषद की गतिविधियों के क्रम में श्री सारण का इधर आना आरंभ हुआ था। (पृ.211) कन्हैयालाल शर्मा ने लिखा है कि श्री बैजनाथ पंवार उन दिनों ग्राम शिक्षा और ग्राम विकास संबंधी सेवा कार्यों में श्री सारण के प्रभावशाली साथी थे। (पृ.204)

रावतराम आर्य (मेघवाल): सन् 1953 में रावतराम आर्य (मेघवाल) को सामान्य सीट पर तहसील सरपंच बनवाया। सन् 1959-60 में रावतराम आर्य (मेघवाल) को सामान्य सीट पर राजस्थान में प्रथम जिला प्रमुख बनवाकर पूरे देश में एक मिसाल कायम की। रावतराम आर्य, पूर्व विधायक, ने लिखा है कि [पृ.209]: श्री दौलतराम सारण के पिताजी श्री दुलाराम बड़े सज्जन वृति एवं ईमानदार तथा चरित्रवान पुरुष थे, ऐसे बिरले लोग होते हैं। इन कठोर परिस्थितियों में भी श्री सारण के पिताजी ने इन्हें पढ़ने का निश्चय किया। उस समय गांवों में शिक्षा की कोई व्यवस्था नहीं थी अतः इन्हें सरदारशहर स्थित नेमचंद नाई के घर स्कूल में भर्ती करवाया। जहां इन्होने बड़ी मेहनत से विद्याध्ययन किया। श्री सारण बहुत कुशाग्र बुद्धि थे। यहीं पर मेरा संयोगवास श्री सारण से परिचय हुआ।

मेरे परिवार के लोग उन दिनों सरदारशहर में रहकर कपड़ा बुनाई का कार्य करते थे। मेरे पिताजी ने मुझे हरिजन पाठशाला में भर्ती करवाया। वहाँ प्रायमरी शिक्षा के बाद सरकारी स्कूल में मुझे इसलिए भर्ती नहीं किया कि मैं मेघवाल जाति से था। उस समय श्री गौरी शंकर आचार्य, श्री सारण, बुद्धमल, हीरा लाल बरडिया, पूर्णचन्द्र आदि एक संस्था चलाते थे। उस संस्था में हमें परीक्षाओं की तैयारी कराया करते थे।


[पृ.210]: एक बार सरदारशहर तहसील के बंधनाऊ गांव में जाटों और मेघवालों को आपस में लड़ा दिया- गांव में एक कुआं था, मेघवालों ने कहा कि कुंवों पर बराबर पानी भरेंगे। फिर क्या था, धर्म की रक्षा के लिए गांव के लोग हजारों की तादाद में इकट्ठा हो गए और कुवों को घेर लिया। बड़ी समस्या पैदा होगी। हम तो घबरा गए। यदि झगड़ा हो गया तो बड़ा खून खराबा हो जाएगा। पर श्री सारण अपने निश्चय पर दृढ़ रहे। उन्होंने साफ कह दिया कि मेघवाल कुवों पर पानी भरेंगे और अंत में ऐसा ही हुआ। मेघवालों को कुवों पर चढ़ाया। गांव में सभी सारण जाट थे परंतु सारण अपनी नीति से दूर नहीं हटे।

लोगों में चर्चा होती थी कि श्री सारण के गांव में छुआछूत बहुत मानते हैं। एक बार श्री सारण जब डिप्टी मिनिस्टर थे और मैं चूरु से MLA था तब इनके साथ गांव जाने का अवसर मिला। सुबह खाने के लिए मुझे घर में बुलाया। जहां एक चारपाई पर बैठकर एक साथ खाना खाने लगे। उस समय सारण की माता जी व अन्य महिलाएं भी आंगन में बैठी थी। एक साथ खाना खाते देखकर आश्चर्यचकित हो गई। हमने सोचा मामला आप बिगड़ेगा पर सारण की माताजी ने कहा कि कुछ भी कहो फुट रातो मोल लागै है, राम मिलाई है जोड़ी।

छुआछूत को मिटाने के लिए गांव के किसानों मजदूरों एवं गरीबों को सारण ने एक नारा दिया जो काफी प्रचलित है। "एक, चेतो, खुड़को"। यही नारा गरीबों को डॉक्टर साहब अंबेडकर ने दिया। इसका 'किसान संगठित रहो, शिक्षित बनो, संघर्ष करो' कोई फर्क नजर नहीं आता।


दौलतराम सारण के साथ मिलापचन्द डुगड़, गांधी विद्या मंदिर 2003

मिलाप दुग्गड़ - कुलपति आईएएसई विश्व विद्यालय गांधी विद्यामन्दिर, सरदार शहर...आप लिखते हैं कि श्रीयुत दौलत राम सारण हमारे क्षेत्र के एक ऐसे पुरुष हैं, जो सामान्य कृषिजीवी परिवार में उत्पन्न होकर अपनी बुद्धि, लगन, श्रम, कार्यक्षमता एवं सेवा भावना के बल पर जीवन में उत्तरोत्तर आगे बढ़ते गए. उनके पिता चौधरी श्री दुलाराम जी गांव के प्रमुख लोगों में थे, बड़े सेवा भावी थे. हमारे यहाँ समय-समय पर पिता-पुत्र दोनों का ही आना-जाना रहता था. दोनों परिवारों में परस्पर अच्छा स्नेह संबंध था. इन्हें अध्यात्म और योग में बचपन से ही रुचि रही है. वे मेरे पिताश्री कन्हैयालाल दुगड़ के लगभग समवयस्क हैं. पिताश्री से विधिवत अभ्यास द्वारा योग में उच्चता प्राप्त की थी. अतः श्री सारण समय-समय पर उनके पास योग आदि के संबंध में चर्चा हेतु आते रहते थे. वे बड़े ही गुणग्राही व्यक्ति थे. समाजसेवियों एवं विचारकों के सानिध्य में बैठने, उन्हें सुनने और उनसे सीखने की इन्हें सदा से अभिरुचि रही है. (पृ.98)


श्री दीपेंद्रसिंह शेखावत - भूतपूर्व मंत्री: आप लिखते हैं कि छात्र जीवन में ही श्री दौलतराम जी सारण का नाम सुनते आया हूं किंतु जब तक में उनके संपर्क में नहीं आया मेरे मन में उनकी छवि एक घोर जातिवादी जाट नेता के रूप में थी. निकट जाने के पश्चात भ्रांति दूर हुई कि वह जाट नेता नहीं बल्कि किसान और गरीब के दर्द से व्यथित होकर, देहात के पिछड़ेपन से रूबरू होकर, महात्मा गांधी और ज्योतिबा फुले से प्रभावित होकर उन्हें कुछ मूल्यों के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. श्री दौलतराम जी को महिला शिक्षा, घूंघट उठाने और शराबबंदी के लिए संघर्ष करते हुए अलख जगानी पड़ी. यदि उनकी समीक्षा की गई होती तथा आज की मीडिया-जगत ने उसे पकड़ा होता तो शायद उन्हें राजस्थान के ज्योतिबा फुले के समान सम्मान मिला होता. (पृ.121)


स्वतंत्रता सेनानी अंबालाल माथुर: अशोक माथुर, संपादक दैनिक लोकमत बीकानेर, ने लिखा है कि मेरे पिता स्वतंत्रता सेनानी अंबालाल माथुर तथा मेरे ताऊजी स्वतंत्रता सेनानी जगदीश प्रसाद माथुर 'दीपक' को राष्ट्रीय आजादी के आंदोलन के दौरान बीकानेर संभाग में किसानों को संगठित करने तथा आम आवाम को व्यवस्था परिवर्तन करने के लिए लामबंद करने का जिम्मा दिया गया था. उसी वक्त चौधरी हरदत्त सिंह, चौधरी कुंभाराम आर्य, प्रोफ़ेसर केदार, चौधरी मोतीराम, चौधरी रामचंद्र आर्य, चौधरी हंसराज तथा चूरू के हनुमानसिंह बुडानिया, राजगढ़ के कामरेड मोहर सिंह, चौटाला के चौधरी देवीलाल, वैद्य माधाराम, बाबू रघुवर दयाल गोयल, गंगादास जी कौशिक, हीरालाल जी शर्मा, सुरेंद्र शर्मा इत्यादि अनेक अनेक जुझारू लोगों का जो जत्था बीकानेर की रियासत में बना, उसमें श्री दौलतराम सारण बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे. (पृ.165)


बीकानेर में रानी बाजार स्थित किसान छात्रावास के स्वर्ण जयंती समारोह के अवसर पर जब बीकानेर आए तब उनसे निकटता से चर्चा करने का अवसर मिला. वे हमारे निवास स्थान पर आए और उन्होंने शिक्षा व सामाजिक स्थितियों पर अपने अनुभवपूर्ण विचार प्रकट किए. (पृ.166)

उनके विचार सुनकर मुझे लगा कि केंद्र और राज्य में मंत्री रहे जाट नेता मेरे सम्मुख नहीं है, अपितु एक समाज का अग्रदूत मेरे सामने है. उसी वक्त मुझे लगा की शिक्षा के क्षेत्र में गांव-गांव पैदल घूम कर आटा और अनाज मांग-मांग कर कैसे बिना किसी सहायता के किसानों के बच्चों को पढ़ने के लिए आकर्षित किया. दौलतराम सारण ने उसी वक्त औरतों के लिए कहा था- घुंघट वी अंगूठा छोड़ दो. उनका यह प्रेरक आज जब ग्रामीण नेतृत्व हिलोरे खा रहा है तो बहुत याद आता है. विशेषकर जाट समुदाय ने बालिका व बालकों की शिक्षा व स्वास्थ्य पर जो वाक्य ध्यान दिया उसी का कारण है कि वह अन्य समुदायों के मुकाबले में आज शीर्ष पर हैं.(पृ.166)

श्री दौलतराम सारण मेरे पिता के ऐसे भ्राता थे जो लाभ हानि के संबंधों से अलग हमेशा राजस्थान और वहाँ के किसानों की विभूति का ताना-बाना बुनते रहते. हमारे घर में दौलतराम सारण वी तत्कालीन किसान नेताओं के प्रति बड़ा आदरणीय पारिवारिक स्थान रहा है. श्री सारण के व्यक्तित्व का लाभ आज बीकानेर संभाग ले रहा है. भाखड़ा वी इंदिरा गांधी नहर विशेषकर बीकानेर के लिए आने वाली कंवरसेन लिफ्ट योजना और कृषि विश्वविद्यालय, मेडिकल कॉलेज जैसे सपने जो श्री सारण वह अंबालाल माथुर ने देखे थे,वो आज साकार हो गए हैं. (पृ.166)


Ram Narayan Jyani 001.jpg

रामनारायण ज्याणी - चौ. रामनरायण ज्याणी ने “स्वामी केशवानन्द स्मारक ट्रस्ट” की स्थापना का सर्व-सम्मत प्रस्ताव पारित किया गया। चौ. रामनरायण ज्याणी ने प्रस्तावनुसार कार्य को आगे बड़ाने की ज़िम्मेदारी संभाली..... रामनरायण ज्याणी लिखते हैं कि सन् 1949 में ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया में स्वामी केशवानंद जी ने गर्मी की छुट्टियों में प्रौढ़ पुरुषों और महिलाओं को शिक्षित करने के लिए लगभग एक महीने के लिए दो अलग-अलग शिविर लगाए थे. ये शिविर स्वामी जी महाराज की आशाओं से अधिक सफल रहे थे. पुरुषों के शिविर के लिए स्वामी जी अध्यापक के रूप में एक लंबे और पतले व्यक्ति को लाए थे. वह व्यक्ति बातें करने और समझाने में बड़े चुस्त और होशियार तथा शिविरार्थियों से खूब घुले-मिले रहते थे तथा प्राय: शिविरार्थियों से घिरे रहते थे. पता चला कि वह दौलतराम जी हैं जिन्हें स्वामीजी सरदारशहर से लाए थे. इनकी सादगी और सरलता की एक अलग पहचान थी. प्राय सभी उनसे बहुत प्रभावित थे, मैं भी इनकी सरलता, सादगी और किसी भी बात या कार्य में दिखावा नहीं करने के स्वभाव से प्रभावित हुआ था. (पृ.178)

चौधरी बहादुर सिंह समाज जागृति परमार्थ ट्रस्ट में आप संस्थापक ट्रस्टी रहे हैं तथा ट्रस्ट के प्राय: सभी उत्सवों में सहजभाव से पधारते रहे हैं. आयु की दृष्टि से गतिविधियां कम होने पर स्वतः ही ट्रस्ट मंडल से इस्तीफा दे दिया. चौधरी दौलतराम जी ने अपना समस्त राजनीतिक जीवन किसानों को अपनी विशिष्ट वाक शैली में संगठित करने में लगा दिया. सही अर्थों में चौधरी दौलत राम जी राजस्थान के किसानों के विनोबा और गांधी थे. (पृ.179)


दौलतराम सारण और देवीलाल किसान छात्रावास सरदारशहर के उद्घाटन अवसर पर28.10.1988

चौधरी देवीलाल: चौधरी देवीलाल उस समय केंद्रीय मंत्रिमंडल में कृषि मंत्री थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री दौलतराम सारण पर उनका अगाध स्नेह और विश्वास था। एक बार वे सरदार शहर स्थित गांधी विद्या मंदिर के तहत बनने वाले कृषि विज्ञान केंद्र का अटका मामला स्वीकृत कराने चौधरी देवीलाल के पास दिल्ली गए। उनके साथ इलाके के कई कार्यकर्ता भी थे। जब देवीलाल को सारण साहब के आने की सूचना मिली, तत्काल भीतर बुला लिया। सारण साहब ने कृषि विज्ञान केंद्र से संबंधित फाइल कृषि मंत्री के सामने रखें और अपनी बात निवेदित की। लेकिन चौधरी साहब ने फाइल देखे बिना ही कहा, "भाई दौलतराम तेरे काम में मुझे ज्यादा सुनने समझने की जरूरत नहीं है, जहां कहें, वहीं मेरा अंगूठा तैयार है" और फाइल पर दस्तखत कर दिए। कार्यकर्ताओं को भी आश्चर्य हुआ। [6]


श्री दौलतराम सारण के साथ किसानघाट पर प्रधान मंत्री चन्द्रशेखर और पेट्रोलियम मंत्री सत्यप्रकाश मालवीय 23.12.1990

सत्यप्रकाश मालवीय: पूर्व केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री और मंत्री उत्तर प्रदेश. सत्यप्रकाश मालवीय ने लिखा है कि सन् 1970 से 1980 तक मैं संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से इलाहाबाद नगर निगम का सभासद तथा मेयर था. 1974 से 1980 तक में इलाहाबाद दक्षिण विधानसभा सीट से उत्तर प्रदेश विधानसभा में भारतीय लोकदल, संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी तथा जनता पार्टी से विधायक था. ये राजनीतिक दल संघर्ष की राजनीति करते थे तथा जनता के हितों के लिए सड़क से संसद तक आवाज उठाते थे. इसी दौरान समाचार पत्रों के माध्यम से चौधरी कुंभाराम आर्य तथा श्री दौलतराम सारण की जानकारी मुझे हुई और ज्ञात हुआ कि दोनों राजस्थान के अग्रणी नेता हैं. 1984 में लोकदल से, जिस के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी चरणसिंह थे, से मैं उत्तर प्रदेश से चुनकर राज्यसभा में आ गया. चौधरी साहब ने मुझे लोकदल का राष्ट्रीय महासचिव नियुक्त कर दिया. अगस्त 1984 में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (लोकदल-भाजपा गठबंधन) की ओर से पंजाब समस्या के समाधान के लिए दोनों दलों के नेताओं ने दिल्ली में गिरफ्तारी दी और तभी से मेरी सारण जी से व्यक्तिगत जान पहचान हुई. उनके प्रथम दर्शन तथा उनके साथ अपने प्रथम साक्षात्कार ने मुझे प्रभावित और आकर्षित किया और उन्होंने मेरे ऊपर अपने व्यक्तित्व की छाप छोड़ी. वह एक विचारवान, समर्पित और त्यागी पुरुष हैं. उनका जीवन सादगी और संयम का ज्वलंत उदाहरण है.(पृ.79)


राजस्थान जनता पार्टी अधिवेशन 1965 में चरण सिंह, दौलतराम सारण, कुंभाराम आर्य

चौधरी चरणसिंह: सत्यप्रकाश मालवीय ने लिखा है कि लोकदल की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, जिनकी अध्यक्षता चौधरी चरणसिंह किया करते थे, वह निर्भीकता, स्पष्टवादिता और बेबाकी से तर्कपूर्ण तरीके से अपने विचार रखते थे. चौधरी साहब ध्यान से उनकी बातें सुनते थे. एक बार कार्यकारिणी की बैठक विट्ठल भाई पटेल हाउस में हो रही थी. किसी महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा हो रही थी. सर्वश्री कर्पूरी ठाकुर, चिमन भाई पटेल, चौधरी कुंभाराम आर्य, हेमवती नंदन बहुगुणा, नाथूराम मिर्धा, मुलायम सिंह यादव, राजेंद्र सिंह, शरद यादव, सुब्रमण्यम स्वामी, रामविलास पासवान, रशीद मसूद, मोहम्मद यूनुस सलीम, केसी त्यागी आदि उस बैठक में उपस्थित थे. श्री सारण जी अपने विचार रख रहे थे. उनकी आवाज कड़क थी और वह वह तेज आवाज में बोल रहे थे. विचारणीय विषय पर उनकी राय चौधरी साहब की राय से भिन्न थी. बड़ा गर्म वातावरण हो गया था. इतने में चौधरी साहब, जो धीमी आवाज में बोलते थे, ने सारण साहब से कहा आप इतनी तेज आवाज में क्यों बोलते हो? श्री सारण जी तपाक से बोले, आप इतनी धीमी आवाज में क्यों बोलते हैं? चौधरी साहब सहित सभी ने खूब जोर से कहकहा लगाया, गर्म वातावरण शांत वातावरण में बदल गया. (पृ.80)


श्री दौलतराम सारण के साथ किसानघाट पर प्रधान मंत्री चन्द्रशेखर और पेट्रोलियम मंत्री सत्यप्रकाश मालवीय 23.12.1990
श्री दौलतराम सारण के साथ किसानघाट पर प्रधान मंत्री चन्द्रशेखर, रेलमंत्री अजय सिंह और पेट्रोलियम मंत्री सत्यप्रकाश मालवीय 23.12.1990

किसानघाट निर्माण : सत्यप्रकाश मालवीय ने लिखा है कि चौधरी चरणसिंह का निधन 29 मई 1987 को हो गया. बड़ी जद्दोजहद और आना-कानी के बाद तत्कालीन केंद्र सरकार उनका दाह संस्कार करने की अनुमति उस स्थान पर देने को राजी हो गई जहां आज किसानघाट है. इसमें तत्कालीन केंद्रीय मंत्री और मेरे मित्र श्री ब्रह्मदत्त जो पहले भारतीय क्रांति दल में थे, ने काफी सहायता की. किसान घाट बापू की समाधि से बहुत कम फासले पर है और राजघाट परिसर के अंदर है. यहीं चौधरी साहब का दाह संस्कार 31 मई 1987 की शाम को हुआ. समाधि स्थल का 4 वर्षों तक नाम मात्र भी विकास नहीं हुआ और यह उपेक्षित पड़ा रहा. हालांकि केंद्र में गैर कांग्रेसी सरकार भी बन गई थी. आज समाधि स्थल विकसित हालत में है और इसका पूरा श्रेय श्री सारण जी को है. सन् 1990 में जब श्री चंद्रशेखर प्रधानमंत्री बने, उन्होंने अपने मंत्रिमंडल में सारण जी को शहरी विकास मंत्री नियुक्त किया. समाधि स्थल इसी मंत्रालय के अंतर्गत आता है. मैं एक दिन सारण जी से मिला और उन्हें अपनी व्यथा बतलाई और समाधि स्थल की उपेक्षा की और उनका ध्यान आकृष्ट किया. उन्होंने अधिकारियों को बुलाया, निर्देश दिया, योजना और नक्शा बनवाया. पूरी योजना को स्वीकृत किया और सरकारी धन उपलब्ध करवाया. इसमें चंद्रशेखर जी का भी पूरा सहयोग था. श्री सारण जी ने जिस लगन, तन्मयता और प्रतिबद्धता के साथ इस समाधि स्थल के विकास में रुचि ली, उसको मैं कभी भूल नहीं सकता. प्रतिवर्ष चौधरी साहब के जन्मदिन 23 दिसंबर तथा पुण्यतिथि 29 मई को उनके अनुयाई समाधि स्थल किसान घाट पर एकत्रित होते हैं, वहां सर्वधर्म प्रार्थना सभा होती है. भारत के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री शहरी विकास मंत्री, दिल्ली की मुख्यमंत्री तथा अन्य विशिष्ट हस्तियाँ समाधि स्थल पर श्रद्धा सुमन तथा पुष्पांजलि अर्पित करते हैं.(पृ.80)


श्री दौलतराम सारण के साथ हैं भँवर लाल नाहरा (मध्य प्रदेश), एसके सिन्हा बिहार, कुंभाराम आर्य, 1965

कुंभाराम आर्य - दौलतराम सारण ने कुंभाराम आर्य के साथ बहुत लंबे समय तक राजस्थान के विकास के लिए काम किया. कुंभाराम आर्य के मोहनलाल सुखाड़िया से मतभेद हो गया। विरोध बढ़ता गया। परिणाम स्वरुप चौथे आम चुनाव से पूर्व तीव्र सैद्धान्तिक मतभेदों के कारण 20 दिसंबर 1966 को राजा हरिश्चंद्र झालावाड़, भीमसिंह मंडावा, कमला बेनीवाल, दौलतराम सारण के साथ कुंभाराम आर्य ने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया। उन्होंने कांग्रेस दल से भी अपना संबंध तोड़ लिया। [7]

कांग्रेस से अलग होकर इन लोगों ने राजस्थान में सन् 1967 में जनता पार्टी नाम की एक राजनीतिक पार्टी की स्थापना जनता को सुख, शांति और समृद्धि दिलाने के लिए हुई जो राजस्थान की राजनीति में एक नए युग का प्रारंभ है क्योंकि लंबे समय से राजस्थान के कुछ कांग्रेसजन ईमानदारी से अनुभव कर रहे थे कि कांग्रेस का वर्तमान स्वरूप जनभावनाओं के प्रतिकूल आचरण कर रहा है। जनता को भय, संकट और चिंता का मुकाबला करना पड़ रहा है। (पृ.52)

14 से 16 मई 1967 को इंदौर में उन सब पार्टियों के प्रतिनिधियों की ओर से एक बैठक बुलाई गई जिन्होंने आम चुनाव के अवसर पर कांग्रेस छोड़कर भिन्न-भिन्न नामों से प्रांतीय स्तर पर प्रथक-प्रथक राजनीतिक दल स्थापित करके चुनाव लड़े। इस बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि सभी संगठन भारतीय क्रांति दल में विलीन हो जावें। इस प्रकार सभी आवश्यक साधन जुटाकर जनता पार्टी को एक राजनैतिक स्वरूप प्रदान किया गया। कांग्रेस छोड़कर आए नेताओं ने भारतीय क्रांति दल का गठन कर लिया। इस दल के अध्यक्ष बिहार के मुख्यमंत्री महामाया प्रसाद बने। इस दल के महासचिव श्री दौलतराम सारण थे। 26 दिसंबर को एक वर्ष पुरानी राजस्थान जनता पार्टी को औपचारिक रूप से भारती क्रांति दल में विलीन कर दिया गया। यह जनता पार्टी क्रांति दल की एक इकाई के रूप में राज्य में काम करने लगी। (पृ.52) राजस्थान में इस पार्टी के अध्यक्ष चौधरी कुंभाराम आर्य और दौलतराम सारण इसके महासचिव बने। (पृ.52,130)

......विस्तारधीन

डॉ कन्हैयालाल सींवर - ग्रामसेवा प्रन्यास की स्थापना चौधरी दौलतराम सारण के सानिध्य एवं संरक्षण में डॉ कन्हैयालाल सींवर की सक्रियता से हुई। प्रन्यास का प्रमुख उधेश्य सरदारशहर के आसपास के ग्रामीण इलाके के लड़कों व लड़कियों की शिक्षा का मार्ग प्रशस्त करना एवं सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ जनजागृति पैदा करना था। सरदारशहर में किसान वर्ग की लड़कियों के लिए डॉ कन्हैयालाल सींवर ने अपने घर में उनके आवास हेतु निःशुल्क होस्टल की व्यवस्था शुरू की। प्रन्यास द्वारा लड़कियों के लिए होस्टल का निर्माण कार्य कुशलतापूर्वक सम्पन्न किया गया। किसान वर्ग के लड़कों के लिए सफलतापूर्वक होस्टल का संचालन भी वर्षों से किया जा रहा है। प्रन्यास के तहत संचालित हर गतिविधि में चौधरी दौलतराम सारण का मार्गदर्शन एवं सानिध्य मिलता रहा।


विस्ताराधीन

दौलतराम सारण पर अभिनंदन ग्रंथ

Daulat Ram Saran Abhinandan Granth.jpg

जननायक श्री दौलतराम सारण अभिनंदन ग्रंथ -

संपादक: डॉ. रतनलाल मिश्र,

सह संपादक:डॉ. भीमसेन शर्मा, मंत्री अभिनंदन ग्रंथ प्रकाशन समिति,

प्रकाशक: सत्यप्रकाश मालवीय, अध्यक्ष जननायक दौलतराम सारण अभिनंदन ग्रंथ प्रकाशन समिति, जयपुर।

प्रथम संस्करण 2008

नोट - श्री दौलतराम सारण अभिनंदन ग्रंथ उनके 85 वें वर्ष में प्रकाशित किया गया है। इसमें उनके परिचितों, जानकारों, सहकर्मियों के उनके प्रति विचार एवं अभिमत सन्निहित हैं। उनके कार्यों के लेखे-जोखे के रूप में कुछ गणमान्य व्यक्तियों के संदेश भी सम्मिलित हैं। इनके अलावा श्री सारण की जीवन गाथा के साथ-साथ उनके द्वारा संग्रहित थली प्रदेश की कहावतें भी दी गई है जो उनके साहित्यिक प्रेम की परिचायक हैं। जीवन की इस अवस्था में प्रस्तुत श्री सारण का अभिनंदन ग्रंथ उनके महान योगदान की स्वीकृति का प्रतीक है।

दौलतराम सारण का सम्मान

राजनीति रै बीच में थे हा कमल समान

कन्हैयालाल सेठिया

चि. दौलतराम सारण

मिनख पणू साख्यात

सारण दोलत राम

जनता री सेवा करी

तन मन स्यूं निष्काम

राजनीति रै बीच में

थे हा कमल समान

थारी म्हारी प्रीत रो

काँई करूं बखाण

सौ बरसां तक रवै

जीवन दीप अमंद

गुण थारा कै लिख सकै

म्हारा वामन छन्द

घणी-घणी बधाई-शुभकामना

आशीष

थारो

राजनीति रै बीच में थे हा कमल समान[8]

नागरिक अभिनंदन समारोह: 13 जनवरी 2008 को सरदारशहर स्थित गांधी चौक में श्री सारण का विराट नागरिक अभिनंदन समारोह आयोजित हुआ। राजनीतिक एवं सामाजिक क्षेत्र के सैकड़ों गणमान्य महानुभाव, राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सुमित्रा सिंह एवं केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय के अलावा दूर-दूर के गांवों से आए हजारों लोगों ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया। जिससे स्पष्ट था कि धरती के कण-कण में इनके प्रति अगाध श्रद्धा है। क्षेत्र के लोगों ने थार के गांधी के रूप में अत्यधिक सम्मान पूर्वक संबोधित किया, वास्तव में यह यथार्थ ही है। (पृ.99)

इस अवसर पर प्रसिद्ध राजस्थानी कवि कन्हैयालाल सेठिया ने श्री दौलतराम सारण पर 'राजनीति रै बीच में थे हा कमल समान' शीर्षक से एक बड़ी सटीक और मार्मिक कविता की है जो उनके गुणों का बखान करती है। यह साथ के बाक्स में दी गई है।

बाहरी कड़ियाँ

पिक्चर गैलरी

स्वयं के चित्र

परिवार के चित्र

सार्वजनिक जीवन के चित्र

केन्द्रीय मंत्री के चित्र

85वें जन्मोत्सव अभिनंदन समारोह के चित्र

यह भी पढ़ें

संदर्भ



Back to The Leaders/Freedom fighters from Churu district