Cambodia

From Jatland Wiki
(Redirected from Kambuja)
Jump to navigation Jump to search
Map of Asia

Cambodia (कम्बोडिया) is a country located in the southern portion of the Indochina peninsula in Southeast Asia.

Variants of name

Location

It is bordered by Thailand to the northwest, Laos to the northeast, Vietnam to the east and the Gulf of Thailand to the southwest. The capital and largest city is Phnom Penh, the political, economic and cultural centre of Cambodia.

Origin of name

The "Kingdom of Cambodia" is the official English name of the country. The English "Cambodia" is an anglicisation of the French "Cambodge", which in turn is the French transliteration of the Khmer កម្ពុជា kampuciə. Kampuchea is the shortened alternative to the country's official name in Khmer ព្រះរាជាណាចក្រកម្ពុជា prĕəh riəciənaacak kampuciə. The Khmer endonym Kampuchea derives from the Sanskrit name Kambojadeśa (कम्बोजदेश), the country of Kamboja[1] The term Cambodia was already in use in Europe as early as 1524, since Antonio Pigafetta (an Italian explorer who followed Ferdinand Magellan in his circumnavigation of the globe) cites it in his work Relazione del primo viaggio intorno al mondo (1524-1525) as Camogia.[2]

Places of interest

Pre-history

There exists sparse evidence for a Pleistocene human occupation of present-day Cambodia, which includes quartz and quartzite pebble tools found in terraces along the Mekong River, in Stung Treng and Kratié provinces, and in Kampot Province, although their dating is unreliable.[3]

Some slight archaeological evidence shows communities of hunter-gatherers inhabited the region during Holocene: the most ancient archaeological discovery site in Cambodia is considered to be the cave of L'aang Spean, in Battambang Province, which belongs to the Hoabinhian period. Excavations in its lower layers produced a series of radiocarbon dates around 6000 BC.[4][5] Upper layers in the same site gave evidence of transition to Neolithic, containing the earliest dated earthenware ceramics in Cambodia[6]

Archaeological records for the period between Holocene and Iron Age remain equally limited. A pivotal event in Cambodian prehistory was the slow penetration of the first rice farmers from the north, which began in the late 3rd millennium BC.[7] The most curious prehistoric evidence in Cambodia are the various "circular earthworks" discovered in the red soils near Memot and in the adjacent region of Vietnam in the latter 1950s. Their function and age are still debated, but some of them possibly date from 2nd millennium BC.[8][9]

Other prehistoric sites of somewhat uncertain date are Samrong Sen (not far from the ancient capital of Oudong), where the first investigations began in 1875,[10] and Phum Snay, in the northern province of Banteay Meanchey.[11] An excavation at Phum Snay revealed 21 graves with iron weapons and cranial trauma which could point to conflicts in the past, possible with larger cities in Angkor.[12] [13] Prehistoric artefacts are often found during mining activities in Ratanakiri.[14]

Iron was worked by about 500 BC, with supporting evidence coming from the Khorat Plateau, in modern-day Thailand. In Cambodia, some Iron Age settlements were found beneath Baksei Chamkrong and other Angkorian temples while circular earthworks were found beneath Lovea a few kilometres north-west of Angkor. Burials, much richer than other types of finds, testify to improvement of food availability and trade (even on long distances: in the 4th century BC trade relations with India were already opened) and the existence of a social structure and labour organisation. Also, among the artefacts from the Iron Age, glass beads are important evidence. Different kinds of glass beads recovered from several sites across Cambodia, such as the Phum Snay site in northwest and the Prohear site in southeast, show that there were two main trading networks at the time. The two networks were separated by time and space, which indicate that there was a shift from one network to the other at about 2nd–4th century AD, probably with changes in socio-political powers.[15]

Pre-Angkorian and Angkorian era: During the 3rd, 4th, and 5th centuries, the Indianised states of Funan and its successor, Chenla, coalesced in present-day Cambodia and southwestern Vietnam. For more than 2,000 years, what was to become Cambodia absorbed influences from India, passing them on to other Southeast Asian civilisations that are now Thailand and Laos.[16] Little else is known for certain of these polities, however Chinese chronicles and tribute records do make mention of them. It is believed that the territory of Funan may have held the port known to Alexandrian geographer Claudius Ptolemy as "Kattigara". The Chinese chronicles suggest that after Jayavarman I of Chenla died around 690, turmoil ensued which resulted in division of the kingdom into Land Chenla and Water Chenla which was loosely ruled by weak princes under the dominion of Java.

The Khmer Empire grew out of these remnants of Chenla, becoming firmly established in 802 when Jayavarman II (reigned c790-850) declared independence from Java and proclaimed himself a Devaraja. He and his followers instituted the cult of the God-king and began a series of conquests that formed an empire which flourished in the area from the 9th to the 15th centuries[17] During the rule of Jayavarman VIII the Angkor empire was attacked by the Mongol army of Kublai Khan, however the king was able to buy peace.[18] Around the 13th century, monks from Sri Lanka introduced Theravada Buddhism to Southeast Asia.[19] The religion spread and eventually displaced Hinduism and Mahayana Buddhism as the popular religion of Angkor; however it was not the official state religion until 1295; when Indravarman III took power.[20]

The Khmer Empire was Southeast Asia's largest empire during the 12th century. The empire's centre of power was Angkor, where a series of capitals were constructed during the empire's zenith.

In 2007 an international team of researchers using satellite photographs and other modern techniques concluded that Angkor had been the largest pre-industrial city in the world with an urban sprawl of 2,980 square kilometres.[21] The city, which could have supported a population of up to one million people[22] and Angkor Wat, the best known and best-preserved religious temple at the site, still serves as a reminder of Cambodia's past as a major regional power. The empire, though in decline, remained a significant force in the region until its fall in the 15th century.

History

In 802 AD, Jayavarman II declared himself king, uniting the warring Khmer princes of Chenla under the name "Kambuja".[23] This marked the beginning of the Khmer Empire, which flourished for over 600 years, allowing successive kings to control and exert influence over much of Southeast Asia and accumulate immense power and wealth. The Indianised kingdom facilitated the spread of first Hinduism and then Buddhism to much of Southeast Asia and undertook many religious infrastructural projects throughout the region, including the construction of more than 1,000 temples and monuments in Angkor alone. Angkor Wat is the most famous of these structures and is designated as a World Heritage Site by UNESCO. After the fall of Angkor to Ayutthaya in the 15th century, a reduced and weakened Cambodia was then ruled as a vassal state by its neighbours.

Angkor Wat Temple Complex, Cambodia

Angkor Wat - is a temple complex in Cambodia and one of the largest religious monuments in the world, on a site measuring 162.6 hectares (1,626,000 Sq. Meters; 402 acres). It was originally constructed as a Hindu temple dedicated to the god Vishnu for the Khmer Empire, gradually transforming into a Buddhist temple towards the end of the 12th century. It was built by the King Suryavarman II, migrants from southern India, in the early 12th century in Yaśodharapura (Khmer, present-day Angkor), the capital of the Khmer Empire, as his state temple and eventual mausoleum. Breaking from the Shaiva tradition of previous kings, Angkor Wat was instead dedicated to Vishnu. As the best-preserved temple at the site, it is the only one to have remained a significant religious centre since its foundation. The temple is at the top of the high classical style of Khmer architecture. It has become a symbol of Cambodia, appearing on its national flag, and it is the country's prime attraction for visitors.[24]

Archaeological Survey of India (ASI) has played a lead role in repairs and renovation of Angkor Wat.

Dark ages of Cambodia: After a long series of wars with neighbouring kingdoms, Angkor was sacked by the Ayutthaya Kingdom and abandoned in 1432 because of ecological failure and infrastructure breakdown.[25][26] This led to a period of economic, social, and cultural stagnation when the kingdom's internal affairs came increasingly under the control of its neighbours. By this time, the Khmer penchant for monument building had ceased. Older faiths such as Mahayana Buddhism and the Hindu cult of the god-king had been supplanted by Theravada Buddhism.

The court moved the capital to Longvek where the kingdom sought to regain its glory through maritime trade. The first mention of Cambodia in European documents was in 1511 by the Portuguese. Portuguese travellers described the city as a place of flourishing wealth and foreign trade. The attempt was short-lived however, as continued wars with Ayutthaya and the Vietnamese resulted in the loss of more territory and Longvek being conquered and destroyed by King Naresuan the Great of Ayutthaya in 1594. A new Khmer capital was established at Oudong south of Longvek in 1618, but its monarchs could survive only by entering into what amounted to alternating vassal relationships with the Siamese and Vietnamese for the next three centuries with only a few short-lived periods of relative independence.

The hill tribe people in Cambodia were "hunted incessantly and carried off as slaves by the Siamese (Thai), the Annamites (Vietnamese), and the Cambodians".[27]

In the nineteenth century a renewed struggle between Siam and Vietnam for control of Cambodia resulted in a period when Vietnamese officials attempted to force the Khmers to adopt Vietnamese customs. This led to several rebellions against the Vietnamese and appeals to Thailand for assistance. The Siamese–Vietnamese War (1841–1845) ended with an agreement to place the country under joint suzerainty. This later led to the signing of a treaty for French Protection of Cambodia by King Norodom Prohmborirak.

कंबुज

विजयेन्द्र कुमार माथुर[28] ने लेख किया है ... कंबुज (AS, p.122) हिंद-चीन का प्राचीन हिंदू उपनिवेश जिसे कंबोडिया कहा जाता है। इसकी स्थापना 7वीं शती के पश्चात् हुई थी और तत्पश्चात् 700 वर्षों तक कंबुज के वैभव तथा ऐश्वर्य का युग रहा।

कंबोडिया की एक प्राचीन लोककथा [p.123]: में आर्य देश या भारत के राजा स्वायंभुव द्वारा कंबुज राज्य की स्थापना का वर्णन है। यहाँ का सर्वप्रथम ऐतिहासिक राजा श्रुतवर्मन् था जिसके इस देश को फूनान के शासन से मुक्त करके एक स्वंतत्र राज्य स्थापित किया। यहाँ की तत्कालीन राजधानी श्रेष्ठपुर में थी जिसका नामकरण कंबुज के द्वितीय राजा श्रेष्ठवर्मन् के नाम पर हुआ था। इसकी स्थिति वर्तमान लाओस में वाटफू पहाड़ी के परिवर्ती प्रदेश में थी। इस पहाड़ी पर, जिसका प्राचीन नाम लिंग पर्वत था, भद्रेश्वर शिव का मंदिर स्थित था। ये कंबुज नरेशों के इष्टदेव थे।


कंबुज, कंबोज कंबोडिया का प्राचीन संस्कृत नाम। भूतपूर्व इंडोचीन प्रायद्वीप में सर्वप्राचीन भारतीय उपनिवेश की स्थापना फूनान प्रदेश में प्रथम शती ई. के लगभग हुई थी। लगभग 600 वर्षों तक फूनान ने इस प्रदेश में हिंदू संस्कृति का प्रचार एवं प्रसार करने में महत्वपूर्ण योग दिया। तत्पश्चात्‌ इस क्षेत्र में कंबुज या कंबोज का महान्‌ राज्य स्थापित हुआ जिसके अद्भुत ऐश्वर्य की गौरवपूर्ण परंपरा 14वीं सदी ई. तक चलती रही। इस प्राचीन वैभव के अवशेष आज भी अंग्कोरवात, अंग्कोरथोम नामक स्थानों में वर्तमान हैं।

कंबोज की प्राचीन दंतकथाओं के अनुसार इस उपनिवेश की नींव 'आर्यदेश' के राजा कंबु स्वयांभुव ने डाली थी। वह भगवान्‌ शिव की प्रेरणा से कंबोज देश में आए और यहाँ बसी हुई नाग जाति के राजा की सहायता से उन्होंने इस जंगली मरुस्थल में एक नया राज्य बसाया जो नागराज की अद्भुत जादूगरी से हरे भरे, सुंदर प्रदेश में परिणत हो गया। कंबु ने नागराज की कन्या मेरा से विवाह कर लिया और कंबुज राजवंश की नींव डाली। यह भी संभव है कि भारतीय कंबोज (कश्मीर का राजौरी जिला तथा संवर्ती प्रदेश-द्र. 'कंबोज') से भी इंडोचीन में स्थित इस उपनिवेश का संबंध रहा हो। तीसरी शती ई. में भारत की उत्तर-पश्चिमी सीमा पर बसनेवो मुरुंडों का एक राजदूत फूनान पहुँचा था और संभवत: कंबोज के घोड़े अपने साथ वहाँ लाया था। कंबोज के प्रथम ऐतिहासिक राजवंश का संस्थापक श्रुतवर्मन था जिसने कंबोज देश को फूनान की अधीनता से मुक्त किया। इसके पुत्र श्रेष्ठवर्मन ने अपने नाम पर श्रेष्ठपुर नामक राजधानी बसाई जिसके खंडहर लाओस के वाटफू पहाड़ी (लिंगपर्वत) के पास स्थित हैं। तत्पश्चात्‌ भववर्मन ने, जिसका संबंध फूनान और कंबोज दोनों ही राजवंशों से था, एक नया वंश (ख्मेर) चलाया और अपने ही नाम भवपुर नामक राजधानी बसाई। भववर्मन तथा इसके भाई महेंद्रवर्मन के समय से कंबोज का विकासयुग प्रारंभ होता है। फूनान का पुराना राज्य अब जीर्णशीर्ण हो चुका था और शीघ्र ही इस नए दुर्घर्ष साम्राज्य में विलीन हो गया। महेंद्रवर्मन की मृत्यु के पश्चात्‌ उनका पुत्र ईशानवर्मन गद्दी पर बैठा। इस प्रतापी राजा ने कंबोज राज्य की सीमाओं का दूर-दूर तक विस्तार किया। उसने भारत और चंपा के साथ राजनयिक संबंध स्थापित किए और ईशानपुर नाम की एक नई राजधानी का निर्माण किया। ईशानवर्मन ने चंपा के राजा जगद्धर्म को अपनी पुत्री ब्याही थी जिसका पुत्र प्रकाशधर्म अपने पिता की मृत्यु के पश्चात्‌ चंपा का राजा हुआ। इससे प्रतीत होता है कि चंपा इस समय कंबोज के राजनीतिक प्रभाव के अंतर्गत था। ईशानवर्मन के बाद भववर्मन्‌ द्वितीय और जयवर्मन्‌ प्रथम कंबोज नरेशों के नाम मिलते हैं। जयवर्मन्‌ के पश्चात्‌ 674 ई. में इस राजवंश का अंत हो गया। कुछ ही समय के उपरांत कंबोज की शक्ति क्षीण होने लगी और धीरे-धीरे 8वीं सदी ई. में जावा के शैलेंद्र राजाओं का कंबोज देश पर आधिपतय स्थापित हो गया। 8वीं सदी ई. का कंबोज इतिहास अधिक स्पष्ट नहीं है किंतु 9वीं सदी का आरंभ होते ही इस प्राचीन साम्राज्य की शक्ति मानों पुन: जीवित हो उठी। इसका श्रेय जयवर्मन्‌ द्वितीय (802-854 ई.) को दिया जाता है। उसने अंगकोर वंश की नींव डाली और कंबोज को जावा की अधीनता से मुक्त किया। उसने संभवत: भारत से हिरण्यदास नामक ब्राह्मण को बुलवाकर अपने राज्य की सुरक्षा के लिए तांत्रिक क्रियाएँ करवाईं। इस विद्वान्‌ ब्राह्मण ने देवराज नामक संप्रदाय की स्थापना की जो शीघ्र ही कंबोज का राजधर्म बन गया। जयवर्मन्‌ ने अपनी राजधानी क्रमश: कुटी, हरिहरालय और अमरेंद्रपुर नामक नगरों में बनाई जिससे स्पष्ट है कि वर्तमान कंबोडिया का प्राय: समस्त क्षेत्र उसके अधीन था और राज्य की शक्ति का केंद्र धीरे-धीरे पूर्व से पश्चिम की ओर बढ़ता हुआ अंतत: अंग्कोर के प्रदेश में स्थापित हो गया था।

जयवर्मन्‌ द्वितीय को अपने समय में कंबुजराजेंद्र और उसकी महरानी को कंबुजराजलक्ष्मी नाम से अभिहित किया जाता था। इसी समय से कंबोडिया के प्राचीन नाम कंबुज या कंबोज का विदेशी लेखकों ने भी प्रयोग करना प्रारंभ कर दिया था। जयवर्मन्‌ द्वितीय के पश्चात्‌ भी कंबोज के साम्राज्य की निरंतर उन्नति और वृद्धि होती गई और कुछ ही समय के बाद समस्त इंडोचीन प्रायद्वीप में कंबोज साम्राज्य का विस्तार हो गया। महाराज इंद्रवर्मन्‌ ने अनेक मंदिरों और तड़ागों का निर्माण करवाया। यशोवर्मन्‌ (889-908 ई.) हिंदू शास्त्रों और संस्कृत काव्यों का ज्ञाता था और उसने अनेक विद्वानों को राजश्रय दिया। उसके समय के अनेक सुंदर संस्कृत अभिलेख प्राप्य हैं। इस काल में हिंदू धर्म, साहित्य और काल की अभूतपूर्व प्रगति हुई। यशोवर्मन्‌ ने कंबुपुरी या यशोधरपुर नाम की नई राजधानी बसाई। धर्म और संस्कृति का विशाल केंद्र अंग्कोर थोम (द्र. 'अंग्कोर थोम' लेख) भी इसी नगरी की शोभा बढ़ाता था। 'अंग्कोर संस्कृति' का स्वर्णकाल इसी समय से ही प्रांरभ होता है। 944 ई. में कंबोज का राजा राजेंद्रवर्मन्‌ था जिसके समय के कई बृहद् अभिलेख सुंदर संस्कृत काव्यशैली में लिखे मिलते हैं। 1001 ई. तक का समय कंबोज के इतिहास में महत्वपूर्ण है क्योंकि इस काल में कंबोज की सीमाएँ चीन के दक्षिणी भाग छूती थीं, लाओस उसके अंतर्गत था और उसका राजनीतिक प्रभाव स्याम और उत्तरी मलाया तक फैला हुआ था।

सूर्यवर्मन्‌ प्रथम (मृत्यु 1049 ई.) ने प्राय: समस्त स्याम पर कंबोज का आधिपत्य स्थापित कर दिया और दक्षिण ब्रह्मदेश पर भी आक्रमण किया। वह साहित्य, न्याय और व्याकरण का पंडित था तथा स्वयं बौद्ध होते हुए भी शैव और वैष्णव धर्मों का प्रेमी और संरक्षक था। उसने राज्यासीन होने के समय देश में चले हुए गृहयुद्ध को समाप्त कर राज्य की स्थिति को पुन: सुदृढ़ करने का प्रयत्न किया। उत्तरी चंपा को जीतकर सूर्यवर्मन्‌ ने उसे कंबोज का करद राज्य बना लिया किंतु शीघ्र ही दक्षिण चंपा के राजा जयहरि वर्मन्‌ से हार माननी पड़ी। इस समय कंबोज में गृहयुद्धों और पड़ोसी देशों के साथ अनबन के कारण काफी अशांति रही।

जयवर्मन्‌ सप्तम (अभिषेक 1181) के राज्यकाल में पुन: एक बार कंबोज की प्राचीन यश:पताका फहराने लगी। उसने एक विशाल सेना बनाई जिसमें स्याम और ब्रह्मदेश के सैनिक भी सम्मिलित थे। जयवर्मन्‌ ने अनाम पर आक्रमण कर उसे जीतने का भी प्रयास किया किंतु निरंतर युद्धों के कारण शनै: शनै: कंबोज की सैनिक शक्ति का ्ह्रास होने लगा, यहाँ तक कि 1220 ई. में कंबोजों को चंपा से हटना पड़ा। किंतु फिर भी जयवर्मन्‌ सप्तम की गणना कंबोज के महान्‌ राज्यनिर्माताओं में की जाती है क्योंक उसमे समय में कंबोज के साम्राज्य का विस्तार अपनीचरम सीमा पर पहुँचा हुआ था। जयवर्मन्‌ सप्तम ने अपनी नई राजधानी वर्तमान अंग्कोरथोम में बनाई थी। इसके खंडहर आज भी संसार के प्रसिद्ध प्राचीन अवशेषों में गिने जाते हैं। नगर के चतुर्दिक्‌ एक ऊँचा परकोटा था और 110 गज चौड़ी एक परिखा थी। इसकी लंबाई साढ़े आठ मील के लगभग थी। नगर के परकोटे के पाँच सिंहद्वार थे जिनसे पाँच विशाल राजपथ (100 फुट चौड़े, 1 मील लंबे) नगर के अंदर जाते थे। ये राजपथ, बेयोन के विराट् हिंदू मंदिर के पास मिलते थे, जो नगर के मध्य में स्थित था। मंदिर में 66,625 व्यक्ति नियुक्त थे और इसके व्यय के लिए 3,400 ग्रामों की आय लगी हुई थी। इस समय के एक अभिलेख से ज्ञात होता है कि कंबोज में 789 मंदिर तथा 102 चिकित्सालय थे और 121 वाहनी (विश्राम) गृह थे।

जयवर्मन्‌ सप्तम के पश्चात्‌ कंबोज के इतिहास के अनेक स्थल अधिक स्पष्ट नहीं हैं। 13वीं सदी में कंबोज में सुदृढ़ राजनीतिक शक्ति का अभाव था। कुछ इतिहासलेखकों के अनुसार कंबोज ने 13वीं सदी के अंतिम चरण में चीन के सम्राट् कुबले खाँ का आधिपत्य मानने से इनकार कर दिया था। 1296 ई. में चीन से एक दूतमंडल अंग्कोरथोम आया था जिसके एक सदस्य शू-तान-कुआन ने तत्कालीन कंबोज के विषय में विस्तृत तथा मनोरंजक वृत्तांत लिखा है जिसका अनुवाद फ्रांसीसी भाषा में 1902 ई. में हुआ था। 14वीं सदी में कंबोज के पड़ोसी राज्यों में नई राजनीतिक शक्ति का उदय हो रहा था तथा स्याम और चंपा के थाई लोग कंबोज की ओर बढ़ने का निरंतर प्रयास कर रहे थे। परिणाम यह हुआ कि कंबोज पर दो ओर से भारी दबाव पड़ने लगा और वह इन दोनों देशों की चक्की के पाटों के बीच पिसने लगा। धीरे-धीरे कंबोज की प्राचीन महत्ता समाप्त हो गई और अब यह देश इंडोचीन का एक साधारण पिछड़ा हुआ प्रदेश बनकर रह गया। 19वीं सदी में फ्रांसीसी का प्रभाव इंडोचीन में बढ़ चला था; वैसे, वे 16वीं सदी में ही इस प्रायद्वीप में आ गए थे और अपनी शक्ति बढ़ाने के अवसर की ताक में थे। वह अवसर अब और 1854 ई. में कंबोज के निर्बल राजा अंकडुओंग ने अपना देश फ्रांसीसियों के हाथों सौंप दिया। नोरदम (नरोत्तम) प्रथम (1858-1904) ने 11 अगस्त, 1863 ई. को इस समझौते को पक्का कर दिया और अगले 80 वर्षों तक कंबोज या कंबोडिया फ्रेंच-इंडोचीन का एक भाग बना रहा। (कंबोडिया, फ्रेंच का रूपांतर है। फ्रेंच नाम कंबोज या कंबुजिय से बना है।) 1904-41 में स्याम और फ्रांसीसियों के बीच होनेवाले युद्ध में कंबोडिया का कुछ प्रदेश स्याम को दे दिया गया किंतु द्वितीय विश्वयुद्ध के पश्चात्‌ 1945 ई. में यह भाग उसे पुन: प्राप्त हो गया। इस समय कंबोडिया में स्वतंत्रता आंदोलन भी चल रहा था जिसके परिणामस्वरूप फ्रांस ने कंबोडिया को एक नया संविधान प्रदान किया (मई 6, 1947)। किंतु इससे वहाँ के राष्ट्रप्रेमियों को संतोष न हुआ और उन्होंने 1949 ई. (8 नवंबर) में फ्रांसीसियों को एक नए समणैते पर हस्ताक्षर करने पर विवश कर दिया जिससे उन्होंने कंबोडिया की स्वतंत्र राजनीतिक सत्ता को स्वीकार कर लिया, किंतु अब भी देश को फ्रेंच यूनियन के अंतर्गत ही रखा गया था। इसके विरुद्ध कंबोडिया के प्रभावशाली राजा नोरदम सिंहानुक ने अपना राष्ट्रीय आंदोलन जारी रखा। इनके प्रयत्न से कंबोडिया शीघ्र ही स्वतंत्र राष्ट्र बन गया और ये अपने देश के प्रथम प्रधान मंत्री चुने गए।

धर्म, भाषा, सामाजिक जीवन: कंबोज वास्तविक अर्थ में भारतीय उपनिवेश था। वहाँ के निवासियों का धर्म, उनकी संस्कृति एवं सभ्यता, साहित्यिक परंपराएँ, वास्तुकला और भाषा-सभी पर भारतीयता की अमिट छाप थी जिसके दर्शन आज भी कंबोज के दर्शक को अनायास ही हो जाते हैं। हिंदू धर्म और वैष्णव संप्रदाय और तत्पश्चात्‌ (1000 ई. के बाद) बौद्ध धर्म कंबोज के राजधर्म थे और यहाँ के अनेक संस्कृत अभिलेखों को उनकी धार्मिक तथा पौराणिक सांस्कृतिक पृष्ठभूमि के कारण भारतीय अभिलेखों से अलग करना कठिन ही जान पड़ेगा। उदाहरण के लिए राजेंद्रवर्मन्‌ के एक विशाल अभिलेख का केवल एक अंश यहाँ प्रस्तुत है जिसमें शिव की वंदना की गई है :

रूपं यस्य नवेन्दुमंडितशिखं त्रय्‌या: प्रतीतं परं

बीजं ब्रह्महरीश्वरोदयकरं भिन्नं कलाभिस्त्रिधा।

साक्षारदक्षरमामनन्ति मुनयो योगोधिगम्यं नमस्‌

संसिद्ध्यै प्रणवात्मने भगवते तस्मै शिवायास्तु वम्‌।।

पुराने अरब पर्यटकों ने कंबोज को हिंदू देश के नाम से ठीक ही अभिहित किया। कंबुज की राजभाषा प्राचीन काल में संस्कृत थी, उसका स्थान धीरे-धीरे बौद्ध धर्म के प्रचार के कारण पाली ने ले लिया और आज भी यह धार्मिक क्षेत्र में यहाँ की मुख्य भाषा बनी हुई है। कंबुज भाषा में संस्कृत के हजारों शब्द अपने कंबुजी या ख्मेर रूप में आज भी पाए जाते हैं (जैसे-तेप्‌दा उ देवता, शात्स उ शासन, सुओर उ स्वर्ग, फीमेअन उ विमान)। ख्‌मेर लिपि दक्षिणी भारत की पल्लव और पूर्वी चालुक्य लिपियों के मेल से बनी है। कंबोज की वास्तुकला, मूर्तिकला तथा चित्रकला पर भारतीय प्रभाव स्पष्ट है। अंग्कोरथोम का बेयोन मंदिर दक्षिण भारत के मंदिरों से बहुत मिलता-जुलता है। इसके शिखर में भी भारतीय मंदिरों के शिखरों की स्पष्ट झलक मिलती है। इस मंदिर और ऐलोरा के कैलास मंदिर के कलातत्व, विशेषत: मूर्तिकारी तथा आलेख्य विषयों और दृश्यों में अद्भुत साम्य है।

कंबोज की सामाजिक दशा का सुंदर चित्रण, शू-तान-कुतान के वर्णन (13वीं सदी का अंत) इस प्रकार है-

विद्वानों को यहाँ पंकि (पंडित), भिक्षुओं को शू-कू (भिक्षु) और ब्राह्मणों को पा-शो-वेई (पाशुपत) कहा जाता है। पंडित अपने कंठ में श्वेत धागा (यज्ञोपवीत) डाले रहते हैं, जिसे वे कभी नहीं हटाते। भिक्षु लोग सिर मुड़ाते और पीत वस्त्र पहनते हैं। वे मांस मछली खाते हैं पर मद्य नहीं पीते। उनकी पुस्तकें तालपत्रों पर लिखी जाती हैं। बौद्ध भिक्षुणियाँ यहाँ नहीं है। पाशुपत अपने केशों को लाल या सफेद वस्त्रों से ढके रहते हैं। कंबोज के सामान्य जन श्याम रंग के तथा हृष्टपुष्ट हैं। राजपरिवार की स्त्रियाँ गौर वर्ण हैं। सभी लोग कटि तक शरीर विवस्त्र रखते हैं और नंगे पाँव घूमते हैं। राजा पटरानी के साथ झरोखे में बैठकर प्रजा को दर्शन देता है।

लिखने के लिए कृष्ण मृग काचमड़ा भी काम में आता है। लोग स्नान के बहुत प्रेमी हैं। यहाँ स्त्रियाँ व्यापार का काम भी करती हैं। गेहूँ, हल्दी, चीनी, रेशम के कपड़े, राँगा, चीनी बर्तन कागज आदि यहाँ व्यापार की मुख्य वस्तुएँ हैं।

गाँवों में प्रबंध करने के लिए एक मुखिया या मयिची रहता है। सड़कों पर यात्रियों के विश्राम करने के लिए आवास बने हुए हैं। (वि.कु.मा.)

कंबोडिया-कंबोज का अर्वाचीन नाम है। यह हिंद चीन प्रायद्वीप का एक देश है जो सन्‌ 1955 ई. में फ्रांसीसी आधिपत्य से मुक्त हुआ है। 19वीं शताब्दी के पूर्व यह प्रदेश ख़्मेर राज्य का अंग था किंतु 1863 ई. में फ्रांसीसियों के आधिपत्य में आ गया। द्वितीय विश्वयुद्ध में कंबोडिया पर जापान का अधिकार था।

कंबोडिया का क्षेत्रफल 1,81,000 वर्ग मील है। इसकी पश्चिमी और उत्तरी सीमा पर स्याम तथा लाओ और पूर्वी सीमा पर दक्षिणी वियतनाम देश हैं। दक्षिण-पश्चिम भाग स्याम की खाड़ी का तट है। कंबोडिया तश्तरी के आकर की एक घाटी है जिसे चारों ओर से पर्वत घेरे हुए हैं। घाटी में उत्तर से दक्षिण की ओर मीकांग नदी बहती है। घाटी के पश्चिमी भाग में तांगले नामक एक छिछली और विस्तृत झील है जो उदाँग नदी द्वारा मीकांग से जुड़ी हुई है।

कंबोडिया की उपजाऊ मिट्टी और मौसमी जलवायु में चावल प्रचुर परिमाण में होता है। अब भी विस्तृत भूक्षेत्र श्रमिकों के अभाव में कृषिविहीन पड़े हैं। यहाँ की अन्य प्रमुख फसलें तुबाकू, कहवा, नील और रबर हैं। पशुपालन का व्यवसाय विकासोन्मुख है। पर्याप्त जनसंख्या मछली पकड़कर अपनी जीविका अर्जित करती है। चावल और मछली कंबोडिया की प्रमुख निर्यात की वस्तुएँ हैं। इस देश का एक विस्तृत भाग बहुमूल्य वनों से आच्छादित है। मीकांग और टोनलेसाप के संगम पर स्थित प्नॉम पेन कंबोडिया की राजधानी है। बड़े-बड़े जलयान इस नगर तक आते हैं। यह नगर कंबोडिया की विभिन्न भागों से सड़कों द्वारा जुड़ा है।[2]

1. बसाक के निकट

2. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 2 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 357 |

संदर्भ: भारतकोश-कंबुज

अमरेन्द्रपुर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[29] ने लेख किया है ...अमरेन्द्रपुर (AS, p.32) प्राचीन कंबुज का एक ऐतिहासिक नगर था। अमरेन्द्रपुर नगर वर्तमान अंकोरवाट के उत्तर-पश्चिम में 100 मील की दूरी पर स्थित था। यहाँ पर 9वीं शती ई. के राजा जयवर्मन द्वितीय की राजधानी कुछ कालपर्यन्त रही थी।

अनिंदितपुर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[30] ने लेख किया है ...अनिंदितपुर (AS, p.20) 8वीं शती ई. में दक्षिण कंबोडिया या कंबुज का एक छोटा-सा भारतीय औपनिवेशिक राज्य जिसका उल्लेख कंबोडिया के प्राचीन इतिहास में है। अनिंदितपुर के राजा पुष्कराक्ष द्वारा शंभुपुर नामक पार्श्ववर्ती राज्य को हस्तगत करने का उल्लेख भी मिलता है।

आढ्यपुर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[31] ने लेख किया है ...आढ्यपुर (AS, p.62): प्राचीन कम्बोडिया या कंबुज का एक नगर . कंबुज में भारतीय हिंदु औपनिवेशकों ने लगभग 1300 वर्ष तक राज्य किया था.

ध्रुवपुर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[32] ने लेख किया है ...ध्रुवपुर (AS, p.470) कम्बोडिया, दक्षिण-पूर्व एशिया में स्थित था। यह प्राचीन कंबुज का एक नगर था। कंबुज में काफ़ी लम्बे समय तक हिन्दू राजाओं का राज्य रहा था, जिन्होंने लगभग 1300 वर्षों तक राज्य किया।

ताम्रपुर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[33] ने लेख किया है ...ताम्रपुर (AS, p.396) - ताम्रपुर प्राचीन समय में 'कंबोडिया' या 'कंबुज' का एक भारतीय औपनिवेशिक नगर था। कंबुज में हिन्दू राजाओं ने लगभग तेरह सौ वर्षों तक राज्य किया था।

Jat History

Hukum Singh Panwar [34] writes about presence of Jats in the region that - The next important discovery consequent upon our identification of the Jats is that the different races, viz., the Getae, Thyssagetae, Massagetae, Allans, Asii, Ioatii, Zanthii or Xanthii, Dahae, Parnis or Panis, Parthians, Yueh-Chihs, Ephthalites and Kushanas, etc. (who have so far been considered as separate and unrelated races by historians) are actually the offshoots of the three major sections of the Sakas, who were not a distinct race from the Aryans. The only feature where they differ in their taxonomy was their bachycephaly, a feature they they developed by residing in higher altitudes for thousands of years after their banishment or migrations from Sapta Sindhu. Their history, according to our inquiry, goes as far back as 8566 B.C. and their spread as far away as Scandinavia in Europe, and (via Alaskan Isthmus to Canada, U.S.A., Mexico, Argentina, Chile and Peru in south America besides Burma, Cambodia and Thailand in the east.


Hukum Singh Panwar (Pauria)[35] writes .... When the Saka people moved still further in the far eastern countries, they founded a city named Vaisali[36] in Burma, which became the capital of Arakan, ruled over by the Hindu dynasty of


The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations: End of p.196


Dhanyawati from 8th century AD. to 11th century A.D., and which is now identified with Vaithali village, surrounded by monuments ancient Vaisali. It is further interesting to note that the ancient Kambuja[37] (modern Cambodia and Cochin-China, or Kampuchia Kambojia, Thailand-Dahiland?) and Ayuthya = Ayodhya, which was made capital by a chief of Utong, who assumed the title of Ramadhipat in 1350 A.D. in Siam (Thailand or Dahiland) are unmistakably reminicent of the migrations and settlements of the Sakas, Kambojas and probably Manvas (Manns) [38] also in those countries in olden times[39] (For ancient Indian Literature in Java and Bali islands, see Weber, 1914; 189 195, 208,229, 271, 280). Jitra or Jatra, a place name in the plains of Malaya, may well be attributed to the old Saka Jats (Mall or Malli from ancient Malloi) in that peninsula, probably known as Malaya after them.


Bhim Singh Dahiya has mentioned about the rule of Munda people in Magadha. The inscriptional evidences show that Jat rulers and tribes in north India from Kabul to Cuttack, in the period following the disintegration of Kushanas empire. Particularly Magadha area was under the rule of people who had the title, Murunda. They are admitted to be Sakas or Scythians. [40]

The Geographike of Ptolemy says that in 140 AD, the Murundas were established in the valley of the river Sarabos or Sarayu. [41] Half a century later, Oppien mentions the "Muruandien" as a Gangetic people. [42] S R Goyal quotes several other Jain authorities to show that Patliputra in particular, as well as Kanyakubja were ruled by Murundas/Sakas. The Jain ascetic, Padlipta Suri, cured the Murunda ruler of Patliputra of terrible headache and converted him to Jainism. [43] During the reign of Wu dynasty (220 - 227 AD) Fan Chen, the King of Kambodia, according to PC Bagchi sent his relative as ambassador to the Indian King of Patliputra. The ambassador was heartily welcomed and the gesture was returned by the Indian king who sent two men as ambassador as well as four horses of the Yue-chi i.e. the Jat country, as presents to the King of Kambodia. According to this account Buddhism was in prosperous state at that time in Magadha and the title of the king was Meouloun. This title has been identified with Murunda and this shows that in the middle of third century AD the Murundas were still ruling over Patliputra. [44] These Murunda rulers of Patliputra had special relations with Peshawar. It was but natural, for, after all Murundas and Kushanas both belonged to the same Scythian stock. [45]

Buddhism in Cambodia

Theravada has a widespread following in Sri Lanka and Southeast Asia (Cambodia, Laos, Thailand, Myanmar etc.). Mahayana is found throughout East Asia (Chi ...ha and a carving ornate stupa similar to those of Buddhist structures in Cambodia and Laos are the main structures.


According to Neekee Chaturvedi, a professor at Rajasthan University's History department Much before the forts and palaces came into existence here, Rajasthan ostensibly had well-defined Buddhist monasteries or complexes at four places— Bairat in Alwar, Kholvi in Jhalawar, Bhandarez in Dausa and Ramgoan in Tonk. Discovered by the Archaeological Survey of India's (ASI) first director-general Alexander Cunningham in late 18th century, these historical sites today are crying for attention from the state. [46]

At Kholvi, ruins of 64 monk cells are located in a big complex that has stupas or meditation halls with circumambulation path. This site has images of Buddha, the tallest being a 12-feet standing Buddha in a preaching posture. A large statue of Buddha and a carving ornate stupa similar to those of Buddhist structures in Cambodia and Laos are the main structures.[47]

References

  1. Chad, Raymond (1 April 2005). "Regional Geographic Influence on Two Khmer Polities". Salve Regina University, Faculty and Staff: Articles and Papers: 137.
  2. https://it.wikisource.org/wiki/Relazione_del_primo_viaggio_intorno_al_mondo
  3. Stark, Miriam (2005). "Pre-Angkorian and Angkorian Cambodia" (PDF). In Glover, Ian; Bellwood, Peter S. Southeast Asia: from prehistory to history. Routledge. ISBN 978-0-415-39117-7.
  4. Stark, Miriam (2005). "Pre-Angkorian and Angkorian Cambodia" (PDF). In Glover, Ian; Bellwood, Peter S. Southeast Asia: from prehistory to history. Routledge. ISBN 978-0-415-39117-7.
  5. Tranet, Michel (20 October 2009). "The Second Prehistoric Archaeological Excavation in Laang Spean (2009)".
  6. "The Oldest Ceramic in Cambodia's Laang Spean (1966–68)". 20 October 2009.
  7. Higham, Charles (January 2002). The civilization of Angkor. Phoenix. ISBN 978-1-84212-584-7., pp.13–22
  8. "Research History". Memot Centre for Archaeology.
  9. Albrecht, Gerd; et al. (2000). "Circular Earthwork Krek 52/62 Recent Research on the Prehistory of Cambodia" (PDF). Asian Perspectives. 39 (1–2). ISSN 0066-8435.
  10. Higham, Charles (1989). The Archaeology of Mainland Southeast Asia. Cambridge University Press. ISBN 978-0-521-27525-5., p.120
  11. O'Reilly, Dougald J.W.; von den Driesch, Angela; Voeun, Vuthy (2006). "Archaeology and Archaeozoology of Phum Snay: A Late Prehistoric Cemetery in Northwestern Cambodia". 45 (2). ISSN 0066-8435.
  12. Domett, K. M., O'Reilly, D. J. W., & Buckley, H. R. (2011). Bioarchaeological evidence for conflict in Iron Age northwest Cambodia. Antiquity, 85(328).441–458
  13. Domett, K. M., O'Reilly, D. J. W., & Buckley, H. R. (2011). Bioarchaeological evidence for conflict in Iron Age northwest Cambodia. Antiquity, 85(328)
  14. Stark, Miriam (2005). "Pre-Angkorian and Angkorian Cambodia" (PDF). In Glover, Ian; Bellwood, Peter S. Southeast Asia: from prehistory to history. Routledge. ISBN 978-0-415-39117-7.
  15. Carter, A. K. (2011). Trade and Exchange Networks in Iron Age Cambodia: Preliminary Results from a Compositional Analysis of Glass Beads. Bulletin of the Indo-Pacific Prehistory Association, 30, 178–188.
  16. "History of Cambodia". Britannica.com.
  17. ."Khmer Empire Map". Art-and-archaeology.com.
  18. Cœdès, George. (1956) The Making of South East Asia,' pp.127–128.
  19. "Windows on Asia".
  20. Angkor Era – Part III (1181 – 1309 A.D), Cambodia Travel.
  21. Evans, D. (2007). "Proceedings of the National Academy of Sciences of the United States of America: A comprehensive archaeological map of the world's largest pre-industrial settlement complex at Angkor, Cambodia". Proceedings of the National Academy of Sciences. 104: 14277–14282. doi:10.1073/pnas.0702525104. PMC 1964867
  22. Metropolis: Angkor, the world's first mega-city, The Independent, 15 August 2007
  23. Chandler, David P. (1992) History of Cambodia. Boulder, CO: Westview Press, ISBN 0813335116.
  24. https://en.wikipedia.org/wiki/Angkor_Wat
  25. Chandler, David P. (1991) The Land and the People of Cambodia, HarperCollins. New York, New York. p. 77, ISBN 0060211296.
  26. Scientists dig and fly over Angkor in search of answers to golden city's fall, The Associated Press, 13 June 2004
  27. "Slavery in Nineteenth-Century Northern Thailand (Page 4 of 6)". Kyoto Review of South East Asia; (Colquhoun 1885:53).
  28. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.122
  29. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.32
  30. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.20-21
  31. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.62
  32. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.470
  33. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.396
  34. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations: p.298
  35. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/The Scythic origin of the Jats, p.196-197
  36. Mathur op.cit., p. 883. Radha Kumud Mukerji, Anc.Ind. Allahabad, 1966, pp. 489f
  37. Radha Kumud Mukerji, op.cit., p. 492.
  38. Ibid. Mathur, op.cit., p. 37. Takakusu, A record of the Buddhist Religion as practised in Ind. and the Malay Archipelago, Delhi, 1966, p. 41. Chaturvedi, Vimalkant: Bankok City of Buddha Temples. in 'The Suman Sauram' (Hind i), Jhandewala Estate, Rani Jhansi Marg, New Delhi, May 1988, p. 49. The city was destroyed by the Burmese army.
  39. Ency. America, No, 28, p.107. about 100,000 Indians [of Jat tribes of Dahiya (Dahae) and Mann?) migrated to Vietnam in prehistoric time. (within brackets mine).
  40. Bhim Singh Dahiya, Jats The Ancient Rulers, p.188
  41. P C Bagchi, op. cit., p.133
  42. S. Chatopadhyaya, Ethnic History of North India, p.117
  43. S R Goyal, A history of Imperial Guptas, p. 57
  44. PC Bagchi, op. cit., p. 134
  45. Bhim Singh Dahiya, Jats The Ancient Rulers, p.189
  46. Buddhism thrived in Rajasthan also around the Ashokan era’:Times of India Jaipur, Shoeb Khan, TNN, Jan 31, 2016
  47. Buddhism thrived in Rajasthan also around the Ashokan era’:Times of India Jaipur, Shoeb Khan, TNN, Jan 31, 2016