Europe

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Map of Europe
Major geographic features of Central Europe

Europe (यूरोप) is one of the world's seven continents. Comprising the westernmost peninsula of Eurasia, Europe is generally divided from Asia by the watershed divides of the Ural and Caucasus Mountains, the Ural River, the Caspian Sea and Black Sea, and the waterways connecting the Black Sea and Aegean Seas. During Mahabharata period Europe was known as Harivarsha (हरिवर्ष).[1]

Geographical boundaries

The modern physical geographic regions of Europe, include:

In Mahabharata

Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 25 mentions Harivarsha in verse (II.25.7)[2]. It mentions that the Pandavas crossing the White mountains, subjugated the country of the Kimpurushas....At last the son of the slayer of Paka, arriving in the country of North Harivarsha desired to conquer it. ...It was inhabited by Northen Kurus.

History

The use of the term "Europe" has developed gradually throughout history. In antiquity, the Greek historian Herodotus mentioned that the world had been divided by unknown persons into three parts, Europe, Asia, and Libya (Africa), with the Nile and the River Phasis forming their boundaries—though he also states that some considered the River Don, rather than the Phasis, as the boundary between Europe and Asia. Europe's eastern frontier was defined in the 1st century by geographer Strabo at the River Don. The Book of Jubilees described the continents as the lands given by Noah to his three sons; Europe was defined as stretching from the Pillars of Hercules at the Strait of Gibraltar, separating it from North Africa, to the Don, separating it from Asia.

Jat History

Hukum Singh Panwar (Pauria)[3] writes... The Indo-Aryan had colonised Anatolia and established the Vedic culture there (Nevali Cori) in 7300 B.C After them the Getae (5000 B.C.), the Panis or Punis or Phoenicians (3500 B.C.) and others went to Europe via Middle East, Asia Minor or Anatolia . The Indo-Aryans tribes migrated to the western countries as far as Scandanavia. On their way out they had intermittent stay and settlements, temporary or permanent, in suitable climes and countries. Orlova does not seem to have taken into consideration this significant factor.

Migration of Jats from Sapta Sindhu

Hukum Singh Panwar (Pauria)[4] writes... Just see the remarkable parallels between the functioning of the Germans and the Indian Jat tribal "Khaap" and "Sarvakhaap" panchayats. This further reminds us of the Vedic republican communities (the Panchajatah or Panchajna), who are, as we shall have occasion to show in the next chapter, considered by us as the common ancestors of the Indian Jats and the German Goths or Gots.

Before concluding, we may go into the question of identity of the Teutons and the Swedes. The Teutons were Aryans including High and low Germans and Scandanavians, and to be more specific Goths (Gots, Getae, Jats, Juts), Lombards (Lampaka or Lamba), Normans, Franks (Vrkas, Saxons (Sacae Getae) and Angles[5] The Suevis (Sivis) including the Vilka (Virkas), the Manns (Mans) the Schillers (Chhilller) (Within brackets I gave the Indian names of the tribes.) etc. who, as we shall note (infra), migrated from the Sapta Sindhu to the Scandanavian countries in ancient times, were known as


The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations: End of p.159


Svi Thjoth or Sui or (Suiones) Joth[6], (Sivi or Sibi Jat), in archaic Norse, and ultimately as the Swedes. Mr. B.S.Dahiya[7] has assiduously pin-pointed nearly 250 European communities whose names are identified by him with the surnames (gotras) of the Indian Jats. The Sivis were probably earliest migrants as leaders of these tribes. It is these tribes whose anthropological details are given above. In the light of the aforesaid evidence we can reasonably assert that the physical characteristics of the Sivisa (Suevis) and their descendents (the victims of Dasarajna wars, who managed, by hook or by crook, to remain in the Harappan region, cannot be different from those of ones who perforce left the country for good or were deported to their new home in the Scandanavian countries[8].

DNA study on Y-STR Haplogroup Diversity in the Jat Population

David G. Mahal and Ianis G. Matsoukas[9] conducted a scientific study on Y-STR Haplogroup Diversity in the Jat Population of which brief Conclusion is as under:

The Jats represent a large ethnic community that has inhabited the northwest region of India and Pakistan for several thousand years. It is estimated the community has a population of over 123 million people. Many historians and academics have asserted that the Jats are descendants of Aryans, Scythians, or other ancient people that arrived and lived in northern India at one time. Essentially, the specific origin of these people has remained a matter of contention for a long time. This study demonstrated that the origins of Jats can be clarified by identifying their Y-chromosome haplogroups and tracing their genetic markers on the Y-DNA haplogroup tree. A sample of 302 Y-chromosome haplotypes of Jats in India and Pakistan was analyzed. The results showed that the sample population had several different lines of ancestry and emerged from at least nine different geographical regions of the world. It also became evident that the Jats did not have a unique set of genes, but shared an underlying genetic unity with several other ethnic communities in the Indian subcontinent. A startling new assessment of the genetic ancient origins of these people was revealed with DNA science.

The human Y-chromosome provides a powerful molecular tool for analyzing Y-STR haplotypes and determining their haplogroups which lead to the ancient geographic origins of individuals. For this study, the Jats and 38 other ethnic groups in the Indian subcontinent were analyzed, and their haplogroups were compared. Using genetic markers and available descriptions of haplogroups from the Y-DNA phylogenetic tree, the geographic origins and migratory paths of their ancestors were traced.

The study demonstrated that based on their genetic makeup, the Jats belonged to at least nine specific haplogroups, with nine different lines of ancestry and geographic origins. About 90% of the Jats in our sample belonged to only four different lines of ancestry and geographic origins:

1. Haplogroup L (36.8%)- The origins of this haplogroup can be traced to the rugged and mountainous Pamir Knot region in Tajikistan.

2. Haplogroup R (28.5%): From somewhere in Central Asia, some descendants of the man carrying the M207 mutation on the Y chromosome headed south to arrive in India about 10,000 years ago (Wells, 2007). This is one of the largest haplogroups in India and Pakistan. Of its key subclades, R2 is observed especially in India and central Asia.

3. Haplogroup Q (15.6%): With its origins in central Asia, descendants of this group are linked to the Huns, Mongols, and Turkic people. In Europe it is found in southern Sweden, among Ashkenazi Jews, and in central and Eastern Europe such as, the Rhône-Alpes region of France, southern Sicily, southern Croatia, northern Serbia, parts of Poland and Ukraine.

4. Haplogroup J (9.6%): The ancestor of this haplogroup was born in the Middle East area known as the Fertile Crescent, comprising Israel, the West Bank, Jordon, Lebanon, Syria, and Iraq. Middle Eastern traders brought this genetic marker to the Indian subcontinent (Kerchner, 2013).

5.-9. Haplogroups E, G, H, I, T (9.5%): The ancestors of the remaining five haplogroups E, G, H, I, and T can be traced to different parts of Africa, Middle East, South Central Asia, and Europe (ISOGG, 2016).

Therefore, attributing the origins of this entire ethnic group to loosely defined ancient populations such as, Indo-Aryans or Indo-Scythians represents very broad generalities and cannot be supported. The study also revealed that even with their different languages, religions, nationalities, customs, cuisines, and physical differences, the Jats shared their haplogroups with several other ethnic groups of the Indian subcontinent, and had the same common ancestors and geographic origins in the distant past. Based on recent developments in DNA science, this study provided new insights into the ancient geographic origins of this major ethnic group in the Indian subcontinent. A larger dataset, particularly with more representation of Muslim Jats, is likely to reveal some additional haplogroups and geographical origins for this ethnic group.

Jat clans in Europe and Africa

According to Dalip Singh Ahlawat [10] Jat clans in Europe and Africa are:


जाटों का शासन

दलीप सिंह अहलावत[11] ने लिखा है.... ययाति जम्बूद्वीप के सम्राट् थे। जम्बूद्वीप आज का एशिया समझो। यह मंगोलिया से सीरिया तक और साइबेरिया से भारतवर्ष शामिल करके था। इसके बीच के सब देश शामिल करके जम्बूद्वीप कहलाता था। कानपुर से तीन मील पर जाजपुर स्थान के किले का ध्वंसावशेष आज भी ‘ययाति के कोट’ नाम पर प्रसिद्ध है। राजस्थान में सांभर झील के पास एक ‘देवयानी’ नामक कुंवा है जिसमें शर्मिष्ठा ने वैरवश देवयानी को धकेल दिया था, जिसको ययाति ने बाहर निकाल लिया था[12]। इस प्रकार ययाति राज्य के चिह्न आज भी विद्यमान हैं।

महाराजा ययाति का पुत्र पुरु अपने पिता का सेवक व आज्ञाकारी था, इसी कारण ययाति ने पुरु को राज्य भार दिया। परन्तु शेष पुत्रों को भी राज्य से वंचित न रखा। वह बंटवारा इस प्रकार था -

1. यदु को दक्षिण का भाग (जिसमें हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरयाणा, राजस्थान, दिल्ली तथा इन प्रान्तों से लगा उत्तर प्रदेश, गुजरात एवं कच्छ हैं)।

2. तुर्वसु को पश्चिम का भाग (जिसमें आज पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान, इराक, सऊदी अरब,यमन, इथियोपिया, केन्या, सूडान, मिश्र, लिबिया, अल्जीरिया, तुर्की, यूनान हैं)।

3. द्रुहयु को दक्षिण पूर्व का भाग दिया।

4. अनु को उत्तर का भाग (इसमें उत्तरदिग्वाची[13] सभी देश हैं) दिया। आज के हिमालय पर्वत से लेकर उत्तर में चीन, मंगोलिया, रूस, साइबेरिया, उत्तरी ध्रुव आदि सभी इस में हैं।

5. पुरु को सम्राट् पद पर अभिषेक कर, बड़े भाइयों को उसके अधीन रखकर ययाति वन में चला गया[14]। यदु से यादव क्षत्रिय उत्पन्न हुए। तुर्वसु की सन्तान यवन कहलाई। द्रुहयु के पुत्र भोज नाम से प्रसिद्ध हुए। अनु से म्लेच्छ जातियां उत्पन्न हुईं। पुरु से पौरव वंश चला[15]

जब हम जाटों की प्राचीन निवास भूमि का वर्णन पढते हैं तो कुभा (काबुल) और कृमि (कुर्रम) नदी उसकी पच्छिमी सीमायें, तिब्बत की पर्वतमाला पूर्वी सीमा, जगजार्टिस और अक्सस नदी


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-185


उत्तरी सीमा और नर्मदा नदी दक्षिणी सीमा बनाती है। वास्तव में यह देश उन आर्यों का है जो चन्द्रवंशी अथवा यदु, द्रुहयु, तुर्वसु, कुरु और पुरु कहलाते थे। भगवान् श्रीकृष्ण के सिद्धान्तों को इनमें से प्रायः सभी ने अपना लिया था। अतः समय अनुसार वे सब जाट कहलाने लग गये। इन सभी खानदानों की पुराणों ने स्पष्ट और अस्पष्ट निन्दा ही की है। या तो इन्होंने आरम्भ से ही ब्राह्मणों के बड़प्पन को स्वीकार नहीं किया था या बौद्ध-काल में ये प्रायः सभी बौद्ध हो गये थे। वाह्लीक,तक्षक, कुशान, शिव, मल्ल, क्षुद्रक (शुद्रक), नव आदि सभी खानदान जिनका महाभारत और बौद्धकाल में नाम आता है वे इन्हीं यदु, द्रुहयु, कुरु और पुरुओं के उत्तराधिकारी (शाखायें) हैं[16]

सम्राट् ययातिपुत्र यदु और यादवों के वंशज जाटों का इस भूमि पर लगभग एक अरब चौरानवें करोड़ वर्ष से शासन है। यदु के वंशज कुछ समय तो यदु के नाम से प्रसिद्ध रहे थे, किन्तु भाषा में ‘य’ को ‘ज’ बोले जाने के कारण जदु-जद्दू-जट्टू-जाट कहलाये। कुछ लोगों ने अपने को ‘यायात’ (ययातेः पुत्राः यायाताः) कहना आरम्भ किया जो ‘जाजात’ दो समानाक्षरों का पास ही में सन्निवेश हो तो एक नष्ट हो जाता है। अतः जात और फिर जाट हुआ। तीसरी शताब्दी में इन यायातों का जापान पर अधिकार था (विश्वकोश नागरी प्र० खं० पृ० 467)। ये ययाति के वंशधर भारत में आदि क्षत्रिय हैं जो आज जाट कहे जाते हैं। भारतीय व्याकरण के अभाव में शुद्धाशुद्ध पर विचार न था। अतः यदोः को यदो ही उच्चारण सुनकर संस्कृत में स्त्रीलिंग के कारण उसे यहुदी कहना आरम्भ किया, जो फिर बदलकर लोकमानस में यहूदी हो गया। यहूदी जन्म से होता है, कर्म से नहीं। यह सिद्धान्त भी भारतीय धारा का है। ईसा स्वयं यहूदी था। वर्त्तमान ईसाई मत यहूदी धर्म का नवीन संस्करण मात्र है। बाइबिल अध्ययन से यह स्पष्ट है कि वह भारतीय संसकारों का अधूरा अनुवाद मात्र है।

अब यह सिद्ध हो गया कि जर्मनी, इंग्लैंण्ड, स्काटलैण्ड, नार्वे, स्वीडन, रूस, चेकोस्लोवाकिया आदि अर्थात् पूरा यूरोप और एशिया के मनुष्य ययाति के पौत्रों का परिवार है। जम्बूद्वीप, जो आज एशिया कहा जाता है, इसके शासक जाट थे[17]

प्राचीनकाल में यूरोप देश

दलीप सिंह अहलावत[18] लिखते हैं: यूरोप देश - इस देश को प्राचीनकाल में कारुपथ तथा अङ्गदियापुरी कहते थे, जिसको श्रीमान् महाराज रामचन्द्र जी के आज्ञानुसार लक्ष्मण जी ने एक वर्ष यूरोप में रहकर अपने ज्येष्ठ पुत्र अंगद के लिए आबाद किया था जो कि द्वापर में हरिवर्ष तथा अंगदेश और अब हंगरी आदि नामों से प्रसिद्ध है। अंगदियापुरी के दक्षिणी भाग में रूम सागर और अटलांटिक सागर के किनारे-किनारे अफ्रीका निवासी हब्शी आदि राक्षस जातियों के आक्रमण रोकने के लिए लक्ष्मण जी ने वीर सैनिकों की छावनियां आवर्त्त कीं। जिसको अब ऑस्ट्रिया कहते हैं। उत्तरी भाग में ब्रह्मपुरी बसाई जिसको अब जर्मनी कहते हैं। दोनों भागों के मध्य लक्ष्मण जी ने अपना हैडक्वार्टर बनाया जिसको अब लक्षमबर्ग कहते हैं। उसी के पास श्री रामचन्द्र जी के खानदानी नाम नारायण से नारायण मंडी आबाद हुई जिसको अब नॉरमण्डी कहते हैं। नॉरमण्डी के निकट एक दूसरे से मिले हुए द्वीप अंगलेशी नाम से आवर्त्त हुए जिसको पहले ऐंग्लेसी कहते थे और अब इंग्लैण्ड कहते हैं।

द्वापर के अन्त में अंगदियापुरी देश, अंगदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ, जिसका राज्य सम्राट् दुर्योधन ने अपने मित्र राजा कर्ण को दे दिया था। करीब-करीब यूरोप के समस्त देशों का राज्य शासन आज तक महात्मा अंगद के उत्तराधिकारी अंगवंशीय तथा अंगलेशों के हाथ में है, जो कि ऐंग्लो, एंग्लोसेक्शन, ऐंग्लेसी, इंगलिश, इंगेरियन्स आदि नामों से प्रसिद्ध है और जर्मनी में आज तक संस्कृत भाषा का आदर तथा वेदों के स्वाध्याय का प्रचार है। (पृ० 1-3)।

यूरोप अपभ्रंश है युवरोप का। युव-युवराज, रोप-आरोप किया हुआ। तात्पर्य है उस देश से, जो लक्ष्मण जी के ज्येष्ठपुत्र अङ्गद के लिए आवर्त्त किया गया था। यूरोप के निवासी यूरोपियन्स कहलाते हैं। यूरोपियन्स बहुवचन है यूरोपियन का। यूरोपियन विशेषण है यूरोपी का। यूरोपी अपभ्रंश है युवरोपी का। तात्पर्य है उन लोगों से जो यूरोप देश में युवराज अङ्गद के साथ भेजे और बसाए गये थे। (पृ० 4)

कारुपथ यौगिक शब्द है कारु + पथ का। कारु = कारो, पथ = रास्ता। तात्पर्य है उस देश से जो भूमध्य रेखा से बहुत दूर कार्पेथियन पर्वत (Carpathian Mts.) के चारों ओर ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, इंग्लैण्ड, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी आदि नामों से फैला हुआ है। जैसे एशिया में हिमालय पर्वतमाला है, इसी तरह यूरोप में कार्पेथियन पर्वतमाला है।

इससे सिद्ध हुआ कि श्री रामचन्द्र जी के समय तक वीरान यूरोप देश कारुपथ देश कहलाता था। उसके आबाद करने पर युवरोप, अङ्गदियापुरी तथा अङ्गदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ और ग्रेट ब्रिटेन, आयरलैण्ड, ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी, फ्रांस, बेल्जियम, हालैण्ड, डेनमार्क, स्विट्जरलैंड, इटली, पोलैंड आदि अङ्गदियापुरी के प्रान्तमात्र महात्मा अङ्गद के क्षेत्र शासन के आधारी किये गये थे। (पृ० 4-5)

नोट - महाभारतकाल में यूरोप को ‘हरिवर्ष’ कहते हैं। हरि कहते हैं बन्दर को। उस देश में अब भी रक्तमुख अर्थात् वानर के समान भूरे नेत्र वाले होते हैं। ‘यूरोप’ को संस्कृत में ‘हरिवर्ष’ कहते थे। [19]

इतिहास

ठाकुर देशराज[20] ने लिखा है .... यूरोप के लोग जाटों को यूरोप में असीरिया से आया हुआ मानते हैं। यह असीरिया ईरान का ही प्रांत है। जिसे मालवा के असीगढ़ से जाकर जाटों ने बसाया था। यहीं पर एक लाहियान जिला भी है। भारत के लोहियान जाट इसी जिले से लौटे हुए हैं।

जाटों का यूरोप की ओर बढ़ना

ठाकुर देशराज[21] ने लिखा है .... हूणों के आक्रमण के समय जगजार्टिस और आक्सस नदियों के किनारे तथा कैस्पियन सागर के तट पर बसे हुए जाट यूरोप की ओर बढ़ गए। एशियाई देशों में जिस समय हूणों का उपद्रव था, उसी समय यूरोप में जाट लोगों का


[पृ.154]: धावा होता है। कारण कि आंधी की भांति उठे हुए हूणों ने जाटों को उनके स्थानों से उखाड़ दिया था। जाट समूहों ने सबसे पहले स्केंडिनेविया और जर्मनी पर कब्जा किया। कर्नल टॉड, मिस्टर पिंकर्टन, मिस्टर जन्स्टर्न, डिगाइन, प्लीनी आदि अनेक यूरोपियन लेखकों ने उनका जर्मनी, स्केंडिनेविया, रूम, स्पेन, गाल, जटलैंड और इटली आदि पर आक्रमण करने का वर्णन किया है। इन वर्णनों में में कहीं उन्हें, जेटा, कहीं जेटी, और कहीं गाथ नाम से पुकारा है। क्योंकि विजेता जाटों के यह सारे समूह ईरान और का कैस्पियन समुद्र के किनारे से यूरोप की ओर बढ़े थे। इसीलिए यूरोपीय देशों में उन्हें शकसिथियन के नाम से भी याद किया गया है। ईरान को शाकद्वीप कहते हैं। इसीलिए इरान के निवासी शक कहलाते थे। यूरोपियन इतिहासकारों का कहना है कि जर्मनी की जो स्वतंत्र रियासतें हैं, और जो सैक्सन रियासतों के नाम से पुकारी जाती हैं। इन्हीं शक जाटों की हैं। वे रियासतें विजेता जाटों ने कायम की थी। हम यह मानते हैं और यह भी मानते हैं कि वे जाट शाकद्वीप से ही गए थे। किंतु यूरोपियन लेखकों के दिमाग में इतना और बिठाना चाहते हैं कि शाल-द्वीप में वे जाट भारत से गए थे। और वे उन खानदानों में से थे जो राम, कृष्ण और यदु कुरुओं के कहलाते हैं।

यूरोप में जाने वाले जाटों ने राज्य तो कायम किए ही थे साथ ही उन्होंने यूरोप को कुछ सिखाया भी था। प्रातः बिस्तरे


[पृ.155]: से उठकर नहाना, ईश्वर आराधना करना, तलवार और घोड़े की पूजा, शांति के समय खेती करना,भैंसों से काम लेना यह सब बातें उन्होंने यूरोप को सिखाई थी। कई स्थानों पर उन्होंने विजय स्तंभ भी खड़े किए थे। जर्मनी में राइन नदी के किनारे का उनका स्तंभ काफी मशहूर रहा था।

भारत माता के इन विजयी पुत्रों ने यूरोप में जाकर भी बहुत काल तक वैदिक धर्म का पालन किया था। किंतु परिस्थितियों ने आखिर उन्हें ईसाई होने पर बाध्य कर ही दिया। यदि भारत के धर्म प्रचारक वहां पहुंचते रहते तो वह हरगिज ईसाई ना होते। किंतु भारत में तो सवा दो हजार वर्ष से एक संकुचित धर्म का रवैया रहा है जो कमबख्त हिंदूधर्म के नाम से मशहूर है। उनकी रस्म रिवाजों और समारोहों के संबंध में जो मैटर प्राप्त होता है उसका सारांश इस प्रकार है:-

  • जेहून और जगजार्टिस नदी के किनारे के जाट प्रत्येक संक्रांति पर बड़ा समारोह किया करते थे।
  • विजयी अटीला जाट सरदार ने एलन्स के किले में बड़े समारोह के साथ खङ्ग पूजा का उत्सव मनाया था।
  • जर्मनी के जाट लंबे और ढीले कपड़े पहनते थे और सिर के बालों की एक बेणी बनाकर गुच्छे के समान मस्तक के ऊपर बांध लेते थे।

[पृ.156]:
  • उनके झंडे पर बलराम के हल का चित्र था। युद्ध में वे शूल (बरछे) और मुग्दर (गदा) को काम में लाते थे।
  • वे विपत्ति के समय अपनी स्त्रियॉं की सम्मति को बहुत महत्व देते थे।
  • उनकी स्त्रियां प्रायः सती होने को अच्छा समझती थी।
  • वे विजिट लोगों को गुलाम नहीं मानते थे। उनकी अच्छी बातों को स्वीकार करने में वे अपनी हेटी नहीं समझते थे।
  • लड़ाई के समय वे ऐसा ख्याल करते थे कि खून के खप्पर लेकर योगनियां रणक्षेत्र में आती हैं।

बहादुर जाटों के ये वर्णन जहां प्रसन्नता से हमारी छाती को फूलाते हैं वहां हमें हृदय भर कर रोने को भी बाध्य करते हैं। शोक है उन जगत-विजेता वीरों की कीर्ति से भी जाट जगत परिचित नहीं है।

प्राचीनकाल में यूरोप देश

दलीप सिंह अहलावत[22] लिखते हैं: यूरोप देश - इस देश को प्राचीनकाल में कारुपथ तथा अङ्गदियापुरी कहते थे, जिसको श्रीमान् महाराज रामचन्द्र जी के आज्ञानुसार लक्ष्मण जी ने एक वर्ष यूरोप में रहकर अपने ज्येष्ठ पुत्र अंगद के लिए आबाद किया था जो कि द्वापर में हरिवर्ष तथा अंगदेश और अब हंगरी आदि नामों से प्रसिद्ध है। अंगदियापुरी के दक्षिणी भाग में रूम सागर और अटलांटिक सागर के किनारे-किनारे अफ्रीका निवासी हब्शी आदि राक्षस जातियों के आक्रमण रोकने के लिए लक्ष्मण जी ने वीर सैनिकों की छावनियां आवर्त्त कीं। जिसको अब ऑस्ट्रिया कहते हैं। उत्तरी भाग में ब्रह्मपुरी बसाई जिसको अब जर्मनी कहते हैं। दोनों भागों के मध्य लक्ष्मण जी ने अपना हैडक्वार्टर बनाया जिसको अब लक्षमबर्ग कहते हैं। उसी के पास श्री रामचन्द्र जी के खानदानी नाम नारायण से नारायण मंडी आबाद हुई जिसको अब नॉरमण्डी कहते हैं। नॉरमण्डी के निकट एक दूसरे से मिले हुए द्वीप अंगलेशी नाम से आवर्त्त हुए जिसको पहले ऐंग्लेसी कहते थे और अब इंग्लैण्ड कहते हैं।

द्वापर के अन्त में अंगदियापुरी देश, अंगदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ, जिसका राज्य सम्राट् दुर्योधन ने अपने मित्र राजा कर्ण को दे दिया था। करीब-करीब यूरोप के समस्त देशों का राज्य शासन आज तक महात्मा अंगद के उत्तराधिकारी अंगवंशीय तथा अंगलेशों के हाथ में है, जो कि ऐंग्लो, एंग्लोसेक्शन, ऐंग्लेसी, इंगलिश, इंगेरियन्स आदि नामों से प्रसिद्ध है और जर्मनी में आज तक संस्कृत भाषा का आदर तथा वेदों के स्वाध्याय का प्रचार है। (पृ० 1-3)।

यूरोप अपभ्रंश है युवरोप का। युव-युवराज, रोप-आरोप किया हुआ। तात्पर्य है उस देश से, जो लक्ष्मण जी के ज्येष्ठपुत्र अङ्गद के लिए आवर्त्त किया गया था। यूरोप के निवासी यूरोपियन्स कहलाते हैं। यूरोपियन्स बहुवचन है यूरोपियन का। यूरोपियन विशेषण है यूरोपी का। यूरोपी अपभ्रंश है युवरोपी का। तात्पर्य है उन लोगों से जो यूरोप देश में युवराज अङ्गद के साथ भेजे और बसाए गये थे। (पृ० 4)

कारुपथ यौगिक शब्द है कारु + पथ का। कारु = कारो, पथ = रास्ता। तात्पर्य है उस देश से जो भूमध्य रेखा से बहुत दूर कार्पेथियन पर्वत (Carpathian Mts.) के चारों ओर ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, इंग्लैण्ड, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी आदि नामों से फैला हुआ है। जैसे एशिया में हिमालय पर्वतमाला है, इसी तरह यूरोप में कार्पेथियन पर्वतमाला है।

इससे सिद्ध हुआ कि श्री रामचन्द्र जी के समय तक वीरान यूरोप देश कारुपथ देश कहलाता था। उसके आबाद करने पर युवरोप, अङ्गदियापुरी तथा अङ्गदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ और ग्रेट ब्रिटेन, आयरलैण्ड, ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी, फ्रांस, बेल्जियम, हालैण्ड, डेनमार्क, स्विट्जरलैंड, इटली, पोलैंड आदि अङ्गदियापुरी के प्रान्तमात्र महात्मा अङ्गद के क्षेत्र शासन के आधारी किये गये थे। (पृ० 4-5)

नोट - महाभारतकाल में यूरोप को ‘हरिवर्ष’ कहते हैं। हरि कहते हैं बन्दर को। उस देश में अब भी रक्तमुख अर्थात् वानर के समान भूरे नेत्र वाले होते हैं। ‘यूरोप’ को संस्कृत में ‘हरिवर्ष’ कहते थे। [23]

यूरोप तथा अफ्रीका

दलीप सिंह अहलावत[24] ने लिखा है.... यूरोप तथा अफ्रीका में जिन जाटगोत्रों के निवास, शक्ति तथा शासन रहे उनमें से कुछ का ब्यौरा निम्नलिखित है -


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-383


यूरोप में जाटों का प्रवेश -

पिछले पृष्ठों पर यह लिख दिया गया है कि भारतवर्ष से बाहर कहीं जाटों का अस्तित्व मिलता है तो उसकी जड़ भारत ही है। (मुगल साम्राज्य का क्षय और उसके कारण, पुस्तक)।

सीथिया देश के वर्णन में लिख दिया है इसकी पश्चिमी सीमा डैन्यूब नदी तक फैली हुई थे और शक जाटों के नाम से इस विशाल देश का नाम शकावस्ता पड़ा और बाद में अपभ्रंश सीथिया पड़ गया। इस देश के निवासी तथा शासक शक जाटों को सीथिया जाट कहा गया। शक एवं सीथियन जाट एक ही हैं।

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 26-27 पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि “सीथियन लोगों को नक्शे पर काला सागर के पश्चिम की ओर डेन्यूब एवं डॉन नदियों पर दिखलाया है। शक और सीथियन एक ही थे। हिस्टोरियन्ज़ हिस्ट्री ऑफ दी वर्ल्ड के अनुसार मध्यएशिया तथा उत्तरी यूरोप के सीथियन्ज़ ने सदा अपनी पड़ौसी जातियों पर आक्रमण किये।” आगे यही लेखक पृ० 154 पर लिखते हैं कि “जाट मध्यएशिया से भिन्न-भिन्न दिशाओं में फैल गये, जिनमें से बहुत से यूरोप में प्रवेश कर गये जहां उनको गोथ-गोट-जूट नाम से पुकारा गया। शिवि जाट स्केण्डेनेविया और स्पेन में गये। ”

अनटिक्विटी ऑफ दी जाट रेस, पृ० 7 पर उजागरसिंह माहिल ने लिखा है कि “सीथिया देश से जाटों की विजयें सब दिशाओं में सारे संसार में फैल गईं।”

जाट्स दी एन्शन्ट रूलर्ज, लेखक बी० एस० दहिया ने पृ० 268 पर लिखा है कि “पूनिया तथा तोखर जाट 600 ई० पू० यूरोप में थे।”

तृतीय अध्याय, शिवि-शैव्य जाटवंश के प्रकरण में लिखा गया है कि इन जाटों का एक समूह भारतवर्ष से ईरान और फिर वहां से जाटों के अन्य दलों के साथ यूरोप में बढ़ गया। इन लोगों का निवास स्केण्डेनेविया में भी हुआ। प्रसिद्ध लेखक टसीटस, टालेमी व पिंकर्टन तीनों का ही कहना है कि “जटलैण्ड में जट (जाट) लोगों की छः जातियां (वंश) थी जिनमें सुएवी ( शिवि), किम्ब्री (कृमि), हेमेन्द्री और कट्टी भी शामिल थीं जो एल्व नदी (उत्तर जर्मनी में) और वेजर नदी के मुहाने तक फैल गईं थीं। वहां पर इन्होंने युद्ध के देवता के नाम पर इमर्नश्यूल नाम का स्तूप खड़ा किया था।”

जाट इतिहास, लेखक ठा० देशराज ने पृ० 178-179 पर लिखा है कि “जाट लोगों ने स्केण्डेनेविया में ईसा से 500 वर्ष पहले प्रवेश किया था। उनके नेता (देवता) का नाम ओडिन था। वहां के प्रसिद्ध इतिहासकार मि० जन्सटर्न स्वयं अपने को ओडियन की सन्तान मानते हैं।” हैरोडोटस कहता है कि “शक द्वीप के निवासी जब मरते थे तो उनके प्यारे घोड़े उनके साथ जलाये जाते थे और जब स्कन्धनाभ (स्केण्डेनेविया) के जित (जाट) मरते थे तो उनके घोड़े गाड़ दिए जाते थे। स्कन्धनाभ वाले और अमू दरिया के किनारे रहने वाले जित (जाट) लोग सजातीय मृतक पुरुष


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-384


की भस्मी पर ऊंची वेदिका बनाया करते थे। जिस समय जिट (जाट) लोगों की बलाग्नि से सारा यूरोप संताप पा रहा था, उस काल में शस्त्रपूजा की प्रथा विशेष उन्नति पर पहुंच गई थी। कहते हैं कि प्रचण्ड जिट वीरों ने आटेला और एथन्ज नगर में महा धूमधाम के साथ अपने अस्त्र-शस्त्रादि की पूजा की थी।” (हिन्दी टॉड राजस्थान अध्याय 5)

स्कन्धनाभ में बस जाने के बाद जाटों का नाम असि भी पड़ गया था। यह नाम उस समय पड़ा जबकि इन्होंने जटलैण्डगोथलैण्ड (गॉड लैंड) बसाये। एड्डा में लिखा है कि “स्कन्धनाभ में प्रवेश करने वाले जेटी अथवा जट लोग असि नाम से विख्यात थे, उनकी पूर्व बस्ती असिगाई थी।” असिगाईअसिगढ़ नीमाड़ (भारत) में है।

नोट

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 47 बी० एस० दहिया ने लिखा है कि “स्केण्डेनेविया की धर्मपुस्तक एड्डा में लिखा है कि स्केण्डेनेविया के प्राचीन निवासी जट्टास (जाट) थे जो कि आर्य कहलाते थे। आज भी ये लोग अपने को जाट कहते हैं चाहे ये भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान या मध्यएशिया, डेनमार्क या जर्मनी आदि में रहते हैं।” आगे यही लेखक पृ० 26 पर लिखते हैं कि “स्केण्डेनेविया के प्राचीन निवासी जाट लोग थे, इसका एक यह भी प्रमाण है कि वहां पर आज भी भाईचारा के आधार पर खेती-बाड़ी की जाती है जबकि यह प्रथा केवल भारत के जाटों में ही प्रचलित है तथा संसार की किसी अन्य जाति में नहीं है।”

यूरोप में जाट के भिन्न-भिन्न नाम तथा उनकी परिभाषा

यूरोप में जाट को गेटा-गेटे, गोथ तथा जूट आदि नामों से पुकारा जाता है। ये नाम जाट से वहां की भाषा में “गरिमज़ के परिवर्तन के सिद्धान्त” के अनुसार बनते हैं। (देखो, द्वितीय अध्याय)।

1. गेटाई/ गेटे नाम - थ्रेस, लेटिन, मध्यएशिया तथा यूनान में बोला जाता है। थ्रेस प्रदेश सीथिया देश का एक प्रान्त है जो कि आज बुल्गारिया कहा जाता है। यह बल-बालान के नाम पर रहा है।

2. गोथ/ गाट नाम - स्वीडन, यूरोप के अनेक देशों में बोला जाता है।

3. जूट/ जुट नाम - डेन्मार्क एवं उसके प्रान्त जटलैण्ड में बोला जाता है।

3. डेन (Danes), विकिंग्ज (Vikings) या नॉरमन (Normans), एंजिल्स (Angels) और सेक्सन्स (Saxons) -

गोथ - जार्डेन ने गोथों का इतिहास लिखा है जिसका वर्णन कासीओडोरस के इतिहास पर आधारित है। उसने स्पष्टरूप से गोथों का सम्बन्ध थ्रेश के गेटाई (गेटे) के साथ किया है। स्वीडन


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-385


में जाटों को गोथ नाम से कहा जाता है। स्वीडन में गोथों (गाट-जाट) के नाम पर एक द्वीप गॉटलैंड नामक है। हैविट ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक “दी रूलिंग रेसिज़ ऑफ दी प्रीहिस्टोरिक टाईम्ज” के पृष्ठ 481 पर लिखा है कि गोथलैंड के गोथ लोग जाट हैं1

जूट्स - प्रसिद्ध अंग्रेज इतिहासकार ग्रीन लिखता है कि “जूट्स यूरोपियन कबीले के थे, जिनका नाम उनके प्रदेश जटलैण्ड (डेनमार्क में) आज भी विद्यमान है।” गार्डीनर भी कहता है कि “जटलैण्ड जूट्स (जाटों) का घर है।” जूट्स, सीथियन जाट थे।

डेन्ज - जूट्स लोग जो कि गोथलैण्ड के गोथों के पड़ौसी थे, यही बाद में डेन्ज नाम से कहे गये2

विकिंग्ज या नॉरमन - इंग्लैण्ड का इतिहास, पृ० 40 पर लेखक विशनदास ने लिखा है कि “जो आक्रमणकारी स्केण्डेनेविया से आये उन्हें नार्थमेन, नार्समेन, विकिंग्ज और डेन आदि भिन्न-भिन्न नामों से पुकारा जाता है। वे बड़े बलवान् और उग्र थे। उनका आकार बहुत बड़ा और शरीर बड़े दृढ़ थे। वे बड़े साहसी और बहादुर नाविक थे और उन्होंने अनेक देशों की यात्राएं कीं। वे अपने जहाजों में ग्रीनलैण्ड पहुंचे और अमेरिका भी गये। वे रूम सागर में घुस गये थे और उन्होंने सिसिली तथा दक्षिण इटली में भी एक राज्य स्थापित किया था। उनका एक दल रूस गया और वहां उन्होंने एक राज्य स्थापित किया। एक दूसरे दल ने फ्रांस का कुछ भाग विजय कर लिया और फिर वे फ्रांस के राजा की नाममात्र की प्रजा बन गये। इन लोगों का नाम नॉरमन प्रसिद्ध हुआ और इनका प्रदेश नॉरमण्डी कहलाया।”

अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 13 पर उजागरसिंह माहिल ने लिखा है कि “जूट्स डेन्ज और नॉरमन्ज या विकिग्ज सब सीथियन जाटों के ही भिन्न-भिन्न नाम हैं। विकिंग्ज नार्थमेन कहलाते थे क्योंकि वे नार्थ (उत्तर) में रहते थे जबकि ऐंग्ल्स (Angels) और सैक्सन्स (Saxons) दक्षिण में रहते थे। अन्त में नार्थमेन को संक्षेप में नॉरमन पुकारा जाने लगा। सन् 912 ई० में इन नॉरमन लोगों ने ‘रोल्फ दी गेंजर’ के नेतृत्व में फ्रांस के समुद्री तट के क्षेत्र में अपनी एक बस्ती स्थापित की जो नॉरमण्डी (नार्थमण्डी) कही जाती है। डेन्ज तथा नॉरमन ने इंग्लैंड पर नई-नई विजय प्राप्त की थी। ‘ड्यूक ऑफ नॉरमण्डी’ इंग्लैंड का राजा बन गया था।”

तात्पर्य यह है कि जहां कहीं पर गेटाई-गेटे, गोथ, जूट, डेन्ज, विकिंग्ज या नॉरमन नाम आते हैं तो उनको जाट समझो।

ट्यूटानिक वंश - इस वंश के इतिहास के विषय में इतिहासकारों के मत -

  • 1. ‘इंग्लैण्ड का इतिहास’, पृ० 118-119 पर प्रो० विशनदास ने लिखा है कि “नॉरमन लोग डेनों के चचेरे भाई थे और डेन लोग एंग्लो-सैक्सन लोगों के चचेरे भाई थे। एंग्लो-सैक्सन डेन और नॉरमन ट्यूटानिक वंश में से थे। ट्यूटानिक शब्द जूट्स, सैक्सन्स और ऐंग्लस पर सामूहिक रूप से लागू किया जाता है। जब उन्होंने इंग्लैंड पर आक्रमण किया तो ये वहीं बस गये, परन्तु यहां स्थान की कमी के कारण उनमें से कुछ लोग उत्तरी यूरोप में

1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 10, लेखक उजागरसिंह माहिल।
2. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 12, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-386


चले गये और उन्होंने स्केण्डेनेविया को अपना घर बना लिया। कुछ समय के बाद इन्हीं स्केण्डेनेविया में बसने वाले लोगों ने डेन्स अथवा नॉरमन के रूप में फिर इंग्लैंड पर आक्रमण किए। इन्हीं डेनों में से कुछ लोग नॉरमन के रूप में फिर इंग्लैंड पर आक्रमण किए। इन्हीं डेनों में से कुछ लोग नॉरमण्डी में बस गये। फिर उन्होंने 1066 ई० में विजयी विलियम के नेतृत्व में इंग्लैंड पर विजय प्राप्त की। इस प्रकार डेन ट्यूटानों के मूल वंश में से ही थे, अर्थात् जूट्स, सैक्सन्स और ऐंगल्स में से ही थे।”
इसी लेखक ने पृ० 117 पर लिखा है कि “ब्रिटेनों ने पिक्ट्स और स्काट्स नामक दो प्रचण्ड कबीलों के ब्रिटेन पर आक्रमण के विरुद्ध महान् आर्य जाति के जूट्स, ऐंगेल्स और सैक्सन्स से सहायता के लिए अपील की थी।”
  • 2. “ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन” पृ० 5-7 पर लेखक रामकुमार लूथरा ने लिखा है कि “जूट्स, सैक्सन्स और ऐंगल्स ये तीनों कबीले ट्यूटान कहलाते थे। डेन्स लोग जर्मनी के ट्यूटानिक जातियों के चचेरे भाई थे। नॉरमन डेन्स के चचेरे भाई थे तथा डेन्स जूट्स, सैक्सन्स और ऐंग्ल्स के चचेरे भाई थे।”
  • 3. हिस्ट्री ऑफ जाट्स पृ० 2 पर डा० कालिकारंजन कानूनगो ने लिखा है कि “जाट के लक्षण प्राचीन एंग्लो-सैक्सन और प्राचीन रोमन के तुल्य (अनुरूप) हैं और वास्तव में इनमें केल्ट जाति की अपेक्षा ट्यूटानिक वंश के अधिक विशिष्ट गुण हैं।”
  • 4. जाट इतिहास पृ० 186-187 पर ठा० देशराज ने लिखा है “यूरोप में जाटों (गाथों) को ट्यूटानिक जाति (दल) में गिना गया है। हमारी समझ में प्रजातंत्री अथवा शक्तिसम्पन्न होने के कारण उन्हें यह नाम दिया गया है। तांत्रिक शब्द से भी ट्यूटानिक बन सकता है। इन ट्यूटानिक लोगों में गाथ, फ्रेंक, डेन, ऐंग्लस तथा सैक्सन्स आदि हैं। यह ट्यूटानिक जातियां स्कंधनाभ और राइन नदी के प्रदेश में बसी हुई बताई हैं। यहां से उठकर काला सागर और डेन्यूब क्षेत्र में बसने वाले लोगों को गाथ (जाट) कहा गया है।”
ऊपरलिखित लेखकों ने जूट, डेन, नॉरमन, ऐंगल्स और सैक्सन्स लोगों को एक ही रक्त के भाई बताया है, जिसका परिणाम यह हुआ कि ये सब जाट थे जो भिन्न-भिन्न नामों से पुकारे जाते थे।
  • 6. उजागरसिंह माहिल ने अपनी पुस्तक “अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस” के पृ० 12-13 पर लिखा है कि “जूट लोग सीथियन जाट थे। डेन्स, विकिंगज़ या नॉरमन ये सब जूट्स थे। ये सब सीथियन जाटों के ही भिन्न-भिन्न नाम थे।”

स्केण्डेनेविया देश (नॉरवे, स्वीडन, डेन्मार्क)

पिछले पृष्ठों पर लिख दिया गया है कि जाटों ने स्केण्डेनेविया में कब प्रवेश किया। इस देश के प्राचीन निवासी जाट थे। वहां पर इनको भिन्न-भिन्न नामों से पुकारा गया। इन लोगों की कई


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-387


शाखायें थीं जिन्होंने वहां पर उपनिवेश स्थापित किए तथा शासन किया। जूट कहलाने वाले जाटों ने डेन्मार्क देश में अपना निवास एवं राज्य स्थापित किया। उनके नाम पर वहां एक बड़े क्षेत्र का नाम ‘जाटलैंड’ पड़ा जो कि आज भी विद्यमान है। गोथ-गाट कहलाने वाले जाटों ने स्वीडन के एक द्वीप पर निवास तथा शासन किया जो कि उनके नाम पर गॉटलैण्ड कहलाया जो आज भी विद्यमान है। स्केण्डेनेविया में प्रवेश करने वाले जाट असि नाम से भी विख्यात हुये।

जाट इतिहास अंग्रेजी, पृ० 42-43 पर लेफ्टिनेंट रामसरूप जून लिखते हैं कि स्केण्डेनेविया में सबसे महान् शिवि गोत्र के जाट थे। इन लोगों के पूजा-पाठ के ढंग भारतीय रीति के अनुसार थे। इनमें सती एवं जौहर-प्रथा भी थी। इनके बलदेर नामक एक जाट नेता की मृत्यु हो जाने पर उसकी बड़ी पत्नी नन्ना को सती होने दिया था किन्तु उसकी छोटी पत्नी उदन को इस सम्मान प्राप्ति की आज्ञा नहीं दी गई थी। इन जाटों की राजधानी का नाम असिगढ़ था। प्राचीनकाल में हांसी (हरयाणा) का नाम असिगढ़ था। (बहवाला टॉड)।

हैरोडोटस तथा स्ट्रेबो इस बात से सहमत हैं कि जटलैण्ड में जाट लगभग 2000 ई० पू० रहते थे। वहां पर उन्होंने एक मन्दिर बनाया जिसे अहिल्या देवी को समर्पित किया। उसका निवास एक बाग में था और उसके रथ को एक गाय खेंचती थी। उसने ‘उपसला’ में भी एक मन्दिर बनाया। उनका देवता ओवन था जिसका अर्थ बुध है जिसका पिता चन्द्र था जिसके नाम पर चन्द्रवंश प्रचलित हुआ। तात्पर्य है वे जाट बुध को अपना देवता तथा उसकी महारानी इला जो मनु की पुत्री थी, को देवी मानते थे। यह अहिल्या अपभ्रंश इला का है। (देखो प्रथम अध्याय, चन्द्रवंश की वंशावली)।

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 79 पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि “स्केण्डेनेविया में सबसे प्रभावशाली शिवि गोत्र के जाट थे जिन्होंने उपसला (स्वीडन) में प्रसिद्ध मन्दिर बनवाये जिनमें बोडेन (या ओडिन), थोर और फ्रीयम नामक देवताओं की मूर्तियां स्थापित कीं। ये स्केण्डेनेविया के असि (जाट) लोगों के तीन देवता थे - जैसे भारत की त्रिमूर्ति।” (Annals of Rajasthan, Vol. I, P. 56)।

आगे बी० एस० दहिया ने पृ० 56-57 पर लिखा है कि “मालवा (भारत) में एक बीका जाट ने [Asirgarh|असिगढ़]] नगर स्थापित किया था। उसी के तुल्य असिगढ़ नगर स्केण्डेनेविया में है। इसी तरह जैसलमेर (राजस्थान) के तुल्य जैसलमेर नगर नेदरलैंड्ज में (होलैण्ड के उत्तर में) है। ये नगर जाटों ने स्थापित किये थे।”

स्केण्डेनिविया से जाटों ने चारों ओर अनेक देशों पर आक्रमण किये तथा युद्ध करके राज्य स्थापित किये। इसके कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं -

“नए आक्रमणकारी विकिंग्स या नॉरमन तथा डेन्ज लोग नॉरवे और डेन्मार्क से आये। विकिंग्स (नॉरमन) के काल (789 ई० से 913 ई० तक) में उन्होंने आक्रमण करके सारे पश्चिमी यूरोप, रूस, अमेरिका तथा अफ्रीका को लूटा। इन भयंकर एवं वीर योद्धाओं ने इंगलैंड के तट पर पहले लूटमार हेतु आक्रमण किये और फिर वहां आबाद होने के उद्देश्य से धावे किये, क्योंकि उनकी अपनी भूमि पथरीली एवं कम उपजाऊ थी1। ”


1. ए हिस्ट्री आफ ब्रिटेन (इंगलिश) पृ० 32H लेखक रामकुमार लूथरा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-388


“जो आक्रमणकारी स्केण्डेनेविया से आये उन्हें विकिंज, नॉरमन तथा डेन आदि भिन्न-भिन्न नामों से पुकारा जाता था। वे बड़े बलवान् और प्रचण्ड थे। उन्होंने अनेक देशों की यात्राएं कीं। वे अपने जहाजों द्वारा ग्रीनलैण्ड और अमेरिका में भी गये। उन्होंने सिसिली और दक्षिणी इटली में भी एक राज्य स्थापित किया था। उनके एक दल ने रूस में एक राज्य बनाया। एक दूसरे दल ने फ्रांस का कुछ भाग विजय कर लिया। उनका प्रदेश नॉरमण्डी कहलाया1।”

बाल्टिक सागर के चारों ओर तट पर रहनेवाले गोथ (जाट) अपनी इस मातृभूमि से दक्षिण की ओर कब बढ़े, इसका हमारे पास सन्तोषजनक उत्तर नहीं है। यह जानकारी है कि तीसरी ईस्वी शताब्दी में वे लोग स्वीडन से रूस के ठीक पार काला सागर तथा कैस्पियन सागर तक बढ़ गये तथा रोम के अधिकार से छुड़ाकर इन पूर्वी समुद्रों पर अपना अधिकार जमा लिया2। यहां से इनका यूरोप के रोम आदि देशों पर आक्रमण तथा राज्य का वर्णन अगले पृष्ठों पर किया जायेगा।

रोमन साम्राज्य

शुरू में रूम नगर ही एक छोटा राज्य था। किन्तु ईसा से लगभग दो शताब्दी पूर्व रोमन लोगों ने रूमसागर के चारों ओर के देश विजय कर लिए तथा अनेक छोटे-छोटे राज्यों को मिलाकर एक शक्तिशाली रोमन साम्राज्य की स्थापना कर ली। इन देशों में रोमन लोगों ने अपने सिद्धान्त एवं सभ्यता आरम्भ कर दी। उस समय में रोम की सभ्यता सबसे श्रेष्ठ थी। ये लोग बहादुर, साहसी तथा योग्य शासक थे। उनके राज्य का रूप गणतन्त्रीय था।

रोमन लोगों ने गॉल (फ्रांस) तथा ब्रिटेन पर भी शासन किया। इन लोगों ने ब्रिटेन पर लगभग 300 वर्ष तक शासन किया। अन्त में 410 ई० में इन्होंने ब्रिटेन को सदा के लिए छोड़ दिया। इसका कारण रोमन साम्राज्य में घरेलू लड़ाई-झगड़े तथा उन पर गाथों (जाटों) के आक्रमण थे। ब्रिटेन से रोमनों के चले आने के बाद वहां पर डेनों एवं नॉरमन (जाटों) ने अपने राज्य स्थापित किए। इन घटनाओं का वर्णन करने से पहले रोम पर पूर्व की ओर से जाटों के आक्रमणों का उल्लेख किया जाता है।

ईसा पूर्व पहली शताब्दी में महान् सेनापति क्रेसस अपनी रोमनविजयी सेना सहित लघु एशिया को पार करके फ्रात नदी तक पहुंच गया। यहां पर सीथियन जाटों का शासन था। 53 ई० पू० में कार्रहाई के स्थान पर जाटों तथा रोमन सेनाओं में भयंकर युद्ध हुआ जो कि दो दिन तक चला। जाट सेना ने रोमन सेना के 20,000 सैनिक मौत के घाट उतारे तथा 10,000 को बन्दी बनाकर गुलाम के तौर पर ईरान भेज दिया। इस प्रकार जाटों ने रोमन साम्राज्य को मैसोपोटैमिया (इराक़) के पार बढ़ने से रोक दिया3

रूस के दक्षिण में नीपर नदी के पूर्व में रहने वाले गोथों (जाटों) को ओस्ट्रो गोथ (पूर्वी गोथ)


1. इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 40, लेखक प्रो० विशनदास।
2. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 54, लेखक उजागरसिंह माहिल।
3. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० क्रमशः 51 से 55, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-389


तथा पश्चिम में रहने वालों को वीसी गोथ (पश्चिमी गोथ) के नाम से पुकारा जाता था। 247 ई० में उन्होंने डेन्यूब नदी को पार कर लिया तथा सेरबिया देश (योगोस्लाविया में) में रोमन सम्राट् डेसिअस को हरा दिया और मार दिया। इस प्रकार रोमन साम्राज्य के डेसिया प्रान्त पर जाटों का अधिकार हो गया। सन् 270 ई० में सम्राट् कलाऊडियस ने इन्हें सेरबिया में निश के युद्ध में हरा दिया। 276 ई० में उन्होंने पोंटस पर आक्रमण कर दिया। कुछ समय तक जाटों तथा रोमन सम्राटों के बीच लड़ाई का उतार चढ़ाव चलता रहा। रोम नगर को जाटों से खतरा पैदा हो गया था। रोम शहर की किलाबन्दी सन् 270 से 275 ई० तक सम्राट् औरेलियन को करनी पड़ी थी।

321 ई० में जाटों ने डेन्यूब क्षेत्र के सरबिया तथा बुल्गारिया देशों को लूट लिया। घटनास्वरूप जाटों तथा रोमन सम्राट् के मध्य सन्धि हो गई जिसके अनुसार जाट सेना नाममात्र से रोमन सेना बन गई। किन्तु उन्होंने अपने ही सेनापति रखे जिनमें सबसे प्रसिद्ध अलारिक1 था।

सन् 374 ई० में मध्य यूरोप पर एशिया से आए हुए बर्बर हूणों ने आक्रमण किया। जाटों ने उनसे सख्त टक्कर ली और नीस्टर नदी क्षेत्र में उनको हरा दिया। रोमन सम्राट् बैलैंस की सहमति से उन्होंने बलकान (बुलगारिया) में डेन्यूब नदी के किनारे अपना जनपद स्थापित किया और भारी संख्या में वहां बस गये। चार वर्ष के बाद सम्राट् वैलेन्स ने उन्हें निकालना चाहा। इस कारण से दोनों में तनाव बढ़ गया। 378 ई० में सम्राट् वैलेन्स ने बड़ी रोमन सेना के साथ गाथों (जाटों) पर आक्रमण कर दिया। बड़ा घमासान युद्ध हुआ। किन्तु एड्रियानोपल नगर के पास जाटों के एक घुड़सवार दल ने रोमन लोगों को बड़ी करारी हार दी। रोमन भाग खड़े हुए। सम्राट् सख्त घायल हुआ और युद्धभूमि में ही मारा गया। गाथों का नेता भी इसी युद्ध में शहीद हो गया2

अद्भुत जाटविजेता अलारिक (Alarik)

अलारिक जाट जाति का एक वीर योद्धा, साहसी तथा अद्भुत व्यक्ति था। रोम नगर को विजय करने वाला यह पहला व्यक्ति था। इसका जन्म 370 ई० में पीयूष नामक एक द्वीप में हुआ था जो कि डेन्यूब नदी के मुहाने पर है। सम्राट् वैलेन्स के उत्तराधिकारी सम्राट् थियोडोसियस के अधीन अव्यवस्थित सैनिकों के सेनापति के रूप में अलारिक ने युद्ध करके अपहरणकर्त्ता इयूजीनियस को परास्त कर दिया। यह युद्ध जूलियन एल्पस (इटली) पर्वत के दर्रों के पास फ्रीजीडस में हुआ था। इस युद्ध में अलारिक को इटली के उत्तर-पूर्व सीमा पर प्राकृतिक रक्षा की कमजोरी की जानकारी हुई3

सम्राट् थियोडोसियस ने भी जाटों पर चढ़ाई की किन्तु अन्त में उसे जाटों से सन्धि करनी पड़ी जिसके अनुसार थ्रेश और लघु एशिया में बहुत सी भूमि उसे जाटों को देनी पड़ी4

सम्राट् थियोडोसियस के मरने के बाद अलारिक के देशवासी जाटों ने उसे अपना राजा घोषित कर दिया। इस सम्राट् की मृत्यु सन् 395 ई० में हुई थी जिसके दो पुत्र थे। इतिहासकार जोरडेन्ज लिखता है कि “इन दोनों ने निर्णय किया कि वे अपनी वीरता से नया राज्य स्थापित करेंगे तथा दूसरों के अधीन नहीं रहेंगे।” इस तरह से रोमन साम्राज्य पूर्वी एवं पश्चिमी साम्राज्यों में बंट


1, 2, 3, 4. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 51 से 55, लेखक उजागरसिंह
2, 3. जाट इतिहास, पृ० 185, लेखक ठा० देशराज; जाट इतिहास अंग्रेजी, पृ० 41-42 लेखक ले० रामसरूप जून


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-390


गया। बड़ा पुत्र आर्केडियस पूर्वी भाग का शासक बना जिसकी राजधानी कांस्टेंटीपल थी और दूसरा पुत्र होनोरियस पश्चिम भाग का मालिक हुआ जिसकी राजधानी मिलान थी।

अलारिक ने पहले तो पूर्वी रोमन साम्राज्य पर धावा बोल दिया और वह कांस्टेंटीपल तक पहुंच गया किन्तु उसकी सुदृढ़ दीवारों को न तोड़ सका। वह पश्चिम की ओर मुड़ा और फिर दक्षिण की ओर मुड़कर थोसालाई तथा थर्मोप्लाई (यूनान में) के दर्रे से होता हुआ यूनान पहुंचा। यूनान पर अलारिक का आक्रमण दो वर्ष 395 ई० से सन् 396 ई० तक जारी रहा। उसने अट्टीका पर विजय पाई, जिस पर एथेंज ने तुरन्त अलारिक को आत्मसमर्पित कर दिया तथा स्वयं को महाविनाश से बचा लिया। फिर वह पेलोपोनेसस में प्रवेश कर गया और प्रसिद्ध नगरों कोरिन्थ, आरगोस तथा स्पार्टा पर अधिकार कर लिया। इसी दौरान जाट दल को रोकने के लिए सम्राट् आर्केडियस ने स्टीलीचो के नेतृत्व में एक बड़ी रोमन सेना भेजी, अलारिक ने तुरन्त कोरिन्थियन खाड़ी को पार किया तथा यूनान को लूटते हुए उत्तर को एपिरस की ओर बढ़ गया। रोमन सेनाओं द्वारा उसका पीछा करना असम्भव था। अन्त में पूर्वी तथा पश्चिमी रोमन साम्राज्यों में विरोध बढ़ गया। सम्राट् आर्केडियस ने अलारिक की वीरता को देखते हुए उसको इल्लीरीकम रियासत के महत्त्वपूर्ण प्रशासक का पद दे दिया। यह रियासत दोनों रोमन साम्राज्यों के बीच में थी। सम्राट् का उद्देश्य यह था कि अलारिक जो योग्य एवं शक्तिशाली है, के मित्र बनाने से उसका राज्य सर्वशक्तिमान् बन जाएगा। इस प्रकार डेन्यूब नदी के प्रान्तों पर शासक के साथ-साथ अलारिक दोनों साम्राज्यों का बिचोला बन गया।

चतुर जाट अलारिक को दोनों साम्राज्यों को एक-दूसरे के विरुद्ध भड़काने का अच्छा अवसर मिल गया। उसने हथियार बनाने का एक बड़ा शस्त्रागार बनाया, जिससे कि अगली लड़ाई के लिए अपने जाट सैनिकों को हथियार दे सके।

400 ई० के लगभग अलारिक ने इटली पर अपना पहला आक्रमण किया तथा उत्तरी इटली में सर्वनाश तथा रोमवासियों को भयभीत करता हुआ पोल्लेन्सिया के स्थान पर पहुंचा। वहां पर उसकी टक्कर स्टीलीचो के नेतृत्व में रोमन सेनाओं से हुई। 6 अप्रैल 402 ई० को अलारिक इस युद्ध में हार गया। एक और हार के कारण अलारिक ने 403 ई० में इटली को छोड़ दिया।

जाट सेना का इटली पर पहला आक्रमण असफल रहा परन्तु इसके महत्त्वपूर्ण परिणाम निकले। इसके कारण शाही निवासस्थान मिलान से उठकर रवेन्ना में आ गये। ब्रिटेन से रोमन सेनाएं वापिस लानी पड़ीं तथा गॉल (फ्रांस) और स्पेन रोमन से निकल गये।

साहसिक अलारिक ने जूलियन अल्पस को पार किया और सितम्बर 408 ई० में रोम शहर का घेरा डाल दिया। राज्यसभा ने शान्ति स्थापित करने के लिए अलारिक के पास अपने राजदूत भेजे। उन्होंने अलारिक को यह कहकर डराना चाहा कि “रोमन जनता का विशाल समुदाय तथा उसका प्रबल क्रोध तुम्हारे विरुद्ध है।” अलारिक ने उसका जाट आदर्श उत्तर दिया कि “Thicker the hay, the easier mowed” अलारिक ने रोमन विशाल समुदाय को सूखी घास की उपमा देकर कहा कि “सूखी घास जितनी अधिक गहरी होगी, उतना ही उसे काटना हमारे लिये आसान होगा।” (अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 56, लेखक उजागरसिंह माहिल; जाट्स दी एन्शन्ट रूलर्ज, पृ० XVII, लेखक बी० एस० दहिया)।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-391


अन्त में रोमनों ने अलारिक को भेंट के तौर पर 25,000 स्टरलिंग, बहुमूल्य रेशमी कपड़े और 3000 पौंड वजन की काली मिर्च दीं। जाट सेनाओं से इस पराजय के बाद रोमन राजनीति में बहुत उतार-चढ़ाव आए। कई वर्ष प्रतीक्षा के पश्चात् अलारिक ने रोमनों पर तीसरी बार आक्रमण कर दिया जो जाट इतिहास में एक महत्त्वपूर्ण घटना थी। 24 अगस्त, 410 ई० को अलारिक और उसकी जाट सेनाओं ने रोमनगर के उत्तर-पूर्वी सलारियन द्वार को तोड़कर रोम पर अधिकार कर लिया। जाटों ने स्वयं को निर्दयी व कठोर विजेता प्रदर्शित नहीं किया और अलारिक तथा उसकी सेनाओं ने नगर के भवनों की तबाही भी नहीं की। तत्कालीन पादरियों ने भी उनकी दयालुता के बहुत से उदाहरण प्रस्तुत किए हैं।

“ईसाई गिरजाघरों का विनाश नहीं किया गया, बहुसंख्यकों की रक्षा की गई जिन्होंने वहां शरण ले रखी थी। व्यक्तिगत घरों में पाए गए सोने तथा चांदी के बर्तनों को उन्होंने नहीं लिया क्योंकि वे सेंट पीटर से सम्बन्धित थे। एक घटना यह भी थी कि एक सुन्दर विवाहित रोमन स्त्री ने, जिसके साथ जाट सैनिकों ने अच्छा व्यवहार किया था, उनकी सफलता के लिए प्रार्थना की थी।”

विजेता अलारिक रोम नगर के दक्षिण में कलेबरिया की ओर बढ़ा। उसने अफ्रीका पर आक्रमण करना चाहा जो कि अनाज की फसलों के लिए प्रसिद्ध था। एक भयंकर तूफान के कारण उसके जहाज टुकड़े-टुकड़े हो गये तथा बहुत सैनिक मर गये। इसके कुछ समय बाद अलारिक की बुखार से मृत्यु हो गई। इसके बाद उसका बहनोई अतौलफुस जाट सेना का सेनापति बना।

अलारिक के चरित्र व कारनामों के प्रमाण लिखने वाले प्रसिद्ध इतिहासकार निम्नलिखित हैं।

  • (1) ओरोसियस तथा कवि क्लाऊडियन दोनों ठीक समकालीन थे।
  • (2) जोरडेंज एक जाट था जिसने सन् 551 ई० में अपने देश (इटली) का इतिहास लिखा, जिसका आधार केसीओडोरस के प्राचीन इतिहास पर था जो कि 520 ई० में लिखा गया था1

रोमस्पेन के जाट शासक

अलारिक रोम की गद्दी पर बैठने वाला पहला जाट राजा था परन्तु वह पूरे रोमन साम्राज्य का सम्राट् नहीं बन सका। उसकी प्रमुख सफलता रोमन साम्राज्य को नष्ट करने की थी। इसके आक्रमणों के कारण से रोमन सेनाओं को ब्रिटेन व गॉल* को छोड़ देना पड़ा। अनेक साहसी योद्धाओं ने जिनमें गोथ (जाट) भी शामिल थे, गॉल पर अनेक आक्रमण किये जिससे ऐतिहासिक जानकारी मिलने में गड़बड़ी है।

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 80, पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि “जाट राजा इयूरिक सन् 466 से 484 ई० तक स्पेनपुर्तगाल का शासक रहा। उसके शासनकाल में शिवि गोत्री जाटों को इन्हीं के भाई जाटों ने स्पेन से निकलकर रूम सागर पार करके अफ्रीका में चले जाने को विवश किया। शिवि जाट अफ्रीका में पहुंच गये।” (जाटों का मिश्र सेनाओं से युद्ध प्रकरण इसी अध्याय में देखो)।


*. गॉल - फ्रांस का पहले नाम गॉल था।
1. आधार लेख अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 54 से 62, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-392


पुर्तगाल, स्पेन में राजा इयूरिक का पुत्र अलारिक द्वितीय जाटों का आठवां राजा था जो कि 24 दिसम्बर 484 ई० में अपने पिता का उत्तराधिकारी बना। उसकी मुख्य स्मरणीय सफलता यह थी कि उसने रोमन कानूनों की एक सूची तैयार करवाई तथा रोमन लोगों के लिये सरकारी कानून बनाये जिनसे अपने अधीन रोमनों के लिये कानूनी अधिकार मिल गये। यह “अलारिक के स्तोत्र संग्रह” के नाम से प्रसिद्ध है।

अन्य जाट राजाओं ने दूसरे साधारण राजाओं की तरह अपना समय व्यतीत किया। जाटों ने रोमन गद्दी पर अधिकार कर लिया था। सन् 493 ई० में थयोडोरिक गोथ (जाट) रोम का राजा बना। रोम के जाट राजा तोतिला (Totila) ने यूनानियों से नेपल्स वापिस छीन लिया। नेपल्स पर अधिकार करते समय जाटों ने वहां की स्त्रियों का अपमान नहीं होने दिया तथा कैदी सैनिकों के साथ मानवता से व्यवहार किया1

विजेता जाट अत्तीला (Attila) -

अत्तीला सीथियन जाट नेता बालामीर का वंशज था जिसने कैस्पियन सागर के उत्तर से बढ़कर डैन्यूब नदी तथा उससे भी पार तक कई देशों पर विजय प्राप्त की थी। अत्तीला जाटों की उसी शाखा से सम्बन्धित था जिससे इण्डोसीथियन थे। इसके पिता का नाम मुञ्जक था। यूरोप में विजयी अत्तीला का चरित्र अत्यन्त महत्त्वपूर्ण रहा है।

उसका राज्य डैन्यूब नदी के पूर्व में मैदानी क्षेत्र पर था। उसने यूरोप तथा एशिया दोनों में अपने राज्य का बहुत विस्तार किया। उसने चीनी सम्राट् के साथ समान शर्तों पर समझौता किया। उसने रेवेन्ना तथा कांस्टेंटीपल को 10 वर्ष तक भयभीत रखा।

पूर्वी रोमन सम्राट् थियोडोसियस द्वितीय की पोती हांनारिया को, दरबार के एक कर्मचारी पर मोहित होने के कारण बन्दी बनाया गया था। उस लड़की ने निराश होकर अपनी अंगूठी अत्तीला को भेजी तथा अपने को मुक्त कराने और पति बनने की प्रार्थना की। अत्तीला तुरन्त दक्षिण की ओर बढ़ा और कांस्टेंटीपल के निकट पहुंच गया। इतिहासज्ञ गिब्बन के अनुसार उसने अपनी सफलता में 70 नगर नष्ट कर दिए। रोमन सम्राट् ने उससे बहुमूल्य शान्ति-सन्धि करनी पड़ी। अत्तीला हांनारिया को अपनी दुल्हन समझता रहा। उसने अगले आक्रमण के लिये बहाने के रूप में उस सम्बन्ध को कायम रखा। सम्राट् को एक और सन्धि करने के लिये विवश कर दिया गया। अतः सम्राट् थियोडोसियस ने अपनी पौती हांनारिया का डोला अत्तीला को दे दिया।

सम्राट् ने अत्तीला के कैम्प में अपना एक राजदूत भेजा जिसके साथ एक साहित्यकार प्रिस्कस भी गया। उसने अत्तीला के कैम्प में जो कुछ देखा उसका एक विस्तृत विवरण लिखा। वह लिखता है कि “अत्तीला शराब के स्थान पर मधुपानीय, अनाज के प्रति बाजरा तथा शुद्ध पानी या जौ के पानी का सेवन करता था। (यह अत्यन्त रोचक है कि हरयाणाराजस्थान के जाटों का प्रिय भोजन बाजरा है)। उसकी राजधानी एक बहुत विस्तृत कैम्प के रूप में थी। उसमें रोमन नमूने का एक स्नानघर तथा पत्थर की बनी हुई एक कोठी थी। अधिकतर लोग


1. आधार लेख अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 54 से 62, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-393


झोंपड़ियों तथा तम्बुओं में रहते थे। अत्तीला तथा उसके प्रमुख नेता अपनी पत्नियों एवं मन्त्रियों के साथ लकड़ी के महलों में रहते थे। लूटी हुई वस्तुओं का बहुत बड़ा दिखावा था। किन्तु अत्तीला एक जाट की तरह ही बहुत साधारण जीवन व्यतीत करता था। वह लकड़ी के प्यालों तथा थालों में भोजन करता था। वह बड़ा परिश्रमी था। अपने महल के द्वार पर दरबार लगाता था तथा साधारण गद्दी पर बैठता था।”

451 ई० में अत्तीला ने पश्चिमी साम्राज्य पर धावा बोल दिया। उसने गॉल (फ्रांस) पर आक्रमण करके वहां के बहुत से नगरों तथा सुदूर दक्षिण में आर्लिअंज (Orleans) तक लूटमार की। फ्रैंक्स उसे हराने के लिये बहुत कमजोर थे किन्तु वीसी गोथ (पश्चिमी गोथ) कहलाने वाले जाटों की एक और शाखा फ्रैंक्स लोगों से मिल गई। 451 ई० में चालोञ्ज़ के स्थान पर एक भयंकर युद्ध हुआ जिसमें दोनों ओर से 1,50,000 आदमी मारे गये। यूरोप में अत्तीला को यह पहली पराजय मिली क्योंकि उसके विरुद्ध प्राचीन जाट विजेताओं की एक शाखा शत्रु की ओर मिलकर लड़ रही थी। इस हार से वह निराश नहीं हुआ। उसने अपना ध्यान दक्षिण की ओर दिया और उत्तरी इटली पर आक्रमण कर दिया। अक्वीला एवं पाडुआ को जला दिया तथा मिलान को उसने लूट लिया। यहां पोपलियो ने उसे अग्रिम आक्रमणों से रोका। चमत्कारिक अत्तीला ने ईसाइयों के मुख्य पादरी की प्रार्थना पर शान्ति स्थापित कर ली। उस साहसी वीर योद्धा की सन् 453 ई० में मृत्यु हो गई। उसका साम्राज्य कैस्पियन सागर से राइन नदी (पश्चिमी जर्मनी में) तक फैला हुआ था1

जाट इतिहास पृ० 186 पर ठा० देशराज ने लिखा है कि “रोमन सम्राट् थियोडोसियस जाटों से बहुत भयभीत था, अतः उसने लड़की हांनारिया की शादी अत्तीला से कर दी। इस तरह से जाट और रोमन लोगों का रक्त सम्बन्ध स्थापित हो गया। इस लड़की की सलाह के अनुसार जाटों ने इटली से बाहर स्पेन और गॉल के बीच में अपना साम्राज्य स्थापित किया जो 300 वर्ष तक कायम रहा। सन् 446 ई० में हूण लोग रोम का ध्वंस करते हुए गॉल में प्रवेश कर गए। वहां पर रोमनों व गाथों (जाटों) ने मिलकर हूणों को हरा दिया।”

अत्तीला के मरने के बाद उसके साम्राज्य को उसके तीन पुत्रों अल्लाक, हरनाम तथा देंघिसक में बराबर-बराबर बांट दिया। इस बंटवारे के समय अन्य दो निकट सम्बन्धी उजीन्दर व एमनेद्ज़र ने अपने अधिकार की मांग की। इसलिये अन्त में उस साम्राज्य को पांच भागों में बांटा गया। पिता की सम्पत्ति या साम्राज्य को उसके पुत्रों में विभाजन का यह तरीका प्राचीन आर्य रीति के अनुसार है जो कि जाट समाज में आज भी प्रचलित है।

इसी प्रकार बलवंशियों का राजा कुबरत जिसने 630 ई० में रोमन सम्राट् हरकलीन्ज से सन्धि की थी, के मरने पर उसका राज्य उसके पांच पुत्रों में बराबर-बराबर बांट दिया गया था2

अत्तीला के मरने के बाद कुल्लर और उदर गोत्र के जाटों ने मिलकर रोमन साम्राज्य पर आक्रमण किया तथा (485 ई० से 557 ई०) 72 वर्ष तक लड़े। इनका शासन चलता रहा। बाद में


1. आधार लेख अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 54 से 62, लेखक उजागरसिंह माहिल।
2. जाट्स दी ऐन्शेन्ट रूलर्ज पृ० क्रमशः 88, 84, 85, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-394


बलवंशीय जाटों का शासन हुआ जिनके नाम पर बुल्गारिया नाम पड़ा। (J.J. Modi in JBRRAS, 1914, P. 548)1

ये तीनों कुल्लर, उदर, बल वंश के लोग मध्यएशिया से यूरोप को बड़े संघों के रूप में गये। इनके नेता बालामीर (376 ई०), उलदस (400 ई०), रौलस (425 ई०), रूगुल (433 ई०) और अत्तीला (जो कि 453 ई० में मर गया) थे2

सन् 489 ई० में पूर्वी गाथों के सरदार थियोडेरिक (देवदारुक) ने इटली पर आक्रमण किया। 4 वर्ष की निरन्तर लड़ाई के बाद इटली के तत्कालीन सम्राट् ओडोवर ने इटली का आधा राज्य देकर गोथों से सन्धि कर ली। थोड़े ही दिन बाद देवदारुक ने सम्राट् ओडोवर को मरवाकर सारी इटली पर गाथों का अधिकार जमा दिया। इस जाट सम्राट् ने इटली पर 493 ई० से 526 ई० तक 33 वर्ष शासन किया। उसने रोमानों को बड़े-बड़े पदों पर नियुक्त किया। नगर, बाग-बगीचे, सड़कें और नहरों की मरम्मत कराई। कृषि और उद्योग-धन्धों की उन्नति कराई। रोमन लोगों के साथ न्याय व अच्छा व्यवहार किया जिससे वे कहने लग गये कि खेद है “जाट इससे पूर्व ही हमारे यहां क्यों न आये।” उन्होंने जाट राज्य को राम राज्य की संज्ञा दी।

थियोडोरिक जाट सम्राट् की सन् 526 ई० में मृत्यु हो गई जिससे जाटों तथा रोमनों को बड़ा दुख हुआ। उसके बाद सन् 553 ई० तक उसके वंशजों का इटली पर शासन रहा। इसी वर्ष उनके हाथ से रोमन सम्राट् जस्टिनियन ने इटली का राज्य छीन लिया।

यूरोप में एक नया धर्म खड़ा हुआ था जिसका नाम महात्मा यीशु के नाम पर ईसाई धर्म था। इसके सिद्धान्त भी बौद्ध-धर्म से मिलते-जुलते थे तथा एक ईश्वर को ही मानने के थे। इसलिए यूरोप के जाटों पर भी ईसाई धर्म का प्रभाव पड़ने लगा। वे 12वीं सदी तक सबके सब ईसाई हो गये।

सन् 711 ई० में तरीक की अध्यक्षता में मुसलमानों ने स्पेन में जाट लोगों पर चढ़ाई की। उस समय जाटों का नेता रोडरिक (रुद्र) था। वह युद्ध में हार गया और बर्बर अरबों का स्पेन और गॉल (फ्रांस) पर अधिकार हो गया। (जाट इतिहास पृ० 188-189, में ठा० देशराज)

इसके बाद फिर स्पेन पर जाटों का राज्य रहा। इसका प्रमाण यह है। दसवीं शताब्दी में स्पेन के अन्तिम जाट सम्राट् का पौत्र अलवारो था। एक साहित्यिक लेख में उसको स्पष्ट रूप से बहुत ऊँचे स्तर की पुरानी गेटी (जाट) जाति का वंशज बताया गया है। (Journal of Royal Asiatic society, 1954, P. 138)। अलवारो कहता है कि मैं उस जाट जाति का हूं जिसके लिये (1) सिकन्दर महान् ने घोषणा की थी कि जाटों से बचो, (2) जिनसे पाइरस डरा (3) जूलियस सीज़र कांप गया (4) और हमारे अपने स्पेन के सम्राट् जेरोम ने जाटों के विषय में कहा था कि इनके आगे सींग हैं, सो बचकर दूर रहो। (Episola XX, Nigne, Vol 121, Col, 514) बी० एस० दहिया, पृ० 58-59)।

जर्मनी

यह पिछले पृष्ठों पर लिख दिया गया है कि विजेता जाट अत्तीला का साम्राज्य कैस्पियन


1,2. जाट्स दी ऐन्शेन्ट रूलर्ज पृ० क्रमशः 88, 84, 85, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-395


सागर से लेकर राइन नदी (पश्चिमी जर्मनी में) तक फैला हुआ था। तात्पर्य है कि जाटों का निवास व शासन जर्मनी में भी रहा है। ये लोग ईसा से लगभग 500 वर्ष पूर्व जर्मनी में पहुंचे। यूरोप के अन्य देशों इटली, गॉल, स्पेन, पुर्तगाल, इंगलैण्ड और यूनान आदि पर जो जाटों ने आक्रमण किये उनका वर्णन यूरोपीय इतिहास में यही मिलता है कि उसमें अधिकांश जाट लोग जर्मनी और स्कन्धनाभ (स्केण्डेनेविया) के निवासी थे।

श्री मैक्समूलर ने भी जर्मनी में आर्य रक्त स्वीकार किया है। टसीटस ने लिखा है कि “जर्मन लोगों के रहन-सहन, आकृति, रस्म व रिवाज तथा नित्य कार्यों का जो वृत्तान्त पाया जाता है उससे विदित होता है कि कदाचित् ये लोग और शाक द्वीप (ईरान) के जिट, कठी, किम्बरी (कृमि) और शिवि (चारों जाट) एक ही वंश के हैं।” आगे यही लिखते हैं कि “जर्मन लोग घोड़े की आकृति बनी हुई देखकर ही सिक्के का व्यवहार करते थे, अन्यथा नहीं। यूरोप के असि जेटी लोग और भारत के अट्टी तक्षक जटी, बुध को अपना पूर्वज मानकर पूजते थे। प्रत्येक जर्मन का बिस्तर पर से उठकर स्नान करने का स्वभाव जर्मनी के शीतप्रधान देश का नहीं हो सकता, किन्तु यह पूर्वी देश का है।”

कर्नल टॉड ने लिखा है कि “घोड़े की पूजा जर्मनी में सू, कट्टी, सुजोम्बी और जेटी (जाट) नाम की जातियों ने फैलाई है, जिस भांति कि स्कन्धनाभ में असि जाटों ने फैलाई।” कर्नल टॉड ने भारत के जाट और राजपूत तथा जर्मन लोगों की समानता के लिए लिखा है कि “चढ़ाई करने वालों और इन सब हिन्दू सैनिकों का धर्म बौद्ध-धर्म था। इसी से स्केण्डेनेविया वालों और जर्मन जातियों और राजपूतों के आचार, विचार और देवता सम्बन्धी कथाओं की सदृश्यता और उनके वीररसात्मक काव्यों का मिलान करने से यह बात अधिकतर प्रमाणित हो जाती है।”

प्रसिद्ध इतिहासज्ञ टसीटस ने लिखा है कि “जर्मनी और स्कन्धनाभ के असि लोग जाटवीर ही थे1। जाट इतिहास अंग्रेजी पृ० 36 पर लेफ्टिनेन्ट रामस्वरूप ने लिखा है कि “प्राचीनकाल में जर्मनी पर शिवि गोत्र के जाटों का राज्य व निवास था।”

आर्य जाट लोग अपनी गृह-लक्ष्मियों के साथ जैसा श्रेष्ठ व्यवहार करते हैं, प्राचीन जर्मन लोग तथा स्कन्धनाभ वाले अपनी नारियों के साथ ठीक वैसा ही व्यवहार करते थे।

इसमें कोई सन्देह नहीं कि जाट किसी भी देश में गये वहां पर उन्होंने उस देश की सभ्यता को नष्ट नहीं किया; किन्तु उनकी अच्छी बातें ग्रहण कर लीं। ये अपनी सीमा स्थापित करने और अपना स्वतन्त्र राज्य बनाने के इच्छुक अवश्य रहे। युद्ध के समय वे सैनिक और शान्ति के समय सुयोग्य शासक एवं कृषक साबित होते थे। उन्होंने जितना भी हो सका, अपनी सभ्यता का यूरोप में भी प्रचार किया। उन्होंने शस्त्र पूजा, नेता के निर्वाचन की प्रथायें तथा मुर्दों को आग में जलाने का रिवाज आदि प्रचलित किये। शैलम नदी (जर्मनी) के किनारे जो स्तूप उन्होंने खड़ा किया था वह इनकी कीर्ति के साथ-साथ यह भी बताता है कि वे अपनी सभ्यता के प्रचारक व प्रेमी थे। यूरोप के युद्धों के वर्णन में ऐसा कहीं नहीं मिलता कि जाटों ने पराजित देश के स्त्री-पुरुषों तथा बच्चों को दास बनाया हो अथवा उन्हें कत्ल किया हो। जाटों ने उस देश की स्त्रियों


1. आधार लेख - जाट इतिहास पृ० 183 से 185, लेखक ठा० देशराज।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-396


का सम्मान किया तथा शरणागतों की रक्षा की जैसा कि पिछले पृष्ठों पर लिखा भी है।

जर्मनी के जाटों ने देश-काल की परिस्थिति के अनुसार अपने प्राचीन वैदिक व बौद्ध-धर्म को ईस्वी चौथी-पांचवीं शताब्दी में छोड़कर ईसाई धर्म को अपनाया। किन्तु इसमें सन्देह नहीं कि उन्होंने भारत के सिर को इस बात के लिए ऊंचा कर दिया कि उन्होंने जर्मनी जैसे प्रबल राष्ट्र पर अपना बसन्ती झण्डा फहराया और आज भी जर्मन नागरिकों के रूप में अपने देश का सिर ऊंचा कर रहे हैं1

जर्मनी के जाटों ने इंगलैण्ड पर भी आक्रमण किए जिनका वर्णन अगले पृष्ठों पर किया जाएगा।

ब्रिटेन या इंगलैण्ड द्वीप समूह

इंगलैण्ड जाटों का निवास एवं राज्य लिखने से पहले इस द्वीप के विषय में ऐतिहासिक जानकारी की आवश्यकता है जो कि संक्षिप्त में निम्नलिखित है -

ब्रिटेन के मूल निवासी असभ्य लोग थे जिन्हें प्राचीन पत्थर युग के लोग कहा जाता है। वे खेती बाड़ी करना नहीं जानते थे बल्कि जंगली जानवरों का शिकार करके निर्वाह करते थे। कुछ काल पश्चात् ब्रिटेन पर एक दूसरी जाति ने आक्रमण किया जिन्हें नवीन पत्थर-युग के लोग अथवा आईबेरियन कहा जाता था। उनका कद छोटा तथा रंग काला था। वे मूल रूप से पश्चिमी तथा दक्षिणी यूरोप के रहने वाले थे। स्कॉटलैण्ड और आयरलैण्ड के अधिकतर निवासी उन्हीं के वंशज हैं। आईबेरियन ने खेती-बाड़ी तथा पशु-पालन शुरु किये। उनका युग 3000 ई० पू० से 2000 ई० पू० का माना गया है। जबकि प्राचीन पत्थरयुग के लोग 3000 ई० पू० में ब्रिटेन में आबाद थे।

आईबेरियन लोगों के बाद एक अधिक सभ्य जाति आई, जिसे केल्ट (Celt) कहते हैं। इन्होंने लगभग 600 ई० पू० में ब्रिटेन पर आक्रमण किया और वहां पर आबाद हो गये।

केल्ट जाति के लोग आर्यवंशज थे। वे लम्बे और गोरे थे तथा उनके बाल पीले और माथे चौड़े थे। ये लोग आर्यन भाषा बोलते थे। ये लोग वीर योद्धा थे तथा लोहे के हथियारों का प्रयोग करने में निपुण थे। ये शिल्पकला में भी बड़े चतुर थे। खेती-बाड़ी इनका व्यवसाय था। इन लोगों ने दो दलों में आक्रमण किये। पहले दल के लोग गोइडल्स या गेल्स (Goidels or Gaels) कहलाते थे जो कि आज भी आयरलैण्ड और स्कॉटलैंड में पाये जाते हैं। लगभग 600 ई० पू० में दूसरे दल के लोग ब्रिथोन्स या ब्रिटोन्स (Brythons or Britons) कहलाते थे जिनके नाम पर इस टापू का नाम ब्रिटेनिया (ब्रिटेन) पड़ा।

पाठक समझ गये होंगे कि इस टापू का ‘ब्रिटेन’ नाम आर्य वंश के लोगों के नाम पर प्रचलित हुआ। याद रहे कि जाट भी आर्यवंशज हैं।

55 ई० पू० में रोमन आक्रमण से कुछ समय पहले बेल्ज और गाल (Belge and Gauls) लोग यहां आकर दक्षिणी ब्रिटेन में आबाद हो गये। लगभग 330 ई० पू० में केल्ट लोगों की शक्ति


1. आधार लेख - जाट इतिहास पृ० 183-185, लेखक ठा० देशराज।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-397


एवं शासन पूरे ब्रिटेन और [Ireland|आयरलैण्ड]] पर हो गया था। इनके बाद रोमनों का शासन रहा1

ट्यूटानिक वंश के प्रकरण में पिछले पृष्ठों पर लिखकर यह सिद्ध किया गया है कि जूट्स, ऐंगल्स, सैक्सन्स, डेन, नॉरमन ये सब जाट जाति के लोग थे जो कि आपस में एक ही रक्त के भाई थे। इन सब को ट्यूटानिक नाम से भी पुकारा जाता है। अतः जहां पर ये नाम आयें तो इनको जाट समझो।

ब्रिटेन पर केल्ट्स लोगों के बाद रोमनों के आक्रमण एवं शासन रहा। इनका ब्रिटेन पर राज्य 43 ई० से सन् 410 ई० तक 300 वर्ष रहा। रोमनों के चले जाने के पश्चात् वहां जूट्स, ऐंगल्स और सैक्सन्स आए और शासन किया। इनके आक्रमण तथा शासन का काल 410 ई० से 825 ई० तक था। इन लोगों को स्केण्डेवियन या डेन लोगों ने पराजित किया जिनके आक्रमण तथा राज्य का काल 787 ई० से 1070 ई० तक था। डेन लोगों के बाद नॉरमन लोगों का ब्रिटेन पर सन् 1066 ई० से 1154 ई० तक शासन रहा2

ब्रिटेन पर रोमनों का शासन (43 ई० से 410 ई०)

यह पिछले पृष्ठों पर रोमन साम्राज्य के विषय में लिखा गया है कि इनका शासन रूम सागर के चारों ओर तथा लगभग पूरे यूरोप के देशों पर था। रोमनों का सबसे शक्तिशाली सेनापति जूलियस सीजर था। उसने 58 ई० पू० में गॉल (फ्रांस) को जीतने के लिए उस पर आक्रमण किया। गॉल में केल्ट जाति के लोग रहते थे। ब्रिटेन में रहने वाले केल्ट (ब्रिटोन्स) लोगों ने अपने सम्बन्धियों की गॉल में रोमनों के विरुद्ध मदद की। इससे क्रोधित होकर जूलियस सीजर ने 55 ई० पू० में ब्रिटेन पर आक्रमण किया जो कि ब्रिटोन्स लोगों ने असफल कर दिया। अगले वर्ष 54 ई० पू० में 25000 सैनिकों के साथ उसने फिर ब्रिटेन पर आक्रमण कर दिया। इस बार उसे अधिक सफलता मिली। ब्रिटेन से गॉल निवासियों को सहायता न देने का वचन लेकर उसने सन्धि कर ली और वापस गॉल लौट आया। फ्रांस से जूलियस सीजर रोम चला गया जहां पर उसके शत्रुओं ने उसकी हत्या कर दी।

सन् 43 ई० में रोमन सम्राट् क्लाडियस ने अपने सेनापति प्लाटियस के नेतृत्व में 1,50,000 सैनिक ब्रिटेन को विजय करने के लिए भेजे। उन्होंने पांच वर्ष ब्रिटोन्स से युद्ध करके 47 ई० में ब्रिटेन की दक्षिण और मध्य की भूमि को जीत लिया। 61 ई० में ब्रिटेन की रानी बोडिका के नेतृत्व में दक्षिण में रोमनों के विरुद्ध एक जोरदार विद्रोह हुआ किन्तु इसको दबा दिया गया। अब इंगलैंड का दक्षिणी भाग रोमन प्रान्त बन गया।

रोमन सम्राट् बेस्पसियन ने अपने प्रसिद्ध सेनापति जूलियस एग्रीकोला को 77 ई० में ब्रिटेन भेजा। उसने वेल्स तथा स्काटलैण्ड का अधिकतर भाग जीत लिया जिस पर 78 ई० से 85 ई० तक रोमनों का अधिकार रहा। उसने देश की विजय को पूरा किया और ब्रिटेन के विकास में अपना सारा ध्यान लगाया।


1, 2. इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 4-6 तथा 116-118, लेखक प्रो० विशनदास एम० ए० और ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 3-7, लेखक रामकुमार एम० ए० ।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-398


ब्रिटेन पर रोमनों ने करीब 300 वर्ष तक शासन किया। जब सन् 400 ई० में रोम नगर पर बीसीगोथ (पश्चिमी जाट) अलारिक* ने आक्रमण किया तो रोमन लोग ब्रिटेन को छोड़कर अपने देश में लौट आये। इसके अतिरिक्त, वहां अनेक घरेलू झगड़े तथा लड़ाइयां भी होती रहती थीं। इन कारणों से मजबूर होकर रोमनों को सदा के लिए ब्रिटेन छोड़ना पड़ा।

ब्रिटेन पर रोमनों का 300 वर्ष शासन रहा। परन्तु वे ब्रिटेन को उस तरह से रोमन सभ्यता का अनुयायी नहीं बना सके जिस तरह उन्होंने फ्रांस को बनाया। उन्होंने ब्रिटेन पर कुछ प्रभाव अवश्य डाला, परन्तु वह अस्थायी था। ब्रिटेन में क्रिश्चियन धर्म का प्रारम्भ रोमन शासन की भारी जीत थी। यह धर्म कुछ समय के लिए कमजोर अवश्य हो गया था, किन्तु यह फिर सारे ब्रिटिश द्वीपसमूह में फैल गया1

ब्रिटेन पर जूट्स, सेक्सन्स एंगल्स की विजय (410 ई० से 825 ई०)

जूट्स, सेक्सन्स और एंगल्स लोग जर्मनी की एल्ब नदी के मुहाने और डेन्मार्क के तट पर रहते थे। ये लोग बड़े बहादुर थे तथा लूटमार किया करते थे। ये क्रिश्चियन धर्म के विरोधी थे।

ब्रिटेन से रोमनों के चले जाने के बाद ब्रिटेन के लोग बहुत कमजोर और असहाय थे। इन लोगों पर स्काटलैंड के केल्टिक कबीलों, पिक्ट्स और स्काट्स ने हमला कर दिया। ब्रिटेन निवासियों की इसमें भारी हानि हुई। इनमें इतनी शक्ति न थी कि वे इन हमलों करने वालों को रोक सकें। इसलिए मदद के लिए इन्होंने जूट लोगों को बुलाया। जूट्स ने उसी समय ब्रिटिश सरदार वरटिगर्न के निमन्त्रण को स्वीकार कर लिया। जटलैण्ड से जाटों की एक विशाल सेना अपने जाट नेता हेंगिस्ट और होरसा के नेतृत्व में सन् 449 ई० में केण्ट (Kent) में उतर गई। इन्होंने पिक्ट्स और स्कॉट्स को हराया और वहां से बाहर निकाल दिया। उन्हें भगाने के बाद जाट ब्रिटेन के लोगों के विरुद्ध हो गये और उन्हें पूरी तरह से अपने वश में कर लिया और 472 ई० तक पूरे केण्ट पर अधिकार कर लिया। यहां पर आबाद हो गये। इसके अतिरिक्त जाटों ने अपना निवास व्हिट (Wight) द्वीप में किया2

जटलैण्ड के जाटों की विजय सुनकर उनके दक्षिणवासी सेक्सन्स तथा एंगल्स भी ललचाये। सर्वप्रथम सेक्सन्स ब्रिटेन में पहुंचे और उन्होंने ऐस्सेक्स, मिडिलसेक्स और वेस्सेक्स नाम से तीन राज्य स्थापित किये। वहां पर इन्होंने कुछ बस्तियां आबाद कर दीं। ब्रिटेन की जनता ने बड़ी वीरता से सेक्सन्स का मुकाबला किया और 520 ई० में मोण्डबेडन ने उन्हें करारी हार दी। इस तरह से


  • . अधिक जानकारी के लिए इसी अध्याय में अद्भुत जाट विजेता अलारिक प्रकरण देखो।
1. इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 7-9, लेखक प्रो० विशनदास; हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 8-13, लेखक रामकुमार लूथरा।
2. आधार लेख - इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 16-17, लेखक प्रो० विशनदास; हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 21-22, लेखक रामकुमार लूथरा, अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 63-66, लेखक उजागरसिंह माहिल; जाट्स दी ऐन्शन्ट रूलर्ज पृ० 86 लेखक बी० एस० दहिया तथा जाट इतिहास अंग्रेजी पृ० 43, लेखक ले० रामसरूप जून।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-399


सेक्सन्स का बढ़ना कुछ समय के लिए रुक गया। परन्तु 577 ई० में डियोरहम की लड़ाई में सेक्सन्स ने केब्लिन के नेतृत्व में ब्रिटेन लोगों पर पूरी विजय प्राप्त कर ली तथा उनको अपना दास बनाए रखा। यह कामयाबी जूट्स (जाटों) की सहायता से हुई थी जिसके लिए सेक्सन्स ने उनसे मांग की थी1

अब प्रश्न पैदा होता है कि उन जूट्स (जाटों) का क्या हुआ जिन्होंने हेंगिस्ट और होरसा के नेतृत्व में ब्रिटेन के एक बड़े क्षेत्र पर अधिकार कर लिया था और सेक्सन्स को सहायता देकर उनका ब्रिटेन पर अधिकार करवाया। इसका उत्तर यही हो सकता है कि ब्रिटिश इतिहासकारों ने इनके इतिहास को लिखने में पक्षपात किया है।

सेक्सन्स के बाद एंग्ल्स पहुंचे जो [Jutes|जूट्स]] और सेक्सन्स की तरह ही लड़ाके तथा लुटेरे थे। सन् 613 ई० में नार्थम्ब्रिया के एंग्ल राजा ने ब्रिटेन पर आक्रमण करके विजय प्राप्त की। इसके बाद इन्हीं एगल्स के नाम पर ब्रिटेन का नाम इंग्लैंड हो गया। ये एंगल्स लोग भी जाट थे जैसा कि पिछले पृष्ठों पर लिखा गया है। इंग्लैंड में रहने वालों को अंग्रेज कहा गया।

एंगल्स लोग संख्या में दूसरों से अधिक थे इसी कारण से ब्रिटेन को एंगल्स की भूमि एवं इंग्लैंड कहा गया। इस तरह से ब्रिटेन पर जूट्स, सेक्सन्स और एंगल्स का अधिकार हो गया। इसी को ब्रिटेन पर अंग्रेजों की जीत कहा जाता है। इन तीनों कबीलों ने अपने अलग-अलग राज्य स्थापित किए। जूट्स ने केण्ट (Kent); सैक्सन्स ने सस्सेक्स (Sussex), एस्सेक्स (Essex), वेसेक्स (Wessex) और एंगल्स ने ईस्ट एंगलिया (East Anglia), मर्शिया (Mercia) और नार्थम्ब्रिया (Northumbria) के राज्य स्थापित किये। ये सातों राज्य सामूहिक रूप से हेपटार्की कहलाते थे। परन्तु ये राज्य स्वतन्त्र नहीं थे। इन सातों में जो शक्तिशाली होता था वह दूसरों का शासक बन जाता था।

ऊपर कहे हुए तीनों कबीले संगठित नहीं थे। नॉरमनों ने जब तक इस देश को नहीं जीता, इंग्लैंड में शक्तिशाली केन्द्रीय राज्य की स्थापना नहीं हो सकी। इन कबीलों ने देश से क्रिश्चियन धर्म और रोमन सभ्यता को मिटा दिया। आधुनिक इंग्लैंड एंग्लो-सैक्सन्स का बनाया हुआ है। आधुनिक अंग्रेज किसी न किसी रूप में इंग्लो-सैक्सन्स के ही वंशज हैं।

अंग्रेज जाति की उत्पत्ति और बनावट के सम्बन्ध में दो प्रतिद्वन्द्वी सिद्धान्त हैं।

  1. पलग्रोव, पियरसन और सेछम आदि प्रवीण मनुष्य रोमन केल्टिक सिद्धान्त को मानते हैं। उनका यह विचार है कि आधुनिक इंग्लैंड में रोमन-केल्टिक रक्त और संस्थाएं मौजूद हैं।
  2. ग्रीन और स्टब्स जैसे दूसरे प्रवीन मनुष्य ट्यूटानिक सिद्धान्त को मानते हैं। उनका यह विचार है कि ट्यूटानिक अर्थात् जूट, एंगल, सैक्सन और डेन लोगों का रक्त और संस्थाएं बहुत कुछ आधुनिक इंग्लैंड में पाई जाती हैं। इन दोनों में से ट्यूटानिक सिद्धान्त अधिक माना जाता

1. आधार लेख - इंग्लैण्ड का इतिहास पृ० 16-17, लेखक प्रो० विशनदास; ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 21-22, लेखक रामकुमार लूथरा; अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 63-66, लेखक उजागरसिंह माहिल; जाट्स दी ऐन्शन्ट रूलर्ज पृ० 86 लेखक बी० एस० दहिया तथा जाट इतिहास अंग्रेजी पृ० 43, लेखक ले० रामसरूप जून।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-400


है और आमतौर पर यह स्वीकार किया जाता है कि ब्रिटिश जाति मिले-जुले लोगों की जाति है। जिनमें ट्यूटानिक तत्त्व प्रधान है, जबकि केल्टिक तत्त्व भी पश्चिम में और आयरलैंड में बहुत कुछ बचा हुआ है1। इसका सार यह है कि इंगलैंड द्वीपसमूह के मनुष्यों की रगों में आज भी अधिकतर जाट रक्त बह रहा है। क्योंकि केल्टिक आर्य लोग तथा जूट, एंगल, सैक्सन और डेन लोग जाटवंशज थे। आज भी वहां पर अनेक जाटगोत्रों के मनुष्य विद्यमान हैं जो कि धर्म से ईसाई हैं।

इंगलैंड पर डेनों के आक्रमण तथा राज्य (787 ई० से 1070 ई०)

जो आक्रमणकारी स्केण्डेनेविया से आये उन्हें नॉरमन या विकिंग्ज और डेन आदि भिन्न-भिन्न नामों से पुकारा गया। वे बड़े वीर योद्धा थे। डेन लोग डेन्मार्क, नॉरवे, स्वीडन, उत्तरी जर्मनी और उत्तरी समुद्रतटों से इंगलैंड में आये। इन लोगों ने इंग्लिश चैनल तटों पर दो शताब्दियों तक उपद्रव किए। एंग्लो-सैक्सनों के देश को जीत कर तथा यहां बस जाने के बाद इन्होंने इंगलैंड पर आक्रमण आरम्भ किये। सन् 787 ई० से 1070 ई० तक डेनों के आक्रमण और राज्य का काल है। धीरे-धीरे ये लोग इंगलैंड में बस गये और अंग्रेजों के साथ घुल-मिलकर एक जाति बन गये। डेन लोग जाट थे तथा इंगलैंड के निवासी भी इनके भाई थे इसीलिए वे बहुत आसानी से आपस में मिलकर एक हो गये। डेनों ने अंग्रेजों की भाषा अपना ली और ईसाई मत ग्रहण कर लिया2

महान् एल्फ्रेड से पहले डेनों का संघर्ष - डेन लोग पहले-पहल 794 ई० में इंगलैंड में आये और उन्होंने जेरो के मठ को लूट लिया। सम्राट् एम्बर्ट (802 ई० से 839 ई०) की मृत्यु के पश्चात् जब उसका पुत्र एथलवुल्फ राजा बना तब डेनों ने और ज्यादा दुःख देना आरम्भ कर दिया। 866 ई० में एक डेन सेना ने ईस्ट एंगलिया पर आक्रमण किया और यार्क पर अधिकार कर लिया तथा दक्षिण नार्थम्ब्रिया को भयभीत किया। वे मर्शिया में नॉटिंघम तक घुस गए और थेटफोर्ड में ईस्ट एंगलिया के राजा एड्मण्ड का वध कर दिया। 871 ई० में डेन सेना ने वेस्सेक्स पर आक्रमण किया। यहां उन्होंने एथलरेड को युद्ध में हराया3

महान् एल्फ्रेड के साथ डेनों का संघर्ष - एल्फ्रेड ने डेनों से कई बार युद्ध किए और कई बार धन देकर उन्हें लौटा दिया। अन्त में 878 ई० में उन्होंने चिप्पेहम के स्थान पर एल्फ्रेड को पूरी तरह पराजित कर दिया और उसे एक सूअर पालने वाले के घर में शरण लेनी पड़ी। इस सम्राट् ने फिर एक शक्तिशाली सेना संगठित की और डेनों को एडिंग्टन के युद्ध में पूरी तरह से हराया तथा उनके नेता गुर्थ्रम को 878 ई० में बेडमोर की सन्धि करने के लिए मजबूर किया। इस समय से एल्फ्रेड ने स्वदेश में शान्ति स्थापित कर ली और अंग्रेज तथा डेन सानन्द इकट्ठे रहने लगे4

एल्फ्रेड के पश्चात् डेनों का संघर्ष - एल्फ्रेड सन् 901 ई० में मर गया। उसके बड़े पुत्र ‘बड़े एडवर्ड’ ने शासन की बागडोर


1, 2, 3, 4. इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 17-18, 113-114, 40 से 43, लेखक प्रो० विशनदास; ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 5-6, 21-22, 32-H से 32-O लेखक रामकुमार लूथरा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-401


सम्भाली। उसने डेनों से मर्शिया अजुर ईस्ट एंगलिया छीन लिया। सन् 924 ई० में उसकी मृत्यु होने के बाद उसका पोता एड्गर प्रसिद्ध सम्राट् हुआ। वह बड़ी शान्ति के साथ राज्य करता रहा, इसलिए उसे शान्तिप्रिय एड्गर कहा गया है। उसने सन् 959 से 975 ई० तक शासन किया। उसके पुत्र अनुद्यत एथलरेड के समय में डेन्मार्क से डेनों ने आक्रमण कर दिया। एथलरेड डेनों का सामना नहीं कर सका, इसलिए उसने डेनों को धन देकर लौटा दिया। जितना अधिक धन वह उन्हें देता था उतनी ही अधिक बार डेन आते थे। इससे तंग आकर उसने इंगलैंड में रहने वाले सब डेनों को मारने का आदेश जारी कर दिया। उसके वध का बदला लेने के लिए डेन्मार्क के राजा स्वेन ने इंगलैंड पर आक्रमण किया और उसे विजय कर लिया। अब डेन (जाट) स्वेन (Sweyn) इंगलैंड की गद्दी पर बैठा। उसकी सन् 1014 ई० में मृत्यु हो गई। उसके मरने पर एथलरेड फिर से इंगलैंड का राजा बना। स्वेन के पुत्र कैन्यूट ने एथलरेड से एक ही वर्ष में छः युद्ध किए और उसे मारकर कैन्यूट इंगलैंड का शासक बन गया1

डेन राजा कैन्यूट (सन् 1016-1035 ई०)

कैन्यूट इंगलैंड का प्रथम डेन सम्राट् था जिसने फिर से इंगलैंड में शान्ति और समृद्धि स्थापित की। यद्यपि यह एक विदेशी विजेता था, तो भी वह एक अच्छा राजा था। उसने एक इंगलैंड निवासी के समान शासन करना आरम्भ किया और ईसाई धर्म ग्रहण कर लिया। एथलरेड की विधवा से विवाह करके उसने नॉरमण्डी से भी मैत्री-सम्बन्ध जोड़ लिए। उसने 1028 ई० में नार्वे और डेन्मार्क को अपने अधीन कर लिया तथा स्काटलैंड के राजा ने भी उसे अपना अधिपति स्वीकार कर लिया। उसकी विदेशनीति प्रमुख रूप से सफल रही और उसने महाद्वीप की दृष्टि से इंगलैंड की स्थिति को ऊंचा किया।

उसने अंग्रेजों और डेनों को समान रूप से सरकारी नौकरियां दीं। वह एक योग्य शासक सिद्ध हुआ। उसने इंगलैंड को चार प्रान्तों में बांटकर प्रत्येक को एक नवाब (Earl) के अधीन रखा। वह इंगलैंड पर एक देशभक्त की तरह राज्य करता रहा। उसकी मृत्यु 1035 ई० में हो गई।

कैन्यूट के दो पुत्रों ने आपस में लड़ झगड़कर सन् 1042 ई० में अपना राज्य खो दिया। डेन लोग अंग्रेज जाति में लीन हो गये। नॉरमण्डी से आकर साधु एडवर्ड ने इंगलैंड का राज्य सम्भाला2

साधु एडवर्ड (1042 ई० से 1066 ई०)

वह अनुद्यत एथलरेड और एम्मा का पुत्र था। धार्मिक प्रवृत्तियों तथा चरित्र की साधुता के कारण उसे साधु एडवर्ड कहा जाता था। वह इंगलैंड का राजा बनने की अपेक्षा एक नार्मन भिक्षु बनने के अधिक योग्य था। नार्मनों के प्रति उसकी अनुचित कृपाओं के कारण अंग्रेज उससे घृणा करने लगे, इस कारण इंगलैंड में दो दल खड़े हो गये - (1) राजा का दल अर्थात् नॉरमन और उसके अनुयायी (2) राष्ट्रीय अथवा सेक्सन दल, जिसका नेता गाडविन जो राजा का विरोधी था। उसके राज्यकाल में वेस्सेक्स का नवाब गाडविन और उसका पुत्र हेरोल्ड इंगलैंड के वास्तविक


1, 2. आधार लेख - इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 40 से 43, लेखक प्रो० विशनदास; ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 32-H से 32-O लेखक रामकुमार लूथरा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-401


शासक थे। हेरोल्ड ने राजा को नॉरमनों को देश से निकालने के लिए विवश कर दिया। उनके चले जाने के बाद एडवर्ड हेरोल्ड की सलाह से राज्य करता रहा। 1066 ई० में उसकी मृत्यु होने पर उसका बहनोई हेरोल्ड राजा बना1

इंगलैंड पर नॉरमन विजय (सन् 1066-1154)

स्केण्डेनेविया में रहने वाले जाटों को नार्थमेन-नॉरमन, विकिंग्स और डेन आदि नामों से पुकारा गया। वे बड़े बलवान् और उग्र थे। वे अपने जहाजों में ग्रीनलैण्ड व अमेरिका में भी पहुंचे। उन्होंने रूम सागर पर प्रभुता प्राप्त करके सिसिली और दक्षिणी इटली में भी एक राज्य स्थापित किया था। उनका एक दल रूस गया जहां पर एक राज्य स्थापित किया। इन लोगों का एक दल सन् 913 ई० में फ्रांस गया और वहां पर कुछ क्षेत्र विजय करके वहां के निवासी हो गये। इन लोगों के नाम पर वह क्षेत्र नॉरमण्डी कहलाया।

1066 ई० में साधु एडवर्ड की मृत्यु होने पर हेरोल्ड इंगलैण्ड का राजा बना। नॉरमण्डी के नॉरमन ड्यूक विलियम ने 1066 ई० में इंगलैण्ड पर आक्रमण कर दिया। राजा हैरोल्ड ने अपनी अंग्रेजी सेना के साथ नॉरमन सेना का मुकाबला किया। अन्त में 24 अक्तूबर, 1066 ई० में हेस्टिंग्स अथवा सेनलेक के स्थान पर नॉरमन सेना ने अंग्रेजी सेना को परास्त किया। हेरोल्ड बड़ी वीरता से लड़ा परन्तु उसकी आंख में तीर लगा जिससे वह रणक्षेत्र में वीरगति को प्राप्त हुआ। नॉरमण्डी के ड्यूक विलियम का वैस्टमिन्स्टर में इंगलैण्ड के राजा के रूप में राज्याभिषेक किया गया2

उजागरसिंह माहिल ने इन नॉरमनों के विषय में लिखा है कि “नॉरमन और कोई नहीं थे बल्कि ये जटलैण्ड के जूट या जाट थे जिन्होंने फ्रांस के उत्तरी समुद्री तट पर अधिकार कर लिया था। वे ह्रोल्फ दी गेंजर (Hrolf the Ganger) के नेतृत्व में उत्तरी फ्रांस पर उसी प्रकार टूट पड़े थे जिस प्रकार उनके पूर्वज हेंगेस्ट एवं होरसा बर्तानिया पर टूट पड़े थे। ह्रोल्फ ने सेन (Seine) नदी के डेल्टा के दोनों ओर के क्षेत्र को फ्राँस के राजा चार्ल्स-दी-सिम्पल से छीन लिया। फ्राँस के राजा ने नॉरमन नेता ह्रोल्फ से एक सन्धि 912 ई० में कर ली जिसके अनुसार इस समुद्री तट को राजा ने नॉरमनों को सौंप दिया और अपनी पुत्री का विवाह ह्रोल्फ से कर दिया। इस तरह से ह्रोल्फ पहला ड्यूक ऑफ नॉरमण्डी बन गया। इनका नाम नॉरमन पड़ने का कारण यह है कि ये लोग नॉरवे और जूटलैण्ड के उत्तरी भाग में रहते थे। विजेता विलियम इस ह्रोल्फ से सातवीं पीढ़ी में था।”


1, 2. आधार लेख - इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 40 से 43, 40, 49, लेखक प्रो० विशनदास; ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 32-H से 32-O, 32-S से 32-T लेखक रामकुमार लूथरा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-403



ड्यूक ऑफ नॉरमण्डी शासकों की वंशावली निम्न प्रकार से है -

1. ह्रोल्फ (912-927 ई०)

2. विलियम लोंग्वर्ड (927-943 ई०)

3. रिचर्ड प्रथम - निडर (943-996 ई०)

4. रिचर्ड द्वितीय - योग्य (996-1026 ई०)

5. रिचर्ड तृतीय (1026-1028 ई०)

6. राबर्ट (1028-1035 ई०)

7. विलियम प्रथम विजेता, (b.1035-r.1066-1087.

विलियम विजेता द्वारा इंगलैण्ड की विजय तथा उसके वंशज राजाओं का शासन, इंगलैंड के इतिहास का एक महत्त्वपूर्ण भाग है। उत्तर में जटलैंड में रहने वाले पूर्वजों का वंशज विलियम विजेता एक जाट था। उस बात को सिद्ध करने के लिए मैं इतिहासकार एच० जी० वेल्ज का वर्णन लिखता हूं जिसने अपनी पुस्तक “दी आउटलाइन ऑफ हिस्ट्री” के अध्याय 32, विभाग 8 में डेन, नॉरमन तथा विलियम विजेता के विषय में निम्न प्रकार से लिखा है -

सर्वव्यापक इतिहास के दृष्टिकोण से ये सब लोग पूर्णतः एक ही नॉरडिक परिवार के लोग थे। इनके समूह न केवल पश्चिम की ओर बढ़ते गये बल्कि पूर्व में भी चले गये। हम बाल्टिक सागर से काला सागर तक गोथ कहे जाने वाले इन लोगों के आन्दोलनों का बहुत ही रोचक वर्णन कर चुके हैं। इन गोथ लोगों के दो भाग आस्ट्रोगाथ (पूर्वी जाट) और वीसीगोथ (पश्चिमी जाट) लोगों की उत्साहपूर्ण यात्रायें खोज करके लिख दी हैं जो कि स्पेन में वीसीगोथ राज्य तथा इटली में आस्ट्रोगोथ साम्राज्य थे जो समाप्त हो गये।

नौवीं शताब्दी में एक दूसरा आंदोलन इन नॉरमन लोगों का रूस के पार चल रहा था और उसी समय इंगलैण्ड में उनकी बस्तियां तथा नॉरमण्डी में ड्यूक का पद मिलकर उनकी रियासत नॉरमण्डी स्थापित हो रही थी। दक्षिणी स्कॉटलैण्ड, इंगलैंड, पूर्वी आयरलैंड, फलैंडर्ज़ (बेल्जियम में पश्चिमी प्रान्त), नॉरमण्डी तथा रूस के लोगों में इतने अधिक सामान्य तत्त्व विद्यमान हैं कि हम उनकी पहचान करने में उनको अलग-अलग नहीं कर सकते। मूलतः ये सभी लोग गोथिक या नॉरडिक हैं। इनके नाप-तौल के पैमाने इंच व फुट एक ही थे।

रूसी नॉरसमेन (नॉरमन) गर्मियों में नदियों के रास्ते यात्रा करते थे। ये लोग रूस में बड़ी संख्या में थे। वे अपने जहाजों को उत्तर की ओर से दक्षिण की ओर बहनेवाली नदियों से ले जाते थे। वे लोग कैस्पियन तथा काला सागर पर समुद्री डाकुओं, छापामारों तथा व्यापारियों की तरह प्रतीत होते थे। अरब इतिहासकारों ने इन लोगों को कैस्पियन सागर पर देखा तथा यह भी ज्ञात हुआ कि इनको रूसी कहा जाता था। इन लोगों ने सन् 865, 904, 943 तथा 1073 ई० में छोटे समुद्री जहाजों के एक बड़े बेड़े के साथ पर्शिया (ईरान) पर छापा मारा और कांस्टेण्टीपल (पूर्वी


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-404


रोमन साम्राज्य की राजधानी) को भयभीत किया। इन नॉर्थमेन (नॉरमन) लोगों में एक रूरिक था जो कि लगभग सन् 850 ई० में नोवरगोरॉड (Novgorod) (पश्चिमी रूस में, लेनिनग्राड के दक्षिण में इलमेन (Ilmen) झील का क्षेत्र) का शासक बना और उसके उत्तराधिकारी ड्यूक आलेग ने कीफ (Kief) पर अधिकार कर लिया तथा आधुनिक रूस की नींव डाल दी। रूसी विकिंग्ज (नॉरमन) के कांस्टेण्टीपल के स्थान पर उनके युद्धकला के गुणों की बहुत प्रशंसा की गई। यूनानी उन्हें वरान्जियन्ज (Varangians) कहते थे तथा इन्होंने एक वरान्जियन्ज अङ्गरक्षक दल की स्थापना भी की।

1066 ई० में नॉरमनों द्वारा इंगलैण्ड को जीत लेने के पश्चात् बहुत से डेन तथा अंग्रेज लोगों को देश से बाहर निकाल दिया गया था और वे रूसी वरान्जियन्ज में सम्मिलित हो गये थे। उसी समय नॉरमण्डी के नॉरमन पश्चिम से रूमसागर में प्रवेश करने के लिए अपने पथ पर अग्रसर थे। पहले वे धन के लालच में आये किन्तु बाद में स्वतन्त्र छापामार बन गये। वे मुख्यतः समुद्र से नहीं बल्कि बिखरे हुए समूहों में थल से भी आए। वे लोग राइनलैण्ड (Rhineland, पश्चिमी जर्मनी में) तथा इटली से होकर आए थे। उनका उद्देश्य लड़ाई सम्बन्धी कार्यों, लूटपाट करने और तीर्थयात्रा करने का था। नौवीं और दसवीं शताब्दियों में उनकी ये तीर्थयात्राएं बहुत उन्नति पर थीं। जैसे ही इन नॉरमनों की शक्ति बढ़ी, वे लुटेरे एवं भयंकर डाकू के रूप में प्रकट हुये। सन् 1053 ई० में इन्होंने पूर्वी सम्राट् तथा पोप पर इतना दबाव डाला कि वे इनके विरुद्ध दुर्बल तथा विफल बन गये। बाद में ये हार गये और पकड़े गये तथा पोप द्वारा माफ कर दिए गए।

सन् 1060-1090 ई० में ये लोग केलेबरिया तथा दक्षिणी इटली में आबाद हो गये। सारासेन्ज (Saracens) से सिसिली पर विजय पाई। इन नॉरमन लोगों ने अपने नेता राबर्ट गुइस्कार्ड (Robert Guiscard), जो कि साहसी योद्धा था, और एक तीर्थयात्री के रूप में इटली में प्रवेश कर गया था और जिसने केलेबरिया (Calabria - इटली का एक दक्षिणी प्रान्त) में एक डाकू के रूप में अपना कार्य शुरु किया था, के नेतृत्व में सन् 1081 ई० बाईजन्टाईन (Byzantine) साम्राज्य को भयभीत कर दिया था।

उसकी सेना ने, जिसमें एक सिसिली के मुसलमानों का सेना दल था, ब्रिण्डिसी (Brindisi - इटली के पूर्वी तट पर) से समुद्र पार करके एपिरस (Epirus - यूनान का पश्चिमी प्रान्त) में प्रवेश किया था। परन्तु उनका यह मार्ग पाइर्रहस (Pyrrhus) के उस मार्ग से विपरीत था जिससे उसने 275 ई० पू० में रोमन साम्राज्य पर आक्रमण किया था।

इस राबर्ट ने बाईजन्टाईन साम्राज्य के शक्तिशाली दुर्ग दुराज्जो (Durazzo - अलबानिया में) पर घेरा डाला और उस पर सन् 1082 में अधिकार कर लिया। किन्तु इटली में घटनाओं के कारण उसे वहां से इटली लौटना पड़ा। अन्त में बाईजण्टाईन साम्राज्य पर नॉरमनों के इस पहले आक्रमण को समाप्त किया। इस प्रकार अधिक शक्तिशाली कमनेनियन (Comnenian) वंश के शासन के लिए रास्ता खोल दिया, जिसने सन् 1082 से 1204 ई० तक वहां शासन किया।

रोबर्ट गुइस्कार्ड ने सन् 1084 में रोम का घेरा लगाया तथा उसे जीत लिया। इसके लिये


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-405


इतिहासकार गिब्बन ने बड़े सन्तोष से यह स्वीकार किया है कि इन लुटेरों में सिसिली के मुसलमान सैनिक भी शामिल थे।

12वीं शताब्दी के इटली के पूर्वी साम्राज्य पर नॉरमन लोगों ने तीन और आक्रमण किए। उनमें से एक रोबर्ट गुइस्कार्ड के पुत्र ने किया तथा दूसरे दो आक्रमण सिसिली से सीधे समुद्री मार्ग से किए गए थे।

आगे यही लेखक एच० जी० वेल्ज इसी अध्याय 32, के पृष्ठ 635 पर लिखते हैं कि “जब हम इन दक्षिणी रूसी क्षेत्रों की वर्तमान जनसंख्या के विषय में सोचते हैं तो हमें नॉरमन लोगों का बाल्टिक तथा काला सागर के बीच आवागमन भी याद रखना होगा और यह भी याद रखना होगा कि वहां स्लावोनिक (Slavonic) जनसंख्या काफी थी जो कि सीथियन तथा सरमाटियन्ज (Sarmatians) के वंशज एवं उत्तराधिकारी थे। तथा वे इन अशान्त, कानूनरहित किन्तु उपजाऊ क्षेत्रों में पहले ही आबाद हो गये थे। ये सब जातियां परस्पर घुलमिल गईं तथा एक-दूसरे के प्रभाव में आ गईं। स्लावोनिक भाषाओं की, सिवाय हंगरी में, सम्पूर्ण सफलता से प्रतीत होता है कि स्लाव (Slav) लोगों की ही जनसंख्या अत्यधिक थी।”

मैंने यह विस्तृत उदाहरण इस बात को स्पष्ट करने के लिए दिए हैं कि डेन, विकिंग्ज, नॉरमन और गोथ - ये सब सीथियन जाटों में से ही थे तथा उन्हीं के वंशज थे1

इंगलैंड पर नॉरमन राज्य (1066-1154 ई०)

विलियम प्रथम (विजयी) (1066-1087 ई०) -

14 अक्तूबर 1066 ई० को सेनलेक अथवा हेस्टिंग्स की विजय से विलियम प्रथम को इंगलैंड का सिंहासन प्राप्त हो गया। इस विजय के पश्चात् वह लन्दन की ओर बढ़ा और बुद्धिमानों की सभा (Witar) ने उसका स्वागत किया और अपनी इच्छा से उसे राजा के रूप में चुन लिया। इस प्रकार सैद्धान्तिक दृष्टि से उसके अधिकार का आधार चुनाव हो गया।

सेनलेक की विजय से विलियम इंगलैंड के केवल एक भाग का ही स्वामी बना था। देश के दूसरे भागों में अभी तक स्वतन्त्रता के युद्ध का कार्य चल रहा था तथा इंगलैंड के कई भागों में विद्रोह हुए और उन सबको दबाकर अपनी विजय को पूर्ण करने के लिए विलियम को पांच वर्ष तक घोर युद्ध करना पड़ा।

विलियम की नीति यह थी कि राजा की स्थिति को दृढ़ बनाया जाय और सारे इंगलैंड में एक शक्तिशाली केन्द्रीय शासन स्थापित किया जाय। वह सारी शक्ति अपने आप में केन्द्रित करके देश का वास्तविक शासक बनना चाहता था।

अंग्रेजों को अपने अधीन करने के लिए उनसे उनकी भूमियां जब्त कर लीं और वह नॉरमनों को दे दीं। इससे अमीर अंग्रेजों की शक्ति भंग हो गई तथा उनकी ओर से विरोध या विद्रोह का भय


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 66 से 70, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-406


न रहा। उसने देशभर में किले बनवा दिये जिनमें नॉरमन सैनिक रखे ताकि वे अंग्रेजों के किसी भी विद्रोह को दबा सकें।

नॉरमनों को अपने अधीन रखने के लिये उसने नवाबी प्रथा का लोप कर दिया। उसने नॉरमन सरदारों को एक स्थान पर भूमि न देकर भिन्न-भिन्न भागों में बिखेरकर भूमियां दीं ताकि उनकी शक्ति का संगठन न हो सके। उसने अंग्रेजों की मिलिशिया सेना संगठित की, जो नॉरमनों के विद्रोह को दबाने के लिए हर समय तैयार रहती थी। उसने मुख्य काश्तकारों और उप-काश्तकारों को सालिसबरी में इकट्ठा करके उनसे राजा के प्रति भक्त रहने की शपथ दिलवाई।

उसने अंग्रेजी चर्च को रोम की बजाय अपने अधीन कर लिया। उसने पादरियों को मजबूर किया कि वे उसकी अधीनता स्वीकार करें तथा उसी से पद प्राप्त करें। उसने पादरियों की सभा (Synod) को आज्ञा दी कि वह राजा की स्वीकृति के बिना कोई कानून न बनाये। इससे चर्च की शक्ति राज के हाथों में आ गई।

विलियम द्वारा पादरियों को ब्रह्मचारी रहने की आज्ञा दी गई। पुराने सैक्सन पादरियों के स्थान पर नए नॉरमन पादरी रखे गए और चर्च का रोम के साथ सम्बन्ध कम कर दिया।

विलियम एक चतुर और दूरदर्शी राजनीतिज्ञ था। उसने इंगलैंड की सम्पत्ति और आय के स्रोतों की जाँच करवाई। यह जाँच इतनी पूर्ण थी कि कोई भूमि, सड़क तथा पशु आदि ऐसा न था जिसे पुस्तक में दर्ज न किया गया हो। यह जाँच सन् 1086 ई० में सम्पूर्ण हो गई और इसे ‘डूम्स्डे’ नामक पुस्तक में दर्ज किया गया। इसी को “डूम्सडे पुस्तक” (Doomsday Book) कहते हैं। यह प्रत्येक भूपति के नाम और उसकी जायदाद का वर्णन करती है तथा 11वीं शताब्दी के इंगलैंड के हालात का बहुमूल्य अभिलेख (Record) है। इससे सरकार की आय भी निश्चित हो गई और सरदारों की शक्ति का भी ज्ञान हो गया। यह पुस्तक उस समय के इंगलैंड का सच्चा चित्र है।

विलियम ने स्काटलैंड पर आक्रमण किया और उससे अपना परमाधिकार मनवाया। उसने फ्रांस के राजा को, विलियम के विद्रोही भाई की सहायता करने पर, दंड देने के लिए फ्रांस पर आक्रमण किया। उस प्रकार उसने इंगलैंड की प्रतिष्ठा बढ़ाई।

विलियम की इंगलैंड के प्रति सबसे बड़ी सेवा यह थी कि उसने देश में एक दृढ़ और निश्चित राष्ट्रीय राजतन्त्र स्थापित किया। वह एक योग्य प्रशासक और सफल राजनीतिज्ञ था। वह विदेशी था, परन्तु उसने इंगलैंड पर बुद्धिमत्ता के साथ शासन किया और अपनी प्रजा का उपकार किया। वह एक कठोर और कड़ा शासक था। उसने देश में शान्ति स्थापित की। राज्यभर में कोई आदमी अपनी छाती पर सोना रखकर जा सकता था। यह कहना उचित ही है कि “नॉरमन विजय इंगलैंड के इतिहास में एक निर्णायक स्थिति अथवा स्थल चिह्न है और यह विजय एक गुप्त आशीर्वाद थी।”

सम्राट् विलियम की सितम्बर 9, 1087 ई० को अपने घोड़े पर से गिरकर मृत्यु हो गई1


1. इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 6-74, लेखक प्रो० विशनदास; ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 32-R - 32-X, लेखक रामकुमार लूथरा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-407


विलियम द्वितीय (1087-1100 ई०) -

विलियम विजयी ने अपने सबसे बड़े पुत्र राबर्ट को वसीयत द्वारा नॉरमण्डी का राज्य दिया और अपने अधिक पुरुषार्थी पुत्र विलियम को इंगलैंड का राज्य दिया। अपने तीसरे पुत्र हेनरी को केवल धन ही दिया। विलियम द्वितीय का अभिषेक 26 सितम्बर, 1087 ई० को वेस्टमिनिस्टर के बड़े गिरजा में हुआ।

वह एक अविश्वासी, अधार्मिक, सिद्धान्तहीन और क्रूर राजा था। उसमें अपने पिता के कोई गुण नहीं थे। उसने अपनी अनुचित आज्ञाओं को लोगों पर लागू करने के लिए वेतनभोगियों को अपने इर्दगिर्द इकट्ठा कर लिया। वह सरदारों से धन निचोड़ने के लिए अत्याचारपूर्ण तरीके प्रयोग में लाता था। इस कारण सामन्तगण इसको पसन्द नहीं करते थे तथा युद्ध आदि में कभी भी इसकी सहायता करने को तैयार नहीं होते थे।

प्रथम धर्मयुद्ध (First Crusade) 1095-1099 ई०

तुर्की ने जेरुसलेम को विजय कर लिया और वे जेरुसलेम की यात्रा करनेवाले ईसाई यात्रियों को बहुत कष्ट देते थे। सन् 1095 ई० में पोप ने ईसाई योद्धाओं को तुर्कों के विरुद्ध पवित्र युद्ध में शामिल होने के लिए आह्वान किया। प्रथम धर्म-युद्ध (1095-99) अपने उद्देश्य में सफल रहा और जेरुसलेम पर ईसाइयों का अधिकार हो गया।

विलियम द्वितीय की मृत्यु सन् 1100 ई० में घातक चोट लगने से हो गई।

हेनरी प्रथम (1100-1135 ई०) -

विजयी विलियम का सबसे छोटा पुत्र हेनरी प्रथम नये वन में शिकार खेल रहा था जबकि विलियम द्वितीय को घातक चोट लगी तथा उसकी मृत्यु हो गई। क्योंकि राबर्ट पूर्व में जेरुसलेम में धर्म-युद्ध लड़ रहा था, इसलिए हेनरी प्रथम को सरदारों ने राजा चुन लिया। उसका राज्याभिषेक 5 अगस्त 1100 ई० में हुआ। उसने स्वतन्त्राओं का चार्टर (शासन-पत्र) जारी करके अपनी प्रजा को सुशासन का विश्वास दिलाया। इस चार्टर की धारायें निम्नलिखित थीं –

  1. चार्टर में यह बताया गया कि राजा हेनरी को सारे इंगलैंड के लोगों ने राजा चुना है।
  2. उसने जनता के धन को निचोड़नेवाले सब कठोर, अत्याचारपूर्ण तरीके उड़ा दिए जो कि उसके भाई विलियम द्वितीय के राज्यकाल में प्रचलित थे।
  3. चर्च को भी अनुचित रूप से धन निचोड़ने के तरीकों से मुक्त कर दिया गया। सरदारों को विश्वास दिलाया गया कि उनसे अनुचित तरीकों से रुपया नहीं निचोड़ा जायेगा।
  4. सरदारों को भी चेतावनी दी गई कि वे अनुचित तरीकों से अपने काश्तकारों से धन न निचोड़ें।
  5. साधु एडवर्ड के कानूनों को फिर से लागू किया गया।
  6. यह प्रतिज्ञा की गई कि शुद्ध सिक्के जारी किये जायेंगे।

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-408


हैनरी ने प्रशासनिक सुधार किए -

  1. उसने प्राचीन शत सभाओं (Hunded Moots) और शायर सभाओं (Shire Moots) को पुनर्जीवित किया।
  2. नॉरमन विजय से पहले के समय की बुद्धिमानों की सभा (Witanage moot) के स्थान पर महान् परिषद (Great Council) बनाई गई। इसमें बुद्धिमान् व्यक्ति न्याय के आधार पर झगड़ों का निर्णय करते थे।
  3. दो न्यायालय बनाये गये (1) एक्सचेकर (Exchequer) - जिसका काम राजस्व को इकट्ठा करना और उसका नियन्त्रण करना था। इसके प्रधान को 'जसतिशिया' कहा जाता था। (2) क्यूरिया रीजिस (Curia Regis) अथवा राजकीय न्यायालय, महत्त्वपूर्ण न्यायिक कार्य करता था। यह बड़े-बड़े काश्तकारों के मुकद्दमों और शायर सभाओं के फैसलों के विरुद्ध अपीलें करता था।
  4. घूमने-फिरने वाले न्यायाधीश (Lutinerant Justices) नियुक्त किये गये जो कि देश में घूमकर यह देखते थे कि छोटे न्यायालय लोगों को ठीक न्याय देते हैं या नहीं। इससे निर्धन से निर्धन व्यक्ति को भी उचित न्याय प्राप्त होने लगा।

न्यायिक कार्यों में रुचि रखने और उसके द्वारा किए गए अनेक न्यायिक सुधारों के कारण हेनरी सत्यपरायणता का शेर कहा जाता है।

हेनरी बड़ा बुद्धिमान् प्रशासक था। पादरियों और अंग्रेज जाति ने उसके कार्यों का समर्थन किया, क्योंकि उसने देश में शान्ति और न्याय की व्यवस्था की।

2 दिसम्बर, 1135 ई० को सम्राट् हेनरी की मृत्यु हो गई।

स्टीफन (1135-1154 ई०) -

स्टीफन विजयी विलियम प्रथम की पुत्री एडेला का पुत्र था। हेनरी प्रथम के मरने पर उसकी एकमात्र पुत्री माटिल्डा (Matilda) थी। हेनरी ने अपने सरदारों से, जिनमें स्टीफन भी शामिल था, यह शपथ ले ली थी कि वे उसके मरने पर उसकी पुत्री माटिल्डा को इंग्लैण्ड की रानी बनायेंगे। उन्होंने दबाव में आकर यह शपथ ली थी, परन्तु वास्तव में वे अशान्त समय में एक स्त्री को अपनी रानी बनाने से डरते थे। इसलिए उन्होंने बड़ी प्रसन्नता के साथ विजयी विलियम की पुत्री एडेला (Adela) के पुत्र स्टीफन को अपना राजा बना लिया। इस पर गृह-युद्ध शुरु हो गया, जो कई वर्षों तक चलता रहा। शुरु-शुरु में माटिल्डा को कुछ सफलता मिली। स्टीफन पकड़ा गया और माटिल्डा का लन्दन में अभिषेक किया गया। परन्तु उसने अपने घमण्डी व्यवहार से सरदारों को नाराज कर दिया और वे स्टीफन के झण्डे तले इकट्ठे हो गये।

माटिल्डा का मामा डेविड जो स्कॉटलैण्ड का राजा था, ने माटिल्डा के पक्ष को अपनाकर इंग्लैंड पर आक्रमण कर दिया, परन्तु वह सन् 1138 ई० में स्टैण्डर्ड की लड़ाई में पराजित हुआ। इसके बाद एक समझौता किया गया जिसके अनुसार डेविड के पुत्र हेनरी को नार्थम्बरलैंड में एक जागीर दी थी। अब माटिल्डा का कोई शक्तिशाली समर्थक न रहा। जब उसका भाई राबर्ट पकड़ा गया तो वह भागने पर मजबूर हो गई। राबर्ट और स्टीफन के समर्थकों में युद्ध फिर शुरु हो गया। परन्तु इससे थोड़े समय पश्चात् माटिल्डा को सिंहासन प्राप्ति की कोई आशा न रही और वह भागकर फ्रांस को चली गई।

अन्त में 1153 ई० में वालिंगफोर्ड (Wallingford) की सन्धि द्वारा युद्ध समाप्त हो गया


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-409


जिसके अनुसार स्टीफन मरने तक राजा रहेगा तथा उसका उत्तराधिकारी माटिल्डा का पुत्र हेनरी द्वितीय होगा। स्टीफन की मृत्यु सन् 1154 ई० में हो गई और हेनरी द्वितीय इंग्लैंड के सिंहासन पर बैठा। इस तरह से इंग्लैंड पर से नॉरमन राज्य सन् 1066 से 1154 ई० तक 88 वर्ष रहकर समाप्त हो गया।

स्टीफन एक कमजोर राजा था। उसके राज्यकाल में अव्यवस्था और अराजकता मची रही। इस कारण उसके राज्यकाल को 19 लम्बी सर्दियां कहा जाता है।

नॉरमन विजय से इंगलैंड को लाभ - नॉरमन शासक इंगलैंड के लिए एक आशीर्वाद थे और उन्होंने देश के राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक जीवन के स्तर को उन्नत किया। नॉरमन राजा बड़े शक्तिशाली थे और उन्होंने कठोरतापूर्वक देश से अव्यवस्था दूर करके अन्दरूनी शान्ति स्थापित कर दी और इंगलैंड पर एक स्थिर शासन स्थापित किया।

नॉरमनों ने देश को अपनी नई कला, वास्तुविद्या (Architecture), ज्ञान, व्यवहार, संस्थायें और संस्कृति प्रदान की। इन कारणों से नॉरमन विजय को इंगलैंड के इतिहास में निर्णयात्मक स्थिति माना जाता है।

समय बीतने पर नॉरमन लोग अंग्रेजों में विलीन होकर एक जाति बन गये1

इंग्लैंड के नॉरमन शासक (1066-1154 ई०)

विलियम प्रथम (विजयी) 1066-1087 ई०

1. राबर्ट - नॉरमण्डी का ड्यूक (निःसन्तान मर गया) 2. विलियम द्वितीय (रूफस) 1087-1100 3. हेनरी 1100-1135 4. एडला का पुत्र स्टीफन 1135-1154

_ _ _ _ _ _ _ _ _ _

हेनरी 1100-1135

1. विलियम (1120 में डूबकर मरा) 2. माटिल्डा (पुत्री)

_ _ _ _ _ _ _ _ _
नोट 
सन् 1154 ई० में स्टीफन के मरने पर इंगलैंड पर से नॉरमन जाटों का शासन समाप्त हो गया। उसके बाद अंजौवंश अथवा प्लांटेजिनेट्स का शासन इंगलैंड पर शुरु हो गया जिसका प्रथम सम्राट् हेनरी द्वितीय (1154-1189) था)।

External links

References

  1. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.340
  2. उत्तरं हरिवर्षं तु समासाथ्य स पाण्डवः, इयेष जेतुं तं थेशं पाकशासननन्थनः (II.25.7)
  3. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/The migrations of the Jats to the North-Western countries,p.258
  4. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/An Historico-Somatometrical study bearing on the origin of the Jats, p.159-160
  5. Ripley op.cit., p. 106.
  6. Cr. Ch no. IX in the book.
  7. Cr. Ch no. IX in the book.
  8. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Appendices/Appendix II, p.319-332
  9. Y-STR Haplogroup Diversity in the Jat Population Reveals Several Different Ancient Origins
  10. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p. 384
  11. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III, p.185-186
  12. महाभारत आदिपर्व 78वां अध्याय, श्लोक 1-24.
  13. ये वे देश हैं जो पाण्डव दिग्विजय में अर्जुन ने उत्तर दिशा के सभी देशों को जीत लिया था। इनका पूर्ण वर्णन महाभारत सभापर्व अध्याय 26-28 में देखो।
  14. जाट इतिहास पृ० 14-15 लेखक श्रीनिवासाचार्य महाराज ।
  15. हाभारत आदिपर्व 85वां अध्याय श्लोक 34-35, इन पांच भाइयों की सन्तान शुद्ध क्षत्रिय आर्य थी जिनसे अनेक जाट गोत्र प्रचलित हुए । (लेखक)
  16. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 146-47 ले० ठा० देशराज।
  17. जाट इतिहास पृ० 14-18 लेखक श्रीनिवासाचार्य महाराज ।
  18. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.339-340
  19. (सत्यार्थप्रकाश दशम समुल्लास पृ० 173)
  20. Thakur Deshraj: Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Navam Parichhed,p.152
  21. Thakur Deshraj: Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Navam Parichhed,p.153-156
  22. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.339-340
  23. (सत्यार्थप्रकाश दशम समुल्लास पृ० 173)
  24. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.383-410

Back to Places