Thathawata

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
लेखक:लक्ष्मण बुरड़क, IFS (Retd.), Jaipur
Village children enjoying sand dunes

Thathawata (ठठावता) or Ṭhaṭhawatā is a village in Ratangarh tahsil in Churu district of Rajasthan state in India.

Origin of name

As per oral tradition Thatha of Bhadia clan founded the village Thathawata more than 800 years back. No authentic information is available about the founder Thatha. It is also likely that Bhadias might have migrated from an ancient place in Sindh called Thatta due to Muslim invasions. The founder Thatha Bhadia left charagahas on all sides of the village in the name of his family members. These names like Kisananu, Ramani, Hiranu etc. support Sindh connection. There is need to do more research about Thatha.

Location

The Village Thathawata is in the Ratangarh Tehsil in the southeast direction, west of Fatehpur and 3 km southwest of Biramsar village on National Highway -11.Thathawata village is located in Ratangarh Tehsil of Churu district in Rajasthan, India. It is situated 25km away from sub-district headquarter Ratangarh and 56km away from district headquarter Churu. [1]

History

After the defeat of last Hindu King of Delhi, Prithviraj Chauhan, in the Second Battle of Tarain in 1192, The Jats in his army moved to the countryside and settled as cultivators at various places in India. One such Jat warrior was named Thatha of Bhadia clan who founded the village Thathawata. The Bhadia clan Jats had also settled villages Banthod and Rol in present Sikar district of Rajasthan.

Brahman and Harijan came along with Bhadia Jats.

As per local tradition there were Ola Jats in village. Khudi Thakur and Thathawata Thakur were brothers. There was a war between Khudi Thakurs and Thathawata Thakurs. All Thakurs of Thathawata were killed except one child who was saved by Ola family. He was Bhani Singh. All Thakurs of Thathawata are descendants of Bhani Singh.

Jat Gotras

Baksa Ram Bajiya died on 20 December 1992 unmarried but planted this pipal tree in 1960 AD

Prior to the present Jat Gotras there lived Achra, Dular and Ola Jats. They moved elsewhere. They moved as under: Ola to Khuri Khari, Dular to Ratangarh and Achra to Chhabdi Khari.

Following Jat clan people reside in the village at present with number of families as under:

Burdak

Burdak (15) - Came from Gothada Tagalan - Mandeta - Sutot - Ratangarh - Thathawata. Burdak Gotra Jats migrated from village Mandeta in Sikar district.

Chahar

Chahar (20) - Came from Charwas to Pabana to Khanji Ka Bas near Garinda in Sikar district and then to Thathawata. Netnar Singh is their Kuladevata.

Jhajharia

Jhajharia (8) - Came from Nand Jhunjhunu → DeenwaThathawata. Their Kuldevata is at Deenwa. Neta Ram came from DeenwaThathawata. Neta Ram's other three brothers moved as under: one stayed at Deenwa, one moved to Fransa, one moved to Ratangarh.

Neta had four sons: 1. Bhura, 2. Ladu, 3. Chandra and 4. Mohan. Ladu and Mohan had no sons.

Bhura had sons ...1. Ramkaran and 2. Surja. Ramkaran has sons - 1. Dana, 2. Manish, 3. Indraraj. Suraja has sons 1. Surendra and 2. Vijendra.

Chandra had sons 1. Shyochan and 2. Shishpal. Shyochan has son Lakshman. Shishpal has sons 1. Subhash and 2. Manful (Mob:7340617783).

Pachar

Pachar (4) - Came from Dalmas village in Sikar district

Punia

Punia (60) - Came from Rajpur in Laxmangarh tehsil in Sikar district. The Punia Jats of Thathawata came from village Rajpur in Laxmangarh tehsil in Sikar district. From Rajpur they first came and settled at Badusar village in Laxmangarh tehsil in Sikar district and then came to Shekhisar in Sikar district. Finally they came to Thathawata in samvat 1960. In Rajpur village there is a temple of Kalka Mata, the kuladevi of Punias of Thathawata village.

Other castes

There are 175 families of Bidawat (Rathore) Rajputs, 100 families of Jats and 75 families of other castes. Bidawats came to this village about 300 years back from Loha.

The other castes include Brahmans, Harijans, Kumhars, Nai, Dholi, Naik and Daroga.

There was one person named Baksa Ram Bajiya, who was bhanaja of Hema Ram Pachar and had come from Dalmas village in Sikar district. Baksa Ram Bajiya died unmarried but planted a pipal tree in front of his house which still reminds about him.

Population

According to Census 2011 information the location code or village code of Thathawata village is 070661. As per 2009 stats, Beeramsar is the gram panchayat of Thathawata village. The total geographical area of village is 1203.5 hectares. Thathawata has a total population of 1,767 peoples (Male:875, female: 892). There are about 339 houses in Thathawata village.[2]

Scenic beauty

View of sand dunes at village Thathawata is worth seeing.

Geography

Location of Thathawata in south-west of Biramsar in Churu district

It is located on Pakka Road on the route Biramsar on Natinal Highway-11 to Sulkhania village passes through the village. Thathawata is located at 28°5' North, 74°46' East.

The natural climatic conditions in the village are very harsh and extreme. The temperature ranges from sub-zero in winters to more than 50°C in summers. The summers bring hot waves of air called "loo". The village lies in the Thar desert region. Annual rainfall is very low of the scale of 25 cm. The ground water in the village is hard and salty and as deep as 200 feet . The people in the region depend on rainwater harvesting. The rainwater is stored in pucca tanks and used through out the year for drinking purposes. On an average the region faces every third year as a dry year and every eighth year as a famine year. During famine years it becomes very difficult for the animals to survive for want of fodder and the cattle population goes down drastically.

Economy

The main occupation of the villagers is agriculture. There are 20 persons serving the Indian Army and same number of retired army personnel. About 50 people have gone to Arab countries for earning. There are 7 teachers, one advocate and one class one officer IFS from the village.

Temples

All people belong to Hindu religion. There is one main temple of Krishna, two temples of Goddess Mawli, two temples of Balaji and one than (a sacred place) of Gogaji. There is one recently constructed temple of Karni Mata.

Schools

There was no school in the village till 1952. In 1952 it was felt to start a primary school in the village. Four leading persons of the village namely Ladu Ram Burdak, Gadu Ram Punia, Toda Ram Punia and Ladu Ram Jhajhadia along with Mohan Lal Saraswat ex. MLA from Ratangarh went to Seth Suraj Mal Jalan of Ratangarh and requested to start a school. Suraj Mal Jalan agreed upon the proposal and all four persons deposited Rs 100/- with him and sent first teacher Mahavir Prasad Sharma. There was no building and land. Initially school was started in Dharam Shala in Johad of the village in eastern side. Ladu Ram Burdak, who had good relations with Thakur Mukun Singh of village, requested the Thakur for land who provided the land required and the school was shifted on this land.

At present there are two private secondary schools and one Govt upper Middle school in the village.

कहावत: मल्लू की राण्ड गयी

कुंतारा कूंत करया, कून्त्यो नौ लख तारा |
मल्लू की राण्ड गयी, दुर्जी का दो नारा ||

यह कहावत ठठावता गाँव में प्रचलित है. इस गाँव में करीब सौ साल पहले दूलड़ जाट रहते थे. उनमें मल्लू दूलड़ की पत्नी भावज की ढाणी की जाखड़ जाट थी जिसकी मल्लू के साथ बनती नहीं थी. तनाव में एक दिन वह घर छोड़ कर चली गयी. गाँव के ठाकुर दुर्जी और मल्लू उसके पैरों के खोज देखते उसके पीछे लक्ष्मण गढ़ तक गए. मल्लू की पत्नी ने अपनी व्यथा कथा वहां थाने में बताई. थाने वालों ने पीछे से आ रहे मल्लू और दुर्जी को पकड़ लिया और बंद कर दिया. मल्लू की पत्नी को मुक्त कर दिया. वह अपनी बहन के पास नड़ोदड़ा गाँव चली गयी. इसी बीच गाँव में रह रहे मीणों ने दुर्जी के दो बैल चुरा लिए. गाँव वाले बैल तो छुड़ा कर ले आये परन्तु यह कहावत तब से दन्त कथा बन गयी.

ठठावता राजस्थान के बुरड़क गोत्र का इतिहास

श्री लादूराम जी बुरड़क (1918-1996) एवं उनकी पत्नी मोहरी देवी

लेखक वर्ष 6 मार्च 1996 में राजस्थान के ठठावता गाँव गए. वहां बुरड़क के कुछ परिवार रहते हैं. उनमें सबसे बुजुर्ग श्री लादूराम जी थे. उनसे जब बुरड़क का इतिहास पूछा तो उन्होंने इस प्रकार वर्णन किया. बुरड़क गोत्र का रेकॉर्ड उनके भड़वा श्री भवानी सिंह राव, गाँव-महेशवास, पोस्ट-बिचून,तहसील-फूलेरा,जिला-जयपुर , फोन 7742353459, के द्वारा रखा जाता है.

बुरड़क का निकास दिल्ली से हुआ है. उस समय वे चौहान थे. दिल्ली से बुरड़क 50 घोड़ों पर सवार होकर सीकर जिले के जीणमाता के पास आकर रुके और सरनाऊ नामक गाँव बसाया. कहते हैं कि वहां सरलो और पालो नामके दो भाई थे. एक ढाका गोत्र की औरत बुरड़कों के यहाँ घड़ा लेकर पानी लेने आ गयी. इस पर ढाका नाराज हो गए और उस औरत को कहा कि तुम तो बुरड़कों के यहीं जाओ. इस बात पर बुरड़क और ढाका जाटों में लड़ाई हुई. बुरड़कों ने अधिकांस ढाकों को ख़त्म कर दिया परन्तु बाद में ढाका जाटों ने बादशाह की मदद से सभी बुरड़कों को खत्म कर दिया. एक खर्रा गोत्र की लड़की बुरड़कों में ब्याही थी. वह उस समय पीहर गयी हुई थी और गर्भवती थी. उसका पीहर गोठड़ा तगालान में था. वह बच गयी. उसके ईस्टदेव गोसाईंजी थे. उसने गोसाईं जी की पूजा की और उनके आशीर्वाद से एक लड़का हुआ. सभी बुरड़क उस लडके से फले फूले हैं. लड़का ननिहाल गोठड़ा तगालान में पैदा हुआ. कहते हैं कि वह बहुत चंचल था और पनिहारिनों के पानी लाते समय मटके फोड़ देता था. तब ताम्बे के मटके बनाए गए. उस लड़के ने लोहे के बाण बनाए और फ़िर मटके फोड़ता था.

एक बार इस लडके के खर्रा मामा ने अपने भाईयों को कहा कि जोहड़ का बंधा टूट रहा है इसको ठीक करें. उसके भाईयों ने कहा कि धन तो बुरड़क भांजे को मिलेगा हम क्या करें. वह खर्रा मामा इस बात पर मर गया. उसका चबूतरा अभी भी गोठड़ा गाँव के जोहड़ के ढावे पर है. वहां एक गोसाईंजी का आदि मन्दिर भी है. गोठड़ा तगालान में 400 बुरड़क परिवार रहते हैं. कुछ बुरड़क परिवार वहां से उठकर मांडेता गाँव चले गए. मांडेता में आथुनी चोक की हवेली है जो बुद्धा की है जहाँ से हम निकले हैं. वहां एक पुराना खेजड़ा का पेड़ अभी भी मोजूद है. बुद्धा का परिवार काफी धनवान था और कहते हैं कि वह हाथी पर तोरण मरवाता था.

बुरड़क वंशावली में एक उदाजी थे. उनके वंश में चिमनाराम तथा उनके पुत्र मोहनाराम थे. मोहनाराम का विवाह पिलानिया जाटों में हुआ. उनके दो पुत्र थे. नूनारामजी और खुमाणारामजी. नूनारामजी और खुमानारामजी का जन्म सीकर जिले के मांडेता गाँव में हुआ. रतनगढ़ में वर्तमान में रह रहे बुरड़क नूनारामजी के वंशज हैं तथा ठठावता गाँव मे रह रहे बुरड़क खुमानारामजी के वंसज हैं. खुमाणारामजी का मामा हरुरामजी पिलानिया था वह सुटोट गाँव में रहता था. नूनारामजी और खुमानारामजी मांडेता से आकर मामा हरुरामजी पिलानिया के यहाँ सुटोट गाँव में रहने लगे. दोनों भाईयों का विवाह मामा हरु पिलानिया ने किया. खुमाणारामजी का विवाह खीचड़ जाटों में 'खीचड़ों की ढाणी' में भूरी खीचड़ के साथ हुआ तथा नूनारामजी का विवाह महला जाटों में मैलासी गाँव में हुआ. मामा हरुरामजी पिलानिया के मरने के बाद उसके भाईयों में जमीन का विवाद हुआ तब नूनारामजी और खुमाणारामजी सुटोट से रतनगढ़ आकर बस गए. रतनगढ़ के पश्चिम में 400 बीघा जमीन ली और 'मावलियों का बास' नामक गाँव बसाया. नूनारामजी के चार बेटे हुए मालू, लीछमण, नाराण, और सूरजा. ये सभी रतनगढ़ में ही बस गए.


खुमाणारामजी संवत 1962 (1905 ई.) में ठठावता गाँव आ गए. खुमाणारामजी के 11 बेटे और एक बेटी लाडो नामकी थी. बेटों के नाम पेमा, भींवा, बोदू, ... आदि थे. नूनारामजी और पेमारामजी रतनगढ़ के ओसवाल बनियों के साथ दिसावर (आसाम) चले गए. संवत 1975 में भयंकर महामारी फ़ैल गयी. नूनारामजी दिसावर में ही ख़त्म हो गये और पेमारामजी वहां से रतनगढ़ आ गये. पेमारामजी रतनगढ़ में आकर मर गये. संवत 1975 (1918 ई.) की महामारी में खुमाणारामजी के सभी 10 बेटे और बेटी लाडां मर गये. केवल खुमाणारामजी और भींवारामजी बचे. उसकी पत्नी रूकमा की चूड़ी उसके छोटे भाई भींवारामजी ने पहन ली अर्थार्त पेमारामजी की पत्नी रूकमा (गोत्र पचार) से शादी करली. पेमारामजी के मरने के कुछ माह बाद संवत 1975 (1918 ई.) में आसोज माह में पुत्र लादूरामजी (यह इतिहास बताने वाले) पैदा हुए. लादूरामजी के तीन साल बाद संवत 1978 (1921 ई.) में भींवारामजी के पुत्र बेगारामजी (लेखक के पिता) पैदा हुए. भींवारामजी के दो और पुत्र जेसारामजी और मूलारामजी पैदा हुए. इस तरह भींवारामजी के चार पुत्र हुए. उन्होंने ठठावता में वहां के ठाकुर गणपत सिंह से 500 बीघा जमीन मंडवा ली. यह जमीन पहले मेघा ऐचरा की थी. खुमाणारामजी संवत 2001 (1944 ई.) में ख़त्म हुए और उसके 11 दिन बाद पुत्र भींवारामजी (1944 ई.) भी ख़त्म हो गये. ऐसी परिस्थिति में दोनों का मौसर एक ही दिन किया. संवत 2011 (वर्ष 1954) में बेगारामजी (1921- 4 मई 2012) के पुत्र लक्ष्मण (लेखक) पैदा हुए. यह इतिहास बताने वाले श्री लादूरामजी बुरड़क (1918-1996) का निधन यह इतिहास बताने के अगले माह अर्थात अप्रेल 1996 में ही हो गया. बेगारामजी बुरड़क का निधन 4 मई 2012 को हुआ. लादूरामजी के बड़े पुत्र पूर्णाराम का निधन 14 अगस्त 2015 को हुआ।

विस्तार से बुरडक गोत्र का इतिहास यहाँ पढ़ें - बुरड़क गोत्र का इतिहास

ठठावता के पूनिया गोत्र की वंशावली

पूनिया गोत्र की निम्न वंशावली बड़वा श्याम लाल पोस्ट सुशील, गाँव ढाढोता, परबतसर, नागौर, मो: 9983444019 द्वारा लेखक को दिनांक 11.11.2017 को ठठावता में लिखवाई।

पूनिया शिव वंशी कश्यप क्षत्रिय हैं। माता – कालका और रक्षक – भैरू

भाटी वंशावली में मनु के पुत्र संत कुमार हुये जिनके पुत्र सतन कुमार हुये। सतन कुमार के पुत्र ननन्द कुमार हुये जिनके दो पुत्र हुये। 1. पूरणपाल, 2. निपूर्ण। पूरणपाल ने पूरणसर गाँव बसाया।

पूरणपाल से 108 पीढ़ी बाद आदिराज़ हुये। जिनके पुत्र जुगादिराज़ जिनके पुत्र बर्मादिराज़ हुये। इनकी बहन जोरा बाई थी जिनका विवाह भरतपुर के सिनसिनवार परिवार में हुआ।

अज (?) से बरमादिराज़ और उनसे 36 पीढ़ी बाद कश्यप हुये जो कासी के राजा थे। उनके जैसल पैदा हुये जिनहोने जैसलमर बसाया। जैसल के दो पुत्र हुये 1. संभाजी और 2 कीचलजी

कीचलजी ने कीचलकोट बसाया।

संभाजी के पुत्र जसपाल बाहड़ हुये जिनहोने बाड़मेर बसाया। बाहड़ जी ने यहाँ ताल खुदवाया, कुवा खुदवाया और कालका मंदिर बनवाया। बाहड़ जी ने यह गाँव छोड दिया और माता कालका की मूर्ति लेकर रवाना हुये। एक स्थान पर पट्टी जाल के पेड़ के नीचे गिर गई। यहीं पर कालका की मूर्ति स्थापित की और बसाल खेड़ा गाँव बसाया। पूनिया पट्टी की स्थापना यहीं से हुई। यह प्रण लिया गया कि -

1. कोई पूनिया झूठ नहीं बोलेगा,
2. जाल के पेड़ की लकड़ी नहीं जलाएंगे,
3. गाय और ब्राह्मण की रक्षा करेंगे,
4. कभी पट्टी पर स्नान नहीं करेंगे।

पूनिया लोगों ने 12 गाँव बसाये: 1. झांसल, 2. मरोदा, 3. मोरखान, 4. सांखू, 4. भैसली, 5. झेरली, 6. मोड़ा, 7. छाबड़ी, 8. छानी, 9. जिनाऊ, 10. जिणु, 11. राजगढ़, 12 ?

राजू ने राजगढ़ बसाया। वहाँ 1000 बीघा गोचर भूमि छोड़ी।

राजगढ़ से हरलाल राजपुर आया। वहाँ से बादूसर और फिर 'ढाणी लांबा' (थेथलिया) फिर शेखीसर आए । हरलाल के परिवार में खमाण बाबा हुये जिनकी शादी खेमी बाई गोत्र तिलोटिया गाँव चूंडेला के साथ हुई। इनके पुत्र हुये 1. पेमाजी और 2. सुखाजी

पेमाजी के पुत्र हेमाजी की शादी हरकू बाई गोदारा नवलगढ़ के साथ हुई। इनके परसाराम और खेताराम दो पुत्र हुये।

खेताराम की शादी खेमीबाई बागडवा गाँव दाऊसर के साथ हुई। खेता राम ठठावता गाँव आए।


ठठावता गाँव आगमन: ठठावता के पूनिया सीकर जिले के गाँव राजपुर से आकर पहले बादुसर में बसे। बाद में वे शेखीसर आए और वहाँ से आकार कुछ समय 'लांबा की ढ़ानी' (थेथलिया) में बसे। हेमा पूनिया संवत 1960 (1903 ई.) में ठठावता आकर बसे। राजपुर में उनकी कुलदेवी कालका माता का मंदिर है। ठठावता के पूनिया गोत्र की वंशावली दिनांक 24 अगस्त 2015 को ग्राम ठठावता में लेखक को श्री फूलचंद पूनिया (मो: 9982477176) ने उपलब्ध कराई, जो निम्नानुसार है -

हेमा पुनिया के दो पुत्र हुये – 1. खेता, और 2. परसा

खेता पूनिया के चार पुत्र हुये – 1. पीथा, 2. चेतन, 3. नानक, और 4. मोती। दो पुत्रियाँ थी: 1. जससा बाई और 2. नोपा बाई

1. पीथा पूनिया के 4 पुत्र हुये – 1. बिरदा, 2. आशा, 3. दुल्ला, और 4. मूला

1.1 बिरदा पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. टोडा, और 2. धन्ना

1. टोडा पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. रामलाल और 2. पोखर
रामलाल पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. महीपाल और 2. मनोज
महीपाल पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. राहुल
मनोज पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. सोनू
पोखर पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. अमिचन्द और 2. मनीराम
अमिचन्द पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. निर्मल
मनीराम पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. निखिल और 2. हितेश
2. धन्ना पूनिया के 4 पुत्र हुये – 1. श्रीचंद 2. फूलचंद 3. तुलछा और 4. भागीरथ
श्रीचंद पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. विकास
फूलचंद पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. हरिराम
हरि राम पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. नितिन
तुलछा पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. परमेसर और 2. मनीराम
भागीरथ पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. सुमित और 2. अमित
1.2 आशा पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. हरलाल
हरलाल पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. रणजीत
रणजीत पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. अशोक और 2. सुनील
1.3 दुल्ला पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. नारायण
नारायण पूनिया के 3 पुत्र हुये – 1. गोपाल, 2. शिवलाल, और 3. श्रवण
गोपाल पूनिया के 4 पुत्र हुये – 1. ओमा, 2. इंद्र, 3. सुरेन्द्र, और 4. हरिराम
शिवलाल पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. नरेंद्र
श्रवण पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. रोनक
1.4 मूला पूनिया के 5 पुत्र हुये – 1. जगू, 2. शिशपाल, 3. गोरू, 4. सुल्तान, 5. नेमिचन्द
1.जगू पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. विजेंद्र और 2. सुभाष
विजेंद्र पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. कपिल
सुभाष पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. कुलेन्द्र
2. शिशपाल पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. राजू और 2. प्यारेलाल
राजू पूनिया के पुत्र हुये – ?
प्यारेलाल पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. कृष्ण
3. गोरू पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. नवीन
4. सुल्तान पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. भागीरथ और 2. गंगाराम
भागीरथ पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. विष्णु
5. नेमिचन्द पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. श्रीराम और 2. कालू

2. चेतन पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. काना और 2. देवा

2.1 काना पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. दूदा और 2. लादू

1. दूदा पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. बृजलाल
बृजलाल पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. रामोतार और 2. मनोज
रामोतार पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. संदीप
मनोज पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. प्रिंस
2. लादू पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. राजू
राजू पूनिया के 1 पुत्र हुये - 1. दिनेश

चेतन पूनिया के दूसरे पुत्र देवा ठठावता से खेड़ी दतूजला (खेड़ी डूकिया) गाँव जाकर बस गए। उनके तीन पुत्र हुये 1. लेखु 2. रामेश्वर और 3. रुघा

3. नानग पूनिया ठठावता से भोजदेसर चले गए उनके 4 पुत्र हुये – 1. जेता, 2. पन्ना, 3. गणेश, और 4. गुमाना

1. जेता पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. डालू
डालू पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. सुरजा
2. पन्ना पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. खंगा और 2. माना
खंगा पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. तुलछा और 2. बलदेवा
माना पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. भँवरा और 2. रणजीत
3. गणेश पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. मेघा और 2. भूरा
मेघा पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. लक्ष्मण और 2. जगू
भूरा पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. लादू

4. मोती पूनिया के 4 पुत्र हुये – 1. मूला, 2. गाड़ू, 3. देदू, और 4. ईश्वर

4.1 मूला पूनिया के 4 पुत्र हुये – 1. तेजा, 2. चंद्रा, 3. अमरा, और 4. सुरजा

1. तेजा पूनिया के 3 पुत्र हुये – 1. रेवंत 2. मोहन और 3. भँवरा
2. चंद्रा पूनिया के 5 पुत्र हुये – 1. भागीरथ, 2. किशन, 3. लक्ष्मण, 4. बीरबल, और 5. ओम
3. अमरा पूनिया के 3 पुत्र हुये – 1. हणमान 2. बजरंग और 3. नौरंग
4. सुरजा पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. गंगाधर

4.2 गाड़ू पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. रामू

रामू पूनिया के 3 पुत्र हुये – 1. लक्ष्मण, 2. पुरुषोत्तम, और 3. गिरधारी

4.3 देदा पूनिया के 3 पुत्र हुये – 1. माना 2. दाना और 3. चूना

1. माना पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. भँवरा और 2. लाला
2. दाना पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. जगदीश
जगदीश पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. विवेक
3. चूना पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. मदन और 2. नरेंद्र

4.4 ईश्वर पूनिया के 4 पुत्र हुये – 1.खींवा, 2. जमना, 3. मल्लू और 4. परमेसर

1. खीवा पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. फूला और 2. ताराचंद
2. जमना पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. सोहन और 2. रतन
3. मल्लू पूनिया के 4 पुत्र हुये – 1. केशर 2. श्रवण और 3. शिवलाल और 4. महेंद्र
4. परमेसर पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. सांवरा और 2. संदीप

हेमा पुनिया के दूसरे पुत्र परसा का वंश विस्तार बहुत सीमित हुआ।

2. परसा पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. जीवन

जीवन पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. डूँगा और 2. महाला
डूंगा पूनिया के कोई पुत्र नहीं हुये – उनके केवल तीन पुत्रियाँ पैदा हुई।
महाला पूनिया के 3 पुत्र हुये – 1. खूमा 2. सांवरा और 3. महेश
खूमा पूनिया के 2 पुत्र हुये – 1. रतन और 2. मुकेश
सांवरा पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. संजय
महेश पूनिया के 1 पुत्र हुये – 1. वीरेंद्र

Johads in Thathawata

Kishananu Pakka Johad of Thathawata

The founder of the village Thatha Bhadia left charagahas on all sides of the village in the name of his family members. In the east side of village left Kishananu, which is now site of a Pakka Johad. In the north he left Ramani, which has now been occupied by harijans from the village. In the south he left Goganu and Rukhani. In west left Ukalai and Hiranu. Ukalai (39 bighas) is used as cremation place by Jats. All these are common lands used for grazing of the cattle.


The Kishanau Pakka Johad needs a special mention. Pakka Johad was constructed by Pandi of Mawli goddess in the village. Near this Johad is a Dharm Shala which bears an Inscription of samvat 1991 (1934 AD). This was the year when the Johad and Dharm Shala were constructed. Both are in good condition. Johad is the main source of drinking water as the village well provides hard water. This Pakka Johad is a unique example of architecture.

Notable persons

Gallery of Images

External links

References


Back to Jat Villages