Matsya

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)

Ancient Indian Kingdoms in 600 BC
Map of Ancient Jat habitations

Matsya Kingdom (मत्स्य) was one of the sixteen Mahajanapadas (great kingdoms). The kingdom was established by an Indo-Aryan tribe of Vedic India.[1]

Location

By the late Vedic period, they ruled a kingdom located south of the Kurus, and west of the Yamuna river which separated it from the kingdom of the Panchalas. It roughly corresponded to the former state of Jaipur in Rajasthan, and included the whole of Hindaun, Alwar with portions of Bharatpur.

Jat clans

Mention by Panini

Matsyika (मात्स्यिका) is mentioned by Panini in Ashtadhyayi. [2]

History

The capital of Matsya was at Viratanagari (present-day Bairat) which is said to have been named after its founder king, Virata. In Pali literature, the Matsya tribe is usually associated with the Surasena. The western Matsya was the hill tract on the north bank of the Chambal River. Matsya kingdom was founded by king Matsya who was the twin brother of Satyavati a who was contemporary to Bhishma.

In the early 6th century BCE, Matsya was one of the sixteen Mahajanapadas (great kingdoms) mentioned in the Buddhist text Anguttara Nikaya, but its power had greatly dwindled and it was of little political importance by the time of Buddha. The Mahabharata (V.74.16) refers to a King Sahaja, who ruled over both the Chedis and the Matsyas, which implies that Matsya once formed a part of the Chedi Kingdom.

Other than the Matsya kingdom to the south of Kuru Kingdom, which falls in the Hindaun and Alwar, Bharatpur districts of Rajasthan, the epic refers to as many as six other Matsya kingdoms. Upaplavya was a notable city of the kingdom. On the 13th year of Pandava's exile, pandavas and Draupadi stay in matsya kingdom of King Virata.

मत्स्य जनपद: दलीप सिंह अहलावत

दलीप सिंह अहलावत[3] ने लिखा है... मत्स्य जनपद अति प्राचीनकाल से विद्यमान था। इस जनपद के उत्तर में दशार्ण, दक्षिण में पांचाल, नवराष्ट्र (नौवार), मल्ल (मालव) आदि और शाल्व, शूरसेनों से घिरा हुआ था। सुग्रीव वानरों को सीता जी की खोज के लिये दक्षिण दिशा के देशों में अन्य देशों के साथ मत्स्य देश में जाने का भी आदेश देता है (वा० रा० किष्कन्धाकाण्ड, 41वां सर्ग)। पाण्डवों की दिग्विजय में सहदेव ने दक्षिण दिशा में सबसे पहले शूरसेनियों को जीतकर फिर मत्स्यराज विराट को अपने अधीन कर लिया (महाभारत सभापर्व, 31वां अध्याय)। महाभारत विराट पर्व के लेख अनुसार


1. ठा० देशराज जाट इतिहास पृ० 702, इस मालवा नाम से पहले इस प्रदेश का नाम अवन्ति था।
  • . नोट - कोली व शाक्य जाट वंश हैं।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-255


भरतपुर, अलवर, जयपुर की भूमि पर मत्स्य जनपद बसा हुआ था। इसकी राजधानी विराट या वैराट नगर थी, जो जयपुर से 40 मील उत्तर की ओर अभी भी स्थित है। यहां का नरेश महाभारत युद्ध के समय वृद्ध था। इसने युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में सुवर्णमालाओं से विभूषित 2000 मतवाले हाथी उपहार के रूप में दिये थे (महाभारत सभापर्व, 52वां अध्याय; श्लोक 26वां)। यह विराट नरेश वृद्ध होते हुए भी महाभारत युद्ध में पाण्डवों की ओर होकर लड़ा था (महाभारत भीष्मपर्व 52वां अध्याय)। यह विराट नरेश अत्यन्त शूरवीर योद्धा था। इसी के नाम पर महाभारत का एक अध्याय ‘विराट पर्व’ विख्यात है।

इस विराट नरेश की महारानी सुदेष्णा, कीचक की बहिन थी। इसी मत्स्यराज विराट के यहां अज्ञातवास के दिनों पांचों पाण्डव द्रौपदी सहित गुप्तवेश में आकर रहे थे। इसी नरेश की कन्या उत्तरा का विवाह अर्जुनपुत्र अभिमन्यु से हुआ था। इन्हीं दोनों का पुत्र परीक्षित हस्तिनापुर राज्य का उत्तराधिकारी बना था। राजा विराट का भाई शतानीक था। विराट के दो पुत्र उत्तर और श्वेत नामक थे। महाभारत युद्ध में मद्रराज शल्य ने उत्तर को और भीष्म ने श्वेत को मार था। बौद्धकाल के 16 महाजनपदों में से एक मत्स्य जनपद भी था। इस गणराज्य की ध्वजा का चिह्न मछली था।

15 अगस्त सन् 1947 ई० को भारतवर्ष स्वतन्त्र होने पर भारत सरकार ने राजपूताना की रियासतों में से अलवर, भरतपुर, धौलपुर और करौली को मिलाकर ‘मत्स्य संघ’ बनाया और शेष रियासतों को मिलाकर ‘राजस्थान’ बनाया। जून 1949 ई० में मत्स्य संघ की चारों रियासतें भी राजस्थान में मिला दी गयीं।

मत्स्यवंश (माथुर) की सत्ता जाटों में पाई जाती है। भरतपुर राज्य की ओर से मत्स्यवंशज जाट धीरज माथुर एवं नत्था माथुर को दिल्ली के पास कराला, पंसाली, पूंठ खुर्द, किराड़ी, हस्तसार नामक पांच गांव का शासक बनाकर कचहरी करने के लिए नियत किया था। इस कचहरी के खण्डहर अभी तक कराला में पड़े हुए हैं। इस गांव से ही ककाना गांव (गोहाना के पास) जाकर बसा। इसके अतिरिक्त मत्स्य-मत्सर या माछर जाट बिजनौर के पुट्ठा और उमरपुर गांवों में निवास करते हैं। राजस्थान के जिला सीकर में खेतड़ी गांव मत्स्य या माछर गोत्र के जाटों का है।

In Mahabharata

Matsya (मत्स्य) is mentioned in Mahabharata (I.144.2), (1.158),(II.13.27), (II.27.8),(II.28.2), (II.48.25),(IV.1.9),(V.19.12),(V.53.17),(V.72.16),(V.158.20), (VI.10.38),(VI.18.13), (VI.20.12),(VI.52.4), (VI.68.1),(VIII.30.60),(VIII.30.62),(VIII.30.73),(VIII.30.75),(VIII.51.6), (IX.44.77),

External links

References