Gogaji

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Birth place of Gogaji

Gogaji (गोगाजी) (946-1024 AD), also known as Gugga (गुग्गा) Gogadev (गोगादेव), is a folk deity in Rajasthan state in India.

Ancestry of Gogaji

Gogaji was born at village Dadrewa in Churu district by the blessing of Guru Gorakhnath. The mother of Gogaji, Bachal worshiped her Guru Gorkhnath for 12 years for a child. The Gogaji's wife was Siriyal.

Ancestry of Gogaji based on Dasharatha Sharma [1] is as under:-

Chahuman → • Muni → • Kalahalanga → • Ghangh (902 AD[2]) {Harsha+Harkaran+Jeen (933 AD)[3]} → • Kanho → • ? → • ? → • ? → • Jivraj/ Jevara (m. Bachal) (Dhandhu to Dadrewa) → • Naniga (childless) → • Gogaji (946-1024 AD) → • Bairasi (Brother of Goga) → • Udayaraja (son of Vairasi) → • Jasaraja → • Kesoraja → • Vijayaraja → • Padmasi → • Prithviraja → • Lalachanda → • Gopala → • Jaitasi (1213 AD) → • Punapala → • Rupa → • Ravana → • Tihunapala → • Moterao (1315 AD) → • Karamachanda (converted to Kayamkhani Muslims by Firuz Shah, 1351-1388 A.D.)

Eminent warrior hero

Idol of Gogaji

He is an eminent warrior-hero of the region. Hindus and Muslims alike honor him. He is also venerated as a saint and even as 'snake-god'. He is known as Goga among the Hindus and Jahar Peer among the Muslims. The Kaimkhani Muslims claim descent from him and regard him as a peer (saint). Gogaji is popular as a snake-god and almost every village in Rajasthan has a Than (sacred place) dedicated to him. The devotees of Gogaji can be found in Uttar Pradesh, Punjab, Madhya Pradesh and Maharashtra. In Gujarat, an annual procession is taken out in honour of the great warrior.

Gogaji fairs

A grand fair is held at Gogamedi, which is 359 km from Jaipur, in Hanumangarh district of Rajasthan in August in memory of Gogaji. It is believed that Gogaji went into samadhi at Gogamedi. Thousands of devotees gather to pay homage at this memorial annually in the month of Bhadrapada during the Gogaji fair, which lasts for 3 days. The fair is held from the ninth day of the dark half of Bhadrapada (Goga Navami) to the eleventh day of the dark half of the same month. The inscription in Persian at the main entrance describes Mahmud of Ghazni's regard for Gogaji. It is quite a sight to see people singing and dancing to the beats of drums and gongs with multicolored flags called 'nishans' in their hands.

History

Early days of Gogaji were spent at village Dadrewa, situated on Hissar-Bikaner Highway in the Churu district. He was a Chauhan who were rulers of this area during that period - around 900 AD. A fair is simultaneously held here too in his memory.

Ghanghu Chauhan from Sambhar branch went to village Ghanghu in Churu district and established his rule. He had five sons and one daughter. He appointed his second queen's son Kanho as his successor and not the eldest son Harsh. Harsh and his sister Jeen went to hills and did the penance. Jeen got the status of goddess. Her temple is known as Jeenmata temple.

After three generations of Kanho, Jivraj (Jewar) became Rana. He left Ghanghu and went to Dadrewa and made it his capital. His son Goga was very brave and illustrious. He had many sons. When Ghazni attacked Somnath temple Goga provided him a tough resistance in western Rajasthan. Goga became martyr along with his all sons and relatives. Since no son of Goga was alive his brother Bairasi or his son Udayraj became Rana of Dadrewa. There have been many Gogas in this vansha. Goga is very revered and considered as a deity of snakes in Punjab, Rajasthan and Gujarat.

According to 'Badwa of Dudis'[4], Dudi clan people were integral part of Chauhans and have lineage with Gogaji and Jujhar Singh.

Goga died in 1024 AD fighting with Mohammad Ghazni.

H.A. Rose mentions about Burahi tribes in Chamba where Rathis having been expelled from the Dugar country by Gugga Chauhan — a curious legend. [5]

Chauhans of Dadrewa

Note - This section is from Dasharatha Sharma: Early Chauhan Dynasties (800-1316 AD), pp.365-366

Another feudatory Chauhan family which deserves notice on account of its connection with the folk-deity Gogaji as well as the Kyamkhani (Qiwam Khani) family of Fatehpur, is that of the ‘’Mandaleshwara’’ of Dadrewa (Bikaner Division), known to us from the Kyam Khan Raso and an inscription of V.1273. From the first of these sources we learn that Gogaji was the eldest son of Jevara (जेवर) and ruled for some years. His Successor was Naniga (नानिग), who perhaps died childless. The chieftainship then probably passed on to Udayaraja, a son of Goga's brother, Vairasi. Udayaraja's successors were Jasaraja, Kesoraja, Vijayaraja, Padmasi, Prithviraja, Lalachanda, Gopala, and Jaitasi. It is for the last of these rulers, 'ranaka Jayatsiha, the son mandaleshvara Gopala', that we have an inscription of V. 1270 (1213 A.D. by Govind Agarwal) at Dadrewa (JPASB. XVI •• 257). Jayatasiha's successors were Punapala, Rupa, Ravana, Tihunapala, and Moterao (1315 AD). The last one of them had a son named Karama Chanda who was converted to Islam by Firuz Shah, (1351-1388 A.D.).

If we keep both these definite dates in view, Gogaji ( and we may remember that there is only one Goga in the line of Dadrewa) should be regarded as a contemporary of Mahamud of Ghazna, and not of Firuz Shah, as believed by Tod and some other writers who have followed his lead. This late date is disproved also by the Shravaka-vratadi-atichara, Gujarati book composed in in V. 1466 (1409A.D.) It requires a Jaina Shravaka not to think of worshipping Brahma, Vishnu, Kshetrapala, Goga, Dikpalas, village god and grahas etc., merely because they fulfilled the desires of their devotees. A, local god like Goga must have needed not only twenty-five years but centuries to be so well known, not only in his homeland of north-eastern Rajasthan but also in the distant Gujarat Jaina teachers had to put his worship on a level with that of Brahma, Vishnu, Shiva and other popular gods and dub it as an atichara, i.e., a serious transgression of Jaina dharma.

Actually the only basis that we have for the date of dating Gogaji are the late traditional anecdotes which make him contemporary of the Rathore hero Pabuji, who as a great grandson of Rava Sihoji could have flourished some where about 1325 A.D. It is impossible to build up serious history on the basis of such tales. To me it seems that they were concocted by a fairly late generation of the devotees of Pabuji, who were out to prove that their hero-god was in no way inferior to the Chauhan hero, Gogoji. And if we are out to believe anecdotes, we have to believe equally the stories which make Gogaji, a contemporary of Gorakhanatha: (who is generally put by historians in the beginning of the eleventh century) and of Mahmud of Ghazni against whom he is said to have fought with his forty-five sons and sixty nephews. How the worship of the Chauhan hero came to be so intimately connected with snake worship that Goga came to be regarded as a snake is a subject that needs investigation.

Further material has since writing the above been available to show that Goga was a descendant of Ghanga. Surjan, against whom he had to fight, came one generation earlier than him ( for more details read my article in the Shodhapatrika, XX, pp. 1-3).

As regards the history of the descendant of Karamachanda, known to us as Kayam Khanis,who played an important role in the affairs of Delhi under the later Tughlaqs; Saiyyads, Lodis and Mughals, readers may consult our introduction and critical notes appended to the Kyam Khani Raso published by the Rajasthan Puratattva Mandira, Jaipur.

ददरेवा के इतिहास में गोगाजी

संदर्भ - ददरेवा के इतिहास का यह भाग 'श्री सार्वजनिक पुस्तकालय तारानगर' की स्मारिका 2013-14: 'अर्चना' में प्रकाशित मातुसिंह राठोड़ के लेख 'चमत्कारिक पर्यटन स्थल ददरेवा' (पृ. 21-25) से लिया गया है।

10 वीं शताब्दी के लगभग अंत में मरुप्रदेश के चौहानों ने अपने स्वतंत्र राज्य स्थापित करने प्रारम्भ कर दिये थे। इसी स्थापनाकाल मे घंघरान चौहान ने वर्तमान चुरू शहर से 10 किमी पूर्व मे घांघू गाँव बसा कर अपनी राजधानी स्थापित की। [6] ('अर्चना',पृ.21)

राणा घंघ की पहली रानी से दो पुत्र हर्षहरकरण तथा एक पुत्री जीण का जन्म हुआ। हर्ष व जीण लोक देवता के रूप में सुविख्यात हैं। ('अर्चना',पृ.21) ज्येष्ठ पुत्र होने के नाते हालांकि हर्ष ही राज्य का उत्तराधिकारी था लेकिन नई रानी के रूप में आसक्त राजा ने उससे उत्पन्न पुत्र कन्हराज को उत्तराधिकारी घोषित कर दिया। संभवत: इन्हीं उपेक्षाओं ने हर्ष और जीण के मन में वैराग्य को जन्म दिया। दोनों ने घर से निकलकर सीकर के निकट तपस्या की और आज दोनों लोकदेव रूप में जन-जन में पूज्य हैं।

राणा घंघरान की दूसरी रानी से कन्हराज, चंदराजइंदराज हुये। कन्हराज के चार पुत्र अमराज, अजराज, सिधराज व बछराज हुये। कन्हराज का पुत्र अमराज (अमरा) उसका उत्तराधिकारी बना। अमराजका पुत्र जेवर (झेवर) उसका उत्तराधिकारी बाना। लेकिन महत्वाकांक्षी जेवर ने दादरेवा को अपनी राजधानी बनाई और घांघू अपने भाइयों के लिए छोड़ दिया। जेवर ने उत्तरी क्षेत्र मे अपने राज्य का विस्तार अधिक किया। असामयिक मृत्यु के कारण यह विजय अभियान रुक गया। जेवर के पश्चात उनका पुत्र गोगा (गोगदेव) चौहान युवावस्था से पूर्व ही माँ बाछलदे के संरक्षण में ददरेवा का राणा बना। [7]('अर्चना',पृ.21)

वर्तमान जोगी-आसन के स्थान पर नाथ संप्रदाय के एक सिद्ध संत तपस्वी योगी ने गोरखनाथ के आशीर्वाद से बाछल को यशस्वी पुत्र पैदा होने की भविष्यवाणी की थी। कहते हैं कि बाछलदे की बड़ी बहन आछलदे को पहले इन्हीं संत के अशिर्वाद से अर्जन-सर्जन नामक दो वीर पैदा हुये थे। ('अर्चना',पृ.22)

अर्जन-सर्जन के साथ गोगा का भीषण युद्ध: गोगा के पिताकी असामयिक मृत्यु के कारण गोगा को संघर्ष करना पड़ा। राणा के वंशजों ने, जो विस्तृत क्षेत्र में ठिकाने स्थापित कर चुके थे , गोगा को राज्य व्यवस्थित करने में सहयोग नहीं किया। घंघरान के एक पुत्र इन्दराज के वंशज घांघू से 40 किमी उत्तर मे जोड़ी नामक स्थान पर काबिज थे। इनके राजकुमार अर्जन-सर्जन गोगा के मौसेरे भाई थे। इन राजकुमारों ने गोगा से ददरेवा छिनने का प्रयास किया। इन जोडले राजकुमारों ने गायों को चोरी कर लेजाना प्रारम्भ किया। एक दिन गोगा का दादरेवा से 8 किमी उत्तर-पूर्व मे वर्तमान खुड्डी नामक गाँव के पास एक जोहड़ भूमि में अर्जन-सर्जन के साथ भीषण युद्ध हुआ। अर्जन एक जाळ के पेड़ के पास मारा गया। सर्जन तालाब की पाल के पास युद्ध करता हुआ काम आया। इनके अंतिम स्थल पर एक मंदिर बना हुआ है जिसमें एक पत्थर की मूर्ति में दो पुरुष हाथों मे तलवार लिए हुये एक ही घोड़े पर सवार हैं। घोड़े के आगे एक नारी खड़ी है। इनकी अर्जन-सर्जन के नाम से पूजा की जाती है। एसी ही एक घोड़े पर सवार की मूर्ति ददरेवा की मेड़ी मे भी है जो वर्तमान में एक दीवार के साथ स्थापित कर मंदिर का रूप दे रखा है। मंदिर में दूसरी पत्थर की मूर्ति घोड़े पर सवार गोगा चौहान की है। युद्ध मैदान मे निर्मित मंदिर का पुजारी एक भार्गव परिवार का है। वर्तमान मे ऊपर वर्णित जाळ का वृक्ष नष्ट हो गया है। जोहड़ मे अब भी पानी भरता है। यहाँ एक लोकगीत प्रचलित है - 'अरजन मारयो जाळ तलै' सरजन सरवरिए री पाळ। हेरी म्हारा गूगा भल्यो राहियो'।('अर्चना',पृ.22)

गोगा का वैवाहिक जीवन: गोगा के वैवाहिक जीवन के संबंध में ऐतिहासिक तथ्यों का अभाव है। लोक-कथाओं में उनकी पत्नियों के रूप में राणी केलमदेराणी सुरियल के नामों का उल्लेख है। राणी केलमदे को पाबूजी के भाई बुड़ोजी की पूर्ति बताया गया है। समय का अंतराल अधिक होने के कारण यह सत्य प्रतीत नहीं होता। राणी सुरियल का वर्णन कामरूप देश की राजकुमारी के रूप में किया गया है। ('अर्चना',पृ.22)

गोगा के एक पुत्र नानक के अलावा अन्य पुत्रों का नाम ज्ञात नहीं है। [8]('अर्चना',पृ.23)

महमूद गजनवी से युद्ध - महमूद गजनवी के उत्तर भारत पर हुये आक्रमणों के परिणाम स्वरूप गोगा ने अपनी सीमा से लगते हुये अन्य अव्यवस्थित राज्यों पर भी सीधा अधिकार न कर मैत्री संधि स्थापित की। जिसके कारण उत्तरी-पूर्वी शासकों की नजरों मे गोगा चौहान भारतीय संस्कृति का रक्षक लगने लगा। जब महमूद ने सन 1018 में कन्नौज पर आक्रमण किया तो संभवत: उसके बाद गोगा ने सम्पूर्ण उत्तरी-पूर्वी क्षेत्र मे संपर्क किया होगा क्योंकि सोमनाथ पर हुये आक्रमण के समय सभी शासकों ने महमूद को अपने क्षेत्र से जाने की स्वीकृति देने के उपरांत भी सोमनाथ से आते हुये महमूद पर आक्रमण करने के लिए गोगा ने युद्ध मैदान में आने का आमंत्रण दिया तो उत्तरी-पूर्वी क्षेत्र के सभी शासकों ने सहर्ष स्वीकार किया था। ('अर्चना',पृ.23)

महमूद सोमनाथ पर आक्रमण कर उस अद्वितीय धरोहर को नष्ट करने में सफल रहा लेकिन उसको इतनी घबराहट थी कि वापसी के समय बहुत तेज गति से चलकर अनुमानित समय व रणयोजना से पूर्व गोगा के राज्य के दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र मे प्रवेश कर गया। गोगा द्वारा आमंत्रित उत्तर-पूर्वी क्षेत्र की सेनाएँ समय पर नहीं पहुंची थी। गोगा ने हिम्मत नहीं हारी। अपने पुत्र भाई-भतीजों एवं स्थाई तथा एकत्रित सेना को लेकर प्रस्थान किया। ददरेवा से 25 कोस (75 किमी) उत्तर-पश्चिम के रेगिस्तानी निर्जन वन क्षेत्र में तेज गति से जाते हुये महमूद का रास्ता रोका। उस समय महमूद रास्ता भटका हुआ था और स्थानीय लोगों के सहयोग से गजनी शहर का मार्ग तय कर रहा था। गोगा के चतुर सैनिकों ने रास्ता बताने के बहाने महमूद की सेनाके निकट पहुँचकर उसकी सेना पर आक्रमण कर दिया। गोगा के पास साहस तो था पर सेना कम थी। महमूद की सेना के काफी सैनिक मारे गए। महमूद के सैनिकों की संख्या बहुत अधिक थी। गोगा अपने 45 से अधिक पुत्र, भतीजों एवं निकट बंधु-बांधवों के अतिरिक्त अन्य सैंकड़ों सैनिकों के साथ बालू मिट्टी के एक टीले पर सांसारिक यात्रा को विराम दिया।[9]('अर्चना',पृ.23)

युद्ध समाप्त होने के कुछ घंटों बाद बचे हुये पारिवारिक सदस्यों व सैनिकों ने उसी स्थान पर अग्नि की साक्ष्य में इहलोक से परलोक के लिए विदाई दी। शेष बचे वीर योद्धाओं ने ददरेवा आकर गोगा के भाई बैरसी के पुत्र उदयराज को राणा बनाया। उत्तर-पूर्वी क्षेत्र के सैनिक भारी संख्या में दादरेवा पहुंचे लेकिन उस समय तक सब कुछ बदल गया था। चौहान वंश व अन्य रिशतेदारों के योद्धा गोगा के सम्मान में ददरेवा आए। उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों के अनुयाई लोग आज भी पीले वस्त्रों मे परंपरा को निभाने के लिए उपस्थित होते हैं। ('अर्चना',पृ.23)

गोगा को जहरीले सर्पों के विश को नष्ट करने की अलौकिक शक्ति प्राप्त हुई। गाँव-गाँव में गोगा के पूजा स्थान बनने लगे। गोगामेड़ियों की स्थापना हुई। जन्म स्थान ददरेवा में बनी मेड़ी को 'शीश मेड़ी' कहा जाता है। ददरेवा मेड़ी में गोगाजी की घोड़े पर सवार मूर्ति स्थापित है। ददरेवा की मेड़ी बाहर से देखने पर किसी राजमहल से कम नहीं है। ('अर्चना',पृ.23)

दादरेवा का दूसरा महत्वपूर्ण स्थान गोरखधुणा (जोगी आसान) है। यह वही स्थान है जहां नाथ संप्रदाय के एक सिद्ध संत तपस्वी योगी ने गोरखनाथ के आशीर्वाद से बाछल को यशस्वी पुत्र पैदा होने की भविष्यवाणी की थी। यहाँ पर सिद्ध तपस्वियों का धूणा एवं गोरखनाथ जी और अन्य की समाधियाँ भी हैं। ('अर्चना',पृ.24)

ददरेवा गाँव में एक पुराना गढ़ है जो सन 1509 ई. से 1947 तक बीकानेर के राठोड राज्य के अधीन रहा। [10]('अर्चना',पृ.25) महाकवि पृथ्वीराज राठोड़ के पुत्र सुंदरसेन को 12 गाँव की जागीर के साथ ददरेवा मिला था। पुराने कुएं , मंदिर,हवेलियाँ तथा जाल के वृक्ष यहाँ की सुंदरता बढ़ते हैं। राठोड़ राज्य से पूर्व गोगाजी चौहान के वंश में मोटेराय के तीन पुत्रों द्वारा इस्लाम धर्म स्वीकार करने और क्यामखानी नाम विख्यात होने की ऐतिहासिक घटना दादरेवा के इतिहास की महत्वपूर्ण घटना है। क्यामखानी एवं अन्य हिन्दू धर्म से इस्लाम को मानने वालों के कारण ही गोगाजी के नाम के साथ पीर शब्द जूड़कर गोगापीर नाम लोकप्रिय हुआ। [11]('अर्चना',पृ.25)

गोगाजी का समाधि-स्थल 'धुरमेड़ी' कहलाता है। यह गोगामेड़ी स्थान भादरा से 15 किमी उत्तर-पश्चिम मे हनुमानगढ़ जिले में है। यहाँ पुरानी मूर्तियाँ हैं। यहाँ के पुजारी चायल मुसलमान हैं जो चौहान के वंशज हैं। गोगामेड़ी में गोरख-टिल्लागोरखाणा तालाब दर्शनीय स्थान हैं। गोरखमठ में कालिकाहनुमान जी की मूर्तियाँ हैं। गोगाजी के भक्त ददरेवा के साथ ही गोगामेड़ी आने पर यात्रा सफल मानते हैं। ('अर्चना',पृ.25)

वीर गोगाजी

चौहान वीर गोगाजी का जन्म विक्रम संवत 1003 में चुरू जिले के ददरेवा गाँव में हुआ था. [12]

देवीसिंह मंडावा लिखते हैं कि चौहाण की साम्भर शाखा में एक घंघ ने चुरू से चार कोस पूर्व में घांघू बसाकर अपना राज्य स्थापित किया. उसके पांच पुत्र और एक पुत्री थी. उसने अपने बड़े पुत्र हर्ष को न बनाकर दूसरी रानी के बड़े पुत्र कन्हो को उत्तराधिकारी बनाया. हर्ष और जीण ने सीकर के दक्षिण में पहाड़ों पर तपस्या की. जीण बड़ी प्रसिद्ध हुई और देवत्व प्राप्त किया. कन्हो की तीन पीढ़ी बाद जीवराज (जेवर) राणा हुए. उनकी पत्नी बाछल से गोगादेव पैदा हुए. [13]

गोगादेव का विवाह कोलुमण्ड की राजकुमारी केलमदे के साथ होना तय हुआ था किन्तु विवाह होने से पहले ही केलमदे को एक सांप ने डस लिया. इससे गोगाजी कुपित हो गए और मन्त्र पढ़ने लगे. मन्त्र की शक्ति से नाग तेल की कढाई में आकर मरने लगे. तब नागों के राजा ने आकर गोगाजी से माफ़ी मांगी तथा केलमदे का जहर चूस लिया. इस पर गोगाजी शांत हो गए. [14]

जब गजनी ने सोमनाथ मंदिर पर हमला किया था तब पश्चिमी राजस्थान में गोगा ने ही गजनी का रास्ता रोका था. घमासान युद्ध हुआ. गोगा ने अपने सभी पुत्रों, भतीजों, भांजों व अनेक रिश्तेदारों सहित जन्म भूमि और धर्म की रक्षा के लिए बलिदान दे दिया. [15]

जिस स्थान पर उनका शारीर गिरा था उसे गोगामेडी कहते हैं. यह स्थान हनुमानगढ़ जिले की नोहर तहसील में है. इसके पास में ही गोरखटीला है तथा नाथ संप्रदाय का विशाल मंदिर स्थित है.[16]

गोगा के कोई पुत्र जीवित न होने से उसके भाई बैरसी या उसके पुत्र उदयराज ददरेवा के राणा बने. [17]

आज भी सर्पदंश से मुक्ति के लिए गोगाजी की पूजा की जाती है. गोगाजी के प्रतीक के रूप में पत्थर या लकडी पर सर्प मूर्ती उत्कीर्ण की जाती है. लोक धारणा है कि सर्प दंश से प्रभावित व्यक्ति को यदि गोगाजी की मेडी तक लाया जाये तो वह व्यक्ति सर्प विष से मुक्त हो जाता है. भादवा माह के शुक्ल पक्ष तथा कृष्ण पक्ष की नवमियों को गोगाजी की स्मृति में मेला लगता है. उत्तर प्रदेश में इन्हें जहर पीर तथा मुसलमान इन्हें गोगा पीर कहते हैं. [18]

Sanskrit Text
L.१७-२० कुल करानन पंचाननस्य | विषमतरभंगसारंगपुर
गागरणनराणा का अजयमेरुमंडोरमंडलकरबूंदि
खाटूचाटसूजानादिनानामहादुर्ग लीलामरत्र ग्रहण
प्रमाणितजित काशित्वा भिमानास्य
Ranakpur Inscription of 1439[19]

रणकपुर शिलालेख में गोगाजी को एक लोकप्रिय वीर माना है. यह शिलालेख वि. 1496 (1439 ई.) का है.[20]

गोगाजी लोकदेवता

गोगादेव के जन्मस्थान ददरेवा, जो राजस्थान के चुरू जिले की राजगढ़ तहसील में स्थित है। यहाँ पर सभी धर्म और सम्प्रदाय के लोग मत्था टेकने के लिए दूर-दूर से आते हैं । नाथ परम्परा के साधुओं के ‍लिए यह स्थान बहुत महत्व रखता है। दूसरी ओर कायमखानी मुस्लिम समाज के लोग उनको जाहर पीर के नाम से पुकारते हैं तथा उक्त स्थान पर मत्‍था टेकने और मन्नत माँगने आते हैं। इस तरह यह स्थान हिंदू और मुस्लिम एकता का प्रतीक है।मध्यकालीन महापुरुष गोगाजी हिंदू, मुस्लिम, सिख संप्रदायों की श्रद्घा अर्जित कर एक धर्मनिरपेक्ष लोकदेवता के नाम से पीर के रूप में प्रसिद्ध हुए। गोगाजी का जन्म राजस्थान के ददरेवा (चुरू) चौहान वंश के शासक जैबर (जेवरसिंह) की पत्नी बाछल के गर्भ से गुरु गोरखनाथ के वरदान से भादो सुदी नवमी को हुआ था। चौहान वंश में राजा पृथ्वीराज चौहान के बाद गोगाजी वीर और ख्याति प्राप्त राजा थे। गोगाजी का राज्य सतलुज सें हांसी (हरियाणा) तक था।लोकमान्यता व लोककथाओं के अनुसार गोगाजी को साँपों के देवता के रूप में भी पूजा जाता है। लोग उन्हें गोगाजी चौहान, गुग्गा, जाहिर वीर व जाहर पीर के नामों से पुकारते हैं। यह गुरु गोरक्षनाथ के प्रमुख शिष्यों में से एक थे। राजस्थान के छह सिद्धों में गोगाजी को समय की दृष्टि से प्रथम माना गया है।जयपुर से लगभग 250 किमी दूर स्थित सादलपुर के पास ददरेवा में गोगादेवजी का जन्म स्थान है। गोगादेव की जन्मभूमि पर आज भी उनके घोड़े का अस्तबल है और सैकड़ों वर्ष बीत गए, लेकिन उनके घोड़े की रकाब अभी भी वहीं पर विद्यमान है। उक्त जन्म स्थान पर गुरु गोरक्षनाथ का आश्रम भी है और वहीं है गोगादेव की घोड़े पर सवार मूर्ति। भक्तजन इस स्थान पर कीर्तन करते हुए आते हैं और जन्म स्थान पर बने मंदिर पर मत्‍था टेककर मन्नत माँगते हैं।

Location of Gogamedi in Hanumangarh district

हनुमानगढ़ जिले के नोहर उपखंड में स्थित गोगाजी के पावन धाम गोगामेड़ी स्थित गोगाजी का समाधि स्थल जन्म स्थान से लगभग 80 किमी की दूरी पर स्थित है, जो साम्प्रदायिक सद्भाव का अनूठा प्रतीक है, जहाँ एक हिन्दू व एक मुस्लिम पुजारी खड़े रहते हैं। श्रावण शुक्ल पूर्णिमा से लेकर भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा तक गोगा मेड़ी के मेले में वीर गोगाजी की समाधि तथा गोरखटीला स्थित गुरु गोरक्षनाथ के धूने पर शीश नवाकर भक्तजन मनौतियाँ माँगते हैं।गोगा पीर व जाहरवीर के जयकारों के साथ गोगाजी तथा गुरु गोरक्षनाथ के प्रति भक्ति की अविरल धारा बहती है। भक्तजन गुरु गोरक्षनाथ के टीले पर जाकर शीश नवाते हैं, फिर गोगाजी की समाधि पर आकर ढोक देते हैं। प्रतिवर्ष लाखों लोग गोगा जी के मंदिर में मत्था टेक तथा छड़ियों की विशेष पूजा करते हैं। प्रदेश की लोक संस्कृति में गोगाजी के प्रति अपार आदर भाव देखते हुए कहा गया है कि गाँव-गाँव में खेजड़ी, गाँव-गाँव में गोगा वीर गोगाजी का आदर्श व्यक्तित्व भक्तजनों के लिए सदैव आकर्षण का केन्द्र रहा है।विद्वानों व इतिहासकारों ने उनके जीवन को शौर्य, धर्म, पराक्रम व उच्च जीवन आदर्शों का प्रतीक माना है। इतिहासकारों के अनुसार गोगादेव अपने बेटों सहित मेहमूद गजनबी के आक्रमण के समय सतलुज के मार्ग की रक्षा करते हुए शहीद हो गए। हवाई अड्डा लगभग 250 किमी पर स्थित है।


लोक देवता जाहरवीर गोगाजी की जन्मस्थली ददरेवा में भादवा मास के दौरान लगने वाले मेले के दृष्टिगत पंचमी (सोमवार) को श्रद्धालुओं की संख्या में और बढ़ोतरी हुई। मेले में राजस्थान के अलावा पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश व गुजरात सहित विभिन्न प्रांतों से श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।

जातरु ददरेवा आकर न केवल धोक आदि लगाते हैं बल्कि वहां अखाड़े (ग्रुप) में बैठकर गुरु गोरक्षनाथ व उनके शिष्य जाहरवीर गोगाजी की जीवनी के किस्से अपनी-अपनी भाषा में गाकर सुनाते हैं। प्रसंगानुसार जीवनी सुनाते समय वाद्ययंत्रों में डैरूं व कांसी का कचौला विशेष रूप से बजाया जाता है। इस दौरान अखाड़े के जातरुओं में से एक जातरू अपने सिर व शरीर पर पूरे जोर से लोहे की सांकले मारता है। मान्यता है कि गोगाजी की संकलाई आने पर ऐसा किया जाता है।

गोगाजी का जन्म गुरू गोरखनाथ के वरदान से

गोरखनाथ जी से सम्बंधित एक कथा राजस्थान में बहुत प्रचलित है। राजस्थान के महापुरूष गोगाजी का जन्म गुरू गोरखनाथ के वरदान से हुआ था। गोगाजी की माँ बाछल देवी निःसंतान थी। संतान प्राप्ति के सभी यत्न करने के बाद भी संतान सुख नहीं मिला। गुरू गोरखनाथ ‘गोगामेडी’ के टीले पर तपस्या कर रहे थे। बाछल देवी उनकी शरण मे गईं तथा गुरू गोरखनाथ ने उन्हें पुत्र प्राप्ति का वरदान दिया और एक गुगल नामक फल प्रसाद के रूप में दिया। प्रसाद खाकर बाछल देवी गर्भवती हो गई और तदुपरांत गोगाजी का जन्म हुआ। गुगल फल के नाम से इनका नाम गोगाजी पड़ा। गोगाजी वीर और ख्याति प्राप्त राजा बने। गोगामेडी में गोगाजी का मंदिर एक ऊंचे टीले पर मस्जिदनुमा बना हुआ है, इसकी मीनारें मुस्लिम स्थापत्य कला का बोध कराती हैं। कहा जाता है कि फिरोजशाह तुगलक सिंध प्रदेश को विजयी करने जाते समय गोगामेडी में ठहरे थे। रात के समय बादशाह तुगलक व उसकी सेना ने एक चमत्कारी दृश्य देखा कि मशालें लिए घोड़ों पर सेना आ रही है। तुगलक की सेना में हाहाकार मच गया। तुगलक की सेना के साथ आए धार्मिक विद्वानों ने बताया कि यहां कोई महान सिद्ध है जो प्रकट होना चाहता है। फिरोज तुगलक ने लड़ाई के बाद आते समय गोगामेडी में मस्जिदनुमा मंदिर का निर्माण करवाया।

बुरडक गोत्र से संबंध

बुरडक गोत्र के बडवा (भाट) श्री भवानीसिंह राव (फोन-09785459386) की बही के अभिलेखों में ददरेवा का सम्बन्ध बुरड़क गोत्र के इतिहास से है. अजमेर के चौहान वंश में राजा रतनसेण के बिरमराव पुत्र हुए. बिरमराव ने अजमेर से ददरेवा आकर राज किया. संवत 1078 (1021 AD) में किला बनाया. इनके अधीन 384 गाँव थे. बिरमराव की शादी वीरभाण की बेटी जसमादेवी गढ़वाल के साथ हुई. इनसे तीन पुत्र उत्पन्न हुए:

  • 1. सांवत सिंह - सांवत सिंह के पुत्र मेल सिंह, उनके पुत्र राजा घंघ, उनके पुत्र इंदरचंद तथा उनके पुत्र हरकरण हुए. इनके पुत्र हर्ष तथा पुत्री जीण उत्पन्न हुयी. जीणमाता कुल देवी संवत 990 (933 AD) में प्रकट हुयी.
  • 2. सबल सिंह - सबलसिंह के बेटे आलणसिंह और बालणसिंह हुए. सबलसिंह ने जैतारण का किला संवत 938 (881 AD) में आसोज बदी 10 को फ़तेह किया. इनके अधीन 240 गाँव थे.
  • 3. अचल सिंह -

सबलसिंह के बेटे आलणसिंह के पुत्र राव बुरडकदेव, बाग़देव, तथा बिरमदेव पैदा हुए.

आलणसिंह ने संवत 979 (922 AD) में मथुरा में मंदिर बनाया तथा सोने का छत्र चढ़ाया.

ददरेवा के राव बुरडकदेव के तीन बेटे समुद्रपाल, दरपाल तथा विजयपाल हुए.

राव बुरडकदेव (b. - d.1000 AD) महमूद ग़ज़नवी के आक्रमणों के विरुद्ध राजा जयपाल की मदद के लिए लाहोर गए. वहां लड़ाई में संवत 1057 (1000 AD) को वे जुझार हुए. इनकी पत्नी तेजल शेकवाल ददरेवा में तालाब के पाल पर संवत 1058 (1001 AD) में सती हुई. राव बुरडकदेव से बुरडक गोत्र निकला.

राव बुरडकदेव के बड़े पुत्र समुद्रपाल के 2 पुत्र नरपाल एवं कुसुमपाल हुए. समुद्रपाल राजा जयपाल के पुत्र आनंदपाल की मदद के लिए 'वैहिंद' (पेशावर के निकट) गए और वहां पर जुझार हुए. संवत 1067 (1010 AD) में इनकी पत्नी पुन्यानी साम्भर में सती हुई.

विवेचना - उपरोक्त विवरण से ददरेवा के चौहान वंश में बुरड़क गोत्र के इतिहास के अवलोकन से यह स्पस्ट होता है कि राव बुरडकदेव (b. - d.1000 AD) महमूद ग़ज़नवी के आक्रमणों के विरुद्ध राजा जयपाल की मदद के लिए लाहोर गए. वहां लड़ाई में संवत 1057 (1000 AD) को वे जुझार हुए. राव बुरडकदेव के बड़े पुत्र समुद्रपाल राजा जयपाल के पुत्र आनंदपाल की मदद के लिए 'वैहिंद' (पेशावर के निकट) गए और वहां पर संवत 1067 (1010 AD) में जुझार हुए.


नरपाल के उदयसिंह और करणसिंह पुत्र हुए तथा पुत्री आभलदे हुई. आभलदे का विवाह संवत 1103 (1046 AD) में रुनिया के गोदारा कर्मसिंह के साथ हुआ. उदयसिंह के पुत्र राजपाल, राव उदणसिंह तथा भरतोजी पैदा हुए. राजपाल के पुत्र अभयपाल, धीरपाल, भोलराव, भीमदेव तथा जीतराव पैदा हुए. राजपाल संवत 1191 (1134 AD) में अजमेर के राजा सोमेसर के प्रधान सेनापति बने.

ददरेवा के चौहान वंश में ही गोगादेव भी अपने बेटों सहित महमूद गजनबी के आक्रमण के समय सतलुज के मार्ग की रक्षा करते हुए वर्ष 1024 में शहीद हो गए.

बुरडकदेव और गोगादेव में सम्बन्ध अनुसंधान का विषय है. अनुमान है की बुरडक वंशावली में बुरडकदेव की तीसरी पीढ़ी में एक उदयसी है जो संभवतः ददरेवा में गोगादेव के उत्तराधिकारी थे.

पहुँच

रेल मार्ग:- जयपुर से लगभग 250 किमी दूर स्थित सादलपुर तक ट्रेन द्वारा जाया जा सकता है।सड़क मार्ग:- जयपुर देश के सभी राष्ट्रीय मार्ग से जुड़ा हुआ है। जयपुर से सादलपुर और सादलपुर से 15 किमी दूर स्थित गोगाजी के जन्मस्थान तक बस या टैक्सी से पहुँचा जा सकता है।

References

  1. DasharathaSharma: Early Chauhan Dynastied (800-1316 AD), pp.365-366
  2. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, मंडावा, १९९८, पृ.41
  3. Burdak Gotra Ka Itihas
  4. Rao Chhotu Singh Village - Dadia, Tahsil - Kishangargh, District - Ajmer Rajasthan, Phone: 01463-230349, Mob: 09001329120
  5. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/C, p.210
  6. गोविंद अग्रवाल: चूरू मण्डल का शोधपूर्ण इतिहास, पृ. 51
  7. गोरी शंकर हीराचंद ओझा: बीकानेर राज्य का इरिहास भाग प्रथम, पृ. 64
  8. क्यामखां रासो पृ 10
  9. गोविंद अग्रवाल: चूरू मण्डल का शोधपूर्ण इतिहास, पृ. 53, कर्नल टोड़ के आधार पर लिखित।
  10. गोरी शंकर हीराचंद ओझा: बीकानेर राज्य का इरिहास भाग प्रथम, पृ. 112
  11. क्यामखां रासो पृ 11
  12. डॉ मोहन लाल गुप्ता:राजस्थान ज्ञान कोष, वर्ष २००८, राजस्थानी ग्रंथागार जोधपुर, पृ. ४७३
  13. देवीसिंह मंडावा:सम्राट पृथ्वीराज चौहान,पृ. 134
  14. डॉ मोहन लाल गुप्ता:राजस्थान ज्ञान कोष, वर्ष २००८, राजस्थानी ग्रंथागार जोधपुर, पृ. ४७३
  15. देवीसिंह मंडावा:सम्राट पृथ्वीराज चौहान,पृ. 134
  16. डॉ मोहन लाल गुप्ता:राजस्थान ज्ञान कोष, वर्ष २००८, राजस्थानी ग्रंथागार जोधपुर, पृ. ४७३
  17. देवीसिंह मंडावा:सम्राट पृथ्वीराज चौहान,पृ. 134
  18. डॉ मोहन लाल गुप्ता:राजस्थान ज्ञान कोष, वर्ष २००८, राजस्थानी ग्रंथागार जोधपुर, पृ. ४७३
  19. डॉ गोपीनाथ शर्मा: 'राजस्थान के इतिहास के स्त्रोत', 1983, पृ.140
  20. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, मंडावा, 1998, पृ.75-76

Back to Jat Deities