Hari Singh Burdak

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author:Laxman Burdak IFS (R)

Hari Singh Burdak (हरीसिंह बुरडक) (1884-1966) was a freedom fighter and hero of Shekhawati farmers movement in Shekhawati region in Rajasthan, India. He was born on chaitra shukla navami samvat 1941 (1884 AD) in a Jat Hindu family of Burdak gotra in village Palthana of Sikar district in Rajasthan, India.[1] His father's name was Shyobaksh Ram Burdak. He was a brave, fearless and straightforward person. He continued his struggle for farmers from 1930 to 1947 as a prominent leader of Sikarwati Jat Kisan Panchayat and later under Prajamandal in Shekhawati.

Contents

Condition of farmers of Sekhawati

Hari Singh Burdak (right) with Khaman Singh Palthana (left)

Before independence the conditions of the farmers in the Shekhawati region were worst. The farmers of the Shekhawati region were exploited and oppressed by the Jagirdars during British Raj. They were deprived of fundamental rights. They were given inhuman treatment when the Jagirdars did not get cesses known as “lag” or “begar” in time, they were given hard punishments and their crop used to be destroyed.

The exploitation of farmers by the Rao Raja of Sikar was at peak when Hari Singh Burdak took a lead in movement against oppression of Jagirdars. Hari Singh understood the consequences of struggle against the Jagirdars but even then he united the farmers in 1933 in Palthana village and was successful in motivating them for the agitation. The farmers elected him as sarpanch. He led the farmer’s movement in 1934 in Khuri village and in 1935 in Kudan village. Hari Singh’s strategy of the movement of farmers was based on the demands of settlement of lands, rights over the land and fixation of rates of the produce but this did not work initially and he failed to achieve the success.


When Hari Singh decided to stop paying the lags or cesses, The Jagirdars tried to suppress the movement in many ways with the help of police of Jaipur state in both Khuri and Kudan villages. Many farmers were killed and a large number were sent to jail. A Jat farmer was beaten to death in the market of Sikar town; his dead body was thrown and insulted.

Jat Prajapati Mahayagya Sikar

Shekhawati Movement Leaders: Sitting from left are Hari Singh Burdak, Prithvi Singh Bhukar, Ishwar Singh Bhamu and others

After successful Jhunjhunu adhiveshan in 1932, a deputation of Jats from Sikar district, under the leadership of Prithvi Singh Gothra met Thakur Deshraj and requested him to do a similar adhiveshan in Sikar also. After long discussions Thakur Deshraj proposed to have a yagya at Sikar. A meeting for discussing this issue was called in Palthana village in October 1933. This was attended by all activists from Shekhawati and one member was invited from each family in Sikar district. About 5000 people gathered in the meeting. The Sikar thikana wanted to make this meeting a failure. For this, the thikanedar sent hundreds of handcuffs loaded on camels along with the police force to terrorize the people taking part in the meeting. [2] Thakur Deshraj addressed the people that

"these handcuffs would get you independence. If you are afraid of these you would never get freed. We have gathered here for a religious purpose and we will complete". [3]


These words of Thakur Deshraj played a lightening effect amongst the people and they all were energized for further struggle with the Jagirdars. People listened the leaders very calmly and meeting was a great success. Police could do nothing. The leaders who attended the meeting were Sardar Harlal Singh, Chaudhary Ram Singh Kunwarpura, Chaudhary Ghasi Ram, Kunwar Net Ram Singh Gaurir, Panne Singh Deorod's elder brother Bhoor Singh etc. There was a speech by Master Ratan Singh Pilani. A resolution was passed in this meeting to conduct a seven day "Jat Prajapat Mahayagya" (Prayer ceremony for the Lord of Universe) in Sikar on next basant in 1934, to spread the principles of Arya Samaj and create awakening in Shekhawati. It was decided for this purpose to collect ghee and money from each household. A yagya committee was formed consisting of Chaudhary Hari Singh Burdak of Palthana village as its president, Master Chandrabhan Singh as minister. Deva Singh Bochalya, Thakur Hukum Sing and Bhola Singh were made incharge of publicity. [4] The office of managing committee was earlier in Palthana. In December 1933 this office was transferred to Sikar.


The Jat Prajapati Maha-Yagya took place at Sikar from 20 - 29 January 1934. Kunwar Hukam Singh Rahees Angai (Mathura) was made Yagyapati or Chairman of the Yagya. Chaudhary Kaluram Sunda of village Kudan was the Yagyaman. Acharya Shri Jagdev Sidhanthi received an invitation for this Yagya at his Gurukul at Kirthal, In that invitation was he requested to attend the Yagya and bring twenty Bhramcharis and disciples with him. Volunteers went to all the households in all the villages in the region and collected material that would be needed. They collected Ghee, Flour, Gur, and invited all the householders to participate. Hundreds of cans of Ghee and hundreds of sacks of flour were collected.


During the Yagya 3000 men and women adopted the Yogyopavit, which was a symbol Kisan sangathan. Sheetal Kumari daughter of Kunwar Netram Singh adopted yagyopavit. Chaudhary Chimana Ram of Sangasi brought his wife wearing salwar-kurta. The unity of Jat farmers in this Yagya had terrified the Jagirdars of Sikar. The role played by Sardar Har Lal Singh and Thakur Deshraj was unparallel which made this yagya a grand success.

Sikarwati Jat Kisan Panchayat

The Jat Prajapati Mahayagya of Sikar was attended by about a lakh farmers and was a grand success in awakening of the farmers of Shekhawati. This annoyed the Rao Raja of Sikar and his other thikanedars. Jats had still one grievance that they were not able to take the procession of sabhapati of yagya on elephant as planned because the Rao Raja of Sikar had helped in getting the elephant run away. Immediately after the yagya Jat leaders held a meeting under the chairmanship of Thakur Deshraj to settle the issues with Rao Raja Sikar and his thikanedars. They founded a body called "Sikarwati Jat Kisan Panchayat". Thakur Deva Singh Bochalya was elected General Secretary and Hari Singh Burdak as sarpanch of this body. [5] During those days a folk song was very popular amongst the women of Shekhawati which is as under in Rajasthani Language:

चलिए सखी यज्ञ देखन कूँ, सीकर के अस्थाना में ।
तोही सरपंच दिखाऊँ पलथाना में ।।[6]

Effect of Jat Prajapati Mahayagya

The Shekhawati farmers movement had its genesis in the Jat Praja Pati Maha-Yagna a socio-religious festival held in January 1934. It lasted ten days and was the biggest of its kind in Rajputana. It facilitated a widespread involvement of Jats in a community festival. Each Jat household attending it was to contribute some cash and an unspecified quantity of ghee. A total of two hundred mounds of ghee were used in the sacrificial flame. The function concluded with a triumphal elephant ride hitherto prohibited by the rules of Sikar Thikana. The success of this movement encouraged the Jats to hold more meetings on local levels and print literature to glorify Jat history. The Yagna became a dominant symbol of folklore, which glorified it as the beginning of an anti-feudal struggle. The peasants demanded remissions in taxes and finally a Jat-Sikar Thikana Agreement was signed on August 23, 1934, by which the Thikana authorities conceded to abolish various lags (taxes) and agreed to provide for a mobile dispensary. The following year, the Kisan Sabha formally came into existence and under its aegis the famous Sikar Andolan of 1935 was launched. With outside mediation efforts of Jamnalal Bajaj, Sir Chhotu Ram-a renowned Jat leader of Punjab and Ratan Singh of All India Jat Mahasabha, a settlement was arrived at and the Jats were promised remissions of rent, abolition of internal cesses and an introduction of fixed rent tenure. The Jats were also promised equal opportunities in Thikana administration and were permitted to ride elephants and horses and to construct schools for their children. The formation of a Jat Kisan Panchayat was officially sanctioned and the right to agitate for redressal of grievances in non-Khalsa areas was conceded. Much however, could not be made out of these agreements for two reasons. First, the subordinate Thikanedars of Sikar did not fully cooperate with Sikar authorities to ensure compliance with the terms of these agreements. Secondly, the beginning of settlement operations and reform of revenue administration was a time-consuming process which entailed enormous delay. This was interpreted by the Jats as a breach of agreement and hence, they indulged in acts of disorder and violence, which were perceived by Thikana authorities as signs of bad faith. In the meanwhile two unsavory incidents led to a termination of agreements. The first, occurred at Khuri village, where the sight of Jat bridegroom riding a horse incensed the local Rajputs and the two sides readied themselves for an armed combat. The state authorities asked the two parties to disperse but the Jats refused. The state police charged and in the melee that followed, several people were injured. The second incident took place at Kudan village, where about one hundred armed Jats attacked Sikar revenue officials. The police fired upon the armed mob, which resulted in several casualties and injuries. A total of 104 Jats were arrested.


As a result of these incidents Sikarwati Jat Kisan Panchayat and Kisan Sabha were declared unlawful bodies and several of their local members like Hari Singh Burdak and Master Chandrabhan were interned for stirring up the peasant struggle. They were imprisoned and all Jat schools were closed. The school building of Palthana was destroyed. Inhuman treatment was given not only to the Jat farmers but their wives were also insulted. As a reaction to this treatment Jats stopped paying land taxes. The Jaipur ruler sent captain Web to Sikar. He made an agreement after consultation with farmers on 13 August 1934 under which many taxes on farmers were waved off. The farmers were assured of no increase of taxes in future. [7]They were assured of equal opportunity in public services and to get collected the taxes in consultation with Jat Panchayats as per category of land. This was termed a good attempt to get success through agitation by the Jat social organisation 'Jat Sabha' [8] Such intermittent Movements and state reprisals continued till independence.[9] Such intermittent Movements and state reprisals continued till independence.

The Rao Raja of Sikar kept Hari Singh in prison in Devagarh fort. He was expelled from Sikar thikana for about 14 months. During expulsion period also he was not silent, he went to Ajmer where he contacted Jaynarayan Vyas and Haribhau Upadhyay and got done the publicity of the oppressions on farmers of Sikar. He had started a school in Palthana, which was destroyed by the Jagirdars during his expulsion. He continued his struggle for farmers from 1930 to 1947 as a prominent leader of Prajamandal. As a result of his struggle the farmers of Sikar got success in the settlement of land, rights of farmers on the land, which they were cultivating, and the rates of lagan on land were fixed.

Demand of Jat Boarding at Sikar

He was one of the leaders who negotiated with Rao Raja Sikar for Jat Boarding House at Sikar. Jats demanded land for Jat Boarding House near Sikar railway station. Rao Raja Sikar did not accept this demand because he was not in favour of educating people. It was for the good luck of the farmers of Sikar that differences developed between Rao Raja Sikar and Maharaja of Jaipur state in the end of 1937. The differences were of so much magnitude that Rao Raja Sikar Kalyan Singh was punished exile to Delhi. At this juncture the Jats of Sikar supported Maharaja Jaipur. As per court order Sikar thikana came under direct control of Jaipur state. Wife of Kalyan Singh requested Prime Minister of Jaipur state Raja Gyan Nath to get Kalyan Singh freed from exile. Gyan Nath put forward a condition that it is possible to free Kalyan Singh only when the Jat leaders of Sikar thikana give him in writing this request. Rani of Sikar was now forced to invite the Jat leaders of Sikar thikana who put before her the demand for land allotment for constructing Jat Boarding house near Sikar railway station. In order to apprise Rao Raja Sikar at Delhi and get consent from him she sent two representatives of Jat leaders from each tehsil on government expenses.

Jat leaders to negotiate:

The Jat leaders selected for this purpose were as follows:

Sikar tehsil

1. Hari Singh Burdak, Palthana

2. Ishwar Singh Bhamu, Bhainrupura

Laxmangarh tehsil

1. Panne Singh Batar, Bataranau

2. Lekh Ram Dotasara, Kaswali

Fatehpur tehsil

1. Mansa Ram Thalor, Narsara

2. Kanhaiya Lal Mahla, Swarupsar

Rao Raja Sikar Kalyan Singh discussed the demands of above leaders at Delhi and agreed to allot the land for Jat Boarding near railway station after which the Jat leaders gave the request in writing to Raja Gyan Nath to free Kalyan Singh from exile.

The punishment of exile of Rao Raja Kalyan Sing ended in August 1942, when he came back to Sikar with the powers to rule Sikar thikana. Rao Raja Sikar allotted 12 bigha of land for Jat Boarding near Sikar railway station and inaugurated it on basant panchami of samvat 1999 (February 1943).

After this the construction of Hostels started under the guidance of Ishwar Singh Bhamu and Kalu Ram Sunda. Meanwhile, Master Kanhaiya Lal Mahla started hostel under a shed. In 1945 Sir Chhotu Ram inaugurated this Jat hostel. Ranmal Singh, Katrathal retired from teacher and started helping in the running of this. By 1946 there were 15 rooms and two kitchens, with boundary wall around it. The hall was constructed with the help of Burdak Jats of Palthana. One room each was constructed by Rao Raja Sikar, Ch. Gopiram, Ch. Udaram Mawa of Dadia, Ch. Ishwar Singh Bhamu, Ch Gopal Ram Fandan Rasidpura, Ch. Hari Ram Bhukar Gothra Bhukaran. Rest of the rooms were constructed with collective contribution from Jats of various villages.

Death

Hari Singh Burdak expired in 1966.

सीकर किसान आंदोलन की शुरुआत

ठाकुर देशराज[10] ने लिखा है ....सन् 1931 के अक्टूबर महीने में जाट महासभा का


[पृ 223]: डेपुटेशन झूंझावाटी का दौरा करके सीकर में घुसा तो उसका प्रथम मुकाम कूदन में हुआ। डेपुटेशन में ठाकुर झम्मन सिंह जी एडवोकेट मंत्री जाट महासभा, ठाकुर देशराज जी मंत्री राजस्थान जाट सभा और महासभा के दोनों उपदेश ठाकुर भोला सिंह और हुकुम सिंह थे। गांव के किसी प्रतिष्ठित आदमी ने उनकी बात तक नहीं सुनी। यदि उस समय वहां मास्टर चंद्रभान सिंह जी (अध्यापक कार्य पर) न होते तो रात को ठहरना भी मुश्किल हो जाता। यह हालत थी उस समय सीकर के जाटों की हिम्मत और जाति प्रेम की।

हां उस समय भी एक जाट घराना सीकर में शेर की भांति ही निर्भर था वह था चौधरी रामबक्स जी भूकर, गोठड़ा का। चौधरी रामबक्स जी के लड़के चौधरी पृथ्वी सिंह को उस समय का सीकर का सिंह शावक कहें तो कुछ भी अयुक्ति नहीं होगी। उसके दिल में एक तिलमिलाहट थी और वह जल्द से जल्द अपनी कौम को बंधन मुक्त कराने की उत्कंठा में था। वही सिंह शावक अपने दूसरे साथियों श्री हरदेव सिंह पलथाना आदि के साथ झुंझुनू के महान जाट महोत्सव में पहुंचा और तमाम बाहरी जाट लीडर को उसने अपने इलाके के जाटों की दयनीय स्थिति से परिचित कराया।

जयपुर ने सीकर को आंतरिक अमन बनाये रखने की आजादी दे रखी थी। इसलिए यह सीकर का अपना आंतरिक मामला था कि कोई सभा-सोसाइटी अपने यहाँ होने दे या नहीं।

एक बार ठाकुर भोला सिंह जी महोपदेशक जाट महासभा सीकर में जा पहुंचे। CID ने पुलिस में इतला दी और पुलिस ने बैरंग उन्हें सीकर से वापस कर दिया। अतः यह एकदम कठिन था कि वहां जाट महासभा या उसकी किसी


[पृ 224]: शाखा सभा का वहां अधिवेशन हो जाने दिया जाता या प्रचारको को प्रचार की आजादी रहती। ऐसी कठिन परिस्थितियों में वहां जलसा करना था। यह वचन ठाकुर देशराज, कुँवर पृथ्वी सिंह जी को दे चुके थे।

पलथना में मीटिंग: बहुत सोचने विचारने के बाद उनके दिमाग में सीकर में एक यज्ञ कराने की आई और इसी उद्देश्य को लेकर उन्होंने सन् 1933 के अक्टूबर महीने में पलथना में एक मीटिंग बुलाई। इस मीटिंग में सीकर के 500 गांवों में से एक एक आदमी बुलाया गया लेकिन 5,000 आदमी इकट्ठे हुए। मीटिंग को भंग करने के लिए सीकर की पुलिस दल बल सहित मौके पर पहुंची किंतु मीटिंग सफल हुई और वक्ताओं के ओजस्वी भाषण से लोगों में जीवन की लहर पैदा कर दी। इस समय तक कुँवर पन्ने सिंह जी मर चुके थे। उनके बड़े भाई कुंवर भूर सिंह, चौधरी घासी राम, सरदार हरलाल सिंह, चौधरी रामसिंह कुँवरपुरा आदि सभी प्रतिष्ठित कार्यकर्ता शामिल हुए। मा. रतन सिंह जी बीए जो उस समय पिलानी में अध्यापक थे उनका भी भाषण हुआ।

इसी दिन सीकर बसंत पर जाट प्रजापति महायज्ञ करने का एलान किया गया और उसके लिए तय हुआ कि हर घर से घी व पैसा उगाया या जाए। श्री मास्टर चंद्रभान जी को यज्ञ कमेटी का मंत्री और चौधरी हरी सिंह जी बुरड़क पलथाना को अध्यक्ष चुना गया। श्री देवी सिंह बोचल्य और ठाकुर हुकुम सिंह, भोला सिंह जी को प्रचार विभाग सौंपा गया।


डेपुटेशन उपदेशकों के गांवों में पहुंचने से सीकर के कर्मचारियों के कान खड़े हुए और उन्होंने छेड़खानी आरंभ कर दी। तारीख 6 दिसंबर 1932 को जबकि नेछूआ तहसील के सिगड़ोला गांव में प्रचार हो रहा था, रात के समय लावर्दीखां


[पृ 225]: नाम का सवार तहसील की ओर से पहुंचा और ठाकुर हुकुम सिंह जी उपदेशक महासभा को पकड़ ले गया और तहसील में ले जाकर रात भर के लिए काठ में दे दिया। दूसरे दिन काफी डरा धमका कर उन्हें छोड़ दिया गया।

इसके विरोध में ठाकुर देशराज जी मंत्री राजस्थान आदेशिक जाटसभा ने राव राजा साहब सीकर को एक पत्र भेजा और मांग की कि लावर्दी खां को उसके गैरकानूनी कृत्य पर दंड दिया जाए किंतु ठिकाने ने उस पत्र का कोई उत्तर तक नहीं दिया।

जाट महायज्ञ की प्रबंधकारिणी का आफिस पहले तो पलथना, पोस्ट लक्ष्मणगढ़ में रहा इसके बाद दिसंबर के आरंभ में सीकर में आ गया और वहीं से कार्य संचालन होने लगा।

जाट जन सेवक

रियासती भारत के जाट जन सेवक (1949) पुस्तक में ठाकुर देशराज द्वारा चौधरी हरूसिंह जी का विवरण पृष्ठ 298-300 पर प्रकाशित किया गया है । ठाकुर देशराज[11] ने लिखा है .... चौधरी हरूसिंह जी - [पृ.298]: कोई दिन सीकर वाटी में स्त्रियां एक गीत गाती थी, “चलिये सखी यज्ञ देखन कूं सीकर के अस्थाना में। तोहि सरपंच दिखाऊ पलथाना में॥" सन् 1933 ई. के बसंत के दिनों सीकर में जो चहल-पहल यज्ञ के दिनों में करीब 15 दिन रही वह जाट इतिहास की एक अपूर्व घटना है। इतना बड़ा यज्ञ 2-4 शताब्दियों में ही जाटों ने किया था। इस यज्ञ के लिए और पीछे से तमाम सीकर आंदोलन के लिए जो जाट किसान


[पृ.299]: पंचायत बनी थी उसी के सरपंच बनने का सौभाग्य पलथाना के बुरड़क वंशी जाट सरदार चौधरी श्योबक्स राम के पुत्र चौधरी हरू सिंह जी को प्राप्त हुआ।

चौधरी हरूसिंह जी का जन्म संवत 1942 में हुआ। आप पलथाना के प्रतिष्ठित जाटों में से हैं। सीकर वाटी की जागृति में गोठड़ा-पलथाना ये मुख्य हाथ हैं। यही पलथाना है जहां लगभग 5000 जाटों ने इकट्ठे होकर सन् 1933 के आसोज महीने में तय किया था कि वे सीकर में एक महायज्ञ करेंगे। इसी पलथाना में ऊंट पर लादकर हथकड़ियां सभा के लोगों को गिरफ्तार करने आई थी। यहीं सर्वप्रथम ठाकुर देशराज ने सीकर के अधिपति के कार्यों को यह कहकर डाट बताई थी कि मुझे बुलाने वाला तुम्हारा राव राजा कौन है?

यहीं सर्वप्रथम सीकर ठिकाने के आतंक को भंग किया गया था और यहीं पर अत्याचार की शुरुआत ठिकाने की फ़ौज ने पाठशाला के मकान को ध्वस्त कर के और यहां के मास्टर श्री चंद्रभान जी को मारपीट करके की थी।

चौधरी हरि सिंह जी भाषण नहीं देते किंतु बिना ही भाषणों के जनता को वह अपनी तरफ आकर्षित रखते हैं। यही उनका विशेष गुण है।

संतान और भाई बंधुओं से वह भरे-पूरे हैं और उनके भाइयों ने भी दमे-दम उन्हें सहयोग दिया है। आप चौधरी ईश्वर सिंह जी के पक्के दोस्तों में से हैं। सीकरवाटी की यह जोड़ी मशहूर है।

चौधरी हरूसिंह जी ने सीकर की जेल को भी अपनी जाति के हित के लिए देखा है। आंदोलन में मार भी खाई है।

सीकर में जो जाट बोर्डिंग हाउस है उसका आपने एक


[पृ.300]: कमरा (हाॅल) अपने पैसे (₹10,000) से बनवाया है। उसकी कमेटी के आप प्रधान रहे हैं।

एक शब्द में यह कहा जा सकता है कि सीकर जागृति के आप प्रमुख प्रकाशपुंजों में से एक हैं।

आप की मजबूती और जाति भक्ति पर सीकरवाटी के हर एक जाट को विश्वास है और वह आपके व्यक्तित्व का आदर करते हैं।

शेखावाटी किसान आन्दोलन पर रणमल सिंह

शेखावाटी किसान आन्दोलन पर रणमल सिंह[12] लिखते हैं कि [पृष्ठ-113]: सन् 1934 के प्रजापत महायज्ञ के एक वर्ष पश्चात सन् 1935 (संवत 1991) में खुड़ी छोटी में फगेडिया परिवार की सात वर्ष की मुन्नी देवी का विवाह ग्राम जसरासर के ढाका परिवार के 8 वर्षीय जीवनराम के साथ धुलण्डी संवत 1991 का तय हुआ, ढाका परिवार घोड़े पर तोरण मारना चाहता था, परंतु राजपूतों ने मना कर दिया। इस पर जाट-राजपूत आपस में तन गए। दोनों जातियों के लोग एकत्र होने लगे। विवाह आगे सरक गया। कैप्टन वेब जो सीकर ठिकाने के सीनियर अफसर थे , ने हमारे गाँव के चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल जो उस समय जाट पंचायत के मंत्री थे, को बुलाकर कहा कि जाटों को समझा दो कि वे जिद न करें। चौधरी गोरूसिंह की बात जाटों ने नहीं मानी, पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया। इस संघर्ष में दो जाने शहीद हो गए – चौधरी रत्नाराम बाजिया ग्राम फकीरपुरा एवं चौधरी शिम्भूराम भूकर ग्राम गोठड़ा भूकरान । हमारे गाँव के चौधरी मूनाराम का एक हाथ टूट गया और हमारे परिवार के मेरे ताऊजी चौधरी किसनारम डोरवाल के पीठ व पैरों पर बत्तीस लठियों की चोट के निशान थे। चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल के भी पैरों में खूब चोटें आई, पर वे बच गए।

चैत्र सुदी प्रथमा को संवत बदल गया और विक्रम संवत 1992 प्रारम्भ हो गया। सीकर ठिकाने के जाटों ने लगान बंदी की घोषणा करदी, जबरदस्ती लगान वसूली शुरू की। पहले भैरुपुरा गए। मर्द गाँव खाली कर गए और चौधरी ईश्वरसिंह भामू की धर्मपत्नी जो चौधरी धन्नाराम बुरड़क, पलथना की बहिन थी, ने ग्राम की महिलाओं को इकट्ठा करके सामना किया तो कैप्टेन वेब ने लगान वसूली रोकदी। चौधरी बक्साराम महरिया ने ठिकाने को समाचार भिजवा दिया कि हम कूदन में लगान वसूली करवा लेंगे।

कूदन ग्राम के पुरुष तो गाँव खाली कर गए। लगान वसूली कर्मचारी ग्राम कूदन की धर्मशाला में आकर ठहर गए। महिलाओं की नेता धापू देवी बनी जिसका पीहर ग्राम रसीदपुरा में फांडन गोत्र था। उसके दाँत टूट गए थे, इसलिए उसे बोखली बड़िया (ताई) कहते थे। महिलाओं ने काँटेदार झाड़ियाँ लेकर लगान वसूली करने वाले सीकर ठिकाने के कर्मचारियों पर आक्रमण कर दिया, अत: वे धर्मशाला के पिछवाड़े से कूदकर गाँव के बाहर ग्राम अजीतपुरा खेड़ा में भाग गए। कर्मचारियों की रक्षा के लिए पुलिस फोर्स भी आ गई। ग्राम गोठड़ा भूकरान के भूकर एवं अजीतपुरा के पिलानिया जाटों ने पुलिस का सामना किया। गोठड़ा गोली कांड हुआ और चार जने वहीं शहीद हो गए। इस गोली कांड के बाद पुलिस ने गाँव में प्रवेश किया और चौधरी कालुराम सुंडा उर्फ कालु बाबा की हवेली , तमाम मिट्टी के बर्तन, चूल्हा-चक्की सब तोड़ दिये। पूरे गाँव में पुरुष नाम की चिड़िया भी नहीं रही सिवाय राजपूत, ब्राह्मण, नाई व महाजन परिवार के। नाथाराम महरिया के अलावा तमाम जाटों ने ग्राम छोड़ कर भागे और जान बचाई।


[पृष्ठ-114]: कूदन के बाद ग्राम गोठड़ा भूकरान में लगान वसूली के लिए सीकर ठिकाने के कर्मचारी पुलिस के साथ गए और श्री पृथ्वीसिंह भूकर गोठड़ा के पिताजी श्री रामबक्स भूकर को पकड़ कर ले आए। उनके दोनों पैरों में रस्से बांधकर उन्हें (जिस जोहड़ में आज माध्यमिक विद्यालय है) जोहड़े में घसीटा, पीठ लहूलुहान हो गई। चौधरी रामबक्स जी ने कहा कि मरना मंजूर है परंतु हाथ से लगान नहीं दूंगा। उनकी हवेली लूट ली गई , हवेली से पाँच सौ मन ग्वार लूटकर ठिकाने वाले ले गए।

कूदन के बाद जाट एजीटेशन के पंचों – चौधरी हरीसिंह बुरड़क, पलथना, चौधरी ईश्वरसिंह भामु, भैरूंपुरा; पृथ्वी सिंह भूकर, गोठड़ा भूकरान; चौधरी पन्ने सिंह बाटड़, बाटड़ानाऊ; एवं चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल (मंत्री) कटराथल – को गिरफ्तार करके देवगढ़ किले मैं कैद कर दिया। इस कांड के बाद कई गांवों के चुनिन्दा लोगों को देश निकाला (ठिकाना बदर) कर दिया। मेरे पिताजी चौधरी गनपत सिंह को ठिकाना बदर कर दिया गया। वे हटूँड़ी (अजमेर) में हरिभाऊ उपाध्याय के निवास पर रहे। मई 1935 में उन्हें ठिकाने से निकाला गया और 29 फरवरी, 1936 को रिहा किया गया।

जब सभी पाँच पंचों को नजरबंद कर दिया गया तो पाँच नए पंच और चुने गए – चौधरी गणेशराम महरिया, कूदन; चौधरी धन्नाराम बुरड़क, पलथाना; चौधरी जवाहर सिंह मावलिया, चन्दपुरा; चौधरी पन्नेसिंह जाखड़; कोलिडा तथा चौधरी लेखराम डोटासरा, कसवाली। खजांची चौधरी हरदेवसिंह भूकर, गोठड़ा भूकरान; थे एवं कार्यकारी मंत्री चौधरी देवीसिंह बोचलिया, कंवरपुरा (फुलेरा तहसील) थे। उक्त पांचों को भी पकड़कर देवगढ़ किले में ही नजरबंद कर दिया गया। इसके बाद पाँच पंच फिर चुने गए – चौधरी कालु राम सुंडा, कूदन; चौधरी मनसा राम थालोड़, नारसरा; चौधरी हरजीराम गढ़वाल, माधोपुरा (लक्ष्मणगढ़); मास्टर कन्हैयालाल महला, स्वरुपसर एवं चौधरी चूनाराम ढाका , फतेहपुरा

सीकर के सोये हुये किसानों को जगाने का श्रेय

महावीर सिंह जाखड़[13] ने लिखा है कि सीकर के सोये हुये किसान शेरों को जगाने का श्रेय ठाकुर देशराज, जघीना (भरतपुर) को जाता है। पुष्कर के जाट अधिवेशन के बाद यह जागृति ज्यादा आई। इस आंदोलन में सबसे ज्यादा जुझारूपन पलथाना के बुरड़कों ने दिखाया। सूबेदार - चन्द्र सिंह (मदू), हरी सिंह, हरदेव सिंह, जेसा राम, भाना राम, गणपत राम, व पेमा राम आदि यहाँ के प्रमुख सेनानी थे। यहाँ के बुरड़क रतनगढ़ तहसिल के सुलखनिया गांव में बसे हैं। उन्होने भी मेघसिंह के नेतृत्व में ( 6 भाई - मेघ सिंह, धाला राम, अमरा राम, मुखा राम, माना राम व लिखमा राम) सामंती उत्पीड़न के विरुद्ध हर संघर्ष मे ताल ठोक कर भाग लिया तथा फतेह हासिल की। अमरा राम आजाद हिन्द फौज के सेनानी रहे। श्री मेघ सिंह एवं धाला राम ने मरू-भूमि में शिक्षा प्रसार हेतु स्वामी नित्यानंद से खिचिवाला जोहड़े में विद्यालय शुरू करवाया।

हरी सिंह का जीवन परिचय

हरिसिंह बुरड़क का जन्म सीकर जिले के गाँव पलथाना में सन 1884 में हुआ. इनके पिता का नाम श्योबक्सराम था. हरीसिंह शिक्षा के नाम पर नाम मात्र ही साक्षर थे. सीकरवाटी में जन आन्दोलन में अग्रिम पंक्ति के नेता थे. वे जुझारू, निडर और जिम्मेदार नेता थे. सामंतों का उन्होंने कभी भी भय नहीं माना. सीकर जिले में हरी सिंह को लौहपुरुष कहा जाता है. यह प्रकृति द्वारा प्रदत्त अनूठा वरदान था कि पृथ्वीसिंह, हरिसिंह और ईश्वरसिंह निकट जुड़े पडौसी गाँवों क्रमश: गोठडा, पलथाना और भैरूपुरा के थे. निकटवर्ती गाँव कूदन और कटराथल को सम्मिलित करलें तो यह कहा जा सकता है कि सीकरवाटी के जनआन्दोलन का केंद्र ये पांच गाँव थे. सामंती व्यवस्था को चुनौती देने और जनआन्दोलन में जन-धन हानि उठाने वाले यही गाँव प्रमुख थे. पूरी सीकरवाटी को इन्हीं गाँवों से आव्हान होता था. [14]

यह माना जाता है कि हरीसिंह में नेतृत्व के गुण जन्मजात थे. वे संगठनकर्ता के रूप में इतने प्रसिद्ध हो चुके थे कि सामंतों और रावराजा की आँख की किरकिरी बन गए थे. हरी सिंह को सीकर का प्रथम जुझारू पुरुष माना जाता है. उनके इशारे पर हजारों किसान एकत्रित हो जाते थे. किसान पंचायत के गठन के पश्चात सीकरवाटी में पांच पंच बनाये गए थे. उनके मुखिया के रूप में हरीसिंह को सरपंच कहा जाता था.[15]

कोई दिन सीकरवाटी की महिलाएं एक गीत गाया करती थीं, "चलिए सखी यज्ञ देखन कूँ, सीकर के अस्थाना में ।तोही सरपंच दिखाऊँ पलथाना में" सीकर में 1934 में जो शानदार यज्ञ हुआ, इस यज्ञ के लिए और पीछे से तमाम सीकर किसान आन्दोलन के लिए 'सीकरवाटी जाट किसान पंचायत' बनी थी, उसी के सरपंच बनाने का सौभाग्य पलथाना के श्योबक्स राम बुरड़क के पुत्र हरी सिंह बुरड़कको मिला. आपका जन्म सन 1941 में चैत्र शुक्ल नवमी को हुआ. सीकर की जनजागृति में पलथाना का मुख्य स्थान रहा है. इसी स्थान पर सर्वप्रथम सीकर में महायज्ञ करने का निर्णय किया गया था. यहीं सर्वप्रथम ठिकाने के आतंक को भंग किया गया था और यहीं से अत्याचार की शुरुआत ठिकाने की फ़ौज द्वारा पाठशाला के भवन को ध्वंस करके और मास्टर चंद्रभान सिंह को मारपीट कर गिरफ्तार करके की थी. हरी सिंह बुरड़क ने खूडी काण्ड और कूदन काण्ड में सामंती ताकतों का मुकाबला करने के लिए किसानों का नेतृत्व किया था. शेखावाटी किसान आन्दोलन के दौरान आपको गिरफ्तार करके देवगढ़ किले में कई महीने तक रखा था. आपने 1933 से 1947 तक निरंतर सामंती ताकतों से संघर्ष किया. सीकर के जाट बोर्डिंग हाऊस में आपने सहयोग दिया और उसकी कमिटी के प्रधान रहे. एक शब्द में यह कहा जा सकता है कि सीकर में जनजागृति के आप प्रकाश पुंज थे. [16]

भिवानी जाने वाले शेखावाटी के जत्थे में

भिवानी जाने वाले शेखावाटी के जत्थे में - शेखावाटी में किसान आन्दोलन और जनजागरण के बीज गांधीजी ने सन 1921 में बोये. सन् 1921 में गांधीजी का आगमन भिवानी हुआ. इसका समाचार सेठ देवीबक्स सर्राफ को आ चुका था. सेठ देवीबक्स सर्राफ शेखावाटी जनजागरण के अग्रदूत थे. आप शेखावाटी के वैश्यों में प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने ठिकानेदारों के विरुद्ध आवाज उठाई. देवीबक्स सर्राफ ने शेखावाटी के अग्रणी किसान नेताओं को भिवानी जाने के लिए तैयार किया. भिवानी जाने वाले शेखावाटी के जत्थे में आप भी प्रमुख व्यक्ति थे. [17]

जाट महासभा का पुष्कर में जलसा सन् 1925

सर्वप्रथम सन् 1925 में अखिल भारतीय जाट महासभा ने राजस्थान में दस्तक दी और अजमेर के निकट पुष्कर में अखिल भारतीय जाट महासभा का जलसा हुआ. इसकी अध्यक्षता भरतपुर महाराजा कृष्णसिंह ने की. इस अवसर पर जाट रियासतों के मंत्री, पंडित मदन मोहन मालवीय, पंजाब के सर छोटूरामसेठ छज्जू राम भी पुष्कर आये. इस क्षेत्र के जाटों पर इस जलसे का चमत्कारिक प्रभाव पड़ा और उन्होंने अनुभव किया कि वे दीन हीन नहीं हैं. बल्कि एक बहादुर कौम हैं, जिसने ज़माने को कई बार बदला है. भरतपुर की जाट महासभा को देखकर उनमें नई चेतना व जागृति का संचार हुआ और कुछ कर गुजरने की भावना तेज हो गयी. यह जलसा अजमेर - मेरवाडा के मास्टर भजनलाल बिजारनिया की प्रेरणा से हुआ था. शेखावाटी के हर कौने से जाट इस जलसे में भाग लेने हेतु केसरिया बाना पहनकर पहुंचे, जिनमें आप भी सम्मिलित थे. वहां से आप एक दिव्य सन्देश, एक नया जोश, और एक नई प्रेरणा लेकर लौटे. जाट राजा भरतपुर के भाषण सेभान हुआ कि उनके स्वजातीय बंधू, राजा, महाराजा, सरदार, योद्धा, उच्चपदस्थ अधिकारी और सम्मानीय लोग हैं. पुष्कर से आप दो व्रत लेकर लौटे. प्रथम- समाज सुधार, जिसके तहत कुरीतियों को मिटाना एवं शिक्षा-प्रसार करना. दूसरा व्रत - करो या मरो का था जिसके तहत किसानों की ठिकानों के विरुद्ध मुकदमेबाजी या संघर्ष में मदद करना और उनमें हकों के लिए जागृति करना था.[18]

हरीसिंह का व्यक्तित्व और वेशभूषा आकर्षित करने वाली थी. वे दाढ़ी-मूंछ रखते थे और सर पर साफा बांधते थे. इससे उनके गरिमामय व्यक्तित्व में और निखार आता था. उनकी बात की कीमत होती थी और किसान उन्हें बहुत ध्यान से सुनते थे. उनके परिवार के सम्बन्ध गोठड़ा से भी थे जिससे पृथ्वीसिंह से उनकी प्रगाढ़ता हो गयी. पृथ्वीसिंह आयु में उनसे बहुत छोटे थे परन्तु वे पृथ्वीसिंह को ही अपना नेता मानते थे. [19]

किसानों पर अत्याचार बढ़ने के कारण जब जयपुर महाराजा ने सीकर के रावराजा को सीकर से निष्कासित कर दिया था तो रावरानी ने हरिसिंह को गढ़ में बुलाया. उनसे आग्रह किया कि रावराजा को यदि वे सीकर वापस ले आयें तो उन्हें छात्रावास के लिए जमीन दे देंगे. हरिसिंह जयपुर में मिर्ज़ा इस्माइल से मिले जो जयपुर स्टेट के प्रधानमंत्री थे. उन्होंने रावराजा को वापस सीकर में पदस्थापित करने का आग्रह किया. आज यह कौतूहलपूर्ण लग सकता है की जिस रावराजा के विरुद्ध किसान आन्दोलन कर रहे थे, उसे ही वापस लाने के प्रयास भी कर रहे थे. इसके कारण यही हो सकते हैं कि कल्याणसिंह रावराजा के रूप में क्रूर नहीं थे और किसानों की बातें मान लेते थे. छोटे-छोटे अन्य सामंतों से बेहतर थे. किसान यह जानते थे कि कोई न कोई शासक तो होना ही है. फिर कल्याणसिंह क्यों नहीं? कल्याणसिंह से संघर्ष करने में उन्हें सफलता की उम्मीद थी. मिर्ज़ा इस्माइल और महाराजा जयपुर ने जब यह देखा कि किसान ही रावराजा को चाहते हैं तो उन्हें क्या ऐतराज हो सकता था. वे भी जानते थे कि कल्याण सिंह कोई चालाक सामंत नहीं था. उसे पुन: पदस्थापित कर रावराजा सीकर बना दिया गया. इससे हरीसिंह का सीकरवाटी में सम्मान बढ़ गया था. किसानों की यह जीत थी. [20]

कोई दिन सीकर वाटी में स्त्रियाँ गीत गाती थी., चलिए सखी यज्ञ देखन कूँ, सीकर के अस्थाना में | तोही सरपंच दिखाऊँ पलथाना में | सीकर में 1934 में जो शानदार यज्ञ हुआ, इस यज्ञ के पीछे से तमाम सीकर किसान आन्दोलन के लिए 'सीकर वाटी जाट किसान पंचायत' बनी थी, उसी के सरपंच बनने का सौभाग्य पलथाना के चौधरी श्योबक्षराम के पुत्र चौधरी हरूसिंह को प्राप्त हुआ था. आपका जन्म संवत 1941 में चैत्र शुक्ला नवमी को हुआ था. सीकर की जन-जागृति में पलथाना का मुख्य स्थान है. इसी स्थान पर सर्वप्रथम सीकर में महायज्ञ करने का निर्णय किया था. इसी प्रकार यहीं सर्वप्रथम ठिकाने के आतंक को भंग किया था और यहीं से अत्याचार की शुरुआत ठिकाने की फ़ौज द्वारा पाठशाला के भवन को ध्वस्त करके और यहाँ के मास्टर चंद्रभान सिंह को मारपीट कर गिरफ्तार करके की थी. चौधरी हरी सिंह ने खुड़ी काण्ड और कूदन काण्ड में सामंती ताकतों का मुकाबला करने के लिए किसानों का नेतृत्व किया था. सीकर के किसान आन्दोलन के दौरान आपको गिरफ्तार करके देवगढ़ किले में कई महीने तक रखा था. यह उल्लेखनीय है कि देवगढ़ का किला सीकर का कालापानी माना जाता था. आपके प्रयत्नों से ही सीकर में भूमि बन्दोस्त होकर लगान की दरें निर्धारित हुई थी. आपने 1933 से 1947 ई. तक निरंतर सामंती शक्तियों से संघर्ष किया. सीकर के बोर्डिंगहाऊस में आपने सहयोग दिया और उसकी कमेटी के प्रधान रहे. एक शब्द में कहा जा सकता है कि सीकर जन-जागृति के आप प्रमुख प्रकाशपुन्जों में एक थे. [21] [22]

कूदन काण्ड व सीकर के गाँवों में होने वाले अत्याचारों की चर्चा देश में फ़ैल गयी. कूदन काण्ड ऐसी घटना नहीं रही जिस पर सिर्फ जाटों ने ही आंसू बहाए. मानव मात्र से जिसे प्रेम था वे लोग विचलित हुए. उन्होंने जगह-जगह बैठकें कर शोक व्यक्त किया. मारवाड़ी संघ रानीगंज (बंगाल) ने 30 अप्रेल 1935 को अपनी मीटिंग में प्रस्ताव पास करते हुए लिखा कि यह संघटन कांग्रेस एसेम्बली के सदस्यों और जनता की दूसरी संस्थाओं से अपील करता है कि वे घटनास्थल पर अपने प्रतिनिधि भेजकर घटना की शीघ्र जाँच करावें जिससे आतंकग्रस्त जनता को शांति मिल सके. [लोकमान्य 3 मई 1935 ]

सीकरवाटी जाट पंचायत के सरपंच हरीसिंह बुरडक ने भारत सरकार से प्रार्थना करते हुए सारे मामले की जाँच करने के लिए एक निष्पक्ष आयोग नियुक्त करने की मांग की. [दी फ्री प्रेस जर्नल 29 मई 1935 , पृ.3] कुंवर हुकुमसिंह, अध्यक्ष, अखिल भारतीय जाट महासभा, अलीगढ ने भारत सरकार से मांग की कि वह सारा मामला अपने हाथ में लेकर सीकर के किसानों विशेषकर खुड़ी, कूदन, भैरोपुर , गोठडा आदि पर की गयी ज्यादतियों की जांचकर उनकी वाजिब शिकायतों को दूर करने का प्रयत्न करे. [दी हिंदुस्तान टाइम्स 3 मई 1935 , पृ. 13][23]

मास्टर चंद्रभानसिंह गिरफ्तार :बधाला की ढाणी में विशाल आमसभा

मास्टर चंद्रभानसिंह गिरफ्तार - ठिकानेदार और रावराजा ने जाट प्रजापति महायज्ञ सीकर सन 1934 के नाम पर जो एकता देखी, इससे वे अपमानित महसूस करने लगे और प्रतिशोध की आग में जलने लगे. जागीरदार किसान के नाम से ही चिढ़ने लगे. एक दिन किसान पंचायत के मंत्री देवी सिंह बोचल्या और उपमंत्री गोरु सिंह को गिरफ्तार कर कारिंदों ने अपमानित किया. लेकिन दोनों ने धैर्य का परिचय दिया. मास्टर चंद्रभान उन दिनों सीकर के निकट स्थित गाँव पलथाना में पढ़ा रहे थे. स्कूल के नाम से ठिकानेदारों को चिड़ होती थी. यह स्कूल हरीसिंह बुरड़क जन सहयोग से चला रहे थे. बिना अनुमति के स्कूल चलाने का अभियोग लगाकर रावराजा की पुलिस और कर्मचारी हथियारबंद होकर पलथाना गाँव में जा धमके. मास्टर चंद्रभान को विद्रोह भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया और हथकड़ी लगाकर ले गये. [24]

किसान नेता घरों में पहुँच कर शांति से साँस भी नहीं ले पाए थे कि सीकर खबर मिली कि मास्टर चंद्रभान सिंह को 24 घंटे के भीतर सीकर इलाका छोड़ने का आदेश दिया है और जब वह इस अवधि में नहीं गए तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. ठिकाने वाले यज्ञ में भाग लेने वाले लोगों को भांति-भांति से तंग करने लगे. मास्टर चंद्रभान सिंह यज्ञ कमेटी के सेक्रेटरी थे और पलथाना में अध्यापक थे. सीकर ठिकाने के किसानों के लिए यह चुनौती थी. मास्टर चंद्रभानसिंह को 10 फ़रवरी 1934 को गिरफ्तार करने के बाद उन पर 177 जे.पी.सी. के अधीन मुक़दमा शुरू कर दिया था. [25]

यह चर्चा जोरों से फ़ैल गयी की मास्टर चन्द्रभान को जयपुर दरबार के इशारे पर गिरफ्तार किया गया है. तत्पश्चात ठिकानेदारों ने किसानों को बेदखल करने, नई लाग-बाग़ लगाने एवं बढ़ा हुआ लगान लेने का अभियान छेड़ा. (राजेन्द्र कसवा: p. 122-23)

पीड़ित किसानों ने बधाला की ढाणी में विशाल आमसभा आयोजित की, जिसमें हजारों व्यक्ति सम्मिलित हुए. इनमें चौधरी घासीराम, पंडित ताड़केश्वर शर्मा, ख्यालीराम भामरवासी, नेतराम सिंह, ताराचंद झारोड़ा, इन्द्राजसिंह घरडाना, हरीसिंह पलथाना, पन्ने सिंह बाटड, लादूराम बिजारनिया, व्यंगटेश पारिक, रूड़ा राम पालडी सहित शेखावाटी के सभी जाने-माने कार्यकर्ता आये. मंच पर बिजोलिया किसान नेता विजय सिंह पथिक, ठाकुर देशराज, चौधरी रतन सिंह, सरदार हरलाल सिंह आदि थे. छोटी सी ढाणी में पूरा शेखावाटी अंचल समा गया. सभी वक्ताओं ने सीकर रावराजा और छोटे ठिकानेदारों द्वारा फैलाये जा रहे आतंक की आलोचना की. एक प्रस्ताव पारित किया गया कि दो सौ किसान जत्थे में जयपुर पैदल यात्रा करेंगे और जयपुर दरबार को ज्ञापन पेश करेंगे. तदानुसार जयपुर कौंसिल के प्रेसिडेंट सर जॉन बीचम को किसानों ने ज्ञापन पेश किया. (राजेन्द्र कसवा: p. 123)

सीकर में जागीरी दमन

ठाकुर देशराज[26] ने लिखा है .... जनवरी 1934 के बसंती दिनों में सीकर यज्ञ तो हो गया किंतु इससे वहां के अधिकारियों के क्रोध का पारा और भी बढ़ गया। यज्ञ होने से पहले और यज्ञ के दिनों में ठाकुर देशराज और उनके साथी यह भांप चुके थे कि यज्ञ के समाप्त होते ही सीकर ठिकाना दमन पर उतरेगा। इसलिए उन्होंने यज्ञ समाप्त होने से एक दिन पहले ही सीकर जाट किसान पंचायत का संगठन कर दिया और चौधरी देवासिह बोचल्या को मंत्री बना कर सीकर में दृढ़ता से काम करने का चार्ज दे दिया।

उन दिनों सीकर पुलिस का इंचार्ज मलिक मोहम्मद नाम का एक बाहरी मुसलमान था। वह जाटों का हृदय से विरोधी था। एक महीना भी नहीं बीतने ने दिया कि बकाया लगान का इल्जाम लगाकर चौधरी गौरू सिंह जी कटराथल को गिरफ्तार कर लिया गया। आप उस समय सीकरवाटी जाट किसान पंचायत के उप मंत्री थे और यज्ञ के मंत्री श्री चंद्रभान जी को भी गिरफ्तार कर लिया। स्कूल का मकान तोड़ फोड़ डाला और मास्टर जी को हथकड़ी डाल कर ले जाया गया।

उसी समय ठाकुर देशराज जी सीकर आए और लोगों को बधाला की ढाणी में इकट्ठा करके उनसे ‘सर्वस्व स्वाहा हो जाने पर भी हिम्मत नहीं हारेंगे’ की शपथ ली। एक डेपुटेशन


[पृ 229]: जयपुर भेजने का तय किया गया। 50 आदमियों का एक पैदल डेपुटेशन जयपुर रवाना हुआ। जिसका नेतृत्व करने के लिए अजमेर के मास्टर भजनलाल जी और भरतपुर के रतन सिंह जी पहुंच गए। यह डेपुटेशन जयपुर में 4 दिन रहा। पहले 2 दिन तक पुलिस ने ही उसे महाराजा तो क्या सर बीचम, वाइस प्रेसिडेंट जयपुर स्टेट कौंसिल से भी नहीं मिलने दिया। तीसरे दिन डेपुटेशन के सदस्य वाइस प्रेसिडेंट के बंगले तक तो पहुंचे किंतु उस दिन कोई बातें न करके दूसरे दिन 11 बजे डेपुटेशन के 2 सदस्यों को अपनी बातें पेश करने की इजाजत दी।

अपनी मांगों का पत्रक पेश करके जत्था लौट आया। कोई तसल्ली बख्स जवाब उन्हें नहीं मिला।

तारीख 5 मार्च को मास्टर चंद्रभान जी के मामले में जो कि दफा 12-अ ताजिराते हिंद के मातहत चल रहा था सफाई के बयान देने के बाद कुंवर पृथ्वी सिंह, चौधरी हरी सिंह बुरड़क और चौधरी तेज सिंह बुरड़क और बिरदा राम जी बुरड़क अपने घरों को लौटे। उनकी गिरफ्तारी के कारण वारंट जारी कर दिये गए।

और इससे पहले ही 20 जनों को गिरफ्तार करके ठोक दिया गया चौधरी ईश्वर सिंह ने काठ में देने का विरोध किया तो उन्हें उल्टा डालकर काठ में दे दिया गया और उस समय तक उसी प्रकार काठ में रखा जब कि कष्ट की परेशानी से बुखार आ गया (अर्जुन 1 मार्च 1934)।

उन दिनों वास्तव में विचार शक्ति को सीकर के अधिकारियों ने ताक पर रख दिया था वरना क्या वजह थी कि बाजार में सौदा खरीदते हुए पुरानी के चौधरी मुकुंद सिंह को फतेहपुर का तहसीलदार गिरफ्तार करा लेता और फिर जब


[पृ 230]: उसका भतीजा आया तो उसे भी पिटवाया गया।

इन गिरफ्तारियों और मारपीट से जाटों में घबराहट और कुछ करने की भावना पैदा हो रही थी। अप्रैल के मध्य तक और भी गिरफ्तारियां हुई। 27 अप्रैल 1934 के विश्वामित्र के संवाद के अनुसार आकवा ग्राम में चंद्र जी, गणपत सिंह, जीवनराम और राधा मल को बिना वारंटी ही गिरफ्तार किया गया। धिरकाबास में 8 आदमी पकड़े गए और कटराथल में जहा कि जाट स्त्री कान्फ्रेंस होने वाली थी दफा 144 लगा दी गई।

ठिकाना जहां गिरफ्तारी पर उतर आया था वहां उसके पिट्ठू जाटों के जनेऊ तोड़ने की वारदातें कर रहे थे। इस पर जाटों में बाहर और भीतर काफी जोश फैल रहा था। तमाम सीकर के लोगों ने 7 अप्रैल 1934 को कटराथल में इकट्ठे होकर इन घटनाओं पर काफी रोष जाहिर किया और सीकर के जुडिशल अफसर के इन आरोपों का भी खंडन किया कि जाट लगान बंदी कर रहे हैं। जनेऊ तोड़ने की ज्यादा घटनाएं दुजोद, बठोठ, फतेहपुर, बीबीपुर और पाटोदा आदि स्थानों और ठिकानों में हुई। कुंवर चांद करण जी शारदा और कुछ गुमनाम लेखक ने सीकर के राव राजा का पक्ष ले कर यह कहना आरंभ किया कि सीकर के जाट आर्य समाजी नहीं है। इन बातों का जवाब भी मीटिंगों और लेखों द्वारा मुंहतोड़ रूप में जाट नेताओं ने दिया।

लेकिन दमन दिन-प्रतिदिन तीव्र होता जा रहा था जैसा कि प्रेस को दिए गए उस समय के इन समाचारों से विदित होता है।

23 अगस्त 1934 ई. को किसानों व ठिकानेदारों के बीच समझौता

देवीसिंह बोचल्या की गिरफ़्तारी पर विचार करने के लिए शेखावाटी के प्राय: प्रमुख व्यक्ति सीकर पहुंचे. ठाकुर देशराज भी सीकर पहुँच गए. सब लोगों ने सीकर के पास भैरूपुरा में बैठक की. इसमें देवी सिंह की गिरफ़्तारी का विरोध किया गया तथा किसान पंचायत ने गोरुसिंह कटराथल को मंत्री नियुक्त कर उन्हें पूरा अधिकार दिया गया कि वे अपने स्तर पर कुछ भी निर्णय ले सकते हैं. सीकर में इकट्ठे होने वाले जाटों की संख्या को देख कर सीकर के अधिकारी घबरा गए. उन्होंने पंचों को गेस्ट हाऊस में बुलाया और अपनी तकलीफें बताने को कहा. पञ्च लोग अधिकारियों से मिले. अफसरों द्वारा साम-दाम-दण्ड-भेद की नीति अपनाई गयी पर स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ. अंत में विवश होकर मि. वेब ने फिर समझौते की बातचीत चलाई. कुंवर रतन सिंह, ठाकुर झम्मन सिंह एडवोकेट एवं मंत्री अखिल भारतीय जाट महासभा, विजयसिंह पथिक आदि के सहयोग से 23 अगस्त 1934 ई. को किसानों व ठिकानेदारों के बीच समझौता हो गया. ठिकाने की और से ए.डब्ल्यू.टी.वेब (A.W.T. Webb), प्रशासक सीकर, दीवान बालाबक्ष रेवेन्यु अफसर, मेजर मलिक मोहम्मद हुसैन खान अफसर इंचार्ज पुलिस आदि तथा किसानों की और से हरीसिंह बुरड़क पलथाना, अध्यक्ष सीकरवाटी जाट पंचायत, गोरुसिंह कटराथल, उपमंत्री जाट किसान पंचायत, पृथ्वी सिंह गोठड़ा, ईश्वरसिंह भैरूपुरा तथा पन्नेसिंह बाटड ने समझौते पर हस्ताक्षर किये. [27]

किसानों के लिए भारी सफलता - इस समझौते के अनुसार मास्टर चंद्रभानसिंह तथा देवासिंह को रिहा कर दिया गया. समझौते में संवत सन 1933 का लगान एक माह के भीतर देना था. सन 1934 में लगान नहीं बढेगा. फसल ख़राब हुई तो लगान कम किया जायेगा. सन 1934 के पश्चात् लगान एक निश्चित समय के लिए तय किया जायेगा. इसके लिए किसान पंचायत से सलाह-मशविरा किया जायेगा. यथाशीघ्र भूमि का बंदोबस्त किया जायेगा. प्रत्येक तहसील में दो-दो किसान प्रतिनिधि चुने जायेंगे जो किसानों की समस्याओं बाबत मि . वेब से बातचीत करते रहेंगे. समस्त लाग-बाग़ समाप्त की जाएँगी. जयपुर रियासत के कानून के अनुसार जमीन पर किसान का मौरूसी अधिकार होगा. किसान पंचायत द्वारा सुझाये पांच गाँवों में सीकर ठिकाने द्वारा स्कूलें खोली जाएँगी. गोचर भूमि सबके उपयोग के लिए रहेगी. जाटों को भी सरकारी नौकरी में रखा जायेगा. ठिकाने की सीमाओं में माल लाने-ले जाने में जकात नहीं ली जाएगी. इस समझौते में बेगार, नजराना, चिकित्सा आदि के बारे में उचित आदेश दिए गए. [28]

यह समझौता किसानों के लिए भारी सफलता थी क्योंकि इसमें ठिकाने से अनेक रियायतें व सुविधाएँ किसानों को प्राप्त हुई थीं. यह किसानों की सामंती शक्ति के खिलाफ न केवल भारी विजय थी बल्कि किसानों की संस्था सीकरवाटी जाट किसान पंचायत को भी मान्यता दी गयी थी जो किसानों के हितों के लिए संघर्ष कर रही थी. इस समझौते द्वारा किसानों की अधिकांश मांगे मान ली गयी थी. [29]

23 अगस्त 1934 का समझौता (तसफिया नामा)

ठाकुर देशराज[30] ने लिखा है .... यह तसफिया नामा आज 23 अगस्त 1934 को मुकाम सीकर इस गर्ज से तहरीर हुआ कि सीकर और जाटान सीकर के देरीना झगड़े का खात्मा किया जाए।

सीकर की जानिब से ए. डब्ल्यू. टी. वेब ऐस्क्वायर सीनियर ऑफिसर सीकर, दीवान बालाबक्स, रेवेन्यू अफसर और मेजर मलिक मोहम्मद हुसैन खान अफसर इंचार्ज पुलिस, किशोर सिंह, मंगलचंद मेहता और विश्वंभर प्रसाद सुपी: कस्टम।


[पृ.268]

जाटान की तरफ से

मंदरजे जेर बातें दोनों फरीको ने मंजूर की और जाट पंचायत ने यह समझ लिया है कि यह फैसला जब जरिए रोबकारे जारी किया जाएगा तमाम जाटान सीकर इसकी पूरी पाबंदी करेंगे। अलावा इसके उन्होंने उस अमल का इकरार किया है कि उस फैसले के बाद जो जरिए हाजा किया जाता है आइंदा कोई एजीटेशन नहीं होगा और वह एजीटेशन को बंद करते हैं।

1. लगान

() संवत 1990 का बकाया लगान 30 दिन के अंदर अदा किया जाएगा अगर कोई काश्तकार अपना कुछ भी बकाया लगान फौरन अदा करने में वाकई नाकाबिल है तो वह एक दरख्वास्त इस अमल की पेश करेगा कि इसके मुझे इस कदर मुतालबा दे और इसकी वसूली मुनासिब सरायल पर एक या ज्यादा साल में फरमापी जावे। राज ऐसी दरख्वास्तों को, जो वाकई सच्ची होंगी, वह उस पर गौर करेगा और उनसे बकाया रकम पर सूद नहीं लेगा अगर बकाया 20 दिन के अंदर तारीख इजराय नोटिस जेर फिकरा हजा से जमा करा दी जावेगी तो सूद माफ किया जाएगा।

(बी) बकाया लगान संवत 1990 का हिसाब लगाते वक्त जो कभी जेरे ऐलान मुवरखा 15 जुलाई 1934 को दी जानी मंजूर की गई है यह मुजरा दी जावेगी। जिन काश्तकारान ने जेर ऐलान जायद अदा कर दिया है जावेद


[पृ.269]: अदा सुदा रकम उनको उसी सूद के साथ वापस की जाएगी कि जिस शरह से कि उनसे सूद लिया जाता है।

(सी) आइंदा के लिए यह हरएक काश्तकार की मर्जी पर होगी कि वह बटाई देवे या लगान मौजूदा शरह से। बटाई का हिसाब हस्ब जेल होगा।

(i) हर साल कम अज कम 75 फ़ीसदी जमीन का रकबा कास्त हरएक काश्तकार को करना होगा।
(ii) रकबा काश्त की पैदावार में से आधा हिस्सा अनाज और तिहाई हिस्सा तरीका बतौर बटाई लेवेगा। रब्बा जो कास्ट नहीं किया जाएगा उस पर हर साल दो ने फी बीघा हिसाब से नकद लिया जाएगा।
2. जेल

जेल सीकर की तरतीब की जाकर बाकायदा बनाई जाएगी और आइंदा मेडिकल अफसर या जुडिशल अफसर के चार्ज में रहेगी। जेल पुलिस अफसर के चार्ज में नहीं रहेगी

3. बेगार

जैसा की ऐलान किया गया है तमाम बेगार बंद की जाती हैं। कसबात में किराए पर बैलगाड़ी और ऊंट चलाने के लिए लाइसेंस असली कीमत पर दिया जाएगा। देहात में अगर राज के मुलाजिम को वार वरदारी की जरूरत होगी वह इंडेंट मेहता को दे देगा जो वारवारदारी का इंतजाम करेगा और काश्तकार को एक याददाश्त पर्छ दिया जाएगा जिसमें दर्ज किया जावेगा कि काश्तकार इस कदर फासले पर ले जाना है। बारबरदारी को शरह किराया वही होगी जो अब


[पृ.270]: राज्य में है मगर खाली वापसी सफर की सूरत में किराएदार को निशंक किराया दिया जावेगा।

4. सीकर दफ्तर की तहरीरात किस जबान में हो

आइंदा से दफ्तर सीकर की जबान हिंदी मुकर्रर की जाती है।

5. अंदरुनी जकात

जो अस आय इलाके सीकर के अंदर एक देहात से दूसरे देहात में ले जाई जावे उन पर आइंदा से जकात नहीं ली जाएगी। घी और तंबाकू पर जकात आइंदा से खुर्दा फ़रोसों से ली जावेगी जिनको लाइसेंस हासिल करने होंगे। जिनके कवायद मुर्त्तिव किए जाएंगे।

मुंदरजा वाला से मौजूदा आइंदा कायम होने वाली म्युनिसिपल कमेटियों के हदूद दरबारे लगान चुंगी उन चीजों पर कि जो उनके म्युनिसिपल हदूद के अंदर आवे कोई असर नहीं होगा।

6. लाग बाग

सब लालबाग जो जमीन के कर की परिभाषा में नहीं आती है हटा दी जाएंगी।

7. जमीन पर हकूक

बंदोबस्त के समय जयपुर के टेनेंसी एक्ट के अनुसार जमीन पर किसानों के मौरूसी हक़ होंगे।

8. पंचायत स्वीकृत संस्था

लगान तय करते समय बंदोबस्त में जाट पंचायत से सलाह ली जाएगी।


[पृ.271]

9. मंत्री रिहा

पंचायत के मंत्री ठाकुर देवी सिंह जी बोचल्या को बिना शर्त छोड़ दिया जाएगा।

इस फैसले का प्रभाव: जाटों और ठिकाने के बीच यह जो फैसला हुआ समाचार पत्रों ने प्रसन्नता प्रकट की और दोनों पक्षों को इसे निभाने की सलाह दी। यहां तक हिंदी के कुछ समाचार पत्रों के अग्रलेख और टिप्पणियां देते हैं।

24 दिसंबर 1934 का अध्यादेश

सीकर ठिकाने में आन्दोलन होने लगे और किसानों ने लगान देना बंद कर दिया तब 24 दिसंबर 1934 ई. को जयपुर सरकार ने एक अध्यादेश जारी किया जिससे लगान देने से रोकने की कार्यवाही पर रोक लग गयी. इस क़ानून से सीकर ठिकाने के प्रशासन को और कड़े अधिकार मिल गए तथा उनका हाथ मजबूत हो गया. 31 जनवरी 1935 ई. को जुडिसियल आफिसर, रेवेन्यु मेंबर और पुलिस इंचार्ज के साथ सीकर ठिकाने की सशस्त्र पुलिस ने सीकर जाट पंचायत के सदस्यों के साथ 16 मुख्य जाट नेताओं को, जिनमें हरी सिंह, ईश्वर सिंह, पृथ्वी सिंह, गोरू सिंह, पन्ने सिंह, गणेश राम, सूरज सिंह, तेजा सिंह, गंगा सिंह आदि प्रमुख थे, किसानों को लगान न देने के लिए भड़काने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया.[31] इन गिरफ्तारियों पर किसानों में भारी असंतोष फैला और आस-पास के गाँवों से हजारों की संख्या में किसान सीकर पहुँच गए और उन्होंने सीकर प्रशासक मि. ए. डब्ल्यू. टी. वेब के बंगले को चारों और से घेर लिया और अपने नेताओं की रिहाई की मांग की एवं साथ ही पंचपाना शेखावाटी ठिकानों की तरह चार आना प्रति रूपया लगान में भी माफ़ी की मांग की. [32] [33]

अत्याचारों की देश और विदेशों में सर्वत्र चर्चा

सन्दर्भ :डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.121-123

कूदन काण्ड व सीकर के गाँवों में होने वाले अत्याचारों की चर्चा देश में फ़ैल गयी. कूदन काण्ड ऐसी घटना नहीं रही जिस पर सिर्फ जाटों ने ही आंसू बहाए. मानव मात्र से जिसे प्रेम था वे लोग विचलित हुए. उन्होंने जगह-जगह बैठकें कर शोक व्यक्त किया. मारवाड़ी संघ रानीगंज (बंगाल) ने 30 अप्रेल 1935 को अपनी मीटिंग में प्रस्ताव पास करते हुए लिखा कि यह संघटन कांग्रेस एसेम्बली के सदस्यों और जनता की दूसरी संस्थाओं से अपील करता है कि वे घटनास्थल पर अपने प्रतिनिधि भेजकर घटना की शीघ्र जाँच करावें जिससे आतंकग्रस्त जनता को शांति मिल सके. [लोकमान्य 3 मई 1935 ]

सीकरवाटी जाट पंचायत के सरपंच हरीसिंह बुरडक ने भारत सरकार से प्रार्थना करते हुए सारे मामले की जाँच करने के लिए एक निष्पक्ष आयोग नियुक्त करने की मांग की. [दी फ्री प्रेस जर्नल 29 मई 1935 , पृ.3] कुंवर हुकुमसिंह, अध्यक्ष, अखिल भारतीय जाट महासभा, अलीगढ ने भारत सरकार से मांग की कि वह सारा मामला अपने हाथ में लेकर सीकर के किसानों विशेषकर खुड़ी, कूदन, भैरोपुर , गोठडा आदि पर की गयी ज्यादतियों की जांचकर उनकी वाजिब शिकायतों को दूर करने का प्रयत्न करे. [दी हिंदुस्तान टाइम्स 3 मई 1935 , पृ. 13]

किसान सभा का सदस्य

सन 1938 में सीकर रावराजा के सीकर से निर्वासन प्रकरण में सीकर व पंचापना शेखावाटी के सारे ठिकानेदार व राजपूत पहले से ही रावराजा सीकर के पक्ष में थे. रावराजा सीकर ने सीकरवाटी जाट किसान पंचायत के सदस्यों को देवीपुरा की कोठी में बुलाया. जो पांच गए उन में हरीसिंह बुरडक सम्मिलित थे.[34]

किसान सभा की और से रींगस में विशाल किसान सम्मलेन 30 जून 1946 को बुलाया गया. इसमें पूरे राज्य के किसान नेता सम्मिलित हुए. यह निर्णय किया गया कि पूरे जयपुर स्टेट में किसान सभा की शाखाएं गठन की जावें. आपको जयपुर स्टेट की किसान सभा का सदस्य चुन लिया गया. (राजेन्द्र कसवा, p. 203)


सीकर वाटी में त्रिलोक सिंह, देवा सिंह बोचल्या, ईश्वर सिंह भामू, हरी सिंह बुरड़क आदि किसान सभा के जिम्मेवार नेताओं के रूप में पहचाने गए. (राजेन्द्र कसवा, p. 204)

पाठ्यपुस्तकों में स्थान

शेखावाटी किसान आंदोलन ने पाठ्यपुस्तकों में स्थान बनाया है। (भारत का इतिहास, कक्षा-12, रा.बोर्ड, 2017)। विवरण इस प्रकार है: .... सीकर किसान आंदोलन में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही। सीहोट के ठाकुर मानसिंह द्वारा सोतिया का बास नामक गांव में किसान महिलाओं के साथ किए गए दुर्व्यवहार के विरोध में 25 अप्रैल 1934 को कटराथल नामक स्थान पर श्रीमती किशोरी देवी की अध्यक्षता में एक विशाल महिला सम्मेलन का आयोजन किया गया। सीकर ठिकाने ने उक्त सम्मेलन को रोकने के लिए धारा-144 लगा दी। इसके बावजूद कानून तोड़कर महिलाओं का यह सम्मेलन हुआ। इस सम्मेलन में लगभग 10,000 महिलाओं ने भाग लिया। जिनमें श्रीमती दुर्गादेवी शर्मा, श्रीमती फूलांदेवी, श्रीमती रमा देवी जोशी, श्रीमती उत्तमादेवी आदि प्रमुख थी। 25 अप्रैल 1935 को राजस्व अधिकारियों का दल लगान वसूल करने के लिए कूदन गांव पहुंचा तो एक वृद्ध महिला धापी दादी द्वारा उत्साहित किए जाने पर किसानों ने संगठित होकर लगान देने से इनकार कर दिया। पुलिस द्वारा किसानों के विरोध का दमन करने के लिए गोलियां चलाई गई जिसमें 4 किसान चेतराम, टीकूराम, तुलसाराम तथा आसाराम शहीद हुए और 175 को गिरफ्तार किया गया। हत्याकांड के बाद सीकर किसान आंदोलन की गूंज ब्रिटिश संसद में भी सुनाई दी। जून 1935 में हाउस ऑफ कॉमंस में प्रश्न पूछा गया तो जयपुर के महाराजा पर मध्यस्थता के लिए दवा बढ़ा और जागीरदार को समझौते के लिए विवश होना पड़ा। 1935 ई के अंत तक किसानों के अधिकांश मांगें स्वीकार कर ली गई। आंदोलन नेत्रत्व करने वाले प्रमुख नेताओं में थे- सरदार हरलाल सिंह, नेतराम सिंह गौरीर, पृथ्वी सिंह गोठड़ा, पन्ने सिंह बाटड़ानाउ, हरु सिंह पलथाना, गौरू सिंह कटराथल, ईश्वर सिंह भैरूपुरा, लेख राम कसवाली आदि शामिल थे। [35]

References

  1. Dr Pema Ram:Rajasthan mein Kisan Andolan, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2007 p.85
  2. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 145
  3. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 146
  4. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 146
  5. Dr Pema Ram, Shekhawati Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), 1990, Publisher - Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, p. 90
  6. Dr Pema Ram, Shekhawati Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), 1990, Publisher - Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, p. 85
  7. Wills, C.U. Report on the land tenures of sarnet thikanedars of the Jaipur State, 1933, Sikar Part, pp 13-14
  8. Dr Girija Shankar Sharma, The Jats, Vol. II, Ed Dr Vir Singh, Delhi, 2006, p. 247
  9. Smt Parvati Chaudhary, Jat Samaj monthly Magazine, July 1998 issue page 10, published from Agra by RS Faujdar
  10. [[Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.222-225
  11. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.298-300
  12. रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाशित पुस्तक - 'शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह' द्वितीय संस्करण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0 पृष्ठ 113-114
  13. Jaton Ke Vishva Samrajya aur Unake Yug Purush Part 1/Chapter 10, p.93
  14. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश वाया शेखावाटी, 2012, पृ. 84
  15. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश वाया शेखावाटी, 2012, पृ. 85
  16. Dr Pema Ram, Shekhawati Kisan Andolan Ka Itihas (शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास), 1990, Publisher - Sri Ganesh Sewa Samiti, Jasnagar, District Nagaur - 341518, p. 85-86
  17. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 70
  18. डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - सरदार हरलाल सिंह' , 2001 , पृ. 20-21
  19. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश वाया शेखावाटी, 2012, पृ. 85
  20. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश वाया शेखावाटी, 2012, पृ. 85
  21. वही
  22. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.85-86
  23. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.121
  24. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 122
  25. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.91
  26. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.228-230
  27. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.108
  28. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 126
  29. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.110
  30. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.267-271
  31. दी स्टेट्समेन दिनांक 16 फरवरी 1935
  32. वही
  33. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.113
  34. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.158
  35. भारत का इतिहास कक्षा 12, माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान, 2017, लेखक गण: शिवकुमार मिश्रा, बलवीर चौधरी, अनूप कुमार माथुर, संजय श्रीवास्तव, अरविंद भास्कर, p.155

Further reading

  • Jat Samaj, Agra, July 1998
  • The Jats - their role and contribution to the socio political life and Polity of North and north West India- Vol 2.Edited and compiled by Dr Vir Singh, ISBN 81-88629-51-0, distributed by D K Publishers, 4834 Ansari Road, New Delhi
  • Sahiram: Ek adhūrī krānti, Shekhawati kā kisān āndolan (1922-1952), page-210

Back to The Leaders

Back to The Freedom Fighters