Timur

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Timur or Tamerlane or Taimurlung (तैमूरलंग) was a Turko-Mongol conqueror and the founder of the Timurid dynasty in Central Asia.[1]

Early life

Born into the Barlas confederation in Transoxiana during the 1320s or 1330s, he gained control of Western Chagatai Khanate by 1370. From that base, he led military campaigns across West, South and Central Asia and emerged as the most powerful ruler in the Muslim world after defeating the Mamluks of Egypt and Syria, the emerging Ottoman Empire and the declining Sultanate of Delhi. From these conquests he founded the Timurid Empire, although it fragmented shortly after his death. He is considered the last of the great nomadic conquerors of the Eurasian steppe, and his empire set the stage for rise of the more structured and lasting gunpowder empires in the 1500s and 1600s.[2][3]

He was the grandfather of Ulugh Beg, who ruled Central Asia from 1411 to 1449, and the great-great-great-grandfather of Babur, founder of the Mughal Empire, which ruled parts of South Asia for around four centuries, from 1526 until 1857.[4][5]

Timur was born in Transoxiana, near the City of Kesh (an area now better known as Shahrisabz, "the green city"), some 80 kilometres south of Samarkand in modern-day Uzbekistan, part of what was then the Chagatai Khanate.[6] His father, Taraqai, was a minor noble belonging to the Barlas tribe.[7] The Barlas were originally a Mongol tribe[8][9] that became Turkified. According to Gérard Chaliand, Timur was a Muslim[19] but he saw himself as Genghis Khan's heir.

At the age of eight or nine, Timur and his mother and brothers were carried as prisoners to Samarkand by an invading Mongol army.

In his childhood, Timur and a small band of followers raided travelers for goods, especially animals such as sheep, horses, and cattle. In around 1363, it is believed that Timur tried to steal a sheep from a shepherd but was shot by two arrows, one in his right leg and another in his right hand, where he lost two fingers. Both injuries crippled him for life. Some believe that Timur suffered his crippling injuries while serving as a mercenary to the khan of Sistan in Khorasan in what is known today as Dasht-i Margo (Desert of Death) in south-west Afghanistan. Timur's injuries have given him the names of Timur the Lame and Tamerlane by Europeans.

Capture of Delhi (1398) by Timur

The battle took place on 17 December 1398. Sultan Nasir-ud-Din Mahmud Shah Tughluq and Mallu Iqbal's army had war elephants armored with chain mail and poison on their tusks. With his Tatar forces afraid of the elephants, Timur ordered his men to dig a trench in front of their positions. Timur then loaded his camels with as much wood and hay as they could carry. When the war elephants charged, Timur set the hay on fire and prodded the camels with iron sticks, causing them to charge at the elephants howling in pain: Timur had understood that elephants were easily panicked. Faced with the strange spectacle of camels flying straight at them with flames leaping from their backs, the elephants turned around and stampeded back toward their own lines. Timur capitalized on the subsequent disruption in Nasir-ud-Din Mahmud Shah Tughluq's forces, securing an easy victory. Delhi was sacked and left in ruins. Before the battle for Delhi, Timur executed 100,000 captives.[10]

The capture of the Delhi Sultanate was one of Timur's greatest victories, arguably surpassing the likes of Alexander the Great and Genghis Khan because of the harsh conditions of the journey and the achievement of taking down one of the richest cities at the time. After Delhi fell to Timur's army, uprisings by its citizens against the Turkic-Mongols began to occur, causing a bloody massacre within the city walls. After three days of citizens uprising within Delhi, it was said that the city reeked of decomposing bodies of its citizens with their heads being erected like structures and the bodies left as food for the birds. Timur's invasion and destruction of Delhi continued the chaos that was still consuming India and the city would not be able to recover from the great loss it suffered for almost a century.[11]

Barla is a Jat clan

Mangal Sen Jindal writes:[12] Uzbekistan was settled by Jats who were residing there in strongholds in large number and were a source of permanent trouble to Timur-lung is proved by the following quotation from that book.

'Brothers' I said. Welcome to A.K. Sarai. I have been expecting the envoys of my Father, the Khakhan, my beloved Amir and Master. I am Timur, Chief of the Barlas, Amir of Shehr-Sehz. Enter into my palace garden. Completely bewildered by my hospitality, the Jat Commander rode dumbly beside me to the door of the palace.' Conquests of Tamurlane, page 91.

H.A. Rose [13] writes:

In Gujrat the Muhammadan Jat tribes claim very diverse origins. Thus Mughal origin is claimed by the Bhaddar, Malana, Marar and Narwai, who claim to be Barlas ; and by the Bahlam, Chaughatta, Phiphra, Mander and Babal, who claim to be Chaughatta.

Timur and Jats

Ram Sarup Joon[14] writes: It has been mentioned in Malfuzat Temuri that is the time of Temuri's invasion of India, Jats were the first to intercept him many Jats were killed in the encounter. Timur had for long harboured an animosity against the Jats. Timur was from Chughtaiya (Saktaya) the capital of which was in Trans Oxiana. A great Jat king Kokaltas invaded Khorasan and occupied it. After that he invaded Trans Oxiana. The king fled away. But the nephew of that Amir Timur was a clever and far sighted man. He offered due apologies on behalf of his uncle and admitted the suzerainty of Kokaltas, who had one Lakh (100,000) brave Jats in his army. King Kokaltas died issue less in 1380. Timur occupied the throne and also married a Jat Rajkumari. But Jats did not accept the rule of Timur. A mutiny flared up and continued for long time. Finally Timur managed to suppress it, carried out a mass massacre of the Jats and drove out the remnants from the country. By 1349 he succeeded in finally establishing himself, but still he was not free from Jat troubles. He writes in Timur Nama, that he did not intend to kill so many Jats, because they were handsome, stalwart people, but he had to do so. It is written in MulfuZai Temur P 429 that when he invaded India, he was interrupted by the Jats who took a heavy toll of his army. It is also mentioned in Todd's Rajasthan with reference to Tazke-babri that at the time of Babar's invasion of India a large number of Jats resisted him at Thanesar and most of them were slain.


Dr Girish Chandra Dwivedi[15] writes about Jats and Timur:

The Jat rose again when Timur invaded India. Malmuzat-i-Timuri testifies to his satisfaction over killing 2,000 Jats of a village Tohna near Sarsuti. He found them "demon like", "robust", "marauding" and "as numorous as ants, and locusts".[16] We learnt that in order to hold deliberations over the problem of his invasion, a Sarva Khap Panchayat meeting was held in Samvat 1455 (1398 AD.) in the forest of Chaugama under the presidentship of Deo Pal Rana. It passed the resolutions that they should "vacate the villagers, sending the children and women to the forests and that the able-bodied persons should take up arms and destroy the arm'y of Timur".[17] The Panchayat militia harassed the forces of Timur, while they were advancing from Meerut towards Hardwar. In the process the former lost 6,000 men.[18]

Haryana Sarva Khap Panchayat Army and Timur

In 1398 AD Timur made a ferocious attack on India with 92,000 horsemen. On receiving the news of Timur's total and open looting and destruction, in Vikram Samvat 1455 (1398 AD), kartick badi 5, Raja Devpala (who was born in the village of Nirpura, District Meerut in a Jat family), who was in charge of the of the Haryana Sarva Khap Panchayat, called a Mahapanchayat in the jungles in the middle of the villages of Tikri, Doghat, and Daha. The chief committee passed the following resolutions:

1) All villages would be emptied.
2) The elders and women, and children would be taken to safe places
3) All able-bodied men would join the army of the Sarv Khap
4) The young women would also take up arms like the men.
5) The army of Timur, which was advancing from Delhi to Haridwar, would be fought with Guerilla warfare, and the water in his way would be poisoned.
6) 500 young horsemen would follow Timur and report his whereabouts to the Sarv Khap army.

The Panchayat Army: Under the flag of the panchayat, 80,000 warrior soldiers (Mulls) and 40,000 young women joined together. These heroes also handled all the arrangements of the war material. From hundreds of miles around Delhi Heroic warriors came to the battlefield ready to sacrifice their lives. All the young men and women took up arms.

Dharampal Dev a Jat warrior, who was 95 years old, played a great part in gathering together this army. He traveled day and night on horseback to encourage men and women and gather the army. His brother Karan Pal helped arrange money, grain, and clothing for the army. The choosing of the Supreme General, the deputy general and the other generals. In this endeavor of the Sarv Khap, the hero warrior Jograj Singh Gujar was chosen Supreme General. He was of the Clan Khubar Parmar, and hailed from a village near Haridwar called Kunja.

The general chosen from among the heroic maidens were

1) Rampiari Gujar,
2) Hardai Jat,
2) Devi Kaur Rajput,
3) Chandro Brahmin, and
4) Ramdai Tyagi.

All of them took a vow to lay down their lives in defence of their nation. Two Deputy Generals were chosen -

1) Dhula Bhangi (Valmiki),
(2) Harbir Singh Gulia Jat,

Dhula Bhangi was a resident of the Village of Hansi, near Hissar. He was a strong and powerful brave warrior. The second deputy general was Harveer Singh Jat, of the Gulia Clan. He was from the village Badli, district Rohtak in Haryana. He was 22 years old. He weighed 53 Dharis (approx. 160 kilograms). He was strong and brave warrior. The names of the generals were:

1) Gaje Singh Jat Gatwala,
2) Tuhiram Rajput,
3) Nedha Rawa,
4) Sarju Brahmin,
5) Umra Taga (Tyagi), and
6) Durjanpal Ahir.

The deputy generals chosen were

1) Kundan Jat,
2) Dhari Gadariya, who was a Dhari,
3) Bhondhu Saini,
4) Hulla Nai (barber),
5) Bhana Julaha (Harijan)
6) Aman Singh Pundir, Rajput
7) Nathu Pardar, Rajput
8) Dhulla (Dhandi) Jat, who would lead raids from Hissar to Dadri to Multan.
9) Mamchand Gujar
10) Phalwa Kahaar.

Assistant generals, 20 assistant's generals were chosen from the various jatis (castes). The hero Bard: the Eminent Scholar Poet Chandrabhutt (Bhat) as chosen as the official Bard. He wrote an eyewitness account of the war with Timur.

The battles with Timur were fought by the Jat Panchayat army at Muzaffarnagar, Meerut and Haridwar. The Deputy Commander Harveer Gulia, along with 25,000 warriors of the Panchayat army, made a fierce attack on a big group of Timur's horsemen, and a fierce battle ensued where arrows and spears were used (There over 2,000 hill archers joined the Panchayat Army. One arrow pierced Timur's hand. Timur was in the army of horsemen. Harveer Singh Gulia charged ahead like a lion, and hit Timur on his chest with a spear, and he was about to fall under his horse, when his commander Khijra, saved him and separated him from the horse. Timur, eventually, is said to have died from this wound when he reached Samarkhand. The spearsmen and swordsmen of the enemy leapt on the Harveer Singh Gulia, and he fainted from the wounds he received and fell. At that very time, the Supreme Commander Jograj Singh Gujar, with 22,000 Mulls (warriors) attacked the enemy and killed 5000 horsemen. Jograj Singh himself, with his own hands, lifted the unconscious Harveer Singh Gulia and brought him to the camp. But a few hours later, the hero warrior Harveer Singh achieved martyrdom. He was from the village Badli; district Rohtak in Haryana, India. He was 22 years old when fought war with Timur. He was a strong and brave warrior. His attack on Timur led to Timur's death. See for details article Harveer Gulia. [1]

Timur, after the battle of Delhi, on his way to Haridwar was confronted, harassed and plundered on his way retreat so much by the Jat Panchayat armies that he retreated via Saharanpur to avoid Muzaffarnagar. Timur describes

"Jats as a robust race, demon-like in appearance and as numerous as ants and locusts, a varitable plague to the merchants and wayfarers" (Mulfuzat-i-Timuri, Elliot, III, 429)

तैमूर लंग और जाट

दलीप सिंह अहलावत[19] ने लिखा है: तैमूर का जन्म सन् 1336 ई० में मावराउन्नहर में केश नामक स्थान पर हुआ था जो समरकन्द से 50 मील दूर है। इसका पिता अमीर तुरगे (तराग़ी) तुर्कों के उच्चवंश गुरकन शाखा का प्रधान था। 33 वर्ष की आयु में वह चगताई तुर्कों का प्रधान बन गया। उसने समरकन्द को अपनी राजधानी बनाया। बाल अवस्था में ही उसकी एक टांग लंगड़ी हो गई थी इसलिए उसे तमर लंग या तैमूर लंग कहते हैं। (नोट - यह चगताई जाटवंश है जो कि चट्ठा जाटवंश का अपभ्रंश है। इसके लिये देखो अध्याय 3, चगता जाटवंश प्रकरण)।

उस समय में मध्यएशिया में जाटों की बड़ी शक्ति थी जिनसे तैमूर को युद्ध करना पड़ा। फारस के इतिहास के अनुसार -

“उस समय मंगोलिया या जाटेह का राज्यपाल तुग़लक़ खां था जो औधलान गोत्र का जाट था और बौद्ध-धर्म का अनुयायी था। उसको ज्ञात हुआ कि समरकन्द पर बलवा (अशासन) से अधिकार कर लिया है तो उसने इसे लेने का विचार किया। इस उद्देश्य से उसने सन् 1360 ई० में केश स्थान पर प्रस्थान किया। वहां पर तैमूर का चाचा हाज़ी बरलास था जो आक्रमण से डरकर फारस में खुरासान को भाग गया जो बाद में वहां मारा गया। तुग़लक खां ने समरकन्द पर अधिकार कर लिया। कुछ समय पश्चात् तैमूर ने तुग़लक़ खां से उसका सेवक रहने की प्रार्थना की। उसने अपने पुत्र खोजा (औधलान) को समरकन्द का राज्यपाल तथा तैमूर को उसक मन्त्री नियुक्त कर दिया।” [20]

तैमूर ने गुप्त ढंग से अपनी सैनिक शक्ति को बढ़ाया और समरकन्द राज्य पर अधिकार कर लिया। वह एक वीर योद्धा, साहसी तथा युद्धकला में निपुण था। उसने अपनी सैनिक शक्ति के बल पर पड़ौसी राज्यों पर आक्रमण शुरु कर दिए। जाटों ने उसको एक युद्ध में करारी हार दी, जिस का उद्धरण “तैमूर लंग की विजयें” नामक पुस्तक में इस प्रकार से है -

मध्यएशिया में जाट सेनापति बीकीजुक के नेतृत्व में जाटों ने तैमूर व उसकी तुर्क सेना को बुरी तरह से परास्त कर दिया, जिससे जान बचाने के लिये वे भाग गये। समरकन्द का प्रधान मुल्ला (मौलवी) जैनुद्दीन तैमूर को कहता है कि ‘मैं जान बचाने के लिये यहां छुपा हुआ हूं, जहां

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-376


पर तुमने मुझे तलाश कर लिया। हमारे बहुत बुरे दिन आये। बोखारा, खोजन्द तथा करशी आदि स्थानों पर यही दशा है। हमारा नेतृत्व करने के लिए एक भी तातार राजकुमार नहीं है। केवल तुम ही एक साहसी राजकुमार हो। जाटों की शक्ति का मुकाबला करो।’ तैमूर जैनुद्दीन मुल्ला को कहता है कि ‘मैंने अल्लाह के नाम पर एक बार जाटों से युद्ध कर लिया, यह आपत्ति दोबारा मोल लेना नहीं चाहता। आप जाटों पर आपत्ति लाने के लिए खुदा से प्रार्थना करो।’ आगे तैमूर कहता है कि - उनके घोड़ों पर आपत्ति लाने के लिए प्रार्थना करो। घोड़ों के बिना जाट शक्तिहीन हो जायेंगे।” [21]

किसी कारणवश जाटों के घोड़ों में भयंकर रोग फैल गया जिससे वे काफी संख्या में मर गये। इस कारण से जाटों को अपनी युद्ध सामग्री अपने सिरों पर उठाकर पैदल चलकर युद्ध करना पड़ा। अन्त में तैमूर की विजय हुई। मध्यएशिया में जाटों पर विजय प्राप्त करके ही तैमूर भारतवर्ष तक आ सका और दिल्ली को लूटा[22]

जाटों के देश तुरष्क (तुर्किस्तान) में चंगेज खां की चढ़ाई के समय तक बड़े-बड़े नगर विद्यमान थे। उस समय मध्यएशिया (तुर्किस्तान) में जाटों की सभ्यता सर्वश्रेष्ठ थी। कर्नल टॉड इन जाटों के सम्बन्ध में लिखता है कि “साईरस के समय में ईसा से 600 वर्ष पहले इस बड़ी गेटिक (जाट) जाति के राजकीय प्रभाव की यदि हम परीक्षा करें तो यह बात हमारी समझ में आ जायेगी कि तैमूर की उन्नत दशा में इन जाटों का पराक्रम ह्रास (कम) नहीं हुआ था।” यद्यपि 20वीं शताब्दी का समय व्यतीत हो चुका था[23]

जाटों को परास्त करके तैमूर ने अपनी राजधानी समरकन्द में स्थापित की। उसने अपनी विशाल सेना से तुर्किस्तान, फारस, अफगानिस्तान आदि देशों को जीतकर भारत पर आक्रमण करने का निश्चय किया जो उस समय बड़ी अव्यवस्थित दशा में था। दिल्ली सल्तनत पर तुगलक वंश का अन्तिम बादशाह महमूद तुगलक था जो कि एक निर्बल शासक था। भारत में फैली हुई अराजकता को दबाने में वह असफल था। इस दशा से लाभ उठाते हुए तैमूर ने भारत पर आक्रमण कर दिया। तैमूर ने सबसे पहले अपने पौत्र पीर मुहम्मद को सेना के अग्रभाग का सेनापति बनाकर भेजा। उसने सिन्ध को पार कर कच्छ को जीत लिया। उसने आगे बढ़कर मुलतान, दिपालपुर और पाकपटन को जीत लिया। इसके बाद वह सतलुज नदी तक पहुंच गया जहां वह अपने दादा के आने की प्रतीक्षा करने लगा। तैमूर ने 92000 घुड़सवारों के साथ 24 सितम्बर 1398 ई० में हिन्दुकुश मे मार्ग से आकर सिन्ध को पार किया। वह पेशावर से मुलतान पहुंचा। वहां से आगे बढ़ने पर खोखर जाटों से इसकी सख्त टक्कर हुई जिनको परास्त करके वह सतलुज नदी पर अपने पौत्र से जा मिला। मुलतान युद्ध में तथा आगे मार्ग में जाटों ने तैमूर का बड़ी वीरता से मुकाबला किया था। अब उसने भटनेर पर आक्रमण कर दिया जहां से उस पर जाटों का आक्रमण होने का डर


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-377


था। भटनेर की स्थिति भटिण्डा से बीकानेर जाने वाले मार्ग पर थी[24]

वाक़ए-राजपूताना, जिल्द 3 में लेखक मुंशी ज्वालासहाय ने लिखा है कि “भटनेर जो अब रियासत बीकानेर का भाग है, पुराने जमाने में जाटों के दूसरे समूह की राजधानी थी। ये जाट ऐसे प्रबल थे कि उत्थान के समय में बादशाहों का मुक़ाबला किया और जब आपत्ति आई, हाथ संभाले। भाटी जाटों की आबादी की वजह से इस इलाके का नाम भटनेर हुआ है। जो लोग मध्यएशिया से भारत पर आक्रमण करते थे, उनके मार्ग में स्थित होने से भटनेर ने इतिहास में प्रसिद्धि प्राप्त की है। तैमूर के आक्रमण का भी मुकाबिला किया।”

तैमूर ने भटनेर को जीत लिया और यहां पर अपने हाकिम चिगात खां को नियुक्त करके आगे को बढ़ा। इस हमले के थोड़े दिन बाद जाटों ने अपने राज्य को वापिस लेने हेतु अपने सरदार वीरसिंह या वैरीसाल के नेतृत्व में मारोट और फूलरा से निकलकर भटनेर पर आक्रमण कर दिया। विजय प्राप्त करके फिर से भटनेर को अपने अधिकार में ले लिया। (जाट इतिहास पृ० 596-597, लेखक ठा० देशराज)।

तैमूर के साथ जाटों ने बड़ी वीरता से युद्ध किए। इसीलिए तो उसने कहा था कि

“जाट एक अत्यन्त मज़बूत जाति है। देखने में वे दैत्य जैसे, चींटी और टिड्डियों की तरह बहुत संख्या वाले और शत्रुओं के लिए सच्ची महामारी हैं।”

शाह तैमूर दस हजार चुनींदा सवारों के साथ जंगलों से भरे मार्गों से होकर टोहाना गांव में पहुंचा वह अपने विजय संस्मरणों में लिखता है कि

टोहाना पहुंचने पर मुझे पता लगा कि यहां के निवासी वज्र देहधारी जाति के हैं और ये जाट कहलाते हैं। ये केवल नाम से मुसलमान हैं, लेकिन डकैती और राहज़नी में इनके मुकाबिले की अन्य कोई जाति नहीं है। ये जाट कबीले सड़कों पर आने-जाने वाले कारवां को लूटते हैं और इन लोगों ने मुसलमान अथवा यात्रियों के हृदय में भय उत्पन्न कर दिया है।”

प्रथम अभियान में तैमूर जाटों को शान्त नहीं कर सका और उसे आगे बढ़कर अधिक सैनिक शक्ति का प्रयोग करना पड़ा। आगे वह लिखता है कि

“वास्तव में हिन्दुस्तान विजय का मेरा उद्देश्य मूर्तिपूजक हिन्दुओं के विरुद्ध धर्मयुद्ध संचालन करने तथा मुहम्मद के आदेश अनुसार इस्लाम धर्म कबूल करवाने का रहा है। अतः यह आवश्यक था कि मैं इन जाटों की हस्ती मिटा दूं।”

तैमूर ने 2000 दैत्याकार जाटों का वध किया। उनकी पत्नी तथा बच्चों को बन्दी बनाया। पशु और धन सम्पत्ति लूटी। उनको दबाकर सन्तोष की श्वास ली। [25]

भटनेर से तैमूर सरस्वती की ओर बढ़ा और समाना होता हुआ कैथल पहुंचा जहां से दिल्ली पर आक्रमण करने की तैयारी करने लगा। यहां से जब वह पानीपत पहुंचा तब तक महमूद तुग़लक अपने मन्त्री मल्लू इक़बाल को सारे अधिकार सौंपकर गुजरात को भाग गया था।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-378


तैमूर लूटमार और अत्याचार करता हुआ जहां पनाह पहुंचा। यह रमणीक स्थान फिरोजशाह तुगलक ने दिल्ली से 6 मील दूर बनवाया था। उसने समीपस्थ क्षेत्र को रौंद डाला। जब वह दिल्ली के निकट पहुंचा तो उसने एक लाख हिन्दू कैदी जो उसके डेरे में थे, मौत के घाट उतरवा दिये। अब मल्लू इक़बाल एक सेना के साथ, जिसमें 40 सहस्र पैदल, 10 सहस्र अच्छे घुड़सवार और 125 तोपें थीं, मुकाबिले के लिए आगे बढ़ा। दिल्ली से बाहर दोनों सेनाओं की मुठभेड़ हुई। हिन्दुस्तानी सैनिक जी तोड़कर लड़े, परन्तु हार गये। सेनापति मल्लू इक़बाल युद्धक्षेत्र से भाग गया। दिल्ली के दुर्ग पर तैमूर ने अपना झण्डा फहराया।

तैमूर ने क्रोधित होकर दिल्ली में भयंकर कत्ल-ए-आम एवं लूटमार का आदेश दे दिया। तुर्क़ सेना ने दिल्ली के लाखों नर-नारियों को तलवार के घाट उतार दिया। नरहत्या, लूट, सतीत्वहरण की दुष्क्रिया 5 दिन तक निरन्तर चली। जब असंख्य लाशों की दुर्गन्ध से देहली में रहना ही असम्भव हो गया, तब तैमूर ने मेरठ के मार्ग से लौटने की आज्ञा दी[26]

तैमूर ने मेरठ के राज्यपाल अलयास अफगान को युद्ध में परास्त किया। वहां के 50 हजार नागरिकों का वध कराया तथा नगर के सब मकान गिरवा दिये। उन्हीं दिनों हरद्वार का प्रसिद्ध स्नान था। तैमूर ने हरद्वार पहुंचकर हजारों हिन्दुओं का वध कराया जिनके खून से एक बार गंगाजल भी लाल हो उठा था। वहां से काफी लूट का धन लेकर तैमूर शिवालिक की पहाड़ियों पर से होता हुआ जम्मू पहुंचा। वहां के राजा को हराकर मुसलमान होने के लिए बाध्य किया। तैमूर के भय से कश्मीर का राजा भी मुसलमान बन गया। अब तैमूर ने अपने देश को लौट चलने का इरादा किया। जाने से पहले उसने लाहौर, मुलतान और दीपालपुर की जागीरों का शासक खिज्रखां को नियुक्त कर दिया। भारत से चलकर तैमूर समरकन्द पहुंच गया। [27]

सर्वखाप पंचायत सेना का तैमूरलंग के साथ युद्धों का वर्णन

हरयाणा सर्वखाप पंचायत के ऐतिहासिक रिकार्ड, दस्तावेज-43 तथा सर्वखाप पंचायत के तत्कालीन चन्द्रदत्त भट्ट (भाट) के लिखित लेखों (पोथी) के अनुसार (जो कि मेरे पास विद्यमान हैं, जिनको मैं सत्य मानता हूं - लेखक) तैमूर के साथ सर्वखाप पंचायत की सेना के युद्धों का वर्णन निम्नलिखित है -

तैमूर लंग ने मार्च सन् 1398 ई० में भारत पर 92000 घुड़सवारों की सेना से तूफानी आक्रमण कर दिया। तैमूर के सार्वजनिक कत्लेआम, लूट खसोट और सर्वनाशी अत्याचारों की सूचना मिलने पर संवत् 1455 (सन् 1398 ई०) कार्तिक बदी 5 को देवपाल राजा (जिसका जन्म निरपुड़ा गांव जि० मेरठ में एक जाट घराने में हुआ था) की अध्यक्षता में हरयाणा सर्वखाप पंचायत का अधिवेशन जि० मेरठ के गाँव टीकरी, निरपड़ा, दोगट और दाहा के मध्य जंगलों में हुआ।


1.


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-379


सर्वसम्मति से निम्नलिखित प्रस्ताव पारित किये गये -

(1) सब गांवों को खाली कर दो।
(2) बूढे पुरुष-स्त्रियों तथा बालकों को सुरक्षित स्थान पर रखो।
(3) प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति सर्वखाप पंचायत की सेना में भर्ती हो जाये।
(4) युवतियाँ भी पुरुषों की भांति शस्त्र उठायें।
(5) दिल्ली से हरद्वार की ओर बढ़ती हुई तैमूर की सेना का छापामार युद्ध शैली से मुकाबला किया जाये तथा उनके पानी में विष मिला दो।
(6) 500 घुड़सवार युवक तैमूर की सेना की गतिविधियों को देखें और पता लगाकर पंचायती सेना को सूचना देते रहें।

पंचायती सेना - पंचायती झण्डे के नीचे 80,000 मल्ल योद्धा सैनिक और 40,000 युवा महिलायें शस्त्र लेकर एकत्र हो गये। इन वीरांगनाओं ने युद्ध के अतिरिक्त खाद्य सामग्री का प्रबन्ध भी सम्भाला। दिल्ली के सौ-सौ कोस चारों ओर के क्षेत्र के वीर योद्धा देश रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने रणभूमि में आ गये। सारे क्षेत्र में युवा तथा युवतियां सशस्त्र हो गये। इस सेना को एकत्र करने में धर्मपालदेव जाट योद्धा जिसकी आयु 95 वर्ष की थी, ने बड़ा सहयोग दिया था। उसने घोड़े पर चढ़कर दिन रात दूर-दूर तक जाकर नर-नारियों को उत्साहित करके इस सेना को एकत्र किया। उसने तथा उसके भाई करणपाल ने इस सेना के लिए अन्न, धन तथा वस्त्र आदि का प्रबन्ध किया।

प्रधान सेनापति, उप-प्रधान सेनापति तथा सेनापतियों की नियुक्ति

सर्वखाप पंचायत के इस अधिवेशन में सर्वसम्मति से वीर योद्धा जोगराजसिंह गुर्जर को प्रधान सेनापति बनाया गया। यह खूबड़ परमार वंश का योद्धा था जो हरद्वार के पास एक गाँव कुंजा सुन्हटी का निवासी था। बाद में यह गाँव मुगलों ने उजाड़ दिया था। वीर जोगराजसिंह के वंशज उस गांव से भागकर लंढोरा (जिला सहारनपुर) में आकर आबाद हो गये जिन्होंने लंढोरा गुर्जर राज्य की स्थापना की। जोगराजसिंह बालब्रह्मचारी एवं विख्यात पहलवान था। उसका कद 7 फुट 9 इंच और वजन 8 मन था। उसकी दैनिक खुराक चार सेर अन्न, 5 सेर सब्जी-फल, एक सेर गऊ का घी और 20 सेर गऊ का दूध।

महिलाएं वीरांगनाओं की सेनापति चुनी गईं उनके नाम इस प्रकार हैं - (1) रामप्यारी गुर्जर युवति (2) हरदेई जाट युवति (3) देवीकौर राजपूत युवति (4) चन्द्रो ब्राह्मण युवति (5) रामदेई त्यागी युवति। इन सब ने देशरक्षा के लिए शत्रु से लड़कर प्राण देने की प्रतिज्ञा की।

उपप्रधान सेनापति - (1) धूला भंगी (बालमीकी) (2) हरबीर गुलिया जाट चुने गये। धूला भंगी जि० हिसार के हांसी गांव (हिसार के निकट) का निवासी था। यह महाबलवान्, निर्भय योद्धा, गोरीला (छापामार) युद्ध का महान् विजयी धाड़ी (बड़ा महान् डाकू) था जिसका वजन 53 धड़ी था। उपप्रधान सेनापति चुना जाने पर इसने भाषण दिया कि - “मैंने अपनी सारी आयु में अनेक धाड़े मारे हैं। आपके सम्मान देने से मेरा खूब उबल उठा है। मैं वीरों के सम्मुख प्रण करता हूं कि देश की रक्षा के लिए अपना खून बहा दूंगा तथा सर्वखाप के पवित्र झण्डे को नीचे नहीं होने दूंगा। मैंने अनेक युद्धों में भाग लिया है तथा इस युद्ध में अपने प्राणों का बलिदान दे दूंगा।” यह कहकर उसने अपनी जांघ से खून निकालकर प्रधान सेनापति के चरणों में उसने खून के छींटे दिये। उसने म्यान से बाहर अपनी तलवार निकालकर कहा “यह शत्रु का खून पीयेगी और म्यान में नहीं जायेगी।” इस वीर योद्धा धूला के भाषण से


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-380


पंचायती सेना दल में जोश एवं साहस की लहर दौड़ गई और सबने जोर-जोर से मातृभूमि के नारे लगाये।

दूसरा उपप्रधान सेनापति हरबीरसिंह जाट था जिसका गोत्र गुलिया था। यह हरयाणा के जि० रोहतक गांव बादली का रहने वाला था। इसकी आयु 22 वर्ष की थी और इसका वजन 56 धड़ी (7 मन) था। यह निडर एवं शक्तिशाली वीर योद्धा था।

सेनापतियों का निर्वाचन - उनके नाम इस प्रकार हैं - (1) गजेसिंह जाट गठवाला (2) तुहीराम राजपूत (3) मेदा रवा (4) सरजू ब्राह्मण (5) उमरा तगा (त्यागी) (6) दुर्जनपाल अहीर।

जो उपसेनापति चुने गये - (1) कुन्दन जाट (2) धारी गडरिया जो धाड़ी था (3) भौन्दू सैनी (4) हुल्ला नाई (5) भाना जुलाहा (हरिजन) (6) अमनसिंह पुंडीर राजपुत्र (7) नत्थू पार्डर राजपुत्र (8) दुल्ला (धाड़ी) जाट जो हिसार, दादरी से मुलतान तक धाड़े मारता था। (9) मामचन्द गुर्जर (10) फलवा कहार।

सहायक सेनापति - भिन्न-भिन्न जातियों के 20 सहायक सेनापति चुने गये।

वीर कवि - प्रचण्ड विद्वान् चन्द्रदत्त भट्ट (भाट) को वीर कवि नियुक्त किया गया जिसने तैमूर के साथ युद्धों की घटनाओं का आंखों देखा इतिहास लिखा था।

प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर के ओजस्वी भाषण के कुछ अंश -

“वीरो! भगवान् कृष्ण ने गीता में अर्जुन को जो उपदेश दिया था उस पर अमल करो। हमारे लिए स्वर्ग (मोक्ष) का द्वार खुला है। ऋषि मुनि योग साधना से जो मोक्ष पद प्राप्त करते हैं, उसी पद को वीर योद्धा रणभूमि में बलिदान देकर प्राप्त कर लेता है। भारत माता की रक्षा हेतु तैयार हो जाओ। देश को बचाओ अथवा बलिदान हो जाओ, संसार तुम्हारा यशोगान करेगा। आपने मुझे नेता चुना है, प्राण रहते-रहते पग पीछे नहीं हटाऊंगा। पंचायत को प्रणाम करता हूँ तथा प्रतिज्ञा करता हूँ कि अन्तिम श्वास तक भारत भूमि की रक्षा करूंगा। हमारा देश तैमूर के आक्रमणों तथा अत्याचारों से तिलमिला उठा है। वीरो! उठो, अब देर मत करो। शत्रु सेना से युद्ध करके देश से बाहर निकाल दो।”

यह भाषण सुनकर वीरता की लहर दौड़ गई। 80,000 वीरों तथा 40,000 वीरांगनाओं ने अपनी तलवारों को चूमकर प्रण किया कि हे सेनापति! हम प्राण रहते-रहते आपकी आज्ञाओं का पालन करके देश रक्षा हेतु बलिदान हो जायेंगे।

सैनिक दलबन्दी - पंचायती सेनाओं के योद्धा दिल्ली से मेरठ, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर तथा हरद्वार तक फैल-फैल कर यथास्थान पहुंचकर इस सारे क्षेत्र में तैमूर की सेनाओं से भिड़ गये थे तथा उनसे छापामार युद्ध करके उन्हें ठहरने नहीं दिया था। शत्रुसेना को पहाड़ी मार्ग से भागने पर मजबूर कर दिया था और अम्बाला जिले तक उनका पीछा करके हरयाणा भूमि से बाहर धकेल दिया था।

दिल्ली युद्ध - जिस समय तैमूर दिल्ली को लूट रहा था तथा जनता को तलवारों के घाट


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-381


उतार रहा था तब पंचायती सेना के 20,000 वीरों ने रात्रि समय 3 बजे दिल्ली की 52,000 तैमूरी सेना पर भीषण आक्रमण कर दिया और तैमूर के 9000 सैनिकों को काटकर यमुना नदी में बहा दिया। प्रातःकाल होते ही यह पंचायती वीर सैनिक नगर की दीवारों से बाहर हो गये। इस प्रकार 3 दिन युद्ध होता रहा। तैमूर तंग आकर दिल्ली छोड़कर मेरठ की ओर बढ़ा।

मेरठ युद्ध - तैमूर ने अपनी बड़ी संख्यक एवं शक्तिशाली सेना, जिसके पास आधुनिक शस्त्र थे, के साथ दिल्ली से मेरठ की ओर कूच किया। इस क्षेत्र में तैमूरी सेना को पंचायती सेना ने दम नहीं लेने दिया। दिन भर युद्ध होते रहते थे। रात्रि को जहां तैमूरी सेना ठहरती थी वहीं पर पंचायती सेना धावा बोलकर उनको उखाड़ देती थी। वीर देवियां अपने सैनिकों को खाद्य सामग्री एवं युद्ध सामग्री बड़े उत्साह से स्थान-स्थान पर पहुंचाती थीं। शत्रु की रसद को ये वीरांगनाएं छापा मारकर लूटतीं थीं। आपसी मिलाप रखवाने तथा सूचना पहुंचाने के लिए 500 घुड़सवार अपने कर्त्तव्य का पालन करते थे। रसद न पहुंचने से तैमूरी सेना भूखी मरने लगी। उसके मार्ग में जो गांव आता उसी को नष्ट करती जाती थी। तंग आकर तैमूर हरद्वार की ओर बढ़ा।

हरद्वार युद्ध - मेरठ से आगे मुजफ्फरनगर तथा सहारनपुर तक पंचायती सेनाओं ने तैमूरी सेना से भयंकर युद्ध किए तथा इस क्षेत्र में तैमूरी सेना के पांव न जमने दिये। प्रधान एवं उपप्रधान और प्रत्येक सेनापति अपनी सेना का सुचारू रूप से संचालन करते रहे। हरद्वार से 5 कोस दक्षिण में तुगलुकपुर-पथरीगढ़ में तैमूरी सेना पहुंच गई। इस क्षेत्र में पंचायती सेना ने तैमूरी सेना के साथ तीन घमासान युद्ध किए।

उप-प्रधानसेनापति हरबीरसिंह गुलिया ने अपने पंचायती सेना के 25,000 वीर योद्धा सैनिकों के साथ तैमूर के घुड़सवारों के बड़े दल पर भयंकर धावा बोल दिया जहां पर तीरों* तथा भालों से घमासान युद्ध हुआ। इसी घुड़सवार सेना में तैमूर भी था। हरबीरसिंह गुलिया ने आगे बढ़कर शेर की तरह दहाड़ कर तैमूर की छाती में भाला मारा जिससे वह घोड़े से नीचे गिरने ही वाला था कि उसके एक सरदार खिज़र ने उसे सम्भालकर घोड़े से अलग कर लिया। (तैमूर इसी भाले के घाव से ही अपने देश समरकन्द में पहुंचकर मर गया)। वीर योद्धा हरबीरसिंह गुलिया पर शत्रु के 60 भाले तथा तलवारें एकदम टूट पड़ीं जिनकी मार से यह योद्धा अचेत होकर भूमि पर गिर पड़ा।

  • (1) उसी समय प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर ने अपने 22000 मल्ल योद्धाओं के साथ शत्रु की सेना पर धावा बोलकर उनके 5000 घुड़सवारों को काट डाला। जोगराजसिंह ने स्वयं अपने हाथों से अचेत हरबीरसिंह को उठाकर यथास्थान पहुंचाया। परन्तु कुछ घण्टे बाद यह वीर योद्धा वीरगति को प्राप्त हो गया। जोगराजसिंह को इस योद्धा की वीरगति से बड़ा धक्का लगा।
  • (2) हरद्वार के जंगलों में तैमूरी सेना के 2805 सैनिकों के रक्षादल पर भंगी कुल के उपप्रधान सेनापति धूला धाड़ी वीर योद्धा ने अपने 190 सैनिकों के साथ धावा बोल दिया। शत्रु के काफी सैनिकों को मारकर ये सभी 190 सैनिक एवं धूला धाड़ी अपने देश की रक्षा हेतु वीरगति

  • . वहां पर 2000 से ऊपर पहाड़ी तीरन्दाज पंचायती सेना में मिल गये थे। एक तीर तैमूर के हाथ में लगा था।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-382


को प्राप्त हो गये।

  • (3) तीसरे युद्ध में प्रधान सेनापति जोगराजसिंह ने अपने वीर योद्धाओं के साथ तैमूरी सेना पर भयंकर धावा करके उसे अम्बाला की ओर भागने पर मजबूर कर दिया। इस युद्ध में वीर योद्धा जोगराजसिंह को 45 घाव आये परन्तु वह वीर होश में रहा। पंचायती सेना के वीर सैनिकों ने तैमूर एवं उसके सैनिकों को हरद्वार के पवित्र गंगा घाट (हर की पौड़ी) तक नहीं जाने दिया। तैमूर हरद्वार से पहाड़ी क्षेत्र के रास्ते अम्बाला की ओर भागा। उस भागती हुई तैमूरी सेना का पंचायती वीर सैनिकों ने अम्बाला तक पीछा करके उसे अपने देश हरयाणा से बाहर खदेड़ दिया।

वीर सेनापति दुर्जनपाल अहीर मेरठ युद्ध में अपने 200 वीर सैनिकों के साथ दिल्ली दरवाज़े के निकट स्वर्ग लोक को प्राप्त हुये।

इन युद्धों में बीच-बीच में घायल होने एवं मरने वाले सेनापति बदलते रहे थे। कच्छवाहे गोत्र के एक वीर राजपूत ने उपप्रधान सेनापति का पद सम्भाला था। तंवर गोत्र के एक जाट योद्धा ने प्रधान सेनापति के पद को सम्भाला था। एक रवा तथा सैनी वीर ने सेनापति पद सम्भाले थे। इस युद्ध में केवल 5 सेनापति बचे थे तथा अन्य सब देशरक्षा के लिए वीरगति को प्राप्त हुये।

इन युद्धों में तैमूर के ढ़ाई लाख सैनिकों में से हमारे वीर योद्धाओं ने 1,60,000 को मौत के घाट उतार दिया था और तैमूर की आशाओं पर पानी फेर दिया।

हमारी पंचायती सेना के वीर एवं वीरांगनाएं 35,000, देश के लिये वीरगति को प्राप्त हुए थे।

प्रधान सेनापति की वीरगति - वीर योद्धा प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर युद्ध के पश्चात् ऋषिकेश के जंगल में स्वर्गवासी हुये थे।

पाठक समझ गये होंगे कि हमारी वीरता के सत्य कारनामों को आज भी प्रकाशित नहीं किया जा रहा है।

नोट - जाट सम्राट् हर्षवर्धन (सन् 606 से 647 ई०) के बाद से लेकर भारतवर्ष की स्वतन्त्रता प्राप्ति तक की हरयाणा सर्वखाप पंचायती सेना की ऐतिहासिक घटनाओं का उल्लेख अगले अध्यायों में उचित स्थान पर किया जायेगा। ये सर्वखाप पंचायती रिकार्ड मेरे पास काफी मात्रा में विद्यमान हैं जो कि मैंने हरयाणा सर्वखाप पंचायत के मन्त्री चौ० कबूलसिंह गांव शोरम जि० मुजफ्फरनगर के घर पर जाकर लिखकर ला रखे हैं। वहां उनके घर अब तक ये ऐतिहासिक रेकार्ड बड़ी मात्रा में सुरक्षित रखे हैं (लेखक)।

मध्यएशिया एवं सीथिया के शक, कुषाण, श्वेत हूण, मंगोल, तुर्क-तातार, मुग़ल और अरबों द्वारा भारतवर्ष पर किये गये आक्रमणों एवं राज्य के विषय में अगले अध्यायों में वर्णन किया जायेगा।

External links

References

  1. Josef W. Meri (2005). Medieval Islamic Civilization. Routledge. p. 812.
  2. Darwin, John (2008). After Tamerlane: the rise and fall of global empires, 1400-2000. Bloomsbury Press. pp. 29, 92. ISBN 9781596917606.
  3. Manz, Beatrice Forbes (1989). The rise and rule of Tamerlane. Cambridge University Press.
  4. "Timur". Encyclopædia Britannica, Online Academic Edition. 2007.
  5. Beatrice F. Manz (2000). "Tīmūr Lang". Encyclopaedia of Islam 10 (2nd ed. ed.). Brill
  6. "Tamerlane". AsianHistory.
  7. "Tamerlane". AsianHistory.
  8. "Central Asia, history of Timur", in Encyclopædia Britannica, Online Edition, 2007.
  9. "Islamic world", in Encyclopædia Britannica, Online Edition, 2007.
  10. Beatrice F. Manz (2000). "Tīmūr Lang". Encyclopaedia of Islam 10 (2nd ed. ed.). Brill.
  11. Marozzi, Justin (2004). Tamerlane: Sword of Islam, conqueror of the world. HarperCollins. pp. 269–274
  12. History of Origin of Some Clans in India/Jat From Jutland,pp.48-49
  13. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/J,p.368
  14. History of the Jats/Chapter IX, p. 150
  15. The Jats - Their Role in the Mughal Empire/Introduction,p.11
  16. Malfuzat-i-Timuri and following it Zafarnama in Elliot, III, 248-249 and 491.
  17. http://www.jatland.com/w/index.php?title=Kanha_Ram&action=edit&redlink=1
  18. Kanha Ram (Hindi Ms.), 13.
  19. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.376-383
  20. OP. cit, Vol. II, P. 119 के हवाले से (जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 67 पर लेखक बी० एस० दहिया)।
  21. Autobiography of Timur, English translation by Major Stewart (1830) from Persian Malfuzat-i-Timur by Abu Talib Husaini
  22. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 61, लेखक बी० एस० दहिया।
  23. जाट इतिहास पृ० 182, लेखक ठा० देशराज
  24. सहायक पुस्तक - मध्यकालीन भारत का संक्षिप्त इतिहास पृ० 161-163 लेखक ईश्वरीप्रसाद; हिन्दुस्तान का इतिहास उर्दू पृ० 186-189; जाटों का उत्कर्ष पृ० 115 लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; जाट इतिहास पृ० 596-598, लेखक ठा० देशराज।
  25. ई० तथा डा० तुजुके तैमूरी भाग 3, पृ० 429 और शरफद्दीन अली यज्दी कृत जफ़रनामा, भाग 3, पृ० 492-493)।
  26. सहायक पुस्तक - मध्यकालीन भारत का संक्षिप्त इतिहास पृ० 161-163 लेखक ईश्वरीप्रसाद; हिन्दुस्तान का इतिहास उर्दू पृ० 186-189; जाटों का उत्कर्ष पृ० 115, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; जाट इतिहास पृ० 596-598, लेखक ठा० देशराज।
  27. मध्यकालीन भारत का संक्षिप्त इतिहास, पृ० 163-164, ईश्वरीप्रसाद; हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 189-190, जाटों का उत्कर्ष पृ० 115, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री)।