Turkistan

From Jatland Wiki
(Redirected from Turkestan)
Jump to navigation Jump to search

Turkistan (Hindi:तुर्किस्तान,Persian: ترکستان ) is a region in Central Asia, which is the southernmost region of Kazakhstan. It today is largely inhabited by Turkic people. Literally means "Land of the Turks". The Syr Darya passes through the region, on its way to the Aral Sea. It also contains some of the great cities of Persian culture, notably Samarkand and Bukhara, and still has a substantial Iranian population, known today as Tajiks.

Variants of name

History

Historically speaking, South Kazakhstan Region is home to Kazakhstan's oldest and greatest marvels. Two thousand years ago it was part of the northern border of the Persian Empire. It owes its long history of habitation to a mixing of Persian culture and science with the native Turkic/Mongol tribal clans. South Kazakhstan Region was part of the Satrap of Sogdiana.

Some places of historical interest include the cities of Turkestan, Otrar and Sayram. Sayram was the birthplace of Ahmed Yasavi (1103–66), a great Sufic scholar and author that lived and worked throughout Central Asia. He is entombed in a mausoleum complex that stands in present-day Turkestan, and which has been named a World Heritage Site by UNESCO. It was commissioned by Amir Temur (Tamerlane) to increase his standing among the area. The mausoleum was built by Persian masters, though it was left unfinished with the death of Tamerlane. The original scaffolding that would have been used to apply the colored-tile still protrudes from the front entrance.

Jat History

Ram Sarup Joon[1] writes that Kasana or Kasvan is a Jat Gotra in Rajasthan at present. King Kanishka was a foreign Yuchi (Yati Jat and Khathans were Khotani or Turkish Jats. Turkistan has been a pure Jat country and the ancestors or Turks were of Takshak Ghorsi (Ghosi) (Ghorzay), the Zablastanis of Kabul were Indians.


Ram Sarup Joon[2] writes that.... The word Turk has been derived from Takshan and Takshak is a well-known Jat-Gotra. The Greek historian Strabo writes that the Takshaks named Kardastan as Takshakstan. Later the name was changed to Turkistan and consequently, the inhabitants began to be called -Turks. The capital of this country was originally known as Takshkhand, which changed to Tashkand or Tashkent.


The Tartars admit themselves to be Chandravanshi. Abul Gazi, the Scythian historian, writes that the forefathers of the Turks were descendants of Tar Jatali, a Jat.


In or about 200 BC serious internal strife occurred in Turkistan. Various tribes fought among themselves. Neung Nu, the Chinese historian writes that during these battles, a tribe known as Uti (Uchi) was winked out of the country .

During its westward withdrawal this, tribe was intercepted by another tribe called Daushan. The


History of the Jats, End of Page-36


[Note: two maps are given here showing 25 Ancient kingdoms of the Jats and back sides of the maps are blank]


Uchis got divided into two groups. One of these settled down On the borders of Tibet. The other settled on the banks of Sihun River and was known as Scythians. They defeated the Saka tribe and passed through Afghanistan. When exactly they did so is not known. They advanced through the Bolan Pass, crossed the River Indus and occupied the area upto the river Ganga. They got integrated with the local population to such an extent that they ceased to be called Scythians. This event has given rise to the historical ambiguity that Jats, Ahirs and Gujars are of Scythian descent. No Jat, however claims this honour bestowed on him by some historians who have looked only that for and no further.

On the other hand, there is sufficient evidence to prove that these Scythians themselves were Jats and so easily amalgamated with their kith and kin. These very Scythians had named their territory in Turkistan as Jug Jats and a province in Iran as Jatali. The Khisans of Khamrian were known as Jat i-Iran. [3]

General Cunningham writes that the inhabitants of Jatali province in Iran are of Jat community of Yayati Dynasty. He also writes that people of the Shavi sub caste are the descendants, of the daughter of Daksha, and Raja Daksha was a Surya Vanshi.

Herodotus writes that when Alexander the Great attacked Dara, King of Iran, and the major part of Dara's army consisted of Jat troops. Dara was very proud of these soldiers. Confidence in their bravery encouraged him to face Alexander. Todd also supports this fact and writes that the Jat contingent consisted of two hundred chariots and fifty elephants and formed the right flank of Dara's army. The Jat charioteers scattered Alexander's army. Alexander then sent for Scythian Jat troops. These were mostly Dahiya Jats and were equipped with lances. With the help of these troops Alexander defeated Dara. The


History of the Jats, End of Page-37


Greek historian writes that these Dahiya Jats contributed a great deal to the later successes of Alexander.[4]

Jats have a big gotra called Shavi. Iran was at one time known as Shavi country. Huen Tsang and Fa-hien have mentioned in their accounts of their Indian travels, that through Tartary, Kashgar and, Pamir, they reached Shavi country. Lord Shiva or Shavi is known as prophet Shish in Iran, and his shrine on the banks of River Tigris is visited by a large number of Pilgrims. A province in Iran is called Seistan, a derivative of Shavi-Stan. The Jats of Shavi gotra came to be known as Shavisthians or Scythians. The Great Scythian writer Abul Gazi has called himself a Chandravanshi Jat. He also writes that the mother of Scythian community was the daughter of Aila or Ailya Devi,[5]

The Sakas invaded Iran from the coast of Baltic Sea and looted a lot of treasure. When they were busy dividing the booty amongst themselves, at night the Jats made a surprise raid and snatched everything back.

To commemorate their success, the Jats built two temples on a rock and dedicated these two Amavash Devi and Unin Devi. An annual fair is held there even until to day.

तुरक व तुरक्ष देश

ठाकुर देशराज[6] ने लिखा है ....उत्तर-भारत का वह देश जो हिन्दूकुश से लगाकर कास्पियन सागर ओर जगजार्टिस तोरिम नदी तक फैला हुआ है, तुर्किस्तान कहलाता है।


1.हिन्दी टाड राजस्थान बम्बई का छपा अध्याय 5 देखो
2.टाड परिशिष्ट अध्याय 6


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-183


इस सारे प्रदेश में किन्हीं दिनों जाट फैले हुए थे। पुराणों के अनुसार यह सारा देश तुरष्क को मिला था। आज कल तुरक के माने लोग मुसलमान के समझते हैं, किन्तु वास्तव में तुरक तुरष्क की संतान आर्य थे और इस्लाम के आगमन पर तथा हिन्दू-संस्कृति की संकुचित दृष्टि से ये मुसलमान हो गए। बौद्ध-धर्म की अहिंसा ने भी उन्हें मुसलमान होने में पूरी सहायता दी। सीतामढ़ी, उद्यान, विराट आदि प्रसिद्ध नगर इसी में थे, जो आज समय के फेर से शहबाजगढ़ी, यूसफजई और तख्तवाही कहलाते हैं। जनरल एबट ने सन् 1854 ई. में तख्तवाही को देखा था, उसमें एक विशाल राजमन्दिर के चिन्ह अब तक पाए जाते हैं। कादम्बरी के चन्द्रापीड़ का विवाह यूसफजई (उद्यान में) हुआ था। इस प्रदेश के महान् योद्धा तोमरिस (तोमरसैन व तोकऋषि) ने साइरस से युद्ध किया था। साइरस ने पहले तो जाटों की सहायता से मीडिया को परास्त करके पारसी साम्राज्य की नींव डाली थी, पुनः उसने जाटों से भी युद्ध छेड़ दिया। वीर तोमरिस ने उनके छक्के खुरासान के पूर्वी उत्तर हिस्से पर छुड़ाकर वापस लौटा दिया था। उद्यान के सम्बन्ध में जनरल कनिंघम लिखते हैं-

"I can hardly suppose that these advantages for securing an artificial supply of water in British Yusufzai were lost sight of by the practical Hindus who held the country for many generations before the conquest of Mahmud of Ghazni brought in the rapacious Musalmans. (Cunninghan Vol.5, 3.)
The broad and fertile valley of Swat river is known to be the rich in ancient remains but it is regretted that it is inaccessible to European. (Cunningham Vol 5, 1.)"

अर्थात् - मैं यह कल्पना नहीं कर सकता कि ब्रिटिश यूसफजई में जल की कृत्रिम आपूर्ति के लिए गजनी के महमूद की विजय के साथ आए सर्वनाशी मुसलमानों के पहले इस क्षेत्र को कई पीढ़ियों तक अपने अधीन रखने वाले व्यवहारिक हिन्दुओं ने इन सुविधाओं को नजर अन्दाज कर दिया होगा।

स्वात नदी की विशाल एवं उर्वर घाटी पुरातन अवशेषों के लिए प्रसिद्ध है परन्तु यह खेद की बात है कि यूरोपियों के लिए अनभिगम्य है।

जोहन नदी के किनारे पर रहने वाली यूची जाति पीछे से जेटा व जेटन कहनाने लगी। ऐशिया के इस प्रान्त में इनका बहुत समय तक अधिकार रहा। पाण्डव वज्र को लेकर इसी देश में पहुंचे थे, ऐसा कर्नल टाड मानते हैं। हमारा अपना मत है, साथ ही अन्य लोगों का भी मत है कि कुषाण लोग कृष्ण वंशी थे और कार्ष्णिक (कृष्णन) से कुषाण शब्द बना है। चौधरी धनराजजी डिप्टी कलक्टर और चौधरी रामलालजी हाला भी ऐसा ही मानते हैं। जाट वंशोत्पत्ति सम्बन्धी पुस्तक में हालाजी ने पृथ्वीराज विजय (संस्कृत) के हवाले से कुषाण वंशी महाराज कनिष्क को जाट बताया है। वास्तव में यह बिल्कुल सही बात है भी। यदि महाराज कनिष्क आर्य-वंश संभूत न होते तो भारतीय सभ्यता का प्रचार करने की बजाय हूणों की भांति उसका ध्वंस करते।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-184


हेरोडोटस ने लिखा है कि - मध्य एशिया की बड़ी जेटी जाति में अश्वमेध का रिवाज था और संक्रांति के शुभ अवसर पर यह महोत्सव उनके यहां होता था (पारसी लोगों में तो अश्वमेध नहीं होता फिर हेरोडोटस किस आधार पर उन्हें शाक ही पुकारता है। - ले.) । मध्य ऐशिया में एक अश्व जाति भी जाटों के पड़ोस में रहती थी, वह वास्तव की संतान के लोग के जाते थे। लेकिन पिंकर्टन ने यूरोप में जाटों के साथ सुएवी, कट्टी, केम्ब्री और हेमेन्द्री आदि 6 जातियां बताई हैं। ये सब एल्प और वेजर नदी के किनारे तक फैल गई थीं। वहां उन्होंने युद्ध के देवता महादेवजी के नाम पर एक विशाल स्तंभ खड़ा किया था। अनेक इतिहास लेखकों ने अपनी-अपनी मति से उसे मंगल अथवा बुद्ध का स्तंभ बताया है। ये छः जातियां भारत में क्रम से जाट, अहीर, काछी, कुर्मी, हेमेन्द्री कहलाती हैं। वास्तव में जाटों का और अहीर काछियों आदि का प्रारम्भ से निकट रहना और निकटतम सम्बन्ध पाया जाता है। ये सभी एक ही स्टाक की जगजार्टिस के किनारे की रहने वाली जातियां थीं। जाटों ने यूनान में कर्जसीज को और अर्बेला में दारा को रथों की सेना की सहायता दी थी। इस सेना में 15 हाथी और 200 रथ थे। कर्नल टाड ने हेरोडोटस के आधार पर लिखा है कि इन लोगों से युद्ध करने के लिए सिकन्दर ने स्वयं कमान की थी। वे अपनी भुजाओं के बल से यूनानियों को प्रत्येक आचरण में विफल कर देते थे। उन्होंने सिकन्दर की पर्शिनियो की कमान वाली सेना को अस्तव्यस्त कर दिया था, जिससे उसे दूसरी सेना उनसे भिड़ने के लिए भेजनी पड़ी थी। प्रत्येक जाट ने वह पराक्रम दिखाया कि मानो वह जीत की पक्की अभिलाषा रखता है, किन्तु अर्बोला के युद्ध में दारा की पराजय बदी थी। काछी लोग भी इस युद्ध में बड़ी बहादुरी से लड़े थे।

डिडगनीज ने पुराने प्रमाणों के आधार पर सिद्ध किया है कि जिस समय जट जाति पर सू लोगों ने चढ़ाई की तो उस समय उनके सौ से अधिक ऐसे नगर थे, जिनमें भारत की सौदागरी की वस्तुएं और उन लोगों में जो सिक्के प्रचलित थे उन उन्हीं के राजाओं की मूर्तियां अंकित थीं। मध्य-एशिया की यह दशा ईसवी सन् से बहुत पहले थी जो इन देशों में होने वाली लड़ाइयों से बरबाद हुई, जिसका निदर्शन यूरोप में नहीं पाया जाता और जिसके कारण यह देश उजाड़ हो रहा है और इस काल में जैटिक जाति की तैमूर के साथ तथा उसके लोभी पूर्वजों की लड़ाई से निदर्शित होती है। तुरूष्क देश में बसने वाले जाटों ने बड़ी समृद्धि प्राप्त की थी। उन्होंने बड़े-बड़े नगर बनाये थे। राजनियमों का संग्रह किया था, वे व्यापारिक धन्धों में भी उन्नति कर रहे थे। उनका राज्य इस समय सभ्यता और ऐश्वर्य में किसी से कम न था। नगरों में बाजार, नदियों में नावे, सेना में हाथी, रथ, घोड़े, उत्सवों में यज्ञ, धार्मिक


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-185


विश्वासों, एकेश्वर-पूजा उनके वैभव सम्पन्न, योग्य-शासक, युद्ध-कुशल, सुसभ्य और वैज्ञानिक होने के प्रमाण हैं। इनके देश में चंगेजखां की चढ़ाई के समय तक बड़े-बड़े नगर विद्यमान थे। उस समय मध्य एशिया में तुरूष्क देश के जाटों की सभ्यता सर्वश्रेष्ठ थी। कर्नल टाड इन जाटों के सम्बन्ध में लिखते हैं कि -

"साइरिस के समय में ईसा से 600 वर्ष पहले इस बड़ी गेटिक जाति के राजकीय प्रभाव की यदि हम परीक्षा करें तो यह बात हमारी समझ में आ जाएगी कि तैमूर की उन्नत दशा में इन जातियों का पराक्रम-ह्रास नहीं हुआ था। यद्यपि 20 शताब्दी का समय व्यतीत हो चुका था।"

एक बात और भी हमें बता देनी है। यूनानी लेखकों ने इन जाटों को चगताई करके लिखा है जोकि उन्होंने सकताई (शक लोग) से बनाया है। अबुल-फजल गाजी ने मुगलों के वर्णन में मुगलों को भी आर्यवंश से बनाने की चेष्टा की है। काश्मीर से ऊपर के प्रदेश के लोग अपने नाम के पीछे खान की उपाधि इस्लाम के आने के पूर्व ही लगाने लग गए थे। फाहियान चीनी यात्री को ईदुलखां नाम का सरदार इस देश में मिला था जोकि बहुत दिन के बाद मुसलमान हुआ था। शायद सैन, चन्द और दत्त की भांति खान भी कोई शब्द था और यथासंभव सैन से जैसे सिंह की प्रथा चली थी वैसे ही सैन से भारत के उत्तर में बैन, खैन और खान बोलने और लिखने की प्रणाली पड़ गई। ज्यों-ज्यों उद्यान से ऊपर के जाटों का भारत के जाटों से सम्बन्ध कम होता जाता था, त्यों-ही-त्यों भाषा और व्यवहारों में भेद हो गया। हिन्दुकुश की ऊंची चोटियों ने पहले से ही अलग तो कर ही रखा था, किन्तु ई.पूर्व 600 वर्ष (साइरस के समय) से उन्हें संघर्ष में भी फंस जाना पड़ा। चीन में नित नये राजवंश खड़े होते थे। यूरोप में रक्त की नदियां बहाई जाती थीं। तुरूष्क देश के जाटों को चीन के आदिम निवासी, यूनान के नये विश्व-विजय के इच्छुक, पर्शिया में उदय होने वाले राजवंशों में सभी टक्कर लेनी पड़ी। ऐसे ही कारण थे कि सू आक्रमण के समय जहां व भारत से पूरे सम्बन्धित पाये जाते हैं चंगेजखां के उपद्रव के समय जो कि जाटों से भी आगे रहने वाले तातार देश का था, उनका भारत से कोई सम्बन्ध नहीं दिखाई देता है। ईसवी पूर्व 500 से भी पहले वे जेहून और जगजार्टिस को छोड़कर कास्पियन के दायें-बायें किनारे से जर्मनी की ओर बढ़ रहे थे। शेष जो डटे रहे थे, उन पर तातारियों की सभ्यता का धीरे-धीरे रंग चढ़ रहा था। किन्तु समय से पहले ही कुषाण-वंश ने प्रबलता धारण की और बौद्ध-धर्म का बोलबाला इनमें हो गया। किन्तु कुषाण वंश भी मध्य-एशिया में न ठहर सका। वह हिन्द की ओर बढ़ आया और अन्त में जो यह कश्मीर, गांधार और पेशावर तक आ पहुंचा। इस तरह से जाटों का जो उपनिवेश कास्पियन, जहून, हिन्दूकुश और जगजार्टिस के प्रदेश पर था, वह नष्ट हो गया। कुषाण नेता कीर्तिप्रकाश (कैडफाइसिस) के वंशज गांधार तक्षशिला के सिवाय अपने पूर्वजों की भूमि ब्रज (मथुरा) में आ गए। जेहून के आस-पास रहने वाले इस्लाम में शमिल हो गए।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-186


External links

references

  1. Ram Sarup Joon: History of the Jats/Chapter VI, p.116
  2. History of the Jats/Chapter III,p.36-38
  3. Todd's Rajasthan - Urdu edition
  4. Todds Rajasthan, Urdu Edition, p.232
  5. Todds Rajasthan, Urdu Edition, p.152
  6. Jat History Thakur Deshraj/Chapter VI,pp. 183-186

Back to Places