Bhagirathi

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Location of Rivers and Panch Prayag

Bhagirathi (भागीरथी) is a Himalayan river in the Indian state of Uttarakhand.

Variants

Course

Map showing the Himalayan headwaters of the Bhagirathi river. The numbers in parentheses refer to the altitude in meters.

The headwaters of the Bhagirathi are formed at Gaumukh (elevation 3,892 metres), at the foot of the Gangotri glacier and Khatling glaciers in the Garhwal Himalaya. It is then joined by its tributaries; these are, in order from the source:

The river flows from its source for 205 km before meeting the Alaknanda River at an elevation of 475 m in the town of Devprayag. Downstream of this confluence, considered holy by Hindus, the river is known as the Ganga, or Ganges River by westerners. Chaukhamba I is the highest point of the Bhagirathi basin.

History

The word "Bhagirathi" (Sanskrit, literally, "caused by Bhagiratha") refers to a mythological Sagar Dynasty prince who, to gain the release of his 60,000 great-uncles from the curse of saint Kapila, brought the goddess Ganga in the form of the river Ganges, from the heavens to the earth. Hence, Ganges considered as the daughter of Bhagiratha and Ganges also called Baghirathi.[1]

Bhagiratha was the king of Kosala, a kingdom in ancient India. He was a descendant of the great King Sagara of the Suryavanshi, or Surya Dynasty. He was one of the forefathers of Lord Rama, of the Ramayana, the epic in which Bhagiratha's tale is primarily recounted. The story of Bhagiratha explained in Bala Kanda of Ramayana. Shiva brought Ganga river to Bindu Sarovar on request of Bhagiratha.[2]

In Inscriptions

Chammak Plates of the Maharaja Pravarasena II 18th year of reign tells us:

(L. 4.)-Who was the son of the Mahârâja of the Vâkâtakas, the illustrious Rudrasêna (I.), who was an excessively devout devotee of (the god) Svâmi-Mahâbhairava; who was the daughter's son of the illustrious Bhavanaga, the Mahârâja of the Bhârashivas, whose royal line owed its origin to the great satisfaction of (the god) Shiva, (caused) by (their) carrying a linga of Shiva placed as a load upon (their) shoulders, (and) who were besprinkled on the forehead with the pure water of (the river) Bhagirathi that had been obtained by (their) valour, (and) who performed ablutions after the celebration of ten ashvamêdha-sacrifices;-who was the son of Gautamiputra;-

The birth of Ganga

The birth of Ganga by Khitindra Nath Mazumdar

Sister Nivedita and Anand K. Coomaraswamy[3] tell us the following story of the birth of Ganga story.

It is Shiva among the major deities of the Hindu pantheon, who appears in the most widely known version of the birth of Ganga story. Told and retold in the Ramayana, the Mahabharata and several Puranas, the story begins with a sage, Kapila, whose intense meditation has been disturbed by the sixty thousand sons of King Sagara. Livid at being disturbed, Kapila sears them with his angry gaze, reduces them to ashes, and dispatches them to the netherworld. Only the waters of the Ganges (Ganga), then in heaven, can bring the dead sons their salvation. A descendant of these sons, King Bhagiratha, anxious to restore his ancestors, undertakes rigorous penance and is eventually granted the prize of Ganga's descent from heaven. However, since her turbulent force would also shatter the earth, Bhagiratha persuades Shiva in his abode on Mount Kailash to receive Ganga in the coils of his tangled hair and break her fall. Ganga descends, is tamed in Shiva's locks, and arrives in the Himalayas. She is then led by the waiting Bhagiratha down into the plains at Haridwar, across the plains first to the confluence with the Yamuna at Prayag and then to Varanasi, and eventually to Ganga Sagar, where she meets the ocean, sinks to the netherworld, and saves the sons of Sagara. In honour of Bhagirath's pivotal role in the avatarana, the source stream of the Ganges in the Himalayas is named Bhagirathi, (Sanskrit, "of Bhagiratha").[4]

In Mahabharata

Bhagiratha (भागीरथ) is mentioned in Mahabharata (I.177.19), (III.85.10)

Bhagirathi River (भागीरथी) is mentioned in Mahabharata (II.9.18), (III.85.10), (III.85.17), (XIII.26.14), (XIII.26.38)


Adi Parva, Mahabharata/Book I Chapter 177 mentions Kshatriyas who came on Swayamvara of Draupadi. Bhagiratha (भागीरथ) is mentioned in Mahabharata (I.177.19). [5].... all these of the Vrishni race, Bhagiratha, Brihatkshatra, Jayadratha the son of Sindhu, Brihadratha, Balhika, the mighty charioteer Shrutayu,....


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 85 mentions sacred asylums, tirthas, mountans and regions of eastern country. Bhagirathi River (भागीरथी) is mentioned in Mahabharata (III.85.10). [6]....Towards that direction also is the sacred Ganga (गङ्गा) (III.85.10), on whose banks Bhagiratha (भगीरथ) (III.85.10) celebrated many sacrifices with profuse gifts (to Brahmanas).


Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 9 mentions the Kings Oceans and the Rivers who attended Sabha of Varuna. Bhagirathi River (भागीरथी) is mentioned in Mahabharata (II.9.18).[7]....And, O king, there are also the four oceans, the river Bhagirathi, the Kalindi, the Vidisa, the Venwa, the Narmada of rapid current;...


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 85 mentions sacred asylums, tirthas, mountans and regions of eastern country. Bhagirathi River (भागीरथी) is mentioned in Mahabharata (III.85.17).[8]....In that quarter, O descendant of the Kuru race, is the mountain called Mahendra (महेन्द्र) (III.85.16), sacred to the illustrious Rama of the Bhrigu race. There, O son of Kunti, the Grandsire performed sacrifices of yore. There, O Yudhishthira, the sacred Bhagirathi (भागीरथी) (III.85.17) entereth a lake.

In Ramayana

Bhagirathi River (भागीरथी) mentioned in Ramayana (IV.40.20)[9]

Kishkindha Kanda Sarga 40 of Ramayana mentions The Empire of Holy Vanaras where Sugriva orders vanaras to search Sita in east under the leadership of Vinata, a mighty vanara. Sugriva commissioning Vinata explains the topography and geography of Eastern side of the Jambudwipa.

20b, 21, 22, 23. "Search shall be conducted at the riversides of heartening rivers like River Bhagirathi, another name for Ganga River, and Sarayu River, like that at Kaushiki River, and at the pleasing surrounds of Yamuna River, and on Mt. Kalinda, as well at Saraswati River, Sindhu River....

भागीरथी नदी

विजयेन्द्र कुमार माथुर[10] ने लेख किया है ... भागीरथी नदी (AS, p.663): गंगा का एक नाम जिसका संबंध महाराज भागीरथ से है। भागीरथ की तपस्या के फलस्वरूप गंगा के अवतरण की कथा (वाल्मीकि बालकाण्ड 38 से 44 अध्याय तक) है। कथा के अंत में गंगा के भागीरथी नाम का उल्लेख है- 'गंगा त्रिपथगा नाम दिव्या भागीरथीति च त्रीन्पथो भावयन्तीति तस्मान् त्रिपथगा स्मृता'-- बालकाण्ड 44,6

महाभारत में भी भागीरथी गंगा का वर्णन पांडवों की तीर्थयात्रा के प्रसंग में हैं--'तत्रापश्यत् धर्मात्मा देव देवर्षिपूजितम्, नरनारायण-स्थानं भागीरथ्योपशोभितम्'. यहाँ बदरीनाथ का वर्णन भी है। भागीरथी गंगा की उस शाखा को कहते हैं जो गढ़वाल (उत्तराखंड) में गंगोत्री से निकलकर देवप्रयाग में अलकनंदा में मिल जाती है

भागीरथी नदी परिचय

भागीरथी भारत की एक नदी है जो उत्तरांचल में से बहती है। भागीरथी नदी, पश्चिम बंगाल राज्य, पूर्वोत्तर भारत, गंगा नदी के डेल्टा की पश्चिमी सीमा का निर्माण करती है। गंगा की एक सहायक भागीरथी जंगीपुर के ठीक पूर्वोत्तर में इससे अलग होती है और 190 किमी के प्रवाह के बाद नबद्वीप में जलांगी से मिलकर हुगली नदी बनाती है। पौराणिक गाथाओं के अनुसार भागीरथी गंगा की उस शाखा को कहते हैं जो गढ़वाल (उत्तर प्रदेश) में गंगोत्री से निकलकर देवप्रयाग में अलकनंदा में मिल जाती है व गंगा का नाम प्राप्त करती है।

गंगा का एक नाम जिसका संबंध महाराज भागीरथ से है। महाभारत में भी भागीरथी गंगा का वर्णन पांडवों की तीर्थयात्रा के प्रसंग में हैं और बदरीनाथ का वर्णन भी है। तत्रापश्यत् धर्मात्मा देव देवर्षिपूजितम्, नरनारायण-स्थानं भागीरथ्योपशोभितम्'

स्थिति: भागीरथी गोमुख स्थान से 25 कि.मी. लम्बे गंगोत्री हिमनद से निकलती है। यह समुद्रतल से 618 मीटर की ऊँचाई पर, ऋषिकेश से 70 किमी दूरी पर स्थित हैं।

इतिहास: 16वीं शताब्दी तक भागीरथी में गंगा का मूल प्रवाह के बाद नबद्वीप में जलांगी से मिलकर हुगली नदी बनाती है। 16वीं शताब्दी तक भागीरथी में गंगा का मूल प्रवाह था, लेकिन इसके बाद गंगा का मुख्य बहाव पूर्व की ओर पद्मा में स्थानांतरित हो गया। इसके तट पर कभी बंगाल की राजधानी रहे मुर्शिदाबाद सहित बंगाल के कई महत्त्वपूर्ण मध्यकालीन नगर बसे। भारत में गंगा पर फ़रक्का बांध बनाया गया, ताकि गंगा-पद्मा नदी का कुछ पानी अपक्षय होती भागीरथी-हुगली नदी की ओर मोड़ा जा सके, जिस पर कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) पोर्ट कमिश्नर के कलकत्ता और हल्दिया बंदरगाह स्थित हैं। भागीरथी पर बहरामपुर में एक पुल बना है।

भागीरथी का देवप्रयाग पहुँचना: गंगोत्री से निकली भागीरथी मार्ग में अनेक छोटी-बड़ी नदियों को अपने में समेटती हुई जब देवप्रयाग पहुँचती है तो बहुत तेज़ गति से बहती है। लहरें उफन-उफन कर एक दूसरे से टकराती हैं। तूफ़ानी शोर के साथ भागीरथी का शुद्ध जल यहाँ बड़ी वेग से बहता हुआ श्वेत झाग सा बनाता है। भागीरथी यहाँ वास्तव में भागती हुई प्रतीत होती है। तेजी से दौड़ती-भागती, कूदती उफनती नदी, बहुत वेग, बहुत तेजी से अठखेलियाँ करती भागीरथी बहुत शानदार भव्य दृश्य प्रस्तुत करती है।

पहाड़ों के एक ओर तेज़ वेग से भागती दौड़ती भागीरथी चली आ रही है तो दूसरी ओर शांत अलकनंदा चली आ रही है जो कि शांत, शीतल, मंद-मंद गति और निरंतर गतिशील होकर बहती हुई भागीरथी में मिल जाती है। देवप्रयाग में परस्पर मिलने से ठीक पहले भागीरथी अपनी तेज़ गति व तूफ़ानी अंदाज में अलकनंदा की ओर लपकती हैं। अलकनंदा भी भागीरथी की ओर मुड़ने से पहले रुक जाती है। आगे चलकर अलकनंदा भागीरथी में मिल जाती है। बड़ी सहजता व सरलता से दोनों नदियाँ आपस में मिल जाती है। ऊपरी तौर पर ऐसा लगता है कि दोनों ओर से आती नदियाँ मिलकर एक नदी बनती प्रतीत होती है। इस संगम से ही भागीरथी अपना नाम यहाँ खो देती है और यहाँ पर यह गंगा नदी बन जाती है

संदर्भ: भरतकोष-भागीरथी नदी

भागीरथी के सम्बन्ध में कथा

भागीरथी नदी के सम्बन्ध में एक कथा विश्वविख्यात है। भागीरथ की तपस्या के फलस्वरूप गंगा के अवतरण की कथा (वाल्मीकि बालकाण्ड 38 से 44 अध्याय तक) है। कथा के अंत में गंगा के भागीरथी नाम का उल्लेख है- बालकाण्ड 44,6 -- गंगा त्रिपथगा नाम दिव्या भागीरथीति च त्रीन्पथो भावयन्तीति तस्मान् त्रिपथगा स्मृता

रोहित के कुल में बाहुक का जन्म हुआ। शत्रुओं ने उसका राज्य छीन लिया। वह अपनी पत्नी सहित वन चला गया। वन में बुढ़ापे के कारण उसकी मृत्यु हो गयी। उसके गुरु ओर्व ने उसकी पत्नी को सती नहीं होने दिया क्योंकि वह जानता था कि वह गर्भवती है। उसकी सौतों को ज्ञात हुआ तो उन्होंने उसे विष दे दिया। विष का गर्भ पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। बालक विष (गर) के साथ ही उत्पन्न हुआ, इसलिए 'स+गर= सगर कहलाया। बड़ा होने पर उसका विवाह दो रानियों से हुआ- सुमति- सुमति के गर्भ से एक तूंबा निकला जिसके फटने पर साठ हज़ार पुत्रों का जन्म हुआ। केशिनी- जिसके असमंजस नामक पुत्र हुआ।

सगर ने अश्वमेध यज्ञ किया। इन्द्र ने उसके यज्ञ का घोड़ा चुरा लिया तथा तपस्वी कपिल के पास ले जाकर खड़ा किया। उधर सगर ने सुमति के पुत्रों को घोड़ा ढूंढ़ने के लिए भेजा। साठ हज़ार राजकुमारों को कहीं घोड़ा नहीं मिला तो उन्होंने सब ओर से पृथ्वी खोद डाली। पूर्व-उत्तर दिशा में कपिल मुनि के पास घोड़ा देखकर उन्होंने शस्त्र उठाये और मुनि को बुरा-भला कहते हुए उधर बढ़े। फलस्वरूप उनके अपने ही शरीरों से आग निकली जिसने उन्हें भस्म कर दिया।

केशिनी के पुत्र का नाम असमंजस तथा असमंजस के पुत्र का नाम अंशुमान था। असमंजस पूर्वजन्म में योगभ्रष्ट हो गया था, उसकी स्मृति खोयी नहीं थी, अत: वह सबसे विरक्त रह विचित्र कार्य करता रहा था। एक बार उसने बच्चों को सरयू में डाल दिया। पिता ने रुष्ट होकर उसे त्याग दिया। उसने अपने योगबल से बच्चों को जीवित कर दिया तथा स्वयं वन चला गया। यह देखकर सबको बहुत पश्चात्ताप हुआ। राजा सगर ने अपने पौत्र अंशुमान को घोड़ा खोजने भेजा। वह ढूंढ़ता-ढूंढ़ता कपिल मुनि के पास पहुंचा। उनके चरणों में प्रणाम कर उसने विनयपूर्वक स्तुति की। कपिल से प्रसन्न होकर उसे घोड़ा दे दिया तथा कहा कि भस्म हुए चाचाओं का उद्धार गंगाजल से होगा। अंशुमान ने जीवनपर्यंत तपस्या की किंतु वह गंगा को पृथ्वी पर नहीं ला पाया। तदनंतर उसके पुत्र दिलीप ने भी असफल तपस्या की। दिलीप के पुत्र भगीरथ के तप से प्रसन्न होकर गंगा ने पृथ्वी पर आना स्वीकार किया। गंगा के वेग को शिव ने अपनी जटाओं में संभाला। भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर गंगा समुद्र तक पहुंची। भागीरथ के द्वारा गंगा को पृथ्वी पर लाने के कारण यह भागीरथी कहलाई। समुद्र-संगम पर पहुंचकर उसने सगर के पुत्रों का उद्धार किया। (श्रीमद्भागवत, नवम स्कंध, अध्याय 8,9।1-15/ शिव पुराण, 4।3।)

संदर्भ: भरतकोष-भागीरथी नदी

बिन्दुसर सरोवर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[11] ने लेख किया है .....1. बिन्दुसर सरोवर (AS, p.627) को महाभारत, सभापर्व 3 में मैनाक पर्वत (कैलास के उत्तर में स्थित) के निकट बताया गया है। यहीं पर असुरराज वृषपर्वा ने एक महायज्ञ किया था। प्रसंग के अनुसार बिन्दुसर के समीप मय दानव ने एक विचित्र मणिमय भांड तैयार करके रखा था। यहीं वरुण की एक गदा भी थी। इन दोनों वस्तुओं को मय दानव युधिष्ठिर की राजसभा का निर्माण करने के पूर्व बिन्दुसर से ले आया था-'चित्रं मणिमयं भांडं रम्यं बिन्दुसरं प्रति, सभायां सत्यसंधस्य यदासीद् वृषपर्वण:। मन: प्रह्लादिनीं चित्रां सर्वरत्नविभूषिताम्, अस्ति बिन्दुसरस्युग्रागदा च कुरुनंदन।' महाभारत, सभापर्व 3, 3-5.

इसी वर्णन में मय दानव के बिन्दुसर तथा मैनाक पर्वत जाते समय कहा गया है कि वह इंद्रप्रस्थ से पूर्वोत्तर दिशा में और कैलास के उत्तर की ओर गया था- 'इत्युक्त्वा सोऽसुर: पार्थ प्रागदीचीं दिशं गत:, अथोत्तरेण कैलासान् मैनाकपर्वतं प्रति। 'महाभारत, सभापर्व 3, 9.

उपर्युकत निर्देश से यह स्पष्ट है कि बिन्दुसर तथा मैनाक, दोनों कैलास के उत्तर में और इंद्रप्रस्थ की पूर्वोत्तर दिशा में स्थित थे। संभवत: बिन्दुसर मानसरोवर या उसके निकटवर्ती किसी अन्य सरोवर का नाम रहा होगा।

वाल्मीकि रामायण, बालकांड 43, 11 में गंगा का शिव द्वारा बिन्दुसर की ओर छोड़े जाने का उल्लेख है- 'विसर्सज ततो गंगां हरो बिन्दुसरंप्रति।'. इससे भी उपर्युक्त विवेचन की पुष्टि होती है।

2. बिन्दुसर सरोवर (AS, p.627) = Siddhapura (सिद्धपुर)


बिंदुसर गंगोत्री से 2 मील हटकर रुद्र हिमालय में स्थित एक पवित्र कुंड है। यहीं पर भगीरथ ने गंगा को पृथ्वी पर बुलाने के लिए तप किया था।[12]

External links

References

  1. Mankodi, Kirit (1973) "Gaṅgā Tripathagā"Artibus Asiae 35(1/2): pp. 139-144, p. 140
  2. Gopal, Madan (1990). K.S. Gautam (ed.). India through the ages. Publication Division, Ministry of Information and Broadcasting, Government of India. p. 76.
  3. Myths and Legends of the Hindus & Buddhists/CHAPTER VII, by Sister Nivedita and Anand K. Coomaraswamy, pp. 316-321
  4. Eck, Diana (1998), "Gangā: The Goddess Ganges in Hindu Sacred Geography", in Hawley, John Stratton; Wulff, Donna Marie, Devī: Goddesses of India, Berkeley and Los Angeles: University of California Press; Delhi: Motilal Banarasi Das Publishers. ISBN 81-208-1491-6,p.145
  5. भगीरथॊ बृहत क्षत्रः सैन्धवश च जयद्रथः, बृहद्रथॊ बाह्लिकश च श्रुतायुश च महारथः (I.177.19)
  6. गङ्गा यत्र नदी पुण्या यस्यास तीरे भगीरथः, अयजत तात बहुभिः करतुभिर भूरिदक्षिणैः (III.85.10)
  7. 18 तदा समुथ्राश चत्वारॊ नथी भागीरथी च या, कालिन्दी विदिशा वेण्णा नर्मदा वेगवाहिनी (II.9.18)
  8. अयजद यत्र कौन्तेय पूर्वम एव पिता महः, यत्र भागीरथी पुण्या सदस्यासीद युधिष्ठिर (III.85.17)
  9. नदीम् भागीरथीम् रम्याम् सरयूम् कौशिकीम् तथा ॥४-४०-२०॥
  10. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.663
  11. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.627
  12. भारतकोश-बिन्दुसर सरोवर

Back to Rivers