Madhyamika

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Chittorgarh District

Madhyamika (मध्यमिका) is name of a town and country mentioned by Panini in Ashtadhyayi and in Mahabharata.

Variants of name

Identification

The ancient Madhyamika (मध्यमिका) or Majhimika (मझिमिका) is identified with Nagari village in Chittorgarh district in Rajasthan. Its Pin Code: 312022.

Location

Location of Places around Chittorgarh

It is at a distance of 20Km in north-east from Chittorgarh in Tehsil-Chittorgarh on the bank of river Berach (बेड़च).

Mention by Panini

Madhyamika (माध्यमिक) is mentioned by Panini in Ashtadhyayi. [1]

History

It was One of the most important townships of the Mauryan era in Rajasthan, situated on the banks of river Bairach. It was formerly known as Majhimika/Madhyamika, which flourished from the Maurya to Gupta era. The excavations over here have unearthed many interesting facts and have showed signs of strong Hindu and Buddhist influence.

The Shivis (शिवि) or Sibia Jats ruled this area. The classical writers locate Shivis (Siboi) at the confluence of Beas and Chenab. [2] Later they migrated to Rajasthan in the area of Madhyamika near Chittor from their coins bearing the legend Shibi janapadas have been found. [3] The Shivis tribe is known by several variants-Shiva in the Rigveda as one of the tribes defeated by the Bharata king Sudas; Sivi in the Aitreya Brahmana (VIII.23.10), Mahabharata (II.48.13), Sibi in Mahabharata (II. 48.13) Sibi in Mahabhashya on Panini (IV.2.52) where as Shaiba or Shaibayah as vishaya has been mentioned. Classical writers call them Siboi (Diodous 3, XVIII, 96; Strabo XV,1; Curtius IX,41)[4]

At the time of invasion of India by Alexander the great, in 326 BCE, Sivis were found inhabiting area in the vicinity of Malava tribes. The Greek writers have mentioned them wearing clothes similar to wild people even during the war. Probably the traditional Indian dress the chust angarakha and unchi dhoti gave the appearance of wild dress. After some time of Alexander's war, they probably moved to Rajasthan along with Malavas. Thus they are found moving from Punjab to Malwa and from their to Rajasthan. There are ruins of an ancient town called 'Tamva-vati nagari' 11 miles north of Chittor. Ancient coins of Shivi people are found near this town bearing 'Majhamikaya Shivajanapadas' (मझमिकाय शिवजनपदस ), which means coins of 'Shiva janapada of Madhyamika'. The 'Tamvavati nagari' (तम्वावती नगरी) was called as 'Madhyamika nagari'. These coins are of the period first to second century BCE. [5]

An Inscription found at Barli Ajmer, Barli fragmentary Inscription of 443 BC (Veera Samvat 84), reveals the name of this town as Majhimika. The grammarian Patanjali, contemporary of Pushyamitra Sunga, has mentioned in his mahabhashya the attack of Yavanas Madhyamika along with Saket (Ayodhya) (अरूनद यवनः साकेतम्। अरूनद यवनः माध्यमिका।।).[6]

Varahamihira (c.6th) and Jaina poet Somadeva (c.10th) have mentioned about this ancient city. Historians believe that Madhyamika was the capital of Mauryas before Maurya King Chitranga (Chitrangada) founded Chitrakota (Chittor) in 7th century. Gauri Shankar Hira Chand Ojha has mentioned that when the Madhyamika city was abandoned the then rulers took big stones and other material from the ruins of Madhyamika for construction of Baoris, Palaces etc. One such example is Rani Shrangari Devi wife of Maharana Raimal used the stones from Madhyamika to build a Baori at Ghosundi. [7]

Nagri, a slice of history lies in neglect

Ref - http://timesofindia.indiatimes.com/city/jaipur/Nagri-a-slice-of-history-lies-in-neglect/articleshow/47196064.cms

Here is content from A times of India, Jaipur Report dated 8 May 2015 about Nagri -

Nagri is like any other village in Rajasthan. A settlement of around 50 houses, with a road barely wide enough to accommodate one tractor, running right in the middle of it. Elderly men in white and with colourful pagris sit around, smoking and discussing farmers' death.

The women, with their ghunghat covering their entire faces, go about their job of collecting water from the tube well. Nothing unusual about this village, apart from the fact that it is sitting on a huge slice of history.

The nondescript Nagri of today was once a flourishing town called Madhyamika, of the Mauryan era that remained a centre of power till the Gupta dynasty. That would be around the second century BC, when the Bairach River, on whose bank it was built, would have been a raging body of water. Off National Highway No. 76 as the road travels from Chittorgarh to Kota, there is little to indicate that this chunk of Indian history is lying so close by, begging for attention.

The archeological Survey Of India has fenced off a little portion, where some of the excavation work has taken place, but that does not stop cows from grazing, children from playing and the fun-loving local youth from spending a night of merriment. That has resulted in quite a bit of artifacts from that era being destroyed or taken away.

"Children have found pottery here, which they used as toys," a local informs. The only structure standing is a temple of Shiva. Around it, stone sculptures of the Mauryan era are lying in complete neglect. Smaller pieces have been taken away.

"Earlier, we could see portions of buildings jutting out of the ground," a villager says. But then, with trees being planted and the area being levelled off, not much of those can be seen now. However, the two watchmen deputed there claim that after rains when the place is being cleaned, ancient coins can still be found.

"We came across a lot of coins and earthen pottery when we were planting trees," one of the watchmen said. A villager even came forth to show his collection of coins that he had found there.

Every house in the village apparently has such coins and items that should have been in museums to showcase the rich heritage that India boasts of. Quite a few of them have been sold to foreign tourists, who are ever willing to take back with them pieces of India's history that Indians themselves care little about.

Tourists are mainly "white people", a villager informs. "Not many Indians come this way. It is the whites who show a lot of interest in the history of our village. They also seem to know a lot about Madhyamika."

There is some ambiguity in the manner of Madhyamika's destruction. Some say an invading king flattened everything in sight. Others talk of a curse on this land. While a smaller group even talk of an earthquake flipping the town over.

Perhaps this is where the great Mewar culture originated, with Chittorgarh and Udaipur coming up much later. Yet, this place lies in utter neglect, despair and completely forgotten.

Nagri, clearly deserves a lot more attention and respect.

नगरी चित्तौड़

नगरी (चित्तौड़ राजस्थान) (AS, p.475): विजयेन्द्र कुमार माथुर[8] ने लेख किया है ... [p.475] प्राचीन माध्यमिक नगरी का पूरा नाम तंबवती नगरी था. नगरी का [p.476]: माध्यमिका से अभिज्ञान नगरी में प्राप्त द्वितीय सदी ई.पू. के कुछ सिक्कों पर निर्भर है. इन पर 'मझमिकाय शिवजनपदस्य' लेख उत्कीर्ण है. माध्यमिका के शिवि शायद उशीनर देश से यहां आकर बस गए होंगे. नगरी के खंडहरों में एक स्तूप और एक गुप्तकालीन तोरण के अवशेष मिले हैं. चित्तौड़ का निर्माण बहुत कुछ नगरी के ध्वंसावशेषों की सामग्री से हुआ था. (दे. मध्यमिका)

नगरी चित्तौड़ का उत्खनन

नगरी राजस्थान राज्य के चित्तौरगढ़ ज़िले से 18 किमी दूर स्थित एक ऐतिहासिक गाँव है। नगरी का समीकरण पाणिनि की अष्टाध्यायी में उल्लिखित माध्यमिका से किया गया है। इसकी सर्वप्रथम खोज 1872 ई. में कार्लाइल द्वारा की गयी थी।[9]

1919-20 में डॉ. आर. भण्डारकर द्वारा इस स्थान का उत्खनन कराया गया, जिसमें अनेक लेखयुक्त शिलाएँ, मृण्मूर्तियाँ, प्रतिमाएँ, अंलकरणयुक्त ईंटे, जिनमें पक्षियों की आकृतियाँ बनी हैं, ग्रीक-रोमन, प्रभाव से युक्त पुरुष शीर्ष, आहत एवं शिवि जनपद के सिक्के उपलब्ध हुए हैं। भण्डारकर के अनुसार माध्यमिका के शिविजनों ने यह लेख उन शिवि लोगों से अपनी पृथक् सत्ता प्रमाणित करने के लिए लिखा है, जो पंजाब में रहते थे। नगरी के उत्खनन के आधार पर प्राचीन स्थापत्य कला के नमूने भी उपलब्ध हुए हैं, जिनमें हाथी बाड़ा नामक अहाता विशेष रूप से उल्लेखनीय है। यह अहाता बड़े-बड़े पाषाण खण्डों से निर्मित था।[10]

पुनः उत्खनन: 1961-62 में नगरी में पुनः के.वी. सौन्दरराजन द्वारा उत्खनन कराया गया। इसके आधार पर यह जानकारी मिली है कि प्राचीन नगरी बस्ती की सुरक्षा के लिए एक दीवार बनायी गयी है। इसका निर्माण सम्भवतः ईसा की प्रारंभिक सदियों में हुआ था। कुषाण काल से सम्बन्ध रखने वाले चक्रकूप भी इस खुदाई में प्राप्त हुए। खुदाई में आहत सिक्के, मनके, शुंग तथा गुप्त शैली की मृण्मूर्तियाँ उपलब्ध हुई हैं। उत्खनन से प्राप्त साक्ष्यों के आधार पर यह सिद्ध होता है कि मौर्योत्तर काल में यह स्थल महत्त्वपूर्ण नगर का रूप ले चुका था। वैसे माध्यमिका का सर्वाधिक प्राचीन उल्लेख हमें महाभारत में मिलता है। इसका विवरण सभापर्व में नकुल की दिग्विजय यात्रा के सन्दर्भ में मिलता है, जिसमें माध्यमिका को जनपद की संज्ञा दी गई है।[11]

मध्यमिका

मध्यमिका (AS, p.709): विजयेन्द्र कुमार माथुर[12] ने लेख किया है ...मध्यमिका चित्तौड़ राजस्थान से 8 मील उत्तर की ओर स्थित नगरी नामक प्राचीन बस्ती को प्राचीन साहित्य की मध्यमिक का माना जाता है. महाभारत सभा पर्व 32,8 में इस नगरी जिसमें वाटधान द्विजों का निवास था, के नकुल द्वारा विजित किए जाने का उल्लेख है--'तथा मध्यमिकायांश्चैव वाटधानान् द्विजानथ पुनश्च परिवृत्याथ पुष्करारण्यवासिनः' (II.29.7)

पतंजलि के महाभाष्य-- 'अरुनद्यवन: साकेतम्, अरुनद्यवन: मध्यमिकाम्' से सूचित होता है कि पतंजलि के समय में किसी यवन का ग्रीक आक्रमणकारी ने साकेत (अयोध्या का उपनगर) और मध्यमिका का घेरा डाला था. श्री डी.आर. भंडारकर के मत में पतंजलि पुष्यमित्र शुंग के काल में हुए थे ( दूसरी सती ई.पू.). इस यावन आक्रांता को कुछ विद्वानों ने मीनेंडर या बौद्ध साहित्य का मिलिंद (मिलिंदपन्हो ग्रंथ में उल्लिखित) माना है. गार्गी संहिता में भी संभवत: इस आक्रमण का उल्लेख है.

नगरी का माध्यमिका से अभिज्ञान नगरी में प्राप्त द्वितीय सदी ई.पू. के कुछ सिक्कों पर निर्भर है. इन पर 'मझमिकाय शिवजनपदस्य' लेख उत्कीर्ण है. माध्यमिका के शिवि शायद उशीनर देश (जिला सहारनपुर, उ.प्र.) के प्राचीन शिवि वंश की शाखा माने जा सकते हैं जो अपने मूल स्थान से से यहां आकर राजस्थान में बस गए होंगे. [p.710]: नगरी के खंडहरों में एक स्तूप और एक गुप्तकालीन तोरण के अवशेष मिले हैं. चित्तौड़ का निर्माण बहुत कुछ नगरी के ध्वंसावशेषों की सामग्री से हुआ था. (दे. नगरी चित्तौड़ )

जेत्तुतर

जेत्तुतर (AS, p.369): विजयेन्द्र कुमार माथुर[13] ने लेख किया है ... बौद्ध ग्रंथ 'अभिधानप्पदीपिका' में दी हुई बीस नगरों की सूचि में उल्लिखित एक स्थान था, जो श्री नं. ला. डे के मत में मध्यमिका या चित्तौड़ के निकट रहा होगा। इतिहासकार हेमचन्द्र रायचौधरी ने जेत्तुतर को 'शिविराष्ट्र' का नगर माना है। जेत्तुतर का उल्लेख 'वेस्संतरजातक' में भी है। अलबेरूनी ने इसे 'जात्तरौर' कहा है और मेवाड़ की राजधानी बताया है। (अलबेरूनी, पृ. 202)

तंबवती नगरी

शिवि जनपद की राजधानी

ठाकुर देशराज [15] ने लिखा है....शिवि खानदान बहुत पुराना है। वैदिक काल से लेकर किसी न किसी रूप में सिकंदर के आक्रमण के समय तक इनका जिक्र पाया जाता है। पुराणों ने शिवि लोगों को उशीनर की संतानों में से बताया है। राजा ययाति के पुत्रों में यदु, पुरू, तुर्वषु, अनु और द्रुहयु आदि थे। उशीनर ने अनु खानदान के थे। पुराणों में इनकी जो वंशावली दी है वह इस प्रकार है:- 1. चंद्र 2. बुद्ध 3. पुरुरवा 4. आयु 5. नहुष 6. ययाति* 7. (ययाति के तीसरे पुत्र) अनु 8. सभानर 9. कालनर 10. सृजय 11. जन्मेजय 12.


* कुछ लोग राजा ययाति की राजधानी शाकंभरी अर्थात सांभर झील को मानते हैं जो कि इस समय जयपुर जोधपुर की सीमा पर है।


[पृ.92]

महाशील 13. महामना 14. महामना के दूसरे पुत्र उशीनर और 15. उशीनर के पुत्र शिवि। प्रसिद्ध दानी महाराज शिवि की कथाओं से सारी हिंदू जाति परिचित है।* ईसा से 326 वर्ष पूर्व जब विश्वविजेता सिकंदर का भारत पर आक्रमण हुआ था, उस समय शिवि लोग मल्लों के पड़ोस में बसे हुए थे। उस समय के इनके वैभव के संबंध में सिकंदर के साथियों ने लिखा है:- "कि इनके पास 40,000 तो पैदल सेना थी।" कुछ लोगों ने पंजाब के वर्तमान शेरकोट को इनकी राजधानी बताया है।हम 3 स्थानों में इनके फैलने का वर्णन पाते हैं। आरंभ में तो यह जाति मानसरोवर के नीचे के हिस्से में आबाद थी। फिर यह उत्तर-पूर्व पंजाब में फैल गई। यही पंजाब के शिवि लोग राजपूताना में चित्तौड़ तक पहुंचते हैं। जहां इनकी मध्यमिका नगरी में राजधानी थी। यहां से इनके सिक्के भी प्राप्त हुए हैं जिन पर लिखा हुआ है- 'मज्झिम निकाय शिव जनपदस'


दूसरा समुदाय इनका तिब्बत को पार कर जाता है जो वहां शियूची नाम से प्रसिद्ध होता है। कई इतिहासकारों का कहना है कि कुशान लोग शियूची जाति की एक शाखा थे।


* शिवि जाति के कुछ प्रसिद्ध राजाओं का हाल परिशिष्ट में पढ़िए।

यह शेरकोट पहले शिविपुर कहलाता था। कुछ लोग धवला नदी के किनारे के शिवप्रस्थ को शिवि लोगों की राजधानी मानते हैं।


[पृ.93]

महाराजा कनिष्क कुशान जाति के ही नरेश थे।

तीसरा दल इनका जाटों के अन्य दलों के साथ यूरोप में बढ़ जाता है। स्केंडिनेविया और जटलैंड दोनों ही में इनका जिक्र आता है। टसीटस, टोलमी, पिंकर्टन तीनों ही का कहना है कि-" जट्टलैंड में जट लोगों की 6 जातियां थी। जिनमें सुएवी, किम्ब्री हेमेन्द्री और कट्टी भी शामिल थीं, जो एल्व और वेजर नदियों के मुहाने तक फैल गईं थीं। वहां पर इन्होंने युद्ध के देवता के नाम पर इमर्नश्यूल नाम का स्तूप खड़ा किया था।” बौद्ध लोगों का कहना है कि भगवान बुद्ध तथागत ने पहले एक बार शिवि लोगों में भी जन्म लिया था। इन लोगों में हर-गौरी और पृथ्वी की पूजा प्रचलित थी। संघ के अधिपति को गणपति व गणेश कहते थे। इनकी जितनी भी छोटी-छोटी शाखाएं थी वह जाति राष्ट्र में सम्मिलित हो गई थी।

आरंभकाल में भारत में शिवि लोगों को दक्ष लोगों से भी भयंकर युद्ध करना पड़ा था। वीरभद्र नाम का इनका सेनापति दक्षनगर को विध्वंस करने के कारण ही प्रसिद्ध हुआ था। एक बार इन में गृह कलह भी हुआ था। जिसका समझौता इस प्रकार हुआ कि हस्ति शाखा के प्रमुख को पार्लियामेंट का इनको सर्वसम्मति से प्रधान चुनना पड़ा।* मालूम ऐसा होता है


* पुराणों में यह कथा बड़े गोलमोल के साथ वर्णन की गई है। हस्ति कबीले के लोग पीछे काबुल नदी के किनारे बसे थे। उनका हस्तीनगर आजकल न्यस्तन्यस कहलाता है।


[पृ.94]

शिवि लोगों के संघ में जब कि वह जाति राष्ट्र के रूप में परिवर्तित हुआ सभी शिवि लोग शामिल हो गए थे। यह भी सही बात है कि नाग लोग भी शिव लोगों की ही शाखा के हैं। क्योंकि पूनिया जाट कहा करते हैं कि आदि जाट तो हम हैं और शिवजी की जटाओं से पैदा हुए हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि शिवि जाटों की संख्या एक समय बहुत थी। क्योंकि सिकंदर के समय में 40 हजार तो उनके पास पैदल सेना ही थी। यदि हम दस आदमियों पीछे भी एक सैनिक बना दे तो इस तरह वे 4 लाख होते हैं और जबकि उनके दो बड़े-बड़े समूह चीन और यूरोप की ओर चले गए थे। यदि समस्त शिवि जाटों की अंदाज से ही गिनती करें तो वह 10 लाख के करीब साबित हो सकते हैं।

शायद कुछ लोग कहें कि 'यह माना कि शिवि एक महान और संपन्न जाति भारत में थी किंतु यह कैसे माना जाए किसी भी शिवि लोग जाट थे'? इसका उत्तर प्रमाण और दंतकथा दोनों के आधार पर हम देते हैं।

(1) पहली दंतकथा तो यह है कि जाट शिव की जटाओं में से हुए हैं। अर्थात शिवि लोग जाट थे।

(2) जाट शिव के गणों में से हैं अर्थात गणतंत्री शिवि जाट थे।

(3) जाट का मुख्य शिव ने बनाया, इसके वास्तविक माने यह है कि 'जाट-राष्ट्रों' में प्रमुख शिवि हैं।

यह इन दंतकथाओं के हमारे किए अर्थ न माने जाएं, तब भी इतना तो इन दंतकथाओं के आधार पर स्वीकार करना ही पड़ेगा कि जाट और शिवि लोगों का कोई


[पृ.95]

न कोई संबंध तो है ही। हम कहते हैं कि संबंध यही है कि शिवि लोग जाट थे। इसके लिए प्रमाण भी लीजिए। "ट्राइब्स एंड कास्ट्स ऑफ द नॉर्थ वेस्टर्न प्रोविन्सेज एंड अवध" नामक पुस्तक में मिस्टर डबल्यू क्रुक साहब लिखते हैं:

The Jats of the south-eastern provinces divide them selves into two sections - Shivgotri or of the family of Shiva and Kashyapagotri.

अर्थात् - दक्षिणी पूर्वी प्रान्तों के जाट अपने को दो भागों में विभक्त करते हैं - शिवगोत्री या शिव के वंशज और कश्यप गोत्री ।

इसी तरह की बात कर्नल टॉड भी प्रसिद्ध इतिहासकार टसीटस (Tacitus) के हवाले से लिखते हैं:- "स्कंदनाभ देश में जट नामक एक महापराक्रमी जाति निवास करती थी। इस जाति के वंश की बहुत सी शाखाएं थी। उन शाखाओं में शैव और शिवि लोगों की विशेष प्रतिष्ठा थी। "

हिंदुओं के प्राचीन ग्रंथकारों ने शिवि लोगों को शैवल और शैव्य कर के भी लिखा है। इनमें कई सरदार बड़े प्रतापी हुए हैं। उनके जीवन पर परिशिष्ट भाग में थोड़ा सा प्रकाश डालेंगे।

In Mahabharata

Madhyamikaya (मध्यमिकाय) is mentioned in Mahabharata (II.29.7), (II.48.13) (?),


Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 29 mentions the Countries subjugated by Nakula in West. Madhyamikaya (मध्यमिकाय) is mentioned in Mahabharata verse (II.29.7). [16].... And the son of Pandu left that part of the country having subjugated the Dasarnas, the Sivis, the Trigartas, the Amvashtas, the Malavas, the five tribes of the Karnatas, and those twice born classes that were called the Madhyamikayas and Vatadhanas.

External Links

External links

References

  1. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.232
  2. K.P.Jayaswal, Hindu Rajtantra (Hindi translation of his Hindu polity) Khanda I, Prakarana 5, 4th ed. Varansi 1977
  3. Maheswari Prasad, Jats in Ancient India, Jats, I, Ed. Dr Vir Singh, 2004, p. 22
  4. Maheswari Prasad, Jats in Ancient India, Jats, I, Ed. Dr Vir Singh, 2004, p. 28, f.n. 5
  5. Thakur Deshraj - Jat Itihas (Hindi), Maharaja Suraj Mal Smarak Shiksha Sansthan, Delhi, 1934, 2nd edition 1992 p. 161
  6. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 155
  7. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 156
  8. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.475-76
  9. भारतकोश-नगरी चित्तौड़
  10. भारतकोश-नगरी चित्तौड़
  11. भारतकोश-नगरी चित्तौड़
  12. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.709
  13. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.369
  14. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.386
  15. Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Pancham Parichhed, pp.91-95
  16. तथा मध्यमिकायांश च वाटधानान द्विजान अद, पुनश च परिवृत्याद पुष्करारण्यवासिनः

Back to Jat Villages