Pava

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)
Bihar Sharif on Nalanda District Map

Pava (पावा) was an city in ancient India, at the time of Gautama Buddha. It was a city of the Mallas which the Buddha visited during his last journey, going there from Bhogagama and staying at Cunda's mango grove. It is present city known as Fazilnagar in Kushinagar district, Uttar Pradesh.

Location

पावापुरी का अभिज्ञान बिहार शरीफ़ रेलवे स्टेशन (बिहार) से 9 मील पर स्थित पावा नामक स्थान से किया गया है। यह स्थान राजगृह से दस मील दूर है।[1]

Pava (Fazilnagar) on Kushinagar District Map

Pava is located about 15 kms east of Kushinagar in Uttar Pradesh on NH-28. At present known as Fazilnagar also known as Pawanagar or Pawapuri ,is a block in Kushinagar district of Uttar Pradesh, India. It is a block of Kasia Tehsil , one of the four tehsils in Kushinagar. It is 55 km from Deoria and 69 km from Gorakhpur.

Variants of name

Mention by Panini

Pava (पावा) is mentioned by Panini in Ashtadhyayi. [2]

Jat clans

Pawa is a Gotra of the Anjana Jats in Gujarat.

History

V. S. Agrawala[3] writes that Panini mentions Pāvā (पावा) (IV.2.97) - probably Pāwā of the Pali text, capital of the Malla Country.


Pavapuri and Kushinara were the twin capital of Mall dynasty which was part 16 Mahajanpads of ancient India.

It is believed that Lord Buddha, while going to Kushinagar from Vaishali, stayed here over night to accept meals from one of his disciples Chunda. There is also a tale which says Lord Buddha died here. Cunda lived in Pava and invited the Buddha to a meal, which proved to be his last. It was on this occasion that the Cunda Sutta was preached.[4] From Pava the Buddha journeyed on to Kushinagar, crossing the Kakkuttha River on the way[5]

According to the Sangiti Sutta, at the time the Buddha was staying at Pava, the Mallas had just completed their new Mote hall, Ubbhataka, and, at their invitation, the Buddha consecrated it by first occupying it and then preaching in it. After the Buddha had finished speaking, Sariputta recited the Sangiti Sutta to the assembled monks.

After the Buddha's death, the Mallas of Pava claimed a share in his relics. The Brahmin Dona satisfied their claim, and a Stupa was erected in Pava over their share of the relics.[6]

अपापापुर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[7] ने लेख किया है ...अपापापुर (AS, p.28) बिहार शरीफ़ स्टेशन से 9 मील पर स्थित है। अंतिम जैन तीर्थकर महावीर के मृत्युस्थान के रूप में यह स्थान इतिहास-प्रसिद्ध है। महावीर की मृत्यु 72 वर्ष की आयु में अपापापुर के राजा हस्तिपाल के लेखकों के कार्यालय में हुई थी। उस दिन कार्तिकमास के कृष्णपक्ष की अमावस्या थी। विविध तीर्थकल्प के अनुसार अंतिम जिन या तीर्थकर महावीर की वाणी इस स्थान के निकट स्थित एक पहाड़ी की गुफा में गूंजती थीं इस जैन ग्रन्थ के अनुसार महावीर जृंभिका से महासेन वन में आए थे। यहां उन्होंनें दो दिन के उपवास के पश्चात् अपना अंतिम उपदेश दिया और राजा हस्तिकाल के करागृह में पहुंच कर निर्वांण प्राप्त किया।

पावापुरी

विजयेन्द्र कुमार माथुर[8] ने लेख किया है ... पावापुरी = पावा = आपापा = पापापुर (AS, p.555): जैन-परंपरा के अनुसार अंतिम तीर्थंकर महावीर का निर्वाण स्थल है. 13वीं शती ई. में जिनप्रभसूरी ने अपने ग्रंथ विविध तीर्थ कल्प रूप में इसका प्राचीन नाम अपापा बताया है। पावापुरी का अभिज्ञान बिहार शरीफ़ रेलवे स्टेशन (बिहार) से 9 मील पर स्थित पावा नामक स्थान से किया गया है। यह स्थान राजगृह से दस मील दूर है। महावीर के निर्वाण का सूचक एक स्तूप अभी तक यहाँ खंडहर के रूप में स्थित है। स्तूप से प्राप्त ईटें राजगृह के खंडहरों की ईंटों से मिलती-जुलती हैं। जिससे दोनों स्थानों की समकालीनता सिद्ध होती है।

महावीर की मृत्यु 72 वर्ष की आयु में अपापा के राजा हस्तिपाल के लेखकों के कार्यालय में हुई थी। उस दिन कार्तिक की अमावस्या थी। पालीग्रंथ संगीतिसुत्तंत में पावा के मल्लों के उब्भटक नामक सभागृह का उल्लेख है। स्मिथ के अनुसार पावापुरी जिला पटना (बिहार) में स्थित थी. कनिंघम [9] के मत में जिसका आधार शायद बुद्धचरित [25, 52] में कुशीनगर के ठीक पूर्व की ओर पावापुरी की स्थिति का उल्लेख है, कसिया जो प्राचीन कुशीनगर के नाम से विख्यात है, से 12 मील दूर पदरौना नामक स्थान [p.556]: ही पावा है। जहाँ गौतम बुद्ध के समय मल्ल-क्षत्रियों की राजधानी थी। जीवन के अंतिम समय में तथागत ने पावापुरी में ठहरकर चुंड का सूकर-माद्दव नाम का भोजन स्वीकार किया था। जिसके कारण अतिसार हो जाने से उनकी मृत्यु कुशीनगर पहुँचने पर हो गई थी। (बुद्धचरित 25,50)

कनिंघम ने पावा का अभिज्ञान कसिया के दक्षिण पूर्व में 10 मील पर स्थित फ़ाज़िलपुर नामक ग्राम से किया है। [10] जैन ग्रंथ कल्पसूत्र के अनुसार महावीर ने पावा में एक वर्ष बिताया था। यहीं उन्होंने अपना प्रथम धर्म-प्रवचन किया था, इसी कारण इस नगरी को जैन संम्प्रदाय का सारनाथ माना जाता है।

पावापुरी परिचय

स्थिति: बिहारशरीफ़ से 8 किमी दक्षिण-पूर्व पावापुरी जैनियों का प्रमुख तीर्थस्थल है। यहीं जैन धर्म के प्रवर्तक महावीर जी ने निर्वाण प्राप्त किया था। पटना से 104 किलोमीटर और नालन्दा से 25 किमी दूरी पर स्थित है। यहाँ का जल मन्दिर, मनियार मठ तथा वेनुवन दर्शनीय स्थल हैं।

महावीर स्वामी द्वारा जैन संघ की स्थापना पावापुरी में ही की गई थी। यहाँ कमल तालाब के बीच जल मंदिर विश्व प्रसिद्ध है। सोमशरण मंदिर, मोक्ष मंदिर और नया मन्दिर भी दर्शनीय हैं।

पावापुरी पटना-राँची मार्ग पर एक गाँव है, जो जैनियों का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। जैन मान्यता के अनुसार इसी स्थान पर महावीर स्वामी ने मोक्ष प्राप्त किया था। जहाँ महावीर स्वामी ने मोक्ष पाया था, वहां 'थल मंदिर' और जहां वे जलाए गए थे, वहां 'जल मंदिर' बना है।[11]

मल्ल: ठाकुर देशराज

ठाकुर देशराज[12] ने लिखा है.... मल्ल - [पृ.100]: सिकंदर के साथियों ने इन्हें मल्लोई ही लिखा है। हिंदुस्तान के कई इतिहासकारों को उनके संबंध में बड़ा भ्रम हुआ है। वह इन्हें कहीं उज्जैन के आसपास मानते हैं। वास्तव में यह लोग पंजाब में रावी नदी के किनारे पर मुल्तान तक फैले हुए थे। फिरोजपुर और बठिंडा के बीच के लोग अपने प्रदेश को मालवा कहते हैं। बौद्ध काल में हम लोगों को चार स्थानों


[पृ.101]: पर राज्य करते पाते हैं-- पावा, कुशीनारा, काशी और मुल्तान। इनमें सिकंदर को मुल्तान के पास के मल्लों से पाला पड़ा था। इनके पास 90000 पैदल 10000 सवार और 900 हाथी थे। पाणिनी ने इन्हें आयुध जीवी क्षत्रिय माना है। हमें तो अयोधन और आयुध इन्हीं के साथी जान पड़ते हैं। जाटों में यह आज भी मल, माली और मालवन के नाम से मशहूर हैं। एक समय इनका इतना बड़ा प्रभाव हो गया था इन्हीं के नाम पर संवत चल निकला था। इनके कहीं सिक्के मिले जिन पर 'मालवानाम् जय' लिखा रहता है। ये गणवादी (जाति राष्ट्रवादी) थे। इस बात का सबूत इन के दूसरे प्रकार के उन सिक्कों से भी हो जाता है जिन पर 'मालव गणस्य जय' लिखा हुआ है। जयपुर के नागर नामक कस्बे के पास से एक पुराने स्थान से इनके बहुत से सिक्के मिले थे। जिनमें से कुछ पर मलय, मजुप और मगजस नाम भी लिखे मिले हैं। हमारे मन से यह उन महापुरुषों के नाम हैं जो इनके गण के सरदार रह चुके थे। इन लोगों की एक लड़ाई क्षत्रप नहपान के दामाद से हुई थी। दूसरी लड़ाई समुद्रगुप्त से हुई। इसी लड़ाई में इनका ज्ञाति राष्ट्र छिन्न-भिन्न हो गया और यह समुद्रगुप्त के साम्राज्य में मिला लिया गया इनके सिक्के ईसवी सन के 250-150 वर्ष पूर्व माने जाते हैं।

Jat Clans

Jat History

Ram Swarup Joon[13] writes about Malha, Malo or Malli: The Malhi and Malo republics and clans have been mentioned in the accounts of Alexander's invasion.

The Rock inscription of Malha Jats of the period of Panini (6th century BCE) refers to their four kingdoms Kashnara, Pava, Multan and Varansi.

A rock inscription of Nagaragram in Jaipur speaks of Jaimalo.

The area of Malwa comes to be known as such after their name.

A large number of Malha Jats is in Malwa today.

Muslim and Sikh Malhi Jats is found in large numbers in Jhang, Multan and Sialkot. In Sialkot they have 25 villages in a compact area.


Centre of Jainism

It is believed as the place where Lord Mahavir attained Nirvana. Pava was also a centre of Jainism and, at the time mentioned above, Mahavira had just died at Pava and his followers were divided by bitter wrangles.[14] Cunda Samanuddesa was spending his rainy season at Pava, and he reported to the Buddha, who was at Samagama, news of the Nirgranthas’ quarrels.[15]

External links

References

  1. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.555
  2. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p. 72
  3. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.72
  4. SNA.i. 159
  5. D.ii.126 ff.; Ud.viii.5; the road from Pava to Kushinagar is mentioned several times in the books Vin.ii.284; D.ii.162.
  6. D.ii.167; Bu.xxviii.3
  7. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.28
  8. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.555
  9. (ऐशेंट ज्याग्रेफी आफ इंडिया पृष्ठ 49)
  10. ऐशेंट ज्याग्रेफी ऑव इंडिया पृष्ठ 714
  11. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 562, परिशिष्ट 'ग' |
  12. Thakur Deshraj: Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Pancham Parichhed,p.100-101
  13. Ram Swarup Joon: History of the Jats/Chapter V,p. 94
  14. D.iii.210
  15. D.ii.117f; M.ii.243f