Kushan

From Jatland Wiki
(Redirected from Kushan Empire)
Jump to: navigation, search
Kushan Empire

Kushana (कुषाण) Kushan (कुशान)/Kushan (कुशन)/Kushwan (कुशवान)/ Kuswa (कुसवा) [1] is Gotra of Jats. They were rulers in Central Asia. [2]

Origin

They are descendants of Suryavanshi King Kusha (कुश), the son of Rama. In this dynasty there was a King called Kushana (कुषण), from whom started the Kushana vansha.[3]

History

Ram Sarup Joon[4] writes that ....The next Jat tribe to face Alexander was the Kushanas who were 40,000 strong. Alexander had a severe clash with the Jat republics of Jeest and Jatroti. Alexander overwhelmed them. When they lost hope of victory they killed their women and children and fought to the last man.


Ram Swarup Joon[5] writes about Hanga Chaudhary: Hangamas was a General of the Kushan, Yuechi or Tushar kings. Hanga is very well known in history. He belonged to Tushar or Kasvan dynasty and was appointed as the Governor of Mathura. His descendants came to be called Hanga. They have about 80 villages in district of Mathura.


Ram Swarup Joon[6] writes....Kasva appears to be a distorted form of Kushana. They have 350 villages in a compact group in Bikaner. Previously Sidmukh was their capital which was occupied by the Bika and the Godara Jats. Ratangarh and Churu were their territories. They had 2000 camel riders in their army.

Association with present Jat gotras

Ram Sarup Joon[7] writes ... Many names in the Genealogical tables of Yayati are associated with present Jat gotras. Some examples are Ushinar, Shishu Bhadra, Tak or Takshak, Satoti, Krishan or Kushana from the Yadhu branch; Dushyanta, Bharat, Bhardwaja, Hasti, Ajmirh, Kaushik, Gadh and Vishwamitra of Puru branch; Seth, Arh, Gandhi, Gaindhu and Gandhar of the Ardas branch.

Kushana Empire

Rajatarangini[8] tells us that there were on the throne of Kashmira three kings reigning jointly, namely, Hushka, Jushka and


[p.13]: Kanishka ; they built three cities and called these after their names, Jushka also caused a monastery to be built and another town named Jayasvamipura. Though they were of Turashka origin, they yet built several monasteries and places of worship on the plains of Shushkaletra. During their long reigns Buddhist hermits were all-power-ful in the country, and Buddhist religion prevailed without opposition. From the death of Buddha Shakyashiha to this time of Lokadhatu, one hundred and fifty years had passed. Nagarjuna a great Boddhisattva then stopped for six days in the woods of Kashmira.

A gold coin of Kushan Empire

The Kushan (कुषाण) Empire (c. 1st–3rd centuries) was a state that at its height, about 105–250, stretched from Tajikistan to Afghanistan, Pakistan and down into the Ganges river valley in northern India. The empire was created by the Kushan tribe of the Yuezhi confederation, a people from the eastern Tarim Basin and Gansu, China, possibly related to the Tocharians. They had diplomatic contacts with Rome, Persia and China, and for several centuries were at the center of exchange between the East and the West.

Kushans are Kaswan Jats

Kushan was a group of Yuezhi people in China. They are considered to be Kaswan Jats of India by various authors.

The clan of Kanishka, Kushan, has been identified to be the present Kaswan clan of Jats.[9] [10] Jat historian Thakur Deshraj writes that Kushans were the people from Krishnavanshi who moved with Pandavas in the great migration after Mahabharata. There is no doubt that Kushan word is derived from sanskrit word karshneya and karshnik. The word is not 'Kushan' but Kaswan clan found in Jats. [11] The Taxila Ladle Copper inscription bears this as 'Kaswin' word. In Mahabharata there is a word Khawakasha which becomes 'Kashwa' when 'Kh' is changed to 'x' and tellies with the word 'kasuwa' of "Panchtar inscription". The word 'Kaswan' is in fact 'XWN' word of Tokharian language which means 'King'. In Mahabharata also there is mention of a country named 'Kuswan' which was situated in the north of Mansarovar lake. [12] [13]


Raja Kharwel in Orissa has mentioned in an article about the rule of Kaswan in 2nd century of Vikram samvat - ‘Hathi Gumpha and three other inscriptions’ (page 24) in Sanskrit as under: “Kusawanam Kshetriyanam cha Sahayyatavatan prapt masik nagaram”. This means that the city of 'Masik' was obtained with the help of 'Kuswa' Kshatriyas [14]

According to historian Bhim Singh Dahiya the correct name for Kushans in India is Kasuan, the present Kaswan clan of Jats of Rajasthan and Haryana. This title remains in use by Jat clan indicates their possibility of ancestral lineage from Kushans. [15]

James Legge mentions in chapter XII about the rule of Kanishka in foot note-4 that “Kanishka appeared, and began to reign, early in our first century, about A.D. 10. He was the last of three brothers, whose original seat was in Yueh-she, immediately mentioned, or Tukhara.” [16]

James Legge further mentions in footnote-6 (chapter XII) that

“This king was perhaps Kanishka himself, Fa-hien mixing up, in an inartistic way, different legends about him. Eitel suggests that a relic of the old name of the country may still exist in that of the Jats or Juts of the present day. A more common name for it is Tukhara, and he observes that the people were the Indo-Scythians of the Greeks, and the Tartars of Chinese writers, who, driven on by the Huns (180B.C.), conquered Transoxiana, destroyed the Bactrian kingdom (126 B.C.), and finally conquered the Punjab, Cashmere, and great part of India, their greatest king being Kanishak (E. H., p. 152).”[17]

According to Thakur Deshraj Yuezhi people lived in north-west China. in 165 BCE there was a war of these people with with Hignu people in which Yuezhi were defeated and they moved to west in search of new lands. One of the groups of Yuezhi people was Kushan. Kadphises united all the five branches of Yuezhi and hence forth they were called Kushan. Thakur Deshraj says that Kushans were the people from Krishnavanshi, who moved with Pandavas in the great migration to north. The word Kushan has been derived from the sanskrit word 'Karshney' or 'Karshnik'. Kushan is nothing but Kaswan gotra found in Jats.

Dr Naval Viyogi considers Kushanas as progenitors of Jats. [18]

List of Kings of Kushana Dynasty (80–225)

Kushan Rulers

Heraios (1-30)

Heraios was probably the first of the Kushan kings. He may have been an ally of the Greeks, and he shared the same style of coinage. Heraios was probably the father of Kujula Kadphises.

Kujula Kadphises (30-80)

According to the Hou Hanshu: "the prince (xihou) of Guishuang (Badakhshan and the adjoining territories north of the Oxus), named Kujula Kadphises attacked and exterminated the four other princes (xihou). He set himself up as king of a kingdom called Guishuang. He invaded Anxi (Parthia) and took the Gaofu (Kabul) region. He also defeated the whole of the kingdoms of Puda, and Jibin (Kapisha-Gandhara). Qiujiuque (Kujula Kadphises) was more than eighty years old when he died."

These conquests probably took place sometime between 45 and 60, and laid the basis for the Kushan Empire which was rapidly expanded by his descendants.

Kujula issued an extensive series of coins and fathered at least two sons, Sadaṣkaṇa (who is known from only one inscription, and may never have ruled), and Vima Taktu.

Kadphizes = king of Kadphis (Kapisa) country. The title Kadphizes is similar to titles Taxiles and Abhisares under which the kings of Taxila and Abhisara were respectively famous in the history of Alexander.[19]

Vima Taktu (80-105)

Bronze coin of Vima Takto. Corrupted Greek legend ΒΑ&ΣΙΛЄΥ ΒΑΣΙΛЄΥΩΝ ΣΩΤΗΡ ΜΕΓΑΣ "Basileu[s] Basileon Sotēr Megas": "The King of Kings, Great Saviour".Vima Takt[u] (or Tak[to]) is mentioned in the Rabatak inscription (see the reference to Sims-william's article below), which states that he was the father of Vima Kadphises, and the grandfather of Kanishka I. He expanded the Kushan Empire into the northwest of the Indian subcontinent. The Hou Hanshu says:

"His [Kujula Kadphises'] son, Yangaozhen (Vima Taktu), became king in his place. He conquered Tianzhu (Northwestern India) and installed a General to supervise and lead it. The Yuezhi then became extremely rich. All the kingdoms call [their king] the Guishuang (Kushan) king, but the Han call them by their original name, Da Yuezhi."

Vima Kadphises (105-127)

Coin of Vima Kadphises


Vima Kadphises was the son of Vima Taktu and the father of Kanishka I. He issued an extensive series of coins and inscriptions.

Kanishka I (127-147)

Gold coin of Kanishka I (c.120 CE).The rule of Kanishka I, the second great Kushan emperor, fifth Kushan king, who flourished for at least 28 years from c. 127, was administered from two capitals: Purushapura (now Peshawar in northern Pakistan) and Mathura, in northern India. The Kushans also had a summer capital in Bagram (then known as Kapisa), where the "Begram Treasure", comprising works of art from Greece to China, has been found. According to the Rabatak inscription, Kanishka was the son of Vima Kadphises, the grandson of Vima Taktu, and the great-grandson of Kujula Kadphises. Kanishka's era is now generally accepted to have begun in 127 on the basis of Harry Falk's ground-breaking research (see Reference section below).

Vāsishka (c. 151 – c. 155)

Havishka (c. 155 – c. 187)

Vasudeva I (c. 191 – 225)

The last of the great Kushan emperors:

  • Kanishka II (c. 226 – 240)
  • Vashishka (c. 240 – 250)
  • Kanishka III (c. 255 – 275)
  • Vasudeva II (c. 290 – 310)


From the 3rd century the Kushan empire began to fragment.

Around 225 Vasudeva I died and the Kushan empire was divided into western and eastern halves. Around 224–240, the Sassanids invaded Bactria and Northern India, where they are known as the Indo-Sassanians.

Around 270, the Kushans lost their territories on the Gangetic plain, where the Gupta Empire was established around 320.

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज

Thakur Deshraj writes -

A Coin of King Huvishka

वासिष्क के पश्चात्, कनिष्क का राज्य उससे छोटे पुत्र हुविष्क को मिला। इसने काश्मीर में अपने नाम से हुष्कपुर नामक नगर बसाया जो कि आज कल उस्कपुर कहलाता है। जब ह्नानचांग काश्मीर गया था, तब इसी हुष्कपुर के बिहार में ठहरा था। मथुरा में एक और भी बिहार था। उसके सिक्के कनिष्क के सिक्कों से भी अधिक संख्या में और विविध प्रकार के पाए जाते हैं। उन सिक्कों में यूनानी, ईरानी और भारतीय, तीनों प्रकार के सिक्कों के चित्र हैं। इसने 120 ई. से 140 ई. सन् तक राज्य किया । कुछ लोग कहते हैं कि इसका शासन-काल 162 ई. से 182 ई. तक था। काबुल, काश्मीर और मथुरा के प्रदेश इसके राज्य में शामिल थे। इसके सोने चांदी के सिक्के मिलते हैं। जिन पर ‘हूएरकस’ लिखा रहता है। (जाट इतिहास:ठाकुर देशराज - पृष्ठ 207)

कुषाण जाट

दलीप सिंह अहलावत[20] लिखते हैं:

कुषाण - जाट इतिहास लेखक ठाकुर देशराज ने पृ० 168 पर लिखा है कि “पाण्डवों के महाप्रस्थान के समय उनके साथ अनेकों यादव साइबेरिया तक पहुंचे और वहां यादवों ने वज्रपुर बसाया। ये लोग चीनी भाषा में यूची अथवा कुशान कहलाये।” यही लेखक आगे पृ० 197-198 पर लिखते हैं कि “राजतरंगिणी का लेखक इन्हें तुरुष्क और आधुनिक विद्वान् यूहूची व यूचियों की एक शाखा मानते हैं। चीनी इतिहासकारों की एक राय यह भी है कि कुशान लोग ‘हिगनू’ लोग हैं। ये लोग हर हालत में जाट हैं। चौ० रामलाल हाला ने भी कुषाणों को जाट लिखा है। कुषाण वे लोग हैं जो पाण्डवों के साथ महाप्रस्थान में कृष्णवंशियों में से गये थे। कृष्णवंशियों को संस्कृत में कार्ष्णेय तथा कार्ष्णिक कहा है जिसका अपभ्रंश शब्द कुशन बन गया जो जाटों के अन्तर्गत पाये जाने वाले कुशवान या कुशान गोत्र हैं।” आगे यही लेखक पृ० 199 पर लिखते हैं कि “भारतवर्ष में जाट राज्य के लिए ‘जाटशाही’ का प्रयोग किया जाता है और कुशानवंशी राजाओं के लिए भी ‘शाही’ अथवा ‘शहनशाही’ का प्रयोग किया जाता था। देवसंहिता में जाटों को देव या देवताओं के समान लिखा है। कुशानवंशी राजाओं के लेखों में इनकी उपाधि देवपुत्र लिखी हुई मिलती है।”

“मध्य एशिया तथा चीन में भारतीय संस्कृति”, लेखक सत्यकेतु विद्यालंकार ने पृ० 164 पर लिखा है कि “कुषाणवंशी राजा युइशि (जाट) थे।”

“(जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज” में बी० एस० दहिया ने पृ० XI पर लिखा है कि “कुषाण लोगों का शुद्ध नाम कसवांन है तथा इस गोत्र के जाट आज भी हरयाणा व राजस्थान प्रान्तों में विद्यमान हैं।” आगे इसी लेखक ने पृ० 32 पर लिखा है कि वी. वाई. जेजन्कोव (Y.V. Zezenkova) ने ‘कुषाण स्टड्डीज इन यू. एस. एस. आर.’ के पृ० 150-151 पर लिखा है कि “कुषाण लोग आर्यवंशज हैं।” इन उदाहरणों से सिद्ध हो जाता है कि कुषाण लोग जाट थे।

कुषाणवंश जाटराज्य (सन् 40 ई० से 220 ई० तक)

दलीप सिंह अहलावत[21] ने लिखा है:

कुषाणवंश के प्रकरण में उदाहरण देकर प्रमाणित किया है कि कुषाण लोग जाट थे। इनके राज्य की स्थापना तथा राज्य-विस्तार के विषय में लिखा जाता है।

चीनी इतिहासज्ञ शीकीचेंगा के अनुसार यू-ची (जाट) लोग चीन के प्रान्त कांसू में रहते थे। हिंगनू (जाटवंश) जो बाद में हूण कहलाये, उनके पड़ौसी थे। आरम्भ में जाट बड़े शक्तिशाली थे और हिंगनू लोगों को दुर्बल समझते थे। किन्तु आने वाले समय में जब तोयुमान का पुत्र माऊदून इन हिंगनू (हूणों) लोगों का एक शक्तिशाली शासक बना तब उसने जाटों पर आक्रमण करके हरा दिया। उसने अपनी इस विजय की सूचना एक पत्र द्वारा 176 ई० पू० में चीन के सम्राट् को दी।

हिंगनू (हूणों) के दबाव से जाट लोग दक्षिण और पश्चिम की ओर चले गये। इनके दो बड़े विभाग थे जिनमें से एक का नाम चीनी भाषा में “ता-यूची” तथा यूनानी एवं यूरोपियन भाषा में “मस्सा-गेटाई” था। दोनों का अर्थ शक्तिशाली जाटसंघ है। दूसरे विभाग का नाम चीनी भाषा में “सीऊ-यूची” और यूनानी एवं यूरोपियन भाषा में थीस्सा-गेटाई था। दोनों का अर्थ छोटा जाटसंघ है। थीस्सागेटाई तिब्बत की ओर चले गये और मस्सागेटाई पश्चिम की ओर गये।

मस्सागेटाई लोगों ने बैक्ट्रिया (बल्ख) तथा उसके समीपवर्ती प्रदेशों में पहली सदी ई० पू० में अपने पांच राज्य स्थापित किये। इन राज्यों में एक राज्य कुषाणवंश के जाटों का था। 40 ई० में इस कुषाण राज्य का शासक “कुजुल कफस कदफिसस” नामक वीर पुरुष हुआ। उसने धीरे-धीरे अन्य चार जाटों के राज्यों को जीत लिया और अपने प्रभाव से सब पांचों शाखाओं को एक कर


1. मध्यएशिया तथा चीन में भारतीय संस्कृति, पृ० 92, 93, 94 लेखक सत्यकेतु विद्यालंकार।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-366


दिया। तभी से वे सब जाट शाखायें कुषाण कहलाने लगीं। उसने हिन्दुकुश पर्वतमाला को पार करके काबुल, कन्धार पर आक्रमण किए और वहां से पार्थियन (पल्लव जाट) लोगों के शासन का अन्त कर दिया। इस तरह से इसका राज्य बैक्ट्रिया और फारस की सीमा से अफगानिस्तान तक फैल गया1

कुजुल कफस कट्फिसस (सन् 40 से 78 ईस्वी तक) -

इस सम्राट् ने भारतवर्ष से बाहिर मध्यएशिया में सन् 40 ई० में कुषाण साम्राज्य की नींव रखी और इसका विस्तार किया। उस समय में कुषाणवंश अन्य सब जातियों से प्रसिद्ध हो गया। इस सम्राट् के अधीन बैक्ट्रिया आ गया जहां पर राजधानी बनाकर आक्रमण आरम्भ कर किए। इसने बोखारा, बलोचिस्तान, सिंध नदी और ईरान की सीमा के बीच के सब प्रदेश जीत लिये और पार्थियन (पल्लव जाट) राज्य को समाप्त कर दिया। इसने सूर्य, शिवि, नन्दी सहित देवता, बुद्ध मूर्ति और खड़े होकर आहुति देने के अपने चित्र सहित तांबे और कांशी के सिक्के प्रचलित किए। कई सिक्के जो काबुल, गाजीपुर (यू० पी०), कच्छ काठियावाड़ आदि से प्राप्त हुए उनमें खरोष्ठी लिपि में लिखा हुआ मिला है - “कुजुल कफ्सस सचध्रमदिसस”, “कुषनम युवस कुजुल कफसस सचध्रमदिसस।” एक सिक्के पर उसके नाम के साथ ‘महरजस’, ‘रय रयस’ और ‘देवपुत्रस’ विशेषण भी दिए गए हैं, जो कि संकेत करता है कि उसने बौद्धधर्म को अपना लिया था। इस नरेश का 80 वर्ष की आयु में सन् 78 ईस्वी में स्वर्गवास हो गया।

विम कदफिसस द्वितीय (सन् 78 से 110 ईस्वी तक) -

कुजुल कफस कदफिसस की मृत्यु होने पर उसका पुत्र विम कदफिसस द्वितीय राजगद्दी पर बैठा। इसने पंजाब में कई यूनानी और शक (जाट) राजाओं को जीत लिया। इसने उत्तरी भारत में बनारस तथा दक्षिण में नर्मदा नदी तक अपने कुषाण साम्राज्य को बढ़ाया।

इस नरेश ने चीनी सम्राट् की राजकुमारी से विवाह करने का प्रस्ताव भेजा। परन्तु चीनियों ने इसके दूतों को अपमानित किया। इसी कारण इस सम्राट् ने अपने 70 सहस्र सैनिक भेजकर चीनी सम्राट् की राजकुमारी छीनने के लिए चढ़ाई कर दी। चीन की सेना के शूरवीर सेनापति पान-छाओ ने कुषाण सेना को असफल कर दिया। इसके बाद चीन-भारत के आपसी सम्बन्ध बिगड़ गए।

इस नरेश ने अन्य देशों तथा रोम साम्राज्य के साथ भारतीय व्यापार स्थापित करके भारत की माली हालत को उन्नत किया। इसने सोने एवं चांदी के सिक्के प्रचलित किए। इसके सिक्कों पर लेख इस प्रकार के हैं - “महरशस रजयिरस सब लोग ईश्वरस महिश्वरस विम कथफिशस भरतस”। मथुरा में इस राजा की एक मूर्ति मिली है जिस पर लिखा है “महाराजो राजाधिराजो देवपुत्रो कुषाण पुत्रो वेम”। इसके कुछ सिक्कों पर शिव तथा नन्दी की प्रतिमाएं तथा त्रिशूल अंकित हैं। इस सम्राट् की सन् 110 ई० में मृत्यु हो गई।


1. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 25, 26, 27 लेखक बी० एस० दहिया, जाट इतिहास पृ० 199, लेखक ठा० देशराज, जाटों का उत्कर्ष, पृ० 345, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री, हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 256-257, मध्य एशिया तथा चीन में भारतीय संस्कृति, पृ० 57, लेखक सत्यकेतु विद्यालंकार।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-367


सम्राट् कनिष्क (सन् 120 से सन् 162 ईस्वी तक) -

विम कदफिसस द्वितीय की मृत्यु के 10 वर्ष बाद सम्राट् कनिष्क इस कुषाण साम्राज्य का शासक बना। इस 10 वर्ष के शासन के विषय में भिन्न-भिन्न राय हैं।

  • (1) कनिष्क, कुषाणों की दूसरी शाखा के राजा बाझेष्क के पुत्र थे। (जाट इतिहास, पृ० 200, ठा० देशराज)।
  • (2) कनिष्क से पहले देवपुत्र तुरुष्क का शासन 10 वर्ष तक रहा जिसका उत्तराधिकारी कनिष्क हुआ (जाटों का उत्कर्ष पृ० 346, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री)।
  • (3) कुछ इतिहसकारों का मत है कि कनिष्क सन् 78 ई० में राजगद्दी पर बैठा। किन्तु इतिहासज्ञ डा० वेन्सन्ट स्मिथ, सर जॉन मार्शिल, प्रो० कोनोव आदि का मत है कि वह सन् 120 ई० में राजा बना। यह ठीक तौर से ज्ञात नहीं है कि उसके हाथ शासन की बागडोर कैसे आई। इस सम्राट् ने सन् 120 से सन् 162 तक 42 वर्ष शासन किया जिसकी राजधानी पुरुषपुर (पेशावर) थी।

सम्राट् कनिष्क सिकन्दर महान् की तरह महत्त्वाकांक्षी एवं विजेता था। उसकी प्रसिद्धि सम्राट् चन्द्रगुप्त मौर्य और अशोक के समान मानी जाती है। वास्तव में वह कुषाण साम्राज्य का सबसे महान्, प्रसिद्ध और जनताप्रेमी सम्राट् था।

सम्राट् कनिष्क की विजयें - यह बड़ा शूरवीर और युद्धप्रिय सम्राट् था। इसने कश्मीर को जीतकर वहां कनिष्कपुर नगर बसाया। उत्तरी भारत तथा दक्षिणी मालवा उज्जैन से शक क्षत्रपों (राज्यपालों या गवर्नरों) को जीत लिया और वहां अपना शासन स्थिर किया। इसने पाटलिपुत्र पर आक्रमण किया और मगध राज्य का कुछ भाग जीत लिया।

इसने चीनी तुर्किस्तान (सिंगकियांग) के काशगर, यारकन्द, खोतन और तारिम नदी की घाटी में आबाद अनेक प्रान्तों को चीन के कब्जे से छुड़ा लिया और अपने साम्राज्य में मिला लिया। (देखो इसी अध्याय में चीन के साथ सम्राट् कनिष्क का युद्ध प्रकरण)।

पाटलिपुत्र से मध्य एशिया तक इस विशाल कुषाण साम्राज्य का केन्द्रबिन्दु गान्धार देश था जहां पर सम्राट् कनिष्क ने पुरुषपुर (पेशावर) में अपनी राजधानी बनाई। इसने अपने साम्राज्य को कई प्रान्तों में बांट रखा था जिसमें बैक्ट्रिया (बल्ख), यारकन्द, खोतन, काशगर, अफगानिस्तान, पंजाब, सिन्ध, कश्मीर और मथुरा प्रसिद्ध व महत्त्वपूर्ण प्रान्त थे। इन प्रान्तों पर क्षत्रप (राज्यपाल) शासक नियुक्त किये गये थे।

डा० राय चौधरी के शब्दों में “कनिष्क की प्रसिद्धि एक विजेता के तौर पर इतनी नहीं है जितनी कि धर्म के फैलाने व कलापूर्ण भवनों का निर्माण कराने में है। कनिष्क ने बौद्ध-धर्म को भारत के अतिरिक्त चीन, जापान, तिब्बत और मध्यएशिया में फैलाया।”

इसने कश्मीर में चौथी बौद्धसभा का आयोजन किया (देखो लल्ल गठवाला मलिक प्रकरण तृतीय अध्याय)। यह सभा कश्मीर में ‘कुंडलवन’ के स्थान पर हुई थी।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-368


इस सभा में देश-विदेशों से 500 बौद्ध साधु तथा अन्य धर्म के 500 पण्डित आये थे। इस सम्मेलन के सभापति विश्वमित्र तथा उपसभपति अश्वघोष बनाये गये। इन विद्वानों ने समस्त बौद्ध ग्रन्थों का सार संस्कृत भाषा के एक लक्ष श्लोकों में ‘सूत्र पिटक’, ‘विनय पिटकि’ और ‘अभिधर्म पिटक’ नामक तीन महाभाष्यों में रचा। वे सब ताम्रपत्र नकल करके एक स्तूप में दबाये गये जो कि कनिष्क ने इसीलिए बनवाया था। यदि खुदाई करके इनको खोज लिया जाए तो संसार के इतिहास का नक्शा ही बदल जाय।

कनिष्क बौद्ध होकर भी यज्ञप्रथा का समर्थक और स्वयं कट्टर याज्ञिक था। शिव के प्रति आस्था का भी परिचय इसके सिक्कों से प्राप्त हुआ है। यह सभी धर्मों का आदर करता था। इसके दरबार में बड़े-बड़े विद्वान्, दार्शनिक, वैज्ञानिक, वैद्य आदि थे जिनमें अश्वघोष, विश्वमित्र, नागार्जुन और आचार्य चरक प्रसिद्ध हैं।

कनिष्क ने पेशावर में विशाल बौद्धस्तूप, कश्मीर, तक्षशिला, मथुरा, सारनाथ आदि में अनेक कलापूर्ण भवनों का निर्माण कराया। इसने शक संवत् की स्थापना की।

कनिष्क ने “राजात् राजस्य देवपुत्र शाही” की उपाधि धारण की जिसे उसके पुत्रों ने भी प्रचलित रखा। इन राजाओं के शिलालेखों पर इनके नामों के साथ “देव पुत्रस्य राजात् राजस्य शाहे” लिखा मिलता है। इलाहाबाद के स्तम्भ पर भी “देवपुत्र शाही-शाहनशाही” लिखा हुआ है। इस स्तम्भ पर समुद्रगुप्त के साथ शाही वंश के राजा की सन्धि का उल्लेख है।

सम्राट् कनिष्क ने भारतवर्ष के व्यापार को बड़ा उन्नत किया। इसने रोम, आंध्र, चीन और पार्थियन आदि बड़े-बड़े साम्राज्यों के साथ समुद्री तथा हवाई मार्गों से व्यापार करके भारत की आर्थिक दशा को बढ़ाकर इसे धनाढ्य बना दिया। इस सम्राट् ने पेशावर में लकड़ी का एक 400 फुट ऊंचा स्तूप बनवाया जो अपनी सुन्दरता में अद्वितीय था। कनिष्क ने 78 A.D. में शक संवत् प्रचलित किया।

सम्राट् कनिष्क एक ऊंचा विशालकाय योद्धा था जिसने 42 वर्ष तक शासन किया और जिसे 105 वर्ष की आयु में उसके सेनापतियों ने 162 ई० में धोखे से मार दिया। इस सम्राट् के दो पुत्र वासिष्क व हुविष्क थे।

वासिष्क - कनिष्क के मरने के बाद उसका पुत्र वासिष्क शासक बना। यह पिता की अनुपस्थिति में भी राज्य कार्य सम्भालता था। कुछ इतिहासज्ञों का कहना है कि इसका राज्य-काल कनिष्क के राज्य-काल के अन्तर्गत था। मथुरा के पास ईसापुर में इसका एक लेख पत्थर के यज्ञ-स्तम्भ पर लिखा मिला है जोकि अब मथुरा के अजायबघर में है। उस पर इसे “महाराज राजाधि राज देवपुत्र शाही वासिष्क” लिखा हुआ है।

हुविष्क - वासिष्क के बाद कनिष्क का राज्य उसके छोटे पुत्र हुविष्क को मिला। इसका शासन सन् 162 ई० से 182 ई० तक रहा। इसने अपने विशाल साम्राज्य को सुरक्षित रखा। इसने कश्मीर में अपने नाम पर हुष्कपुर नामक नगर बसाया। जब ह्वानचांग कश्मीर गया तब इसी नगर के विहार में ठहरा था। इसके सोने, चांदी के सिक्के मिलते हैं जिन पर यूनानी, ईरानी और भारतीय, तीनों प्रकार के सिक्कों के चित्र हैं। इन सिक्कों पर ‘हूएरकस’ लिखा मिलता है।

वासुदेव - हुविष्क की मृत्यु के पश्चात् उसका पुत्र वासुदेव राजगद्दी पर बैठा। इसका शासन


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-369


सन् 182 से 220 ईस्वी तक रहा। इसके जो लेख मिलते हैं उनमें इसकी उपाधि “महाराजा राजाधिराज देवपुत्र शाही वासुदेव” मिलती है। इसके सिक्के सोने, चांदी, तांबे के मिलते हैं जिन पर एक ओर इसकी मूर्ति और दूसरी ओर शिव मूर्ति बनी हुई होती है। इसके समय में कुषाण साम्राज्य छिन्न-भिन्न होने लग गया था1

कुषाण साम्राज्य का अन्त -

वासुदेव के उत्तराधिकारी बड़े दुर्बल थे जो कि इस विशाल साम्राज्य को सम्भालने में असफल रहे। भारत में गंगा-यमुना एवं मध्य प्रदेश के क्षेत्रों से भारशिव-नागवंश (जाटवंश) के राजाओं ने कुषाणों के शासन का अन्त कर दिया और सातवाहनों (शातकर्णी जाटवंश) ने दक्षिण पथ से कुषाणों को उखाड़ दिया। राजस्थान में मालव गण (जाटवंश) तथा पंजाब, हरयाणा में यौधेय (जाटवंश) तथा कुणिन्द गणों ने स्वतन्त्रता प्राप्त कर ली जिसके कारण वहां से भी कुषाणों के प्रभुत्व का अन्त हो गया। पर अफगानिस्तान तथा उत्तर पश्चिमी भारत इस समय भी कुषाणों की अधीनता में रहे और उनके “देवपुत्र शाहिशाहानुशाही” राजाओं का शासन वहां कायम रहा। सम्राट् समुद्रगुप्त (335 ई० से 375 ई० धारण गोत्र के जाट) ने अपनी दिग्विजय द्वारा इन कुषाण राजाओं को जीतकर, कर (टैक्स) लगाया। समुद्रगुप्त के उत्तराधिकारियों में चन्द्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य (380 से 413 ई०) ने गांधार, कम्बोज (अफगानिस्तान तथा उसके परे का प्रदेश) तथा वाह्लीक (बल्ख) के प्रदेशों को कुषाणों से जीतकर अपने राज्य की सीमा को अमू दरिया तक विस्तृत किया। परन्तु गुप्तवंश के शासक इन प्रदेशों को देर तक अपने अधीन नहीं रख सके, हूणों ने इनको जीत लिया।

इसी समय ईरान में सासानी वंश के राजाओं ने अपने शक्ति बढ़ा ली और मध्य एशिया के कई कुषाण प्रदेशों को विजय कर लिया। मध्य एशिया के प्रदेशों से कुषाणों के शासन का अन्त करने में प्रधान कर्तृत्व ज्वान-ज्वान या जू-जुन लोगों का था। (जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 45 पर बी० एस० दहिया ने जन्जौ-जनजौन जाटवंश लिखा है)।

कुषाणों की निर्बलता से लाभ उठाकर उन्होंने मध्यएशिया में दूर-दूर तक आक्रमण किए, और सुग्ध देश को विजय कर बल्ख में भी प्रवेश किया। यह देश उस समय (चौथी सदी में) ईरान के सासानी सम्राट् के अधीन था। जू-जुन लोगों से उसके अनेक युद्ध हुये। अन्त में जू-जुन लोगों का शासन वहां पर हो गया। इस प्रकार मध्य एशिया से कुषाणों का शासन पूर्ण रूप से उठ गया। पर अफगानिस्तान और पश्चिमी गांधार बाद में भी उनके हाथों में रहे। पांचवीं सदी में हूणों ने ये जीत लिये2

नोट - जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 14 पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि कुषाण जाटों


1. कुषाण जाट राज्य के आधार लेख - (1) ठा० देशराज लिखित जाट इतिहास पृ० 199 से 203; (2) जाटों का उत्कर्ष पृ० 345-46, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 256, 275; (3) भारत का इतिहास पृ० 67-69, हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी; (4) मध्य एशिया में भारतीय संस्कृति, पृ० 12, 57-59, 80-82, लेखक सत्यकेतु विद्यालंकर।
2. मध्य एशिया में भारतीय संस्कृति पृ० 81, ले० सत्यकेतु विद्यालंकार।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-370


के राज्य से व्यापारी चीनी व शीशे की वस्तुएं लेकर पांचवीं सदी में चीन के सम्राट् ताईवी (425-451 ई०) के दरबार में पहुंचे और उसको सूचना दी कि महान् जाटों ने अपने नेता किदार के नेतृत्व में पेशावर व गांधार पर अधिकार कर लिया है। (Paul Peliot Op, cit, PP. 42-43)।

श्वेत हूण या हेफताल जाट राज्य -

पिछले पृष्ठों पर इसी अध्याय के श्वेत हूण या हेफताल प्रकरण में प्रमाणों से सिद्ध किया गया है कि ये लोग जाट थे। कुछ इतिहासकारों का मत है कि ये लोग शक (जाटवंश) जाति के थे, पर हूणों के सम्पर्क में रहने से उनके रहन-सहन तथा संस्कृति पर हूणों का बहुत प्रभाव हो गया था।

कुषाणों का शासन अन्त करने में जू-जुन (जन्जौ जाट) लोगों का बड़ा योगदान था। इन लोगों ने कुषाणों को हराकर मध्यएशिया के कई प्रदेशों पर अपना शासन स्थापित कर लिया। मध्यएशिया के अन्य देशों पर कई अन्य जातियों का राज्य था।

पांचवीं सदी के प्रारम्भ काल में इन शक्तिशाली श्वेत हूणों ने मध्यएशिया के प्रायः सभी प्रदेशों पर आक्रमण शुरु कर दिये। ये लोग तिएनशान पर्वतमाला के उत्तर से होते हुए पश्चिमी मध्यएशिया पहुंच गए, और फिर ताशकन्द से दक्षिण की ओर मुड़कर सिर नदी को पार करके सुग्ध (या सोग्डियान) तथा बल्ख पर अधिकार कर लिया। इस समय बल्ख ईरान के सासानी सम्राटों की अधीनता स्वीकार करता था। अतः इन सम्राटों ने श्वेत हूणों की बाढ़ को रोकने के लिए उनके विरुद्ध संघर्ष करना पड़ा जो कि लगभग एक सदी तक चलता रहा। श्वेत हूणों से युद्ध करते हुए दो सासानी सम्राट् होरमुज़्द 454 ईस्वी में और फिरोज 484 ईस्वी में मारे गये। अब श्वेत हूण मध्यएशिया की प्रधान राजनैतिक शक्ति बन गये थे। सासानियों को परास्त कर उन्होंने अफ़गानिस्तान पर आक्रमण किया और वहां से पंजाब होते हुए वे भारत के मध्यदेश तक चले आये। स्कन्दगुप्त (धारण गोत्र का जाट सन् 455-467 ई०) ने हूणों का सामना करने में अद्भुत पराक्रम प्रदर्शित किया और उनसे अपने साम्राज्य की रक्षा की। पर इस समय मध्यएशिया पर श्वेत हूणों का प्रभुत्व भलीभांति स्थापित हो गया था जिनकी राजधानी बोखारा के समीप थी। श्वेत हूणों के केवल दो राजाओं के नाम तोरमान और मिहिरकुल भारत में उपलब्ध हुए हैं। इनका वर्णन भारतवर्ष में जाट राज्य के प्रकरण में लिखा जाएगा1। भारत और ईरान की उन्नत सभ्यताओं के सम्पर्क में आकर श्वेत हूण भी अच्छे सभ्य व सुसंस्कृत हो गये थे और घुमन्तु जीवन का परित्याग कर नगरों में रहने लग गये थे। पर अपने पूर्ववर्ती ऋषिक-तुषार, शक आदि जाटों के समान वे भी देर तक मध्यएशिया में शान्तिपूर्वक निवास न कर सके। तुर्क लोगों ने इनकी शक्ति का अन्त कर दिया।

तुर्कों का राज्य -

पिछले पृष्ठों पर तुर्किस्तान एवं तुर्क की परिभाषा की गई है जिसका सारांश यह है - चन्द्रवंशी सम्राट् ययाति के पुत्र तुर्वसु के शासित देश का नाम तुर्किस्तान-तुर्की पड़ा तथा तुर्वसु


1. मध्य एशिया तथा चीन में भारतीय संस्कृति पृ० 82, ले० सत्यकेतु विद्यालंकार।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-371


के नाम पर तंवर-तोमर जाटवंश प्रचलित हुआ। इस देश में बसे चन्द्रवंशी आर्यों का नाम उनके सौन्दर्य के कारण ‘तुर्वसु’ तथा भाषाभेद से बाद में तुर्की पड़ा। अतः तुर्क लोग जाट हैं*

(जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज लेखक बी० एस० दहिया ने पृ० 4 पर लिखा है कि “तुरवंश (तंवर) की प्रधानता के कारण इस विशाल भूमिखण्ड का नाम तुर्किस्तान पड़ा। जब यहां तातराण (जाटवंश) वंश की प्रधानता हुई तब यह देश तातारी कहलाया।” इसी लेखक ने पृ० 29 पर लिखा है कि “तुर्क शब्द छठी-सातवीं शताब्दियों में प्रचलित हुआ। कुषाणों के शासन काल में यह शब्द प्रचलित नहीं था। मंगोलिया में अल्ताई पर्वत के क्षेत्र में निवास करने वाले लोगों को सन् 551 ई० में चीनियों ने तुकियू तथा दूसरों ने तुर्क कहा। 551 ई० में पहले इस तुर्क शब्द का प्रयोग नहीं था।”

सत्यकेतु विद्यालंकार की लिखित पुस्तक “मध्यएशिया तथा चीन में भारतीय संस्कृति” के आधार पर –

“चीन के उत्तर पश्चिम में निवास करनेवाली हूण जाति का एक कबीला तुर्क था, जिसका पुराना नाम अस्सेना था। इस कबीले के लोग नुकीली टोपी पहना करते थे, जिसके कारण वे दुर-पो कहलाने लगे। दुर-पो ही आगे बिगड़कर तिर्क या तुर्क हो गया। इस तुर्क कबीले में एक वीर पुरुष बूमिन नामक हुआ। मध्य एशिया से कुषाणों की शक्ति का अन्त करने का प्रधान कर्तृत्व ज्वान-ज्वान (जन्जौ जाट) लोगों का था। समयान्तर में जब इनकी शक्ति भी क्षीण हो गयी, तो तुर्कों ने बूमिन के नेतृत्व में ज्वान-ज्वान लोगों के विरुद्ध युद्ध छेड़ दिया। उसे परास्त कर बूमिन ने अपने को खागान, कगान या खान घोषित कर दिया। तुर्क लोग राजा के लिए इसी शब्द का प्रयोग करते थे। (पृ० 82-83)।”

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज लेखक बी० एस० दहिया ने पृ० 67 पर लिखा है कि “खान मुस्लिम पदवी नहीं है। यह मुसलमानों से पहले मध्यएशिया में बौद्ध-धर्मी राजाओं ने अपनाई थी। यह खाकन/कागन/खान शब्द से खान पदवी बनी। भारतवर्ष में यह खान पदवी 14वीं सदी में प्रयोग में लाई गई।”

522 ई० में जब बूमिन की मृत्यु हुई, तब तुर्क कबीला बहुत शक्तिशाली हो चुका था। तुर्कों ने अब शकों, युइशियों तथा श्वेत हूणों (तीनों जाटवंश) के मार्ग का अनुसरण कर पश्चिम की ओर अपनी शक्ति का विस्तार प्रारम्भ किया और कुछ ही समय में तकला मकान मरुभूमि के उत्तर तथा पश्चिम के मध्यएशिया के सब प्रदेशों पर अपना अधिकार स्थापित कर लिया। इनके साम्राज्य की पश्चिमी सीमा कालासागर तक पहुंच गई।

मध्यएशिया के तुर्क राजाओं (खानों) में तोबा खान का नाम विशेषरूप से उल्लेखनीय है। उसका शासनकाल सन् 569 ई० 580 ई० तक था। उसकी प्रसिद्धि का मुख्य कारण यह है कि उसने बौद्ध-धर्म को स्वीकारा और तुर्कों में बौद्ध-धर्म के प्रचार के लिए बहुत कार्य किए।

स्यान-पी हूणों की एक शाखा का वंश था, जिसके नेतृत्व में यह जाति इसिककुल झील के


  • - जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 119 पर लेखक बी० एस० दहिया ने लिखा है कि तुर या तातरान को मध्य एशिया में तुर्क तातार कहा गया जो कि जाट गोत्र है, जिनका छठी सदी एवं बाद में भी अमू दरिया घाटी में शक्तिशाली शासन रहा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-372


समीपवर्ती प्रदेशों से होती हुई अरल सागर, काला सागर तथा डेन्यूब नदी तक जा पहुंची थी।

तोबा-खान की बौद्ध-धर्म में इतनी रुचि हो गई थी कि उसने अनेक स्तूपों का भी निर्माण करवाया और बौद्ध-धर्म को फैलाया। मध्यएशिया के सुविस्तृत प्रदेशों पर शासन करनेवाले ये तुर्क कबीले उसी प्रकार भारतीय धर्म तथा संस्कृति के प्रभाव में आ गये जैसे कि उससे पहले की यूइशि, शक आदि (जाट) जातियां आई थीं।

तोबा खान के पश्चात् मध्यएशिया का विशाल साम्राज्य दो भागों में विभक्त हो गया। तोबा खान के पुत्र शेतू शेबोलियो (582-587 ई०) ने साम्राज्य के पूर्वी प्रदेशों पर अपना शासन स्थापित किया और भतीजे दालोब्यान ने पश्चिमी प्रदेशों में। इसी के वंशज तुन-शेखू खान के शासनकाल में चीनी यात्री ह्यु-एन-त्सांग पश्चिमी तुर्क साम्राज्य में भी गया था और वहां उसने इस तुर्क राजा से भेंट की थी। ह्यु-एन-त्सांग लिखता है कि तुन-शेखू खान अग्निपूजक था। पर पूर्वी तुर्कों ने बौद्ध-धर्म अपना लिया था। मध्यएशिया के पश्चिमी प्रदेशों का सम्पर्क ईरानियों और यूरोपियन लोगों के साथ भी था। उन दिनों ईरान में पारसी (जरदुस्थी) धर्म का प्रचार था और यूरोप में इसाई धर्म का। पश्चिमी तुर्क इन धर्मों के सम्पर्क में भी आये। इसीलिए मध्यएशिया के पश्चिमी प्रदेशों में बौद्ध-धर्म के साथ साथ पारसी तथा ईसाई धर्म भी पनपने लग गये थे (पृ० 83-84)।

कुषाण साम्राज्य में जाट

डॉ धर्मचंद विद्यालंकार [22] लिखते हैं कि कुषाणों का साम्राज्य मध्य-एशिया स्थित काश्गर-खोतान, चीनी, तुर्किस्तान (सिकियांग प्रान्त) से लेकर रूस में ताशकंद और समरकंद-बुखारा से लेकर भारत के कपिशा और काम्बोज से लेकर बैक्ट्रिया से पेशावर औए मद्र (स्यालकोट) से मथुरा और बनारस तक फैला हुआ था. उस समय मथुरा का कुषाण क्षत्रप हगमाश था. जिसके वंशज हगा या अग्रे जाट लोग, जो कि कभी चीन की हूगाँ नदी तट से चलकर इधर आये थे, आज तक मथुरा और हाथरस जिलों में आबाद हैं. आज भी हाथरस या महामाया नगर की सादाबाद तहसील में इनके 80 गाँव आबाद हैं. (पृ.19 )

कुषाणों अथवा युचियों से रक्त सम्बन्ध रखने वाले ब्रज के जाटों में आज तक हगा (अग्रे), चाहर, सिनसिनवार, कुंतल, गांधरे (गांधार) और सिकरवार जैसे गोत्र मौजूद हैं. मथुरा मेमोयर्स के लेखक कुक साहब ने लिखा है कि मथुरा जिले के कुछ जाटों ने अपना निकास गढ़-गजनी या रावलपिंडी से बताया है. कुषाण साम्राज्य के अधिकांश क्षेत्र में जाटों की सघन जन संख्या उनको कुषाण वंसज होना सिद्ध करती है.(पृ.20)

References

  1. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. क-136
  2. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.342
  3. Mahendra Singh Arya et al.: Adhunik Jat Itihas, Agra 1998,
  4. History of the Jats/Chapter IV ,p. 50
  5. Ram Swarup Joon: History of the Jats/Chapter V,p. 87
  6. Ram Swarup Joon: History of the Jats/Chapter V,p. 92
  7. History of the Jats/Chapter II,p. 28
  8. Rajatarangini of Kalhana:Kings of Kashmira/Book I, p.12-13
  9. Ram Swarup Joon: History of the Jats, (1938, 1967)
  10. Bhim Singh Dahiya:Jats the ancient rulers
  11. Thakur Deshraj Jat Itihas , P. 202
  12. Bhim Singh Dahiya:Jats the ancient rulers
  13. Jat Samaj Monthly Magazine, Agra, May (2006) page-7
  14. Kishori Lal Faujdar:Jat Samaj Monthly Magazine, Agra, January/February (2001) page-6
  15. Bhim Singh Dahiya:Jats the ancient rulers
  16. James Legge : A RECORD OF BUDDHISTIC INGDOMS, (Being an Account by the Chinese Monk Fa-Hien of his Travels in India and Ceylon (A.D. 399-414), in Search of the Buddhist Books of Discipline Translated and annotated with a Corean recension of the Chinese text)
  17. James Legge : A RECORD OF BUDDHISTIC INGDOMS, (Being an Account by the Chinese Monk Fa-Hien of his Travels in India and Ceylon (A.D. 399-414), in Search of the Buddhist Books of Discipline Translated and annotated with a Corean recension of the Chinese text)
  18. Dr Naval Viyogi: Nagas – The Ancient Rulers of India, p.145
  19. http://www.jatland.com/home/Kapisa
  20. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ-322
  21. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.366-373
  22. Jat Samaj:11/2013,pp 19-20