Khap

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author of this article is Laxman Burdak लक्ष्मण बुरड़क

Khap (खाप) and Sarv Khap (सर्व खाप) was a system of social administration and organization in the republics of Northwestern states like Haryana, Rajasthan and Uttar Pradesh in India since ancient times. The concept of Khap is quite ancient. Written references about the working of the 'Janas' somewhat equivalent to later day khaps are found as far back as the Rig Veda times circa 2500 BCE. According to en estimate there are about 465 khaps in the country, out of which 70 khaps are in Haryana, more than 30 khaps are in Uttar Pradesh. The khap system is found in Jats, Rajputs, Gurjars, Kamboj etc communities. [1]

Contents

Definition

Khap is a term for a social - political grouping and used in a geographical sense. The word Khap is probably derived from Latin word corpus which means an organization of individuals. Other parallel terms are Pal, Ganas, Ganasangha, Janapada or republic. According to Bhim Singh Dahiya, the word Khap is perhaps derived from the Saka word Satrapy or Khatrapy, and means an area inhabited by a particular clan.[2]

For some reasons the political unit of Khap was defined as a group of 84 villages. This unit of measure is found as far back as the Saka migrations/invasions circa 500 BCE into the Indian subcontinent.

A Jat Chaupal in Uttar Pradesh
A Jat Chaupal in Rajasthan
A Jat Chaupal in Haryana

Historical back ground

The Indian social fabric was organized around the village unit, from time immemorial, as society shifted from nomadic to settled agricultural practices. Throughout the last few millennium the society in the Indian sub continent, was organized in various forms, tribal, village, monarchial or republican.

Among the ancient Jats, as borne out by the ancient literature, Rig Veda etc, the mode of governing was that of a council of five, which in time was called a Panchayat. We find that the republican form of society existed from the most ancient times known to us. In various times the society coalesced around monarchial forms, but the republican societies did not die out, but maintained their existence with remarkable resilience. We find references to the republican sources in our ancient literature, some of the most ancient as being the Rig Veda. The dating of this work in now generally accepted to be in the circa 2500 BCE period. The forms of governing society were that of the `Sabha’(सभा) or `samiti’(समिति) i.e. gathering/assembly. The Sabhapati, the president of the Sabha was elected. [3] [4]

The term `Rajan, Rajanaya' has been taken to denote a monarchial system. A closer look shows that the term was used at that time for the householder, the head of the household, and he would participate in the Sabha or assembly. In later times the term Rajan took on a monarchial connotation, as Raja, Maharaja, a term familiar to most of us.

In the texts of Panini and later Buddhist texts we find references to 16 republics or Great Republics Janapadas, or MahaJanpadas' and the reference are to the period circa 600 BCE (conventional dating). We find references to names of republics like Mall, Lichhavi, Sakya, Yaudheya, Agreya, and so on. We find Indian and Western sources referring to these republics e.g. in the invasion of Alexander (circa 325 BCE) reference is made to wars with the Mall (Malloi) Malli, Kshudrak, Paur, Puru, Kathi, republics. We continue to find republics referred to as that of Yaudheyas, Malls etc found dominating the Northern Indian landscape in what is now Punjab, Sindh, Rajasthan, Haryana and Uttar Pradesh.

The Sarv Khap (or all Khap) Panchayat (council) represented all the Khaps. The individual Khaps elected leaders who would be sent as delegates to represent the Khaps at the Sarv Khap level. It was a political organization, composed of all the clans, communities, and castes in the region. The republics of the Yaudheyas who dominated this region from 600 BCE to 400 CE preceded it. Their had a similar system of governance, and their coins and seals are found in this whole region. Rohtak ( ancient Rohitka), in Haryana was one of the capitals and had a major coin mint. [5]

After the fall of Kushan Empire northwest India was divided in to small republics. These small republics could not defend against invaders. So there were formed federations of republics knows as Gansanghas. One such Ganasangha was on the banks of Sutlej River. Another Gansangha of Arjunayana was in the region between Agra and Bharatpur. Dr Budh Prakash says that the Yaudheyas are related with present Dahiya clan and Arjunayana Ganasanghas were the present Joon clans. [6]

Functioning of Khaps

Choudhary Kabul Singh (1899-1991)

The ancient kshatriya s have always organized themselves into clans or under Panchayat system; both typically Aryan. A clan was based on one large gotra or a number of closely related gotras under one elected leader whose word was law. Mutual quarrels of any intensity could be settled under his orders. In time of danger, the whole clan rallied under the banner of the leader.

The Panchayat system is territorial and highly democratic. Every village has its own Panchayat. Whenever there is a problem or dispute in the village, a gathering of the Panchayat is called for every member of the village has a right to attend, express his views and vote for or against a proposal. The maximum available people normally attend. There are no elected or nominated Panchayat officials. Nevertheless, some persons, by virtue of their wisdom and eloquence, are automatically accepted as Panches, (one of the five) and their views are heard and respected. While elders discuss a problem it is customary for younger people not to speak but sit and listen. All decisions are taken after open-hearing, full and voluntary expression of views and consensus vote. Even if one of the contending parties considers the Panchayat decision unfair it is accepted and complied with without question.

A number of villages grouped themselves into a Gohand (corresponding to the present Thana area); a number of Gohands formed a ‘Khap’ (covering an area equal to from a Tehsil to a District and a number of Khaps formed a 'Sarva Khap' embracing a full province or state. For example, there was a “Sarva Khap” each for Haryana and Malwa. At what level a Panchayat should gather depended upon the magnitude of the problem and the territory it involved. [7]


The right of attendance and expression was open to every one, whatever the level of the Panchayat. Generally, however, selected - representatives of the villages attended Panchayats of the 'Gohand' and higher level. Leaders were elected and appointed at 'Khap' and 'Sarva Khap' level that maintained records of decisions and had the authority to call an assembly.


Negotiations with kings were done - at 'Sarva Khap' level. Chaudhry Kabul Singh of Village Shoram, District Muzaffarnagar, whose ancestors were leaders of the Sarva Khaap Panchayat, holds some copper plates and papers bearing records of important negotiations.

The Khap and its divisions

One of the terms used to denote the republic was the `Khap'. Others were Pal, Janpada, and Ganasangha etc. The Khap consisted a unit of 84 villages. The individual villages were governed by an elected Council, which was known as the Panchayat. A unit of seven villages was called a Thamba and 12 Thambas would form the unit of 84 Villages. We also find Khaps of 12 and 24 villages. Their elected leaders would determine which units would be represented at the Khap level. These Khaps are found to be spread all the way from Northwest India down to Madhya Pradesh, Malwa, Rajasthan, Sindh, Multan, Punjab, Haryana, and modern Uttar Pradesh. [8]

Sarv Khap of Haryana

This region from Western Uttar Pradesh through Agra, Mathura, to the Sutlej River in the Punjab was known as Haryana, dominated by Jats, and it is of this region that we speak, when we refer to the Sarv Khap of Haryana. The influence of the Haryana Sarv Khap extended to the Malwa province in Central India, Rajasthan and Sindh. With the ebb and flow of history, the boundaries of this organisation also expanded and receded.

Khap records

Dr Girish Chandra Dwivedi [9] has mentioned in his book The Jats - Their Role in the Mughal Empire about following historical records maintained by Khaps:

  • 1. Devdutta's untitled miscellaneous account of the Jats, especially of the Doab and Haryana, running into 16 leaves written on both sides size 12.5" x 5" composed in Samvat 1875, from earlier Sarva-Khap Panchayat (Doab) records. It enlightens us about the social, religious and political practices of the Jats and other groups of the Doab and Haryana during the medieval period. On ff. 12-14 (side notes) it makes a passing reference to Samarth Guru Ram Das's exhortation to Gokul for rebellion, a fact pointed out by the persistent local tradition among the Jats. The Ms. is in the possession of Chowdhary Qabul Singh of Shoram (Muzaffarnagar, UP.).
  • 2. Pt Kanha Ram's untitled Pothi. (In possession of Chaudhary Kabul Singh, Muzaffarnagar) containing wrongly bound 16 leaves written on both sides. The number of lines in a leaf and the size of letters are not uniform. Size 12.5" x 5". The frrst leaf, though mutilated, mentions samvat 1840. The visible difference in ink and size of letters suggests its gradual compilation. Even if begun in 1840, it was completed at a later date. Its author, Kanha Ram is said to have been a person of local repute, was a resident of village Shoram, Dist. Muzaffarnagar. His descendants, whom I had the occasion to meet, still live there.

[Page 293] This MS. written in bad Hindi, is an unconnected compilation mostly from the earlier but now untraceable Pothis and partly from rhe author's own observations, showing the activities of the Jats and other local people especially of the Doab and Haryana, during medieval times.
Its earlier portion (leaves 3a-lla) refers to the meetings, along with their resolutions, of the Sarva Khap Panchayat (Doab) held in Samvat 1252,1254 (in a jungle near Baraut), 1256, 1305, 1312 (Bhokharhedi) 1317 (Libberhedi), 1344 (Shikarpur), 1383 (Sisauli), 1408 (in a jungle near Sisaul Bhanaura), 1455 (in a jungle of Chagama), 1460 (Shikarpur), 1547 (in a jungle near Baraut), 1560 (Mauza Bavali), 1584, 1597 (Kairana) 1613 (Nisarh) 1621 (Shoram), 1665 (Khekaram) 1686 (Nisarh) 1718 (Chhaprauli), 1727, 1764 (Bhaisewal) 1766 (Kamol) and 1817 (Sisauli). The latter part of the Pothi (leaves llb-16b) bound reversely, enumerates the social customs of the Jats and other people and the nature, scope, formation and functioning of the Sarva Khap Panchayat. This compilation is worthy of our attention as giving some important facts about the Jats, known only to the local people and supported by the persistent tradition. However, an attempt to find their corroboration in the writings of the contemporary historians, may prove futile as in most cases the latter could have neither access to, nor evince interest in the local happenings of historically less important people of relatively obscure and distant place. And yet its testimony needs to be handled with utmost caution; the dates in some cases are incorrect and the numbers of participants in the Panchayat meetings and of local militia raised for any battle seem to be highly inflated.

The role Sarv Khaps played in India

Some well known occasions, when armies and funds were marshaled under the aegis of Sarv Khaps, are: [10]

  • Battle of Multan against Huns in Vikram Samvat 564 (507 AD),
  • Battle of Taraori against Muhammad Ghori in 12th Century AD
  • The battle at the confluence of Hindan and Kali river against Ala ud din Khilji in the 13th Century AD in protest against imposition of heavy taxes and interference in private affairs.
  • The Battle against attack of Timur in 1398 AD by the Haryana Sarv Khap Mahapanchayat and Sauram (Muzaffarnagar) Sarv Khap Panchayat. [11]

Jat Khaps in districts by gotra and villages in them

Mathura


Agra


Aligarh


Bharatpur


Muzaffar Nagar

  • Source: Jat Bandhu, April 1991

Jagroti Khap Hindon

Main article: Jagroti Khap

खाप व्यवस्था

खाप व्यवस्था: खाप या सर्वखाप एक सामाजिक प्रशासन की पद्धति है जो भारत के उत्तर पश्चिमी प्रदेशों यथा राजस्थान, हरयाणा, पंजाब एवं उत्तर प्रदेश में अति प्राचीन काल से प्रचलित है. इसके अनुरूप अन्य प्रचलित संस्थाएं हैं पाल, गण, गणसंघ, जनपद अथवा गणतंत्र.

खाप पंचायतों का इतिहास बहुत पुराना है। ये पंचायतें पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, और राजस्थान के तमाम इलाकों में छठवीं-सातवीं शताब्दी ईसवी से प्रभाव में देखी जा सकती हैं. ये समाज के सामाजिक-आर्थिक संगठन का एक रूप थीं. परम्परागत तौर पर एक खाप के तहत एक ही गोत्र के 84 गाँव आते थे। इसके नीचे सात-सात गाँवों के समूह होते थे, जिन्हें थाम्बा (Thamba) कहा जाता था। एक थाम्बा में 12 गाँव होते थे. बाद में, कई ऐसी खापें अस्तित्व में आईं जिनमें 12 या 24 गाँव ही होते थे. फिलहाल, जाटों की कई प्रभावी पंचायतें हैं जैसे कि बालियान खाप, धनकड़ खाप, रमाला चौहान खाप, बत्तीसा खाप, आदि. महेन्द्र सिंह टिकैत स्वयं बालियान खाप के मुखिया थे.[12]

समाज में सामाजिक व्यवस्थाओं को बनाये रखने के लिए मनमर्जी से काम करने वालों अथवा असामाजिक कार्य करने वालों को नियंत्रित किये जाने की आवश्यकता होती है. यदि ऐसा न किया जावे तो स्थापित मान्यताये, विश्वास, परम्पराए और मर्यादाएं ख़त्म हो जावेंगी और जंगल राज स्थापित हो जायेगा. मनु ने समाज पर नियंत्रण के लिए एक व्यवस्था दी. इस व्यवस्था में परिवार के मुखिया को सर्वोच्च न्यायाधीस के रूप में स्वीकार किया गया है. जिसकी सहायता से प्रबुद्ध व्यक्तियों की एक पंचाय टी होती थी. जाट समाज में यह न्याय व्यवस्था आज भी प्रचालन में है. इसी अधर पर बाद में ग्राम पंचायत का जन्म हुआ. [13]

जब अनेक गाँव इकट्ठे होकर पारस्परिक लें-दें का सम्बन्ध बना लेते हैं तथा एक दूसरे के साथ सुख-दुःख में साथ देने लगते हैं तब इन गांवों को मिलकर एक नया समुदाय जन्म लेता है जिसे जाटू भाषा में गवाहंड कहा जाता है. यदि कोई मसला गाँव-समाज से न सुलझे तब स्थानीय चौधरी अथवा प्रबुद्ध व्यक्ति गवाहंड को इकठ्ठा कर उनके सामने उस मसले को रखा जाता है. प्रचलित भाषा में इसे गवाहंड पंचायत कहा जाता है. गवाहंड पंचायत में सभी सम्बंधित लोगों से पूछ ताछ कर गहन विचार विमर्श के पश्चात समस्या का हल सुनाया जाता है जिसे सर्वसम्मति से मान लिया जाता है. [14]

जब कोई समस्या जन्म लेती है तो सर्व प्रथम सम्बंधित परिवार ही सुलझाने का प्रयास करता है. यदि परिवार के मुखिया का फैसला नहीं माना जाता है तो इस समस्या को समुदाय और ग्राम समाज की पंचायत में लाया जाता है. दोषी व्यक्ति द्वारा पंचायत फैसला नहीं माने जाने पर ग्राम पंचायत उसका हुक्का-पानी बंद करने, गाँव समाज निकाला करने, लेन-देन पर रोक आदि का हुक्म करती है. यदि समस्या गोत्र से जुडी हो तो गोत्र पंचायत होती है जिसके माध्यम से दोषी को घेरा जाता है.

सामाजिक न्याय व्यवस्था दोषी को एक नया जीवन देने का प्रयास करती है. लम्बे अनुभव के आधार पर हमारे पूर्वजों ने इस सामाजिक न्याय व्यवस्था को जन्म दिया है जिसके अनेक स्तर हैं. जब गोत्र और गवाहंड की पंचायतें भी किसी समस्या का निदान नहीं कर पाती तो एक बड़े क्षेत्र के लोगों को इकठ्ठा करने का प्रयास किया जाता है जिसमें अनेक गवाहंडी क्षेत्र, अनेक गोत्रीय क्षेत्र और करीब-करीब सभी हिन्दू जातियों के संगठन शामिल होते हैं. इस विस्तृत क्षेत्र को खाप का नाम दिय जाता है. कहीं-कहीं इसे पाल के नाम से भी जाना जाता है. गवाहंडी का क्षेत्र ५-७ की.मी. तक अथवा पड़ौस के कुछ गिने चुने गावों तक ही सीमित होता है. जबकि पाल या खाप का क्षेत्र असीमित होता है. हर खाप के गाँव निश्चित होते हैं, जैसे बड़वासनी बारह के १२ गाँव, कराला सत्रह के १७ गाँव, चौहान खाप के ५ गाँव, तोमर खाप के ८४ गाँव, दहिया चालीसा के ४० गाँव, पालम खाप के ३६५ गाँव, मीतरोल खाप के २४ गाँव आदि. [15]

खाप शब्द का विश्लेषण करें तो हम देखते हैं कि खाप दो शब्दों से मिलकर बना है . ये शब्द हैं 'ख' और 'आप'. ख का अर्थ है आकाश और आप का अर्थ है जल अर्थात ऐसा संगठन जो आकाश की तरह सर्वोपरि हो और पानी की तरह स्वच्छ, निर्मल और सब के लिए उपलब्ध अर्थात न्यायकारी हो. अब खाप एक ऐसा संगठन माना जाता है जिसमें कुछ गाँव शामिल हों, कई गोत्र के लोग शामिल हों या एक ही गोत्र के लोग शामिल हों. इनका एक ही क्षेत्र में होना जरुरी नहीं है. एक खाप के गाँव दूर-दूर भी हो सकते हैं. बड़ी खापों से निकल कर कई छोटी खापों ने भी जन्म लिया है. खाप के गाँव एक खाप से दूसरी खाप में जाने को स्वतंत्र होते हैं. इसी कारण समय के साथ खाप का स्वरुप बदलता रहा है. आज जाटों की करीब ३५०० खाप अस्तित्व में हैं. [16]

जब एनडीटीवी ने खाप पंचायतों के मसले पर एक परिचर्चा आयोजित कराई और खाप पंचायतों की अवस्थिति पर एसएमएस से दर्शकों कर राय माँगी तो 84 प्रतिशत दर्शकों ने खाप पंचायतों का समर्थन किया।[17]

सर्व पाल खाप

सर्व पाल खाप में २२ गाँव हैं. यह फरीदाबाद, बल्लभगढ़ से लेकर मथुरा जिले के छाता, कोसी तक फैला एक विशाल संगठन है. इसमें करीब १००० गाँव हैं. इस खाप में कोसी की डींडे पाल, बठैन की गठौना पाल, कामर की बेनीवाल पाल, होडल की सौरोत पाल, धत्तीर अल्लिका की मुंडेर पाल, जनौली की तेवतिया पाल, पैगांव की रावत पाल आदि सम्मिलित हैं. यह पाल दहेज़ निवारण में सबसे आगे है.[18]

सर्व गोत्रीय जाट खाप

सर्व गोत्रीय जाट खाप का मुख्यालय आगरा जनपद के बिचपुरी गाँव में है. इस खाप में जाटों के अनेक गोत्रीय गाँव सामिल हैं.

अनेक गाँव इसी खाप के अर्न्तगत आते हैं. मुख्यतः यह जाटों की खाप है.[19]

सर्वखाप

सर्वखाप में वे सभी खाप आती हैं जो अस्तित्व में हैं. समाज, देश और जाति पर महान संकट आने पर विभिन्न खापों के बुद्धिजीवी लोग सर्वखाप पंचायत का आव्हान करते हैं. निःसन्देश पाल और खाप में अंतर करना काफी कठिन है. साधारण शब्दों में कहा जा सकता है कि पाल छोटा संगठन है जबकि खाप में कई छोटी पालें सम्मिलित हो सकती हैं. खाप और पाल पर्याय वाची माने जाएँ तो अधिक तर्कसंगत होगा. एक ही गोत्र का संगठन पाल हो सकता है जबकि खाप में कई गोत्रीय संगठन और कई जातियां शामिल होती हैं. ऐसा भी देखने में आया है कि कुछ गोत्र और गाँव कई खाप में शामिल होते हैं. जाट संगठन पूर्णतः स्वतंत्र अस्तित्व वाले होते हैं तथा लोगों की इच्छानुरूप इनका आकर घटता-बढ़ता है. चूँकि ये संगठन न्याय प्राप्त करने और अन्याय के विरुद्ध संघर्ष करने के लिए लोगों को एकजुट करते हैं अतः जहाँ जिस गोत्र , गाँव, पाल को अधिक विश्वास होता है वे वहीँ सम्मिलित हो सकते हैं. सदस्यता ग्रहण करने पर कोई रोक-टोक नहीं है. [20]

उक्त खापों, पालों के अतिरिक्त जाटों के अनेक संगठन और भी हैं जो कम प्रचारित हैं. राजस्थान में डागर, गोदारा, सारण, खुटैल, और पूनिया जाटों के छोटे-बड़े कई संगठन हैं. नागौर तो जाटों का रोम कहलाता है. मध्य प्रदेश में ग्वालियर से लेकर मंदसौर और रतलाम तक जाटों के अनेक संगठन विभिन्न नामों से अस्तित्व में हैं. कहीं कहीं संगठनों के खाप और पाल जैसे नाम न होकर गावों के मिले-जुले संगठन बने हुए हैं जैसे बड़वासनी बारहा, जिसमें लाकड़ा, छिकारा आदि १२ जाट गोत्रीय गाँव शामिल हैं. सोनीपत जिले में बड़वासनी, जाहरी, चिताना आदि इस बारहा के प्रमुख गाँव हैं. कराला सतरहा भी लाकड़ा सेहरावतों का संगठन है. इसमें मुंडका , बक्करवारा प्रमुख हैं. दिल्ली के पूर्व मुख्य मंत्री साहिब सिंह वर्मा मुंडका के मूल निवासी थे. इसी प्रकार मीतरोल पाल में भी अनेक गाँव हैं जिनमें मीतरोल, औरंगाबाद और छज्जुनगर इसके प्रमुख गाँव हैं. [21] जिनमें लाकड़ा गोत्रीय चौहान वंशी जाट रहते हैं. जाटों के प्रसिद्द उद्योगपति चेती लाल वर्मा इसी पाल के गाँव छज्जुनगर की देन हैं. उड़ीसा के गोल कुंडा एरिया में बसे जाटों के अपने संगठन हैं. जहाँ जाटों की पाल या खाप नहीं हैं वहां जाट सभाएँ खड़ी कर रखी हैं. [22]

सर्वखाप पंचायत

सर्वखाप पंचायत[23] जाट जाति की सर्वोच्च पंचायत व्यवस्था है. इसमें सभी ज्ञात पाल, खाप भाग लेती हैं. जब जाति , समाज, राष्ट्र अथवा जातिगत संस्कारों, परम्पराओं का अस्तित्व खतरे में पड़ जाता है अथवा किसी समस्या का समाधान किसी अन्य संगठन द्वारा नहीं होता तब सर्वखाप पंचायत का आयोजन किया जाता है जिसके फैसलों का मानना और दिशा निर्देशानुसार कार्य करना जरुरी होता है. सर्वखाप व्यवस्था उतनी ही पुराणी है जितने की स्वयं जाट जाति. समय-समय पर इसका आकर, कार्यशैली और आयोजन परिस्थितियां तो अवश्य बदलती रही हैं परन्तु इस व्यवस्था को आतताई मुस्लिम, अंग्रेज और लोकतान्त्रिक प्रणाली भी समाप्त नहीं कर सकी.

प्राचीन काल के जाट गणराज्यों की सञ्चालन व्यवस्था सर्वखाप पद्धति पर आधारित थी. शिव जी के आव्हान पर जाटों की पंचायती सेना ने राजा दक्ष का सर काट डाला था. महाराजा शिव की राजधानी कनखल (हरिद्वार) में थी. एक बार दक्ष ने यज्ञ किया था जिसमें शिव जी को छोड़कर सभी राजाओं को बुलाया था. पार्वती बिना बुलाये ही वहां पहुंची. वहां पर शिव का अपमान किया गया. यह अपमान पार्वती से सहन नहीं हुआ और वह हवनकुंड में कूद कर सती हो गई. शिव को जब पता लगा तो बहुत क्रोधित हुए. शिव ने वीरभद्र को बुलाया और कहा कि मेरी गण सेना का नेतृत्व करो और दक्ष का यज्ञ नष्ट कर दो. वीरभद्र शिव के गणों के साथ गए और यज्ञ को नष्ट कर दक्ष का सर काट डाला. सर्व खाप पंचायत और उसके गणों की यह सबसे पुरानी घटना है.

रामायण काल में इतिहासकार जिसे वानर सेना कहते हैं वह सर्वखाप की पंचायत सेना ही थी जिसका नेतृत्व वीर हनुमान ने किया था और जिसका प्रमुख सलाहकार जामवंत नामक जाट वीर था. राम और लक्ष्मन की व्यथा सुनकर हनुमान और सुग्रीव ने सर्व खाप पंचायत बुलाई थी जिसमें लंका पर चढाई करने का फैसला किया गया. उस सर्व खाप में तत्कालीन भील, कोल, किरात, वानर, रीछ, बल, रघुवंशी, सेन, जटायु आदि विभिन्न जातियों और खापों के जाटों ने भाग लिया था. वानरों की बहुतायत के कारण यह वानर सेना कहलाई. इस पंचायत की अध्यक्षता महाराजा सुग्रीव ने की थी.

महाभारत काल में सर्वखाप पंचायत ने धर्म का साथ दिया था. महाभारत काल में तत्कालीन पंचायतो या गणों के प्रमुख के पद पर महाराज श्रीकृष्ण थे. श्रीकृष्ण ने कई बार पंचायतें की. युद्ध रोकने के लिए सर्व खाप पंचायत की और से संजय को कौरवों के पास भेजा, स्वयं भी पंचायत फैसले के अनुसार केवल ५ गाँव देने हेतु मनाने के लिए हस्तिनापुर कौरवों के पास गए. शकुनी, कर्ण और दुर्योधन ने पंचायत के फैसले को ताक पर रख कर ऐलान किया कि सुई की नोंक के बराबर भी जगह नहीं दी जायेगी. इसी का अंत हुआ महाभारत युद्ध के रूप में. महाभारत के भयंकर परिणाम निकले. सामाजिक सरंचना छिन्न-भिन्न हो गई. राज्य करने के लिए क्षत्रिय नहीं बचे. महाभारत काल में भारत में अराजकता का व्यापक प्रभाव था. यह चर्म सीमा को लाँघ चुका था. उत्तरी भारत में साम्राज्यवादी शासकों ने प्रजा को असह्य विपदा में डाल रखा था. इस स्थिति को देखकर कृष्ण ने अग्रज बलराम की सहायता से कंस को समाप्त कट उग्रसेन को मथुरा का शासक नियुक्त किया. कृष्ण ने साम्राज्यवादी शासकों से संघर्ष करने हेतु एक संघ का निर्माण किया. उस समय यादवों के अनेक कुल थे किंतु सर्व प्रथम उन्होंने अन्धक और वृष्नी कुलों का ही संघ बनाया. संघ के सदस्य आपस में सम्बन्धी होते थे इसी कारण उस संघ का नाम 'ज्ञाति-संघ' रखा गया. [24][25][26] यह संघ व्यक्ति प्रधान नहीं था. इसमें शामिल होते ही किसी राजकुल का पूर्व नाम आदि सब समाप्त हो जाते थे. वह केवल ज्ञाति के नाम से ही जाना जाता था.[27] प्राचीन ग्रंथो के अध्ययन से यह बात साफ हो जाती है कि परिस्थिति और भाषा के बदलते रूप के कारण 'ज्ञात' शब्द ने 'जाट' शब्द का रूप धारण कर लिया.

ठाकुर देशराज[28] लिखते हैं कि महाभारत काल में गण का प्रयोग संघ के रूप में किया गया है. बुद्ध के समय भारतवर्ष में ११६ प्रजातंत्र थे. गणों के सम्बन्ध में महाभारत के शांति पर्व के अध्याय १०८ [29] में विस्तार से दिया गया है . इसमें युधिष्ठिर भीष्म से पूछते हैं कि गणों के सम्बन्ध में आप मुझे यह बताने की कृपा करें कि वे किस तरह वर्धित होते हैं, किस प्रकार शत्रु की भेद-नीति से बचते हैं, शत्रुओं पर किस तरह विजय प्राप्त करते हैं, किस तरह मित्र बनाते हैं, किस तरह गुप्त मंत्रों को छुपाते हैं. इससे यह स्पस्ट होता है कि महाभारत काल के गण और संघ वस्तुतः वर्त्तमान खाप और सर्वखाप के ही रूप थे.

सर्वखाप पंचायतों का ऐतिहासिक महत्त्व

मौर्य काल में खापों की न्याय व्यवस्था वर्णन मिलता है.

महाराजा हर्षवर्धन (थानेसर के राजा) ने अपनी बहन राज्यश्री को मालवा नरेश की कैद से छुड़ाने में खाप पंचायत की सहायता मांगी थी जिसके लिए खापों के चौधरियों ने मालवा पर चढाई करने के लिए हर्ष की और से युद्ध करने के लिए ३०००० मल्ल और १०००० वीर महिलाओं की सेना भेजी थी. खाप की सेना ने राज्यश्री को मुक्त कराकर ही दम लिया. [30]

महाराजा हर्षवर्धन ने सन ६४३ में जाट क्षत्रियों को एकजुट करने के लिए कन्नौज शहर में विशाल सम्मलेन कराया था वह सर्वखाप पंचायत ही थी जिसका नाम 'हरियाणा सर्वखाप पंचायत' रखा गया था चूँकि उन दिनों विशाल हरियाणा उत्तर में सतलज नदी तक, पूर्व में देहरादून, बरेली, मैनपुरी तथा तराई एरिया तक, दक्षिण में चम्बल नदी तक और पश्चिम में गंगानगर तक फैला हुआ था. सर्वखाप के चार केंद्र थानेसर, दिल्ली, रोहतक और कन्नौज बनाये गए थे. इस सर्वखाप पंचायत में करीब ३०० छोटी-बड़ी पालें, खाप और संगठन शामिल थे. पंचायत ने थानेसर सम्राट हर्षवर्धन का कनौज के राजा के रूप में राज्याभिषेक किया. सम्राट हर्ष ने वैदिक विधि विधान से सर्वखाप पंचायत का गठन किया. इससे पूर्व विभिन्न खापों के विभिन्न स्वरुप, संविधान और कार्य करने के तौर तरीके अलग-अलग थे. [31]

सन ६६४ ई. में बगदाद के खलीफा ने अब्दुल्ला नामक सरदार के साथ ३५ हजार सेना भेजकर सिंध पर चढाई की. सिंध के राजा दाहिर द्वारा सहायता मांगे जाने पर पंचायत ने सेना भेजी जिसमें दाहिर के पुत्र जस्सा को प्रधान सेनापति, मोहना जाट को सेनापति तथा भानु गुज्जर को उपसेनापति नियुक्त किया गया. भयंकर युद्ध में मोहना जाट ने अब्दुल्ला को ढाक पर चढाकर जमीन पर पटका और मार दिया. अब्दुल्ला की २७००० सेना मारी गई , बाकी ८००० सिंध नदी में डूब गए क्योंकि जाटों ने पहले से ही पार ले जाने वाली नाओं पर कब्जा कर रखा था. खलीफा ने थोड़े थोड़े अंतराल से चार बार आक्रमण किये पर हर बार पंचायत सेना ने उसे मार भगाया. [32]

सन ११९१ में मोहम्मद गौरी का सामना करने के लिए सर्वखाप पंचायत ने २२००० जाट मल्ल वीरों को दिल्ली सम्राट पृथ्वीराज चौहान के साथ लड़ने भेजा था. दिल्ली सम्राट ने सर्वखाप पंचायत से सहायता मांगी थी. सर्वखाप पंचायत में १०८ राजाओं ने दिल्ली सम्राट के नेतृत्व में गौरी से लड़ने का फतवा जारी किया गया था. इस पंचायती और सम्राट की संयुक्त सेना के सामने गौरी की सेना नहीं टिक सकी और मैदान छोड़कर गौरी की सेना को भागना पड़ा. मगर अगले ही वर्ष ११९२ में गौरी ने पुनः आक्रमण किया और विजयी रहा. [33]

खाप पंचायतों ने नव स्थापित दास वंस के खिलाफ अपना विरोध लम्बे समय तक जारी रखा और मोका पाते ही वह विद्रोह करके इनका शासन समाप्त करने के प्रयास करते रहे [34]

सन ११९३ ई. में दिल्ली के बादशाह कुतुबुदीन ऐबक के साथ सर्वखाप पंचायत की सेना ने जाटवान के नेतृत्व में १२ वीं सदी का सबसे भयंकर युद्ध हांसी में लड़ा गया. इस युद्ध को मुस्लिम लेखक भी भयंकर मानते हैं. इसमें जाट वीरों ने अपने परंपरागत हथियारों यथा लाठी, बल्लम, कुल्हाडी, गंडासी, भाला, बरछी, जेळी, कटार आदि से अंतिम दम तक शाही सैनिकों को कत्ल किया. युद्ध कई दिन चला और जाटवान सहित अधिकतर मल्ल योद्धा शहीद हुए. जीत ऐबक की हुई परन्तु कहते हैं वह अपनी आधी सेना के शवों को देखकर दहाड़-दहाड़ कर रोया और रोते हुए उसने कहा कि मुझे पता होता कि जाट इतने लड़ाकू होते हैं तो वह उनसे भूलकर भी न लड़ता, जाटवान जैसे योधाओं को अपने साथ करके मैं सारी धरती जीत सकता था. इतिहासकार लिखते हैं कि यह पहला अवसर था जब जीतने के बाद भी कोई मुस्लिम शासक रोते हुए दिल्ली लौटा और उसने जस्न की जगह मातम मनाया. इस युद्ध से स्पस्ट हो जाता है कि सर्व खाप पंचायत उस समय भी अपना काम कर रही थी तथा गोपनीय स्थलों, जंगलों, बीहडों में इसकी पंचायत होती थी. [35]

सन ११९७ ई. में राजा भीम देव की अध्यक्षता में बावली बडौत के बीच विशाल बणी में सर्वखाप पंचायत की बैठक हुई थी जिसमें बादशाह द्वारा हिन्दुओं पर जजिया कर लगाने तथा फसल न होने पर पशुओं को हांक ले जाने के फरमानों का मुँहतोड़ जवाब देने के लिए ठोस कार्रवाई करने पर विचार किया गया. इस पंचायत में करीब १००००० लोगों ने भाग लिया. पंचायती फैसले के अनुसार सर्वखाप की मल्ल सेना ने शाही सेना को घेर कर हथियार छीन लिए और दिल्ली पर चढाई करने का एलान किया. बादशाह ने घबराकर दोनों फरमान वापिस लेकर पंचायत से समझौता कर लिया. [36]

सन १२११ ई. और १२३६ ई में गुलाम वंश का सुलतान इल्तुतमिश दो बार सर्वखाप की सेना से हारा था. हारने के बाद उसे सर्वखाप की ८ शर्तों को स्वीकार करना पड़ा था. ये शर्तें थी: पंचायतो को अपने निर्णय स्वयं करने का अधिकार, पंचायत को सेना रखने का अधिकार, पंचायतो को पूर्ण स्वतंत्रता देना, हिन्दुओं को पूर्ण धार्मिक स्वतंत्रता देना , जजिया कर की समाप्ति, और दरबार में पंचायत को प्रतिनिधित्व देना. इससे स्पस्ट है कि १३ वीं सदी में सर्वखाप पंचायतें इस स्थिति में थी कि वे सरकार से अपनी बात मनवा लेती. पंचायत सेना भी इतनी शक्तिशाली थी कि शाही सेना को कई बार हराया था. [37]

सन १२३७ ई. ' में दिल्ली तख्त पर आसीन रजिया बेगम घरेलू झगडों से परेसान हो गई थी. अमीर उसकी हत्या करना चाहते थे. जब कोई रास्ता न बचा तो रजिया सुल्ताना ने तत्कालीन सर्वखाप पंचायत के चौधरी को सहायता के लिए पुकारा. इस प्रस्ताव पर विचार करने के लिए एक गुप्त स्थान पर आयोजन हुआ जिसमें पंचायती सेना द्वारा रजिया सुल्ताना का साथ देने का फैसला लिया गया.पंचायती सेना ने अचानक दिल्ली पर धावा बोलकर रजिया सुल्ताना के विरोधियों को कुचल डाला. रजिया ने खुश होकर पंचायती मल्ल योद्धाओं के लिए ६०००० दुधारू पशु उपहार में दिए. [38]

सन १२४६ से १२६६ ई. में गुलाम वंशी नासिरुद्दीन ने शासन किया. उसके विरोधियों की संख्या कम न थी.जब उसे लगा कि उसकी गद्दी कभी भी छिन सकती है तो उसने अपने भतीजे को सहायता के लिए सर्वखाप के मुख्यालय सौरम (मुज़फ्फरनगर) भेजा. इस मांग पर खापों के चौधरियों ने कई दिन तक विचार किया. अंत में नासिरुद्दीन को अपनी कुछ मांगें मानने का प्रस्तान उसके भतीजे के साथ भेजा. नासिरुद्दीन ने पंचायत की सभी मांगे मानली और बदले में पंचायत की सेना ने नसीरुद्दीन के विरोधियों को नष्ट कर उसे निष्कंटक बना दिया. [39]

सन १२८७ ई. में महानदी के तट पर सर्वखाप की एक विशाल पंचायत हुई जिसकी अध्यक्षता चौधरी मस्त पाल सिरोहा ने की. इस पंचायत में ६०००० जाट, २५००० अहीर, ४०००० गुर्जर, ३८००० राजपूत, तथा ५००० सैनिकों ने भाग लिया. इस पंचायत में कुछ प्रस्ताव पास किये गए जैसे २५००० व्यक्ति हमेशा युद्ध के लिए तैयार रहेंगे, १८ से ४० वर्ष के बीच के लोग शाही सेना से लड़ने का प्रशिक्षण लें, जजिया कर बिलकुल नहीं देंगे, शादी-विवाहों में शाही हुक्म नहीं मानेंगे और अपनी परंपरागत शैली ही अपनाएंगे, फसल का आधा भाग कर के रूप में जमा नहीं करेंगे, पंचायत अपने निर्णय स्वयं लेगी आदि. इस पंचायत में यह स्पस्ट होता है कि सर्वखाप पंचायत एक सर्वजातीय संगठन था. [40]

सन १३०५ में चैत्रबदी दूज को सोरम (मुजफ्फरनगर) में एक विशाल सर्वखाप पंचायत हुई थी जिसमें सभी खापों के ४५००० प्रमुखों ने भाग लिया था तथा राव राम राणा को सर्वखाप पंचायत का महामंत्री नियुक्त किया गया था तथा गाँव सौरम को वजीर खाप का पद प्रदान किया था. इसी पंचायत में ८४ गांवों की बालियान खाप को प्रमुख खाप के रूप में स्वीकार किया गया. यदि इस पंचायत के आयोजन पर गहन विचार करें तो यह स्पस्ट हो जाता है कि तत्कालीन हरियाणा का क्षेत्र काफी विस्तृत था जिसमें सम्पूर्ण पश्चिमी उत्तर प्रदेश समाहित था. [41]

सन १२९५ में अलाउद्दीन खिलजी ने पंचायत को कुचलने के लिए अपने एक सेनापति मलिक काफूर को २५००० की सेना लेकर वर्तमान पश्चिम उत्तर प्रदेश के जाट बाहुल्य इलाके में भेजा. हिंडन और काली नदियों के संगम पर अर्थात बरनावा गाँव के आस-पास सर्वखाप के मल्ल वीरों और खिलजी की सेना के बीच भयानक युद्ध हुआ. अधिकतर मुस्लिम सैनिक काट डाले गए, जो बचे वे अपने सेनापति सहित मैदान छोड़कर भाग गए. पंचायती फैसले के अनुसार इस युद्ध में खिलजी सेना से लड़ने हर घर से एक योद्धा ने भाग लिया था. [42]

सन १३१९ ई. में मुबारकशाह खिलजी के सेनापति जाफ़र अली ने बैशाखी की अमावश्या के दिन कोताना (बडौत के निकट) यमुना नदी में कुछ हिन्दू ललनाओं को स्नान करते देखा तो उसकी कामवासना भड़क उठी. उसने हिन्दू बालाओं को घेर कर पकड़ने का प्रयास किया तो बालाओं ने डटकर मुकाबला किया. आस-पास के लोग भी सैनिकों से जा भिडे. भारी मारकाट मची. इस बात की खबर सर्वखाप पंचायत को लगने पर पंचायती मल्लों को जाफर अली को सबक सिखाने भेजा. बताया जाता है कि इससे पहले ही एक हिन्दू ललना ने जाफ़र का सर काट दिया था. बीस कोस तक पंचायती मल्लों ने बाकी बचे कामांध सैनिकों का पीछा किया और इन्हें कत्ल कर दिया. बादशाह ने अंत में इस घटना के लिए पंचायत से लिखित में माफ़ी मांगी. [43]

दक्षिण भारत में तुंगभद्रा नदी के किनारे १३३६ से १५९६ ई. तक हिन्दुओं का विजयनगर नामक राज्य रहा है. इस राज्य के लोगों को निकटवर्ती मुस्लिम शासक बहुत तंग करते थे. विजयनगर के राजा देव राज II ने सर्वखाप पंचायत से लिखित में मांग की कि सर्वखाप पंचायत कुछ मल्ल यौद्धा भेजे जो वहां प्रशिक्षण दें और शत्रुओं से उनकी रक्षा करें. सर्वखाप पंचायत ने विचार कर १००० योद्धाओं को विजयनगर भेजा. वहां पहुँच कर इन योद्धाओं ने हिन्दुओं को अभय दान देने के साथ-साथ गाँव-गाँव में अखाड़े चालू करवाए. शत्रुओं को पछाड़ कर मार डाला. वहां जाने वाले मल्ल योद्धाओं में प्रमुख थे शंकर देव जाट, शीतल चंद रोड, चंडी राव रवा, ओझाराम बढ़ई जांगडा, ऋपल देव जाट, शिव दयाल गुजर . यह घटना सर्वखाप की शक्ति और सरंचनाओं पर प्रकाश डालती है. [44]

सन १३९८ में तैमूर लंग ने जब ढाई लाख सेना के साथ भारत पर आक्रमण किया तो पंचायती सेना ने उसकी आधी सेना को काटकर यमुना, कृष्ण, हिंडन, और काली नदी में फेंक दिया था. तैमूर लंग को रोकने के लिए बेरोगोलिया, बादली, सिसौली तथा सैदपुर में चार सर्वखाप पंचायतें हुई. इसके बाद सर्वखाप की सामूहिक पंचायत चौगामा के गांवों, निरपड़ा, दाहा,दोघट, टीकरी के बीच २२५ बीघे वाले विशाल बाग में हुई जिसकी अध्यक्षता निरपड़ा गाँव के यौद्धा देव पाल राणा ने की. इस महापंचायत ने अस्सी हजार वीरों को चुना गया जिनमें किसी का भी वजन दो कुंतल से कम न था. पंचायती सेना का सेनापति ४५ वर्षीय पहलवान योगराज जाट को चुना. ४०००० वीरांगनाओं को भी चुना गया. ५०० घुड़ सवारों की गुप्त सेना बनाई. हिसार के गाँव कोसी के पहलवान धोला को उपसेनापति बनाया. युद्ध के पहले ही दिन उस क्षेत्र से गुजर रहे तैमुर लंग के करीब एक लाख साठ हजार सैनिक मौत के घाट उतारे गए. पंचायती सेना के भी ३८ सेनापति और ३५००० मल्ल तथा वीरांगनाएँ काम आई. तैमूर मरते मरते बचा और बिना रुके घबरा कर जम्मू के रास्ते स्वदेश लौट गया. इससे पहले उसने जी भर कर दिल्ली को लूटा था परन्तु पंचायती मल्लों ने उससे दिल्ली से लूटी गई पाई-पाई को छीन लिया तथा हजारों युवतियों को उसकी कैद से छुडाया. यदि एक दिन तैमूर और रुक जाता तो वह और उसकी सेना को पंचायती सेना सदा के लिए गंगा-यमुना के मैदान में दफ़न कर देती. [45]

सन १४२१ में मेवाड़ के राणा लाखा ने ५० वर्ष की आयु में मारवाड़ के राजा रणमल की १२ वर्षीय कन्या से विवाह किया जिससे मोकल नमक पुत्र पैदा हुआ. मोकल जब ५ वर्ष का था तो राणा लाखा चल बसे. उसकी सहायता के लिए मोकल के नाना और मामा जोधा चितोड़ में आकर बस गए. उन्होंने सत्ता की चाह में मोकल को मार डालने का सड़यंत्र रचा तथा पड़ौसी राजपूत राजाओं से सौदाबाजी करली. मोकल की माता को जब और कोई सहारा नजर नहीं आया तो सर्वखाप को दूत भेज कर सहायता मांगी. पंचायत ने तुंरत सहायता के लिए मल्ल वीरों को मेवाड़ भेजा. वहां पहुँच कर पंचायती मल्ल योद्धाओं ने राजमहल को घेर लिया. राजमाता और राजकुमार मोकल को सुरक्षित निकाल कर विद्रोहियों को मार डाला. उस समय बहुत से जाट वहीँ बस गए जिनके वंसज आज वहां शान से रहते हैं. [46]

सन १४९० में दिल्ली पर सिकंदर लोदी का शासन था. उसने प्रजा पर राजस्व कर बढा दिए और हिन्दुओं पर जजिया कर लगा दिया. किसानों की हालत ख़राब हो गई और हाहाकार मच गया. लोदी के आतंक के विरुद्ध सर्वखाप पंचायत के नेतृत्व में किसानों की महा पंचायत हुई. पंचायत ने दिल्ली को घेरने का संकल्प लिया. दिल्ली में जब लोदी को पता लगा कि सर्वखाप पंचायत के मल्ल योद्धा दिल्ली के लिए कूच कर गए हैं तो सुलतान डर गया. वह सर्वखाप पंचायत के मुख्यालय सौरम गया और पंचायत से समझौता कर लिया तथा ५०० अशर्फियाँ भी पंचायत को भेंट की, बदले में पंचायत ने अपनी सेना वापिस बुला ली. [47]

सिकंदर लोदी की मृत्यु के बाद उसका लड़का इब्राहीम लोदी गद्दी पर बैठा, परन्तु उसके छोटे भाई जलालुद्दीन ने विद्रोह कर दिया. इब्राहीम लोदी ने सर्वखाप पंचायत की सहायता मांगी. सर्वखाप के मल्ल योद्धाओं ने जलालुद्दीन और उसके हजारों सैनिकों को रमाला (बागपत) के जंगलों में घेर लिया और आत्मसमर्पण के लिए मजबूर कर दिया. [48]

सन १५०८ में राणा सांगा चितौड़ की गद्दी पर बैठा. उसने अपने जीवन काल में ६० युद्ध लड़े परन्तु जब बाबर विशाल सेना लेकर चितौड़ की और बढा तब राणा सांगा ने सर्वखाप पंचायत से सहायता मांगी. पंचायत ने राणा सांगा के पक्ष में युद्ध करने का निर्णय लिया. कनवाह के मैदान में भयंकर युद्ध हुआ. राणा सांगा घायल होकर अचेत होने लगे तो पास ही लड़ रहे सर्वखाप पंचायत के मल्ल योद्धा कीर्तिमल ने राणा का ताज उतार कर स्वयं पहन लिया और राणा सांगा को सुरक्षित युद्ध क्षेत्र से बहार निकाला. बाबर की सेना ताज देखकर राणा सांगा समझती रही. अंततः कीर्तिमल शहीद हो गए. राजपूत राणा को बचाकर एक बार फिर सर्वखाप पंचायत की श्रेष्ठता सिद्ध कर दिखाई. [49]

बाबर और सर्वखाप पंचायत में मनमुटाव चलता रहा. अंत में १५२८ में बाबर स्वयं गाँव सौरम गया तथा तत्कालीन सर्वखाप पंचायत चौधरी रामराय से संधि कर ली और चौधरी को एक रूपया तथा पगड़ी सम्मान के १२५ रपये देकर सम्मानित किया. [50]

सन १५४० में बादशाह हुमायूं का सर्वखाप पंचायत ने साथ नहीं दिया. इस टकराव का शेरशाह ने भरपूर फायदा उठाया. शेरशाह ने दिल्ली पर कब्जा कर लिया और हुमायूं को अफगानिस्तान तक दौड़ाकर मुल्क से खदेड़ दिया. शेरशाह ने गद्दी पर बैठते ही किसानों को तंग करना शुरू कर दिया तथा सर्वखाप की एक न मानी. उधर इरान पहुँच कर हुमायूँ को सर्वखाप पंचायत की याद आई. उसने अपना दूत भेजकर सर्वखाप पंचायत से सहायता मांगी. सर्वखाप पंचायत ने इस शर्त पर सहायत दी कि गद्दी पर बैठने पर वह सर्वखाप की सभी मांगे स्वीकार कर लेंगे. हुमायूँ ने शेरशाह सूरी के उत्तराधिकारी सिकंदरशाह सूरी को खाप पंचायत की मदद से सरहिंद के युद्ध में हराकर दिल्ली पर फिर अधिकार कर लिया (जून , १५५५ ) और कुछ समय बाद उसकी मृत्यु हो गई . [51]

बादशाह अकबर के जमाने में सर्वखाप पंचायत का पुनर्गठन किया गया. अकबर के समय पंचायत के १० मंत्री चुने गए थे. चौधरी पच्चुमल को अकबर बादशाह ने मंत्री के रूप में मान्यता दी थी. अन्य मान्यता प्राप्त मंत्री थे - चौधरी भानी राम, हरी राम, टेकचंद, किशन राम, श्योलाल, गुलाब सिंह, सांई राम, और सूरज मल. यह मान्यता बादशाह मुहम्मदशाह के जमाने अर्थात १७४८ तक चलती रही. मुग़लों ने सर्वखाप पंचायत के साथ समझौता नीति को अधिक अपनाया. मुग़ल काल में सर्वखाप पंचायत का आयोजन होता रहा तथा पंचायत के नेताओं ने अनेक कुर्बानियां दी थी और इस बेमिसाल पंचायत व्यवस्था को बनाये रखा. [52]

सन १६२८ में शाहजहाँ ने किसान-मजदूरों के प्रति कठोर निति अपनाई. सर्वखाप पंचायत ने इसका विरोध कियाम शाही खजानों और चौकियों पर हमला किया. शाहजहाँ ने दो सेनापतियों आमेर (वर्तमान जयपुर) के मिर्जा राजा जयसिंह और कासिम खान को विद्रोह दबाने के लिए भेजा. पंचायती सेना ने इन दोनों को घेर लिया और तभी छोड़ा जब शाहजहाँ ने अपना किसान विरोधी फरमान वापस लिया. सन १६३५ में शाहजहाँ ने फिर किसानों पर भारी कर लगा दिए. सर्वखाप पंचायत ने लगान के रूप में कर न देने का फैसला किया. आगरा, मथुरा, गोकुल, महावन, पहाडी, मुहाल, खोह आदि में मेव, गुर्जर, राजपूत, और जाट एक हो गए. शाही सेना से टकराव चलता रहा मगर बादशाह पंचायत विरोध को दबा न सका. और समझौता करना पड़ा. [53]

सन १६६० में ठेनुआ गोत्र के जाट नन्द राम नें सर्वखाप पंचायत का आयोजन किया तथा स्वयं ही उसकी अध्यक्षता की. औरंगजेब ने धर्म परिवर्तन के लिए अनेक तरीके अपनाए. किसानों पर भारी कर लगाये, हिन्दुओं पर जजिया कर लगाया, हिन्दुओं के त्योहारों और मेलों पर रोक लगादी. नन्द राम ने जनसमर्थन से अलीगढ, मुरसान, हाथरस, और मथुरा पर अपनी छापामार शैली से कब्जा कर लिया. औरंगजेब कुछ नहीं कर सका और अंत में नन्द राम को फौजदार की उपाधि देकर समझौता कर लिया. [54]

९ अप्रेल १६६९ कोऔरंगजेब का नया फरमान आया - "काफ़िरों के मदरसे और मन्दिर गिरा दिए जाएं". फलत: ब्रज क्षेत्र के कई अति प्राचीन मंदिरों और मठों का विनाश कर दिया गया. कुषाण और गुप्त कालीन निधि, इतिहास की अमूल्य धरोहर, तोड़-फोड़, मुंड विहीन, अंग विहीन कर हजारों की संख्या में सर्वत्र छितरा दी गयी. सम्पूर्ण ब्रजमंडल में मुगलिया घुड़सवार और गिद्ध चील उड़ते दिखाई देते थे . और दिखाई देते थे धुंए के बादल और लपलपाती ज्वालायें- उनमें से निकलते हुए साही घुडसवार. [55] हिन्दुओं को दबाने के लिए औरंगजेब ने अब्दुन्नवी नामक एक कट्टर मुसलमान को मथुरा का फौजदार नियुक्त किया. अब्दुन्नवी ने सिहोरा नामक गाँव को जा घेरा. क्रान्तिकार जाट गोकुलसिंह ने सर्वखाप पंचायत के सहयोग से एक बीस हजारी सेना तैयार कर ली थी. गोकुलसिंह अब्दुन्नवी के सामने जा पहुंचे. मुग़लों पर दुतरफा मार पड़ी. फौजदार गोली प्रहार से मारा गया. बचे खुचे मुग़ल भाग गए. गोकुलसिंह आगे बढ़े और सादाबाद की छावनी को लूटकर आग लगा दी. इसका धुआँ और लपटें इतनी ऊँची उठ गयी कि आगरा और दिल्ली के महलों में झट से दिखाई दे गईं. दिखाई भी क्यों नही देतीं. साम्राज्य के वजीर सादुल्ला खान (शाहजहाँ कालीन) की छावनी का नामोनिशान मिट गया था. मथुरा ही नही, आगरा जिले में से भी शाही झंडे के निशाँ उड़कर आगरा शहर और किले में ढेर हो गए थे. निराश और मृतप्राय हिन्दुओं में जीवन का संचार हुआ. इस युद्ध को दुनिया के भयानक युद्धों में गिना जाता है. इस युद्ध में ५००० जाट शाही सेना के ५०००० सैनिकों को कत्ल कर जान पर खेल गए. ७००० किसानों को बंदी बनाकर आगरा की कोतवाली के सामने बेरहमी से कत्ल कर दिया गया. गोकुलसिंह और उनके ताऊ उदयसिंह को सपरिवार बंदी बना लिया गया.अगले दिन गोकुलसिंह और उदयसिंह को आगरा कोतवाली पर लाया गया-उसी तरह बंधे हाथ, गले से पैर तक लोहे में जकड़ा शरीर. गोकुलसिंह की सुडौल भुजा पर जल्लाद का पहला कुल्हाड़ा चला, तो हजारों का जनसमूह हाहाकार कर उठा. कुल्हाड़ी से छिटकी हुई उनकी दायीं भुजा चबूतरे पर गिरकर फड़कने लगी. परन्तु उस वीर का मुख ही नहीं शरीर भी निष्कंप था. उसने एक निगाह फुव्वारा बन गए कंधे पर डाली और फ़िर जल्लादों को देखने लगा कि दूसरा वार करें. परन्तु जल्लाद जल्दी में नहीं थे. उन्हें ऐसे ही निर्देश थे. दूसरे कुल्हाड़े पर हजारों लोग आर्तनाद कर उठे. उनमें हिंदू और मुसलमान सभी थे. अनेकों ने आँखें बंद करली. अनेक रोते हुए भाग निकले. कोतवाली के चारों ओर मानो प्रलय हो रही थी. एक को दूसरे का होश नहीं था. वातावरण में एक ही ध्वनि थी- "हे राम!...हे रहीम !! इधर आगरा में गोकुलसिंह का सिर गिरा, उधर मथुरा में केशवरायजी का मन्दिर! [56]

क्रांतिकारियों ने अकबर के मकबरे को नेस्तनाबूद किया

सत्ता की लडाई में दारा शिकोह का साथ देने के कारण औरंगजेब ने बादशाह बनते ही सर्वखाप पंचायत को सबक सिखाने के लिए एक घिनौनी चाल चली. उसने सुलह सफाई के लिए सर्वखाप पंचायत को दिल्ली आने का निमंत्रण भेजा. सर्वखाप ने निमंत्रण स्वीकार कर जिन २१ नेताओं को दिल्ली भेजा उनके नाम थे- राव हरिराय, धूम सिंह, फूल सिंह, शीशराम, हरदेवा, राम लाल, बलि राम, माल चंद, हर पाल, नवल सिंह, गंगा राम, चंदू राम, हर सहाय, नेत राम, हर वंश, मन सुख, मूल चंद, हर देवा, राम नारायण, भोला और हरिद्वारी. इनमें एक ब्रह्मण, एक वैश्य, एक सैनी, एक त्यागी, एक गुर्जर, एक खान, एक रोड, तीन राजपूत, और ग्यारह जाट थे. इन २१ नेताओं के सामने औरंगजेब ने धोखा किया और इनके सामने इस्लाम या मौत में से एक चुनने का हुक्म दिया. दल के मुखिया राव हरिराय ने औरंगजेब से जमकर बहस की तथा कहा कि शर्वखाप पंचायत शांति चाहती है वह टकराव नहीं. औरंगजेब ने जिद नहीं छोड़ी तो इन नेताओं ने इस्लाम धर्म स्वीकार करने से इनकार कर दिया. परिणाम स्वरुप सन १६७० ई. की कार्तिक कृष्ण दशमी के दिन चांदनी चौक दिल्ली में इन २१ नेताओं को एक साथ फंसी पर लटका दिया गया. जब यह खबर पंचायत के पास पहुंची तो चहुँओर मातम छा गया. इसके बाद धर्मान्तरण की आंधी चलने लगी. साथ ही सर्वखाप पंचायत का अस्तित्व खतरे में पड़ गया. [57]

सन १६८५ में सिनसिनी के राजा राम ने मृत प्रायः सर्व खाप सेना में जान डाली. राजा राम के नेतृत्व में एक विशाल सेना तैयार हो गई. पंचायती सेना ने सिकन्दरा को जा घेरा. आस-पास की गढ़ियों में आग लगा दी . सिकन्दरा के मकबरा रक्षक मीर अहमद जान बचाकर भागे. गोकुल सिंह की बर्बर हत्या का बदला लेने पर उतारू क्रांतिकारियों ने अकबर की कब्र खोदकर उसकी हड्डियों को निकालकर सरे आम फूंक डाला. मुग़लों के इस प्रसिद्द मकबरे को नेस्तनाबूद कर क्रन्तिकारी पंचायती गोकुल सिंह जिंदाबाद के नारे लगते वापिस लौट गए. [58]

भरतपुर जाट राज्य का उदय

सिकन्दरा की लूट के बाद राजा राम ही सर्वखाप पंचायत के सर्वे-सर्वा बन गए. १४ जुलाई १६८८ को बीजल, अलवर, स्थान पर शेखावाटी राजपूतों और चौहान राजपूतों की लड़ाई में राजा राम शहीद हो गए. राजा राम की मृत्यु के बाद सर्वखाप पंचायत का सक्रीय मुख्यालय सिनसिनी गाँव बन गया. औरंगजेब ने राजपूतों को पक्ष में कर जाटों को दबाना शुरू किया. सन १६९४ में शाह आलमगीर ने राजा बिशन सिंह राजपूत और कल्याण सिंह भदौरिया को आगरा के जाटों को दबाने भेजा. २० फरवरी १६९५ में जाटों को घेरने की कोशिशे शुरू हुई और अप्रेल तक उनको दबाया न जा सका. अंत में एक रक्त रंजित युद्ध में राजपूत और मुगलिया सेना का सिनसिनी के आस-पास की जाट गढ़ियों पर तो कब्जा हो गया परन्तु जाट नेता नन्द राम अपने सभी पुत्रों सहित बच निकालने में सफल रहा. सिनसिनी हाथ से निकलने के बाद फिर गुप्त जगह पंचायत का आयोजन किया गया. भज्जा राम और उनके लघु भ्राता ब्रज राज अज्ञात वास से बहार निकल आये तथा पंचायत के फैसले के अनुसार ब्रज राज के पुत्र चुडा्मन को जाटों का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी सौंपी. जाटों की पंचायती सेना ने गढ़ियों पर काबिज मुस्लिम और राजपूत फौजदारों को कत्ल कर दिया तथा जगह -जगह जाट चौकियां स्थापित करली. सन १६९६ में एक बार फिर शाही सेना से पंचायती सेना का मुकाबला हुआ. जाट अंतिम सांस तक लड़े. इस युद्ध में ब्रज राज काम आये और भाई के गम में भज्जा राम भी चल बसे. [59]

ब्रज राज के बाद जाटों ने बन्दूक छोड़कर हल चलाना शुरू किया तथा धीरे-धीरे जाट संगठन सर्वखाप पंचायत को भी सुद्रढ़ किया. चुड़ामन ने सिनसिनी में जाट प्रमुखों की एक पंचायत बुलाई जो सर्वखाप पंचायत का ही लघु रूप था. चुड़ामन ने धीरे-धीरे ब्रज मंडल से मुग़ल शासन समाप्त कर दिया तथा जाटों की एक सुद्रढ़ सेना तैयार कर भरतपुर जाट राज्य की स्थापना की.[60]

अंग्रेजी राज और सर्वखाप पंचायतें

२३ अप्रेल १८५७ को मेरठ छावनी में सैनिक विद्रोह हुआ और १० मई १८५७ को सर्वखाप पंचायत के वीरों ने अंग्रेजों को गोली से उड़ा दिया. ११ मई १८५७ को चौरासी खाप तोमर के चौधरी शाहमल गाँव बिजरोल (बागपत) के नेतृत्व में पंचायती सेना के ५००० मल्ल योद्धाओं ने दिल्ली पर आक्रमण किया. शामली के मोहर सिंह ने आस-पास के क्षेत्रों पर काबिज अंग्रेजों को ख़त्म कर दिया. सर्वखाप पंचायत ने चौधरी शाहमल और मोहर सिंह की सहायता के लिए जनता से अपील की. इस जन समर्थन से मोहर सिंह ने शामली, थाना भवन, पड़ासौली को अंग्रेजों से मुक्त करा लिया गया. बनत के जंगलों में पंचायती सेना और हथियार बंद अंग्रेजी सेना के बीच भयंकर युद्ध हुआ जिसमें मोहर सिंह वीर गति को प्राप्त हुए परन्तु अंग्रेज एक भी नहीं बचा. चौहानों, पंवारों, और तोमरों ने रमाला छावनी का नामोनिशान मिटा दिया. सर्वखाप पंचायत के मल्ल योद्धाओं ने अंततः दिल्ली से अंग्रेजी राज ख़त्म कर बहादुर शाह को दिल्ली की गद्दी पर बैठा दिया. [61] ३० और ३१ मई १८५७ को मारे गए कुछ अंग्रेज सिपाहियों और अधिकारीयों की कब्रें गाजियाबाद जिले में मेरठ मार्ग पर हिंडोन नदी के तट पर देखी जा सकती हैं.

जुलाई १८५७ में क्रांतिकारी नेता शाहमल को पकड़ने के लिए अंग्रेजी सेना संकल्पबद्ध हुई पर लगभग 7 हजार सैनिकों सशस्त्र किसानों व जमींदारों ने डटकर मुकाबला किया। शाहमल के भतीजे भगत के हमले से बाल-बाल बचकर सेना का नेतृत्व कर रहा अंगेज अफसर डनलप भाग खड़ा हुआ और भगत ने उसे बड़ौत तक खदेड़ा। इस समय शाहमल के साथ 2000 शक्तिशाली किसान मौजूद थे। गुरिल्ला युद्ध प्रणाली में विशेष महारत हासिल करने वाले शाहमल और उनके अनुयायियों का बड़ौत के दक्षिण के एक बाग में खाकी रिसाला से आमने सामने घमासान युद्ध हुआ.[62]

डनलप शाहमल के भतीजे भगता के हाथों से बाल-बाल बचकर भागा. परन्तु शाहमल जो अपने घोडे पर एक अंग रक्षक के साथ लड़ रहा था, फिरंगियों के बीच घिर गया. उसने अपनी तलवार के वो करतब दिखाए कि फिरंगी दंग रह गए. तलवार के गिर जाने पर शाहमल अपने भाले से दुश्मनों पर वार करता रहा. इस दौर में उसकी पगड़ी खुल गई और घोडे के पैरों में फंस गई. जिसका फायदा उठाकर एक फिरंगी सवार ने उसे घोड़े से गिरा दिया. अंग्रेज अफसर पारकर, जो शाहमल को पहचानता था, ने शाहमल के शरीर के टुकडे-टुकडे करवा दिए और उसका सर काट कर एक भाले के ऊपर टंगवा दिया. [63]

बाद में अंग्रेज पुनः सत्ता पर काबिज हुए तथा उन्होंने भारी दमन चक्र चलाया. सर्वखाप पंचायत फिर से निष्क्रिय हो गई. मुस्लिम काल में सर्वखाप पंचायत ने अनेक-उतर चढाव देखे परन्तु अंग्रेज बड़े चालक थे उन्होंने सर्वखाप पंचायत की जड़ों पर प्रहार किया. विशाल हरियाणा को उत्तर प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और मध्य प्रदेश आदि प्रान्तों में विभाजित कर दिया. अंग्रेज सरकार में लार्ड मैकाले ने सर्वखाप पंचायत पर रोक लगादी थी. फलस्वरूप १९४७ तक खुले रूप में पंचायत का आयोजन नहीं हो सका.

सन १९२४ में बैसाखी अमावस्या को सोरम गाँव में सर्वखाप की पंचायत हुई थी जिसमें सोरम के चौधरी कबूल सिंह को सर्वखाप पंचायत का सर्वसम्मति से महामंत्री नियुक्त किया था. वे इस संगठन के २८ वें महामंत्री बताये जाते हैं. इनके पास सम्राट हर्षवर्धन से लेकर स्वाधीन भारत तक का सर्वखाप पंचायत का सम्पूर्ण रिकार्ड उपलब्ध है जिसकी सुरक्षा करना पंचायती पहरेदारों की जिम्मेदारी है. इस रिकार्ड को बचाए रखने के लिए पंचायती सेना ने बड़ा खून बहाया है.

आजाद भारत में सर्वखाप पंचायतें

आजाद भारत में ८, ९ मार्च १९५० में गाँव सोरम में सर्वखाप पंचायत का आयोजन पंडित जगदेव सिंह सिद्धान्ती मुख्याधिष्टाता गुरुकुल महा विद्यालय किरठल की प्रधानता में हुआ था. इसमें ६०००० पंचों ने भाग लिया था. तत्पश्चात पूर्व न्यायाधीश श्री महावीर सिंह को हरियाणा सर्वखाप का प्रधान बनाया गया. [64]

१२ जून १९८३ और ५ मार्च १९८८ को स्वामी कर्मपाल जी की अध्यक्षता में दो बार हरियाणा सर्वखाप की पंचायतें हुईं जिनमें जाट जाति के उत्थान पर विचार कर समाज को दिशा निर्देश जरी किये गए.

आजादी के बाद पंचायती राज्य व्यवस्था लागू हो गई इससे सर्वखाप व्यवस्था का महत्त्व घट गया. अब वोट की राजनीति होने से जातियों ने अलग-अलग पंचायतें बनाली हैं. जातीय पंचायतों, गोत्रीय पंचायतों, पालों और खापों का महत्त्व बढ़ गया है. आजकल लोग न्यायालाओं में प्रकरणों का निराकरण चाहते हैं इसमें समय और धन दोनों की ही बर्बादी होती है और अनिश्चित लम्बे समय तक विवादों का निराकरण भी नहीं हो पाता है.

आज अखिल भारतीय जाट महासभा जाटों की सर्वोच्च संस्था है. इसके अधीन प्रदेशों में प्रादेशिक जाट महा सभाएं काम कर रही हैं.

Gallery

A Significant Article Over Khap's role in society

http://www.jatland.com/home/Banning_Khaps_would_be_a_retrogade_step,_argues_social_activist


References

  1. Jat Samaj, Agra, May 2014, p. 5
  2. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Relationship with the Aryans, p.92
  3. J.P. Sharma, Republics in Ancient India, 1968, Leiden
  4. Steve Muhlberger, Democracy in Ancient India, Associate Professor of History, Nipissing University.
  5. Bibliography, Yuadheyoun ka Ithihasa
  6. Dr Natthan Singh, Jat-Itihas, (Jat History), Jat Samaj Kalyan Parishad, F-13, Dr Rajendra Prasad Colony, Tansen marg, Gwalior, M.P, India 474 002 2004
  7. Ram Swarup Joon, History of the Jats, Rohtak, India (1938, 1967)
  8. Dr. Bal Kishan Dabas, The Political and Social History of the Jats, 2001 Sanjay Prakashan, New Delhi, ISBN 81-7453-045-2 Meeting held under the chairmanship of Sant Shanta Nand, the account recorded by Ramdas, the Recorder( Bhat) of the Panchayat Source: Shoram collection, Pothi No.1, P.7, quoted in note 33, of ` The Political and Social History of the Jats, Dr. Bal Kishan Dabas
  9. The Jats - Their Role in the Mughal Empire/Bibliography, pp. 292-93
  10. Ram Swarup Joon, History of the Jats, Rohtak, India (1938, 1967)
  11. Dr Natthan Singh, Jat-Itihas, (Jat History), Jat Samaj Kalyan Parishad, F-13, Dr Rajendra Prasad Colony, Tansen marg, Gwalior, M.P, India 474 002 2004
  12. [http://ahwanmag.com/archives/1459 खाप पंचायतों के फ़रमान और पूँजीवादी लोकतंत्र की दुविधा
  13. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 10
  14. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 10
  15. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 10
  16. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 13
  17. [http://ahwanmag.com/archives/1459 खाप पंचायतों के फ़रमान और पूँजीवादी लोकतंत्र की दुविधा
  18. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 22
  19. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 22
  20. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 23
  21. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 23
  22. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 24
  23. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 25-26
  24. महाभारत नारद-श्रीकृष्ण संवाद
  25. ठाकुर गंगासिंह: "जाट शब्द का उदय कब और कैसे", जाट-वीर स्मारिका, ग्वालियर, 1992, पृ. 6
  26. किशोरी लाल फौजदार: "महाभारत कालीन जाट वंश", जाट समाज, आगरा, जुलाई 1995, पृ 7
  27. ठाकुर गंगासिंह: "जाट शब्द का उदय कब और कैसे", जाट-वीर स्मारिका, ग्वालियर, 1992, पृ. 6
  28. ठाकुर देशराज: जाट इतिहास , महाराजा सूरजमल स्मारक शिक्षा संस्थान , दिल्ली, 1934, पेज 89.
  29. Shanti Parva Mahabharata Book XII Chapter 108
  30. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 13
  31. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 17
  32. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 17
  33. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 18
  34. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 18
  35. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 19
  36. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 19
  37. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 19
  38. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 19-20
  39. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 20
  40. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 20
  41. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 20
  42. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 20
  43. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 21
  44. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 21
  45. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 22
  46. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 22
  47. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 23
  48. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 23
  49. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 23
  50. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 23
  51. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 24
  52. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 24
  53. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 24
  54. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 25
  55. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 34
  56. नरेन्द्र सिंह वर्मा - वीरवर अमर ज्योति गोकुल सिंह, संकल्प प्रकाशन, आगरा, 1986, पृष्ट 49-50
  57. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 25 -26
  58. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 25 -26
  59. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 28
  60. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 28
  61. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु , आगरा , 2004, पृ . 30
  62. डॉ भगवान सिंह:जाट सामाज पत्रिका आगरा, अक्टूबर-नवम्बर २००१, पृष्ठ ३५-३६
  63. डॉ भगवान सिंह:जाट सामाज पत्रिका आगरा, अक्टूबर-नवम्बर २००१, पृष्ठ ३५-३६
  64. डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया : जाट समाज की प्रमुख व्यवस्थाएं , आगरा , 2004, पृ . 30

See also

External links


Back to Jat Organizations