Bahik

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Map of Ancient Jat habitations

Bahik (बाहिक)[1] Bahika (बाहिक) Vahik (वाहिक)[2] Vahika (वाहिक) Balhika (बल्हीक) Valhika/Valhik (वाल्हीक)[3] Bahiyan[4] Bahlika/Bāhlīka (बाह्लिक) is used for the Jats of Punjab. They were rulers in Central Asia. [5]

Origin

This gotra started from their capital named Bahik. Shalya was its king who used to take one sixth of the income as tax. [6]

History

V. S. Agrawala[7] mentions Sanghas known to Panini which includes - Balhika (बाल्हीक), under Parshvadi (पर्शवादि) (V.3.117).


V. S. Agrawala[8] writes that Ashtadhyayi of Panini mentions janapada Madra (मद्र) (IV.2.131), which was a part of Vahika country with its capital at Sākala = Sialkot. Mahabharata mentions Sākala as the chief city of Vahikas on the Āpagā River. Panini does not explain the derivation of Vahika but Katyayana derives it from Bahis, outside, with the sufiix īkak (IV.1.85.5). This seems to agree with the epic description of Vahika as the country of five rivers but lying outside the pale of Aryan society, devoid of religion and impure (Karnaparva, 44.7.32).


V. S. Agrawala[9] writes about Art of war – The Āyudhajīvīns were warrior tribes organized on a military basis into Sanghas, occupying mostly the Vahika or Punjab. Their member were known as Āyudhīya, ‘making a living by the profession of arms’ (Āyudhena jīvati, IV.4.14). We know that these soldiers put up the stoutest resistance against the Greeks in the 4th century BC.

The Ashvakayanas of Masakavati and the Malavas, all ayudhajivins, constituted the finest soldiery, which extorted the admiration of foreigners. The Kshudrakas and Malavas (Ganapatha of IV.2.45) , we are informed by Katyayana, (p.422) pooled their military strength in a confederate army called the Kshudraka-Malavi senā. The foot soldiers (padāti) of the Salva country have been specially noted (IV.2.135). (p.423)


V S Agarwal [10] writes that... We may now form a clear conception of the geographical distribution of three types of Sanghas in Panini:

  • (1) The Ayudhajivins of Vahika from the Indus upto the Beas and the Sutlej, of whom a special group occupying the mountainous Kangra region was called Trigarta-Shashṭha (V.3.116);
  • (2) Pugas, under the leadership of Gramanis, settled on the right bank of Indus (Sabhaparva,32.9), corresponding in all probability of present “Tribal Areas” to the west of the Indus;
  • (3) Parvatiyas, or the highlanders of Afghanistan and Hindukush, who included the tribes of Dardistan. These contained many living only in the Vrata stage of existence. It is evident that the Sanghas in the inner most belt were the best organized owing to Aryan contact and proximity and those in the outlying parts were much less civilized.

V. S. Agrawala[11] mentions Ayudhajivi Sanghas – [p.443]: Panini mentions Ayudhajivi Sanghas by name in sutra V.3.115-117 and in the three Ganas of these sutras, Dāmanayādi, Parśvādi, and Yaudheyādi. The chapter opens with a reference to such Sanghas in the Vāhīka country, the cradle land of martial tribes who cultivated military art as a way of life. Mostly they were Kshatriyas, But Sutra V.3.114 shows that some of them were Brahmans also, e.g. the Gopālavas, and others called Rājanyas, which most likely correspond to those Hill States whose ruling classes designate themselves as Ranas. The Śālaṅkayanas are stated by Kashika to have belonged to the Rajanya class, and they seem to be an ancient community, as even Patanjali mentions them by the name Trika (V.1.58; II.352), probably on account of their League of three states (on the analogy of Shashtha as applied to League of six Trigartas, V.3.116).


V. S. Agrawala[12] mentions Ayudhajivi Sanghas in the Ganapatha, which includes - Bāhlīka – Identified as Balkh in the extreme north of Afghanistan, which must have been organized as an ayudhyajivi Sangha in Panini’s time. It was reckoned as a satrapy of the empire of Darius, a little before Panini’s time.


Ram Swarup Joon[13] writes In the Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 48, while describing various Kings who attended a ceremony in the Durbar (court) of Maharaja Yudhisthira, seventeen names are mentioned which are today found as Jat gotras. These are Malhia, Mylaw, Sindhar, Gandhar, Mahity, Mahe, Savi, Bath, Dharan, Virk, Dard, Shaly, Matash, Kukar (Khokar) Kak, Takshak, Sand, Bahik (Bathi) Bije (Bijenia), Andhra, Sorashtra (Rathi) Mann, Ar, Sohat, Kukat, Othiwal (Othval).


Ram Sarup Joon[14] writes that ....There is a story in Karna Parva/Mahabharata Book VIII Chapter 23 of the Mahabharata that when Dron Acharya was killed in action, Karna was appointed Commander in Chief of Kaurava Army. He chose Raja Shalya of Sialkot as his charioteer. He was a Madrak Jat and a brother of Madri, mother of the Pandavas. When they were driving to the battle field Karan said, “0, Shalya, there is none equal to me in archery in the Pandava army. They will flee before my arrows”. Shalya was frank and said “No, my people don’t acknowledge your prowess with the bow and arrow as being superior to that of Arjuna.” Karan felt offended and remarked caustically’ “0 Shalya, what do you Jartikas living in the land of five rivers, know about archery and bravery. All your people, Arh, Gandhar, Darad, Chima, Tusar, Malhia, Madrak, Sindhaw, Reshtri, Kukat, Bahik and Kekay eat onion and garlic..... The gotras mentioned above are all Jats and are not found in any other community. However ungraceful the remark, it does prove the existence of Jats in that period and that people of Punjab were called Jatika or Jartika.


Ram Sarup Joon [15] writes ...Bahik, Bahi, Bahin or Bahela: Bahik Jats is found both among the Hindu and Sikhs. In Pakistan there are Muslim Bahele Jats-, Bahiks are mentioned in Mahabharat also. According to "Karna Parva", chapter of the Mahabharat) King Shalya paid l/6th part of his income to the Bahiks. According to Nandlal Dey, Bahik are a sub branch of the Madraks. Arat in district Sheikhupur was their capital. Hashak, Karmabh Kalak and Karkar were their important towns. In Daurala (District Meerut, U.P.) the Bahiyan Jats have six villages.


Having consolidated power in the northwest, Chandragupta pushed east towards the Nanda Empire. Afghanistan's significant ancient tangible and intangible Buddhist heritage is recorded through wide-ranging archeological finds, including religious and artistic remnants. Buddhist doctrines are reported to have reached as far as Balkh even during the life of the Buddha (563 BCE to 483 BCE), as recorded by Husang Tsang.

In this context a legend recorded by Husang Tsang refers to the first two lay disciples of Buddha, Trapusa and Bhallika responsible for introducing Buddhism in that country. Originally these two were merchants of the kingdom of Balhika, as the name Bhalluka or Bhallika probably suggests the association of one with that country. They had gone to India for trade and had happened to be at Bodhgaya when the Buddha had just attained enlightenment.[16]

Mahavansa/Chapter 25 tells....When Vijitanagara was destroyed the hero Dighajantuka had told Elara of the valour of his nephew, and to this nephew named Bhalluka he had sent a message to come hither. When Bhalluka had received (the message) from him he landed here, on the seventh day after the day of the burning of Elara, with sixty thousand men. ....Ummadaphussadeva, who was the best archer in all the island (followed) armed with the five weapons, and the rest of the heroes followed him (also). While the raging battle went forward Bhalluka in his armour came at the king there....When the king of elephants had halted here the Damila Bhalluka came toward the king in that place and mocked at the ruler of the land. ....Covering his mouth with his sword the king returned insult for insult. `I will send (an arrow) into the king's mouth,' thought the other, and he let fly an arrow. The arrow struck on the sword-blade and fell to the ground. And Bhalluka, who thought `He is struck in the mouth,' uttered a shout for joy. But the mighty Phussadeva sitting behind the king, let fly an arrow into his mouth wherewith (as the arrow passed) he lightly touched the king's ear-ring. And since he made him thus to fall with his feet toward the king, he let fly yet another arrow at the falling man and struck him in the knee; and making him (now) to turn with his head toward the king, thus with swift hand he brought him down.' When Bhalluka had fallen a shout of victory went up.(BhallukaBahlika)

Dr. Sukhdial Singh writes that the authors of later vedic literature have misinterpreted the word Vahika as 'outsiders' which is absolutely wrong. The actual meaning of word Vahika is 'agriculturist'; 'a man who ploughs the land'. The Jats are agriculturists since time immemorial. They were not nomadics. The authors of vedic period called then Vahikas. Even today the words Vahi and Vahikar are prevalent in Punjab. The Vahi means ploughing and Vahikar means 'the man who ploughs the land'. So Vahika does not mean outsider. It means 'ploughman'. [17] In Rajasthani language also 'Bah' (बा') means 'ploughing'.

जाटों का विदेशों में जाना

ठाकुर देशराज[18] ने लिखा है .... उत्तरोत्तर संख्या वृद्धि के साथ ही वंश (कुल) वृद्धि भी होती गई और प्राचीन जातियां मे से एक-एक के सैंकड़ों वंश हो गए। साम्राज्य की लपेट से बचने के लिए कृष्ण ने इनके सामने भी यही प्रस्ताव रखा कि कुल राज्यों की बजाए ज्ञाति राज्य कायम का डालो। ....द्वारिका के जाट-राष्ट्र पर हम दो विपत्तियों का आक्रमण एक साथ देख कर प्रभास क्षेत्र में यादवों का आपसी महायुद्ध और द्वारिका का जल में डूब जाना। अतः स्वभावतः शेष बचे जाटों को दूसरी जगह तलाश करने के लिए बढ़ना पड़ा। .... बाल्हीकों ने अफगानिस्तान में बलख नाम से पुकारे जाने वाले नगर को अपनी राजधानी बनाया था। एक समूह ईरान में भी इनका बढ़ गया था जो आजकल आजकल बलिक कबीले के नाम से मशहूर है। याद रहे कबीला जत्थे और वंश को कहते हैं। यह बलिक आजकल मुसलमान हैं और सिदव प्रांत में रहते हैं। अच्छे घुड़सवार समझे जाते हैं। काश्यप गोत्री जाटों का एक जत्था इन्हीं बलिकों के पड़ोस में रहता है जो आजकल कास्पी कहलाता है। ईरान के सोलहुज जिले में कारापाया एक कबिला है। यह कारपश्व लोगों में से हैं। ये कारपश्व जाट मथुरा जिले से उठकर गए थे जहांकि उनकी राजधानी आजकल के कारब में रही थी। अफगानिस्तान में हमें महावन नामक परगना भी मिलता है। इसका नामकरण मालूम होता है इन्हीं कारपश्व लोगों ने किया होगा। फिर बिचारे वहां से भी सोलहुज जिला (ईरान) में चले गए होंगे। कारपाया लोग बड़े अच्छे घुड़सवार गिने जाते हैं। कहा जाता है कि आरंभ में यह इस जिले में केवल 800 कुटुंब लेकर आबाद हुए थे। आजकल भी यह इस सोलहुज जिले के अधिकारी हैं और मुसलमान धर्म का पालन करते हैं।

वाह्लीक-वाहिक-वरिक जाटवंश

दलीप सिंह अहलावत[19] लिखते हैं -

यह चन्द्रवंशी जाटवंश प्राचीन काल से है। रामायणकाल में इस वंश के देश व राज्य का वर्णन मिलता है। सीता जी की खोज के लिए सुग्रीव ने वानरसेना को पश्चिम दिशा में वाह्लीक देश में भी जाने का आदेश दिया था (वा० रा० किष्किन्धाकाण्ड, 42वां सर्ग)। ठा० देशराज ने जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 111 पर लिखा है कि “महाभारत के अनुसार ये वाह्लीक लोग शान्तनु के भाई वाह्लीक की संतान हैं।” परन्तु यह वाह्लीक वंश तो रामायणकाल में अपने देश वाह्लीक पर राज्य कर रहा था। हमारा यह मत है कि चन्द्रवंशी सम्राट् शान्तनु के भाई राजा वाह्लीक के नाम पर चन्द्रवंशी क्षत्रिय आर्यों का एक संघ बना और वह वाह्लीक वंश कहलाया जो कि प्राचीन वाह्लीक वंश के साथ मिल गया। इस कारण महाभारतकाल में इस वंश की शक्ति बढ़ गई थी। महाभारत के अनुसार वाहिक या वरिक जनपद मद्रराज्य के अन्तर्गत था। वाहिक वंश का राज्य अलग था। परन्तु मद्रराज शल्य इनसे छठा भाग ‘कर’ (टैक्स) लेता था। इस वाहिक जनपद की परिधि वर्तमान शेखूपुरा, लायलपुर, गुजरांवाला (सब पाकिस्तान में) मानी जाती है। ‘आराट’ नामक दुर्ग इसके राज्य का केन्द्र था। कर्णपर्व 27-54 के अनुसार कारस्कर, महिषक, करम्भ, कटकालिक, कर्कर और वारिक नामक प्रसिद्ध नगर इस जनपद में थे। इस जनपद का शासक चन्द्रवंशी वरिकवर्द्धन था।

वाहिकवंश से वरिक कहलाना - वरिकवर्द्धन के नाम पर यह वाहिकवंश, वरिक भी कहलाने लगा। इस राजा के अधीन 12 सुदृढ़ दुर्ग थे जिनका उल्लेख पाणिनि की अष्टाध्यायी,


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-259


महाभाष्य और काशिकावृत्ति में इस प्रकार किया है - आरान, कास्तीर, दासरूप (मन्दसौर), शाकल (सियालकोट), सौसुक, पातानप्रस्थ, नंदिपुर, कौक्कुण्डीवा, मोला, देवदत्त, कर्कर और वरिकगढ़। यह प्राचीन वरिकगढ़ वर्तमान शेखूपुरा ही माना गया है। (जाटों का उत्कर्ष पृ० 306, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; जाट इतिहास उर्दू पृ० 420, लेखक ठा० संसारसिंह)।

युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में वाह्लीक नरेश ने बहुत धन भेंट किया (सभापर्व, 52वां अध्याय) और युधिष्ठिर के अभिषेक के लिए वाह्लीक नरेश सुवर्ण से सजाया हुआ रथ ले गया (सभापर्व 53वां अध्याय)। महाभारत युद्ध में वाह्लीक वीरों ने पाण्डवों व कौरवों दोनों की ओर युद्ध किया।

वाह्लीक पाण्डवों की ओर होकर लड़े (भीष्मपर्व 49वां अध्याय श्लोक 52-53)| और वाह्लीक नरेश तथा अन्य देशों के नरेशगण ने अर्जुन पर धावा किया (भीष्मपर्व 117वां अध्याय, श्लोक 32-34)। इसी तरह द्रोणपर्व के अनुसार अभिमन्यु के व्यूह में प्रवेश के समय वाह्लीक वीर दुर्योधन की ओर थे। सम्भवतः इस वाह्लीकवंश के दो जनपद हों या ये लोग इस युद्ध में दो भागों में बंटकर दोनों ओर से लड़े हों। कर्नल टॉड ने लिखा है कि “जैसलमेर के इतिहास से पता चलता है कि हिन्दू जाति के वाह्लीक खानदान ने महाभारत के पश्चात् खुरासान में राज्य किया।”

वरिक विष्णुवर्धन विजयस्तम्भ- ग्यारहवीं शताब्दी में भरतपुर के बयाना शहर से तीन मील पर महाराजा विजयपाल ने विजय मन्द्रिगढ नामक किला बनवाया था। उस भूमि पर प्राचीनकाल से ही एक यज्ञस्तम्भ विद्यमान था जिसका नाम वरिक विष्णुवर्धन विजयस्तम्भ है। उस पर लिखा है कि “व्याघ्ररात के प्रपौत्र, यशोरात्र के पौत्र और यशोवर्द्धन मे पुत्र वरिक राजा विष्णुवर्द्धन ने पुण्डरीक (शुभ) यज्ञ की याद में यह यज्ञस्तम्भ विक्रम संवत् 528 फाल्गुन बदी 5 को स्थापित किया।”

महाराज विष्णुवर्धन वरिकवंश (गोत्र) के जाट थे। बयाना में जो उनका विजयस्तम्भ है उस पर उनका पुत्र वरिकविष्णुवर्धन लिखा हुआ है। (व्रजेन्द्र वंश भास्कर में बयाना के वर्णन के हवाले से, जाट इतिहास पृ० 703 लेखक ठा० देशराज)। सी० वी० वैद्य ने महाराज विष्णुवर्धन के सम्बन्ध में अपनी पुस्तक “हिन्दू मिडीवल इण्डिया” में लिखा है कि -

“मोलायो या पश्चिमी मालवा का राज्य मन्दसौर के शिलालेख वाले यशोधर्मन व विष्णुवर्धन के अधिकार में था। यशोधर्मन की महान् वीरता का काम यह था कि उसने मिहिरकुल हूण को जीत लिया था। चन्द्र के व्याकरण के अनुसार अजयज्जर्टो हूणान् जाटों ने हूणों को जीत लिया था। इस वाक्य का प्रयोग यशोधर्मन के लिए किया है जो कि पंजाब का जर्ट या जाट था। पंजाब से जाट लोग हूणों के धावों से बचने के लिए मालवा में जा बसे। यशोधर्मन के आधिपत्य में सन् 528 ई० में इन जाटों ने हूणों को पूर्ण रूप से हरा दिया जो कि उनकी मातृभूमि पंजाब पर अत्याचार कर रहे थे।”

इस वंश के जाट नरेशों का शासनकाल सन् 340 ई० से आरम्भ हुआ और लगभग 540 ई० में समाप्त हो गया। जिस समय उज्जैन में गुप्त राजाओं का शासन था, उसी समय मन्दसौर में इनका भी राज्य था। इनमें से एक दो नरेश तो गुप्तों के मांडलिक भी रहे। इस

वरिक राजवंश की सूची - वरिक राजवंश की सूची निम्न प्रकार है -

इस वंश का पहला शासक नरेन्द्र राजा जयवर्मा मन्दसौर में शासन करता था। इसका पुत्र


1. जाटों का उत्कर्ष पृ० 306 लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-260


  • बन्धुवर्मा जो कि सम्राट् स्कन्धगुप्त का समकालीन था, यशोधर्मा की हूण विजय से लगभग 80-90 वर्ष पहले मालवा के पश्चिमी हिस्से अर्थात् मन्दसौर का शासक था। मन्दसौर में उसके समय के एक शिलालेख पर लिखा है कि बन्धुवर्मा ने मन्दसौर में रेशम के कारीगरों के बनवाये हुए एक सूर्यमन्दिर की संवत् 530 (सन् 473 ई०) में मरम्मत कराई थी। अर्थात् बन्धुवर्मा दशपुर (मन्दसौर) में सन् 473 ई० तक मौजूद था। (जाट इतिहास पृ० 705-706, ले० ठा० देशराज)।
  • विष्णुवर्धन जिसने बयाना में संवत् 528 (सन् 471 ई०) में विजयस्तम्भ खड़ा किया था, बन्धुवर्मा के पश्चात् मन्दसौर का शासक हुआ। इससे ज्ञात होता है कि मन्दसौर से बयाना तक के प्रान्त उसके अधिकार में थे। बन्धुवर्मा से मिले हुए राज्य को थोड़े ही समय में विष्णुवर्धन व उसके पुत्र यशोधर्मा ने इतना विस्तृत कर दिया था जिसके कारण विष्णुवर्धन ने महाराजाधिराज और यशोधर्मा ने सम्राट् व विक्रमादित्य की पदवी धारण की थी। (काशी नागरीप्रचारिणी पत्रिका, भाग 12, अंक 3, पृ० 342)।

यशोधर्मा - यह अपने पिता विष्णुवर्धन की मृत्यु के पश्चात् मालवा का सम्राट् बना। इसके समय में हूणों का सम्राट् मिहिरकुल सिंध, पंजाब राजस्थान का शासक था जिसकी राजधानी सियालकोट थी। मिहिरकुल के अत्याचारों से भारतवासी कांप गये थे। इसने मालवा पर आक्रमण कर दिया। सम्राट् वीर योद्धा यशोधर्मा ने सन् 528 ई० में मिहिरकुल से टक्कर ली और उसको बुरी तरह हराया।

सम्राट् यशोधर्मा ने मिहिरकुल को कैद कर लिया था परन्तु बाद में उनको छोड़ दिया गया1। मि० एलन लिखते हैं कि बालादित्य ने तो केवल मगध की रक्षा की, परन्तु अन्त में यशोधर्मा ने ही मिहिरकुल को पूर्णतया परास्त करके कैद कर लिया। “अर्ली हिस्ट्री ऑफ इण्डिया” के पृ० 318-319 में मि० विन्सेन्ट स्मिथ ने भी इस बात का समर्थन किया है कि यशोधर्मा ने मिहिरकुल को कैद कर लिया था। इस युद्ध के समय यशोधर्मा की अध्यक्षता में उज्जैन का धारणगोत्री जाट राजा बालादित्य एवं मगध का राजा भी शरीक हुए थे। (जाट इतिहास पृ० 708, लेखक ठा० देशराज)। इनके अतिरिक्त हरयाणा सर्वखाप पंचायत की ओर से काफी धनराशि और कई हजार वीर योद्धा यशोधर्मा की मदद में भेजे गये थे। (जाट इतिहास पृ० 5, लेखक ले० रामसरूप जून; हरयाणा सर्वखाप पंचायत के रिकार्ड से, जो चौ० कबूलसिंह मन्त्री सर्वखाप पंचायत के घर शोरम जि०


1. हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 316; जाट इतिहास पृ० 708, लेखक ठा० देशराज।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-261


मुजफ्फरनगर में है)। इस युद्ध में यशोधर्मा ने मिहिरकुल की सेना शक्ति को ऐसा कुचल दिया कि मिहिरकुल कश्मीर में जाकर रुका। यशोधर्मा के समय के तीन शिलालेख मालव संवत् 589 (सन् 532 ई०) के लिखे हुए मन्दसौर में पाये गये हैं1। इनके लेख निम्न प्रकार से हैं –

  1. “प्रबल पराक्रमी गुप्त राजाओं ने भी जिन प्रदेशों को नहीं भोगा था और न अतिबली हूण राजाओं की ही आज्ञाओं का जहां तक प्रवेश हुआ था, ऐसे प्रदेशों पर भी वरिकवंशी महाराज यशोधर्मा का राज्य है।”
  2. “पूर्व में ब्रह्मपुत्र से लेकर पश्चिम में समुद्र तक और उत्तर में हिमालय से दक्षिण में महेन्द्र पर्वत तक के सामन्त मुकुट मणियों से सुशोभित अपने सिर को सम्राट् यशोधर्मा के चरणों में नवाते हैं।”
  3. अर्थात् यशोधर्मा के चरणकमलों में हूणों के प्रतापी सरदार मिहिरकुल को भी झुकना पड़ा।

इस प्रकार के शिलालेखों के आधार पर सम्राट् यशोधर्मा ने विक्रमादित्य की उपाधि भी धारण की थी2। इसका उल्लेख कल्हण की राजतरंगिणी में भी मिलता है। कल्हण ने इसी सम्राट् के अधीन महाकवि कालिदास का होना लिखा है। यह भी मत है कि इसी सम्राट् यशोधर्मा ने मालव संवत् को विक्रम संवत् के नाम पर प्रचलित किया। कल्हण ने तीन कालिदासों का वर्णन किया है। यह कालिदास जिसने कि ‘रघुवंश’ और ‘ज्योतिरविदाभरण’ आदि ग्रन्थ लिखे हैं, महाराज यशोधर्मा की सभा का एक रत्न था। रघुवंश में राजा रघु की दिग्विजय के वर्णन को पढ़ने से स्पष्ट हो जाता है कि महाराज यशोधर्मा ने किस भांति से किन-किन देशों को विजय किया था। कालिदास ने महाराज यशोधर्मा की ही विजय को रघु-दिग्विजय का रूप दिया है। इस सम्राट् का राज्य उत्तर में हिमालय से लेकर दक्षिण में ट्रावनकोर तक फैल गया था। मगध का राजा इसका मित्र बन गया था। (जाट इतिहास पृ० 708-709, लेखक ठा० देशराज)

महाराज यशोधर्मा के पुत्र शिलादित्य उपनाम हर्ष ने मालवा का राज्य सम्भाला परन्तु वह जल्दी ही पराजित होकर कश्मीर भाग गया। (सी० वी० वैद्य, हिन्दू मिडीवल इण्डिया)। सन् 540 ई० के लगभग कश्मीर के राज प्रवरसेन ने इसको फिर से राजा बना दिया। (जाट इतिहास पृ० 709, ठा० देशराज)। ध्यान रहे कि यह हर्ष (वरिक जाट) सम्राट् हर्षवर्धन (वैस जाट) से पृथक् व्यक्ति था। मालवा से वरिकवंशी जाट राज्य लगभग 540 ई० में समाप्त हो गया। इसके बाद मालवा में वरिकवंशी जाटों के पास कोई बड़ा राज्य न रहा। फिर भी वे जहां-तहां कई-कई गांव के छोटे-छोटे जनपदों के अधीश्वर बहुत समय तक बने रहे थे। मुसलमानी सल्तनत के भारत में आने के समय तक इन्होंने मालवा में पंचायती और भौमियाचारे के ढंगों से राज-सुख भोगा था। गुरु गोविन्दसिंह जी जब 1706 में मालवा के दीना गांव में ठहरे थे, तब तक मालवा का कुछ भाग वरिकवंशी जाटों द्वारा शासित होना ‘इतिहास गुरुखालसा’ में लिखा है। वहां पर चौ० लखमीर ने गुरु गोविन्दसिंह जी को अपने गढ़ में ठहराया था। आज उस स्थान पर लोहगढ़ नाम का गुरुद्वारा है। (इतिहास गुरु खालसा साधु गुरु गोविन्तसिंह द्वारा लिखित)। वहां के लोगों ने


1. मन्दसौर से 3 मील दूर लाल पत्थर की दो साठ-साठ फुट ऊंची और बीस-बीस फुट मोटी (गोल) लाटें आज भी पड़ी हुई हैं जिन पर उपर्युक्त लेख लिखे हुये हैं।
2. भारत के प्राचीन राज्य वंश भाग 2.


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-262


आप को बहुत अस्त्र शस्त्र और धन दिया जिससे गुरु जी के पास शाही ठाठ हो गये थे।

इस वरिकवंश के लोग वैदिकधर्मी थे। इनकी संख्या पंजाब में बहुत है। वहां पर ये लोग सिख धर्मी हैं और जाति से वरिक जाट हैं। पंजाब में इस वंश की दो मिस्लें थीं। कपूरसिंह वरिक जाट ने रियासत कपूरथला की स्थापना की थी। मनौली, झुनगा, भरतगढ़, धनौरी और कण्डौला नामक रियासतें (बाद में जागीरें) भी इसी वंश की थीं।

यू० पी० में वरिक का अपभ्रंश बूरे के नाम पर वे क्षत्रिय प्रसिद्ध हुए जो पंजाब से पूर्व की ओर बढे।

बुलन्दशहर जिले में इन्होंने बहुत प्रसिद्धि प्राप्त की। यहां सैदपुर, सेहरा, सीही, बनबोई, भिरावठी, पाली, भमरौली, पसौली, बरकातपुर, फतहपुर, तेजगढ़ी, लाठौर, घंसूपुर, परतापुर, रमपुरा, नगला मदारीपुर आदि गांव वरिक जाटों के हैं। इनके पूर्वज भटिण्डा से हिसार आये और फिर हिसार के दो गांव गुराना और भदौड़ से इधर आये। इस वंश के लोगों ने सर्वप्रथम लखावटी कालेज प्रारम्भ करके हिन्दू जाटों में शिक्षा के प्रति भारी प्रेम उत्पन्न किया। इस वंश के लोग पाकिस्तान के शेखूपुरा में बड़ी संख्या में और उसके चारों ओर बसे हुए हैं जो मुसलमान जाट हैं।

जिस तरह वरिक का अपभ्रंश बूरे (बूरा) है वैसे ही इन लोगों को कई स्थानों पर विर्क, वृक, वरक कहा जाता है।

वरिकवंश का शाखागोत्र - 1. बूरे या बूरा

In Mahavansa

Mahavansa/Chapter 25 tells....When Vijitanagara was destroyed the hero Dighajantuka had told Elara of the valour of his nephew, and to this nephew named Bhalluka he had sent a message to come hither. When Bhalluka had received (the message) from him he landed here, on the seventh day after the day of the burning of Elara, with sixty thousand men. ....Ummadaphussadeva, who was the best archer in all the island (followed) armed with the five weapons, and the rest of the heroes followed him (also). While the raging battle went forward Bhalluka in his armour came at the king there....When the king of elephants had halted here the Damila Bhalluka came toward the king in that place and mocked at the ruler of the land. ....Covering his mouth with his sword the king returned insult for insult. `I will send (an arrow) into the king's mouth,' thought the other, and he let fly an arrow. The arrow struck on the sword-blade and fell to the ground. And Bhalluka, who thought `He is struck in the mouth,' uttered a shout for joy. But the mighty Phussadeva sitting behind the king, let fly an arrow into his mouth wherewith (as the arrow passed) he lightly touched the king's ear-ring. And since he made him thus to fall with his feet toward the king, he let fly yet another arrow at the falling man and struck him in the knee; and making him (now) to turn with his head toward the king, thus with swift hand he brought him down.' When Bhalluka had fallen a shout of victory went up. (BhallukaBahlika)

Vahikas in Mahabharata

They have been mentioned in Mahabharata Bhisma Parva, along with Malla, Vatdhan, Abhira in shloka 45 as under:

मल्लाः सुदेष्णाः पराहूतास तदा माहिष कार्षिकाः
वाहीका वाटधानाशआभीराः कालतॊयकाः ।। 45 ।। [20] (VI.9.45)

Balhikas in Ramayana

Balhikas have been mentioned in Kishkindha Kanda Ramayana sarga-42: Directions to Westward Party

Then Sugriva went to his father-in-law and Tara's father Sushena. He greeted him and said to the great sage Maareech's son Archismaan who is like Indra and Garud in valor and the other son of Sage Maareech Archishmaalyaa - "You take 200,000 (2 lakh) Vanar under the leadership of Sushena and go to search Vaidehee in west, Sauraashtra Balhika and Chandrachitra (present day Mathura) Desh. Search for Her in Kukshi Desh where beetle nut, Bakul and Uddaalk trees grow. There you will search Her in dry lands, waters, forests, mountains etc.

Further, you will find a sea (Arabian Sea) in which many sharks and crocodiles live in. Near that sea, you will find a forest where Ketakee, Tamaal, Kaarikel (coconut) trees grow. After that you will find Murachee and Jataapur cities. Next you go to Avanti (this Avantee is another Avantee), Anglepaa and Alakshitaa.

After this you will arrive at the mouth of River Indus (Sindhu). Near it is Hem Giri Parvat (Som Giri Parvat) which has numerous summits and on which there are many huge tall trees. Here live flying lions who take Timi named Matsya (fish or sharks) and elephant seals on the trees. You will search this mountain thoroughly.


सुशेषण प्रमुखा यूयम् वैदेहीम् परिमार्गथ ।
सौराष्ट्रान् सह बाह्लीकान् चंद्रचित्रान् तथैव च ॥४-४२-६॥
स्फीतान् जन पदान् रम्यान् विपुलानि पुराणि च ।
पुंनाग गहनम् कुक्षिम् वकुल उद्दालक आकुलम् ॥४-४२-७॥
तथा केतक खंडान् च मार्गध्वम् हरि पुंगवाः ।
प्रत्यक् स्रोतो वहाः चैव नद्यः शीतजलाः शिवाः ॥४-४२-८॥
तापसानाम् अरण्यानि कांतारा गिरयः च ये ।
तत्र स्थलीः मरुप्राया अति उच्च शिखराः शिलाः ॥४-४२-९॥
गिरि जाल आवृताम् दुर्गाम् मार्गित्वा पश्चिमाम् दिशम् ।
ततः पश्चिमम् आगम्य समुद्रम् द्रष्टुम् अर्हथ ॥४-४२-१०॥
तिमि नक्र आकुल जलम् गत्वा द्रक्ष्यथ वानराः ।
ततः केतक खंडेषु तमाल गहनेषु च ॥४-४२-११॥
कपयो विहरिष्यन्ति नारिकेल वनेषु च ।
तत्र सीताम् च मार्गध्वम् निलयम् रावणस्य च ॥४-४२-१२॥
वेलातल निवेष्टेषु पर्वतेषु वनेषु च ।
मुरची पत्तनम् चैव रम्यम् चैव जटा पुरम् ॥४-४२-१३॥
अवंतीम् अंगलेपाम् च तथा च अलक्षितम् वनम् ।
राष्ट्राणि च विशालानि पत्तनानि ततः ततः ॥४-४२-१४॥
सिंधु सागरयोः चैव संगमे तत्र पर्वतः ।
महान् हेम गिरिः नाम शत शृंगो महाद्रुमः ॥४-४२-१५॥

References


Back to Gotras