West Asia

From Jatland Wiki
(Redirected from Middle East)
Jump to navigation Jump to search
Map of Middle East Countries

Western Asia is a term that describes the westernmost portion of Asia. The term is partly coterminous with the Middle East, which describes a geographical position in relation to Western Europe rather than its location within Asia. The world's earliest civilizations developed in Western Asia.

The countries in West Asia

Jat History

Hukum Singh Panwar (Pauria)[1] writes... The Indo-Aryan had colonised Anatolia and established the Vedic culture there (Nevali Cori) in 7300 B.C After them the Getae (5000 B.C.), the Panis or Punis or Phoenicians (3500 B.C.) and others went to Europe via Middle East, Asia Minor or Anatolia . The Indo-Aryans tribes migrated to the western countries as far as Scandanavia. On their way out they had intermittent stay and settlements, temporary or permanent, in suitable climes and countries. Orlova does not seem to have taken into consideration this significant factor.

Waves of Jat migration to West Asia

Prof. Abdul Ali[2] mentions that As recorded by the renowned Arab historian al-Baladhuri, the Jats had settled in some parts of West Asia long before the advent of Islam. According to him, the Sasanid Emperor Bahram V Gur (ruled 420-38 AD) transported from India to Khurasan and the Persian Gulf shores about 10,000 such Jats, both ladies and gents, - who were skilled in playing upon the musical instrument of Barbat (Guitar). It is also suggested that large numbers of Jats might have already migrated to Iran and via it spread and settled in various parts of West Asia and Europe. When the Sasanid Persians under Emperor Shapur I (ruled 241-272) extended their Empire upto the Indus river in the east, some military bands drawn from the two warlike tribes, the Jats and the meds, joined the Persian army and fought on their side, thereby gaining a congenial atmosphere for them to prosper in Sind and in the territories occupied by their masters in West Asia.

That the Jats had made their presence felt even in pre-Islamic and early Islamic times in such interior places of the mainland of Arabia as Mecca and Medina is evident from the fact that Abdullah Bin MaS'ud, the Companion of Prophet Muhammad, is reported to have said that he had once seen the Prophet in the company of men whose physlcal structure and faces resembled those of the Jats.10 Caliph 'Umar Bin al-Khattab was also reported to have seen Jats in Medina. Besides, there is mention of the Jats in Hadith (Apostolic Traditions) also, from which it is further substantiated that the Arabs including the Prophet and his Companions were acquainted with the Jats and the main features of their life, namely their style of dress, hair cutting, music, etc. the garments used by them were known in Arabia thiyab zuttiyah (dresses of the Jats).[3] They were described as tall-statured persons of strong built having long locks of hair. As described by


The Jats Vol. 2, End of p.11


Imam Bukhari in his famous Hadith collection entitled Sahih Buknari, when Prophet Muhammad in the course of his nocturnal journey heavenward (Mi'raj) came across Prophet Moses, he found his physical constitution as resembling that of the Indian Jats.[4]

Even the peculiar Jat style of hair-cutting known as gula and of getting the head tonsured in the shape of the crusade had become popular among the Arabs. The Prophet is also reported to have once got his head tonsured in the Jat style.[5] Besides, some Indian melodies were also early introduced among the Arabs by the Jats. Although it is difficult at this point of time to pinpoint the main Jat melodies diffused in Arabia, Jahiz has quoted in his Kitab al-Hayawan (Book on Animals) a verse by an Arab poet, in which he compared the buzzing sound of the mosquito to the musical tone of the Jats.[6]

There is also evidence to show that some Jats, particularly those settled in Yemen and Bahrain, had embraced Islam in the lifetime of the Prophet himself. It is said that Hadrat Bayraztan Hindi of Yemen was most probably a Jat.[7] Similarly, one Muslim Jat settled in Medina is reported to have treated Hadrat 'Aishah, wife of Prophet Muhammed, who once suffered under the magical spell of her maid servant.[8] Again when a delegation of Muslims belonging to the Banu Harith Bin Ka'b tribe settled in Najran, came to Medina in 10 AH (632 AD) to pay their allegiance to the Prophet, the latter enquired about them, saying that they appeared to be Indians.[9]

Jats Participated in the pre-Islamlc inter-tribal wars:

Further, there existed a sizeable population of the Jats on the western shore of the Persian Gulf as far as the Isle of Bahrain. Although they retained their identity, they took active part in the social and political life of the Arabs by becoming allies and mawalis (members) of different Arab tribes. It is recorded in Arab history that the Jats had become allies and supporters of the Banu Abd al-Qays tribe of Bahrain and of the Banu Tamim tribe of Basra. As such they also participated in the pre-Islamlc inter-tribal wars and raids as supporters respective tribes, with which they had aligned themselves. [10]

Yet another solid evidence of the Jats' active participation in the socio-political life of the Arabs is clear from the fact that they made their presence felt in the riddah (secession) wars triggered by the death of the Prophet in 632 AD, in which almost all Arabia broke off from the newly organized Muslim state and followed a number of local rulers and false prophets. As represented by Arab chroniclers, the Jats settled at Qatif and Hajar in Bahrain, sided with al-Hutam Bin Dubay'ah of the tribe of Qays Bin Tha' labah who had raised the banner of revolt by rallying around him the rebels of the tribe of Bakr Bin Wa'il and Other non-Muslims of that region.[11]


The Jats Vol. 2, End of p.12


It is said that the Banu Hanifah tribe of Yamamah, who had gathered under the banner of their leader derisively called in Arab history as Musaylimah al-Kadhdhab (musaylimah, the liar), offered the most stubborn resistance to Khalid Ibn al-Walid, the hero of the secession wars. About 40,000 fighting men under the command of Musaylimah were equipped with sharp Indian swords which were most probably provided by the Jats of Najran and Najd.[12] No wonder, Musaylimah had already crushed two Muslim armies before Khalid could crush them with a third. Even the victorious army led by Khalid lost a large number of Qur'an reciters, thereby necessitating the measures to be taken by the Arab caliph for the preservation and perpetuation of the knowledge of the revealed Book.[13]

It is remarkable to note that after embracing Islam and becoming full-fledged members of the Islamic Ummat (community), the Jats continued to align themselves with some Arab tribe of their choice. They also contributed to the expansion of Islam among non-Muslims. For instance, when the City of Basra was built by Caliph 'Umar Bin al- Khattab in 14 AH (636 AD), there already existed a good number of Jat Muslims, who participated in the Islamic wars under the leadership of their patron Arab tribe the Banu Hanzalah.[14] Another important point relating to the policy adopted by the early Jat-Muslims of Arabia was that while they wholeheartedly participated in the Islamic-wars against non-Muslims, they chose to remain neutral in the internal affairs and quarrels of the local Muslims. So long as they acted on this-po1icy, they were quite better-oft, and they were not discriminated against by any section of the indigenous Muslim population.

Ruling Jat clans in Middle East

Dalip Singh Ahlawat[15] has provided us the list of Jat clans who had democratic republic states in Middle East and Central Asia. List is given below in Hindi section.

DNA study on Y-STR Haplogroup Diversity in the Jat Population

David G. Mahal and Ianis G. Matsoukas[16] conducted a scientific study on Y-STR Haplogroup Diversity in the Jat Population of which brief Conclusion is as under:

The Jats represent a large ethnic community that has inhabited the northwest region of India and Pakistan for several thousand years. It is estimated the community has a population of over 123 million people. Many historians and academics have asserted that the Jats are descendants of Aryans, Scythians, or other ancient people that arrived and lived in northern India at one time. Essentially, the specific origin of these people has remained a matter of contention for a long time. This study demonstrated that the origins of Jats can be clarified by identifying their Y-chromosome haplogroups and tracing their genetic markers on the Y-DNA haplogroup tree. A sample of 302 Y-chromosome haplotypes of Jats in India and Pakistan was analyzed. The results showed that the sample population had several different lines of ancestry and emerged from at least nine different geographical regions of the world. It also became evident that the Jats did not have a unique set of genes, but shared an underlying genetic unity with several other ethnic communities in the Indian subcontinent. A startling new assessment of the genetic ancient origins of these people was revealed with DNA science.

The human Y-chromosome provides a powerful molecular tool for analyzing Y-STR haplotypes and determining their haplogroups which lead to the ancient geographic origins of individuals. For this study, the Jats and 38 other ethnic groups in the Indian subcontinent were analyzed, and their haplogroups were compared. Using genetic markers and available descriptions of haplogroups from the Y-DNA phylogenetic tree, the geographic origins and migratory paths of their ancestors were traced.

The study demonstrated that based on their genetic makeup, the Jats belonged to at least nine specific haplogroups, with nine different lines of ancestry and geographic origins. About 90% of the Jats in our sample belonged to only four different lines of ancestry and geographic origins:

1. Haplogroup L (36.8%)- The origins of this haplogroup can be traced to the rugged and mountainous Pamir Knot region in Tajikistan.

2. Haplogroup R (28.5%): From somewhere in Central Asia, some descendants of the man carrying the M207 mutation on the Y chromosome headed south to arrive in India about 10,000 years ago (Wells, 2007). This is one of the largest haplogroups in India and Pakistan. Of its key subclades, R2 is observed especially in India and central Asia.

3. Haplogroup Q (15.6%): With its origins in central Asia, descendants of this group are linked to the Huns, Mongols, and Turkic people. In Europe it is found in southern Sweden, among Ashkenazi Jews, and in central and Eastern Europe such as, the Rhône-Alpes region of France, southern Sicily, southern Croatia, northern Serbia, parts of Poland and Ukraine.

4. Haplogroup J (9.6%): The ancestor of this haplogroup was born in the Middle East area known as the Fertile Crescent, comprising Israel, the West Bank, Jordon, Lebanon, Syria, and Iraq. Middle Eastern traders brought this genetic marker to the Indian subcontinent (Kerchner, 2013).

5.-9. Haplogroups E, G, H, I, T (9.5%): The ancestors of the remaining five haplogroups E, G, H, I, and T can be traced to different parts of Africa, Middle East, South Central Asia, and Europe (ISOGG, 2016).

Therefore, attributing the origins of this entire ethnic group to loosely defined ancient populations such as, Indo-Aryans or Indo-Scythians represents very broad generalities and cannot be supported. The study also revealed that even with their different languages, religions, nationalities, customs, cuisines, and physical differences, the Jats shared their haplogroups with several other ethnic groups of the Indian subcontinent, and had the same common ancestors and geographic origins in the distant past. Based on recent developments in DNA science, this study provided new insights into the ancient geographic origins of this major ethnic group in the Indian subcontinent. A larger dataset, particularly with more representation of Muslim Jats, is likely to reveal some additional haplogroups and geographical origins for this ethnic group.

मध्य पूर्व (Middle East) में जाटों का निवास एवं राज्य

दलीप सिंह अहलावत[17] के अनुसार मध्य-पूर्व के वह देश जिनमें जाटों का निवास एवं राज्य रहा, निम्नलिखित हैं -


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-410


1. लघु एशिया (एशिया माइनर) - इसमें तुर्की, आर्मानिया, ऐजरबैजान और इनके अतिरिक्त सीरिया, इराक़ और ईरान के थोड़े-थोड़े उत्तरी भाग शामिल हैं।

लघु एशिया के काला सागर से लगने वाले उत्तरी भाग को लीडिया (Lydia) तथा दक्षिणी भाग को बेबीलोनिया (Babylonia) कहा गया है।

2. सीरिया 3. लेबनान 4. इस्रायल 5. जोर्डन 6. सऊदी अरब आदि, 7. इराक़ (मैसोपोटामिया) 8. ईरान (फारस 9. अफगानिस्तान 10. बलोचिस्तान आदि।

शकस्थान (सीस्तान) - ईरान के पूर्व प्रदेश में तथा अफगानिस्तान के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है।

मकरान - यह प्रदेश बिलोचिस्तान के दक्षिण-पश्चिम तथा ईरान के दक्षिण-पूर्व में स्थित है।

तुखारिस्तान - (तुखारिस्तान या तुषार वंशज जाटों का देश) - यह देश भारतवर्ष और ईरान के बीच स्थित था जिसकी राजधानी तेरमिज थी।

असीरिया (Assyria - आज का कुर्दिस्तान प्रदेश है जिसकी राजधानी नाईन्वेह (Ninevah) थी। यह ईरान व इराक़ के बीच में स्थित है।

एकबाताना (Ecbatana) - यह मांडा साम्राज्य (मांडा वंशज जाटों) की राजधानी थी जो अब ईरान में हमादान नाम से है।

हमने इसी अध्याय के ‘सीथिया तथा मध्यएशिया’ प्रकरण में पण्डित कालीचरण शर्मा की पुस्तक के आधार पर विदेशों में जाटराज्य सम्बन्धित कुछ बातें लिखी हैं। पाठकों को केवल मध्यपूर्व में कुछ बातों का ध्यान दिलाया जाता है।

  • 1. लघु एशिया व तुर्की को “सल्तनत ओटोमेन एम्पायर” कहते हैं। तात्पर्य है यदुवंशियों से। लघुएशिया के सब देश यदुवंशज श्रीकृष्णवंशज या जाटवंशज हैं।
  • 2. क्रौंचवन - पूर्वकाल में राजपूताना से लेकर मराको तक और उसकी शाखाओं में जितने देश विस्तृत हैं, वे सब वीरान थे तथा कौंचवन के नाम से प्रसिद्ध थे। सम्राट् ययाति ने अपने पुत्र यदु को क्रौंचवन दिया। राजपूताना, अफगानिस्तान, बलोचिस्तान, ईरान, अरब, मिश्र, लिबिया, अल्जीरिया और मराको आदि देशों को यदु एवं उसके वंशज यदुओं ने आबाद किया तथा राज्य किया। यदु और उसके वंशज जाट हैं।
  • 3. सीरिया- इस देश को श्याम भी कहते हैं, तात्पर्य सेनीटोरियम श्री कृष्णजी से है। एशिया माईनर (लघुएशिया), सीरिया या शाम, अरब और तुर्की साम्राज्य ‘ओटोमेन ऐम्पायर’ कहलाता है जो अपभ्रंश है ‘यदुमनु’ का। तात्पर्य है यदुवंशियों का साम्राज्य। सीरिया की राजधानी बेबीलोन थी जो श्रीकृष्णजी के उत्तराधिकारी महाराज बाहुबल के नाम पर है।
  • 4. आर्मीनिया (Armenia) - यह रूस का प्रान्त है जो कि कैस्पियन सागर के पश्चिम तथा तुर्की से लगता हुआ है। यह असुरों के महान् बल का अड्डा था। अरमेनियां अपभ्रंश है अरि-महान् का। अरि = शत्रु, महान् = बलवान्। तात्पर्य है अदिति के वीरपुत्र दैत्यों से जिन्होंने इस देश को आबाद किया।

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-411


  • 5. ऐजरबान - यह प्रान्त अरमेनिया के दक्षिण में स्थित है। ऐज़रबान अपभ्रंश है असुरभंजन
  • 6. जियोर्जिया (Georgia) - अरमेनिया में जहां पर देवताओं अर्थात् आर्यों को पूर्ण विजय हुई थी, जियोर्जिया कहलाता है जो कि अपभ्रंश है ‘जब आर्य’ का।
  • 7. इराक़ - ऐजरबान के दक्षिण में जहां पर श्री नारायण जी का हिरण्याक्ष से युद्ध हुआ था, इराक़ कहलाता है जो कि अपभ्रंश है ‘हिरण्याक्ष’ का।
  • 8. ईरान - तात्पर्य है आर्यों के रहने का देश यानी आर्यावर्त का पश्चिमी भाग। ईरान को फारस भी कहते हैं। फारस अपभ्रंश एवं लघुरूप है भारतवर्ष का। फारस के रहने वाले फारसी तथा पारसी कहलाते हैं। पारसी आर्य लोग ही हैं। ईरानियों के दो खानदान प्रसिद्ध हैं (1) खानदान पेशदादां (2) खानदान सासानियां।
पेशदादां यौगिक शब्द है पेश+दाद का। पेश = आगे, दाद = इन्साफ। अर्थात् न्यायप्रणाली (मानव धर्मशास्त्र) को सबसे पहले चलानेवाला खानदान, तात्पर्य है सूर्यवंशियों से।
सासानियां अपभ्रंश है शशिनियां का। शशिनियां गुणवाचक है शशि का शशि = चन्द्रमा। तात्पर्य है चन्द्रवंशियों से।
  • 9. अफगानिस्तान - यह गन्धर्व देश कहलाता था जिसका अर्थ है गानविद्या को धारण करने वालों का देश। अब कन्धार कहे जानेवाला अपभ्रंश है ‘गान्धार’ का। यह वही देश है जिसके राजा की राजकन्या श्रीमती महाराणी गान्धारी महाराज धृतराष्ट्र से ब्याही थी।
  • 10. हिन्दुकुश - महाभारतकाल में इसका नाम ‘तुषारगिरि’ था जो कि इस क्षेत्र पर तुषार गोत्र के जाटों का शासन होने से उनके नाम पर ‘तुषारगिरि’ कहलाया। बाद में मुसलमानों के समय में इस पर्वत का नाम हिन्दुकुश पड़ गया। हिन्दुकुश अपभ्रंश है इन्दुकुश का। इन्दु = चन्द्रमा, और कुश = मारना, अर्थात् जहां पर चन्द्रवंशीय श्रीकृष्णजी के वंशज महाराज सुबाहु, रिझ, शालिवाहन और बलन्द आदि ने मुसलमानों से भीषण युद्ध किए थे। इसीलिये उस देश के पहाड़ों की पंक्ति को इन्दुकुश या हिन्दुकुश कहते हैं।

सारांश यह है कि सिन्ध नदी से लेकर अफ़गानिस्तान, बलोचिस्तान, ईरान, ईराक़ आदि मध्यपूर्व के सब देश जिसमें लघु एशिया भी शामिल है और मध्यएशिया के देश सब आर्यावर्त के प्रान्त मात्र थे। आदिसृष्टि से मुस्लिम समय तक इन देशों में जाटों की शक्ति एवं शासन तथा निवास रहता आया है। महाभारतकाल में मध्यपूर्व में अनेक जाटवंशों के राज्य थे जो कि तृतीय अध्याय के “महाभारतकाल में जाट राज्य” प्रकरण में लिख दिये गए हैं। अब महाभारत युद्ध के बाद मध्यपूर्व में जाटों का निवास, शक्ति तथा राज्य लिखा जायेगा।

पाणिनि ऋषि जो कि गांधार देश में आज से लगभग 4500 वर्ष पूर्व पैदा हुये, ने अपने व्याकरण ‘धातुपाठ’ में जट झट संघाते लिखा है। अर्थात् जट से जाट शब्द बनता है जो समूह के लिए प्रयुक्त होता है। जो कि क्षत्रिय आर्यों तथा उनके राजवंशों के सम्मिलन से बना संघ (गण) है। इसकी पुष्टि में पाणिनि ने 3/5/14 से 117 तक वाह्लीक देश के संघों के सम्बन्ध में दद्धित के


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-412


नियम दिये हैं। इन नियमों से यही सिद्ध होता है कि आर्य जाति तथा राजवंशों के सम्मिलन से संघ स्थापित होते थे। उस समय भारतवर्ष, मध्यपूर्व एवं मध्यएशिया में जाटवंशों के इस बड़े क्षेत्र पर अनेक प्रजातन्त्र गणराज्य थे (यह द्वितीय अध्याय में “जाटवीरों की उत्पत्ति” प्रकरण में लिख दिया गया है)। इन जाट गणराज्यों की सूची निम्नलिखित है।

मध्यपूर्व एवं मध्यएशिया में जाट गणराज्यों की सूची

  • 1. Shivi (शिवि)
  • 2. Krimi (कृमि)
  • 3. Punia (पूनिया)
  • 4. Bana (बाना)
  • 5. Ahlawat(अहलावत)
  • 6. Darad (दरद)-Daral (दराल)
  • 7. Kushan (कुषाण)
  • 8. Rishik (ऋषिक)
  • 9. Tushar (तुषार)
  • 10. Lalla (लल्ल) Gathwala (गठवाला) Malik (मलिक)
  • 11. Kuru (कुरु)
  • 12. Gandhar (गान्धार)
  • 13. Madra (मद्र)
  • 14. Malla (मल्ल)
  • 15. Sauvir (सौवीर)
  • 16. Kshudrak (क्षुद्रक)
  • 17. Mor (मौर)-Maurya (मौर्य)
  • 18. Virk (विर्क)
  • 19. Vena (वेन)
  • 20. Dahiya (दहिया)
  • 21. Maan (मान)
  • 22. Pallav (पह्लव)
  • 23. Gill (गिल)
  • 24. Manda (मांडा)
  • 25. Tahlan (ताहलाण)
  • 26. Hala (हाला)
  • 27. Tomar (तोमर)
  • 28. Bahik (बाह्लीक)
  • 29. Kaswan (कसवां)
  • 30. Gulia (गुल्या)
  • 31. Kuhad (कुहाड़)
  • 32. Shak (शक)
  • 33. Johil (जोहिल)-Johal (जौहल)
  • 34. Kikan (कीकन)-Keken (केकन)
  • 35. Rai (राय)
  • 36. Kullar (कुल्लर)
  • 37. Moond (मून्द-मूण्ड)
  • 38. Atri (अत्री)
  • 39. Khatri (खत्री)
  • 40. Sheoran (स्यौराण-सौराण)
  • 41. Abara (अबर-अबारा)
  • 42. Gussar (गुस्सर)
  • 43. Kang (कांग)
  • 44. Puru (पौरव-पुरु)
  • 45. Asi (असि)
  • 46. Kadian (कादियान)
  • 47. Aratt|आरट्ट-अराट्ट)
  • 48. Budhwar (बुधवार)
  • 49. Pallav (पहलवी)
  • 50. Kataria (कटारिया)
  • 51. Lamba (लाम्बा)
  • 52. Bhangu (भंगु)
  • 53. Sikarwar (सिकरवार)-Sigarwar (सिगरवार)
  • 54. Mirdha (मिर्धा)
  • 55. Karpashv (कारपश्व)
  • 56. Nasir (नासिर)
  • 57. Udhana(उधाना)
  • 58. Sangha (सांघा)
  • 59. Andar|अन्दर-अन्दार)
  • 60. Suhag (सिहाग-सुहाग)
  • 61. Haer (हेर)
  • 62. Bhullar (भुल्लर)
  • 63. Pingal (पिनगल)
  • 64. Nara (नारा)
  • 65. Dalal (दलाल)
  • 66. Sangwan (सांगवान)
  • 67. Bhatti (भाठी)
  • 68. Gotala (गोताला)
  • 69. Garhwal (गढ़वाल)
  • 70. Kashyap (कश्यप-काश्यप)
  • 71. Gadar (गदर-गादर)
  • 72. Lohian (लोहियान)-Lohan (लोहान)
  • 73. Anjana (आंजणा)
  • 74. Bal(बल)-Balyan (बलियान)
  • 75. Sindhu (सिन्धु)
  • 76. Lichhavi (लिच्छवि)
  • 77. Deswal (देशवाल)
  • 78. Johal (जौहला)
  • 79. Uddhav (उद्धव)
  • 80. Panchala (पांचाल)

इन जाट गोत्रों में से अधिकतर का वर्णन पिछले तृतीय अध्याय में लिख दिया गया है तथा मध्यपूर्व के प्रकरण में इनका वर्णन उचित स्थान पर किया जायेगा।

1. जाट साम्राज्य (Kingdom of Guti:Jats) - 2600 वर्ष ई० पू० में लेस्सर जब (Lesser Zab) की पूर्व में जाटों का साम्राज्य था जिन्होंने बेबीलोनिया के उत्तरी एवं दक्षिणी भाग और एलम (Elam) के शासकों को जीतकर अपने साम्राज्य में मिला लिया था। उनके सम्राट् का नाम तीरीकन था और 2500 वर्ष ई० पू० में इनका राज्य पश्चिमी एशिया पर था। विर्क जाटों का राज्य भी उसी समय स्थापित हो गया था। (P. Sykes, The History of Persia, Vol. I P. 69)।

प्रजापति दक्ष की 13 कन्याएं जो महर्षि कश्यप की पत्नियां थीं उनमें से एक का नाम दिति था जिसका वंश दैत्य (असुर) नाम से प्रसिद्ध हुआ। अदिति के 12 पुत्र आदित्य (देव) और दनु के 34 पुत्र दानव कहलाए। इस प्रकार देव, दानव तथा असुर सब ब्रह्मा की सन्तान हैं। ये सब कश्यपगोत्री हैं। (महाभारत आदिपर्व अध्याय 66वां)।

कश्यपगोत्री जाटों की बड़ी संख्या है। ये असुर भी कश्यपगोत्री जाट हैं। इनका शासन बेबीलोनिया (लघु एशिया) पर रहा है। लगभग 4000 वर्ष पुरानी देवी नेना/ नीना /नैना/ नेननई, आरम्भ में बेबीलोनिया की देवी थी। 2287 ई० पू० में उसकी बनी हुई मूर्ति उरुक (उरुगदेश) के मन्दिर में


1. आधार लेख - जाट्स दी ऐन्शन्ट रूलर्ज, लेखक बी० एस० दहिया; जाट इतिहास लेखक ले० रामसरूप जून; जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) लेखक ठा० देशराज; जाटों का उत्कर्ष, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री, वोल्गा से गंगा लेखक राहुल सांकृत्यायन


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-413


स्थापित की गई थी। बेबीलोनिया को हराकर इस देवी की मूर्ति को सूसा (ईरान के दक्षिण-पश्चिम में) ले जाया गया। 1635 वर्ष बाद यानी 652 ई० पू० में असुर बेनीपाल (जाट सम्राट्) ने लूसा को लूट लिया तथा इस देवी की मूर्ति को वापिस उरुक ले आया और उसी के मन्दिर में स्थापित कर दिया।

जब जाट लोग वहां से अपने देश भारत में आये तब उस देवी की मूर्ति को अपने साथ यहां ले आए और वह अब हिमाचल प्रदेश के जिला विलासपुर के एक मन्दिर में नैना देवी के ही नाम से स्थापित है। (Majumdar & Pusalkar, The age of Imperial Unity, P. 168.)।

सम्राट् कनिष्क कुषाण जाट के छोटे पुत्र हुविष्क का शासन सन् 162 ई० से 182 ई० तक रहा। उसके एक सिक्के पर शेर पर सवार इस नैना देवी की मूर्ति है। (op cit. plates 1-6, p. 31)। (जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज)।

2. मांडा जाटवंश - डी मोरगन के लेख अनुसार मांडा जाटों ने 2000 वर्ष ई० पू० में पश्चिमी ईरान की ऊंची भूमि पर अधिकार कर लिया था तथा बैक्ट्रिया पर 25000 वर्ष ई० पू० अधिकार हो चुका था। (De Morgan, Et Unde P. 314)1। (जाट इतिहास अंग्रेजी, पृ० 13, लेखक ले० रामसरूप जून)।

3. मांडा जाटों का शासन - महाभारतकाल में दुर्योधन के समय सिन्धु नदी के क्षेत्रों पर था (देखो द्वितीय अध्याय जाट वीरों की उत्पत्ति प्रकरण)। इन मांडा जाटों का राज्य 700 वर्ष ई० पू० में ईरान (फारस) में स्थापित हुआ जिसकी राजधानी एकबाताना थी। यह मध्यपूर्व में सबसे शक्तिशाली साम्राज्य था जिसका वर्णन अगले पृष्ठों पर किया जायेगा।

4. मौर जाटों का राज्य - लेस्सरज़ब और अरारट (तुर्की में) के पहाड़ी क्षेत्रों पर था। यहां से इन्होंने 2200 वर्ष ई० पू० मिश्र पर आक्रमण किया था।

5. वेन जाट साम्राज्य - 10वीं शताब्दी ई० पू० में वेन जाटों का साम्राज्य आर्मानिया में वेन झील के क्षेत्र पर था जो कि इनके नाम पर वेन झील कहलाती है।

6. कुरु जाटवंश - इनके नाम पर कुर नदी है जो कि कैस्पियन सागर के पश्चिम में है। इराक देश के पश्चिम में इनका देश कुरुपथ (कुरुओं की भूमि) कहलाता था।

7. मान जाट - मान जाटों का राज्य उरुमीया (Urumiya) झील के दक्षिणी क्षेत्र पर था। केम्ब्रिज एन्शन्ट हिस्ट्री के अनुसार मान जाटों की भूमि मन्नाई कहलाती थी।

8. दहियावंश - दहिया जाटों का ईरान पर 480 वर्ष राज्य (256 ई० पू० से 224 ई तक) रहा। इनका शासित देश दहिस्तान कहलाता था2

9. अहलावत - इनके नाम पर अलेन्स (अलान्स) था जो कि लघु एशिया में है। यहां पर इनका राज्य था। अहलावत और बाना जाट शत्रु से पहली टक्कर लेनेवाले द्वारपाल थे जो सम्भवतः खैबर घाटी पर थे3


1. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 15, लेखक बी० एस० दहिया।
2. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० vii, ix, x, लेखक बी० एस० दहिया।
3. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 54, 224, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-414


10. शिवि जाटों ने शिवस्थान देश आबाद किया जो आज सीस्तान कहलाता है। ई० पू० 2000 वर्ष1

11. बाना जाटों ने ईरान से जाकर अपनी बस्ती आबाद की जहां पर एक नदी का नाम बान नदी पड़ा। ये लोग भारतवर्ष से बानगंगा के किनारे से उठकर गये थे जहां ब्याना आबाद है2

12. गांधार - सम्राट् ययाति के वंशज गन्धार नामक राजा ने गांधार नगर की स्थापना की जो आज कन्धार (कन्दहार) कहलाता है। दुर्योधन की माता गान्धारी इसी नगर की थी3

13. सिन्धु - टॉड के अनुसार, प्राचीनकाल में सिन्धु जाटों के साम्राज्य में बलुचिस्तान, मकरान, बलोमरी और नमक के पहाड़ भी शामिल थे4

14. अफगानिस्तान में गातई एक स्थान है जो आज भी इसी नाम से प्रसिद्ध है। यहां पर गात्रवान जो कि श्रीकृष्ण जी की लक्ष्मणा नामक रानी से पैदा हुआ था, ने अपने राज्य की नींव डाली थी। गोताला और गटवाल इसी गातवान के वंशज जाट गोत्र हैं जो गातई से लौटकर भारत आये।

15. वाह्लीक - वरिक जाटों ने प्राचीनकाल में बल्ख को अपनी राजधानी बनाया था। इस वंश के जाटों का एक बलिक नामक कबीला (जत्था) ईरान में आज भी विद्यमान है जो सिदव प्रान्त में रहते हैं। ये मुसलमानधर्मी हैं। काश्यपगोत्री जाटों का एक जत्था इन्हीं बलिकों के पड़ौस में रहता है जो आजकल कास्पी कहलाते हैं। ईरान के सोलहुज जिले में कारापाया एक कबीला है। यह कारपश्व जाटों में से है। यह कारपश्व जाट मथुरा जिले से उठकर ईरान में गये थे जहां पर इनकी राजधानी आजकल के कारब में थी। आजकल भी ये लोग इस सोलहुज जिले के अधिकारी हैं और धर्म से मुसलमान हैं5

16. सौराण-स्यौराण-शिवराण - ईरान में रोअन्दिज एक प्रान्त है जहां पर सौराण जाटों का शासन था। उस प्रान्त में सौहराण कबीला आज भी रहता है। यहां भारतवर्ष में हरयाणा प्रान्त के जिला भिवानी में लोहारू क्षेत्र में स्यौराण जाटों के 52 गांव आबाद हैं।

17. असीरिया - जो आज कुर्दिस्तान प्रदेश कहलाता है। यह ईरान और इराक़ के बीच में है। इसको मालवा के असिगढ़ के असि-असियाग जाटों ने जाकर बसाया था। यहां पर एक लाहियान जिला भी है। भारत के लोहियान जाट इसी जिले से लौटे हुए हैं। आज भी इस प्रान्त में जाटों की संख्या अधिक है। इन लोगों की शक्ल-व-सूरत, चाल-ढाल तथा वस्त्र आदि भारतीय जाटों से मिलते जुलते हैं, केवल ये लोग मुसलमानधर्मी हैं।

18. आंजणा जाट - इनकी आबादी जयपुर प्रान्त में है जो किसी समय अराजणा


1. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 150 लेखक ठा० देशराज; जाट इतिहास अंग्रेजी, पृ० 36 लेखक रामसरूप जून
2. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 150; लेखक ठा० देशराज।
3, 5. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 150-151; लेखक ठा० देशराज।
4. जाट इतिहास अंग्रेजी पृ० 38 लेखक रामसरूप जून।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-415


(अराजक) रहे हैं। इनका एक समूह बहुत समय तक ईरान में अजरी नदी के किनारे रहा है1

19. जाटाली प्रान्त - यह ईरान में एक प्रान्त है जिसको 2000 ई० पू० में जाटों ने बसाया तथा वहां अपना शासन स्थापित किया। जाटों के नाम पर इस प्रान्त का नाम जाटाली पड़ा।

जनरल कनिंघम के लेख अनुसार ईरान के जट्टाली (जाटाली) प्रान्त की जटि (जाट) जाति ययातिवंशी है जो शिवि गोत्र के हैं2</sup।

20. ईरान में जगात् नदी के पास हिसार नामक एक प्रसिद्ध नगर रह चुका है जो अब उजाड़ पड़ा है। अफगानिस्तान में भी दो हिसार हैं। एक का नाम बाला हिसार जो बालायन जाटों के नाम पर है और दूसरा मूंदा हिसार जो मून्द जाटों के नाम पर है। हरयाणा प्रान्त में जिला हिसार जाटों का गढ़ है। यहां से गये जाट लोगों के नाम पर ईरान व अफगानिस्तान में भी हिसार नाम पड़ा। अफगानिस्तान में शिवि और कुर्रम दो जिले हैं जो शिवि और कृमि जाटों के नाम पर प्रसिद्ध हुए3

21. प्राचीन भारत की भूगोल पुस्तक में सुखदियालसिंह शौक का लेख है कि प्राचीनकाल में दहिया, हेर, भूल्लर आदि जाट ईरान में बसते थे। ईरान देश के बुशहर प्रान्त में वर्तमान में भी हरयाणा की जाट स्त्रियों जैसे उनकी स्त्रियों के वस्त्र घाघरी, ओढ़ना और पैरों में आभूषण हैं। सन् ईस्वी 1919 में मेरी रेजीमेंट 15 लान्सर के जाट जवान उन स्त्रियों के पहनावे पर चकित हो गये थे कि यहां हमारी स्त्रियां कैसे आ गई हैं। ले० रामसरूप जून)

जिला गुजरात में चिनाब नदी के साथ का देश जटात और हिरात भी कहलाता है। इसलिए कि वे जाट लोग कभी हिरात देश (अफगानिस्तान) में भी रहे थे, इस देश को भी हिरात कहने लगे। तैमूरनामा और हिस्ट्री टाड उर्दू पृ० 1165 पर लेख है कि 600 ई० पू० में इस हिरात देश के जाट राज्य में कुछ दुर्बलता आ गई थी किन्तु तैमूर के समय में फिर उन्नति हो गई थी4

22. शाकद्वीप - ईरान को कहते हैं। यहां के निवासी शक जाट थे जो कि भारत से वहां गये थे।

बोधेन - यह उद्धववंशी जाट थे। इनके नेतृत्व में 500 ई० पू० में जाटों ने ईरान के असीरिया से उठकर स्केण्डेनेविया में प्रवेश किया था। वहां के धर्मग्रन्थ ‘एड्डा’ में इनका नाम ओडिन लिखा है।

23. सम्राट् सिकन्दर के भारतवर्ष पर आक्रमण के समय मध्यपूर्व में उससे जाटों का युद्ध -

जब सिकन्दर का ईरान के सम्राट् दारा से अर्बेला के क्षेत्र में युद्ध हुआ, तब दारा की ओर होकर सिन्धु देश के जाट राजा सिन्धुसेन की भेजी हुई सिन्धु गोत्र की जाट सेना, सिकन्दर के विरुद्ध लड़ी थी। अफगानिस्तान के गान्धार प्रान्त के जाटों ने सिकन्दर से टक्कर ली थी। भारतवर्ष की उत्तर-पश्चिमी सीमा पर कई अन्य प्रजातन्त्र जाट कबीलों से सिकन्दर का युद्ध हुआ था। उनमें से एक सांघा जाटगण था। दूसरा भंगु जाटगण था जिसका सीस्तान पर प्रजातन्त्र शासन था। असि-असिआक


1, 3. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 152-153 लेखक ठा० देशराज
2. जाट इतिहास पृ० 11 लेखक ले० रामसरूप जून
4. जाट इतिहास पृ० 26, लेखक ले० रामसरूप जून।
5. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 154-162; लेखक ठा० देशराज।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-416


जाटों ने सिकन्दर से भयंकर युद्ध करके उसे घायल किया था। भारत से वापसी के समय सिकन्दर का बलोचिस्तान के शासक जाट राजा चित्रवर्मा की जाट सेना से युद्ध हुआ था। जाटों से युद्ध में लगे घावों के कारण सिकन्दर की मृत्यु बैबीलोन में हो गई (अधिक जानकारी के लिए देखो चतुर्थ अध्याय, सम्राट् सिकन्दर और जाट प्रकरण)।

24. तुखारिस्तान - यह देश तुखार या तुषार वंशज जाट के नाम पर प्रसिद्ध था। इसकी स्थिति भारतवर्ष और ईरान के बीच में थी। सुग्ध, कम्बोज और बल्ख प्रदेश इसके अन्तर्गत थे। इस तुखारिस्तान देश की राजधानी तेरमिज थी। यह तुषारों का देश गिलगित तक था। इनके नाम पर तुषारगिरि पर्वत था जो मुस्लिमकाल में हिन्दुकुश के नाम से प्रसिद्ध हुआ। इन लोगों ने अपनी तुखारी भाषा भी प्रचलित की थी। (देखो तृतीय अध्याय, ऋषिक-तुषार-मलिक प्रकरण)।

25. जबुलिस्तान - जोहिल या जौहल जाटों के नाम पर इस देश का नाम जबुलिस्तान पड़ा। यह देश हिन्दुकुश पर्वत के दक्षिण में था जिसमें अफगानिस्तान-काबुल-गजनी तथा निकट के क्षेत्र शामिल थे। जैसलमेर के भट्टी जाट अपना वहां से आना बताते हैं।

इन जौहल जाटों के नाम पर जौहला किला पेशावर के निकट आज भी विद्यमान है। यह जौहला नामक किला, देहली के लालकिले के तुल्य है।

इन जौहल-जोहिल जाटों ने कई शताब्दियों तक खैबरघाटी से अरब आक्रमणकारियों को भारत में आने से रोके रखा। जबकि किकन-केकन जाटों ने बोलान घाटी से आने वाले अरब आक्रमणकारियों को वापिस धकेल दिया था1। (R.C. Mazumdar, History and Culture of Indian People, Vol. III, P. 174)।

26. देशवाल वंश - सन् 41 ई० में खरोष्ठी भाषा में लिखा हुआ अरा शिलालेख है जो कि अटक के निकट है। उस पर लिखा है कि देशवहर ने अपने माता-पिता के सम्मान में एक कुंआ खुदवाया था। यह देशवाल जाटवंशज था। यह जाटवंशज भी पहले भी अफगानिस्तान में आबाद था।

27. गुलिया वंश - सन् 51 ई० का वरदक (Wardak) में शिलालेख है जो काबुल नगर के निकट है। उस पर लेख है कि भगवान् बुद्ध का स्मारक चिह्न एक स्तूप में वगरामरेगा द्वारा स्थापित किया गया जिसका वंश गुलिया था। गुलिया जाटवंश है।

इन गुलिया जाटों का निवास तथा शासन काबुल में था2

28. बुधवार वंश - बेबीलोनिया शिलालेखों पर इनको बुदी लिखा है। हैरोडोटस ने भी इनका नाम बुदी लिखा है। इन बुधवार जाटों की शक्ति बेबीलोनिया में थी। 7वीं शताब्दी में ये बलोचिस्तानसिन्ध में थे3

29. गिल जाट - गिल जाटों के नाम पर गिलगित नगर व गिलगित पर्वत हैं जहां इनका


1. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 49, 51, 117 लेखक बी० एस० दहिया।
2. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 40, 41 लेखक बी० एस० दहिया।
3. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 248 लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-417


शासन रहा था। इनकी शक्ति कैस्पियन सागर पर होने से वह गिलन सागर कहलाया1

30. लाम्बा जाट - लाम्बा जाटों का शासन हिन्दूकुश के दक्षिण में रहा2

31. उद्याना जाट - उद्याना जाटों का राज्य कश्मीर के उत्तर-पश्चिम में उद्यान पर था3

32. कादियान-कादू जाट - बलोचिस्तान में इन जाटों के नाम पर कोदिन एक स्थान है। कादा के नाम के प्राचीनकाल के सिक्के ब्राह्मी लिपि में लिखे मिले हैं4

33. हाला जाट - हाला जाटों के नाम पर हाला पर्वत है जो आजकल सोमगिरि कहलाता है। यह बलोचिस्तान में है5

सत्यवान हाला जाटवंश के थे और सावित्री मद्र जाटवंश की राजकुमारी थी। चन्द्रवंश में ययाति के पुत्र अनु के वंश में शिवि के पुत्र मद्र से मद्र जाटवंश प्रचलित हुआ6

संक्षिप्त महाभारत प्रथम खण्ड, पृ० 392-400, के अनुसार सत्यवान व सावित्री का संक्षिप्त वर्णन - महाराज ‘अश्वपति’ मद्रदेश के सम्राट् थे जिनकी महारानी का नाम ‘मालवी’ था जिनसे ‘सावित्री’ कन्या का जन्म हुआ। महाराज ‘द्युमत्सेन’ शाल्व देश के राजा थे। उनकी महारानी का नाम ‘शैष्या’ था जिनसे राजकुमार सत्यवान का जन्म हुआ। महाराजा द्युमत्सेन अंधे हो गये थे तथा उनके पूर्व शत्रु एक पड़ौसी राजा ने उसका राज्य छीन लिया। वे अपने बालक पुत्र सत्यवान व अपनी रानी सहित वन में चले गये। वहां पर पतिव्रता सावित्री ने सत्यवान को स्वयं अपना पति मान लिया। राजा अश्वपति अपनी पुत्री सावित्री, ब्राह्मण तथा पुरोहित सहित, वैवाहिक सामग्री लेकर उस पवित्र वन में राजा द्युमत्सेन के आश्रम पर पहुंचे जहां पर वह नेत्रहीन राजा सालवृक्ष के नीचे एक कुश के आसन पर बैठा था। राजा अश्वपति ने अपना परिचय दिया और सब बातें बताईं। दोनों राजाओं ने सत्यवान व सावित्री दोनों का विधिवत् विवाह संस्कार कराया। एक वर्ष बाद सावित्री ने यमराज से चार वर मांगे जिनके अनुसार राजा द्युमत्सेन को दिखाई देने लगा तथा उनका राज्य वापिस मिल गया। सत्यवान को युवराज बनाया गया जो 400 वर्ष तक जीवित रहा और उसने सावित्री से 100 पुत्र उत्पन्न किये। मालवी रानी के गर्भ से भी सावित्री के 100 भाई पैदा हुए थे। मद्रदेश = अफगानिस्तान व पंजाब।

34. लिच्छवि जाटों का शासन पेशावर पर रहा7

35. दर्द जाट इन जाटों का राज्य काबुल पर था8

36. भाटी, गढवाल, कुहाड़, मान, दलाल आदि जाटों के कई खानदान गढ़ गजनी से लौटकर आये हुए हैं जहां पर इनका शासन था9


1, 2, 3, 4. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज क्रमशः पृ० 5, 261, 341, 169 लेखक बी० एस० दहिया।
5. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 153; लेखक ठा० देशराज
6. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 256 लेखक बी० एस० दहिया।
7, 8. जाट इतिहास अंग्रेजी पृ० 36, लेखक ले० रामसरूप जून
9. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 150; लेखक ठा० देशराज।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-418


37. गजनी राजा गज ने बसाई - श्रीकृष्ण जी के वंशज राजा गज ने गजनी की स्थापना की थी तथा वहां एक गढ़ (किला) का निर्माण किया। जैसलमेर के भट्टी अपना निकास जबुलिस्तान/ अफगानिस्तान में गजनी क्षेत्र से बताते हैं जहां पर जाटों का राज्य था। मथुरा के ब्राह्मण सुखधर्म जी ने भागवत पुराण के आधार पर भट्टी लोगों को यदुवंशी लिखा है।

गजनी राजधानी पर जाटों का राज्य -

आधार पुस्तक “आर्यों का प्राचीन गौरव”, लेखक श्री पण्डित कालीचरण शर्मा, पृ० 39-42 -

अफगानिस्तान की प्राचीन राजधानी ग़जनी है जो कि अपभ्रंश है गजनी का। यह वही नगर है जिसको श्री कृष्णचन्द्र जी के उत्तराधिकारी श्रीमान् महाराज गज ने तामीर (निर्माण) कराया था। (देखो टॉड राजस्थान)

जबकि असुरों की सेना अपना बल बढा रही थी, उस समय वहां पर कोई बढिया किला नहीं था और असंख्य शत्रुओं के मुकाबले पर मैदान में डटे रहना भी असम्भव था। इसलिए राजा गज ने अपने मन्त्रियों की सलाह से, उत्तरी पहाड़ों के मध्य एक किले का निर्माण कराया जिसका नाम गजनी रखा गया। संवत् धर्मराज युधिष्ठिर 3008, रोहिणी नक्षत्र, वसन्त ऋतु, बैसाख बदी तीज, रविवार को राजा गज गजनी के राजसिंहासन पर आसीन हुआ और यदुवंशियों के नाम को कायम (प्रसिद्ध) रखा। (टॉड पृ० 1059)

नोट
आज युधिष्ठिरी संवत् 5088वां है जो कि ई० सन् से 3100 वर्ष पहले प्रचलित हुआ था तथा राजा गज गजनी के सिंहासन पर ईस्वी सन् से 1020 वर्ष पहले आसीन हुआ था। राजा गज एवं उसके वीर सैनिक जाट थे।

हिन्दुकुश अपभ्रंश है इन्दुकुश का। इन्दु = चन्द्रमा, कुश = मारना, अर्थात् जहां पर चन्द्रवंशी श्रीकृष्ण जी के उत्तराधिकारी श्रीमान् महाराज महाराज सुबाहु, रिझ, गज, शालिवाहन और बलन्द ने मुसलमानों से भीषण युद्ध किये थे, इसीलिए उस देश के पहाड़ों की श्रेणी को इन्दुकुश कहते हैं (देखो टॉड राजस्थान, पृ०)।

राजा रिझ को सूचना मिली कि समुद्र की ओर से म्लेच्छ जिन्होंने पहले राजा सुबाहु के ऊपर आक्रमण किया था, वे खुरासान के शाह फरीद को चार लाख घोड़ों का अधिपति बनाकर फिर बढ़ रहे हैं। तब राजा रिझ ने अपने सैनिकों सहित ‘हरीओ’ स्थान की ओर कूच कर दिया। शत्रु ने कुंज शहर से दो कोस की दूरी पर अपना कैम्प लगा दिया था। युद्ध आरम्भ हुआ जिसमें म्लेच्छों की हार हुई। इस युद्ध में शत्रु के तीस हजार सैनिक हताहत हुए और चार हजार हिन्दुओं के। (टॉड पृ० 1056-1057)

जब गजनी का किला तैयार हो चुका था तब राजा गज को सूचना मिली कि रूम और खुरासानपति बहुत निकट आ गये हैं। राजा गज अपनी सेना सहित आठ कोस चलकर 'दूलापुर' पहुंच गया और वहां अपना कैम्प लगा लिया। यहां से शत्रुदल चार कोस पर था। राजा गज और उसके सैनिक युद्ध के लिये आगे बढ़े, इधर यदुवंशी थे उधर खान और अमीर थे। भयंकर युद्ध हुआ, शाह की सेना भाग निकली। वह 25000 सैनिकों को मौत के मुंह में पड़ा हुआ छोड़ गया और अपने हाथी, घोड़ों और तख्त को भी छोड़ गया। सात हजार आर्य वीर युद्ध क्षेत्र में काम आए


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-419


और यदुपति विजयी होकर अपनी राजधानी को वापस आए (पृ० 1057-1058)।

अपने पुत्र बलन्द के वापिस आने पर महाराज शालिवाहन ने ग़जनी शत्रु से वापिस लेने का और अपने पिता के खून का बदला लेने का इरादा किया। वह 20,000 सैनिकों सहित शत्रु से भिड़ गया तथा विजयी होकर गजनी में पुनः दाखिल हुआ। वहां पर बलन्द को छोड़ दिया और खुद पंजाब में राजधानी को वापिस चला आया। (पृ० 1060)

मरुस्थली राजा नाबा के पुत्र पृथबाहु ने श्रीकृष्ण जी के राजचिन्ह विश्वकर्मा के बनाए हुए शाही क्षत्र के सहित धारण किए। (देखो भूगोल; पं० कालीचरण शर्मा का ऊपरलिखित इतिहास पृ० 43)

नोट
मरुस्थली = राजपूताना से लेकर अफगानिस्तान, बलोचिस्तान, ईरान, अरब, मिश्र, ट्रिपोली और मराको तक के सब देशों को मरुस्थली कहते हैं। (वही लेखक पृ० 43)

शालिवाहन के वंश का वर्णन - आधार लेख पुस्तक जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज लेखक बी० एस० दहिया – राजा गज जिसने गजनी का निर्माण किया, का पुत्र शालिवाहन था, जिसने गजनी से आकर पंजाब में शालिवाहन (शालपुर) नगर की स्थापना करके उसे अपनी राजधानी बनाया। शालिवाहन के 15 पुत्र थे जिनमें बलन्द, रसालू, नैम, लेख, नीपक, सुन्दर, बचा, रूपा आदि थे। बलन्द अपने पिता का उत्तराधिकारी बना जिसके 7 पुत्र थे जिनके नाम भट्टी, भूपति, कल्लार, जीन्ज, सरमोर, भीन्सरच और मंगरू थे।

कल्लार के 8 पुत्र थे जिनकी सन्तान ‘कल्लार’ कहलाई जो लगभग सारे मुसलमान बने। जीन्ज के 7 पुत्र थे जिनकी सन्तान जन्जौ जाट हैं। भट्टी अपने पिता बलन्द का उत्तराधिकारी बना जिसके दो पुत्र थे। भट्टी के नाम पर भट्टी गोत्र प्रचलित हुआ जो जाट गोत्र है किन्तु बाद में उनमें से कुछ भट्टी जाट लोग राजपूत संघ में शामिल हुए जो आज भी भट्टी राजपूत कहलाते हैं। बलन्द के तीन पुत्रों भट्टी, जीन्ज और कुल्लार के नाम पर भट्टी, जन्जौ और कुल्लर जाट गोत्र प्रचलित हुये।

भट्टी के दो पुत्र मसूरराव और मंगलराव नामक थे। मसूरराव के दो पुत्र अभेराव और सारनराव थे। अभेराव के पुत्र अभोरिया तथा सारनराव के वंशज सारन कहलाये। ये दोनों जाट गोत्र हैं। मंगलराव जो कि भट्टी का दूसरा पुत्र था, के 6 पुत्र थे। वह अपने राज्य से भाग गया तथा अपने इन 6 बालक पुत्रों को छुपे तौर पर एक साहूकार के पास छोड़ गया। इनका विवाह जाट परिवार में हो गया। मंगलराव के तीन पुत्रों के नाम पर कलावाररिया, मूण्ड और स्यौराण* जाट गोत्र प्रचलित हुए। (पृ० 117-118)

इसके लेख्यप्रमाण हैं कि शालपुर (शालपुरा) के शासक जाट थे। टॉड ने अपने राजस्थान इतिहास में एक शिलालेख का हवाला दिया है जिस पर शुरु में लिखा है कि जाट हमारे रक्षक हों, तथा एक जाट राजा का नाम राजा जिट (जाट) शिलन्दर लिखा है। आगे लिखा है कि


  • . स्यौराण जाटों का राज्य महाभारतकाल में था। इनका वर्णन एकादश अध्याय में देखो। अतः मंगलराव के पुत्र से स्यौराण गोत्र प्रचलित हुआ, यह लेख असत्य है।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-420


शालपुरा के पराक्रमी जाट राजा से शालपुरा की भूमि सुरक्षित है। शक्तिशाली योद्धा जाट शिलन्दर एक सुन्दर पुरुष है और भुजाबल में सबसे अधिक शक्तिशाली है। सारा संसार इस जिट (जाट) राजकुमार की प्रशंसा करता है जिसने अपनी जाति का मान बढ़ाया और जो महान् योद्धाओं में कमल की तरह खिला हुआ है एवं मनुष्यों कें चन्द्रमा की तरह चमकता है।” (OP Cit) (बी० एस० दहिया, पृ० 125)

शलन्दर के पुत्र का नाम देवंगली लिखा है जिसके पुत्र का नाम सुम्बूक तथा इसके पुत्र का नाम देगाली लिखा है जिसने यदुवंशज दो कन्याओं से विवाह किया था। देगाली के पुत्र का नाम वीर नरेन्द्र था। यह शिलालेख संवत् 597 में लिखा गया था जिसका स्थान मालवा क्षेत्र में तवेली (Taveli) नदी के किनारे पर है। यह राजकुमार शालपुर और तखया (तख/ताक/तक्षक जाटों का नगर) पर शासन कर रहा था। इस राजकुमार का वंश सरया लिखा है। टॉड के अनुसार सर्वाया है जो कि एक जाट गोत्र है। इस शिलालेख से सिद्ध होता है कि शालपुरा के शासक जाट थे। भट्टी लोग राजपूत होने पर इस शालपुरा से ही दूसरे क्षेत्रों में फैले थे। (बी० एस० दहिया, पृ० 125-126)।

अब पाठकों का ध्यान फिर से गजनी की ओर दिलाया जाता है।

बलन्द के पुत्र भूपति का पुत्र चकीटो था। महाराज बलन्द, जो कि शालिवाहनपुर में रहा करते थे, ने गजनी देश का राज्य अपने पौत्र चकीटो के अधीन छोड़ दिया। चकीटो ने म्लेच्छ कौम के लोगों को अपनी सेना में भरती कर लिया तथा उनको सेना के बड़े-बड़े पदों पर नियुक्त कर दिया। उन्होंने चकीटो को तजवीज पेश की कि अगर आप अपने पुरुषाओं के धर्म को त्याग देवें तो आपको बल्ख-बुखारा का मालिक बना दिया जायेगा, जहां पर उषबेक जाति आबाद है, जिस के बादशाह के पास एक लड़की के सिवाय और कोई औलाद नहीं है। चकीटो ने यह सुझाव मानकर बादशाह की उस लड़की के साथ विवाह कर लिया और बल्ख-बुखारे का बादशाह बन गया तथा 28,000 घोड़ों का सरदार हो गया। बल्ख और बुखारे के बीच एक बड़ा दरया बहता है। चकीटो बलिखशान के फाटक से लेकर हिन्दुस्तान के मुंहड़े तक सबका बादशाह हो गया। उसी चकीटो सम्राट् से चकीटो मुगल फिर्के (जाति) की उत्पत्ति हुई। (ऐनन्स आफ जैसलमेर अध्याय 1, पृ० 1061, op. cit, P. 248, के हवाले से, बी० एस० दहिया, पृ० 118)। आगे पृ० 119 पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि तुर्क और तातार, ये तुर और तातरान जाट वंशज थे जिन्होंने छठी सदी ईस्वी तक तथा इससे भी बाद में अमू दरिया (मध्यएशिया) घाटी में राज्य किया।

नोट
कुषाणवंशज जाट सम्राट् कनिष्क (सन् 120 से 162 ई०) के विशाल साम्राज्य में गजनी भी शामिल थी। कनिष्क ने दूसरी सदी ईस्वी के आरम्भ में लल्ल गठवाला मलिक वंश के जाटों को गजनी का राज्य दे दिया। जिनका वहां 700 वर्ष राज्य रहा जो कि नवमी सदी के आरम्भ में अब्बासी मुसलमानों ने जीत लिया। (देखो तृतीय अध्याय लल्ल गठवाला मलिक प्रकरण)।)

2000 ई० पू० में पुरु, कुरु, गांधार, मद्र, मल्ल, शिवि आदि लोग स्वात, पंजकोरा तथा अन्य पहाड़ी क्षेत्रों में रहते थे। ये लोग अपने घोड़े, कम्बल तथा दूसरी वस्तुओं को लेकर बेचने के लिए


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-421


पुष्कलावती (चारसद्दा) आया करते थे। ये सब जाटवंशज हैं। गान्धार पर गान्धारों का राज्य था। गन्धार से आगे की भूमि पर मद्रों का अधिकार था। उससे आगे मल्लों ने अपना जनपद बनाया था। इसी तरह कुरु, पांचाल, शिवि आदि लोगों ने बड़े-बड़े प्रदेशों पर अपना अधिकार कर लिया था। (वोल्गा से गंगा पृ० 84, 96 लेखक राहुल सांकृत्यायन)। ये सब क्षेत्र अफगानिस्तान, ईरान आदि देशों में हैं।

मि० गिलडोन तथा मि० नील लिखते हैं कि लोमरी बलोचों के पूर्वज जाट थे। अबुलफजल लिखता है कि ये लोग युद्ध में 300 घुड़सवार और 700 पैदल सैनिक शरीक करते थे। बलोचिस्तान के जुग़राफिया में भी लोमरी बलोचों को जाटवंशज लिखा है। मि० पिलनी ने लिखा है कि जब खानकेस प्रान्त में तुर्की तथा बिबेलोनिया के मध्य में युद्ध हुआ तब उसमें सिन्धु सेना शामिल हुई थी। उनकी वर्दी सूती थी। वे सैनिक खानकेस से लौटकर सीरिया देश में आबाद हो गये जो बड़ा उपजाऊ था। उन दिनों इटली की रोम राजधानी पर जाट शासन था। सीरिया में बसने वाले जाट सिन्ध के मांडा जाट थे जो राजा हस्ती की सन्तान थे। सीरिया या शाम देश को कृष्णवंशियों ने बसाया था1

बलोचिस्तान में आज भी काकड़जई बड़ा संघ है जिसका सम्बन्ध कक्कर और खोखर जाट गोत्रों से है। जनगणना के अनुसार मकरान प्रान्त में 20,000 संख्या जाटवंशी बलोचों की पाई गई थी2

गिल जाट जो मुसलमान बन गये, वे गिल पठान अपने को गिलजई कहते हैं और चट्ठा या चुगता पठान अपने को चुगता कहते हैं। इनके बड़े-बड़े जिरग़े (संघ) पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिम सीमा प्रान्त तथा अफगानिस्तान में हैं।

भाटी, गढवाल, कुहाड़, मान, दलाल आदि जाटों के कई वंश गढ़ गजनी से लौटकर भारत में आये हुए हैं3

अब फिर लघुएशिया, अरब देश तथा ईरान आदि का वर्णन किया जाता है।

38. वरिक-वाहिक-वाह्लीक - मि० रावलिंसन (Rawlinson) ने अपनी “हिस्ट्री ऑफ हेरोडोटस” नामक इतिहास पुस्तक (Vol. IV, P. 163) में लिखा है कि “वरिक एवं हिरकानिया एक ही हैं, जिनके नाम पर एक समय कैस्पियन सागर, वरिकान या हिरकानिया कहलाया। सन् 1300 में भी इन वरिक जाटों का देश पूर्वी रूस के याकुट्स्क प्रान्त में था जो ‘वरकानिक’ देश कहलाता था।” हैरोडोटस के अनुसार ये जाट वरिक अपने सरदार मेगापानुस के नेतृत्व में थ्रमोपिलाय (यूनान में) के युद्ध में लड़े थे। इस युद्ध के पश्चात् इनका शासन बेबिलोनिया पर हुआ। इनका यह नेता वहां का मण्डलेश्वर (सूबेदार) बनाया गया।

इन वरिक जाटों का राज्य 2600 ई० पू० में सुमेरिया में था। इनके नाम पर यह देश ‘वर्क देश’ कहलाया। इनके साथ में गुटियन देश (जाटों का देश) था जिनका राज्य पश्चिमी एशिया पर था। इस देश के अन्तिम सम्राट् त्रीगन को 2200 ई० पू० में वर्क देश के राजा उतु खेगल विर्क ने पराजित किया था। वोल्गा नदी विर्क जाटों के नाम पर है। (Political and Social Movements in Punjab, by Buddha Prakash, P 1074


1, 2. जाट इतिहास पृ० क्रमशः 11-12 एवं 27-28, लेखक ले० रामसरूप जून
3. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 150, लेखक ठा० देशराज
4. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 277, 278 लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-422


फारस के जाट सम्राट् डेरियस (Darius) ने 521 ई० पू० में विर्क, कांग तथा अन्य जाट साम्राज्यों पर आक्रमण किए। जिनका वर्णन अगले पृष्ठों पर इसी अध्याय में किया जायेगा।

39. मिरधा जाट - इन जाटों का शासन तथा निवास फारस (ईरान) के क्षेत्र पर था। 330 ई० पू० में सम्राट् सिकन्दर से इन जाटों ने फारस की खाड़ी और परसीपोलिस (ईरान की राजधानी) के मध्य क्षेत्र में युद्ध किया किन्तु हार गये1

40. नासिर जाट - इन जाटों का शासन असीरिया (कुर्दिस्तान) पर था। इनके नाम पर वहां एक निसिर पर्वत भी है। ये लोग वीर थे इसलिए वहां की सेना के अगले भाग में चलते थे2। (A Sanskrit-English Dictionary by M. Monier Williams (Oxford, 1960).

संयुक्त अरब गणराज्य के राष्ट्रपति कर्नल गमल अब्दुल नासिर भी इसी नासिर वंश के जाट थे। इन अरब देशों में आज भी नासिर जाटों की बड़ी संख्या है जो इस्लामधर्मी हैं।

41. पहलवी जाट - भारतीय भाषा में पल्लव कहे जानेवाले जाटवंश को ईरानी भाषा में पहलवी बोला जाता है जो कि एक जाटवंश है।

पल्लव जाटवंश प्राचीनकालीन वंश है (देखो तृतीय अध्याय, पल्लव जाटवंश)। पल्लव जाट लोग भारतवर्ष से बाहर विदेशों में भी गये और वहां अपने निवास स्थान बनाये। इस वंश के लोग ईरान में अब भी बड़ी संख्या में आबाद हैं जिनको वहां की भाषा में पहलवी कहा जाता है। ईरान का बादशाह, मुहम्मद शाहरजा पहलवी इसी वंश का जाट था3

42. अबरा-अबारा जाटमैसोपोटामिया (इराक) के प्राचीन इतिहास में अबरा और गुस्सर लोगों को जाट वंशज लिखा है जिनके अलग-अलग साम्राज्य थे।

अबरा जाटों का देश अबारनियम कहलाता था जो कि सुमेर और बेबीलोनिया में स्थापित था। इनके साथ-साथ दूसरा गुटियन (जाटों का) साम्राज्य भी था4

43. मान और मांडा जाट - 800 ई० पू० में अरमेनिया झील के दक्षिण में ऐजरबैजान का देश है, जहां पर सदा की तरह अनेक जाटवंश आबाद थे। इनमें से दो प्रसिद्ध जाटवंश मन्नाई (मान) और मांडा थे। 720 ई० पू० में असीरिया के राजा सरगोन द्वितीय ने इन लोगों पर आक्रमण किया।

देवका मांडा जाट ने 700 ई० में फारस (ईरान) में एक शक्तिशाली मांडा साम्राज्य की स्थापना की जिसका आरम्भ से अन्त तक का संक्षिप्त वर्णन किया जाता है5


1. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 287 लेखक बी० एस दहिया।
2, 3. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 288, लेखक बी० एस दहिया
4. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज]] पृ० 125, 278 लेखक बी० एस दहिया।
5. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज]] पृ० 127-128 लेखक बी० एस दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-423


शक्तिशाली मांडा जाट साम्राज्य (700 ई० पू० से 465 ई० पू० तक)

इस साम्राज्य के कुछ विशेष मनुष्यों के नाम -

  1. डियोसिज/देवका (Dieoces/Devaka) - इसने 700 ई० पू० में मांडा जाट साम्राज्य की स्थापना की। इसके पिता का नाम फ्राउटस (Phraotes) था।
  2. फ्रावती (Frawarti) - यह देवका का पुत्र था जो 655 ई० पू० में मांडा साम्राज्य की गद्दी पर बैठा।
  3. साईक्षेयरज़/हुवाक्षत्र (Cyaxares/Huvakshatra) - यह फ्रावती का पुत्र था जो कि 625 ई० पू० में अपने पिता का उत्तराधिकारी बना।
  4. ईस्तुवेगु/अस्त्येजस (Ishtuvegu/Astyages) - यह साईक्षेयरज़ का पुत्र था जो 584 ई० पू० में अपने पिता का उत्तराधिकारी हुआ। लीडिया के राजा अलेयेत्तस (Allyattes) की पुत्री आर्यानी/आर्यनिस (Aryenis) ईस्तुवेगु की रानी थी। इस रानी का भाई क्रोईसस (Croesus) था जो कि अपने पिता अलेयेत्तस के मरने पर लीडिया (Lydia) का सम्राट् बना।
  5. हरपेगस (Harpagus) - यह ईश्तुवेगु के शासनकाल में मांडा जाट साम्राज्य की जाट सेना का प्रसिद्ध वीर योद्धा एवं योग्य सेनापति था। इसकी कल्पना तथा सहायता से साईरस (Cyrus) मांडा साम्राज्य तथा फारस का महान् सम्राट् बना।
  6. महान् साईरस (Cyrus) - इसकी माता का नाम मन्दानी (Mandani) था जो कि मांडा साम्राज्य के अन्तिम सम्राट् ईश्तुवेगु की एकमात्र जाट राजकुमारी थी।
  7. कैम्बिसिज़ (Cambyses) - यह फारस के एलम (Elam) प्रान्त का राजकुमार था जिसके साथ मन्दानी का विवाह हुआ था। यह महान् साईरस का पिता था।
  8. सम्राट् नेबोनीदस (King Nabonidus) - यह बेबीलोनियन राज्य का शासक था।
  9. कैम्बाईसिज़ (Cambyses) - यह साईरस का पुत्र था जो उसका उत्तराधिकारी हुआ।
  10. डेरियस (Darius) - यह जाट योद्धा सेनापति हरपेगस का पुत्र था जो कि कैम्बाईसिज़ का उत्तराधिकारी बना।
  11. मेगाबाज़स (Megabazus) - यह सम्राट् डेरियस का एक वीर जनरल था।
  12. क्षेरक्षेज (Xerxes) - यह सम्राट् डेरियस का पुत्र था जो उसका उत्तराधिकारी हुआ। इसको 465 ई० पू० में कत्ल कर दिया गया।

सबसे पहले यह प्रमाणित लेख लिखने की आवश्यकता है कि भाषाशास्त्रीय गलती से मांडा साम्राज्य (Manda Kingdom) को मेडियन साम्राज्य (Median Empire) लिखा गया। यह गलती कब और कैसे दूर हुई इसके प्रमाण निम्नलिखित हैं -

हैरोडोटस यूनान का एक अपूर्व बुद्धिवाला प्रसिद्ध इतिहासकार था जिसका जन्म 484 ई० पू० में एशिया माईनर के यूनानी नगर हालीकारनासस में हुआ था जो कि मांडा साम्राज्य के


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-424


अधीन था। इसको इतिहास का पिता कहा जाता है। इस जाटवीर जाति का सौभाग्य था कि यह लोग उन्नतिशील यूनानियों के पड़ौसी रहे, जो इस संसार में प्राचीन समय का विश्वसनीय, सच्चा और विस्तार से इतिहास लिखने में पहले हैं। यदि हैरोडोटस नहीं होता तो जाटों का प्राचीन इतिहास लुप्त हो जाता। इसके लेखों की सच्चाई बेबीलोन और नाईनवेह के हाल के खण्डहरों की खुदाइयों में मिले हुए स्मारकचिह्नों से प्रमाणित होती है।

प्राचीन बेबीलोन, नाईनवेह तथा असीरिया के अन्य स्थानों के खण्डहरों से जाट इतिहास के विषय में अत्यन्त महत्त्वपूर्ण प्रमाण मिले हैं। उस समय के अभिलेख मिट्टी की बनाई गई नकाशी शकल में रखे गए जो कि एक लिपि के रूप थे। यह लिपि सुमेरियन जाति ने ईजाद की थी। ये लोग मैसोपोटामियां पर राज्य करते थे। इसी लिपि को बेबीलोन और असीरिया के साम्राज्य के उत्तराधिकारी सैमेटिकों ने अपनाया था। उस समय अभिलेख मिट्टी के बर्तनों पर नकाशी (खोदकर) करके आग में पकाए जाते थे। ऊपर वर्णित नगरों के खण्डहरों से ही अब यही बर्तन खोदकर निकाले जा रहे हैं। इस लिपि में नकाशी किये गये लेखों को संसार भर में कोई नहीं पढ़ सकता था क्योंकि इसके स्पष्टीकरण के लिए कोई कुञ्जी नहीं थी।

बहुत समय के पश्चात् अन्त में इसका पता लगा। इस बात का भेद निकालने वाला पर्शिया में नियुक्त दूतकार्य में चतुर एक अंग्रेज जनरल सर हेनरी ऍलीनसन है। वह मैसोपोटामिया की प्राचीनता में गहरी रुचि रखने वाला एक प्राचीन पदार्थों का संग्रहकर्ता था। उसको पश्चिमी ईरान में एक बहुत बड़ा शिलालेख मिला था, जो कि डेरियस महान् का एक व्यक्तिगत विधान था और बहिस्तून (Behistun) गांव की ऊँची चूने की चट्टान पर खुदा हुआ था। डेरियस ने 515 ई० पू० में अपने इतिहास को तीन विभिन्न भाषाओं में अंकित कराया था। उनमें से एक प्राचीन पर्शियन भाषा थी जिसने दूसरी अन्य मृतप्राय भाषाओं के जानने की कुञ्जी प्रदान की थी, जिनमें से एक भाषा मिट्टी के नकाशी आकृति में लिखी गई थी। सन् 1835 ई० में हेनरी ऍलीनसन ने इन नकाशियों को नकल करके लिखने का आधा कार्य समाप्त किया तथा फिर 13 वर्ष बाद लौटकर सन् 1848 ई० में पूरा कार्य समाप्त कर लिया। इस प्रकार मैसोपोटामियां के खण्डहरों में मिट्टी की नकाशी के लेखों के अर्थ जानने की चाबी (कुञ्जी) मिल गई तथा प्राचीनता के समस्त अभिलेखों का अर्थ निकाल लिया गया। डेरियस के साथ युद्ध करने वाले बन्दी बनाए गए दस राजकुमारों की मूर्तियां जो कि उस चट्टान के ऊपरी भाग में अंकित कराई गईं थीं, उनको नकल करके लिखने का कार्य शेष रह गया था। इसके अब हाल में ही, मिशिगन विश्वविद्यालय के डा० जार्ज कैमरोन तथा ओरियण्टल रिसर्च के अमेरिकन सम्प्रदाय ने टैलीस्कॉपिल लैंस द्वारा चित्र लिए हैं।

आजकल सूसा नगर जो कि फारस (ईरान) के दक्षिण-पश्चिम में है, में जाकर फ्रांस के पुरातत्त्व समुदाय के मुख्य अध्यक्ष डा० गिर्शमान ने पूर्वकाल के ऐतिहासिक सूसा नामक शहर के खण्डहरों की खुदाई कराई है। उसने चार ऐसे शहरों की पहचान की है जो एक शहर के ऊपर दूसरा शहर आबाद हुआ था। उसने उन शहरों के आबाद होने के समय की वास्तविकता का भी बखान किया है। इन आविष्कारों से जाटों की प्राचीनता का ज्ञान हो जाता है। क्योंकि संसार के उस भाग में उस प्राचीनकाल में जाट जाति ने एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। प्राचीन खण्डहरों


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-425


के इन आविष्कारों तथा सभी स्मारकों से मांडा जाट साम्राज्य का हैरोडोटस द्वारा लिखित इतिहास स्पष्ट रूप से प्रमाणित हो जाता है1

भाषाशास्त्रीय गलती से मांडा शब्द को मेड (Mede) तथा मांडा साम्राज्य (Manda Kingdom) को मेडियन साम्राज्य (Median Kingdom) लिखा गया है। इस गलती को ठीक करने के विषय में निम्नलिखित प्रमाण हैं - 19वीं शताब्दी के एक प्रसिद्ध अंग्रेज विद्वान् साईसे (Sayce) ने अपनी पुस्तक “ऐन्शयन्ट एम्पायरज़ ऑफ दी ईस्ट” में लिखा है कि “साईरस तथा नबोनीदस के स्मारकों की खोज से यह सच्चाई प्रकाश में आ गई और यह ज्ञात हुआ कि जिस इतिहास पर हमने इतने लम्बे समय तक विश्वास किया है, वह भाषाविज्ञान की गलती पर आधारित था।” प्रो० साईसे के लेख का तात्पर्य है कि मेड शब्द गलत है जबकि उसकी बजाय मांडा शब्द ठीक है।

“हिस्टोरियन्ज हिस्ट्री ऑफ दी वर्ल्ड”, जिल्द 2 के पृष्ठ 573 पर लिखा है कि “असीरियन तथा पर्शियन स्मारकों पर लिखित भाषा का अर्थ स्पष्टीकरण निकालने से प्राप्त ज्ञान बड़ा चौंकाने वाला तथा क्रांतिकारी है। इस तरह से प्रतीत हुआ ऐतिहासिक पहलू समस्तरूप से इतना भिन्न है कि इतिहासज्ञों की वाक्य-रचना से मीडियन साम्राज्य शब्द प्रायः लोप हो गया है। वास्तव में प्रो० साईसे ने अपने अन्तिम लेखों में इस शब्द को हटा दिया है।”

मांडा साम्राज्य का उत्तर-पश्चिमी पड़ोसी मीडिया देश था जिसे अन्त में मांडा साम्राज्य में मिला लिया गया था। यह मीडिया शब्द गलती का कारण हो सकता है। मेडों का कभी कोई साम्राज्य नहीं था। वे लोग छोटे-छोटे प्रदेशों में रहने वाले यूनानी व्यापारी तथा रुपया कर्ज पर देने वाले थे। ऐसे लोग कभी किसी साम्राज्य अथवा इतिहास का स्वप्न भी नहीं ले सकते थे। पहले उनको असीरियनों ने लूटा और अन्त में असीरिया का राजा शालमानेसर उनसे कर (शुल्क) लेता था। तत्पश्चात् उनके पड़ौसी जाटों ने उन पर धावा कर दिया और उनके देश को अपने मांडा साम्राज्य में मिला लिया। वीर मांडा लोगों के साथ दुर्बल मेड लोगों को मिलाना, इतिहास में एक अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी। अतः मेरा मत है कि जहां कहीं भी प्राचीन या आधुनिक साहित्य में शब्द मेद (Mede) आता है तो इसका अर्थ मांडा जाट (Manda|Manda Jat) समझना चाहिए2

मांडा जाटसम्राट् डियोसिज देवका (700 ई० पू० से 655 ई० पू० तक) -

प्राचीनकालीन मांडा गोत्र के जाट आज भी भारतवर्ष में विद्यमान हैं। ये वही लोग हैं जिन्होंने ईरान के पश्चिमी समस्थल भूमि पर एक ऐतिहासिक प्रसिद्ध जाट साम्राज्य की स्थापना की। विष्णु पुराण में इनको मांडाका लिखा है। अग्नि पुराण में इनके देश का नाम मांडाव्या लिखा है (Indian Historical Quarterly, IX, P. 476)। वराह मिहिर ने अपनी पुस्तक ‘वृहत् संहिता’ में इन मांडा जाटों का निवासस्थान भारतवर्ष के उत्तर तथा उत्तर-पश्चिम में लिखा है। फारसवालों ने इनको मादेया लिखा है3


1. [[अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 1-6, लेखक उजागरसिंह माहिल।
2, 3. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 127-129, लेखक बी० एस दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-426


मांडा जाट साम्राज्य प्राचीन समय के राज्यों में सबसे बड़ा एवं शक्तिशाली था। हिस्टोरियन्ज हिस्ट्री ऑफ दी वर्ल्ड, खण्ड द्वितीय, पृ० 588 पर लिखित अनुसार “केवल मांडा जाट साम्राज्य ही भौगोलिक विस्तार में इतना बड़ा था कि संसार ने शायद ही कभी देखा हो। यह मिश्र, असीरियन तथा किसी भी अन्य साम्राज्य से इतना अधिक बड़ा था कि आधुनिक कालों तक भी इसका अस्तित्व रहा।” यह अवश्य याद रखना चाहिए कि पर्शियन साम्राज्य इसी जाट साम्राज्य की ही शाखा थी और पर्शियन के सम्राटों की नसों में जाट रक्त बह रहा था।

लगभग 27 शताब्दियों पहले जाटों के देश सीथिया में उनकी जनसंख्या बहुत बढ़ गई तथा वहां से फैलकर ऐल्लिपी के प्राचीन साम्राज्य में आबाद हो गये। उन्होंने उस साम्राज्य का सर्वनाश कर दिया तथा उनकी राजधानी एकबताना (Ecbatana) आधुनिक हमादान (Hamadan) पर अपना अधिकार कर लिया। उन्होंने शीघ्र ही एक राज्य का संगठन किया जो कि असीरिया के लिए एक खतरा बन गया था। यही मांडा साम्राज्य के नाम से प्रसिद्ध हुआ। हैरोडोटस के अनुसार मांडा साम्राज्य के जाट कई राज्यों में बंटे हुए थे। उन राज्यों में से एक का नेता देवका 700 ई० पू० में था जो कि अपनी बुद्धिमत्ता के कारण बड़ा प्रसिद्ध था। इसके पिता का नाम फ्राउटस था1

डियोसिस सदा झगड़ों का निपटारा न्याय से करता था। यद्यपि उसका साम्राज्य अधिक कमजोर था फिर भी पड़ौसी साम्राज्यों से सभी जाट न्यायप्राप्ति के लिए उसके पास आते थे तथा वह इर्द-गिर्द के सभी साम्राज्यों के लिए न्यायाधीश बन गया।

पड़ौसी राज्यों के लोग अपने ही अधिकारियों के अत्याचार के विरुद्ध न्याय के लिए डियोसिस के पास आते थे तथा अन्य किसी अधिकारी के पास कभी नहीं जाते थे। इस कारण डियोसिस के लिए अपने क्षेत्र के कार्यों की अपेक्षा दूसरे क्षेत्रों के कार्यों को वश में करना असम्भव हो गया था और अन्य राज्यों के अधिकारी डियोसिस के ईर्ष्यालु बन गये, यद्यपि सब साधारण जनता उसका आदर करती थी। परिणाम यह हुआ कि गड़बड़ी और बेचैनी पैदा हो गई। हैरोडोटस का यह लेख बड़ा रोचक है कि दूरवर्ती प्राचीन समय के जाटों ने उस समय प्रचलित हुई बेचैनी को कैसे दूर किया।

इस बेचैनी को दूर करने के विचार हेतु एक जनसभा बुलाई गई। उस सभा में यह निर्णय लिया गया कि वर्तमान स्थिति असहनीय है इसलिए एक राजा चुना जाना चाहिए ताकि एक नियमित सरकार स्थापित हो सके। उस समय तक डियोसिज अपने न्याय के लिए इतना लोकप्रिय हो गया था कि सारी जनता ने एकमत से उसे अपना राजा चुन लिया। चुनाव के बाद राजा डियोसिज ने एक शक्तिशाली सेना बनाई। जब उसके देश में सुरक्षा-प्रबन्ध पूरे हो गये तब उसने एक राजधानी एवं उसमें एक शाही महल बनवाने का विचार किया। इसके लिए इमारती पत्थर का प्रबल अलवनडा (Alvanda) नामक पहाड़ जिसकी ऊंचाई 6000 फुट थी, चुन लिया गया। उस पर एकबताना नामक शहर बनाया गया। उस शहर के खण्डरात आधुनिक हमादान (ईरान) नगर के पूर्वी भाग में आज भी देखे जा सकते हैं। हैरोडोटस के अनुसार एकबताना शहर की 7 दीवारें गोल घेरों में बनाई गईं थीं जिनका केन्द्र एक ही था तथा एक दीवार से दूसरी दीवार


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 21, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-427


कुछ दूरी एवं ऊंचाई पर स्थापित की गई, इसी क्रम से सातों दीवारें बनाई गईं थीं। इस तरह से भीतरी दीवारें बाहरी दीवारों की अपेक्षा अधिक ऊंची थीं। राजा का कोष तथा महल सबसे भीतरी दीवार के अन्दर स्थित थे जो कि सोने तथा चांदी की चादरों से ढके हुए थे। अन्य 6 दीवारें विभिन्न रंगों की थीं। यह कार्य पूरा होने के बाद डियोसिज. ने अपने साम्राज्य को बढ़ाना आरम्भ कर दिया। उसने अपने बुद्धिमत्तापूर्ण नियमों द्वारा जाटों को एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में संगठित कर दिया। उसने समीपवाले क्षेत्रों को अपने मांडा साम्राज्य में मिला लिया। उसने 45 वर्ष तक राज्य किया तथा उसकी मृत्यु होने पर 655 ई० पू० में इसका पुत्र फ्रावर्ती मांडा साम्राज्य की गद्दी पर बैठा1

जाटसम्राट् फ्रावर्ती (655 ई० पू० से 625 ई० पू० तक) -

डियोसिज़ का पुत्र फ्रावर्ती 655 ई० पू० में अपने पिता का उत्तराधिकारी बना। लम्बे समय तक शान्ति और चतुर शासन से जाट राष्ट्र सौभाग्यशाली बन गया था। वे लोग अपनी वीरता दिखाने के इच्छुक थे। अतः उन्होंने सम्राट् फ्रावर्ती के नेतृत्व में फारस तथा एलम पर आक्रमण कर दिया। इनको आसानी से विजय कर लिया तथा उन देशों को अपने मांडा साम्राज्य में मिला लिया गया। इसके पश्चात लघुएशिया को जीत लिया। फ्रावर्ती ने फिर शीघ्र ही असीरिया पर आक्रमण कर दिया किन्तु वह इस युद्ध में मारा गया2

जाटसम्राट् साईक्षयरज़/ हूवाक्षत्र (625 ई० पू० से 584 ई० पू० तक) -

फ्रावर्ती का पुत्र साईक्षयरज 625 ई० पू० में अपने पिता का उत्तराधिकारी बना। साईक्षयरज़ ने असीरिया पर आक्रमण जारी रखे। वीरता में वह अपने पूर्वजों की अपेक्षा महान् था। उसने अपनी सेना को युद्धकला सिखलाई जिसमें तम्बू लगाना और धनुर्विद्या भी शामिल थे। उसने घुड़सवार सेना भी तैयार की। वह अन्धविश्वासी भी था। इस दोष के कारण वह लीडिया को न जीत सका। जब वह लीडिया में युद्ध कर रहा था तब सूर्य का पूर्ण ग्रहण हो गया जिससे दिन का समय रात्रि की भांति अन्धकारपूर्ण हो गया। उसने इसको बदशकुन मानकर युद्ध बन्द कर दिया और हेलिज़ (Halys) नदी के पार के राज्यों के साथ सन्धि करके मित्रता स्थापित कर ली। यह सूर्य ग्रहण 28 मई, 585 ई० पू० में हुआ था। इससे पहले 610 ई० पू० में साईक्षयरज़ ने असीरिया की राजधानी नाइन्वे पर आक्रमण किया था। असीरिया के राजा सिन्शेरिशकेन ने बेबीलोनिया के नेबोपोलासर पर आक्रमण किया था। बेबीलोनिया के राजा ने आक्रमणकारियों को खदेड़ने के लिए वीर मांडा जाटों से सहायता मांगी। साईक्षयरज़ को अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने का यह सुनहरी अवसर मिल गया तथा उसने नाईन्वे पर आक्रमण कर दिया जिसको 607 ई० पू० में अपने अधिकार में ले लिया। उसने प्राचीन असीरियन साम्राज्य को बेबीलोनिया की सीमा तक सारे को विजय करके अपने अधिकार में ले लिया। प्राचीन प्रसिध नगर 'कालाह' को जला दिया गया। जाट इतिहास में कालाह नगर की विजय अद्वितीय थी कि वे इसे कभी नहीं भूले।


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 22-31, उजागरसिंह माहिल; जाट्स दी ऐन्शन्ट रूलर्ज पृ० 128-131, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-428


कालाह नामक दो गांव आज भी आधुनिक पंजाब में हैं। एक कपूरथला जिला में ‘कालाह सांघा’ है तथा दूसरा जिला जालन्धर में आदमपुर के पास ‘कालाह बाकरा’ है। साईक्षयरज की इस विजय ने असीरियन साम्राज्य का नाम इतिहास से मिटा दिया।

इस महान् विजय के बाद साईक्षयरज़ के नेतृत्व में जाटों ने दूर मिश्र की सीमा तक अपना अधिकार कर लिया। मिश्र के राजा पासन्थिक ने जाटों की शूरवीरता से भयभीत होकर इनको कर के रूप में भारी राशि प्रदान कर दी और इससे जाट वापिस लौट आये।

बेबीलोनिया के सम्राट् नेबू-चद-नेज्ज़र (Nebu-Chad-Nezzar) के साथ साईक्षयरज़ ने अपनी पुत्री का विवाह करके मित्रता स्थापित कर ली। आर्मानिया तथा कप्पाडोसिया को जीतकर मांडा साम्राज्य में मिला लिया। लीडिया के सम्राट् ने अपनी पुत्री का विवाह मांडा साम्राज्य के युवराज से करके मित्रता कर ली।

इस तरह से सम्राट् साईक्षयरज़ ने मांडा जाट साम्राज्य को उस समय का सबसे शक्तिशाली एवं प्रसिद्ध साम्राज्य बना दिया। इतिहास के प्रसिद्ध तथा वीरयोद्धा सम्राट् साईक्षयरज़ की 584 ई० पू० में मृत्यु हो गई जिसका उत्तराधिकारी ईस्तुवेगु बना1

जाट्स दी ऐन्शन्ट रूलर्ज, पृ० 303 पर बी० एस० दहिया लिखता है कि “मांडा जाट सम्राट् साईक्षयरज़ ने अपनी राजकुमारी अमिथिया (Amithia) का विवाह बेबीलोनिया के सम्राट् नेबू-चद-नेज्ज़र के साथ करके मित्रता स्थापित कर ली थी। बेबीलोनिया के इस सम्राट् नेबू-चद-नेज्ज़र ने अपनी महारानी अमिथिया की यादगार में एक बेबीलोनिया का झूलता हुआ बाग (Hanging Garden of Babylonia) का निर्माण करवाया जो कि संसार की 7 आश्चर्यजनक वस्तुओं में से एक है। हीर-रांझा, जिन के प्रेम के गाने गाये जाते हैं, वे भी जाट थे।”

जाटसम्राट् ईश्तुवेगु (584 ई० पू० से 550 ई० पू० तक) -

साईक्षयरज़ का उत्तराधिकारी उसका पुत्र ईश्तुवेगु 584 ई० पू० में बना। उसका विवाह लीडिया के युद्ध के बाद सन्धि के समय लीडिया के राजा अलेयेत्तस की पुत्री आर्यनिस (संस्कृत आर्यानी) से हुआ। वह एक योग्य पिता का अयोग्य पुत्र था। वह आनन्दभोगी, जड़बुद्धि तथा मिथ्याविश्वासधर्मी था। उसके मानसिक दोष इतने गम्भीर थे कि वे जाटों के साम्राज्य के पतन का कारण बने। फिर भी उसके शासन के आरम्भ में जाटों ने साईक्षयरज़ की वीरता तथा बुद्धिमत्ता के कारनामों के प्रभाव के कारण उत्तर-पश्चिम की ओर हेलिज़ नदी तक अपने साम्राज्य का विस्तार किया।

ईश्तुवेगु के कोई पुत्र नहीं था, केवल एक पुत्री मन्दानी (मांडा वंश के नाम पर) थी। ईश्तुवेगु को स्वप्न आया कि मन्दानी के पेट से एक अंगूर की बेल निकली जो कि समस्त एशिया में फैल गई। सम्राट् ने मागी (मांडा साम्राज्य के पुरोहित) लोगों से अपने इस स्वप्न के विषय में पूछा। दरबारी मागी ने इसकी भविष्यवाणी की कि मन्दानी की सन्तान साम्राज्य को हड़प लेगी तथा समस्त एशिया को जीत लेगी। इससे डरकर ईश्तुवेगु ने शाही परिवार के स्तर के बराबर किसी भी जाट


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 22-31, लेखक उजागरसिंह माहिल; जाट्स दी ऐन्शन्ट रूलर्ज पृ० 128-131, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-429


से मन्दानी का विवाह नहीं किया तथा एक पर्शियन कैम्बसिज़ के साथ कर दिया जोकि एलम प्रान्त का राजकुमार था, जो जाट उच्च-अधिकारियों से स्तर में तुच्छ था। जब मन्दानी गर्भवती हो गई तब सम्राट् ईश्तुवेगु की आज्ञा अनुसार उसको एलम से शाही महलों में लाया गया। यहां पर मन्दानी ने एक पुत्र को जन्म दिया जिसका नाम साईरस था। मांडा जाट सेना का मुख्य सेनापति जाट हरपेगस था जोकि जाट इतिहास में अत्यन्त प्रसिद्ध व्यक्ति था। वह न केवल सबसे वीर था अपितु मांडा साम्राज्य में सबसे बुद्धिमान् व्यक्ति था। वह बहुत ही विश्वसनीय था तथा सारे शासन का कार्य भलीभांति चलाता था। अपने पिता की तरह ईश्तुवेगु भी उस पर पूर्ण विश्वास रखता था। ईश्तुवेगु ने उसे मन्दानी के पुत्र को मारने तथा इसे किसी को भी न बताने का आदेश दे दिया। हरपेगस उस साईरस नामी बालक को अपने घर ले गया तथा गम्भीरता से विचार किया कि इस्तुवेगु का कोई पुत्र नहीं है जो उसका उत्तराधिकारी बने तथा बालक साईरस ही केवल नर उत्तराधिकारी है जो उसकी गद्दी पर बैठ सकता है।

हरपेगस ने उस बालक को मिथरीडेटस नामक गडरिये को इस उपदेश के साथ दे दिया कि वह इस बालक को किसी उजाड़ वन में फेंक दे। घटना यह घटी कि उस गडरिये की पत्नी ने पहले दिन एक मृत बच्चे को जन्म दिया था। उन दोनों ने सुन्दर बालक साईरस को अपने घर रख लिया तथा अपने मृत बच्चे को जंगल में फेंक दिया। इसकी सूचना हरपेगस को दे दी गई जिसने वहां जाकर उस मृत बालक को भूमि में दबा दिया, जिसकी शक्ल जंगली जानवरों के खाने से पहचानी नहीं जा सकती थी। किसी अन्य नाम से गडरिये की पत्नी ने बड़ी सावधानी से सुन्दर साईरस का पालन-पोषण किया।

जब साईरस 10 वर्ष का हुआ तो एक दिन राजा को अचानक वह लड़का तथा उसका सौतेला बाप रास्ते में मिले। पूछने पर मिथरीडेटस ने सब भेद खोल दिया। ईश्तुवेगु ने अपने सेनापति हरपेगस से इसका बदला लेना चाहा। उसने हरपेगस को आदेश दिया कि वह अपने पुत्र को बालक साईरस के पास राजमहल में भेज दे तथा स्वयं शाही दावत का आनन्द लेने के लिए महल में आ जाए। हरपेगस इस बात से बहुत प्रसन्न हुआ परन्तु उसको आगे होनेवाली भयंकर घटना का विचार तक भी न था। उसने अपने 13 वर्षीय इकलौते पुत्र को सम्राट् के महल में भेज दिया तथा समय पर वह भी दावत में शरीक हो गया। नष्टधर्मी ईश्तुवेगु ने हरपेगस के पुत्र को कत्ल करवा दिया तथा उसका पका हुआ मांस हरपेगस को खिला दिया जबकि अन्य अतिथियों को बकरियों का मांस परोसा गया। ईस्तुवेगु ने हरपेगस के पुत्र के कटे हुए अंग तथा सिर मंगवाए तथा हरपेगस को वह भी खाने को कहा। हरपेगस अत्यन्त वीरों तथा बुद्धिमानों में एक ऐसा जनरल था जो शायद ही कभी संसार में ऐसा जनरल हुआ हो। वह न केवल सबसे बड़ी सेना को वश में कर सकता था बल्कि अपनी प्रबल इच्छाओं तथा लालसाओं को भी काबू कर सकता था। उसने उस समय कोई ऐसी असाधारण अवस्था प्रकट नहीं की। वह अपने पुत्र के बचे हुए शव को घर ले गया तथा दाह संस्कार कर दिया।

हरपेगस ने समझ लिया कि इस महान् तथा होनहार साम्राज्य पर राक्षस ईश्तुवेगु शासन करने योग्य नहीं है। उसने पुत्र के कत्ल करने का बदला लेने की ठानी। उसने विचार किया कि साईरस ही ईश्तुवेगु को गद्दी से उतारने के लिए योग्य है और वह ईश्तुवेगु का वास्तविक


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-430


उत्तराधिकारी भी है। साईरस पर्शिया में अत्यन्त शक्तिशाली एवं सुन्दर राजा बन चुका था। हरपेगस ने साईरस को गुप्त पत्र भेजकर उसको ईश्तुवेगु के विरुद्ध विद्रोह करके उसको राजगद्दी से हटाकर स्वयं सम्राट् बनने को उकसाया तथा इसके लिये अपनी पूरी सहायता का आश्वासन भी दिया।

यह पत्र पढ़कर साईरस ने एक योजना बनाई जिसके अनुसार एक शाही पत्र लिखा गया जिससे प्रतीत होता था कि ईश्तुवेगु ने उसे पर्शिया का जनरल नियुक्त किया है। उसने पर्शिया के लोगों की एक सभा में पत्र पढ़कर सुनाया। उसने एक बड़ी सेना तैयार करके ईश्तवेगु के विरुद्ध विद्रोह कर दिया। यह सूचना मिलने पर ईस्तुवेगु ने एक बड़ी सेना एकत्रित की जिसका सेनापति हरपेगस को बनाया गया तथा पर्शिया पर आक्रमण कर दिया। जो जाट सैनिक इस जालसाजी में शामिल नहीं थे वे बड़ी वीरता से लड़े परन्तु अन्य जाट सैनिक पर्शियन सेना से मिल गये। सेना का एक बड़ा भाग अपनी इच्छानुसार युद्ध से पीछे हट गया। इस तरह से ईश्तुवेगु की पूर्ण पराजय हुई। परन्तु ईश्तुवेगु ने अपनी प्रजा को हथियार देकर संगठित किया जिसमें बच्चे, बूढ़े भी शामिल थे और पर्शिया पर दोबारा आक्रमण कर दिया। इस युद्ध में साईरस ने 550 ई० पू० में ईस्तुवेगु को बुरी तरह पराजित किया तथा उसे कैद कर लिया गया। साईरस फारस तथा मांडा साम्राज्य का सम्राट् बन गया। परिणामस्वरूप खालिस जाटों के शासन के अन्त होने का असली कारण ईश्तुवेगु का कठोर स्वभाव था1

सम्राट् साईरस (550 ई० पू० से 529 ई० पू० तक) -

इसके पिता का नाम कैम्बिसिज़ था जो कि फारस के एलम प्रान्त का राजकुमार था जिसके साथ मांडा साम्राज्य के अन्तिम सम्राट् ईश्तुवेगु की पुत्री जाट राजकुमारी मन्दानी का विवाह हुआ था, जिसके गर्भ से साईरस पैदा हुआ। मांडा साम्राज्य के मुख्य जाट सेनापति हरपेगस की सहायता से साईरस मांडा एवं फारस साम्राज्य का सम्राट् 550 ई० पू० बन गया था।

साईरस की नाड़ियों में जाट रक्त बह रहा था क्योंकि इसकी माता मन्दानी एक जाट राजकुमारी थी। साईरस के अधीन साम्राज्य का सारा संगठन वही रहा जो कि मांडा जाट सम्राटों के अधीन था। सभी उच्च प्रबन्धक अधिकारी जाट थे। सेना जाटों की थी तथा उसका सेनापति वीर एवं बुद्धिमान् जाट हरपेगस था जिसने साईरस के शासनकाल में बहुत-सी विजयें प्राप्त कीं। हरपेगस के नेतृत्व में जाटों द्वारा प्राप्त की गई विजयें आश्चर्यजनक थीं।

एक्सनोफोन (Xenophon) लिखता है कि “साईरस ने इतने अधिक राष्ट्रों को विजय कर लिया था जिसकी गणना करना कठिन है।” एच० जी० वैल्ज लिखता है कि “जब साईरस राजगद्दी पर बैठा तो वह इतने बड़े साम्राज्य का शासक बना जिसकी सीमाएं लीडिया से फारस तक और सम्भव है कि भारतवर्ष तक फैली हुईं थीं। दूसरा बेबीलोनियन साम्राज्य एक शताब्दी के 2/3 भाग (लगभग 65-70 वर्ष) तक भेड़ के बच्चे की तरह मांडा शेर के अन्तर्गत रहा।” (देखो ऑउट-लाईन ऑफ हिस्ट्री, अध्याय 21, विभाग 5)।


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 22-31, लेखक उजागरसिंह माहिल; जाट्स दी ऐन्शन्ट रूलर्ज पृ० 128-131, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-431


जाटों की तलवार से पहला विजय होने वाला लीडिया का सम्राट् क्रोईसिस था। इसके पिता का नाम अलेयेत्तस था जिसकी पुत्री आर्यानी का विवाह सम्राट् ईश्तुवेगु से हुआ था। ईश्तुवेगु इस तरह से क्रोईसिस का बहनोई था। जब साईरस ने ईश्तुवेगु का राज्य छीनकर उसे कैद में डाल दिया तो इससे क्रोईसिस को बड़ा दुःख हुआ और उसी समय उसका पुत्र भी एक दुर्घटना में मारा गया था। अतः क्रोईसिस ने लेस्डेमोनियन्ज (Lacedemonians) तथा मिश्रवालों के साथ एक रक्षात्मक सन्धि कर ली। प्टेरिया (Pteria) के स्थान पर क्रोईसिस और साईरस का घमासान युद्ध हुआ, वहां से क्रोईसिस लौट गया। साईरस ने उसका पीछा किया और उसके साथ उसकी राजधानी सरदिस (Sardis) के बाहर युद्ध किया।

लीडियन्ज़ की मुख्य सैनिक शक्ति उनकी श्रेष्ठ घुड़सवार सेना थी जो लम्बे भालों से युद्ध करते थे। साईरस ने जब लीडियन सेना की व्यूहरचना जो युद्ध के लिए की गई थी, को देखा तो वह उनके घुड़सवारों से भयभीत हो गया। हैरोडोटस का कहना है कि साईरस ने अपने मांडा जाट सेनापति हरपेगस की बताई हुई सैनिक युद्धविद्या के अनुसार कार्य किया जो निम्न प्रकार से था –

“उसने अपनी सेना की भारबरदारी ले जाने वाले ऊंटों को इकट्ठा किया और उन पर लदे हुए सब साज व सामान को उतरवा दिया। अब उन ऊंटों पर घुड़सवार सैनिकों को उनके शस्त्रों सहित बैठा दिया गया। अब उनको अपनी सेना के आगे-आगे चलने तथा क्रोईसिस के घुड़सवारों की तरफ जाने का आदेश दिया। ऊंटों के इस काफिले के पीछे उसने अपनी पैदल सेना लगाई तथा पैदल सेना के पीछे अपनी घुड़सवार सेना रखी। जब ऊंट काफिला क्रोईसिस की घुड़सवार सेना के निकट पहुंचा तो उसके घोड़ों को ऊंटों की गन्ध आई तथा उनकी आकृति से डर गये। वे तुरन्त उलटे भाग गये जिससे क्रोईसिस की घुड़सवार सैनिक शक्ति बेकार हो गई। साईरस की सेना ने पूरी शक्ति से शत्रु पर धावा बोल दिया और उसके बहुत सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। इस तरह से 14 दिन में राजधानी सरदिस पर साईरस का अधिकार हो गया तथा क्रोईसस को कैदी बना लिया गया। साईरस ने उसे लकड़ियों की चिता में जलाकर मारने का दण्ड दिया परन्तु बाद में उसे बचा लिया गया।”

लीडिया की इस विजय तथा क्रोईसस की हार से, हरपेगस के नेतृत्व में जाटसेना की वीरता तथा साईरस की व्यूहरचना स्पष्ट सिद्ध हो जाती है।

क्रोईसस एशिया माइनर का सबसे धनवान् राजा था। वह लोकप्रसिद्ध धनी व्यक्ति था। युद्ध में लूट का यह सब धन जाटों के हाथ लगा। 545 ई० पू० में सेनापति हरपेगस ने रूम सागर के तट तक सब भूमि को जीत लिया। इस तरह से पश्चिमी तट तक सारे लघुएशिया पर साईरस का अधिकार हो गया। फिर 539 ई० पू० में सेनापति हरपेगस के नेतृत्व में जाट सेना ने दक्षिण की ओर बचे हुए बेबीलोनिया राज्य पर आक्रमण कर दिया। वहां पर राजा नेबोनीदस (Nobonidus) का शासन था। जाटसेना ने वहां के सेनापति बेल्शाजार (Belshazzar) के अधीन बेबीलोनिया सेना को परास्त कर दिया तथा उस साम्राज्य को भी अपने अधिकार में ले लिया। बेबीलोनिया का प्रसिद्ध सम्राट् नेबोनीदस भाग गया। इस प्रकार प्राचीन महान् बेबीलोनियन साम्राज्य जो कि इतिहास के अनुसार शायद संसार में सबसे पहला था, अन्तिमरूप से जाटों के अधिकार में आ गया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-432


सीरिया* तथा फोनिशिया ने भी हथियार डाल दिए। इतने देशों को जीतकर भी मांडा जाट चुपचाप नहीं बैठे। उन्होंने सोग्डियाना में समरकन्द तथा बुखारा को भी जीत लिया। फिर खीवा को भी विजय कर लिया। अफगानिस्तान के एक बड़े क्षेत्र पर भी अधिकार कर लिया। एच० जी० वैल्ज (आउटलाइन ऑफ हिस्ट्री, अध्याय 28, भाग 1) के लेख अनुसार - “साईरस का साम्राज्य हेलेस्पोंट** (Hellespont) से सिन्ध तक फैल गया था तथा सभ्यता अपने ऊंचे स्तर तक पहुंच चुकी थी। इसका साम्राज्य अविजित रहा तथा 200 वर्ष तक धन-धान्य से पूर्ण रहा1।”

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 131, लेखक बी० एस० दहिया ने लिखा है कि साईरस ने स्वयं बल्ख (बैक्ट्रिया) और कैस्पियन सागर पर अधिकारी जाटों से युद्ध किया परन्तु वह दोनों स्थानों पर असफल रहा। बल्ख पर कांग तथा मस्सागेटाई पर दहिया जाटों का शासन था। ये दोनों जाटों के स्वतन्त्र राज्य रहे। (देखो चतुर्थ अध्याय, कांगवंश प्रकरण)।

सम्राट् साईरस का जाट महारानी तोमरिस से युद्ध (529 ई० पू० में) -

इतनी अधिक विजयों से साईरस अभिमानी हो गया तथा अब उसने मैस्सागेटाई देश की ओर ध्यान दिया जो कि जाटों का एक और प्राचीन साम्राज्य था। उस समय तोमरिस नामक एक जाट रानी मैस्सागेटाई के सिंहासन पर विराजमान थी। उस रानी ने अपने पति राजा अरमोघ की मृत्यु हो जाने पर शासन की बागडोर स्वयं सम्भाली थी। अब साईरस ने उचित अवसर समझ कर अपने दूत द्वारा रानी तोमरिस को अपने साथ विवाह करने का प्रस्ताव भेजा। महारानी ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार करते हुए उत्तर दिया कि “मैं जाट क्षत्रियाणी हूं, अपना धर्म नहीं छोड़ सकती तथा अपने देश को तुम्हारे अधीन नहीं करूंगी।” यह उत्तर मिलने पर साईरस ने 529 ई० पू० में भारी सेना के साथ तोमरिस के राज्य पर आक्रमण कर दिया।

अरेक्सिज नदी पार दोनों ओर की सेनाओं का बहुत भयंकर युद्ध हुआ। महारानी तोमरिस इस युद्ध में स्वयं आगे की सेना के साथ होकर लड़ी। दोनों ओर वीर जाट सैनिक थे जो अन्तिम समय तक लड़े। हैरोडोटस लिखता है कि “प्राचीन काल से लड़ी गई सभी लड़ाइयों से यह युद्ध अधिक खूनखराबे वाला था।”

इस युद्ध में साईरस मारा गया। तोमरिस की मस्सागेटाई जाट सेना ने 529 ई० पू० में इस युद्ध में विजय प्राप्त की। तोमरिस महारानी ने युध के मैदान से साईरस के मृत शरीर को खोज करवाकर प्राप्त कर लिया और महारानी ने उसका सिर काटकर उसको एक खून के भरे बर्तन में डालकर कहा “मेरी प्रतिज्ञा के अनुसार तुम अपना ही खून पीओ।”

मस्सागेटाई के वीर जाटों के हाथों अजेय महान् सम्राट् साईरस की यह प्रथम तथा करारी


  • जाट इतिहास, पृ० 7 पर सम्पादक निरंजनसिंह चौधरी ने लिखा है कि “बाईबिल मुकद्दस के अहदनामें में जाट क्षत्रियों और सीरिया देश की आदिम निवासी वनी इसराईल के युद्धों का उल्लेख है। उसमें जाट नामक एक शहर का उल्लेख है, जो जाटों की राजधानी थी। जुलीत नामक एक जाट पहलवान का भी उल्लेख है। बाईबिल के अनुसार उपर्युक्त घटनायें अब से तीन या चार हजार वर्ष पूर्व की हैं।
    • हेलेस्पोंट (Hellespont) जो अब डार्डनल्ज (Dardanelles) नाम से तुर्की के पश्चिमी तट पर स्थित है।
1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 31-37, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-433


हार और उसकी समाप्ति हुई1। (अधिक जानकारी के लिए देखो, चतुर्थ अध्याय, जाट महारानी तोमरिस का सम्राट् साईरस से युद्ध-प्रकरण)।

कैम्बाईसिज (Combyses) (529 ई० पू० से 521 ई० पू० तक) -

साईरस के मरने पर उसका पुत्र कैम्बाईसिज़ 529 ई० पू० में गद्दी पर बैठा। उसने जाट सेना के साथ 525 ई० पू० में मिश्र पर आक्रमण कर दिया। नील नदी के डेल्टा में जाट सेना का मिश्र की सेना से रक्तपातपूर्ण युद्ध हुआ। हैरोडोटस लिखता है कि “मैंने इस युद्ध के 50-60 वर्ष पश्चात् इस रणक्षेत्र में काम आये सैनिकों की हड्डियां तथा खोपड़ियां स्वयं देखी थीं। इस युद्ध के बाद कैम्बाईसिज़ की सेना ने मेमफिस तथा अधिकतम मिश्र को अपने अधिकार में ले लिया।” सूसा की ओर लौटते समय कैम्बाईसिज़ की मृत्यु एक दुर्घटना के कारण हुये घाव से सीरिया में हो गई। साईरस का मुख्य सलाहकार हरपेगस जाट का पुत्र डेरियस (Darius) 521 ई० पू० में कम्बाईसिज का उत्तराधिकारी बना।2

जाटसम्राट् डेरियस (Darius) (522 ई० पू० से 485 ई० पू० तक) -

डेरियस के पिता का नाम हरपेगस था जो कि सम्राट् ईश्तुवेगु का सेनापति तथा सम्राट् साईरस का मुख्य सलाहकार था। कैम्बाईसिज़ का कोई पुत्र न था इसलिए उसकी मृत्यु के पश्चात् डेरियस 521 ई० पू० में राजगद्दी पर बैठा। डेरियस के साम्राज्य का फैलाव आश्चर्यजनक था। उसने 515 ई० पू० में सीथिया देश पर आक्रमण किया तथा थ्रेस के कई नगरों को अपने साम्राज्य में मिला लिया। उसने मैकदूनिया के राजा से भी कर लिया। उसने सिन्ध नदी तक के देशों को विजय कर लिया और काबुल के उत्तर के सब राज्यों को अपने साम्राज्य में मिला लिया। उसने उस क्षेत्र का एक मण्डलेश्वर (सूबेदार) नियुक्त कर दिया। उसने यूनान में भी युद्ध किए। उसने साईरस के स्वप्न के अनुसार अपना एक पांव एशिया पर तथा दूसरा यूरोप में फैला लिया। संक्षेप में बात यह है कि इतिहास के अनुसार उस समय से पहले होनेवाले सब साम्राज्यों में प्रत्येक से डेरियस का साम्राज्य अधिक विस्तृत था। इसके साम्राज्य में लघुएशिया तथा सीरिया (प्राचीन लीडियन हिट्टाइट, असीरियन, बेबीलोनियन तथा लीडिन साम्राज्य), मिश्र, काकेशस व कैस्पियन क्षेत्र, मीडिया और फारस शामिल थे तथा यह साम्राज्य सिन्ध नदी तक फैला हुआ था।

इस् महान् साम्राज्य की शासन-व्यवस्था पूर्वकालीन शासकों से अधिक अच्छी थी। बड़ी-बड़ी सड़कें एक प्रान्त को दूसरे प्रान्त से जोड़ती थीं तथा उनके द्वारा शाही डाक का वितरण किया जाता था। एशिया के बड़े क्षेत्र में यूनानियों के अधीन नगर भी उसको कर देते थे।

एशिया के इतने बड़े भाग पर अधिकार करने के बाद अब डेरियस ने अपना ध्यान यूरोप की ओर किया। वह अपनी विशाल सेना को जिसमें अधिकतर जाट सैनिक थे, थ्रेस देश की


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 37-41, लेखक उजागरसिंह माहिल, जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 131-133, लेखक बी० एस० दहिया।
2. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 41-42, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-434


ओर ले गया। फिर उसने दक्षिणी रूस के जाटसाम्राज्य पर आक्रमण हेतु डैन्यूब नदी को पार किया। वहां पर उसका सामना उससे भी अधिक वीर एवं युद्ध-विद्या में निपुण जाटों ने किया। ये सीथियन जाट थे जिनका शासन सीथिया देश (दक्षिणी रूस) पर था। उनसे डरकर डेरियस अपनी जान बचाकर डैन्यूब नदी को पार करके वापिस लौट आया1

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ०134 पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि जब डेरियस ने इन सीथियन जाटों के राज्य पर आक्रमण किया तब वे डेरियस को फुसलाने हेतु पीछे को हट गए। वास्तव में उनकी शत्रु को फंसाने की यह युद्धविद्या थी।

डेरियस ने सीथिया के राजा को यह संदेश भेजा - “सीथिया देश के राजा, मेरे से दूर क्यों भाग रहे हो? यदि आप मेरे तुल्य हो तो ठहरो और युद्ध करो। यदि नहीं हो तो भागने की आवश्यकता नहीं, आप मुझे अपनी भूमि एवं जल सौंप दे और आत्मसमर्पण कर दो, जिसकी शर्तें सन्धि द्वारा तय की जा सकती हैं।”

इसका उत्तर सीथियन राजा ने डेरियस को भेजा, जो कि एक आदर्शभूत जाट उत्तर है। सन्देश में कहा गया कि “फारस के सम्राट्, मैं सूर्य भगवान् के अलावा अन्य किसी से नहीं डरता। मैं भागता नहीं हूं तथा भूमि और पानी आपको नहीं दूंगा। यद्यपि मैं आपको बड़े योग्य उपहार भेजता हूं।” उसने अपने दूत द्वारा एक पक्षी, एक चूहा, एक मेंढक और पांच तीर उपहार के तौर पर भेज दिये। डेरियस ने अनुमान लगाया कि चूहा भूमि को सूचित करता है तथा मेंढक पानी को। तदनुसार सीथियन ने हम को भूमि एवं पानी देना स्वीकार कर लिया है और आत्मसमर्पण कर रहे हैं। परन्तु डेरियस का ससुर जो कि एक चतुर सेनापति था, ने उसको इस उपहार का सत्य अर्थ इस तरह से बताया - “फारसवालो! सिवाय इसके कि तुम पक्षी बनकर आकाश में उड़ जाओ या चूहे बनकर भूमि के भीतर चले जाओ या मेंढक बनकर पानी में चले जाओ, तुम में से एक भी जीवित वापिस नहीं जा सकता, हमारे तीर तुम्हारे हृदयों को छेद देंगे।”

“डेरियस यह समझकर कि मेरी सेना सीथियन जाटसेना के फन्दे में फंसने वाली है, अपनी जान बचाकर डेन्यूब नदी को पार करके फारस लौट आया।”

अन्त में डेरियस सूसा को चला गया तथा एक सेना अपने वीर जनरल मेगाबाज़स (Megabazus) के नेतृत्व में थ्रेस देश में छोड़ गया। थ्रेस के जाटों ने इस जनरल को अपने अधीन कर लिया। इस तरह से थ्रेस के जाट तथा डैन्यूब नदी के प्रदेशों के शासक सीथियन जाट और अमू दरिया के उत्तर में शासक कांग जाट स्वतन्त्र रहे।

डेरियस ने मैकदूनिया (Macedonia) साम्राज्य को भी अपने अधिकार में कर लिया। कुछ टापुओं पर कब्जा करने के बाद उसने 490 ई० पू० में यूनान देश पर आक्रमण कर दिया। यह यूनान के एथन्ज नगर पर समुद्री आक्रमण किया गया था जो कि निष्फल हो गया।

485 ई० पू० में डेरियस की मृत्यु हो गई। इसके बाद इसका पुत्र क्षेरक्षेज गद्दी पर बैठा2

नोट - जिन जाटों ने साईरस तथा डेरियस की स्वामिभक्ति अस्वीकार कर दी वे मध्यएशिया तथा


1, 2. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 41-42, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-435


मांडा साम्राज्य से भारतवर्ष लौट आये। जिनमें से मुख्य जाट गोत्र निम्न प्रकार से हैं -

मांडा, वरिक, मौर, शिवि, अत्रि, खत्री, कांग, पोरव (पुरु) आदि। इन सबका निवास आज भी भारत में पाया जाता है। जॉन पर्ज़ीलुस्की (Jean Przyluski) उनको वाह्लीक कहता है तथा जो ईरान व मध्यएशिया से आए (Journal Ariatique 1926, P 11-13)। पाणिनि ऋषि ने इन जाटों को आयुधजीवी (वीरयोद्धा) लिखा है। पाणिनि ने इन आयुधजीवी संघों (गणों) को जाटसंघ लिखा है। इन लोगों ने अपने नाम से उत्तरपथ (उत्तरी पंजाब) में अनेक नगर स्थापित किए। (V.S. Agarwal op. cit, P. 68-69).

सम्राट् क्षेरक्षेज (Xerxes) (485 ई० पू० से 465 ई० पू० तक) -

क्षेरक्षेज 485 ई० पू० में अपने पिता डेरियस की मृत्यु होने के बाद फारस साम्राज्य के सिंहासन पर बैठा। उसने हेलेसपोंट (Hellespont) जो अब डार्डनल्ज (Dardanelles) नाम से तुर्की के पश्चिमी तट पर स्थित है, से समुद्री बेड़े द्वारा रूम सागर पार करके यूनान पर दूसरा आक्रमण कर दिया। कुछ संघर्ष के बाद फारस की सेना ने एथन्ज पर अधिकार कर लिया और 480 ई० पू० में उसे फूंक दिया। फिर भी यूनानी जहाजी बेड़े ने पर्शियन बेड़े को हरा दिया तथा बुरी तरह तोड़-फोड़ करके डुबो दिया। क्षेरक्षेज हेलेसपोंट के स्थान पर बने नावों के पुल ध्वंस होने के कारण डर गया तथा वह अपनी यूरोपियन लड़ाइयों से घृणित होकर अपने देश में लौट आया। 465 ई० पू० में उसको उसके महल में ही कत्ल कर दिया गया। इसके पश्चात् बहुत से पर्शियन सम्राटों ने शासन किया जिनकी यूनान में बुरी हार हुई। इन सम्राटों का नाम अज्ञात है जो कि एक खोज का विषय है।

लगातार युद्धों के बन्द होने पर पर्शियन्ज ने हत्याएं, विद्रोह, दण्ड, कपटी सन्धि तथा विश्वासघात जैसे घृणित कार्य करने आरम्भ कर दिये। यही कार्य उनके तबाही का कारण बना। अन्त में सिकन्दर महान् ने इनको करारी हार दी तथा अस्थायी यूनानी साम्राज्य स्थापित हो गया1

331 ई० पू० में सम्राट् सिकन्दर ने ईरान के सम्राट् डेरियस द्वितीय (दारा) पर आक्रमण कर दिया। दारा ने सिन्धु देश के जाट राजा सिन्धुसेन (सिन्धु गोत्र) से सहायता मांगी। उसने दारा की सहायता के लिए अपने सिन्धु गोत्र की जाट सेना को भेजा। अर्बेला के स्थान पर दोनों सेनाओं में भयंकर युद्ध हुआ। इस युद्ध में दारा मारा गया तथा सिकन्दर की जीत हुई। सिकन्दर ने कोप पर ईरान की राजधानी परसीपोलिस को तहस नहस कर दिया। (अधिक जानकारी के लिए देखो चतुर्थ अध्याय, सिकन्दर और दारा प्रकरण)।

साईरस और हरपेगस के पुत्र डेरियस के शासनकाल में मांडा साम्राज्य तथा मध्यएशिया के कई स्थानों से कुछ जाट भारतवर्ष में आ गये और यहां आबाद हो गये। माग लोग भी जो कि मांडा सम्राटों के पुरोहित थे, इन जाटों के साथ भारत आ गये। भारत में इनको ‘माग’ कहा गय। यमुना नदी के किनारे बसे हुए ‘तगा’ ब्राह्मण इनके ही वंशज हैं।


1, 2. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 42-43, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-436


इतिहासकार मसूदी ने इनका नाम ‘तगाज़गेज़’ लिखा है। (Srivastava - Indian History Congress, Bhagalpur session, 1968, P. 86)

छठी/सातवीं ईस्वी शताब्दियों में भी मांडा गोत्र के जाटों का निवास पंजाब और सिन्ध में पाया जाता है। इवन हौकल लिखता है कि “नास्तिक जो कि सिन्ध में बसे हुये थे, वे बुद्ध तथा मांड कहलाते थे।” मांडों (मांड जाट) का निवासस्थान सिन्ध नदी के किनारों पर था और मुलतान से लेकर समुद्र तक इनकी बड़ी जनसंख्या थी। (Elliot & Dowson, OP. Cit, Vol. I, P. 38; see also Cambridge Ancient History Vol. IV)

सम्राट् सिकन्दर महान् का मकदूनिया से चलकर व्यास नदी तक पहुंचने तथा वहां से वापिस लौटकर बैबीलोन मे स्थान पर उसकी मृत्यु होने तक वीर जाटों के गणों ने कदम-कदम पर मध्यएशिया, मध्यपूर्व तथा पंजाब में उससे सख्त मुकाबला किया। (देखो चतुर्थ अध्याय, सम्राट् सिकन्दर और जाट प्रकरण)

मौर्य या मौर जाटवंशज सम्राट् चन्द्रगुप्त मौर्य के शासनकाल (322-298 ई० पू० तक) में उसके साम्राज्य में अफ़गानिस्तान (जिनमें हिन्दूकुश पर्वतमालायें, काबुल, हिरात, कन्धार शामिल थे) और बलोचिस्तान सम्मिलित थे। उसके पौत्र अशोक महान् के शासनकाल (273-232 ई० पू० तक) में भी यह देश उसके साम्राज्य में शामिल थे।

कुषाण वंशज जाटराज्य (सन् 40 ई० से 220 ई० तक) के शासन में उनके साम्राज्य में शामिल देश -

कुजुल कफस कदफिसस (सन् 40 ई० से 78 ई० तक) ने बोखारा, बलोचिस्तान, सिन्ध नदी और ईरान की सीमा के बीच में सब प्रदेश जीतकर अपने साम्राज्य में मिला लिये थे। इस सम्राट् ने सबसे पहले बैक्ट्रिया (बल्ख) को जीतकर उसको अपनी राजधानी बनाया। इसके पुत्र विमकदफिसस द्वितीय (78 से 110 ईस्वी तक) के साम्राज्य में भी मध्यपूर्व के ये प्रदेश शामिल रहे।

महान् सम्राट् कनिष्क (सन् 120 ई० से 162 ई० तक) -

इस कुषाण सम्राट् की राजधानी पुरुषपुर (पेशावर) थी।

इस सम्राट् के साम्राज्य में गांधार (अफगानिस्तान), यारकन्द, बैक्ट्रिया (बल्ख), खोतन, काशगर, तारिम नदी की घाटी में आबाद अनेक प्रान्त, कश्मीर, पंजाब, सिन्ध, मगध राज्य का कुछ भाग, मथुरा और मालवा व उज्जैन आदि शामिल थे।

कनिष्क के पुत्र हुविष्क (सन् 162 से 182 ई० तक) ने अपने पिता के विशाल साम्राज्य को सुरक्षित रखा। इस सम्राट् की मृत्यु के पश्चात् उसका पुत्र वासुदेव राजगद्दी पर बैठा जिसका शासनकाल सन् 182 से 220 ई० तक रहा। इसके समय में कुषाण साम्राज्य छिन्न-भिन्न होने लग गया था। इसके उत्तराधिकारी बड़े दुर्बल थे जो कि इस विशाल साम्राज्य को सम्भालने में असफल रहे तथा इनके हाथ से इनका भारतवर्ष में तथा मध्यएशिया के प्रदेशों में राज्य निकल गये। परन्तु अफगानिस्तान तथा उत्तर-पश्चिमी भारत पर कुषाणों का शासन इस समय भी रहा। इसकी


1. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 133, 134, 136, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-437


पुष्टि में जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 14 पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि “कुषाण जाटों के राज्य से व्यापारी चीनी व शीशे की वस्तुएं लेकर पांचवीं सदी में चीन के सम्राट् ताई-वी (सन् 425-451 ई०) के दरबार में पहुंचे और वहां सूचना दी कि महान् जाटों ने अपने नेता किदार के नेतृत्व में पेशावर व गांधार (अफगानिस्तान) पर अधिकार कर लिया है।” (Paul Peliot op. cit, PP. 42-43)

पांचवीं सदी में कुषाणों के इन प्रदेशों को हूणों ने जीत लिया।

धारण गोत्र के जाट सम्राट् समुद्रगुप्त (335 से 375 ई०) ने अपनी दिग्विजय द्वारा इन कुषाण राजाओं को जीतकर उन पर कर (टैक्स) लगाया। समुद्रगुप्त के उत्तराधिकारियों में चन्द्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य (सन् 380 से 413 ई०) ने गान्धार, कम्बोज (अफगानिस्तान तथा उसके परे का प्रदेश) तथा वाह्लीक (बल्ख) के प्रदेशों को कुषाणों से जीतकर अपने साम्राज्य की सीमा को अमू दरिया तक विस्तृत किया। परन्तु इसके उत्तराधिकारियों से इन प्रदेशों को हूणों ने जीत लिया। इसी समय फारस (ईरान) में सासानीवंश के राजाओं ने अपनी शक्ति बढ़ा ली। (देखो चतुर्थ अध्याय, कुषाणवंशज जाटराज्य प्रकरण)

External links

See also

References

  1. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/The migrations of the Jats to the North-Western countries,p.258
  2. The Jats, Vol. 2: Socio-Political and Military Role of Jats in West Asia as Gleaned from Arabic Sources,pp.11-13
  3. Ibn Manzur, Lisan al- 'Arab, Vol. IIl, p. 308.
  4. Qazi Athar Mubarakpuri, Arab wa Hind 'Ahd-e Risalat Men, Delhi,1964, p. 70; Sahih Bukhar:Kitab Ahadith al-Anbiya.
  5. Lisan al- 'Arab. Op. cit. ,Vol. VII, p. 308; Muhammad Tahir Majma' Bihar al-Anwar, Vol. II, p. 2; Arab wa Hind 'Ahd-e Risalat Men. Op. cit pp. 67-68.
  6. Qazi Athar Mubarakpuri, 'Arab wa Hind 'Ahd-e Risalat Men. Op.cit p. 68
  7. Qazi Athar Mubarakpuri, 'Arab wa Hind 'Ahd-e Risalat Men. Op.cit p. 72
  8. Al-Bukhari, Al-Adab al-Mufrad, Cairo, 1375 AH, p. 51.
  9. Muhammad Bin Jarir al-Tabari, Tarikh al-Tabari, Vol. Ill, Cairo, 1962, p. 304.
  10. 'Arab wa Hind 'Ahd-e Risalat men. Op.cit., p. 70.
  11. Muhammad Bin Jarir al-Tabari, Tarikh al-Tabari, Vol. m, Cairo, 1962, p. 304.
  12. 'Arab wa Hind 'Ahd-e Risalat Men. Op. cif .. p. 70.
  13. P.K. Hitti, History of the Arabs, p. 141.
  14. Al-Baladhuri, Futuh al-Buldan, ed. by Abdullah Anis al-Tabba', Beirut, 1958, p. 520.
  15. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV ,p. 423
  16. Y-STR Haplogroup Diversity in the Jat Population Reveals Several Different Ancient Origins
  17. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.410-438

Back to Jat Regions