Mor

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Ashoka The Great
Chandra Gupta Maurya
India's ironman

Mor (मोर)[1] /Maur (मौर)[2][3] Maurya (मौर्य) Mayur (मयूर) Mayura (मयूर) is gotra of Jats found in Rajasthan, Uttar Pradesh, Haryana, Madhya Pradesh. They are Solar race warriors[4][5] or Suryavanshi Kshatriyas.[6] Mor clan is found in Afghanistan and Indian desert also.[7] Dilip Singh Ahlawat has mentioned it as one of the ruling Jat clans in Central Asia. [8] They were supporters of Chauhan Confederacy. Mor is a Gotra of the Anjana Jats in Gujarat.

Sub-branches of Mor/Maurya are : 1. Khove Maurya, 2. Rai.

Origin

This gotra originated from the country named Moron (मोरों). Also there was a town named Marohi (मरोही) at the sea level, the inhabitants of which were known as Mor. [9] Dilip Singh Ahlawat has mentioned Maur as a ruling clan in Central Asia.[10]

According to H.A. Rose[11] writes that the Bagri Jats have certain sections which might appear totemistic, but very rarely is any reverence paid to the totem. Such are :— Mor is so called because a peacock protected their ancestor from a snake.

In Mahabharata

Adi Parva, Mahabharata/Mahabharata Book I Chapter 67 gives us Genealogy of the Danavas, Asuras, Kauravas, Pandavas, Gandharvas, Apsaras, Rakshasas. It tells us in shloka 33 that -

Mayura became noted on earth as the monarch Vishwa. He who was the younger brother of Mayura and called Suparna became noted on earth as the monarch, Kalakirti.
मयूर इति विख्यातः शरीमान यस तु महासुरः
स विश्व इति विख्यातॊ बभूव पृथिवीपतिः Mahabharata:(I.61.33), (1.67),
सुपर्ण इति विख्याततस्माद अवरजस तु यः
कालकीर्तिर इति खयातः पृथिव्यां सॊ ऽभवन नृपः Mahabharata:(I.61.34), (1.67),

History

It is one of the Jat clans as described by Megasthenes. He has mentioned them as Marohae living below the desert along with other clans like Dara, rara etc:

10. Below the deserts are - The Dari (Dara), the Surae (Soora), the Maltecorae, Singhae (Singhal), Marohae (Maurya), Rarungae (Rara), Moruni (Mor) - These inhabit the hills which in an unbroken chain run parallel to the shores of the ocean. They are free and have no kings, and occupy the mountain heights, whereon they have built many cities

The Mor kings of Chittor in Rajasthan are named Maheshwar, Bhima, Bhoja and Maan Maurya. Maurya (मौर्य) Mori (मोरी) gotra of Jats are originated from Raja Maan Maurya (मान मौर्य). A mountain named Maura near Jhunjhunu town in Rajasthan is in their memory. [12] Mori clan is a branch of Yaudheyas.

Rajatarangini[13] tells us that in the reign of Pravarasena, king of Kashmir, He caused to be built a large bridge of boats on the Vitasta, and from that time the bridge of boats became known to the world. His maternal uncle Jayendra built a large Buddhist vihara named Jayendra-vihara after his name. And his minister Moraka, who ruled Ceylon, built a beautiful house named Morakabhavana. It is to be noted here that Moraka is variant of Mor.

Bhim Singh Dahiya writes that the Mor and Nara (नारा) are mentioned as Mura and Naraka (नरक) – two powerful “ Yavana” Kings, who were ruling over the Mura and Naraka alongwith Varuna in the western countries. [14] Also compare Maru and Nairi of Assyrians inscriptions. The Mor kings of Chittore in Rajasthan are named Maheshwar, Bhima, Bhoja and Maan Mor. In the eighth century A.D. they were ruling at Kota also. A ruler named Dhaval Maur is named in an inscription of 738 A.D.[15] [16]


There are two thoughts about the origin of surname Mor. First from the king Mor Dhwaja and second from Mauryas.

Some historians claims that there was a very generous king named "MOR DHAWAJ", and probably after his name the surname MOR started.

According to Dalip Singh Ahlawat, [17] , Mor surname arises from Mauryan period and those who settled here modified it over the time.

The Jat historian Bhim Singh Dahiya published a paper titled The Mauryas: Their Identity (Vishveshvaranand Indological Journal, Vol. 17 (1979), p.112-133) in 1979 and a book titled Jats the Ancient rulers (Dahinam Publishers, Sonipat, Haryana, by B. S. Dahiya I.R.S.) in 1982, wherein he concludes that the Mauryas were the Muras or rather Mors and were Jats of Scythian or Indo-Scythian origin. It is claimed that the Jatts still have Maur or Maud as one of their clan name.

This view may become creditable only if it is accepted that the Jats evolved from the Madras, Kekayas, Yonas, Kambojas and the Gandharas of the north-west borderlands of ancient Indian sub-continent. This is because king Ashoka's own Inscriptions refer only to the Yonas, Kambojas and the Gandharas as the most important people of his north-west frontiers during third century BCE. They do not make any reference whatsover, to the Sakas, Shakas or the Scythians. See: Rock Edict No 5 [1] and Rock Edict No 13 [2] ( Shahbazgarhi version).

The view of Bhim Singh Dahiya that the Mauryas were Jat is supported from the fact that Khoye Maurya is clan of Jats found in Uttar Pradesh, India. The meaning of 'Khoye Maurya' is the 'lost Maurya' in Hindi language. The Khoye Maurya clan is not found in Rajputs. Moreover Madras, Yona and Gandharas are clans found in Jats.

Mahavamsa describes Chandragupta as coming of Kshatriya clan of Maurya:

"Mauryanam Khattyanam vamsha jata". (Geiger Trans p 27). It means "Mauryas are Kshatriyas of Jat clan".

According to Jat historian Ram Swarup Joon, [18]

" Mauryans being Jats, were denigerated by Brahmans and are termed even Shudras to show their cotempt. Infact Maurya was not a caste but it was a gotra of Jats which is still found in Jats. Gupta was a title of Chandra Gupta and not the caste, as has been proved below in the history of Chandra Gupta. He was a warrior of Jat caste. There are numerous legends about the Maurya dynasty, as Ashoka of this dynasty was an ardent follower of Buddhism, Brahmin writers have, in the Puranas, called it a Shudra dynasty. Mor, Maurya, Maurana are Jat gotras of very old standing. Hence the rule of this dynasty has been given a high place in history of Jats."

After Ashoka Maurya the Rajasthan and western parts of India were ruled by Samprati Maurya (224-215 BCE.), the grandson of Ashoka. Samprati Maurya had constructed many forts in Rajasthan. Famous fort is that of Kumbhalgarh. On ruins of this fort Maharana Kumbha constructed present historical fort. Samprati constructed a fort in Jahajpur also. Many branches of Mauryas ruled in Rajasthan. Mauryas defeated Yaudheyas in Shekhawati region who moved to northern parts of Bikaner such as Sindharani, Maroth etc, where they lived for a long period. The Maurya samantas of Prithviraj were Bhima Maurya, Saran Maurya, Madalrai Maurya and Mukundrai Maurya. [19]

Nadlai Inscription of v.s. 1686 (1629 AD) is an inscription of the period of Maharana Jagatsingh in one ancient Jaina Temple there. This tells us that the temple was originally built by Samprati Maurya, grandson of Ashoka Maurya. Samprati has been mentioned as Jaina Ashoka as per Jaina traditions. [20] Its line-2 is: २. विरुद धारक भट्टारक श्री विजयदेवसूरीश्वरोपदेशकारित प्राक्प्रशस्ति पट्टिका ज्ञातराज श्री सम्प्रति निर्म्मापित श्री जेरपाल पर्वतस्य. It clearly writes Samrati as Gyat Raja i.e. a Jat Raja.


The above evidences prove that Mauryas were a clan of Jats.

Villages founded by Mor clan

  • Mordi (मोरड़ी) - village in Fagi tahsil in Jaipur district in Rajasthan.

Sub divisions of Chauhan

Bhim Singh Dahiya[21] provides us list of Jat clans who were supporters of the Chauhan when they gained political ascendancy. The Mor clan supported the ascendant clan Chauhan and become part of a political confederacy.[22]

मौर्य या मौर गोत्र का इतिहास

दलीप सिंह अहलावत[23] के अनुसार मौर्य या मौर चन्द्रवंशी जाटों का महाभारतकाल में हरयाणा में रोहतक तथा इसके चारों ओर के क्षेत्र पर राज्य था, जिसकी राजधानी रोहतक नगर थी। जब इस वंश का महाभारतकाल में राज्य था तो निःसन्देह इस वंश की उत्पत्ति महाभारतकाल से बहुत पहले की है।

इस मौर्यवंश की उत्पत्ति के विषय में कुछ असत्य विचार हैं -

  • 1. मौर्यवंश के द्वारा बौद्धमत का प्रबल प्रचार होने से नवीन हिन्दूधर्मी ब्राह्मणों ने मौर्य सम्राट् चन्द्रगुप्त को वृषल (शूद्र) तथा मुरा नाईन से उत्पन्न होने से मौर्यवंश प्रचलन का सिद्धान्त घोषित कर दिया। बौद्ध और ब्राह्मण संघर्ष से यह कपोल-कल्पना उत्पन्न हुई जो असत्य व त्याज्य है।
  • 2. बौद्ध महावंश में लिखा है कि “मगध के राजा ने शाक्य लोगों को वहां से निकाल दिया। वे लोग हिमालय पर्वत पर चले गये और जिस स्थान पर बहुत संख्या में मोर पक्षी रहते थे, वहां पर एक नगर बनाया। उस नगर में एक महल बनाया जिसकी बनावट में मोर पक्षी की गर्दन के रंग जैसी ईंटें लगाई गईं थीं। उनका यह महल मोरया नगर कहलाया तथा वे लोग मोरया कहलाये।” इस प्रकार की कल्पनायें केवल असत्य तथा प्रमाणशून्य हैं।

मौर-मौर्यवंश के विषय में सत्य प्रमाण निम्न प्रकार से हैं -

महाभारत सभापर्व अध्याय 32 के अनुसार - “पाण्डवों की दिग्विजय के लिए नकुल एक विशाल सेना के साथ खाण्डवप्रस्थ से निकले और पश्चिम दिशा को प्रस्थान किया। जाते-जाते वे बहुत धन-धान्य से सम्पन्न, गौओं की बहुलता से युक्त तथा स्वामी कार्तिकेय (वैदिककाल) के अत्यन्त प्रिय रोहीतक (रोहतक) एवं उसके समीपवर्ती देश में जा पहुंचे। वहां उनका मयूर नाम (वंश) वाले शूरवीर क्षत्रियों के साथ घोर संग्राम हुआ। उन पर अधिकार करने के बाद


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-309


नकुल आगे को बढ़ा।” मयूर, अपभ्रंश नाम मौर्य* है (जाटों का उत्कर्ष, पृ० 342, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री)। पातञ्जल महाभाष्य में मौर्य जाति लिखी हुई है। “मौर्यैः हिरण्यार्थिभिः अर्चाः प्रकल्पिताः”। धन के इच्छुक ‘मौर्य’ मूर्ति निर्माण में संलग्न रहते थे। कामन्दकीय नीतिकार के मत में भी चन्द्रगुप्त “मौर्यवंश प्रवर्तक (चलानेवाला)” नहीं बल्कि “मौर्यवंश में प्रसूत (उत्पन्न हुआ) था।”

बौद्धग्रंथ महावंश के आधार पर मौर्य एक स्वतन्त्र वंश था। “संस्कृत साहित्य के इतिहास” पृ० 143 पर लेखक मैक्समूलर और “रायल एशियाटिक सोसाईटी जनरल” पृ० 680 पर लेखक मि० कनिंघम लिखते हैं कि “चन्द्रगुप्त मौर्य से भी पहले मौर्यवंश की सत्ता थी।” यूनानियों ने जंगल में रहने वाली मौर्य-जाति का वर्णन किया है। महात्मा बुद्ध के स्वर्गीय (487 ई० पू) होने पर पिप्पली वन1 के मौर्यों ने भी कुशिनारा (जि० गोरखपुर) के मल्लों (जाटवंशी) के पास एक सन्देश भेजा था कि “आप लोग भी क्षत्रिय हैं और हम भी क्षत्रिय हैं इसीलिए हमें भी भगवान् बुद्ध के शरीर का भाग प्राप्त करने का अधिकार है।” और हुआ भी ऐसा ही2। राजपूताना गजेटियर और टॉड राजस्थान के लेखों से भी मौर्य वृषल नहीं, बल्कि क्षत्रिय वंशी सिद्ध होता है।

मौर शब्द से मौर्य - व्याकरण के अनुसार मौर शब्द से मौर्य शब्द बना है। सो मौर पहले का है, फिर इसको मौर्य कहा गया। सम्राट् अशोक ने शिलालेख नं० 1 पर स्वयं मौर शब्द लिखवाया और मौर्य नहीं। जब इस वंश के जाटों का निवास [Central Asia|मध्य एशिया]] में था, तब भी ये मौरवंशी कहलाते थे। जब इस वंश के लोग यूरोप तथा इंग्लैण्ड में गये, वहां पर भी मौर कहलाये। मौर या मौर्य जाटों का राज्य खोतन तथा तुर्किस्तान के अन्य क्षेत्रों पर भी रहा। (जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 142-144, लेखक बी० एस० दहिया)।

जाट इतिहास पृ० 52-53 पर लेफ्टिनेन्ट रामसरूप जून लिखते हैं कि “जब सेल्यूकस भारत से अपने देश यूनान को वापिस गया तो अपने साथ पंजाब के जाटों को सेना में भरती करके ले गया। यूनान में इन जाट सैनिकों ने एक बस्ती बसाई जिसका नाम मौर्या रखा और एक टापू का नाम जटोती रखा।” यही लेखक जाट इतिहास अंग्रेजी अनुवाद पृ० 36 पर लिखते हैं कि “उस समय जटोती (यूनान) पर मौर्य जाटसेना ने शासन किया।”

जाट इतिहास पृ० 190, लेखक ठाकुर देशराज लिखते हैं कि “यूनान में जाटों ने अपने उपनिवेश स्थापित किये। यूनान में मौर्या के निकट ज्यूटी (Zouti) द्वीप के निवासी जाटों के उत्तराधिकारी हैं।”

मौर्य या मौरवंश का भारतवर्ष में शासन (322 ई० पूर्व से 184 ई० पूर्व)

इसका संक्षिप्त वर्णन - मौर्यवंश में सबसे शक्तिशाली सम्राट् चन्द्रगुप्त मौर्य था जिसका शासनकाल 322-298 ई० पू० तक था। इसने तक्षशिला विश्वविद्यालय की दीक्षा प्राप्त करके महापण्डित चाणक्य के नेतृत्व में पहले पंजाब पर अधिकार जमाया, फिर नन्दराज्य को समाप्त कर मगध पर अधिकार कर लिया।


1. पिप्पलीवन में उस समय मौर्य क्षत्रियों का गणतन्त्र शासन था। (जाट इतिहास ‘उत्पत्ति और गौरवखण्ड’ पृ० 112 लेखक ठा० देशराज)
2. देखो, तृतीय अध्याय, मल्ल या मालववंश प्रकरण।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-310


उसने पाटलिपुत्र अपनी राजधानी बनाई। सिकन्दर की मृत्यु के बाद उसका यूनानी सेनापति सैल्यूकस अफगानिस्तान, बाबल, बाख्तरया का शासक बन गया। वह पंजाब पर दुबारा यूनानी अधिकार करने के लिए 305 ई० पू० सिन्धु नदी के किनारे पहुंचा। चन्द्रगुप्त मौर्य ने उसकी सेना को करारी हार दी। अन्त में उसने चन्द्रगुप्त से सन्धि कर ली, जिसके अनुसार उसने उत्तर-पश्चिम में काबुल, हिरात, कन्धार और बिलोचिस्तान चन्द्रगुप्त को दे दिये और अपनी लड़की हैलन का विवाह चन्द्रगुप्त मौर्य से करके मित्रता स्थापित की। यूनानी लेखक प्लूटार्क के कथनानुसार “चन्द्रगुप्त मौर्य ने 6,00,000 सेना के साथ समस्त भारत पर विजय प्राप्त कर अपने अधीन किया।”

उसका साम्राज्य उत्तर में हिमालय से लेकर दक्षिण में मैसूर तक, पूर्व में बंगाल से लेकर उत्तर-पश्चिम में हिन्दूकुश पर्वत तक तथा पश्चिम में अरब सागर तक फैला हुआ था। इसमें काबुल, हिरात, कंधार, बिलोचिस्तान, कश्मीर, सौराष्ट्र, मालवा तथा मैसूर तक के प्रदेश शामिल थे। इस विशाल साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र थी। इस सम्राट् की मृत्यु 298 ई० पू० हो गई।

बिन्दुसार (298 से 273 ई० पू०) - चन्द्रगुप्त मौर्य की मृत्यु के पश्चात् उसका पुत्र बिन्दुसार 298 ई० पू० में राजसिंहासन पर बैठा। यह खास सम्राट् नहीं था। इसकी मृत्यु 273 ई० पू० हो गई।

अशोक महान् (273 से 232 ई० पू०) - अपने पिता बिन्दुसार के मरने पर 273 ई० पू० अशोक राजसिंहासन पर बैठा। अशोक बड़ा शक्तिशाली सम्राट् था। इसने अपने पिता व दादा के विशाल साम्राज्य के अतिरिक्त केवल कलिंग को विजय किया। इस युद्ध में 1,50,000 पुरुषों को देश निकाला दे दिया गया, 1,00,000 पुरुष मारे गये और इससे भी कई गुणा अधिक अन्य कारणों से मर गये।

इस खूनखराबे का अशोक पर गहरा प्रभाव पड़ा जिससे उसने भविष्य में युद्ध न करने की प्रतिज्ञा की और बौद्ध-धर्म का अनुयायी बन गया। इसने बौद्ध-धर्म को भारत तथा लगभग पूरे एशिया में फैलाया। इसने अहिंसा को अपनाया और अहिंसा परमों धर्मः का दृढ़ता से पालन किया। इसी कारण उनको धार्मिक सम्राट् की दृष्टि से संसार में सबसे महान् सम्राट् माना गया है।

सम्राट् अशोक ने धर्म के प्रचार के लिए साम्राज्य के विभिन्न भागों में अनेक शिलालेख तथा स्तम्भ बनवाये जिन पर धर्म की शिक्षायें खुदवाईं। इसमें अशोक का सारनाथ का स्तम्भ विशेष रूप से प्रशंसनीय है। इसमें चार शेरों को उनकी पीठें जोड़कर खड़ा किया गया है। शेरों के नीचे के पत्थर पर पशुओं के छोटे-छोटे चित्र हैं और उनके बीच में एक चौबीस पंखुड़ियों वाला चक्र है। उसके नीचे उल्टी घण्टी सी बनी हुई है। समस्त मस्तक पर काले रंग की पालिस की गई है। डॉ० बी० ए० स्मिथ ने इसकी सराहना करते हुए लिखा है कि “संसार के किसी भी देश में कला की इस सुन्दर कृति से बढ़कर अथवा इसके समान शिल्पकला का उदाहरण पाना कठिन है।”

भारतीय संविधान में इस स्तम्भ के विशेष महत्त्व को ध्यान में रखकर इसमें अंकित अशोक-चक्र को भारतीय राष्ट्रीय तिरंगा ध्वज के मध्य भाग में स्थान दिया गया है तथा शेरों की मूर्ति को राष्ट्रीय चिह्न माना गया है, जिसे भारतीय मुद्राओं पर और राष्ट्रपति, राज्यपालों, उच्चतम


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-311


न्यायालयों आदि के पहचान चिह्न के रूप में प्रयुक्त किया गया है।

भारतीय सेना के पदाधिकारी अफसरों के पदचिह्नों पर भी इन शेरों की मूर्ति को अङ्कित किया गया है। सेना में सराहनीय वीरता दिखाने वाले सैनिकों को जो तमगे प्रदान किये जाते हैं, उनमें से एक अशोक चक्र भी है।

पण्डित हरप्रसाद शास्त्री के मतानुसार “ब्राह्मणों का विरोध भी मौर्य साम्राज्य के पतन का एक प्रसिद्ध कारण था। अशोक द्वारा जाति का भेदभाव अस्वीकार किये जाने तथा यज्ञों में पशुबलि का निषेध किये जाने से ब्राह्मण लोग उसके विरोधी बन गये। वे अशोक के धर्म से भी घृणा करते थे और वे इस बात को भी सहन नहीं कर सकते थे कि उनके स्थान पर धर्ममहामात्रों को महत्त्व दिया जाये। इसलिए वे साम्राज्य के विरुद्ध भड़क उठे और उन्होंने अशोक की मृत्यु (सन् 232 ई० पू०) होने के पश्चात् इसके पतन में महत्त्वपूर्ण भाग लिया।”

अशोक के उत्तराधिकारी दुर्बल थे जो इतने बड़े साम्राज्य को संभालने में अयोग्य थे। विष्णु पुराण, चतुर्थ अंश, अध्याय 24 के अनुसार अशोक के उत्तराधिकारी क्रमशः ये थे - “सुयशा, दशरथ, संयुक्त, शलिशुक, सोमशर्मा, शतधन्वा और वृहद्रथ। पुष्यमित्र सेनापति ने अपने स्वामी वृहद्रथ की हत्या करके शुङ्गवंशीय राज्य की स्थापना की।”

भारत का इतिहास (प्री-यूनिवर्सिटी कक्षा के लिए) लेखक अविनाशचन्द्र अरोड़ा ने पृ० 104 पर लिखा है कि “शुंग जाति के एक ब्राह्मण नवयुवक पुष्यमित्र ने 184 ई० पू० में मौर्यों के अन्तिम सम्राट् वृहद्रथ का वध करके साम्राज्य के केन्द्रीय प्रदेशों पर अपना अधिकार कर लिया। इस प्रकार भारत के प्रथम प्रसिद्ध साम्राज्य का अन्त हुआ।” इसकी पुष्टि, ‘हिन्दुस्तान तारीख उर्दू’ पृ० 232 पर की है - “ब्राह्मण लोग अशोक के सिद्धान्तों के विरुद्ध थे। इसलिए वह मौर्य साम्राज्य के पतन में लगे हुये थे। इस वंश के अन्तिम सम्राट् वृहद्रथ को उसके सेनापति ब्राह्मण पुष्यमित्र ने मारकर स्वयं राज्य ले लिया।”

इस तरह से मौर्य-मौरवंशी जाटों का पाटलिपुत्र राजधानी पर 138 वर्ष शासन रहकर समाप्त हो गया। इन लोगों का राजस्थान में राज्य अवश्य रह गया, जो कि आज के चित्तौड़ पर था। यह नगर चित्रकूट के नाम पर मौर्य राजा चित्रांगद ने बनवाया था। उसी राजा ने चित्रंग तालाब का भी निर्माण कराया। ऐसा वर्णन “कुमारपाल प्रबन्ध” पत्र 30-2 में आता है। इसी के वंशज राजा मान मौर्यवंशी ने चित्तौड़ के पास मानसरोवर बनवाया1। इसमें से 713 ई० में खुदवाया हुआ एक शिलालेख प्राप्त हुआ जिसमें माहेश्वर भीम, भोज और मान का चित्तौड़ पर राज्य करना प्रमाणित होता है2

इसी राजा मान मौर्य के धेवते वाप्पा रावल ने भीलों के बल पर अपने नाना को मारकर चित्तौड़ का राज्य छीन लिया। जैसा कि राजप्रशस्ति महाकाव्य सर्ग 3 में लिखा है -

ततः स निर्जित्य नृपं तु मौरी जातीयभूपं मनुराजसंज्ञम्।
गृहीतवांश्चित्रितचित्रकूटं चक्रेऽत्र राज्यं नृपचक्रवर्ती॥

1, 2. जाटों का उत्कर्ष, पृ० 343-44 लेखक कविराज योगेन्द्रपाल शास्त्री।
2.(जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 287, लेखक बी० एस० दहिया); राजपूताने का इतिहास पृ० 95, लेखक गौरीशंकर हीराचन्द ओझा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-312


मुहणोंत नैणसी ने भी अपनी ख्यात में “मौरी दल मारेव राज रायांकुर लीधौ,” लिखकर इसी सत्यता को पुष्ट किया है1राजा मान मौर सन् 713 ई० में राज्य करता था। इसका धेवता वाप्पा रावल जो कि बल वंश का था, ने भीलों की मदद से धोखा देकर इसको मार दिया और चित्तौड़ राज्य का शासक बन गया। इसने यहां पर गोहिलवंश के नाम पर राज्य स्थापित किया2

नोट - 1. बलवंश जाटों का वैदिककालीन वंश है। इसके शाखा गोत्र गोहिलसिसौदिया हैं (देखो तृतीय अध्याय, बलवंश प्रकरण)। 2. टॉड राजस्थान ने राणा उदयपुर मेवाड़ के गोह (गोहिल) वाप्पा रावल को बलवंशी माना है।

आठवीं सदी में मौर राजाओं का राज्य कोटा की प्राचीन भूमि पर था।

इण्डियन ऐण्टीक्वेरा जिल्द 19, पृ० 55-57 पर एक मौर्य राजा धवल के द्वारा कोटा की प्राचीन भूमि पर शासन करना प्रमाणित होता है। इस धवल राजा का नाम 738 ईस्वी के एक शिलालेख पर है। यह शिलालेख कोटा के कण्वाश्रय (कणसवा) के शिवालय में प्राप्त हुआ है3

वृहत्तर बम्बई के अन्तर्गत खान देश के बाघली गांव से प्राप्त शिलालेख द्वारा 1069 ईस्वी तक इधर 20 मौर्य राजाओं के राज्य का ज्ञान होता है4

तमिल भाषा के विशेष लेखों के हवाले से नीलकान्त शास्त्री तथा अन्य इतिहासकार लिखते हैं कि मौर्यों के रथों ने, पहाड़ों को काटकर बनाई गई सड़क पर से चलकर दक्षिण भारत पर आक्रमण किया था। (दि एज ऑफ नन्द्ज एण्ड मौर्यज पृ० 252, जनरल ऑफ इण्डियन हिस्ट्री 1975, पृ० 243)5। फॉदर मेट्ज (Metz) के अनुसार नीलगिरि पहाड़ियों पर मिली मूर्तियों से पता लगता है कि वहां पर मौर्यों का राजकीय निवास था। (इण्डियन हिस्टोरिकल क्वाटरली, 12, पृ० 340)6। मौर जाटों के नाम से झुंझनूं (राजस्थान) में एक पहाड़ का नाम मौड़ा (मौरा) है।

इस मौर्यवंश की एक शाखा ‘राय’ नाम से सिन्ध प्रान्त पर शासन करती थी, जिनकी राजधानी अलौर थी*। राय देवायज, राय महरसन, राय साहसी, राय साहसी द्वितीय बड़े प्रभावशाली मौर्य शासक हुए। माथेला, माहू (मऊ) सेविस्तान, अलौर नामक इनके सुप्रसिद्ध किले थे। किन्तु राय साहसी द्वितीय की रानी सुहानन्दी से ड्यौडीवान चच्च ब्राह्मण ने अनुचित सम्बन्ध स्थापित करके अपने स्वामी राय साहसी द्वितीय का वध करा दिया। राजा के मरने पर चच्च ने रानी सुहानन्दी से विवाह कर लिया तथा इस मौर्य राज्य का शासक बन बैठा। इस तरह से सिन्ध प्रान्त पर मौर्य जाटों का राज्य सन् 185 ईस्वी पूर्व से सन् 645 ई० तक लगभग


1. जाटों का उत्कर्ष, पृ० 343-44, लेखक कविराज योगेन्द्रपाल शास्त्री।
2. भारत में जाट राज्य उर्दू पृ० 293, लेखक कविराज योगेन्द्रपाल शास्त्री।

3,4. जाटों का उत्कर्ष, पृ० 344, लेखक कविराज योगेन्द्रपाल शास्त्री।

5. (जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, पृ० 144-45, लेखक बी० एस० दहिया)।
  • जाटों का उत्कर्ष, पृ० 89, लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-313


830 वर्ष रहकर समाप्त हो गया। चच्च के पोते दाहिर को सन् 712 ई० में मुहम्मद बिन कासिम ने हरा दिया और सिन्ध प्रान्त का शासक बन गया। उसने सिन्ध की हिन्दू प्रजा को इस्लामधर्मी बना दिया।

मौर्य या मौर गोत्र का विस्तार -

मौर-मौर्यवंश की सर्वाधिक संख्या जाटों में है।

मेवाड़ में मान मौर्य के वंशधर जाट वहां बसे हुए हैं।

इस मौर जाटवंश के सुप्रसिद्ध गांव हिसार में बास,

पटियाला में मोखला,

करनाल में माठी, कुचलाना, राम्भका,

सोनीपत में बरौदा में 2/3, मौर जाट तथा 1/3 में खासा जाट हैं।

जीन्द में लुढ़ाना,

आगरा में कचौरा, उन्देरा,

बिजनौर में शादीपुर आदि हैं।[24]

मौर्य-मौर जाटों के शाखा गोत्र - 1. खोबे मौर्य 2. राय मौर्य हैं।

खोबे मौर्य

खोबे मौर्य - मेवाड़ के खोबे राव मौर्य नामक व्यक्ति से एक पृथक् खोबे-मौर्य नाम पर शाखा प्रचलित हुई। चित्तौड़ राज्य का अन्त होने पर मौर्यों का एक दल खोबे राव मौर्य के नेतृत्व में वहां से चलकर हस्तिनापुर पहुंचा। वहां से गंगा नदी पार करके भारशिव (जाटवंश) शासक से विजयनगर गढ़ पर युद्ध किया। चार दिन के घोर युद्ध के बाद वहां के भारशिवों को जीत लिया। खोबे मौर्यों में से वैन को विजयनगर का राजा बनाया गया। परन्तु बुखारे गांव के कलालों द्वारा राजा वैन तथा उसके परिवार को विषैली शराब पिलाकर धोखे से मार डाला। इस परिवार की केवल एक गर्भवती स्त्री बची जो कि अपने पिता के घर गई हुई थी। वहां पर ही उसने एक लड़के को जन्मा। इस खोबे वंश का पुरोहित पं० रामदेव भट्ट इस लड़के को लेकर अकबर के पास पहुंचा। स्वयं मुसलमान बनकर अकबर से अपने यजमान राजा वैन के एकमात्र वंशधर एकोराव राणा को विजयनगर दिलाने की अपील की। इस लड़के के जवान होने पर पं० रामदेव भट्ट और एकोराव राणा ने मुगल सेना सहित मुखारा के कलाल और विजयनगर के भरों को विदुरकुटी के समीप परास्त कर दिया। इस युद्ध में रांघड़, पठान, और एकोराव राणा के बीकानेरवासी वंशज भी साथ थे। इन सब ने इस विध्वस्त विजयनगर से पृथक् नगर विजयनगर बसाया जो कि आज बिजनौर नाम से प्रसिद्ध है। इसे ब्रिटिश सरकार ने बाद में जिला बना दिया। विजयनगर में एकोराव राणा, राजा मान के नाम से प्रसिद्ध हुये। राजा मान के कई पुत्र हुए। इस वंश में नैनसिंह राजा सुप्रसिद्ध पुरुष हुए। इस वंश के लोग, बिजनौर नगर के मध्य भाग में, पूरनपुर, तिमरपुर, आदमपुर बांकपुर, पमड़ावली, गन्दासपुर, कबाड़ीवाला आदि गांव अच्छी सम्पन्न स्थिति में हैं। यह यहां चौधरी के नाम पर प्रसिद्धि प्राप्त है। इनका मोहल्ला भी चौधरियान ही है।

इस मौर्य वंश की सत्ता केवल नागपुर प्रदेश के मराठों में ही है। राजपूतों में इस वंश की विद्यमानता नहीं है। गूजरों में इनकी थोड़ी सत्ता है।

नोट - इस मौर्य-मौर जाटवंश के मगध तथा सिन्ध राज्य को क्रमशः पुष्यमित्र एवं चच्च नामक दो ब्राह्मणों ने अपने स्वामी राजाओं को विश्वासघात करके मार दिया और उनके राज्यों पर अधिकार कर लिया। परन्तु इसके विपरीत पण्डित रामदेव भट्ट ने अपने स्वामी मौर्य जाट राजा के राज्य को वापिस दिलाकर स्वामीभक्ति का एक आदर्श उदाहरण भी प्रस्तुत किया। इतिहास के ऐसे उदाहरण कदाचित् (बिरले) ही हैं।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-314

Gangdhar Stone Inscription of Vishvavarman (423-424 CE)

We know from the history of Malwa that Jats were rulers there before Huna attack in India. Vishvavarman was one of such Jat rulers of Mandsaur. The Gangdhar Stone Inscription of Vishvavarman (423-424 CE) mentions a very powerful minister of the King Vishvavarman named Mayuraksha. Mayuraksha mentioned here is a person of Mor Jat clan which has been sanskritized to मयूराक्ष.

Distribution in Punjab

Villages in Patiala district

Maur population is 3,300 in Patiala district.[25]

Mor clan found in Mokhla village. [26]

Villages in Faridkot district

Villages in Gurdaspur district

Villages in Moga district

Villages in Muktsar district

Villages in Patiala district

Villages in Rupnagar district

Villages in Sangrur district

Villages in Bhatinda district

Maur and Maur Charat Singh named villages are in Talwandi Sabo tahsil in Bhatinda district in Punjab.

Distribution in Rajasthan

Villages in Hanumangarh district

Sangaria,

Villages in Chittorgarh district

Mor gotra Jats live in Chhoti Sadri tahsil in Chittorgarh district in Rajasthan. The villages with no. of families are: Deokheda (1), Jamlawda (45), Subi (3),

Villages in Tonk district

Bagadi (1),

Villages in Jaipur district

Maur (मौर) Jats live in villages: Dhamana (20)


Distribution in Haryana

Villages in Hisar district

Baas,

Villages in Sonipat district

Baroda Mor (Gohana), Ladsoli (Sonipat),

Villages in Jind district

Jajwan, Narwana, Chhattar, Ludana, Ramkali, Ismailpur, Shimla, Kuchrana, Pindara, Jheel,

Villages in Yamunanagar district

Panjupur,

Villages in Karnal district

Mor clan found in Mathi, Kuchlana, Rambhka villages. [27]

Distribution in Uttar Pradesh

Villages in Bijnor district

Shadipur Kalan[28],

Villages in Agra district

Kachaura, Undera,

Distribution in Madhya Pradesh

Villages in Nimach district

Nimach (1), Bagpipalya (4), Dhokalkheda (1), Harnawda (2), Harwar (5), Khor Vikram (1), Kundala (6), Nanpuriya (3),

Distribution in Pakistan

James Tod[29] writes that Mor clan is found in Sindh.

Notable Persons

  • Sindhusena -
  • Ramphal Singh Mor---Baroda mor
  • Rajender Singh Mor, IPS (Retd) - Former Commonwealth Wrestling Champion, Village Baroda Mor, DIG (Retd.) from Haryana police.
  • Sh. Balraj Singh Mor - HCS Haryana. 1011 Govt Service ADC, Revenue Haryana Govt. ADC Residence, H.No. 7, Officers Colony Gurgaon Haryana, Ph: 0124-2320715, 9818038308
  • Sh. Shamsher Singh Mor - IPS/DIG retd (Haryana) of vill. Baroda(Gohana) now settled at Faridabad. Village Baroda Mor.
  • Dr Dhurav Chaudhary (Mor) - an eminent doctor at PGI/Hospital Rohtak.village Baroda Mor.
  • Sh. Balbir Singh Mor - A renowned advocate of Supreme Court of India has been appointed as Additional Advocate General by the Haryana Government. He has experience of 35 years in this field. He passed LLB from Delhi University Campus Law Centre in 1972.[30]
  • .Sh.Raj Singh Mor - S.P.in Haryana police. His wife Smt.Saroj Mor INLD President of women's wing and now one only Women MLA of INLD from Narnaund, Hisar. 1109, Sec-17, Faridabad Haryana, Ph:0129-2242806, 0129-2286476 (PP-976)
  • 'Late Shri Gobind Ram Mor', BA, LL.B., F.C.A first Jat Chartered Accountant from village Bass, Hisar, Haryana, also had the distinction of clearing the CA exam conducted by the Institute of Chartered Accountants of India when the result was 0.5% and he was the only candidate declared successful from the examination center.
  • Sh. Narender Singh Mor, Appointed as Deputy Chef De Mission Hrayana for the 35th National Games Kerala, http://cityairnews.com/content/35th-national-games-be-held-kerala-jan-31-feb-14, Working with Indian Olympic Association http://timesofindia.indiatimes.com/city/patna/Govt-to-repeal-sports-Act-IOA-to-lift-ban-on-Bihar/articleshow/45767448.cms, Secretary General, All India Karate Do Federation, www.aikf.inSecretary General, Haryana State Karate Association, www.haryanakarate.org Presently Working as Director (Training and Administration), Indian Boxing Federation and Joint Secretary, Haryana Olympic Association www.haryanaolympics.com and Director, Haryana State Athletics Association www.haryanaathletics.com.from Village Baroda Mor
  • Sh. Naveen Mor, Bharat Kersari, Wrestler from Village Larsauli.
  • Sh. Mahender Singh Mor, Former Secretary, Haryana State Education Board from Village Baroda Mor.
  • Dr. Rajender Singh Mor ,(Retired)Deputy Director, Haryana Veterinary Services from Village Bass.
  • Smt. Saroj Mor, MLA from Narnaud of Village Bass.
  • Sh. Parveen Mor, International Boxer from Village Larsauli.
  • Sh. Ved Pal Mor, Former Wrestler from village Bass.
  • Sh.Raj Singh Mor, Secretary Red Cross Society Kaithal From village Bass.
  • Sh. Rajender Singh Mor - Former Commonwealth Wrestling Champion, Village Baroda Mor, Retd. DIG from Haryana police.Baroda Mor.
  • Er. Tejbir Singh Mor, Singer (Haryanvi Pop), Vill: Chhattar.
  • Dr. Kulwant Mor, Youth Congress president Hisar, village Bass.
  • Jatt Jyona (जट्ट ज्योना ) - Mor Gotra, An intelligent saint follower of Buddhism, Brahmans maligned him by calling Jyani Chor.
  • Prof Ajmer Singh, Mor/Mayur, from village Panjupur in Yamunanagaar District of Haryana.
  • Dr.Ram Pal Mor from Village Baroda Mor in Sonipat District( Haryana)^ "Agricultural Scientist Soil Science CCS HAU Hisar.
  • Sarita Mor: Silver Medal, Asian Wrestling Championship 2017

See also

References

  1. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.56,s.n. 2091
  2. B S Dahiya:Jats the Ancient Rulers (A clan study), p.241, s.n.149
  3. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. म-44
  4. Bhim Singh Dahiya: "The Mauryas: Their Identity", Vishveshvaranand Indological Journal, Vol. 17 (1979), p.112-133.
  5. Iran Chamber Society: History of Iran: Dehiya on the Jat Iranic Identity of the Mauryas | By: Dr. Samar Abbas, Aligarh, India
  6. K.Devi Singh Mandawa:Samrat Prithviraj Chauhan,2007, pp.137
  7. An Inquiry Into the Ethnography of Afghanistan, H. W. Bellew, p.133
  8. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.341
  9. Mahendra Singh Arya et al: Adhunik Jat Itihas, p. 274
  10. Captain Dilip Singh Ahlawat, Jat Viron ka Itihas
  11. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/J,p.376
  12. Mahendra Singh Arya et al: Adhunik Jat Itihas, p.274
  13. Rajatarangini of Kalhana:Kings of Kashmira/Book III,p. 53
  14. Mahabharata, Sabha Parva, 13 / 13
  15. IA, vol. XIX, pp. 55-57.
  16. Bhim Singh Dahiya, Jats the Ancient Rulers ( A clan study), p. 287
  17. Dalip Singh Ahlawat: Jat viron ka itihas
  18. Ram Swarup Joon ,History of the Jats, Rohtak, India (1938, 1967)
  19. K.Devi Singh Mandawa:Samrat Prithviraj Chauhan,2007, pp.137
  20. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.491
  21. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Appendices/Appendix I,p.316-17
  22. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/J,p.375-76
  23. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.309-314
  24. जाटों का उत्कर्ष, पृ० 343-44, लेखक कविराज योगेन्द्रपाल शास्त्री।
  25. History and study of the Jats, B.S Dhillon, p.126
  26. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p.314
  27. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p.314
  28. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p.314
  29. James Todd Annals/Sketch of the Indian Desert, Vol. III,p. 1293
  30. Jat Jyoti, January 2008, p. 39

Further Readings

External links


Back to Jat Gotras