Germany

From Jatland Wiki
(Redirected from German people)
Jump to navigation Jump to search
The Roman republic and its neighbours in 58 BC

Germany (जर्मनी) is a federal parliamentary republic in Europe. The country consists of 16 states while the capital and largest city is Berlin. Germany covers an area of 357,021 km2 and has a largely temperate seasonal climate With 81.8 million inhabitants.

Origin of Germany

Hukum Singh Panwar (Pauria)[1] explains about Origin of Germany: To crown all, the very name Germany appears to be of Indian origin. Recently (1982) Mr. M.S. Jindal[2], a jurist of Meerut, traced the origin of the Jats from Jutland and that of Germany from a Sanskrit word gramani. He[3] contends that gramani in course of time was transformed into Garmani or Germani and finally into Germany. The first contention of the jurist, which carries coal to New Castle, stands disproved by our erstwhile inquiry whereas the second seems to contain some grains of truth. Gramani is a designation, used in India probably till the time of Harshavardhana.It signified[4] "a nominated or elected headman of a 'grama' (village)" or "a 'Vira' i.e. a brave leader, who commanded a portion of the host in war" and "played an important role as one of the eight Rajakrtas[5] in the entourage of the king during the Vedic and Post-Vedic age'. There is no gain-saying the fact that the Saka Getae, the progenitors of the Nordics, identified by ethnologists with the Goths of Germany and the Jats of Asia, migrated to Europe. Initially they concentrated in the Baltic and Scandanavian lands, and finally, in addition to these countries settled permanently in villages (gramas) in Gotland, Jutland, Germany & England. The hordes of these people must have been led by the brave leaders, known as gramani.

The process of "gramani" altering into Germany seems to have started with their movements towards the west. That Germany was written as Germani (very much akin to 'gramani' in Latin which is considered to be a daughter of Sanskrit, does lend credence to the assumption of the jurist. An ounce of genuine and germane evidence is in fact, more weighty than tons of empty speculations. There should be no valid objection to the derivation of Germany from Gramani in view of similar derivations that are widely accepted, for example, Bhrgus as Phrygians and Burgandians plus the areas of their settlements as Phrygia and Burgundy, the Halas of the rugged and barren mountains of Afghanistan as Helas or Helenese and their new home in Greece as Hella; the Gandharas of Gandhara (Kandhar) as Centaurs and their abode as Centauria; the Magadhanas as Macedonians and their new


The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations:End of page 268


settlement as Macedonia, the Sakas (Sacae) as Saxons and their later British home as Saxony; the Baltis from Baltisthan as Balties and 'Skandanabhi or Skandanavi (or Skandia) as Scandanavia.[6]

Germania region

A region named Germania, inhabited by several Germanic peoples, was documented before AD 100. During the Migration Period, the Germanic tribes expanded southward, and established successor kingdoms throughout much of Europe. Beginning in the 10th century, German territories formed a central part of the Holy Roman Empire.

Germanic peoples

The Germanic peoples are also called Teutonic or Gothic in older literature. They are an Indo-European ethno-linguistic group of Northern European origin, identified by their use of the Germanic languages which diversified out of Proto-Germanic during the Pre-Roman Iron Age.[7]

Originating about 1800 BCE from the Corded Ware Culture on the North German plain, the Germanic peoples expanded into southern Scandinavia and towards the Vistula river during the Nordic Bronze Age, reaching the lower Danube by 200 BCE.[8] In the 2nd century BCE, the Teutons and the Cimbri clashed with Rome. By the time of Julius Caesar, a group of Germans led by the Suebian chieftain Ariovistus were expanding into Gaul, until stopped by Caesar at the battle of Vosges. Subsequent attempts by Emperor Augustus to annex territories east of the Rhine were abandoned, after Arminius annihilated three Roman legions at the Battle of the Teutoburg forest in 9 CE. At the time, German soldiers were massively recruited into the Roman Army, notably forming the personal bodyguard of the Roman Emperor.

In the east, East Germanic tribes that had migrated from Scandinavia to the lower Vistula pushed southwards, pressing the Marcomanni to invade Italy in 166 CE. Meanwhile, the Germans had through influence from Italic scripts devised their own Runic alphabet.

By the 3rd century, the Goths ruled a vast area north of the Black Sea from where they either through crossing the lower Danube or traveling by sea, raided the Balkan Peninsula and Anatolia as far as Cyprus. Meanwhile, the growing confederations of Franks and Alemanni broke through the frontier fortifications and settled along the Rhine frontier, invading Gaul, Hispania and Italy as far as North Africa, while Saxon pirates ravaged the Western European coasts. After the Huns in the 4th century invaded the territories of the Gothic King Ermanaric, which at its peak stretched between the Danube and the Volga river, and from the Black to the Baltic Sea, thousands of Goths fled into the Balkans, defeating the Romans at the Battle of Adrianople and sacking Rome in 410, while thousands of Germans were crossing the Rhine. Meanwhile, several Germanic tribes were converted to Arian Christianity by the missionary Wulfila, who devised an alphabet to translate the Bible into the Gothic language.

Having defeated the Huns at Chalons and Nedao, migrating Germanic tribes invaded the Western Roman Empire and transformed it into Medieval Europe. Nevertheless, it was only with Germanic help that the empire was able to survive as long as it did, as the Roman Army was nearly entirely composed of Germanic soldiers by the 4th century.[9]

By the year 500, the Anglo-Saxons were in Britain, and the Burgundians were in the Rhône valley. Ruled by Theodoric, the Ostrogoths were established in Italy, while the Vandal leader Gaiseric had sacked Rome and founded a kingdom in Africa.

In 507, the Visigoths were expelled by the Franks from most of their Gallic possessions, and thereafter ruled a state in Hispania.

In 568, the Lombard leader Alboin invaded Italy, and founded an independent kingdom which in 774 was overthrown by Charlemagne, who was crowned Emperor of the Romans in 800 CE.

In the 8th century, North Germanic seamen launched a massive expansion, founding important states in Eastern Europe and northern France, while colonizing the Atlantic as far as North America. Subsequently, Germanic languages became dominant among many European countries but in Southern and Eastern Europe the Germanic elite eventually adopted the native Slavic or Latin dialects. All Germanic peoples were eventually converted from Paganism to Christianity.

Modern Germanic peoples

Modern Germanic peoples are the Scandinavians (Norwegians, Swedish, Danish, Icelanders and Faroese), Germans, Austrians, Alemannic Swiss, Liechtensteiners, Luxembourgers, Dutch, Flemings, Afrikaner, Frisians, English and others who still speak languages derived from the ancestral Germanic dialects.

Migration of Jats from Sapta Sindhu

Hukum Singh Panwar (Pauria)[10] writes... Just see the remarkable parallels between the functioning of the Germans and the Indian Jat tribal "Khaap" and "Sarvakhaap" panchayats. This further reminds us of the Vedic republican communities (the Panchajatah or Panchajna), who are, as we shall have occasion to show in the next chapter, considered by us as the common ancestors of the Indian Jats and the German Goths or Gots.

Before concluding, we may go into the question of identity of the Teutons and the Swedes. The Teutons were Aryans including High and low Germans and Scandanavians, and to be more specific Goths (Gots, Getae, Jats, Juts), Lombards (Lampaka or Lamba), Normans, Franks (Vrkas, Saxons (Sacae Getae) and Angles[11] The Suevis (Sivis) including the Vilka (Virkas), the Manns (Mans) the Schillers (Chhilller) (Within brackets I gave the Indian names of the tribes.) etc. who, as we shall note (infra), migrated from the Sapta Sindhu to the Scandanavian countries in ancient times, were known as


The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations: End of p.159


Svi Thjoth or Sui or (Suiones) Joth[12], (Sivi or Sibi Jat), in archaic Norse, and ultimately as the Swedes. Mr. B.S.Dahiya[13] has assiduously pin-pointed nearly 250 European communities whose names are identified by him with the surnames (gotras) of the Indian Jats. The Sivis were probably earliest migrants as leaders of these tribes. It is these tribes whose anthropological details are given above. In the light of the aforesaid evidence we can reasonably assert that the physical characteristics of the Sivisa (Suevis) and their descendents (the victims of Dasarajna wars, who managed, by hook or by crook, to remain in the Harappan region, cannot be different from those of ones who perforce left the country for good or were deported to their new home in the Scandanavian countries[14].

प्राचीनकाल में यूरोप देश

दलीप सिंह अहलावत[15] लिखते हैं: यूरोप देश - इस देश को प्राचीनकाल में कारुपथ तथा अङ्गदियापुरी कहते थे, जिसको श्रीमान् महाराज रामचन्द्र जी के आज्ञानुसार लक्ष्मण जी ने एक वर्ष यूरोप में रहकर अपने ज्येष्ठ पुत्र अंगद के लिए आबाद किया था जो कि द्वापर में हरिवर्ष तथा अंगदेश और अब हंगरी आदि नामों से प्रसिद्ध है। अंगदियापुरी के दक्षिणी भाग में रूम सागर और अटलांटिक सागर के किनारे-किनारे अफ्रीका निवासी हब्शी आदि राक्षस जातियों के आक्रमण रोकने के लिए लक्ष्मण जी ने वीर सैनिकों की छावनियां आवर्त्त कीं। जिसको अब ऑस्ट्रिया कहते हैं। उत्तरी भाग में ब्रह्मपुरी बसाई जिसको अब जर्मनी कहते हैं। दोनों भागों के मध्य लक्ष्मण जी ने अपना हैडक्वार्टर बनाया जिसको अब लक्षमबर्ग कहते हैं। उसी के पास श्री रामचन्द्र जी के खानदानी नाम नारायण से नारायण मंडी आबाद हुई जिसको अब नॉरमण्डी कहते हैं। नॉरमण्डी के निकट एक दूसरे से मिले हुए द्वीप अंगलेशी नाम से आवर्त्त हुए जिसको पहले ऐंग्लेसी कहते थे और अब इंग्लैण्ड कहते हैं।

द्वापर के अन्त में अंगदियापुरी देश, अंगदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ, जिसका राज्य सम्राट् दुर्योधन ने अपने मित्र राजा कर्ण को दे दिया था। करीब-करीब यूरोप के समस्त देशों का राज्य शासन आज तक महात्मा अंगद के उत्तराधिकारी अंगवंशीय तथा अंगलेशों के हाथ में है, जो कि ऐंग्लो, एंग्लोसेक्शन, ऐंग्लेसी, इंगलिश, इंगेरियन्स आदि नामों से प्रसिद्ध है और जर्मनी में आज तक संस्कृत भाषा का आदर तथा वेदों के स्वाध्याय का प्रचार है। (पृ० 1-3)।

यूरोप अपभ्रंश है युवरोप का। युव-युवराज, रोप-आरोप किया हुआ। तात्पर्य है उस देश से, जो लक्ष्मण जी के ज्येष्ठपुत्र अङ्गद के लिए आवर्त्त किया गया था। यूरोप के निवासी यूरोपियन्स कहलाते हैं। यूरोपियन्स बहुवचन है यूरोपियन का। यूरोपियन विशेषण है यूरोपी का। यूरोपी अपभ्रंश है युवरोपी का। तात्पर्य है उन लोगों से जो यूरोप देश में युवराज अङ्गद के साथ भेजे और बसाए गये थे। (पृ० 4)

कारुपथ यौगिक शब्द है कारु + पथ का। कारु = कारो, पथ = रास्ता। तात्पर्य है उस देश से जो भूमध्य रेखा से बहुत दूर कार्पेथियन पर्वत (Carpathian Mts.) के चारों ओर ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, इंग्लैण्ड, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी आदि नामों से फैला हुआ है। जैसे एशिया में हिमालय पर्वतमाला है, इसी तरह यूरोप में कार्पेथियन पर्वतमाला है।

इससे सिद्ध हुआ कि श्री रामचन्द्र जी के समय तक वीरान यूरोप देश कारुपथ देश कहलाता था। उसके आबाद करने पर युवरोप, अङ्गदियापुरी तथा अङ्गदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ और ग्रेट ब्रिटेन, आयरलैण्ड, ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी, फ्रांस, बेल्जियम, हालैण्ड, डेनमार्क, स्विट्जरलैंड, इटली, पोलैंड आदि अङ्गदियापुरी के प्रान्तमात्र महात्मा अङ्गद के क्षेत्र शासन के आधारी किये गये थे। (पृ० 4-5)

नोट - महाभारतकाल में यूरोप को ‘हरिवर्ष’ कहते हैं। हरि कहते हैं बन्दर को। उस देश में अब भी रक्तमुख अर्थात् वानर के समान भूरे नेत्र वाले होते हैं। ‘यूरोप’ को संस्कृत में ‘हरिवर्ष’ कहते थे। [16]

जर्मनी में जाट

ठाकुर देशराज[17] के अनुसार जर्मनी में जो जाट पहुंचे उनका रास्ता या तो कास्पियन के दक्षिणी तटों से हो सकता है अथवा यूराल पहाड़ को पार करके हो सकता है। यह तो निश्चय है कि जर्मनी में जाटों का वह समूह गया जो पर्शिया के उत्तर में आबाद था अथवा जो जेहून नदी के किनारे बसता था। और यह दल उस समय से कुछ पहले ही जर्मनी पहुंच गया होगा जबकि स्कंधनाभ में पहुंचा था। श्री मैक्समूलर भी जर्मनी में आर्य रक्त स्वीकार करते हैं। कर्नल टाड कहते हैं -

‘‘घोड़े की पूजा जर्मनी में सू, कट्टी, सुजोम्बी और जेटी (जाट) नाम की जातियों ने फैलाई है, जिस भांति कि स्कंधनाभ में असि जाटों ने फैलाई।’’

टसीटस ने लिखा है कि - जर्मन लोग घोड़े की आकृति बनी हुई देखकर ही सिक्के का व्यवहार करते थे अन्यथा नहीं। यूरोप के असी जेटी लोग और भारत के अट्टी तक्षक जटी बुध को अपना पूर्वज मानकर पूजते थे। कर्नल टाड ने भारत के जाट और राजपूत तथा जर्मन लोगों की समानता के लिए निम्न दलीलें पेश की हैं -

चढ़ाई करने वालों और इन सब हिन्दू-सैनिक लोगों का धर्म बौद्ध-धर्म था। इसी से स्केण्डनेविया और जर्मन जातियों और राजपूतों की आचार, विचार, और देवता सम्बन्धी कथाओं की सदृश्यता और उनके वीररसात्मक काव्यों का मिलान करने से यह बात अधिक प्रमाणित हो जाती है।

जातीय स्वभाव और पहनावा टसीटस के लेखानुसार प्रत्येक जर्मन का बिस्तरे पर से उठकर स्नान करने का स्वभाव जर्मनी के शीतप्रधान देश का नहीं हो सकता, किन्तु यह पूर्वी देश का है और दूसरी रीति-नीति जातीय स्वभाव सीथियन, सुर्पवी, जरकटी, किम्प्री जाति के मिथ्या विश्वासों का हुआ होगा जो उसी नाम की जेटी जातियों के सदृश ही है जिनका वर्णन, हेरोडोटस, जस्टिन और स्ट्राबो ने किया है और जो व्यवहार राजपूत शाखा में अब तक विद्यमान है ।

अब हमें वह समानता मिलानी उचित है जो इतिहास से धर्म और आचार के विषय में पाई जाती है। सबसे प्रथम धर्म-विषयक समानता की आलोचना करते हैं। देववंश अथवा देवोत्पति - जर्मनियों के आदि देवता टुइसटों, मरक्यूरी (बुध) और आर्था (पृथ्वी) थे।

सुयोगी सुएवी (शैवी) जो स्कंधनाभ की जेटी जातियों मे सबसे अधिक बलिष्ठ जाति थी वह बहुत से सम्प्रदाय व जातियों में विभक्त हो गई जिनमें सेसू (यूचीजिट) अपनी बगीचियों में आर्था को बलि देते थे और आर्था का रथ एक गाय खींचती थी।

प्रसिद्ध इतिहास लेखक टसीटस कहता है कि पहले जर्मनी के लोग लंबे और ढीले कपड़े पहना करते थे। सवेरे बिस्तरे पर से उठते ही हाथ मुंह धो डालते थे। दाढ़ी-मूंछों के बाल कभी नहीं मुंडाते थे और सिर के बालों की एक वेणी बनाकर गुच्छे के समान मस्तक के ऊपर गांठ भी बांध लेते थे।

इसके अतिरिक्त इनके नित्य नैमित्यक कार्यों का जो वृत्तान्त पाया जाता है उससे विदित होता है कि कदाचित ये लोग शाक द्वीप के जिट, कठी, किम्बरी और शेवी एक ही वंश के हैं। यद्यपि टसीटस ने यह स्पष्ट नहीं लिखा कि जर्मनी की आदि निवास भूमि भारतवर्ष में थी परन्तु वह कहता है कि जिस जर्मनी में रहने से शरीर के प्रत्येक अंग विकल हो जाते हैं उस जर्मनी में बसने को ऐशिया के एक गर्म देश को छोड़ना क्या बुद्धिमानी का काम है? इससे यही निश्चय पूर्वक कहा जा सकता है कि एशिया का कोई देश उनका आदि स्थान था। और टसीटस को उसका वृतान्त विदित था। आर्य वीर राजपूत गण अपनी गृह-लक्ष्मियों के साथ जैसा श्रेष्ठ व्यवहार करते हैं प्राचीन जर्मनी वाले तथा स्कंधनाभ वाले और जाट लोग भी अपनी नारियों के साथ ठीक वैसा ही व्यवहार करते थे। जर्मनी और स्कंधनाभ, असी लोगों के वीरों का जट-कुल से उत्पन्न होने के प्रमाण उनकी सुरा-प्रियता का विचार करने से ही हो जाता है। (भारतीय जाट तो सुरा नहीं पीते थे। - ले.)


इतने प्रमाणों के बाद यह तो साबित हो ही जाता है कि जर्मनी में जाट पहुंचे और उन्होंने अपना उपनिवेश स्थापित किया। लेकिन कर्नल टाड ने यह साबित करने की चेष्ठा की है कि जाट इण्डो-सीथियन हैं और राजपूत उनका रूपान्तर हैं। इसमें हेराडोटस जैसे लेखकों ने जो कि भारत की अपेक्षा शाकद्वीप के जाटों से अधिक परिचित तथा सहमत हो कर यह भूल अवश्य की है कि जाट और राजपूतों की जन्म-भूमि भारत के बजाय ईरान अथवा आल्पस के किनारे को माना। इन बातों का हम पीछे वर्णन कर चुके हैं कि जाट चाहे संसार में कहीं भी मिलता हो, उसकी जड़ भारतवर्ष में है।

जर्मनी मे ये जाट समुदाय अपने अन्य समकक्ष क्षत्रिय दलों के साथ जैसा कि हम पहले लिख चुके हैं, ईसा के लगभग 500 वर्ष पहले पहुंचा था और यूरोप के अन्य देशों इटली, यूनान आदि पर जो उनके आक्रमणों का वर्णन यूरोपीय इतिहास में मिलता है उनमें पूर्वी-पश्चिमी दो नामों से प्रसिद्ध होने वाले जाट-दलों में अधिकांश स्कंधनाभ और जर्मनी वाले ही शामिल थे। इसमें भी सन्देह नहीं कि जाट जिस किसी भी देश में गए, वहां पर उन्होंने उस देश की सभ्यता को नष्ट न किया, किन्तु जो अच्छी बातें थी, उनको उन्होंने ग्रहण कर लिया। वह अधिक झगड़ालू नहीं थे, किन्तु वे सीमा स्थापित करने और अपना स्वतंत्र राज्य बनाने के इच्छुक अवश्य थे। कहीं भी इन्होंने आलस्य का प्रचार नहीं किया। युद्ध के समय में वे सैनिक और शान्ति के समय में सुयोग्य शासक साबित होते थे। उन्होंने जितना हो सका, अपनी सभ्यता का भी यूरोप में प्रचार किया। कहा जाता है कि यूरोप वालों को भैसों से काम लेना जाटों ने ही सिखाया था। इसके अलावा तलवार की पूजा और सरदार के निर्वाचन की प्रथा एवं मुर्दो को जलाने की रिवाज का भी प्रचार किया। शैलश के किनारे जो स्तूप उन्होंने खड़ा किया था, वह इनकी कीर्ति का तो द्योतक है ही, साथ ही यह भी बताता है कि वे अपनी सभ्यता के प्रचारक और प्रेमी थे। ऐसा कहीं यूरोप के युद्धों में वर्णन नहीं मिलता कि जाटों ने पराजित देश के स्त्री, बच्चों तथा पुरूषों को दास बनाया हो अथवा उन्हें कत्ल किया हो। ईसाई धर्म के प्रबल अंधड़ में वह अवश्य ही भारत से बहुत दूर रहने के कारण देश-काल की परिस्थिति के अनुसार अपने पुराने वैदिक व बौद्ध-धर्म को ईसवी चौथी, पांचवी शताब्दी में छोड़ बैठे, किन्तु इसमें सन्देह नहीं कि उन्होंने भारत के सिर को इस बात के लिए ऊंचा कर दिया कि उसके पुत्रों ने जर्मनी जैसे प्रबल राष्ट्र पर बसन्ती झण्डा फहराया था और आज भी जर्मन नागरिकों के रूप में अपने देश का माथा ऊंचा कर रहे हैं।

जाटों का शासन

दलीप सिंह अहलावत[18] ने लिखा है.... ययाति जम्बूद्वीप के सम्राट् थे। जम्बूद्वीप आज का एशिया समझो। यह मंगोलिया से सीरिया तक और साइबेरिया से भारतवर्ष शामिल करके था। इसके बीच के सब देश शामिल करके जम्बूद्वीप कहलाता था। कानपुर से तीन मील पर जाजपुर स्थान के किले का ध्वंसावशेष आज भी ‘ययाति के कोट’ नाम पर प्रसिद्ध है। राजस्थान में सांभर झील के पास एक ‘देवयानी’ नामक कुंवा है जिसमें शर्मिष्ठा ने वैरवश देवयानी को धकेल दिया था, जिसको ययाति ने बाहर निकाल लिया था[19]। इस प्रकार ययाति राज्य के चिह्न आज भी विद्यमान हैं।

महाराजा ययाति का पुत्र पुरु अपने पिता का सेवक व आज्ञाकारी था, इसी कारण ययाति ने पुरु को राज्य भार दिया। परन्तु शेष पुत्रों को भी राज्य से वंचित न रखा। वह बंटवारा इस प्रकार था -

1. यदु को दक्षिण का भाग (जिसमें हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरयाणा, राजस्थान, दिल्ली तथा इन प्रान्तों से लगा उत्तर प्रदेश, गुजरात एवं कच्छ हैं)।

2. तुर्वसु को पश्चिम का भाग (जिसमें आज पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान, इराक, सऊदी अरब,यमन, इथियोपिया, केन्या, सूडान, मिश्र, लिबिया, अल्जीरिया, तुर्की, यूनान हैं)।

3. द्रुहयु को दक्षिण पूर्व का भाग दिया।

4. अनु को उत्तर का भाग (इसमें उत्तरदिग्वाची[20] सभी देश हैं) दिया। आज के हिमालय पर्वत से लेकर उत्तर में चीन, मंगोलिया, रूस, साइबेरिया, उत्तरी ध्रुव आदि सभी इस में हैं।

5. पुरु को सम्राट् पद पर अभिषेक कर, बड़े भाइयों को उसके अधीन रखकर ययाति वन में चला गया[21]। यदु से यादव क्षत्रिय उत्पन्न हुए। तुर्वसु की सन्तान यवन कहलाई। द्रुहयु के पुत्र भोज नाम से प्रसिद्ध हुए। अनु से म्लेच्छ जातियां उत्पन्न हुईं। पुरु से पौरव वंश चला[22]

जब हम जाटों की प्राचीन निवास भूमि का वर्णन पढते हैं तो कुभा (काबुल) और कृमि (कुर्रम) नदी उसकी पच्छिमी सीमायें, तिब्बत की पर्वतमाला पूर्वी सीमा, जगजार्टिस और अक्सस नदी


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-185


उत्तरी सीमा और नर्मदा नदी दक्षिणी सीमा बनाती है। वास्तव में यह देश उन आर्यों का है जो चन्द्रवंशी अथवा यदु, द्रुहयु, तुर्वसु, कुरु और पुरु कहलाते थे। भगवान् श्रीकृष्ण के सिद्धान्तों को इनमें से प्रायः सभी ने अपना लिया था। अतः समय अनुसार वे सब जाट कहलाने लग गये। इन सभी खानदानों की पुराणों ने स्पष्ट और अस्पष्ट निन्दा ही की है। या तो इन्होंने आरम्भ से ही ब्राह्मणों के बड़प्पन को स्वीकार नहीं किया था या बौद्ध-काल में ये प्रायः सभी बौद्ध हो गये थे। वाह्लीक,तक्षक, कुशान, शिव, मल्ल, क्षुद्रक (शुद्रक), नव आदि सभी खानदान जिनका महाभारत और बौद्धकाल में नाम आता है वे इन्हीं यदु, द्रुहयु, कुरु और पुरुओं के उत्तराधिकारी (शाखायें) हैं[23]

सम्राट् ययातिपुत्र यदु और यादवों के वंशज जाटों का इस भूमि पर लगभग एक अरब चौरानवें करोड़ वर्ष से शासन है। यदु के वंशज कुछ समय तो यदु के नाम से प्रसिद्ध रहे थे, किन्तु भाषा में ‘य’ को ‘ज’ बोले जाने के कारण जदु-जद्दू-जट्टू-जाट कहलाये। कुछ लोगों ने अपने को ‘यायात’ (ययातेः पुत्राः यायाताः) कहना आरम्भ किया जो ‘जाजात’ दो समानाक्षरों का पास ही में सन्निवेश हो तो एक नष्ट हो जाता है। अतः जात और फिर जाट हुआ। तीसरी शताब्दी में इन यायातों का जापान पर अधिकार था (विश्वकोश नागरी प्र० खं० पृ० 467)। ये ययाति के वंशधर भारत में आदि क्षत्रिय हैं जो आज जाट कहे जाते हैं। भारतीय व्याकरण के अभाव में शुद्धाशुद्ध पर विचार न था। अतः यदोः को यदो ही उच्चारण सुनकर संस्कृत में स्त्रीलिंग के कारण उसे यहुदी कहना आरम्भ किया, जो फिर बदलकर लोकमानस में यहूदी हो गया। यहूदी जन्म से होता है, कर्म से नहीं। यह सिद्धान्त भी भारतीय धारा का है। ईसा स्वयं यहूदी था। वर्त्तमान ईसाई मत यहूदी धर्म का नवीन संस्करण मात्र है। बाइबिल अध्ययन से यह स्पष्ट है कि वह भारतीय संसकारों का अधूरा अनुवाद मात्र है।

अब यह सिद्ध हो गया कि जर्मनी, इंग्लैंण्ड, स्काटलैण्ड, नार्वे, स्वीडन, रूस, चेकोस्लोवाकिया आदि अर्थात् पूरा यूरोप और एशिया के मनुष्य ययाति के पौत्रों का परिवार है। जम्बूद्वीप, जो आज एशिया कहा जाता है, इसके शासक जाट थे[24]

जर्मनी: जाट वीरों का इतिहास

दलीप सिंह अहलावत[25] ने लिखा है.... यह पिछले पृष्ठों पर लिख दिया गया है कि विजेता जाट अत्तीला का साम्राज्य कैस्पियन


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-395


सागर से लेकर राइन नदी (पश्चिमी जर्मनी में) तक फैला हुआ था। तात्पर्य है कि जाटों का निवास व शासन जर्मनी में भी रहा है। ये लोग ईसा से लगभग 500 वर्ष पूर्व जर्मनी में पहुंचे। यूरोप के अन्य देशों इटली, गॉल, स्पेन, पुर्तगाल, इंगलैण्ड और यूनान आदि पर जो जाटों ने आक्रमण किये उनका वर्णन यूरोपीय इतिहास में यही मिलता है कि उसमें अधिकांश जाट लोग जर्मनी और स्कन्धनाभ (स्केण्डेनेविया) के निवासी थे।

श्री मैक्समूलर ने भी जर्मनी में आर्य रक्त स्वीकार किया है। टसीटस ने लिखा है कि “जर्मन लोगों के रहन-सहन, आकृति, रस्म व रिवाज तथा नित्य कार्यों का जो वृत्तान्त पाया जाता है उससे विदित होता है कि कदाचित् ये लोग और शाक द्वीप (ईरान) के जिट, कठी, किम्बरी (कृमि) और शिवि (चारों जाट) एक ही वंश के हैं।” आगे यही लिखते हैं कि “जर्मन लोग घोड़े की आकृति बनी हुई देखकर ही सिक्के का व्यवहार करते थे, अन्यथा नहीं। यूरोप के असि जेटी लोग और भारत के अट्टी तक्षक जटी, बुध को अपना पूर्वज मानकर पूजते थे। प्रत्येक जर्मन का बिस्तर पर से उठकर स्नान करने का स्वभाव जर्मनी के शीतप्रधान देश का नहीं हो सकता, किन्तु यह पूर्वी देश का है।”

कर्नल टॉड ने लिखा है कि “घोड़े की पूजा जर्मनी में सू, कट्टी, सुजोम्बी और जेटी (जाट) नाम की जातियों ने फैलाई है, जिस भांति कि स्कन्धनाभ में असि जाटों ने फैलाई।” कर्नल टॉड ने भारत के जाट और राजपूत तथा जर्मन लोगों की समानता के लिए लिखा है कि “चढ़ाई करने वालों और इन सब हिन्दू सैनिकों का धर्म बौद्ध-धर्म था। इसी से स्केण्डेनेविया वालों और जर्मन जातियों और राजपूतों के आचार, विचार और देवता सम्बन्धी कथाओं की सदृश्यता और उनके वीररसात्मक काव्यों का मिलान करने से यह बात अधिकतर प्रमाणित हो जाती है।”

प्रसिद्ध इतिहासज्ञ टसीटस ने लिखा है कि “जर्मनी और स्कन्धनाभ के असि लोग जाटवीर ही थे1। जाट इतिहास अंग्रेजी पृ० 36 पर लेफ्टिनेन्ट रामस्वरूप ने लिखा है कि “प्राचीनकाल में जर्मनी पर शिवि गोत्र के जाटों का राज्य व निवास था।”

आर्य जाट लोग अपनी गृह-लक्ष्मियों के साथ जैसा श्रेष्ठ व्यवहार करते हैं, प्राचीन जर्मन लोग तथा स्कन्धनाभ वाले अपनी नारियों के साथ ठीक वैसा ही व्यवहार करते थे।

इसमें कोई सन्देह नहीं कि जाट किसी भी देश में गये वहां पर उन्होंने उस देश की सभ्यता को नष्ट नहीं किया; किन्तु उनकी अच्छी बातें ग्रहण कर लीं। ये अपनी सीमा स्थापित करने और अपना स्वतन्त्र राज्य बनाने के इच्छुक अवश्य रहे। युद्ध के समय वे सैनिक और शान्ति के समय सुयोग्य शासक एवं कृषक साबित होते थे। उन्होंने जितना भी हो सका, अपनी सभ्यता का यूरोप में भी प्रचार किया। उन्होंने शस्त्र पूजा, नेता के निर्वाचन की प्रथायें तथा मुर्दों को आग में जलाने का रिवाज आदि प्रचलित किये। शैलम नदी (जर्मनी) के किनारे जो स्तूप उन्होंने खड़ा किया था वह इनकी कीर्ति के साथ-साथ यह भी बताता है कि वे अपनी सभ्यता के प्रचारक व प्रेमी थे। यूरोप के युद्धों के वर्णन में ऐसा कहीं नहीं मिलता कि जाटों ने पराजित देश के स्त्री-पुरुषों तथा बच्चों को दास बनाया हो अथवा उन्हें कत्ल किया हो। जाटों ने उस देश की स्त्रियों


1. आधार लेख - जाट इतिहास पृ० 187 से 188, लेखक ठा० देशराज


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-396


का सम्मान किया तथा शरणागतों की रक्षा की जैसा कि पिछले पृष्ठों पर लिखा भी है।

जर्मनी के जाटों ने देश-काल की परिस्थिति के अनुसार अपने प्राचीन वैदिक व बौद्ध-धर्म को ईस्वी चौथी-पांचवीं शताब्दी में छोड़कर ईसाई धर्म को अपनाया। किन्तु इसमें सन्देह नहीं कि उन्होंने भारत के सिर को इस बात के लिए ऊंचा कर दिया कि उन्होंने जर्मनी जैसे प्रबल राष्ट्र पर अपना बसन्ती झण्डा फहराया और आज भी जर्मन नागरिकों के रूप में अपने देश का सिर ऊंचा कर रहे हैं1

जर्मनी के जाटों ने इंगलैण्ड पर भी आक्रमण किए जिनका वर्णन अगले पृष्ठों पर किया जाएगा।

References

  1. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/The migrations of the Jats to the North-Western countries,pp.268-269
  2. Jindal, H.S.; Jat and Jutland, 1982, Agra, Preface, pp. i & ii,7, Ch.9.
  3. Mangal Sen Jindal: History of Origin of Some Clans in India/Jat From Jutland, pp.20-30.
  4. CHI, Vol.1, pp. 85. 438; Ghose, op.cit., pp. 71,86.
  5. Ghose, op.cit.. p.96; Lunia, B.N; Evo. of Ind. Cul., Agra, 1970, p.65.
  6. Pococke, Ind. In Greece, pp. 53,113, etc.
  7. Germanic Peoples: Encyclopedia Britannica Online
  8. Germanic Peoples: Encyclopedia Britannica Online
  9. Encyclopedia Britannica. "Barbarian migrations and invasions"
  10. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/An Historico-Somatometrical study bearing on the origin of the Jats, p.159-160
  11. Ripley op.cit., p. 106.
  12. Cr. Ch no. IX in the book.
  13. Cr. Ch no. IX in the book.
  14. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Appendices/Appendix II, p.319-332
  15. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.339-340
  16. (सत्यार्थप्रकाश दशम समुल्लास पृ० 173)
  17. Jat History Thakur Deshraj/Chapter VI, p.187-188
  18. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III, p.185-186
  19. महाभारत आदिपर्व 78वां अध्याय, श्लोक 1-24.
  20. ये वे देश हैं जो पाण्डव दिग्विजय में अर्जुन ने उत्तर दिशा के सभी देशों को जीत लिया था। इनका पूर्ण वर्णन महाभारत सभापर्व अध्याय 26-28 में देखो।
  21. जाट इतिहास पृ० 14-15 लेखक श्रीनिवासाचार्य महाराज ।
  22. हाभारत आदिपर्व 85वां अध्याय श्लोक 34-35, इन पांच भाइयों की सन्तान शुद्ध क्षत्रिय आर्य थी जिनसे अनेक जाट गोत्र प्रचलित हुए । (लेखक)
  23. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 146-47 ले० ठा० देशराज।
  24. जाट इतिहास पृ० 14-18 लेखक श्रीनिवासाचार्य महाराज ।
  25. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.394-397

External links


Back to Places