Dwarka

From Jatland Wiki
(Redirected from Dwaraka)
Jump to: navigation, search
Map of Dwarka
Dwarkadheesh temple

Dwarka (द्वारका) (also Dvarka, Dwaraka, and Dvaraka) is a city of Devbhoomi Dwarka district in the Gujarat. Prior to the reallocation of the districts, this city was part Jamnagar District.

Ancient names of Dwarka

Dwarka is one of the seven most ancient cities in the country. Its ancient names were:

  • Dwaravati (द्वारावती): Mahabharata mentions Dwaravati in various Parvas - (I.90.85), (II.13.65), (III.80.82),(III.86.21),(III.80.82).
  • Okha (ओखा-मण्डल): Okha is word degenerated from Sanskrit word Usha. Some writers believe that it gets name from River named Usha originating from village called Dhrewan. Others believe that it gets name from Usha , the daughter of Banasura who married with Aniruddha, grandson of Krishna.[2]

Location

District map of Jamnagar

The Dwarka is 144 Km away from Jamnagar and 444 Km from Ahmedabad. Its coordinates are: (20°.20' N 69°.05' E)

Dwarka is also the site of Dvaraka Pitha, one of the four cardinal mathas established by Adi Shankara, the others being those at Shringeri, Puri and Jyotirmath.

The people

The present people inhabiting this area are:

Dvārakā in the Mahabharata

  • Pandu's sons lived in Dwaraka during their exile to woods. Their servants headed by Indrasena lived there for one year (the 13th year) (4,72)
  • A desert is mentioned to be present on the way from Indraprastha to Dwaraka (14-53,55)
  • Bala Rama mentioned about a sacrificial fire of Dwaraka, before he set for his pilgrimage over Sarasvati River (9,35)
  • One should proceed with subdued senses and regulated diet to Dwaravati, where by bathing in Pindaraka, one obtaineth the fruit of the gift of gold in abundance (3.80.82)
  • King Nriga in consequence of a single fault of his, had to dwell for a long time at Dwaravati and Krishna became the cause of his rescue from that miserable plight.(13,72)
  • Sage Durvasa resided at Dwaravati for a long time (13,160)
  • Arjuna visited Dwaravati during his military campaign after the Kurukshetra War (14,83)

Migration of Yadus

James Tod[3] writes that the tide of Yadu migration during the lapse of thirty centuries, traces them, from Indraprastha, Surapura, Mathura, Prayaga, Dwarica, Jadu Ka Dang (the mountains of Jud), Behera, Ghazni in Zabulistan ; and again refluent into India, at Salivahanpura or Salpura in the Punjab. Tannot, Derawal, Lodorva in the desert, and finally Jaisalmer, founded in S. 1212, or A.D. 1156.

History

Sacred town and temples of Dwarka

Kingdom of Krishna

Dwarka is also the ancient kingdom of Krishna and is believed to have been the first capital of Gujarat. The Dwarakadheesh Temple was built in the 6th to 7th century.

Krishna, the towering personality of the Epic. Mahabharata and the greatest philosopher statesman-who has given the world the Bhagavadgita is said to have founded a new city called Dvaraka which is (spelt Dwarka) near a place of the same name on the west coast. After some years he went to Kurukshetra to assist the Pandava princes in a war fought for upholding dharma. [4]

The Mahabharata, Harivamsa, the Bhagwad Gita , Vayu Purana, Matsya Purana and Vishnu Puranas refer to the migration of the Yadavas from Mathura to Dvaraka under Krishna's leadership after he killed Kamsa. He is said to have left Mathura in the larger interest of the people of Braj, the region of Mathura. He chose a remote place called Kusasthali on the coast of Anarta (Gujarat) which the Yadava ancestor Kakudmin Raivata had built. Finding the land available there insufficient for the Yadavas he enlarged it and named the new town Dvaraka. Since the fortified city of Dvaraka is described in ancient texts as Varidurga and Udadhimadhyastham, exploration of both the modern town of Dwarka on land and the island of Bet Dwarka which is also identified with Antardvipa and Kusasthali as mentioned in the Mahabharata. During his stay for 36 years in Dvaraka Krishna infused self-confidence in the minds of the Yadavas and prepared the ground for bringing solace to them. He planned his strategy for fighting the Kaurava army and served as the charioteer of Arjuna on the battlefield of Kurukshetra. Thus Dvaraka played an important role in upholding dharma. [5]

Kingdom of Anarta

According to Bhagavata Purana (Skandha IX. Chap. 3) the ancestry of Anarta is as under:

ManuSharyatiSukanya (m. Chyavana) + Uttanavarhi + Anarta + Dhuri Sena

AnartaRevata (He built a town called Kusasthali in the midst of the sea and from that town ruled Anarta and other lands.) → KakudminRevati

According to the Puranic accounts, this region was ruled by the Sharyata dynasty rulers, who claimed their descent from Sharyati, a son of Vaivasvata Manu. The kingdom was named after Anarta, the son of Sharyati. The capital of this kingdom was Kushasthali (the ancient name of Dwaraka). The last ruler of this dyansty was Kakudmi. After him, it was occupied by the Punyajana Rakshasas.[6] Later, the Yadavas migrated to this region under the leadership of Krishna.[7]

Sage Chyavana was also connected with Sharyati and Anarta. He married Sukanya, daughter of Sharyati and sacrificed for him.[8] His descendants were associated with the Haihayas, which occupied the neighbouring region, apparently after the demise of the Sharyata kingdom.[9]

Migration of Vrishnis to Dwaraka

Jarasandha, father-in-law of Kans, invaded Mathura with a vast army; and though Krishna destroyed his army of demons, another asura, Kalayavan by name, surrounded Mathura with another army of thirty million monstrous fiends. Then Krishna thought it well to depart to Dwaraka. [10]

While Krishna was ruling at Dwaraka, Duryodhana was oppressing the Pandavas at Hastinapur and sought to compass their death. Krishna and Balarama went to give them help, and it was while Krishna was the Pandavas’ guest that he married Kalindi, daughter of Sun.[11]

End of Vrishnis

After the death of Duryodhana in Mahabharata, Krishna received the curse of his mother. She bewailed the death of her son and of friend and foe; then recognizing Hari as the Prime Mover, the One behind All, she cursed him for letting such things befall. This was her curse: that after 36 years Krishna should perish alone miserably and his people, the Vrishnis, should be destroyed. These things in due time came to pass. A madness seized the people of Dwaraka so that they fell upon one another and were slain, together with all sons and grandsons of Krishna. Only the women and Krishna and Balarama remained alive.

Death of Balarama: Then Balarama went to the forest, and Krishna first sent a messenger to the Kuru city, to place the city and women of Dwaraka under the Pandavas protection, and then took leave of his father; afterward he himself sought the forest, where Balarama awaited him. Krishna discovered his brother seated under a mighty tree on the edge of the forest; he sat like a yogi, and behold, there came forth from his mouth a mighty snake, the thousand headed Naga, Ananta, and glided away to ocean. Ocean himself and the sacred rivers and many divine Nagas came to meet him.

Death of Krishna : Thus Krishna beheld his brother depart from human world, and he wandered alone in forest. He thought of Gandhari’s curse and all that had befallen, and he knew that the time had come for his own departure. He restrained his senses in yoga and laid himself down. Then there came a hunter that way and thought him a deer, and loosed a shaft and pierced his foot; but when he came close the hunter beheld a man wrapped in yellow robes practicing yoga. Thinking himself an offender, he touched his feet. Then Krishna rose and gave him comfort, and himself ascended to Heaven.[12]

According to tradition, the place where Jara hunter pierced Krishna's foot by Bhalla Bana (भल्लबाण) and Krishna ascended to Heaven is known as Bhalka Tirtha situated in Prabhas Patan (Verawal). There is a statue of Krishna with Jara hunter at Bhalka Tirtha. [13]


Arjuna went to Dwaraka and brought away the women and children of the Vrishnis, and set out for Kurukshetra. On the way a band of warriors attacked the cavalcade and carried away a great part of women. Arjuna established the others with the remnants of Krishna’s descendants in new cities; but Rukmini and many others of Krishna’s wives became Sati, burning themselves on pyre, and others became ascetics and nuns. The waters of ocean advanced and overwhelmed Dwaraka so that no trace remained.[14]

We need to search more about the death of Krishna. We get some reference to Bhalka as a tribe who might have caused the death of Krishna. Tej Ram Sharma tells us referring Buddha Prakash who suggests that the Vedic school of the Bhāllavins enshrined the memory of the Bahlikas; the modern sub-castes of the Barasarin sub-group of the khatris Bhalla and Behl represent the ancient Balhikas, and the Jat clans of Bhālār and Bhalerah, found in Multan, the Baloch tribe Bhalka, living in Sindh, Bahawalpur and Dera Ghazi Khan and the clan Bhallowana, found in Shahpur, are remnants of the far-flung Bahlika tribes. [15]

In Mahabharata

Udyoga Parva/Mahabharata Book V Chapter 31 mentions that Pandavas were desirous of peace and demanded only five villages: Kushasthala, Vrikasthala, Asandi, Varanavata, and for the fifth any other village to end the quarrel.

कुशस्थलं वृकस्थलम आसन्दी वारणावतम
अवसानं भवेथ अत्र किं चिथ एव तु पञ्चमम Mahabharata (V.31.19)

Mention by Periplus

A map showing the ancient western trade routes serviced by this ancient and historical port. The gateway city of Bharakuccha is named on the map as Barigaza on the Gulf of Khambhat. The inhospitable mountains and deserts to the north of the Erythraean Sea suggests its importance in trade with ancient Axum, Egypt, Arabia and the sea-land trade routes via the Tigris-Euphrates valley and Ancient Rome.

Dwarka is mentioned by Periplus as Baraca in 'Periplus of the Erythraean Sea'. Bharuch was called by the name of Barygaza by Greeks/Romans. North India also traded with western and southern nations via Ujjain and Bharuch. Trade with the Indian harbour of Barygaza is described extensively in the Periplus. Nahapana, ruler of the Indo-Scythian Western Satraps is mentioned under the name Nambanus,[16]as ruler of the area around Barigaza:

41. "Beyond the gulf of Baraca is that of Barygaza and the coast of the country of Ariaca, which is the beginning of the Kingdom of Nambanus and of all India. That part of it lying inland and adjoining Scythia is called Abiria, but the coast is called Syrastrene. It is a fertile country, yielding wheat and rice and sesame oil and clarified butter, cotton and the Indian cloths made therefrom, of the coarser sorts. Very many cattle are pastured there, and the men are of great stature and black in color. The metropolis of this country is Minnagara, from which much cotton cloth is brought down to Barygaza."
—Periplus of the Erythraean Sea, Chap. 41[17]

Archaeological findings in Dwarka and Bet Dwarka

Note - The following text is mainly based on Dr. S. R. Rao:From Dvaraka to Kurukshetra, Journal Of Marine Archaeollgy, Vol 5-6 (1995-1996),p.61-65

It is only at Dvaraka (20°,20' N 69°, 05' E) in Okhamandal (Jamnagar District of Gujarat) that the onshore excavation in the Dvarakadhish Temple Complex had brought to light three temples datable to 9th-1st century A.D. (Rao S.R. , 1987) below which a highly eroded deposit of the 15th century B.C. was encountered. The Lustrous Redware Pottery and other human artefacts found in the trench were comparable with the antiquities found in the excavations at Prabhasa, a city of the Mahabharata tradition in Junagadh District of Gujarat. It was also a port on temporary with Dvaraka (Rao S.R. 1990, 51-59). The first temple is datable to the beginning of the Christian era and the second to the 4th century A.D. All the three had separate paved pavements around them and were destroyed by storm waves or transgression of the sea at different times. The beautiful figures of Vishnu, Varaha, Siva and others are in tact on the plinth and walls of the Vishnu temple but its roof is missing.[18]

Bet Dwarka:


The island of Bet Dwarka also known as Shankhoddhara situated 30 km north of Dvaraka was explored, as Krishna is said to have brought the Yadavas first to Kusasthali in Bet Dwarka and rebuilt the town Dvaraka.[19]

Onshore survey of the east coast of the island revealed a rubble wall extending over 500 m but damaged at several places. The pottery from the section of the wall was subject to hermoluminiscence dating method, and the date so obtained is 3,528 years before present, confirming thereby that the wall belonged to the 16th century B.C. There are seaward walls not only in the southern sector (BDK 1-11) but also in the central sector near the site designated as BDK VIII. This wall is 548m in peripheral length and is exposed in lowest low tide. Another area where a submerged wall of massive stone blocks becomes visible is the Balapur


[p.63]: Bay in the north. All these walls have been explored and documented in the course of underwater excavation in the Gulf of Kutch.

From Siddi Bawa Pir in the south upto Balapur in the north there are remains of walls of rubble in the cliff section of the island. They are overgrown with jungle. The submergence of the town which extended over 4 km along the eastern shore is beyond doubt. The excavation of trenches in the seabed at BDK I - II and in the Intertidal zones of Balapur (BDK VI) and BDK VIII have yielded very significant pottery and other antiquities. The vast mudflats of Balapur Bay which get exposed in low tide over an area of nearly 1 km seaward indicate the original habitational area of ancient Dvaraka which has been buried under clayey sand and shingle. A trench dug in the intertidal zone has brought to light a shell worker's house and potsherds too. What is highly significant at Balapur is that the trenches dug in the lower terrace yielded Late Harappan and Lustrous Red Ware. In the central sector there is also a rock-cut slipway for launching boats. Six rock-cut wells in the vicinity of Nilakntha Mahadeo temple suggest extension of Dvaraka to central sector.

The Periodipation of ancient Dvaraka (Shankhoddhara) based on seven expeditions (Rao S.R. 1990 and 1991). Needs to be revised on the basis of 3 more expeditions. The excavated buildings and antiquities such as the seal, inscribed jar, stone mould of a smith, glazed olpin (cosmetic bottle), Late Harappan Ware, Lustrous Red Ware and Black and Red Ware of the Protohistoric Period which is succeeded by the Early Historic and Medieval Periods in Bet Dvaraka and the urban features of the port city of Dvaraka are taken into account. [20]

Evidence for Pre-Period I (Pre-Dvaraka, Kusasthali town):

Late Harappan Sturdy Red Ware types eg. perforted jar, dish-on-stand and incurved bowl and also Black Ware dish in BDK I, II, VI etc.

Evidence for Period I (Dvaraka) :

1. Late Harappan type seal engraved with the motif of a three headed animal - bull, unicorn and goat reminiscent of Harappan motifs but influenced by Bahrain art style. Sturdy Red Ware trough or basin with an inscription in a script clearly indicating the Transition Phase from the Late Harappan cursive script to Early Brahmi script written from left to right.

2. Sturdy Red Ware trough or basin with an inscription in a script clearly indicating the Transition Phase from the Late Harappan cursive script to Early Brahmi script written from left to right. The inscription reads ma-ha ha-gach-sha-ha pa = Maha (mahha)-qaccha (kaccha) shah-pa. It conveys the sense "Sea Lord Protect". Shah is an old Persian word, the rest being Sanskrit. This highly waverolled potsherd comes from the Intertidal zone (For details see Rao, S.R., 1987 1991).

3. The stone mould from BDK I – II intertidal zone must have been used by the bronze smith to cast spearheads of three different sizes. Similar moulds are found in Lothal.

4. Iron stakes and nails.

5. Glazed olpin similar to a glazed ware from Late Harappan and Chalcolithic sites.

Each one of these objects has great significance for dating the site and identifying Bet Dwarka (Shankhodhara) referred to as Kusasthali (where Dvaraka was built) in the Mahabharata according to Hirananad Sastry and Umashankar Joshi.

The seal (mudra) found in underwater excavation corroborates the use of seals by citizens when Dvaraka was attacked by Salva, king of Saubha (Ref: Harivamsa, Bhavishaya Parva). It was used as a sort of identity card for citizens and to prevent the enemy from entering the city. The text says that it was the duty of the guards to check the identity. The seal also suggests trade and cultural contacts with Bahrain where Indus weights and Bahrain seals with Indus


[p.64]: motif and script as well as Lustrous Red Ware are found. The protohistoric sites in Bahrain were swallowed by the sea during the same period as Dvaraka was submerged (Larsen in Bahrain Through the Ages).

The inscription on the votive vessel confirms that the citizens of Dvaraka were literate and spoke Sanskrit. The occurrence of the Old Persian word "shah" may indicate the presence of foreigners at this important town. It further suggests that the Sea God Varuna was worshipped as there is a reference to him in the Epic etc. The various types and sizes of stone anchors with three holes found in large numbers in Dvaraka waters and the mooring station, at Dvaraka, discovered in the Arabian Sea prove beyond doubt the extensive overseas trade of the port of Dvaraka. The triangular 3-holed stone anchors of Dvaraka are similar to those of the 14th-12th century BC. Anchors of Cyprus and Syria (Rao S.R. 1990, 59-98 and Frost H. 1985). Such anchors must have had a much earlier origin in the Indian ports of Late Harappan days as attested by a Harappan seal depicting a triangular anchor (Konishi, M.A. 1985, 148). The triangular Lothal anchor had a single hole. By 1800 or 1700 B.C. three-holed anchors must have been invented in India. What is rather baffling is that while triangular anchors are found in Dwarka waters we are yet to find them in Bet Dwarka waters. They may be lying buried deep in the mud flats which are yet to be excavated.

The Lustrous Red Ware (LRM) of mid second millennium B.C. found in Bet Dwarka waters, though bereft of lustre due to saline action, can be easily identified from types namely jar, bowl, stand and dishes comparable to those of Rangpur IIC and III periods (Gaur A.S. 1992; Rao S.R. 1987, 60 and Figs. 90 and 90A). If the calibrated dates of Prabhas LRW which are now widely accepted (Rao S.R. 1991, 29-30) are taken into account, Period I of Dvaraka the first in Bet Dwarka island should be assigned to 1700 B.C., since some of the ceramic wares of the Devolutionary phase of Harappa. Culture have been found in BDK I. The Pre Period I with perforated jar and incurved bowls would be slightly earlier in date. The inscribed jar of BDK I-II belongs to Period I and so also the Late Indus type seal.

It would not be far off the mark if the Late Harappan settlement of Pre-Period I of Kusasthali is dated 1800 B.C. and Dvaraka could have been found around 1700-1600 B.C. if not slightly earlier. The date 1528 B.C. arrived at for the pottery of the cliff section and the Lustrous Red Ware by TL dating method may represent the Dvaraka city built on the terrace while the town in lower below was earlier.

Identification of Dvaraka:

Underwater exploration of Dvaraka conducted by MAC from 1983 to 1994 has brought to light the existence of a. well fortified port city at the mouth of the river Gomati. This city was built in six blocks two on the right bank and four on the left bank. All the six sectors have protective walls built of large well dressed blocks of sandstone, some as large as 1.5 to 2 m long, 0.5 to 0.75 m wide and 0.3 to 0.5 m thick (Fig. 9). L-shaped joints in the masonry suggest that a proper grip was provided so as to withstand the battering of waves and currents. At close intervals semi-circular or circular bastions were built along the fort walls in order to divert the current and to have a proper overview of the incoming and outgoing ships.

Drawing an analogy from the depiction of Kusinagara on the Sanchi Gateway, it can be said that it was built perhaps on the plan of Dvaraka city. There are entrance gateways in all the sectors of Dvaraka as surmised on the basis of the sill of the openings. The fortwalls and bastions built from large blocks (Fig. 1-2) which are too heavy to be moved by waves and currents are in situ upto one or two metres height above the boulder foundation in the sea. In a few places as many as five courses of masonry are visible but in others the wall and bastion have collapsed. The city must


[p.65]: have extended upto the rocky ridge which is 1.2 km seaward of the temple of Sea God (Samudranarayana) on the present shore at Dvaraka. The structural remains have been traced over an area of 1 x 0.5 km.

There may be some structures on the southern channel recently traced in the course of Geophysical Survey in 1991-92.

Whatever has been traced so far conforms to the description of Dvaraka in the Mahabharata to a large extent. The enclosures may correspond to antahpuras of the texts. The large number of stone anchors are indicative of brisk overseas trade. Large ships were anchored in the sea and small ones nearer the warehouses on the Gomati, part of which is now submerged.

The date of the submerged site near mainland Dvaraka is determined on the basis of the Lustrous Red Ware and Grey Warne found in a small quantity. It is risky to depend on 14C dating of charcoal collected from loose sediments because modern stuff might have sunk below due to swells and churning action of the sea.

Provisionally, the date 1600 B.C. based on the relative date of triangular stone anchors with three holes comparable to those in use in Cyprus and Syria in 1400 B.C. seems reasonable, especially because triangular anchors were used in Lothal.

Marine Archaeology has proved that the existence of Dvaraka and its submergence by the sea in the 2nd millennium B.C. referred to in the Mahabharata, Harivamsa and the Matsya Purana and Vayu Puranas is a fact and not a fiction. Reclamation of land when the sea level was 7 to 8 m lower about 3600 or 3700 years before is attested to by the boulder foundation on which the walls and bastions were built. The reclamation of land for building in waterlogged areas is referred to in the Mahabharata.

Another crucial evidence is provided by the seal (mudra) in use, to which there is a reference in the Harivamsa. Similarly the iron stake said to have been fixed in the moat to prevent the entry of the enemy into the city is also found in Bet Dwarka excavation. The second urbanization after the first urbanization by the Harappans took place at Dvaraka as well as Dvaraka Kusasthali in Bet both of which were connected anciently by the land strip near Okha. To meet the growing need for more space a new town was founded at the mouth of Gomati river. It must have been the principal port while Bet Dvaraka became the administrative capital which was protected by the sea and hill. Other smaller ports were Nageswar and Pindara. With the scientific investigation of submerged Dvaraka the man-god personality of Krishna is not a myth.

In Rajatarangini

Rajatarangini[21] mentions the victory of Kashmira king Lalitaditya over various kingdoms. ...He marched thence with his army towards the east. He passed Kalingga, where elephants were caught. And then he came to Goura. Thence he reached the Eastern Sea, and pursued his course along the coast towards the south, conquering as he went. Karnāta submitted on his approach. A beautiful Karnāti lady named Ratti who ruled supreme in the south, her territories extending


[p.69]: as far as the Vindhya hills, also submitted to him. The army then rested on the banks of the Kaveri beneath the palm trees, drinking the water of coconuts. Thence he marched to Chandanadri. And then the king crossed the sea passing from one Island to another ; and thence marched towards the west, the sea singing the songs of his victory. He then attacked the seven Kramuka and the seven Kongkana which suffered much thereby. His army was anxious to enter Dvaraka situated on the Western Sea. The army then crossed the Vindhya hills and entered Avanti where there was an image of Shiva named Mahakala.

Dwarka in Jat History

According to H.A. Rose [22]Jakhar is a clan of Deswali Jats, claiming (Chauhan or Udhi) descent. Jaku, their eponym, migrated from Bikaner to Jhajjar in Rohtak. A Raja of Dwarka had a bow which Jaku failed to bend, in spite of the promised reward. In shame he left his native land and settled in Bikaner. The legend clearly points to the loss of military status by the Jakhars.

Ram Sarup Joon[23] writes that Chhonkar and Sansanwal is the gotra of the Bharatpur ruling dynasty. Their original gotra is Yadu. As they settled down in a village called Sansani, they became known as Sansanwal. They raised their voice against the atrocities of Aurangzeb, protected the Hindu Dharma and established a new capital. One Yaduvanshi ancestor belonging to this gotra, named Brij Raj ruled over the territory called Brij after his name. These people had returned home from Dwarka and their capital was Mathura, in the 64th generation of King Brij Raj.

ठाकुर देशराज लिखते हैं

ठाकुर देशराज[24] लिखते हैं कि जाखड़ गोत्र उन क्षत्रियों के एक दल के नाम पर प्रसिद्ध हुआ है, जो सूर्य-वंशी कहलाते थे। मि. डब्लयू. क्रुक ने-‘उत्तर-पश्चिमी प्रान्त और अवध की जातियां’ नामक पुस्तक में लिखा है कि “द्वारिका के राजा के पास एक बड़ा भारी धनुष और बाण था। उसने प्रतिज्ञा की थी कि इसे कोई तोड़ देगा, उसका दर्जा राजा से ऊंचा कर दिया जाएगा। जाखर ने इस भारी कार्य की चेष्टा की और असफल रहा। इसी लाज के कारण उसने अपनी मातृ-भूमि को छोड़ दिया और बीकानेर में आ बसा।” जाखर बीकानेर में कहां बसा इसका मता ‘जाट वर्ण मीमांसा’ के लेखक पंडित अमीचन्द शर्मा ने दिया है। जाखड़ ने रिडी को अपनी राजधानी बनाया। भाट के ग्रन्थों में लिखा है कि द्वारिका के राजा के परम रूपवती लड़की थी। उसने प्रतिज्ञा की थी कि जो कोई मनुष्य धनुष को तोड़ देगा, उसी के साथ में लड़की की शादी कर दी जाएगी। साथ ही उसे राजाओं से बड़ा पद दिया जाएगा। जाखड़ सफल न हुआ। जाखड़ एक नरेश था। इस कहानी से यह मालूम होता है कि जाखड़ लोगों का इससे भी पहले अजमेर प्रान्त पर राज्य था, यह भी भाट के ग्रन्थों से पता चलता है।

दिव्य द्वारका पुस्तक से

द्वारका के सम्बन्ध में निम्न विवरण पुस्तक - दिव्य द्वारका, प्रकाशक: दण्डी स्वामी श्री सदानन्द सरस्वती जी, सचिव श्रीद्वारकाधीश संस्कृत अकेडमी एण्ड इंडोलॉजिकल रिसर्च द्वारका गुजरात, से ली गयी है:

भारतवर्ष की सात मोक्षदायिका पुरियों में से द्वारावती एक है जो द्वारका के रूप में विख्यात है। विविध पुराणों में द्वारकापुरी को कुशस्थली, गोमती द्वारका, चक्रतीर्थ, आनर्तक क्षेत्र एवं ओखा-मण्डल (उषा मंडल) इत्यादि विविध नामों से अभिहित किया है। माना जाता है कि महाराज रैवत ने समुद्र के मध्य की भूमि पर कुश बिछाकर एक बड़े यज्ञ का आयोजन किया था, जिस कारण इस भूमि का नाम कुशस्थली पड़ा। एक अन्य मत के अनुसार कुश नामक दैत्य के नाम से कुशस्थली नाम पड़ा है,जिन्हें यहाँ कुशेश्वर महादेव नाम से जाना जाता है। (पृ.10)

पूर्वकाल में सौराष्ट्र देश में राजा शर्याति के पुत्र आनर्त का शासन होने के कारण उन्हीं के नाम से संयुक्त इस सम्पूर्ण क्षेत्र को आनर्तक क्षेत्र कहा गया है। देवी भागवत के सातवें स्कंध के सप्तम में इस प्रसंग का वर्णन है। (पृ.10)

ओखा नाम उषा का ही परिवर्तित रूप प्रतीत होता है। कल्याण राय जोशी के मतानुसार ध्रेवाण नामक ग्राम से उद्भूत उषा नदी के कारण इस मंडल का नाम ओखा-मंडल रखा गया है। अथवा कृष्ण के पौत्र अनिरुद्ध का बाणासुर की पुत्री उषा के साथ विवाह किये जान के कारण उषा के नाम से ओखा पड़ा है।(पृ.10)


पौराणिक आधार: कृष्ण ने राजा कंस का वध कर दिया तो कंस के श्वसुर मगधपति जरासंध ने कृष्ण से वैर ठान कर यादवों पर बारम्बार आक्रमण किये। यादवों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कृष्ण ने उस स्थान को बदलने का निश्चय किया। विनता के पुत्र गरुड़ की सलाह एवं ककुद्मी के आमंत्रण पर कुशस्थली आना तय हुआ। समस्त यादवों के साथ कृष्ण कुरु, जांगल, पांचाल, ब्रह्मावर्त, सौवीर, मरू, धन्वदेश आदि होते हुए कुशस्थली पहुंचे। कुशस्थली में रहने वाले असुरों - कुशादित्य, कर्णादित्य, सर्वादित्य और गुहादित्य के साथ युद्ध कर उन्हें निर्मूल किया और समुद्र के तट पर पुण्य और दिव्य नगरी द्वारका का निर्माण किया। इसके लिए उन्हें समुद्र से 12 योजन जमीन लेनी पड़ी । (पृ.11)


कुछ लोगों के मत में यह नगर कुशस्थली के रूप में पहले से ही विद्यमान था, जिसका सम्बन्ध रैवत गिरी के साथ था। महाभारत के सभा पर्व के अनुसार आनर्त के पौत्र रेवत ने रैवत गिरी के पास कुशस्थली बसाई थी। कृष्ण ने इसी उजाड़ हो चुकी नगरी का पुनः संकार किया।

गोमती द्वारका को विशेष पवित्र बनाने के लिए मरीचि, अत्रि, अंगिरा, पुलह और क्रतु इन पांच मुनियों ने पांच तीर्थों के सहित यहाँ निवास किया। यह पंचनद नाम से जाना जाता है। सनकादि मुनियों के द्वारा पूजित सिद्धेश्वर महादेव और कृष्ण के समस्त कार्यों को सिद्ध करने भद्रकाली देवी के शक्तिपीठ पौराणिक और प्राचीन स्थल द्वारका की भूमि को सिद्धिदायक बनाते हैं।(पृ.12)


कृष्ण ने द्वारका को बसाने के बाद इसे अपनी गतिविधियों का केंद्र बनाया और अनेक कार्य यहाँ रहकर अथवा यहाँ से जाकर सम्पादित किये - जैसे

द्वारका की रचना का मूल कारण कालयवन और जरासंध से त्रस्त यदुवंशियों की रक्षा करना और सुदूर रहकर महाभारत युद्ध सञ्चालन करना था; परन्तु साथ ही दुनिया के अन्य देशों से वैदेशिक सम्बन्धों का सुदृढ़ीकरण, आवागमन, आयात-निर्यात, व्यापर आदि तथ्यों का ध्यान रखा गया प्रतीत होता है। क्योंकि प्रारम्भ से ही यह अरब देशों से भारत में प्रवेश द्वार का काम करता था|

कृष्ण के कुशल निर्देशन में यह सभ्यता सम्पन्नता के शिखर पर पहुँच गयी। इस असीम समृद्धि के फलस्वरूप यादव भोग-विलास में लग गए। उनमें अहंकार आगया और अनुशासन ख़त्म हो गया। यादवों ने पिण्डतारक (पिण्डारक) क्षेत्र के मुनिजनों को अपमानित किया। कृष्ण ने इन यादवों के संरक्षण का एक प्रयास किया और द्वारका पर आने वाले संकट को ध्यान में रखकर वे उन यादवों को साथ लेकर प्रभास क्षेत्र की तरफ चल पड़े। उन्होंने वृद्धों और स्त्रियों को शंखोद्धार (बेट) जाने की सलाह दी और अन्यों के साथ स्वयं प्रभास आ गए। ऋषयो के शाप के वशीभूत यादव कालक्रम से विनष्ट हो गए। इधर कृष्ण के निवास को छोड़ कर सारी द्वारका को समुद्र ने आत्मसात कर लिया।

बाद में युधिष्ठिर ने कृष्ण के प्रपौत्र वज्रनाभ को शूरसेन देश का राजा बनाया। बड़े होने पर वज्रनाभ द्वारका आ गए और उन्होंने अपने दादा कृष्ण की स्मृति में त्रैलोक्य सुन्दर विशाल मंदिर का निर्माण कराया। (पृ.13)


इतिहासकारों का मत

इतिहासकारों का मत - लावा के ठंडा होकर जमने और परत बिछ जाने से सौराष्ट्र में गिरिनार और बरड़ा जैसे पर्वत हैं। 300 वर्गमील के विस्तार का ओखा मंडल अथवा द्वारका प्रदेश अपने प्रारम्भ काल में छोटे-छोटे टापुओं का समूह था। वर्षों बाद वह सारे सौराष्ट्र और गुजरात के साथ मिलकर एक हुआ। प्रमाण मिले हैं कि 5000 वर्षों पूर्व भी गुजरात सहित शेष भारत के प्रदेशों से द्वारका का व्यापारिक सम्बन्ध स्थापित हो चुका था। सात आठ टापुओं का समूह यह ओखा मंडल कब प्रसिद्धि में आया, यह तो अज्ञात है तथापि इरिथ्रियन के समुद्र के प्रवास के लगभग 1900 वर्षों पूर्व लिखे गए 'पेरिप्लस' [25] में इसे बराके नाम से पहचाना गया है। बर एक आस्ट्रिक शब्द है, अनुमान होता है कि यह नाम देने वाले लोग आस्ट्रिक मूल के रहे हों अथवा उनको द्वारका शब्द के उच्चारण में कठिनाई होने से द्वारका को बराका और फिर बराके हो गया हो। इतिहास से ज्ञात होता है कि कभी आस्ट्रिक लोग बंगाल के उपसागर के नजदीक से प्रविष्ट होकर गुजरात में भृगुकच्छ (भरूच) भाल और द्वारका प्रदेश में फैले थे।

ई. पूर्व 5वीं सदी के लगभग पाणिनि के गणपाठ में कच्छ, सुराष्ट्र और आनर्त नाम परिगणित हैं।

नागों का वास: कुछ ऒर प्रमाण भी मिलते हैं जिससे सिद्ध होता है कि द्वारका क्षेत्र में आर्यों के आगमन से पहले नागों का वास था। पाताळ में बसने वाले नाग समुद्र से आकर इस क्षेत्र में बसे थे। इस प्रदेश के नाग द्वारका सहित समस्त सौराष्ट्र प्रदेश के संपर्क में थे। स्कंदपुराण के कुमारिका खंड में पातालपुरी को अत्यंत समृद्ध महाप्रसादों तथा मणिरत्नों से अलंकृत एवं स्वरूपवती नागकन्याओं से युक्त बताया गया है। यदुवंश के संस्थापक यदु का विवाह धौम्रवर्ण की पांच नाग कन्याओं के साथ हुआ था। कुशस्थली (द्वारका) का राजा रैवत मूल से तक्षक नाग था।

शिव पुराण के अनुसार इसका एक प्रसिद्ध नाम दारुका वन (Mbt:V.82.22) था , जहाँ नागों का निवास था। आर्यों ने उन्हें वर्णाश्रम-धर्म का अनुयायी बनाया और नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की स्थापना की। ब्रह्माण्डपुराण (3.7.100) के अनुसार कश्यप का पुत्र यक्ष (गुह्यक) था, जिसे पञ्चचूड़ा क्रतुस्थला नाम की अप्सरा से रजतनाथ नामक पुत्र उत्पन्न हुआ और उनके मणिवर तथा मणिभद्र नाम के दो पुत्र हुए। इनमें मणिभद्र का विवाह पुण्यजनी नाम की कन्या से हुआ। इस पुण्यजनी की संतानें पुण्यजनी कहलाई। इनका कुछ दिनों तक इस क्षेत्र पर अधिपत्य रहा और कालांतर में भीस्मक के पुत्र रुक्मी ने इन्हें पराजित कर भगाया था । तभी द्वारका उजड़ गयी थी और इसी उजड़ी हुई द्वारका को कृष्ण ने फिर से बसाया था. सम्भवतः इसी कारण महाभारत में द्वारका के 'पुनर्निवेशनम्' शब्द का प्रयोग किया है।

डॉ. सांकलिया द्वारा 1962 ई. में द्वारकाधीश मंदिर के पास कराई गयी खुदाई में पाये गए मंदिर के अवशेषों से यह प्रमाणित हो जाता है कि इस युग के पहले भी द्वारका का अस्तित्व था। ई. पूर्व युग में ही द्वारका क्षेत्र के विशिष्ट पंडित यवनाचार्य थे । इनके छोटे भाई श्रवणाचार्य ने गृहत्याग कर एथेंस तक की यात्रा की थी और होरागणित का ज्ञान यवनजातक नाम से प्रसिद्द ज्योतिषग्रन्थ की रचना की।

ई. पूर्व पांचवीं शताब्दी में एक दण्डधारी युवक परिव्राजक सन्यासी आदिशंकराचार्य के द्वारा आने का प्रमाण प्राप्त होता है। (पृ.16)


जिन्होंने द्वारका में धर्मशासन हेतू शारदापीठ की स्थापना की। श्रीमत्वित्सुखाचार्य द्वारा 'बृहतशंकरविजय' नामक ग्रन्थ की रचना की गयी उसमें 'अब्दे नन्दने दिनमणावुदगध्वाभाजि' अर्थात ई.पूर्व 509 उल्लिखित है। यही प्रमाणित भी है। दण्डी स्वामी श्रीमच्छङ्कराचार्य का समय निश्चित रूप से ई. पू 509 ही है।

पुरातत्वविदों द्वारा खोज

पुराततव से सम्बंधित अनुसन्धान के लिए गोमती नदी के ठीक पश्चिम में विद्यमान समुद्रनारायण या वरुणदेवता का मंदिर अतिमहत्वपूर्ण है। द्वारका सम्बन्धी प्राचीनता का उल्लेख ई. सन 574 के एक ताम्रपत्र में मिलता है। यह ताम्रपत्र बलभी के मैत्रकों के सामन्त गारूलक शासक सिंहादित्य ने लिखवाया था। सिंहादित्य वराहदास का लड़का था जो द्वारकाधिपति था।

1963 में पुणे के डेक्कन कालेज ने जो खुदाई कराई थी, उससे यह निष्कर्ष निकला कि सबसे पहली द्वारका के निर्माण का समय ई. सन के प्रारम्भ में जान पड़ता है। उससे बहुत पहले तो नहीं। खुदाई करने वालों ने यह भी कहा कि द्वारका और उसके आस-पास के इलाकों को देखने के बाद यह निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि महाभारत, स्कन्द पुराण और घटजातक में जिस द्वारका का उल्लेख किया गया है वह यही द्वारका है। अगर यह सही माना जावे तो महाभारत में उल्लेखित द्वारका मौर्य युग के बाद अस्तित्व में आई होगी। ऐसा माना जाना आजतक स्थापित ऐतिहासिक प्रमाणों के विपरीत होगा। इसके एकदम विपरीत नागेश्वर और द्वारका के आसपास के 20 कि.मी. क्षेत्र में जो मकान बने हुए हैं, वे हड़प्पन युग के अंतिम चरण में बनाये गए थे। उन्हें देखने से यह माना जा सकता है कि हड़प्पन युग के अंत में या उसके तुरंत बाद द्वारका अस्तित्व में आई होगी। (पृ.17)


1979-1980 के खुदाई के परिणामों से द्वारका के समय को ई. पश्चात् 15वीं सदी के बदले ई. पूर्व 20वीं सदी में रखना पडा। यह बात सिद्ध हुई कि चार हजार वर्ष पूर्व समुद्र के किनारे बसी हुई द्वारका समुद्र के कारण नष्ट हुई। द्वारका के आसपास आठ बस्तियों को पहचाना जा सका है। ई. पूर्व 15 वीं सदी में अस्तित्व में आई पहली बस्ती समुद्र में डूब गयी। इसी तरह दूसरी बस्ती ई. पूर्व 10 वीं सदी में समुद्र में डूब गयी और तीसरी बस्ती बसाई गयी। इसी समय प्रथम मंदिर का निर्माण हुआ। इसके पहले का मंदिर समुद्र के कारण नष्ट हो गया और उसके मलबे पर दुसरे मंदिर का निर्माण किया। जब दूसरा मंदिर भी डूब गया तब विष्णु किंवा वासुदेव का तीसरा मंदिर नवीं सदी में बनाया गया। वर्त्तमान मंदिर पांचवां है। जबकि वर्त्तमान बस्ती आठ वीं है।

महाभारत और अन्य ग्रंथों में बताये अनुसार द्वारका की स्थापना कुकुद्मी रैवत के द्वारा स्थापित कुशस्थली नामक राजधानी के मलवे पर की गयी थी। जैसा हरिवंश में लिखा है उस समय समुद्र का जल 12 योजन जमीन छोड़कर पीछे हट गया होगा। हरिवंश में द्वारका के लिए वारिदुर्ग और उदधि मध्यस्थान जैसे शब्दों का प्रयोग किया गया है। इससे यह जान पड़ता है कि द्वारका एक द्वीप रहा होगा। ऐसा माना जाता है कि बेट द्वारका विहारधाम रहा होगा। यादव लोग नौका के द्वारा वहाँ जाते रहे होंगे।

द्वारका में जहाँ पहले बंदरगाह था और गोमती जहाँ समुद्र से मिलती है, वहाँ पिछले कुछ वर्षों में रेती जम जान के कारण अब कोई भी नाव नहीं आ सकता है। समुद्र में तीसरी बार खोज करते समय समुद्र नारायण मंदिर के समुद्र से 200-700 मीटर तक चारों जगहों पर वनस्पति और कीचड़ हटाया गया तो वहाँ एक परिवहन रेखा दिखाई दी। (पृ.18)


चौथे अन्वेषण में मालूम पड़ा कि यहाँ जो निर्माण हुआ था उसको समुद्र के ज्वार से काफी नुकसान हुआ है। पत्थर कीचड़ के नीचे दबे हुए थे। पत्थरों के दोनों तरफ़ खुदाई की हुई थी जिससे चिनाई का काम दिखाई दे सके। इस खोज में तीन छिद्रों वाले लंगर मिले, जो पत्थर के बने हुए थे और जिनका उपयोग ई. पूर्व 14-12 वीं सदी में साइप्रस और सीरिया में हुआ करता था।

तीसरी और चौथी खोज में समुद्र के नीचे निर्माण दिखाई दिया। पांचवीं खोज में एक तराशा हुआ मोटा पत्थर और गढ़ की चिनाई मिली। समुद्र नारायण के मंदिर से 600 मीटर अंदर समुद्र में निर्माण में प्रयुक्त पत्थर मिले। आस-पास खोदने पर एक छेनी मिली। खुदाई में किसी टूटे हुए जहाज के लकड़ियों के अवशेष मिले। इनमे से एक दो छिद्र हैं। नौका चालाक लोग नावों की रस्सी तानने के लिए इन छिद्रदार टुकड़ों का उपयोग करते थे। पत्थरों के साथ टकराने से नौकाएं टूट गयी होंगी और लकड़ियों के टुकड़े समुद्र की तली में समा गए होंगे।

द्वारका और बेट द्वारका कब समुद्र में डूब गए यह निश्चित करने में सिंधु संस्कृति की एक मुद्रा, एक छेनी, एक बर्तन जिस पर कुछ खोदकर लिखा हुआ है और पत्थर की एक मुद्रा आदि निर्णायक हैं। इन अवशेषों से और मिटटी के टुकड़े से निश्चित किया हुआ समय मिलता-जुलता है। छोटी लम्बी और चोकोर आकर की एक मुद्रा मिली थी, जिसे शंख से बनाया गया था। इस मुद्रा में छोटे सींगवाला एक बैल, एक सींगवाला घोडा और बकरी खुदे हुए हैं। यह बात पक्की है कि यह नमूना सिंधु संस्कृति का है। वेट के पास से मिले हुए पात्रों के अवशेष बताते हैं कि बहरीन और बेट द्वारका के व्यापारिक सम्बन्ध रहे होंगे। बेट द्वारका जब समुद्र में डूबी होगी उस समय बहरीन का भी कुछ क्षेत्र समुद्र में डूब गया होगा। महाभारत के खिलभाग हरिवंश के अनुसार द्वारका पर शाल्व ने जब हमला किया उसके बाद नियम बनाया गया कि प्रत्येक द्वारकावासी को अपनी पहचान के लिए एक परिचय मुद्रा साथ में रखनी होगी। बेट द्वारका से मिलती हुई मुद्रा ईसापूर्व 15 वीं सदी की होनी चाहिए। (पृ.19)


चौड़े मुख वाली एक बरनी पर सात अक्षर खुदे हुए दिखाई पड़ते हैं। उसके नीचे के भाग में छिद्र भी हैं। इन सात अक्षरों में से छः अक्षर हड़प्पन लिपि से मिलते जुलते हैं शेष एक अक्षर हड़प्पन और ब्राह्मी लिपि का सम्मिश्रण प्रतीत होता है। द्वारका के पास मिला हुआ तिकोना लंगर 500 किलोग्राम से ज्यादा वजनी है। मोहनजोदड़ो की एक मुद्रा में जहाज के मुख पर से त्रिकोणाकार लंगर को समुद्र में डालते हुए दिखाया गया है। द्वारका के नाविक भी वजनदार लंगर को पानी में का यही तरीका अपनाते रहे होंगे। बेट द्वारका के समुद्र से प्राप्त सामानांतर नौक वाली और द्वारका में मिले हुए खरदारी धार वाली छेनी हड़प्पा और लोथल में मिली छेनियों से मिलती-जुलती है। बेट द्वारका के पास से मिली हुई एक सकरे मुंह वाली शीशी इटली के बर्तनों से मिलती जुलती है। चूने के पत्थरों से बनाया हुआ एक तीन छिद्रों वाला बर्तन बेट द्वारका के किनारे से मिला। ऐसा ही एक सांचा, जिससे ताम्बे या कांसे की सुई बनाई जाती थी और जो बहुत संकरा था, लोथल में मिला था। (पृ.20)


वर्तमान द्वारका

वर्तमान द्वारका - गुजरात प्रान्त के पश्चिम किनारे सागर तट पर द्वारका स्थित है। ऐसा माना जाता है कि वर्तमान त्रैलोक्य सुन्दर जगत-मंदिर का पुनर्निर्माण लगभग पांच सौ वर्ष पूर्व मुग़ल बादशाह अकबर के शासन काल (1593-1605) में किया गया। भगवान् श्री द्वारकाधीश जी की मूर्ती पश्चिमाभिमुख है। मंदिर के दो प्रवेश द्वार हैं - दक्षिण का प्रवेश द्वार गोमती घाट की तरफ से 56 सीढियाँ चढ़कर प्रवेश किया जाता है। उसे स्वर्ग द्वार कहते हैं और उत्तर का द्वार मोक्षद्वार नाम से जाना जाता है। पूर्व पश्चिम मंदिर की लम्बाई 27.4 मीटर और उत्तर दक्षिण लम्बाई 22 मीटर है। (पृ.20)


त्रैलोक्य सुन्दर जगत-मंदिर - गोमती नदी के उत्तर समुद्र तल से फुट की ऊंचाई पर पश्चिमाभिमुख द्वारकाधीश जी का मंदिर है। इसका शिखर भूतल से 150 फुट ऊँचा है। वहाँ 52 गज (40 मीटर) की ध्वजा फहराती रहती है जो दिन में 4-5 बार बदली जाती है। इस मंदिर में मौर्य, गुप्त, गारुलक, चावड़ाचालुक्य राजकलीन तथा जैन और बौद्ध धर्म के शिल्प का समन्वय दृष्टिगोचर होता है। (पृ.23)

भगवान श्री कृष्ण के शासनकाल में द्वारका की शासन व्यवस्था को सुदृढ़ एवं सुव्यवस्थित रूप से चलाने के लिए भोज, वृष्णि, अंधक, सात्त्वक और दशार्ह कुलों में से तेरह-तेरह यादवों को उनकी योग्यता के अनुसार द्वारका का शासन सौंपा गया था। प्राचीन मान्यता के अनुसार सम्भव है कि भगवान् द्वारकाधीश के मंदिर पर चढ़ाई जान वाली ध्वजा उन बावन प्रकार के यादवों की स्मृति कराती हो। (पृ.30) ऐसा माना जाता है कि यह ध्वजा विश्व की सबसे बड़ी ध्वजा है। धार्मिक मान्यता के अनुसार मंदिर पर चढ़ाई जान वाली ध्वजा उस देवता का स्वरुप ही मानी जाती है। (पृ.31)

युधिष्ठिर वर्ष 2663 का स्थापित शारदापीठ द्वारका

लगभग 2520 वर्ष पूर्व आदि शंकराचार्य ने अद्वैत सिद्धांत प्रतिपादित किया था। उन्होंने समग्र देश में भ्रमण कर लोगों के जीवन को तपस्वी बनाया देश की चार दिशाओं में चार पीठों की स्थापना की। उत्तर में ज्योतिष्पीठ, दक्षिण में शृंगेरीपीठ, पूर्व में गोवर्धनपीठ और पश्चिम में शारदापीठ। इन चार पीठों में से सर्वप्रथम द्वारका में शारदापीठ की स्थापना हुई। ऐसा 'मठाम्नाय' नामक ग्रन्थ में लिखा है - प्रथमः पश्चिमाम्नाय: शारदामठ उच्यते। (पृ.45)


राजा सुधन्वा - राजा सुधन्वा आदि शंकराचार्य के समकालीन थे और उन्होंने ही शंकराचार्यों को राजोपचार तथा प्रजा से धर्मकर लेने के अधिकार उपलब्ध कराये थे। अभिलेखीय साक्ष्यों के अनुसार राजा सुधन्वा चाहमान (चौहान) वंश के छठे राजा थे, जो युधिष्ठिर के वंशज थे। महाभारत से ज्ञात होता है कि युधिष्ठिर ने यादवों के गृह युद्ध के पश्चात अंधक वंशी कृतवर्मा के पुत्र को मार्तिकावत (III.116.6)), शिनिवंशी सात्यकी के पुत्र युयुधान को सरस्वती नदी के तटवर्ती क्षेत्रों तथा इंद्रप्रस्थ का राज्य कृष्ण के प्रपौत्र वज्रनाभ को, कृष्ण की मृत्यु के पश्चात दे दिया था। महिष्मति का राज्य भी युधिष्ठिर द्वारा ही राजा को दे दिया था। यह जैमिनी के अश्वघोष पर्व से ज्ञात होता है। कर्नल टॉड, डॉ रमेशचंद्र मजुमदार एवं राजस्थानी इतिवृत चौहानों का मूल राज्य माहिष्मती को ही मानते हैं।

Sudhanva Tamrapatra-1
Sudhanva Tamrapatra-2

राजा सुधन्वा का ताम्रपत्र - राजा सुधन्वा द्वारा लिखित ताम्रपत्र शांकर इतिहास की एक विशिष्ट पूंजी है। राजा सुधन्वा का मूल ताम्रपत्र संस्कृत भाषा में निबद्ध है तथा इसका प्रकाशन ई. सन् 1877 में द्वारकापीठाधीश्वर स्वामी राजराजेश्वर शंकराश्रम ने अपने 'विमर्श' नामक ग्रन्थ में किया है। (पृ.47)


यही ताम्रपत्र गुजरात इतिहास परिषद् के छठे अधिवेशन की स्मारिका के पृष्ठ 233 पर भी प्रकाशित है ताम्रपत्र का मूल रूप (संस्कृत) तथा हिंदी अनुवाद निम्नलिखित है: (पृ.48)


राजा सुधन्वा के ताम्रपत्र का हिंदी अनुवाद :

श्री महाकालनाथ को नमस्कार श्री महाकाली को नमस्कार

श्रीमत सदाशिव की अपरावतार मूर्ति, चौंसठ कलाओं के विलास की विहारमूर्ति, बौद्ध आदि समस्त वादीरूप दानवों के लिए नृसिंहमूर्ति, वर्णाश्रम युक्त वैदिक सिद्धांत की उद्धारकमूर्ति, मेरे साम्राज्य की व्यवस्थापकमूर्ति, विश्वेश्वर और जगद्गुरु पद से संसार द्वारा गेयमूर्ति, सम्पूर्ण योगियों के चक्रवर्ती श्रीमत शंकरभगवत्पाद के पादपद्मों के भ्रमर राजा सुधन्वा की, जिसे सोमवंश चूड़ामणि युधिष्ठिर की परंपरा से भारतवर्ष की राजमाता प्राप्त है, करबद विज्ञप्ति।

भगवत्पाद ने दिग्विजय करलिया है। सभी वादियों को पराजित कर दिया है। समस्त वर्ण और आश्रम इस समय सतयुग के सामान वैदिक मार्ग में नियुक्त होकर शास्त्रानुसार धर्माचरण कर रहे हैं। (भगवत्पाद) सम्पूर्ण देश में अवस्थित ब्रह्मा, विष्णु, महेश्वर तथा माहेश्वरी के देवस्थानों का उद्धार कर चुके हैं। समस्त ब्राहमण कुलों का उद्धार कर चुके हैं। विशेषकर आन्वीक्षिकी आदि अन्य राजतंत्र के परिशीलन से हम राजकुलों की उन्नति हुई है। हम लोगों जैसे प्रमुख ब्राह्मण, क्षत्रिय आदि तथा संपूर्ण लोक की प्रार्थना पर (भगवत्पाद ने) चार धर्म राजधानियों को गोवर्धन, ज्योति, शारदा तथा शृंगेरीमठ के नाम से जगन्नाथ, बदरी, द्वारका तथा श्रृंगऋषि के क्षेत्र में संस्थापित किया। वहाँ उत्तर दिशा में योगीजनों की प्रधानता से धर्म-मर्यादा की रक्षा सरलता से करने हेतु ज्योतिर्मठ में श्री तोटक अपरनाम प्रतर्दनाचार्य को, श्रृंगऋषि के आश्रम में उन्हीं के सामान स्वभाव वाले पृथ्वीधर अपरनाम हस्तामलकाचार्य को, भोगवर्धन में अपने से ही विचारणीय विषयों में अभिमति रखने वाले, अत्यंत उग्र स्वभाव के होने पर भी सब कुछ जानने में समर्थ पद्मपाद अपरनाम सानन्दनाचार्य को बौद्ध, कापालिक आदि समस्त वादियों से भरपूर पश्चिम दिशा मे वादिदैत्यांकुर पुनः अंकुरित न हो जाए, इस प्रयोजन से शारदापीठ द्वारका में (कृष्ण के प्रपौत्र ) वज्रनाभ द्वारा निर्मित तथा विधर्मियों के द्वारा ध्वस्त भगवदालय की दुर्दशा को दूरकर (पृ.49)


त्रैलोक्य सुन्दर नामक पुनः निर्मित कर भगवदालय में श्रीकृष्ण को समपूर्ण मर्यादा से सुसंस्कृत तथा प्रतिष्टित कर समस्त लौकिक तथा वैदिकतंत्र में विश्वविख्यातकीर्ति प्राप्त सर्वज्ञान मय विश्वरूप अपरनाम सुरेश्वराचार्य को हम सब लोगों की लोकसम्मति से अभिषिक्त कर भारतवर्ष की चारों दिशाओं में चार आचार्यों को अधिष्ठित कर आदेश दिया कि वे वे अपने-अपने पीठ की मर्यादा के अनुसार अपने-अपने मंडल की रक्षा करते हुए वैदिक मार्ग को उद्भासित करें। हम सब उन मण्डलस्थ ब्राह्मण, क्षत्रिय आदि उन मण्डलों के अधिकारी आचार्यों की आज्ञा का पालन करते हुए व्यवहार करें। महत्वपूर्ण निर्णय की स्थिति में उपर्युक्त लक्षणों से युक्त सुरेश्वराचार्य सर्वत्र व्यवस्थापक हों, यह भगवत्पाद का अनुशासन है। हमारी राजसत्ता के सामान निरंकुश गुरुसत्ता संसार में अविचल रूप से अच्छी तरह चले। महकुलीन, वैदुष्यादि विशिष्ट आचार्यगणों से युक्त परिव्राजक ही श्रीभगवत्पाद की पीठों में अधिकार रखते हैं। किसी प्रकार के विनिमय से नहीं। भगवत्पाद की आज्ञानुसार नियमों में बंधे हुए हैम सभी ब्राह्मण, क्षत्रिय आदि वंशों में उत्पन्न हुए लोग परमप्रेम से आज्ञा को स्वीकार करते हैं। इस विज्ञप्ति को भगवन् स्वीकार करें। विश्व का कल्याण हो। ....युधिष्ठर शक 2663 आश्विन शुक्ल 15 (पृ.50)


द्वारका के दर्शनीय मंदिर

त्रैलोक्य सुन्दर जगत-मंदिर परिसर में विभिन्न देवी देवताओं एवं पटरानियों के मंदिर स्थित हैं, जिनका विवरण इस प्रकार है -

  • 1. शक्ति माताजी मंदिर - द्वारकाधीश जी के मंदिर के चौथी मंजिल पर स्थित।
  • 2.कुशेश्वर महादेव मंदिर - द्वारकाधीश जी के मंदिर परिसर में कुल बीस मंदिर हैं. मोक्षद्वार से प्रवेश करने पर दाहिने और नवग्रह देवता के यंत्र और समीप कुशेश्वर महादेव शिवलिंग विराजमान है। कहा जाता है कि द्वारका की यात्रा के आधे भाग का मालिक कुशेश्वर महादेव है। एक मत के अनुसार कुश नामक दैत्य के नाम से कुशस्थली नाम पड़ा है,जिन्हें यहाँ कुशेश्वर महादेव नाम से जाना जाता है। (पृ.10)
  • 3.काशी विश्वनाथ मंदिर - द्वारकाधीश जी के मंदिर परिसर में स्थित है।
  • 4.कोलवा भगत - द्वारकाधीश जी के अपंग भक्त कोलवा का मंदिर।
  • 5.गायत्री मंदिर -
  • 6.प्रद्युम्न मंदिर - कृष्ण के पुत्र प्रद्युम्न का मंदिर।
  • 7. अनिरुद्ध मंदिर - कृष्ण के प्रपौत्र प्रद्युम्न के पुत्र अनिरुद्ध का मंदिर। अनिरुद्ध का विवाह बाणासुर की पुत्री उषा के साथ हुआ था, जिसके कारण द्वारका क्षेत्र को उषामण्डल कहा जाता है।
  • 8. अम्बा मंदिर - कृष्ण की कुलदेवी का मंदिर जिसकी पूजा शारदा पीठ द्वारा संपन्न की जा रही है।
  • 9. पुरुषोत्तम मंदिर - द्वारकाधीश को पुरुषोत्तम कहते हैं।
  • 10. दत्तात्रेय मंदिर - नवनाथ के गुरु दत्तात्रेय की मूर्ति यहाँ है जिनकी पादुका जूनागढ़ के गिरनार के शिखर पर स्थापित है।
  • 11. शेषावतार श्री बलदेव मंदिर - बलदेवजी भगवान त्रिविक्रमजी के साथ पातळ लोक से पधारे थे। श्री द्वारकाधीश मंदिर के सभा मंडप के कोने आपका मंदिर है।
  • 12.देवकी माता मंदिर - कृष्ण की माताजी का मंदिर। (पृ.61)

  • 13.राधा-कृष्ण मंदिर - कृष्णने बाल्यावस्था में राधा के साथ बाल क्रीड़ाएँ तथा रासलीला की थी।
  • 14.माधवराय मंदिर - रुक्मिणी हरण के बाद कृष्ण की शादी रुक्मिणी के साथ माधवपुर गाँव में हुई थी। उस स्मृति के फलस्वरूप यहाँ मंदिर है।
  • 15.त्रिविक्रम मंदिर - कृष्ण के बड़े भाई बलभद्र का यह मंदिर है
  • 16.दुर्वासा मंदिर - दुर्वासा मुनि के शाप से श्रीकृष्ण और रुक्मिणी में वियोग हुआ। इस कारण रुक्मिणी का मंदिर द्वारका से बाहर है।
  • 17.जाम्बुवती मंदिर - जाम्बुवान की पुत्री और कृष्ण की पटरानी का मंदिर।
  • 18.राधिका मंदिर - वृषभान की पुत्री और कृष्ण की पटरानी का मंदिर, इनके साथ कृष्ण ने गोकुल-वृन्दावन में बाल लीलाएं की।
  • 19.लक्ष्मी मंदिर - कृष्ण की ज्येष्ठ पटरानी का मंदिर।
  • 20. सत्यभामा मंदिर - कृष्ण की पटरानी, सत्राजित की पुत्री। सत्राजित ने कृष्ण पर स्यमन्तक मणि चुराने का आरोप लगाया था। जाम्बुवन से मणि प्राप्त होने पर लज्जित होकर अपनी पुत्री सत्यभामा का विवाह कृष्ण के साथ मणि दहेज़ में दी। इनके रूठने पर कृष्ण ने स्वर्गलोक के नंदनवन से पारिजात वृक्ष इनको प्रसन्न किया।
  • 21. सरस्वती मंदिर - भगवती शारदा के रूप में यहाँ की प्रसिद्धि है।
  • 22. लक्ष्मी नारायण मंदिर लक्ष्मी जी और विष्णु का मंदिर है।
  • 23. ज्ञान मंदिर नारदा मठ - छप्पन सीढ़ी पर स्थित।
  • 24. शंकराचार्य समाधि - द्वारकाधीश मंदिर प्रांगण में भोग चोक के सामने माधवराय और देवकीजी मंदिर के बीच शारदापीठ परंपरा के दो शंकराचार्यों की प्राचीन समाधी है।

द्वारका के निकट अन्य दर्शनीय स्थान

गोमती घाट
गोमती माता का मंदिर
  • गोमती द्वारका - द्वारका के दक्षिण में एक लम्बा ताल है। इसे गोमती तालाब कहते है। इसके नाम पर ही द्वारका को गोमती द्वारका कहते है।
  • निष्पाप कुण्ड: इस गोमती तालाब के ऊपर नौ घाट है। इनमें सरकारी घाट के पास एक कुण्ड है, जिसका नाम निष्पाप कुण्ड है। इसमें गोमती का पानी भरा रहता है। नीचे उतरने के लिए पक्की सीढ़िया बनी है। यात्री सबसे पहले इस निष्पाप कुण्ड में नहाकर अपने को शुद्ध करते है। बहुत-से लोग यहां अपने पुरखों के नाम पर पिंड-दान भी करतें हैं।
  • पंचनद तीर्थ - द्वारका तीर्थ के गोमती नदी पर पंचनद तीर्थ है। यहाँ की लोक भाषा में इस तीर्थ को पंचकुई कहा जाता है। यहाँ चारों तरफ समुद्र का खारा पानी है परन्तु इन पांच कुओं में मीठा पानी है। कहते हैं कि यहाँ पांडवों ने निवास किया था। इसके समीप ही लक्ष्मीनारायणदेव जी का मंदिर है। बगल में पांडवों की गुफा है। (पृ.62) निष्पाप कुण्ड में नहाने के बाद यात्री इन पांच कुंओं के पानी से कुल्ले करते है। तब रणछोड़जी के मन्दिर की ओर जाते है। रास्तें में कितने ही छोटे मन्दिर पड़ते है-कृष्णजी, गोमती माता और महालक्ष्मी के मन्दिर।

  • शंकराचार्य स्मारक - गोमती पार पंचकुआँ के पास शंकराचार्य स्मारक स्थल है।
  • गोमती जी - द्वारका नगरी गोमती नदी एवं अरब तट पर स्थित है। गोमती नदी का उद्गम स्थल द्वारका से 16 किमी दूर नानाभावड़ा गाँव के पास है। इसलिए इस जगह को मूल गोमती के नाम से जाना जाता है। कुछ लोग इसे मूल गोमता नाम से भी पुकारते हैं। गोमती नदी गंगा का दूसरा स्वरुप है। जिसे वशिष्ठ जी की पुत्री कहा गया है। इसका स्कंदपुराण के द्वारका महात्म्य के अंतर्गत पांचवें अध्याय में किया गया है। स्कंदपुराण में बताया गया है कि मन, वाणी तथा कर्म के द्वारा किये गए समस्त पाप गोमती में स्नान करने से नष्ट हैं। (पृ.63-64)
  • गोमती माता का मंदिर- छप्पन सीढ़ी के सामने गोमती माता का मंदिर स्थित है। (पृ.64)
  • संगम नारायण मंदिर - माता गोमती जी का संगम जिस स्थान पर समुद्र से होता है, वहीँ पर संगम नारायण मंदिर है। (पृ.64)
  • चक्रतीर्थ - संगम-घाट के उत्तर में समुद्र के ऊपर एक ओर घाट है। इसे चक्र तीर्थ कहते है। चारधाम एवं सप्तपुरियों में वर्णित द्वारका को चक्रतीर्थ के नाम से जाना जाता है। स्कन्द पुराण में प्रभास खंड के द्वारका महात्म्य के अध्याय में इसका वर्णन है। गोमती और समुद्र के संगम स्थल पर शीला की प्राप्ति होने के कारण इसे चक्रतीर्थ कहा गया है। (पृ.65) इसी के पास रत्नेश्वर महादेव का मन्दिर है। इसके आगे सिद्धनाथ महादेवजी है, आगे एक बावली है, जिसे ‘ज्ञान-कुण्ड’ कहते है। इससे आगे जूनीराम बाड़ी है, जिससे, राम, लक्ष्मण और सीता की मूर्तिया है। इसके बाद एक और राम का मन्दिर है, जो नया बना है। इसके बाद एक बावली है, जिसे सौमित्री बावली यानी लक्ष्मणजी की बावजी कहते है। काली माता और आशापुरी माता की मूर्तिया इसके बाद आती है।
  • कैलासकुण्ड़: इनके आगे यात्री कैलासकुण्ड़ पर पहुंचते है। इस कुण्ड़ का पानी गुलाबी रंग का है। कैलासकुण्ड़ के आगे सूर्यनारायण का मन्दिर है। इसके आगे द्वारका शहर का पूरब की तरफ का दरवाजा पड़ता है। इस दरवाजे के बाहर जय और विजय की मूर्तिया है। जय और विजय बैकुण्ठ में भगवान के महल के चौकीदार है। यहां भी ये द्वारका के दरवाजे पर खड़े उसकी देखभाल करते है। यहां से यात्री फिर निष्पाप कुण्ड पहुंचते है और इस रास्ते के मन्दिरों के दर्शन करते हुए रणछोड़जी के मन्दिर में पहुंच जाते है। यहीं परिश्रम खत्म हो जाती है। यही असली द्वारका है।
  • रणछोड़जी का मन्दिर: रणछोड़जी का मन्दिर द्वारका का सबसे बड़ा और सबसे बढ़िया मन्दिर है। भगवान कृष्ण को उधर रणछोड़जी कहते है। सामने ही कृष्ण भगवान की चार फुट ऊंची मूर्ति है। यह चांदी के सिंहासन पर विराजमान है। मूर्ति काले पत्थर की बनी है। हीरे-मोती इसमें चमचमाते है। सोने की ग्यारह मालाएं गले में पड़ी है। कीमती पीले वस्त्र पहने है। भगवान के चार हाथ है। एक में शंख है, एक में सुदर्शन चक्र है। एक में गदा और एक में कमल का फूल । सिर पर सोने का मुकुट है। लोग भगवान की परिक्रमा करते है और उन पर फूल और तुलसी दल चढ़ाते है। चौखटों पर चांदी के पत्तर मढ़े है। मन्दिर की छत में बढ़िया-बढ़िया कीमती झाड़-फानूस लटक रहे है। एक तरफ ऊपर की मंजिल में जाने के लिए सीढ़िया है। पहली मंजिल में अम्बादेवी की मूर्ति है-ऐसी सात मंजिले है और कुल मिलाकर यह मन्दिर एक सौ चालीस फुट ऊंचा है। इसकी चोटी आसमान से बातें करती है।
  • शंख तालाब : रणछोड़ के मन्दिर से डेढ़ मील चलकर शंख-तालाब आता है। इस जगह भगवान कृष्ण ने शंख नामक राक्षस को मारा था। इसके किनारे पर शंख नारायण का मन्दिर है। शंख-तालाब में नहाकर शंख नारायण के दर्शन करने से बड़ा पुण्य होता है।
  • बाण तीर्थ: द्वारका कस्बे से करीब एक मील पश्चिम मे चलने पर एक और तीर्थ आता है। यहां जरा नाम के भील ने कृष्ण भगवान के पैर में तीर मारा था। इसी तीर से घायल होकर वह परमधाम गये थे। इस जगह को बाण-तीर्थ कहते है। यहां बैशाख मे बड़ा भारी मेला भरता है।बाण-तीर्थ से डेढ़ मील उत्तर में एक और बस्ती है। इसका नाम भालपुर है। वहां एक पद्मकुण्ड नाम का तालाब है। हिरण्य नदी के दाहिने तट पर एक पतला-सा बड़ का पेड़ है। पहले इस सथान पर बहुत बड़ा पेड़ था। बलरामजी ने इस पेड़ के नीचे ही समाधि लगाई थी। यहीं उन्होनें शरीर छोड़ा था
  • यादवस्थान: सोमनाथ पट्टन बस्ती से थोड़ी दूर पर हिरण्य नदी के किनारे एक स्थान है, जिसे यादवस्थान कहते हैं। यहां पर एक तरह की लंबी घास मिलती है, जिसके चौड़े-चौड़ पत्ते होते है। यही वही घास है, जिसको तोड़-तोडकर यादव आपस में लड़े थे और यही वह जगह है, जहां वे खत्म हुए थे।
  • सोमनाथ पट्टल: बेट-द्वारका से समुद्र के रास्ते जाकर बिरावल बन्दरगाह पर उतरना पड़ता है। ढाई-तीन मील दक्षिण-पूरब की तरफ चलने पर एक कस्बा मिलता है इसी का नाम सोमनाथ पट्टल है। यहां एक बड़ी धर्मशाला है और बहुत से मन्दिर है। कस्बे से करीब पौने तीन मील पर हिरण्य, सरस्वती और कपिला इन तीन नदियों का संगम है। इस संगम के पास ही भगवान कृष्ण के शरीर का अंतिम संस्कार किया गया था।
  • सोमनाथ: इस सोमनाथ पट्टन कस्बे में ही सोमनाथ भगवान का प्रसिद्ध मन्दिर है। इस मन्दिर को महमूद गजनवी ने तोड़ा था। यह समुद्र के किनारे बना है इसमें काला पत्थर लगा है। इतने हीरे और रत्न इसमें कभी जुडे थे कि देखकर बड़े-बड़े राजाओं के खजाने भी शरमा जायं। शिवलिंग के अन्दर इतने जवाहरात थे कि महमूद गजनवी को ऊंटों पर लादकर उन्हें ले जाना पड़ा। महमूद गजनवी के जाने के बाद यह दुबारा न बन सका। लगभग सात सौ साल बाद इन्दौर की रानी अहिल्याबाई ने एक नया सोमनाथ का मन्दिर कस्बे के अन्दर बनबाया था। यह अब भी खड़ा है।
  • शामलशाह भगवान का मंदिर - द्वारकाधीश ने नरसिंह भगत की हुंडी की रकम शामलशाह बन कर दिया। (पृ.66)
  • सिद्धेश्वर महादेव मंदिर - द्वारका तीर्थ के अंतर्गत आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित शारदापीठ के आराध्य सिद्धेश्वर महादेव मंदिर का वर्णन स्कन्द पुराण के द्वारका महात्म्य के चतुर्थ अध्याय में किया गया है। (पृ.66)
  • भद्रकाली माताजी मंदिर - द्वारकाधीश स्थित शारदापीठ की आराध्या भगवती [[Bhadrakali|भद्रकाली[[ का मंदिर इससे आधा किमी स्थित है। इस मंदिर के पत्थर पर श्रीचक्र अंकित है। (पृ.67)
  • कृकलास कुण्ड - द्वारका के तीर्थों में कृकलास कुण्ड प्राचीन एवं ऐतिहासिक स्थान है। इस स्थान का महात्म्य श्रीमद भागवत और सकंदपुराण के रजा नृग के आख्यान के साथ जुड़ा हुआ है।(पृ.68)
रुक्मिणी मंदिर द्वारका
  • रुक्मिणी मंदिर: कृष्ण की आठ पटरानियों में माता रुक्मिणी का विशिष्ठ स्थान है। कृष्ण ने रुक्मिणी का अपहरण किया और उनके साथ विवाह किया। रुक्मिणी-मंदिर द्वारका से करीब 3 किलोमीटर की दूरी पर द्वारका शहर के बाहरी हिस्से में स्थित है। इस मंदिर के बारे में एक रोचक कहानी है कि एक बार दुर्वासा ऋषि जो भगवान श्रीकृष्ण के गुरु थे, द्वारका में पधारने वाले थे। यह खबर सुनकर भगवान कृष्ण तथा माता रुक्मणि उन्हें ससम्मान लेने के लिए जंगल में गए, दुर्वासा ऋषि की इच्छा के अनुरूप भगवान कृष्ण तथा रुक्मणि रथ में घोड़ों की जगह खुद जुत गए, अत्यधिक गर्मी तथा थकान की वजह से माता रुक्मणि को प्यास सताने लगी तो भगवान श्रीकृष्ण के माता की प्यास बुझाने के लिए जमीन से कुछ पानी निकाला जिसे रुक्मणि जी पीने लगी, यह देखकर ऋषि दुर्वासा बहुत क्रोधित हो गए। कहा कि पहले गुरु से पानी का पूछने के बजाय रुक्मणि ने खुद कैसे पानी पी लिया। अत्यधिक क्रोधी स्वभाव के होने के कारण दुर्वासा ने रुक्मणि जी को श्राप दिया कि अगले बारह वर्षों तक रुक्मणि जी भगवान कृष्ण से दूर इसी स्थान पर तथा प्यासी रहेंगी। इसी श्राप की वजह से माता रुक्मणि का यह मंदिर द्वारका से बाहर है। दुर्वासा ऋषि के शाप के कारण रुक्मिणी मंदिर भगवान् के मंदिर से दूर बनाया गया। कृष्ण के जीवन से सम्बद्ध यह स्थल द्वारका से 13 किमी दूर चरण-गङ्गा प्राकट्य के नाम से जाना जाता है। कृष्ण ने चरण से जहाँ गंगा प्रकट की वहाँ 35 फुट गहरा मीठे पानी का कुआ है। मंदिर में एक अजीब प्रथा भी है कि हर भक्त मंदिर में प्रवेश से पहले एक छोटा ग्लास पानी पीकर ही प्रवेश कर सकता है अन्यथा नहीं।
नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर
  • नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर - नागेश्वर मन्दिर द्वारका का एक प्रसिद्ध मन्दिर है जो भगवान शिव] को समर्पित है। यह द्वारका, गुजरात के बाहरी क्षेत्र में द्वारकापुरी से लगभग 25 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। यह शिव जी के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। हिन्दू धर्म के अनुसार नागेश्वर अर्थात नागों का ईश्वर होता है। यह विष आदि से बचाव का सांकेतिक भी है। रुद्र संहिता में इन भगवान को दारुकावने नागेशं कहा गया है इस पवित्र ज्योतिर्लिंग के दर्शन की शास्त्रों में बड़ी महिमा बताई गई है। कहा गया है कि जो श्रद्धापूर्वक इसकी उत्पत्ति और माहात्म्य की कथा सुनेगा वह सारे पापों से छुटकारा पाकर समस्त सुखों का भोग करता हुआ अंत में भगवान्‌ शिव के परम पवित्र दिव्य धाम को प्राप्त होगा। एतद् यः श्रृणुयान्नित्यं नागेशोद्भवमादरात्‌। सर्वान्‌ कामानियाद् धीमान्‌ महापातकनाशनम्‌॥
इस ज्योतिर्लिंग के संबंध में पुराणों में यह कथा वर्णित है- सुप्रिय नामक एक धर्मात्मा और सदाचारी वैश्य था। वह भगवान्‌ शिव का अनन्य भक्त था। उसकी इस शिव भक्ति से दारुक नामक एक राक्षस बहुत क्रुद्ध रहता था। वह निरन्तर इस बात का प्रयत्न किया करता था कि उस सुप्रिय की पूजा-अर्चना में विघ्न पहुँचे। एक बार सुप्रिय नौका पर सवार होकर कहीं जा रहा था। उस राक्षस दारुक ने यह उपयुक्त अवसर देखकर नौका पर आक्रमण कर दिया। उसने नौका में सवार सभी यात्रियों को पकड़कर अपनी राजधानी में ले जाकर कैद कर लिया। सुप्रिय कारागार में भी अपने नित्यनियम के अनुसार भगवान्‌ शिव की पूजा-आराधना करने लगा।
अन्य बंदी यात्रियों को भी वह शिव भक्ति की प्रेरणा देने लगा। दारुक ने जब अपने सेवकों से सुप्रिय के विषय में यह समाचार सुना तब वह अत्यन्त क्रुद्ध होकर उस कारागर में आ पहुँचा। सुप्रिय उस समय भगवान्‌ शिव के चरणों में ध्यान लगाए हुए दोनों आँखें बंद किए बैठा था। उस राक्षस ने उसकी यह मुद्रा देखकर अत्यन्त भीषण स्वर में उसे डाँटते हुए कहा- 'अरे दुष्ट वैश्य! तू आँखें बंद कर इस समय यहाँ कौन- से उपद्रव और षड्यन्त्र करने की बातें सोच रहा है?' उसके यह कहने पर भी धर्मात्मा शिवभक्त सुप्रिय की समाधि भंग नहीं हुई। अब तो वह दारुक राक्षस क्रोध से एकदम पागल हो उठा। उसने तत्काल अपने अनुचरों को सुप्रिय तथा अन्य सभी बंदियों को मार डालने का आदेश दे दिया। सुप्रिय उसके इस आदेश से जरा भी विचलित और भयभीत नहीं हुआ।
वह एकाग्र मन से अपनी और अन्य बंदियों की मुक्ति के लिए भगवान्‌ शिव से प्रार्थना करने लगा। उसे यह पूर्ण विश्वास था कि मेरे आराध्य भगवान्‌ शिवजी इस विपत्ति से मुझे अवश्य ही छुटकारा दिलाएँगे। उसकी प्रार्थना सुनकर भगवान्‌ शंकरजी तत्क्षण उस कारागार में एक ऊँचे स्थान में एक चमकते हुए सिंहासन पर स्थित होकर ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हो गए। उन्होंने इस प्रकार सुप्रिय को दर्शन देकर उसे अपना पाशुपत-अस्त्र भी प्रदान किया। इस अस्त्र से राक्षस दारुक तथा उसके सहायक का वध करके सुप्रिय शिवधाम को चला गया। भगवान्‌ शिव के आदेशानुसार ही इस ज्योतिर्लिंग का नाम नागेश्वर पड़ा।
गोपी तालाब
  • गोपी तालाब: नागेश्वर ज्योतिर्लिंग से कुछ किलोमीटर चलने के बाद बेट द्वारका के रास्ते में आता है गोपी तालाब। गोपी तलाव द्वारका से 20 किलोमीटर तथा नागेश्वर से मात्र 5 किलोमीटर की दूरी पर बेट द्वारका के मार्ग पर स्थित है। गोपी तालाब एक छोटा सा तालाब है जो कि चन्दन जैसी पिली मिट्टी से घिरा है जिसे गोपी चन्दन कहते हैं, यह चन्दन भगवान् श्री कृष्ण के भक्तों के द्वारा माथे पर तिलक लगाने के लिए किया जाता है। यह तालाब हिन्दू पौराणिक कथाओं में विशेष स्थान रखता है।
इस सम्बन्ध में कथा प्रचलित है कि भौमासुर नामक एक राजा ने वरुण का छात्र, माता अदिति का कुंडल और मेरुपर्वत पर स्थित देवताओं का मणिपर्वत नामक स्थान छीन लिया। इंद्र ने कृष्ण को बताया तो कृष्ण पत्नी सत्यभामा के साथ भौमासुर की राजधानी प्राग्ज्योतिषपुर गए। वहाँ भयंकर युद्ध हुआ जिसमें भौमासुर मारे गए। कृष्ण ने वहाँ कैद 16000 जाजकुमारियों को मुक्त किया। (भागवत स्कंध अध्याय 59 श्लोक 33-42) (पृ.71)
इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि इस स्थल पर कृष्ण ने अर्जुन का अहंकार दूर किया था। कृष्ण ने अपनी सभी रानियों को द्वारका से बाहर सुरक्षित लेजाने का भार अर्जुन को सौंपा था। अर्जुन को अहंकार हो गया कि उसके पास गांडीव जैसा धनुष है और महाभारत जैसे युद्ध में विजय पाई है। काबा जाति के लोगों ने अर्जुन पर हमला कर गोपियों को लूट लिया। अर्जुन के गांडीव ने काम नहीं किया। लुटेरों के डर से कितनी ही रानियाँ तालाब में डूब कर मर गयी। इसलिए उस तालाब को आज भी गोपी तालाब कहते हैं। वहाँ की चिकनी एवं पीले रंग की मिटटी गोपी चन्दन के रूप में प्रसिद्ध है। इस चन्दन को लगाने से खाज-खुजली मिट जाती है, ऐसी मान्यता है। (पृ.72)
  • ऋणमुक्तेश्वर महादेव मंदिर - द्वारका से उत्तर की ओर 3 किमी दूर द्वारका-नागेश्वर मार्ग पर स्थित प्राचीन मंदिर। (पृ.73)
  • हरसिद्धि माताजी का मंदिर - द्वारका में नागेश्वर मार्ग पर 2.5 किमी दूर स्थित है। (पृ.73)
  • बेट द्वारका: बेट द्वारका, द्वारका से करीब 30 किलोमीटर दूर है तथा ऐसा माना जाता है की यह जगह भगवान कृष्ण का निवास स्थान था। भगवान कृष्ण बेट द्वारका में निवास करते थे तथा उनका कार्यालय (दरबार) द्वारका में था। बेट द्वारका वही जगह है जहाँ भगवान श्रीकृष्ण की अपने बाल सखा सुदामा जी से मुलाकात (भेंट) हुई थी। इसी वजह से इसे बेट द्वारका कहा जाता है। बेट द्वारका समुद्र के कुछ किलोमीटर अन्दर एक छोटे से द्वीप (Island) पर स्थित है जहाँ पहुँचने के लिए ओखा के समुद्री घाट (Jetty ) से फेरी (छोटा जहाज या नाव) की सहायता से जाना पड़ता है। फेरी से बेट द्वारका पहुँचने में लगभग आधे घंटे का समय लगता है। लेकिन यह आधे घंटे का सफ़र बड़ा ही आनंददायक होता है। खुले आकाश में नाव की सवारी करके एक टापू पर पहुंचना सचमुच बहुत सुखद अनुभव था। पक्षियों के झुण्ड के झुण्ड हमारी नाव के ऊपर उड़ रहे थे एवं कई बार तो ये पक्षी एकदम हमारे करीब आ जाते थे इतना करीब की हम उन्हें छू सकते थे। इस कभी न भूलने योग्य अनुभव को हमने अपनी स्मृति में हमेशा के लिए बसा लिया और कुछ ही देर में हम बेट द्वारका के द्वीप पर पहुँच गए। बेट द्वारका में हमने सबसे पहले दर्शन किये भगवान कृष्ण के निवास स्थान के जो अब एक मंदिर है। बेट द्वारका में और भी सुन्दर तथा देखने लायक मंदिर हैं।

बेट-द्वारका ही वह जगह है, जहां भगवान कृष्ण ने अपने प्यारे भगत नरसी की हुण्डी भरी थी। बेट-द्वारका के टापू का पूरब की तरफ का जो कोना है, उस पर हनुमानजी का बहुत बड़ा मन्दिर है। इसीलिए इस ऊंचे टीले को हनुमानजी का टीला कहते है। आगे बढ़ने पर गोमती-द्वारका की तरह ही एक बहुत बड़ी चहारदीवारी यहां भी है। इस घेरे के भीतर पांच बड़े-बड़े महल है। ये दुमंजिले और तिमंजले है। पहला और सबसे बड़ा महल श्रीकृष्ण का महल है। इसके दक्षिण में सत्यभामा और जाम्बवती के महल है। उत्तर में रूक्मिणी और राधा के महल है। इल पांचों महलो की सजावट ऐसी है कि आंखें चकाचोंध हो जाती है। इन मन्दिरों के किबाड़ों और चौखटों पर चांदी के पतरे चढ़े है। भगवान कृष्ण और उनकी मूर्ति चारों रानियों के सिंहासनों पर भी चांदी मढ़ी है। मूर्तियों का सिंगार बड़ा ही कीमती है। हीरे, मोती और सोने के गहने उनको पहनाये गए है। सच्ची जरी के कपड़ो से उनको सजाया गया है।

  • चौरासी धुना - भेंट द्वारका टापू में भगवान द्वारकाधीश के मंदिर से 7 की.मी. की दूरी पर चौरासी धुना नामक एक प्राचीन एवँ एतिहासिक तीर्थ स्थल है| उदासीन संप्रदाय के सुप्रसिद्ध संत और प्रख्यात इतिहास लेखक, निर्वाण थडा तीर्थ, श्री पंचयाती अखाडा बड़ा उदासीन के पीठाधीश्वर महंत योगिराज डॉ. बिंदुजी महाराज "बिंदु" के अनुसार ब्रह्माजी के चारों मानसिक पुत्रो सनक, सनंदन, सनतकुमार और सनातन ने ब्रह्माजी की श्रृष्टि-संरचना की आज्ञा को न मानकर उदासीन संप्रदाय की स्थापना की और मृत्यु-लोक में विविध स्थानों पर भ्रमण करते हुए भेंट द्वारका में भी आये| उनके साथ उनके अनुयायी यो के रूप में अस्सी (80) अन्य संत भी साथ थें| इस प्रकार चार सनतकुमार और 80 अनुयायी उदासीन संतो को जोड़कर 84 की संख्या पूर्ण होती है| इन्ही 84 आदि दिव्य उदासीन संतो ने यहाँ पर चौरासी धुने स्थापित कर साधना और तपस्चर्या की और ब्रह्माजी को एक एक धुने की एकलाख महिमा को बताया, तथा चौरासी धुनो के प्रति स्वरुप चौरासी लाख योनिया निर्मित करने का सांकेतिक उपदेश दिया| इस कारण से यह स्थान चौरासी धुना के नाम से जग में ख्यात हुआ| कालांतर में उदासीन संप्रदाय के अंतिम आचार्य जगतगुरु उदासिनाचार्य श्री चन्द्र भगवान इस स्थान पर आये और पुनः सनकादिक ऋषिओ के द्वारा स्थापित चौरासी धुनो को जागृत कर पुनः प्रज्वलित किया और उदासीन संप्रदाय के एक तीर्थ के रूप में इसे महिमामंडित किया| यह स्थान आज भी उदासीन संप्रदाय के आधीन है और वहा पर उदासी संत निवास करतें है| आने वाले यात्रिओं, भक्तों एवं संतो की निवास, भोजन आदि की व्यवस्थाभी नि-शुल्क रूप से चौरासी धुना उदासीन आश्रम के द्वारा की जाती है| जो यात्री भेंट द्वारका दर्शन हेतु जातें है वे चौरासी धुना तीर्थ के दर्शन हेतु अवश्य जाते है| ऐसी अवधारणा है की चौरासी धुनो के दर्शन करने से मनुष्य की लाख चौरासी कट जाती है, अर्थात उसे चौरासी लाख योनियों में भटकना नहीं पड़ता और वह मुक्त हौ जाता है|
  • बेट द्वारका हनुमान-दांडी मंदिर - यह मंदिर 500 वर्ष पुराना है। भारत में एक मात्र मंदिर जहाँ हनुमानजी और मकरध्वज (पिता -पुत्र) का मिलन दिखाया गया है। श्रीराम और लक्ष्मण को कंधे पर बिठाकर हनुमान यहीं से पाताल ले गए थे। अहिरावण के द्वारपाल के रूप में मकरध्वज नौकरी करता था।(पृ.72)
  • सिद्धि विनायक मंदिर - द्वारका से 4 किमी दूर स्थित अति प्राचीन सिद्ध गणपति का मंदिर है। स्यमन्तक मणि की चोरी के कलंक से मुक्ति के लिए कृष्ण इस मंदिर में आये थे। (पृ.74)
  • इन्द्रेश्वर महादेव मंदिर - यह महाभारत कालीन मंदिर है। महाभारत के अनुसार कृष्ण के बड़े भाई बलराम अपनी बहन सुभद्रा का विवाह दुर्योधन के साथ चाहते थे, परन्तु कृष्ण सुभद्रा का विवाह अर्जुन के साथ चाहते थे। अर्जुन ने कृष्ण की प्रेरणा से सुभद्रा का अपहरण किया। इन्द्रेश्वर महादेव मंदिर का सम्बन्ध इस घटना से है। ऐसा माना जाता है कि अर्जुन ने बरड़िया ग्राम के सीतापुरी कुंड के पास सुभद्रा के साथ विवाह किया। अर्जुन इंद्र का पुत्र था इसलिए उसका नाम इंद्रेश्वर पड़ा। (पृ.74)
  • चंद्रभागा मंदिर - यह स्थान द्वारका से 5 कि.मी. की दूरी पर बरडिया के पास स्थित है। यहाँ द्वारकाधीश जी की कुलदेवी माता चंद्रभागा का मंदिर है। स्यमन्तक मणि के लिए जाम्बुवान के साथ लम्बे समय तक युद्ध चला। यहाँ युद्ध में सफलता के बाद कृष्ण ने पटरानी जाम्बुवती के साथ आकर आशीर्वाद प्राप्त किया । (पृ.75)
  • पिण्डारक तीर्थ - द्वारका से 60 किमी दूर स्थित है। द्वारका-जामनगर रेल लाईन पर स्थित भोपालका स्टेशन से 35 किमी दूर है। यहाँ पिंड दान किया जाता है। भाटिया से 14 कि.मी. दूर पिंडारा नाम का गाँव है। (पृ.76)
  • दन्नी टापू - बेट द्वारका से 10 किमी की दूरी पर सुन्दर दन्नी टापू स्थित है। खंभालिया के पास नरारा टापू स्थित है जहाँ राष्ट्रीय उद्द्यान का एक कार्यालय है और मेरिन लाईफ देखने को मिलता है। यहाँ गुजरात शासन द्वारा बच्चों के लिए नेचर एजुकेशन मरीन केम्प आयोजित किये जाते हैं। जामनगर से थोड़ी दूर पर पीरोटन टापू है जहाँ मेरिन लाईफ बहुतायत से दीखता है। (पृ.80)

See also

External links

Further reading

  • Rao, S.R., 1987: Progress and Prospects of Marine Archaeology in India, First Indian Conference on Marine Archaeology of Indian Ocean Countries, National Institute of Oceanography, Goa.
  • Rao, S.R., ed 1990: Recent Advances in Marine Archaeology, Society for Marine Archaeology, NIO, Goa.
  • Rao, S.R., 1991: Dawn and Devolution of Indus Civilization, Aditya Prakashan, New Delhi.
  • Divya Dwarka, Publisher: Dandi Swami Shri Sadanand Saraswati Ji, Secretary of Shri Dwarkadheesh Sanskrit Academy and Indological Research, Dwarka, Gujarat (दिव्य द्वारका, प्रकाशक दण्डी स्वामी श्री सदानन्द सरस्वती जी, सचिव श्रीद्वारकाधीश संस्कृत अकेडमी एण्ड इंडोलॉजिकल रिसर्च द्वारका गुजरात)

Gallery of images

References

  1. Mahajan, V.D. (1960, reprint 2007). Ancient India, New Delhi: S. Chand, ISBN 81-219-0887-6, p.423
  2. Dandi Swamy Shree Sadanand Saraswati:Divya Dwarka, 2013, p. 10:
  3. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.194-195
  4. Dr. S. R. Rao:From Dvaraka to Kurukshetra, Journal Of Marine Archaeollgy, Vol 5-6 (1995-1996),p.61
  5. Dr. S. R. Rao:From Dvaraka to Kurukshetra, Journal Of Marine Archaeollgy, Vol 5-6 (1995-1996),p.61
  6. Pargiter, F.E. (1922, reprint 1972). Ancient Indian Historical Tradition, New Delhi: Motilal Banarsidass, p.98
  7. Pargiter, F.E. (1922, reprint 1972). Ancient Indian Historical Tradition, New Delhi: Motilal Banarsidass, p.282
  8. Pargiter, F.E. (1922, reprint 1972). Ancient Indian Historical Tradition, New Delhi: Motilal Banarsidass, p.194
  9. Pargiter, F.E. (1922, reprint 1972). Ancient Indian Historical Tradition, New Delhi: Motilal Banarsidass, p.304
  10. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  11. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  12. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  13. Yogendra Doshi: Shri Somnath Darshan, 2013, p. 23,
  14. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  15. Personal and geographical names in the Gupta inscriptions,p. 171
  16. Anjali Desai, India Guide Gujarat, India Guide Publications, 2007, page 160, ISBN 978-0-9789517-0-2
  17. Periplus of the Erythraean Sea,s.n.41
  18. Dr. S. R. Rao:From Dvaraka to Kurukshetra, Journal Of Marine Archaeollgy, Vol 5-6 (1995-1996),p.61-62
  19. Dr. S. R. Rao:From Dvaraka to Kurukshetra, Journal Of Marine Archaeollgy, Vol 5-6 (1995-1996),p.62
  20. Dr. S. R. Rao:From Dvaraka to Kurukshetra, Journal Of Marine Archaeollgy, Vol 5-6 (1995-1996),p.63
  21. Rajatarangini of Kalhana:Kings of Kashmira/Book IV,p.68-69
  22. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/J,p.349-50
  23. History of the Jats/Chapter V,p.77,s.n.27
  24. जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृ.594-595
  25. Periplus of the Erythraean Sea,s.n.41

Back to Gujarat